सेक्सी बीएफ देहाती भाभी

छवि स्रोत,इंग्लिश सेक्सी गर्ल्स सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

સનમ તેરી કસમ: सेक्सी बीएफ देहाती भाभी, फ्रिज से एक-2 ठंडी बोतल बियर निकाल कर हम दोनों भी अपने-2 बाथरूम में शावर लेने चल दिए.

सनी लियोन खतरनाक सेक्सी वीडियो

नमस्ते… यह मेरी देसी चुत की देसी चुदाई की पहली कहानी है। मेरा नाम राहुल है. सेक्सी गंदा गाना वीडियोऐसा लग रहा था कि इसको पकड़ कर इसकी चुत में अभी ही अपना पूरा मुँह लगा दूँ और उसकी चुत के रस का पान करूँ।मेरा लंड तो अब तक पूरा प्यासा हो चुका था।अजीत ने अपने कपड़े उतार दिए और वो भी पूरा नंगा हो गया, उसका लंड लगभग 7.

तो फिर मैं निप्पलों को जोर-जोर से होंठों से दबा कर चूसने लगा।बड़ा ही मजा आ रहा था दोस्तो उफ्फ्फ. हिंदी सेक्सी लेटेस्ट‘सुहाना, अब देखना मैं तुम्हारे गांड की कैसा बाजा बजाता हूँ!‘बजाओ मेरे राजा, मेरी गांड का बाजा बजाओ, मेरी गांड भी अपने छेद के अन्दर लंड लेने को तरस गई थी।’वो और मैं बात को जारी रखे हुए थे और मैं धीरे-धीरे अपने लंड को उसकी गांड में पेवस्त करने में लगा हुआ था, उसके गांड में जैसे ही मेरा लंड और थोड़ा अन्दर जाता वो बस आह कर देती.

पहले भी और अब यह?तो दिव्या बोली- यह अच्छा है।मैं दिव्या की चुची से खेल रहा था।उसकी बहन कहती- दीदी नहीं.सेक्सी बीएफ देहाती भाभी: प्लीज आँखें खोलो।तो उसने आँखें खोल दीं। हमारे किस और चूमाचाटी से जो मजा आ रहा था.

अब मेरा लन फिर से खड़ा हो रहा था तो मैंने सीधा उसकी फुदी में डालना चाहा.यह बात उन दिनों की है जब मैं इंजिनियरिंग के पहले साल की पढ़ाई कर रहा था.

नए जमाने की सेक्सी - सेक्सी बीएफ देहाती भाभी

और वो सुमन से बोली- दीदी, मुझे भी करना है!सुमन चिल्ला कर बोली- नहीं!तो नेहा ने कहा- आप कर सकती हो तो मैं भी कर सकती हूँ.सोचा कि ट्रेन में कोई अच्छी सी हमसफ़र मिल जाएगी, पर ऐसा ना हुआ। लेकिन जब ट्रेन इलाहाबाद पहुँची तो मेरी किस्मत खुल गई।एक बड़ी प्यारी सी लड़की मेरी सीट के सामने वाली बर्थ पर आई.

वो किस करते-करते नीचे आई और झट से मेरे लंड को अपने मुख में लेकर चूसने लगी. सेक्सी बीएफ देहाती भाभी अब मैंने उसे प्यार से नीचे आने को कहा और वो चुपचाप नीचे आकर लेट गई। मैं सीधे उसके गुलाबी होंठों को चूसने लगा और वो भी मेरा साथ देने लगी।अब हम दोनों पर पूरा सेक्स चढ़ चुका था और हम एक दूसरे से लिपटे हुए किस कर रहे थे.

उसके बाद मैंने उसको एक महीने तक खूब पेला और उसकी चार सहेलियों को भी पेला.

सेक्सी बीएफ देहाती भाभी?

अब मैं उनके लंड पर अपनी चुत ऊपर नीचे करने लगीं और और नीचे से धक्के लगने लगे. मुझे अपने हाथों से खिलाया और खुद भी खाया।दीदी- तुम दिव्या को पसंद करते हो क्या?मैंने हंसते हुए कहा- नहीं यार, बस टेस्ट चेंज करना चाहता हूँ।दीदी- मतलब?मैं- नई चूत लिए हुए बहुत दिन हो गए हैं. मैं उन्हें घूर कर देखता रहता और उन्हें चोदने के बारे में सोचता रहता था।वो भी मेरी निगाहों को भांप चुकी थीं और तिरछी नज़रों से मुझे देखती रहती थीं। मैंने भी कई बार बाथरूम में उनके नाम की मुठ मार चुका था।एक दिन शाम को मैं घर में अकेला था। वाइफ बाज़ार गई थी.

तो वो भी कमर हिलाने लगी। अब मैं उसको हचक कर चोदने लगा। आज मेरी तमन्ना पूरी हो रही थी, मैं उसे बहुत जोर-जोर से चोद रहा था।मैंने उसे बताया कि मैं उसे कितना पसंद करता हूँ और कब से उसे चोदने के लिए तड़प रहा था।उसने भी कहा- तुम भी मुझे बहुत पसंद थे. मेरे स्तनों का साइज काफ़ी अच्छा है इनकी सख्ती और तने हुए रहने के कारण देखने वालों के लंड खड़े हो जाते हैं। मेरा फिगर 38-32-40 का है. खूब जोर से चोदो मुजे!मैं एक बार फिर डरते हुए दरवाजे की तरफ बढ़ा, खोल कर कमरे से बाहर हॉल में निकल आया और अपने पीछे दरवाजा मजबूती से बंद कर दिया, अपने सुइट के मेन डोर से बाहर झाँका तो पूरा कॉरिडोर खाली पड़ा था.

’ बोलते हुए चोदता रहा और फिर मेरा भी पानी निकल गया। मैं भी उससे चिपट गया।जब मैंने उसकी चूत में से लंड निकाला, तो देखा सारी चादर पर खून लग गया था। नेहा ने भी दर्द मिश्रित मुस्कान के साथ ‘आई लव यू. सब कुछ तुम्हारा ही है।’फिर वो मेरी चुत में दो उंगलियां डाल कर मुझे उंगली से चोदने लगा और मेरी चुत को चाटने लगा।‘अहह. मैंने फिर शॉट पे शॉट कभी अंदर कभी बाहर ‘ओह्ह कोमल आह्ह आह उफ्फ्फ्फ़ उफ्फ्फ ये ये हुम्म हुम्म्म्म…’कोमल भी मस्त हो कर चुदवा रही थीमैं कभी उसकी चूची चूसता तो कभी चूत पर हाथ ले जाकर चूत का किनारा रगड़ता ओर इसका नतीजा यह हुआ कि अब कोमल फिर से झड़ने को तैयार थी.

’हम दोनों ने एक-दूसरे को एकदम टाइटली पकड़ लिया था।लगभग दस मिनट तक उनका यही प्रोग्राम चलता रहा। अब अजीत ने सुनीता को डॉगी स्टाइल में किया और हमारी तरफ देख कर बोला- अरे क्या हुआ. मेरे पति उसे बाहर छोड़ने जाते हैं, उसे पता था!जैसे ही मेरे पति बाहर बाइक के पास गये, दीपक चाभी लेने के बहाने कमरे आया और उसने मुझे पकड़ा, एक जोरदार किस किया और चल दिया.

अपना आइटम पकड़ कर आनन्द लीजिएगा।पहली रात में तो मैंने माल हाथ से निकल ना जाए.

वो थोड़ी देर में नॉर्मल हुई, तब मैंने झटके देना चालू किया, अब तो वो भी मेरा साथ दे रही थी और गांड उठा उठा कर अपनी चूत चुदाई करवा रही थी.

तब भी वो कुछ नहीं बोली।अब ये पक्का हो गया था कि वो चुत चुदाने के लिए राजी है। फिर मैंने धीरे से उसका लोवर भी उतार दिया।वो सिर्फ़ ब्रा-पेंटी में रह गई थी… क्या मस्त माल लग रही थी।मैंने उसके सारे जिस्म में किस करना चालू कर दिया। उसके लिए ये सब पहली बार था। मैं चुम्मी करता जा रहा था. चूसाया फिर उसकी शर्ट को ऊपर किया। उसके बोबे पर केक की क्रीम लगा दी, फिर चुची चूसने लगा।बोली- मुझे आज अपना बना लो. सच में आंटी सेक्स की मूर्ति… माल लग रही थीं वो।मैं रूम में अन्दर आया तो उन्होंने बोला- क्या लोगे.

मेरी टाइट चुत वैसे भी बहुत पानी छोड़ रही थी तो उसे कोई दिक्कत नहीं हुई. मेरी एक कज़िन है, जिसका नाम सोनिया (नाम बदला हुआ) है। उसके मदमस्त जिस्म के बारे में क्या बताऊं. ‘चुपचाप ऐसे ही झुकी रह मेरी कुतिया भाभी… तेरी चूत तो मैं बाद में लूँगा.

काफी लम्बी चुदाई के बाद हम दोनों थक गये थे लेकिन मैं झड़ नहीं रहा था.

मैंने भी अपना पूरा जोर लगा दिया चाची को चोदने में… ऐसा चोदा जैसे कभी मिलेगी नहीं. इतना होने पर भी मेरी चूत मांगे चुदाई चुदाई और चुदाई!फ्रेंड्स मेरी ये चुदाई की स्टोरी कैसी लगी. ’ करते हुए सिसकारियां ले रही थी।फिर राम ने कहा- दिव्या मेरा लंड चूसो।उसने थोड़ा आना-कानी की तो राम ने थोड़ा ज़ोर से कहा।अब दिव्या ने राम का काला लंड अपने मुँह में लेकर चूसा.

क्या आपको मेरा प्यार स्वीकार है?फिर भाभी होंठ दबा कर बोलीं- मैं सोच कर बताऊँगी।उसके बाद वो अपनी गांड मटकाते हुए अन्दर चली गईं।दोस्तो, उस समय मेरी क्या हालत हुई. पर मेरा लंड पक्का झेल लेगी।हमारे घर में दो मंज़िल हैं, ऊपर वाली मंज़िल पर कोई नहीं रहता है, सब नीचे ही रहते हैं। पर ऊपर सब कुछ रहने लायक एकदम कंप्लीट है। ऊपर ही एक कमरे में हमारा कंप्यूटर सिस्टम भी रखा है।एक दिन मेरी चाची, जो स्कूल टीचर हैं. मैंने सिर उठा के देखा तो पाया भाभी गहरी साँसें ले रही थी और चेहरे पर एक तृप्त औरत की हल्की सी मुस्कान थी.

जो कि कल का प्लान बन चुका था।मैंने मैडम को बताया तो उसने तुरंत इस जगह से दूसरी जगह शिफ्ट करने का कहा। मैंने सब व्यवस्था की और मुझे उम्मीद हो चली थी कि मैडम मुझे चूत दे देगी।[emailprotected].

खैर मैंने भी‌ संगीता भाभी की चूत को‌ एक बार ऊपर से चूमा और फिर अपनी जीभ को ‌निकाल‌ कर धीरे धीरे चूत की ‌फांकों को‌ चाटने लगा. 5” मोटा। मैं उसका हब्शी लंड देख कर डर गई।फिर वो मेरी पेंटी के ऊपर से मेरी चुत सहलाने लगा। मैं वासना से पागल हो रही थी। वो मेरे सामने था.

सेक्सी बीएफ देहाती भाभी मेरी सांसें काबू में नहीं थी… मैं जोर जोर से सांसें ले रहा था, कोमल तो निढाल सी मेरे को जकड़े हुए पड़ी थी. हमारी बातचीत हो जाती थी।फिर एक दिन वो शाम को मेरे घर आईं और बोलीं- राज जी मेरा कंप्यूटर ऑन नहीं हो रहा है.

सेक्सी बीएफ देहाती भाभी पहले आप के चक्कर में चूत को न चोद सका।आगे इस रस भरी चुदाई की कहानी में क्या-क्या न हुआ, वो सब पढ़ कर आप पक्के में अपना-अपना आइटम झाड़ लेंगे।आप मुझे इस चुदाई की कहानी पर अपने विचार भेज सकते हैं।हिंदी चुदाई की कहानी जारी है।[emailprotected]रंडी मामी की हिंदी चुदाई की कहानी-2. अपने छोटे भाई की ख़ुशी के लिए उसको रूम में बुलाकर पहले मुझे चोदा था फिर उससे मुझे चुदवाया था.

हम दोनों ने साथ में ही खाना खाया।अब मैं दूसरी बार की चुदाई के लिए तैयार था.

सेक्सी चुदाई मादरचोद

5 इंच मोटा है।ये कहानी कुछ 6 महीने पहले की है। सामन्यत: मैं रोज़ सुबह 8 बजे निकल जाता था और फिर दोपहर में आता था। मेरे पड़ोस में मिस्टर सिंह रहते है. ये तो बस जन्नत थी।मेरा पानी पीने के बाद बाद वो मुरझाए हुए मेरे लंड के टोपे पर जीभ फेरते हुए लंड को टुनया रही थी, तो मैंने उसे थोड़ी देर और चूसने को कहा। उसने फिर से लंड को मुँह में भर लिया और फिर से मेरा लंड खड़ा हो गया।अब मैं उठा और उसकी बुर पर मैंने अपना लंड सैट किया, तो वो कहने लगी- डार्लिंग. और अब सुधीर भी अकेला हो गया।वैसे सुधीर अच्छा लड़का था, रेशमा से पहले और किसी लड़की का नाम मैंने उसकी जिन्दगी में नहीं सुना था।एक दिन मैं गार्डन के पास एक बेंच पर अकेले उदास बैठी थी.

5” मोटा। मैं उसका हब्शी लंड देख कर डर गई।फिर वो मेरी पेंटी के ऊपर से मेरी चुत सहलाने लगा। मैं वासना से पागल हो रही थी। वो मेरे सामने था. मैंने उससे कहा- आज तो मैं तेरी गांड मारूंगा।वो मुझे घूरने लगी और उसने मना कर दिया. बहन की चुदाई की यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैंने अपनी बहन को पूरी नंगी किया और उसे घूम कर उसकी गांड मेरी ओर करने को कहा.

अचानक एक दिन मुझे चाची ने बुलाया और कहा कि उनको बाहर जाना है और मैं उनको लेकर चलूँ!मैंने हामी भर दी.

क्योंकि तेरे चाचा ने बच्चे तो पैदा कर दिए, पर वो ठीक तरह से मुझे शांत नहीं कर पाते हैं. जिससे मेरा लौड़ा पैंट के पिंजरे में से आजाद हो गया, लेकिन अभी अंडरवियर बचा था।मेरा लौड़ा अंडरवियर में एकदम टाइट हो चुका था और इतना मस्त फूला हुआ दिख रहा था कि किसी भी लड़की को दीवाना कर दे।मैंने भाभी की ब्रा को उतार दिया और भाभी के मम्मों को आज़ाद कर दिया। मैं दोनों निप्पलों को बारी-बारी से चूसने लगा तो भाभी के मुँह से मादक सीत्कारें निकलने लगीं ‘आह्ह. उसकी चुची में ज्यादा लग रहा था।वो भी मुझे पढ़ते हुए मेरी आँखों में आँखें मिला कर पढ़ रही थी, उसकी निगाहों से ऐसा लग रहा था मानो जैसे लंड चूसने को तैयार हो।कुछ समय बाद हमारी दोस्ती भी हो गई और उसने मुझे प्रपोज़ भी कर दिया।मानो मेरी तो लॉटरी ही निकल पड़ी हो, मैंने भी उसको बोला कि मैं भी तुम्हें काफ़ी टाइम से पसंद करता हूँ.

5 इंच है।किस करने के बाद प्रतिभा बिल्कुल गर्म हो गई थी और उसने अपना हाथ मेरी जींस के अंदर डाला और लौड़ा पकड़ कर हिलाने लगी और मैं प्रतिभा के बूब्स पकड़ कर दबाने लगा।मैंने जब उसकी टॉप उतारा तो लाल रंग की ब्रॉ पहनी थी, जब जींस उतारी तो अंदर भी लाल चड्डी पहने हुई थी. लंड को तो सबकी चुत एक जैसी ही लगती है।आंटी भी 40 साल की थीं, लेकिन अभी भी मस्त माल लगती हैं. लेकिन जीवन की गाड़ी आगे बढ़ती चली गई और मेरा शैक्षिक सिलसिला आगे बढ़ता गया। मेरी अम्मी से बात होती रहती थी और वह हमेशा यही कहती थीं कि अपनी पढ़ाई पर ध्यान दो और अपना हमेशा ध्यान रखना।मैं भी उनकी नसीहत पर सोचती कि आखिर माँ हैं.

बताना जरूर।आगे कभी सुमन को चोदूंगा तो उसकी भी चुदाई की कहानी लिखूंगा।[emailprotected]. तुम रोहन के साथ काम कर लो और घर का भी ध्यान रखना।नेहा ने ‘ठीक है मम्मी.

मुदस्सर ने अमिता की गांड मारने की रफ़्तार थोड़ी तेज़ कर दी। मेरी पत्नी अपने बाल खोले हुए मेरे दोस्त की कुतिया बनी हुई थी. अमिता ने एक ब्लैक डीप नैक गाउन पहना जो उसकी गांड पर एकदम टाइट था और जिसमें से उसके क्लीवेज काफी गहराई तक दिख रहे थे. मेरी चुची उसके सामने खुली थी, वो काफ़ी देर उनको देखता रहा और कहने लगा- यू डिड्न’ट डू बूब्स जॉब आई थिंक… देट’स वाइ इट्स स्माल… नाऊ यू कम तो राईट मैन… आई विल इनक्रीज देम…और जोरों से उनको मसलने लगा, निप्पल को अपने उंगलियों से खींचने लगा और चुची दबाने लगा.

फिर वो बोला- एक बार देख ले, उसके बाद मैं कभी तुझे नहीं बोलूंगा देखने के लिए, एक बार देख ले बस!मैंने देखी और अजीब सा मन हो गया और मैंने अपने नीचे कुछ महसूस किया.

बेचारे इन्सान पति के लंड से अब इस नटखट शैतान लड़की का काम नहीं चलेगा. मैं आप सभी अन्तर्वासना के पाठको को प्रणाम करता हूँ, आपकी वजह से ही मैं एक बार फिर से अपना नया अनुभव प्रस्तुत करने के लिए प्रेरित हुआ हूँ. मुझे तो कुछ एहसास ही नहीं हुआ कि लंड घुसा भी है या नहीं। फिर देखा दो इंच का छेद 8 इंच का नाला बन गया था और मेरी औकात 4 इंच तक की थी।पर क्या करता लंड की ठरक तो मिटानी ही थी.

फिर मैंने और भाभी ने साथ में ब्रेकफास्ट किया।मैं- भाभी में बाहर जा रहा हूँ।भाभी- कब तक आओगे??मैं- शाम तक आ जाऊँगा।भाभी- ठीक है. सिसकते हुए सुधीर ने कहा- स्वाति मैंने तुम्हें बहुत रुलाया है, मुझे और मारो.

पर थोड़ी मोटी थीं। उनका भरा मांसल शरीर, भरी-भरी गोल चुचियाँ, मस्त मोटी गाण्ड और गोल से पेट को देख कर तो अच्छे ख़ासे बुड्डों का भी लंड खड़ा हो जाए। जब वो अपनी गांड को मटका-मटका कर चलती थीं. क्या रसीले होंठ थे उसके।मैं सोमी के होंठों का सोमरस पी रहा था, वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी। उसके मुँह से ‘आहें. ‘नहीं… और नहीं रुक सकता, सुम्मी… आह… मैं छूट रहा हूँ… ये ले मेरा बीज… आह!’भैया ने सारा माल भाभी की चूत में डाल दिया.

देहाती सेक्सी बीपी हिंदी

हर पोज़िशन में उसने मुझे चोदा।दोपहर तक हम एक-दूसरे की हर तरह से चोद चुके थे। मेरी चूचियों पर काटने के लाल-लाल दाग पड़ चुके थे।फिर थोड़ा रेस्ट करके शाम को हम लोग निकले। हम दोनों ने एक-दूसरे के बारे में कुछ भी जानने की कोशिश नहीं की.

तुम्हारे दुग्ध कलशों के मुख पर उत्तेजित चूचुकों को जब मैंने अपने बदन को छुआया, जैसे उन्हें एक सशक्त स्पर्श की आस थी… जैसे वे स्वयं पर मेरी उंगलियों का दबाव पाना चाहते थे… तुम्हारी ब्रा और उस पर तुम्हारी कुर्ती के बावजूद भी उनका उभार मुझे उन्हें छू लेने को बाध्य कर रहा था. आप यूं कह सकते हैं कि मैं एक माल लगती हूँ।अब मैं उस वाकिये को सुनाती हूँ, जिसमें कैसे मेरी चुदाई की प्यास ने मुझे एक साथ 2 मर्दों से चुदवा दिया।यह बात एक रविवार की है, मेरे ऑफिस की छुट्टी रहती है। मैं घर पर अकेली थी, मेरा मन नहीं लग रहा था तो मैंने सोचा कि अपने एक बॉयफ्रेंड को बुला लूँ।ओह सॉरी. तो मुझे ऐसा लगा कि किसी अजगर को बिल से निकाल लिया हो।लंड का एकदम लाल टोपा.

एकदम माल लग रही थीं। उन्हें यूं सजा-धजा देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया। मैंने सोच लिया था कि आज कुछ भी हो जाए, मैं उन्हें चोद कर ही रहूँगा। मैंने देखा कि वो मेरे रूम में ही खाना लेकर आ रही हैं।मैंने अपने लैपटॉप में जानबूझ कर सन्नी लियोनी की एक चुदाई की मूवी लगा ली और लंड सहलाते हुए देखने लगा।आंटी मेरे कमरे में आईं और उन्होंने मुझे आवाज़ दी- लव उठो. लेकिन यही काम अगर पत्नी करे तो लोग उसको बदचलन आवारा गश्ती औरत का खिताब दे देते हैं. ब्लू सेक्सी ओपन ब्लू सेक्सीलेकिन मैं उसे चोदता रहा।उसने मुझे हटाना चाहा, लेकिन मैं कौन सा छोड़ने वाला था। वो एक बार और झड़ी.

आज तुमने सही मायने में मुझे चोदा है। जितना तुमसे चुदवाने में आ रहा है. आप यूं कह सकते हैं कि मैं एक माल लगती हूँ।अब मैं उस वाकिये को सुनाती हूँ, जिसमें कैसे मेरी चुदाई की प्यास ने मुझे एक साथ 2 मर्दों से चुदवा दिया।यह बात एक रविवार की है, मेरे ऑफिस की छुट्टी रहती है। मैं घर पर अकेली थी, मेरा मन नहीं लग रहा था तो मैंने सोचा कि अपने एक बॉयफ्रेंड को बुला लूँ।ओह सॉरी.

हर बार कोमल शर्मा के आँखें नीचे कर लेती थी।AC के वजह से कोमल को ठण्ड लगने लगी तो मैंने उसको अपनी चादर दी जो मैं हमेशा अपने साथ रखता था।कोमल- आपको भी ठण्ड लगेगी, आप भी आ जाओ!अब हम दोनों के बदन काफी पास पास थे, हम दोनों एक दूसरे की गर्मी को समझ रहे थे और मैं जल्दबाज़ी में कुछ नहीं करना चाहता था… तो आराम से बात करता रहा. मेरा नामर्द पति 3 साल में मेरे सील भी नहीं तोड़ पाया।उसने पीछे हाथ करके मेरे दूध दबाए और कहा- अब तुम कभी प्यासी नहीं रहोगी।वो मुझे घर छोड़ कर चला गया।हम दोनों अभी भी सेक्स करते हैं, उसने मुझे कभी चुदाई के लिए नहीं तरसाया, जब भी मैंने चुदाई की चाह की, उसने मेरी चूत की चुदाई की. ये तो पानी छोड़ने वाली है। तेरा लंड मेरी टाइड गांड में बहुत मस्त रगड़ रहा है.

मैंने देखा कि वह गर्म हो गई है तो मैंने मौका देख कर अपने दोनों हाथ उसके बूब्स पर रख दिए. एंड्री- वॉट हॅपन रीतिका, ऐनी प्रॉब्लम्स? इस इट स्माल?मैं- नो नथिंग… इट्स वेरी ह्यूज वन. मैं अपने दोस्त के यहाँ जा रहा था लेकिन बाद में पता चला कि वो बाहर गया हुआ है तो मैं पीछे वाले गेट से अंदर आ गया.

वो आगे-आगे और मैं पीछे-पीछे… फसल के अंदर सेफ जगह जाकर मैं घुटनों के बल बैठ गया और वो अपने तने हुए लंड को मेरे मुंह के सामने लाकर खड़ा हो गया और बोला- कर ले जो करना है.

मैं धीरे-धीरे पेलता गया और उसकी सिसकारियाँ बढ़ती गईं। जब मेरा पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया, तब उसकी चूत का हाल देखने लायक था। उसकी चूत एक मछली के मुँह जैसे हो गई थी और लग रहा था जैसे कोई सांप उसके मुँह में घुसा हुआ है। मैं लंड को धीरे-धीरे अन्दर-बाहर कर रहा था।तान्या बोली- क्या कर रहे हो, ज़रा जोर से करो ना, बहुत मजा आ रहा है. तेरा लंड तो सच में बहुत मोटा तगड़ा है।माला नज़दीक से लंड को देख रही थी।राजू ने माला के लहँगे का नाड़ा खींच दिया.

फक मी हार्ड!विकास का लंड भी झड़ गया और भूमि की गांड से उसका वीर्य रिसने लगा।अब रोहित भूमि को पलटा कर अकेला चोदने लगा. फिर उनकी चुत में जैसे ही अपना मुँह लगाया तो भाभी ने कहा- बस देवर जी. सो बहुत ग्राहक भी नहीं आते थे, मतलब ज्यादातर समय मैं फुर्सत ही रहता था और अन्तर्वासना पर ही टाइम पास करता रहता था।एक दिन मैं बुर की चुदाई की सेक्सी स्टोरी पढ़ रहा था कि एक लड़की मेरे पास दुकान पर स्टेफ्री (बुर का ढक्कन) लेने आई। मैं तो उसे देखकर पागल सा हो गया और उसके तने हुए चूचे देख कर मेरा लंड मुझसे ज़्यादा कड़क हो रहा था।सच में यार.

उसमें एक आंटी रहती थीं जो बहुत ही सुंदर दिखती थीं।मुझे वहाँ रहते हुए अभी 2 महीने ही हुए थे कि मेरा उस फैमिली से कुछ जरूरत से ज्यादा अच्छा परिचय हो गया था। मैं आंटी के बारे में बता दूँ वो 40 साल की खूबसूरत औरत हैं. उसकी तो बात ही मत करो। उसकी हाइट करीब 5 फुट 10 इंच की होगी। बिल्कुल मेरी बहन की लम्बाई के समान. ओड़ीसा में घूमने की बहुत जगह हैं। कोणार्क मंदिर चलते हैं और बाकी कल सोचा जाएगा। अभी पहले रात का प्रोग्राम बनाते हैं।ये बोल कर मैंने उसको अपने तरफ़ खींच लिया। उसके बाद क्या हुआ, दीदी की चुदाई हुई फ़िर से…कहानी अच्छी लगी या नहीं, मेल जरूर करना।[emailprotected]आप मुझे फ़ेसबुक पर भी संपर्क कर सकते हैं.

सेक्सी बीएफ देहाती भाभी अब मुझे भी मजा आ रहा था आंटी की क्लीन शेव चूत को चाट कर…आंटी सेक्स के लिए बेचैन थी, मैंने आंटी को बेड पर लिटा दिया और आंटी की चूत में लंड लगा कर एक ज़ोर का झटका मारा, आधा लंड आंटी के चूत में गया. यह हिंदी चुदाई की सेक्सी कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!‘ऐ गली मत दो न!’ मैंने उसे रिक्वेस्ट की तो वो हंस कर बोला- मजा आता है… तुमको भी आ रहा है!वो मेरे ब्रा के हुक्स खोलते हुए बोला, मैं उसका साथ दे रही थी.

कॉलेज गर्ल की सेक्सी

’ कह रही थी।मैं भी ‘जय महाराष्ट्रा’ बोलता हुआ मैडम की गांड पर पिल पड़ा और 10 मिनट तक गांड मारने के बाद मैं झड़ गया।फिर मैडम को सोफे पर ही लिटा कर फ्रेश होने चला गया। वो 3-4 घंटे के बाद उठी. कहती- आओ ना!फिर उसकी सहेली ने भी कहा- प्लीज़ मूड खराब मत करो।मैं चला गया. मिल सकता है क्या?मैंने कहा- मिल तो जाएगा पर सर्च करना पड़ेगा।उसने कहा- प्लीज़ मुझे ये गाना सर्च करके दे दो।फिर मैं वो गाना सर्च करने लगा, सर्च करने पर कई साइट खुली और एक वेबसाइट पर पोर्न एड चल रहा था, उसे देखते ही मैं झटका खा गया और कुछ भी ना कर सका। वो भी एड देखकर घबरा सी गई और चुप हो गई।फिर उसने मुझसे कहा- ये क्या देख रहे हो.

मैंने पूछा तो बोले- अभी और पीनी है!दोनों बाजार गये और लाक़र पीने लगे!जब दीपक आया तो ऐसा लगा कि अब यह घर जाने की हालत में नहीं है, मैंने अपने पति बोल कर उसे यहीं सोने को कह दिया!अब हम सोने लगे, तब दीपक ने दूसरे कमरे से आवाज़ दी कि उसे पानी चाहिये. वो मेरा लंड चाट रही थी।मेरी जीभ उसकी चूत के दाने को चुभलाती तो वो कराहने लगती। उसका शरीर अंगार हो गया था, ऐसा लग रहा था जैसे उसके अन्दर से नमकीन सा पानी निकल आया हो।फिर वो अकड़ गई. ब्लू पिक्चर कुत्ता वाली सेक्सीमैं विशाल वेदक 24 साल का लड़का मुंबई में रहता हूँ, मेरे परिवार में चार लोग हैं पापा, मम्मी, बहन और मैं!मेरे पड़ोस में 36 साल की एक आंटी रहती हैं जिनका नाम वर्षा है, उनका अपने पति के साथ डाइवोर्स हुआ है, वे अपने 8 साल के लड़के के साथ अकेली रहती हैं.

आधी घर वाली एक भी नहीं है। भाभी की तो पूरी फैमिली में भी कोई इधर-उधर की भी साली नहीं है।मेरी इस बात पर सभी हंसने लगे, तो जीजा जी ने मुझसे कहा- क्यों भाई तेरा क्यों स्वाद बिगड़ा हुआ है.

तभी मेरी कज़िन सिस्टर की और उनके पति के बीच किसी बात को लेकर कहा सुनी हो गई और वो होटल की छत पर चली गई. और अपना पिंक टोपा मेरी चूत पर सैट किया और धीरे से मेरी गीली चूत में डालने लगे।मेरी दर्द से एक चीख निकल गई थी.

क्योंकि मैं कई साल बाद चुद रही हूँ।5 मिनट बाद वो अपनी गांड उठाकर मेरा साथ देने लगी. मैं वैसा ही करने जा रहा था जैसा मैंने उस ब्लू फिल्म में देखा था और वो भी ऐसा ही चाहती थी. एकाएक न जाने क्या हुआ कि नताशा ने अपना हाथ पीछे ले जाकर अनातोली का लंड धक्के लगाने से रोक दिया और उसे अपनी चूत से बाहर निकालते हुए वो तन कर बैठ गई.

हम उधर से निकल भागने की सोचने लगे। लेकिनवो लड़की रो रही थी उसे रोता देख कर मुझे लगा कि यहाँ कोई नहीं है तो हमने उसकी मदद करनी चाही।मैंने उसे उठाया.

अब आप लोग ही बताओ कि मैं क्या करूँ?जिससे भी बात करूँ वो मानता ही नहीं… कहता है जब वो कुछ करने नहीं देती तो तुम बाप कैसे बने!कोई मेरी परेशानी नहीं समझ रहा. इस बार मैं उसके नीचे झुका उसकी चूत चाटने के लिए तो उसने फिर रोक दिया- बाबू… काम ख़त्म हो गया. मगर मेरे ज्यादा ज़ोर देने पर उसने मेरा लंड मुँह में ले लिया और चूसने लगी।कुछ देर चूसने के बाद मैंने उसे लेटा कर उसके ऊपर लेट गया। उसके होंठों पर किस करने लगा और चुची भी दबाने लगा।अब मैंने एक हाथ से अपना लंड उसकी चूत के छेद पर रखा और ज़ोर से धक्का मारा। मेरा लंड चूत में घुस गया और फिर मैं लंड को अन्दर-बाहर करने लगा और थोड़ी देर बाद मैं झड़ कर शांत हो गया.

सेक्सी चुदाई हिंदी ब्लू फिल्मवो भी मेरी आँखों में आँखें डाल कर पीती गई।उसने करीब तीन गिलास पानी पी लिया।फिर शुरू हुआ हमारा सेक्सी सीन. ‘बापू गलती मेरी है, मैं चाहती थी कि यह सब हो, इसीलिए जब माँ ने मुझे यहाँ सोने को कहा तो मैं मान गई.

इंडियन सेक्सी फुक्किंग वीडियो

नताशा ने आँखें तरेर कर मेरी तरफ देखा और फिर मुस्कुराते हुए प्यार से अपनी गुलाबी जीभ से मेरे लंड के टोपे को चाट लिया. मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूं और यहाँ बहुत सी कहानियां पढ़ी हैं, कुछ सच्ची लगी और कुछ एकदम काल्पनिक हैं. सच में क्या मस्त माल लग रही थी।जब वो कमरे से बाहर गई तो मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए और एक दवा खा ली। तब तक वो पानी लेकर आ गई। उसके आते ही मैंने उसको पकड़ लिया और उसे बेड पर पटक दिया। उसकी पैन्टी खींच कर निकाल दी।हय.

इसी बीच मैंने बहाने से चाची की गांड को छू लिया था, पर चाची ने कुछ नहीं कहा मेरी हिम्मत बढ़ गई. !मैंने उससे कहा- अपना मोबाइल दो।तो वो डर गई और मना करने लगी।मैंने उससे मुस्कुरा कर कहा- चिंता मत करो वो सब मेरे पास भी है।अपनी ब्लू फिल्म का फोल्डर मैंने उसे दिखाया, तो वो भी हैरान रह गई और बोली- तुम भी ये सब देखते हो?मैंने कहा- हाँ दीदी. काम कंप्यूटर से रिलेटेड था।वो अपने बाथरूम मैं नहा रही थी। उसके बाथरूम में कोई गेट नहीं था, जिस वजह से उसने परदा डाल रखा था। मैं अन्दर गया ही था कि हवा चलने से उसका पर्दा हिला और मैंने उसे पहली बार नंगी देखा था। जैसे ही पर्दा हटा तो नाज़िमा को भी पता चल गया कि मैंने उसे नंगी देख लिया है।उस वक्त तो कुछ नहीं हुआ मैं वापस आ गया। इसके बाद दिन बीतते गए और फिर हमारी सैटिंग शुरू हो गई। प्यार हुआ.

मेरा मन कर रहा था कि अभी जाकर स्वाति की चूचियां पकड़ कर मसल दूँ और उनके निप्पल चूस चूस कर खड़े कर दूँ…मैंने उसे पूरी ब्रा उतारने को कहा तो स्वाति ने अपने कन्धों से पूरी ब्रा उतार के रख दी. हाय! कितना प्यारा सा लिंग बिल्कुल सीधा तना हुआ सात इंच के लगभग ढाई इंच की मोटाई रही होगी. ना उन्हें देख कर किसी का भी उनको चोदने का करने लगेगा।आज से करीब एक महीने पहले की बात है, मैं कॉलेज से घर आया और मुझे पता चला कि चाचा किसी काम के सिलसिले में 5 दिनों के लिए आउट ऑफ सिटी गए हैं।मेरी चाची से बहुत पटती है.

पर मेरे से कुछ तो बात कीजिए ना प्लीज़।ये सब पढ़ कर मैं तो पागल हो गया क्योंकि अंजलि दिखने में कोई हीरोइन से कम नहीं थी और मैं. फिर मेरी वाइफ ने सौरभ के साथ की अपनी सेक्सी कहानी बताई कि वह उसके साथ सेक्स कर चुकी है कई बार!मैंने भी उसे बताया कि मैं सेक्स कर चुका हूँ उसके साथ!फिर हम दोनों ने प्लान बनाया कि मेरी वाइफ सौरभ को लेकर गोआ आ जाए तो हम चारों वहाँ खूब ऐश करेंगे.

प्लीज निकाल लो!लेकिन मैं उसकी कमर पकड़ कर चुत में अन्दर करने लगा।उसने आँखें फैला दीं और चिल्लाते हुए कहने लगी- ओह.

‘नालायक कितना बड़ा लंड है तेरा, रुकने का नाम ही नहीं ले रहा, चूत फड़ेगा आज मेरी!’ मैं चुदाई के नशे में कुछ भी बोल रही थी. कुत्ते के साथ सेक्सी विडियोरमा के लिए पहला वार ही जानलेवा था, गुरूजी को आगे की तैयारी करते देख वो ज़ोर से रोने लगी- गुरूजी, भगवान के लिए मुझे छोड़ दो, मैं नहीं ले पाऊँगी इतना बड़ा… उई माँ मर गई! गुरूजी प्लीज निकालिये न बाहर!’ रमा ने छटपटाते हुए कहा. सेक्सी छोड़ने वाली सेक्सीवो खींचकर मुझे अपने ऊपर ले लेती।जाते वक़्त उसने मुझसे कहा- जीतू आई लव यू. बाद में वो मुझसे माफी मांगने लगा कि अब ऐसा नहीं होगा!फिर उसके फोन आने लगे, पहले तो मुझे अच्छा नहीं लगता था किसी दूसरे आदमी से बात करना… फिर धीरे धीरे उसकी बातें अच्छी लगने लगी! वो घण्टों मेरे से फोन पर बात करता था.

फिर मैं दीदी के होंठ चूसने लगा और एक जोरदार धक्का मारा, मेरा आधा लंड दीदी की चूत में चला गया और दीदी की आँखों में आंसू आ गए.

उधर अपना लंड चुसवाता राजू भी झुक कर रूसी दढ़ियल के लंड का खेल देखने लगा, उसने मदद के तौर पर नताशा की गांड को अपने हाथों द्वारा थोड़ा और फैला दिया. क्योंकि हमारी पढ़ाई का कमरा एक ही था। हम दोनों रोज ऐसे ही चुदाई करते। वो मेरा पति की तरह ख़्याल रखती. ?उसने कहा- तुम्हें ऐसे देखकर!मैंने कहा- तुम भी बहुत सेक्सी लग रही हो।मैं उसे किस करने लगा, बाद में मैंने धीरे से उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और ब्रा को अलग कर दिया।अओ.

दूध हल्का हल्का बच्चे के मुँह से होते हुए नीचे गिर रहा था और मैडम का वाइट शर्ट थोड़ा गीला हो गया था जिसकी वजह से उसके बूब्स दिख रहे थे. और सच कहूँ तो दोस्तो, इतनी गर्म चूत आज से पहले मैंने किसी की महसूस नहीं की थी… एकदम भट्टी की तरह धधक रही थी. ममता की धड़कनें इतनी तेज थीं कि उसकी चूचियों का उठना और गिरना साफ नजर आ रहा था।प्रशांत ने हल्के से ममती की चुन्नी खींच ली.

माधुरी दीक्षित हॉट सेक्सी

एऐऐ… कह कर कराह उठी।मैंने अब फिर अपने लंड को थोड़ा सा बाहर खींचा और उसी तरह‌ फिर एक जोर का धक्का मारा… इस बार… इस बार मेरा पूरा लंड उनकी‌ चूत में समा गया जिससे संगीता भाभी पहले तो इई… श्शशश… अआहः. फिर हमने धीरे से शुरू किया और जब वो गर्म हुई तो हमने ताबड़तोड़ पलंगतोड़ पेलमपेल चुदाई की. मैं तेरी भाभी हूँ।मैंने बोला- भाभी आप इस तरह पूरी नंगी मेरे सामने, मतलब एक जवान मर्द के आगे लेटी हो.

मुझे पता है।मेरे मन में पता नहीं उस टाइम कितनी ख़ुशी थी।मैंने उसका नम्बर माँगा तो उसने बोला- मेरे पास मोबाइल नहीं है।मैंने उसे अपना नम्बर दे दिया।कुछ दिन तक हम दोनों कभी-कभी उसके पापा के मोबाइल से बात करते रहे।फिर मैंने उससे पूछा- कब मिल रही हो?उसने बोला- कुछ दिन में बताती हूँ।मैंने ‘ठीक है बाय.

अब आगे:मैंने चाची को जल्दी चलने के लिए आवाज़ लगाई, चाची पांच मिनट बाद बाथरूम से निकली तो मैं उन्हें देखता ही रह गया, क्या सेक्सी लग रही थी, गीली होने के कारण उनके बदन से कपड़े चिपक गए थे, चाची किसी परी से कम नहीं लग रही थी.

ब्यान करना मुश्किल है कि मैं किस एहसास से गुज़र रहा था, जिन्होंने यह सुख भोगा है उन्हें पता है उस वक़्त की मनोस्थिति!ख़ैर, थोड़ी देर यूँ ही अपने जीभ से उस लाल सुर्ख़ हो चुके सुपारे को चाटने के बाद वंदु ने अपने होंठों को थोड़ा खोला और सुपारे को अपनी गिरफ़्त में ले लिया. मेरा लंड एकदम से खड़ा हो गया।मैंने कहा- भाभी अब जरा मुझे अपना दूध भी पिला दो ना।भाभी ने कहा- देवर जी आज आप जो कहोगे सब आपको पिलाऊंगी।मैंने भाभी के ब्लाउज को उतारा. सेक्सी वीडियो देसी सेजम के चोद दे।तभी उनका शरीर टाइट होने लगा और वे झड़ गईं। मैं धक्के लगाता रहा.

तब वो सिर्फ़ टी-शर्ट में थी। चुस्त टी-शर्ट उसकी मस्त फिगर को और उभार देती थी, इसमें उसके बोबे और भी मस्त, टाइट और उभर कर दिखते थे। नीचे उसका शॉर्ट्स जो कि उसकी मस्त गांड और सेक्सी टांगों को दिखाता था।एक दिन मैं पी के आया. तब मैंने मामा की आँखों में अजीब सी चमक देखी। मामा पूरे रास्ते मुझे ही घूरते रहे।हम सब घर पहुँच गए और नानी का हाल-चाल पूछने लगे। उस दिन उनकी तबीयत कुछ ठीक थी और नानी ने हमारे लिए चाय बनाकर हमें दी।अब मामा मुझे चाय देने या कोई ना कोई बहाना बना कर मुझे छूने की कोशिश कर रहे थे। चाय पीने के बाद मामा बोले- तुम थक गई होगी. रीना ने गहरे हरे रंग का सूट पहना था और सफ़ेद चुन्नी थी, मैंने नीली कमीज और जीन्स पहनी थी.

मैडम ने मुझे तीन साल तक अपनी चूत का गुलाम बना कर रखा, उसने मुझसे सैंकड़ों बार अपनी चूत चुदवाई. तुम ही बताओ क्या करूँ मैं?’ रमा ने सिसकते हुए कहा।‘ओह रमा हिम्मत मत हारो.

थोड़ी देर बाद घर की बेल बजी तो वो उठी, उसने सिर्फ़ शॉर्ट पहना अप्पर कुछ भी नहीं… गेट खोलने गई… जब वो वापस रूम में आई तो उसके साथ सौरभ भी था, उसके हाथ में बियर की बोतल भी थी, मेरी वाइफ उसके सामने टॉपलेस थी.

कि तुम मेरा भरोसा नहीं तोड़ोगे।मैंने कहा- मुश्किल से कंट्रोल किया मैंने!इस पर वो हँसने लगी और बोली- कंट्रोल करो. यह बात एक साल पुरानी है, एक दिन मम्मी ने मुझे चाची को लिवाने भेजा, घर में कोई काम था. वो खुद ही आ गई अपनी गुलाबी चूत लेकर मेरे घर चुदाई के लिए…दोस्तो, मैं राज सिंह 24 साल का हूँ। कुछ समय पहले ही मैंने अन्तर्वासना पर एक लौंडिया पटा ली उसने भी मना नहीं किया और झट से हां कर दी.

क्या की सेक्सी फोटो मैंने उसकी एक ना सुनी और लंड गांड में पेल दिया, फिर उसकी गांड चुदाई शुरू हो गई, वो गांड उठा कर मस्ती से चुची हिला-हिला के चुदने लगी।पूरे कमरे में उसकी कामुक सिसकारियां और उसकी ‘उहह आहह. मेरा लंड उसके बोझ तले दब कर भी ठुनक रहा था… मेरा दिल तो कर रहा था कि उसके पेट में ही लंड घुसेड़ दूँ…उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़…मैंने अपने दोनों हाथों को थोड़ी हरकत दी और वंदु की पीठ पे अपनी उंगलियाँ फिरनी शुरू कर दीं या यूँ कहें कि उसे अपने बदन से और भी चिपकाने की कोशिश शुरू कर दी.

ये देखकर मेरे लंड में हरकत होने लग गई। कुछ देर में खाना ख़त्म हुआ और मैं टीवी देखने चला गया।फिर दीदी मेरे करीब आकर बैठ गईं और हम साथ साथ टीवी देखने लगे। टीवी में एक हॉलीवुड मूवी आ रही थी। उसमें कुछ सेक्सी सीन आए। थोड़ी देर देखने के बाद मैंने चैनल बदल दिया।दीदी उठ गईं और बोलीं- मुझे तो नींद आ रही है. दोस्तो, आज मैं कोई कहानी लेकर नहीं आया बल्कि आज मैं अपनी एक ऐसी इच्छा ज़ाहिर करने आया हूँ और चाहता हूँ कि कोई मेरी इसमें मदद करे. उसने लिंग बाहर निकाल कर मेरे पेट के ऊपर हाथों से दो चार झटके दिया और पेट पर ही अपना वीर्य गिराया और मेरे ऊपर ही लेट गया।हम वीर्य से सने ऐसे ही पड़े रहे।आधे घंटे बाद दूसरा राऊंड हुआ, फिर शाम को पापा के आने के पहले तीसरा राऊंड की चुदाई पूरी करके वह चल गया।रोमांस, प्यार और सेक्स भरी कहानी जारी है.

सेक्सी वीडियो नाश्ता

‘आआ आह्ह… स्स स्साआअह्ह उम्म्ह… अहह… हय… याह… ऊह्ह आह…’उसकी नाभि पे मैंने अपनी उँगलियों को घुमाना चालू किया तो कोमल मचल गई. वो 6वीं में पढ़ता था और उनकी एक लड़की है, जो मेरी उम्र की थी। हम लोग बचपन से ही साथ खेल कर बड़े हुए थे इसलिए एक-दूसरे को अच्छी तरह से जानते थे।अब मैं लड़की से आपका परिचय करा दूँ। उसका नाम संगीता है और उसका फिगर उस समय 36-24-36 का था। उसके मम्मे काफी बड़े थे. ये बात किसी को पता नहीं चलेगी।मेरी इस बात पर पहले तो उन्होंने मना कर दिया.

उसने मेरी ब्रा उतार दी, अब मेरे शरीर पर सिर्फ पेंटी बची थी, वो अब पागलों की तरह मेरे स्तनों को दबाने और मसलने लगा, मैं बस आँख बंद करके मजा ले रही थी. उसकी पेंटी को भी खोल दिया।फिर मैंने अपने भी सब कपड़े उतार दिए और मैंने उसकी कमर के नीचे एक तकिया रख कर जैसे ही मैंने अपना लंड उसकी चिकनी चुत में डालना चाहा.

जब तू कल कपड़े सुखाने के बहाने टेरेस पर गई थी तो तेरे पीछे मैंने उसको भी जाते देखा, मुझे शक हुआ तो मैं भी तुम लोगों के पीछे आ गया था और मैंने छत के बरामदे में तुम लोगों को चुदाई करते देख लिया था.

रात में लगा कि मेरी जांघों पर दोस्त हाथ फेर रहा है… फिर उसने मेरा लंड पकड़ लिया और सहलाने लगा. यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!फिर मैं बिस्तर में लेट गया और वो मेरे लंड को चूस रही थी, थोड़ी देर बाद लंड फिर से खड़ा हो गया. फिर भी चिपटा था पूरी ताकत से… जोर लगा रहा था… जाने कब से चुदाई का मौका नहीं मिला था, इस अवसर का पूरा मजा लेना चाहता था.

कितनी जल्दी हम दोनों कितने करीब आ गए।फिर दिमाग वही सब फिल्म की तरह चला कि हमारी छेड़-छाड़ से हुई शुरुआत. तब वो भी गांड उठा कर मज़े लेने लगी। कुछ ही देर में वो अकड़ गई और शायद झड़ गई।अब मैं भी झड़ने वाला था और वो भी फिर से गरमा गई थी। कुछ ही धक्कों बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए।हम दोनों एक-दूसरे से चिपके पड़े रहे। बाद में उठा कर हम दोनों ने अपने कपड़े पहने। उसने जाते वक्त मुझसे मेरा मोबाइल नम्बर माँगा. पर मैं थोड़ा डर रहा था क्योंकि मैंने कभी सेक्स नहीं किया था। इसलिए मैंने बहुत सोचकर तेय किया कि आज कुछ भी हो जाए, पर मैं आंटी की चूत चोद कर ही रहूँगा।फिर हम दोनों बिरयानी बना कर हॉल में सोफे पर बैठे थे, तभी आंटी ने कहा- गर्मी की वजह से मुझे पसीना आया हुआ है.

तरबूज़ का मजा निम्बू से कैसे आ सकता है।फिर मैं उसकी स्कर्ट उतार रहा था। वैसे वो छोटी सी स्कर्ट थी, तो उतारने की कोई जरूरत नहीं थी। अगले ही पल वो नंगी थी और मेरे सामने उसकी शेव की हुई गद्दीदार चूत कमाल की लग रही थी।आज तो मेरी चाँदी ही चाँदी थी।मैं अब उसकी चूत चाट रहा था। क्या चिल्ला रही थी ‘लीव मी.

सेक्सी बीएफ देहाती भाभी: लेकिन वो नहीं माना और उसने जबदस्ती लंड मेरे मुँह में डाल दिया। मैं उसके लंड को चूसने लगी।हम दोनों कमरे में बिल्कुल नंगे थे. उसे पता था कि उसकी तो लॉटरी लग गई क्योंकि वो जानती थी कि अगर लंड सोया हुआ 6 इंच का है तो खड़ा होने के बाद तो अजगर बनने वाला है।‘दीदी यह लंड क्या होता है?’ राहुल ने हैरानी से पूछा.

अब मैं भी उसका साथ देने लगी, अब मेरा शरीर गर्म होने लगा, मेरी चूत पानी छोड़ने लगी, उसमें खुजली होनी शुरू हो गई! अब मैं तड़पने लगी!उसने मुझसे पूछा- क्या मैं तुम्हारी टीशर्ट उतार कर बूब्स देख सकता हूँ?मैंने उसे मौन स्वीकृति दे दी!उसने मेरी टी-शर्ट उतार दी और फिर मेरे बदन को चूमने लगा! फिर अपना हाथ नीचे जीन्स की तरफ बढ़ाने लगा तो मैंने खुद ही जीन्स की बटन खोल दिया. वो शर्मा गई और मुझसे नज़रें नहीं मिला पा रही थी।फिर वो नीचे ही सो गई. फिर उनके उपर मैं घोड़ा स्टाईल में हो गया और अपना लंड उनके होठों पर रगड़ने लगा.

मैंने कहा- कोई नहीं आएगा, क्योंकि सासू माँ तो 1 घंटे से पहले आने वाली नहीं हैं, और किसी को क्या पता कि इस कमरे में कौन सोया हुआ है रज़ाई ओढ़ कर!वो थोड़ी सी ना ना करती रही और परंतु मैं उनकी साइड में जाकर लेट गया और उनकी 38 साइज़ की चूचियों से खेलने लगा.

क्या कह रहे थे?भाभी- कह रहे थे कि उन्हें कुछ काम से इलाहाबाद जाना पड़ रहा है।मैं मन ही मन में बहुत खुश हुआ पर मुझे ऐसे दिखाना था कि मैं थोड़ा अपसेट हूँ. मेरे तीनों दोस्तों को पसीना आने लगा।मैं भूमि को चिल्लाया- ये क्या तरीका है? ढंग से काम करना नहीं आता?वो बोली- नहीं आता, क्या कर लेगा?मैंने कहा- क्या कर लूंगा? रुक अभी बताता हूँ!मैंने रोहित, विकास, साहिल से कहा- पकड़ो इसको, उठा के बैडरूम ले चलो…रोहित विकास ने भूमिका के पैर पकड़े और मैंने और साहिल ने हाथ… भूमिका नाटक में ‘छोड़ो छोड़ो…’ चिल्लाने लगी. पायल बहुत खुश थी।थोड़ी देर बाद पायल ने उठ कर अपने कपड़े पहन लिए और नीचे अपने कमरे में चली गई।इस तरह मेरा नेहा भाभी और पायल की मस्त चुदाई का सिलसिला दो महीने तक चलता रहा।फिर पायल की शादी हो गई और भाभी प्रेग्नेंट हो गई।आपको यह बहन की और भाभी की चूत की चुदाई की कहानी कैसी लगी, अपने विचार अवश्य लिखें।[emailprotected].