बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,वॉलपेपर लड़कियों की फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू फिल्म भेज देना: बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ, मार्ग-दर्शन मिलता रहेगा।जैसा कि आपने पूर्व में बताया था कि आप सरकारी नौकरी में उच्च पद पर हैं.

सेक्सी फुल एचडी की

पता नहीं उन दोनों के मस्तिष्क में क्या चल रहा था, वे खुल के नहीं कहते थे. तांत्रिक का मोबाइल नंबरशायद उस लेडी के फादर थे।वो मेरे इतने करीब थी कि उसका जिस्म मुझसे चिपका हुआ था।उसके बगल वाले का बैग बार-बार गिर रहा था.

उसने तुरंत मेरे कच्छे को उतारा और मेरे लंड को मुँह में ले लिया। मैंने सोचा साली बिल्कुल रंडी है. आस्था फिल्मअंकल ने मुझे अपनी जांघों पर बिठाया और बोले- अब तुम लंड को अपने हाथों से पकड़ो और चुत की छेद पर रगड़ो.

नहीं तो अब तक तुझे चोद-चोद कर तेरी जान हलक में ला देता।फिर काफ़ी देर बाद उसने अपना लंड मेरे मुँह में दे दिया और चुसाने लगा.बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ: हम दोनों लोग एक दूसरे को बहुत अच्छे से किस कर रहे थे और मेरा देवर मेरे होंठों को चूस रहा था.

उसका यह मैसेज देख कर मैं खुश हो गया।मैंने तुरंत उसे मैसेज किया- तुम भी आओ ना जान.सभी अंतर्वासना पाठकों को मेरा नमस्कार। यह मेरी पहली कहानी है, आशा करता हूँ कि आप सभी को जरूर पसंद आएगी।मेरा नाम अमित है, मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र 23 साल है.

आदिवासी मराठी सेक्सी वीडियो - बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ

अब वो सिर्फ लाल पैंटी में थी।मैंने झुक कर उसकी पैंटी के ऊपर से उसकी बुर को चूम लिया।आह्ह.मैंने पायल की तरफ देखा तो वो सिर्फ वीडियो में सनी लियोनि की चुदाई देखने में मस्त थी.

अपने थूक से मेरे लंड को अच्छे से साफ करने के बाद प्रिया ने अपना मुँह फिर से मेरे लंड पर झुका दिया. बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ यह कहानी मेरे एक ईमेल दोस्त सिकंदर जी की है जो अन्तर्वासना के नियमित पाठक हैं। सिकंदर जी चाहते हैं कि यह कहानी मैं अन्तर्वासना पर प्रकाशित कराऊँ।लीजिए उन्हों के शब्दों में कहानी का मजा लीजिए।मैं अलीगढ़ का रहने वाला हूँ। मुझे जिम जाने तथा बॉडी बिल्डिंग का बहुत शौक है। मेरी लम्बाई 5’8″ है.

और कामुकता से मुझे देखते हुए एक जोर का झटका लगा दिया। मेरी चीख निकल गई- ओहीईई.

बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ?

कुछ देर बाद मैं भी छत पर घूमने चली गई।मैं छत पर टहल ही रही थी कि चाचा की आवाज सुनाई दी ‘हाय मेरी जान. ये भी तो बॉडी का एक पार्ट ही है। फिर हम तीनों के अलावा यहाँ और तो कोई है भी नहीं।मैंने पहले तो उन्हें मना किया. मैं तो इन चीजों में ध्यान ही नहीं देता हूँ।भाभी मेरे पास आकर बैठ गई.

और मुँह से भी चूसा जाता है। ये सब मुझे ब्लू फिल्म देखकर पता चला है और मैंने चुदाई सीखी है। ऐसे भी तुम्हारी क्या मस्त चूत और चूचियां हैं, मैं तो इन्हें देखकर ही पागल हो जाता हूँ।यह कहकर मैं अनु के ऊपर लोटने लगा. जिससे मनप्रीत तो बिल्कुल भी सहन नहीं कर पा रही थी और मुझसे चिपकती ही जा रही थी।अब बस हमारा वाला कोच बिल्कुल खाली सा ही हो चुका था. क्योंकि आगे का भाग एडल्ट कहानी होते हुए भी सीरियस और रूला देने वाली कहानी है।अगर आपको कोई सुझाव या सलाह देनी हो.

बाद में जब मैं 20 साल का हुआ, तब एक रात को मैंने देखा कि मेरे पापा मम्मी की गांड मार रहे थे और मम्मी ‘आह्ह … ओह … उचए … उम्मम … ओहह …’ कर रही थीं. यानि मैं कहीं भी लंड घुसाता और वो बड़ी खुशी से घुसवा भी लेती।यह तो हुई मेरी कहानी। यह कहानी इतनी विस्तार से बताने का कारण यह बताना है कि सोनू मेरे लिए कुछ भी कर सकती थी। आप लोगों को भी मेरी कहानी कोई झूट न लगे।मित्रो. इसमें मेरा लंड नहीं जा पाएगा।मैंने हँसते हुए हाथ बड़ा कर लंड पकड़ा और अपनी चूत के छेद पर लगा कर कहा- चल अब धक्का दे.

तो मैंने सोनी को अलग कर दिया और ‘सॉरी’ बोल कर खड़ा हो गया।सोनी- ओह्ह. चलो कमरे में चलते हैं।फिर चाचा मुझे खींचते हुए कमरे में लेकर चले गए और मुझे लेकर चौकी पर बैठ गए।‘यहाँ कोई और भी आ सकता है ना?’‘नहीं आज कोई नहीं है.

उन्होंने भी मुझे नीचे लिटाकर मेरे पूरे बदन को चूमा।बदन चूमने के बाद वो मेरी कमर पर आ बैठीं। फिर मेरे लण्ड को अपने हाथों में लिया और अपनी चूत पर कुछ देर रगड़ा।इस रगड़ से दोनों को ही काफी मजा आ रहा था। फिर उन्होंने एकदम आहिस्ते-आहिस्ते मेरा लण्ड अपनी चूत में जड़ तक अन्दर ले लिया।कुछ देर इसी अवस्था में बैठकर वो लण्ड को चूत में लिए मेरे बदन पर लेट गईं। लेटे हुए वो मेरी गर्दन को.

यह बात उन दिनों की है, जब मैं नया नया सिड्नी में आइटी मास्टर्स की पढ़ाई करने आया हुआ था.

मैं तुम्हें हर बात से खुश रखूँगा और किसी भी मुश्किल में नहीं फसाऊँगा।उसने कहा- क्या तुम सच कह रहे हो?मैंने कहा- इतनी ठण्ड में इतनी सुबह उठकर मैं क्या मज़ाक कर रहा हूँ?वो हँस पड़ी और मेरे कान में बोली- ये लोग बहुत खतरनाक हैं। मुझे बस इनका ही डर है और मेरा बच्चा भी छोटा है. मैं उसके होठों पर ही अपने मोटे लंबे तन्नाए हुए लंड को रगड़ने लगा, उसके दोनों मम्मों के बीच अपना लंड फँसाकर चोदने लगा।उसने पूरा शरीर मेरे हवाले कर दिया था।मैं उसके होठों को गालों को. चूत के दोनों होंठ खोल कर मैंने पूरी चूत ऊपर से नीचे तक चाटता ही रहा और दाने को अपनी जीभ से हिलाने लगा।अब मैंने चूत के छेद में अपनी पूरी जीभ डाल कर अन्दर-बाहर करने लगा।सुनयना- अहह.

वेटर ने हमको रूम दिखाया और कुछ सामान की जरूरत के बारे में बताते हुए कहा- सर कोई भी जरूरत हो तो प्लीज़ फोन कीजियेगा. प्रिय अन्तर्वासना पाठकोफरवरी महीने में प्रकाशित कहानियों में से पाठकों की पसंद की पांच कहानियां आपके समक्ष प्रस्तुत हैं…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…. लेकिन मेरे दूसरे नीचे वाले मुँह की प्यास अभी बाकी है।राजेश का ढीला लंड अब बाहर आ गया था और किसी बच्चे जैसा दिखाई दे रहा था, उसने उसे सहलाते हुए कहा- मेरी रानी.

इस वक्त तक फन्नी वीडियो बंद हो चुकी थीं और अब आगे की वीडियो प्ले हो रही थीं.

उसने अपने पूरे बदन पर साबुन लगकर मुँह पर भी साबुन लगाया।वो साबुन हटाने के लिए खड़ी हुई और अपने ऊपर पानी डालने लगी। खड़े होते ही उसके चूतड़ साफ नज़र आने लगे. मैं भी काफ़ी बेसब्री से उसका इन्तजार करता। रोज बातें करने के कारण हम दोनों काफ़ी खुल गए थे।हम रोज देर रात तक बातें करते फिर कुछ दिनों के बाद उसने नया मोबाइल लिया. कितना मजा दे लेते हो! काश … काश … पता होता कि एक दिन मुझसे दस साल बड़े, कभी मुझे गोद में खिलाने वाले मेरे इमरान भाईजान एक दिन मुझे नंगी करके मेरी गांड में अपना लंड ठांसेंगे।”पता होता तो.

अब तुम जिगोलो बन गए हो।मैडम ने मुझे पांच हज़ार रुपए दिए।मैं सोचने लगा कि यह कैसी नौकरी। इसके बाद मैडम ने बहुत सी भाभियों और लड़कियों के पास मुझे भेजा। मेरा काम था उन्हें संतुष्ट करना।कैसी लगी मेरी आपबीती, मेल करके जरूर बताना।[emailprotected]. आज मेरा भाई परेजू मुझसे मिलने आया और मुझे चोद गया तो मैंने सोचा कि अपने दोस्तों को बताऊँ कि मेरी चूत चुदाई शुरू कैसे हुई. मैंने उससे बेडशीट धुलवा दी और बाथरूम में जाकर दोनों हाथ मुँह धोकर वापस अन्दर आ गए.

उसने मेरी चीख को अपनी जीत समझा और मुझे धकाधक पेलना शुरू कर दिया। वो लगातार धक्के मार रहा था और कहे जा रहा था- आज दिखाऊँगा तुझे जन्नत.

वो अहसास कुछ अजीब ही था, जो मेरी जिंदगी में पहली बार महसूस हो रहा था. तभी मूवी में बाथरूम की चुदाई का सीन आया, मैं चाची की जांघ पर हाथ फेरते फेरते उनकी चूत तक ले गया.

बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ ये समय हमने कंप्यूटर क्लास मिस करके चुदाई के लिए बड़ी मुश्किल से निकाला है इसलिए शिखा जी आपसे हाथ जोड़कर विनती है. कुछ देर में शीतल की चूत से पानी छूट गया, उसकी सांसें बहुत तेज़ हो चुकी थी.

बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ मैंने उसको अपना नंबर दे दिया था। काफ़ी देर होने के कारण और स्नेहा की चुदाई करने से मैं भी बहुत थक गया था. जहां तीन लोग नंगे हों वहां एक आदमी कपड़े पहन कर उनकी इंसल्ट करता है। है कि नहीं बे?”हां हां मालकिन.

मेरी चूचियाँ एकदम टाईट और चूत एकदम गीली हो चुकी थी।सुनील मेरे चूतड़ों पर हाथ फिरा रहा था और मेरी चूचियों को भी छू रहा था, मैं उसे मना नहीं कर पा रही थी, पता नहीं क्यों मुझे भी ये सब अन्दर ही अन्दर अच्छा लग रहा था और मज़ा आ रहा था, मैं उसकी गांड से लेकर गोटियों तक आयल की मसाज दे रही थी, फिर लंड से गोटियों तक बार सहला-सहला कर बार-बार ऐसा कर रही थी.

रचना की सेक्सी वीडियो

पर शर्म के मारे नहीं खाया।रात 12 बजे वापस ****** को निकले। ये और मैं. जब उसने देखा कि मैंने कोई प्रतिक्रिया नहीं की है, तो उसकी हिम्मत बढ़ गई और उसने धीरे से हाथ मेरी जीन्स में अन्दर डाल दिया और वो मेरी चूत को सहलाने लगा. मुझे सिम्मी बहुत पसंद थी, पर मैंने उसके बारे में कभी कुछ ग़लत नहीं सोचा था.

जीजू का लंड भी खड़ा हो गया था और वो अपना लंड अपनी हाथ में लेकर जोर जोर से हिलाने लगे और मुझसे बोले- नेहा, तुम अपनी पेंटी उतार कर मुझे दिखाओ. लेकिन मैं कहां मानने वाला था मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये और उन्हें चूसने लगा और उसका आनंद लेने लगा वह भी मेरा पूरा साथ देने लगी।मैंने उसको गोदी में उठा लिया और उसको बिस्तर पर ले गया हम एक दूसरे की बांहों में पूरी तरह से खो गए और हम एक दूसरे को चूमते रहे. सो मैंने सूखा लण्ड ही उसकी चूत में रगड़ना शुरू कर दिया।उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया.

आज मैं पूरा मैल उतार दूँगा।फिर मैंने उनको घुटने के बल खड़ा होने को कहा.

मैंने उसे 4-5 फोटो भेज दिए जिसमें एक लड़का अलग-अलग पोज़ में लड़की की चूत चाट रहा है।अनु- ओह माय गॉड. मेरा मतलब है क्या…?पर इसके वावजूद भी वो अपनी नजरें मयूरी की चूचियों पर से हटा नहीं पाया. मुन्ना अंकल मेरे दूध पूरी ताकत से दबाने लगे और फिर दोनों दूधों को पकड़कर बीच में लंड डाल कर दूधों को चोदने लगे.

मेरा एक और भी बॉय फ़्रेन्ड है… मैंने तुम्हें धोका दिया।मैंने कहा- कोई बात नहीं. राज अंकल अंकित से बोले- अंकित आ जा, तू भी कहीं एडजस्ट हो जा, शुरू हो जा!अंकित बोला- आप दोनों कर लो, फिर मैं आराम से करूंगा. मैंने भाभी को 15 मिनट तक लगातार हचक कर चोदा। उनका दूसरी बार माल छूट गया और मेरा वीर्य भी निकल गया। अब मेरा भी लण्ड नीचे की ओर झुकने लगा.

मैंने कहा- प्रिया कैसा लगा ट्रेलर?प्रिया ने मुस्कुराते हुए पूछा- ये ट्रेलर था?मैंने कहा- हां अभी तो पूरी रात बाकी है मेरी जान. अभी घर में कोई नहीं है और कितने दिनों से मेरे लंड का पानी अन्दर ही सूख रहा है। मेरा लावा अपनी चूत में ले लो मौसी।उन्होंने कहा- प्लीज़.

अब वो सिर्फ बनियान में था और उसकी मांसल शरीर पसीने में तर-बतर हो रहा था. श्यामा ने कहा- दीदी अब इसकी चिंता आप मुझ पर छोड़ दो, मैं इसे असली लंड दिलवा कर ही रहूंगी. सब ठीक हो गया। तेरा वो अर्जुन अब देरी से आएगा और तेरी भाभी तो शुरू हो गई बिहारी के साथ.

उन्होंने अपने छेद को थोड़ा एडजस्ट किया और धीरे से लंड को अपने अन्दर समां लिया।दोस्तो.

पर उसने मुझे वहीं से एक ‘टाटा’ किया और गेट से बाहर चली गई।वो कौन थी. मैं भी रबिंग पैड को उनके चूतड़ों पर गोलाई में घुमा घुमा कर मस्ती से उनकी गांड को दबाने लगा।फिर साबुन से हाथों से मला. चुदाई करते रहते थे।फरवरी के महीने में उसने मुझे बताया कि अबकी बार उसके पीरियड नहीं आए तो मैं समझ गया कि क्या बात है।फिर 14 फरवरी को उसका पति उसे अपने घर ले गया।सितम्बर 2013 में उसकी आखिरी बार कॉल आई थी। उसने कहा था- तुम बाप बन गए हो।उसके बेटा हुआ था।यह मेरे जीवन की सच्ची घटना थी.

मैंने अपनी सीट ढूंढी, एक पे अपनी चादर बिछाई और दूसरी सीट जो सामने वाली थी, उस पे अपना सामान रखा और लेट के मोबाइल पे गाने सुनने लगा. ऊपर से सफ़ेद सलवार सूट पहन कर वो सच में परी लग रही थी।हम दोनों में काफी देर प्यार की सेक्स भरी बातें हुईं.

उसने दरवाजे को कुंडी लगाई और मैंने भी देर ना करते हुए पीछे से ही चूचों को दोनों हाथों से पकड़ लिया. फिर चाची मेरे सर पर हाथ फेरते हुए बोलीं- मज़ा आया मेरे राजा? मैं तो तीन बार झड़ गई. उस दिन मीता शादी की खरीददारी के लिये शहर आयी हुई थी तो अपने उसी कमरे पर रुकी थी जो कि हमारे मिलने का एक ठिकाना था.

तामिली सेक्सी व्हिडीओ

’ की आवाज़ निकाल रही थी, उसकी आवाज़ मुझे और ज़्यादा मदहोश कर रही थी।मैं और ज़ोर से उसके मम्मों को दबाने लगा, उसके मम्मे अब टाइट हो रहे थे।फिर किस करते हुए मैं अपना एक हाथ उसकी कमर पर ले गया और उसके सूट के अन्दर डाल कर उसकी कमर को सहलाने लगा।मैंने उसे गोद में उठाया और उसे बेड पर लिटा दिया.

और ऐसा कहते हुए मयूरी ने अपने हाथ अपनी माँ शीतल की गर्दन पर रखे और वो उसके चेहरे को अपनी चूत पर झुका कर दबा दिया. इसलिए उससे रोक भी नहीं पाई। वो चूत खुजाता रहा और मेरी चूत पानी निकालती रही. ये हालत आप पर क्या सितम ढहा सकते हैं और आपके लंड की क्या हालत हो सकती हैं।मुझे तो लगता है कोई भी औरत ऐसे मौके पर इस हालत में मिल जाए तो नामर्द का लंड भी तन कर उसको सलाम कर देगा और साधू भी शैतान हो जाए.

वो अन्दर ही अन्दर कसमसा रही थी।दस मिनट के बाद मैंने अपना लंड निकाला और मुठ्ठ मारने लगा और अपने लंड का पानी उसकी चूचियों पर गिरा दिया. तो मैं सवेरे 6 बजे के ट्रेन से मुंबई को निकल गया और 10:30 बजे पहुँच गया।वो मुझे लेने स्टेशन आई थी, उसने ब्लू जींस और पिंक टॉप पहना हुआ था।दोस्तो, क्या माल लग रही थी वो. कविन gov inतो किरण और पूजा दोनों बैठ कर टीवी देख रही थीं।मैंने मकान मालकिन से पूछा- आज पूजा घर नहीं गई?तो बोली- अभी पढ़ रही थी न.

मैं एक बहुत ही साधारण किस्म की औरत हूँ और हमेशा अपनी फैमिली का ख़याल रखती हूँ। लेकिन पता नहीं क्यों मेरे पति मुझसे सेक्सुअली संतुष्ट नहीं रहते हैं।काफ़ी कोशिश के बाद भी मैं उन्हें खुश नहीं रख पाती हूँ। पिछले 3 साल से वो मेरे साथ नहीं हैं. तो सोनी की मधुर आवाज मेरे कान में आने लगीं।मैं इसी तरह उसकी चूत को सहलाता रहा। काफी देर होने के बाद मैं बिस्तर के नीचे बैठ गया और सोनी की टाँगें भी नीचे और अलग-अलग करके.

उस वक्त रास्ते में वो जानबूझ कर अपनी चूची मेरी पीठ पर दबाने लगी।मैंने एक दो बार खुद को संभाला पर मैं समझ गया भाभी गर्म हो गई है. उसने मेरा विरोध नहीं किया तो मेरा कुछ साहस बढ़ा और मैंने अपने हाथ को धीरे से उसकी पेंटी के अंदर घुसा दिया. !कुछ देर बाद भाभी का शरीर अकड़ने लगा। मैं समझ गया कि वो झड़ने वाली है।तभी मेरे लण्ड ने भाभी की चूत का बांध तोड़ दिया और वो झड़ गईं.

मैं सोचने लगा मनीष क्या कर रहा होगा, ये सोच कर मेरा लंड खड़ा हो गया. मैंने लंड पर दबाव देते हुए उसके मुँह में घुसेड़ने की कोशिश करते हुए कहा- पूरा मुँह में लो ना. झांकते ही उसके दिल की धड़कने इतनी बढ़ गईं कि उसकी आवाज उसे खुद सुनाई देने लगी.

थोड़ी देर बाद ही उसने मालती को उठा कर अपनी गोद में ले लिया और नाचते हुए ही उसे मसलने लगा.

तो आपको मालूम होगा कि इन सब में कितना मज़ा आता है।हम दोनों एक-दूसरे में ऐसे समाए थे कि बीच में हवा के भी गुजरने का जगह नहीं थी। चूमते-चूमते मैं उसके होंठों तक आ गया. मैंने दरवाजा बंद किया और मेरी बहन की गांड के ऊपर एक हाथ रख कर सहलाने लगा.

मैंने बाकी के 6000 रूपए लिए और उसने मुझे किस किया।उसने अपना कार्ड दिया और कहा- मुझे तुम्हारे साथ बड़ा मज़ा आया, तुम अब पर्सनली आना. सब मुझे प्यार से राज बुलाते हैं। मैं उज्जैन मध्यप्रदेश का रहने वाला हूँ. भाभी के साथ मेरी चुदाई की दास्तान अभी भी जारी है। मेरी कहानी पढ़ रही मस्त भाभियों, लड़कियों.

जहाज भी समय पर आ चुका था। सभी सवारियाँ बारी-बारी से अपनी अपनी सीटों के क्रमानुसार अपनी-अपनी जगह पर बैठ रहे थे. मैंने कहा- तो मैं कौन हूँ?रिया बोली- आई लव यू विराज, लेकिन अगर मेरी शादी नहीं हुई होती तो मैं सिर्फ़ तुम्हारी होती … बट ऐसा नहीं है जान!मैंने कहा- तो आप मुझे भूल जाओ. या और कुछ भी बाकी है।मैं- मुझे लंड तुम्हारी गाण्ड में डालना है।यह कहते हुए मैंने सुपारा उसकी गाण्ड में फंसा दिया।कोमल- प्लीज.

बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ ज्यादा उत्तेजना की वजह से दोनों ही कभी कभी बीच बीच में अपना मुँह एक दूसरी की चूत में जोर से दबा रही थी. चुदाई करते रहते थे।फरवरी के महीने में उसने मुझे बताया कि अबकी बार उसके पीरियड नहीं आए तो मैं समझ गया कि क्या बात है।फिर 14 फरवरी को उसका पति उसे अपने घर ले गया।सितम्बर 2013 में उसकी आखिरी बार कॉल आई थी। उसने कहा था- तुम बाप बन गए हो।उसके बेटा हुआ था।यह मेरे जीवन की सच्ची घटना थी.

नई सेक्सी पिक्चर दिखाओ

मेरे मुँह से भी सिसकारियां निकल रही थीं और मैं आह्ह्ह … आअह्ह्ह …’ करती हुई अपनी गांड को विकास के लंड के साथ आगे पीछे कर रही थी. ’कुछ देर चोदने के बाद मैंने उठ कर भाभी को उठाया और भाभी को अब मैं खड़े कर चोदने लगा।भाभी भी साथ दे रही थीं और मस्त हो कर चुद रही थीं।भाभी दो बार झड़ चुकी थीं और अब मैं भी झड़ने वाला था।मैंने पूछा- भाभी कहाँ निकालूँ?उन्होंने कहा- रूको. उत्तेजना के वश अब अपने आप ही मेरी कमर हरकत में आ गयी‌ और नीचे से धीरे धीरे अपनी कमर को उचका उचका कर मैंने अपने लंड को प्रिया के मु्ँह में अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया.

तो भुला नहीं पाए। मैं अन्तर्वासना को 3 साल से पढ़ रहा हूँ। ऐसा कोई दिन नहीं गया. फिर बेड पर मालिश करने के लिए बोला, बाद में मतलब उन्हें भी मजा आ रहा था. भाई बहन सेक्स इंडियनऔर कुछ लड़कियों का दिल कर रहा होगा कि काश सन्नी जैसा लड़का हमारी लाइफ में भी आए।कहानी कैसी लगी प्लीज़ जरूर बताना।[emailprotected].

मैं बहुत ही सीधा सादा लड़का था और मुझे सेक्स के बारे में बहुत कम ज्ञान था.

इस तरह सबको मजा मिलेगा और महीने में एक बार ग्रुप सेक्स होगा।तो सबने एक साथ कहा- ठीक है. जब मैं एग्जाम की वजह से छुट्टियाँ लेकर अपने घर जबलपुर आया था।अचानक एक दिन मेरा एक दोस्त आया और कहने लगा- यार ये कोई कल रात से मैसेज कर रहा है.

मैंने ज़्यादा देर ना करते हुए एक धीरे से झटके से अपने लण्ड को उसकी चूत में सरका दिया। वो इतनी टाइट भी नहीं थी इसलिए आधा लण्ड आराम से चूत में चला गया। अब मैं लौड़े को आगे-पीछे करने लगा. अरे ये चीटिंग है … पलंग पर क्यों ले आये मुझे? मतलब नहीं मानोगे?” मीता बनावटी नाराजगी से बोली. दोनों के लण्ड मूसल किस्म के थे और करीब 8 इंच के थे।आज फिर मेरी बजनी थी.

बुआजी मान गईं, पर मैं इस बार उनके मुँह को चोदना चाहता था, इसलिए उनको मुँह में करने के लिए पूछा.

कभी गाण्ड टच करता।एक दिन वो बोली- ये सब कब तक चलता रहेगा?तो मैं बोला- सब्र करो. काफ़ी देर तक भाभी मेरा लंड चूसती रही और अचानक मुझे लगा कि मैं बेड में सूसू कर रहा हूँ. तो तुम अंजलि को भी प्यार कर सकते हो।फिर करीब 5 महीने तक हम दोनों का यही खेल चला। अलग-अलग जगह और नई-नई पोजीशन में चुदाई चलती रही।तब मैंने अंजलि के साथ भी मज़ा किया मेरी अगली कहानी में एक नई चुदाई पढ़िएगा।दोस्तो.

मकान के अंदर का कलरधीरे-धीरे लण्ड अन्दर चला गया।मैंने लण्ड पूरा जड़ तक पेल दिया। वो आँखें बंद किए लेटी रही और अपने दांत भींच दर्द को झेलती रही।मैं उसे चुम्बन करने लगा और चूची पीने लगा।थोड़ी देर बाद वो मेरा साथ देने लगी. इसमें परम आनन्द आता है। दोनों के पानी के मिलने के बाद लड़की माँ बनती है। इससे बचने के लिए लड़का कन्डोम पहनता है.

सेना की सेक्सी

मुझे देख वो बोली- मैडम अन्दर हैं मैं जा रही हूँ, अन्दर से कुंडी लगा देना. और धीरे-धीरे चूत की फांक पर सुपारे को रगड़ने लगा। इससे उसकी चुदास और बढ़ गई और वो ज़ोर-ज़ोर से बोलने लगी- प्लीज़ जल्दी करो. कुछ देर बाद मैंने उसे मेरे केबिन की तरफ आते हुए देखा और मैं देखता हूं कि वो वाकयी मेरे तरफ ही आ रही है और कुछ देर बाद वो मेरे सामने खड़ी थी.

फिर आकर चुदाई चालू हुई।उनमें से सबसे सेक्सी नेहा लग रही थी।मैंने आनवी और अनु को दूसरे कमरे में बन्द कर दिया और नेहा को चोदने लगा. जीजू कुछ देर अपना लंड चुसवाने के बाद अपना लंड मेरी चूत में डालने लगे. मेरा पूरा लंड अपनी चुत में उतारने के बाद कुछ देर तो प्रिया वैसे ही रुक कर हल्के हल्के सिसकती‌ रही.

मैंने झट से उसे अपनी बांहों में कस के दबा लिया और उसके होंठों को चूमते हुए बोला- बेबी एक छोटा सा ट्रेलर और हो जाये. लगातार मैं उसके होंठों का चुम्बन कर रहा था।थोड़ी देर में उसने भी रेस्पॉन्ड करना शुरू कर दिया और दोस्तो आआह्ह्ह्ह. अब क्या आप मेरी योनि अर्थात चूत में लंड को डुबकी लगाने की आज्ञा देंगे?’‘अवश्य बालिके.

प्रीति ने अपनी जीभ मीठानंद के मुँह में डाल दी, जिसे मीठानंद मजे लेकर चूसने लगे. ये मेरे जीवन का एक सच है।उसके साथ फिर कभी कोई घटना होगी तो फिर लिखूंगा.

मुझे तो आप से भी डर लग रहा है।वो हँसने लगी और फिर इसी तरह कुछ देर बाद मैं अपने फ्लैट में चला आया।जैसे कि हम दोनों में बातचीत शुरू हो ही गई थी.

तो वो अपनी बुक में देखने लगी।कुछ देर बार पूजा चली गई और मैं भी लेट गया। फिर से मैं 8 बजे का वेट करने लगा और ये 2 घन्टे कट ही नहीं रहे थे।मैं उठा और मार्केट चला गया। फिर मैं अपने दोस्तों के पास चला गया और वहाँ अपने दोस्तों के साथ खाना ख़ाकर कमरे पर वापस आने को हुआ और जब मैंने मोबाइल निकाल कर टाइम देखा तो 9 बजने वाले थे. सेकसी विडियोलेकिन आज उन्होंने अपने हाथों से अपनी चूत को चौड़ा किया हुआ था और ऊंचाई पर बैठीं, डैड को चिढ़ा रही थीं. गाड़ी वाले गेम्सतो संजय ने उसकी कमीज़ की बैक से हुक खोल दिया और उसकी पीठ पीछे से नंगी हो गई।अब गीत पूरी मस्ती में थी। मैं उसकी नंगी पीठ को अपने मुँह से सहलाता हुआ उस पर गर्म साँसें छोड़ रहा था और उसकी पीठ पर किस करता जा रहा था।मैं उसकी पीठ पर हाथ से सहलाने भी लगा था।तभी मैंने उस गीत को और गर्म करना चाहा. तुझे मजा आएगा।वो बोली- भाई मेरी फ्रेंड ने बताया था कि दर्द भी होता है।मैंने कहा- नहीं ऐसा नहीं है.

मैंने कहा- तुमको मजा आता है इनको देखने से?वो बोली- जब इनमें लड़कियां चिल्लाती हैं तब मजा आता है।मैंने कहा- कभी करवाया ऐसा काम?‘नहीं.

मुझे लगा कि प्राची को भी नींद आ रही है क्योंकि वह बैठकर ही नींद में झूमने लगी थी. उनका ये रुझान देख कर मेरा मन भी उनसे सेक्स करने को बहुत ज्यादा करने लगा था. वहाँ अनीता दीदी भी बैठी थीं। असल में आज खाना अनीता दीदी ने ही बनाया था। मैंने खाना खाना शुरू किया और साथ ही साथ टीवी चला दिया। हम इधर-उधर की बातें करने लगे और खाना खा कर टीवी देखने लगे।हम तीनों एक ही सोफे पर बैठे थे.

इशारों-इशारों में हम दोनों ने ही बात क्लियर कर दी थी कि क्या करना है।फिर मैंने कहा- डोर लॉक कर दो. मैं सिर्फ़ उन्हें भाई की तरह देखती थी। मेरे भाई की उम्र मेरे से 10 साल ज्यादा है।मैं एक बात आपको बता दूँ कि मैं अन्तर्वासना की भाई-बहन की चुदाई की कहानियाँ अधिक पढ़ती हूँ. लेकिन मैं भी गर्म हो गयी थी; जीजू जब मेरी चूची दबा रहे थे तो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था और मुझे अपने बॉयफ्रेंड की याद आ रही थी कि मेरा बॉयफ्रेंड भी मेरी चूची को ऐसे ही दबाता था.

सेक्सी बीपी दावा

अब मेरी दोनों तरफ से चुदाई हो रही थी … मुँह से भी और चूत से भी … इसी तरह दादा पोता ने मिलकर मेरी चूत को करीब 4 घंटे तक चोदा. कृपया कृपया मुझे लिख कर अवश्य भेजें।उन्हें मैं अपने अगले लेखों में शामिल करूँगा।मेरा मेल आईडी है[emailprotected]और मेरी फेसबुक आई डी है[emailprotected]इस लेख का अगला भाग :सेक्स में सनक या पागलपन -2. अभी मैंने अपनी पूरी बात ही नहीं की थी कि उसने मुझे फिर से टोकते हुए कहा- भैया, ये चूत क्या होती है?मुझे एक और सिग्नल मिल गया, मैंने अपना हाथ उसकी पेंटी के अन्दर डाल दिया और उसकी चूत को टच करके बताया कि इसे कहते है चूत.

’ की आवाज़ आई।इस आवाज और लण्ड पर गीलापन महसूस करके मैं समझ चुका था कि उसकी सील टूट गई है.

सब छेद शायद भरे होंगे तुम्हारे?’‘दूसरे दिन मैं मूतने के लिए भी उठ नहीं सकी थी.

और उसके होंठों को अपने होंठों में दबा लिया, साथ ही उसके दोनों चूचों को जोर-जोर से टॉप के बाहर से ही दबाना शुरू कर दिया।वो मेरा खुल कर साथ देने लगी थी।मैंने उसके टॉप को उतार दिया, उसने सफ़ेद ब्रा पहनी हुई थी और देर ना करते हुए मैंने उसकी स्कर्ट भी उतार दी और उसको बिस्तर पर उठा कर ले गया।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैं उसके पूरे जिस्म पर चुम्बन करने लगा और हाथ से उसकी नाभि को. अगर उस रात प्रिया मेरे साथ नहीं थी तो मेरे आने के बाद उसने वो चेन पहनना क्यों बन्द कर दिया? ये भी एक बड़ा सवाल था. राजस्थान की हिंदी सेक्सीथोड़ी देर के बाद फ्लश की आवाज आई और फिर भाभी ब्रश करती हुई बाहर आईं.

मैंने आवाज लगाई- प्रिया कहां हो?तो उसकी आवाज आई- बेबी, मैं तैयार हो रही हूँ. मेरी बुआ जी की स्माइल इतनी सुंदर है कि जब वो हंसती थीं, तो मेरा मन करता था कि उनके होंठों में अपने होंठों को लगा कर चूसना शुरू कर दूँ. कुछ देर इसी तरह से चुदाई करने के बाद उस लड़के ने मालती को लेकर नीचे लेटा दिया और उसको अपने लंड से धकापेल चुदाई करता रहा.

मैं किसी को भी नहीं बताऊँगी।’‘ये किताबें सोनू लेकर आता है।’‘हे भगवान. मैंने कहा- लेकिन तू कर क्या रहा है वहां…वो बोला- गांड मरवा रहा हूं साले, आजा तू भी मरवा ले.

उससे आपका बोझ कम हो जाएगा।पर वो तो और सुबक़-सुबक़ कर आँसू बहाने लगी.

पहले मैंने उसकी पैन्टी के ऊपर से ही उसकी चूत पर चुम्बन किया और फिर अपने मुँह में भर के चूसने लगा।वो पूरी तरह गरम हो चुकी थी. उनके हाथ में लकड़ी की स्केल थी।‘किताब साइड में रख दो और अपनी पैंट खोलो।’ उन्होंने मेरी तरफ देखते हुए गुस्से से कहा।‘जी. उन्होंने अपना लंड गांड की दरार पर चार पांच बार फिराया और फिर छेद पर रखकर जोर से दबाया.

सेक्स लाइफ ’ कहते हुए उन्होंने मेरे होंठों को हल्के से काट लिया।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने भी उनके होंठों को हल्के से काटा. उधर लंड की सटासट पम्पिंग से लगातार प्रिया की सिसकारी निकलते हुए और तेज हुई जा रही थीं.

मैं आप अपनी एक सच्ची कहानी बताने जा रही हूँ जो मेरे और मेरे देवर की है. फिर सुबह 5 बजे वहां से निकलने लगा तो उसने अलमारी से 4000 रुपये निकाले और वो मुझे देने लगी. तो शिखा ने सपना को कपड़े उतारने से रोक दिया और कहा- वो तुम्हें बिना पैसों के नहीं चोदेगा.

मां बेटे का सेक्सी हिंदी आवाज में

शायद मेरी किस्मत में आज चुदाई लिखी ही नहीं है।’मैं पति से जानबूझ कर थोड़ा गुस्सा होकर बोली।‘नहीं मेरी जान. सब ने जाते हुए कहा कि सोमु राजा तुम सिर्फ एक अच्छे डांसर ही नहीं हो बल्कि एक मदमस्त चोदु राजा भी हो. राजू- आज से मैं तुझे अकेले में बीवी ही कहूँगा।मैं- आपका हुकुम सर आँखों पर।फिर हम लोगों ने खाना खाया खाते समय भी हम दोनों एक-दूसरे को खूब छेड़ रहे थे। तभी राजू भाई के फोन पर एक कॉल आया.

उसका पूरा अर्धनग्न शरीर मेरे शरीर पर था और वो अपने शरीर को ऊपर-नीचे रगड़ने लगी। मुझे भी मेरे लंड में कुछ ज़यादा ही तनाव हो गया।ऐसा लगा मैं निकलने वाला हूँ. जब मैं घर पहुंचा तो वो ठीक नहा कर निकली थी और उसके बदन से इतनी ज़बरदस्त खुशबू आ रही थी कि क्या बताऊं.

वो अपने कमरे में अकेले बैठ बैठ कर बहुत बोर हो चुकी थी और इसीलिए वो इस समय स्विमिंग पूल के किनारे बैठी हुई है.

शीतल- बिल्कुल सही… एक छोटी से गलती का परिणाम बहुत ज्यादा बुरा हो सकता है. ’मैंने थोड़ा बाहर निकाल कर देखा तो पूरा लण्ड खून से सन गया था। रूमाल से साफ करके फिर मैंने झटके लगाने शुरू कर दिए। सितारा पाँच मिनट तक बेहोश हो गई. उस दिन मीता शादी की खरीददारी के लिये शहर आयी हुई थी तो अपने उसी कमरे पर रुकी थी जो कि हमारे मिलने का एक ठिकाना था.

हम दोनों जब एक दूसरे के साथ होते थे तो समय रुक जाता था और वो भी हमारे साथ प्यार के आनन्द की गहराइयों को महसूस करता था. ’मैंने धीरे-धीरे उसके ऊपर आना शुरू किया, अपनी जीभ से उसकी नाभि के आजू-बाजू चाटना शुरू किया, फिर दोनों निप्पल के पास चाटते हुए उसके मम्मों की गोलाई पर दाँतों से जरा सा काटा. तो उनसे बातें होने लगीं।फिर मैं अपने एक कॉलेज के दोस्त से मिलने चला गया.

लेकिन मॉम ने ज़रूर अपने कमरे का दरवाज़ा खोला और पूछने लगीं- क्या हुआ.

बीएफ पिक्चर वीडियो सेक्सी बीएफ: पर मैंने पूछा- ये क्या है?तो उन्होंने बताया- वाली का कुकांगा।नाम सुन कर मेरी हँसी छूट गई।बातों-बातों में तीनों से हमारी पूरी कहानी अपने दोस्त को बता डाली और जेरोम ने खुलेआम मेरी शार्ट में हाथ घुसा कर चूत के साथ अठखेलियाँ करने लगा। मैं खा रही थी. मैं भी जल्दी से उसके ऊपर चढ़ गया और अपना लंड उसकी फुद्दी में डाल कर आगे पीछे करने लगा.

जो रोज छत पर आती है और हँसती रहती है और लाइन देती है।पहले तो मुझे बात करने का कोई बहाना नहीं मिलता था. उधर मेरी काफी पुरानी जान पहचान है, जिस वजह से मेरे को जाते ही एक बढ़िया कमरा मिल जाता है जिस पर मेरा कोई खर्चा भी नहीं होता. आखिरकार मैं उसके मुँह में झड़ गई ‘अअआहहह उउफ हहह ओहहह रीतिका अअआ इईई …’ फफॅच्च से उसके मुँह में सारा पानी छोड़ दिया और उसने भी बड़े मजे से मेरी चूत का रस दोबारा पिया।फिर हम दोनों एक-दूसरी से चिपक कर लेट गयी और हम दोनों सो गयी.

कोई बन्धन, कोई रोड़ा हमारे रास्ते में कभी नहीं आया जो हमें एक दूसरे में समाने में रोक सके.

मैं अपने दोस्त से बोलूँगी कि वो तुमको कोरियर करवा दे, जिसको तुम्हें बस लेना ही है. वो तो जैसे झनझना ही गईं।फिर मैंने सिर्फ़ चूत चूसने में ध्यान लगाया, पहले तो चूत को मैंने अपने थूक से अच्छी तरह से गीला किया।‘उंह… उम्म्म्म. गेट के सामने उतार कर राज अंकल ने अंकित को बोला- पहले तू अन्दर जाकर देख, सब सो रहे हैं या कि नहीं?तब अंकित अन्दर गया और फिर 2 मिनट में बाहर आकर बोला- राज अंकल, चुपचाप वन्द्या को अन्दर जाने दो, सब लोग अभी सो रहे हैं.