सी पिक्चर बीएफ हिंदी

छवि स्रोत,ट्रिपल एक्स इंडियन सेक्सी व्हिडिओ

तस्वीर का शीर्षक ,

बीपी बीएफ हिंदी में: सी पिक्चर बीएफ हिंदी, संदीप बोला- अब, डाल अपना लौड़ा…तो राजू ने दोबारा अपना लंड मेरी गांड में डाल दिया…लेकिन अगले ही पल जो हुआ वो मैंने सपने में भी नहीं सोचा था… राजू को थोड़ा साइड में करते हुए संदीप ने उसको एक पल रोकते हुए अपना लंड भी राजू के लंड के साथ मेरी गांड के छेद पर लगा दिया.

सेक्सी ब्लू फिल्म सुपरहिट

‘गुड़िया, मैं तुम्हारी बात का मतलब समझ नहीं पा रहा थोड़ा खुल के कहो ना?’ मैंने बात बनाई. এটেল সেক্স’‘हाँ सविता इसे नरम होंठों से सहलाओ न… तुम्हारे ये बड़े-बड़े दूध से भरे थैले भी बाहर आना चाहते हैं.

हम दोनों ही जोश में आ गए, मेरा लंड कच्छे के अंदर ही सलामी देने लगा, मैंने दीदी के होंठ चूसते हुए अपनी धोती उतार दी और दीदी का एक हाथ लंड पर रख दिया जो कच्छे के अंदर खड़ा हो गया था. बीएफ वीडियो में फुल एचडी मेंदीदी बोली- तेरे दूध तो ब्रा के अंदर से ही मेरे दिल को लुभा रहे हैं, ज़रा दिखा तो?मैं शर्मा गई क्योंकि मुझे अपनी चुची की तारीफ सुनना अच्छा लगता है.

कि किसी लड़की ने मुझको को 9″ के नकली लंड के साथ चोदा था।ये बात तब की है जब मैं 12वीं में पढ़ता था। मैं एक चूतिया सा ही लौंडा था.सी पिक्चर बीएफ हिंदी: तेरे साथ मैं भी बदनाम हो गई तो?‘ह्म्म, ये भी है चलो फिर थोड़ा सा नाम कमा लें?’वो बोली- क्या मतलब?‘तुम्हारी चूत की गरमी को महसूस करके!’इतना सुनते ही उसने मुझे चूम लिया और कहने लगी- अगर कोई आ गया फिर?मैंने कहा- आएगा कैसे? तेरा पति तो जॉब पर है नाइट शिफ्ट पर और कोई है नहीं जो इस वक्त जाग जाए तो और कौन आएगा?‘ओके, पर यहाँ नहीं!’ वो बोली.

और अपने भाग्य को कोसने लगी।अगर ये बात जीजाजी को बताते तो वो मानते नहीं और दीदी के ऊपर ही सारा इल्ज़ाम डाल देते।मैंने कहा- डॉक्टर ने एक हल बताया है.फूफा जी ने मेरे कंधे को ज़ोर से पकड़ रखा था और मेरे दोनों बूब्स उनके साथ चिपके हुए थे.

मोती औरत की बीएफ - सी पिक्चर बीएफ हिंदी

तो कभी बाहर निकाल कर सुपारे को चाटने लगतीं।मैं पूरी तरह से पागल हो रहा था। भाभी अपनी जीभ को लंड से आंडों तक रोल करने लगी और अंडकोषों को चूसने लगीं। वो जोर-जोर से लंड सक कर रही थीं।फिर भाभी ने मेरे लंड को अपने मुँह से निकाला और कहने लगीं- प्लीज़ मुझे चोद दो.साथ में फुल बियर का भी इंतजाम हो तभी मज़ा आएगा।संजय ने ‘हाँ’ कह दी, तो सबके सब खुश हो गए।दोस्तो, टेंशन मत लो, ये टीना सच में रंडी टाइप की है, ये संजय की गर्लफ्रेंड जरूर है.

वह मजे से सिसकारियाँ लेने लगी और अपने चूतड़ उठा उठा कर मेरा साथ देने लगी. सी पिक्चर बीएफ हिंदी ’‘इतने बड़े होस्पिटल में कोई नहीं है, एक तुम हो और मैं… तो बोर महसूस कर रही थी.

वो उन्होंने नोटिस कर लिया।मैं- आंटी आपके हाथ की चाय तो बहुत टेस्टी है।आंटी- थैंक्यू.

सी पिक्चर बीएफ हिंदी?

फिर हमने डिनर किया और रात में 2 बार रफीक और जमीला की चुदाई की और सुबह पांच बजे सोये तो 8 बजे जगे. इस पर ऋषिका बोली- बहुत बुरा लग रहा है या भले बनने की कोशिश कर रहे हो?रयान कुछ नहीं बोला, बस मुस्कुरा दिया. ऋषिका ने उसे प्यार से हाथ मिला कर थैंक्स कहा और काफी पिला कर ही भेजा.

चलो एक काम करते हैं, मैं जाकर उससे पूछती हूँ कि क्या वो हमारे सामने मुठ मारने को तैयार है और उसके बदले में क्या चाहिए. मैंने उसी हालत में संसर्ग शुरू किया और इस डर से की मेरा शीघ्रपतन न हो जाए मैं आठ-दस धक्के मारने के बाद रुक जाता. मैं मदहोश सा होने लगी, मैं सोचने लगी कि अगर खुशबू इतनी मादक है तो मुझे चूसने में कितना मज़ा मिलेगा.

नहीं तो सारी रात परेशान होता रहेगा।मॉंटी ने कैप्री निकाल दी और टीना उसकी कमर पर तेल लगाने लगी। फिर उसके पैरों की अच्छे से मसाज की। जब टीना की नज़र उसकी जाँघ के काट पे गई, जहाँ वो खुजा रहा था, वहां दाने-दाने से हो रहे थे और वो जगह एकदम लाल हो गई थी।टीना- ओह जिसका डर था, वही हुआ। देख कैसे दाने निकल आए हैं। पागल ऐसे तो यहाँ दाद हो जाएगी, यहीं ऐसा है तो और अन्दर पता नहीं क्या हाल होगा? चल ये भी निकाल. वह एक छोटा सा गाँव था… जब मैंने गाँव के बाहर से उसे कॉल किया कि मैं तेरे गाँव आ गया हूँ. मित्रो, इसका एक और फायदा भी हुआ राजे की साली रेखा को… जब ये सारी बातें मैंने उसको बताई तो उसने मुझे मेरी हिम्मत पर खूब शाबाशी दी और बोली कि मोना तेरी इस कारस्तानी से मेरे दिल में भी हिम्मत जग उठी है कि मैं भी राजे की वाइफ को तैयार करूँ कि मैं राजे से तेरी तरह खुल के चुदाई कर सकूँ.

उम्म्ह… अहह… हय… याह… कितना सुखद कितना रोमांचकारी, कितना आनन्ददायक पल था वो. फिर अचानक भाभी मुझसे पूछने लगी- क्या तुम अंदर के बाल साफ करती हो?तो भाभी के मुख से यह बात सुन कर शरमाने लग गई।मैंने पूजा भाभी को बताया कि मैं कभी कभी कैंची से अपने बालों को काटती हूँ.

और सुकांत उन्नीस-बीस का होगा।दूसरे दिन मैं क्लास अटेन्ड करने के बाद क्लीनिक को तैयार हो रहा था.

मैं थोड़ी देर वैसे ही उसकी चूत में लंड डाले ही उसके मस्त-मस्त दोनों बूब्स से खेलने लगा और मैंने उनका दूध भी पीना चाहा, बहुत निचोड़ा उसके दोनों बूब्स को लेकिन दूध नहीं निकला!फिर थोड़ी देर बाद वो नीचे से अपनी गांड को हिलाने लगी, मैं समझ गया था कि अब इसका दर्द कम हो गया है तो मैं फिर से उसे चोदना शुरू हो गया और ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा.

मैं इतना अधिक उत्तेजित हो गया था कि अपनी हथेलियाँ नताशा की चूत के ऊपर टिका कर जोर-2 से उसकी गांड में धक्के लगाने लगा. दूसरे रूम में से जब ऋतु ने देखा कि मैंने अपनी जींस उतार दी है और मुठ मारना चालू कर दिया है तो उसने पूजा को बुलाया और उसे छेद में से देखने को कहा. आपको कुछ तो लेना ही पड़ेगा।सुधीर के मन में तो था कि मोना के रसीले होंठों को पी जाए.

साला हम उसको होटल भी नहीं ले जा सकते। मेरे पापा पुलिस में हैं साला उनको इस बारे में कोई भी खबर दे सकता है।विक्की- तेरे पापा खुद भी तो ऐसे ही हैं. इधर रिया ने मुझे इस तरह लिटाया कि पीटर हमें पूरा देख सके और बिना कोई वार्निंग दिए उसने मेरा निप्पल मुँह में ले लिया. मेरी नंगी गांड को देखकर दूसरे दोस्त ने मेरी गांड पर हाथ फिराना शुरु कर दिया.

मैं एक छोटे से शहर में रहता हूँ।बात उस समय की है, जब मैं जवान हुआ ही था। मेरे लंड का साइज 7 इंच है और मैं बहुत ही आकर्षक लड़का हूँ। मेरा किसी लड़की को चोदने का बहुत मन होता था।मेरे मोहल्ले में एक फैमिली रहती है.

वो भी मेरे लंड को अन्दर तक ले जा रही थी जो उसके गले के अंत तक जाकर उसकी दीवारों से टकरा रहा था. फिर अचानक भाभी मुझसे पूछने लगी- क्या तुम अंदर के बाल साफ करती हो?तो भाभी के मुख से यह बात सुन कर शरमाने लग गई।मैंने पूजा भाभी को बताया कि मैं कभी कभी कैंची से अपने बालों को काटती हूँ. लेकिन हमारी चुदक्कड़ नताशा को इन सारी टेक्निकल डिटेल्स से कोई लेना देना नहीं था, वो तो बस स्वान के गर्दभ लंड को पूरे मनोयोग से चूसने में लगी हुई थी, जबकि एंड्रयू संग हमारे दो-दो लंड उसकी गांड की गहराई नापने में लगे हुए थे.

मगर हमारे सामने नाटक कर रही थी। अब उसके मुँह से हम उगलवा लेंगे कि वो चुदी हुई है, उसके बाद उसको बातों में फँसा लेंगे और साली खुद ब खुद चुदने को तैयार हो जाएगी। मगर तुम सब सुन लो, सालों ज़ज्बात में जल्दी आ जाते हो. तभी मुरुगन ने अपने कपड़े उतार दिए और जैसे ही उन्होंने अपना कच्छा खोल कर अपना लंड निकाला मेरी गांड फट गई. दोनों का खेल शुरू हो गया जॉन किसी ना किसी बहाने फ्लॉरा के मम्मों को टच करने लगा, कभी उसके ऊपर आ जाता और अपने लंड को उसकी चुत पे रगड़ देता.

मैं अपने कमरे में आ गई और शीशे के सामने खड़ी होकर खुद को देख देख कर यही सोचती रही कि ‘हाय… किसी तरह इस जवान बॉस का लंड खाने को मिलता तो जवानी का आनन्द आ जाता.

अब कैसे नहीं जाएगा कोशिश कर, बैठ जा आराम से।पूजा ने बहुत धीरे-धीरे बैठना शुरू किया। उसको दर्द हुआ मगर वो सहन कर गई और पूरा लौड़ा चुत में घुस गया।पूजा- आह आह. वो उस समय 21 साल के थे।मेरी कमसिन उम्र में ही मेरे चूचे काफ़ी अट्रॅक्टिव हो गए थे और मेरा शरीर भी भर चुका था। मेरे भैया मुझे हमेशा इधर-उधर टच करते रहते थे और मेरे पूरे शरीर को घूरते थे।एक दिन घर में पूजा थी.

सी पिक्चर बीएफ हिंदी लेकिन उसकी तो चढ़ती जवानी थी, उसका जोबन खुद उसके बस में नहीं था, मुझसे लगभग बीस पच्चीस बार चुदने के बाद उसकी काम पिपासा और भी भड़की हुई थी; जमाने की ऊँच नीच की उसे परवाह ही कहाँ थी. दोनों जवानों ने क्षण भर की रूकावट के बाद दुबारा मोटे लंडों को गुलाबी गांड में धकेल दिया और उसकी डबल गांड चुदाई में ब्यस्त हो गए.

सी पिक्चर बीएफ हिंदी जब ऋतु झड़ने को हुई तो ‘आआआह… माआआर दाआआआ… और तेज… और तेज… हाँ चाआअट मेरीईईई चूऊउत…’ और वो तेजी से झड़ने लगी. मैं- ओके!दो मिनट में जमीला ने कार पार्क की और हम लिफ्ट में घुसे और दूसरे फ्लोर पर पहुँचे.

एक रात को जब मैं भाभी के साथ बैठकर बात कर रहा था तो मैंने अचानक उनसे पूछा कि भाभी शादी से पहले क्या आपका कोई बॉयफ्रेंड था तो उन्होंने साफ़ साफ़ मना कर दिया.

ब्लू बीएफ सेक्सी ब्लू बीएफ

आंटी ने मुझे 2000 रूपए दिए और बोला- मेरी सहेली को भी जवान लंड और डर्टी सेक्स पसंद है. और वैसे मैं तुम्हें कैसी लगती हूँ?मैं बोला- ये कैसा प्रश्न हुआ? अच्छी और कैसी?तो वो बोलीं- ऐसे नहीं, कल वाली नज़र से?मैंने कहा- अच्छी और कैसी!उन्होंने कहा- अच्छी मतलब?मैंने कहा- अच्छी मतलब अच्छी बढ़िया!तो वो बोली- ठीक है…फिर बोली- तुम्हें कैसी लड़कियाँ पसंद हैं?तो मैंने कहा- कैसी भी!वो बोली- कोई फिगर तो होगा, मतलब दिखने में कैसी?तो मैंने कहा- आप अपने जैसी मान लो!उन्होंने कहा- ठीक है, देखते हैं. उस समय तो मैंने सोचा कि तुमने मुंबई में सम्भोग के लिए किसी युवती को फंसाया होगा और उसी से बात कर रहे थे.

मैंने 12 मार्च को बिमलेश को फोन कर दिया कि मैं शाम को निकलूंगा तो सुबह आबू रोड पहुँच जाऊंगा।बिमलेश बोली- योगीराज को चमका लेना!तो मैं बोला- वो तो चमक रहा है… तुमने मुनिया चमकाई?तो बोली- आज ही वीट क्रीम लगा कर साफ़ की है. फ्लॉरा- भाई कितना मज़ा आ रहा है ना ऐसे नहाने में… चलो ना कोई गेम खेलते हैं. मेरे अन्दर मत घुसा देना कहीं!’‘ठीक है बेबी तू निश्चिन्त रह… अगर मुझे तेरी मर्जी के बिना चोदना होता तो अभी तक तू चुद चुकी होती मुझसे!’‘ओह थैंक्स अंकल, देटस सो नाईस ऑफ़ यू!’ वो बोली और पैर खोल के चित लेट गई.

नीतू ने धीरे-धीरे हाथ ऊपर की तरफ़ किया और अब उसका हाथ गोपाल के लंड पर था.

उसने अपने लंड को धीरे से मेरी गांड पर लगा दिया, जैसे कि अनजाने में हुआ है. उनके तने हुए मम्मों का साइज़ 34 इंच का था और उठी हुई और गांड का नाप 42 इंच का होगा. मैं उत्तेजना के कारण पागलों की तरह जोर जोर से अपनी कमर को हिलाकर चोदने लगा और ‘ईइइशश… अआहह्ह्ह… ईइइशश… अआआहहह्ह्ह…’ की आवाज करने लगा.

तभी राजे ने हुम्म्म हुम्म्म हुम्म्म करके पूरी ताक़त से अंधाधुंध धक्के टिकाये. काफी देर से लंड हिला रहा है।मुझे आश्चर्य हुआ कि इससे पहले वो इतनी जल्दी यह सब स्वीकार नहीं करती थी। ऐसा लगने लगा था जैसे वो फैन्टेसी में पूरी तरह डूब गई थी।मैंने चुत में धक्का मारते हुए कहा- लो रानी. मैंने भी झपट के सुलेखा को बाँहों में बांधा और उठा कर अपने रूम की तरफ चला.

मुझे कुछ खाने की गोलियां दीं और कहा कि कल इसी टाइम पट्टी चेंज करवा लेना. पर जल्दी ही अपना लंड निकाल कर उसकी चूत को ढूँढने लग गया कि अगर इसके मुँह में ही लगा रहा तो इसी में मेरा माल निकल जाएगा और फिर दुबारा मौक़ा कब लगेगा.

‘अब आ तो गया ना… आज की सारी रात कल का सारा दिन और रात तुम्हारे पास रहूँगा!’ मैंने बोला और मैक्सी के ऊपर से ही उसके मम्में दबोच के उन्हें मसलने लगा. कोई बंदर मोहल्ले में उसकी चाय की दुकान है।मोना- हा हा हा बंदर नहीं काका बांद्रा एक एरिया का नाम है. आराम से जान लोगे क्या?काका ने मोना की बात अनसुनी करते हुए लंड को पीछे खींचा और फिर से एक जोरदार दे धक्का दिया। इस बार पूरा 9″ का लंड मोना की चुत में खो गया.

मैं नीचे लेटा था और वो मेरे ऊपर, उसके निप्पल को मैं अपने मुँह में मसल रहा था और उसके दोनों हाथ मेरे सर में मेरे बालों को सहला रहे थे.

डॉक्टर के रूम में ऐसा ग्लास लगा था जिसमें वह तो बाहर बैठने वालों को देख सकती थी परन्तु बाहर वाले अंदर का नहीं देख सकते थे. इस बार उसने मेरे सिर को अपने सिर से ऊँचा कर लिया था जिसके कारण मेरे मुंह से तेज़ी से बहती हुई लार उसके मुंह में जा रही थी. बॉस ने अपने सारे कपड़े फटाफट उतार फेंके और मेरे सिरहाने आकर मेरे गालों पर अपना गरमागरम लंड फिराने लगा.

मेरी गर्म कहानी के प्रथम भागसदाबहार मुस्कराहट वाली गोरी गुड़िया-1में आपने पढ़ा कि कैसे मेरी बीवी को क्सक्सक्स xxx मूवी में गांड चुदाई यानि एनल सेक्स की ब्लू फिल्म में काम करने का मौक़ा मिला. साला हम उसको होटल भी नहीं ले जा सकते। मेरे पापा पुलिस में हैं साला उनको इस बारे में कोई भी खबर दे सकता है।विक्की- तेरे पापा खुद भी तो ऐसे ही हैं.

मेरा तो लंड खड़ा हो रहा है। भाभी की एकदम सांचे में ढली हुई 38-30-38 की नशीली फिगर थी।फिर मैं भाभी के पूरे शरीर को चूमने चाटने लगा। भाभी भी काफ़ी हॉट हुई जा रही थीं।मैंने भाभी को उल्टा लेटाया और पास रखी आयिल की शीशी से तेल निकाल कर उनकी पीठ पर डाल दिया. सूरज डूबने के बाद धीरे-धीरे अंधेरा अपने पैर पसार रहा था और रात की आहट आना शुरु हो ही गई थी. मेरे दोस्त ने मेरे सामने उसकी चूचियां मसली, चुम्मियां ली और उसे मेरे बारे सब कुछ बता दिया और मुझे बोलकर चला गया- एन्जोय करो!वो चला गया तो आबिदा मुझे अपने साथ अन्दर ले आई.

बीएफ मूवीसी

लगभग 5 मिनट तक सुमन लंड चूसती रही, फिर उसको भी चूत में खुजली होने लगी तो उसने मॉंटी को कहा- अब जैसे मैं कहूँ वैसे ही करना ताकि हम दोनों को मज़ा आए.

उसकी चूचियाँ भी ज़्यादा बड़ी नहीं थीं, पर मस्त थीं।वो मुझे घूर रही थी. मोना भी गांड हिला-हिला कर चुदाई करवाने लगी, जिससे राजू को और मज़ा आने लगा और वो भी स्पीड से धक्के देने लगा।मोना की चुत की गर्मी राजू को बेहाल कर गई और वो 5 मिनट भी नहीं टिक सका, उसका लंड मोना की चुत को रस से भिगोने लगा।राजू- आह. कितनों के लंड लिए?उन्होंने मेरे होंठ चूम लिए- मनु के बाद तू पहला है। मैंने भी छुप-छुप कर मनु के मोबाइल पर ब्लूफिल्म देखी हैं। मेरे पति के पास बहुत सारी क्लिप्स हैं। पता नहीं कहाँ अपनी खुजली मिटाता है।भाभी की रफ्तार अब तेज़ हो रही थी, मैं उनकी हिलती हुई चूची देख रहा था, मेरे हाथ उनकी गांड को सपोर्ट दे रहे थे।भाभी- आअहह वॉवववव क्या कड़क लंड है तेरा.

मैंने भी झपट के सुलेखा को बाँहों में बांधा और उठा कर अपने रूम की तरफ चला. तब से मैंने मोबाइल में अन्तर्वासना पर भाई-बहन सेक्स स्टोरी पढ़ना स्टार्ट किया. ভাই বোনের চুদাচুদিরशादी से पहले मुझे मेरे चचेरे भाई ने मुझे बहुत चोदा, मुझे भी अपने भाई से चुदे बिना चैन ही नहीं आता था, रोज़ की ही आदत सी पड़ गई थी.

तुझे तो बस अपनी चूत से मेरे लंड को रगड़ रगड़ के पानी छुटा देना है बस!’‘नहीं अंकल जी, मैं वो नहीं करूंगी!’‘ठीक है तो मत करो, मैं भी जा रहा हूँ. अपने पति पे कुछ तो रहम करो।मोना- ऐसे तुम समझने वाले भी नहीं थे। एक तो मैं बीमार हूँ और तुम उल्टा बोलोगे तो गुस्सा तो आएगा ही ना.

ऋतु ने मेरे खड़े हुए लंड को अपने हाथों में लेकर कहा- और अगर तुम चाहो तो इसका भी आनन्द ले सकती हो. मेरा पूरा लंड दीदी की चुत के अन्दर था और उनकी आँख से आंसू आ रहे थे. कुछ दिन पहले की बात है, हमारे घर मेरे पति के फूफा जी आए हुए थे, जो करीब 50 साल के होंगे मगर पूरी तरह से तन्दरुस्त और फिट हैं.

जब मैं नहाकर बाहर निकली तो नदीम बाहर खड़ा था और उसने मुझे गले लगा लिया और मेरा तौलिया खींच लिया और मुझे नंगी कर दिया, उसने मुझे मेरी नंगी वीडियो दिखाई इसलिए मुझे करवाना पड़ा. फ़ोन बंद कर घड़ी पर समय देखा तो रात के बारह बज चुके थे और चाची कभी भी आ सकती है इसलिए निवृत्त होने के लिए बाथरूम में चला गया. लेकिन हरियाणा के गांवों की एक खास बात ये होती है कि यहाँ के लोग गांव के बाकी सभी लोगों के बारे में जानकारी रखते हैं कि कौन किसका बेटा है, कौन किसका दादा है, किसका परिवार कितना बड़ा है, किसके कितने खेत हैं और किसकी कितनी भैंस हैं.

कोमल ने कहा- यार, तू तो सच में खिलाड़ी बन गई है, पर अब मेरा भी कमाल देख!कहते हुए उसने मेरे बगल से सामने झुकते हुए अपनी जीभ मेरे मुंह में डाल दी और मेरी जीभ को चूसने लगी, मुंह में मुंह डालकर इस तरह जीभ चूसना मुझे और भी रोमांचित कर रहा था, साथ ही उसने मेरे निप्पल और मम्मों को बड़े ही अंदाज से सहलाया, फिर दबाया, फिर मसलने लगी.

अब तो मैंने आँखें खोल दी और बॉस से चिपट गई यह कहते हुए कि ‘जल्दी से चोद दो, कहीं संजय आ गया तो मेरा सपना ही टूट जायेगा. मुझे महसूस हो रहा था कि चूत में बहुत अधिक मात्रा में जूस फुव्वारे की तरह निकल रहा है.

मैं अभी भी कल रात वाला गाउन और कपड़े पहने हुए थी। मैंने उसे एक टेबलेट लाकर दी और उसे वही आराम करने के लिए कहा।रोहित वहीं सो गया. अभिनव के द्वारा उसी के शब्दों में लिखी निम्नलिखित रचना आपके लिए प्रस्तुत है:अन्तर्वासना की प्रिय पाठिकाओं एवम् पाठकों को मेरा अभिनंदन!मेरा नाम अभिनव है, मेरी आयु पच्चीस वर्ष की है और मेरा शरीर बहुत हृष्ट-पुष्ट एवम् तंदरुस्त है क्योंकि मैं स्कूल और कालेज में खेल कूद में बहुत भाग लेता था. मैं धीमे-2 लंड को गांड की पूरी लम्बाई में चोदने लगा जबकि नताशा का मुंह पूरे मनोयोग से स्वान के लंड को पुचकारने में लगा रहा.

क्या आपको गोपाल ने यहाँ भेजा है या आप गोपाल की कुछ लगती हो?मोना ने दूध खुजाने के बहाने साड़ी का पल्लू हटा दिया जिससे सुधीर को उसके दूध साफ दिखने लगे. और वो सारे पानी को पी गई। उसने मेरे लंड को चाट कर साफ कर दिया।अब वो मेरी तरफ अपने होंठों पर जीभ फेरते हुए देख रही थी, बोली- यार, तुम्हारे लंड का स्वाद बहुत अच्छा है।यह कह कर कामुकता भरी मुस्कान के साथ वो एक हाथ से अपनी चूत को खुजाने लगी।मैं समझ गया कि ये क्या चाहती है।उसने अपनी टी-शर्ट निकाल दी फिर जींस भी निकाल दी. मैं अन्तर्वासना में पहली बार चुदाई की कहानी लिख रहा हूँ कि मैंने अपनी मामी की चुदाई कैसे की.

सी पिक्चर बीएफ हिंदी मैंने हाथ ऊपर करके उसकी शर्ट के बटन खोल दिए और झटके से उसके कंधों से शर्ट के साथ साथ उसकी ब्रा के स्ट्रेप भी उतार दिए. पूजा अपनी मोटी गांड मटकाती हुई नंगी मेरे सामने आकर बैठ गई और मेरी आँखों में देखते हुए मेरे लंड को पकड़कर अपने मुंह में लेकर आइस क्रीम की तरह चूसने लगी.

गाना पर बीएफ

अब संदीप ने और जोर लगाया और उसके लंड के साथ राजू का लंड भी मेरी गांड को चीरता हुआ गहराई में धीरे-धीरे सरकने लगा. पर भाभी मुझे चूमने नहीं दे रही थी।इतने में किसी ने दरवाज़े पर दस्तक दी और मैं दरवाज़े पर देखने चला गया तो वह कोई कोरियर बॉय आया था जिस पर मुझे बहुत गुस्सा आया।उसके बाद मैं अपने रूम में आ गया। उसके बाद मेरी भाभी से कोई बात नहीं हुई।अगले दिन भाभी मुझसे नज़र नहीं मिला रही थी। मैंने उनसे कारण पूछा तो उन्होंने बोला कि वो शाम को बताएंगी. मैं आता हूँ ओके।पूजा ख़ुशी से भागती हुई ऊपर चली गई। आज उसने वाइट टॉप और ब्लैक स्कर्ट पहना हुआ था। वो भाग कर गई तो उसकी उछलती हुई गांड देख के संजय की ‘आह.

मैं उसकी साँसों की गर्मी को फोन पर भी महसूस कर सकता था और शायद वो भी मेरा हाल समझ रही थी. साफ़ साफ़ बोल ना?’‘मेरी वेजाइना को लिक कर दो जैसे अभी किया था!’‘वेजाइना नहीं, इसे चूत कहते हैं. पाकिस्तानी सेकसउस वक़्त शाम का समय था, मैंने अपने लिए कुछ खाने को बनाया और खाकर अपनी पढ़ाई करने बैठ गई।करीब 11 बजे अशोक का फ़ोन आया, उसने मुझे सीधे फ़ोन उठाते ही कहा- बोल कब आ जाऊं तेरी चूत फाड़ने?मैं यह सुन कर हैरान थी.

मैंने अपना लौड़ा रुचिका के मुंह के पास कर दिया तो रुचिका भी मेरे लौड़े को अपने गुलाबी होंठों में लेकर चूसने लगी, वो मेरे ट्टटों से लेकर लंड की टोपी और उसकी टोपी के अंदर अपनी जीभ से लार टपका टपका कर इतना अच्छे से लंड को चूस रही थी कि मुझसे बर्दाश्त करना मुश्किल हो रहा था और मेरी सिसकारियाँ तक निकल गईं.

नमस्कार दोस्तो, आपने मेरी पिछली कहानीकोचिंग क्लास के सर की बीवी की कामुकताको इतना पसंद किया और मुझे बहुत पॉज़िटिव मेल्स भी मिले जिनका मैंने रिप्लाई भी किया इन सब के लिए आपका शुक्रिया। आप में से कुछ ने मुझसे पूछा कि इसका अगला पार्ट कब आएगा तो ये रहा अगला पार्ट… पढ़िए और मजे कीजिए!जैसा मैंने बताया कि मेडम की चुदाई मेरे द्वारा होने लगी थी और सर को कोई ऐतराज नहीं था. करीब पांच सात मिनट वो यूं ही मुझसे चिपकी मेरे ऊपर पड़ी रही, उसके दिल की धक् धक् मैं साफ़ सुन पा रहा था.

उसने कहा- अब मुझे जाने दो घर वाले आने वाले होंगे…फ़िर मैंने भी उसकी परेशानी को समझा और उसे जाने दिया. सेक्स चैट करते-करते एक महीना हुआ और आखिर में उसको छुट्टी मिली तो हमने मोरजिम में एक होटल में जाने का प्लान बनाया. मेरे द्वारा पाँच-छह बार ऐसा करने पर माला ने जो की काफी देर से सिसकारियाँ ले रही थी एक जोर की सीत्कार मारी और उसकी योनि में से गर्म गर्म रस का रिसाव हो गया.

जयपुर से पूरी की है। अभी मैं गवर्नमेंट जॉब की तैयारी कर रहा हूँ। मैं दिखने में ज्यादा स्मार्ट तो नहीं, पर ठीक-ठीक हूँ।यह कहानी तब की है जब मैं स्कूल में था.

इसके बाद मेरे दो धक्के में मेरा पूरा 7 इंच का लंड उसकी चुत में समा गया. जो उसे इसके बारे में सही से बता पाएगा। वो तैयार हो गई।उसने अपने घर पर बताया कि उसके अन्दर ही कमी है जोकि थोड़े से इलाज़ के बाद ठीक हो जाएगी। इससे घर में सब लोग खुश हो गए। अगले दिन डॉक्टर ने हमें सब कुछ सही तरीके से समझा दिया कि हमें क्या-क्या करना होगा, जैसे कि वीर्य का चयन. वो बोली- जिस दिन हम दोनों अकेले हुये घर में उस दिन तुझे इस दर्द से मुक्ति दिला दूँगी.

xxx बीएफ कॉमपर उसके मम्मे और गांड ग़जब की है, एकदम टाइट और फैली हुई गांड और तने हुए छोटे खरबूजे जैसे मम्मे… मैंने उनके बारे में सोचकर कई बार मुठ भी मारी थी. पायजामे में से मेरे गोल गोल चूतड़ उसको उत्तेजित करने के लिये बहुत थे.

भाई-बहन का बीएफ वीडियो एचडी

अब मेरे लंड में खलबली मचने लगी थी और वह भी मेरे लंड को जकड़ने लगी थी. तू तो बस चुत चाट कर ही मज़ा दे दिया कर, बदले में वो मेरा चूस कर पानी निकाल देती है। अगर आप मुझे मोना की चुत दोगे तो मैं बदले में आपको आज रात को ही राधा की चुत लाकर दे दूँगा।काका- वाह मेरे बेटे. !मैंने कहा- पहले कल्पना करो कि वो बूढ़ा जो उस फिल्म में उस लड़की को चोद रहा था, तुम्हारी चुत को चूस रहा है।वो बोली- छीः कैसे पति हैं आप.

नताशा के चेहरे पर भी मुस्कराहट खिल गई और वो लहरा-लहरा कर हमसे गांड मराने लगी. नेवली खुर्द के मेन रोड तक पहुंचने के बाद मैं जाखोद खेड़ा की तरफ जा रहे हाइवे की तरफ चल पड़ा. पता तो मुझे था कि ये लड़कियों के सुसू करने की जगह है, पर मैं वैसे ही सो गया.

इस बार मैंने उसके मम्मों को दबाते-दबाते उसकी पैंट के अन्दर हाथ डाला और उसकी चुत को रब करने लगा. जमीला ने भी मुझे मस्ताना उसकी चुचियों के बीच घुसाने को बोली तो अब मैंने मस्ताना को जमीला की चुचियों में घुसा दिया. अचानक मुझे यूँ लगा कि मेरे सिर के बवंडर में विस्फोट सा हुआ, एक करंट सा मेरे बदन में ऊपर से नीचे को दौड़ा और एक आआआहहहह भर के मैं ज़ोर से झड़ी.

चल साली रांड तू मेरा हाथ से हिला के मुझे मज़ा दे दे।दोस्तो, 15 मिनट तक ये खेल चलता रहा फ्लॉरा तो असीम आनन्द की दुनिया में खो गई। वो कुछ बोल भी नहीं पा रही थी। अजय उसके मुँह को चोदने में लगा हुआ था और इधर मम्मों और चुत की चुसाई से वो बेहाल हो गई थी। उसका झरना बहना शुरू हो गया था, जिसे साहिल ने चाटना शुरू कर दिया।साहिल- वाह साली. आप सच में बहुत सुंदर हो और मेरे नसीब में अभी शादी कहाँ?मोना- क्यों आप तो अच्छे-ख़ासे सैट हो गए हो.

अब मेरा हाथ सिर्फ़ और सिर्फ़ उसकी गर्दन पर था एक तरह से वो आज़ाद थी और मेरे ऊपर गिरी होने की वजह से कभी भी जा सकती थी पर वो तो जैसे चाहती ही वही थी.

मोना रानी के शब्द आरम्भप्रिय पाठक पाठिकाओं को मोना का सप्रेम नमस्कार!बहुत दिनों से मेरे दिमाग में एक कीड़ा घुस गया था जो मुझे बार बार बेचैन कर देता था. बीएफ सेक्स वीडियो देहातीदीदी रोते रोते भीख माँगने लगी- प्लीज़ अशोक मेरा भाई, छोड़ दो मुझे अब और नही सहा जाता. इंडियन गे पोर्न वीडियोचाची की चुत तक का सुहाना सफ़र-1चाची की चुत तक का सुहाना सफ़र-2अब तक की इस चाची सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि चाची भी मुझसे चुदने को मचल उठी थीं पर चाचा के कारण उन्होंने दूसरे दिन चुदाई का कार्यक्रम तय कर लिया था. बन जा तू भी काका के लंड की दीवानी।ये दोनों छज्जे से उतर कर काका की छत पर आ गए थे। उस वक़्त काका अपने चरम पे थे और मोना की टाँगें उठा कर उसकी ज़बरदस्त चुदाई कर रहे थे। वैसे उनको आवाज़ सुनाई दे गई थी कि राजू और राधा ठीक उनके पीछे आ गए हैं।मोना- आह.

टालना इसलिए भी ज़रूरी था कि मैंने ज्योति के साथ तो यह चर्चा की नहीं थी, उसको पूरी बात विस्तार से बता कर ही मैं सुमित के सामने उसको फोन पर बात कर सकती थी.

क्योंकि इतने सालों जो शराफत का परदा ओढ़ रखा था, वो हट जाएगा और उसके अन्दर की रंडी बाहर आ जाएगी।टीना- इसका मतलब तुमने कुछ सोच लिया है. उसने मुझे सीधे बेड रूम में चलने को कहा तथा मेरे लिए एक टेबलेट तथा पानी का गिलास लाई और कहा कि इसे खा लो. ‘मेरे पास आ के बैठो न स्नेहा!’ मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपने नजदीक सटा लिया और उसके गले में बांह डाल कर हौले से उसका बायाँ गाल चूम लिया.

वो पीछे जो पार्क है ना, वहीं रुक जाना, मैं से जल्दी वहाँ आकर तुझे अपने साथ ले जाऊंगा और हाँ बैग में अपनी कोई पुरानी टी-शर्ट रख लेना याद से. लड़की हल्का सा जागी और ‘ऊं… हटो’ बोली मगर उसने अपनी आँखें नहीं खोली. फिर जब वो झड़ने वाली थीं, तो मैंने एक आखिरी ज़ोर का झटका लगा दिया और वो झड़ गईं.

बीएफ कर्नाटक

हम दोनों एक साथ झटका लगाते और फूफा जी का लंड मेरी चूत में जड़ तक घुस जाता. इसके बाद पूजा भाभी ने मुझसे कहा- चल पायल, तू अभी इस समय चल बाथरूम में… मैं तेरी भी मदद कर देती हूँ. मैं मना नहीं करूँगी।उनकी बात सुनकर मुझे बड़ा मजा आया और दूसरी चुदाई को लेकर सपने बुनने लगा। हालांकि मुझे तो पहली बार में ही आंटी चुत का मजा आ गया था।आपक मेरी आपबीती अच्छी लगी या नहीं, मुझे प्लीज़ रिप्लाई करना।[emailprotected].

फिर उसने अपने लब बंद कर लिए और अन्दर ही अन्दर अपनी जीभ मेरे लंड के चारों तरफ फिराने लगी.

उसने नीचे देखा और अपनी चुत को भी हाथ लगा कर चैक किया।उधर संजय का लंड तो लोहे जैसा सख़्त हो रहा था। वो सोच रहा था कि अब इसे कैसे शांत करूँ, तभी उसकी मुश्किल पूजा ने आसान कर दी।पूजा- मामू अपने तो मेरी फुन्नी को चाट के साफ कर दिया और सारा मज़ा रस भी पी गए.

वो मेरी अच्छी दोस्त बन गई थी। हम दोनों 12 वीं तक तो अलग-अलग कॉलेज में पढ़ते थे. शाम को भी नहीं मिलता और कॉलेज भी देरी से आता है।संजय- अरे कुछ खास नहीं, पापा ने काम में उलझा रखा है यार!सुमन- गुड मॉर्निंग फ्रेंड्स. ixi पोर्नपर खुद को छुड़ा नहीं पाई। भाई ने छत के दरवाजे पर अपने 3 दोस्तों को बैठा कर रखा था ताकि कोई आ न सके। मैं शरम से पानी-पानी हो रही थी। भाई बहन का सेक्स शुरू हो चुका था, भैया अब तक नीचे से पूरे नंगे हो चुके थे.

उन्होंने मुझे बताया कि उनके हस्बैंड भी आर्मी में मेजर हैं और अभी उनकी असम में पोस्टिंग है। आर्मी वालों की पोस्टिंग अलग- अलग जगहों पर होती रहती है इसलिए हम साल में 3 या 4 बार ही मिल पाते हैं। बस 1 शराब ही सहारा है तन्हाई को दूर करने का!दोस्तो मैं जिंदगी में पहली बार शराब पी रहा था, तो मैंने बस 1 पेग ही लेना ठीक समझा, फिर भी शराब ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया. मैंने गुस्से में उसकी तरफ देखा और उसका हाथ हटा दिया और उसे भला बुरा सुनाने लगी. अपने आप को एकटक घूरते हुए पाने के बाद गुलफाम कली ने अंगूरी से पूछा- क्या देख रही हो अंगूरी जी?तो सक्सेना बीच में बोल पडा- वो क्या है न गुलफाम कली आपा, भाबी माँ ने कभी तुम्हें कपड़े उतारते हुए नहीं देखा न! इसलिए थोड़ी अचरज में हैं.

अन्तर्वासना पर यह मेरी दूसरी सेक्स स्टोरी है।मेरा नाम रोहित उर्फ़ पेलेखान है, मेरी हाईट 5 फीट 4 इंच है और रंग सांवला है। मेरे लंड का साइज़ 7 इंच है, जो बहुत मोटा है।उस वक्त दीवाली का माहौल था. मैंने झट से तौलिया लपेट कर पूछा- क्या है दीदी?सीमा- अरे छोटू, ताई ने कहा था, तुम जब आओ तो चाय के लिए पूछ लेने के लिए?मैं- तुम बना दो, मैं आता हूँ.

रफीक- आहहहह… यार राजेश मेरी गांड फाड़ दी उम्म्म… साले तेरा लण्ड है या मूसल?थोड़ी देर रुक कर जब रफीक थोड़ा रिलेक्स हुआ तो मेरे लण्ड पर उछलने लगा.

ऊऊहह…’थोड़ी देर बाद फिर हम 69 की अवस्था में आ गए और मैंने उसकी बुर को चाटना शुरू किया. ऋतु को मेरे आने का आभास हो गया और उसने चेहरा उठाकर मुझे देखा और मुस्कुरा दी. कुछ देर के बाद भाभी बोल रही थीं- अब और मत तड़पाओ मेरे राजा, जल्दी से अपना लंड मेरे चूत में डाल दो.

डब्लू डब्लू गुजराती सेक्सी वीडियो इस तरह की भाषा ने मुझे और मेरी बीवी को बहुत उत्तेजित कर दिया और मैं दुगने जोश के साथ अपना लंड बीवी के गले में पेलने लग गया, खुद नताशा भी उत्साह के साथ तेजी से मेरा लंड चूसने लगी. वो अपने मुंह में आये रस को पी गई और फिर अपने चेहरे पर लगे हुए वीर्य को भी अपने हाथों से इकट्ठा करके चाट गई.

अब मैं वो बातें सुन कर बहुत उत्तेजित हो रही थी, मेरे शरीर में मेरी चूत पर हाथ लगाने से एक अजीब सा मजा एवम् गीलेपन के साथ जोश आ रहा था।फिर पूजा भाभी मुझसे बोली- पायल, अब अपने सभी कपड़े उतार कर बाथरूम चली जाओ क्योंकि आज मैं तुम्हारी इस प्यारी सुंदर चूत के बालों को साफ करके नहा लूंगी. ये तो शगुन का लाल रंग है। एक काम कर नीचे जाकर गर्म पानी से चुत को अच्छे से साफ कर ले, आराम मिल जाएगा। उसके बाद दोबारा भी तेरी चुत की ठुकाई करनी है. अब तो बता दे तेरा ये सुमन के साथ क्या करने का इरादा है?संजय- यार मैंने आज तक इतनी सीधी-साधी लड़की नहीं देखी वो भी यहाँ मुंबई में, इसकी सादगी और हुस्न की मिलावट को मैंने गौर से देखा है, मेरा तो इसको बस देखते रहने का मन किया।विक्की- क्या बात है प्यार-व्यार हो गया क्या तुझे हाँ.

बीएफ सेक्सी हिंदी वीडियोस

मैं उनको जोर-जोर से चूसने लगा।साला पहली बार इतने रसीले आम चूस रहा था. मैंने अपने हाथ मानसी के चूचों पे रख उनको मसलना चाहा पर उसने मुझे पीछे धकेलते हुए अपना विरोध जाहिर किया. बस आधा मिनट ही और बीता होगा कि वो मुझ पर हाँफते हुए ढेर हो गई और मुझे अपनी बाहों में कस लिया साथ में अपनी चूत मेरे लंड पर पूरी ताकत से दबा दी उसने!मैंने एक बात नोट की कि वह झड़ने में ज्यादा समय नहीं लेती थी, बस पांच छः मिनट की रगड़ाई या चूत चुसाई और वो एक्सट्रीम पर आ जाती थी.

मैंने कहा- पहले तुम सब कर आओ, फिर मैं जाऊंगा।सबने हाँ भर दी।अब सबसे पहले खुद राकेश गया और बाहर आकर उस रंडी की, उसकी चूत की, उसके बदन की तारीफ करने लगा।फिर नदीम और फिर अंकित सब चुदाई करके आ चुके थे. फिर उसके बाद मेरी पसंदीदा तेरी गांड भी मारनी है।मोना- आप आदमी हो या जल्लाद.

मैंने उसकी कमर पकड़ी और तेजी से उसको चोदते हुए 20-30 धक्कों में सारा दम लगा कर अपना माल निकल दिया.

अब तक की सेक्स स्टोरी में आप सभी ने पढ़ा था कि सुमन ने संजय के ग्रुप से हाथ मिला लिया था ताकि वो रैगिंग से बच सके।अब आगे. आखिरकार राजे का खज़ाना खाली हो गया, लौड़ा मुरझा गया और फिसल के चूत के बाहर आ गया, जिसका पता मुझे चूत में खालीपन सा प्रतीत होने पर चला. लगभद 5 मिनट के बाद उसने अपना लंड निकाल लिया और मेरी बहन के ऊपर से हट कर बाथरूम में चला गया.

आगे की कहानी जस्सी से सुनते हैं:दोस्तो, मैं जस्सी, चंडीगढ़ के पास रहता हूँ और 29 साल का हूँ. तभी फ़ौरन गुलशन ने उसके मुँह पे हाथ रखा और आधे लंड को फँसाए हुए ही उस पर लेट गए. उनकी बड़ी गांड बहुत ही मस्त थी, मैं लगातार दीदी की चुत को चाटे जा रहा था.

’मैंने उसे एक पत्थर पर आधा लेटाया और चूत पर लंड लगा कर धक्का दे मारा… लंड थोड़ा सा अन्दर घुस गया.

सी पिक्चर बीएफ हिंदी: मेरा लंड अन्दर-बाहर होता हुआ दीदी की चुत की गहराइयों तक जा-आ रहा था. मैंने पूछा- संदीप भैया हम पहुंचने वाले हैं क्या?वो गुस्से में बोला- साले चैन नहीं है तुझे…लंड लेने की ज्यादा ही जल्दी पड़ी है क्या… तुझसे बोला था ना आराम से बैठा रह!मैं घबरा गया… संदीप के तेवर बदले-बदले से लग रहे थे.

चलो अन्दर वो हरामी वर्मा सर की क्लास है आज।साहिल की बात सुनकर सब वहाँ से चले गए. फिर अचानक से मॉंटी का कंट्रोल बिगड़ा और लंड सीधा सुमन की चूत के मुख से जा टकराया. ’मैंने जवाब दिया- मेरे लंड पेलने के अंदाज़ से तो तुम्हें जवाब मिल जाना चाहिए था.

अब जब भीआंटी की चुतको चुदाई की तलब होती है, वो मुझे याद कर लेती है.

मैंने उसके चेहरे को दोनों हाथों से पकड़ा और फिर उसके गुलाबी होटों पर किस किया. मैं तो कभी ना करूँ।अजय- क्या यार क्यों भाव खा रही है फ्लॉरा तो अकेली 5 को झेल गई। अब तो तुम दोनों होगी तो आधे-आधे कर लेना।विक्की- आधे कैसे होंगे? हम 5 हैं अब कैसे होगा?‘तू साला चूतिया ही रहेगा. उसका लंड मुझे अपनी गांड की दरार में रास्ता बनाता हुआ महसूस हो रहा था.