बीएफ बुर में

छवि स्रोत,सेक्सी नंगा डांस हिंदी

तस्वीर का शीर्षक ,

टैक्सी टैक्सी बीएफ: बीएफ बुर में, फिर हमारी रोज बातें होने लगीं और मैं उसे रोज धीरे धीरे गर्म करने लगा.

सेक्सी वीडियो प्ले दिखाएं

उसका इतना अधिक पानी निकला कि मेरे ऊपर, जिस कुर्सी पर वो बैठी थी उस पर, उसकी जाँघों से लेकर नीचे पैर तक और ज़मीन पर उसका पानी ही पानी फ़ैल गया था. विदेशी लोगों का सेक्सी वीडियोलाल साड़ी पहनने के साथ गले में लटकता हुआ मंगलसूत्र, मांग में सिन्दूर, माथे पर बिन्दी और होंठों पर चटक लाली, उनकी ये अदा मुझ पर किशोरावस्था से ही कहर ढा रही थी, जिसे कैश करने का मौका युवावस्था में उस रात मिल चुका था.

कमोड पर वो पेट के बल लेट गई क्योंकि हर झटके से उसका मजा बढ़ता जा रहा था. मारवाड़ी बाथरूम सेक्सी वीडियोतभी एकदम से गर्मी बढ़ गई और आंटी जोर जोर से अपने शरीर को ऐंठने लगीं.

फिर अगले पल मैं खुद ही अंकल के गोद में आगे की ओर थोड़ी सी उचकी और अपनी समीज़ को दोनों हाथों से खुद ही निकालने लगी.बीएफ बुर में: एक बार मैं अपनी दीदी के देवर के साथ घर में किसी को बिना बताए घूमने चली गयी थी.

उस लड़के को शायद इस बात का अंदाजा था कि किस जगह पर कार रोक कर चुदाई का मजा लिया जा सकता है, तो कुछ देर बाद कार रुक गई और वे दोनों भी अपनी मस्ती में लग गए.मैं फिर से उफान पे आ गया और बिना देर किए मैंने भाभी को अपने नीचे लेटा कर उनके दोनों पैरों को फैला दिया.

हिंदी सेक्सी पिक्चर पंजाबी - बीएफ बुर में

तू अपना गिलास ले के आ जल्दी” मैंने चौकीदार को बोला तो वह लगभग दौड़ता हुआ अपनी झोपड़ी में गया और गिलास ले आया.मैं पूजा की हरकत समझ गया और मैंने पूजा को अपने हाथों से पानी पिलाया फिर पूजा को गोद में उठाकर नीचे लाया.

मैं- अंकल, यह तो बहुत लंबा हो गया … ऐसा क्यों हुआ?अंकल- यह बोल रहा कि मुझको चूसो. बीएफ बुर में तभी मुन्ना अंकल उधर पीछे दरवाजे के पास चौकीदार की तरह खड़े अंकित को बोले- अबे साले अंकित, उधर क्या ताक झांक कर रहा है.

अब तो आलम ये है कि रास्ते पर जितनी लड़कियों या औरतों को चलती हैं, उन सबमें मुझे चूत की चुदाई ही नजर आती है.

बीएफ बुर में?

किसिंग फिर से शुरू हुई और इस बार मैं उसे एक स्मूच करते करते नीचे को आने लगा. वे अपने एक हाथ से अपनी एक चूची को मसल रही थीं और दूसरे हाथ से चूत में लम्बा वाला बैंगन डाल रही थीं. मैं जान गया था कि वो भी पूरी तरह से गर्म हैं और मज़ा करना चाहती हैं.

मैंने कहा- डिल्डो यूज़ करती हो?उसने मुझे अजीब सी नजरों से देखा और ‘हाँ’ में सिर हिलाया. अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज के बारे में उन्हें पहले से ही पता था, शायद उनकी किसी सहेली ने बताया था उन्हें, तो वो भी इस बेस्ट साईट पर चुदाई की कहानियाँ तो पढ़ती थी. मयूरी बच्चों की तरह जिद करती हुई- पहले आप प्रॉमिस करो कि मैं जो बोलूंगी आप दिलाओगे.

अब मेरा लंड मेरे कंट्रोल से बाहर हो रहा था तो मैंने मौसी की फुद्दी पर अपना लंड सैट किया और धीरे से अन्दर डाला. मैंने इससे पहले कई बार हस्तमैथुन किया हुआ था … लेकिन आज तक कभी चूत नहीं मारी थी. वो सब पायल के आस पास थे, लेकिन अब भी पायल को कुछ गलत नहीं लग रहा था.

तेरे मुंह का क्या है, बस हिलना ही तो है।”अरे भाभी मैं तो …”क्या मैं तो … ज्यादा डॉक्टर न बन। रेजर या वीट वगैरह न लगाती अपने अंडर आर्म पे। आई बात समझ में!”जी में आया कि गंदी-गंदी गालियां दे दूं दो चार, लेकिन बेबसी से देखता रह गया।यह बारिश मेरे पैर रोक सकती है लेकिन मुझे नहीं रोक सकती। मुझे शाम को किटी में जाना है तो जाना है. फिर हम एक साथ बाथरूम में गए और एक दूसरे को अच्छी तरह साफ़ करके साथ नहाए, चाय पी और बातें करने लगे.

उसके इतना बोलते ही मैंने प्रिया को गोद में उठा लिया और उसे बाथरूम में ले गया.

सेक्स के बाद मुझे अपराधबोध कभी नहीं होता क्योंकि मामी के होंठों की मुस्कान, उनके चेहरे पर तृप्ती का भाव मुझे सकून देता है.

पता नहीं वो किस मिट्टी का बना हुआ था, मेरे साथ सोते हुए भी मुझे हाथ भी नहीं लगाता था. मैंने उसकी आँखों के आँसुओं को पौंछते हुए उससे कहा- अब सब भूल जाओ, भगवान ने एक हंसता खेलता बेटा हमारी गोद में डाल दिया है. इसके लिए बाहर के पुरुषों के पास जाने से ज्यादा अच्छा और सुरक्षित विकल्प महिलाओं के लिए घर के पुरुष ही होते हैं.

ट्यूबलाइट की तेज रोशनी में उसका जवां हुस्न मेरे तन मन में हाहाकार मचाने लगा. चल आज साबित हो गया कि तू सिर्फ मेरी है और मुझको धोखा नहीं दे रही है. हम दोनों लोग कभी कभी घर में अकेले रहते थे तो छत पर जाकर बातें करते थे ताकि हमारी बातें कोई सुने नहीं और हमने बातें करते करते कब एक दूसरे की केयर करना शुरू कर दिया, हम दोनों लोग को पता ही नहीं चला.

मानसी- मतलब अब तू भी चुदाई करेगी मेरी रानी!हाँ यार लेकिन किस से? मेरा तो कोई बॉयफ़्रेंड भी नहीं है, किससे चुदूँगी?हो जाएगा सब, कल से सब लड़कों को लाइन देना शुरू कर दे.

कुछ ही देर में मैं उसके दोनों चूचों को पकड़ कर दबाने लगा और गांड में लंड से चुदाई करना जारी रखी. वो मेरी इस पहली चुदाई की एक एक बात के बारे में बड़ी गहराई से पूछ रही थी. इतने में फिर से किसी ने दरवाजा खटखटाया तो अंकित अंदर से बोला- मैं लेट्रिन कर रहा हूं 15 मिनट बाद आना!मैं बिल्कुल डर गई कि अब क्या होगा? अंदर हम दोनों को कोई देख लेगा तो मैं तो किसी को मुंह दिखाने लायक नहीं बचूंगी.

बस अब तो ‘कम्मो की कुंवारी चूत और मेरा लंड’ मैंने खुश हो कर सोचा और जेब से क्वार्टर निकाल कर तीन चार तगड़े घूंट नीट ही गले से उतार लिए और खाली क्वार्टर वहीं फेंक कर तेज कदमों से बारात में शामिल होने चल दिया. तभी अंकिता एकदम पास आकर बोली- साले इतना भी दम नहीं था कि सामने से पूछ सकता? यूं लंड हिलाने की क्या ज़रूरत है जब हम दोनों मौजूद हैं. मुझे लगा था कि आपके पिता ने मेरी शादी आपसे करने के लिए चाचा से कहा होगा.

मैंने कहा- क्या मैं अकेला खाऊंगा? ये तो गलत बात है, आपको भी खाना पड़ेगा.

मैं उसे फिर से चूमने लगा, उसके बाद उन्होंने मेरे कपड़े भी उतार दिये और मेरे लंड को सहलाने लगी. जब मैंने उससे पूछा कि घर में क्या बोला है?तो उसने हंस कर बताया कि वो सहेली की शादी का बहाना करके आई है.

बीएफ बुर में मैंने उसकी भगनासा पर जीभ फिरायी तो वो सिहर सी गयी, जूही अब बोली- राज, अब मुझे चोद डालो।मैंने उसकी पैर ऊपर उठाये रखे और अपना लंड उसकी चुत पर रखा और धीरे धीरे लंड जूही की चुत में डालने लगा. आंटी के ये कहते ही मैं उनकी गदरायी हिलती हुई गांड को देखते पीछे से घर में घुसा.

बीएफ बुर में शीतल मयूरी में आज पता नहीं क्यूँ … पर अपनी वो छोटी सी, प्यारी-सी बेटी नहीं देख पा रही थी, बल्कि वो एक खूसबूरत नायब औरत देख रही थी जो उसकी काम-इच्छाओं को जागृत कर रही थी. उसके साथ उसके पिता भी थे और वो भी आग्रह करने लगे, तो मैंने उसको स्कूल के बाद 30 मिनट का समय दे दिया.

बस ये सोच कर ही मैं भाभी पर टूट पड़ा और साइड से उनके मम्मों को दबाने लगा.

जानवर कुत्ता का बीएफ

बीच की सीट में एक उम्रदराज आदमी बैठे थे, समझो करीब 60 साल के ऊपर के रहे होंगे. साथ ही भाभी हिमानी को भी ले आई और उसे समझाया कि जो होना था वह हो चुका है, ऐसा एक बार सभी के साथ होता है, जब चूत की झिल्ली फटती है, अभी पांच मिनट में सब ठीक हो जाएगा. वो बाथरूम नहाने गयी और जानबूझकर नहाने के बाद पहनने वाले कपड़े लेकर नहीं गयी.

और मानसी ने मेरी धोती खींच दी … मेरा लंड फन लहराते हुए धोती से आजाद था … सुशीला की नजर एक बार उस पर पड़ी तो वो देखती ही रह गई. जब मैं छोटा था, तब वो मेरे सामने ही कपड़े बदल लेती थीं, मैं तभी से मौसी के मम्मों का दीवाना हूँ. फिर अंकल ने मुझसे कहा- अब सुपारे की चमड़ी को फिर आगे की ओर लाकर सुपारे पर चढ़ा दो.

मैं इस तरह से बैठा था कि उसे मेरा फटा हुआ पजामा अच्छी तरह से नजर आए.

मैंने कहा- ठीक चल रहा है भैया!मैं अक्सर घर में टाइट लेगिंग और टीशर्ट पहनती हूँ जिससे मेरे दूध साफ उभरे हुए नजर आती हैं, वो भैया शायद मेरे दूध को ही देख रहे थे. फिर हम लोगों ने खाना खाया और साथ में बैठकर सब टीवी देख रहे थे तो अचानक चाची ने चाचा को बताया- गौरी दो दिन से काम पे नहीं आई!तो चाचा ने गौरी को फ़ोन किया और गौरी को पूछा कि काम पे क्यों नहीं आ रही हो?तो गौरी ने तबीयत खराब होने का बहाना किया और अगले दिन आने बोला।तब हम लोग सोने चले गए. अंकित मेरे पैरों तरफ से आया और सबसे पहले मेरे मेरे पैर के अंगूठे को अपने मुँह में भर कर चूसने लगा और फिर उसने मेरी टांगों को चूमना शुरू किया.

थोड़ी देर बाद ऐसे ही सोते हुए भाभी चित होकर अपने पैर फैलाकर सो गईं, जिससे समझ गया कि भाभी को अब चूत में खुजली हो रही है और चुदवाना है. फिर उसने कहा- मुझे थूकना है!मैंने कहा- बाथरूम में जाकर थूक दो!तो वह बोली- आप मुझे अपनी बांहों में उठाकर ले जाओ. इस बार पूरा लंड प्रिया की चूत में चला गया और उसकी चीख निकल गई ‘उह्ह … उह्ह …’प्रिया को दर्द हो रहा था, पर उसने मुझसे छूटने की कोशिश नहीं की … क्योंकि उसे भी पता था कि ज्यादा दिन बाद सेक्स हो रहा है, तो उसकी चूत भी टाइट हो गई है.

वो चुपचाप मेर नीचे पड़ी थी और खुद अपने हाथ से मेरा लिंग अपनी चुत पर सैट कर रही थी. फिर जल्दी से अपना मुँह सीधा उनकी चुत पे लगा कर अन्दर जीभ डालकर उनकी चूत का रस चाटने लगा.

मैंने उसके लंड को चाट कर साफ़ किया और उसने मेरी चूत को चाट कर साफ़ कर दिया. वो भी मेरी पास वाली चेयर पर आकर बैठ गए और मेरा हाथ अपने हाथों में पकड़ कर मुझसे बोला कि वो मुझे बहुत पसंद करते हैं. यह कहकर चाचा ने एक बार फिर अपना लंड जोर से मेरी गांड में घुसेड़ दिया.

मेरा लंड तो वो पहले भी कई बार टाकीज या पार्क वगैरह में चूस चुकी थी.

दो लड़कियों से मेरा संपर्क नहीं है, पर पड़ोस की एक भाभी तो मेरे लंड की इतनी दीवानी हैं कि जब कभी भी मौका मिलता है, वो मुझसे चुदवा ही लेती हैं. लेकिन दीमा ने तुरंत अपने झटके मारते हुए अपने लंड को नताशा की धधकती हुई भट्टी समान मुंह में घुसेड़ दिया और दोनों हाथों से उसका सिर पकड़ कर अपने लंड को मुंह की पूरी लम्बाई में घुसेड़ते, और बाहर निकालते हुए चुदाई करने लगा. उससे कम से कम तुम्हारे पति गांड मारने के लिए घर के बाहर नहीं जाएंगे.

इस बार अशोक ने बातचीत शुरू की- बेटी मजा आया… अपनी गांड मरवाकर?मयूरी- हाँ पापा… बहुत मजा आया… पर दर्द भी बहुत हुआ. देखो ये तो रहा!” बहूरानी बोली और अपना पैर उठा कर मेरे लंड को छेड़ा, हिलाया.

उनके इस तरह गांड उछालने के कारण उनके मम्मे ज़ोर ज़ोर से उछल कूद करने लग गए थे. ताकि हमारा एक दूसरे के साथ रहना पूरी तरह से क़ानूनन एक पति पत्नी का रिश्ता हो जाए. मैंने उनके स्वादिष्ट नमकीन शहद की एक बूंद भी बर्बाद नहीं होने दी और पूरा रस अपनी उंगलियों से उठा उठा कर चाट लिया.

बांग्ला बीएफ डाउनलोड

वो मेरी इस पहली चुदाई की एक एक बात के बारे में बड़ी गहराई से पूछ रही थी.

उन्होंने हमारी अच्छी तरह से खातिरदारी की और बोले- देखिए हम लोग नीची जात से हैं. यह मैं क्षणमात्र के लिए ही देख सका कि कम्मो ने घबरा कर अपनी सलवार झट से ऊपर कर ली और उसे कसके मुट्ठी में पकड़ लिया. उन्होंने बताया- हिमानी बीच में एक बार फेल भी हो चुकी है और इसकी मम्मी ने कहा था कि इसकी दो सब्जेक्ट की ट्यूशन रखनी है, तो मैं वही बात करुँगी.

मैंने उसके टॉप को उतार दिया और ब्रा भी निकाल कर उसके चुचों को आजाद कर दिया. मुन्ना अंकल ने पूरा लंड रस गर्म गर्म मेरे मुँह में छोड़ दिया, सच में मेरा बहुत मन कर रहा था और यह आज पहली बार लंड का रस मुँह में निकला था जिसे मैं चाटने लगी, लंड चूसने लगी और पूरा माल पी गयी. बीपी हिंदी सेक्सी बीपीकोई कमसिन और कुवांरी लड़की की चुचियों को पी रहा हो तो मजा तो आना लाजिमी था.

उसकी आँखों में अनुनय विनय का भाव आ गया और सलवार पर उसकी पकड़ स्वयमेव ढीली पड़ गयी और उसने सलवार छोड़ कर अपने हाथ ऊपर कर दिए. आंटी की फ़ुद्दी से नमकीन रस निकल रहा था, मैं अपनी जीभ से आंटी की चूत चोद रहा था.

मृदुला ने मुझसे कहा- राज, यू लुक्स सो हैंडसम!मैंने कहा थैंक्यू मेम. माइक ने लिंग घुसाते ही उसने तारा की कमर पकड़ ली और धक्के मारने शुरू कर दिए. वो नज़ारा देखते ही मेरी जीभ मेरे होंठों पर घूमते हुए मुझे आगे झुककर देखने को मजबूर कर बैठा.

भाभी बस ज़ोरों से आहें भर रही थीं, तभी एकदम से भाभी का शरीर अकड़ा और झटके मारती हुयी एक ज़ोरदार चीख के साथ वो निढाल होकर बेड पर गिर पड़ीं और साथ के साथ ही मेरा लंड भी झटके मारकर उनकी गरम चूत में खाली होने लगा. वो अब भी मुझसे चिपक कर खड़ी थी और मैं उसके बदन की नर्मी और सांसों की गर्मी को महसूस कर रहा था. तो मैं बोला- तो इसमें क्या अच्छी बात है?प्रिया बोली- पहले पूरी बात तो सुनो.

मेरे मन की बात मामी ने पहले ही शुरू कर दीं और पूछा- रौनक, तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?मैंने जवाब ‘नहीं.

थोड़ी देर बाद मैंने अपने लंड से कंडोम उतारा और उसे गले लगा कर थैंक्स कहा. उसने कोई हरकत नहीं की तो मैं धीरे धीरे अपना लंड उसकी गांड से रगड़ने लगा.

वो मेल एक औरत का था, उसने कहा कि उसने मेरी कहानी पढ़ी है, बहुत अच्छी लगी. मयूरी- पापा… मैं आपसे से शुरू से ही चुदना चाहती थी… आपको हमेशा माँ को चोदते हुए देखकर अपने चूत में उंगली करती थी और सोचती थी कि काश मैं आप से चुदवा पाती… आपका लंड अपने चूत में वैसे ही डलवा पाती जैसे आप माँ की चूत और गांड में डालते हैं. आख़िर मैंने एक उपाय निकाला मैंने नेट पर से कई सेक्सी मूवी डाउनलोड करके उनको पेन ड्राइव में भर दिया.

मेरे दिमाग से सब अब निकल चुका था और पीछे से हमारी भतीजी भी गयी, तो हम दोनों कमरे में जाकर बातचीत करने लगे. जिससे वो एकदम चुदास से भर के जोश में आ गयी और अपनी कमर उठा कर मेरा लंड अपनी चुत में लेने की कोशिश करने लगी, पर वो नाकामयाब हो रही थी. फिर मैंने आयेशा को गले लगाकर उसे जन्मदिन के उपहार के लिए धन्यवाद किया।तो दोस्तो, आप सबको मेरी चुदाई कहानी कैसी लगी? आप सब मुझे[emailprotected]पर मेल करके बता सकते हैं। मुझे आप सबके मेल का इंतज़ार रहेगा। और जो लोग मुझसे फेसबुक पर जुड़ना चाहते हैं वो मुझसे https://www.

बीएफ बुर में कम्मो सजधज ली थी अपने हिसाब से; वो जितना खुद को सजा सकती थी, उसने सजा लिया था. वो झोपड़ी के पास आई और उसे खोलकर अंदर जाने लगी, अंदर जाते हुए दिव्या बोल पड़ी- मां, वो आज भी नहीं आया।इतना सुनते ही मैं बाहर आ गया और दिव्या को आवाज लगाई, दोनों ने चौंक कर मुझे देखा और दौड़ कर मेरे से चिपक गयी, दोनों की आंखों से आंसुओं की गंगा बह निकली, मैंने दोनों को अपनी बांहों में भर लिया और मेरी आँखें भी आंसुओं से फूट पड़ी।कुछ देर बाद हम नार्मल हुए तो अंदर चले गए.

बीएफ वीडियो पर दिखाइए

प्रिया के कोमल हाथ का स्पर्श होते ही मेरे लंड ने झटका सा खाया और अकड़ कर वो और भी सख्त हो गया. माइक भी पूरा समर्थन देता रहा और तब तक लिंग की चोटें मारता रहा, जब तक कि मुनीर पूरी तरह झड़ कर शांत न हुई. ”अभी तुम बहुत छोटी हो, अभी तुम मेरा लंड नहीं ले सकती, तुम्हें बहुत दर्द होगा, तुम वो दर्द नहीं सह पाओगी। कुछ दिन और इंतज़ार करो, फिर मैं तुम्हें सेक्स का सही मजा दूँगा.

और एक झटके में उसने मेरी पेण्ट चड्डी सहित उतार दी और मेरा लौड़ा चूसने लगी. उनमें से एक अंकल को पहचानती थी, वो मेरी मौसी की ननद के पति थे, वो आर्मी से रिटायर्ड हो चुके हैं. जवान लड़का लड़की का सेक्सीसहारे के लिए कम्मो ने अपना बायां हाथ अगली सीट पर रख रखा था जिससे उसका मेरी साइड वाला स्तन अपने कहर ढाने वाले अंदाज में लुभाने लगा था.

मेरा इतना कहना था और पति ने थोड़ा जोर लगाकर अपना लंड चुत से आधा बाहर निकाला.

मैं दाएं मुड़ा और एक गेट खोलकर खुले वातावरण में आ गया, लेकिन ये तो पार्किंग थी, जिसका बाहर निकलने का रास्ता बाहर से बंद था. फोन की स्क्रीन पर देसी नंगी जवान लड़की अपने पैर खोले एक हाथ में फुट भर लम्बा काला मोटा डिल्डो लिए चूस रही थी और दूसरे हाथ की उँगलियों से उसने अपनी चिकनी चूत खोल रखी थी.

बहुत अलग तरह का मजा आ रहा है, बस चोरी से चुपके चुपके कैसे भी मुझे ऐसा ही आप तीनों रोज ऐसे ही मुझे जमकर चोदना, चूमना और चाटना. कुछ देर हम दोनों ने बात की उसे मेरा व्यवहार अच्छा लगा और मुझे भी उसका स्वभाव पसंद आया. मेरे चुप रहने से अंकित की हिम्मत बढ़ने लगी और अब वो मेरे बूब्ज़ जोर से दबाने लगा.

तू अपना गिलास ले के आ जल्दी” मैंने चौकीदार को बोला तो वह लगभग दौड़ता हुआ अपनी झोपड़ी में गया और गिलास ले आया.

दोस्तो, मैं रोहित, आशा करता हूँ कि आपको मेरी पहली कहानीकॉलबॉय बनने की शुरुआत एक भाभी की चुदाई के साथपसंद आई होगी, लंडवालों ने अपना लंड हिलाया होगा. इस शानदार चुदाई के चलते इतना मजा आने लगा था कि मन कर रहा था कि यह गांड चुदाई कभी भी ख़त्म ना हो…लेकिन तभी नताशा के बोझ से दबे दीमा ने मेरी पत्नी के कूल्हे पकड़ कर उसे ऊपर की ओर उभारते हुए अपने लंड को बाहर कर लिया. यह सुनते ही मैं और जोर से रोने लगी चिल्लाने लगी- मेरी चूत को फाड़ डाला.

सेक्सी फिल्म एनिमलचार ताकतवर लोगों से गांड मरवाने के बाद क्या होता है यह तो वही समझ सकता है जिसने मरवाई हो. फिर मैंने उसके होंठों को किस किया और वह भी मुझे पागलों की तरह किस करने लगी.

रेशमा की सेक्सी बीएफ

मुझे मेरे चाचा और चाची ने अपना कर्ज़ चुका ना पाने की वजह से तुम्हारे बाप के पास बेचा था. मैं एक बार झड़ भी चुका था और उन्होंने मेरा सारा माल गटक लिया था, तब भी दीदी मेरे लंड को चूसती रहीं. मैंने उसकी टांगों को फैला कर उनके बीच में खुद को सैट किया और लंड को अपने हाथ से पकड़ कर उसकी चुत की फांकों में लगा दिया.

मैंने नोटिस किया कि मनीषा भी मेरे लंड को कनखी निगाहों से देख रही है. मेरे मोटे लंड के जाते ही उनके मुँह से ‘सीईईईई ओय्य्य्य य्य्य मम्म मम्माम. वो लड़का बोला- मैं आपके घर आ जाऊं?तो मैं बोली- आ जाओ!तो वो लड़का कुछ देर के बाद अपनी बाइक से मेरे घर आ गया.

तारा मेरी तरफ देखती हुई बोली- यहां मोबाइल काम नहीं करता, इसलिये किसी भी मुसीबत में संपर्क करने का यही तरीका है. यह सुनकर रशीद की खोपड़ी भन्ना गई, लेकिन मैंने रशीद को इशारे से समझा दिया कि लौंडिया किधर जाएगी, साली को पूरी रात चोदेंगे. अगले कुछ दिनों बाद मुझे मुन्ना की माँ ने बताया कि वो 50 के करीब अपने रिश्तेदारों को बारात में लाएगी और शादी की तारीख भी बता दी.

फिर हम थोड़ी देर ऐसे ही लेटे रहे, बाद में उठ कर देखा तो पूरी चादर भीगी हुई थी, कहीं कहीं खून के निशान थे. इस बार मैं नीचे था, वो मेरे लंड को अपनी चूत में लेकर मेरे ऊपर चढ़ गई और हिलने लगी.

मैं सबसे मिला तो पता चला कि उस लड़की का नाम सीमा है और उसने भी इस साल 12वीं के एग्जाम दिए हैं.

ज्योति बहुत ज्यादा कामुक होने लगी और जोर जोर से उम्म्ह… अहह… हय… याह… करने लगी. रंडी का वीडियो सेक्सीमाइक ने एक और आखरी हल्का धक्का दिया और तारा के ऊपर अपना पूरा वजन गिरा दिया. नौकरानी सेक्सी वीडियो एचडीफिर मैंने देखा कि आजू बाजू कोई नहीं था, तो मैंने स्वाति को उसके गाल पर एक किस किया. वैसे भी उसका लंड पहले से ही बाहर था जो उसकी कमसिन नंगी बहन ने अपने हाथ से पकड़ा हुआ था.

मैंने भाभी को किस करते हुए अपनी स्पीड बढ़ा दी और जोर जोर से उन्हें चोदने लगा.

मेरी छाती में उभार आ चुके थे, शुरू शुरू मैं इन उभारों पर ध्यान नहीं देती थी, पर कुछ दिनों बाद मुझे लगने लगा कि अंकल मेरे उभारों को कुछ ज्यादा ही दबाने लगे. थोड़े से प्रयास के बाद मैंने भी अपना लंड दीमा के लंड के सामानांतर नाता की गांड में घुसेड़ दिया. हम पागलों की तरह एक दूसरे को चूम रहे थे और बीच बीच में काट भी रहे थे.

इससे कुछ फायदे भी होते हैं, जैसे नए शॉर्टकट्स का पता लगना और कुछ नुकसान भी जैसे नो एंट्री में एंट्री औऱ रास्ता बंद या भटकना हो जाता था. मैं फट से उठा और गर्लफ्रेंड को साथ में लेकर चाची के कमरे में चला गया. लेकिन बाद में हमने उस सीन पे बोलना शुरू किया और नॉनवेज, डबल मीनिंग बोलना शुरू किया.

बीएफ फिल्म ब्लू नंगी

किस मूड में थी यह जालिम औरत। मैं कशमकश का प्रदर्शन करता उसे देखता रह गया और वह उठ कर बाथरूम में घुस गयी।वैक्सिंग के सामान को हटा कर मैं उसी टेबल पर बैठ कर मसाज का वीडियो देखने लगा। यह कोई नयी चीज नहीं थी. जब हम दोनों नहा लिये तो सर मुझे अपनी गोद में उठा कर कमरे में ले गए. तभी वो बाथरूम चला गया और उसे किसी का फोन बजा तो उसने बाथरूम से आवाज लगाई कि मैं काल कट कर दूँ.

मगर सर, वो साधारण तरह से रहने वाले हैं, उन्‍हें आपके घर पर आने में कुछ झिझक हो सकती है.

प्रिया‌ के हाथ के दबाव से मेरे लंड के आगे की चमड़ी थोड़ा सा पीछे हो गयी थी और गुलाबी रंग का हल्का सा सुपारा नजर आ रहा था.

सच बताऊं कम उम्र की नयी लड़कियों को भी फुसलाकर उनकी भी गांड चुदाई की. मैंने पैर फैला कर चुत को चौड़ा किया तो पीछे वाले ने फिर से अपना लंड चुत पर सैट कर दिया. अंग्रेजी पिक्चर सेक्सी वालीऐसा नहीं है की उसने मयूरी को पहले कभी नंगी नहीं देखा था पर अभी पता नहीं क्यूँ वो बहुत ही कामुक लग रही थी और शीतल को इतनी हसीं लड़की को देखकर अपने शरीर में एक अलग तरह का गनगनाहट महसूस हुई, उसका मुँह खुला का खुला ही रह गया.

यह कहानी काल्पनिक है, इसमें दर्शाये गए चरित्र व घटनाएँ वास्तविक नहीं हैं. मैं अभी ठीक से गर्म भी नहीं हुआ था कि वो फिर से अकड़ने लगी और कुछ देर बाद वो जोर जोर से आहें भरते हुए एक बार फिर झड़ गयी. अब तुम्हारा अन्दर घुस ही चुका है, तो चुदने के अलावा और रास्ता ही क्या है.

सुबह उठे … हम दोनों साथ में नहाये, नहाने के बाद वहीं खड़े खड़े मैंने उसकी गांड मारी. ”कौन सा सवाल पापा?”वह सुबह का… कल का शो कैसा लगा?”कम ऑन पापा… मुझे नहीं समझ में आ रहा कि आप क्या पूछ रहे हो?”ओके… ओके… लीव इट … हमें तो दिखाओ कि तुम क्या देख रही थी?”पापा प्लीज… मुझे ऐसे अपसेट मत फील कराओ.

मयूरी आगे बोली- तो, अगर तुम दोनों मेरे इस जिस्म का पूरा मजा लेना चाहते हो, मेरी इन गोल-गोल भारी-भारी चूचियों को पकड़कर मसल देना चाहते हो, मेरी गांड के छेद पर फिर से अपनी जबान को फेरना चाहते हो, मेरी चूत को अगर चोदना चाहते हो तो तुम दोनों को ये एक साथ करना पड़ेगा.

मैं यही चाह रहा था कि कम्मो वो सब देख ले तो मेरा मिशन और आसान हो जाएगा. धीरे धीरे मैं लंड पर दवाब बढ़ा रहा था और लंड चुत के अंदर जा रहा था।अब मैंने लंड थोड़ा बाहर खींचा और एक जोर का झटका मारा और लंड दनदनाता हुआ चुत में चला गया। अब मैंने उसकी गांड दोनों हाथों से पकड़ लिया, उसके ऊपर लेटकर उसकी चूचियों को मुँह में लेकर चूसने लगा और धीरे धीरे लंड जूही की चुत में पेलने लगा।बार बार मैं लौड़ा जूही की चुत में पेलने लगा, बार बार मैं जूही की चुत पर झटके मारने लगा. जब हिमानी ने मुझे पानी दिया तो मैंने गिलास पकड़ते हुए उसकी नर्म उंगलियों को दूर तक छू दिया, उसने हल्की स्माइल दी और मेरे सामने चेयर पर बैठ गई.

सेक्सी पिक्चर दाखवा सेक्सी पिक्चर उसने अपनी गर्दन ऊपर उठा ली और अजीब सा मुँह बनाकर मेरी तरफ देखने लगी, जैसे कि वो बताना चाह रही हो कि उसे ये अच्छा नहीं लगा. मैंने एक उंगली में क्रीम लेकर उसकी गांड में डाल दी और उंगली को अन्दर बाहर करने लगा.

तुरन्त नहाने की वजह से मयूरी के शरीर पर अभी भी पानी की बूंदें थी और ये सब रजत को और भी मदहोश कर रहा था. प्रिया- आआह ओह … ऐसे ही करते रहो और जोर से …मैंने और जोर से उसकी चूत में उंगली करनी शुरू कर दी. तो मैंने उनसे पूछा कि सर आपकी वाइफ कहां हैं?वो बोले कि वो कुछ दिनों के लिए अपने मायके गई हुई है.

रानी रानी बीएफ

मैंने ऊपर से पैंट खोलकर नीचे कर दी और उसने जैसे ही अंडरवियर को नीचे किया लण्ड एकदम झटके से बाहर निकल कर मेरे पेट पर लगा. जब उसका लंड सख्त नहीं हुआ तो वो मुझसे बोला- आज इसको मुँह में डाल कर चूसो. मनोहर का लंड मेरी जांघों के बीच में ऐसे चुभ रहा था, जैसे कोई लोहे का रॉड हो.

मैं इस बार धीमे-धीमे धक्के मारता हुआ चोद रहा था जिससे दीमा को अपना लंड अन्दर घुसेड़ने का कोई मौका नहीं मिल पा रहा था. समय के साथ अब नताशा के चेहरे की मुस्कान लौटने लगी थी और वो अपने चूतड़ों को और तेजी के साथ आगे-पीछे करते हुए दोनों लंडों को अपनी गांड में सैर करवा रही थी.

मैं उसके मुँह को चोदने लगा और कुछ ही देर में उसके मुँह में ही झड़ गया.

मैं जब भी उनके मम्मों को देखता हूँ तो मुझसे रहा नहीं जाता और मैं बॉथरूम में जाकर लंड हिला लेता हूँ और मिताली दीदी को अपने सपनों में ही चोद लेता हूँ. मैंने नोटिस किया कि मनीषा मेरा पूरा लंड देखने के लिए जैसे पागल से हो रही थी. अशोक- कैसे?फिर मयूरी ने अशोक को अपने और रजत एवं विक्रम के साथ हुई चुदाई की सारी बात बताई, बस बताया कुछ इस तरह कि लगे कि सब अपने आप हुआ हो और इसमें मयूरी की कोई प्लानिंग नहीं थी.

अब छह महीने का बच्चा जो कुछ दिन पूर्व सबकी आँखों का तारा होना चाहिए था, रोड़ा बन गया. खाना खाने के बाद हमने एक बार और चुदाई की और तब वो बोली- बहुत मजा आया, इतना मजा मुझे मेरे पति के साथ भी नहीं आया।फिर हम लोग साथ में नहाने गए, उसने मेरे शरीर पे साबुन लगाया और नहलाने लगी. कैसे मिलूं … कैसे मिलूं … ये सोचते सोचते मुझे ख्याल आया कि जन्माष्टमी के दिन कोई बहाना बना कर दिनभर के लिए निकल सकती हूं.

दोस्तो इस प्रकार मैं ऐसी शरारतें उसके साथ हमेशा करता रहता था क्योंकि इसी में असली मजा है.

बीएफ बुर में: वहां अपनी गर्लफ्रेंड से मिला और उसको बोला- कल हम दोनों मेरी चाची के घर पे मिलेंगे. सीमा- आप ऐसा सोच भी कैसे सकते हैं जीजा जी? यह गलत है।श्लोक- गलत है लेकिन एक बार जीजाजी की बात तो सुन लीजिए। वे हमें करने को नहीं कह रहे हैं, वे एक समाधान बता रहे हैं.

मेरा पानी निकलने वाला है, कहाँ निकालूँ?मामी बोलीं कि मेरी गांड में ही अपना पानी निकाल दो. चूंकि उसने एकदम टाइट जीन्स पहन रखी थी, तो मैंने उसे खींच कर उतार दिया. तू अपना गिलास ले के आ जल्दी” मैंने चौकीदार को बोला तो वह लगभग दौड़ता हुआ अपनी झोपड़ी में गया और गिलास ले आया.

कम्मो ने मेरे सीने को कुछ देर तक निहारा और फिर उठ कर मेरी छाती से लग गयी और अपना मुंह वहीं छुपा कर गहरी गहरी सांस लेने लगी, फिर वहीं पर दो तीन बार चूम लिया.

मैंने जब अपनी आंखें नहीं खोली और कोई हरकत नहीं की तो मुझसे बोली- मेरे जानू, नाराज हो क्या?मैं कुछ नहीं बोला तो उसने अपने पहने हुए सारे कपड़े निकाल दिए और मेरी शर्ट के बटन खोलने लगी और बोली- अब मैं देखती हूँ कि तुम्हारी नाराजगी कब तक रहती है? आज तुम्हारे सभी गिले-शिकवे दूर कर दूंगी. अच्छा उठो तो सही वर्ना चाय ठंडी हो जायेगी; कहो तो यहीं ला दूं?” वो बोलीं. इस वजह से मेरी ‘जान पहचान’ दीदी के देवर के साथ कुछ ज्यादा ही हो गयी थी.