हिंदी सेक्सी बीएफ रिकॉर्डिंग

छवि स्रोत,बीएफ कुत्तों का

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो ममता सोनी: हिंदी सेक्सी बीएफ रिकॉर्डिंग, उसके बाद मैं अन्दर चली गई और दोनों बातें करने लगे।मैं अन्दर खाना बनाने लगी।मैं खाना बना रही थी और वहाँ रसोई से सुखविन्दर मुझे साफ़ साफ़ दिख रहे थे और वो भी मुझे देख पा रहे थे।मैं अपने काम में लगी रही.

पिल्लू बीएफ

एक महीने के अंतराल में हम दोनों में काफी नजदीकियां बढ़ीं, लेकिन हम दोनों ही कभी ये कह नहीं पाए. भोजपुरी बीएफ आर्केस्ट्रामैंने देखा उसकी बगलें एकदम साफ़ थीं, उधर एक बाल भी नहीं था, बिल्कुल चिकनी बगलें थीं.

मैं अपने काम में कुछ ज्यादा ही बिजी ही गया था जिससे मुझे उनको फोन करने का वक़्त भी नहीं मिला. एक्स एक्स एक्स बीएफ हॉट सेक्सकहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि मैं उस विधवा औरत की बरसों से प्यासी चूत को चोदने में कामयाब हो गया था.

शीना ने एक ही सांस में यह सब कह डाला और हम दोनों भी कुछ ना बोल सकें.हिंदी सेक्सी बीएफ रिकॉर्डिंग: रशीद मस्ती में आकर मेरे तलुए चाट रहा था और मेरी चूचियां तो इतना अधिक उछाल मार रही थीं कि मुझे बार बार पकड़नी पड़ रही थीं.

हां मैं तुझे पसंद नहीं हूँ, या मेरे कोई कमी हो तो तुम मुझे बता सकती हो.उसका मोटा लंड मेरी चूत को चुदाई के लिए और भी ज्यादा उत्तेजित कर रहा था.

सेक्सी ब्लू पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ - हिंदी सेक्सी बीएफ रिकॉर्डिंग

उसने अपने निचले आधे हिस्से को उसके ऊपर धकेल दिया और ऐसा महसूस किया जैसे उसके कपड़ों के ऊपर से कुछ अंदर चला गया हो.उनसे मेरा ऑफिस के काम को लेकर भी बातचीत होती, पर उनका अंदाज़ मेरे लिए अब पहले जैसा नहीं था.

उन्हें देखकर मम्मी ने जल्दी से साड़ी पहनी और हमारे पास आ गई। मम्मी ने मेरे हाथ में चोकलेट देखी तो विक्की से बोली- विक्की, तुम मेरे बच्चे का कितने अच्छे से ध्यान रखते हो।विक्की बोले- अरे यह सब तो मैं आपके लिए ही करता हूं. हिंदी सेक्सी बीएफ रिकॉर्डिंग वो टॉयलेट शीट पर झुक कर खड़ी हो गई और उसने मुझे गांड मारने का न्यौता दे दिया.

गांड ढीली कर … अब तो मान जा मेरा भैया! मेरा दोस्त!वह थोड़ा पिघला, उसने टांगें चौड़ी कर लीं.

हिंदी सेक्सी बीएफ रिकॉर्डिंग?

तभी कमरे का दरवाज़ा खुला और समीर अंदर दाखिल हो गया। समीर जैसे ही अंदर दाखिल हुआ अपने पिता और अपनी पत्नी को बिल्कुल नंगा एक दूसरे की बांहों में देख कर उसका मुँह खुला का खुला रह गया।ससुर बहू की कहानी चुदाई की … अगले भाग में जारी रहेगी. मुझे तो 1 साल फुल मस्ती का मिल गया था जहाँ टीचर और स्टूडेंट सब से इज़्ज़त भी मिलती रहेगी।सभी बहुत खुश थे और इसीलिए रात में एक पार्टी का आयोजन किया हुआ था, घर में खाने की खुशबू उड़ रही थी. रशीद थक चुका था, मुझे उस पर दया आ रही थी क्योंकि उसकी हालत हारे हुए जुआरी की तरह हो गयी थी.

जब उसने इसका मतलब पूछा, तो मैंने उसे समझाया कि इसका क्या मतलब होता है. इसके बाद हम अलग हो गये और कम्मो ने अपनी चूत पास पड़ी चादर से अच्छे से पौंछ डाली और ब्रा पैंटी पहन कर सलवार कुर्ता भी पहन लिया और बालों का जूडा खोल कर बाल फिर से बिखरा लिए. सोनी अपनी फुद्दी और मेरे लंड पर लगा खून देखकर बिल्कुल भी नहीं घबराई.

तभी आलिया का फोन बज उठा, जो वहीं टेबल पर पड़ा था … इसलिए मैं उस पर से उतर गया और आलिया ने अपना फोन उठा लिया. शनिवार को उसकी भाभी की चुदाई करने के बाद मैंने उसको रात को मैसेज करके पूछा कि कल पार्क में मिलोगी. ऐसे ही 2 महीने बीत गए। अब वो मुझसे मिलना चाहते थे। मैं भी तो यही चाह रही थी मगर उनसे कहाँ मिलूं, ये समझ नहीं आ रहा था.

क्या बताऊँ … उस पल के बारे में सोच कर मैं जोश में आ गया और मैंने उसके मुँह की जोरदार चुदाई की. जब दिल की बात आई तो मुझे अपने पहले प्यार की याद आयी जिसमें मैं एक बार धोखा खा चुका था, मेरा दिल टूट गया था.

वो बोले- मैं तो आज बिल्कुल ताजा दूध पियूँगा।मैं शर्म से लाल हो गयी।उन्होंने आधा गिलास दूध पिया बचा हुआ मुझे दिया। मैंने वो दूध पी लिया।उन्होंने मेरा घूँघट उठाया और मुझे एक सोने की नथ दी, वो बोले आज तुम्हारी नथ उतरेगी, इसीलिए तुमको ये दी।उन्होंने मेरी नाक में पहनी हुई नथ उतार दी।वो अब मुझे मेरे लाल होठों पर चूमने लगे, ये मेरा पहला किस था। हम दोनों बहुत देर तक स्मूच करते रहे.

आपकी गांड इतनी मस्त है … और आपके ये चुचे … आह जितने बड़े, उतना अधिक मज़ा आता है.

उनकी तरफ देखते देखते मैं बाथरूम में चली गयी और जाते जाते साड़ी बाहर ही उतार दी. वो बोली कि देखो कुछ दिनों में मेरी शादी हो जाएगी, तो ये सब अपने दिमाग से निकाल दो. ऑफिस में सभी के प्रमोशन हुए, पर दीदी और मुझको 4 साल से कोई प्रमोशन नहीं दिया गया था.

लेकिन मैं ये नहीं समझ पा रहा था कि क्या वे दोनों खुली छत पर ही चुदाई का मजा लेंगे, या नीचे चले जाएंगे. वो मुझे उनका लंड पकड़ कर दिखा रही थी कि कहां मेरा पांच इंच का लंड और कहां उनका सात आठ इंच का लौड़ा. मैंने कुसुम को 1500 रुपए दिए और कहा- हालांकि मेरा मन अभी भरा नहीं है.

पूजा- अच्छा … मतलब मैं फिजूल में आत्मग्लानि महसूस कर रही थी?मैं- हाँ शायद!पूजा- तो ठीक है, तुम किसी बंदे को बुला लो, हम भी करते हैं.

अब मैं बाहर सड़क पर कोई रिस्क नहीं लेना चाहता था इस लिए मैं अपने ऑफिस की तरफ चला गया. अगर तुम भी मुझे चाहती हो तो मुझे किस करने से मत रोकना।बेशक मैं नशे में थी मगर बेहोश नहीं थी, मैं वैसे ही लेटी रही. मैंने वैसा ही किया और उसकी गांड के छेद पर कुछ ज्यादा सा तेल मल दिया.

मैं गेम खेलने में मशगूल था, तभी करीबन छह बजे आलिया ने वापस दरवाजा खटखटाया. मैंने घर के सारे दरवाजे और खिड़कियां बंद कर दिए और झट से बेडरूम में आ गया. आलिया- अगर कल जाकर इस बारे में हमारे पेरेन्टस को पता चल गया तो!मैं- हम दोनों एक अच्छे दोस्त हैं, वो हमारे पेरेन्टस जानते हैं, अगर कल जाकर पता चलेगा भी, तो भी हमें कुछ नहीं बोलेंगे.

मुझे अपना बना लो जल्दी से!” कम्मो ने मेरे गले में अपनी बाहों का हार डाल के मुझे अपने से चिपटा कर बोली.

पैर में मोच की वजह से मैंने शादी में जाने से मना कर दिया और मैं अकेली ही घर पर रुक गई. फिर वो धीरे धीरे मेरे निप्पलों को सहलाते हुए अपने दोनों दूध के बीच में ही मेरे लंड को पकड़ कर दबाने लगी.

हिंदी सेक्सी बीएफ रिकॉर्डिंग कुछ देर उसने चैनल पर चैनल बदले, फिर झल्ला कर टीवी को बन्द कर दिया- धत्त … इस पर कुछ नहीं आता, डब्बा है बिल्कुल. मैंने भाभी की ब्रा को उतारा और एक एक करके बारी बारी से उनके रसीले दूध चूसने लगा.

हिंदी सेक्सी बीएफ रिकॉर्डिंग फिर एक दिन उसने कहा कि अब उसकी शादी होने वाली है उसे इसलिए एक बड़ा फ्लैट किराए लेना होगा, क्योंकि इस घर में बाथरूम व टायलेट सब कॉमन थे. दीदी ने अपनी बाँहें फैला कर मुझे अपने आगोश में भर लिया और मेरे प्यार को अपने प्यार से रंगने लगीं.

बस आप खड़ी हो जाओ।मेरे कहने के मुताबिक वो बिस्तर पर खड़ी हो गयी और जैसा मैं कह रहा था वैसा ही वो घूम-घूम कर अपना हर अंग मुझे दिखाने लगी.

प्रीति जिंटा बीएफ

मैंने उससे पूछा- इतनी जल्दी कैसे?वो बोली- मैंने अपने घर बोला है कि आज मैं अपनी एक फ्रेंड के घर रुकूँगी, इसलिए जल्दी आ गई. भाभी जी जोर जोर से मेरे लंड को चूस रही थीं, इससे मेरा जोश बढ़ गया और कुछ ही पलों में मैं भाभी जी के मुँह में झड़ गया. दो चार धक्के में ही लंड चूत में सैट हो गया और चुदाई की सरगम बजने लगी.

और मुझे सुंदर चाहिए भी नहीं था, मुझे तो बस दिल का इंसान अच्छा चाहिए था जिस पर मैं भरोसा कर सकूं. चूँकि उत्तर भारत में गर्मी की छुट्टियाँ लगभग दो महीने की होती है, तो मैं भी गाँव पर अपने हमउम्र दोस्तों के साथ मस्ती करता रहता था. पर उन्होंने ब्लाउज पूरा हटाया नहीं, बल्कि वह मेरे सामने उठकर पहले तो मेरी तरफ पलट गईं.

फिर उसने मेरी चूत की फांकों में अपने सुपारे को फंसाया और एक जोरदार धक्का दे मारा.

” नीलम ने मन ही मन में मुस्कराते हुए अपने ससुर से कहा।अब नीलम को यह जानकर खुशी होने लगी थी कि उसका ससुर उसकी चूत का दीवाना बनता जा रहा है. साथ ही मैं अपने लंड को लोवर के ऊपर से ही उसकी गांड में मानो घुसा देना चाह रहा होऊं … ऐसे झटके दे रहा था. इससे पहले मैं इस सेक्स कहानी को लिखूँ, आप सभी को इसके पहले भाग से रूबरू करा देता हूँ.

आंटी को नंगी देख कर मैं खुद पर नियंत्रण नहीं कर सका और वहीं छत पर ही मुठ मार कर शांत हो गया. मैंने उसकी इस बात पर दांव आजमाते हुए कहा- तो मुझे बना लो न अपना ब्वॉयफ्रेंड. वहां पर जाने के बाद अनीता के पास गया तो वो मुझे देख कर मुस्कराने लगी.

अगले दिन जब मैं उसको ट्यूशन देने के लिए जाने लगी थी, तो उसके पिता ने मुझे एक मैसेज दिया था कि मैं जल्दी घर आ जाऊंगा और आप मुझसे बिना मिले ना जाना. उसने पूछा- आप आ रहे हो?तो मैंने बताया- हां, मैं रास्ते में हूं, होटल के पास पहुंच कर आपको फिर से फोन करता हूं.

छोड़ो ये सब बातें और चलो हम लोग फिर से अपनी चुदाई की गाथा शुरू करें. मेरी बुर गीली हो गयी थी, यहां तक कि उसमें से चाशनी जैसी टपकने लगी थी. तो निशा भाभी बोली- प्लीज इन्हें बेड तक छोड़ दीजिए … ये मुझसे नहीं सम्हलने वाले!अब मैं मुकेश को लेकर उसके बेडरूम तक छोड़ने गया.

मोहन भैया ने किस करते हुए ही मेरी ब्रा निकाल दी और मेरी एक चूची को अपने मुँह में ले लिया.

कुछ देर तक मैंने तेजी से ऋतु की चूत को चाटा और फिर जब मैंने जीभ बाहर निकाली तो एक पुलिस वाले ने अपना आठ इंच का लौड़ा मेरी बीवी की चूत में एकदम से घुसा दिया. फिर मैं अपने कमरे में आ गया।मैंने रीना दीदी से इसके बारे में फोन पर बात की और बात करने पर पता चला कि उन्हें आपके याराना कहानी लिखने का पता है।उन्होंने मुझे समझाया और सामान्य होने में भी मदद की क्योंकि इससे हमारे वास्तविक जीवन पर कोई प्रभाव नहीं था. घर-परिवार के बारे में बातें उनके भाइयों के बारे में बातें सेक्स की बातें … कई बार तो फोन सेक्स भी हो जाता था.

मैंने उसे बेड पर लिटा दिया और उसकी चुचियों को सहलाते हुए उसके होंठों को चूमने लगा. राहुल ने एक धक्का लगाते हुए अपने लंड को पिंकी की चूत में घुसेड़ दिया और अब दोनों ही एक दूसरे से ताल मिलाते हुए चुदाई करने लगे.

अब विक्की मेरा ख्याल रखने के लिए है रात में! तुम सो जाओ।मैं काफी कुछ समझ चुका था तो मैं बोला- ठीक है मम्मी।मैं अपने कमरे में जाकर लेट गया. तो ये तो हमेशा की बात थी कि चुदाई के बाद मैं खुद ही उसका लंड अपने मुंह में ले लेती और चूस चूस कर उसका पानी निकाल देती और सारे का सारा पी जाती।सेक्स के दौरान हम एक दूसरे को खूब गाली गलौच करते। माँ बहन बेटी तो रूटीन में चोदते एक दूसरे की। पहले तो वो मेरी फुद्दी ही मारता था, और फिर धीरे धीरे मेरी गाँड भी खोल दी. मैं झड़ गई थी, लेकिन चुदने का एक ऐसा भूत सवार था कि मैं फिर से तैयार हो गई.

बीएफ नंगा व्हिडिओ

थोड़ी सुबह होने के बाद हम सब एक होटल के पास रुके, वहां फ्रेश होकर हम आगे के लिए निकल पड़े.

इसके बाद उसकी और रवि की दूरी बढ़ गयी क्योंकि रवि बार बार उसे सेक्स के लिए कहता, जो दीपा नहीं चाहती थी. आपके मेल हम दोनों माँ बेटे बहुत मजे से पढ़ते हैं और सिर्फ आपके लिए ही हम दोनों अपनी चुदाई की घटना को साझा करते हैं. अगर वो जग जाती और मुझे अपने बड़े भाई के साथ सेक्स करते हुए देख लेती, तो हम दोनों की दोस्ती खत्म हो सकती थी.

हां अन्दर तुम बिंदास बोल सकते हो … क्योंकि अन्दर रूम में मेरी सास भी है, उसे सुनाई नहीं देता है. इसलिए मैंने अपना मुंह खोला पर मेरे मुंह से कुछ बात ही नहीं निकल रही थी. इंडियन बीएफ हिंदी में सेक्सीजहां उनके काटने के वजह मुझे खून आ रहा था, वहां आंटी चूसने लगीं और बोलने लगी- तूने तो दीदी को भी चोदा है ना?मैं- आपको कैसे पता?हिना- अगर मैं घर आती हूँ, तो दीदी कहीं नहीं जाती हैं.

उसने काले रंग का टॉप और लेगिंग पहने हुए थे, जो शायद वो सुबह ही खरीद कर लायी थी. मेरा मन तो किया कि लंड को उसके मुंह में और भीतर तक ठेल दूं पर मैंने वो इरादा फिर कभी के लिए पोस्टपोन कर दिया.

रचना ने रोनित से हाथ मिलाने को आगे किया, तो रोनित ने रचना को हग करके जोर से पकड़ लिया और पीठ पर और उसकी उभरी हुई गांड को महसूस करने लगा. कुछ पल बाद मैंने उनकी तरफ देखा, तो उनकी आंखों में एक मस्त प्यास सी दिखाई दी. साथ ही मैं अपने लंड को उसमे मुँह में अन्दर तक घुसेड़ने की कोशिश कर रहा था.

हर बार जब लंड उसकी चूत के दाने पर रगड़ रही थी उसकी सांस जैसे रुक सी जा रही थी. वीकेंड पर ड्रिंक्स के दो दो पैग लगाने के बाद बातों ही बातों में मैंने बोल दिया- भाभीजी मुझे आपका रोना अच्छा नहीं लगता. नरम चूतड़, पतली कमर, सपाट पेट, पतला छरहरा बदन और फिगर 36-24-36 का था.

वो मेरे होंठों को चूसते हुए बड़े जोश से मेरी चूत में अपना लंड डाल कर मेरी चूत को चोद रहे थे.

उन्होंने जैसे ही अपने होंठों पर अपनी जीभ फेरी, मुझे समझ आ गया कि आंटी चुदासी हैं. इस तरह 69 के पोज में चूसने और चाटने के थोड़ी देर बाद मेरा लंड फिर से तैयार हो गया.

”मधुर! देखो डॉक्टर ने बताया तो है कि …”वह मेरी बात को बीच में ही काटते हुए बोली- अरे छोड़ो जी … डॉक्टरों को क्या पता … मुझे अपने कान्हाजी और लिंग देव पर पूरा विश्वास है, मेरी मनोकामना जरूर पूरी होगी. उसके बाद कभी जिंदगी में उससे मुलाकात नहीं हुई।यह कहानी मैं और मेरी पत्नी भूल चुके हैं और कभी मैं और मेरी पत्नी ने इस विषय पर फिर आपस में बात नहीं की।लेकिन कभी अकेले में फुर्सत में मुझे वे दिन याद आ जाते हैं, यह कहानी जरूर याद आती है. वह बोला- तुम बड़ी देर लगे रहे, मुझे एकदम भड़भड़ी छूटती है, चालू हुआ तो बीच में रूक नहीं पाता।फिर हम उठे, मामा जी से कहा- आप पहले नहा लो, हम फिर नहाएंगे.

इन्सेस्ट सेक्स स्टोरी के पिछले भाग में नीलम ने अपने ससुर के लंड के साथ खेलते हुए मस्ती की और फिर दोनों में चुदाई हुई. वो कभी मेरे लंड को चूसती, कभी उसके टोपे पर अपनी जीभ फेर कर उसे चाटती. अशोक बोला- आह चूस मेरी भूखी रांड आह … और चूस कर खा जा मेरा लंड … मेरी रांड.

हिंदी सेक्सी बीएफ रिकॉर्डिंग उसकी वासना बढ़ चुकी थी … बोली- अशोक हये … अब नहीं रहा जा रहा डाल दो इस हब्शी लंड को मेरी चूत में. तुम्हारे बैग में इंडिया वापस जाने का वीजा और कुछ पैसे हैं, तुम वापस इंडिया चली जाओ.

अनुष्का शर्मा चुत

फिर जब हमारी दोस्ती को काफी समय हो गया तब एक दिन मैंने सही मौका देख कर उसे प्रपोज़ कर दिया. फिर मैंने रशीद का दाढ़ी बनाने वाला रेज़र उठाया और अपनी बुर की झांटें साफ कर लीं. शायद नेहा भी अब उत्तेजित हो गयी थी क्योंकि उसकी सांसें अब तेजी से चलने लगी थीं.

खैर बुरा ना मानना … मैंने तो तेरे साथ हमदर्दी की वजह से यह सब बोला है. तभी मेरा दोस्त आया और मुझसे बोला कि यार तू गेट पर चला जा … मैं इधर सम्भाल लेता हूँ. नई सेक्सी बीएफ चुदाईजबकि ऐसा है नहीं … आप खुद सोचिये जो पति खुद आपसे अपनी कामुक इच्छा को व्यक्त कर रहा है वो आपको चरित्रहीन कैसे सोच सकता है.

बॉस ने भी अपना लंड पैंट की जिप खोल कर बाहर निकाला और पीछे से मेरी गर्म चुत से सटा दिया.

अगले दो दिन बाद हमें मिलना था, तो मुझे उससे मिलने की बड़ी बेचैनी होने लगी. मैं उदास होकर बैंगलोर के लिए निकला, लेकिन वहां और मज़ेदार चीज़ मिलने लगी.

इतना बोल कर मैंने दीदी को दबोच लिया और उनके होंठों को बेतहाशा चूमने लगा. मैं अपने घर में सबकी लाडली हूं और मुझे कोई भी किसी काम के लिए रोकता नहीं है. यह कहानी आज से सात साल पहले की है, जब मैं दूसरे शहर में अपनी डॉक्टरी की पढ़ाई करने गया था.

मेरे आफिस में हम दोनों की गर्म साँसों की आवाज़ के साथ सोना की ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… आंमम्म … आआ … हाआं … आहम्माम … जैसी आवाजें भी गूंज रही थीं.

कहानी में आपको पता चलेगा कि कैसे मैंने पिंकी और रिचा की संगत में पड़कर नये-नये तरीकों से चुदाई का सुख भोगा. फिर मौसी मुझसे सॉरी बोलने लगीं और मुझे मानने के लिए उन्होंने मेरे गाल पे किस किया. इसके साथ ही मैं पूरी ताक़त से संजना के मुँह में झड़ने लगा और शीना को किस करते हुए उसके होंठ खाने लगा और उसके मम्मों को तेज़ी से दबाने लगा.

सेक्सी बीएफ एचडी में सेक्समेरे समर्पण का एक बड़ा कारण यह भी था कि मैं अपने हस्बैंड के साथ खुश नहीं थी. मेरी माँ ने थोड़ी नाराज़गी दिखाते हुए कहा- जब तुम देख रहे थे कि बारिश होने को है तो घर नहीं आ सकते थे क्या? छत पर ये सब फैला था.

एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो देहाती

कुछ ही देर में मैंने अपना माल वहीं उसके ऊपर ही गिरा दिया और उसके ऊपर ही ढेर हो गयी. और फिर कुछ दिन बाद मैंने अपनी गांड में दो उंगली इस्तमाल की। ऐसा मैं रोज करने लगी।काफी दिन गांड में उंगली करने से मेरी गांड का छेद थोड़ा ढीला हो गया. मैं उसकी अगल बगल में टांगें फैलाते हुए उसके लौड़े पर बैठने लगी तो उसने अपने लंड का सुपारा मेरी गांड के छेद पर रख दिया.

उसने लंड का सुपारा मेरे होंठों से टच किया और अपने एक हाथ से मेरे एक दूध को जोर से भींच दिया. अगर कोई ऐसी बात है, जो नहीं बताना चाहते, तो छोड़ो … वरना बताओ कि क्या हो गया. कुछ ही धक्कों के बाद शबनम का पानी निकलने वाला था- ओह हां!जोर से कराहते हुए शबनम ने अपने कूल्हों को आगे की तरफ धकेला और अंकित के कूल्हों को पकड़ कर वहीं का वहीं रोक दिया.

उसे इस चुदासी औरत के रूप में देख कर मैंने भी अपना आपा खो दिया और अपना पैग उठा कर उसे अपने हाथों से पिलाने लगा. अग्रवाल सर ने हनी सिंह के गाने लगा दिए और दीदी से बोले- नाचो मेरी जान. ” महेश ने अपनी उंगली को थोड़ा दबाव देकर अपनी बहू की गांड में डालते हुए कहा।उईई निकालिये पिता जी, मुझे नहीं पता कुछ … मुझे वहां नहीं करवाना.

इस बीच में मैंने उनके स्तन और पेट पर कई बार चूस चूस कर निशान बना दिए. हमारे घर के सामने के घर में एक परिवार रहता है, उस परिवार में 3 लड़कियां हैं.

मुझे पता नहीं था कि संजना का प्लान क्या है, मैं तो बस इसलिए खुश था कि संजना ठीक लग रही थी.

इस वक्त उसने टी-शर्ट और जीन्स पहनी थी, तो पहले तो मैंने उससे कहा कि अपनी टी-शर्ट उतार दो. वीडियो में बीएफ बीएफ वीडियो मेंमैं उससे बात कर ही रही थी कि बिक्कू के मोबाइल फोन पर तीसरी बार घंटी बजी. सेक्सी बीएफ कॉमेडी वालीइस तरह शादी अटेंड करके मैं अगले दिन शाम की ट्रेन से अपने घर वापिस आ गया. मुझे दिल्ली आए हुए अब लगभग तीन महीने हो चुके थे और इस बीच मेरी, संजय और हंसिका भाभी की भी अच्छी दोस्ती हो चुकी थी.

मम्मी की कोशिश ये होती थी कि वो घर पर अकेली रहें, तो अच्छे से मसाज करवा लें.

उसने हार नहीं मानी और फिर रोज ही वो मेरे फोन पर ढेरों मैसेज कर दिया करता था. मैं बड़े आराम से उसकी नटखट चूचियों का उछालना कूदना देखता रहा; बीच बीच में मैं उसके निप्पलस खींच कर अपने सीने पर रगड़ने लगता और उसके कूल्हों के बीच की दरार को, उसकी गांड के झुर्रीदार छिद्र को अपनी उँगलियों से सहलाने लगता जिससे कम्मो की वासना और प्रचण्ड रूप ले लेती और वो किसी हिस्टीरिया के मरीज की तरह अपनी कमर चलाने लगती. ऐप इंस्टाल कैसे करेंमेरी पिछली सेक्स कहानीमेरी वासना और बॉस की तड़पमें आप सभी ने मेरे बॉस के साथ मेरे सेक्स सम्बन्ध के बारे में जाना था.

एक दिन उसने मुझे खुद को वेबकैम पर भी दिखाया तो मेरे बदन में वासना की आग लग गयी. कमर पर किस करना मेरे लिए मानो सबसे बड़ा आनंद था, चुदते वक्त कमर पर किस पागल कर देती है. फिर आंटी की पिंडलियों, नरम नरम जांघों को चूसते चाटते हुए मैंने उनकी पेंटी उतार दी.

ब्लू पिक्चर दिखाएं सेक्स

फिर मैंने उसकी कमर पर अपने हाथों को घुमाया और जैसे एक कुम्हार घड़ा बनाते समय उस पर हाथ लगा कर हल्के हाथों से आकार देता है, मैं भी ऐसा ही करने लगा. नीचे मेरी चूत में उंगलियां जलवा खींच रही थीं और ऊपर मेरे मम्मों पर बियर डाल कर राहुल ने चूसना चालू कर दिया था. मैं खुद को भाग्यशाली मान रहा था कि ऐसा मस्त माल मुझे चोदने को मिल रहा है.

” अंकित को अहसास भी नहीं था कि उसने अभी अभी शबनम को क्या सुख दिया है.

गांव की औरतों को बस बातें इधर उधर करने के लिए मसाला चाहिए होता है इसलिए वो ऐसी बातें फैला रही हैं.

मेरी वाइफ मेरी टी-शर्ट उठा कर, अन्दर हाथ डाल कर मेरे निप्पलों को सहला रही थी. उफ्फ्फ … क्या मस्त नज़ारा था … वैसा बदन फिर मुझे अभी तक देखने को नहीं मिला. घोड़े के साथ लड़की की बीएफअभी मुझे नौकरी तलाश करते हुए एक साल ही गुजरा था कि भैया का सड़क दुर्घटना में स्वर्गवास हो गया.

बॉस ने मुझे गोद से उतार दिया और मेरा गाऊन निकाल दिया, जिससे मैं उनके सामने बिल्कुल नंगी हो गयी. दोस्तो, मेरा नाम उज्ज्वला है, मैं महाराष्ट्र की मराठिन मुलगी हूँ, मेरी हिन्दी थोड़ी कमजोर है. सुबह निकलने से पहले मैंने उन्हें चोदने का आश्वासन दिया … तो वो सो गईं.

इससे पहले मैं इस सेक्स कहानी को लिखूँ, आप सभी को इसके पहले भाग से रूबरू करा देता हूँ. बेटी यह क्या बात हुई? मुझे तुम्हारी चिंता हो रही है, बताओ न कहाँ दर्द है.

मैं जब भी दादाजी के घर जाती, तो उनका पैसों से भरा पर्स पलंग के पास ही रखा होता था.

मेरी सहेलियों के यहां जब मैं रात को देर तक रुकती थी तो वो लोग पार्टी करते हुए बीयर पीती थीं. उसकी लार मेरे मुंह में आ रही थी और मेरी लार उसके मुंह में जा रही थी. रोज इशिता पूरी नंगी होकर ये सब करती थी? उसका कोमल स्पर्श, उसके नंगे बदन का स्पर्श उसकी गर्म सांसें, पूरा माहौल गर्म कर चुकी थी.

बीएफ एक्स वीडियो देहाती फिर एक दिन उनका कॉल आया, बहुत ही उदास थी, बोली- अभी तक मैं घुट-घुट कर जी रही थी. उन्होंने शराब का गिलास अपनी चूत पर डाला और मुझसे अपनी चुत चटवाने लगीं.

कुछ बीस मिनट बाद मेरा लंड झड़ने को हुआ, तो मैंने उससे कहा कि मैं निकल रहा हूँ. मैं स्मृति के साथ इतना उत्तेजित हो जाता हूँ कि मैं इस चूमा चाटी से ही झड़ जाता हूँ, आज भी मैं झड़ चुका था और वो भी एक बार झड़ चुकी थी. इसलिए मैं यहां हूँ … वरना तुम तो जानती हो कि मैं ऑफिस के बाद सीधी घर पर ही जाती हूँ.

हिंदी में सेक्सी बीएफ पिक्चर

और समझा दो मेरी चुत को कि मोटे लंड से चुदवाने का मतलब क्या होता है. जिस कमरे में वे गए हुए थे, उसकी खिड़की से मुझे अन्दर का नजारा साफ़ दिख रहा था. वो कहने लगी कि आआआहह … जानू … उऊह … अपना ही माल है … ज़रा प्यार से खोलना.

शेफाली मुझे बोलती थी- जब तक तू अपनी दीदी को बॉस से नहीं चुदवा देता, प्रमोशन की बात तो तू भूल ही जा. अगले दिन जैसा कि तय था, सभी लड़के ठीक 9 बजे अपने अपने कॉटेज में पहुँच गए.

फिर वो बोला- मैंने तो ऐसा भी सुना है कि तेरी मां तुझसे धंधा करवाती है.

मुझे तो 1 साल फुल मस्ती का मिल गया था जहाँ टीचर और स्टूडेंट सब से इज़्ज़त भी मिलती रहेगी।सभी बहुत खुश थे और इसीलिए रात में एक पार्टी का आयोजन किया हुआ था, घर में खाने की खुशबू उड़ रही थी. आलिया मुझे देखकर भागने लगी और मैं अपना फोन सोफे पर रखकर उसको पकड़ने के लिए पीछे भागने लगा. अब आगे …रात होते ही महेश अपनी बहू के कमरे में घुसकर उसकी शानदार चुदाई करता। समीर भी इसी तरह रोज़ अपनी बहन को चोदता था।आज सुबह समीर के जाने के बाद नीलम घर का काम काज करने में व्यस्त हो गई। महेश ने आज अपनी बेटी को चोदने का पूरा मन बना लिया था क्योंकि पिछले 2 दिनों से उसका लंड उसकी बेटी की चूत की चुदाई करने का भूखा था.

तुम चाहो तो छिप कर देख भी लेना तुम्हारी मां अपनी चूत में कितनी बार लंड लेती हैं. पिछली बार सेक्स के बाद मेरी क्या हालत हुई थी मुझे ही पता है।मैं बोला- यार, एक बार करेंगे अबकी बार वो आखरी बार होगा. शबनम ने अंकित के हाथों को अपने हाथ में लेकर अपनी टांगों के बीच में रख दिया.

भाई नंगा था और उसका लंड जो नीचे झूल रहा था, मैंने उसे चूसना शुरू कर दिया.

हिंदी सेक्सी बीएफ रिकॉर्डिंग: अपने जिस्म की भूख को शांत करना अलग बात थी लेकिन इस तरह किसी अन्जान के साथ कब तक? आखिर मुझे भी तो पता होना चाहिए कि जो मर्द मेरे जिस्म के मजे ले रहा है वो है कौन? मैंने इसके बारे में पता करने के लिए ठान लिया था. ” महेश ने अपनी बहू को देखते हुए कहा।नहीं पिता जी, फिर यह हर रोज़ ऐसा करने को कहेगा.

हालांकि मेरी चूत पूरी गीली हो रही थी उसके बारे में सोच सोच कर … फिर भी मैंने जल्दी करना ठीक नहीं समझा. अभी वो कच्ची कली थी, लेकिन इस कम उम्र में भी उसने काफी कुछ सीख लिया था. फिर जैसा प्लान किया था, कुसुम अन्दर आई और कमरे में अपनी वर्दी बदलने चली गई.

मैं उठ कर हाथ लगाने ही जा रहा था कि भाभीजी ने इशारे से उठने से मना कर दिया.

मैं आंखें बंद करके अपनी चूचियों को मसल रही थी और बुदबुदा रही थी कि आह … विनय फक मी … आहह फक मी हार्डर. फिर मुझे याद आया कि ये तो वही लड़की है, जिसकी फोटो मुझे शादी के लिए आई थी. कोई 15 मिनट तक इस तरह से चुदाई का मजा लेने के बाद भाभी जी ने मुझे रोका.