सेक्सी वीडियो अंग्रेजों की बीएफ

छवि स्रोत,सेक्स वीडियो भाभी के

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी फिल्म 1 घंटे की: सेक्सी वीडियो अंग्रेजों की बीएफ, तो मैंने आँखें खोली तो देखा की सुधीर अपनी पैंट निकाल रहा है और वह पैंट निकाल कर बिस्तर पर पीछे हाथ टिका कर बैठ गया।ऐसे में उसका तना हुआ लिंग उसकी चड्डी के ऊपर से स्पष्ट नजर आ रहा था.

हिन्दी क्सनक्सक्स

वो नीचे चले गए, मैंने हाथ में छुपाया हुआ कंडोम डस्ट बिन में फेंक दिया और नीचे चली आई. বৌদি সেক্স ভিডিওइसके चिल्लाने के आवाज बाहर तक आ रही है।राजवीर ने आसन बदला और मेरे होंठों पर अपने होंठ रख कर मेरी चुदाई करने लगा। इतनी देर में मैं 3 बार झड़ चुकी थी और वो था कि साला झड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था।यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!उसने मुझे बहुत देर तक चोदा। फिर वो झड़ कर मुझसे अलग हो गया। कुछ देर बाद उसने मुझे कपड़े पहनाए.

’पर लंड तनकर फुंफकारने लगा और वो मेरी तरफ देखकर मुस्करा दिया… उसके चेहरे पर पसीना था जो गर्दन से होते हुए उसकी छाती को भिगोता हुआ नीचे लोअर में जा रहा था. सुनीता भाभी का सेक्स‘ले ले जल्दी से, शरमा मत!’ वो अब आप से तू पे आ गया था, वो अब उतावला हो गया था.

चाचा तो थे नहीं, सो चाची ने उनकी फोटो रखकर पूजा की। सभी लोग पूजा करके जाने लगे, लेकिन चाची नीचे नहीं गईं क्योंकि वे कुछ देर से आई थीं।सब नीचे चले गए.सेक्सी वीडियो अंग्रेजों की बीएफ: ’ की सिसकारियां भरने लगी।यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!उसकी कामुक सिसकारियों से सारा रूम गूंजने लगा। मेरे दोनों हाथ भाभी की चुची पर चलने लगे। उसे अभी भी थोड़ा-थोड़ा दर्द हो रहा था.

एक तो मेरी सीट पर आकर बैठ गए हैं और हट नहीं रहे हैं।उसने कहा- कोई बात नहीं.उन्होंने यलो रंग का सलवार सूट पहना हुआ था, जिसकी लैगिंग्स बहुत टाइट थीं। भाभी की जाँघों के सुडौलता मेरा लंड खड़ा कर रही थी।भाभी- गुड मॉर्निंग!!मैं- गुड मॉर्निंग भाभी.

एक्स एक्स एक्स इंडियन गर्ल्स - सेक्सी वीडियो अंग्रेजों की बीएफ

वो मेरा लंड पैंट के ऊपर से धीरे धीरे सहलाने लगी, मुझे गजब का मजा आ रहा था, मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिए, उसने मेरी पैंट उतारी और मेरे लंड हिलाने लगी.अचानक वो मेरी तरफ आई लेकिन कुछ बोली नहीं।फिर मुझे लगा कि अब शुरुआत मुझे ही करनी पड़ेगी, मैंने पूछा- आप कहाँ जा रही हो?तो वो बोली- पंचकूला.

हम दोनों गए और डांस करने लगे। डांस करते समय जब उसका शरीर मुझसे सटता. सेक्सी वीडियो अंग्रेजों की बीएफ तभी सुधीर ने मुझे आवाज दी और कंधे से पकड़ कर हिलाया, मैं चौंकी और रो पड़ी और अचानक ही मैंने बहुत जोर का तमाचा सुधीर को मारा…और मारती ही रही…कहानी जारी रहेगी.

V पर सेक्सी ब्लू फिल्म देख रही थी और अपनी चुत में मूली डाल कर हिला रही थी। उम्म्ह… अहह… हय… याह… कर रही थी.

सेक्सी वीडियो अंग्रेजों की बीएफ?

मैं शेल्फ पे झुकी हुई थी और वो मेरे कबूतरों को पकड़ के पूरी ताकत से धक्के दे रहा था।पर तभी घंटी बजी पर मैं करती क्या मेरी तो सिटी-पिटी गुम हो गई, ‘रवि पक्का तुम्हारे भैया होंगे’ पर उसे तो जैसे पहले ही सब पता था, बोला ‘पूछो कौन है’ और भाग कर बाथरूम में चलो. पेट चूमते हुए भाभी की चुत पर आ गया।मैंने देखा कि भाभी की चूत मस्त बालों वाली चुत है।मैंने पूछा- भाभी आप झांटें साफ नहीं करती हो?तो बोलीं- आजकल तुम्हारे भैया को तो टाइम ही नहीं मिलता. ‘आहह सक्षम और तेज प्लीज, आहहह और तेज, उम्म्ह… अहह… हय… याह… इस चूत की प्यास बुझा दो, काफी दिनों से प्यासी है मेरी सहेली… और जोर से चोदो!मेरी स्पीड उसके आहें भरने से बढ़ती जा रही थी.

पर लंड अन्दर नहीं गया। फिर थोड़ा तेल लगाया और धक्का दिया तो लंड ऐसे अन्दर घुस गया कि मजा ही आ गया।यहां मैं उसकी गांड मार रहा था और चूत पर उंगली कर रहा था कि वो फिर एक बार झड़ गई। अब तक साली करीब पांच बार झड़ चुकी थी।अब मेरा भी लंड थक चुका था दो-तीन चोट के बाद मैं भी झड़ गया और थक कर वहीं उसके बगल में लेट गया।ये अब तक का सबसे बेहतरीन सेक्स था।अब तो आए दिन उसकी चुदाई करता रहता हूं. मेरे लंड से इतना वीर्य निकला कि नताशा का पूरा चेहरा वीर्य से ढक गया, बह-बह कर नताशा के मुंह में टपकते वीर्य को वो पूरे मनोयोग से पीती जा रही थी. ऑडियो सेक्स स्टोरी- नेहा की बस में मस्तीसेक्सी लड़की की आवाज में सेक्सी कहानी का मजा लें!मैं शर्मा गया और उसके बूब्स को छोड़ दिया और उसके पेट के नीचे हाथ रखा.

मुझे छोड़ दो!मैंने उससे समझाया कि तेरी दीदी भी तो यही लंड लेती है और खूब मजा करती है, तो तू क्यों नहीं ले सकती।बस साली के साथ चिकनी चुपड़ी बातें करते हुए मैं उसकी चूत तक पहुँच गया।मुझे चूत चाटना बहुत पसंद है, यदि समय होता तो उसकी मक्खन चूत को जरूर चूसता. बापू ने मेरे दोनों मम्मों को ज़ोर से पकड़ लिया और लंड आगे पीछे करना शुरु किया, मुझे तो लग रहा था कि मेरी चूत भी जैसे आगे पीछे हो रही हो… बापू के धक्कों की रफ़्तार बढ़ती जा रही थी. जैसे ही मेरे लंड का आगे का पार्ट अंदर गया, उम्म्ह… अहह… हय… याह… मुझे थोड़ा दर्द हुआ.

उसका लंड चुत पर रगड़ने लगा और कुछ ही देर में मामा ने मेरी चुत में लंड घुसा दिया. सबसे पहले मेरा खड़े लंड वालों और खुली चुत वालियों को नमस्कार। मेरा नाम सूरज है, मैं भोपाल से इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा हूँ। मैं दिखने में एक औसत सा लड़का हूँ।बात 2012 की है.

‘ओके, डू इट फ़ास्ट!’ सनी ने कहा।सुरक्षा कर्मियों ने दरवाजा खोला और अंदर चले गए और क्योंकि राहुल अदृश्य था, वो भी उनके साथ अंदर चला गया।यह रूम क्या था, पूरा एक घर था, वो भी आलीशान… एक बेहद बड़ी लॉबी के दो तरफ दो-2 कमरे थे।सुरक्षा कर्मी जाँच करके बाहर चले गए पर राहुल अंदर ही रह गया था, उसका दिल तेज़ी से धड़क रहा था यह सोचकर कि वो और सनी अकेले होंगे।कहानी जारी रहेगी.

’फिर देखते ही देखते मैं उसके पूरे के पूरे लंड को मुँह में ले कर चूसने लगी। साथ ही मैं उसके बॉल भी चाट रही थी। उसका लंड मेरे गले तक आ रहा था।कुछ ही देर में मजा इतना अधिक बढ़ चुका था कि मैं पागलों की तरह उसके लंड को चूसने लगी।‘आह्ह.

वो मुझसे कहती है कि फ़ोन क्यों नहीं करते हो?दोस्तो, कैसी लगी मेरी कहानी… मुझे ईमेल जरूर करना प्लीज।[emailprotected]. तोली घुटनों पर खड़ी नताशा के पीछे, घुटनों पर ही खड़ा होकर लगभग आधा लंड उसकी कमर को पकड़ कर अपनी ओर खींचते हुए गांड में पेल रहा था. उस रात को मैंने और दीदी दोनों ने एक ही साथ खाना खाया और टीवी देखकर सो गए। मैं लवली दीदी के बाजू में सोया हुआ था कि अचानक मेरी आँख खुली और मेरी नज़र उसकी ब्रा की स्ट्रेप पर पड़ी.

ये कहकर वो रोने लगी और उनके आँखों से पानी आने लगा।मैं वैसे ही उनके ऊपर लेट गया और उनके होंठों को चाटते हुए कहने लगा- सॉरी जानू, फर्स्ट टाइम कर रहा हूँ इसलिए. पर मुझे पता नहीं था कि चूत में लगाना कहाँ है।फिर माँ ने उसे ठीक जगह पर लगा दिया। चूत चिकनी होने के कारण एक झटके में आधे से ज़्यादा लंड अन्दर समा गया। फिर माँ ने कहा- अब आगे-पीछे हो कर झटके मारो।मैंने ऐसा ही किया। माँ ज़ोर-ज़ोर से आवाजें निकाल रही थीं ‘उउफफ्फ़. आख़िर में भाभी के सब्र का बाँध टूट गया और वो बोली- भड़वे साले… चाट ले ना अब मेरी चूत को!और फिर मैंने भाभी की चूत पर अपनी जीभ चलानी शुरू कर दी.

सो चुपचाप बैठा रहा और इसी तरह का खेल चलता रहा।एक-दो बार मैंने आंटी के पैर पर हाथ लगाया तो वो कुछ नहीं बोली। इससे ये तो तय हो गया था कि आंटी सेक्स के लिए तड़प रही हैं, चुदने के लिए रेडी हैं.

तो सोचो मेरी क्या हालत हो रही होगी?भाभी मस्त अंदाज़ में इठला कर पलट कर बोली- अच्छा. 5″ लंड खा गई, उसकी सील टूट गई, वो रोने लगी और कहा- मुझे नहीं चुदना… प्लीज इसे बाहर निकाल लो!मैंने उसको चूमना शुरू किया और चूमते चूमते लंड को आगे पीछे करने लगा और पूरा लंड अन्दर डाल दिया. तो मैंने बोला- कहाँ निकालूँ?वो बोलीं- मेरे मम्मों पर निकाल दो।मैं अभी झड़ने ही वाला था क्योंकि अब मेरे बर्दाश्त के बाहर था, मैं लंड निकाल ही नहीं पाया और मैंने भाभी की चुत में ही सारा माल निकाल दिया।वो गुस्से से बोलीं- ये तुमने क्या कर दिया.

रोनित से मैं 5 महीने पहले मिली थी, शादी के बाद मैंने अपने पति के साथ मजे किये थे जबकि शादी से पहले और कॉलेज के बाद भी मैं दो आशिकों के साथ मस्ती करती थी. मेरा हाथ सुधीर की पीठ पर, बालों पर लगातार चल रहा था। मैं इतने दिनों बाद अपनी योनि में लिंग लेकर अति प्रसन्न हो रही थी. कुछ ना पूछो मेरी जान सुशान्त!मैंने कहा- क्या मैं तुम्हारी चुची को फक कर सकता हूँ?वो बोलीं- वो कैसे?मैंने उन्हें बताया- मैं तुम्हारी चुची को पकड़कर आपस में भींच दूँगा और मैं उस में से अपना लंड घुसाकर चुची को फक करूँगा।‘ओके.

जरा नजदीक आकर बैठ! तेरी भाभी ‘जी’ तेरे बिना बोर हो रही हैं!! उस दिन के बाद से मुझे तो तेरी भाभी ने देनी ही बंद कर दी.

पर हम दोनों के बीच सम्भोग मौका देख कर होता रहा, यह सम्बन्ध अंजलि के शादी के बाद भी कायम रहा. लेकिन मैंने उसे बातों में बहका दिया और धीरे से उसकी टाँगों को फैला कर चूत के मुहाने पर लौड़े को टिका दिया.

सेक्सी वीडियो अंग्रेजों की बीएफ पर मैं यहाँ किसी को जानता भी नहीं हूँ और ना ही मेरे पास पैसे हैं।उसने मुझे पैसे दिए और बोली- सेक्टर 17 के पीछे ही होटल है. हालाँकि हमारे लंड इकट्ठे होकर हमारी सेक्स पार्टनर के मुंह में नहीं समा पा रहे थे लेकिन परिश्रमी नताशा पूरी लगन के साथ उनको अन्दर लेने की कोशिश कर रही थी.

सेक्सी वीडियो अंग्रेजों की बीएफ बस मुझे करने दो।तब भी उसने कुछ नहीं बोला और मैं उसे किस करने लगा। इस बार उसने आना-कानी नहीं की. थैंक्स फॉर टुडे फ़क।मेरी जान में जान आई, मैंने विक्की को फोन किया। ऐसा ही जवाब विक्की का भी था। मैं बहुत खुश हुई.

थोड़ी देर बाद जब मेरा छूटने को हुआ तब मैंने पूछा- मेरा होने वाला है.

एक्स एक्स एक्स मूवी बीएफ एचडी

मेरी माँ की चुदाई की कहानी कुछ इस तरह से है…मैं और मेरी फॅमिली यानि मैं मॉम, डैड दिल्ली में रहते हैं. तो और भी कुछ काम होते हैं।मैंने कहा- ठीक है।फिर उन्होंने मुझसे कहा- मेरी साड़ी तुम उतारोगे ना?मैंने धीरे-धीरे उनकी साड़ी उतार कर एक तरफ रख दी।अह. फिर उसने मेरी ज़िप को नीचे खिसकाया और मेरे अंडरवीयर में हाथ डाल अपना हाथ मेरे गर्म लंड पर रख दिया.

लेकिन उसके जैसे मजा किसी के साथ भी नहीं आया। उसके जैसा बड़ा मोटा लंड आज तक नहीं मिला। मैं आज भी उसके साथ चुदाई करने के लिए तड़पती हूँ।अगर मेरी पोर्न सेक्स स्टोरी पढ़ कर आपका लंड खड़ा हुआ हो और मजा आया तो आप मुझे मेल कर सकते हैं।[emailprotected]. कुछ देर बाद मैंने उसे कहा- अगर तुम कहो तो मैं अपना अंदर डालूं?तो उसने कहा- नहीं!तो मैं फिर से अपनी बहन की चुत चूसने लग पड़ा. बड़ी माल किस्म की आइटम लग रही थीं।फिर भाभी ने मुझे थोड़ा वर्क देकर कहा- मैं नहाने जा रही हूँ.

!’भाभी की चूत पानी छोड़ रही थी, मैं भी अपनी एक उंगली से चुत को चोद रहा था। मैंने उसी उंगली को कई बार अपने मुँह में लेकर चुतरस का स्वाद भी लिया।कुछ ही पलों बाद मेरे होंठ रसीली भाभी की चूत को चूसने लगे थे।‘आह.

मेरे तीनों दोस्तों को पसीना आने लगा।मैं भूमि को चिल्लाया- ये क्या तरीका है? ढंग से काम करना नहीं आता?वो बोली- नहीं आता, क्या कर लेगा?मैंने कहा- क्या कर लूंगा? रुक अभी बताता हूँ!मैंने रोहित, विकास, साहिल से कहा- पकड़ो इसको, उठा के बैडरूम ले चलो…रोहित विकास ने भूमिका के पैर पकड़े और मैंने और साहिल ने हाथ… भूमिका नाटक में ‘छोड़ो छोड़ो…’ चिल्लाने लगी. मुझे थोड़ा गुस्सा आया, मैंने कहा- तेरी फ़िक्र है… वरना मुझे क्या!तो हंस के कहती- जल रहा है?मैंने कहा- मुझे क्यूँ जलन होगी?तो बहुत हंसी और मुझे छू के बोली- आई लव यू!मैंने कहा- क्या बात, आज मान लिया?कहती- अब तंग मत करो… बोल दिया तो बोल दिया!मैंने उसको दबोचा तो कहती- नो… अभी नहीं, जाने दो!वो मेरी शर्ट पहन कर किचन में गई कॉफी बनाई तो किचन में मैंने पकड़ के पीछे से लंड से टीज़ किया. ’ वो रमा के सर को सहलाते हुए बोले।रमा कुछ कह न सकी उसकी आँखों में ख़ुशी और संतुष्टि के आंसू थे।बाबा जी उसकी भावनाओं को समझ गए और उसके कान में धीरे से बोले- पगली हम तीन महीने बाद फिर आएंगे… पर तुम यहाँ से जाते ही अपने पति के साथ एक बार ज़रूर सम्बन्ध बना लेना.

मैंने उसकी गांड दबाई और कहा- साली मजा आया?कहती- बहुत!मैंने कहा- कमीनी औरत!कहती- चोदू सांड!फिर हम रोज़ ऑफिस में लड़कियाँ और लौंडे देख कर मज़ाक करते… वो मेरे लिए लड़कियाँ देख कर अश्लील बातें करती और मैं उसके लिए लौंडे देख कर सेक्सी बातें करता. मुझसे अब रुका नहीं जा रहा था, मैं स्वाति की नंगी चूचियां और चूत देखने को बेचैन हो चुका था तो मैंने उसे XXX कैम सेक्स के लिए कहा. इससे तो बिल्कुल भी नहीं।तो मैं बोला- आंटी मैं आराम से करूँगा प्लीज़.

इनका नाम हमारे यहाँ पूछा जाए, तो कोई भी बता देगा तुझे कि ये कौन हैं।मैंने उसकी बात काटते हुए कहा- क्या यार, दोस्त बन के आया हूँ यहाँ और तुम क्या लेकर बैठे हो. मैंने उसके मुँह के अंदर ही उसकी चीख दबा दी और सुमन छटपटा के रह गई और मुझे हटाने के लिए मुझे हाथों से मारने लगी.

मैं उसे मना करने लगी ‘नहीं… प्लीज नहीं!’मैं ऊपर ऊपर से ना कह रही थी. ऐसे में चुदाई तो हो नहीं सकती थी, बस मस्ती करते-करते घर आ गए।अब मेरे दिन बदल गए थे. भाभी फिर से झड़ने वाली थीं, जबकि वो दो बार पहले ही झड़ चुकी थीं।इस बार हम दोनों साथ में झड़े.

तो मैंने स्वीटी के लबों को चूसना चालू कर दिया इमरान हाशमी की तरह… मुझे तो बड़ा मजा आ रहा था.

इस सेक्सी स्टोरी में मैं आपको बताना चाहूँगा कि कैसे मैंने मेरी बहन की सहेली शीला की चूत की चुदाई की!अन्तर्वासना के पाठकों को नमस्कार. जैसे कि हम दोनों में तय था कि जब तक प्यार और साथ रहने का मौका होगा हम निभाएंगे और बाद में कोई किसी को बिन कुछ कहे अपनी जिंदगी में आगे बढ़ सकता है. गीली-गीली हो रही है।’ राजू ने लंड को उसकी चूत से रगड़ कर कहा।माला की चूत रस से भर रही थी, राजू को लग रहा था कि माला जल्दी ही झड़ जाएगी.

हम आनंद के सातवें आसमान पर पहुंच गए, काफी देर तक मैं भाभी की चुदाई करता रहा, फिर मैंने पूछा- मैं झड़ने वाला हूँ, कहाँ गिराऊँ?तो वो बोली- रुको, मेरे मुँह में अपना माल गिरा दो!और मैंने पूरा माल उसके मुंह में डाल दिया।मेरे एक बार झड़ने के बीच वो भी झड़ चुकी थी. फिर अचानक ही कहा- दो लड़कियों को संभाल लोगे?पहले तो मैं उसके मुंह से अचानक ही ऐसा सुन कर हड़बड़ा गया फिर सोचा कि जमाना बहुत आगे निकल गया है तो मैं क्यों पीछे रहूं.

तो उसको भी मज़ा आने लगा और कामुक सिसकारियों की आवाज़ आने लगी ‘आ उउउ आह उउउ. उसने मेरा पानी अपनी जीभ से साफ करा और अब मुझे किस करने लगी, अपनी चूत मेरे लंड पर रगड़ने लगी जिससे मेरा लंड खड़ा होकर 7 इंच का हो गया. इतने में मुझसे रहा नहीं गया और मैं छूट गया, ढेर सारा माल मेरे लंड से छूट कर नीचे चादर पर गिरकर इकट्ठा होने लगा.

बीएफ वीडियो भोजपुरी देहाती

उसकी नाइटी में से उसकी ब्रा के स्ट्रीप दिख रही थीं।रात 11 बज रहे थे.

मैं अनामिका एक बार फिर अपनी सच्ची चुदाई की कहानी आप सबके लिए लेकर आई हूँ। मैं पिछली कहानी में आप सबने मेरे बारे में सब जान तो लिया ही था, पर फिर भी एक बार बता देती हूँ। मैं हरियाणा के रोहतक से एक 22 साल की 32-28-34 की सेक्सी फिगर वाली लड़की हूँ। यह सेक्स स्टोरी मेरी और ट्रेन में मिले एक लड़के की है।बात तब की है जब मैं 20 साल की थी और अपनी ग्रेजुएशन के दूसरे साल में थी। यह जुलाई की बात है. अंजलि जोर जोर से मेरे लंड पर कूद रही थी- आह किशोर… आआह्ह उफ्फ फ्फ्फ़ किशोर… उफ्फ आअह… हह ह उआह उउईई!मैंने भी रिदम में आकर नीचे से झटके लगाने शुरू किये, ताल से ताल लंड से चूत का मिलन होना शुरू हो गया. मैं बोर हो रही हूँ।तो मैंने झट से पूछ लिया- क्या कंपनी देने मैं आ सकता हूँ?उसने कहा- हिम्मत है तो आ जाओ।अब दोस्तो, हिम्मत की बात हो और इतनी खूबसूरत लड़की से मिलने का मौका हो तो मेरे जैसा कोई भी लड़का चला जाएगा।मैं दो घंटे बाद उसके घर के नीचे खड़ा था। मैंने उसे फोन करके कहा- मैं तुम्हारे घर के नीचे हूँ।उसने बोला- अभी वहीं रूको.

चुदाई की बात चल रही थी, वो कहता ‘ यार आराम से करना चाहिए!’वो कहती- नहीं वाइल्ड!मैं हैरान… यह क्या चल रहा है? फिर सोचा ‘यार… शी इस ओपन तो क्या है… अच्छा है इफ़ शी इस हैपी!’फिर मैं कुछ दिन ऐसे ही देखता रहा उसकी मज़ाक-मस्ती राम के साथ!वो थोड़ा गुंडा टाइप था और दिव्या को भी ऐसी लड़कपन वाली बातें पसंद थी. तो भाभी बोलीं- क्या हुआ?मैंने कहा- ये दूध अच्छा नहीं लग रहा है।वो मुस्कुरा दीं और बोलीं- ये अच्छा नहीं लग रहा है तो देवर जी को कौन सा दूध चाहिए?मेरे मुँह से एकदम से निकल गया- आपका. वीडियो में सेक्सी सेक्सजिससे मुझे संतुष्टि नहीं मिलती है। अब तो न जाने कितने महीनों से तुम्हारे अंकल ने मुझे चोदा ही नहीं है।मैंने मालूम किया तो आंटी ने बताया कि वो सिर्फ़ उंगली से ही काम चलाती थीं। मैंने उन्हें और कुरेदा तो उन्होंने बताया- मैं तो शुरू से ही तेरे पर फ़िदा थी.

यह कहानी मेरी चाची की चुदाई की है और मेरी अपनी ज़िन्दगी की पहली चुदाई की कहानी है. मैंने चूत चाटने से मना कर दिया, वो कुछ नहीं बोली।उसने कहा- अगर तुम्हें ये अच्छा नहीं लगता.

रमा कुछ नहीं बोली, उसकी आंखों में खुशी और संतुष्टि के आँसू थे।बाबा जी उसकी भावना समझ गए और उसके कान में बोले- पगली, बाबा तीन महीने बाद फिर आयेंगे… पर तुम यहाँ से जाते ही अपने पति के साथ एक बार जरूर सम्बन्ध बना लेना. छोटा कद और काले घने बाल उनकी सुंदरता में चार चाँद लगा देते हैं। उनके उठे हुए बोबे. यहाँ भी मैं वंदना को उसी तरह से उत्तेजित कर उसके होंठों में अपना लंड फंसाने की कोशिश कर रहा था.

परन्तु मैं कहना चाहती हूँ कि इस कहानी को आप लोग जरूर पढ़ें और एक नारी की मनोदशा को समझें।धन्यवाद।[emailprotected]. उसके घर में जाने के बाद मैं नजर बचा कर उसके रूम में पहुँचा तो उसने मेरे लिए बिरयानी बना रखी थी और मुझे खिलाने लगी. मेरा लंड खड़ा हो गया और चाची से टकरा गया तो चाची मुझसे और भी ज्यादा चिपक गई.

पहले उसके नीचे वाले होंठ को अपने लबों से जी भर के चूमा फिर उसके उपर वाले होंठ को दिल खोल के चूसने के बाद मैंने उसके मुख में अपनी जुबान डाल दी.

मैं होर किस्से दी णी होणा!इन्नी गल सुनदे ई मैंनूँ ते ग्रीन सिग्नल मिल गया. इस मौसम में गीले अंडरवियर में लटकते लंड देखने वालों की दिल की हर कामना पूरी होने के चांस होते हैं क्योंकि इस समय जाट अक्सर खेतों में नहाते हुए दिख जाते हैं और वो भी एक नहीं बल्कि तीन या चार साथ-साथ.

मैंने उसे लंड मुंह में लेने के लिए बोला, उसने मेरे लंड को मुंह में ले लिया. फिर मैंने खा- मेरे पास कंडोम है, तू कहे तो आज उसे यूज करूं?उसने कहा- मेरे बॉयफ्रेंड को पता चल जाएगा?मैंने कहा- नहीं पता चलेगा! बस तू मत बताना!मेरी बहन ने मुझे बताया कि उसने अपने बॉयफ्रेंड से भी कभी चुत नहीं मरवाई है, वो उसे सिर्फ गांड चोदने देती है, क्योंकि वो अपनी चुत अपने पति के लिए कुँवारी रखना चाहती है. ऐसा सोच कर इसे चूसो।भाभी ये देख कर मुस्कुराने लगीं उन्हें डेरी मिल्क बहुत पसंद थी इस बात को उन्होंने मुझे बाद में बताया था।वे झट से लंड को मुँह में लेकर चूसने लगीं.

कोमल हर पल मचल रही थी, सिसकारियों से कमरा संगीतमय था- ओह्ह्ह उफ्फ फ्फ्फ़ क्या कर रहे हो आप? रुको ओ ओ ओ ओ बस करो प्लीज!कोमल के जिस्म का एक एक अंग मैं चूमना चाहता था मैं चाह रहा था कि उस बिल्ली को इतना तड़पा कर मज़ा दूँ कि वो मेरी दूर तक साथी बनी रहे. यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!वह मुदस्सर की बड़ी बहन थी इसलिए मैं भी उसको बहन ही मानता था लेकिन उसको यूं सबसे चुदवाता देखकर मैंने पक्का उसको ठोकने का सोच लिया था. फिर सोचा क्या फ़र्क पड़ता है इसकी गांड भी मिल जाएगी और इसकी बहन की चूत भी चोद लूँगा। मैं अभी सोच ही रहा था कि इतने में ही उसने मेरे लंड को पकड़ लिया और हिलाने लगा।मुझे बहुत मजा आ रहा था… मेरी आँखें बंद थीं… आह उहह.

सेक्सी वीडियो अंग्रेजों की बीएफ माँ मुझे हर रोज किसी पेड़ का पत्ता तेल में गर्म करके कूल्हे पर लगाती थी जिससे मुझे थोड़ा आराम मिलता था. फिर शादी वाले फोल्डर में एक फोल्डर और दिखा जिसमें ‘सीक्रेट हनीमून’ लिखा था।मैं वैसे ही बहनोई की बहन की फोटो देखकर उत्तेजित हो गया था.

स्कूल की लड़कियों की बीएफ

रूम साफ करने आया था।मैंने उसे आने दिया। जब तक उसने रूम साफ किया, तब तक सुरभि नहा ली।जैसे ही वो आदमी कमरे से बाहर गया. कॉलेज के टाइम 4 साल तक तेरे पति की गांड मारता था, उसकी बहन के साथ भी सेक्स करता रहा था।’‘ओह माई गॉड. अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार!यह मेरी पहली कहानी है लड़की की बुर की चुदाई की.

’ कहा तो उसकी बहन ने पूछा- कोई है क्या?उसने बताया, तो उसकी बहन कहती- दीदी तू कितने मज़े लेगी. जोहा बोली- एक बात बोलो तारिक, तुम जबसे आये हो मेरे घर, हर वक्त मेरी गांड को ही निशाना बनाए हो, ऐसा क्यों?मैंने कहा- जोहा, तुझे नहीं पता तेरी गांड जब हिलती है तो मेरे लंड पे क्या गुजरती है!काश… तू यह जान पाती कि तेरे इस गांड का मैं कितना बड़ा आशिक हूँ, तो शायद यह सवाल ना करती!बस यों समझ लो कि तेरी इस गांड में मेरी जान है. देवर भाभी की सेक्सी हिंदी मेंलेकिन मैं उसकी चूत देखने को बेचैन था तो मैंने उसे दोबारा कहा और उसने धीरे धीरे अपनी पेंटी अपनी जांघों से सरका कर पैरों से निकाल दी.

तब उसने थोड़ा सा वीर्य बाहर थूक दिया और बाकी तो उसे निगलना ही पड़ा।अब मैं 69 में होकर उसकी बुर के पास आया और अपनी जीभ से उसकी बुर की चुदाई करने लगा। वो बुर पर मेरी जुबान पाते ही लम्बी-लम्बी सिसकारियां लेने लगी थी और लगातार मेरे सिर को अपनी बुर पर दबाए जा रही थी।मेरी जीभ और उंगली दोनों अंजलि को छोड़ रहे थे। तभी अंजलि अकड़ उठी और उसका पानी निकल गया।मैंने माल को चाटा.

मेरी हालत देखे बिना चल दिया।मैं बोला- आंटी क्या हुआ आपको?वो बोलीं- मुझे उठा कर बाथरूम में तो ले चल।कुछ देर बाथरूम में हम दोनों रहे और अब आंटी भी तैयार हो कर मेरे साथ ही होटल चल दीं।शालू हम दोनों को अन्दर आते देख कर मेरे तरफ आई और आंटी से बोली- क्या हुआ. जब मैं बेडरूम में वापस आया तो नताशा के हाथों में टेलिविज़न का रिमोट था और वो टीवी में नजरें गड़ाए लेटी हुई थी.

यह हिंदी देसी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैं उसे लेकर दूसरे कमरे में गया, मैंने अंदर से दरवाजा बंद किया और उस पर टूट पड़ा. पर तेरी ये भाभी कौन है राहुल?मैंने बताया- तुमको देख कर मुझे अपनी भाभी याद आ गई।नेहा बोली- मुझे देख कर या मेरे चूतड़ों को देख कर!फिर मैं हँस कर जोश में आ गया और कहा- हाँ नेहा मुझे तेरे चूतड़ों को देख कर भाभी की याद आ गई. पर हमारे दिमाग़ में तो घुसा था कि उनकी लाइव चुदाई को देखना ज्यादा ज़रूरी है।अब अजीत ने धक्के तेज़ कर दिए थे। लगभग 15 मिनट के बाद सुनीता झड़ गई.

इत्ता मजा तो तेरे चाचा के साथ भी कभी नहीं आया।उस रात हम दोनों बिना कपड़ों के ही सो गए और सुबह उठ कर दोनों एक साथ नहाए।नहाते समय भी मैंने चाची को फिर से चोदा और पूरे 5 दिन में हम दोनों ने 12-13 बार चुदाई की।अब जब भी चाचा काम से बाहर जाते हैं तो चाची मुझे बुला लेती हैं। मेरी ये हिंदी चुदाई स्टोरी आपको कैसी लगी.

मैंने उसे मेरे बिस्तर पर फेंक दिया।वो खुद ही उल्टा हो गई। उस वक्त उसकी गांड बहुत ज्यादा अच्छी लग रही थी। मैंने देर न करते हुए उसके होंठों को चूमना शुरू कर दिया और धीरे-धीरे उसका टॉप उतार दिया।अन्दर रेड कलर की ब्रा पहनी थी उसने. मुझे अजीब सा लग रहा था।उसने हंसते हुए कहा- कितना शरमाते हो तुम?तो मैंने उससे कहा- मैं शर्माता नहीं हूँ, बस हूँ ही ऐसा।तभी आंटी किचन से तीनों के लिए चाय लेकर आईं। शायद उन्होंने हम दोनों की बात सुन ली थी।उन्होंने कहा- वो शर्माता नहीं है. मेरे सुपारे को चाटते चाटते ही संगीता भाभी ने उसे अब अपने नाजुक होंठों के बीच हल्का सा दबा लिया और अपने होंठों को गोल करके धीरे धीरे ऊपर नीचे किया.

एक्स एक्स एक्स जबरदस्तीक्या मस्त फीलिंग थी।मुझे मजा आ गया था और भाभी भी मोन कर रही थीं ‘अहह. गोरा बदन और लाल रंग!’ क़यामत तक याद रहेगा मुझे!’लाल ब्रा के अंदर गोरे-गोरे और उठे हुए मम्मों के ऊपर उसके गुलाबी निप्पल भी अच्छे लग रहे थे। मैंने उसको पलट दिया, उसकी ब्रा का हुक भी खोल दिया.

बीएफ सेक्सी ब्लू वीडियो बीएफ

’ रमा ने आस की नज़रों से तरन की ओर देखते हुए कहा।‘रमा तू मेरे देवर रवि को तो जानती हैं न? बहुत पूछता है तेरे बारे में… मेरी मिन्नतें कर रहा है साल भर से कि तेरी उससे बात करवा दूँ, तू बोले तो करूँ बात?’ तरन ने रमा को आँख मारते हुए कहा।‘नहीं नहीं दीदी रहने दो!’ रमा ने घबराते हुए कहा. मैंने उससे कंडोम निकालने को कहा, मेरी बहन ने कंडोम निकाला तो मैंने उससे लेकर अपने लंड पर कंडोम चढ़ा लिया. यही कोई 36 साल के आस-पास की रही होंगी। उनकी गांड इतनी टाइट महसूस हो रही थी कि उनके टकराने से मेरा लंड खड़ा हो रहा था। लेकिन भीड़ बहुत ज़्यादा थी सो मैं कुछ कर नहीं पा रहा था।मैंने हिम्मत करके आंटी से बोला- आंटी आपके लिए खाना मैं ले लेता हूँ, आपको दिक्कत हो रही है।वो बोलीं- ठीक है.

उसके दो कारण थे, पहला कि वो मुझसे सीनियर थी और गुस्सैल भी… कुछ इधर उधर होता तो मेरी नौकरी खा जाती चुड़ैल… और दूसरी कि उसे देख कर लगता था कि इसके 2-4 प्रेमी जरूर होंगे आखिर इतनी सुंदर जो ठहरी. मौसी बोली- बेटा जल्दी कर…मैं बोला- जल्दी क्या है? सारी रात हमारी ही तो है!मौसी ने मेरा लंड पकड़ लिया. आंटी को भी मजा आने लगा था और मुझे तो आने ही था, आंटी की कसी हुई गांड जो बजा रहा था।कुछ मिनट तक गांड मारने के बाद मैंने अपना लंड निकाला और एकदम से आंटी की चुत में फिट कर दिया।आंटी- आहह मादरचोद.

फिर मैंने धीरे से उसके ऊपर हाथ रख दिया, वो शायद सो गई थी, मैंने धीरे से हाथ फिराना चालू किया. तो उसके शरीर की सुगंध से मेरे अन्दर कुछ-कुछ होने लगता।उसके साथ डांस करते-करते मेरा लंड खड़ा होकर उससे टच होने लगा।जब उसको महसूस हुआ तो वो भी गर्म होने लगी. तुम भी अपनी जवानी बर्दाश्त नहीं कर पा रही हो और मैं भी प्यासा हूँ।उसने बोला- तुम्हारा मतलब क्या है?तब मैंने कहा- जो तुम रूम के अन्दर कर रही थीं.

कुछ मिनट बाद चाची फिर से झड़ गई और अब वो मुझे लेटा कर मेरे लंड पर शहद डाल कर चूसने लगी. मुझे एक बार तो थोड़ी सी हंसी आई और मैंने उसे अपने प्रयास में लगे रहने दिया.

मुझे फ्रेश होने जाना है।मैंने कहा- ठीक है बाथरूम उस तरफ है।वो जाने लगा.

मुझे मेल के ज़रिए बताना।[emailprotected]आप मुझे फ़ेसबुक पर भी संपर्क कर सकते हैं।. ftu सेक्स वीडियोफिर वो अगले दिन लाइब्रेरी में आया और बोला- आज आप मेरे साथ बाइक से घर चलोगी?मुझे लगा कि अब ये मुझे अपने घर ले जाकर मेरी चुदाई करेगा, मैंने भी बोल दिया- ओके. एक्स एक्स सेक्सी एक्स एक्स सेक्सीअपने छोटे भाई की ख़ुशी के लिए उसको रूम में बुलाकर पहले मुझे चोदा था फिर उससे मुझे चुदवाया था. उसने देर ना करते हुए मेरे लंड को तैयार करना शुरू कर दिया लेकिन इसा बार मेरा लंड काफी देर बाद और काफी मेहनत से खड़ा हुआ.

!’‘हाँ मेरी बहनचोद बहन मैं भी तुझे चोरी छिपे आँखों से चोद-चोद कर थक गया हूँ। मुझे अपना पति बना ले मेरी रानी.

दीपा- तो क्या हुआ वासु है न, वो तुम्हें सिखा देगा… वो अच्छा स्विमर है… अगर साहिल को ऐतराज न हो तो!और दीपा ने रेशमा को आंख मारी. की आवाज आई और साथ में अन्दर की काली ब्रा भी आधी फट गई। आंटी के मस्त दूध थे।अब मैं उनके मम्मों को फटी ब्रा के ऊपर से ही मसलने लगा और बोला- आंटी मान जाओ यार. मगर क्या करूँ अपने आप पर काबू रखना पड़ता है।चाची की साइज़ तकरीबन 30-26-32 की होगी। उनका घर मेरे पड़ोस में ही है। उनके पति यानि मेरे चाचा इंडिया से बाहर विदेश में रहते हैं। चाचाजी 2-3 साल में एक बार ही इंडिया आ पाते हैं।चाचा-चाची की एक लड़की भी है.

मेरे दरवाजा खोलते ही वो डर गई।मैं उसके पास खड़ा हो गया। मैं मौके का फ़ायदा उठाना चाहता था इसलिए मैंने उससे कहा- तू नंगी क्यों नहा रही है?तो बोली- गर्मी लग रही थी।मैंने गुस्से से उसे डांटते हुए कहा- तेरी मम्मी से कहूँगा कि तू नंगी होकर दरवाजा खोलकर नहा रही थी. ‘भाभी मनीष जागेगा तो नहीं? वह अभी भी होगा रूम में?’‘सो रहा है वह गहरी नींद में!’ उसने मुदस्सर की गोद में बैठते ही उसके मुँह से मुँह लगा दिया, दोनों स्मूच करने लगे. मजा आया क्या?मैंने कहा- हाँ बहुत मजा आता है।वो चुप होकर मेरे दूध की तरफ देखने लगा तो मैंने पूछा- तुम ब्लू-फिल्म तो देखते ही होगे?वो बोला- हाँ देखता हूँ।मैंने कहा- देखने के बाद मन नहीं करता किसी की चूत चुदाई का?मेरी खुली देसी भाषा पर वो भी खुल गया और लंड पर हाथ फेरते हुए बोला- हाँ करता तो है.

किचन बीएफ

थोड़ी देर के बाद मेरा वीर्य निकल गया जो मैंने उसकी चूत में नहीं जाने दिया, बाहर निकाल दिया. पहले मेरे मन में उसके बारे में एसा कोई विचार नहीं था लेकिन जब मैं इस बार घर गया तो अब वो बड़ी हो चुकी थी, बहुत ही सेक्सी लगने लगी थी. हम दोनों के परिवार वालों को इसकी भनक नहीं थी कि हम दोनों सिस्टर स्वैपिंग कर रहे थे.

पर तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड क्यों नहीं है? तुम्हारी उम्र में तो सबकी कोई ना कोई जुगाड़ होती है।मैं- अब आप जैसी कोई मिली ही नहीं.

’‘नहीं, लिंग देखा वो ही बड़ी बात हो गई… अगर इसने जबर्दस्ती की तो?’‘तो… तो मैं कुछ नहीं कर सकती, कितनी मस्क्युलर बॉडी है इसकी…’‘वैसे ही वो हाथ में लेने के लिए ही जोर दे रहा है, उसकी ख्वाइश पूरी हो जायेगी, मैं भी यहाँ से चली जाऊँगी और इतना बड़ा लिंग हाथ में लेने को मिलेगा.

मेरी अरेंज मैरिज हुई है।शादी के मौके पर अक्सर दोस्त बहुत कुछ सिखाते हैं कि कैसे बीवी को चोदना है, कैसे बुर में लंड डालना है, कैसे गांड मारनी है। लेकिन दोस्तो, कोई भी अनुभव करके नहीं बताता. तब मैंने ऊपर होक अपनी लुल्ली उसके निप्पल से भिड़ा भिड़ा कर मजा लेना शुरू किया. गुजराती देसी सेक्सी वीडियोहम दोनों ही उनके पास गए, उन्होंने भी उसे विश किया।फिर अंजलि ने मेरी नम्रता आंटी से पहचान करा दी।आंटी ने मुझसे कहा- हाँ बहुत सुना है तुम्हारे बारे में.

फिर भी मैंने कंट्रोल किया।फिर हमने खाना खाया ही था कि उसके भाई का कॉल आ गया कि उसने बताया वो इसी शहर में है. मैं आप सभी अन्तर्वासना के पाठको को प्रणाम करता हूँ, आपकी वजह से ही मैं एक बार फिर से अपना नया अनुभव प्रस्तुत करने के लिए प्रेरित हुआ हूँ. माँ नहाने गई हुई थी और मैंने उनको बोला था कि मैं दोस्त के यहाँ जाऊंगा तो उन्हें लगा कि घर पर कोई नहीं है, वो भी बड़े आराम से नहाने लगी.

लेकिन खुलेपन से नहीं।जब वह ऊपर के कमरे में अकेले लेट कर कुछ पढ़ रही होतीं. ’ रमा बोली।रमा ने उसे वहीं खड़ा रहने को कहा और अपने कमरे से अपने पति का एक कच्छा ले आई और राहुल को देते हुए बोली- ले पहन ले इसे!राहुल ने भी बिना किसी शर्म के निक्कर रमा के सामने ही उतार दी और उसका तनतनाता लंड रमा को सलामी देने लगा.

किसी साथी की जरूरत थी। जब मैं यहाँ आई, तो मेरे अकेलापन शेयर करने वाला कोई भी नहीं था। फिर मेरी दोस्ती अंजलि से हुई.

जिसकी दुनिया दीवानी थी। चूतड़ों की गहराई का अंदाज़ा इसी से लगा लो कि दोनों चूतड़ों के बीच गहरी काली लाइन कमर से शुरू हुई और नीचे ना जाने कहाँ खो गई। लाइन के अगल-बगल एकदम गोल और गोलाई में कटाव लिए हुए उसे चूतड़ ऐसे लग रहे थे कि उसकी चुत की हिफाजत के लिए शार्प शूटर लगाए गए हों।मुझे घुटनों के बल बैठ कर चुत और गांड को साफ़ करने का ऑर्डर मिला।ये सफाई मुझे अपने लंड से नहीं. और कुछ देर बाद जब हम दोनों दोस्त वहीं बैठे उसे एक्टिव चलाते हुए देख रहे थे. माँ का प्यार पा राहुल भी रो पड़ा।दोनों को एक दूसरे की ज़रुरत थी पर दोनों के मन में एक दूसरे के असीम प्यार भी पैदा हो गया था।राहुल की टयूशन का टाइम हो रहा था, उसने जल्दी से खाना खत्म किया और टयूशन भागा।शेफाली ने आज सब बच्चों की छुट्टी कर रखी थी, ऊपर से घर पर कोई नहीं था, वो जानती थी कि इससे अच्छा मौका उसे नहीं मिलेगा.

भाई बहन का सेक्सी ब्लू फिल्म मुझे एक बार तो थोड़ी सी हंसी आई और मैंने उसे अपने प्रयास में लगे रहने दिया. माँ मुझे हर रोज किसी पेड़ का पत्ता तेल में गर्म करके कूल्हे पर लगाती थी जिससे मुझे थोड़ा आराम मिलता था.

अब मैंने उसे प्यार से नीचे आने को कहा और वो चुपचाप नीचे आकर लेट गई। मैं सीधे उसके गुलाबी होंठों को चूसने लगा और वो भी मेरा साथ देने लगी।अब हम दोनों पर पूरा सेक्स चढ़ चुका था और हम एक दूसरे से लिपटे हुए किस कर रहे थे. फिर तुम्हें बताता हूँ।मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और खुद उसके ऊपर लेट कर उसके होंठों पर किस करने लगा। किस क्या. ये तो मोटा भी बहुत है।वो बार-बार एक हाथ से मेरे लंड को पकड़ने की कोशिश कर रही थीं।मैंने कहा- पूरे 4 इंच गोलाई में मोटा है आंटी।वो बोलीं- ये लंड है या लोहा.

बीएफ सेक्सी 4जी वीडियो

फिर मैंने उनके सारे कपड़े सलवार और कमीज उतार दिये, वो अब सिर्फ ब्रा और पेंटी में थी, फिर मैंने वो भी उतार दी और उनके नंगे शरीर को धीरे धीरे किस करने लगा. नहीं तो वो नाराज होगी।ऐसा मैंने आंटी से इसलिए कहा था क्योंकि जब मैं उनके यहाँ नाश्ते के लिए गया था और मैंने उनके दूध देखे थे. मेरे एक बार ही मना करने पर मान गए। मैं जानती हूँ कि तुम्हारे क्या अरमान हैं.

ई अभी मत करना… नहीं तो गर्म हो जाएगी। इसका मतलब मेरे पति मनीष को गांड मरवाने का भी शौक है?’ अमिता ने मुस्कुरा कर उसकी तरफ देखते हुए पूछा।मुदस्सर की बदमाश निगाहें अब अमिता की गोल-गोल चूचियों को देख रही थीं- यह तो मालूम नहीं है. थोड़ी देर बाद मैं बोला- चाची, कुछ हो रहा है!तो वो बोली- तू लंड मत निकालना, अंदर ही होने दे जो हो रहा है…थोड़ी देर बाद मैं झड़ गया और चाची के ऊपर गिर गया.

मैंने- फिर?कहती:फिर हम बातें कर रहे थे… उसके साथ टाइम स्पेंड करना अच्छा लगता है, यार आज उसने मुझे कहा कि सुहागरात कैसे मनाते हैं सिखाऊँगा.

पहली बार मेरे लंड को कोई लड़की चूस रही थी… मैं तो किसी ओर ही दुनिया में पहुँच गया था. फिर थोड़ी देर बाद मैंने बाज़ार जाकर कंडोम लिये और कुछ डेरी मिल्क सिल्क वाली चोकलेट्स भी… साथ में गुलाब का एक सुंदर फूल लेकर मैं अमृता के रूम पर पहुंचा. हय क्या चाल थी उसकी! वो रस बरसाते उसके गुलाबी होंठ, उसकी कातिलाना आँखें.

मुझे आने में दो दिन लग जाएंगे।इस तरह मैं अपनी मॉम से जाने की बोल कर निकल गया। रवि की बहन शादी एक छोटी से गांव से थी। उसके गाँव का घर बहुत छोटा सा था, जैसे तैसे शादी निपटी।उस रात को मुझे वहीं रुकना था, पर मेरे को लगा आज यहाँ पर नहीं सो पाऊँगा तो मैं रवि से बोला- भाई मैं घर जा रहा हूँ।रवि ने भी परिस्थिति देखी और मुझे जाने के लिए ‘हाँ’ बोल दी।मैं शाम 7. वो कह रही थी कि 2 साल से किसी के साथ किया नहीं तो चुत थोड़ी टाइट हो गई है. उसने मुँह खोला दिया तो मेरा लंड रस उसके मुँह के अन्दर चला गया, उसने बड़े प्यार से मेरी रबड़ी को खा लिया।हम दोनों ने इसके बाद लगभग 30 मिनट तक रेस्ट किया।मैंने कहा- चल कर फ्रेश हो जाते हैं.

मजा नहीं आ रहा था मुझे। वो भले जोर-जोर से कामुक सिस्कारियां ले रही थी। उसके मम्मे बहुत छोटे थे.

सेक्सी वीडियो अंग्रेजों की बीएफ: वो भी जब आप जैसी माल सामने हो!वो हंस कर बोलीं- मुझे सब पता है कि आप दोनों कैसे सेक्स करते हो। मेरी सहेली ने मुझे सब बताया है और मैंने आप लोगों सेक्स करते हुए भी देखा है।मैं उनकी इस बात पर जरा चौंका कि इन्होंने सेक्स करते कब देख लिया था।फिर बोलीं- जल्दी आओ ना. उसके बाद अमृता ने मुझे नीचे लिटा दिया और खुद उपर बैठकर लंड अपनी चूत में लेकर मेरे लंड पर कूदने लगी.

जैसे ही भईया गए, मैं भाग कर भाभी के पास पहुँच गया और भाभी को गले से लगा लिया. मुझे नींद आ रही है।मैं डर गया और उठ कर चला गया।कुछ देर बाद मैंने बाथरूम में जाकर मुठ मारी।फिर कभी-कभी मैं ऐसे ही उसके साथ करता रहता था। उसे पता था कि मैं उसकी चुत मारना चाहता हूँ. इस बार लंड आसानी से उसकी गुलाबी चिकनी चूत में प्रवेश कर रहा था, उसकी आँखों में आंसू थे पर मुझे नहीं पता कि वो दर्द के थे या ख़ुशी के…अब वो पूरी तरह से मेरे लंड पर थी, उसकी चुची के निप्पल मेरे मुँह में थे, अभी वो हिल नहीं रही थी, पर मैं उसकी चुची चूसने के काम में पूरी मेहनत से लगा हुआ था, बीच बीच में मैं उसके निप्पल को काट भी लेता था जिससे वो चिंहुक उठती थी, जो मुझे जोशवर्धक की तरह लगता था.

अचानक मेरा सर दरवाजे से टकरा गया और मम्मी की नजर दरवाजे पर पड़ी और मैं भाग कमरे में आ गई।तभी कुछ समय बाद दोनों मेरे कमरे में आये और मुझे देखा.

एक दिन फोटोस्टेट की दुकान पर दिल्ली में गेस्ट टीचर की जॉब के लिए फॉर्म भरवा रहा था, तभी नज़र सामने बैठी एक लड़की पर पड़ी. मैं समझ गया कि अब यह झड़ने वाली है, मैं और कस के धक्के मारने लगा और वो वक़्त आ गया कि जब हम दोनों झड़ गये. ?वो हड़बड़ा गई और बोलीं- जरा खुजली हो रही थी।लानी बोली- दीपा तूने तो कल शेव की थी ना.