देसी बीएफ खेत वाली

छवि स्रोत,राजस्थानी मारवाड़ी सेक्स पिक्चर

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी स्कूल वाली सेक्सी: देसी बीएफ खेत वाली, तो मैंने उनसे बोला- बुआ, आप दोनों से एक बात पूछ सकता हूँ?बड़ी बुआ बोलीं- हां पूछ न!मैं बोला- आप बुरा तो नहीं मानोगी?वो बोलीं- नहीं मानेंगे … तू बोल.

नुदे फोटोज

निशा भाभी इठला कर बोलीं- मैं नहीं जानती … क्या बोल रहे हो आप!मैं- बनो मत भाभी. डॉग और गर्ल की सेक्सी पिक्चरकल फिर से आपको उल्फ़त की चुदाई के साथ साथ अपनी सगी बहन की चुदाई की कहानी को भी लिखूंगा.

उसी दिन वो रात में मेरे रूम में आ गई और मेरे लंड को मुँह में लेकर ब्लोजॉब देकर चली गयी. सेक्सी पिक्चर मूवीऔर फिर एक दिन जब मैं उनके घर पहुंचा तो जाते ही उन अंकल ने कहा- आज तुम पिंकी की चूत मारोगे; उसका बहुत मन है.

तब मेरी बीवी शनाज़ ज़ोहरा आपा से बोली- आपा … अभी कुछ देर पहले तो आप बहुत खुश थी.देसी बीएफ खेत वाली: सबसे बातचीत हो रही थी।सबने शाम को खाना खाया और सोने की तैयारी की मेरी तो धड़कनें बढ़ने लगी.

और थोड़ी देर बाद तो पूरा का पूरा अंदर लेने लगी। अब उसके मुंह से आह जैसी आवाजें निकल रही थी।हम खुले में थे क्योंकि ऊपर रास्ता भी था तो मैंने उसके मुंह पर मुंह लगाकर उसकी आवाज को रोक लिया और आराम से धक्के लगाने लगा.जैसे किसी को जब अचानक से सुई चुभ जाती है … तो वो उईईईईई करता है, ऐसे ही ये आवाज़ लैब की टॉयलेट से आई थी.

अंग्रेजों की सेक्सी वीडियो फिल्म - देसी बीएफ खेत वाली

तभी मेरे शौहर ने गला खंखारा और दोनों लड़के मुझे छोड़ कर झट से निकल गये.दोस्तो, उस दिन भाभी काले रंग के सूट में आई थीं और मेरी कलम यह वर्णन नहीं कर पा रही है कि भाभी काले सूट में कितनी सेक्सी माल लग रही थीं.

यार तुम्हारी नशीली आंखें, तुम्हारे लंबे काले बाल, तुम्हारा ये सेक्सी फिगर मुझे आजकल बहुत परेशान कर रहे हैं। जो कशिश, अदा, दीवानापन तुम में है, वो हमारी वाली में कहां है … मैं तो तुम्हारा उसी दिन से ही दीवाना हो गया हूं जब से तुम्हें पहली बार देखा था. देसी बीएफ खेत वाली तुम दोनों को मेरी बात माननी होगी, क्योंकि तुम्हारा पति होने के कारण मैं इस घर का मुखिया हूँ.

इसके बाद मैंने उनके अंडरआर्म्स के बाल भी निकालने के लिए कहा, तो दोनों बुआओं ने मुझे अपनी बगलें साफ़ करवा लीं.

देसी बीएफ खेत वाली?

मैंने उसकी चूत को उंगली से चोदते हुए कहा- ले फिर मेरी जान … तेरी चूत का भी उद्घाटन कर देता हूं. लेकिन मैंने थोड़ा धीरज रखा और फिर मैंने एक झूठ बोला- मैं आपके पास काम से अक्सर आती हूँ लेकिन आपका केबिन बन्द रहता है. लण्ड के अन्दर बाहर होने के दौरान अवनीत बोली- मामू आज आपने कॉण्डोम भी नहीं लगाया है?वो तो आज लगाना भी नहीं है बेटा.

फिर मैं एक तरफ जाकर योगा करने लगा, तो थोड़ी देर बाद वो भी मेरे सामने आकर योगा करने लगी. आप अपने विचार मेरी ईमेल आईडी पर मुझे भेजें, ताकि मैं अगली रियल सेक्स स्टोरी आपके लिए और मस्त तरीके से लिख कर ला सकूं. अचानक उसने कहा- जानू, अब बर्दाश्त नहीं हो रहा है, अब चोदो मुझे!मैं उठा और अपने लण्ड पर ढेर सारा थूक लगाया और उसके बुर की कली पर रगड़ने लगा.

मैं अब उनका बायां दूध टॉप के ऊपर से दबाने लगा और उस मम्मे को तेजी से मसलने लगा. अभी मैं ये सब सोच ही रहा था कि मैडम के चीखने की आवाज़ आयी- उईईई ईईईई उम्म्ह… अहह… हय… याह… मां मर गयी …सर- आहहहह अब लगा है निशाना … कितनी गर्म चूत है मैडम तुम्हारी आहह … लंड जल सा गया. पूरा लंड घुसाने के बाद मैंने धीरे धीरे नीचे से धक्के लगाने शुरू किये.

वह भी पूरे मजे के साथ मेरे निप्पल को छेड़ रही थी और मेरे मुँह में उंगली डाल कर चुसवा रही थी।अब मैंने उसे बेड के बाजू पर लेटाया और उसके पैर को मेरी कमर पर फंसाकर धक्के लगाने लगा. उसके जाते ही नीता दौड़कर मेरे पास आई और बोली- जा ना कुत्ते, उसको वहीं बाहर बाथरूम में पकड़ ले.

चूंकि मेरा घर ज्यादा दूर नहीं था, तो अपने घर पहुंचने के लिए पैदल चलते हुए मुझे आधा घंटा ही लगता है.

उनके निप्पलों के साथ मस्ती कर रहा था।जब मामी से रुका न गया तो उसने झुक कर मेरे लंड के टोपे पर होंठ रख दिये और उसको होंठों से चूसने लगी.

पर मैं जल्दबाजी नहीं करना चाहता था।मुझे जब लगा कि माँ सो गई है, मैं ब्लाउज के ऊपर से ही उनके दूध दबाने लगा। उनकी इतनी उम्र होने के बाद भी ऐसा लग रहा था मानो जैसे 20 साल की लड़की के गदराए ताज़े ताज़े बोबे हों। मैंने एक एक करके ब्लाउज के सारे बटन खोल दिए. कुछ देर चुत चाटने के बाद मैं भाभी के ऊपर से उठा और अपने हाथ की हथेली से उनकी पूरी चुत को भर के जोर जोर से दबाने लगा. पर मेरे हिसाब से अगर आपके पास और कोई कपड़े नहीं हैं … तो आप सिर्फ ब्रा और पेंटी में रह कर तैरना सीख सकते हो.

मेरा मन तो कर रहा था कि अभी सड़क पर ही प्रियंका भाभी को पकड़ कर उनके कपड़े उतारकर अपना पूरा का पूरा लंड उनकी चुत में उतार दूं. फिर वो बोलीं- आप अपनी शर्ट उतार सकते हैं क्या?मैंने कहा- हां हां क्यों नहीं भाभी जी मैं तो शर्ट क्या पैंट भी उतार सकता हूँ. शकील के टैक्सी चलाने की वजह से उनको अपने परिवार की ज्यादा फिक्र नहीं रहती थी.

मुझे मन मांगी मुराद मिल गई क्योंकि वहां पिंकी दीदी भी तो थी जिस पर मैं बहुत फिदा था.

अब मैंने उसको कुतिया की तरह दोनों हाथ और पैरों पर टॉयलेट तक चलने को कहा. वो मेरे ऊपर आ गयी और मेरी गर्दन से किस करते हुए छाती पर चूमते हुए वो नीचे मेरे अंडरवियर पर जा पहुंची. मेरी परीक्षाएं नजदीक थीं, इसलिए मैं बहुत मेहनत से अपनी पढ़ाई में लगा हुआ था.

उसने अपनी गाड़ी पार्क करने के लिए गार्ड को चाभी दे दी और मुझे लेकर अपने घर में प्रवेश कर लिया. फिर उसने मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसा और एक बार फिर मेरे लंड का पानी मेरे मुंह में गिरवा लिया. भाभी ने मना करते हुए कहा- फिलाहल तो मेरी यही एक समस्या थी, जो आपने हल कर दी है.

आपको ट्रक ड्राईवर कीबीवी की चुदाईकी मेरी यह सेक्स कहानी कैसी लगी? आप मेरे को मेल करके बताना.

मेरा लंड तो फटने को हो गया ये सोचकर कि एक अनजान लेडी चुदाई के लिए तैयार है. मैं- हाँ तू मेरी रंडी है, तुझे बीच बाजार में नंगी करके चोदूंगा … मेरी कुतिया.

देसी बीएफ खेत वाली मैंने धीरे से कहा- मैं क्यों खाऊंगी?उसने कहा- क्योंकि कीमत वसूले बिना मेरा मुंह बंद नही होता. कई मर्तबा मैंने मॉम को अपनी चुत में उंगली करते भी देखा, तो मैं समझ गया कि इनको भीचुदाई की आगसताती है.

देसी बीएफ खेत वाली मैंने मैम की स्कूटी चैक की तो मुझे लगा उसके प्लग में कचरा घुस गया था. उन्होंने मेरे लंड को चड्ढी के ऊपर से पकड़ लिया और लंड मसलते हुए बोलीं- कितने महीनों से लंड का स्वाद नहीं चखा है.

निशा भाभी ने एक नॉटी स्माइल के साथ कहा- हां … और उठ भी नहीं रहा था.

सनी लियोन की एक्स फिल्म

मैंने भी उसका इशारा समझ लिया और लंड को धीरे धीरे उसकी चूत में अंदर बाहर करने लगा. अब संजय अंकल ने मुझे ब्रेक, गियर और सब चीजों के बारे में समझाया और फिर गाड़ी स्टार्ट करके मुझसे चलाने को बोला. अब मैंने अपना हाथ चारू की पैंटी के मध्य भाग में उसकी योनि के ऊपर टिका दिया.

कुछ देर बाद मुझे खेल समझ में आया, तो मेरे अन्दर का शैतान भी जाग उठा. वो मुझे बस किस करने, बूब्स चूसने और दबाने देती … उसके आगे कुछ भी नहीं करने देती. सेक्स चेट करते हुए वो बहुत चुदासी हो जाती थी।एक बार हमारे लेब में कोई नहीं था तब मैंने उसे किस करने को कहा.

फिर धीरे धीरे मैंने अपना पैर उसकी कच्छी पर उसकी चूत के ऊपर रख दिया और उसकी चूत को अपने पैर से मसलने लगा.

जब भाभी अपना सामान उठा रही थीं, तो उन्होंने अपने साथ आई लड़की से कहा- मैं कमरे में जा रही हूँ. इतना सुनकर शनाज़ भी खिलखिला कर हंस पड़ी और बोली- मैं समझी कि आपने कहीं गलती से ज़ोहरा आपा को चोद दिया. मैं खुश हो गया और सोचने लगा कि अब वहां पर क्या बहाना बना कर जाऊं क्योंकि उसके घर वाले बाहर थे और ऐसे में मैं उधर जाता, तो शक हो सकता था.

मैंने अपना लंड उसकी चूत के छेद पर रखा और एक ही झटके में अंदर घुसा दिया. फिर मैंने पिता के बारे पूछा, तो पता लगा कि वो ही मौसी को लेकर गए हैं. वो एकदम से चिल्लाई- आह्ह ओह्ह … पूरा डालो न… आह्ह।मैंने एक बार फिर से धक्का लगाया और उसकी चूत में पूरा लंड उतार दिया.

साथियो, मैं अपनी ममेरी बहन की चुदाई की कहानी को यहां एक विराम दे रहा हूँ. वैसे मुझे श्रुति भाभी ने पहले ही बता दिया था कि आप मुझे बुलाने वाली हो!भाभी बोली- कोई बात नहीं!और भाभी ने मुझे तारीख बतायी कि किस दिन आना है.

इधर की सेक्स कहानी पढ़कर ही मुझे भी मेरी यंग लड़की की चुदाई स्टोरी लिखने का विचार आया. इसलिए उन्होंने मेरी नंगी मॉम को गोद में उठा लिया और दिनेश अंकल के पास ले आए. मैं बुआ से बोला- आपके हाथ तो ठीक से चल रहे हैं, अब पैरों को चलाना भी सिखाता हूँ.

जिन्होंने नहीं पढ़ी है उनसे मेरी गुजारिश है कि वो पहले उसे जरूर पढ़ लें.

तो उस समय मेरी बहनों के एग्जाम खत्म हो चुके थे और मेरी बहन का बारहवीं का रिजल्ट आने वाला था. मैंने अपने दाएं पैर से उसकी मांसल जांघों को सहलाना शुरू कर दिया, वो मस्ती में तड़पने लगी. आप मुझे[emailprotected]पर ईमेल कर सकते हैं। जल्द ही आपसे एक नई अन्तर्वासना कहानी के साथ मुलाकात होगी.

उसने कहा- अच्छा, ऐसा करता हूं कि मैं एक बार चौधरी साहब से पूछ लेता हूं फिर दे दूंगा. कुछ देर चोदने के बाद उसने मेरी गांड में अपने लंड से कई पिचकारी ठोकी और मेरी गांड को अपने लंड के माल से भर दिया.

उसने पूछा- किस बात की माफी?तो मैं बोला- उस दिन जो पार्क में हुआ था, उस बात के लिए!अर्चना बोली- ऐसी छोटी-मोटी चीजें तो दोस्तों के बीच चलती रहती हैं. जब मैं पहली बार क्लास में गया, तो पता चला कि मेरे क्लास की बहुत सी लड़कियों ने भी यहीं एडमिशन लिया था. वे मुझे रोज ऐसी एक किताब दिया करते थे और उसमें लिखी अश्लील कहानी मुझसे पढ़वाते थे.

बीएफ वीडियो इंडिया का

तेरे अंकल का तो खड़ा भी नहीं होता … और होता भी है, तो दो मिनट में खत्म हो जाता है.

कज़िन सिस सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं छुट्टियों में अपनी बुआ के घर गया. मैंने कई बार उसके निप्पलों को जोर जोर से निचोड़ा, उसकी चूचियां मुँह में लेकर चूसीं, उसकी चूत चाटी, उंगली डाल कर उसकी चूत की मुठ मारी. उसकी पैंटी के ऊपर से ही मैं गांड की दरार पर हाथ से दबाव डालकर सहलाने लगा.

पर वो सोच रही थी कि ऊपर वाले के भेजे हुए फ़रिश्ते यह काम कर रहे हैं तभी उसे इतना मजा आ रहा है. मैं अपना सामान उठाकर आगे बढ़ रहा था कि मुझे एक लड़की की आवाज सुनाई दी- शर्ट खोलो न, बहुत बोल रहे थे, मुझे भी दो … मुझे भी दो।मैंने आगे जाकर देखा तो एक बुड्ढा आदमी एक लड़की की शर्ट खोल रहा था। उस आदमी की उम्र करीबन 50-52 साल के आसपास थी. हरतालिका उखाणेइतनी मस्त चुदाई के बाद अभी भी ना फौजी के लंड की प्यास बुझी थी और ना ही दीदी की चूत की प्यास … तो वो दोनों एक दूसरे से चिपक कर फिर से फोरप्ले करने लगे.

फिर सोनल ने कहा- मुझे जगह बदलने पर नींद नहीं आती है … और घर में गहने और कीमती सामान भी है … इसलिए मुझे अपने घर में ही सोना है. मैं बहुत अच्छा पेंटर तो नहीं हूं … पर अगर कोई भी दिल से पेंटिग करेगा तो कुछ अच्छा ही बनेगा.

मैंने उठाया तो सामने से एक प्यारी सी आवाज में एक लेडी ने हैलो बोला और मैं दो सेकेण्ड के अंदर ही उनकी आवाज पहचान गया. वो रात भर मेरे से चिपक कर सोती रही और मैं उसकीचूत में उंगलीडालकर लेटा रहा. इसके बाद मैंने लंड को ज़ाफिरा की चुत से निकाला और उल्फ़त के मुँह में दे दिया.

लेकिन वह घटनाक्रम आज भी मेरी यादों में बसा है और उसने मुझे मेरे शुरू से ही कामुक बना दिया जो मैं अब तक हूँ. मुझे उस रात देर तक नींद नहीं आई क्योंकि मैं शाम को ही तो सो कर उठी थी. मैंने उनको पूछा- आप कौन हो?उन्होंने जवाब दिया कि जिसको आपने अपना नंबर दिया मैं वही हूं.

कुछ ही देर में भाभी मेरे सर को अपनी चुत के ऊपर दबाने लगी और उन्होंने अपने दोनों टांगें मेरी पीठ के पीछे बांध दीं.

मैंने उसका नाड़ा खोल दिया और उसकी चूत को पैंटी के ऊपर से ही सहलाने लगा. मतलब उस शै का नाम प्रिया था और यह पता चलते ही मैं खुश हो गया कि चलो ज्यादा नहीं सही … नाम तो पता चल गया.

मैं शाम को फिर स्कूल आई और प्रिन्सिपल के रूम तक मुझे ले जाने उसके क्लास टीचर आए थे. मम्मी पापा से तो कोई प्रॉब्लम नहीं थी क्योंकि वो तो सुबह निकल कर शाम को ही आते थे लेकिन रिया का कॉलेज बंद था. भाभी ने मुझे और मेरे लंड को साफ किया और मैं बेड पर वापस आकर लेट गया.

लेकिन मैं अभी भी पूर्वी को चोदे जा रहा था और कुछ देर बाद हम भी झड़ कर शांत हो गए।उस रात हमने मिलकर बहुत चुदाई की।उसके बाद घर में हम नंगे ही घूमते और जब पापा ऑफिस जाते तब पूर्वी और माँ को मैं एक साथ चोदता।हमें 4 महीने बाद पता चला कि पूर्वी और माँ दोनों पेट से हैं. मेरे लंड को तुनकी मारते देख कर ज़ाफिरा की आंखों में एक शरारती मुस्कान दिखने लगी. इसी तरह सुबह ग्यारह बजे से ले कर दोपहर के दो बजे तक दो राउंड हुए जिसमें सबकी भरपूर चुदाई हुई.

देसी बीएफ खेत वाली पांच छह जोर के चांटे मारने के बाद वो मेरे ऊपर ही ऐंठने लगीं और वो मेरे ऊपर ही निढाल होकर गिर गईं. उसके बाद उसने मेरी बहन को सीधा घुमा कर बहन की चूत को चूसना शुरू कर दिया.

அன்னன் தங்கச்சி செக்ஸ்

बीस मिनट की धकापेल चुदाई के बाद मेरा लंड अकड़ने लगा, तो मैंने स्पीड बढ़ा दी. शादी भी हो गयी और सब लोग लौट भी गये मगर उस भाभी का पता नहीं लग पाया. वॉशरूम में चूमा चाटी के बाद हवस मिटाने की हमारी कोशिश अधूरी रह गयी.

हम घर पहुंचे … और सोनल ने मुझसे कहा- पहले तुम काजल को चोदोगे … तब तक मैं बाहर बैठूंगी … क्योंकि काजल के सामने मुझे शर्म आती है. इतना कह कर वो बाहर जाने लगे और मुझसे बोल गए कि तैयार होकर बाहर आ जाना. जंगली सेक्स वीडियो एचडीफिर भाभी नाईटी पैंटी लेकर नंगी ही गांड हिलाते हुए अपने कमरे में चली गईं.

फिर उसने धीरे धीरे मेरी गर्दन को चूमते हुए मुझे नीचे लिटा लिया और मेरी पूरी बॉडी को चूमने लगी.

मेरा मुंह रानी की चूत पर लगा हुआ था और पिंकी अपनी दोस्त की चूचियों के साथ खेल रही थी. उसके बाद एक दिन वो उसके पड़ोस में रहने वाले एक लड़के के साथ पटना चली आई और वो लड़का उसे पटना में छोड़कर कहीं भाग गया जिसे वो अपना पति कहती है और ये कहते-कहते वो रोने लगी और उसे गाली देने लगी.

आप नीचे दी गयी ईमेल पर अपने मैसेज भेजें या फिर कमेंट्स में अपनी बात लिखें. वो अपने दोनों हाथों को इस प्रकार छटपटाने लगी जैसे कोई मछली बिन पानी छटपटाती हो।दोस्तो, क्या मजेदार अनुभव होता है जब लंड किसी योनि के अंदर होता है. मैं खुश हो गया और सोचने लगा कि अब वहां पर क्या बहाना बना कर जाऊं क्योंकि उसके घर वाले बाहर थे और ऐसे में मैं उधर जाता, तो शक हो सकता था.

यह सिलसिला कई माह तक उसका छुट्टियों में आने तक चलता रहा और हमारी नजदीकियां बढ़ती गई.

फिर जब सत्यम ने हम दोनों को बारी बारी से चोदा, तो ममता और सुमेधा भी जाग गईं. यह भाबी सेक्स Xxx कहानी दो साल पुरानी उस समय की है, जब मैं 12 वीं कक्षा में पढ़ रहा था. सोनल के मुँह से मेरी चुदाई की तारीफ सुन कर उसको झटका लगा और काजल सोनल से गुस्सा हो गई थी.

अक्षरा नाम की लड़कियां कैसी होती हैंउसके बाद मैंने उसकी टांगों को खोला और उसकी पाव रोटी जैसी चूत पर अपने लंड का सुपारा घिसाने लगा. एकाएक मेरे लंड से वीर्य निकलने लगा और चाची की चूत में मैंने सारा वीर्य भर दिया.

ब्लू फिल्म सेक्स वाला दिखाइए

भाभी की ऊईई ऊईई आहह आहह आहह उईई! की आवाज तेज हो गई और मैंने भी अपनी रफ़्तार और तेज कर दी. मगर मैंने उसकी कमर को कस कर पकड़ा हुआ था और एक जोर का झटका देकर पूरा लन्ड उसकी गांड में डाल दिया।वो जोर से चीख उठी- भ. अपनी बहन की खूबसूरत जवानी को देखता रहता था लेकिन कभी चोदने का नहीं सोचा था.

उनकी ये सब रिकॉर्डिंग सुन कर मुझे सारी कहानी समझ आ गई कि शकील और मेरी अम्मी का जिस्मानी रिश्ता है. उस वक्त मुझे बड़ा अजीब सा महसूस होता क्योंकि इससे पहले मैंने केवल एक लड़की को पटाया था और उसकी चुदाई की थी. मगर अबकी बार मैं ज्यादा देर तक होंठों पर नहीं रुका और उसके बदन को जहां तहां से चूमने लगा.

तुम्हारा चेहरा और तुम्हारी बॉडी देख कर तो कोई भी लड़की तुमसे प्यार करने लगेगी. कहानी का पिछ्ला भाग:ट्रेन के सफर में मेरे शौहर की कारस्तानी-3सुबह ठीक 5 बजे मेरी नींद खुल गई और मैं उठ कर बाथरूम को चल पडी़. इस समय उसने रेड कलर की जालीदार नाइटी पहनी हुई थी जिसमें से उसकी ब्लैक ब्रा साफ साफ दिखाई दे रही थी.

पर आराम से डालना आप!मैंने कहा- ठीक है।उसकी कमर को मैंने कस कर पकड़ लिया और लन्ड पर दवाव बनाया तो उसका सुपारा उसकी गांड की छेद के अंदर चला गया।उसके मुँह से एक जोर की चीख निकल गयी- उईइ माँ मर गयी … निकालो भैया!उसने लन्ड अपनी गांड में से निकलने की कोशिश की. जिस समय बुआ लोग मेरी मदद कर रही थीं, उस वक्त मैं साड़ी पहने दोनों बुआओं की गांड देख रहा था.

और करीब आधे घंटे की चूत ठुकाई के बाद सुधा ने अपना पानी सागर के लन्ड पे छोड़ दिया और उठ गई।अब सागर भी उठा और सुधा को फिर एक बार किस करते हुए उनकी चूचियों को पीने लगा और फिर सुधा को सोफे पर सीधे लिटा दिया और उनके ऊपर चढ़ कर मम्मी की दोनों चूचियों के बीच में अपना लन्ड फसा लिया.

कुछ ही पलों में मैंने उसको हल्का सा ऊपर उठाया, ताकि उसकी ब्रा भी खोल सकूं. दमदार सेक्सीअब मैंने लंड को एक झटके से घुसा दिया और तेज़ तेज़ झटके मारने लगा।उसकी आवाज सिसकारियों में बदल गई और वो अपनी क़मर चलाने लगी. चाइनीस सेक्सी वीडियो फिल्मउम्मीद है कि पिछली कहानी की तरह इस कहानी को भी आप लोगों को भरपूर प्यार मिलेगा।मेरा ईमेल आईडी है[emailprotected]कॉलेज की सेक्सी गर्लफ्रेंड की कहानी का अगला भाग:गर्लफ्रेंड की चुदाई की अधूरी तमन्ना- 3. मैंने नीता के मुंह से लंड को बाहर निकाल लिया और उसकी चूत में उंगली देकर अंदर बाहर करने लगा.

अगली बार जब मैं दीदी के रूम में था तो रात को दो बजे मैंने सोच लिया था कि दीदी की चूत में लंड दे ही दूंगा.

फिर उसने टेबल से गिलास उठाया और मुझे बादाम का दूध पिलाया।उसे पीते ही मेरे लौड़े और शरीर में करंट दौड़ने लगा।मैंने उसे बिस्तर पर पटक दिया और उसके ऊपर आ गया।उसके ऊपर आकर मैं उसकी चूचियां दबाने लगा और उसकी चूत में लन्ड रगड़ने लगा।वो सिसकारने लगी- आह्ह राज … अब चूत को ऐसे मत तड़पाओ, इस लंड को अब बाहर नहीं अंदर डालो. मैंने उससे बैठने को बोला और पूछा- क्या खाओगी?वो बोली- अरे तुम बैठो न … टाइम आने पर बता दूंगी कि क्या खाऊंगी. उसके निप्पल मम्मों के ठीक बीच में थे।काले रंग के निप्पल सफ़ेद मम्मों पर जंच रहे थे। मेरे मुंह में पानी आ गया और मैंने उसके मम्मों को मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया.

मैंने उल्फ़त से पूछा- उल्फ़त तुम्हारा कोई ब्वॉयफ्रेंड है क्या?उल्फ़त बोली- नहीं भाईजान, मेरा कोई ब्वॉयफ्रेंड नहीं है. मैंने मैम की स्कूटी चैक की तो मुझे लगा उसके प्लग में कचरा घुस गया था. मैंने देखा कि चाची मेरी बगल में ही थी मगर उनकी साड़ी उनके सीने पर नहीं थी.

ભુત ફિલ્મ

दोस्तो, किस तरह से मेरे मम्मी के यार से मेरी चुत चुदाई का आगाज हुआ, ये मैं आपको सेक्स कहानी के अगले हिस्से में बताऊंगी. नीता ने उसको पहले से ही गर्म कर रखा था और मेरे हाथ का स्पर्श भी उसको पिघलाने लगा. मैंने उसे छेड़ते हुए कहा- आज कितनों को मारने वाली हो?उसने भी तपाक से बोल दिया- कितनों का तो पता नहीं, पर आपको जरूर मारने का विचार है.

मैंने उसका हाथ अपने लौड़े पर रख दिया और कहा- ये वाला?उसने मुझे चूमते हुए हां कह दिया.

मेरी पिछली कहानी थी:बीवी की चुदाई में भानजी भी चुद गयीआज मैं आप सबके लिए अपनी न्यूड भाभी सेक्स कहानी लेकर आया हूं.

अचानक मेरी की ज़ुबान से निकला अम्मी सही बोल रही हैं आपा!मेरी ज़ुबान से इतनी बात सुनते ही ज़ोहरा आपा की आँकहें हैरानी से फ़ैल गई. फिर धीरे-धीरे मैं उसकी जांघों से ऊपर होते हुए उसकी चूत पर जीभ लगाने लगा. हीरोइन सेक्सी हिंदीकुछ मिनट बाद जब कॉलेज आ गया तो मैंने कहा- जाओ और अपना काम करके आ जाओ, मैं कॉलेज के गार्डन में बैठा रहूँगा … वहां आ जाना.

हैलो फ्रेंड्स, आज मैं इस सेक्स कहानी में आप लोगों को अपनी दो छोटी बहनों के साथ सेक्स रिश्ते के बारे में बताने जा रहा हूँ कि कैसे मैंने सेक्सी बहन की चूत मारी. इस पोजीशन में झुके झुके अवनीत को दिक्कत होने लगी तो उसने अपने हाथ मेज से हटाकर कुर्सी पर रख दिये जिसके कारण वो और ज्यादा झुक गई. वैसे मेरा अपना मानना है कि जवान लौंडियों की चूत में 18 से 24 की उम्र में ज्यादा चुल्ल मचती है.

अन्जाने में मैंने शिल्पी की गांड को छू लिया और मेरा लंड खड़ा हो गया. मेरा लण्ड शांता की चूत को चीरते हुए अंदर घुस गया।वो एकदम से चिल्लाई- आआआ … ऊऊऊ … मर गयी साब … आह्ह … गयी मेरी चूत काम से … हाय दैया … ओह्ह … फट गयी रे!मैं बोला- घबरा मत रानी.

जब मुझे लगा कि मामी गहरी नींद में है तो मैंने उनके पास जाने का सोचा.

अभी इस कहानी में इतना ही लिख रहा हूं वर्ना कहानी बहुत अधिक लम्बी हो जायेगी. उमेश सर- तुम चिंता क्यों करते हो मेरे पास सब है … तुम बस इतना बताओ कि तुम खुद से साड़ी बांध लेते हो … क्योंकि मुझे साड़ी बांधनी नहीं आती. मगर मैं बोला- चलो … फिर तुम भी मेरे साथ चलो … हम दोनों गार्डन में बैठते हैं.

लड़की प्रेगनेंट कब होती है लेकिन मैंने उसको कसके पकड़ लिया और अपने लंड को उसकी गांड में धीरे धीरे अन्दर करता रहा. फिर दोनों हांफते हुए एक दूसरे की साइड में गिर गये।हम दोनों के चेहरे पर आत्माँ तक की तृप्ति के भाव नजर आ रहे थे.

मैंने अपना लंड बाहर निकाला तो लंड के ऊपर की चमड़ी धधक रही थी … जैसे आग में जल रही थी. सर ने जो ब्लाउज दिया था, वो स्लीवलैस था और बिल्कुल मेरे साइज़ का था. मैं खुश भी था और दुखी भी; क्योंकि बिना कॉन्डम को चोदा था तो गर्भवती होने का डर भी था.

हिंदी फिल्म सेक्सी बीएफ

वो मना करने लगीं, तो मैंने उन्हें ये कह के मना लिया कि ये चुदाई और भी मज़ेदार होगी. लेकिन मां मुझे नहीं देख सकती थी पर मौसी मुझे पूरे गौर से देख रही थी और बड़ी गौर से देख रही थी. मुझे उसे उसी उम्र से ही प्यार हो गया था और वो भी मुझे प्यार करती थी.

वीर्य निकलने के साथ ही मेरा जोश एकदम से कम होता चला गया और मैं निढाल होकर मामी के ऊपर ही पड़ गया. उल्फ़त- तुम्हारी गर्लफ्रेंड क्यों नहीं है भाई?मैंने कहा- अभी तक ऐसी कोई मिली ही नहीं जो कि मेरे लायक हो.

लेकिन उसके अलावा मुझे किस किस के सामने अपना सेक्सी बदन पेश किया?आपने अब तक की सेक्स कहानीबेटे के भविष्य के लिए कई मर्दों से चुदी-1में पढ़ा कि मैं अपने बेटे की ख़ुशी के लिए एक पुलिस इंस्पेक्टर से चुदवाने के लिए राजी हो गई थी.

आंटी मेरे सर को पकड़ कर अपने चूचों पर दबाए जा रही थीं और मैं उन दोनों रसीले आमों को जी भरके पी रहा था. उस समय वो मस्त माल लग रही थी जैसी कि इंडियन सेक्स वेब सीरीज में रसीली भाभियां दिखाई जाती हैं. मैंने कैसे उससे बात शुरू की, कैसे उसे दोस्त बनाया, फिर उसकी चूत को चोद कर मजा किया?दोस्तो, मेरा नाम मनीष वर्मा है.

तब उन्होंने अपने आपको देखा और बोलीं- राज … ये क्या किया!वो आश्चर्य भरी नजरों से मेरी ओर देखकर बोलीं- तुम कब जागे? और ये सब कब किया?मैं- जान … जब तुम नींद में अपने सपने सजा रही थीं … तब मैं तुम्हें सज़ा रहा था. फिर जब ये सुनिश्चित हो गया कि शिल्पी गहरी नींद में है तो नीता धीरे से उठकर मेरे पास आ गयी. मैं इस बार उसके एक दोस्त से कैसे चुदी और उसके बाद मेरे तीन ब्वॉयफ्रेंड ने मुझे कैसे पेला, साथ ही मैं अपने सगे चाचा से कैसे चुद गई … ये सब मैं आपको अगली सेक्स कहानी में लिखूंगी.

मैंने कुछ नहीं सोचा और बिना समय गंवाए अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए और मस्त होकर चूसने लगा.

देसी बीएफ खेत वाली: उसका हाथ नहीं दिख रहा था लेकिन ऐसा लग रहा था मानो वो अम्मी की रानें दबा रहा हो. मैंने उसे कैसे चोदा?मेरे प्यारे दोस्तो, कैसे हैं आप सब? आपने मेरी पिछली कहानीमौसी की बेटी की चूत चुदाई का मजाके लिए जो प्यार दिखाया है उसके लिए आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद.

तो चलिए आते हैं सीधा मेरी कहानी ‘ट्रक ड्राईवर की बीवी की चुदाई’ पर. दास्तो, आपको न्यूड भाभी सेक्स कहानी और बहन की चूत की ठुकाई पढ़ने में मजा आया हो तो मुझे भी बतायें. मैंने अपनी गांड चुदाई की शुरूआत कैसे की? चचा ने मेरी गांड कैसे मारी.

कुछ देर के बाद ननद अपनी चूत में उनके लंड को और अंदर लेने के लिए अपनी टांगों को उसकी कमर पर लपेट लिया.

उनको देख कर मेरे तो पैंट में लंड ने आन्दोलन करना शुरू कर दिया था, लौड़ा पैंट फाड़कर बाहर आने को मचलने लगा था. फिर मैम मुझसे मेरे बारे में पूछने लगीं- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?मैंने कहा- नहीं. जब ज़ोहरा को इस बात का अहसास हुआ तो उनके जिस्म में जैसे हाई वोल्ट का करेंट दौड़ गया.