हिंदी बीएफ पिक्चर चुदाई वाली

छवि स्रोत,वाली सेक्सी वीडियो एचडी

तस्वीर का शीर्षक ,

मध्यप्रदेश सेक्स: हिंदी बीएफ पिक्चर चुदाई वाली, मैंने जल्दी से उधर अपनी दो उंगलियां डाल दीं।तो आंटी सेक्स की मस्ती में कराह का थोड़ी सी हिलने लगीं और मेरे हाथ को धकेलने लगीं, तो मैंने और जोर से उंगली को अन्दर कर दिया।फिर थोड़ी देर बाद आंटी अपनी गांड हिलाने लगीं.

मोनालिसा सेक्सी भोजपुरी

उसको ऐसा लगा जैसे उसका सारा खून लंड के रास्ते बाहर आ जाएगा।राजू किसी भूत की तरह खड़ा रहा और मोना की अन्तर्वासना बढ़ती गई. अंग्रेजी सेक्सी दीजिएराधा की चुत अब पानी छोड़ने लगी थी। काका को पता था कि यही वो समय है जब इसकी सील तोड़ी जानी चाहिए। ये कामवासना में जल रही है।बस फिर क्या था काका उठे और राधा के सीने पर बैठ गए- ले राधा रानी, लंड को चूस कर गीला कर दे ताकि तेरी चुत में आसानी से घुस जाए और तुझे कम तकलीफ़ हो।राधा तो जैसे पागल हो गई.

2 इंच का लंड अपने हाथ लिया और अपनी रसीली चुत के ऊपर घिसना चालू कर दिया. सेक्सी बिहारी हिंदी मेंमुझे मेल जरूर भेजें। आपकी मुस्कान ही आपकी प्यारी सोफिया की जान है।[emailprotected]सोफिया मंसूरी की सभी कहानियाँ.

साथ ही वो कभी-कभी मुझे छूने की भी कोशिश करता था।एक दिन मैंने उसको मना किया कि वो मुझे लाइन नहीं मारे.हिंदी बीएफ पिक्चर चुदाई वाली: वो जगह बड़ी तो नहीं थी लेकिन घर के पास होने की वजह से मैंने वहाँ ज्वाइन कर लिया.

मेरी माँ बहुत सेक्सी है और इसी कारण से ना जाने कितने सेक्स अफयेर थे मेरी माँ के!पापा नौकरी के लिए गाँव से दूर रहते थे जो साल भर में एक बार आते थे.मैं बाजार गया, प्लास्टिक की छोटी थैली लेकर आया, कॉन्डोम मांगने की हिम्मत नहीं थी इसलिए छोटी थैली और रबड़ बैंड लेकर आ गया.

हॉट सेक्सी हिंदी स्टोरी - हिंदी बीएफ पिक्चर चुदाई वाली

‘तू स्पीड कम मत कर!’ मुझे बोल कर उसने नीचे से जोरदार धक्के देने शुरू कर दिए.मैं आपको अपनी माँ की चुदाई की कहानी बताने जा रहा हूँ वो एक सत्य घटना है। मेरा नाम रोहित है, मैं हरियाणा का रहने वाला हूँ।ये बात उस समय की है.

मैंने कहा- जान, तुम किसके बारे में सोच रही हो जो आज इतना उछल उछल कर चुद रही हो?दीपा- मैं न… रजत को याद कर चुद रही हूँ. हिंदी बीएफ पिक्चर चुदाई वाली इतने वर्षों से राजे से चुद के मुझे काफी अंदाज़ा होने लगा था कि वो कब झाड़ेगा.

आपको जबरदस्त चुदाई की यह कहानी कैसी लगी, आप मुझे अपने सुझाव मेरी ईमेल पर जरूर देना।[emailprotected].

हिंदी बीएफ पिक्चर चुदाई वाली?

हाय हाय करते हुए फिर से आठ दस तगड़े धक्के मारे और हर धक्के में झड़े चली गई. मैंने कुछ देर ऐसे ही लिपटे रहने के बाद अपना लौड़ा सुनीता की चूत में अंदर बाहर किया और जब मेरा वीर्य छूटने को हुआ तो सुनीता का इशारा पाकर मैंने अपना सारा माल उसके पेट पे निकाल दिया. कुछ देर की जोरदार चुदाई के बाद मैं झड़ने वाला था। तो मैंने लंड उसकी बुर से निकाल कर उसके मुँह में दे दिया और मेरा माल निकल गया।हम दोनों अब थक चुके थे और वो तो उठ भी नहीं पा रही थी। हमने किसी तरह जल्दी-जल्दी कपड़े पहने और फिर मार्केट चले गए, जहाँ से मैंने उसे दर्द निवारक गोली लेकर खिला दी और घर आ गए।अब हम दोनों भाई बहन चुदाई करते हैं।दोस्तो, कैसे लगी मेरी भाई बहन की चुदाई स्टोरी.

तो आप सच बताओगी?दीदी ने बोला- क्या मैंने कभी तुम से झूठ बोला है? मैं तो सब बातें तुमको बताती हूँ. डॉक्टर ने बेड रेस्ट करने को कहा है।मैंने कुछ नहीं कहा।फिर वो बोलीं- आज स्कूल से सीधे ही आ गए क्या?मैंने कहा- हाँ मुझे ऋषि की चिंता हो रही थी इसलिए।वो बोलीं- अच्छा किया. नहीं तो अपुन दोनों को वो चौकी लेकर जाएंगे।उतने में एक हवालदार पास आया और तभी मैंने सुनयना भाभी के कंधे पर हाथ रखा और भाभी ने भी मेरी कमर पर पीछे से डाला।उसने पूछा- क्या कर रहे हो?तो मैंने कहा- सर मैं जॉब के सिलसिले से ज्यादातर घर के बाहर ही रहता हूँ। आज ही घर वापस आया हूँ तो पत्नी को घुमाने बाहर लाया हूँ।तो उसने कहा- अरे हाँ.

आज पहली बार मुझे चुदाई का मौका मिला है। मैं तो आज आपकी जम कर चुदाई करूँगा. चोद लेता था। उसके फलस्वरूप मेरे लंड रस से दो बच्चे की आबादी भी हमने बढ़ा ली थी। रश्मि का पति यह बात कभी नहीं जान पाया था।आखिर इस सबके पीछे बदले की भावना ही काम कर गई थी। किशन ने मेरे नेन्सी के रिश्ते को लेकर गंदगी फैलाई थी। नेन्सी तब भी मेरी बहन थी. हालाँकि मैं जानता था कि उसके दिल में क्या है, फिर भी कभी हम खुल कर बात नहीं करते थे.

शनिवार को वो मिलने आ गई, मैं उसे अपने घर ले आया और वहां मैंने उसे मेघा की एक बहुत सेक्सी ड्रेस दे दी, निकर और कमीज…उसने बोला- मुझे शर्म आ रही है!मैंने कहा- मुझसे कैसी शर्म? मैंने तो तुमको नंगी करके चोदा है, अब कैसी शर्म!तो उसने कहा- बाकी लोग देखेंगे!मैंने कहा- मेघा भी तो पहनती है!तो वो मान गई वो मेरे सामने ही नंगी होकर कपड़े चेंज करने लगी. या शायद भैया को बहुत प्यार करती थीं। मैंने हर तरीके से उनको छूने की कोशिश की, लेकिन एक दिन उन्होंने मुझसे कह दिया कि वो मेरी शिकायत मम्मी-पापा से कर देंगी। उस दिन से मैं उनसे दूर रहने लगा।फिर कुछ दिन बाद मम्मी-पापा किसी रिलेटिव की शादी में बाहर गए हुए थे। तो मैंने एक प्लान बनाया। मैं मार्किट गया.

तो उसकी भी रैंगिंग की क्या?टीना- वो तेरी तरह फर्स्ट ईयर की नहीं है.

मैं जमीन पर घुटनों के बल बैठ गई और मैंने रोहन के गीले लण्ड को अपनी जीभ से चाटना शुरू कर दिया… वीर्य के कारण लण्ड का स्वाद काफी अच्छा लग रहा था।फिर हम दोनों उठ कर बिस्तर पर लेट गए, रोहन मेरे ऊपर आकर आकर 69 की पोजीशन में लेट गया… फिर रोहन ने मेरी चूत को चाटना और चूसना शुरू कर दिया.

आंटी हंसते हुए- और क्या अच्छा लगता है?मैं- आप पहले बेड पर चलो!आंटी नीचे झुकी, मेरे गाल पर किस जड़ दी और मुझे हाथ पकड़ कर बेड पर ले गई और अपनी साड़ी उतार कर पेटीकोट, ब्लाउज में बेड पर लेट गई और अपने बाल खोल कर बोली- और क्या अच्छा लगता है तुझे’मैं भी अपनी टीशर्ट निकाल कर आंटी के लिप्स पर अपनी जीभ लगाकर बोला- मुझे आपके लाल लिप्स भी बहुत अच्छे लगते हैं. मैंने उसका पूरा हाथ ठीक से पकड़ा और उसे रोक लिया। फिर मैंने दरवाज़ा बंद किया और उससे कहा- डर मत अवी, मुझे सब पता है. लेकिन वो मना करने लगी। मेरे बहुत कहने के बाद नीलू ने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और लंड चूसने लगी। हम दोनों 69 में होकर कुछ मिनट तक एक-दूसरे के लंड चुत चूसते रहे.

अचानक उसने मुझे गाली दी- बहनचोद पता नहीं क्या ख़ाता है इतना नमकीन माल छोड़ दिया मेरे मुंह में…मैं गिर सा गया बेड पे!10 मिनट हम दोनों यों ही लेटे रहे. मौसी ने कहा- हिमांशु तू इतनी रात में बाहर से कहाँ से आ रहा है…अब मौसी को क्या जवाब देता… मैंने कहा- कुछ नहीं मौसी, मैं ऐसे ही पड़ोस के लड़के के साथ खेतों की तरफ टहलने निकल गया था. फिर उसने पूछा- तुम्हें यहाँ पहले नहीं देखा?तो मैंने कहा- मैं यहाँ नया हूँ, अभी एक हफ्ता ही हुआ है.

क्योंकि जब भी वो घर में होती हैं तो ब्रा और पेंटी तो पहनती ही नहीं हैं।हम दोनों ने गेट के पास ही थोड़ा रोमान्स करने के वहीं एक-दूसरे को नंगा कर दिया। मैंने दीदी को अपनी तरफ़ घुमा लिया और सीधे उनके मुँह में अपना मुँह डाल कर पागलों की तरह किस करने लगा।वो भी जोश में आ गई थीं ‘आहह उह.

तू मेरी चुत को चोद कर भोसड़ा बना दे।मेरे मुँह से हंसी निकल गई और मैंने ‘हाँ’ बोल दिया।अब मैंने भाभी के मम्मों को खोला कर देखा. पहली बार ऐसा होता है और तुझे किसने कहा रोज निकालने को? जब तेरी चुत में खुजली हो तब निकालना।सुमन- ये कहानी पढ़कर तो खुजली अपने आप होने लगती है।टीना- अच्छा समझ गई, जिस दिन मन हो. हा हा हा हा डरो मत मजाक कर रही हूँ चलो आपकी वो पूजा के बारे में बताकर दुविधा दूर कर देती हूँ।टीना और संजय आराम से बैठ कर बियर का मज़ा ले रहे थे।टीना- यार संजय अब कितना तड़पाएगा.

आंटी-‘क्यों सिर्फ़ आकाश से ही मिलना है, आंटी से नहीं मिलना?मैं हंसते हुए- नहीं, ऐसी कोई बात नहीं है. और वो बाहर रंडियों के पास जाते हैं। बीवियां चुत की आग न बुझ पाने से प्यासी बनी रहती हैं।ऐसी भाभी और आंटी की चूत चाटने में मज़ा आता है।मेरी चुदाई की कहानी पर ईमेल जरूर करना।[emailprotected]. और कहानी भी अपने नाम के मुताबिक नहीं चल रही है तो दोस्तों सब्र करो.

आंटी खड़ी होकर बोली- ले मैंने आँखें बंद कर ली, अब बता!मैं आंटी के पास गया और उनकी उनकी साड़ी नाभि से नीचे करके उनकी नाभि को जीभ से चाटते हुए बोला- मुझे आपकी नाभि बहुत अच्छी लगती है.

अविनाश बाथरूम से आया।मैंने उससे कहा- देख अवी, अगर तू चाहे तो मुझे ऐसे ही छोड़ कर अपने घर जा सकता है. यह कहानी स्नेहा जैन की है जो ललितपुर में मेरे ही मोहल्ले में रहती थी.

हिंदी बीएफ पिक्चर चुदाई वाली अब मैं उसकी जीभ को चूसता हुआ उसे अपने लौड़े पे चोद रहा था उसकी गांड को अपने हाथ से पकड़ कर ऊपर नीचे कर रहा था जिस से मेरा लंड उसकी चूत की गहराई तक चला जाता था. मैडम आअहह उफ्फ्फ्फ़ अर्ररर और हाँ तेज़ तेज़ सिसकारियाँ लेती हुई बोली- छोटू, मुझे किस करो!मैं मैडम के ऊपर लेट गया और उनके गुलाबी होंठों को धीरे धीरे मज़े लेते हुए चूसने लगा.

हिंदी बीएफ पिक्चर चुदाई वाली मुझे एक लहंगा पहनाया गया और हाथ में कुछ चूड़ियाँ और दुल्हन वाला चूड़ा पहनाया और पैरों में पायल पहनाई. ‘हाँ-हाँ, क्यों नहीं… डाल दो जानू तुम भी मेरी गांड में… मैं तुम दोनों के लंड अपनी गांड में महसूस करना चाहती हूँ!’ नताशा ने मेरी तरफ देखते हुए कहा.

अब मैं भी‌‍ एक मर्द हूँ, मुझे भी धीरे धीरे मज़ा आने लगा और मैंने भी उन्हें चूमना शुरु कर दिया! हम दोनों बस एक दूसरे में खो से गये!इतने में दरवाजे की घंटी बजी और हम दोनों अलग हो गये.

सेक्सी छोटे बच्चे की

’ की आवाज़ से उसकी चुत से निकालने लगा। मैं अपना पूरा लंड उसके चुत के अन्दर तक ले जाकर इसे चुत से एकदम बाहर कर लेता और फिर तेज़ी से वापस उसे चुत के अन्दर घुसेड़ देता।फिर मैंने उसकी कमर पकड़ कर चुदाई की स्पीड बढ़ा दी. निकिता बोली- कमरे पर कर लेना!मैंने कहा- नहीं, यहीं करना है, तुमको भी अच्छा लगेगा, मुझे अभी किस चाहिए!उसने धीरे से मुझे होंठों पर किस कर दिया. अंजलि के चेहरे पर अलग ही कशिश झलक रही थी उसके कुंवारे होंठ जिसको अभी तक किसी लड़के ने नहीं पिया था, मैं जी भर के पी रहा था.

जिसको वो चूस रही थीं।अब वो अकड़ रही थीं तो मैंने देर ना करते हुए अपना लंड उनकी चूत के दरवाजे पर सैट किया और रगड़ने लगा।वो लंबी साँस भरकर कहने लगीं- राजा कितने सालों से मैं इस बुर को कंट्रोल करते-करते तड़प गई थी, पर आज मेरी प्यास बुझा दे मेरे सोना. ये क्या टुच्चा सा टास्क दे दिया?संजय- सालो, तुम सबको अक़ल है कि नहीं. उसके बाद बाकी दो लोगों ने जगह संभाल ली, एक चूत में, एक गांड में… फिर मेरी चुदाई स्टार्ट हुई.

कभी उसकी सहेलियों के कमरे पर चुदाई हो जाती है।आपको मेरी ममेरी बहन की सील तोड़ चुदाई की हिंदी पोर्न स्टोरी कैसी लगी, मुझे मेल कीजिएगा।[emailprotected].

आंटी- तुझे कैसे पता नर्म हैं?मैं- मैंने प्याज़ देते वक्त महसूस किया था. फिर हम दोनों साथ-साथ नहाये, फिर तैयार होकर हम लोग गोवा के समुद्रतट पर घूमने चल दिये. मैंने उसका ब्लाउज़ ऊपर उठा कर उसके दोनों चूचे बाहर निकाले और कभी दबाया तो कभी चूसा, मगर उसने पूरे मज़े और जोश के साथ मेरा लंड चूसा.

सो मैं उनकी चूत को चाटता रहा और जीभ को बुआ की चुत के अन्दर डालकर उनको ओरल सेक्स का मजा देता रहा।मैंने उनकी चूत में सूंघा. तो ऐसा हुआ कि होली की दिन मैं उनके घर होली खेलने के लिए गया तो घर पर चाचा नहीं थे, मैंने चाची से पूछा- चाचा कहाँ हैं?चाची ने बताया- तेरे चाचा एक दोस्त के यहाँ गये हैं, एक घण्टे में आएँगे, तब होली खेल लेना!मैंने कहा- आप तो यहाँ हो चाची… आपके साथ खेल लेंगे!तो चाची ने कहा- हाँ क्यों नहीं!चाची गुलाल लेने अंदर गई तो मैंने जेब से पक्का रंग निकाल कर अपने हाथ में लगा लिया. चूंकि दोपहर के वक्त मैं अकेला रहता हूँ।भैया ने सारी बात बताई और कहा- मेरी वाइफ को औरत बना दो और मुझे पिता बना दे, तू अपनी भाभी के साथ सेक्स कर सकता है.

ऋषि को पता था कि पूजा एक शरीफ लड़की है और कभी बॉयफ्रेंड ना बनाया है और ना बनाएगी. रूम में जाते ही मैंने उसको बेड पर लिटाकर उसकी साड़ी, ब्लाऊज और पेटीकोट निकालने शुरू कर दिए और अपने भी कपड़े निकल कर उसके पूरे बदन को चूसने लगा.

30 बज गए मैंने फिर फोन किया तो वो बोले- हम आबू रोड बाई पास आ गए, वापस आ रहे हैं, तुम बस स्टैंड से माउंट आबू की तरफ वाले रोड पर आ जाओ हम लाल रंग की मर्सडीज गाड़ी से आ रहे हैं।मैं माउंट आबू वाले रोड पर 400 मीटर चला की लाल मर्सडीज दिखाई दी तो मैंने फोन किया तो बिमलेश बोली- बस पहुंच गए. पिछले तेरह माह से मैं बिना विवाह किये भी एक शादी शुदा पुरुष की तरह जीवन जी रहा हूँ और माला विवाहित होने के बावजूद भी एक पर-पुरुष के साथ जीवन व्यतीत कर रही है. तब से मुझे कुछ कुछ होता है मैं तो साहिल जब मुझे चोदता था तब तेरे पति को याद् कर मन ही मन न जाने कितनी बार उनसे चुदवा चुकी हूँ.

’मैं मन ही मन सोच रहा था कि ये तो आज मेरे साथ ज्यादा ही खुल रही हैं.

एक दिन अमिता मेरे को बुलाने आई और बोली- मैं बोर हो रही हूँ!तो हम लोग आपस में बातें करने लगे. कल्पना के नर्म गद्देदार और रस बहा चुकी चूत के मुहाने पर मेरा लंड इतरा रहा था, मैं लंड को सेट किया हुआ ही था कि कल्पना ने खुद को पीछे धकेल दिया और लंड का सुपारा सहित लगभग दो इंच चूत में घूस गया मेरे मुंह से आहहह निकल गई. एक मिनट में फिर मैंने झटके देने चालु किये, मौसी भी चूतड़ उठा उठा कर मेरा जवाब दे रही थी और बड़बड़ा रही थी- हाय मेरे राजा, आज तूने मुझे जन्नत का मजा दिया है… अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह अह्हह्हह्ह आज से जो तू कहे… तुझे मिलेगा! मैं आज से तेरी गुलाम!ऐसी बात सुन कर मुझे जोश आ रहा था, मेरे झटके तेज हो रहे थे.

मेरे हाथ उसकी जांघों पर फिसल जाते और मेरी पकड़ उसकी जांघों के बीच में बने लंड के एरिया के पास जाकर मजबूत हो जाती. अब जीजू मेरी बाहों में आये और उन्होंने अपने लंड को जानबूझ के मेरी चूत की पलकों के ऊपर रख दिया.

मैंने अपनी जीन्स उतार दी, जीजू मेरे पीछे आ गये और उन्होंने अपने लंड को मेरी गांड के ऊपर घिसना चालू कर दिया. थोड़ी पतली है। उसका साइज़ 32-28-32 का होगा। अब मैं नीलू तो पटाने में लग गया। बातों-बातों में मैं उसको टच कर देता, कभी किस कर देता. उसकी आँखों में आँसू आ गये और उसकी चूत से खून निकल आया… मैं थोड़ा रुका, फिर धीरे धीरे वो नॉर्मल हो गई… फिर मैं तेज तेज चूत चुदाई करने लगा उसकी और वो भी अपनी गांड ऊपर नीचे करके मेरा साथ देने लगी.

सेक्सी सेक्सी बीपी हिंदी

नमस्ते।मैंने उस लड़के को देखा और चलने लगा।भाईसाहब जोर से हँसे, बोले- इसे सुकांत आपके पास लाएगा।ये कह कर वे मुस्कराए.

सुबह 6 बजे मुर्गे की कुकडू कूँ से फिर आंखें खुलीं तो सूरज निकल चुका था. कोई दिक्कत नहीं है।फिर मैंने एक दुकान से कन्डोम लिए और शाम को मामा के घर आ गया। मुझे लगा रहा था कि अंजलि मुझसे चुदने के लिए राज़ी नहीं होगी. वो ओल्ड स्टूडेंट है, गोआ यूनिवर्सिटी से आई है। बाकी आज तू उससे मिलकर पूछ लेना। पहले ये बता रात को स्टोरी रीड की तूने?सुमन- दीदी अपने क्या स्टोरी बताई है मेरा तो दिमाग़ घूम गया। एक स्कूल गर्ल को कैसे उसके टीचर ने उल्लू बनाया और बाप रे कैसे उसकी चुदाई की। ये पिंकी सेन तो गजब की राइटर है… कैसी कहानी लिखती है.

मैंने कहा- ठीक है!और मैं नीचे लेट गया और वो मेरे लौडे पर अपने चूतड़ सेट कर लौडा धीरे धीरे अंदर लेने लगी. देवर भाभी की यह हिंदी चोदाई कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!चाचा ने अम्मी की पेंटी भी फाड़ दी और मेरी अम्मी की चूत को कुत्ते की तरह चाटने लगे. एक्स एक्स एक्स सेक्सी वीडियो मोटी वालीउनका लंड फूलने लगा था। मोना की चुत तो फिर से झड़ गई मगर काका फिर भी 5 मिनट और उसको चोदते रहे, तब कहीं जाकर उनका लावा फूटा और वो निढाल होकर मोना के पास लेट गए। काका ने मोना को अपने सीने पे लिटा लिया।काका- उफ साली क्या गर्म माल है रे तू कितनी चुदाई की.

एंड्रयू ने उंगली के इशारे से मेरी बीवी को अपने ऊपर लेटने का आदेश दिया और नीचे लेटे हुए ही उसकी स्वान के भयानक लंड द्वारा चौड़ी हो चुकी गांड मारने लगा. मेरी माँ 38 साल की है, बहुत सेक्सी और गठीला बदन, बड़ी बड़ी चूचियाँ और गोल गोल गांड.

जैसे ही मेरा लंड उनकी चूत में गया, मुझे लगा जैसे मेरा लंड किसी गर्म भट्टी में चला गया हो. अब तक आपने इस सेक्स स्टोरी में पढ़ा कि मैं नम्रता आंटी को नंगी नहाते हुए देख रहा था, आंटी सेक्स की प्यास बुझाने के लिए अपनी उंगलियों से अपने दोनों छेदों में मजा ले रही थीं।यह देख कर मैंने भी अपना लंड हिलाना शुरू कर दिया था।अब आगे. हम दोनों किसी भी वक़्त फट सकते थे और उस पल के इंतज़ार में ही ये सारी काम-क्रीड़ा चल रही थीं.

पर मैंने उसे अपने से चिपका लिया और अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए।अब वकील साहब बाथरूम में से झांके. मत बोलो, आप मुझे दीदी बोल सकती हो!तो मैंने भी उन्हें कहा- ठीक है, पर आप भी मुझे आप न कह कर मुझे रोमा ही बोलिये!उन्होंने कहा- ठीक है रोमा!तब मैंने उनका कुछ सामान लिया और उनके साथ उनके घर गई सामान रखने के बाद पायल दीदी ने कहा- बैठो रोमा, मैं चाय बनाती हूँ!मैं बैठ गई, कुछ ही देर में पायल दीदी चाय बना कर ले आई, हम दोनों बैठ कर चाय पी रहे थे. अब जब मुझसे बिल्कुल रहा नहीं गया तो मैंने एक उंगली को अपनी चूत के अंदर घुसा दी.

आराम से लेटी रहो।इतना कह कर मैं उसके बालों से खेलने लगा।दुशाली- तुम इतने प्यारे हो तुम्हारे साथ कितना अच्छा लगता है।मैं- आप भी प्यारी हो.

उसे क्या हुआ है और वह अब कैसी है?उत्तर में अम्मा ने कहा- ऐसी कोई बात नहीं है और अब वह बिल्कुल ठीक है. व लंड पेले हुए है। यह काम वो बिल्कुल मेरे बगल में कर रहा था। लड़का भी मजे से गांड मरवा रहा था।भाई साहब तो उठे पेशाब कर आए और लौट कर सो गए।मैं मजे से यह गांड मराई देखता रहा। झड़ने के बाद सुकांत बेड की चादर से लंड पोंछ कर लेट गया। तब तक पाँच बज गए.

मेरे हाथ उनके सिर पर चला गया और मैं उन्हें अपने बूब्स पर दबा रही थी. भला तीन इंच के पतले से लौड़े से मुझे जैसे महा चुदक्कड़ लौंडिया की तसल्ली हो सकती थी?अच्छा ही हुआ कम्बख्त जल्दी ही चल बसा वर्ना किसी दिन मेरा गुस्सा फूट पड़ता और मैं ही उसका क़त्ल कर देती. तभी भाभी ने मेरे लंड से अपना हाथ हटा लिया और फिर मेरे कानों पर धीमे-धीमे फूँक मारने लगीं। कभी वो ऐसा मेरे निप्पलों पर भी कर रही थीं। वो मुझे बहुत ही बुरी तरह से तड़पा रही थीं।फिर उन्होंने मेरे हाथ और पैर खोले और मुझे एक चाकू दे कर बोला।भाभी- मेरी साड़ी फाड़ो।मैं- फाड़ दूँ.

कुछ देर बाद मैंने उसे घोड़ी बनाया और लंड को उसकी चूत में डालकर चोदने लगा. ‘बड़ा मीठा हैं जीजू का लंड तो… ऐसा लगता है जैसे शहद में भिगो के अंडरवीयर में छिपा के रखता हो…’मैंने मुँह को थोड़ा और खोला और लौड़ा मेरे मुँह में मस्त पेला जा चुका था. उसने अपने लंड की फ़ोटो भी भेजी है, देखोगी?मैंने मना कर दिया लेकिन वो ज़बरदस्ती मुझे दिखाने लगे.

हिंदी बीएफ पिक्चर चुदाई वाली एक दिन मैंने बोल ही दिया कि ऐसे तो हमारी बात कभी आगे नहीं बढ़ेगी, तो उसने हार कर मुझसे पूछ ही लिया कि क्या मुझसे प्यार करते हो?बस मुझे और क्या चाहिए था. एक बार फिर सलोनी ने अपनी पोजिशन बदली, इस बार उसने मुझे जमीन पर लेटने को कहा और मेरे लंड को अपनी गुफा के अन्दर ले लिया, उसके बाद उछलने लगी, कभी वो लंड को चूत में लेती तो कभी अपनी गांड के अन्दर, कभी उसका मुंह मेरे सामने होता तो कभी उसकी पीठ मेरे सामने होती.

कच्ची उम्र की सेक्सी

बस एक बार मैं भी उनको मज़ा देना चाहता हूँ।काका- तू अपनी औकात भूल रहा है और तेरे जैसे नामर्द से वो खुश नहीं हो सकती. एक दिन भाभी ने मुझे बुलवाया, मैं उनके घर गया तो देखा कि उस वक्त मालविका भाभी बर्तन साफ़ कर रही थीं. बहुत देर तक इमोशनल होते हैं। हर बार इतनी दूर का ट्रैवल करने के बाद भी जल्दी फ्रेश होकर मुझे मूवी दिखाने लेकर जाते हैं। फिर हम शॉपिंग करने जाते हैं। साथ ही किसी अच्छे से रेस्तरां में जाकर खाना खाकर हम लोग घर वापस आते हैं। फिर पूरी रात वो सोते भी नहीं.

मैडम सिसकारियाँ लेते हुए मुझसे बोली- तू चूत को बहुत अच्छा चाटता है. तो वो थोड़ा चिल्ला उठीं।मैंने पूछा तो भाभी ने कहा- मेरे पति का लंड बहुत ही छोटा है. नीरू बाजवा सेक्सी वीडियोवो चादर ओढ़ कर सो रहा था। मैं चुपके से उसके पीछे जाकर लेट गया और चुप रहा। थोड़ी देर बाद पेंट के ऊपर से ही मैंने उसके लंड को सहलाना चालू कर दिया।फिर मैंने हिम्मत करके अपना हाथ उसकी अंडरवियर में डाल दिया और लंड को पकड़ कर हिलाने लगा.

हॉस्टल में एंट्री लेते हुए समय मैंने देखा कि फीस विंडो पर लाइन नहीं लगी हुई है और विंडो भी खुला था तो सोचा क्यूँ ना अपनी फीस ही भर दूं और यह काम पूरे से निपटा दूं और वैसे भी सोमवार को काफ़ी लंबी लाइन लगने वाली थी.

रानी और मैं पहले तो एक दूसरे को देखती रहीं, फिर हमने बात को टाल दिया और फिर जब वो जाने लगे तो उन्होंने एक बार फिर हमसे बोला पर हमने बाद में जवाब देने का बोल दिया. कौन फ़िदा नहीं होगा आप पर।मैंने उनसे बहुत रिक्वेस्ट की कि मुझे प्यार करने दीजिए.

तभी संजय ने कहा- क्या नाम है आपका?मैं कुछ बोलने ही वाली थी कि मेरे शौहर ने कहा- सबा!फिर पूछा- क्या करने आई हो, पता है?मेरे शौहर ने कहा- इसे रंडी बनाना है, इसे आज अपनी रंडी समझ कर इतना चोदो कि इसकी चूत और गांड दोनों खुल जायें!गांड का नाम सुनते ही मैं चौंक गई क्योंकि मैंने आज तक कभी गांड नहीं मरवाई थी. मैं कुछ देर बाहर ही खड़ा हो गया और कुछ देर में मैं भागता हुआ आया और कम्प्यूटर को बंद किया और उसके पास गया।वो मुझे बड़े ध्यान से देख रही थी।मैंने उससे कहा- वो गलती से हो गया, किसी से बताना मत!वो बोली- नहीं बताऊँगी… पर मेरी भी एक बात मानोगे?मैंने कहा- हां बोलो? जो कहोगी करूँगा, बस किसी को बताना मत!कहने लगी- मेरे पति को मरे 10 साल हो गए हैं और मेरा भी मन बहुत करता है. उसके कान की लौ चुभलाते हुए मैंने उसका दायाँ स्तन कुर्ते के ऊपर से ही अपनी हथेली से ढक दिया, विरोध स्वरूप उसका हाथ मेरे हाथ पर आया और दूर हटाने को लड़ने लगा, हाथापाई करने लगा, पर जीत मेरे ही हाथ की होनी थी और हुई भी… जीत की ख़ुशी कुछ यूं जैसे मैंने वो क्षेत्र, वो प्रदेश, वो अंग जीत लिया हो.

जैसे ही उसका कुर्ता उतरा, उसने अपने पैर एक के ऊपर एक रख के कस कर भींच लिए जैसे अपनी लाज के अंतिम आवरण को बचाये रखना चाहती हो.

00 बजे हम दोनों अंकल को वहीं छोड़ कर आ गए।आंटी को अब ऋतु को चुदवाने के लिए तैयार करना था।ऋतु की कमसिन जवानी मेरी नज़रों में नाच रही थी।ऋतु की चुत के साथ क्या होता है. हमने नशे में खाना खाया और बेड पर चले गए मैं तो एक बियर में ही होश खो बैठी थी! मुझे कुछ पता ही नहीं चल रहा था कि मैं क्या बोल रही हूँ क्या कर रही हूँ!मैंने अपने कपड़े उतार कर फेंक दिये और अपने पति के ऊपर गिर गई. अंदर छेड़ा छाड़ी पूरे जोरों पर थी, चारों ओर अँधेरा था, हल्का म्यूजिक चल रहा था.

पड़ोस वाली भाभी की सेक्सी वीडियोतो सबको डिस्टर्ब होता है। फिर कभी फैक्टरी से भी देर रात को कॉल आता है, तो मुझे ही जाना पड़ता है।फिर भाभी ने और एक सवाल पूछा- पर रात को फैक्टरी से कॉल क्यों आता है?मैंने उनसे कहा- फैक्टरी पर नाइट शिफ्ट भी चलती है ना।भाभी फिर सवाल पूछने लगीं तो मैंने उनसे कहा- तुम कितने सवाल पूछती हो?वो हंसने लगीं और कहा- क्या करूँ बहुत दिनों बाद किसी से बात कर रही हूँ इस लिए. अजय गाड़ी के दूसरी तरफ का दरवाजा खोल कर मेरे सर की तरफ अपनी पैन्ट उतार कर अपना लंड निकल कर मेरे मुँह में देने लगा!मैं तो पहले अपना मुँह इधर उधर करती रही पर थोड़ी देर बाद अजय ने मेरा मुँह पकड़ कर मेरे मुंह में अपना लंड डाल कर अंदर बाहर करने लगा.

सेक्सी नंगी सेक्सी ब्लू पिक्चर

मैंने कहा- मगर वो तो मुझसे भी बहुत बड़ी है, मैं तो अभी 21 का हूँ, और ये तो 40 के आस पास होगी. फिर रामू काका ने मेरा एक हाथ पकड़ा और खींच कर गीता की छाती पे रख दिया- ले तू भी दबा कर देख. मैं बोला- वो बात नहीं है… आप बहुत खूबसूरत और सेक्सी हो!वो बोली- मयंक, जब से तुम यहाँ रहने आये हो, मैं तो तब से तुम पर लट्टू हूँ बस हिम्मत नहीं हुई!मैंने कहा- अगर ऐसी बात हैं तो टाइम खराब नहीं करते… और एक दूसरे की प्यास बुझा देते हैं!और हम लोग एक-दूसरे को किस करने लगे.

20-25 शॉट लगाने के बाद मेरे लंड से माल निकलना शुरू हो गया था, मैंने लंड को सुहाना के मुंह पर कर दिया, सुहाना लंड को अपने मुंह में लेकर मेरे रस को पीने लगी. उसने इतनी अदा से कहा कि मैं न जाने कैसे मान गया। फिर मैंने उसके मुँह की चुदाई की. मैं तेरे बच्चे की माँ बनना चाहती हूँ… तुझसे जैसे चोदने वाला आज तक नहीं मिला… आज रात को भी मेरे कमरे में आना और जम के चोदना मुझे… मुझे रात भर चुदना है तुझसे…यश ने कहा- ठीक है… रात को तुझे माँ बनाऊंगा, इस समय लंड का माल मुंह में ले ले.

तभी फोन की घण्टी की आवाज आई… मेरी बीवी का फोन था… बोली- वाशी का मीटिंग आधा घंटा लेट हो गई है तो आठ बजे शुरू होगी. प्रिय पाठको एवं पाठिकाओ, आप सभी को मेरा नमस्कार!पोर्न सेक्स का यह मेरा अनुभव मेरी एक क्लास मेट के साथ का है जब उसने एक वीरान पड़ी इमारत में मुझसे अपनी चुदाई करवाई. पूरे 5 साल बाद दीदी और जीजू वापस मुंबई आए हैं क्योंकि दीदी की तबीयत ठीक नहीं रहती इसलिए जीजू ने वापस अपना ट्रान्सफर मुंबई करवा लिया। इत्तफ़ाक़ की बात ये है हमारे घर के सामने ही दोनों को घर मिल गया है।अब इस पूजा के बारे में क्या कहानी बनती है वो मैं आपको इस ससुर बहू सेक्स स्टोरी में आगे लिखूंगी.

चलो देखते हैं।अचानक टीना को याद आता है कि संजय उसको बातों में लगा कर पूजा की बात को टाल रहा है।टीना- यार संजू प्लीज़ तू मुझे बातों में उलझा मत. मैं आपकी सबसे छोटी साली मीना हूँ, मेरे से बड़ी रेखा और सबसे बड़ी दीदी का नाम तो याद ही होगा न आपको.

ओह्ह गॉड… क्या गांड थी! इतनी मस्त कि सारा दिन चाटता रहूं!मैंने अपना हाथ उनके चिकने चूतड़ पे फेरा… एकदम मलाई थी!शायद उन्हें भी मेरा टच अच्छा लगा.

अच्छा लग रहा है।आंटी की गांड मारने के बाद बीस मिनट आराम करने के बाद अंकल अपना लंड हिलाते हुए आए और फिर से आंटी की चुदाई करने के लिए कहने लगे।मैंने आंटी को कहा- अब हम दोनों मिलकर एक साथ लंड पेल कर आपकी चुदाई करना चाहते हैं।वो बोलीं- वो कैसे?मैंने कहा- अंकल तुम नीचे लेट जाओ।अंकल नीचे लेट गए और मैंने आंटी को बोला- आप अपनी चुत में अंकल का लंड घुसवा लो।आंटी ने भी वही किया. सनी लियोन फुल सेक्सी व्हिडिओक्योंकि बहुत थका हूँ और पीठ भी दर्द कर रही है तो बता नहीं सकता, पर क्यों?तो उन्होंने कहा- ऐसे ही पूछा और तुम्हारी पीठ दर्द कर रही है तो पहले क्यों नहीं बताया?तो मैंने कहा- अभी दर्द होने लगी है. उनको सेक्सीमैंने घबरा कर बैग में से सारा सामान निकल दिया और देखा बाद में एक छेद हुआ पड़ा था और पैसे बैग से गायब थे. अभी तुम बस इतना जानो कि मैं अकेलेपन की शिकार हूं, और मुझे तुम्हारा साथ चाहिए।कहानी लंबी है धैर्य के साथ पठन करें। कहानी कैसी लग रही है, आप अपनी राय इस पते पर या डिस्कस बॉक्स पर दे सकते हैं।[emailprotected][emailprotected].

!’मैंने भी लंड चुत पर रखकर धक्का मार दिया।फ़च करता हुए मेरा लंड उसकी सील तोड़ता अन्दर चला गया।‘आह मर गई.

साथ ही अब मैं खुद ही अपनी चूचों को दबा रही थी।फिर कुछ पल बाद मैंने अपने कम्बल को हल्का सा हटाकर देखा तो वो वहाँ खड़ा था।‘मैं आ रहा हूँ. 30 साल का नन्द किशोर, उर्फ नंदू अपनी पत्नी निकिता उर्फ़ निक्की के साथ बलमिंदर सिंह, उर्फ़ बल्लू की बड़ी सी कोठी के ऊपर के हिस्से में दो बैडरूम के घर में रहता था। नंदू बल्लू के मामा का बेटा था तो बल्लू उसको भाई और निक्की को निक्की भाभी करके बुलाता था।निक्की और नंदू बहुत खुश थे क्योंकि बल्लू ने नंदू को अपने बैंक्वेट हाल यानि मैरीज पैलेस में मैनेजर की जॉब दे दी थी. रामू काका ने मेरी नज़र भाँप ली और गीता से बोले- ए गीता, उठ और चल इधर आ कर मेरी जांघ पर बैठ!गीता ने कामुकता से भरी बड़ी टेढ़ी मुस्कान दी और अपनी ही साड़ी में उलझती हुई रामू काका की जांघ पर बैठ गई.

अब हम दोनों के मुख से मादक आवाजें आने लगी और वो बोल रही थी- मादरचोद… तुझे मुझसे नहीं, मेरी चूत से प्यार है… चोद मादरचोद!मुझे और जोश बढ़ता जा रहा था… उसके मुख से लगातार गालियाँ और मादक आवाजें ‘आह उह आह ओ याह आह आह… आह फ़क मी… कमीने चोद!’ निकल रही थी. प्रिय पाठको एवं पाठिकाओ, आप सभी को मेरा नमस्कार!पोर्न सेक्स का यह मेरा अनुभव मेरी एक क्लास मेट के साथ का है जब उसने एक वीरान पड़ी इमारत में मुझसे अपनी चुदाई करवाई. जो अपने पति से संतुष्ट नहीं थी। उसका पति हमेशा अपने काम में व्यस्त रहता था। दुशाली ने कुछ घूमा भी नहीं था.

2019 की न्यू सेक्सी वीडियो

तो मुझे मालूम हो गया कि मेरी माँ इन तीनों से चुदवाती हैं। क्योंकि जब चाचा जी जब बाहर से आते हैं तो माँ के साथ उसके रूम में ही सोते हैं और माँ हम भाई- बहन को दूसरे रूम में सुला देती थीं।जब फूफा घर आते तो भी यही सिलसिला चलता. मुझे वैसे भी कमसिन छोरियों के छोटे छोटे बूब्स ही ज्यादा पसन्द हैं जिन्हें दोनों मुट्ठियों में भींच के धुआंधार चुदाई कर सकूं. जब मेरा निकलने वाला था तो मैंने अपना लंड बहन की चूत से निकाल कर उसके मुँह में दे दिया.

मैंने अपना गिलास नीचे रखा और अपने दोनों हाथों से गीता के दोनों बोबे पकड़ लिए और उन्हें दबा दबा कर देखने लगा.

चची ने दरवाज़ा खोला तो मैंने देखा कि चची नाइट ड्रेस पहन कर सामने खड़ी थी रेड कलर की… चची बहुत सेक्सी लग रही थी, बूब्स तो काफी उभरे दिख रहे थे.

लेकिन तुम इधर से मेरे कमरे में चलो, तब मैं तुम्हें वो काम बताती हूँ।फिर मैं शीना आंटी के साथ उनकी पतली कमर और बड़ी सी गांड को देखता हुआ उनके कमरे में चला गया।शीना- अच्छा तुम मुझे एक बात बताओ जो सब तुम थोड़ी देर पहले टीवी पर देख रहे थे, क्या तुम वो सब कुछ उसी तरह से कर सकते हो?तभी मैं यह बात सुनते ही स्वर्ग में पहुंच गया और मैंने कहा- हाँ क्यों नहीं, आप एक बार मुझे आजमा कर देख लो. कुछ ही पलों में मैं भी नज़दीक आ गया- आआह्ह्ह… स्स्स्स स्साआ अह्ह्ह… म्म्म म्म्माआआह्ह… ओह येस… ओह येस… ओह येस… ओह येस बेबी सक इट… ओह येस बेबी सक इट अंजलि मेरा हो जायेगा!मेरे चूतड़ भी स्ट्रोक्स लगाने लगे, मैंने उसके मुँह से लंड को निकाला और ढेर सारा अमृत उसके चेहरे और चुची पर निकाल दिया और अपनी सांसों को व्यवस्थित करने लगा. अटल सेक्सी वीडियोइधर मेरा दिमाग घूम रहा था कि जाने क्या होगा, नया शहर और किसी को जानता भी नहीं!कुछ दिनों तक भाभी से बात नहीं की, चुपचाप ऑफिस जाता और घर आने के बाद दरवाजा बंद कर लेता.

मैंने अब उनके चूचों को मुँह में लिया और अपने लंड को तेज़ी से अन्दर बाहर करने लगा. जिन्हें देखकर मैं पागल सा हो गया और उसके मम्मों को पूरी दम से मसलने और चूसने लगा।दुशाली- अह आह. वरुण बोला- भाभी, बस होने वाला है!तभी मैंने उससे कहा- पानी चुत के अंदर मत निकालना!तो बोला- ठीक है!वरुण मुझे और तेज़ चोदने लगा.

इसलिए वो अक्सर अपने बिज़नस टूर की वजह से काफी काफी दिनों तक बाहर भी रहते हैं. उसकी आँखों से आंसू टपक रहे थे और मेरी दोनों उंगलियाँ उसके खून से लाल हो गई थी.

मैंने वरुण को बोला- थोड़ा आराम से… इतनी आवाज़ मत करो!वरुण तो जैसे मेरी सुन ही नहीं रहा था, वो तो बस जम कर मेरी चुदाई करने में लगा था!मेरे पति बेड पर लेटे ये सब देख रहे थे, उन्हें शायद ये सब देखने मे बहुत मज़ा आ रहा था, वो लेटे लेटे अपना लंड हाथ से हिला रहे थे, चादर के ऊपर से उनका हाथ हिलता दिख रहा था.

जब एक स्तन का सारा दूध समाप्त हो गया तब माला ने घूम कर दूसरे स्तन की चूचुक मेरे मुंह में दे दी और मेरे माथे को चूमने लगी. मैं बिना कुछ बोले अपनी पेन्ट खोलते हुए कहा- नीचे भी देखने को बहुत कुछ है. राजू ने समझते हुए, पास में पड़ी अपनी बेल्ट उठाई, और उसका एक सिरा नताशा के गले में बांध कर दूसरे सिरे से झटके देते हुए उसकी चूत में धक्के मारने लगा.

बड़ी गांड वाली लड़की की सेक्सी वीडियो उसने मुझे पूछा- तेरी कोई है क्या?तो मैंने भी मना किया तो वो बोली- क्या हम एक दोस्त से कम हैं? हम भी तो दोस्त हैं. मुझे वो बहुत पसंद थीं। उनका फिगर 40-38-42 का था। थोड़ी मोटी ज़रूर थीं.

फिर भी मैंने दिल में ठान ली थी कि अंजलि को चोदूंगा जरूर!रात को उसके साथ बैठे-बैठे मैं टीवी देख रहा था और सोच रहा था कि उससे कैसे कहूँ। फिर मैंने टीवी के चैनल बदलना चालू किया तो एक चैनल पर ‘तेरे संग. एक समय ऐसा भी आया कि मुझे लगा कि मैं छूटने वाला हूँ, मैंने लंड को उसकी चूत से बाहर निकाला और उसके सीने पर इस प्रकार बैठ गया कि मेरा बोझ उसके ऊपर न पड़े और लंड को उसके मुंह के पास ले गया. उसकी चड्डी जब मैं अपने दांतों से खींच कर निकालता था तब वो हमेशा कहती- मुझे इस तरह से नंगी होना अच्छा लगता है.

सेक्सी बीपी हिंदी सेक्स

माँ के चूचे देख के आलोक ने उनको मुंह में लिया और जोर से उसे चूसने लगा, दूसरे हाथ से दूसरा चूचा रगड़ने लगे, माँ जोर जोर से सिसकारियाँ भर रही थी और अपने हाथों से आलोक का लंड हिला रही थी. साले ने जूसी वाला वाइब्रेटर मेरी चूत में दिया और लौड़ा गांड में… फिर बहनचोद मेरी गांड और चूत की एक साथ जो ठुकाई हुई है कि वर्णन करना ही मुश्किल!खैर अच्छे से चुद के, गांड मरवा के मैं और राजे दोनों सो गए. और वो बाहर रंडियों के पास जाते हैं। बीवियां चुत की आग न बुझ पाने से प्यासी बनी रहती हैं।ऐसी भाभी और आंटी की चूत चाटने में मज़ा आता है।मेरी चुदाई की कहानी पर ईमेल जरूर करना।[emailprotected].

थोड़ी देर के बाद सुल्लू रानी का दर्द घट गया जब रीना रानी ने धीरे धीरे खीरे को आगे पीछे करके उसकी गांड मारनी शुरू की. अजय ने उसकी टांगें फैला दी और जीभ अंदर तक कर दी और अपने हाथों से उसकी गोलाइयाँ मसलनी शुरू कर दी.

वो भी पूरे जोर से लंड पर उठक-बैठक कर रही थी, जिससे कि उसकी चूचियां और गांड पूरी कामुकता से हिल रही थी।कमरे में चुदाई की ‘फच.

? सॉरी का मतलब तो होता है कि अब मैं ये गलती दुबारा नहीं करूंगी। पर मैं तो वही गलती बार-बार दोहरा रहीं हूं।मैंने सोचा कि मेरी सजा यही है कि मैं अकेली ही घुटती रहूं।अब मेरी बेचैन जिंदगी का सहारा वो एक छोटा सा ब्रेसलेट बन गया था और मेरा घमंड जैसे जमींदोज सा हो गया, अब मुझे हर तरफ रोहन. और उसका लंड फट गया। सारा रस टीना के गले में जा पहुँचा और लंड पिचकारी पे पिचकारी मारता रहा। शायद आज से पहले उसका इतना रस नहीं निकला था. कोई लड़की जब इस तरह अपने दोनों हाथों से अपनी चूत खोल के सामने लेटती है तो वो सीन गजब का सेक्सी लगता है.

वैसे तो हम उसे बहुत सालों से जानते हैं फिर एक डर सा मन में था, लेकिन उसका ऑफर सुन मेरे मन भी हवस भरी हुई थी तो मैंने उसे रात में जवाब देने के लिये बोल दिया. सचिन थोड़ी देर से वैसे ही रुके और मेरे दर्द के कम होने का इंतज़ार करने लगे. कम कड़वी लगेगी, आप आइस ले आओ।जॉन ने कहा- तब तक हम आपका ग्लास भर देते हैं।मैं आइस लेने गई तो शाकिर ने अजय और मेरे हज़्बेंड को इशारा करके मज़ाक के मूड में ग्लास में दारू भर के ऊपर से बियर रेड बुल डाल दी, जिससे उसका टेस्ट स्वीट हो जाता है।मैं आइस लेकर आई तो मेरे पति ने कहा- लो पियो.

मैंने उसे ऐसा करने से उसे रोका और अपनी चूत से उसकी उंगली निकाल कर थोड़ा सा पीछे हट गई।मैंने उसको कहा- अब मैं तुमको साबुन लगाऊँगी, तुम खड़े रहना चुपचाप!फिर मैंने उसकी पीठ पर साबुन लगाया, पीठ से कमर, जांघ, पैरों तक साबुन लगाया, फिर उसका चेहरा अपनी तरफ करके उसके सीने पर साबुन लगाया.

हिंदी बीएफ पिक्चर चुदाई वाली: लेकिन जब मेरा हाथ उसके ड्रेस में था तो इंटरवल हो गया और मुझे अपना हाथ निकालना पड़ा।हॉल में रोशनी हुई तो हम दोनों ठीक से बैठ गए लेकिन जैसे ही अँधेरा हुआ तो फिर हम अपनी उसी पोजीशन में आ गए। ऐसे ही फिल्म पूरी हो गई. रीना- फिर, मैं कबसे आना शुरू करूं?विक्रम- आप कल सुबह दस बजे से आ जाओ.

पर उसने यह भी भरोसा दिलाया कि वो किसी को भी इस बात के बारे में नहीं बताएगी. मेरे पैर थिरकने लगे!दोस्तो, प्यार कुछ होता ही ऐसा है! जिन्होंने प्यार किया है वो जानते होंगे कि प्यार क्या चीज होती है!फिर रात को अक्षय का फोन आया- हाँ हेलो…उधर से- थैंक गॉड… तुमने फ़ोन उठा लिया!‘क्यों आपको क्या लगा कि मैं आपका फ़ोन रिसीव नहीं करुँगी!मैं- अरे मेरी जान हो तुम! भला कोई अपनी जान के बिना कैसे रह सकता है!अक्षय- अच्छा जी!फिर हम में इस तरह की काफी रोमांटिक बातें होने लगी!फाइनली. तो मैंने भी उनको किस करते करते उनको दीवार की तरफ लेकर गया और शॉवर चालू कर दिया।तो आंटी एकदम से पानी गिरने की वजह से डर के मुझे जोर से गले लकर दबाने लगीं और उनके कुछ भी कहने से पहले ही मैंने उनके मुँह में अपना मुँह घुसेड़ दिया। अब मैं अपने हाथों से उनके एक पैर को उठाकर अपनी कमर पर रख लिया। इस वजह से उनकी चूत का मुँह खुला गया था.

काजल थी, वो पहले अन्दर आई और मुझे अन्दर खींचते हुए कहा- प्रेम, मुझे अन्दर कुछ हो रहा है.

कभी चूसता रहा। हम दोनों को नींद तो आ ही नहीं रही थी। मैं सोच रही थी कि बस किसी तरह एक रूम मिल जाए तो चूत की चुदाई करवा के खुजली मिटवा लूँ।करीब 6. माँ मेरे दरवाजे को पीट कर आवाज देने लगी, मैं मोबाइल बंद कर के दरवाजे पर गया, मेरे लंड पैन्ट के अंदर इतना टाईट था कि पैन्ट उठी हुई थी. उन्हें देख कर अजय को मस्ती आ गई, उसने रिसोर्ट की हेल्प डेस्क से चारों के लिए स्विमिंग कोस्ट्यूम इशू कराये और चारों कपड़े बदल कर स्विमिंग पूल में उतर गए.