लड़की चुदाई बीएफ वीडियो

छवि स्रोत,अंग्रेज और अंग्रेज ने की सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

इंग्लिश चोदा चोदी सेक्सी: लड़की चुदाई बीएफ वीडियो, फिर उनकी गांड में लण्ड डाल कर पेलने लगा।मैंने उन्हें इस बार और देर तक चोदा और उनकी गाण्ड में ही अपना वीर्य गिरा दिया।इतनी देर में वो दो बार झड़ चुकी थीं.

भाई-बहन की पिक्चर सेक्सी

जैसे मक्खन में छुरी। लंड अन्दर जाते ही उसने आराम की साँस ली।मैं लंड डालकर ऐसे ही उसके गुलाबी होंठों को चूसता गया और हाथों से उसके मम्मों की सहलाता रहा और निप्पल के साथ छेड़खानी करता रहा।कुछ मिनट में वो सामान्य हो गई और अपनी कमर हिलाने लगी, अपने नाखूनों से उसने मेरी पीठ में निशान भी कर दिए थे।थोड़ी देर में उसकी चूत इतना पानी छोड़ने लगी. पंजाबी सेक्सी नंगेआपने सारी मूवी बनाई है?मैंने उसकी बात का कोई जवाब नहीं दिया और आपी के बारे में सोचने लगा.

और मेरा लिंग फिर से उत्तेजित हो गया।मैं दबे पांव बिस्तर के पास गया और भाभी की दूधिया गोरी जाँघों को देखने लगा। मेरा दिल डर के कारण जोरों से धड़क रहा था कि कहीं भाभी जाग ना जाएं मगर फिर भी मैं भाभी के बिल्कुल पास चला गया।अब तो मुझे भाभी की पैन्टी में उनकी फूली हुई योनि व योनि की फ़ांकों के बीच की रेखा का उभार स्पष्ट दिखाई दे रहा था. सेक्सी आदिवासी सेक्सी सेक्सीतो इसका क्या मतलब हो सकता है?तो उसने कहा- तुम इसका क्या मतलब निकाल सकते हो?मैंने कहा- जो आप चाहो।उसने कहा- जो तुम करना चाहो वो कर सकते हो.

मैं ये सब नहीं कर सकती।उन्होंने गेट आधा खोला ही था कि सविता चाची उनकी तरफ भागीं। भागने के चक्कर में बेडशीट से ढका हुआ उनका गोरा बदन उघड़ गया। भागते समय उनके मोटे मम्मे.लड़की चुदाई बीएफ वीडियो: बनवा लेगा कल जाकर!अब्बू ने अपना रुख़ अम्मी की तरफ फेरा और बोले- अरे नायक बख़्त.

उसमें उसके आम जैसे स्तन तो मानो मुझसे चुसवाने का ही इंतजार कर रहे थे।अब उसने भी मेरे कपड़े उतार दिए, मैं अब सिर्फ अन्डरवियर में था। मेरा तना हुआ लण्ड अन्डरवियर में साफ दिखाई दे रहा था।यह देखकर निहारिका बहुत खुश हो रही थी।फिर मैंने निहारिका की गर्दन चूमते हुए उसकी ब्रा का हुक खोला.सुन कर लौड़ा फनफना रहा था।उन्होंने मुझे सीने से चिपका लिया फिर हम एक-दूसरे को किस करने लगे।इसी बीच में मैंने भाभी की चूत में हाथ डाला.

हिंदी सेक्सी चुदाई की फोटो - लड़की चुदाई बीएफ वीडियो

उसका लंड सोया हुआ भी 6 इंच का था और उसके हाथ में लटका हुआ मूत की मोटी सी धार मार रहा था जिसका शोर पूरे मूत्रालय में सुनाई दे रहा था।मैं तो उसके जबरदस्त मोटे लौड़े को देखता ही रह गया.इसलिए मैं उनको रियल शो दिखाना चाहता था।लेकिन 2-3 मिनट कोशिश करने के बावजूद में कामयाब नहीं हुआ.

जब मैं 12 वीं क्लास का एग्जाम दे कर गर्मियों की छुट्टी में दादी के पास गाँव गया हुआ था।वहाँ पड़ोस में एक भाभी रहती थीं. लड़की चुदाई बीएफ वीडियो तुम सोच भी नहीं सकते।मैंने कहा- तो क्या तलाक के बाद तुमने कभी सेक्स नहीं किया?उसने कहा- मेरे तलाक को एक साल से ज़्यादा का टाइम हो चुका है और इस पीरियड में जब भी रात को बिस्तर पर लेटती हूँ तो सेक्स की बड़ी याद आती है।मैंने कहा- अगर बुरा ना मानो तो एक बात कहूँ?‘कहो.

शरीर पतला-दुबला और शक्ल भी अच्छी-खासी है। मैं मेरठ का रहने वाला हूँ। मेरी दाढ़ी-मूंछ अभी नहीं निकली है।मेरे दोस्तों ने अन्तर्वासना के बारे में बताया.

लड़की चुदाई बीएफ वीडियो?

जिसे अब रोहन बिना नज़र हटाए निहार रहा था। वो आकर मेरे सीने से लग गया और मेरे स्तनों में अपने मुँह को घुसा लिया।उसकी तेज गर्म सांसों को मैं अपने मम्मों पर महसूस कर रही थी।वो मुझसे बोला- मम्मी थैंक्स… आप मेरे लिए ये सब कर रही हो।मैंने उससे बोला- मैं तेरे लिए इतना तो कर ही सकती हूँ. तू खुद छेद पर रख। उसने अपनी उंगलियों से पकड़ कर छेद पर रखा।मैं बोला- जब अन्दर जाए तो बता दियो। उसने ‘हाँ’ में सर हिलाया।भाई इस बार बड़े प्यार से आहिस्ता से अन्दर किया. मेरी स्पीड भी बढ़ गई थी, ऐसा लग रहा था कि सारा खून एक जगह इकट्ठा हो गया है, हर तेज धक्के में मेरा लंड पायल की चूत की जड़ तक पहुंच जाता था और पायल तेज सिसकारी ले लेती थी ‘अह्ह्ह्ह आहह.

साथ ही ये भी बताऊँगा कि कैसे मैंने सोनी की बड़ी बहन की चुदाई की।दोस्तो, कुछ ऐसी थी वो सर्दी की रात. ताकि सब कुछ खुल्लम-खुल्ला देख सके।फिर उन्होंने मुझसे बोला- देवर जी देख लेना. मैं समझ गया कि वो अब धकाधक चुदना चाहती हैं।मैं थोड़ा ऊपर को हुआ और मेरा एक इंच फंसा हुआ लण्ड बाहर निकाल लिया। फिर जोर से एक बार और शॉट मारा.

उसने किसी को नहीं बोला।इस घटना के बाद वो मुझे तिरछी नज़रों से देखने लगी।करीब एक हफ्ते बाद उसके यहाँ उनकी दादी खाना बना रही थीं. और ‘फचक फचक’ की आवाज से चुदाई होने लगी। उनकी चूत के पानी से मेरा लण्ड आसानी से अन्दर-बाहर हो रहा था।उनकी चूत की दीवारें इतनी टाइट थीं कि मेरे लण्ड पर अच्छा दबाव महसूस हो रहा था. गियर बदलने के समय मेरा हाथ उसकी जांघों को छू लेता था।उसने कोई ऐतराज नहीं किया.

तुम्हें कैसी कहानियाँ पसंद हैं?अर्श- मुझे ग्रुप वाली कहानियाँ ज्यादा पसंद हैं सर।मैं- ओह वाओ. इसी के साथ ही आपी की चूत ने पानी छोड़ दिया।अभी आपी की चूत से पानी निकल ही रहा था कि मैंने आपी से कहा- आपी बहुत दिन हो गए हैं.

उसे देखकर लगता था कि वो लण्ड का मज़ा ले चुकी है।और जो सबसे छोटी वाली थी उसका नाम आयशा था, उसकी उम्र यही कोई मेरे बराबर थी। उसके मम्मे तो ज़्यादा बड़े नहीं थे.

फिर उसके बाद दोनों गालों को चूमा और नंगे ही चिपक कर सो गए।उसके बाद मैंने लगातार 4 दिन दीप की गाण्ड मारी और फाड़ कर रख दी।अब मुझे पता चल गया था कि मेरी पत्नी भी मुझसे कुछ ऐसा ही चाह रही थी।तो यह थी दोस्तो, प्रदीप जी की कहानी। अपनी राय जरूर भेजें।.

और लौड़ा उसकी चूत में डाल कर दस शॉट में उसकी चूत को अपने पानी से भर दिया और उसके ऊपर ढेर हो गया।मैंने उससे कहा- मुझे इस बात का हमेशा दुःख रहेगा कि तुम मेरी बीवी नहीं हो. वो मिल गया। उसने मुझे अपने पति के कपड़े दिए। मैं पहन कर टीवी देखने लगा।बाद में जब हम बात कर रहे थे उस समय वो मुझसे बात करते-करते मेरे नजदीक आने लगी थी। उस वक्त टीवी पर भी किसिंग सीन आ रहा था।मेरा तो पैंट में तम्बू बनने लगा और उसकी नज़र तम्बू पर पड़ गई थी।मैं जैसे-तैसे छुपाने की कोशिश कर रहा था।ये देख कर वो खुद से बोली- क्या छुपा रहे हो?मैंने कहा- कुछ नहीं।पर उसे पता तो चल ही गया था. अन्दर रगड़ने से मुराद है कि आपकी चूत के लबों को थोड़ा खोल कर अन्दर नरम गुलाबी हिस्से पर अपना लण्ड रगडूँगा।आपी अभी भी मुतमइन नज़र नहीं आ रही थीं।खवातीन और हजरात, यह कहानी एक पाकिस्तानी लड़के सगीर की जुबानी है.

मैं तो तुम्हें तड़पा रही थी। कमरे में अन्दर जाकर मैंने नेहा को दूध पिलाया और तनु को पानी पिलाकर सुला दिया। अब वो दोनों नहीं उठेंगी। मैं अगर पहले ‘हाँ’ भर देती तो तुम पागल हो जाते और वहीं शुरू हो जाते।इतना सुनते ही मेरा अजगर फिर जुर्राट हो गया। मैं उसे पकड़ने वाला ही था तो उसने मुझे रोक लिया और कहा- पहले मेरे सवालों का जवाब दो।अब उसके क्या सवाल थे और चुदाई का क्या हुआ. मेरी मम्मी ने अगले दिन ही मुझे एक बरतन में सब्जी दी और कहा- जा सीमा आंटी को दे आ।तभी मेरे दिमाग में एक प्लान आया और मैं जल्दी से अपने कमरे में गया और मैंने जाते ही अपनी पैन्ट उतार दी और अन्डरवियर भी उतार दिया। मैंने सिर्फ़ लोअर और टी-शर्ट पहन लिया।अब मैं आंटी के घर गया और देखा कि आंटी ने सिर्फ़ घाघरा और ब्लाउज पहना हुआ है।आंटी ने मुझे अन्दर बुला कर बैठने को बोला. इस वजह फरहान और हनी को खाला के बच्चों के पास छोड़ कर उनकी तबीयत का पता करने उनके घर जाएंगे।मैंने आपी की बात सुन कर आपी से कहा- फिर कल सारी रात आपको मेरे साथ रहना पड़ेगा.

जो एकदम क्लीन शेव्ड और फूली हुई थी।उन्होंने मेरी गर्दन को झटके से नीचे किया और चूत की तरफ ले गई, उन्होंने कहा- चाटो इसे.

तो आपी ने लंबी सांस ली और मुझे गुस्से से देखने लगीं।आपी से मैंने कहा- आपी आप दूध नहीं पियोगी तो कमज़ोर हो जाओगी।आपी के मुँह में अभी भी एक घूँट दूध बाकी था. सज धज के।हाईवे पर जाते ही मैंने देखा शेरा का ट्रक किनारे लगा हुआ था। मैंने इधर-उधर देखा और चल दी. और उनके निप्पल की दीवारों से होती हुई नीचे फैल कर ज़मीन पर दायरा बना रही हों।मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे मैं हवा मैं उड़ते-उड़ते एक जगह हवा में ही रुक गया हूँ.

बीच में काला है और ऊपर लाल है।मैंने कहा- बेटा इससे पता चलता है कि मैं इंडियन हूँ।हम दोनों फिर से हँसने लगे।अब जब उसने हँसना बंद किया. वो बहुत रईस था और घूमने-फिरने विदेश जाया करता था। चूंकि वो दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ता था. मैंने जाना है बहुत देर हो गई है।आपी ने क़मीज़ पहनने के लिए अपने हाथ फैलाए ही थे कि मैंने आगे बढ़ कर आपी को अपने बाजुओं में जकड़ा और एक जोरदार किस करने के बाद कहा- आपी आज का दिन हमारी ज़िंदगी का हसीन-तरीन दिन था और मुझे खुशी इस बात की है कि मैंने आपके जिस्म के एक-एक मिलीमीटर को चूमा है और अपनी ज़ुबान से चखा है.

बनवा लेगा कल जाकर!अब्बू ने अपना रुख़ अम्मी की तरफ फेरा और बोले- अरे नायक बख़्त.

क्योंकि मालिश करते टाइम अक्सर यहाँ-वहाँ हाथ लग जाते हैं।अब वो मेरी कमर की मालिश करने लगा, उसने कहा- चाची जी आपके तौलिये के कारण कमर की ठीक से मालिश नहीं हो पा रही है।मैं उस वक्त दर्द के कारण कुछ कर भी नहीं पा रही थी, मैंने उससे बोल दिया- तौलिया थोड़ा नीचे सरका दो।उसने तौलिया को थोड़ा नीचे खिसका दिया. और चारों तरफ से लकीर की शकल में बह कर नीचे जाते हुए जड़ में ज़मीन पर एक सर्कल की सूरत में जमा हो गया हो।मुझे बाद में आपी ने बताया था कि तुमने यह जुमला इतना ठहर-ठहर के और खोए हुए कहा था कि फरहान और मैं दोनों ही तुम्हें हैरत से देखने लगे थे। तुम उस वक्त किसी और ही दुनिया में थे.

लड़की चुदाई बीएफ वीडियो मैंने अपनी पिछली कहानीमौसी के लड़के से चूत चुदवाने की तमन्नामें बताया था कि मैं कैसे अपने मौसी के लड़के से चुदी थी।आप सब लोगों का बहुत धन्यवाद. पर दीदी नहीं झड़ी थीं।मैं उनके ऊपर लेट गया और उन्हें पकड़ कर ढेर हो गया।कुछ देर बाद मैंने देखा कि दीदी मेरे लण्ड के साथ खेल रही थीं।मैंने उनके मम्मों को दबाया और अपने बगल में लिटा लिया और उनको वो सब बात बता दी कि कैसे मैं उन्हें रोज़ देखता हूँ।तो दीदी ने कहा- यानि कि तू मुझपे पहले से ही नज़र रखता था।फिर दीदी ने अपने कपड़े पहने और मैंने भी.

लड़की चुदाई बीएफ वीडियो सारे तरीके भूल कर उन दो सफेद गोलों पर टूट पड़ा।मैंने उनको आजाद कराया और एक को अपने मुँह से चूसना शुरू किया. बस कल मिलती हूँ आपसे और पूरी चुदाई का किस्सा बताती हूँ।आपके कमेंट्स के इन्तजार में आपकी रीमा।.

तो किसी को कुछ पता नहीं चलेगा।एक बार फिर से मैंने उसके लाल और मुलायम होंठों पर अपने होंठ रख दिए और रसपान करने लगा, वो भी मेरा साथ देने लगी।उसके बाद हम दोनों ने एक-दूसरे के कपड़े उतारे।उसने मुझे अपनी बाँहों में कसकर पकड़ लिया। फिर मैंने उसे अपनी बाँहों में उठाकर टेबल पर लिटा दिया।मैंने भरपूर नज़रों से उसे देखा.

भारतीय ओपन सेक्सी व्हिडिओ

मैं समझ गया कि वो अब धकाधक चुदना चाहती हैं।मैं थोड़ा ऊपर को हुआ और मेरा एक इंच फंसा हुआ लण्ड बाहर निकाल लिया। फिर जोर से एक बार और शॉट मारा. कितना प्यारा नाम था, नाम में ही वासना भरी थी।हम बहुत देर बातें करते रहे। मैं तो बोलने के मामले में बहुत एक्सपर्ट हूँ। मैं एक बार शुरू हुआ तो रुकता ही नहीं हूँ।पर वो भी कुछ कम नहीं थी। काफी बोल्ड थी इसलिए मुझसे जल्द ही मैच हो गई।मैं निहारिका की स्तुति पे स्तुति करते जा रहा था और शायद मेरी प्यार भरी बातें सुनकर वो बहुत इम्प्रेस हो रही थी. अभी दिखाऊँ क्या?आपी ने मेरा खुला बैग एक झटके से बंद किया- अभी छोड़ो.

मैंने अपनी जीभ उसके मुँह के अन्दर डाल दी।उसकी साँस काफी तेज हो गई थी. ’ भरते हुए डिस्चार्ज हो गईं लेकिन मैंने अपने झटकों पर कोई फ़र्क़ नहीं आने दिया और अगले चंद ही झटकों में मेरा जिस्म भी शदीद तनाव में आया. आपी की चूत ने पानी छोड़ दिया और मेरा लण्ड भी आपी की चूत में पानी छोड़ने लगा।आपी ने कहा- सगीर क्या मस्त लण्ड है तुम्हारा.

आपी ने ज़रा डरे हुए अंदाज़ में बाथरूम को देखा और फिर कमरे के दरवाज़े की तरफ गईं.

मैं यहाँ किसी को जानता ही नहीं तो गुलाब का फूल किसको देने के लिए खरीदूंगा?तो वो हँस कर आगे चलने लगी।मैंने सोचा क्यों न इसके साथ कुछ टाइम पास किया जाए। तो मैंने उसको वापस बुलाया और पूछा- कितने का है?तो बोली- एक पौंड का एक!उसके पास 15-20 थे. तुम्हारा लण्ड बहुत बड़ा है। मैंने बहुत से आदमियों को पेशाब करते समय देखा है. जो कि बहुत ही आलीशान था। उसे मैंने बड़े से प्लेटफार्म वाले सिंक के पास बिठाया और प्यार करना शुरू किया।हम दोनों ने खूब चूमा चाटी की। मैंने उसके रसीले मम्मों को खूब मसला और मुँह में लेकर चूसे भी.

वो मैंने बोला।फ़िर उसने वो चॉकलेट खाने को बोला।मैंने बोला- तुम अपने हाथ से खिलाओ तो ही खाऊँगा।बोली- पागल हो तुम. पर अभी उनको ये प्यारा और मीठा दर्द एक बार और सहन करना था क्योंकि अभी तो आधा ही लंड अन्दर गया था. दूसरी तरफ से एक लड़की की आवाज़ आई और बोली- आपके नंबर से मेरे को मिस कॉल आई है.

मैं ज़रा वॉशरूम से हो आऊँ।मैंने भी अपनी चाय का आखिरी घूँट भरा तो अम्मी अपने कमरे में जा चुकी थीं। मैंने एक नज़र उनके दरवाज़े को देखा और फिर भागता हुआ आपी के कमरे में दाखिल हो गया।आपी बाथरूम में थीं. प्लीज़ इसे जल्दी से निकालो नहीं तो मैं मर जाऊँगी आशू।मैंने उसकी एक ना सुनी और पूरा लण्ड उसकी नरम और गरम चूत में डाल दिया। मुझे कुछ गीला-गीला महसूस हुआ मेरे लण्ड पर.

थोड़ी देर तक ही मैं उसके लौड़े पर जीभ फिराती रही।फिर अचानक से मैंने अपना मुँह पूरा खोला और सुपारा मुँह में ले लिया।मोनू ज़ोर से ‘आह आह. भारती भाभी- हाँ वो तो मैं भूल ही गई थी। लेकिन कहीं उनको शक हो गया तो?मैं- शक कैसे होगा. मैं हूँ ना हालात कंट्रोल करने के लिए।फरहान ने अपने दोनों हाथों को भींचते हुए कहा- भाई अगर ऐसा हो जाए.

तो मुझे हेयर आयल की शीशी मिल गई।मैंने ढेर सारा तेल उसकी चूत और अपने लण्ड पर लगाया।अब मैंने अपना लण्ड उसकी चूत पर रखा और एक जोर का धक्का मारा। ज्यों ही मेरे लण्ड का टोपा अन्दर गया.

यह कहानी तब की है, उस वक्त मैं पढ़ता था।मेरे पड़ोस में एक बहुत ही मस्त माल किस्म की लड़की रहती थी. मैं बाहर आया तो देखा वो बिस्तर के पास खड़ी थी। मेरे मुँह से एकदम से निकल गया- अह्ह्ह वाओ. जैसे उनमें सच में दूध आ रहा हो।मेरा रोना थोड़ा कम हुआ तो उन्होंने अचानक एक बहुत ज़ोर का घस्सा लगाकर जड़ तक लौड़ा मेरी फुद्दी में डाल दिया।मेरा रो-रो कर बुरा हाल हो रहा था और मैं असहाय होकर चिल्ला रही थी- हाय माँ.

मैं निकलने वाला हूँ। आ दिखाता हूँ तुझे बाबा जी के लौड़े में कितनी मलाई भरी है।मैंने थोड़ी कोशिश करते हुए हाथ बढ़ाया और कांच का कप उठा लिया। पुक्क करके उन्होंने पूरे लण्ड को चूत के बाहर खींच और जल्दी से कप के मुँह में डाल दिया।मैं हैरान होकर देखने लगी।उनके लण्ड के द्वार से मोटी सी सफेद दूध जैसी धार निकलने लगी। बहुत ही हैरान कर देने वाला दृष्य था। लिंग कांच के कप के तल तक पहुंच रहा था. दोस्तो, आपने मेरी पिछली कहानियों को सराहा और मुझे कहानी लिखने का हौसला दिया.

’उसने मुझसे पूछा- तुम्हें पहले यहाँ देखा नहीं है।मैंने कहा- मैं यहाँ नया हूँ. मैं पाँच मिनट में ड्रेस चेंज करके आती हूँ।मैडम अपना पारदर्शी गाउन पहन कर आईं. इस सबका खुलासा अगले भाग में कर दूंगा।अन्तर्वासना पर मेरे साथ बने रहिए। अपने विचार मुझे जरूर ईमेल कीजिएगा.

सेक्सी नंगी पिक्चर बढ़िया

क्या तुम मेरे साथ करना चाहोगी?उसने कहा- मुझे भी सेक्स की ज़रूरत है.

वैरी थैंक्स।मैंने उससे कहा- हाँ वो मैंने आपकी ईमेल में एक कहानी देखी थी. फोन की घंटी बज रही थी।‘रीमा देख तो किसका फोन है?’ मेरी सास की आवाज़ आई।मैंने फोन उठाया, फोन कामिनी मौसी का था।‘नमस्ते मौसी. तो मेरी वासना जाग गई और मैंने भाभी को बांहों में जोर से भींच लिया।तभी भाभी बोलीं- मुझे छोड़ो.

धक्का मारा तो फिसल गया।मैंने कहा- ओये, इसे डालते कहाँ हैं?बोली- खुद देख लो।मैंने फिर से सैट किया।इस बार सोचा जोर से धक्का मारूँगा और मारा भी. आपी ने मुस्कुरा कर मुझे देखा और नर्मी से मेरा हाथ पकड़ कर अपनी टाँगों के बीच से हटाते हुए कहा- अच्छा बस सगीर. जंगली औरत का सेक्सी वीडियोइसलिए थोड़ा सा घबरा गया, शायद अम्मी सामने थीं इसलिए भी इहतियात कर रहा था।उसने यहाँ से निकल जाने में ही गनीमत समझा और आपी के सामने से हट कर बाहर जाता हुआ बोला- आपी मैं बच्चा तो नहीं हूँ.

’ का शोर करने लगे।अब्बू ने मुस्कुराते हुए उन दोनों को चुप करवाया और गाड़ी की चाबी मुझे देते हुए बोले- जाओ यार. तो वो मेरे चेहरे को ही देख रही थीं।कुछ देर ऐसे ही मैं और आपी एक-दूसरे की आँखों में देखते रहे और फिर मैंने नज़र झुका लीं और आपी की साइड से हो कर बाहर निकलने लगा।तो आपी ने मेरा हाथ कलाई से पकड़ा और झटके से अपनी तरफ घुमाते हुए मेरे होंठों को चूम कर कहा- यार मज़ाक़ कर रही थी ना.

तो वो बाथरूम के अन्दर जाते हुए सेक्सी मुस्कान लिए हुए बोलीं- इतनी जल्दी क्या है. जैसे उसे पता ही नहीं हो कि वो क्या कर रहा था और अभी ही होश में आया हो।फरहान ने आपी का उभार मुँह से निकाला तो आपी ने फरहान को थोड़ा पीछे हटाया और कहा- बिस्तर पर चलो. तो वो इधर-उधर देख रही थीं।मैं भी जानबूझ कर पास में शॉप के पास छुपा हुआ था और उनके हाव-भाव देख रहा था।फिर जब वो लॉक लगा रही थीं.

तो वो काफ़ी उत्तेजित हो गई और अपने हाथों से मेरी पैंट के ऊपर से मेरे लण्ड को सहलाने लगी. अब ठीक लग रहा है।उन्होंने सीधी होकर मुझे अपनी बाँहों में लेने के लिए अपनी बाँहें फैला दीं।मैं भी उनकी नंगी चूचियों के साथ लिपट गया और उन्हें होंठों पर किस करने लगा।थोड़ी ही देर में हम दोनों फिर गरम हो गए और फिर दोबारा एक जोरदार चुदाई शुरू कर दी।हालांकि मुझे लंड में और चाची को गाण्ड में हल्का-हल्का दर्द हो रहा था. लेकिन पिछले साल गर्मीयों में जब मैं और आप बाजी के घर 10 दिन रहे थे.

आपी वहाँ साइड में होकर दीवार से लगी खड़ी थीं, आपी ने एक प्रिंटेड लॉन का ढीला-ढाला सा सूट पहन रखा था और दुपट्टे.

जो आज कुछ ज्यादा ही तने हुए महसूस हो रहे थे।उसी वक़्त मुझ पर ये वज़या हुआ कि आपी बिल्कुल नंगी हैं. जिसको शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता।पायल- राहुल मुझको कुछ हो रहा है.

एकदम मेरे लण्ड को छोड़ा और नम आँखों से ही हँसते हुए मेरे सीने पर मुक्का मार कर दोबारा मेरे सीने से लग गईं।मैंने भी हँसते हुए फिर से आपी को अपनी बाँहों में भींच लिया।चंद लम्हों बाद मैंने आपी को पीछे किया और अपने हाथ से उनके गालों पर बहते आँसुओं को साफ किया. क्यों अपनी सेहत के दुश्मन हुए हो?’आपी ने लेफ्ट हैण्ड क़मर पर रखा और सीधे हाथ की ऊँगली का इशारा मेरे ट्राउज़र की तरफ करते हुए हुक्मिया लहजे में कहा और इसके बाद वे कमरे से बाहर निकल गईं।मैं बस ट्राउज़र पहन कर कुर्सी पर बैठा ही था कि आपी दोबारा कमरे में दाखिल हुईं. वो बस अपने पति के बारे में बुराई करने लग गईं।मुझे हरी झण्डी नज़र आने लगी थी, मैंने उनसे कहा- खाली समय में मेरे घर पर आ जाया करो।दूसरे दिन वो मेरे घर पर आईं.

इसी के साथ-साथ वो अपने हाथ बिस्तर पर मारती जाती थी।मैंने भी आपी की चूत को दोबारा चूसने शुरू कर दिया और ज़ुबान अन्दर करके आपी की चूत को चोदने लगा।आपी मज़े से मेरा सर दबाने लगीं- हमम्म्म. फिर धीरे-धीरे उसको पूरी नंगी कर दिया और खुद भी नंगा हो गया।ऐसा लग रहा था कि साक्षात किसी पोर्न फिल्म की अभिनेत्री मेरे सामने खड़ी हो।उसको गले लगाते हुए चूमना-चाटना शुरू किया।आधे घंटे के फ़ोरप्ले में उसने अपना पानी छोड़ दिया।हम लोग 69 की पोज़िशन में आ गए, मैंने उसकी चूत चाटी और उसने मेरे लण्ड को चूसना शुरू किया।यह कहानी आप अन्तर्वासना. तो हमने अपने आपको ठीक किया और सोने का नाटक करने लगे।आने वाले का चेहरा ठीक से तो दिख नहीं पाया.

लड़की चुदाई बीएफ वीडियो और इस तरह तुम्हारी पढ़ाई का भी हर्ज होगा।‘अब्बू बस अब सारी लिस्ट वगैरह तो तक़रीबन फाइनल हो ही चुकी हैं और जहाँ तक पढ़ाई की बात है. मुठ मार-मार कर बड़ा हो गया है।वो हँसने लगीं और मेरा इरादा समझ कर उन्होंने लण्ड की चमड़ी को ऊपर-नीचे करके लण्ड का टोपा अपने मुँह में ले लिया।मैं अब अकड़ गया था.

सेक्सी वीडियो 2018 फुल एचडी

जो एकदम क्लीन शेव्ड और फूली हुई थी।उन्होंने मेरी गर्दन को झटके से नीचे किया और चूत की तरफ ले गई, उन्होंने कहा- चाटो इसे. तौलिए के खुश्क हिस्से से साफ किया और अलमारी से मेरा दूसरा सूट निकाल लाईं।अब वे मेरे क़रीब ही बैठ कर बोलीं- अब उठ जाओ सगीर. पर ना जाने क्यों उसकी खूबसूरती मेरे दिल को भा गई।मैं सोचने लगा कि काश ये लड़की मेरी गर्लफ्रेंड बन जाए.

सब छत पर ही सो जाएंगे।उन्होंने आरती को बिस्तर लगाने के लिए बोल दिया, मैं भी आरती की मदद करने लग गया।असल में मैं यह चाहता था कि भाभी का बिस्तर मुझसे ज्यादा दूर न हो।आरती ने सबका बिस्तर एक साथ ही लगा दिया। पहले भैया का. कि देखते जाओ मैं क्या-क्या करता हूँ… और तुमको कहाँ-कहाँ की सैर करवाता हूँ।फरहान ने कहा- हाँ भाई. सेक्सी हिंदी 12 साल की लड़कीये मैं जानता था।जब वो ऊपर होकर मेरे लण्ड को अपने अन्दर लेने की कोशिश करने लगी.

आ मेरे पास आ और कर प्यार मुझे। सच में अभी तक मुझे पूरा शारिरिक सुख नहीं मिला। मैं भी तेरे प्यार के लिए कब से तरस रही थी।उसकी बातें सुनकर मैं बहुत खुश हो गया मेरी किस्मत ही जाग गई थी, मैं झट से निहारिका को पकड़ कर चूमने लगा।वो थोड़ा भी नहीं झिझकी.

जरूर बताना, भूलना नहीं।अपने सुझाव देना कि उसको और कैसे चोदूँ।आपका अपना मनु[emailprotected]. उसने एक स्माइल दी और हम दोनों अन्दर आ गए।घर पर सिर्फ़ हम दोनों ही थे और कोई नहीं था।मैं सोफे पर बैठ गया और वो मेरे लिए पानी लाई।अब हम लोग साथ में बैठ गए।करीब 5 मिनट तक कोई नहीं बोला एकदम सन्नाटा छाया रहा था।फिर मैंने हिम्मत करके उसे रात के लिए सॉरी कहा।उसने कहा- इट्स ओके.

दोबारा पहनने में बहुत टाइम लगेगा। मैं उसकी बात मान गया और उसके लहंगे को नीचे से ऊपर को उठाकर सोनी की चूत को पैन्टी के ऊपर से ही मसलने लगा। सोनी की चूत का नल तो पहले ही खुल चुका था। अब मैंने सोनी की चूत से पैन्टी को पूरी तरह से खींच कर निकाल दिया।वाह क्या मस्त खुश्बू थी सोनी की चूत की. उनके गुलाबी मम्मों पर हरी नीली रगों का जाल था और एक-एक रग साफ देखी और गिनी जा सकती थी।मुकम्मल गोलाई लिए हुए आपी के मम्मे ऐसे लग रहे थे. मुझे कुछ फिर से हो रहा है।’मैंने उसके कान में धीरे से कहा- पायल मेरी जॉकी के अन्दर हाथ डाल कर सहलाओ ना।पायल- नहीं.

क्यों इसके पीछे पड़ गए हो?’‘बस बस आपी एक मिनट में सुराख आदी हो जाएगा तो दर्द नहीं होगा।’आपी ने गर्दन घुमा कर मेरे चेहरे को देखा और ज़रा अकड़ कर कहा- कहा ना नहीं.

मैं भी आप सबकी पसंदीदा इस वेबसाइट का बहुत बड़ा शैदाई हूँ।चौदह पन्द्रह साल पहले जब से यह वेबसाइट लांच हुई है. जिसकी आवाज सुनकर भाभी ने अपना दरवाजा खोला।वो मैक्सी में थीं व दरवाजे में खड़ी थीं, सुबह-सुबह भी वो कयामत ढा रही थीं।मैंने हाथ हिलाया तो वो मुस्कुराने लगीं।मैंने अपना एक हाथ लण्ड पर ले जाकर उसे ऊपर से हिलाने लगा, वो भी चूत के पास हाथ ले जाकर सहलाने लगीं।मैंने उन्हें अपने कमरे में आने का इशारा किया. मगर वो अपनी पढ़ाई का बहाना बना कर घर में ही रुक गई।शाम को जब वो मुझसे मिलने आई तो उसने मुझसे कहा- अर्जुन आज मेरे घर पर कोई नहीं है.

फैमिली का सेक्सी वीडियोवो मेरी तरफ देखकर मुस्कुराने लगीं।मैंने भाभी के कमरे में जाकर देखा तो मेरी खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा. जिसमें वो गोरी-गोरी बड़ी सेक्सी माल लग रही थी।भाभी भी होंठ चूसने में पूरा साथ देने लगी।मैं दोनों हाथ से उसकी चूचियाँ जोर-जोर से दबाने लगा.

देसी भाभी सेक्सी वीडियो साड़ी में

हमारा ऐसे ही चूमचाटी चलने लगी।फिर एक दिन दोपहर को मेरे घर पर कोई नहीं था और उसकी मम्मी सो रही थीं।मैंने उसे इशारा किया कि मैं आपसे बात करना चाहता हूँ।दोपहर में गर्मियों में मोहल्ले में सब लोग सो जाते हैं. तो मेरी वासना जाग गई और मैंने भाभी को बांहों में जोर से भींच लिया।तभी भाभी बोलीं- मुझे छोड़ो. मैंने उसका वीर्य नीचे थूक दिया और वो अपनी लोअर ऊपर करके बाहर रोड की तरफ निकल लिया।मैं भी उसके पीछे कुछ देर बाद रोड पर पहुंच गया।मैंने यहां वहां देखा तो वो कहीं नहीं था।फिर मैं भी अपने घर के रास्ते निकल पड़ा और उसके बाद वो मुझे कभी नहीं टकराया!कहानी पर अपनी राय देना न भूलें.

कब से मैं तेरे होंठों को काटना चाहता था।यह कह उन्होंने मेरे निचले होंठ को जोर से काट लिया।मैं तड़फ उठा. तो माँ उसे मना नहीं करती थीं।दो-तीन बाद दूर हटाने के बाद मनोज ने माँ के पेटीकोट को पानी के अन्दर से उठाकर माँ को फिर से पकड़ लिया. वो निकाली और एक टाइमिंग वाली गोली खुद खा ली और आई-पिल आपी को खिला दी।मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए। मैं अंडरवियर पहने हुए ही आपी के ऊपर आ गया और आपी की सलवार खींच कर नीचे को उतार कर सोफे पर फेंक दी।फिर आपी को हल्का सा ऊपर उठा कर उनकी कमीज़ भी उतार दी।आपी बस ब्रा में थीं.

’ करने लगे। तभी मैं एकदम से पिंघल गई तो उन्होंने भी लण्ड को चूत से निकाल लिया. पर मेरी तो ड्यूटी ही ऐसी है। इस महीने तो मैं घुमा ही नहीं सकता हूँ. पूरे कमरे में हमारी आवाजें गूँज रही थीं।कुछ देर के बाद हम दोनों झड़ ग़ए और बाथरूम में जाकर खुद को साफ़ करके तैयार हो गए।इसके बाद रजिया चाची मुझे एक किस देकर चली गईं।अब जब भी हम दोनों को मौका मिलता.

तो मुझसे कहा- वहाँ मेरे सामने बैठ जाओ। उन्होंने मुझे अपने सामने बैठा दिया और मुझे देखने लगीं।आपी बस देखे जा रही थीं. जिससे कुछ ही देर में ही उनकी चूत में से पानी निकलने लगा।मैं समझ गया कि मैडम अब चुदाई के लिए पूरी तरह तैयार हैं। इधर उनकी चूत से पानी निकल रहा था.

आपसे गुजारिश है कि अपने ख्यालात कहानी के अंत में अवश्य लिखें।कहानी जारी है।[emailprotected].

शायद उनकी बेचैनी की वजह ये थी कि वो मेरे सामने अपनी टाँगों के दरमियान सहला नहीं पा रही थीं।उनके गोरे गाल सेक्स की चाहत से गुलाबी हो गए. सेक्सी वीडियो लड़का लड़का कातो वो भी मेरे पास बिस्तर पर आकर बैठ गईं।कुछ देर बाद मैं जैसे सोया हुआ सा था. नेपाली सेक्सी भेजजिसमें से उसके उभार मुझे और ज्यादा आकर्षित कर रहे थे।अब हम दोनों को भूख लग रही थी तो कुछ नमकीन मिक्सचर और चिप्स निकाल लिए. आज मैं किसी दूसरे तरह से खाऊँगा।तो उन्होंने पूछा- कैसे खाओगे?मैंने कहा- आप खिलाओ.

मैं हनी को देख कर आता हूँ।मैं वहाँ से उठा और आपी वाले कमरे में हनी को देखा.

फिर हम नॉर्मल हो गए।कुछ देर बाद फिल्म खत्म हो चुकी थी। सब बाहर जाने लगे. तो वो हंस पड़ी।मुझे लगा कि बात बन जाएगी।फिर दवा लेकर हम वापस घर आ रहे थे, मैं बाइक चला रहा था. तो वो एकदम से उछल पड़ीं और मुझे जोर से पागलों की तरह चूमने लगीं।मैं पूरे जोश में आ गया और उनकी चूत को जोर-जोर से रगड़ने लगा, उनकी चूत लगातार पानी छोड़ रही थी।अब मैंने धीरे-धीरे उनके कपड़े निकालने शुरू किए, सबसे पहले मैंने उनकी साड़ी उतारी.

आखिर पत्नी हूँ मैं उनकी… उनका तो चोदने का मुझ पर सबसे पहला हक़ बनता है।फिर रोहन ने अपना लण्ड बाहर निकाला और मेरे हाथों में पकड़ा दिया और फिर मेरे होंठों को चूमने लगा। मैं अपने हाथों से उसके लण्ड को सहलाने लगी. आप ही मेरी प्यास बुझा दो ना।भाभी हँसने लगीं और मैंने भाभी को पीछे से जाकर पकड़ लिया।वो बोलीं- रुको पहले दरवाजा बंद करो वर्ना आरती आ जाएगी।मैंने दरवाजा बंद किया और भाभी को चूमना चालू कर दिया, उनके होंठों पर अपने होंठ रख दिए. इसी के लिए तो मैं कब से तरस रही थी। मेरा नामर्द पति तो यह नहीं कर सका.

जिमी सेक्सी वीडियो

अभी आएँगी आपी?मैंने मुस्कुरा कर उसकी तरफ देखा और ‘हाँ’ में गर्दन हिला दी और फरहान वैसे ही बैठे मूवी भूल कर गुमसुम सा हो गया. सिर्फ फायदे होंगे नुक्सान कुछ नहीं।फिर मैंने पूछा- तेरे साहब का कुछ नाम भी है भोसड़ी के. तो मैं बालकनी में आ गया।मैंने देखा कि सोनिया भाभी भी बालकनी में अपने बेबी के साथ में आ गई थी। मैं आपको बताना ही भूल गया उसका एक 6-7 महीने का बेबी भी है।हमने फिर से बातें करना शुरू कर दीं। बातों ही बातों में उसने अपने बेबी को मेरी गोद में दे दिया और कहा- जाओ चाचा की गोद में.

पर एक बार अच्छे से किस तो करने दो।तो वो मान गई।मैंने भी खूब जी भर के उसके होंठ चूसे।उसके बाद हम अपने घर आ गए।लगभग 2 हफ्तों बाद मैं वहाँ फिर गया.

तो मैंने अपना लण्ड उनके मुँह में डाल दिया और उन्होंने मेरा सारा वीर्य पी लिया।उसके बाद हम रोज भैया के ऑफिस जाने के बाद चुदाई करते।अब वो फिर से प्रेगनेंट हो गई हैं और उन्होंने बताया कि वो बच्चा मेरा है.

तू ही कुछ मदद कर दे मेरी।इस पर दीदी भी जीजू को प्रोत्साहित करते हुए बोलीं- हाँ हाँ. मसलता और चूसता जा रहा था।कुछ देर बाद उन्होंने मुझे अपने से दूर किया और मेरे सारे कपड़े निकाल दिए।मेरा लम्बा और मोटा लौड़ा देखकर वो बोल उठीं- इतना बड़ा?मैंने भी उनसे कहा- हाँ भाभी, अब तुम इसे अपने मुँह से नवाजो. ब्लू फिल्म सेक्सी 2021 कीअब मैं सोचने लगा कि आगे क्या करूँ।मैंने शीतल मामी की बेटी को फिर च्यूंटी काटी.

’मैंने उसकी चुदास को समझा और उसके ऊपर गया और होंठों को चुम्बन करते-करते मैंने लण्ड को उसकी चूत पर सैट किया और उसको भनक लगे बिना शॉट लगा दिया।एक ही शॉट में आधा लन्ड चूत के अन्दर हो गया।वो एकदम से मानो इस हमले को समझ ही ना पाई और वो दोनों टाँगों से मेरी कमर को पकड़ते हुए ऊपर उठी और चिल्ला पड़ी- आआहह. जिसे देख कर मैं अपना होश खोने लगा।मैंने तुरंत अपने सारे कपड़े उतार डाले और उसे लेकर 69 की पोज़िशन में बिस्तर पर आ गया।उसकी चूत पैन्टी से ढकी हुई मेरे मुँह के ऊपर थी. जिसमें से उसका सारा शरीर दिखाई पड़ रहा था। एक चाबुक हाथ में था और कंडोम के पैकिट भी थे।हम लोग अब हॉल के तरफ बढ़ चले थे कि अफ़रोज़ और ज़ाकिर वहीं रास्ते में मिल गए।मैंने उन्हें नेहा से मिलवाया.

एकदम मस्त सफेद और लण्ड का टोपा लाल है।आज आपके लिए फिर से नई हॉट और सेक्सी कहानी लेकर आया हूँ, अन्तर्वासना की सभी पाठक आंटी भाभियों और लड़कियों के आग्रह पर आप सभी के लिए कहानी पेश है।यह कहानी पढ़कर सभी लड़कों को कई बार मुठ मारनी पड़ेगी और लड़कियों को कई बार चूत में उंगली डालनी पड़ेगी।कहानी शुरू करता हूँ।मेरा गाँव वहाँ से 40 किलोमीटर दूर था. तो मैं समझ गया कि उसका दर्द कम हो गया है।लम्बी चुदाई के बाद उसने कहा- उसका होने वाला है।तो मैंने स्पीड तेज़ कर दी।तभी वह चिल्ला उठी- आ.

मैं अपने कमरे में पढ़ाई कर रहा था कि अचानक मेरा ध्यान सामने वाले दीदी की खिड़की पर पड़ा.

यह सोचकर मुठ मार लिया करते थे।पर कितने दिन यूं ही मुठ मारते हुए गुजारते. प्लीज़ नायिका के बारे में जानने के लिए दबाब ना डालें।[emailprotected]. फिर जो हुआ उसका वर्णन शब्दों में नहीं किया जा सकता, ऐसा सुखद आनन्द आ रहा था.

भोजपुरी की सेक्सी चुदाई मौसी के संग सुहागरात का सीन चल रहा था। मैंने मौसी का हाथ पकड़ कर उनके चेहरे पर से हटाया और कहा- शर्माती क्यों हो. पर ब्लाउज इतना कसा था कि हाथ अन्दर जा ही नहीं रहा था।तब मामी ने अपने जिस्म को हल्का ढीला किया.

थोड़ी देर बाद भाई ने एक और धक्का मारा और उसका लण्ड मेरी चूत की सील तोड़ता हुआ मेरी चूत में जड़ तक घुस गया।मेरी चूत से खून की धार निकल कर भैया के लौड़े से सन गई।मैं दर्द से चिल्लाने लगी।भाई ने अपना मुँह मेरे लिप्स पर रख हुआ था. और मेरे पति घर पर नहीं हैं।मैंने कहा- चलिए मैं आपकी हेल्प कर देता हूँ।उन्होंने हामी भरी और मैंने उनका गैस सिलेंडर चेंज कर दिया. तभी कन्डोम का ये हाल हो गया था।आलोक उठकर वहीं मेरे पास लेट गया। उसने अपना कन्डोम उतारकर वहीं बिस्तर के नीचे डाल दिया।अब मैं भी उठकर बैठ गई.

डॉग एंड गर्ल सेक्सी एचडी वीडियो

इसलिए मेरा हमेशा ये ही उसूल रहा है कि काम को अपने ऊपर इतना मत सवार करो कि अपनी सेहत और ज़ेहनी सुकून को तबाह कर बैठो. हम ऐसे ही रोज करेंगे।भारती भाभी को चोदने के बाद हम दोनों ने कपड़े पहने और घर गए।घर आते ही रूपा भाभी ने मजाक करना चालू कर दिया, रूपा भाभी तो मुझे डांटने का ढोंग करते हुए बोलीं- देखो देवर जी तुमने मुझे धोखा दिया और मेरे से पहले इनकी ले ली। इतना भी सब्र नहीं कर सकते थे।वो यह कह कर हँसने लगीं।बाद में बोलीं- कोई बात नहीं अभी रात होने दो. कुछ करते हैं।मैंने आपी को सर से पकड़ा और आपी को किस करने लगा।आपी भी मुझे किस का रेस्पॉन्स देने लगीं।किस करते-करते मैंने आपी का सर से अपना हाथ से उठाया और आपी की कमर को पकड़ कर आपी को पीछे की तरफ लेटाता हुआ आपी के ऊपर लेट गया.

यह बात आज से 3 साल पहले की है जब मैंने 12 वीं पास की थी और मैं किसी पार्ट टाइम जॉब की तलाश में था।मुझे जॉब मिल गई और वो भी घर से कुछ दूर नोयडा में ही मिली।मेरे नए ऑफिस में मेरी टीम में कुछ लड़कियां भी थीं. भला मैं आपकी पैंटी क्यों उठाने लगा?मेरा दिमाग खराब होने लगा आखिर ये चल क्या रहा था.

क्योंकि शायद उसके लण्ड की सील मेरी चूत के अन्दर ही टूट चुकी थी।फिर मैंने अपनी चूत से रोहन के लण्ड को चोदना शुरू कर दिया। रोहन भी अब अपना दर्द भूलकर मुझे चोदने लगा, उसके मुँह से ‘आहह.

बाकी सब अब मुझ पर टूट पड़े।वीरेश मेरे मम्मों को सहला रहा था। सबने मुझे चुम्बन किया मैंने भी सोच लिया था कि जी भर के चुदूँगी।अब सबने मुझे बिस्तर पर लिटा दिया और विवेक ने मेरी चूत को निशाना बनाया और धीरे-धीरे मेरे चूत में लण्ड डाला।वीरेश ने मेरे मुँह में लण्ड डाला।जय मेरे मम्मों से खेल रहा था।मेरी साँसें जोरों से धड़क रही थीं।मैं एक बार झड़ चुकी थी। अभी विवेक का छूटने वाला था. और ये दुनिया थम सी जाए।थोड़ी देर में मेरा वीर्य भाभी की योनि में दौड़ रहा था!भाभी भी निढाल सी होकर लेट गईं।फिर भाभी ने कहा- बुझी आपकी प्यास?मैंने कहा- अभी तो बुझ गई. शायद उनको रूपा भाभी के इरादों का अंदाजा था।उन्हीं में से एक भाभी मुझसे बोलीं- क्यों देवर जी, कैसी लगी हमारी बहती हुई नदी?वो धीमे-धीमे हँसने लगीं.

तुमसे मिले बिना कभी नहीं जाऊंगा।उसने मुझे चूम लिया।मैंने उससे पूछा- पूजा बताओ सबसे अच्छा क्या लगा?तो वो बोली- सब बहुत मजेदार था।मैंने कहा- सबसे ज्यादा मज़ा किसमें आया।वो कहने लगी- जब आपने मेरी चूत और मेरा दाना चूसा तब. हम अपने रूम पर वापस भी आ गए थे।अभी तक उसने मुझसे कुछ भी नहीं माँगा तो मुझे लगा कि शायद वो मज़ाक ही कर रहा था।उस दिन वैशाली भी हमारे साथ ही रूम पर आई थी, मैं भरपूर उत्तेजक मूड में था। पहले भी मैं कई बार वैशाली से सेक्स कर चुका था. मुझे तो पूरी उम्मीद है कि हो जाएगा दाखिला।’‘सगीर बेटा तुम मेरे दोस्त रहीम को तो जानते ही हो ना.

और खुद मेरे लण्ड को पकड़ कर उस पर बैठने लगी। मैंने भी उसकी एक चूची को पकड़ लिया और दबाने लगा।तब तक वो मेरे लण्ड पर बैठ चुकी थी और लण्ड उसकी चूत में जा चुका था.

लड़की चुदाई बीएफ वीडियो: मगर फिर उसकी शादी हो गई। अब मेरा लण्ड फिर से अकेला हो गया है।दोस्तो, यह थी मेरी सच्ची कहानी। मैं आप सब दोस्तों की मेल का इंतज़ार करूँगा।[emailprotected]. उसकी चूचियाँ दबा रहा था और बीच-बीच में करीना की चूत में उंगली कर रहा था।करीना मुझे अपनी ओर खींच रही थी.

और दरवाजा अन्दर से बंद कर लिया।मैंने तो एकदम भूखे भेड़िये की तरह उठ कर चाची को पकड़ लिया. नहा रहा हूँ थोड़ा टाइम तो लगेगा ही ना।मैंने फरहान की बात का कोई जवाब नहीं दिया और नीचे कामन बाथरूम के लिए चल दिया।मैं बाथरूम के पास पहुँचा ही था कि आपी के कमरे का दरवाज़ा थोड़ा खुला देखकर रुक गया और अन्दर देखा तो आपी चादर. उसके सफ़ेद कुरते से उसके अन्दर गुलाबी ब्रा झलक रही थी।मुझे वो कुछ परेशान सी लगी, मैंने उससे पूछा- क्या बात है.

’आपी ने अम्मी को जवाब दिया और अन्दर जाने ही लगी थीं कि मैंने उनका हाथ पकड़ा और अपनी तरफ खींच कर आपी के होंठों को अपने होंठों में जकड़ लिया।तकरीबन 2 मिनट तक मैं और आपी एक-दूसरे के होंठों और ज़ुबान को चूसते रहे.

’ करने लगी।भाई पूरी स्पीड से मुझे चोदने लगा और मैं भी अब मज़ा ले लेकर उसके लण्ड से चुदने लगी और अपनी गाण्ड मटकाती हुई- आअहह ऊऊऊ ओहो. मैं तुम्हारे चेहरे को बहुत प्यार करना चाहता हूँ।उसने कहा- जो करना है वो जल्दी करो. फिर मैंने एक लंबा जोरदार होंठों पर चुम्मा लिया।इधर लंड महराज मामी की चूत के छेद में घुसने को बेताब थे, मैं अपने लंड को मामी की चूत की दरार पर घिसने लगा।मामी की चूत पहले से ही बहुत रसीली हो रही थी.