बीपी सेक्सी बीएफ व्हिडिओ

छवि स्रोत,भाभी को चोदने वाला सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

नेपाली एक्स वीडियो: बीपी सेक्सी बीएफ व्हिडिओ, पर मैं भी अब सब कुछ समझ गया था कि किसी को कैसे मज़ा दिया जा सकता है।तो मैं उसके निप्पलों को कभी चूसता तो कभी उसके होंठों को चूसता.

ಕನ್ನಡ ಸೆಕ್ಸ್ ವೀಡಿಯೊ ಕಮ್

अन्तर्वासना के पाठकों को मेरा नमस्कार! मेरा नाम सतीश है और मैं जलगाँव (महाराष्ट्र) से हूँ।मैं बहुत समय से अन्तर्वासना का पाठक रहा हूँ। मैं इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा हूँ।मेरी उम्र 21 साल है, लम्बाई 6 फीट है। मेरा हथियार 6. बाप बेटे कीऔर रात होने का इंतज़ार करने लगा, जब रात में वो मेरे रूम में स्टडी करने आई और कुछ देर बाद जब घर में सब लोग सो गए तो मैंने अपनी स्टडी स्टॉप की और उसे चूमना शुरू कर दिया.

जो लपलपा रहा था और पूरी तरह से वीर्य से भरा हुआ था।तभी मुझे इशारे से पीछे जाने के लिए बोला और मैं फिर से अपनी पुरानी जगह वापिस चला गया।फिर उस रात एक बार और चुदाई हुई, इस बार तो दीदी दर्द से चीखने लगी. सेक्सी लड़कियां सेक्सी लड़कीमौसा जी !”तभी तो तुम दोनों को यहीं रुकने के लिए कह रहा हूँ।”लेकिन फिर भी लेटोगे तो अकेले।”तुम दूसरे रूम में होगी.

गुलाबी बदन चमक रहा था! इतनी सेक्सी लग रही थी वो कि मुझे ख़ुद पर कंट्रोल पाना मुश्किल था, लण्ड बेहद तन गया था और दर्द कर रहा था.बीपी सेक्सी बीएफ व्हिडिओ: की आवाज़ें निकालती थी।फ़रहान कहता भी था- प्लीज रुखसाना, धीरे आवाज़ करो, बगल में अब्बू जी सुनेंगे तो क्या सोचेंगे !पर रुखसाना तो यही चाहती थी !एक बार फरहान को 15 दिन के लिए बाहर जाना पड़ गया तो अगले दिन रुखसाना ने मन में ठान ही लिया कि अब चाहे कुछ भी हो, मैं अब्बू से चुदवा कर ही दम लूँगी.

!’तो हिमानी इस बात के लिए सहमत हो गई। मैंने जैसे ही उसकी चूत पर हाथ फ़िराया तो वो गीली-गीली सी लगी और हल्का सा पानी उसकी झांटों पर भी लगा हुआ था। पहले तो मैंने अपनी ऊँगली उसकी चूत में अन्दर डाल कर अन्दर-बाहर करनी चालू की, तो वो तेजी के साथ ‘आह आह ऊओह्ह ऊऊई स्सस्ससीईईई.गुड अब यह भी बता दो कभी सेक्स किया है किसी के साथ या नहीं?आरोही- कैसी बातें करते हो रेहान, आप भी हटो न… मुझे शर्म आ रही है….

जानवर वाला सेक्सी वीडियो दिखाओ - बीपी सेक्सी बीएफ व्हिडिओ

बस जरा अपने पप्पू को भी दिखा दूँ… बहुत दिनों से उसने कोई अच्छी मुनिया नहीं देखी…सलोनी- जी नहीं… रहने दो… यहाँ कोई प्रदर्शनी नहीं लगी है.? आप भी सोच रहे होंगे कि अब क्या होगा तो चलो उनके रूम में चलते हैं क्या हो रहा है…!रेहान बीयर की पूरी बोतल एक साथ पी गया।जूही- क्या हुआ रोनू.

एक तो साली ये गोली भी बहुत मुश्किल से मिली है…दीपक- प्लान तो अच्छा बनाया मगर साले ये जबरदस्ती ही हुआ ना. बीपी सेक्सी बीएफ व्हिडिओ मेरे भी अंग मचलते थे, मेरे भी नितम्ब उछलते थेसाजन ने अपना मुंह चौड़ाकर, सर्वस्व अन्दर था खींच लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

मैं आज तेरी चूत का भुर्ता बना दूँगा…!आरोही के चेहरे पर हँसी आ गई, वो मन में सोचने लगी कि इस लौड़े से राहुल क्या भुर्ता बनाएगा, रेहान के बम्बू से सील तुड़वाई है अब तो वो ही राहुल पर भारी पड़ेगी।राहुल ने आरोही को नंगा कर के बेड पर लिटा दिया और खुद उसके मम्मों को चूसने लगा और लंड को चूत पर रगड़ने लगा।आरोही- आ आ.

बीपी सेक्सी बीएफ व्हिडिओ?

दोस्तो, मैं अपनी पहली कहानी लिखने जा रहा हूँ, आशा करता हूं कि आपको पसंद आयेगी, अपनी प्रतिक्रिया जरूर मुझे भेजियेगा. अभी बस ऐसे ही थोड़ा मज़ा ले रहा हूँ पानी नहीं निकालूँगा।अनुजा- अगर ऐसी बात है तो ठीक है थोड़ा मेरी गाण्ड में भी लौड़ा घुसा देना ताकि मैं भी इस लम्हे को हमेशा याद रखूँ कि कभी रसोई में भी आपने मुझे चोदा था।विकास- हाँ जानेमन. अब मैंने उसके बदन को चूमना शुरू किया, पहले उसकी गर्दन, फिर बूब्स के ऊपर, फिर उसके पेट पर उसकी नाभि पर आकर रुक गया.

तो माधुरी के साथ हम भेदभाव कैसे कर सकते थे?लिहाज़ा, वो भी वैसे ही चुदी, जैसे कि ज़ेनी की चुदाई हुई थी !हाँ, एक फ़र्क़ यह हुआ कि माधुरी की गांड और बुर को एक साथ चोदते समय ज़ेनी ने अपने चूची से दूध की धारा माधुरी के बुर में जमकर बहाई, जो मेरे और श्याम के लंड को धो धोकर फचाफच अंदर बाहर होने में मदद करती रही. मीरा अब गर्म होने लगी थी, मेरे मुँह पर चूत रगड़ते हुए… आह… उई माँ… उफ़… ईई… आह… आ… करने लगी।तभी डॉक्टर ने मुझे हटाते हुए अपना मुँह चूत पर लगा दिया। मीरा एग्ज़ामिनेशन टेबल पर लेटी हुई थी. मैं साजन से परे हटी सखी, भीगी आँखों से देखा उसकोफिर धक्का देकर मैंने तो, उसे पलंग के ऊपर गिराय दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

! अब ठीक है इसी तरह खाने की मेज तक चलिए।”जीजाजी उसे गोद में उठाए खाने के टेबल तक आए।चमेली बोली- देखो दीदी. ? मैं यहीं हूँ, आप मुझे पहन कर बताइए।तब मैंने उससे ब्लाऊज़ लिया अपनी टी-शर्ट उतार कर ब्लाउज पहना और उसे दिखाते हुए कहा- देखो, यह कितना ढीला है।तब उसने कहा- हाँ है. तो उसने कहा- अगर तुम मेरे सेक्स गुलाम बनो तो?तो मैंने उसे हाँ कहा और कहा- मैं पैसों के लिए कुछ भी कर सकता हूँ!फिर उसने कहा- तो चलो फिर!हम स्टेशन से निकले और वो मुझे एक कार तक लेकर गई और मुझे उसमें बैठने को कहा.

वो कोई गैर नहीं थी, बल्कि मेरे ही मोहल्ले की एक 18 साल की दोनों पैरों से विकलांग मेरी एक बहुत ही ख़ास दीदी, जिनको सभी प्यार से मधु दीदी बुलाते थे. ! शायद आपको यह पता नहीं होगा…!रेहान ज़ोर से हँसता है और आरोही को सब बात बता देता है कि राहुल ने ही उसको कहा था तुमको हेरोइन बनाने के लिए, ताकि वो तुमको चोद सके.

!आरोही- अब यहाँ तक आकर मैं पीछे नहीं हटूँगी, अब जो होगा देखा जाएगा।रेहान- तुम राहुल की बहन हो इसलिए मैं इतनी मेहनत कर रहा हूँ, वरना मेरे पास समय नहीं होता है। अब एक सीन और समझाता हूँ यह बहुत जरूरी है क्योंकि अभी मेरे साथ कर लोगी तो आगे तकलीफ़ नहीं होगी। डायरेक्टर चैक करेगा, बाद में हीरो के साथ भी करना है तो अभी से आदत डाल लो ओके.

कुछ तो गोली का असर और कुछ दीपाली के यौवन का असर बेचारे दो-धारी तलवार से हलाल हो रहे थे।दीपाली ने टॉप उतार कर उनकी तरफ़ फेंक दिया.

रहा है…!जूही की चूत पानी से भर गई थी।रेहान उसके ऊपर से उठा तो ‘पक्क’ की आवाज़ से लौड़ा बाहर आया और जूही एक बार ज़ोर से चीखी और उसकी आँखों में दोबारा आँसू आ गए।रेहान खड़ा हुआ और बेड का हाल देखा खून से लाल था और उसका लौड़ा भी खून और वीर्य से लथपथ हो रहा था उसने चादर से अपना लौड़ा साफ किया और कैमरा के पास जाकर बेड को ज़ूम करके पोज़ लिया। उसने नकाब उतार कर रख दिया था।जूही- उफ्फ ओ माई गॉड आ. हर वक़्त डराते ही रहते हो।” प्रिया ने जोर से मेरे कंधे पे चिकोटी काट ली।वैसे आप कुछ अच्छी खबर देने वाली थीं. !तो बोली- मैं उनसे अलग हूँ, तुम्हें यह दिखाने आई हूँ।उससे मेरी दोस्ती हो गई। अब हमारी रोज-रोज रात को बात होती थी। कभी-कभी सुबह 5 बजे तक बात करते थे।एक दिन वो बोली- बात ही करोगे या कुछ और.

हो गयी…’उसने मुझे तुंरत उल्टा करके…मेरी गांड पर सवार हो गया… मुझे थोडी ही देर मैं लगा कि उसका लंड मेरी गांड के छेद पर था, उसने जोर लगाया और लंड गांड की गहराइयों में उतरता चला गया. कुछ ही पलों में मैं आराम से सीट पर अपने पैर पसारे बैठा था और नीलू रानी मेरा लण्ड चचोर रही थी। सीमा ने मुझे और शबनम को पानी दिया फिर मैंने उससे एक स्माल पैग भी माँगा और उसने मुझे एक पैग और एक सिगरेट सुलगा कर दी. ! मादरचोद नहीं मादरजात कपड़ा कहा, जिसका मतलब है कि जब माँ के पेट से निकले थे उस समय जो कपड़े पहने थे। उस कपड़े में आ जाइए !पेट का बच्चा और कपड़ा?”अरे बात वही है बच्चा नंगा पैदा होता है और उसी तरह आप भी नंगे हो जाओ, जैसे की तू खड़ी है मादरजात नंगी.

अब मैंने उसके बदन को चूमना शुरू किया, पहले उसकी गर्दन, फिर बूब्स के ऊपर, फिर उसके पेट पर उसकी नाभि पर आकर रुक गया.

जुबान अंदर घुसाने की कोशिश, अब उसकी योनि का छेद थोड़ा और खुल गया और मुझे जुबान का अगला हिस्सा अंदर घुसाने में आसानी हुई. !मैंने ‘हाँ’ कर दी, वो मुझे लेने आया, हम ऑटो से जा रहे थे। बात करते हुए मैंने अपना प्लान शुरू किया।मैंने कहा- हिमांशु कल कोचिंग सेंटर में एक लड़का मुझे छेड़ रहा था।उसने पूछा- क्या हुआ. इन्हीं के चलते आज छोटी दूध पी पा रही है!मैं- मतलब?भाभी- अगर काका चूसें नहीं तो दूध नहीं आयेगा! तेरे भइया तो हमेशा बाहर ही रहते हैं! बड़ी आई! भैया को बता देगी!!!मैं- लेकिन.

! मैं तो इसे अच्छे से जानता भी नहीं हूँ।बाद में हीना ने कहा- मेरी सहेली काफ़ी शरीफ़ है, आसानी से पटेगी नहीं, पर अगर मैं कुछ मदद करूँ तो तुम्हारी बात बन जाएगी।तो मैंने हीना से कहा- नेकी और पूछ-पूछ. तभी सुमित ने हल्का सा लंड मेरे अंदर डाल दिया और पूछने लगा- पहले कभी चुदी हो क्या?अलीशा ने फ़ौरन जवाब दिया- सुमित, ध्यान से कच्चा माल है, पहली बार चुद रही है मेरी निधि, धीरे चोदना. !’ऐसा कह कर उन्होंने दोनों हाथों से अपनी चूत को फैला दिया, मैं उनकी चूत को चाटने लगा।अजीब सी गन्ध आ रही थी।करीब दो मिनट चाटा होगा कि चाची ने मेरा मुँह झटके से अलग कर दिया, मेरा मुँह गीला हो गया था।कहानी जारी रहेगी, मुझे आप अपने विचार यहाँ मेल करें।[emailprotected].

देख नहीं रहा है मेरी बुर कैसे लपलपा रही है?मैंने अब देर करना ठीक नहीं समझा और शब्बो की तरफ एक इशारा किया और समझ गई कि नीलू को संभालना है। मैंने अपने लौड़े को अपने ही थूक से चिकना किया और पहले से लिसलिसी बुर की दरार पर लौड़े को टिका कर हल्का सा दबाब दिया.

उसकी साँसें गरम हो गई, मैं बता नहीं सकता कि उसके जिस्म से आग निकल रही थी, वो पागलों की तरह मेरे लंड से खेल रही थी और मुझे चुम्मे दे रही थी, एकदम जवान नई दुल्हन की तरह तड़प रही थी. आप इसे मेरी कहानी न समझें दरअसल मुझे एक महिला मित्र ने फेसबुक पर चैट के दौरान मुझसे कहा था कि यदि मैं उसकी इस फैंटेसी को कहानी बना कर लिखूँ तो उसको अच्छा लगेगा.

बीपी सेक्सी बीएफ व्हिडिओ खा लीजिये जनाब, हमारी मम्मी सबको इतना प्यार नहीं देतीं… आप नसीब वाले हैं।” प्रिया ने शरारत भरे लहजे में कहा और हम सब उसकी बात पर खिलखिला कर हंस पड़े।मेरी नज़र बगल वाली साइड की सीट पर गई जो अब भी खाली पड़ी थी… मैं उसे खली देख कर खुश हो गया, हल्की हल्की ठंड लग रही थी और मन कर रहा था कि प्रिया को अपनी बाहों में भर कर ट्रेन की सीट पर लेट जाऊँ. हम चुद गईं…आह मैं आ रही हूँ… मादरचोद बार-बार चूत बदलते हैं।श्वेता का पानी निकलना शुरू हो गया था, साथ ही मेरी बीवी ने भी अपनी चूत से पानी निकालना शुरू किया और अब पूरे कमरे मैं हमारी चारों की आवाज़ें ही थीं, आआअ ह्हह्हह्ह… ह्ह.

बीपी सेक्सी बीएफ व्हिडिओ , वववह हह आआ।” कुछ देर जब उनको मजा आने लगा तो उसके बाद मैंने अपने लंड को थोड़ा सा बाहर निकालकर फिर से झटका मारा।अब तो भाभी कह उठीं, हाँ सन्नी फाड़ दो मेरी चूत को आज… 2 महीने से प्यासी हूँ. मैं अपने को रोक नहीं सका और उसके पास जाकर लेट गया।मैंने उसे खुद से चिपटा लिया और उसके टॉप में पीछे से हाथ डालकर पीठ सहलाने लगा।वो उठ गई और कहने लगी- भैय्या.

!”अब जीजा जी का ध्यान कामिनी की तरफ गया। चमेली की गाण्ड से लण्ड निकाल कर वे कामिनी के पीछे आए।कामिनी समझ गई अब उसके गाण्ड की खैर नहीं पर बचाने के लिए बोली- जीजाजी मैंने कभी गाण्ड नहीं मराई है, अभी रहने दीजिए, जब एक लौड़े का इंतजाम और हो जाएगा तो दोहरे मज़े के लिए गाण्ड भी मरवा लेंगे.

सेक्स सुपर वीडियो

स्तन की घुंडी पे चुम्बन ले, जिह्वा से उनको उकसाया,पहले घुंडी मुंह अन्दर की, फिर अमरुद तरह स्तन खाया,होंठ-जिह्वा-दांतों से दबा-दबा, सारा रस उनका चूस लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. साजन ने शरारत करी सखी, पेटीकोट की डोरी खोल दियाकमर के नीचे नितम्बों पर, उँगलियाँ कई भांति फिराय दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. मैं अमित शर्मा एक बार फिर लेकर आया हूँ अपनी सच्ची दास्तान !बात उन दिनों की है जब मैं इंजिनियरिंग के फाइनल ईयर में था, मेरी गर्लफ्रेंड थी नेहा !नेहा के बारे में मैं आपको बताता हूँ, उसकी उम्र 23 थी, हाइट 5’6″.

उसने मेरी तरफ नजर उठा कर देखा और कहा- भैया जी वो बात ऐसी है कि… और उसने अपनी नजरें नीचे झुका लीं और अपनी साड़ी के छोर को अपनी उँगलियों में गोल-गोल घुमाने लगी. मैंने कहा- क्या हुआ?तो कहने लगी- पिछले दो महीनों से चुदी नहीं मैं! मैं प्यासी हूँ, मेरी प्यास बुझा दो!फिर मैंने कहा- तुम चिंता मत करो, आज मैं तुम्हारी प्यास बुझा कर रहूँगा. !मैं- अरे कहीं नहीं जा रहा था, थोड़ा घूमने के लिये निकला था।शैलेश भैया- कोई ‘माल-उल’ पटाया है क्या तुमने? जो रोज़ जाते हो उधर घूमने के लिये.

कपड़े पहनो नहीं तो आज खैर नहीं हमारी…!सब भाग कर अन्दर चली जाती हैं। अन्ना को दूर से सब दिख जाती हैं।अन्ना- अईयो नीलेश… ये क्या जी ये सब छोकरी पागल होना जी.

वो बोली- मधुरेखा जी, अगला करतब आप मेरे सामने करना, मैं देखना चाहती हूँ।तभी मैंने कहा- तो चलो, आज हम दोनों करते हैं, वही जो मैंने अकेली ने रात में किया. देखकर ही बोला था।’‘इतनी जल्दी सब कुछ देख लिया?’बोला- देखने वाली चीज़ें पलक झपकते आँखों में कैद हो जाती हैं।ओह तो यह बात है?”हाँ जी ! तुम्हारी सासू माँ नजर नहीं आ रही हैं, कहाँ गईं?” वो सोफे पर बैठते हुए बोले, क्या घर में नहीं हैं?”मैं रसोई में गई. !!! फक मी हार्ड… !! ओह येस, राइट दयर, फक मी!!! राइट दयर ऑन माइ जी-स्पॉट… ओह येस… !!! फक मी, आई अम ऑल यौर्स.

!कार सड़क पर दौड़ती रही, दोनों के बीच ज़्यादा बात नहीं हुई, बस सामान्य बातें ही होती रही।लगभग 15 मिनट बाद कार एक बड़े से विला के सामने रुकी।आरोही- यह कहाँ आ गए हम, आप तो स्टूडियो लेकर जा रहे थे न?रेहान- अरे यार, मैं कोई छोटा-मोटा आदमी तो हूँ नहीं, जो किसी भी स्टूडियो में तुमको ले जाऊँ, यह मेरा विला है और इसमें स्टूडियो है। हम यहीं फोटो निकालेंगे।आरोही- ओके रेहान जी. जिसे मेरी पर्सनल सेक्रेटरी अपने पतले हाथों में लिए चूस रही थी और वो इस समय पूरी नंगी थी, उसके कपड़े मेरी ऑफिस की मेज पर रखे थे…यहाँ तक तो सब ठीक था क्योंकि मेरे ऑफिस में कोई ऐसे नहीं आ सकता था और ना ही किसी को कुछ दिखाई दे सकता था. वरना काम बिगड़ जाएगा। बाद में तो हम दोनों मिलकर चोदेंगे न…!रेहान वहाँ से आरोही के कमरे में चला गया और अन्दर जाते ही ऊँगली से उसे इशारा किया कि चुप रहे, राहुल बाहर है।दरवाजे लॉक करके उसके पास जाकर बैठ गया।रेहान बहुत धीरे से बोला- जो भी बोलो धीरे बोलना राहुल बाहर की-होल से देख रहा है उसको बिल्कुल शक मत होने देना कि हमने पहले चुदाई की हुई है।आरोही- ओके.

मज़ा आ रहा था।तुम कभी आए तो अपुन ऐसे ही चुदाई करेंगे बाथरूम में…!खैर चुदाई जारी थी, फिर हम दोनों झड़ गए। शिशिर नहा कर बाहर निकल गया, मैं नहाती रही।शिशिर मुझे नहाते देख रहा था, तभी वो बोला- भाभी तुम्हारे चूतड़ तो बहुत मस्त हैं यार…. !वो कुछ ना बोलते हुए चादर ओढ़ कर वैसे ही पड़ी रही। इतने में थोड़ी ही मेरा समाधान होने वाला था सो मैंने उसके ऊपर हाथ रखते हुए बोला- कैसा लग रहा है.

!रेहान उसे गोद में उठा कर बाहर ले आया और बेड के पास एक कुर्सी पर बिठा दिया, फ़िर उसे बदन पौंछने के लिए तौलिया दिया और खुद चादर उठा कर एक कोने में डाल कर दूसरी चादर बिस्तर पर बिछा दी।आरोही कुर्सी पर आराम से बैठी सब देख रही थी। जब सब काम हो गया तो रेहान ने आरोही को उठा कर बेड पर लिटा दिया।आरोही- उफ़ रेहान जी… बहुत दर्द हो रहा है. !रेहान अन्दर जाता है, तो आरोही उससे लिपट जाती है।रेहान- जान वो कॉंट्रेक्ट पेपर लेने गया है, मान गया तुमको. मैं 8 बजे तक आ जाऊँगा।राहुल- ओके ब्रो… चलो मैं बाहर तक तुम्हारे साथ चलता हूँ।आरोही- भाई इनको छोड़ कर मेरे रूम में आ जाना।राहुल और रेहान बाहर आ गए।राहुल- वाउ यार.

ये दो कुत्ते जिन्होंने सिम्मी को बर्बाद किया। आप इनको दोबारा वो ही हैवानियत करने को बोल रहे हो… इससे अच्छा तो है मार दो.

!”फिर मैंने मम्मी से कहा- मम्मी, आप और पापा कल सुबह चले जाओ, मैं परसों आ जाऊँगी। वैसे भी शादी में अभी 4 दिन बाकी हैं। मैं कल से ही जाकर क्या करुँगी. !मैंने कहा- हाँ…!लेकिन मुझे ज्यादा मज़ा नहीं आ रहा था, तो वो दोबारा मेरी चूत सहलाने लगा। फिर से अपना लंड मेरी योनि में डालने लगा लेकिन मेरी फ़ुद्दी फिर से चुदने की हालत में नहीं थी।मैंने कहा- आशु रुक. जुबान अंदर घुसाने की कोशिश, अब उसकी योनि का छेद थोड़ा और खुल गया और मुझे जुबान का अगला हिस्सा अंदर घुसाने में आसानी हुई.

!रेहान- नो सचिन… रूको अन्ना बताओ इस रंडी को कि क्या हो रहा है यहाँ…!अन्ना- जवाब तुमको हम देता जी ये पॉर्न-मूवी होना जी…. मैंने अपने कपड़े उतार कर 8 इंच का लंड उसके मुँह में दे दिया। वो उसे मजे से चूस रही थी… अब डॉक्टर ने अपने कपड़े उतार कर उसकी चूत में लंड डाल दिया।अब उसे और मजा आने लगा- …चोदो मुझे… जोर से… और जोर… से.

साजन अब थोड़ा और बढ़े, चुम्बन नाभि तक जा पहुँचेनाभि के नीचे भी चुम्बन, मोरा अंग-अंग थर्राय दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. !फ़िर उसके बाद मैंने उसे ख़ड़ा किया और उसे मेज पर बैठा दिया और उसकी चूत चाटने लगा। मैंने भी लगभग दस मिनट उसकी चूत को चूसा।उसके बाद मैं खड़ा हुआ और उसकी जाँघों के बीच आकर अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा।रीना की आवाज निकलने लगी- उफ्फ, ओह्ह !जब उससे रहा ना गया तो उसने कहा- जान अब डाल भी दो अन्दर. मैं कैसे चोदता हूँ… तेरी चूत मेरे लंड के लिए ही बनी हुई है… आज के बाद तू सिर्फ़ मुझसे चुदवाएगी… ले ले मेरे लंड की रानी.

সোনাগাছি চুদাচুদি

मैंने अपने लौड़े को और जोर से खुजाते हुए कहा- अरे मुझसे कैसा डर? मैंने कोई गैर हूँ क्या?वो एकटक मेरे लौड़े की देखने लगी.

!”मेरे बुर का दर्द गायब हो चुका था और मैं चूतड़ हिला कर जीजाजी के मोटे लण्ड को एडजस्ट करने लगी थी, जो धीरे-धीरे अन्दर-बाहर हो रहा था।जीजाजी ने रफ़्तार बढ़ाते हुए पूछा- क्या करूँ?”मैं समझ गई जीजाजी कुछ गंदी बात सुनना चाह रहे हैं। मैं अपनी गांड को उछाल कर बोली- हाय रे साली-चोद. चाहे वो बार बार शादी से पहले चुदाई से मना कर रही है पर मेरा मन नहीं मानता, मेरा मन बहुत बेचैन है, मैं क्या करूँ?दोस्तो, मेरी मदद करो, मुझे कुछ बताओ कि मैं अपने दिमाग से यह बात कैसे निकालूँ?अपनी बात नीचे डिसकस पर ही लिखे क्योंकि मैं अपना इमेल आईडी और नाम देने में शर्म महसूस कर रहा हूँ. फिर चाचू ने लण्ड को अन्दर-बाहर करना चालू किया, मुझे लग रहा था कि मेरी चूत में कोई गर्म लोहे की रोड अन्दर-बाहर हो रही है.

!”मुझे उसकी सिगरेट मांगने की अदा पर बड़ी हँसी आई। मैं सोच रहा था कि आज कितनी बड़ी चुदक्कड़ लौंडियाँ मिलीं. !!! मैं तुम्हारे प्यार में पागल हो गया हूँ…!!!’अचानक हुए हमले से वो चकरा गई। मैंने आव देखा ना ताव और उसके गुलाबी ओंठ पर अपने ओंठ लगा दिए। ना जाने कितने दिनों से इसी मौके का मैं इंतज़ार कर रहा था. िन्दं सेक्सी वीडियो!गिरिजा- मैं थोड़ी देर में बना कर लाती हूँ बाबा और अपने हाथ से खिलाती हूँ।वो उठी और पेटीकोट पहनने लगी। मैंने पेटीकोट पकड़ लिया।मैं- मत पहनो इसे.

वो एक 5 फीट 2 इंच की 24 साल की सामान्य महिला थी, जिसकी शादी को तब 2 साल हुए थे। उसका रंग सांवला था, जिसके कारण उसका पति उसे पसंद नहीं करता था।मुझे कई बार ऐसा लगता था, जैसे वो मुझे लिफ्ट दे रही है. !बोलीं- नहीं, अब ठीक लग रहा है।मैंने कहा- पर अब जलन मेरे बदन पर शुरू हो गई है।बड़ी मदमस्त लग रही थी वो, और मुझसे रहा नहीं जा रहा था। अब मैं क्या करूँ कुछ समझ में नहीं आ रहा था।मैं भाभी की कमर पर हाथ फेरने लगा और बोला- मेरी जान, तुम तो इतनी सेक्सी हो मैंने कभी सोचा नहीं था।पीछे से भाभी का बदन बहुत सेक्सी लग रहा था। उनका फिगर का साइज़ 38-30-38 था।आज तो मुझे गिफ्ट चाहिए.

शायद 34-28-36 रहा होगा।उस दिन गहरे लाल रंग का टॉप और काली मिनी-स्कर्ट पहनी हुई थी।अँधेरा होने के कुछ देर बाद उसने अपना सर मेरे कंधे पर रख लिया। मैंने अपने हाथों से उसके सिल्की बालों को सहलाना शुरू कर दिया।बहुत ही कामुक नजरों से उसने मेरी ओर देखा और प्यार से मेरे कान में चुम्बन करते हुए बोली- आई लव यू जान. और कल सुबह जल्दी बुलाया है…मैं मधु के घर के अंदर गया, मुझे कोई नजर नहीं आया…मैं- अरे कहाँ है तेरे माँ, पापा?मधु- पता नहीं… सब बाहर ही गए हैं… मैंने ही आकर दरवाजा खोला है…बस उसको अकेला जानते ही मेरा लण्ड फिर से खड़ा हो गया…मैंने वहीं पड़ी एक टूटी सी चारपाई पर बैठते हुए मधु को अपनी गोद में खींच लिया।मधु दूर होते हुए- ओह. !और मैं फिर से पागलों की तरह चूमने लगा और मैं इतनी तेज़ उसे पकड़े हुए था कि उसके पूरे खरबूजों का मज़ा आ रहा था।वो बोली- ठीक है रात को आऊँगी लेकिन अभी जाने दो.

दोस्तो, अन्तर्वासना पर मैंने जब कहानियाँ पढ़ीं तो मेरा भी मन हुआ कि मैं भी अपने बारे में अन्तर्वासना के पाठकों को जरूर बताऊँ. सिर्फ दोनों हाथों से तौलिया पकड़ा हुआ था।मुझे देख उसके होश उड़ गए और उसे देख कर मेरे सुध-बुध ही खो गए।क्या बला की खूबसूरत लग रही थी. काफी खून भी निकला था उसकी बुर की पहलू चुदाई में!अभी तक हम बच्चा पैदा करने की नहीं सोच रहे हैं क्योंकि एक बच्चा हो गया तो सेक्स और चूत चुदाई का मज़ा जाता रहता है, एक तो चूत इतनी खुल जाती है कि लंड जाने का पता ही नहीं लगता और दूसरे बीवी बच्चे के कामों में इतना व्यस्त हो जाती है कि उसे चूत चुदवाने का वक्त नहीं मिलता.

!अन्ना- बेबी इतना टाइम तुमने उंगली बाल और चेहरे पर घुमाया। मैंने तुमको बोला कि तुमको सेक्स की भूख होना.

!!***दोस्ती को बड़े प्यार से निभाएँगे,कोशिश रहेगी तुझे नहीं सतायेंगे,कभी पसंद न आये मेरा साथ तो बता देना…गिन भी न पाओगेइतने ‘थप्पड़’ लगायेंगे!***देख कर लोगों को,सोचा, इश्क हम भी कर लें!फिर बेवफाओं को देख कर सोचा,थोड़ा सब्र कर लें. तभी दीपाली उनके प्यार में पागल हो गई है।विकास- आ रहा हूँ रूको…विकास ने दरवाजा खोला और दीपाली को देख कर उसको मुस्कान दी।विकास- अब आ रही हो.

चूत में चला गया तो गाण्ड में क्यों नहीं जाएगा।अनुजा- हाँ दीपाली चूत में तो सील टूटी इसलिए इतना दर्द हुआ. स्कर्ट के दोनों चीथड़े मांसल चूतड़ों पर से सरक कर साइड में जा गिरे और मेरे लिये दुनिया की सबसे हसीन गांड, मस्त चिकने चूतड़ों वाली मेरे सामने नंगी खड़ी थी. पर बताऊँगा ज़रूर।तो शायद अब आप लोग पूरी तरीके से समझ गये होंगे। तो अब मैं उस दिन की बात बताने जा रहा हूँ जिसके लिए आपने इतना सारा पढ़ा और मुझे शायद गाली भी दी होगी। तो मेरे बेसब्र दोस्तो, सब्र रखो क्योंकि सब्र का फल मीठा होता है। तो मैं शुरु करता हूँ।उस दिन रविवार था, जब मैं उसके घर गया। मैंने कॉल-बेल दबाई.

!तो वो बोली- वो सब ठीक है, तो तूने मेरे स्तन क्यों सहलाए?मैंने सर झुकाते हुए चुप हो गया।‘अब बताओ इसमें गलत क्या है. मैं मर जाऊँगी… कल तक रुक जाओ, फिर मैं इसे वापस तुम्हारे लायक बना दूंगी… बस आज रुक जाओ !” रिंकी ने मुझसे गुहार लगते हुए कहा।मैं उसके कहने से पहले ही यह फैसला कर चुका था कि आज इस चूत को परेशान नहीं करूँगा, अब तो ये मेरी ही है और आराम से इसका रस चखूँगा… लेकिन फिर भी मैंने अपने चेहरे पे एक दुखी सा भाव लाते हुए कहा, उफ्फ्फ. सुधाजीजाजी चाय पीते हुए बोले- ठीक है, चमेली इस बार केतली में चाय इसीलिए बना कर लाई थी कि दुबारा चाय गर्म करने के लिए नीचे ना जाना पड़े और दीदी अकेले-अकेले…! जीजाजी चमेली की तरफ गहरी नज़र से देख कर मुस्काराए।जीजाजी आप बड़े वो हैं.

बीपी सेक्सी बीएफ व्हिडिओ !तो उसने कहा- मैं कोशिश करूँगी।एक रात हमने मिलने का प्लान बनाया, वो भी उसके घर पर, जबकि उसके घरवाले घर पर ही थे।उसने कहा- जब सब सो जाएं तो रात को 11 बजे आ जाना।मैंने कहा- ठीक है. !लेकिन मैं फिर भी उसे पीछे से पकड़ कर उसे अपने लंड का एहसास उसकी गाण्ड पर करा रहा था।वो मुझे पीछे हटाती हुई बोली- अभी हट जाओ नहीं तो ये गरम आयल से तेरे टोपे में आग लगा दूंगी…!मैंने कहा- मोनी डार्लिंग, यह आयल का नहीं तुम्हारी चूत के पानी का प्यासा है.

साउथ वाला सेक्सी वीडियो

इस बारे में अभी कोई बात नहीं करो… रात को देखते है क्या होता है। अब आप जाओ मुझे थोड़ा सोने दो। सुबह जल्दी उठी थी न…!राहुल- ओके बहना, सो जाओ मैं जाता हूँ…!राहुल अपने कपड़े पहन कर वहाँ से अपने कमरे में आकर सोचने लगा कि ऐसा कैसे हो गया, वो फेल कैसे हो गया. ! थोड़ी देर के बाद हम फ़्रैश हुए फ़िर एक रेस्ट्रोन्ट में खाना खाने चले गए, वहाँ हमने खाना खाया। फ़िर मैं उसको उसके घर छोड़ कर मैं अपने घर चला गया।जब भी हमें मौका मिलता, हम लोग ऐसे ही प्यार करते और हर बार अलग-अलग पोजीशन से सेक्स करते।अपनी दूसरी सत्य घटना अपनी अगली कहानी में बताऊँगा।दोस्तो, आपको मेरी कहानी कैसी लगी, बताइएगा ज़रूर. मैंने नजरें ऊपर उठाईं तो दोनों एक-दूसरे के होंठों को बुरी तरह से चूस रहे थे।उनकी जीभ एक-दूसरे से लिपट रही थी आशीष का एक हाथ मेरे सर को आगे-पीछे कर रहा था और दूसरा अंकिता की चूचियों के साथ खेल रहा था।मैं किसी डर की वजह से आशीष का लण्ड बिना रुके चूसे जा रही थी और उधर अंकिता की तौलिया भी निकल गई थी।अभी रूचि की बात चल ही रही थी कि तभी खाना आ गया और मैंने रूचि को रुकने का इशारा किया.

?मैं- और नहीं तो क्या… ऐसे घुसाते हैं क्या !ननदोई जी- वो गीली नहीं थी, शायद इसलिए हुआ होगा !और चालू हो गए. तो फटाफट मेल करो मेरी आईडी[emailprotected]पर और आगे क्या होगा?जूही किसके नसीब में लिखी है? ये सब आपको आगे के भाग में पता चल जाएगा। ओके फ्रेंड्स बाय…!. ఆఫ్రికా సెక్స్ వీడియోगुड अब यह भी बता दो कभी सेक्स किया है किसी के साथ या नहीं?आरोही- कैसी बातें करते हो रेहान, आप भी हटो न… मुझे शर्म आ रही है….

!रेशमा ने एक बार रूम की तरफ देखा और एक बार रसोई की तरफ देखा, कोई नहीं आ रहा, देख कर मुझे धीरे से बोली- आप क्या देख रहे हैं, मुझे पता है !मैं- क्या पता है तुमको?रेशमा- आपने ही निकालें है ना.

भाभी बोलीं- जोर से करो और तेज़ धक्के मारो… मैं झड़ने वाली हूँ !मैं और जोर से धक्के मारने लगा और फिर भाभी का जिस्म अकड़ने लगा. पांवों में फँसाकर पेटीकोट, सखी नीचे उसने सरकाय दियापांवों से ही उसने सुन री सखी, मेरा अंतर्वस्त्र उतार दियाअंगिया दाँतों से खींच लई, बदन सारा यों निर्वस्त्र कियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

मगर ऋज़ू जैसे माल ने उसमें भी संदेह पैदा कर दिया था कि क्या करूँ?मेरा लण्ड अब ऋज़ू की चूत में घुसने के लिए व्याकुल था…- मेरी जान यहाँ कहाँ चोदूँ तुम्हें? मेरा लण्ड तो तुम्हारी इस चुनिया के लिए पागल है. मैं आनन्द का लंड चूस रही थी।दस मिनट बाद आनन्द ने मुझे डॉगी-स्टाइल में कर दिया और मेरी गान्ड के छेद पर लंड का सुपाड़ा रखा।तब मैं आनन्द से बोली- आनन्द प्लीज़ तेल लगा कर करो ना. इस पर बोली- क्या?मैं बोला- आपको अपना स्वास्थ्य पत्र देना होगा, मैं आपको अपना दे दूँगा क्योंकि इस काम में कोई भी किसी भी तरह का यौन रोग लग सकता है.

नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम प्रवीण है, 24 साल। मैंने हाल ही में अपनी इंजीनियरिंग के चार साल पूरे किये हैं और M.

आज तेरी गाण्ड में लौड़ा घुसा कर मैं धन्य हो जाऊँगा।विकास ने ऊँगली घी में भरकर दीपाली की गाण्ड के सुराख पे रख दी और धीरे-धीरे उसमें घुसाने लगा।दीपाली- आ आ आह्ह. दूसरे कोने पर मुँह तक चादर ढके शायद मधु ही सो रही थी…क्या मधु अभी तक नहीं जगी… उसने कपड़े पहने या नहीं. ! तूने मेरे लण्ड को खड़ा क्यों किया… अब तो तेरी बुर फाड़ कर रख दूँगा … ले … ले … अपनी बुर में लौड़े को … उस समय नहीं झड़ी थी, अब तुझे चार बार झाडूंगा…!”कामिनी धीरे से बोली- लगता है चढ़ गई है.

ப்ளூ பிலிம் மலையாளம்अब अपना छेद का नजारा करा दो जी हमारा नाग को अन्दर जाना माँगता जी…!आरोही बड़ी अदा से लंड को ‘पुच्छ’ की आवाज़ के साथ मुँह से बाहर निकाल कर सीधी लेट जाती है और घुटनों को मोड़ कर पूरी चूत खोल कर पैर फैला देती है।अन्ना- आह रामा रामा जी क्या नजारा होना. अब मेरा काम हो गया था, वो खुल गई मुझ से! अब मैंने कहा- आज मुझ पूरी खोल देनी है तेरी! देख कैसे तेरे नीचे वाले हिस्से का भुरता बनाता हूँ.

जानवर की सेक्सी मूवी

!”ये ले आज तो तेरी चूत की बैंड बजा दूँगा…!”मैं ताबड़-तोड़ धक्के लगा रहा था। आंटी भी खुल कर मेरा साथ दे रही थीं। वो साथ ही साथ ज़ोर-ज़ोर की आवाज़ निकाल रही थीं. इसको सेलेक्ट करवा कर बाद में ऐसी तरकीब बताऊँगा कि यह खुद नंगी होकर तेरे पास आएगी।राहुल- ओह वाउ… यार टेन्शन मत लो, मैं कोई जल्दबाज़ी नहीं करूँगा और सच में अगर उसको हीरोइन बना सको तो, बना दो यार बहुत क्रेजी है वो हीरोइन बनने के लिए।रेहान- ओके यार. और मैं डर के मारे वहाँ से वापिस जाने ही वाला था कि मेरी नज़र ऊपर उठी तो देखा कि वो आदमी मुझे ही देख रहा है.

प्रेषक : अमन वर्मायह बच्चा मुझे चाहिए… चाहे पैदा करके आप उसे ना रखो।”फिर मैं उस बच्चे का क्या करूँगी?”कुछ भी करो। अनाथ आश्रम में डाल देना।”हाँ. वो पक्का अभी तक चोद रहा होगा…!दोनों जल्दी से खड़े हुए और बिना अंडरगारमेंट के कपड़े पहन कर रेहान के रूम की तरफ गए।राहुल- अन्दर से तो कोई आवाज़ नहीं आ रही क्या बात है, जूही की सिसकारियाँ तो सुनाई देनी चाहिए ना. मैं ट्यूब ले आता हूँ फिर तुझे मलहम लगा दूँगा।बस दोस्तों आज के लिए इतना काफ़ी है। अब आप जल्दी से मेल करके बताओ कि मज़ा आ रहा है या नहीं.

!” ये कह कर बुआ ने मेरा शॉर्ट्स उतार कर मेरा लंड निकाल कर अपने हाथ में ले लिया।अरे, यह तो बहुत ही अच्छा है।”मेरा लंड और कड़ा हो गया। मैं भी बुआ की टाँगों पर हाथ फेरने लगा।बुआ तुम भी तो दिखाओ. मैंने उसके जी भरकर कस से कम 5 मिनट तक होंठ चूसे, जी भरकर रसपान किया। नीचे मेरा लिंग उसकी योनि पर रगड़ खा रहा था।मुझसे रहा नहीं जा रहा था, मैंने जोर-जोर से रगड़ा मारना शुरू किया, उसे भी नशा आने लगा।उसने होंठ छुड़ाए और मेरी आँखों में देखने लगी और इस बार उसने खुद मेरे होंठों को अपनी गिरफ्त में ले लिया और चूसा।मैंने कहा- अपने कपड़े पूरी तरह उतारो, तुमने ब्रा पैन्टी तो पहनी नहीं है. अपनी चूत को मेरे लण्ड पर आगे-पीछे करते हुए मजे ले-ले कर चुद रही थी।उधर सोनम भी सुनील के लण्ड पर उछलती हुई अपनी चूत का भोसड़ा बनवा रही थी।उस मस्ती में सोनम इतनी पागल हो गई थी कि हर शॉट पर बोल-बोल कर अपनी गाण्ड नीचे लाती.

साजन ने सखी मुझे खींच लिया, अपने सीने से लगा लियाफिर कानों में बोला मुझसे, मैंने तुझसे बहुत है प्यार कियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. फिर यह मनोज भी क्या उसको नंगी देख चुका है…मैं और भी ध्यान से उनकी बातें सुनने लगा…कहानी जारी रहेगी।[emailprotected]hmamail.

!रेहान ने पास में रखी तेल की शीशी ली और जूही की चूत पर ढेर सारा तेल लगाया और अपनी ऊँगली से अन्दर करने लगा।जूही- आ उफ्फ रोनू दुखता है.

मनोज- अरे यार, कंट्रोल ही नहीं हो रहा…सलोनी- हाँ, वो तो मुझे नीचे पता चल रहा है… कितना चुभ रहा है…मनोज- हा हा हा… यार, यह तुमको देखकर हमेशा ही खड़ा होकर सलाम करता था मगर तुमने कभी इस बेचारे का ख्याल ही नहीं किया. मराठी भाषा मध्ये सेक्सीअब बोल ऐसा कौन सा जरूरी काम है जो तूने अर्जेंट बुलाया है?राहुल- अरे यार तू गाड़ी चला, बस मैं बताता हूँ सब. नयनतारा की सेक्सीचाची रजाई ओढ़ क़र सो रही थी, मैं उनके चेहरे को देख रहा था बड़ी प्यार से और अपने लंड को पकड़े हुआ था!मैंने टीवी में चैनल बदला, तभी चाची बोली- बंद क़र दे बेटा कबीर! सो जा, मुझे सुबह जल्दी उठना है. !आरोही उस ड्रेस को देखती है, वो एक जालीदार बॉडी फिट मैक्सी थी। जिसमें जाली इस टाइप की थी कि बड़े-बड़े होल हों और बहुत पतली मैक्सी थी। उसमें से बदन साफ दिखाई दे।आरोही- रेहान जी ये कुछ ज़्यादा ही पतली और खुली नहीं है क्या.

वो मैगज़ीन देखकर मेरा हाथ अपने आप मेरे बूब्स पर चल गया और मैं अपने बूब्स को मसलने लगी क्योंकि मेरा सेक्स करने का मन था तो ऐसा होना स्वाभाविक था.

!तो बहुत पूछने पर बोले- वो आदमी, जिसने मुझे बुलाया है, वह ‘फ्रेंडशिप-क्लब’ चलाता है, वो मुझसे बोला है कि एक महीने में तुमको बहुत पैसा पैदा करवा देगा, वो बोला था कि आप अपनी वाइफ को ले कर आओ. !तो उन्होंने बोला- अपनी आँखें बंद करो।फिर वो मेरे पास आई और मेरे गाल पर एक प्यारी सी चुम्मी की।मैंने आँखें खोल दीं, तो उन्होंने मेरे हाथ में एक लिफाफा रख दिया।वो बोली- इस लिफाफे में हैं तुम्हारा गिफ्ट।उसको खोला तो कंपनी का लैटर था, जिस पर हम दोनों के किसी क्लाइंट के लिए 3 दिनों का बंगलौर टूर का लिखा था।अब मैं भी समझ गया था कि वो क्या चाहती है. जब भी मैं उसके उभरे संतरे जैसे चूचियों को देखता था तो मेरे मन में एक ही ख्याल आता था कि अभी जाकर उनका सारा रस निकालकर पी जाऊँ.

हूँन्न्न न्नन्न्न्न !” मेरा शरारती लंड फिर से उस हसीन चुदक्कड़ औरत की गाण्ड की बगिया में घुस गया था। मस्त पकी हुई गाण्ड थी साली की, जैसे कोई पका हुआ पपीता हो. मुझे ऐसा लगा जैसे यह मेरे लिए न्यौता हो चाची की तरफ से !इस वक़्त चाची कमर बिल्कुल मेरे मुँह के ऊपर थी. ! कैसे दो बुर मुँह बांए इस घोड़े जैसे लण्ड को गपकने के लिए आगे-पीछे हो रही हैं… जीजाजी आज इनकी मुतनियों को भोसड़ा ज़रूर बना देना.

सेक्स मूवी अंग्रेजी

इतना लाजवाब था सब कुछ कि क्या बताऊँ! उस दिन के बाद से बबिता आंटी के साथ जो कुछ हुआ, वो अपने आप में एक बहुत ही गरम और बावला कर देने वाली कहानी है. मुझसे नहीं होगा!मैंने अपना मन मार कर कहा- कोई बात नहीं!क्योंकि उसका ये पहली बार था तो मैंने ज्यादा जोर नहीं दिया।उसने मुझसे कहा- वो वाला करो ना. वो अपने कपड़े अन्दर ही ले कर आ चुकी थीं और मेरी ओर अपनी कमर करके खड़ी हो कर ब्रा पहनने लगीं और मेरी पैंट फटने को हो रही थी.

आप रुकिये…मैं आँखें बन्द करके लेटी रही !पाँच मिनट बाद एकदम मुझे अपने निप्पल पर कुछ ठंडा सा लगा, एकदम आराम मिला, सुकून मिला… आँखें खोली तो श्रेया मेरे निप्पल पर बर्फ़ लगा कर बैठी थी और उसने भी… कुछ भी नहीं पहना था, वो पूरे कपड़े नीचे उतार कर आई थी… उसका गोरा बदन धूप से लाल हो रहा था…मुझे बुरा लगा, मैंने कहा- अरे मुझे गुस्सा तुम पर थोड़े ना आया था.

लेकिन उस दिन मैं तो हैरान रह गई जब अलीशा ने मुझसे गर्ल्स टॉयलेट के पीछे ले जाकर कहा- निधि, आज अगर तुम्हारे घर पर कोई सेटिंग हो सके तो हमें मिलना है.

और रेहान की कल्पना करके उनका आज जल्दी ही पानी निकल गया।पता नहीं लेकिन मेरे सामने भी रेहान बार-बार आने लगा, मुझे भी उसका क्यूट फेस याद आने लगा।अगले दिन भी हमारी फिर से चैट हुई… आज मैंने 10 मिनट तक रेहान से बात की. मैंने झट से उन पर कब्जा कर लिया। एक स्तन पर अपना मुँह लगा दिया और उसके निप्पल चूसने लगा।वो व्याकुल हो रही थी। उसके निप्पल एकदम कड़े हो गए। फिर मैंने अपने मोबाइल से उसकी कुछ तस्वीरें लीं और फिर उसकी पैंटी उतार फेंकी नीचे घना जंगल था।मैंने उससे पूछा- ये जंगल साफ नहीं करती क्या?उसने कुछ भी जवाब नहीं दिया। मैंने उसके घने जंगल के बीच उसकी चूत को बेपर्दा कर दिया।क्या मस्त चूत थी उसकी. अक्षरा सिंह का सेक्सी डांसपता नहीं क्या बात है इस खेल में !आज रात अपने मित्र से पूछ कर फिर कोई कारनामा करने की इच्छा है ![emailprotected].

!’‘मैं कहाँ भागूंगी, मेरी गाण्ड तेरे हवाले है, जो चाहे कर… फाड़ दे… चाहे सिलाई कर दे…!’वो झटके पर झटका देने लगा और एकदम लण्ड निकाल बोला- रंडी अब घोड़ी बन जा. 75 खर्च करने को तैयार था।अब मेरा दिल काम में नहीं लग रहा था और आँखों में कामिनी की तस्वीर घूम रही थी। करीब एक घंटे बाद कामिनी की कॉल आई। उसने पूछा- क्या ग्राहक को गाड़ी पसंद आई?मैंने कहा- पसंद तो है लेकिन वो 1. प्रेषक : अमितमामी दर्द से चिल्ला रही थीं और मस्त चुदवा रही थीं। मामा भी अपना लंड को बिना रोके चोद रहे थे। इतने मे पीछे से कोई ने मुझे आवाज लगाई। मैंने पलट कर देखा तो पीछे निधि खड़ी थी। मैं तो उसे देख कर सहम गया।वो बोली- आप यहाँ क्या कर रहे हैं भैया.

सम्पादक – इमरानप्यार… पिछले कुछ दिनों में ही प्यार की परिभाषा मेरे लिए बिल्कुल बदल सी गई थी…जिस प्यार को मैं पहले समर्पण और वफादारी और ना जाने कितने भारी भारी शब्द समझता था, वे सब अब मेरे से दूर हो गए थे. मैंने मजे से दारू और सिगरेट के साथ लौड़ा चचुरवाने का आनन्द उठाना शुरू कर दिया। मैंने लौड़े के ऊपर से थोड़ी सी रम टपकाई तो नीलू के मुँह में भी रम की बूँदें जाने लगीं। कुछ ही देर में मेरा लौड़ा एक बार फिर तैयार था। मैंने नीलू को अपनी गोद में ही बैठा लिया। उसकी नंगी छाती मसलने से मेरी उत्तेजना बढ़नी लगी।तभी शब्बो बोली- राजा इसकी सील तोड़नी पड़ेगी.

15 मिनट की जबरदस्त चुदाई करने के बाद बिट्टू भी झड़ने के कगार पर थी और फिर नीचे से धक्के देकर ‘आह्ह आह्हअह उई उईए सीई आई’ करती हुए मुझे अपने बाहों में जकड़ कर झड़ गई.

!अन्ना- मैं ठीक हूँ जी कहाँ है वो लड़की जरा जल्दी दिखाओ न, मेरे को काम है, ज़्यादा समय नहीं रुक सकता जी. !रेहान के लौड़े ने पानी की पिचकारी चूत में मारी जिसकी गर्माहट से जूही का भी पानी निकल गया।यह उसका तीसरी बार था, पर अबकी बार उसको चूत में गुदगुदी हुई और झड़ने का मज़ा आया।जूही- आ. साजन भी अब जल में उतरे, मुझे अपनी बाँहों में उठा लियाफिर कमर से मुझे पकड़ सखी, अपने अंग पे जैसे बिठा लियाअंग से अंग मिल गया सखी, अंग स्वतः ही अंग में उतर गयाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

इंग्लिश सेक्सी इंग्लिश सेक्सी फिल्म !” चमेली ने अपनी भूमिका में जान डालते हुए बड़े नाटकीय ढंग से इस बात को कहा।कामिनी ने दरबार से फरियाद की, रहम… रहम हो सरकार … कनीज अब यह ग़लती नहीं करेगी”ठीक है, इसकी सज़ा माफ़ की जाती है पर अब यह ग़लती बार-बार कर हमारा मनोरंजन करती रहेगी, मैं इसकी अदाओं से खुश हुआ. !”अरे वाह जीजाजी आप की याददाश्त तो बहुत तेज है।”जीजाजी बोले- ऐसी साली को कैसे भुलाया जा सकता है, कल जश्न मनाने का इरादा है क्या.

तब तक अनुजा तू इसको गर्म कर।अनुजा और दीपाली एक-दूसरे के होंठ चूसने लगीं और निप्पल दबाने लगीं।विकास ने एक प्याली में थोड़ा सा घी गर्म किया और कमरे में ले आया।विकास- बस दीपाली अब सही पोज़ में आ जाओ. किसने रोका है…!रेहान- ऐसे नहीं, मैं आरोही को अपने साथ ले जाना चाहता हूँ दो दिन उसको मेरे पास रहना होगा। मैं आराम से करना चाहता हूँ !राहुल- क्या. मुझे पास खींचकर फिर उसने, स्तनों के चुम्बन गहन लियादोनों हाथों से नितम्ब मेरे, सख्ती से दबाकर भींच लियाकई तरह से उनको सहलाया, कई तरह से दबाकर छोड़ दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

செக்ஸி ப்ளூ ஃபிலிம் செக்ஸி

आप रूम में चलो मैं सब समझाती हूँ आपको…!रूम में जाकर राहुल बेड पर लेट गया और आरोही उसके पास बैठ कर उसके बालों को सहलाने लगी।राहुल- आरोही अब बताओ क्या बताने वाली थी?आरोही- भाई यही कि जो खून देख कर आप घबरा रहे हो वो सील टूटने पर आता है, मुझे भी बहुत आया था, जब रेहान ने मेरी सील तोड़ी थी।राहुल- क क क्या तुम्हारी सील रेहान ने तोड़ी थी. क्योंकि वो एकदम से तैयार हो गई, उसने फटाफट अपना बिस्तर उठाया और बैडरूम में आ देखने लगी कि किस तरफ लगाना है. और अपने इम्तिहान की तैयारी करो।दीपक के मन की मुराद पूरी हो गई वो तो सोच रहा था रात को सब के सोने के बाद प्रिया के कमरे में जाएगा मगर यहाँ तो सारी बाजी ही उसके हाथ में आ गई।उधर दीपाली आज पूरे दिन की चुदाई से थक कर चूर हो गई थी। खाना खाने के बाद अपने कमरे में बैठी सुस्ता रही थी.

अंदर जाते ही अलीशा बोली- देख निधि, सुमित मुझे कब से तंग कर रहा है, कहता है कि निधि के सामने करेंगे आज तो!मैं शरमा रही थी, पर मेरी चिड़िया गीली हो गई थी. !” कह कर हम दोनों ऊपर जीजाजी से मिलने चल दिए।सीढ़ी पर मैंने कामिनी से पूछा- यह सब क्या है? तूने तो कमाल कर दिया अब बता प्रोग्राम क्या है?”मेरे कान में धीरे से बोली- सामूहिक चुदाई…! अब बता जीजाजी ने तेरी चूत कितनी बार मारी?चल हट.

स्तन की घुंडी पे चुम्बन ले, जिह्वा से उनको उकसाया,पहले घुंडी मुंह अन्दर की, फिर अमरुद तरह स्तन खाया,होंठ-जिह्वा-दांतों से दबा-दबा, सारा रस उनका चूस लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

! क्या आप जानना नहीं चाहते कि आगे क्या हुआ?तो पढ़ते रहिए और आनन्द लेते रहिए…मुझे आप अपने विचार यहाँ मेल करें।[emailprotected]. ।”बस एक बार और जी भर कर चोद लेने दो। बहुत दिनों से बेकरार हूँ…!”तो आ जाओ मेरे बेटे, मेरे प्यारे बच्चे… अपनी आंटी की चूत का मज़ा ले लो. प्लीज़ प्लीज़ आआ…!जूही की बातों से साहिल और ज़्यादा उत्तेज़ित हो गया और अपनी पूरी ताक़त लगा कर झटके मारने लगा। दोनों के मिलन की आवाजें गूँजने लगीं ठप.

क्या करना से तुम्हारा क्या मतलब है… थके हुए हो, फिर भी चुदाई से मन नहीं भरा क्या…!राहुल- ओह अरे नहीं रे, आप समझी नहीं, मेरे कहने का मतलब है कि रेहान ने जो इतना बड़ा गेम खेला है, उसको जवाब तो देना पड़ेगा ना…!आरोही- चुप रहो राहुल, इतना सब होने के बाद भी तुमको समझ नहीं आया क्या. सलमा के अब्बू सलमान- हेलो बेटा इरफ़ान ! कैसे हो?इरफ़ान- खुदा का शुक्र है अंकल, आप सब कैसे हैं? आपने मुझे खाने पर बुलाया इसके लिए शुक्रिया !अचानक इरफ़ान के पेट में गुड़-गुड़ शुरू हो गई और तभी इरफ़ान ने जोर से पाद मारा ‘पूऊऊऊ…. सन्नी- और जो काम तुम डायरेक्टर प्रोड्यूसर के साथ बंद कमरे में करती हो वही काम मैं कैमरे के सामने हीरो के साथ करती ही हूँ.

इच्छा तो एक बार और उसकी मारने की हो रही थी पर क्या करें सुबह हो गई थी, मैंने उसे कपड़े पहनाये और किस किया.

बीपी सेक्सी बीएफ व्हिडिओ: चाय बना कर ननदोई जी को जगाया, फिर चाय पीते पीते वो फिर मूड में आ गए।मैंने मना कर दिया कि दिन भर थकान रहेगी, रहने दो, फिर कभी. !”इस पर चमेली व्यंग्य करती हुए बोली- जब दूसरे की में गया तो भूस में गया और जब अपनी में गया तो उई दैया.

और रेहान की कल्पना करके उनका आज जल्दी ही पानी निकल गया।पता नहीं लेकिन मेरे सामने भी रेहान बार-बार आने लगा, मुझे भी उसका क्यूट फेस याद आने लगा।अगले दिन भी हमारी फिर से चैट हुई… आज मैंने 10 मिनट तक रेहान से बात की. साजन की जिह्वा ने मेरे अंग के, रस के बाँधों को तोड़ दियासाजन ने निस्सारित रस को, मधुरस की भांति चाट लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. उसके होंठ का स्पर्श अब किसी भी स्पर्श से प्यारा लग रहा था, ऐसा लग रहा था मानो धातु ने पारसमणि को छू लिया हो.

फिर हम 69 की पोजीशन में आ गए, वो मेरी चूत को बड़े ही प्यार से चूसने लगा और मैं भी उसका लंड चूस रही थी.

उसके बाद तुम तीनों को एक जादू दिखाती हूँ।बस उसके बोलने की देर थी तीनों उसके सामने एकदम नंगे खड़े हो गए।दीपाली- हाँ ये हुई ना बात. ! मुझे डर लगता है कहीं मेरे पेट में कुछ …!”अब मैं समझ गया था कि वो क्यों डर रही है, मैंने उसको जोरदार चुम्मी ली और कहा- जो लड़कियाँ हर रोज अपने बॉय-फ्रेंड से चुदती हैं. उन्होंने मुझे बेडरूम में लाकर बिस्तर पर लिटा दिया। फिर वो मेरी बगल में लेट गये और मेरे चेहरे को कुछ देर तक निहारते रहे। फिर मेरे होंठों पर अपनी उँगली फ़िराते हुए बोले, मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि तुम जैसी कोई हसीना कभी मेरी बाँहों में आयेगी।”क्यों? भाभी तो मुझसे भी सुंदर हैं !” मैंने उनसे कहा।होगी.