बीएफ सेक्सी हिंदी एचडी मूवी

छवि स्रोत,सेक्सी massage

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी इंग्लिश भोजपुरी: बीएफ सेक्सी हिंदी एचडी मूवी, लेकिन इस बार मैंने उसका सेल फोन उसे दे दिया।नावेद ने अपना सेल फोन अपनी पॉकेट में डाल लिया। मैं भी सीधी होकर फिल्म देखने लगी.

कल्याणपुर सेक्सी

मैं 38 वर्ष की वैवाहिक जीवन बिताती हुई एक महिला हूँ और मैं मुंबई में रहती हूँ।यह मेरी एक सच्ची कहानी है. भारतीय सेक्सी वीडियो भेजिएमेरे लौड़े के चूत में अन्दर जाते ही हम दोनों तो जैसे जन्नत में पहुँच गए।उसका पति हम दोनों के बाजू से अपनी वाइफ से चिपक गया।वो कामुक निगाहों से अपनी वाईफ को देखने लगा और उसकी वाईफ सिसकारियाँ लेते हुए बोली- दीप देखो ना विजय का लण्ड कैसे मेरी चूत में जा रहा है।तभी दीप बोला- हाँ डार्लिंग.

’ कहने लगी।अनु मुझे तसल्ली देता रहा और 5 मिनट तक मेरे ऊपर ऐसे ही पड़ा रहा, वो मेरे दूध चूसता रहा।लगभग 5 मिनट बाद उसने धीरे-धीरे झटके मारना शुरू किए।मैं- आह्ह. कैटरीना सेक्सी वीडियो गानापर एक दिन उसके घर पर कोई नहीं था और मैं उनके घर कुछ मूवीज की डीवीडी लेने गया।मैंने जाकर उनके घर की घन्टी बजाई जब किसी ने दरवाज़ा नहीं खोला.

पर करो।मैं- अभी करता हूँ।मैंने अपना लंड पकड़ कर उसकी चूत पर रगड़ना शुरू कर दिया और किस करते हुए धीरे-धीरे अन्दर डालने लगा।जैसे ही मैंने अपना लंड उसकी चूत पर लगाया.बीएफ सेक्सी हिंदी एचडी मूवी: किसी तरह दीप्ति ने ककड़ी पर पकड़ जमा ली और एक-दो ज़ोर के झटके दे दिए और ककड़ी बाहर निकाल दी।नयना की दूधिया चूत को चूसते हुए मेरा लौड़ा पूरी तरह से सख्त हो चुका था और इस बार दीप्ति ने बड़े ही प्यार से उसे हाथ में पकड़ कर शेक किया.

अगर उसे मेरा ख्याल नहीं होता या सोनाली मेरी बहन नहीं होती तो अब तक चोद चुका होता। लेकिन शायद उसे मेरी दोस्ती रोक रही थी।तभी बाथरूम का दरवाजा खुला और सूर्या भी उधर आँखें फाड़-फाड़ कर देखने लगा।मैंने भी देखा.तो मैं देखता ही रह गया। सोनाली एकदम खूबसूरत दुल्हन की तरह सजी हुई थी। सिल्वर रंग की पारदर्शी साड़ी और उसी रंग की ब्लाउज.

सेक्सी वीडियो रतन - बीएफ सेक्सी हिंदी एचडी मूवी

एक भी दिन छुट्टी ली थी।फिर बातों ही बातों में हम दोनों का प्रोग्राम सैट हो गया। बस सुप्रिया की तरफ से शर्त इतनी ही थी कि ऑफिस आवर्स में हम लोग एन्जॉय करेंगे।मैंने भी हामी भर दी, दूसरे दिन कार लेकर मैं सुप्रिया की बताई हुई जगह पर इंतजार करने लगा।थोड़ी देर बाद सुप्रिया आ गई, रोज की तरह उसने कपड़े पहने हुए थे।‘चलो.मैंने भी सब देखा है!पुरु- ऐसे नहीं मेरे साथ बैठ और फिर देख क्या होता है?पूजा- ठीक है चालू करो दोबारा से.

इमरानप्रिय दोस्तो, इस कहानी को मेरी एक मित्र ने मुझे लिखा है जिसे मैं संपादित करके आप सभी के सामने पेश कर रहा हूँ।अब तक आपने पढ़ा…अब आगे लिख रही हूँ. बीएफ सेक्सी हिंदी एचडी मूवी मेरे तो जैसे दिल की तमन्ना पूरी हो गई पर मैंने उसको देखते हुए कहा- क्या सच में तुम्हें कंप्यूटर चलाना नहीं आता?मैंने खुश होते हुए कहा- कोई बात नहीं, मैं सिखा दूँगा।उसके बाद तो मुझे जैसे ही मौका मिला मैं उसके कमरे में पहुँच जाता लेकिन शुरुआत में वो थोड़ा शरमाती!फ़िर एक दिन जब घर पर कोई नहीं था, मैं कॉलेज से जल्दी आ गया और जैसे ही मुझे पता चला कि घर पर कोई नहीं है मेरी तो ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा.

वो दोनों मेरी ताकत और चोदने के तरीके को देखते ही रह गए।मैं उसे साइड में लेटा कर पीछे से उसकी चूत में लण्ड डाल कर ज़ोर-ज़ोर से चोद रहा था।तभी वो दोनों फिर से गरम हो गए.

बीएफ सेक्सी हिंदी एचडी मूवी?

मैं फिर दोनों के बीच में लेटा था और इस तरह हम तीनो नंगे ही एक दूसरे के साथ चिपक कर सो गए।अगले दिन मुझको कालेज में जल्दी पहुंचना था, मैं जल्दी से नाश्ता करके चला गया, दोनों बहनों को उनके कमरे के बाहर से बाय कर गया. तो मैं ऐसे ही कौतूहलवश रुक गया और उनकी बात सुनने लगा।मुझे अंदाजा हो गया था कि वो इस समय सेक्स कर रहे हैं क्योंकि उसकी वाईफ इतनी तेज़ सिसकारियाँ ले रही थी कि सब कुछ साफ़ समझ आ रहा था कि उसकी चूत में लौड़ा घुसा है।मुझे ये सोच कर ही मज़ा आ रहा था। तभी मैंने सुना कि उसके पति ने बोला- तुम सेक्स के टाइम बहुत पागल हो जाती हो. उसने बार-बार अपनी बहन की नंगी कमर और नंगे कन्धों पर किस करना और उन्हें चूमना शुरू कर दिया।नीचे फैजान का हाथ जाहिरा की उभरी हुई गाण्ड पर पहुँचा और आहिस्ता-आहिस्ता उसने अपना हाथ जाहिरा की गाण्ड पर फेरना शुरू कर दिया।बिना किसी पैन्टी के पतले से कपड़े के बरमूडा में फंसी हुई जाहिरा की चिकनी गाण्ड.

अपनी अल्मारी की तरफ बढ़ गई।मैंने अपनी ब्रेजियर निकाल कर पहनी और फिर नीचे से एक लेग्गी पहन ली लेकिन ब्रा के ऊपर टॉप नहीं पहना और फिर बाहर आ गई।जैसे ही मैंने दरवाज़ा खोला तो फैजान ने जाहिरा की ब्रा फ़ौरन ही सोफे पर फेंक दी। मैंने देख तो लिया था. मस्त नरम-नरम मम्मे थे।थोड़ी देर मैं उसके मम्मों को ऐसे ही दबाता रहा। बाद मैं हमारी क्लास का समय खत्म हो गया और टीचर की नींद खुल गई। मुझे ऐसा लगा कि टीचर मेरी तरफ ही देख रहे हैं. मैंने फिर चालू कर दिया, चाची के मुँह से अजीब-अजीब आवाजें सुनकर मुझे मज़ा आने लगा।तभी चाची भी मेरे लंड को पकड़ कर हिलाने लगीं और मैं भी उनकी चूत में उंगली करता रहा।कुछ देर बाद मुझे कुछ अजीब सा लगा मेरे लौड़े से कुछ निकलने ही वाला था.

मैं बोला-कैसे पता था तुम को? किस ने बताया?निम्मी बोली- वो तुम्हारे घर में विनी और उस की बहन रहती हैं न वो हमारी भी सहेली। उसी ने हिंट दिया था कि तुम्हारे हथियार में कमाल की शक्ति है. तो मुझे ऐसे ही खूब मज़ा आता।तभी सुनील रुक गया और बिट्टू को इशारा किया।बिट्टू नीचे लेट गया मुझे ऊपर आने का इशारा किया।उसका लण्ड छत की तरफ सीधा खड़ा था मैं दोनों तरफ पैर कर उसके लौड़े पर बैठने लगी।‘अह्ह्ह्ह्ह. तो सरिता ने उसका हाथ पकड़ लिया।उन दोनों के बाहर जाने के बाद सरिता ने मुनिया से कहा- बहुत भले लोग हैं इनको किसी भी तरह की तकलीफ़ ना होने देना.

बल्कि अच्छे वस्त्र पहन कर बनाव श्रृंगार करके वह अपनी काम क्षमता को भी बढ़ाती है। इससे पुरुष उसकी ओर आकर्षित होते हैं। यह बात नारी बहुत अच्छी तरह से समझती है कि वह आकर्षण दे रही है और इसी मनोस्थिति में नारी जब स्वयं आकर्षित होकर किसी पुरुष को अपनी देह सौंपती है. और इस तरह उसकी नई चूत का खूब मजा लिया।अगले दिन तो उसको घुमाने ले जाने के नाम पर बाहर ले गया और एक होटल में ले जाकर उसके बदन को चाट-चाट कर उसको खूब गर्म किया और उस दिन उसके साथ खुल कर तीन बार चुदाई का मजा लिया।आपके ईमेल से मेरा उत्साहवर्धन होगा और मुझे अपनी अन्य कहानियाँ लिखने का साहस मिलेगा। मैं अभी नया हूँ तो आप सभी से निवेदन करता हूँ.

मर्द को काम-कला आनी चाहिए। मेरा लंड छोटा है तो यह कोई भी योनि में आराम से समा जाता है। अब तुमने बहुत बातें कर ली हैं.

पर वो चाह रही थी कि मैं ज़ोर-ज़ोर से उसकी फुद्दी मारूँ।वो भी नीचे से अपनी बुंड उठाकर लंड को अन्दर तक लेना चाह रही थी।फिर उसने कहा- मुझे घोड़ी बन कर चुदवाने में बड़ा मज़ा आता है।फिर मैंने उसको घोड़ी बना कर चोदा।जब मैं उसे चोद रहा था.

सिसकार रहे थे।उसका एक हाथ मेरे लण्ड पर पहुँच गया, वो पैन्ट के ऊपर से ही मेरे हथियार को दबा रही थी, वो बटन खोलना चाहती थी. मुझे ईमेल करके मेरा उत्साहवर्धन अवश्य कीजिएगा।कहानी जारी है।मेरी फेसबुक आईडी के लिए मुझे एड करेंhttps://www. मैं किसी तरह उनके रूम के पास गया और की होल से अन्दर झाँक कर दोनों की बातें सुनने लगा। पूजा ने बहुत पटाया साली को.

लेकिन मुझे मज़ा नहीं आ रहा था।फिर मैंने उसको बिस्तर पर अपने नीचे लिया और उसके दोनों पैर अपने कंधे पर रखे। अब अपना लंड उसकी गांड पर सैट कर दिया और उससे इधर-उधर की बातें करने लगा।जैसे ही उसका ध्यान दूसरी बातों पर गया. पहले उसने धीरे-धीरे स्तन मर्दन करना प्रारंभ किया। फिर चूचुक पर धीरे-धीरे जीभ फेरनी शुरू की। इससे उस औरत की काम ज्वाला भड़क कर सातवें आसमान पर जा पहुँची। वह चूत में लंड लेने के लिए व्याकुल हो उठी. अपने मम्मों को दबा रही थी। अपना हाथ मम्मों से लेकर चूत तक घिसते हुए ले जा रही थी।मेरा मुठ मारना चालू ही था.

उसे शेयर करने के लिए मैं बहुत बेक़रार थी।लिहाज़ा अपना अनुभव आप सभी की खिदमत में पेश कर रही हूँ।बात 4 साल पहले की है, शादी के लिए हर लड़की की तरह मैंने भी ख्वाब संजो कर रखे थे, फिर वो समय आया जब मेरी शादी तय हो गई, मेरा होने वाला पति किसी हीरो की तरह खूबसूरत है, मैं तो उसे पाकर फूली नहीं समां रही थी, उनका घराना भी बहुत ऊँचा है।फिर वह दिन भी आ गया.

तो मैं भोपाल या कोलकाता हो आता था और जम कर अपनी बहनों की चूत चुदाई के मजे लेता था।फिर एक दिन मैं भोपाल गया हुआ था और सोनाली मेरी बाँहों में लेटी थी, वो बोली- तुम इतना अच्छा से चोदते हो. इतने में ही बाई आ गई और मुझे उसे चोदे बिना हटना पड़ा।फिर कुछ देर बाद मेरा साला भी आ गया और फिर मैं घर वापिस आ गया।उसी रात को मेरी बीवी और सास भी वापिस ग्वालियर आ गईं और मुझे फिर मौका ही नहीं मिल पा रहा था। पर अब मैं जान चुका था कि मेरी सलहज भी चुदने को तैयार हो जाएगी. तब से मैं इसको पाने के लिए मचल रहा हूँ।सोनाली- और मैं तुमको पाने के सपने पिछले 3 साल से देख रही हूँ।सूर्या- सच.

पर अगर चिल्लाईं तो ठीक नहीं होगा।पूजा ने ‘हाँ’ में सर हिलाया तो उस साये ने अपना हाथ हटाया।पूजा- कौन हो तुम और यहाँ क्या कर रहे हो?साया- मैं कौन हूँ. दोनों बहनें अपनी सुहागरात और गृहस्थ जीवन के रंगीन अनुभवों के रहस्य मेरे साथ बाँटती थीं।मैं उस लड़के के बारे में नहीं जानती थी। शादी तुरत-फुरत पक्की हो गई। माँ भी थोड़े ही मना करने वाली थीं. हम सब पकडे जा सकते थे और हमारे घरवाले हमें कहीं का नहीं छोड़ते। अब के बाद हम एक दुसरे के नज़दीक नहीं आएंगे इस सारे ट्रिप में.

दुपट्टा लिए होने के बावजूद उसकी खुली पीठ को मैं देख सकता था और टाइट कपड़ों की वजह से उसके चूतड़ों का आकार भी मैं महसूस कर सकता था।यह देखकर मेरा लिंग खड़ा होने लगा.

उसने अपने हाथ से अपनी बहन की चूचियों को दबाना शुरू कर दिया।जाहिरा के मुँह से सिसकारियाँ निकल रही थीं. मैं विजय अहमदाबाद से हूँ और इस साइट का बहुत बड़ा शैदाई हूँ। इस साईट पर यह मेरी पहली कहानी है मेरी शादी 4 साल पहले हुई थी लेकिन कुछ कारणों की वजह से मेरा तलाक हो गया है और अब मैं अकेला हूँ।यह बात दो साल पुरानी है.

बीएफ सेक्सी हिंदी एचडी मूवी चुदाई के बाद मंजू ने बताया कि उसने मेरे जाने के बाद कुछ नहीं खाया था। वो मेरी लिए भूखी रही और मैं उसको तड़पाता रहा।आई लव यू मंजू. पुष्पा को मेरे साथ खटिया पर सोने का प्रबंध हो गया। मेरी मुँह माँगी मुराद पूरी हो गई।वो मुझे उम्र में छोटी थी.

बीएफ सेक्सी हिंदी एचडी मूवी तो वो चौंक उठा और उसकी आँखें भी चमक उठीं।जाहिरा ने हमारी सामने खड़ी होकर एक जोरदार अंगड़ाई ली और बोली- भाभी मुझे तो नींद आ रही है. तुम खुद ही मेरे लौड़े को अपनी गांड पर सैट करो।उसने ऐसा ही किया और धीरे-धीरे पूरे लंड को अपने प्यारी ही गुलाबी गांड में ले लिया और मेरे लंड पर ही बैठ गई.

किसी गुलाब की पंखुड़ी से लग रहे थे।माँ की बुर का छेद थोड़ा लाल था और गाण्ड का छेद काफ़ी टाइट दिख रहा था.

सोनाक्षी की बीएफ सेक्सी

दोस्तो, मेरा नाम निखिल राय है, गोमती नगर लखनऊ में रहता हूँ, मेरी उम्र 21 साल है, मेरी हाइट 5‍‍ फुट 10 इंच है और लंड की लम्बाई 7 इंच है।मैं बी. उसका भी मन बहल जाएगा।अगले दिन हम दोनों शिमला आ गए और होटल में चैक इन कर लिया। हम दोनों ने एक कमरा लिया और कमरे में घुसते ही मैंने आशू को पकड़ लिया।मैंने उसके चूचे मसकते हुए कहा- मेरी जान आओ ना. जैसे मैंने कुछ भी ना देखा हो।फिर मैंने कपड़ों में से जाहिरा के कपड़े और सोफे पर से उसकी ब्रेजियर उठाई और उसकी अल्मारी में रख आई।पहले तो फैजान थोड़ा सा घबराया था लेकिन जब उसने देखा कि उसकी इस हरकत का मुझे कुछ भी पता नहीं चला.

और फिर तू तो मेरे सामने कई बार नंगी हो चुकी है।तो दीदी मेरी ओर इशारा करने लगी।माँ बोलीं- ये बेचारा तो वैसे ही परेशान है और ये भी तो नंगा ही है और तुझसे छोटा ही है. चुदाई करवा कर मेरे बोबे फूल कर कड़क हो गए थे और खूब हिल रहे थे।शीलू और गुरूजी मेरी फोटो निकाल रहे थे।‘मेरी रत्ना. फैजान ने जाहिरा की चूची से खेलते हुए कहा और फिर झुक कर अपनी बहन की चूची के निप्पल को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा।जाहिरा ने उसके बालों में हाथ फेरा और फिर बोली- आह्ह.

वहाँ जाकर पता चला कि मेरे नाना जी स्वर्ग सिधार गए हैं, वहाँ शोक के कारण सब रो रहे थे।मैं तो वहाँ पर ठीक से किसी को जानता भी नहीं था.

उसने मेरी टी-शर्ट उतार दी और मुझे किस करने लगी।मैं अपने दूसरे हाथ से फिर से उसके मम्मों को दबाने लगा।वो ‘उउह्ह्ह्ह. पहचानता है ना और अगर फिर भी भरोसा नहीं है तो जाकर उसके कमरे में देख ले।सूर्या- तो क्या इधर मुझे बताने आया था क्या?मैं- नहीं कन्डोम लेने आया था अगर लाइव टेलीकास्ट देखना है. फिर से मैंने उसकी चूचियां चूसते हुए अपने लंड को उसके हाथ में थमा दिया।इस बार सुमन ने कोई विरोध नहीं किया बस मेरे लंड को पकड़ के इतना कहा- भैया यह तो इतना बड़ा है.

तूने कहा कि करके दिखाओ तो मानें!निकिता- अच्छा अच्छा ठीक है… तुमसे बातों में कौन जीत सकता है… सब मेरा ही क़सूर था… तुम तो दूध पीते छोटे से बच्चे हो. ’ मैं भाभी की चूचियाँ अपने मुँह में लेकर चूसने लगा।मैं कस कर निप्पल को चूस रहा था।भाभी तो जैसे पागल हो गई थी, वो ज़ोर-ज़ोर से मुझे चोदने लगी। वो एकदम से अकड़ गई. मेरी यह कहानी आपको वासना के उस गहरे दरिया में डुबो देगी जो आपने हो सकता है कभी अपने हसीन सपनों में देखा हो.

ताकि दीदी अन्दर ना आ जाए।अब वे दीदी के जाने के बाद नहाते वक़्त बाथरूम का दरवाजा नहीं बंद करतीं और हमेशा दिन में भी नाईटी पहने रहतीं. उसकी गाण्ड पर रख दिया।राहुल ने उसे उसकी पैन्टी के साथ-साथ पूरे कपड़े पहना दिया और दोनों लोग अपने घर के लिए चल दिए। रेशमा लंगड़ा-लंगड़ा कर चल रही थी.

इस लम्बी धारावाहिक कहानी में आप सभी का प्रोत्साहन चाहूँगा, मुझे ईमेल करके मेरा उत्साहवर्धन अवश्य कीजिएगा।कहानी जारी है।[emailprotected]. अब मेरी चूत को कौन मारेगा?वो मुस्कुरा दिया और उसने अपना मुझय हुआ लौड़ा मेरे आगे कर दिया।मैंने समझ लिया कि अब इसको खड़ा करना पड़ेगा तभी ये मेरी चूत चोदने लायक होगा और मैं उसके लण्ड को हिलाती रही. तो तुम मेरी चूत-गाण्ड सब जगह के बाल बना देना। दीदी, चलो इसके मुरझाए हुए लौड़े को तो खड़ा करो। ताकि मैं तुम दोनों को चुदता हुआ देख सकूँ।‘तुम भी अपने कपड़े उतारो.

वो भी मचल रही थी, उसके नितंबों की दरार मेरी आँखों के सामने थी।जब दीप्ति ने धीरे-धीरे अपनी स्पीड बढ़ाना शुरू किया.

जाते-जाते उन्होंने मेरा फोन नम्बर ले लिया, बोले- अगली बार फिर बुलाएँगे और आराम से कुछ दिन तक चोदेंगे।फिर जाते वक्त सबने मुझे किस किया. तब पता चला कि उसके घर उसका चाचा जिसका नाम पप्पू है… वो आया हुआ था।वो भी बहुत सुंदर तथा हैंडसम था। वो कुछ दिनों के लिए रहने आया था। उसे देखकर मैं थोड़ा परेशान सा हुआ. तो मुझे लग रहा था कि कहीं मैं जल्दी ना झड़ जाऊँ।उत्तेजना के मारे मैंने अपना लंड चूत से बाहर निकाल लिया और उसके बोबे मसलने लगा।मैं उसकी चूत में उंगली करने लगा.

जिसमें वो एक में ब्रा-पैन्टी के साथ एक अपने मम्मों में थी और अपनी चूत और गांड की भी नंगी फोटो भेजे थे। इसके बाद मेंने अपने लंड की फ़ोटो भी उसको भेज दी।इसके बाद मैंने उसे एक छोटी सी ब्लू फ़िल्म भेजी. उसने झट से मेरा लण्ड पकड़ा और अपने हाथ से हिलाने लगी।मैं तो जैसे जन्नत में आ गया था। पहली बार कोई औरत मुझे छू रही थी।वो अपने घुटनों के बल बैठ गई और मेरा लंड अपने लबों के पास ले जाकर चूमने लगी।हाय.

इस लम्बी धारावाहिक कहानी में आप सभी का प्रोत्साहन चाहूँगा, मुझे ईमेल करके मेरा उत्साहवर्धन अवश्य कीजिएगा।कहानी जारी है।[emailprotected]. फिर उसकी सास अपने बेटे की दूसरी शादी कराएगी क्या?वो बोली- वो कभी नहीं मानेगी और किसी को पता चल गया तो?मैंने कहा- मनाने का काम तो तुम्हारा है। वैसे तुम इतने महीने से मुझ से चुदवा रही हो और अभी भी चुद रही हो इसका किसी को पता नहीं चला. लग रहा है कि सपने में कुछ कर रहा है।तो माँ हँसने लगीं और कपड़े लेकर पलंग पर बैठ गईं तो दीदी भी साथ में पलंग पर आ गईं।मैंने हाथ को अपने चेहरे पर इस तरह रखा था कि वो दोनों मुझे दिखाई दे रहे थे.

बीएफ मूवी दिखाएं वीडियो में

और उनके ऊपर एक-एक छोटा गुलाबजामुन रखा हुआ हो।मैं देर ना करते हुए नंगी चूचियों पर झपट्टा मारा और पूरी चूचियों को एक बार में ही अपने मुँह में लेना चाहा।लेकिन उसके मम्मे बड़े थे.

उस पर मैडम ने कहा- मैं चखना चाहती हूँ।और मैं मैडम के मुँह में ही झड़ गया, मैडम ने एक बूंद भी नहीं छोड़ी. अगले भाग में आपको बताऊँगा कि सुप्रिया की कुँवारी चूत की चुदाई कैसे हुई।आप सभी को कहानी कैसी लग रही है. जो कि उसके घुटनों तक आती थी और उससे नीचे उसकी दोनों खूबसूरत टाँगें बिल्कुल नंगी हो जाती थीं। इस नाईटी का गला भी काफ़ी खुला और गहरा था.

वहाँ पर इसको एक दुकानदार चोदता था और ये उससे सामान फ्री में ले जाती थी।मैं- क्या बात कर रहा यार तू?दोस्त- सच यार तू भी ट्राई मार के देख. तुम दोनों मियाँ-बीवी रात होते ही अन्दर चुदाई में शुरू हो जाते हो और इधर मैं तेरी सिसकारियाँ सुन-सुन कर गर्म हो जाती थी। बस बेबसी में ज़ोर से चूत पर उंगली फिराने लगती थी। एक तो तेरे ससुर. एचडी वीडियो सेक्सी खुलासो मैंने भी समय न गवांते हुआ खुद को नंगा कर लिया।अपनी मदमस्त भांजी को फिर से चित्त लिटा दिया, मैंने उसकी तंग चूत तथा चिकनी रानों का गहरा चुंबन लिया।हाय.

इंटरवल खत्म हो चुका है और फिल्म भी शुरू हो चुकी है।मैंने नावेद से पूछा- तुम्हारे दोस्त कहाँ बैठे हैं?वो मुस्कुरा कर बोला- भाभी मेरे तो कोई भी दोस्त नहीं हैं। मैं तो अकेला ही फिल्म देखने आया हूँ. पर माँ कभी किसी चीज का बुरा नहीं मानती थीं और बड़े प्यार से मुझे और दीदी को कोई भी बात समझाती थीं।कई बार अक्सर उत्तेजना की वजह से जब मेरा लंड खड़ा हो जाता था और माँ की नज़र उस पर पड़ जाती.

सासू माँ बिना कपड़ों में किसी औरत के सामने पैर फैला क़र लेटी हुई थीं और वो औरत माँ जी की चूत पर ज़ोर से चाट रही थी।माँ की मदहोशी में कामुक आवाज निकल रही थी- हाँ. तो मैंने उसे मना कर दिया कि आज तुम बिना ब्रा के ही चलो।जाहिरा ने एक नज़र मेरी तरफ देखा और फिर अपनी ब्रा वापिस अल्मारी में रख दी और बिना ब्रा के ही वो टी-शर्ट पहन ली। उसकी टी-शर्ट भी बहुत टाइट थी और बिल्कुल उसके जिस्म के साथ चिपक गई हुई थी।उसकी दोनों चूचियाँ बहुत ही सेक्सी लग रही थीं. दुपट्टा लिए होने के बावजूद उसकी खुली पीठ को मैं देख सकता था और टाइट कपड़ों की वजह से उसके चूतड़ों का आकार भी मैं महसूस कर सकता था।यह देखकर मेरा लिंग खड़ा होने लगा.

उसकी बनियान के नीचे डाला और उसके नंगे पेट पर अपना हाथ ऊपर को फिराता हुआ सीधे उसकी नंगी चूची पर ले गया और अपनी बहन की नंगी चूची को पकड़ लिया।जाहिरा ने घबरा कर मेरी तरफ देखा तो मैंने उसे उंगली अपने होंठों पर रख कर चुप रहने का इशारा किया।उसे समझ नहीं आ रहा था कि वो क्या करे।फैजान. मैं अभी आई।मैं टॉयलेट जाकर अपनी पैन्टी उतार कर वहीं फेंक कर बाहर आकर उसके साथ मजे लेने लगी।उसने जैसे ही नीचे हाथ डाला. मुनिया जल्दी से झुकी और बाकी बूंदों को भी चाट कर साफ करने लगी। उसको यह स्वाद अच्छा लग रहा था और इस खेल के दौरान उसकी चूत एकदम पानी-पानी हो गई थी.

अपना माल मेरे अन्दर ही छोड़ दो और अपनी भाभी को अपने बच्चे की माँ बना दो।थोड़ी देर बाद मैं भी भाभी के चूत में ही झड़ गया.

मेरे सामने कैसी शरम और अब तो दीदी के सामने भी शरमाने की कोई ज़रूरत नहीं है।यह बात माँ ने उत्तेजित होकर मुझे दीदी की बुर दिखाते हुए कहा- यह देख वीनू की बुर का छेद तो लंड लेने के लिए खुद ही खुला हुआ है. वो अपने हाथों से अपनी चूचियों दबाने लगी।फिर कुछ देर पढ़ते-पढ़ते उसने अपनी चूचियों को बाहर निकाल लिया और खुल कर दबाने लगी। धीरे-धीरे वो अपने कपड़े उतारने लगी और पूरी नंगी होकर कहानी पढ़ने लगी।उसके नंगे बदन को देख कर मैं भी अपने आपको काबू नहीं कर पाया और उधर वो भी गरम हो ही गई थी। मैंने भी अपने कपड़े उतारे और उसके कमरे में चला गया।अब आगे.

तेरा वो अपनी बहन को मेरे से जल्द ही चुदवा देगा।सोनाली- इतनी देर तुम कहाँ रह गए थे?मैं- घर में और कहाँ?मैंने उसको सारी बात बताई।सोनाली- मतलब सब कुछ देख लिया. इसलिए वो निश्चिंत होकर शादी में चले गए।जब मैं दोपहर को कॉलेज से वापस आया तो देखा की कविता रसोई में थी, उसने केवल पेटीकोट और ब्लाउज पहना हुआ था। उस दिन गर्मी भी बहुत ज्यादा थी और कविता से गर्मी शायद बर्दाश्त नहीं हो रही थी।कविता की गोरी कमर और मस्त चूतड़ों को देख कर मेरा लंड झटके देने लगा।मैं आगे वाले कमरे में जाकर बैठ गया और कविता को खाना लाने को कहा।जब कविता खाना ले कर आई. मैंने भी सोचा अब देर नहीं करनी चाहिए, मैं अपना लन्ड उसकी चूत पर रगड़ने लगा, कुछ मिनट बाद मैं अपना लन्ड उसकी चूत में पेलने लगा लेकिन मेरा लन्ड अन्दर नहीं जा रहा था।मैंने थोड़ा ज़ोर लगाया और उसकी चूत में लौड़ा घुसता चला गया। वो चिल्लाने लगी.

और मुझे औरतों के साथ काम-क्रीड़ा करना बहुत पसंद है।उस वक्त मैं जयपुर में एक शेयर मार्केट के ऑफिस में जॉब करता था। मैं जयपुर में ही एक मकान में किराए से रहता था. तो बताया क्यों नहीं?सोनाली- मैंने बहुत कोशिश की लेकिन तुमने कभी ध्यान ही नहीं दिया और अभी भी ज़बरदस्ती नहीं करती तो क्या तुम मानते?सूर्या- सुशान्त मुझे भाई बोलता है ना. और मालिश करने लगा। मैं भाभी को सामने देखकर उसको स्माइल दे रहा था और वो भी बहुत लाइन दे रही थी।यूँ ही बात करते-करते बातों-बातों में ही उसने मुझसे पूछ लिया- तेरी गर्लफ्रेंड हैं?मैंने बता दिया- नहीं हैं.

बीएफ सेक्सी हिंदी एचडी मूवी फिर मैंने उसे घर ड्रॉप किया।फिर कुछ दिन बाद मैंने उसे प्रपोज़ किया और वो मान गई।फिर मैंने उससे कहीं मिलने को कहा. आप लोगों को बता दूँ कि अब मेरे मम्मे बहुत ही बड़े थे, ब्रा 36 सी की साइज़ की पहनती हूँ। उनको जितना भी ब्लाउज.

ब्लू पिक्चर वीडियो हिंदी बीएफ

अमित भी हाथ से भाभी की चूत को सहलाने लगा।थोड़ी ही देर में भाभी फिर गर्म हो गईं और कहने लगीं- अमित, अब और मत तड़पा. उसने मसल-मसल कर मेरी चूत लाल कर दी थी।उसके इस तरह से रगड़ने से मेरी मुन्नी 2-3 बार झड़ चुकी थी, बहुत गीला हो गया था, अनु के हाथ भी गीले हो गए थे. मैं उसे पूरा क्लीन शेव्ड लण्ड दिखाना चाहता था।अब मैं बाल्कनी के दरवाजे के पीछे खड़ा रह कर फिर से उसकी कोई हरकत या बात या आवाज़ सुनने की कोशिश कर रहा था।काफ़ी देर बाद उसने फिर से डोर खोला और तेज हवा की वजह से दरवाजा दीवार पर ज़ोर से टकराया.

जाहिरा जोर-जोर से हँसने लगी, जाहिरा की एक चूची अभी तक नंगी थी और अब वो उसे छुपाने की कोशिश भी नहीं कर रही थी। फैजान अब भी बार-बार अपनी बहन को अपने जिस्म के साथ चिपका कर चूम रहा था।मैंने अब दोनों को ब्रेक देने का फ़ैसला किया और अन्दर से ही आवाज़ लगाई- अरे जाहिरा. मेरे घर पर कोई नहीं है।मैंने मम्मी को बताया- भैया के घर जा रहा हूँ।उन्होंने ‘हाँ’ कहा और मैं जल्दी से निकल गया।जैसे ही मैंने उनके घर की बेल बजाई. सेक्सी वीडियो नया-नया भोजपुरीआप रात को चले आना।मैं भी कल घर में दोस्त के जन्मदिन का बहाना करके चला गया। उनके घर पहुँचा तो प्रियंका ने दरवाजा खोला और कातिलाना अंदाज में मुस्कुराने लगी।मैं अन्दर जाकर जैसे ही बैठा तो मुस्कान ने मुझे किस कर लिया। मैं भी कहाँ मानने वाला था.

उसकी पीठ तथा उसके बड़े-बड़े चूतड़ों को दबाने लगा।तब पुष्पा ने अपना हाथ मेरी जाँघों में लगा दिया और वो मेरी ज़िप से खेलने लगी.

उसकी जाँघों और चूतड़ों पर भी उस समय मेरे हाथ उसकी बुर और गाण्ड के छेद को भी छूते और मसलते हैं और वो भी कभी-कभी मुझे नंगी करके मेरी मालिश करती है. तो अबकी बार कुछ धमाल होना चाहिए।विवेक और सुनील बस उनकी ‘हाँ’ में ‘हाँ’ मिला रहे थे।सन्नी- तूने कुछ तो सोचा ही होगा टोनी.

लेकिन तूने भी आकर मेरी कोई मदद नहीं की और वैसे ही भाग गई।जाहिरा शर्मा कर बोली- मैं भला क्या मदद कर सकती थी आपके. शायद यह मेरे लिए सुनहरा सा आमंत्रण था।अब मैं अपना पांव उसकी चूत की तरफ ले गया और पैर की उँगलियों से उसकी चूत को उसकाने लगा. बता ना यार?पायल- मेरी आंटी एकदम नंगी लेटी हुई थीं और मेरे पापा उनके मम्मों को चूस रहे थे, उनके नीचे हाथ से रगड़ रहे थे।पूजा- ओह वाउ.

पंजाब के पटियाला जिले का रहने वाला हूँ। पेशे से एक कंप्यूटर इंजीनियर हूँ। हाल ही में मैंने नज़दीकी यूनिवर्सिटी में लेक्चरर की जॉब छोड़ी है और अभी मैंने लोगों को उनके घर में ही जाकर कंप्यूटर सिखाने का नया काम शुरू किया है। देखने में मैं एक पंजाबी गबरू हूँ.

जाहिरा की चूत के पानी से गीली हो रही हुई अपनी उंगली को मैंने जाहिरा के होंठों पर रगड़ा और फिर अपनी उंगली उसकी मुँह के अन्दर डाल दी, उसे अपनी ही चूत का पानी चटवा दिया।मैं थोड़ा सा घूम कर इस तरह जाहिरा के ऊपर आई. तो आप तो बस जल्दी से मुझे अपनी प्यारी-प्यारी ईमेल लिखो और मुझे बताओ कि आपको मेरी कहानी कैसी लग रही है।कहानी जारी है।[emailprotected]. लेकिन वो अपनी आवाज़ को दबा रही थी।जाहिरा फैजान की बाँहों में मचल रही थी, फैजान ने अपना हाथ जाहिरा के पेट पर रखा हुआ हाथ.

नदी में नहाते हुए सेक्सी वीडियोपर मुझे कुछ भी करके नींद नहीं आ रही थी। मुझे बार-बार भाभी का वो गुलाब सा खिला हुआ बदन सामने दिखाई दे रहा था।मैं भाभी के नाम से तड़पने लगा। करीब एक बजे जब मुझसे रहा नहीं गया. ’ करने के लिए भी नहीं बक्शा था।पता नहीं साले किस मिट्टी के बने हैं थकते ही नहीं हैं।थोड़ी देर में मेरी गांड से एक लंड निकला मैं अभी कुछ राहत लेती तब तक तुरंत दूसरे ने अपना लंड ठूँस दिया। उनको तो मानो ऐसे लग रहा था कि बिना टिकट की लॉटरी लगी है.

बीएफ वीडियो चलने वाला सेक्सी

तो बस इसको तो मैं कुतिया नजर आ रही थी। अब देखो न इसकी वजह से मुझे चला नहीं जा रहा है।‘राहुल अगर तुमको ऐतराज न हो. क्योंकि अपने मायके के घर वालों से ना मिल पाने से दुःख हो रहा था।इसी उहापोह और उलझन में मैं अपने ससुराल वाले घर तक वापस पहुँच गई।मैंने ऑटो वाले को पैसे दिए और मैं घर के दरवाजे पर आ गई।मैंने सासू माँ को आवाज़ दी. सब काम में आगे है और वहीं रॉनी और पुनीत से इसकी दोस्ती हो गई। सन्नी भी इनका साथी है और भी कुछ लड़के हैं ये सब दोस्त हैं।मगर टोनी और पुनीत की ज़्यादा नहीं बनती.

प्रिय अन्तर्वासना पाठकोअगस्त महीने में प्रकाशित कहानियों में से पाठकों की पसंद की पांच कहानियां आपके समक्ष प्रस्तुत हैं…. मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और करीब पँद्रह मिनट बाद मैं उसकी चूत में ही सारा माल गिरा कर उसके ऊपर लेट गया।मैंने उससे पूछा- मज़ा आया?तो उसने कुछ नहीं कहा और मुझसे लिपट गई।उसके बाद मैंने उसके साथ एक बार उसी दिन फिर से चुदाई की और फिर वो अपने घर चली गई।बाद में मैंने उसके साथ कई बार सेक्स किया. साथ में पढ़ने वाले एक लड़के ने सिखाया है।उसने फट से अपना हाथ मेरे हाथ में दे दिया। कितनी चिकनी त्वचा थी उसकी.

मगर मुझे ऐसा-वैसा कुछ नहीं करना।आप तो बस जल्दी से मुझे अपनी प्यारी-प्यारी ईमेल लिखो और मुझे बताओ कि आपको मेरी कहानी कैसी लग रही है।कहानी जारी है।[emailprotected]. आप सोच-विचार में क्यों पड़ गए हैं?बाबा ने कहा- यहाँ इस मंदिर में आज के पावन अवसर पर अगर तुम शाम तक सेवा करो. पर बोली कुछ नहीं।मैं बताता भी जा रहा था और बगल में भाभी के कमर को सहला रहा था।भाभी थोड़ा काँपते आवाज़ में बोली- और क्या करते हो?मैंने जरा और जोर से कमर को दबाते हुए कहा- उसके बाद.

अब माँ जी ने अपनी दो उँगलियाँ मेरी चूत के अन्दर डाल कर मुझे मज़े देने लगीं।दोस्तो, अभी मेरी सासू माँ के साथ मेरा लेस्बो चल ही रहा है. मैं अपने लंड का सुपारा उसकी चूत पर रगड़ने लगा और वो तड़फ रही थी, उसके मुँह से सिसकारी निकल रही थी।उसकी सिसकारी सुन कर मुझे इतना मजा आ रहा था.

और एक बात और भी समझ ले कि अधिकतर वे ही लड़कियाँ चूत चुदवाने को राजी होती हैं जिन्हें चुदने की ज्यादा भूख होती है, आजकल तो इसे मस्ती के नाम पर खुला खेल माना जाता है।कोमल- चल सब समझ गई.

लेकिन धक्के लगाता ही रहा। काफ़ी देर तक तक फ़ुलस्पीड से धक्के लगाने के बाद मुझे लगा कि अब मैं भी झड़ने वाला हूँ और मेरे मुँह से भी अनाप-शनाप निकलने लगा कि हाय. वीडियो फिल्म नंगी सेक्सीवो कभी अपनी जीभ मेरे मुँह में डालती थीं तो कभी मैं अपनी जीभ उनके मुँह में डालता था।अब मैंने धीरे से उनके मम्मों को दबाना चालू कर दिया. सेक्सी वीडियो चोदा सेक्सी पिक्चरसमझे! बहुत बोलती थी कि तुम जैसे नामर्द से लड़की होना अच्छा है, अब साली रोएगी जब उसको अपनी मर्दानगी दिखाएँगे. मेरी यह कहानी आपको वासना के उस गहरे दरिया में डुबो देगी जो आपने हो सकता है कभी अपने हसीन सपनों में देखा हो.

इन पर क्लिक करने से एक सूचि खुलेगी,इस सूचि में सभी लिंक हैं जिनसे आप कहानी को व्ट्सएप, फेसबुक, गूगल+ आदि पर आसानी से शेयर कर सकते हैं और Email पर क्लिक करके आप आसानी से कहानी मेल से भी भेज सकते हैं.

और इसी वजह से वो घर पर कम ही रहती थी।एक दिन मैंने देखा कि गलती से उसकी ब्रा और पैन्टी बाहर ही पड़े रह गए हैं। मैंने पहली बार उसकी ब्रा और पैन्टी से मुठ्ठ मारी व थोड़ा माल उसकी ब्रा और पैन्टी के सेन्टर पर लगा दिया।घर आने के बाद उसने देखा तो वो समझ गईं कि यह मेरी हरकत है इस तरह उसकी जानकारी में मेरी चोरी पकड़ी गई थी. मेरे साथ कुछ सोचते हैं।अपने कमरे में लाकर मैंने अल्मारी खोली और मेरी नज़र फैजान की स्लीबलैस सफ़ेद बनियान पर पड़ी. उसके साथ कोमल भी थी। आज कोमल ने लाल रंग की स्कर्ट और काली टीशर्ट पहनी हुई थी, बहुत हल्का सा मेकअप किया हुआ था.

और धीरे-धीरे गरम हो रही थी। फिर मैंने उसके मम्मों पर थोड़ा तेल लगाया और मम्मों को अच्छी तरह से मसलने लगा।अब उसे बहुत मज़ा आ रहा था. भाई हँसने लगा और अपना पर्स निकाला उसमें से हजार के कुछ नोट टोनी को दिए और कहा- अभी इनसे काम चलाओ बाद में और दे दूँगा. उसे देख कर तो मेरी चूत ही गीली हो गई।फैजान ने अपनी बहन की ब्रेजियर को अपनी चेहरे पर फेरा और उसे अपनी नाक से लगा कर सूंघा भी। हालांकि धुली हुई ब्रेजियर में से कहाँ उसकी बहन के जिस्म की खुशबू आनी थी।थोड़ी देर के बाद वो वापिस आया और बाथरूम का बन्द दरवाजा खोल कर बोला- नहीं यार.

बीएफ इंग्लिश चाहिए

चंदर और भी शरमाता रहा और मैं धीरे-धीरे हमारे बीच की दूरी मिटाती गई।‘चंदर, शरमाते क्यों हो? गर्ल फ्रेंड होना कोई बुरी बात नहीं. तो हम सबने खाना खाया और फिर जाने लगे।मैं और मैडम एक ही कार से चल दिए। मैडम ने मेरे घर पर कह दिया कि यह रात भर मेरे घर रुक गई थी. देखने लगे।लगभग 10 मिनट बाद अमित भी अपनी आँखें मसलता हुआ बाहर आया जैसे नींद से उठा हो।वो हमारी और देखकर मुस्कुराया और हमारे पास आकर बैठ थोड़ी देर टी.

मैं अपने काम में और वो अपने काम में व्यस्त हो गए।इस तरह से तीन महीने बीत गए।एक दिन अचानक सुप्रिया चीखते हुए मेरे ऊपर गिर पड़ी। मैंने उसे सम्भालने के लिए उसे जकड़ लिया और मेरा एक हाथ उसकी पीठ पर.

इसके साथ ही कभी वो अपनी उंगली चूत में डाल रही थी।वह नहाते वक्त लगभग गरम हो चुकी थी।मैंने बाहर से ही कहा- भाभी आपकी पीठ पर साबुन लगा दूँ क्या.

मैं अपने लंड का सुपारा उसकी चूत पर रगड़ने लगा और वो तड़फ रही थी, उसके मुँह से सिसकारी निकल रही थी।उसकी सिसकारी सुन कर मुझे इतना मजा आ रहा था. अब आप बैठो मैं कुछ चाय नाश्ता लाती हूँ।” वो बोली और पायल छनकाती हुई भीतर चली गई।तभी मुझे सामने के मुख्य दरवाजे से भाभीजी आती दिखाई दीं. हेलो गूगल सेक्सी पिक्चरतो सूर्या ने अपनी पैंट उतार को दिया और उसका लंड देख कर सोनाली उसके साथ खेलने लगी।तो सोनिया से भी रहा नहीं गया और वो भी मेरे लंड को निकाल कर खेलने लगी और मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया।सोनिया जब तक चूस रही थी, मैंने भी अपनी पैंट उतार दी.

फिर मैंने हौले-हौले उसकी गद्दी पर हाथ फेरते हुए उसे बोला- तुम पास हो जाओगी।वो खुश हो गई और कहने लगी- और तो बताओ. उसकी कद-काठी देख कर मेरे होश उड़ गए। जब मैंने उन सबको ध्यान से देखा तो लगा सारे ही तगड़े मुस्टंडे हैं। सभी 6 फुट से ज़्यादा लंबे थे. मैं बोला- तेरे बेटी की चूत में कल रखा था सरिता रानी।वो बोली- मेरी बेटी के भाग्य खुल गए।मैं बोला- साथ में तेरा भी भाग्य खुल गया सरिता रानी।वो लन्ड हाथ में लेकर सहनी लगी और फिर मुँह में लेकर चूसने लगी।कुछ देर बाद मैं नीचे जाने को बोला.

जहाँ किसी भी तरह की कोई मनाही नहीं है।मैं आपको शुरू से ही ये सारी बातें बताता हूँ।ये बातें मेरे बचपन की हैं. और पूछा- अभी तक सोई नहीं हैं?बोली- मुझे देर से सोने की आदत है।दोस्तो, whatsapp की प्रोफाइल फोटो में वो क्या मस्त माल लग रही थी.

जो मुझे और भी उत्तेजित कर रही थीं।फिर मैंने अपने एक हाथ से उसकी जींस उतार दी और पैन्टी के ऊपर से ही उसकी चूत दबाने लगा। उसकी चूत एकदम गीली हो चुकी थी। मैंने फिर उसकी पैन्टी भी उतार दी और धीरे-धीरे उसकी चूत पर हाथ फेरने लगा।मेरे ऐसा करने से वो और भी मदहोश हो गई और ज़ोर-ज़ोर से ‘आँहें भरने लगी।मैंने उसकी चूत में एक उंगली डाल दी.

आज तो तेरी चूत के मैं चिथड़े उड़ा दूँगा।फिर मैं लंड अन्दर-बाहर कर के चोदने लगा, दस मिनट तक भाभी को डॉगी स्टाइल में हचक कर चोदा, फिर दूसरी स्थिति में सेक्स किया और भाभी को खूब मज़ा दिया।उस दिन मैंने भाभी को कई बार चोदा।उस दिन के बाद जब भी मौका मिलता है. आप सब इस कहानी के बारे में अपने ख्यालात इस कहानी के सम्पादक की ईमेल तक भेज सकते हैं।अभी वाकिया बदस्तूर है।[emailprotected]. वे दोनों कुछ बातें कर रहे थे और दोनों खुश लग रहे थे।मैंने पीछे से जाकर सुना तो रोहन मेरे भाई से बोल रहा था- आज मेरा एक फ्रेंड लड़की को ले आया तो मैंने उसे तेरी गाड़ी में चुदवा दिया और मैंने भी उसको चोद दिया।मुझे उस पर गुस्सा आया कि वो मेरे भाई से मेरी चुदाई की बात कर रहा है। फिर मैंने सोचा कि गनीमत है कि इसने मेरा नाम नहीं लिया.

सेक्सी वीडियो अच्छी वाली दिखाओ सही में मजा आ गया।मैंने कहा- भाभी आप चाहो तो ये आपको हमेशा मिल सकता है, बस मेरा खयाल रखते रहना।भाभी- जब तक मैं यहाँ हूँ. मौका भी अच्छा है और लड़की भी चुदवाने को तैयार थी।मैंने धीरे से आगे बढ़कर कविता को अपनी बाँहों में भर लिया और बिना कुछ बोले उसके होंठों को चूमने लगा।कविता भी मुझसे लिपट गई और बेतहाशा मुझे चूमने लगी- विराट मैं तुम्हारी प्यास में मरी जा रही थी.

वो थोड़ी सी मुस्कुराई और दोनों किस करने लगे।मैंने धीरे से उसकी टाँगें फैलाईं और उसने अपने पति को चूमना छोड़ कर मेरी तरफ देखा।मैंने उसकी चूत पर मुँह रख दिया और वो किसी गैर मर्द से अपनी चूत चुसवाने के मज़े लेने लगी।उसके पति मुझको चूत चूसते देख कर पागल हो गया और उसने अपनी वाईफ को देखा और वे दोनों एक-दूसरे को ऐसे देख रहे थे. उनके चूचे मुझसे भी बड़े थे और काले रंग के उनके तने हुए निप्पल मेरे सामने अकड़े हुए दिख रहे थे।माँ जी ने मेरा एक हाथ पकड़ कर अपने मम्मों पर रखा. उसके नाखून मेरी पीठ पर लग रहे थे और वो कमर उचका-उचका कर मेरा साथ दे रही थी।थोड़ी देर में मैं और वो एक साथ झड़ गए। गर्मी से हम दोनों को पसीना आ गया था।कुछ देर हम ऐसे ही चिपक कर पड़े रहे।थोड़ी देर मे मेरे भाई का फोन आया- तू किधर है.

इंग्लिश बीएफ सेक्सी गर्ल्स

चुदाई करवा कर मेरे बोबे फूल कर कड़क हो गए थे और खूब हिल रहे थे।शीलू और गुरूजी मेरी फोटो निकाल रहे थे।‘मेरी रत्ना. वो दोनों मेरी ताकत और चोदने के तरीके को देखते ही रह गए।मैं उसे साइड में लेटा कर पीछे से उसकी चूत में लण्ड डाल कर ज़ोर-ज़ोर से चोद रहा था।तभी वो दोनों फिर से गरम हो गए. ’ क्या मज़ा आ रहा था।भाभी भी अब जंगली होती जा रही थी। वो भी मेरे होंठों को चूसने लगी।हम दोनों ने 5-7 मिनट तक खूब चूमा-चाटी की।भाभी- चल अब मेरी चूत को चाटने का टाइम हो गया है.

बहुत सी लड़कियाँ इस तरह के कपड़े पहनती हैं और वो खूबसूरत लगती हैं। वैसे भी लड़कियाँ इतनी खूबसूरत होती हैं उन्हें थोड़ा हम लड़के भी देख लेंगे. वो चिल्ला उठी। अभी मेरा सिर्फ़ लंड का टोपा ही अन्दर गया था, उसकी आँखों से आंसू आने लगे।मैंने उसको चुम्बन किया और होंठों को अपने होंठों में दबा कर 2 झटके लगातार ठोक दिए.

मेरी धड़कनें बहुत तेज़ हो गई थीं।लड़कियों के सामने मेरी नंगे होने की आदत ने मेरे साथ क्या-क्या गुल खिलाए.

मैं वैसे ही कार में बैठ गया और हम 30 मिनट में नॉयडा के वॉटर पार्क में पहुँच गए। अन्दर जाने के बाद हमने खूब मज़े किए. और साथ में मेरा क्लीवेज भी देख चुके हो।इतना कहकर नयना ने दुपट्टा हटा दिया। दुपट्टा हटते ही उसके बड़े-बड़े चूचे जो सामने की तरफ़ उभर आए थे. इस बार मैंने स्क्रीन से देखा कि दीपक ने हाथ को अपने निक्कर के अन्दर डाल रखा था।मुझे अन्दर से पता नहीं क्या हुआ कि मैं अपना हाथ अपनी गाण्ड के ऊपर रख कर खुजलाने लगी।दीपक को लगा कि मैं नींद में सो रही हूँ।फिर मैंने अपना हाथ हटा लिया। दीपक थोड़ा आगे हुआ और बेड के बिल्कुल पास.

अब वो मेरे सामने सिर्फ़ ब्रा और पैंटी में खड़ी थी।तो मैंने उसकी ब्रा को भी उतार दिया और उसे लेकर बिस्तर पर लिटा दिया। अब मैं उसके ऊपर आकर उसके चूचे पीने लगा. पर फिर भी उसने मना कर दिया।मीरा- नहीं, यह गलत है। मैं उस ड्राइवर से प्यार करती हूँ और शादी भी उसी से करना चाहती हूँ। ये सब भी उसी के साथ करूँगी और किसी के साथ नहीं।मैं- मैंने कब मना किया. निकलने लगा।मेरे झटकों की आवाज़ और उसके मुँह से निकल रही मादक आवाज़ पूरे कमरे में फैल रही थी।फिर कुछ देर ऐसा ही चलता रहा और कुछ देर बाद हम दोनों फारिग होने वाले थे.

और वीडियो हैं। ख़ास करके मेरी डार्लिंग मेघा का तो चुदाई वीडियो और उसको चोदते हुए का फोटो पड़ा था।मैं जानता था कि मैंने मना किया है तो वो जरूर देखेगी।मैं सुहाना को उसी कमरे में बैठा कर आया था… जिस कमरे में कैमरा लगा हुआ था.

बीएफ सेक्सी हिंदी एचडी मूवी: मुनिया नादान थी और इस उम्र में किसी को भी बहला लेना आसान होता है। खास कर पुनीत जैसे ठरकी पैसे वाले लड़के के लिए मुनिया जैसी लड़की को पटाना कोई बड़ी बात नहीं थी।मुनिया खुश हो गई और बिस्तर पर बैठ गई। उसकी आँखों में एक अजीब सी बेचैनी थी। वो बस पुनीत के लौड़े को निहार रही थी। अब उसका इरादा क्या था. इसलिए हम पूरे जोर और शोर के साथ चुदाई करने लगे। पूरा कमरा उसकी सिसकारियों की आवाज से गूंजने लगा- राज.

हुआ कुछ ऐसे कि लड़की की वरमाला के बाद मैं सोने के लिए एक कमरे में चला गया।मुझे पता नहीं था कि वो लड़कियों के तैयार होने का कमरा था।मेरी अभी नींद लगी ही थी कि लड़कियाँ वहाँ आ गईं। ग़लती से एक लड़की ने मेरे पाँव पर पाँव रख दिया। मेरी हल्की सी ‘आह्ह. मैंने कहा- चलो आज हम नहला देते हैं।यह कहते हुए मैंने सुमन को गोदी में उठा लिया और स्नानघर में ले गया और धीरे से उसका कुरता उतार दिया।अब सुमन मेरे सामने सिर्फ ब्रा में नजरें झुकाए खड़ी थी।मैं तो देखता ही रह गया दोस्तो. मुझे नहीं पता।बाबा बोले- तुम जान कर भी अनजान बन रही हो। तुमने अपने पति के साथ अन्याय किया है। किसी नर्क में भी तुम्हें कोई जगह नहीं मिलेगी।वैशाली डरते-डरते रोने लगी, मुरली अभी तक पैरों में पड़ा था।‘तुमने घोर पाप किया है.

उसकी सेक्सी आवाज से कमरा गूँजने लगा था।मैं एक हाथ से चूची मसल रहा था और दूसरी को चाट रहा था।संध्या कितनी ही बातें बोल रही थी.

क्या कर रही हैं यह?मैं मुस्कराई और उसकी चूत के पानी से चमकती हुई अपनी उंगलियाँ उसके चेहरे के पास ले जाती हुई बोली- देखो तुम्हारी चूत का पहला-पहला पानी निकला है. मैंने उसको गोदी में उठाया और टेबल पर बैठा कर उसके कुर्ते को ऊपर करके सलवार के ऊपर से ही मुँह लगा दिया। उसकी सलवार से भी सेंट की खुशबू आ रही थी।मैंने प्रज्ञा से पूछा- तुम्हारी चूत के बाल साफ हुए या नहीं?तो वो बोली- नहीं. और मजा आ रहा था।पूरा लौड़ा खाने के बाद वो मेरे लंड पर ऊपर-नीचे होने लगी और अब वो मस्ती से चुदाई के मजे ले रही थी।कुछ ही धक्कों के बाद वो फिर से फ्री हो गई और मेरे ऊपर गिर गई।फिर मैंने उनको अपने नीचे किया और उनके ऊपर आ गया। अब मैंने दनादन शॉट मारने शुरू किए। मैं पूरी रफ़्तार से शॉट मार रहा था। वो चीख रही थी.