बीएफ ब्लू एचडी वीडियो

छवि स्रोत,महाराष्ट्र बीएफ वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी बूर: बीएफ ब्लू एचडी वीडियो, उस समय मेरे पापा मम्मी को कोई जरूरी काम था और वो कुछ दिनों के लिए शहर से बाहर गए हुए थे.

हिंदी में वीडियो एक्स एक्स एक्स

आपको ये समझ नहीं आया है कि मैं किसलिए पूछ रही हूँ?मैंने कहा- देखो प्रिया … मैं तुमको बहुत पसंद करता हूँ मगर मुझे लगता है कि हमारे परिचितों के कारण मुझे तुमसे दोस्ती नहीं करना चाहिए. एक्स एक्स बीपी कॉमक्या मैं आपसे बात कर सकता हूं?रोहन को मैंने हैंगआउट्स पर मैसेज करने को बोला.

उसको यक़ीन था कि इस वक़्त ना तो धारा ऑनलाईन होगी और अगर हुई भी तो धारा की जगह ललित होगा बात करने के लिए।शेखर ललित से बात करने को इच्छुक नहीं था, उसे तो बस धारा से बात करनी थी. बीएफ सेक्सी वीडियो पिक्चर एचडीउस चपरासी की तो जैसे लॉटरी लग गई हो … वो आंखें खोलकर सोनम को देखने लगा.

वो आज बहुत खुश थी और मोटरसाइकिल के पीछे बैठे बैठे मुझे बार बार मेरे गालों पर चुम्बन किए जा रही थी.बीएफ ब्लू एचडी वीडियो: पहले पहल तो मुझे गुदगुदी हुई … फिर मजा आने लगा तो मैंने अपनी गांड के छेद को ढीला छोड़ दिया.

पहले मैंने उर्वशी की चूत पर लगाया और उसके बाद अपने लंड पर अच्छे से मालिश की, जो उर्वशी ने ही की थी.भाबी- उऊओ मम्मा मर गई रे आह साले ने फाड़ दी … आह रुक जाओ … आराम से करो.

ना की सेक्सी वीडियो - बीएफ ब्लू एचडी वीडियो

उसके साथ उसकी 20 साल की बेटी भी थी जिसके हाथ में स्नैक्स ओर पानी की बोतल थी.चूंकि कोरोना के चलते कोई फ्लाइट आ नहीं रही है, तो वो आ नहीं पा रहे हैं.

ज्योति- यार जोर की भूख लगी है, चल देखते हैं कुछ इंतजाम हुआ या नहीं. बीएफ ब्लू एचडी वीडियो मैंने कैसे एक दार्जिलिंग की एकदम कुंवारी लड़की को चोदा, इस सेक्सी ऑफिस गर्ल की चुदाई कहानी मैं आपको उसी चुदाई के बारे में बताना चाहता हूं.

मैंने खुश होते हुए कहा- भाभी, आप मुझे बस एक मौका दो, फिर मैं बताता हूं कि असली सुख किसे कहते हैं.

बीएफ ब्लू एचडी वीडियो?

उसने एक झटके से शेखर के हाथों से अपनी चूत और चूचियों को छुड़ाया और शेखर की तरफ़ घूम गयी. मैंने कहा- अरे मैं तो सोच रहा था कि इसको स्वाद ले लिया होगा!वो मेरी तरफ आंखें तरेरते हुए बोली- साले, मैं अब तक कुंवारी हूँ. थोड़ी देर लंड चुसवाने के बाद मयंक लंड को संगीता की गांड की तरफ ले गया.

पल्लू हटते ही निखिल की आंखों में चमक आ गई- मेरी जान, तेरे चुचे तो बड़े मस्त हैं. ये सब कामुक बातें सुन कर प्रिया अपनी चुत में उंगली करने लगी और कमर उछाल कर एक बार और झड़ गई. चरम पर जाकर स्खलित होने का अद्भुत नशा जिसे मैंने और नेहा ने मिलकर महसूस किया था।दो दिन तक मैं उनके घर पर उनके साथ रहा.

मां- तू रात में क्या कर रहा था?मैं- कुछ नहीं मां, मुझसे गलती हो गई. वो मस्त होने लगी और उसके मुँह से गर्म आवाजें निकलने लगीं- आआह … और जोर से चूसो … आह और जोर से मसलो!जब वो ऐसा कहने लगी तो मैं और भी ज्यादा जंगली हो गया. जया जब अपनी चुत में दर्द महसूस करने लगी तो उसने प्रिया का हाथ पकड़ लिया.

उस दूध वाले ने धीरे से मेरे कान में बोला- बीबी जी, एक बात बोलूं?मैंने हां में अपना सिर हिलाया. मेरे लंड को भाभी पैंट के ऊपर से पकड़ने की कोशिश कर रही थीं- अपना लौड़ा निकाल भोसड़ी के मादरचोद … इससे क्या अपनी बहन को चोदेगा … बाहर निकाल इसे!मैंने एक थप्पड़ खींच कर भाभी के बोबों पर मारा- मादरचोद रंडी … इतनी जल्दी क्या है लौड़ा लेने की.

जिस लंड से मेरी मां चुद रही थी मैं भी देखना चाहती थी कि उस लंड में ऐसी क्या खास बात है?अनिकेत भैया ने मेरी चूचियों को नंगी कर दिया और उन पर होंठ लगाकर पीने लगा.

राहुल 25 साल के करीब का एक बहुत ही स्मार्ट और अच्छी पर्सनेलिटी वाला लड़का था और नेहा के साथ मजाक करता रहता था.

मैंने फ़लक को गोद में ही पलटा और उसके सुड़ौल गोरे चूतड़ों पर हाथ फिराने लगा. चाची उठीं और चाचा के दोनों तरफ पैर करके अपनी चुत के छेद में उनका लंड पकड़ कर लगाने लगीं. थोड़ी देर में मैट्रो आ गई थी तो हम दोनों उसमें बैठ गए।मैट्रो खाली थी तो हमें सीट भी मिल गई।मैंने स्मृति से बात करना शुरु किया तो उसने बताया कि कैसे उसने शादी में एन्जॉय किया.

बंगालन भाभी- कैसा पाप, हमारे यहां जब बच्चा होने के बाद दूध जल्दी नहीं निकलता है … तब देवर को बुलाकर भाभी के दूध चूसने को बोला जाता है, ये कोई पाप नहीं है. पिंकी आह उम्मह ऊह हह हाँहह करके लंड लेने लगी।मैंने उसकी चूचियों को मसलना शुरू कर दिया और होंठों को चूसने लगा और झटके मारने लगा।अब पिंकी भी ज्यादा उत्तेजित हो गई थी और हहह आहह हहह करके अपनी गांड चलाने लगी।मैंने पीठ के बल लेट कर पिंकी को इशारा किया तो वो मेरे लंड पर बैठ गई और उछलने लगी।मेरा लंड सट्ट सटृ अंदर बाहर होने लगा. धीरे धीरे मेरी उनसे जान पहचान बढ़ी और हमारी फैमिली एक दूसरे में काफ़ी घुल-मिल गए.

कुछ देर बाद प्रियंका गर्म हो गई तो उन दोनों ने उसको डॉगी स्टाइल में खड़ा कर दिया.

उसने अपने मुँह को मेरी गांड के छेद पर लगा दिया और जीभ डालकर गांड चूसने लगा. मैंने भी मौके की नजाकत देखते हुए उसके सीने पर चूमते हुए उससे दोबारा पूछा- बेबी राहुल से चुद रही हो न?अभी इतने दिनों तक पति से दूर नेहा बिना चुदे बेबस सी चुदने को आतुर थी. क्यूट न स्वीट गर्ल सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं तब तक कमसिन और कुंवारी थी.

अब निखिल ने मम्मी की पैंटी उतार फैंकी और और उन्हें पूरी तरह से नंगी कर दिया. घर में सब रहे, तो आपको मुझे मां कहना होगा और मैं आपको नाम से पुकारूंगी. पर मैं ये नहीं समझ पाया था कि सैम को मेरी मां पसंद आ गयी थी या मेरी मां को सैम पसंद आ गया था.

यह कहकर आशारा ने मेरा लंड दबाया और मेरे होंठों पर जबरदस्त चुंबन देते हुए कहा- तुम्हारे इस लंड ने तो मेरी जन्मों की प्यास बुझा दी.

मुझे जोश चढ़ गया और मैंने अचानक से खड़े होकर आंटी को पीछे से पकड़ लिया. थोड़ी देर बाद मीरा ने भी अपनी एक टांग उठा कर निखिल की कमर पर रख दी.

बीएफ ब्लू एचडी वीडियो हर वक्त मुझे चाची के गुदाज़, गर्म शरीर का स्पर्श याद आ रहा था, चाची के मस्त बूब्स, चाची की फूली हुई चूत का स्पर्श… इन सबकी याद दिमाग से निकल ही नहीं रही थी. आंटी की इस उम्र में भी उनकीचूत बहुत टाईट थीक्योंकि अंकल का लंड छोटा था और वो आंटी को कभी कभी चोदते थे.

बीएफ ब्लू एचडी वीडियो उस रात मैं भाभी की गांड के स्पर्श के अहसास इतना अधिक उत्तेजित हो गया था कि मुझसे रहा ही नहीं जा रहा था. फिर से मैंने दोहराया- हां, मगर करना क्या है उस टेस्ट में?रोहन- मुझे पहले अपना हथियार दिखायें कि कैसा है? उसमें वो बात है जो मुझे मेरी नेहा के चेहरे पर मदहोशी देखने में मदद करेगी या नहीं?इतना बोलते हुए रोहन ने मेरा लोअर खींच दिया.

जैसे ही मेरा लंड खड़ा हुआ, उसने लंड को अपने मुँह में डाल लिया और अपने होंठों से मेरे लंड की मसाज करने लगी.

सेक्सी भाभी देवर का

मैंने कहा- सिर्फ फ्रेंडशिप!उसने कहा- नहीं, मैं अब आपसे प्यार करती हूं. ये भाभी के नंबर से लिखा था- बात करना था आपसे … कॉल करें!मैं बहुत ज्यादा खुश कि माल पट गई. वह चाहती थी कि हम दोनों फिर मिलें और पूरे इत्मीनान से जिस्म के मजे लूटें.

तो मैंने भी उसे बांहों में भर लिया और उसकी पीठ सहलाने लगा!सहलाते-सहलाते मेरे हाथ उसके कूल्हों पर पहुंच गये और गांड के छेद को ढूंढ कर सहलाने लगा मैं!अब तमन्ना हुयी नीचे और लंड को मुंह में भर लिया. मेरी कहानीबंगलूरु की हसीना की मालिश और चुदाईको आपने जो प्यार दिया, उसका बहुत बहुत आभार. मेरी शर्ट हल्की और सफेद होने की वजह से जब उस पर पानी पड़ा, तो मेरी ब्रा साफ दिखने लगी.

9:15 बजे के करीब मेरे दरवाजे पर घंटी बजी तो मैं समझ गई कि वे चारों आ चुके हैं.

जैसे जैसे मैं धक्का लगाता, उनका प्यार और बढ़ता जाता … जिसका अंदाज मैंने उनके नाख़ून का मेरे पीठ पर गड़ने से लगाया. तो दोस्तो … मैं ज़्यादा गाली नहीं देता हूँ और ज़्यादा से ज़्यादा वो लिखता हूँ, जो सच हो. लेकिन अब दोनों के बीच का ये शर्म का परदा कैसे हटाया जाए, इस बात को सोचना बाकी था.

तो मैंने बांध दी और ये पूछने को हुई कि ये खोली क्यूँ?पर तभी मेरा फोन बज गया. अचानक ऐसे किसी के चिल्लाने की वजह से उस चपरासी का मोबाइल उसके हाथ से नीचे गिर गया और वो अपने दोनों हाथों से अपना लौड़ा और पैंट सँभालने की कोशिश करने लगा. मेरी टॉवल खुल कर गिर गयी और मेरी कातिल जवानी पूरी की पूरी नंगी हो गयी.

मैंने उसे चूम लिया और अपने ही वीर्य का स्वाद उसके होंठों से ले लिया. वहां डोरबेल बजायी … तो लगभग 38-40 साल की, मगर हुस्न से भरपूर महिला ने दरवाजा खोला.

एक बार को तो मैं चौंक गया, फिर डर की अहमियत को समझते हुए मैंने हां में सर हिला दिया. अब आगे गरम लड़की के साथ सेक्स कहानी:उर्वशी का वासना से भरा चेहरा देख कर मैंने उसे एकदम से उठा लिया और खड़ा करके उसे दीवार से लगा दिया. मैंने फ़लक के पटों को थोड़ा चौड़ा किया और घुटनों को थोड़ा मोड़कर लण्ड को चूत के छेद और क्लिटोरियस पर ऊपर नीचे रगड़ना शुरू किया.

वो भी बिना कोई सवाल किये तुरंत कुतिया बन गई।मैंने पीछे से उसकी कमर को दोनों हाथों से थाम लिया और उसकी चूत में लंड डालकर सटासट चोदने लगा।कुछ देर बाद नीतू के मुंह से फिर से सीत्कार निकलने लगी- आह्ह्ह … राजा … क्या मस्त चोदते हो.

इस समय मैं एकदम किसी 18 साल की लौंडिया की तरह सज संवर कर और हाई हील्स पहन कर अपनी बेटी के आशिक़ के साथ रंगरेलियां मनाने को तैयार हो गयी थी. इस बीच मैंने अपनी दोस्त प्रभा के गाल पर एक हल्का सा चुम्बन कर दिया. मैं तय समय पर यानि शाम के पांच बजे जब वहां पहुंचा, तो मैं उसे वहां नहीं देख पाया था.

उसने जैसे ही मेरी टांगों की नाप लिया, तो उसके हाथ में वो पानी लग गया. लेकिन इस बार मेरे लंड ने धोखा दे दिया और मैं उसके मुँह में ही झड़ गया.

मेरी टॉवल खुल कर गिर गयी और मेरी कातिल जवानी पूरी की पूरी नंगी हो गयी. एक बोला- मेरी रानी आज पूरी रात हम दोनों मिलकर तेरी चुदाई ही करेंगे. मम्मी ने बताया था कि आज उसकी दुकान बंद रहती है, तो तुम पीछे के दरवाज़े से अन्दर चली जाना.

𝑥𝑥𝑥 𝑣𝑖𝑑𝑒𝑜

आपके सुझावों से कहानी अधिक निखरकर आती है। कहानी पर कमेंट्स में अपनी राय दें।मेरा ईमेल आईडी है[emailprotected]कॉलेज गर्ल की चूत की गर्मी कहानी का अगला भाग:शत्रुता का पहला दौर- 3.

आप मेरी पिछली रचनामेरे दोस्त की पत्नी और हम तीनपर जाकर पढ़ सकते हैं. चूंकि भैया थे नहीं वो अपनी ट्रेनिंग के लिए एक साल के लिए साउथ गए थे, तो भाभी को भी लंड की तलाश थी. ’चिराग ने भी अपने दोनों हाथ ऊपर करके ज्योति का चेहरा आगे की तरफ खींच कर एक बार फिर से उसके होंठ से अपने होंठ मिला दिए.

अब आगे इंडियन देसी सेक्स गर्ल की कहानी:शालू- एक दिन घर के सभी लोग किसी शादी में चले गए थे. निखिल ने भी झटके देने शुरू कर दिए और मीरा की पीठ पर चढ़ कर किसी कुत्ते कुतिया की तरह उसकी गांड बजाने लगा. कुमारी लड़की सेक्सी बीएफउन्होंने मेरे मुँह में अपना लंड डाला और कहा- अच्छे से गीला कर, जितना सूखा हुआ होगा, उतना ज्यादा दर्द होगा.

पिछली कहानीमौसी की जेठानी की प्यास बुझाईमें आपने पढ़ा कि मैं मौसी और उनकी जेठानी के साथ सेक्स के इस खेल में कुछ नया करने की सोचता रहा जिससे दोनों एक दूसरी के सामने हमेशा के लिए सहज हो जायें. तीसरे भागबहन चोदने वाले दोस्त से बदलामें आपने देखा कि रेशम ने कृति के साथ मिलकर काव्य को प्रेसिडेंट पद से हटा दिया। अब अगले 6 महीने के लिए उसे प्रेसिडेंट चुन लिया गया था।अब आगे सेक्सी बहन की कहानी :कृति रेशम के घर पहुंची.

हम दोनों कुछ मीटर की दूरी पर थे लेकिन हमारे जिस्म एक दूसरे में समा चुके थे. इधर मैंने कोमल को घोड़ी बना कर अपना लंड एक झटके में उसकी चुत में डाल दिया और तेज तेज चोदने लगा. मैंने अपने हाथों से उसके हाथ पकड़ कर दूर किए और उसकी चूत को देखने लगा.

तभी उसने जल्दी जल्दी झटके देने शुरू कर दिए और लगभग 30 सेकंड बाद उसने अपना सारा पानी मेरे मुंह में निकाल दिया. मैंने लंड चूसने में देरी न करते हुए तुरंत उसका लंड मुंह में ले लिया और चूसना शुरू कर दिया. वो लगातार सिसकारियां लिए जा रही थीं- हम्म्म अह उम्म हहह सीईई!मैं लंड पेलते हुए उनसे बात कर रहा था लेकिन वो मुझे जवाब नहीं दे रही थीं.

मैंने सोचा कि यह सही समय है शीना पर हाथ साफ करने का!तो मैं चुपके से उसके पास आया.

इधर मैं भाभियों और लड़कियों को बता दूँ कि मैं अपनी पूरी बॉडी और लंड पर वैक्सिंग कराता हूँ, जिससे मेरा कड़ियल जिस्म भाभियों और लड़कियों को अच्छा लगता है. अब आगे देसी लड़कियों की चुदाई कहानी:मैं अपना लंड लेकर रुचि की चुत पर आ गया.

उधर रूपाली भी अपनी प्लेट से कभी मुझे खिलाती या फिर खुद खा लेती।हम तीनों में से कोई भी बात नहीं कर रहा था।मेरी नजर खाना खाते वक़्त नीतू की गोल ठोस चूची पर पड़ी. ऐसे किसी को पता चल गया तो लोग क्या सोचेंगे हमारे बारे में?तभी मैंने उससे पूछा- और कहीं ऐसी जगह हो जहां कोई जानता ही नहीं हो तो?नेहा ने मेरी तरफ आश्चर्य से देखते हुए पूछा- मतलब?मैं- मतलब यह कि यदि हम अपनी जान-पहचान में न करके कहीं बाहरी आदमी से करें तो न हमें किसी तरह की शर्म होगी न कोई जान-पहचान का डर. चाची- और मैं कैसे रात काटती हूँ … तुम्हें क्या, तुम तो विदेश में कोई ना कोई चूत मार लेते होगे.

खाना खाने के बाद वो अन्दर से एक रजाई ले आई और हम दोनों एक ही रजाई में घुस कर लेट गए. मैं चौंकने का नाटक करते हुए बोली- ठीक है … कर लो, जरा मैं भी तो देखूं कि मेरे पास कौन सी फैक्ट्री है. मां- तू पहले नहा ले और अब तू मुझे मां मत बोल, मेरा नाम लिया कर!मैं- क्यों मां ग़ुस्सा हो क्या?मां- गुस्सा नहीं, तुम पहले नहा लो.

बीएफ ब्लू एचडी वीडियो राज बोला- साली बहन की लोड़ी … तेरी मां की चूत … मादरचोद … हमारे हाथ पैर खोल कर देख, तेरी कैसी मां चोदते हैं. आने तो दो उसे। अभी तुम अपने कमरे में जाओ और नेहा के मेरे कमरे में घुसने के बाद आ जाना चुपके से।रोहन चला गया और उसके जाने के बाद नेहा आयी और पानी का जग रख कर बोली- पानी लायी हूं आपके लिए.

सनी लियोन सेक्स वीडियो हिंदी

मैंने जब अपनी नज़र हल्की सी ऊपर उठाई तो देखा कि उसकी पैंट में हल्का सा उभार आ चुका था. थोड़ी देर बाद मैंने उसे बिस्तर पर घोड़ी बनाया और उसकी गांड में हाथ फेरने लगा. उसने कहा- गौतम की इच्छा क्यों नहीं पूरी कर देती यार … बेचारे का आज जन्मदिन है.

मुझे भी उसकी चुत को चाटने में बहुत मज़ा आ रहा था और वो भी अपनी चुत चटवाने में मस्त थी. मीरा इस अद्भुत आनन्द को ज़्यादा देर तक नहीं झेल पाई और अपनी चुत को निखिल के मुँह में रगड़ते हुए झड़ गयी. हिंदी सनक्सक्सदेसी भाभी पोर्न कहानी के पहले भागपरचून की दूकान वाली से सेटिंगमें अब तक आपने पढ़ा था कि मैं भाभी की मचलती जवानी में आग लगा दी थी.

मैं बोली- पैसे गिन लो, पूरे है ना!मेरी बात सुनकर उसको होश आया और वो खड़ा हो गया.

मैं भाभियों का दीवाना हूँ इसलिए सबसे पहले सभी भाभियों को मेरा प्यार. मुझे बहुत गर्म लग रहा था, मैं कह नहीं सकता कि मुझे कितना मज़ा आ रहा था … बहुत उत्तेजित था.

ये इच्छा खुद उसने मुझे बतायी और ये भी बताया कि कैसे उसने अपनी बीवी को इसके लिए राजी किया. वो इतने जोश में आ गए थे कि मेरी नाइटी को जल्दी से निकाल देना चाहते थे और इसी जल्दबाजी में उन्होंने मेरी नाइटी फाड़ डाली।अब मैं केवल चड्डी में ही रह गई थी. बस अनायास ही मेरे होंठ उत्तेजना और शर्म के मारे कांपने लगे और इसी कश्मकश में पता नहीं कब, मैंने उनके अंडे जैसे बड़े गुलाबी सुपारे को मुँह में ले लिया.

मैंने कहा- आह … सच में मेरी जान कितना मजा दे रही हो … और चूसो … आह.

उसने तुरंत मुझे फोन किया और हम दोनों धीरे-धीरे बातें करने लगे जिससे किसी को सुनाई नहीं दे और कोई शक भी न कर सके. वो सब बारी बारी मेरे गले लगीं और शहज़ाद को जीजू कहते हुए उसके भी गले लगने लगीं. फिर जैसे ही मैंने अपने हाथों को ऊपर किया तो उसने एक झटके में मेरी स्कर्ट खींच कर उतार दी और बोला- अब सही नाप आएगा.

सेक्सी न्यू गानाउसके मुँह से मादक सिसकारियां निकलने लगीं, जिससे मेरा जोश और बढ़ गया और मैंने अपने दांत रीतू की जांघों में गड़ा दिए. मैंने उस खिड़की से अन्दर झांका तो सामने का दृश्य देख कर मेरे होश उड़ गए थे.

एक्स सुहागरात

तो दीपा बोली- राजा, आज पूरी रात तुम्हारे साथ हूँ, सारी कसर निकाल लेंगे, जल्दीबाजी क्यों करते हो।मनीष वहीं सोफ़े पर बैठ गया और सिगरेट सुलगा ली।दीपा ने अपना टॉप उतार फेंका और मनीष की गोदी में जा बैठी. चाची ने अपने माथे में हाथ मारा और गुस्से से मोंटू को जोर जोर से थपथपाने लगी. अब आगे हॉट आंट सेक्स कहानी:दूसरे दिन मैंने साहिल को बोला- आज मुझे मार्केट में कुछ काम है तो मैं कंपनी नहीं जाऊंगा.

तू कल भी आना कल भी तेरी चूत मारूँगा, आ कुतिया और धक्के दे नीचे से!इसी धकापेल में उसने अपना सारा माल निकाल दिया शिखा की चूत में!माल ज्यादा नहीं था, वो भी दो-तीन बार पहले निकाल चुका होगा।शिखा ने मुसकुराते हुए उसे लिप किस किया और गुडनाइट बोल के टिशू से अपनी चूत पौंछते अपने सोफ़े पर आई।अब जाने का टाइम हो गया था. मैंने अब झटकों की गति तेज कर दी और संगीता की चूत को तेज गति के कारण मजा आने लगा था. किस खत्म होने के बाद भाभी बोलने लगीं- अरे देवर जी, आपने अपनी भाभी के साथ ये क्या कर दिया है.

फिर तीसरा कारण था कि मैंने दिन में भी चुदाई की थी, इस कारण भी जल्दी स्खलन नहीं हो रहा था. धीरे धीरे करके उन्होंने मेरा हाथ अपनी चुत तक पहुंचा दिया और अपना गाउन कमर तक ऊपर कर दिया. उसकी टांगें फ़ैल गई थीं और उसने मेरे लंड को अपनी चुत की फांकों में लगा दिया था.

तभी मॉम की तेज तेज आवाजें आने लगीं, तो मैंने सोचा एक बार देखते हैं. मैं पसीना पौंछते हुए बोला- क्या हुआ भाबी?वो एकदम से सकपकाते हुए बोलीं- क.

शेखर ने एक आज्ञाकारी बच्चे की तरह उस पट्टी को अपनी आँखों पर रखा और फिर पीछे की तरफ़ हाथ ले जाकर उसे लॉक कर दिया.

मैंने भी उसे समझा दिया कि अंकित को पता नहीं चलेगा।हम लोग बात करने लगे तो मैंने प्राची को मूवी के लिए पूछ लिया।वो तैयार हो गई लेकिन उसने बोला कि उसके पास बाहर जाने के लिए नए कपड़े नहीं हैं।अगले दिन मैं उसे शॉपिंग कराने ले गया, उसने दो टॉप लिया, कुछ मेकअप का सामान लिया।अगले दिन वो सज धज के मूवी जाने लिए आई. न्यू सेक्स वीडियो बीएफउसकी गांड में लंड ने पिचकारी छोड़ दी और गांड से वीर्य बाहर निकलने लगा. सेक्सी चुदाई फुलकुछ देर बाद विक्रम ने अपने लंड का पानी प्रियंका की चुत में डाल दिया. मैं मुठ मारने में इतना मगन था कि मैंने बाथरूम का दरवाजा भी बंद नहीं किया था.

मैंने मम्मी को फोन लगाया तो उन्होंने कहा- आकाश को बुला ले, वो सही कर जाएगा.

जब भी मौका मिलता, मैं उसकी गांड पर हाथ फिरा देता और उसका का लंड मसक देता था. 7 फीट है। मेरा शरीर बिल्कुल फिट है। उसकी वजह ये है कि मैं प्रतिदिन एक्सरसाइज़ करता हूं। मेरे लण्ड का साइज़ करीब 7 इन्च लम्बा और करीब 2. इस बीच मैंने अपनी दोस्त प्रभा के गाल पर एक हल्का सा चुम्बन कर दिया.

”सितारा जी, मैं बहुत सीरियस हूँ, अगर आप एक बार मिलने का मौका दीजिये तो मैं अपने दिल की बात कह दूँ. सुबह 3:00 बजे मेरा स्टेशन आ गया और मैं सुनीता के पास विदा का एक पत्र रख आया जिसमें मैंने उसे उसके प्यार के लिए शुक्रिया लिखा था. दस मिनट बाद मैंने उससे पूछा- तुमको मेरे मैसेज से कोई दिक्कत तो नहीं हो रही है.

देशी पॉर्न विडिओ

मैंने खुद को छुड़ाने की कोशिश की लेकिन उस वक्त नेहा अपनी मस्ती में मेरी एक भी सुनने को राजी न थी. थोड़ी देर बाद नाश्ता खत्म होते ही शन्नो ने प्लेट को अलग रखा और घुटनों के बल बैठ कर मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी. मौसी- आह आह … कितना हॉट है तू!मैं- फिर, अपनी जीभ को तुम्हारे दूधों के बीच में रख कर ऊपर नीचे करूंगा और थूक से पूरा क्लीवेज गीला कर दूंगा.

मेरे दोस्त ने मुझे बताया कि उसके साथ के कुछ दोस्त कार से घर जा रहे हैं, वो भी उन्हीं के साथ अपने घर जा रहा है.

वो धीरे धीरे हल्की सी नार्मल हुई और चिल्लाती हुई बोली- साले कुत्ते कमीने मुझे बता नहीं सकते थे कि अभी तुम्हारा आधा लंड ही चुत के अन्दर गया है!मैं सहमते हुए बोला- आपको ही लग रही थी कि जल्दी जल्दी करो … अब मैं क्या करता!वो कराहती हुई बोली- साले तूने मेरी तो जान ही निकाल दी आह्हह इहहह कितना मोटा लम्बा मूसल है साले … मेरी तो फट ही गई है.

नेहा सिमटना चाहती थी लेकिन मैं उसे बिस्तर पर फैलाने के मनसूबे लिए हुए था. चूँकि भाभी की हाइट थोड़ी कम थी, जिसके कारण उसका हर अंग छोटा था … उसकी छोटी चूत थी, चुत का छेद एकदम से सिकुड़ा हुआ था. बीएफ वीडियोसवो अपनी दोनों टांगों को पूरी तरह से खोल कर मुझे चुत चाटने के लिए रास्ता देती हुई अपनी गांड उठा रही थीं.

राहुल 25 साल के करीब का एक बहुत ही स्मार्ट और अच्छी पर्सनेलिटी वाला लड़का था और नेहा के साथ मजाक करता रहता था. सविता भाभी ने पति अशोक के जाने के बाद पड़ोसी वरुण और अपनी सहेली शोभा को बुला लिया। थ्रीसम सेक्स के दौरान सविता अपने कज़िन के साथ पहले सेक्स की कहानी बताने लगी. दोस्तो … मैं जानता हूँ कहानी थोड़ी लंबी हो गयी और सेक्स का पार्ट भी कम रखा है, पर मैं चाहता था कि आप खुद में वो सब कुछ महसूस करें, जो मैंने महसूस किया था.

हॉट गर्ल सेक्स कहानी के पिछले भागचार लड़कों को नंगा करके लंड चूसामें आपने पढ़ा कि चार लड़कों को मैंने सेक्स के लिए अपने घर बुलाया था. गांड चाटकर उसने उसकी गांड में अपना लन्ड एक ही बार में बड़ी बेरहमी से घुसा दिया जिससे अनामिका की गांड से खून भी निकल गया और उसकी हालत एकदम अधमरी सी हो गयी.

ज्योति- यार जोर की भूख लगी है, चल देखते हैं कुछ इंतजाम हुआ या नहीं.

एक दिन मैं उर्वशी के पास बैठा था और सार्थक बोल कर कहीं चला गया था कि उसे 15 मिनट का कुछ काम है. इस बात से जया बेहद खुश थी कि अब उसे अपनी चुत और गांड के लिए दिनकर से कई गुना मजबूत लंड मिल गया है. मगर शायद पिछले दो दिनो के वार्तालाप में शेखर ने धारा को ये ज़रूर अहसास दिला दिया था कि उसे धारा की परवाह थी और आधी जंग तो वो जीत ही चुका था.

హిందీ బిఎఫ్ సెక్స్ హిందీ आपको मेरी बॉय एंड गर्ल सेक्स कहानी कैसी लगी … कॉमेंट में और मेल से जरूर बताएं. उसने ऑफ़िस में फ़ोन करके अपनी तबियत का हवाला देकर ऑफ़िस से छुट्टी ले ली।आज शेखर का मन कल से ज़्यादा बेचैन था, कल रात धारा का अचानक ऑफ़लाईन हो जाना उसे पच नहीं रहा था.

तो कोई चपरासी टाइप दिखने वाला आदमी अपनी पैंट निकाल कर पूरा नंगा उस टॉयलेट सीट पर बैठा था. लेकिन मुझे चूत के दर्शन कराने से पहले ही …दोस्तो, मैं राज आपको हसबेंड वाइफ़ सेक्स कहानी के पहले भागपति की अपनी पत्नी की चूत चुदवाने की लालसामें अपने पाठक की उसकी बीवी को गैर मर्द से चुदवाने की इच्छा की कहानी बता रहा था. आप मुझे मेरी इस डर्टी चुदाई कहानी के लिए मेल और कमेंट्स करना न भूलें.

सेक्सी सविता भाभी

मैंने अपनी बेटी के हक के लंड मतलब शहजाद के लंड से चुदने का पूरा मन बना लिया था. धारा- क्या हुआ जनाब, कहाँ खो गए?शेखर- हमम्म … उन विशाल चोटियों की घाटी की गहराई में!!धारा- जी कहाँ?शेखर- ज. उनकी लड़की प्रेग्नेंट हुई, तो मकान मालकिन आंटी को कुछ समय के लिए अपनी बेटी के पास जाना पड़ा.

सेक्सी स्कूल टीचर की चुदाई कहानी बहुत उत्तेजक लगी ना आपको? कमेंट्स में बताएं. मैं सिर झुकाए उनकी बगल से जाने के लिए निकली, मगर उन्होंने मेरा हाथ पकड़ लिया.

दो दिनों बाद मेरे पति चले गए और मेरी अगले दोपहर की ट्रेन थी तो आज शाम को मैं समीर को बाजार के बहाने ले गयी.

तो उर्वशी बोली- यार थोड़ा आराम से करो ना … मैंने कभी इतने बड़े लंड से सेक्स नहीं किया है. इस वजह से उस दिन कुछ ऐसी स्थिति बनी कि उस दिन भाभी की चुत चोदने का मौका न मिल सका. मुझे रगड़ कर चोदने के बाद उसने बोला- सुन मेरी रंडी … अब जब भी मैं तुमको बुलाऊं, तो चुपचाप चली आना.

मैं शाम को आ जाऊँगा।और इसके बाद मेरी माँ और जीजा जी हॉस्पिटल के लिए चले गए।मैंने घर के थोड़े बहुत काम करने के बाद खाना बनाया और फिर टीवी देखने लगी।करीब 7 बजे जीजा जी घर आये।जीजा घर आते ही दरवाजा बंद किये और मेरे गले लग गए।मैं भी उनसे चिपक गई. मां ने उसे जवाब देते हुए कहा- सैम मैं भी बहुत प्यासी हूँ … मेरे पति का मेरे साथ कुछ करने का मन ही नहीं होता है. मेरा लौड़ा चाची की जांघों में घुसने लगा और उसी रगड़ाई में मेरा टॉवल खुल कर नीचे गिर गया.

मैं पसीने में लथपथ हो गया था, इस कारण उनके पेट पर मेरा पसीना लग गया था.

बीएफ ब्लू एचडी वीडियो: मैंने किचन में देखा, बाथरूम में देखा, साहिल के रूम में देखा … वो कहीं नहीं थी. आशारा की चूत तो पहले ही रस भर चुकी थी और मैंने पहले ही घूंट में बहुत सारा रस पी लिया.

शेखर ने उसके संदेशों का जवाब दिया- हैल्लो धारा जी!धारा- आ गए आप? बड़ी देर लगा दी!शेखर- जी अब आपके शहर में गाड़ियाँ ही इतनी हैं कि लोग समय पर कहीं पहुँच ही नहीं सकते!धारा- हाँ ये तो सही कहा आपने. मैंने कमरे के बाहर से पूछा- आंटी लकी है?आंटी अन्दर से ही बोलीं- वो काम से बाहर गया है. इतने में सूरज भईया बोले- मोना ये तुम्हारा देवर और मेरा ख़ास दोस्त जैसा भाई.

कुछ देर यूँ ही बातें करने के बाद गगन उससे बाद में आने की कह कर चला गया.

कुछ देर बाद डोर बेल बजी … तो ऋतु अपने क्लीवेज की बीच में पैसे डाल कर उस पर टॉवेल लपेट कर आर्डर लेने गयी. उन्होंने अगले ही दिन मेरे सामने ही अपने उस बुड्डे दोस्त को गाली देकर भगा दिया. शेखर को समझ में आ चुका था कि ये वही बटन है जिसके दबने या फिर सहलाये जाने के बाद बड़ी से बड़ी ज़िद्दी औरत भी अपनी चूत खोलकर विशाल से विशाल लंड अंदर ले लेती है.