ब्लू फिल्म दिखाओ बीएफ

छवि स्रोत,xxx.iii वीडियो एचडी

तस्वीर का शीर्षक ,

हार्डकोर सेक्सी वीडियो: ब्लू फिल्म दिखाओ बीएफ, अभी वह अपनी नाइटी को हटाने नहीं दे रही थी इसलिए मैं उसको कपड़ों में ही नाइटी के ऊपर से ही चूमने लगा.

देसी चुदाई मारवाड़ी

मैंने धीरे-धीरे भाभी के मुंह की तरफ गांड को धकेलते हुए उसके मुंह की चुदाई करनी शुरू कर दी. ભાભી સેક્સ વીડીયોजैसे ही मैं कमरे में गई तो मैंने जाते ही उन दोनों की नंगी 3-4 फोटो खींच ली.

उस दिन शाम तक मैं उसके घर पर ही रहा और हमने साथ में खाना खाया और उसके बाद दो बार फिर से सेक्स किया. शेर का सेक्सपूरी बात जानने के लिए पढ़ें मेरी कहानीभाई की कुंवारी साली की सील तोड़ीआशीष का शक सही था, पर मैंने उससे सब छुपा लिया.

रिया अभी 25 साल की है और उसकी फिगर 32-30-38 की है उसकी 38 इंच की गांड बड़ी ही मारू है, हर किसी की निगाह उसकी इस फाड़ू गांड पर ही ठहर जाती थी.ब्लू फिल्म दिखाओ बीएफ: वहाँ भैया और भाभी ही रहते थे, उनका एक ही रूम था और वो मेरे सोने के बाद सेक्स करते थे.

तू पलंग पर बैठी होगी औऱ तेरा पति तेरा पास आएगा और तेरा घूंघट उठाएगा, तेरा गाल चूमेगा.अंगूठे और दूसरी उंगली से योनि की पंखुड़ियों को फैला मेरी योनि खोल दी.

कामसूत्र सेक्स व्हिडिओ - ब्लू फिल्म दिखाओ बीएफ

ये झंडे गाड़े हैं तुमने?कटरीना सी सारा शर्म से पानी पानी हो गयी और वापिस भाग गयी.अभी वह अपनी नाइटी को हटाने नहीं दे रही थी इसलिए मैं उसको कपड़ों में ही नाइटी के ऊपर से ही चूमने लगा.

फिर मैंने प्यार से उसके माथे को चूमा और पूछा- ज्यादा दर्द तो नहीं हो रहा?तो उसने पलक झपका कर उत्तर दिया और वो हैप्पी हो गयी. ब्लू फिल्म दिखाओ बीएफ बाहर आकर कहने लगे कि सपना तुम भी अपने आप को बाथरूम में जाकर साफ कर लो.

उसकी आंखों में एक अलग ही नशा था, वह मुझे चूमे जा रही थी और मेरे लिंग को मसल रही थी.

ब्लू फिल्म दिखाओ बीएफ?

जब वो मेरे सुपारे को अपने होंठों से लगाए हुए थी, तभी मैंने उसकी जांघ पर चिकोटी काटी, जिससे उसका मुँह एक चीख के कारण खुल गया. उन्होंने झट से अपना सुपाड़ा मेरे मुँह में फँसाया और मेरा सर पकड़ लिया. फिर संडे को उनका मैसेज आया कि उन्हें कहीं जाना है, क्या मैं ले जाऊंगा?मैंने हां कर दी.

मैंने उस जगह पर पहुंचकर दरवाज़ा खटखटाया तो पता लगा कि दरवाज़ा पहले से ही खुला हुआ था. कुछ पल ठहर कर मैंने एक बार लंड बाहर खींचकर फिर से चुत में घुसवा लिया. मामी ने मुस्कराते हुए कहा- क्या तू अब खुद नहाने लग गया, मैंने सोचा कि मुझे आवाज देगा.

फिर मेरे मुंह में लन्ड डाल कर चुसवाने लगा। कुछ पल में अजय का लंड फिर से तन कर खड़ा हो गया और मेरे मुंह में भर गया. इस पर बड़ी कातिल अदा के साथ नीना भी पूरी घरेलू चुदक्कड़ औरत की तरह प्रशांत को तड़पाने के मूड में आ गई और पलटकर प्रशांत के खूंटे जैसे लौड़े को अपने दोनों हाथों से जकड़ लिया. उस दिन तो मैं वहां से आ गया मगर बार-बार नवीन की याद मुझे सताने लगी.

सोनू नीचे लेटी रही, उसकी चूत से जितना भी ब्लड निकला, मैंने अपने हैंकी से सोख लिया और चुपके से उसे बेड के नीचे डाल दिया. कुछ ही पल के बाद मैंने सीमा के पजामे के नाड़े को अपने हाथों से खींच कर खोल दिया.

मैंने उनकी नाइटी के ऊपर से उनकी योनि को टटोलना शुरू किया और मैंने देखा कि उनकी योनि पानी छोड़ रही थी.

मैंने कहा- आज पूरी रात मेरे घर कोई नहीं है, तुम चाहो तो रुक सकती हो.

मैं बोला- इस पिक को देख कर तो इस रंडी को चोदने का मन हो रहा है … ठीक है, मैं आता हूँ. मैं वहां जाके खड़ा हो गया, सामने से एक रेड कलर की कार आयी और उसका गेट खुला. अमीषी ने बताया कि उसने खुद ही एक दो तगड़े पैग बना दिए थे ताकि वो पीते रहें, साथ ही अमीषी ने दूसरे पैग में ही 2-3 टैबलेट भी डाल दी थीं, जैसा मैंने उससे कहा था.

वो आह आह कर रही थी और मेरे बालों पर हाथ फेर रही थी, वो मस्ती के साथ मेरे लंड को किस कर रही थी।फिर वो हाथ से मेरे पेनिस को सहलाने लगी और बोली- तैयार हो जा मेरे शेर. इस घटना के बाद बात इतनी अधिक बढ़ गई कि हम दोनों का कॉलेज साथ में जाना छूट गया. जैसे ही कोई मजबूत लंड मेरी चूत के लिए मिलेगा, मैं उसके साथ अपनी चूत चुदाई की कहानी आप सभी के सामने पेश करूँगी.

मेरे दोस्तो, इस कहानी के बारे में आप मुझे जरूर बताना कि आपको यह कहानी पसंद आई या नहीं.

अब वो मेरे लंड को अपनी चूत पर फिट कर चुकी थी मेरे ऊपर चढ़कर! मज़ा तो बहुत आ रहा था पर रिश्ते की लाज के कारण मैं शर्मा रहा था. तुम एक काम करो कि सामने कुछ कमरे बुक करवा रखे हैं, तुम वहीं चले जाओ. फिर मेरे मोबाइल ने 5 बजे के अलार्म ने मुझे जगा दिया, जो मेरे मोबाइल में सैट था.

मैंने देखा कि उसकी खुली छाती पर तने हुए उरोज अपने सिरे पर गुलाबी छतरी ताने मुझे ललचा रहे थे. मामी मुझसे इस तरह बर्ताव कर रही थीं मानो रात को कुछ हुआ ही नहीं हो. मैं बोली- अब जैसा भी हो, पर मुझसे रहा नहीं जाता और यह तेरा लौड़ा बहुत गर्म है.

परिवार की आर्थिक हालत अच्छी न होने से मैंने अपनी पढ़ाई बीच में छोड़ दी और पिताजी की खेत के काम में मदद करने लगा.

एक कज़िन से जो आरती का पति है, दूसरा मेरी पति और बाकी के चार जो आरती ने दिलवाए. मेरी उत्तेजना बढ़ने लगी पर मैं कुछ नहीं करना चाहता था अपनी भाभी के साथ.

ब्लू फिल्म दिखाओ बीएफ फिर वो मुझे चोदते चोदते मेरे ऊपर आ गए और हम दोनों लोग इसी पोजीशन में सेक्स करने लगे. उसकी चुत को हाथों से चौड़ा करके मैंने लंड को उसकी चुत की फांकों के अन्दर रख दिया.

ब्लू फिल्म दिखाओ बीएफ 3-4 मिनट में ही उसके लंड ने अपना रस मेरे मुंह में छोड़ना शुरू कर दिया. पहले वाला एक लड़का बोला- अरे तुम दोनों इसे एक साथ चोदो … बड़ा मजा देती है … तुम दोनों को बड़ा मज़ा आएगा.

इस नए शहर में किसी मित्र को बुला कर जोखिम भी नहीं उठा सकती थी, क्योंकि भले मैं नई थी, पर पति काफी दिनों से थे, तो कौन कहां पहचान ले, इस बात का क्या भरोसा था.

एचडी ब्लू

मैं कंप्यूटर में तेज़ हूँ क्योंकि मुझे कंप्यूटर पढ़ना बहुत अच्छा लगता है. मुझे अब भी यकीन नहीं था, तो उसने फोन मिलाकर अपने पति मेरे सामने उसे हां करवा दी और भविष्य में किसी भी तरह की जिम्मेवारी से मुझे मुक्त कर दिया. मुझसे चुदवाते वक्त लड़की की चीखें निकल जाती हैं और सबसे बड़ी बात है कि मेरी टाइमिंग पे भाभियां और लड़कियां मरती हैं.

उन्होंने उसे चूसने को कहा, मैंने फट से उनका लौड़ा अपनी मुँह में भर लिया और मज़े लेकर चूसने लगी. हरक लाल की बीवी सूरती की बहन का बेटा यानि सूरती का भांजा चिन्टू अकसर गाजीपुरा में अपनी मौसी के घर आता-जाता रहता था. मैं अब रुक नहीं सकता था, मैं उससे प्यार करने लगा था और उसे ढेर सारा प्यार करना चाहता था.

सोनम की बात से मैं उसके लिए इंप्रेस हुई कि कोई गांव का ऐसा वैसा ठुर्रा नहीं है, शहर में पढ़ने वाला लड़का है.

वो रशीद का सामान कितना गंदा और बड़ा था, मैं तो हमेशा से ही आपके लिए रेडी थी. उसने मना कर दिया और बोली- नहीं मैं खाना बना रही हूँ … खाना खा कर जाना. मैंने आंख मारते हुए कहा- नेकी और पूछ पूछ … आप सिर्फ उसे दोपहर को तैयार रहने को बोलना बस, इधर दोपहर में मामी जी को सुला कर मैं उसके पास आता हूँ.

परिवार की आर्थिक हालत अच्छी न होने से मैंने अपनी पढ़ाई बीच में छोड़ दी और पिताजी की खेत के काम में मदद करने लगा. सुबह नूरी खाला ने सारा और ज़रीना की हालत देखी तो सारा माजरा समझ गयी. अपने माल का तो खैर जो स्वाद था वो था ही लेकिन मुझे तो मैडम की उंगली के स्वाद ने पागल कर दिया था.

मुझे अपनी गलती का एहसास था, उस वजह से मैं चुपचाप उनकी जली कटी बातें सुन लेती थी. चाची बाथरूम में नहा रही थीं और ज़ोर ज़ोर से गाना गा रही थी ‘कुण्डी मत खटकाओ राजा … सीधा अन्दर आओ राजा … धीरे धीरे राजा …’बाहर बैठ कर मैं भी मज़े से गाना सुन रहा था कि अचानक चाची ने मुझे आवाज़ लगाई- सुन … वो मैं अपनी टॉवेल और कपड़े तो बाहर ही भूल गयी हूँ, ज़रा दे दे.

मामी जी- क्या ये अभी भी भूखा है? सारी रात तो मुझे चोदता रहा और अब फिर से अकड़ गया. इन दिनों काफी दिन से रिया को एक साथ कई लंड से चुदने का मजा नहीं मिला था. उस वक्त मैं पढ़ा करता था पर मैं हस्तमैथुन और सेक्स करने की विधि जानता था.

सड़क किनारे एक पम्प, टूटे घड़े में पानी, कैंची, सोलुशन की ट्यूब और कुछ पुरानी रबड़ की ट्यूबें लेकर बैठ जाता था.

अब ले … और चोद ले अपनी मर्जी से!” कहते हुए प्रशांत के हाथ कभी न आने की धमकी देने लगी. मैंने उसे बताया कि पहले अपनी वेशभूषा बदलो और रात में सोने के समय कुछ ऐसा पहनो, जिससे उसकी कामुकता झलके. जब हम दोनों की साँसें दुरुस्त हुईं, तो अपना लंड मामी जी की गांड से धीरे धीरे बाहर निकाल लिया.

मैंने मौका देख कर उसके होंठों पर अपने होंठों रख दिये और लगभग जबरदस्ती किस करने लगा. जब तक मैंने यह महसूस किया कि लंड मेरे कच्छे से बाहर आ चुका है, मैडम ने अपने गाउन खोल कर धरती पर गिरा दिया था.

एक बार तो लगा कि मैं ज्यादा देर तक उसके मुंह में टिक नहीं पाऊंगा लेकिन मैंने कंट्रोल बनाए रखा. फिर अगले दिन मैंने उसे फिर चोदा वो भी उसके रूम में, जब उसकी फ्लैटमेट दूसरे रूम में अपने पति से बात कर रही थी. कुछ देर में दरवाजा पर आहट हुई, नूरी खाला और सारा की बहनें नरगिस, आयशा और इमरान की बहनें दिलिया उसकी बहन अबीर नयी दुल्हनों से मिलने आयी.

ইন্ডিয়ান এক্স এক্স এক্স

फिर पूरा जोर लगा कर एक ही धक्के में मेरा पूरा लंड उसकी गांड में पेल दिया.

दस मिनट में वो 2 बार छूटी, कमरे में मेरे झटकों की आवाज़ बहुत बुलंद थी. चूंकि हमारा समाज रूढ़िवादी है और एक समय के बाद कामक्रीड़ा को अपराध की तरह देखता है. माँ व पापा अपने कमरे में चले गये और मैं ड्राईंग रूम में लेट गया। फिर मैंने पूनम के फोन पर एक मेसेज़ किया और साथ में ही उसने जवाब दे दिया।मैंने पूनम से कहा- जब मामा सो जायें तो मेरे पास ड्राईंग रूम में आ जाना!तो वो मान गयी।फिर मैं पूनम से मेसेज़ पर चैट करता रहा.

उसे कोई शंका न हो, इसलिए मैंने उससे कहा कि हमने अपने जीवन में बच्चे पैदा करने से लेकर आनन्द लेने तक सब कुछ कर लिया, हम दोनों को किसी भी चीज की कमी नहीं रही. जब मैं स्कूल की छोटी कक्षा में था, तो मुझे सेक्स के बारे में कुछ कुछ पता चल गया था, पर बहुत ज्यादा मालूम नहीं हुआ था. सुहागरात वाली बीपीसोनू शी …शी … करती रही, मुझसे कहने लगी- बहुत दर्द नहीं करना, नहीं तो मैं चीख पडूँगी.

हम थोड़ी देर हॉल में ही बैठे रहे, फिर दादाजी अपने रूम में चले गए और हम दोनों मेरे बेडरूम में आ गए. मेरी बहन ने मेरे मुँह को अपनी टांगों में फंसा लिया और एक हाथ से मुंह को जोर से दबाने लगी.

इस पोज में मुझे काफी दर्द होने लगा तो मैंने उससे कहा कि आराम से करे. इस पर उसने पूछा कि ऐसा वो क्या करे, जिससे उसका पति उसकी ओर आकर्षित हो. मेरे साथ काम करने वाली एक दो और लड़की भी मीटिंग के लिए आई थीं, लेकिन उन सब लोगों को मैनेजर सर ने दूसरे होटल में रुकने के लिए कहा.

उस महिला का काल्पनिक नाम प्रीति है, जबकी उसके पति का नाम सुखबीर है. तभी मैं आशीष से बोली- मुझे उठने दे, मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा … मैं नहीं मर जाऊंगी, मेरी हालत को तूने बहुत खराब कर दिया है. तुम एक साथ दोनों छेदों की चुदाई का मज़ा लेना चाहती हो, तो आज प्रैक्टिस कर लो.

मैं नए ब्रा और पैंटी लेने गयी थी और मेरी पसंद देख प्रीति ने भी मुझसे सुझाव माँगा कि वो अपने लिए किस तरह के ले.

मैंने पूछा- चड्डी में अंदर तुमने कुछ पहना हुआ है क्या?वह बोली- मेरे पीरियड्स चल रहे हैं. मेरा लंड भाभी के थूक की वजह से पूरा का पूरा ऊपर से नीचे तक गीला हो चुका था.

हां मौसी … लेकिन आप मुझको देखकर ऐसे हैरान क्यों हो? मुझे तो बड़ी मौसी ने बताया कि आप मुझे याद कर रही थी तो मैं आपके पास आ गया. आमतौर पर लड़की पहली बार में किसी मर्द को अपना सब कुछ नहीं सौंपती, पर मैं भी नए ज़माने की लड़की हूँ, मुझे पता था की इस सफर के बाद हम दोनों के रास्ते अलग हो जायेंगे और शायद हम फिर कभी भी न मिलें, तो मुझे आपके साथ सेक्स करने में कोई हर्ज़ महसूस नहीं हुआ क्योंकि एक तो आप अन्जान थे, दूसरा आपसे मुझे कोई डर नहीं था. मैंने दरवाजा खोला तो देखा, अपने इंस्टिट्यूट की यूनिफॉर्म में सोनू दरवाजे पर खड़ी थी.

उसने अपनी दोनों टांगें हवा में उठा दीं और मेरी तरफ देख कर बोली- लो मेरी जान कर लो अपने मन की. अगर आपको कहीं जाना है तो क्या मैं आपको छोड़ दूँ?कुछ देर वह मेरे सामने ही खड़ी होकर मुझे देखती रही. तब आशीष ने बोला- हां मैंने तेरी फ्रैंड को खूब चाय पिलाई, खाना खिलाया, स्वागत में कोई कमी नहीं छोड़ी.

ब्लू फिल्म दिखाओ बीएफ और इमरान का जब तक इलाज नहीं हो जाता, तक तक रोकते हैं, फिर देखते हैं. बड़े लड़के ने रोज दिन कालेज आने के झंझट से शहर में ही किराए पे कमरा लेकर रहना शुरू कर दिया और हर हफ्ते में आ जाता था.

बाप बेटी का एक्स वीडियो

गूं गूं गों गों करती ज़रीना दर्द से कराही।थोड़ी देर की बात है जानू, मेरा लंड तुम्हारी गाँड में घुस रहा है. मेरे दिमाग में यही सब प्लानिंग चल रही ही थी कि इतने में कल्पना आ गईं. इसके बाद के स्टेज पर नीना अपनी चूचियों की घाटी में लंड को समेटकर अप-डाउन करने लगी, जो प्रशांत के लिए सेक्सी फोरप्ले का अद्भुत नजारा था.

उसकी हाहाकारी ठोकरों से कुछ ही मिनट में मेरी गांड का दर्द थोड़ा कम हो गया और मुझे भी मज़ा आने लगा. मीना अब चुपचाप पड़ी रही, शायद उसे उम्मीद नहीं थी कि जो अभी तक बड़े प्यार से सुनार की भांति मेरे बदन को गर्म कर के मज़ा दे रहा था, अचानक से लुहार की भांति एकदम कैसे मेरी चुत में लंड की ठोकर मार सकता हैमैंने फिर से मीना को चूमना चालू किया. ब्लू वीडियो दीजिएउसके बाद अनुष्का ने मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ लिया और मेरे लंड के टोपे को पीछे खींचकर उसको सहलाने लगी.

उसने कहा- माँ, लेकिन आप यहां पर कैसे आ गईं?मैंने कहा- क्यों, जब तू यहां आ सकता है तो मैं क्यों नहीं आ सकती यहां पर?इतना कहकर मैं अंदर बेडरूम में चली गई और अंदर जाकर अपनी साड़ी का पल्लू खोलना शुरू कर दिया.

फिर कुछ दिन बाद मैंने उसे परपोज़ किया और उसने भी हाँ कर दी और एक स्माइल देकर चली गयी. हम दोनों ने उस रात में पूरे 5 राउंड लिए थे और चुदाई का पूरा मजा लिया था.

अब खाना भी हो चुका था, तो मेरा मन फिर से दोबारा चुत चोदने का कर रहा था और वैसे भी ये मेरी पहली चुत थी तो मन कर रहा था कि चोदता ही जाऊं … चोदता जाऊं. अगर आप कहानी के बारे में कुछ और कहना चाहते हैं तो कमेंट भी कर सकते हैं. मैंने कहा- तो बताओ प्रोग्राम शुरू करें?वो बोली- हां चलो, कमरे में चलते हैं.

उन्होंने कुछ पलों के लिए मेरी चूचियों को अपने मुंह में लेकर चूसा जिससे मैं गर्म होने लगी थी.

इनका काम बस किसी भी तरह अपने क्लाइंट को खुश करना होता है और इन्हें क्लाइंट की पर्सनल लाइफ से कोई मतलब नहीं होता. मुझे लगा कि यह बात तुझे बतानी चाहिए, अब तू जान तेरा काम जाने! लेकिन यह सबके लिए अच्छी बात नहीं है. मैं उसके चूचों को घूर रहा था तो उसने मुझे एक शरारत भरी स्माइल दी और मेरे सामने ही बैठ गई.

सेक्सी कुत्तियाफिर उसने अपनी स्पीड थोड़ी बढ़ाई और 4-5 जोर के झटके देकर वह थमता चला गया. लेकिन जबसे वो प्रेग्नेंट हुई, उसके पति ने उसके साथ प्यार करना बंद कर दिया क्योंकि वो अभी बच्चा नहीं चाहता था.

हॉट सेक्सी बूब्स

उन्होंने मेरे लंड को सहलाना जारी रखा, जब तक कि मेरे लंड का एक-एक बूँद रस निकल नहीं गया. इस बार उसके चुम्बन का स्वाद मुझे पहले से अलग और अधिक सौंधा लग रहा था. मामी जी भी पीछे की ओर अपनी गांड मेरे लंड पर दबा कर अपने चूतड़ों की दरार में लंड महसूस करके मस्त हो रही थीं.

थोड़ी देर बाद मैंने एक जोरदार धक्का और मारा तो मेरा लंड लगभग पूरा अंदर चला गया और वो तेज तेज चिल्लाने लगी. सेक्स के बारे में काफी कुछ इंटरनेट पर पढ़ कर समझा था, मगर कोई मिला नहीं जिसके साथ मैं कुछ कर पाती. इस बार सपने में भाभी को पकड़ कर ऐसे पकड़ा, किस किया और फिर उनको सपने में चाटने लगा, बोलने लगा- भाभी आप ऐसी हो, वैसी हो.

मैंने लंड खींचने की कोशिश की, उनको इशारा भी किया, पर उन्होंने लंड को नहीं छोड़ा. पर वो बोली- मुझे मस्त हवा का मज़ा लेने दो … और मेरे लंड भी तो मुझे ढूँढने हैं. स्स्स् … आह्ह् … स्स्स … और वह अपनी गांड उठाकर मेरे मुंह में लंड को धकेलने लगा था.

मैंने अपने दोस्त से कहा कि कुछ देर और रुक जाते हैं लेकिन वो साला मान ही नहीं रहा था. इन्हीं चूचियों के बारे में सोच कर मैंने कल रात को अपने लंड की मुट्ठ मारी थी.

चाची- आहह … ऊहह … हां मेरे राजा … छोड़ … ज़ोर से चोद मुझे … मेरी चुत का छेद बड़ा कर दे … बहुत हरामी हो गयी हूँ मैं … मुझे रंडी की तरह चोद … आअहह … ऊहह … आअहह राजा!मैंने पोज़िशन बदल बदल कर चुदाई की, कभी घोड़ी बना कर, तो कभी खड़े हो कर, पर सबसे ज़्यादा मज़ा तो रिवर्स काउगर्ल में आया … उस पोज़िशन में तो चाची का सारा दम निकल गया था.

कुछ देर बाद वो खुद आई और उसने आसपास देखा और कागज को लेकर नीचे चली गई. সোহাগ রাত ভিডিওथोड़ी देर बाद उनका पूरा बदन अकड़ने लगा और उन्होंने फिर से मेरे सिर को अपने चूत पर और कस के दबा लिया, वो झड़ गईं. नंगी सेक्सीआज तक उसके सामने मैंने कई लड़कियों को यहां फार्म हाउस पर लाकर चोदा था. उसके बाद उसने खुद ही उठकर अपनी नाइटी को पीछे से खोल दिया और निकालकर एक तरफ रख दिया.

कौशल्या- अच्छा ठीक है सर, आप पार्टी एन्जॉय कीजिये, मैं कुछ देर बाद आपको अपने एक बड़े इन्वेस्टर से मिलवाती हूँ।और कौशल्या जी वहाँ से चली गयी.

शॉवर में चोदते वक्त मैंने दीदी से पूछा- दीदी बता ना … तेरी सासू माँ क्या बोली थी और तुम दोनों हंस पड़े थे?दीदी ने कहा- उसने मुझे चाबी दी और जड़ी बूटी वाला पावडर हाथ में थमाकर कहा था कि इस बार दो चम्मच ज्यादा डालना … आज रात तुम्हारी असली सुहागरात है … पलंगतोड़ कबड्डी होनी चाहिये … मैं देखने आऊंगी. मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए और उसके सामने बिल्कुल नंगा हो गया. मैंने उससे पूछा- वैसे आपको जाना कहां है?उसने बता दिया कि वह कहां जा रही है.

मैं अपने लंड को बाहर खींचता और जब सिर्फ़ सुपारा अन्दर रहता, तो एक ही धक्के में अपना लंड उनकी गांड में पेल देता. मैं उसके पास चिपक के बैठ गया और समझाने लगा और उसको जगह जगह टच करने लगा जैसे कि नार्मल हो जाता है. इधर कोमल भी शायद यही सोच कर खुश हो रही थी कि जो मौका हमें वॉटर फॉल में नहीं मिल पाया वह मौका अब हमें घर पर मिल जाएगा.

सेक्सी वीडियो देसी गांव का

यह सुन कर मैं उसकी गोद में जाकर बैठ गयी और बैडमैन को किस करने लगी, वो भी मेरे कुर्ते में हाथ डाल कर मेरी पीठ सहला रहा था. फिर वो लड़का पूरा लंड पेल कर रिया के ऊपर लेट गया और ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा. मुझे देखते ही दोनों ठिठके, अगले ही पल जीजू मुस्कराते हुए बोले- आओ रचना, बैठो!मैं उनके साथ बैठ गई.

मैं थोड़ा एडजस्ट हो गया और एडजस्ट होकर उसका एक हाथ अपने लंड पर रखा और उसके मुँह के पास ले आया.

मैंने सीमा के होंठों पर अपने होंठों को रख दिया और सीमा के होंठों को चूसते हुए उसको बांहों में पकड़ कर उसकी चूत को पेलने लगा.

मेरे बेटे के साथ मेरी सेक्स कहानी आपको अच्छी लगी या नहीं, मुझे मेल कीजिएगा या अपने बेटे या माँ के साथ सेक्स करने मुझसे कुछ मदद चाहिये हो, तो भी आपका स्वागत है. मैं मीना के चुप पड़े होने का कारण उसकी शर्मिंदगी मान रहा था, किंतु वो तो हैंगओवर से परेशान थी. देसी गर्ल्स बीपीबस वो मुझे चूमता रहा और मेरे मम्मों को कस के रस निकलता रहा उन्हें ज़ोर ज़ोर से दबा दबा कर!कुछ देर इस तरह से करके उसने मेरा सारा ध्यान दर्द से हटवा दिया और मैं खुद ही अपने चूतड़ हिलाने लग गई.

फिर मैंने जरीना की जम कर चुदाई की और उनको जन्नत की सैर कराई और फिर उनके हाथ बांध कर, उसके मुंह में दुपट्टा ठूंस कर मैंने ज़रीना की चूत में उंगलियाँ घुसा कर गीली की और दुल्हन की गाँड में अपनी उंगलियों को घुसा दिया। और फिर चूत में अपना लंड घुसा कर लण्ड को चिकना किया और गांड के ऊपर रख कर हल्का सा धक्का लगा कर सुपारे को ज़रीना की गांड में फंसा दिया. मैं उनकी बातें ध्यान से सुन रही थी, तभी मेरी चुत के अन्दर से कुछ रिसने लगा, रस सा आने लगा. उसके गुलाबी होंठ, हसीन चेहरा, हिरनी जैसी आँखें, घने काले लम्बे बाल, गोल मटोल और सुडौल बूब्स, साड़ी में लिपटी हुई उसकी आकर्षक कमर, उसकी मटकती हुई गांड … मन करता है कि उसे अपने दोनों हाथों से पकड़कर हिला दूँ.

अचानक मुझे रोड की साइड में एक लेडी दिखाई दी जो अपने कंधे पर दो बैग लेकर साइड में चली जा रही थी. इस समय भैया नहाने गए हुए थे, तो मैं सीधा भाभी के पास किचन में पहुंच गया.

उनकी चूचियाँ भी मंझले आकार की थीं, पर नितंब बड़े-बड़े थे, पीछे को निकले हुए.

जितनी तेज़ी से मेरा लण्ड चूत के अन्दर जाता उतनी तेज़ी से सलोनी अपनी गांड मेरी जांघों से पीछे करके सटा देती,सलोनी बार-बार अपनी गांड को पीछे करके लण्ड को चूत में ले रही थी, कभी मैं उसकी चूचीमसलता तो कभी पीठ पर चुंबन करता तो कभी उसके चूतड़ पर चांटे लगाता. आपने रोमांटिक अंदाज़ से चुदाई शुरू की और मेरी फुद्दी पूरी बजा के रख दी. मेरे दिमाग ने काम करना बंद कर दिया, समझ में ही नहीं आ रहा था कि क्या करूँ … इसलिए मैंने मम्मी जी को कहा- मम्मी जी, मुझे थोड़ा और टाइम दे दीजिए सोचने के लिए … कल मैं आपको अपना फाइनल डिसिजन बताती हूँ.

मराठी.सेक्स भाभी की गांड के आसपास भी कुछ बाल थे, मैंने उसे भी साफ किया और उंगली गांड में देने लगा. मैं थोड़ा एडजस्ट हो गया और एडजस्ट होकर उसका एक हाथ अपने लंड पर रखा और उसके मुँह के पास ले आया.

दस मिनट की मम्मों और होंठों की चुसाई के बाद उन्होंने मुझे बेड पर धक्का दे दिया. मीना के घर के साथ वाले वाले घर में उसका जेठ यानि ननकू के भाई हरक लाल का परिवार भी रहता था. मैं मन ही मन सोचते हुए खुद से बोला कि अरे वही तो, सुबह चुदाई के दौरान पानी खत्म हो गया था, शायद इसको सब पता तो नहीं चल गया.

भाभी देवर के

अन्दर दादाजी सोनल के पास बैठे थे और अपने हाथों से सोनल का गाउन ऊपर उठाया हुआ था. मैंने उसकी बात पर कोई उत्तर नहीं दिया, तो उसने पूछा कि अगर आपको प्रॉब्लम न हो, तो उसको भी चोद दो. भाभी की चुत में मेरा लंड पैन्ट के ऊपर से जाने तैयार था, एकदम चिपका हुआ था.

उसके बाद उन्होंने मेरे जूते मोज़े उतार कर पैंट निकाल भी के एक साइड में डाल दी. तो वो भी मान गयी।फिर मैं तन्वी के साथ मार्केट गयी और वहाँ से हम दोनों कुछ अच्छे कपड़े खरीदे.

हम दोनों की वासना फिर जागने लगी, हमने किस करना, टीशर्ट हटा के चूचे चूसना … ये सब शुरू किया ही था कि उसके पति का फ़ोन आ गया और वो अपने फ्लैट भाग गयी.

मणि संजय के सामने ही कोमल की चुदाई के मजे लेता और कोमल की अपनी इस चुदाई को वो संजय को दिखाता. उन्होंने मुझसे पूछा- किसी चीज की जरुरत तो नहीं है?मैंने कहा- नहीं भाभी जी, मेरे पास सभी चीजें हैं, आप फिक्र न करें, मैं अपना काम करता रहा और हेमा भाभी को बैठने को कहा. मैं अपनी चूत को थोड़े से बालों से सजा कर रखती हूँ क्योंकि मुझे ऐसा करना अच्छा लगता है.

थोड़ी देर में ही काफ़ी समय से खड़ा, बेचैन लंड बेक़ाबू हो गया और मेरे रोकते रोकते भी मेरे लंड से सफेद वीर्य की पिचकारी निकल गई, जो पहले उनके बिस्तर के पार की दीवार से टकराई, फिर उनके शरीर पर गिरी. इस बात का खास तौर पर ध्यान रखना कि जैसा वो बोलेंगी, वैसे तुम्हें करना ही होगा … और फिर मेरी नाक का भी सवाल है … मेरी नाक मत कटवा देना तुम. जब मैं 10 बजकर 30 मिनट पर फ्लैट पर आई थी तो तब से ही उसका लिंग तना हुआ था.

उन्हीं दिनों एक दिन वो सफेद रंग का सूट पहनकर आयी और अन्दर उसने पिंक कलर की ब्रा और पेंटी पहन रखी थी.

ब्लू फिल्म दिखाओ बीएफ: उसने पूछा- और बता भाई … क्या करता है तू?मैंने कहा- कुछ नहीं, अभी तो पढ़ाई कर रहा हूँ। कॉलेज की छुट्टी थी तो इसलिए घर पर बोर हो रहा था और सोचा कि आपसे मिल लूँ।मैं भी पूरा सीधा बनने की कोशिश कर रहा था कि जैसे मुझे पता ही न हो कि मैं यहां किसलिए आया हूँ।एक-दो बात इधर उधर की हुई और तभी दरवाज़े में दो और लड़कों ने दस्तक दी. सुबह रीना का फोन आया और उसने कहा कि वह 15 मिनट में पहुंचने वाली है.

उसने पूछा- क्या हुआ?मैंने कहा- मैं तुम्हें घोड़ी की पोजीशन में चोदना चाहता हूँ. इन सारी प्रक्रियाओं में मैं तीन बार झड़ चुकी थी और अब बैडमैन भी झड़ने की कगार में था. उस महिला का काल्पनिक नाम प्रीति है, जबकी उसके पति का नाम सुखबीर है.

चूंकि पीठ का मसाज हो चुका था, तो मैंने उसे अब पीठ के बल लिटाया और फिर से पैरों से मसाज करना स्टार्ट किया जिससे उसके शरीर में करंट सा दौड़ गया और वो अपने दोनों हाथों से अपने चूचों को दबाने लगी.

जिससे उनकी सांसें भी तेज होने लगीं और उन्होंने मुझे बांहो में भरते हुए अपने मज़बूत किसानी जिस्म में जकड़ लिया. मैं जैसे ही नीचे जांघों के पास पहुंचा, मामी जी ने दीवार के सहारे खड़े खड़े ही अपने पैर खोल दिए. फिर मेरे मुख से निकल गया- तुम रोज़ मेरे लिए खाना बना कर लाना!वो सच में रोज़ खाना लाने लगी.