बीएफ फुल फुल एचडी

छवि स्रोत,ব্লু ফিল্ম বাংলা ভিডিও

तस्वीर का शीर्षक ,

क्सक्सक्स का वीडियो: बीएफ फुल फुल एचडी, दूर नहीं रह पाया, जब भी पास होता हूँ … तो मन करता है कि ये कर लूं … वो कर लूं!मैंने पता नहीं क्या क्या लिख डाला, मुझे खुद समझ नहीं आ रहा था कि मुझे क्या हो गया है.

सेक्सी ब्लू पिक्चर साड़ी में

वह पूरी कोशिश कर रहा था कि किसी भी तरह मेरी चूत में उसका लंड समा जाए. गुजराती भाभी सेक्सी बीपीमैं उनकी यह बात सुनकर बोल पड़ा- मौसी, हो सकता है मौसा अपने काम में ज्यादा बिज़ी हों.

यह कहानी मेरी ऐसी गर्लफ्रेंड की है जो हमेशा अपनी चूत में लंड लेने को उतावली रहती थी, फिर चाहे वो किसी का लंड ही क्यों ना हो. इंडियन सेक्सी फुल एचडी व्हिडिओस्नेहा- क्या मतलब है तुम्हारा?मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उसके सामने ही हिलाने लगा.

मेरे मामा के पड़ोस में ही उनकी सहेली मिहिका मामी (काल्पनिक नाम) रहती हैं, वो मेरी सगी मामी नहीं हैं.बीएफ फुल फुल एचडी: ये सब घूंघट वगैरह उसको मजबूरी में करना पड़ता था जो उसने मुझको बाद में बताया था.

जैसे ही सोनम रूम में पहुंची तो सिर पर दुपट्टा डाल लिया, जैसा कि वो अक्सर ससुर के सामने डालती थी.मैंने पूछा- क्या हुआ भाभी ऐसे क्यों चल रही हो?भाभी- कुछ नहीं, बस पैर में चोट लग गयी है.

ससुर बहू सेक्सी कहानी - बीएफ फुल फुल एचडी

उसका छेद अपने आप सिकुड़ और फैल रहा था और मैं बिंदास तरीके से उसे चाट रहा था.मैंने ध्यान दिया कि भाभी मेरी उंगली को एक ही जगह आगे पीछे कर रही थी और उसका हाथ पहले से थोड़ा ज्यादा ही तेज़ होता जा रहा था.

मैंने महसूस किया कि चाची ने मुझे कुछ ज्यादा ही जोर से अपने सीने में जकड़ लिया था. बीएफ फुल फुल एचडी उसने शॉवर चालू किया और हम दोनों एक दूसरे को साबुन लगाकर नहलाने लगे.

अब मेरी चूत भी हल्की गीली हो चली थी और पहले जैसा कुछ भी दर्द नहीं हो रहा था.

बीएफ फुल फुल एचडी?

वो मास्टर भाभी की चूचियां मसलते हुए बोला- क्यों भाभी, आपके पति का लंड काम का नहीं है क्या?भाभी बोलीं- हां, एक तो मेरे पति का लंड छोटा सा है और वो यहां ज्यादा रहते नहीं हैं, जिस वजह से मेरी चूत में काफी खुजली हो रही है. रेशमा ने भी जोश में आकर मेरे दोनों पैर पकड़ कर मुझे बिस्तर के कोने तक घसीटा और लगभग खड़ा कर दिया. कुछ समय बाद मैंने उसके पैरों को नीचे रखा और अब मैं भी अपना निक्कर निकालने लगा.

ठीक 8 बजे हमने तीनों ने मिलकर केक काटा और मैंने भाभी जी को गिफ्ट दिया. आगे बढ़ने से पहले मैं आपको बता दूँ कि मैं एक सामान्य शरीर का 5 फीट 8 इंच का युवक हूँ. उसने अपने दोनों हाथों से मेरे दोनों मम्मों के चूचक पकड़ लिए और मसलने लगा.

फिर जल्दी से नंदा ने अपने गिलास में पैग बना कर रखा ही था कि रुचिका एक थर्मस में आइस के छोटे पीस के साथ आ गई. थोड़ी देर पैर दबाने के बाद उसने मेरी बीवी को इशारा किया कि थोड़ा और ऊपर जांघ के पास दबा दो. मेरा तबादला नए विभाग में हो गया था और मुझे अब मुद्रा और ऑडिट का काम देखना था.

ज्योति- सात दिन तक मैं अपनी चूत को कैसे शांत कर पाऊंगी और गांड को भी बिना लंड लिए चैन नहीं मिलेगा. घर पर मैं और मेरा देवर ही थे और ससुर जी किसी काम से बाजार गए हुए थे.

मैं अपने घुटनों के बल जांघों के बीच बैठ गया और उसकी गोरी चिकनी चूत को निहारने लगा.

धीरे धीरे ऐसा होना शुरू हो गया कि जब भी मैं उन्हें चाय पानी देने जाती तो वो मेरे हाथों को छूने लगे.

विलास ने अपनी लुंगी निकाल कर फेंक दी और मेरी ओर गांड करके बेड पर सर रखकर अपनी पोजीशन में आ गया. मैंने कहा- राहुल … और तुम्हारा?उसने कहा- नितिन!मैं- तुम्हें पहले कभी देखा नहीं यहां?नितिन- हाँ, मैं अपनी मौसी के यहाँ रहने के लिए आया हूँ. देसी हॉट गर्ल सेक्स कहानी के पिछले भागकामवाली जवान लड़की को पटाकर नंगी कियामें अब तक आपने पढ़ा था कि मैंने अनुषा की चुत चाट कर और उससे अपना लंड चुसवा कर छोड़ दिया था.

आह मुझे इस लंड की जरूरत है … ओह चोद मजे से … चोद चोद कर आज मेरी चूत फाड़ डाल!हम दोनों चुदाई में इतने तल्लीन थे कि दीन दुनिया की कोई खबर ही था ना थी. अब मेरे लिए तुम ही सब कुछ हो!वो फूट फूटकर रोने लगी, तो मैं अपने हाथों से उसका सर सहलाने लगा और कहा- अरे रोती क्यों हो नीता … मैं हूँ ना … अब तुम्हारी सब इच्छाएं मैं पूरी कर दूंगा. तो हमारे ऊपर की मंजिल में एक फैमिली रहती थी, जिनके साथ हमारा घर जैसा रिश्ता था.

मैं उधर किसी को ज्यादा जानता नहीं था तो मैं कुछ स्नैक्स लेकर एक किनारे खड़ा हो गया.

फिर मैंने अपने आपको संभाला और सॉरी बोलकर बाहर जाने के लिए जैसे ही मुड़ा, तो उसने मुझे पीछे से पकड़ लिया और मुझे अपनी बांहों में भर लिया. माँ बेटी को ‘दो घंटा नींद लूंगा …’ कह कर मैं रुचिका वाले कमरे में आकर सो गया. इसके अलावा भी उसने मुझे कुछ प्राइवेट फ़ोटो भी दिखाए जिसमें नैना और उसके ससुर पूरी तरह से नंगे थे और एक दूसरे को चूम रहे थे.

उन दोनों बाबाओं ने मिल कर मेरी सैंडविच चुदाई शुरू कर दी थी जिसमें मुझे पहले तो काफी दर्द हुआ मगर बाद में मुझे इतना मजा आया कि मैं आपको इस भाग में नहीं लिख सकती. दूसरे हाथ में अपना लंड पकड़कर गीला और चिकना सुपारा चूत पर ऊपर से नीचे तक रगड़ने लगा. जल्द ही वो मुझे देख कर मुस्कुरा देते और उन्हें देखकर मेरे चेहरे पर भी हल्की मुस्कुराहट आ जाती.

मेरी गर्लफ्रेंड मेरे बड़े लंड के कारण मेरे लंड की बहुत बड़ी दीवानी और फैन थी.

मैंने एक हाथ से लंड पकड़ा और उसका सुपारा विलास की गांड के छेद पर रख कर जोर का धक्का दे दिया. मैंने देखा कि चाची कहीं दिख नहीं रही हैं तो मैं चाची के रूम में चैक करने के लिए गया.

बीएफ फुल फुल एचडी उसके हिचकिचाने की वजह शर्म नहीं थी क्योंकि हम एक दूसरे को अच्छी तरह देख चुके थे. उसे आनन्द मिलने लगा और उसने अपने नितम्बों को ऊपर-नीचे करना शुरू कर दिया.

बीएफ फुल फुल एचडी आज तक मैंने अपने तन और मन की प्यास और सारी इच्छाएं मन में ही दबा कर रखी थीं लेकिन आज तुम्हें देखकर सारी इच्छाएं फिर से जागने लगी हैं. आह तुमसे चुदने के लिए ही बनी हूं मैं … आह आह हचक कर चोदो मुझे … मेरी जवानी, मेरा हुस्न, ये इश्क़ बस तुम्हारे लिए ही है … आह चोदो मुझे, चोदो माय लव.

उस रात भाभी को तीन बार चोदने के बाद मैंने उनसे कहा- भाभी, एक बात सच सच बताना … चाची ने आपको आंख क्यों मारी थी.

सेक्सी जबरिया

दोनों छेदों में लंड होने के कारण … और पहली बार दो लंड एक साथ लेने के कारण मेरी चूत से नदी बह गई और मैं थ्रीसम का आनन्द पहली बार लेकर एकदम निढाल हो गई. उसने पट्टी खोली, एंटीसेप्टिक से उंगली को अच्छी तरह से साफ किया और एक छोटी से शीशी सी इंजेक्शन में दवा भरी, फिर उस इंजेक्शन से सुई हटाई और वो सारी दवाई बूंद बूंद करके उंगली पर लगे घाव पर टपकाई. फिर मैंने उसे अपनी बांहों में उठा लिया और उसे अपने बेडरूम में ले गया.

बाथरूम की खिड़की से झांकते हुए वीरू मूतने लगा और जैसे जैसे उसका मूत निकलने लगा शब्बो की चूचियां देख कर उसका लौड़ा भी खड़ा हो गया. तभी मेरे शरीर ने एक के बाद एक कई झटके खाए और पूरा माल पर्वी की चूत में छूट गया. मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने अपने दोनों हाथों से उसका सर पकड़ लिया और लंड अन्दर बाहर करने लगा.

वो अन्दर से आयी- क्या हो गया … अच्छा नहीं बना क्या?ये कहती हुई वो मेरे सामने ही बैठ गयी.

मेरी जीभ के स्पर्श से उसके फूलते हुए चूचुक देख कर मुझे आभास हो गया था कि रेशमा भी मेरे लौड़े से खुलकर चुदवाने के लिए तैयार है. उन्होंने मेरी चड्डी निकाल दी और दोनों रंडियां मेरे खड़े लंड को देख कर हैरान हो गईं. मैं तगड़ा लम्बा पूरा मस्त नौजवान हूं, तो कई बार लड़कियां भी मेरे हुस्न पर मर मिटती हैं.

अब आगे बाप बेटी Xxx कहानी:जब मैं मां को ये सब बताया तो मां ने कहा- अब तो हम लोग को पता चल गया है कि बाप बेटी को चोदना चाहता है. जब हमने पहली बार एक दूसरे के होंठ चूसे और जब मैंने उसे पब के टॉयलेट में ले जाकर लंड चुसवाया, तब से अब तक वो मुझसे कभी दूर नहीं हुई थी. ‘आह आह ऊईईई ऊईईई धीरे धीरे आह आआऊच आह …’ऐसी आवाज पूरे कमरे में गूंजने लगीं.

इसके लिए तुम जाकर एकदम दुल्हन की तरह तैयार होकर आ जाओ, बाकी पूजन की तैयारी हम करते हैं. भाभी को पता चल चुका था और वो मुझे रंगे हाथ पकड़ने का प्लान बना चुकी थीं, ये मुझे बाद में पता चला.

वह क्या करते हैं और क्या कहते हैं, ये देखना और वैसा करते जाना, जैसा फकीर कहें. मैंने अञ्जलि के कान के नजदीक पहुंच धीरे से कहा- अगर आप साथ दोगी तो एक घंटे बाद हम दोनों एक दूसरे को …उसने सवाल भरी नजर से मुझे देखा. यह कहानी मई 2020 में उस वक्त की है, जब देश में पहला लॉकडाउन लगा था.

मैंने कहा- क्या मिलेगा?वो इठला कर बोली- दूध पीने का मन है?मैंने कहा- मैं तो जितनी देर में दूध पियूंगा, उतनी देर में तो पूरी थाली खा जाऊंगा.

मैंने कई बार उसके फोटो देखे, तो रियान ने पूछा- क्या बात राज सर, दिल आ गया क्या इस हूर पर?मैंने कहा- हां यार रियान, क्या गजब की खूबसूरत मोहतरमा है. स्कूल मास्टर सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरे बॉयफ्रेंड को पता था कि मैं अपने स्कूल टीचर से चुदती हूँ. भाभी को जब पता लगा कि मैं बाथरूम में आ गया हूँ तो उन्होंने अपने आपको तौलिए से ढक लिया.

ये कह कर उसने मेरे बालों को पकड़ लिया और मेरे मुँह को फिर से जोर से चोदते हुए पूरा वीर्य मेरे मुँह में भर दिया. उन्होंने दूसरे लोटे में पानी भर कर दिया परन्तु मैं लोटा पकड़ नहीं रहा था तो वो बोलीं- क्यों मेरी रात काली कर रहे हो, पानी पकड़ो और जाकर सो जाओ.

नमस्कार दोस्तो, मैं सूरज सिंह, कहानी का अगला भाग लेकर आप सभी के सामने हाजिर हूं. उसके कुछ दिन मैं मेरे मम्मी पापा और मेरे चाचा जी श्रेया के घर दिल्ली रिश्ता लेकर गए. फिर अपनी जीभ बाहर निकाल कर उसने सबसे पहले मेरे सुपारे को सहलाना चालू किया और धीरे धीरे अपना मुँह खोलते हुए आधा लौड़ा मुँह में भर लिया.

தமிழ் செஸ் பிகிடுறே

यह कहते हुए मैं उसके लंड की चमड़ी को ऊपर नीचे कर ‘सुड़प सुड़प …’ करती हुई चूसने लगी.

उनकी गांड पर मेरे अंडकोष लगने से थप थप की आवाज़ तेज हो गई थी और कमरे में चुदाई की आवाज गूंजने लगी थीं. माथे पर छोटा सा सिंदूर लगा हुआ था और उसका बदन बिल्कुल फिट था, न मोटी और न पतली. उसने दो तीन कश मार कर अपनी लिपस्टिक लगी सिगरेट मुझे दी और मैं बेड पर लेट कर उसे पीने लगा.

काफी अंधेरा था मगर इन्वर्टर की लाईट से कम वाट का एक बल्ब जल रहा था. मैं- सुन लिया हिजड़े, कैसे तेरी शरीफ बहन मेरे लौड़े से चुदने के लिए मचल रही है. सेक्सी व्हिडिओ पाहण्यासाठीमैंने एक हाथ से उसकी टांगें चौड़ी की और अपना लंड उसकी चूत की दरार में लगा दिया.

साथ ही मेरे मुँह से आह … उहउ … ऊउऊम्म … उहाहह की आवाज़ सुनाई दे रही थी. पर हम दोनों कैसे भी करके महीने में 2-3 मौके निकाल ही लेते हैंउसके बाद उसने दो ब्वॉयफ्रेंड भी बनाए, पर वो उसकी उम्र के ही थे तो वो उनसे संतुष्ट नहीं हो पाई.

यह आपकी सपना का हसीन सपना है, जो मैंने आपके सामने कहानी के रूप में लिखा हैये सब मेरे मन की इच्छा है, जो कभी मेरी किस्मत में हुआ तो मैं जरूर करूंगी. अगर तुम्हें बुरा न लगे तो क्या हम दोनों एक गहरे दोस्त बन सकते हैं?पता नहीं कैसे, पर उसने बिल्कुल भी गुस्सा नहीं किया और अपना सर मेरे कंधे पर रखते हुए बोली- मैंने तो आपको अपना गहरा दोस्त आज से ही मान लिया है, बस हमारा रिश्ता दुनिया के सामने नहीं आना चाहिए. चूत से निकल कर रस फिर से बहने लगा था और मेरे लौड़े से होता हुआ अब उसकी मलाई मेरे गोटों पर जाने लगी थी.

मैंने कहा- अभी रहने दे, जब तेरे को सैलरी मिलने लगे, तब शेयर करने लगना. मुझे बहुत ही ज़्यादा मज़ा आ रहा था, उस मजा को शब्दों में बयान करना मुश्किल है. एक दिन मैं सुबह घूमने जाने के लिए उठा, फ्रेश हुआ, पानी गर्म करके पिया और निकल आया बाहर रनिंग के लिए!मेरा रनिंग ट्रैक मेरे गांव से बाहर की ओर जाता था, जहाँ मेरे गाँव के मकान खत्म होते थे, वहाँ से मैं रनिंग शुरू कर देता था.

उसकी चोटी पकड़ कर तेज तेज लंड को उसकी गांड में पेला और कुछ देर बाद मैं उसकी गांड में ही झड़ गया.

इसी आवेश में मैं रेशमा के ऊपर अपने बदन का पूरा भार देते हुए पूरी ताकत से आखिरी धक्के लगाने लगा. लेकिन मेरा पति शराबी था और वो अब नहीं रहा, इसलिए मैं सभी सुख से वंचित थी.

मैंने दो उंगलियां भी चूत के अन्दर डाल दीं और तेजी से चूत के अन्दर बाहर करने लगा. अदिति ने जांघों पर बहता चुतरस मेरी अंडगोटियां को भी लगाया और उन्हें मसलने लगी. इस दरम्यान मैंने आरजू से कहा- प्लीज़ जीजा से जैसे चाहो चुदवा लेना पर तुम्हारी गांड का उद्घाटन तो मैं ही करूंगा.

मैंने कहा- हां भाभी, बात तो आपकी सही है मगर आपका देवर भी तो आपको छेड़ सकता है न!भाभी बोलीं- हां हां क्यों नहीं … बताओ कैसे छेड़ना है!मैंने कहा- वो आप क्या कह रही थीं कि अन्दर मैंने क्या क्या देखा था?भाभी- हां बताओ क्या क्या देखा था?मैं- मैंने तो बहुत बड़े बड़े वो देखे थे … जो उसमें अन्दर दबे से थे. धीरे धीरे नीचे सरकते हुए मैंने उसकी दोनों चूचियां बारी-बारी से चूसनी चालू कर दीं. इन दो बार की चुदाई से अंजलि कीचूत लंडबड़े आराम से और मस्ती से लेने लगी थी.

बीएफ फुल फुल एचडी उसने कुछ बोलने, मुझसे दूर होने की कोशिश भी की शायद … पर तब तक देर हो चुकी थी. अब उसमें से एक बाबा ने मुझे वहां से अपनी गोद में उठाया और अन्दर कमरे में ले जाकर मुझे लिटा दिया.

सेक्सी वीडियो बिहार का साड़ी वाली

उसकी चलने की अदा तो इतनी सेक्सी थी कि चलते समय उसके हिलते हुए चूतड़ों को देखकर किसी का भी लंड बेकाबू हो सकता था. मेरी बीवी की एक मादक आह निकली और उसने लंड का सुपारा अपनी गांड में जज्ब कर लिया. अब मैंने अपने खड़े सनसना रहे लंड पर थूक लगा कर उसके छेद पर रखा और कहा- डाल रहा हूं.

मैंने उसे अपने दूध दिखाते हुए अपनी साड़ी ठीक की और वहीं सोफे पर बैठ कर टीवी देखने लगी. उन्होंने फ्लैट का ग्रिल वाला दरवाजा खोलाकर, मुझे अन्दर आने के लिए कहा और अन्दर जाते हुए वो महिला उर्वशी से फोन पर बोली- सुनो, आज रात का खाना मैं बना रही हूँ, अब तुम आकर मत बनाना. तेजाजी का फोटोउसने मेरी तरह देखा और स्माइल करती हुई बोली- कैसा फ़ायदा?मैंने कहा- ये तो तुम भी समझ रही हो … बाक़ी जैसा फ़ायदा तुम चाहो, मैं दे सकता हूँ.

मैं आपको मेरी हॉट बहन पोर्न स्टोरी में ये बताने जा रहा हूँ कि मैंने अपनी बड़ी बहन को उसकी मर्जी से ही कैसे चोदा.

आप सभी का तहेदिल से शुक्रिया की आपने मेरी पिछली सेक्स कहानीपड़ोस वाली आंटी ने चुदाई के लिए बुलायाबहुत पसंद की … और मुझे ढेर सारा प्यार दिया. अब आगे बाप बेटी Xxx कहानी:जब मैं मां को ये सब बताया तो मां ने कहा- अब तो हम लोग को पता चल गया है कि बाप बेटी को चोदना चाहता है.

भाभी बोलीं- ब्रा उतार का चूसो न!मैंने झट से भाभी की ब्रा उतार कर उनके कबूतरों को आज़ाद कर दिया और दोनों हाथों से चूचे दबाना और मसलना चालू कर दिया. कुछ देर बाद मैं और वो पूरी तरह से भीग गए, फिर मैंने वहां पर रखा शेम्पू उठाकर स्क्रबर पर डाल लिया. हॉट इंडियन भाभी की चुदाई कहानी सब्जी बेचने वाली एक सेक्सी लेडी की है.

फ़लक ने भी अपनी चुत का पानी निकाला और मेरे सीने पर गिर कर हांफने लगी.

मास्टर ने अपनी उंगली चूत से बाहर निकाली और एक झटके में दो उंगलियां भाभी की चूत में घुसा दीं और जोर जोर से अन्दर बाहर करने लगा. भाभी को अपनी चूचियां चुसवाने मजा आने लगा था तो वो अपने हाथ से अपने दूध पकड़ कर मास्टर को पिलाने लगी थीं. मेरे भी मन में उन्हें चोदने के लिए कई मर्तबा ख्याल आया करते थे और मैं भाभी को याद करके मुठ मार लेता था.

सब्जी कैसे बनाता हैदस बजे के लगभग हम लोग पूरी बोतल खत्म कर चुके थे और बहुत नशे में थे. हम दोनों वासना के आनन्द में डूबकर एक दूसरे के अन्दर गड्ड-मड्ड से हो गए थे.

কারিনা কাপুর xxx

भैया ने हल और खेत की बात पूछी, तो मैंने एग्जाम की बात कह कर बात टाल दी. अब कमरे में सिर्फ भाई-बहन की सिसकारियां एक लय से वातावरण में वासनामय संगीत घोल रही थीं. मैं बोला- कोई बात नहीं रांड … मैंने भी आज तक इतनी बेरहमी से गांड नहीं मारी है.

तब तक कालू ने जहां कपड़े अपने रखे थे, वहां जाकर वो अपनी पैंट की जेब से तेल की शीशी निकाल लाया और मुझे देकर बोला- भाई साहब आपने मेरी तो थूक लगा कर रगड़ दी, पर इनकी पहले से ही गांड फट रही है. इस वक्त शायद मैं उनके सामने भी जाता, तो वो अपनी मस्ती में खोए रहते. मैंने ड्राइवर को अपने लोकल घर का रास्ता बताया और मैं अनीशा के साथ उसकी कार में बैठ गयाअनीशा खुद कार ड्राइव कर रही थी.

सोनम बोली- पापा मैं आपके सामने कैसे?पापा बोले- अरे बेटा घर में हम लोग ही तो हैं. मैंने सोचा कि क्यों ना मैं जिस लड़की को चोदूं, उसका बॉयफ्रेंड या भाई कोई भी शनाया की मर्ज़ी का हो, वो शनाया को चोद ले. वहां जाकर देखा तो मैं हैरान हो गया क्योंकि अरुणिमा दीदी ने आज अपना बहुत पुराना स्कर्ट पहना हुआ था जो उनके सिर्फ़ घुटनों तक ही आता था.

मम्मी, छोटा भाई और पापा नानी घर चले गए और हम दोनों भाई-बहन घर पर ही रह गए।गर्मी का मौसम था तो हम दोनों भाई-बहन एक ही पलंग पर एक कूलर चला कर सो गए. फिर उन्हें अचानक क्या हो गया?अगले दिन दीदी मॉर्निंग में ही बालकनी में खड़ी थी.

मैंने जैसे ही अपनी एक उंगली भाभी की चूत में डाली, भाभी की मादक आवाज़ निकलने लगी- ओहह … आआहह उच्च … ओह राहुल और करो … आंह और करो आह!फिर मैंने भाभी को बेड पर लिटा दिया और उनकी पैंटी को अलग कर दिया.

[emailprotected]देसी लेडी सेक्स कहानी का अगला भाग:मौसी की चूत में घुसा मेरा लंड- 2. ब्लू पिक्चर वीडियो में दिखाएं सेक्सीउसने मेरी तरह देखा और स्माइल करती हुई बोली- कैसा फ़ायदा?मैंने कहा- ये तो तुम भी समझ रही हो … बाक़ी जैसा फ़ायदा तुम चाहो, मैं दे सकता हूँ. देसी गांव की सेक्सी चुदाईजब होश आया तो मनीष मेरे होंठों को चूस रहा था और उसके हाथ मेरे पूरे शरीर का जायजा ले रहे थे. मैंने उसे घर में सेट किया, फिर खेतों में बने कमरे में बुला कर रात भर चोदा.

सुमैत्री को पकड़ कर मैंने अपने नीचे लेटा लिया और उसकी चूत में अपना लंड डाल कर उसको चोदने लगा.

फिर मेरी मुलाकात मेरे पति मुकेश से हुई, जिनका प्रोपर्टी डीलिंग का काम था. हम दोनों ही पूरे जोश में थे और एक दूसरे का साथ देते हुए चुदाई का मजा ले रहे थे. कहानी के पिछले भागमंगते बाबा को फंसा कर दो लंड लिएमें आपने अब तक पढ़ा था कि वो दोनों बाबा मिल कर मेरी फुद्दी मार रहे थे.

उसका टोप्पा अगले ही पल मेरी चूत में प्रवेश कर गया।उसने ज़ोर से 2 धक्के मारे और मेरी चीख के साथ उसका पूरा लंड मेरी चूत को चीरता हुआ अंदर चला गया. हम तीनों अब जब भी मिलते हैं, तो मैं सबसे पहले दीदी को चोदता हूँ और नीरजा मेरे लंड को चूसती है. मैंने कुछ झटके मारने के बाद आंटी से कहा- अब डॉगी स्टाइल में आ जाओ, मैं आपको पीछे से चोदूंगा.

फॉरेनर सेक्सी वीडियो

जब मैं कहता हूँ कि अगर तेरा खड़ा हो रहा है, ज्यादा सुरसुरा रहा है, तो मेरी में डाल दे. नीचे संगमरमर की तरह तराशी हुई गहरी नाभि के साथ लचकती कमर … आह क्या कहने थे. ये देख कर रात को सोते वक्त सोने का नाटक करते हुए मैं उसे हग करने लगा.

हम दोनों अंदर जाने लगे।तभी मैंने उसका हाथ पकड़ते हुए कहा- तुम्हें डर नहीं लगता ऐसी जगह पर?उसने न में सिर हिलाया.

उसकी लाल लिपस्टिक, गाल और चेहरा एकदम गोरा देख कर मेरे पैंट के अन्दर छिपा हुआ शैतान जाग चुका था.

भाभी को अपनी गांड पर लंड का सुपारा गर्माहट देने लगा तो उन्होंने अपनी टांगें और ज्यादा खोल दीं. मेरा कहने का मतलब है कि हर तरह की लड़कियां और आंटियां मिलती रहती हैं, सबको अपने हिसाब से एडजस्ट करना पड़ता है. বেঙ্গলি সেক্স স্টরিसंजना- जब तुमने जान कहा न … तो तुम्हारी आवाज में इतनी कशिश थी कि मुझे तुमसे प्यार हो गया है.

हम दोनों के ही बदन पसीने से भीग चुके थे और हम दोनों ही थक कर लेट गए. वैसे पापा को भी तो जरूरत है ही!पाठको, आपकी जानकारी के लिए एक बात बता दूँ कि मुझे यह इसलिए भी जरूरी लगा क्योंकि मम्मी की डैथ के बाद पापा बाहर रंडियां चोदने में अपनी सैलरी खर्च करने लगे थे. चूत में लंड फंसा कर वो मजे में गांड हिलाने लगी और आराम आराम से चुदने लगी.

मैं 3 महीने तक अपने पति से ही चुदवाती रही और किसी ग़ैर मर्द से नहीं चुदवाया. अपनी मेरी एक सेक्स कहानीमौसेरे, फुफेरे भाई बहनों की खुली चुदाईमें आपने पढ़ा था कि एक कमरे में दो फुफेरे भाइयों ने अपनी तीन मौसेरी और सगी बहनों के साथ मिल कर सेक्स का धमाल किया था.

वो मुझको रोकती रही लेकिन मैंने उसकी एक नहीं सुनी, उसके सारे कपड़े उतार दिए.

जिस समय भाभी मुझे चूम रही थीं, उस समय उनके पूरे जिस्म का भार मैं अपने ऊपर महसूस कर रहा था. मैंने नीचे झुककर उसके एक चुचे को मुँह में भर लिया और उसे और तेज़ चोदने लगा. उसने सभी दोस्तों से बोला- मुझे कुछ काम आ गया है और इसे मेरे साथ अभी जाना पड़ेगा.

सुंदर सेक्सी भाभी पानी मेरे ऊपर गिर रहा था, मैं आंख बन्द किये अपने अर्ध-उत्तेजित लंड को सोनम भाभी की चूत पर रगड़ता हुआ उसके साथ ख्याली चुदाई के आनन्द में डूब गया. फिर मैं उसकी चूचियों और निप्पलों को चूमा और नीचे सरककर पेट और नाभि को चूमने लगा.

हम किस दिन काम आएंगे?वो आंखें नचाकर बोली- आप क्या करेंगे?मैंने कहा- हम आपका टाईमपास करेंगे, आपको चुटकुले सुनाएंगे. यह मेरी पहली सेक्स कहानी है देसी भाभी की चूत चुदाई की … मुझे उम्मीद है कि आप लोग इसे पसंद करेंगे. उसका शौहर बाहर जॉब करता है, इसलिए तीन चार महीने में ही उसका आना होता है.

बड़े बड़े बाल

वो मेरा मूसल लंड देख कर डर गई और बोली- हाय … इतना बड़ा … मैं नहीं ले पाऊंगी … मेरी तो चूत फट ही जाएगी. आप सब जानते हो और मैं भी जानना चाहती हूँ कि मेरे बारे में आप कितना जानते हो. वहां से आधे घंटे में हम गीता के घर पहुंच सकते थे, लेकिन तभी हल्की हल्की सी बारिश शुरू हो गयी.

सोनाली चिल्ला दी- उई मां आह आंह हा हा इस्स आह ऊं ऊं!मेरी इस तरह की चूत चुसाई को सोनाली सह नहीं पायी और जल्द ही उसकी चूत झड़कर ढेर सारा चुतरस छोड़ने लगी. फिर रात भर मैं ये सोचता रहा कि कैसे मैं कल साबिरा को उसके भाई के सामने चोद सकता हूँ.

अहा … अहहह!मेरी आहें निकल गईं, जब फ़लक ने मेरे निप्पल को दांतों से काट लिया.

दीदी अब भी उसी तरह की आवाज निकाल रही थी और कह रही थी- फक मी … फक मी …जब दीदी को मजा आने लगा तो दीदी ‘ओह यस … ओह यस … उउम्म आह … आहहम्म …’ इसी तरह की आवाज निकाल रही थी।अब मुझे भी चोदने में मजा आ रहा था।थोड़ी देर बाद हम दोनों ही झड़ गए थे, फिर मैंने बाथरूम में जाकर अपना लन्ड साफ किया. इतने में नीता गीता को पुकारती इधर ही आ रही थी तो गीता मुझे छोड़कर बाहर चली गयी. उसने मुझे कार जल्दी वापस लाने को कहा था, उसे किसी जरूरी काम से बैंक जाना था.

मैं- अरे वो सब छोड़ गांडू, पहले ये देख क्या चीज लाया हूँ तेरे लिए!मैंने मोबाइल उसके सामने रखते हुए धीमी आवाज में उसकी गांड चुदाई का वीडियो चला दिया. अगर आपको यह चाची भतीजा सेक्स कहानी अच्छी लगे, तो मेल करके जरूर बताएं. मैं सोचने लगा कि दोनों कितने खुश रहते थे और ऐसा क्या हुआ कि उनका तलाक हो गया.

आज मैंने कसा हुआ स्लीवलेस ब्लाउज पहना, साड़ी नाभि से नीचे बंधी हुई थी और ऊंची हील के सैंडल पहन कर मैं एकदम पटाखा माल बनकर गई थी.

बीएफ फुल फुल एचडी: लेकिन उसका पहली बार सेक्स होने के कारण लंड थोड़ा सा ही अन्दर गया और उसकी हालत खराब हो गई. पूरा चूतरस खत्म हो गया तो अदिति फिर से मेरे ऊपर आकर मेरा लंड अपनी चूत में लेकर मुझे चोदने लगी.

भाभी ने सारा पानी गटक लिया और लंड बाहर निकाल कर बोलीं- मैंने बोला था मत करो मुझे गर्म … अब कैसे शांत करूं मैं अपनी चूत को?उनका पति कुछ नहीं बोला, बस करवट लेकर सो गया. लगातार चूमने और मम्मों को दबाने के बाद मैं अपना हाथ उसकी पैंटी के अन्दर ले गया. कुछ दिन बाद ही मेरा देवर पढ़ाई के लिए बाहर चला गया और अब मैं और ससुर जी ही घर पर अकेले रह गए.

उसका साढ़े सात इंच लंबा और मोटा लंड मेरी चूत की धज्जियां उड़ाने लगा था.

मैंने उसके मम्मे को पकड़ लिया और वो मजे से मुझसे अपने दूध मसलवाने लगी. हमेशा से ही पतिव्रता रही सुधा कब एक गैर मर्द की बांहों में चली गयी. मेरे लंड को भाभी ने ज्यादा देर नहीं चूसा; उन्होंने कहा- अब चोद दो मुझे … बहुत आग लग रही है चूत में.