बाप और बेटी के बीएफ

छवि स्रोत,दवाई सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

एचडी ब्लू फिल्म सेक्सी: बाप और बेटी के बीएफ, इसका नतीजा ये हुआ कि पांच छह बार के अभ्यास के बाद मैं उम्मीद से अच्छा डांस करने लगा.

सेक्स करने वाली वीडियो दिखाओ

इस रॉंग नम्बर वाली लौंडिया की चुदाई में मुझे लगने लगा था कि कहीं ठुक पिट न जाऊं. किचन का प्लेटफार्ममैंने रोहित से कहा- अब जाओ और अपना सामान बाथरूम में जाकर ठीक से साफ कर लो.

और नील! मेरे नए दोस्त! मैं तुम्हें प्रिया, वीना के साथ भेज देता लेकिन बिल्कुल अन्जान होने से वहाँ बात बिगड़ सकती है. मुस्लिम लड़की के नामआलिया- भाभी अगर आप उसी बारे में बात करने आई हैं, तो मुझे कोई बात नहीं करनी है.

इस खेल में मैं एक बार … और पता नहीं संजना और शीना कितनी बार झड़े होंगे.बाप और बेटी के बीएफ: दोस्ती के बारे में सोचकर मैंने भी थोड़ा सीरियस होकर कहा- चलो, अगर तुम्हें कोई दिक्कत नहीं है तो फिर ठीक है.

मैं- वैसे आपके घर में कौन कौन है?स्नेहा भाभी- मेरे घर में … मैं, मेरे पति और मेरी एक ननद है.वो चिल्लाने लगी, उसकी चूत से खून आने लगा।मैं अपने लंड को उसकी गर्म चूत में आगे पीछे करने लगा.

गाना लगा दो - बाप और बेटी के बीएफ

खुशी मेरे हाथ को अपने हाथ में लेकर बोली- जब आप अपनी उंगली से इतना मज़ा से सकते हो, तो अपने लंड से तो मार ही डालोगे.और पैन्ट उतारने लगी।उसकी हर अदा मेरे लिंग को और सख्त करते जा रही थी.

मैं अपने लिए खुद ही अंडरगारमेंट्स खरीदती हूँ, जबकि तुम खुद सोनिया के लिए ब्रा पैंटी वगैरह लाते हो. बाप और बेटी के बीएफ दस पांच दिन में कभी मेरे पास आता भी है तो नशे में होने के कारण कुछ कर भी नहीं पाता है.

एक दिन मेरे सेठ ने मुझसे वही सवाल किया, तो मैंने मौका अच्छा समझ उनसे बोला कि सेठ 10-15 दिन छुट्टी दे दो घर हो कर आ जाता हूँ … शायद तबीयत में सुधार आ जाए.

बाप और बेटी के बीएफ?

पहली बार आज उसने लोअर के बाहर से मेरे लौड़े को अपने हाथ से छू कर उसकी लंबाई और मोटाई का जायज़ा लिया. उन्हीं दिनों मेरी माँ और पापा को किसी रिश्तेदार के यहां एक हफ्ता के लिए जाना था … तो मम्मी चाची से मेरे खाने के लिए कह कर गयी थीं. फिर मैं थोड़ी देर के लिए मार्केट की तरफ निकल गया और अपने लंड को सहलाते हुए घूमने लगा.

मैंने लंड पर छतरी चढ़ाने के बाद उसकी तरफ देखा तो उसने बड़े अश्लील भाव से अपनी चूत पर हाथ फेरते हुए मुझे आंख मार दी. गुड्डी रानी चुदास की भरपूर मस्ती के नशे में कमर उछाल उछाल के मेरा साथ दे रही थी. मेरे मम्मों को अपने दांत से दबाया और धीरे धीरे वो मेरे बदन को चूमता हुआ मेरी चूत के पास चूमने लगा.

पहले वाले अंकल ने लंड मम्मी की गांड में डाल दिया और 5 मिनट तक ऐसे ही चुदाई करी. कविता भाभी- तेरे भाई के आने में अभी टाइम है, लेकिन मैं भाई से कंफर्म करती हूं कि वो कब तक आएंगे. अब मेरे पीछे बंद खिड़की की थी बीच में मैं था और मेरे सामने भाभी थी फिर मैंने उनका एक पैर उठाकर खिड़की के ऊपर रखा फिर दूसरा पैर मैंने खिड़की के ऊपर रखा ऐसा करने से भाभी झूल गई.

मैंने बेड पर लेटकर पहले टिश्यू पेपर से अपना लंड साफ किया और बस चुदाई के बारे में सोचने लगा. कुछ देर तक उसकी चूत को चाटने के बाद मैं घूम गया और उसके मुंह के करीब लंड को ले गया.

मैंने अपनी सहेलियों से सुन रखा था कि चूसने से लण्ड टाइट हो जाता है इसलिये मैं लण्ड चूसने लगी.

तो भाभी ने मेरा लंड पकड़ा और अपनी कमर पीछे खिसकाती हुई बोली- तुझे कुछ नया ट्राई करना है.

मैं किस करते हुए उसकी मस्त गांड को सहलाने लगा और वो भी मेरा साथ दे रही थी. ये क्या जुल्म कर रही हो? जिसे तुम पौंछने जा रही हो उसी अमृत की बूँद के लिए तो मर्द बेचैन रहता है।आपको ये सेक्स कहानी कैसे लग रही है, आप अपनी राय इस पते पर दे सकते हैं।[emailprotected]. रुकैय्या ने पीठ के बल लेटते हुए मुझे अपने ऊपर खींच लिया और अपनी टांगें घुटनों से मोड़कर फैला दीं जिससे उसकी चूत का फाटक खुल गया.

नए और जवान लंड की चाहत में मेरी खोपड़ी बड़ी तेजी से इस पर काम करने लगी थी कि आदी को कैसे पटाया जाए. और मैं ये सब इसलिए लिख पा रहा हूं कि मैं अब तक कम से कम 20 या 22 फीमेल्स की चुदाई कर चुका हूँ. मैं कॉलेज गया और मेरा मन था कि उधर कहीं एकांत में मोबाइल चला कर वीडियो देख लूं … मगर उधर दोस्तों के कारण मैं वीडियो नहीं देख सका.

वो क्या करे, उसे कुछ समझ नहीं आ रहा है … और ना ही मेरे पास उसके सवाल का जवाब है.

जिसमें उनकी सुंदर नाभि, पूरी सेक्सी कमर और लाजवाब पेट सब दिख रहे थे. इसे पाने के लिए या तो मैं बाहर जाती … और कोई देख लेता तो बड़ा खराब लगता. यह कह कर दीपिका अपनी चूत को जोर जोर से मेरे उल्टे खड़े लण्ड पर रगड़ने लगी.

ठीक उसी समय मैंने सायरा को उस सोने के हार का सेट देते हुए कहा- इस खूबसूरत दुल्हन का गिफ्ट।अब सायरा की नजर उस हार पर ही थी. जिन्दगी की हसीन शुरूआत के लिए लोग हनीमून का पूरा मजा लेना चाहते हैं. अपना अपना लन्ड उनकी चूत में अंदर घुसाकर बेड की पास वाली लाइट जलाकर उन्हें सरप्राइज कर दिया। इस पर किसका क्या रिएक्शन था, ये आप आगे किए गए उनके वार्तालाप से समझने की कोशिश करियेगा.

आपको तो पता ही होगा कि आजकल कोई भी बाइक में पीछे कोई सपोर्टर नहीं लगता है.

मैंने कहा- बस बहुत दिन से सोच रहा था कि तुमसे कहूँ या कुछ पूछ लूं … इजाजत है क्या?तब उसने राजसी अंदाज में कहा- हां पूछो. उसने हैरानी से मेरी ओर देखा और फिर कहा- अच्छा ठीक है, लेकिन जल्दी आना.

बाप और बेटी के बीएफ क्यों क्या हुआ?मैंने कहा- तो आगे बनाने की सोची है?उसने मेरी आंखों में झांकते हुए कहा- पहले कोई मिले तो सही!मैंने कहा- अगर मैं कहूँ कि मेरी गर्लफ्रेंड बन जाओ … तब क्या कहोगी तुम?उसने एकदम से नजरें झुका कर धीमी सी आवाज में कहा- हां बना लो. विशाल ने अब एक हाथ नीचे करके प्रिया की शॉर्ट्स के बटन खोल कर एक हाथ उसकी फुद्दी तक पहुँचाया और लगा उसकी मालिश करने.

बाप और बेटी के बीएफ रुमित ने कहा- डार्लिंग … तुम तैयार हो न … मेरा लंड अपनी चुत में लेने के लिए?मैंने कहा- हम्म … सच कहूँ रुमित तो मुझे बहुत डर लग रहा है. और मेरी चूत को अपने गर्म वीर्य की धाराओं से भरने लगे।झड़ने के बाद रवि ने मेरी पैंटी उठाई और पैंटी को मेरी चूत के नीचे रखते हुए अपना लण्ड मेरी चूत से बाहर निकालने लगे।वीर्य से भीगे लण्ड के निकलते ही मेरी चूत से रस का एक सैलाब बाहर आया.

इस बार मैंने सुधा को एक खम्बे के सहारे खड़ा किया और मुँह से मुँह लगाते हुए खड़े खड़े चुदाई करना शुरू कर दी.

सेक्सी फिल्म कुत्ता घोड़ा

उसके बाद मैंने कई बार पति की गैरमौजूदगी में उनसे अपनी चूत की सर्विस करवाई. काश तेरा खसम इधर होता, तो हम दोनों साथ में तेरी चुत और गांड की चुदाई करते. जीजू इस तरह से मेरी चुचियों के साथ खेल रहे थे, जिसकी वजह से मैं और भी गर्म हो गयी थी.

सबसे पहले हम लखनऊ शहर के बीचों बीच बसा सबसे लोकप्रिय मार्केट हजरतगंज मार्केट गए. मेरे बूब्स को वो ध्यान से देखने लगा और बोला- यार तेरी चूचियां तो फोटो से भी कहीं ज्यादा मस्त लग रही हैं रियल में देखने पर. रुकैय्या ने मेरा पायजामा मेरे शरीर से अलग कर दिया और मेरे बगल में लेटकर अपनी चूचियां मेरे सीने से सटा दीं.

मुझे ऐसा देख कर चाची बोलीं- इस उम्र में ऐसा होता है … तुम परेशान मत हो.

मुझे मेरी पिछली कहानीभाभी की सहेली ने चुदाई के लिए ब्लैकमेल कियाके बाद काफी मेल आए. उसने फिर से पानी छोड़ दिया।लेकिन मैंने अपना काम चालू ही रखा। धीरे-धीरे मैंने भी अपने लण्ड के धक्कों की स्पीड बढ़ा दी। मेरा लण्ड उसकी चूत में काफी तेजी से अन्दर-बाहर हो रहा था।आखिरकार मेरे झड़ने का वक्त आ ही गया, मेरी साँसें तेज़ होने लगी। पूरा शरीर पसीने से तर था। सपना भी तीसरी बार झड़ रही थी. रस की एक फुहार मेरे लंड पे सब तरफ से गिरी, और रानी ने मुझे पूरी ताक़त से भींच डाला.

मैं एक हाथ से चाची के चुचे सहला रहा था और दूसरे हाथ से उनकी चुत को सहला रहा था. साथ ही में मेरा लंड भी आंटी के पैंटी के ऊपर से ही चुत पर रगड़ने लगा. समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करूँ!ख़ैर छोड़िये मेरी बात को … तो आप आ रहें हैं न?” थोड़ा संयत होते हुए वसुन्धरा ने मुझे पूछा.

आपको मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी, मेल आईडी पर अपने विचार जरूर शेयर कीजिएगा. तो शालिनी ने मुझसे पूछा- राजीव के साथ क्या क्या हुआ?मैंने उसे पूरी कहानी सुनाई तो उसने कहानी सुनते ही मेरे बूब्स जो कि अभी तक नंगे थे, उन्हें जोर से मरोड़ती हुई बोली- साली तू तो बहुत बड़ी वाली रंडी है.

वह पूरा काला था जैसे अफ्रीका का … लेकिन वह इंडिया का ही बहुत ही गंदा सा दिखने वाला आदमी था. फिर भी जैसे मैं कर रहा था वैसे वो करती रही। उसके होंठ कांपने लगे थे. दीदी- हां … दो दिन पहले वो अकेली मेरे घर पर मुझसे मिलने के लिए आई थी.

बस मुद्दा ये है कि तुम गलत मर्द से अपनी सील तुड़वा रही हो … या सही आदमी से.

अब दोनों की सांसों की आवाजें धीरे धीरे कम होती जा रही थी।इस सब काम में बाबूजी को लगभग 15 मिनट लगे थे, करीब दो मिनट बाद बाबूजी ने भाभी के होंठ चूमे और गाल थपथपाये और बिस्तर से उतरने लगे. मैंने उस रात बहुत हल्की सी नाइटी पहनी जिसमें मेरा जिस्म हल्का हल्का सा दिख रहा था. फिर मैडम ने मेरी चूत में प्लास्टिक का लंड जैसा कुछ फंसा दिया, दूसरे सिरे पर उन्होंने खुद भी उसको अपनी चूत में डाल लिया.

इसीलिए ये सोच सोच कर मेरी गांड फटी जा रही थी कि कहीं मौसी मम्मी से जाकर सब कुछ न बता दें. मैं करीब करीब 15 मिनट तक इंतजार करती रही फिर मैं टोर्च लेकर भाभी के कमरे की तरफ गयी तो उनके कमरे खुला हुआ था.

अपनी एक टांग उठाकर मेरी जांघों पर रखकर अपनी चूत को मेरे लण्ड के करीब ले जाकर रुकैय्या ने मेरे गालों पर हाथ फेरते हुए मुझे जगाने की कोशिश करते हुए कहा- उठ मुन्ना, मेरे भाई उठ जा. उसकी चूचियों पर हाथ लगा तो मैंने पाया कि उसने नीचे ब्रा भी नहीं पहनी हुई थी. मैं- क्या हुआ?चित्रा- अविनाश का कॉल था, वो सभी सेंड बैंक ट्रिप पर जा रहे हैं, तो जल्दी से तैयार हो जाओ.

सेक्सी पिक्चर बढ़िया भेजो

तभी नीरा उठी और एक मिनट में आई कहते हुए कमरे से अटैच्ड बाथरूम में चली गई.

ज़ायरा की ग्रेजुएशन होने के बाद मेरी चुदाई बंद हो गयी थी क्यूंकि उसकी शादी अब किसी और से तय हो गयी थी और मेरी ग्रेजुएशन भी ख़त्म हो चुकी थी. वो चीख पड़ी उम्म्ह… अहह… हय… याह… मगर मैंने उसके होंठों पर अपने होंठों को रख दिया. और मेरी चूत को अपने गर्म वीर्य की धाराओं से भरने लगे।झड़ने के बाद रवि ने मेरी पैंटी उठाई और पैंटी को मेरी चूत के नीचे रखते हुए अपना लण्ड मेरी चूत से बाहर निकालने लगे।वीर्य से भीगे लण्ड के निकलते ही मेरी चूत से रस का एक सैलाब बाहर आया.

उसकी पैंटी के शुरू होने से पहले वाले हिस्से और नाभि के नीचे वाले हिस्से पर उसने दो-तीन गर्म चुम्बन दिये. मैं अपनी जीन्स टीशर्ट उतार के सीधा रीना के मुँह पास आ गया और लंड रीना के मुँह में डाल दिया. ववव क्सक्सक्स को… मैं अब रुमित के सामने सिर्फ़ चनिया पहनकर ही कार की सीट पर पड़ी थी.

उसने आव देखा ना ताव, संजू का सर पकड़कर अपनी तरफ खींचते हुए अपनी जीभ निकालकर संजू के मुँह में प्रवेश करा दी. इसलिए मैंने खुद ही अपने होंठ जेठजी के होंठ से हटा लिया और उस पल को एन्जॉय करने लगी.

उन्होंने उस वक्त लेग्गिंस और स्किन टाइट कुर्ता पहना हुआ था, जिसमें से उनके छत्तीस साइज़ के बड़े बड़े मम्मों की गोलाईयां साफ़ नज़र आ रही थी और चूचों के बीच पतली सी गली भी दिख रही थी, जो सीधा नाभि तक जा रही थी. ”नताशा ने लम्बी बात नहीं की और ‘गुड नाईट’ फोन काट दिया।वो दीदी का फ़ोन था. चाय का कप अपने होंठों से लगाते हुए मैंने ज्ञान की जांघ पर हाथ रख लिया.

पहले तो मैंने कुछ ही पलों में खुशी के सौम्य सौंदर्य, रूप लावण्य को नजरों में कैद करना चाहा. मेरा मन बोल रहा था कि एक बार उसके होंठों को चूम लिया जाय।खैर पहला दिन तो इन्ही ख्यालों में बीत गया।अगले दिन मैं कॉलेज गया और उसके पीछे की सीट पर बैठ गया. जल्दी ही उनसे मिलने गाजियाबाद जाने का प्रोग्राम बना!वहाँ पहुँचकर मैंने रोहिताश को कॉल की उसने पहले से ही अपने और मेरे लिए रूम बुक कर लिया था.

तभी प्रियंका सीमा को देख कर बोली- साली थोड़ा ऊँची आवाज में बोल … मुझे तो सुना नहीं!मैंने फिर कहा- अच्छा, जो जो ग्रुप सेक्स के लिए राजी है वो अपना हाथ ऊपर करे.

दोस्तो, अगर लड़की को एकदम से गर्म करना है, तो उसको पहले खूब रगड़ो और उसकी चुसाई करो. दोनों बेड के बीच, मैंने ही अपने आपको मोड़ा और हम दोनों एक दूसरे में ही खोते हुए सो गए थे.

तब भी लंड की सुरसुरी इतनी अधिक थी कि उसकी चुत चोदने की लालच मन से निकल ही नहीं पा रही थी. हालांकि अभी तक हमारी बातें कभी सामान्य बातों से ऊपर जा ही नहीं पा रही थीं. इस बीच में मेमसाब ने मेहमान को सारी स्थिति बता दी थी और उसे कह दिया था कि शीला कि चुदाई जबरदस्त करे ताकि वो खुश हो जाए और राज न खोले.

मेरा 7 इंच का लंड टाइट हो कर मेरे अंडरवियर के अन्दर से ही आंटी की जवानी को सलामी दे रहा था. जैसी कहानियां मैंने उनकी पढी थीं उनसे कहीं ज्यादा मजा चुदाई का मुझे वो दे रहे थे. उसे देख सीमांशी बोली- रुको, सब कुछ तुम ही करोगे? मुझे भी तो देख लेने दो इसे अच्छे से!कहते हुए उसने लन्ड मुँह में डाल दिया और गपागप चूसने लगी.

बाप और बेटी के बीएफ रिंकी ने बेड पर दो बड़े तौलिये बिछाए और सुनील को बेड पर धक्का दिया और उसकी शॉर्ट्स उतार दी. हालांकि मुझे कुछ डर भी लग रहा था कि अगर मेरे बदन पर एक भी दांत का निशान पड़ गया तो मैं अपने पति अमित को क्या बोलूंगी.

वीडियो सेक्सी गाने वीडियो सेक्सी

उसके जाते ही मैंने बाथरूम में जा कर उसके नाम की मुठ मारी, तब जाकर मुझे शांति मिली. अब क्या बताऊं … वो काले कलर के टॉप में सेक्स की मल्लिका लग रही थी, जिसमें से उसके चुचे साफ दिख रहे थे. मैंने अपनी टीशर्ट व लोअर उतार दिया और हनी की नाइटी व पैन्टी उतारकर उसे पूरी तरह से नंगी कर दिया.

बंगालन भाभी Xxx स्टोरी का अगला भाग:बंगालन भाभी को फ्लैट दिला कर चोदा- 4. वो बोले कि रात में तीन बार हो चुका है और कितना बार चुदवाओगी … क्या पक्की चुदक्कड़ हो गयी हो … हटो कमजोरी हो जाएगी. सेक्स वीडियो हिंदी में चोदा चोदीक्योंकि प्रतिभा तो अभी खुशी के साथ मेंहदी लगवा रही थी और पायल से कहता, तो वो मुझे और फंसा देती.

वो चिल्लाते हुए बोलने लगी- आंह साले हरामी है तू मादरचोद … साले लगता है तू आज मेरी चूत को भोसड़ा बनाएगा.

उनके बदन से आती मुझे मेरी दीदी के परफ्यूम की खुशबू मुझे और भी उत्तेजित कर रही थी. तुझे ऐसे चोदूंगा कि ना तुझे कोई दूसरा दिखाई देगा और ना ही और कुछ भी दिखाई देगा.

अब मुझे सिर्फ चुदाई दिख रही थी इसलिए मैंने कोमल की बात को अनसुना कर दिया और बस पूरे जोश में झटके मारने लगा. अमनप्रीत अपना लंड अपनी पैंट की जिप से बाहर निकाल कर बेड पर लेटा हुआ था. वो- अच्छा फिर क्या?मैं- फिर क्या … सलवार को उतार कर तुम्हारी दोनों टांगों के बीच में बैठ जाऊंगा और …इतना बोल कर मैं चुप हो गया.

उसने मुझे समझाया कि तेरे घर पर कोई नहीं है, ज्यादा लोगों के आने से पड़ोसी को शक हो सकता है.

ड्रॉवर से उनके अंडरगारमेंट्स ब्रा पैंटी कैमीजोल वगैरह बाहर निकल रहे थे. मैं- मुझे पता है कि तुम मेरे से संतुष्ट नहीं हो। मगर मैं तुम्हें दुखी नहीं देख सकता।बीवी- तुमसे तो होता नहीं है तो भला तुम क्या कर लोगे?मैं- मैं चाहता हूं कि जो काम मैं नही कर पा रहा हूं वो कोई और करे।बीवी- तुम्हारे लंड के साथ साथ लगता है तुम्हारे दिमाग की नसें भी मर गयी हैं, ये क्या अनाप शनाप बोले जा रहे हो तुम?मैं- नहीं, रुको, मैं तुम्हें कुछ दिखाना चाहता हूं. विशाल ने सुनील की नजर बचाकर शीला को दो हजार रूपये दे दिए कि अपने लिए कुछ ले लेना और नीचे की सफाई कर लेना.

हिंदी गाना वीडियो सेक्सअगर वीना पूछे भी तो कह देना कि राज भैया रीना भाभी शिमला घूमने के लिए गये हुए हैं. हमेशा की तरह ये देसी पोर्न कहानी भी मेरी मल्लिका ऐ आलिया, मेरी बेग़म जान और समस्त रानियों की महान महारानी को समर्पित है.

राजस्थानी फुल सेक्सी वीडियो देसी

उन्होंने कहा- जान, दिल तो मेरा भी नहीं भरा है, तेरा ये मूसल मेरे दिल को ही इतना भा गया है कि बस मेरा दिल अब इससे ही बार बार चुदने का करता है. उस पर से रोज़ रोज़ पति से बातों के दौरान, जिसकी चूत गीली होती हो, उसके सामने खड़ा लंड फुफकार रहा हो, तो वो चुदासी औरत क्या करती. रिया- क्या बात … मेरे बिना अकेले ही फिल्म देख रहे हो?मैंने कोमल की पीठ पर हाथ रखकर कहा- मेरे साथ दोस्त भी हैं … वो सब छोड़ … कॉल क्यों किया?रिया- क्यों नहीं कर सकती?मैं- रिया एक काम कर … मैं तुमसे बाद में बात करता हूं, अभी मुझे फिल्म देखने दे.

बात घुमाते हुए मैं बोली- मैं सोच रही थी कि आप मेरे साथ ये सब कर रहे हो … और कहीं दीदी वहां अमित के साथ यही सब ना कर रही हों. फिर मैंने उसको इशारे से घोड़ी बनने को कहा और वो मेरी बात सुनकर बेड पर टिक कर घोड़ी बन गई. रमेश को रोकते हुए रिया बोली- नहीं डैड अभी नहीं, प्लीज बाद में … इस वक़्त तो मुझे तुम्हारा लौड़ा चाहिए। मैं बहुत चुदासी हो गई हूं.

आपको तो याद होगा, हीना वही थी, जिसकी जवानी का प्रसाद मुझे इस सेक्स कहानी की एक कड़ी में मिला था. नहाते समय एक ही बात ध्यान में थी कि सबने अपना वीर्य मेरी चुत में डाला है … कहीं मैं प्रग्नेन्ट न हो जांऊ. अब दोनों ही चीख रही थी क्योंकि मैंने उनके बाल पकड़े हुए थे और उन दोनों को नीचे लंड के पास बैठा लिया था.

मैंने उसे बड़े प्यार से उसके माथे की पप्पी ली और उसके आंखों को देखकर उससे ‘आई लव यू सो मच. वो उठे और मेरी एक टांग को सोफे पर रख कर अपने लंड को पीछे से मेरी चूत पर सटा दिया.

मगर मैंने उसकी कमर को पकड़ लिया और थोड़ा जोर लगाकर आधा लंड उसकी गांड में उतार दिया.

मैंने अपनी आँखें बंद कर लीं, जीजू ने अपने दोनों हाथों में मेरी चूचियां दबोच लीं. ववव गूगल कॉम सर्चबहुत दिन से मैंने कोई चुदाई नहीं की थी तो मैं चुत के लिए बावला हुआ जा रहा था. इंग्लिश पिक्चर चोदते हुएचूंकि मैंने अभी तक कोई भी ब्लू फिल्म नहीं देखी थी, तो यह देखकर मुझे कुछ अजीब सा लगने लगा. नज़रों-नज़रों में एक-दूसरे के अंतर तक उतर जाने वाली निग़ाह से हम दोनों कितनी ही देर दो-चार होते रहे.

भले ही मैं पड़ोसियों से शारीरिक संबंध रखती थी, फिर भी उनसे मैं बच्चा नहीं चाहती थी.

मैंने सुधा को गर्म कर दिया और खुली छत पर ही फटाफट से उसके कपड़े निकाल दिए. उसने कहा- देख अगर तू मुझे खुश रखेगा, तो मैं तुझे किसी बात से नहीं रोकूंगा. वो भी अपनी जवानी को किसी के हाथों में सौंपने के लिए जैसे तरस रही थी.

क्योंकि जो कुछ भी हुआ … उससे लग ही नहीं रहा था कि मैं मौसी के साथ कोई जबरदस्ती की हो. धीरे धीरे वो कहने लगे कि आज ये ड्रेस पहन के आना, उसमें बहुत अच्छी लगती हो. मगर कई बार जब मौसम खराब होता था तो घर वाले नीचे सो जाते थे मगर दीप्ति और मैं ऊपर ही सोते थे.

सेक्सी फिल्म 15 साल की

फिर उनके दाएं पैर को मोड़ते हुए मैंने बेड पर रखवा दिया और बाएं पैर को चौड़ा कर दिया … जिससे कि मुझे मौसी की चूत अच्छे से दिख सके. लगभग 5 मिनट की चुसाई के बाद मैं चाची का दूध पीने के लिए आगे आया और उनके मम्मों पर टूट पड़ा. दीपिका ने अपने गाल मेरे गालों से सटा दिए और लम्बी लम्बी सिसकारी लेने लगी- ऊह्ह … अम्म … राज … आह्ह … ओह्ह।मैं धीरे धीरे उसके मखमली शरीर पर अपना हाथ घुमाने लगा.

आज मेरी माहवारी का ग्यारहवां दिन है और अगले एक हफ्ते तक मुझे कपड़े नहीं पहनने हैं, ऐसे ही इसी बेड पर हूँ, मेरा तन मन तुम्हारे कदमों में है.

मैंने अपनी पैंट नीचे करके अपना खड़ा हुआ लंड बाहर निकाल लिया और आलिया और चाची दोनों की याद में मुठ मारने लगा.

लंड पेलने के बाद रोहित ने संजू को इसी पोज में अपनी गोदी में उठा लिया. ”उसने प्रश्नवाचक निगाहों से मेरी ओर देखा।तुम थोड़ा सा झुक कर उस नल को पकड़ लो और अपने नितम्बों को मेरी ओर करके खड़ी हो जाओ. सोनम कपूर की चुदाईफिलहाल इतना ही, शबाखैर।आपके कंमेंट्स का इंतेजार रहेगा।[emailprotected].

मैं अपनी सभी भाभियों और लड़कियों से कहना चाहता हूं कि जो इस समय मेरी कहानी पढ़ रही हैं, वो जानती होंगी कि एक आदमी को सबसे ज्यादा मजा अपना लंड चुसवाने में ही आता है. अब सीधे भाई के ससुराल में जा पहुंचा, जहां मेरे आने की खबर मैंने मुनीर को पहले ही बता दी थी. वो बोली- डैड हमारे चेहरे के बराबर है आपका लण्ड।रमेश- इसी ने कल रात तुम्हारी चुदाई की थी.

नताशा- उम्र 30 साल, आकाश की बीवी, दिखने में हॉट फिगर, सुंदर, सुनहरे बाल, नशीली आंखें. ज़ेबा के लिए मेरी चाहत और प्यार को देख वो कुछ सोचने पर मजबूर हो चुकी थीं.

उस समय उसकी बुआ घर पर ही थी, जो कालेज की पढ़ाई के लिए बाहर रहती थी और छुट्टियों पर ही घर आती थी.

भैया ने अपने बैठे हुए लंड की तरफ इशारा करते हुए बोला, जो अब दिखने में बिल्कुल उसी छोटे शैतान बच्चे की तरह लग रहा था, जिसने पापा के आने से पहले घर ने तबाही मचाई हो और पापा के आते ही ‘मैंने कुछ नहीं किया. मैंने सुमन से कहा- यार, मैं तेरे भैया को पटा लूं तो तुझे प्रॉब्लम तो नहीं न?सुमन ने कहा- मुझे क्या … पर हमारे बीच जो होता है, वो पता नहीं चलना चाहिए उनको!मैं बोली- ठीक है. … मैं अब रुमित के सामने सिर्फ़ चनिया पहनकर ही कार की सीट पर पड़ी थी.

चाँदनी देखें जैसा तुमने मेरे साथ किया, उसी का बदला मैं तुमको अच्छे से और सूद समेत लौटा दूंगा. उसकी आवाज से हमें होश आया और हमनें रास्ते पर नजर डाली, हम सब शरमा गए और हमने खुद ही मनु को उठाकर ठीक किया.

दीदी सुबह का नाश्ता बनाने के लिए किचन में घुस गईं और पानी पीकर नाश्ता बनाने लगीं. ऊंची हील के सैण्डल्स पहन कर चलती तो चूचियां और चूतड़ शरीर से बाहर निकल आते. ऐसे ही उत्तेजना में हम दोनों ने लंड की मुठ मारते हुए अपना-अपना पानी निकाल दिया.

सेक्सी हॉट फिगर

पूरी और बुरी तरह से चोद लेने के बाद उन्होंने मेरे मुँह को ढंग से चूसा और फिर मेरे साथ बेड पर लेट गए. एक पल की भी देर न करते हुए उसने रोहित के लंड को मुँह में ले लिया और चूसने लगी. हाँ … थोड़ा सर को झुकाओ। हाँ और चुदासी लाओ चेहरे पर … हहम्म … सही एकदम।रिया ने वैसे करके पूछा- ठीक है ये?अब रमेश ने रिया को फर्श पर कुतिया की तरह दोनों हाथों और घुटनों पर आने को कहा.

सीमा ने नीचे काली पैंटी पहनी थी।मेरे सामने प्रियंका की जीन्स भी मोनू ने उतार दी थी. पल्लवी के कहने पर हमने गाड़ी उसके घर की ओर मोड़़ दी और वहां से निकल गये.

मेरी गांड तो फट ही रही थी, पर मैं सोचने लगा कि चाची इतनी देर से मेरे लंड को देख रही हैं, तो इसका कुछ न कुछ मतलब तो जरूर होगा.

प्रियंका ने काफी लेकर डोर लॉक कर दिया और उसने एक एक करके सभी को काफी सर्व करनी शुरू की. जब अगले दिन सुबह हम सब नाश्ता कर रहे थे, तो अब्बू मुझसे बोले कि मैं और तेरी बहन शादी में बाहर जा रहे हैं. इस कहानी के दूसरे भागबंगालन भाभी को फ्लैट दिला कर चोदा- 2में मैंने आपको बताया था कि दीपिका ने मुझे अपने रूम में रात्रिभोज पर आमंत्रित किया.

और अब तो वे दोनों साथ ही रहने वाले थे … अब ना जाने और क्या क्या गुल खिलाने वाले थे।यह कोई चिंताजनक बात नहीं थी … मैं तो बस यह सब देखने की जिज्ञासा रखती थी।मैंने रोहन से इस बारे में बात करने का फैसला किया. संजू ने रोहित के आंड को तक अपने मुँह में भर लिए थे और मस्ती से चूसने लगी थी. सभी दोस्तों को मेरा नमस्कार। मैं सुधीर हूं और यह मेरी पहली कहानी है.

जैसे दो गुलाबी ठोस स्तूप आपस में जुड़े हुए सिर ताने खड़े थे, उसकी चोटी पर हल्के कत्थई रंग का घेरा था जिनके बीच में किशमिश के जैसे निप्पलस थे.

बाप और बेटी के बीएफ: ऊंची हील के सैण्डल्स पहन कर चलती तो चूचियां और चूतड़ शरीर से बाहर निकल आते. रिया ने अपने बाप को अपनी बांहों में भर लिया।रमेश बोला- बिना लण्ड लिए ही झड़ गयी साली रंडी?रिया ने अपने डैड के सर को पकड़ लिया और चूमने लगी। अब रमेश रिया के ऊपर लेटा था।एक हाथ से रिया ने रमेश के लण्ड को पकड़ लिया और सहलाने लगी। रमेश ने रिया की आंखों में देखा.

फिर उसने मेरे कंधों से खींचा और फिर मुझे अपने ऊपर खींचने लगी जैसे मेरे लंड को खुद ही चूत में डलवाना चाह रही हो. जीजू ने मेरा ब्लाउज उतार दिया और मेरी जींस का हुक खोलकर नीचे खिसका दिया. चुत को चाट चाट कर मैंने पूरी साफ कर दी … साथ में एक उंगली उसकी चूत में डाल कर हिलाने लगा.

तो मोहित ने एक हाथ उसकी स्कर्ट में घुसा दिया और हाथ हिलाने लगा और मुँह से उसके चूचे चूसने लगा.

उधर बेबी रानी गुड्डी रानी के पेट पर सिर रख कर उसके मम्में चूसने लगी. पानी की फुहारें, जो हम दोनों के ऊपर गिर रही थीं, उसमें ही संजना ने आग में तेल डालने जैसा काम किया था. आआआ उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआह!” करके ऐसे चिल्लाई जैसे चूत में पेला गया लण्ड गले तक पहुंच गया हो.