हिंदी बीएफ वीडियो चोदने वाली

छवि स्रोत,सेक्सी फुकिंग वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

సెక్సీ జుదాయి వీడియో: हिंदी बीएफ वीडियो चोदने वाली, ’उसकी दीवानगी बढ़ती ही जा रही थी। मैंने उसको भड़काने का काम जारी रखते हुए उसके एक मम्मे पर गया। इस बार स्ट्रॉबेरी खाते वक़्त मैंने उसके मम्मे को काट लिया.

सेक्सी आज

तुम सो जाओ।डॉक्टर साहब अपना लंड सहला रहे थे।नेहा ने डॉक्टर साहब का हाथ लंड से खींचते हुए अपने मम्मों पर रख दिया और बोली- डॉक्टर चैकअप कर लीजिए और डॉक्टर साहब आज जरा ठीक से चैकअप कर कीजिएगा।मैं भी बोला- हाँ सर. हिंदी सेक्सी वीडियो अच्छीदेसी भाभी की रात भर चूत चुदाईऔरभाभी की कुँवारी पड़ोसन पट कर चुद गईऔर जान लें कि उनकी चुदाई कैसे हुई थी।भाभी के घर पानी का नल नहीं लगा था.

जो गीली व चिपचिपी थी, उसमें एक अजीब व तीखी गंध थी।मेरे लिए ये अजीब असमंजस की सी स्थिति थी. पति पत्नी के साथ सेक्सीअच्छा बता तूने कुछ ज्यादा तो नहीं देखा था।मुझे उनकी इस तरह की बातों पर शक होने लगा, मुझे लगा कि इनका कुछ मूड दिख रहा है तो आज बाजी मार ही लेता हूँ।मैंने कहा- देखा तो था.

तो उसने भी साथ देते हुए बोला- मुझे भी फिर से करना है।मैंने उसे गोदी में उठाया और बेड पर ले आया। इस बार मैंने पोर्न मूवी की एक स्टाइल फॉलो की.हिंदी बीएफ वीडियो चोदने वाली: अन्तर्वासना पर हिंदी सेक्स स्टोरीज के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार।बात करीब 2 महीने पहले की है। मैं फाफा मऊ से अपने घर वापस आ रहा था, तेज़ बारिश हो रही थी.

समझा कुछ?और इतना बोल कर वो फट से चली गई।अब मुझे थोड़ा दुख होने लगा कि ये मैंने क्या कर दिया.और अगर रात के वक्त कोई आ भी जाएगा। अगर मैं तेरे साथ होऊँगी तो कोई शक भी नहीं करेगा, इसे आहिस्ता से सीढ़ियाँ चढ़ा देंगे।अब माया सोचने लगी और धीरे से बड़बड़ाई- साली चुदक्कड़.

मिया खलीफा कि सेक्सी विडियो - हिंदी बीएफ वीडियो चोदने वाली

मैं भी लन्ड को उतनी जोर के साथ अन्दर ठेल रहा था।ऐसा करने पर उसको और आनन्द आने लगा, इससे वो मुझे और उत्साहित करने लगी.उसने कमरा बुक करा दिया।हम दोनों उस होटल में पहुँच कर अपने कमरे में आ गए।कमरे में घुसते ही उसने मुझसे कहा- अब नहीं रहा जाता।उस वक्त तक मेरा भी यही हाल था.

तुम अपनी सविता भाभी के पास आते-जाते रहना। सविता अकेली रहते हुए बहुत अकेलापन महसूस करती है।’‘आप चिंता न करें भाईसाहब हम दोनों सविता भाभी का ‘पूरा’ ख्याल रखेंगे।’उन दोनों तरुण और वरुण के दिमाग में सविता भाभी के मस्त नंगे शरीर की फिल्म घूमने लगी। तरुण ने तो सविता भाभी को खाना बनाते समय ही चोदने के सपने देखना शुरू कर दिया।वो सोचने लगा कि उसने सविता भाभी को किचन में पीछे से पकड़ा. हिंदी बीएफ वीडियो चोदने वाली देख मेरी शादी 6 महीने में एक बूढ़े से हो जाएगी। ये जब से आया है तब से नाम बताए बिना मैंने तुझसे कहा था न.

बहुत मजा आ रहा है मुझे…’मैं अपनी पूरी स्पीड से भाभी की चूत को चोदने में लगा था, भाभी मुझे और भी जोर जोर से पकड़ कर चोदने को कह रही थीं।मैंने अब भाभी के गले को अपने हाथ से पकड़ा और लंड को बड़ी ही जोर से उनकी चूत में ठोकने लगा। भाभी की चूत में लंड ‘फक.

हिंदी बीएफ वीडियो चोदने वाली?

वैसे ही रहो।उसे शायद मेरी यह बात अच्छी लगी उसने ‘हाँ’ में सर हिलाया।हमारी बिल्डिंग आगे थी, वो और ऋचा उस बिल्डिंग के छठे माले पर रहते थे और मैं 8वें माले पर रहता था। मैंने कार पार्क की और हम दोनों अपने-अपने रूम की तरफ निकल पड़े। लिफ्ट में साथ में गए. उसके हाथ मेरी बेटी की लाल मिडी को ऊपर सरका कर सफ़ेद मुलायम पतली-पतली जांघों को सहला रहे थे। मेघा टांगों को खोलकर सहयोग कर रही थी।मुझे बहुत अजीब सा लग रहा था, मेरी नन्ही सी मासूम बेटी के जिस्म को मेरे ही सामने मेरा बॉस छू रहा था।कुछ ही देर में वह मेघा को स्मूच करने लगा. अपने लंड को निकाल लो।मैंने सोचा एक बार निकाल लिया तो भाभी मेरा लंड अपनी चूत में नहीं लेंगी। मैंने बोला- रुको भाभी.

क्या नज़ारा था। उन्होंने अन्दर ब्रा नहीं पहनी थी। अन्दर दिया जल रहा था. जो मेरी दीदी की है।मेरी दीदी का नाम तबस्सुम है। मेरी दीदी की हाइट 5 फुट 5 इंच की है. और नेहा एकदम से टूट गई। साल भर बाद नेहा की भी हार्ट अटैक से डेथ हो गई।ये सब मेरी अपनी बीवी की चुदाई देखने के सिरफिरेपन से शुरू हुआ जिसमें किसी को कुछ भी हासिल नहीं हुआ।आपके ईमेल की प्रतीक्षा में हूँ।[emailprotected].

मुझे तुम्हारी चूत और गांड मार कर बहुत मज़ा आया।उसने भी मुझसे कहा- मुझे भी आपसे चूत और गांड मरवा कर बहुत अच्छा लगा।हम सभी सामान्य हुए और घड़ी पर टाइम देखा तो रात का एक बजने वाला था। हमने सोने की तैयारी की. तो फिर मुझसे क्यों?दीदी- लड़कियों को तुझ जैसे शर्मीले लड़के बहुत पसंद होते हैं। वैसे भी मैंने कभी नहीं सोचा था कि तेरे साथ ऐसा करूँगी। पर जैसा-जैसा मन करता गया. बस एक बार आपको जी भर के देख लूँ।उन्होंने कहा- अगर आपको अभी आपका गिफ्ट मिल जाए तो?मैंने कहा- भाभी यदि ऐसा अभी होता है तो आज के दिन में आपका गुलाम बन जाऊँ।‘मेरे प्यारे देवरजी को मेरे गुलाम बनने की कोई जरूरत नहीं है.

चुत चुदाई की मेरी पहली हिंदी सेक्स कहानी में आपने पढ़ा था किस्कूल में सर ने मेरी कुंवारी चुत चोद दी थी।मेरी कहानी में वही सब कुछ है जो मेरा साथ घटित हुआ है।अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज पढ़ने वाले मेरे प्यार दोस्तो, अपनी सखी प्रिया का नमस्कार स्वीकार कीजिए।अभी मैं 24 वर्ष की हूँ, मेरा रंग गोरा. मुझे चुदने दे चूतिये।मैं समझ गया कि अब मामला गड़बड़ हो जाएगा और यही सोच कर मैंने अपना हाथ समेट कर अपने पास को कर लिया।अब डॉक्टर साहब बेफ़िक्र होकर नेहा की चूत चुदाई करते हुए बोले- वाह यार, तुम तो पूरी शेरनी हो.

मैं अपने कैफे में बैठा हुआ था। कुछ देर के बाद एक खूबसूरत सी लड़की मेरे पास आई.

ठीक है।मैंने कहा- ठीक है।मैं सुमित के घर गया।दोस्तो, आपको बता दूँ कि सुमित मेरा स्कूल से ही फ्रेंड था.

फिर उसने मुझे अपना फोन दे दिया और कहा- इसकी गैलरी में आपके लिए कुछ है. मेरा नाम पूनम है, मेरी उम्र 19 साल और शरीर का साइज़ 38-36-38 है। मेरी मोटी गांड, गोल-गोल चूतड़ हैं, गुलाबी-गुलाबी होंठ. तो मैंने फिर से एक जोरदार झटका मारा और मेरा लंड उसकी सील को तोड़ते हुए अन्दर घुसता चला गया। वो दर्द के मारे लगभग बेहोश सी हो गई। उसकी चूत से खून निकलने लगा।उसने मरी सी आवाज में कहा- ओह्ह.

जैसे कम्बल के अन्दर पैर लड़ाना, आते-जाते टकरा जाना या छूने की कोशिश करना. उसे हाथ में लेकर उस पर सुपारे से लेकर जड़ तक स्प्रे कर दिया। मैंने पूछा- ये क्या है?वो कुछ नहीं बोली. रेड नेल पेंट से उसकी गोरी मखमली उँगलियाँ और पैर के नेल्स चमक रहे थे.

जिससे तनु पागल हो गई थी। वो बस मुझे अपने तरफ खींच रही थी। मैंने उसका टॉप निकाल दिया।हुक खुला होने के कारण ब्रा भी निकल पड़ी थी। अब उस अप्सरा के स्तन मेरे सामने थे.

जिससे पूरा कमरा हमारी मादक सिसकारियों से गूंजने लगा।उधर रिया भी जोर-जोर से चिल्लाने लगी ‘उई आह सीस सी मर गई कुत्तों मार दिया. रहेजा ने उसके कंधे पकड़ कर अपनी तरफ खींचा और मुँह में अपना लंड डाल दिया था।वह कार की पिछली सीट पर मेरी गोद में लेटी रहेजा का लंड चूस रही थी, मैं उसकी बुर को सहला रहा था।अपनी बेटी को गोद में लेकर किसी ग़ैर मर्द से चुदवाने का अलग ही मज़ा है।एक सामाजिक दायरे से परे सुख की ऐसी अनुभूति. मैं हूँ ना।मैंने कहा- आप तो भाई की गर्लफ्रेंड हो।वो बोली- हमारे बीच ऐसा कुछ नहीं है.

मुझे नोंचने लगी। मैंने हल्के-हल्के धक्के लगाने शुरू किए और उसे किस करता रहा। कुछ ही पलों में एक बार फिर से लंड खींच कर अन्दर डाल दिया और हल्के-हल्के धक्के लगाने शुरू कर दिए।अब उसका दर्द कम हुआ और वो भी मज़े लेने लगी, धकापेल चुदाई होने लगी, वो ‘आह्ह्ह. रिप्लाई जरूर कीजिएगा। मुझे आप लोगों के मेल का इंतजार रहेगा।[emailprotected]. कुछ ख़ास नहीं हर किसी की फैमिली में छोटी-मोटी प्रॉब्लम्स तो होती रहती हैं।मैंने पूछा- क्या तुम्हारे पति सो गए?वो बोली- हाँ.

बस ये बात आगे किसी को मत बोल देना।उस दिन से स्कूल में कभी नहीं चुदी.

फिर मैं उसकी कमीज उठा कर उसके एक दूध को पीने लगा, वो भी मेरा सिर पकड़ कर अपने मम्मों पर दबाने लगी।उसके मम्मे भी काफी बड़े और टाईट हो गए थे।जब मैंने अपना हाथ उसकी चूत पर ले जाना चाहा. पर मेरा पारा अब भी बहुत ज्यादा चढ़ा हुआ था।मैंने उसे फ़िर से नीचे लिया और अपना लंड फ़िर से चूत की गहराई में उतार दिया। पंद्रह-बीस तगड़े झटके देने के बाद मैं आने वाला था, मैंने उससे पूछा- मैं आने वाला हूँ.

हिंदी बीएफ वीडियो चोदने वाली और रहेजा मुझे प्रोमोशन का लालच देकर और एक लाख रूपए देने का कह कर मेरी बेटी मेघा को मेरे सामने ही भंभोड़ने लगा था।अब आगे. मैं तो उसे देख कर पागल ही हो गया।मैं उसे गिफ्ट देकर बैठ गया और स्नेहा मेरे लिए कोक लाने चली गई।कुछ ही पलों के बाद हम दोनों एक साथ सोफे पर बैठ कर कोक पीने लगे। वह बार-बार मुझे ‘थैंक्स.

हिंदी बीएफ वीडियो चोदने वाली उसने मेरे सामने ही अपनी चूत को साफ किया और मैं नहाने लगा।वो अपने घर चली गई और मैं नहा कर निकला तो भईया-भाभी आ चुके थे।इसके बाद और भी कई बार मैंने उस ताजा जवान हुई सौम्या को चोदा।उसकी चूत की बाक़ी की रसीली कहानी आपसे फिर शेयर करूँगा। यह कहानी आपको कैसी लगी. तो उसने मेरा हाथ पकड़ लिया। उस दिन हम बस इतना ही कर पाए और मैं अपने घर आ गया।यह हिन्दी सेक्स कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!रात को उसका फोन आया- कैसे हो जानू?मैं- तुम्हें ही याद कर रहा था।रिया- आई लव यू जानू.

एक हफ्ते पहले मैं ट्रेन से दिल्ली से मुंबई की यात्रा कर रहा था। मेरा टिकट कन्फर्म नहीं था.

ब्लू सेक्सी ब्लू

उसकी बुर से खून निकल रहा था। उसे कफी दर्द हो रहा था लेकिन धीरे-धीरे धक्के खाते खाते उसे मजा आने लगा। कुछ पल बाद चुदाई में वह भी मेरा साथ दे रही थी। करीब तीन-चार मिनट बाद वह झड़ गई।मैंने पहली वाली को चोदना शुरू कर दिया। उसे चोदने में मजा आ रहा था. मैं आज आपको एक सच्ची सेक्सी घटना बताने जा रहा हूँ कि कैसे मैंने अपने गाँव की एक भाभी की बुर को चोदा और उनको गर्भवती किया।दोस्तो. गजब चोदता है।मैंने नेहा की चूत में उंगली डाली और पूछा- सच में बहुत मजा आया न?वो बोली- पागल हो क्या.

लेकिन अबकी बार आपका दूध पीना है।भाभी शर्मा गईं।मैंने अपना एक हाथ उनके मम्मों पर रख दिया और एक चूचा दबा दिया।भाभी ने कहा- आह्ह. उनका नाम नसरीन था, वो मुझसे बहुत मस्त बात करती थीं, नसरीन भाभी जब बात करती थीं तो मुझे बहुत हॉट लगती थीं पर कभी मैंने उनको गलत नजर से नहीं देखा था।भाभी मुझे छोटू बुलाती थीं, कुछ भी काम होता तो मुझसे ही बोलती थीं, मुझे भी उनका काम करना बहुत अच्छा लगता था।उनके पति गाँव में खेती करते हैं। भाभी के दो बेटे हैं. तब मैं उनके माथे को चूमता हुआ उनको लिपकिस करने लगा।फिर मैं कॉलेज चला गया। जब मैं कॉलेज से वापस आया.

यार चला जाएगा टेंशन मत लो।वो नेहा की पीठ सहलाने लगा और तौलिया को हटा दिया।मेरा लंड हिलोरें मार रहा था, मुझे ऐसा लग रहा था कि कबीर को कोई मेरे होने का फर्क ही नहीं पड़ रहा था पर नेहा नार्मल नहीं हुई थी।कबीर ने उसको सहलाना चालू रखा और उसके ऊपर से तौलिया हटा कर उसको बिस्तर पर लिटा दिया। नेहा पर पूरी तरह से नार्मल नहीं हो पाई थी।कबीर ने उसको स्मूच करना चालू कर दिया।नेहा शुरू-शुरू में नहीं कर रही थी.

?’ प्रोफेसर ने एकदम से अचकचा कर कहा।अब सविता ने कामुकता से भरे स्वर में कहा- आओ सर. पर जल्दी ओके!फिर मैंने जल्दी से ही प्रीत को सीधा किया और उसके होंठों को जोर-जोर से चूसने लगा और प्रीत के चूचों भी दबाने लगा।कुछ ही देर ऐसे ही लंबी चुम्मी की होगी कि प्रीत बोल उठी- बस छोड़ो यार. तो सलाद भी काट लो।डॉक्टर साहब बोले- अरे यार 3-4 पापड़ भी भून लीजिएगा।‘डॉक्टर साहब बोले हैं तो भून कर लेते आइएगा।’मैं समझ गया कि ये दोनों अकेले रहना चाहते हैं। मैं कमरे से बाहर आ गया।मेरी बीवी भी अब चुदासी हो उठी थी और उसको डॉक्टर साहब का लंड लेने की तड़फ होने लगी थी। इधर मेरा मन भी अपनी बीवी को चुदते देखने के लिए मचलने लगा था।मैंने किचन से गिलास लिए.

डॉक्टर साहब का जवाब आया- जी मेमसाहब।नेहा बोली- ये मूवी का प्रोग्राम क्यों बनाया?डॉक्टर साहब बोले- ऐसे ही. अब मैं भी झड़ने वाला था।मैंने उससे पूछा- कहाँ निकालूँ?उसने कहा- मुझे चखना है।मैंने अपना लंड उसकी चूत से निकाल कर उसके मुँह में दे दिया और थोड़ी देर बाद मैं उसके मुँह में ही झड़ गया। वो मेरा सारा पानी पी गई और मेरे लंड को चूस-चूस कर साफ़ कर दिया।इसके बाद तो उसने मुझसे कई बार चुदाया और मैंने भी कई बार उसको अलग-अलग आसनों में चोदा।आपके मेल के इन्तजार में आपका अपना विक्रम[emailprotected]. ?’ प्रोफेसर ने एकदम से अचकचा कर कहा।अब सविता ने कामुकता से भरे स्वर में कहा- आओ सर.

कुछ पल में ही उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया, मैंने उसको सीधा किया और उसकी टांगों को अपने कंधों पर रखते हुए चूत में लंड डाल दिया और उसके मम्मों को पकड़ कर धक्के लगाने लगा।कुछ पलों में ही मैं भी झड़ने वाला था। मैंने एक जोरदार धक्का लगाया तो मेरे लंड ने अमिता जैन की बच्चेदानी में अपना रस को छोड़ दिया।मैं झड़ते ही अमिता के ऊपर ढेर हो गया। हम दोनों ऐसे ही लिपट कर सो गए। कुछ देर बाद मेरी आँखें खुलीं. जो एक रेस्टोरेंट में थी।मैंने सेक्सी ब्लैक ड्रेस पहन रखी थी, आखिरकार मैं भी एक सेक्सी गोरी लड़की जो हूँ, मैं अपने आप पर बहुत ध्यान देती थी.

पहले भी तो तू अपनी गांड शौक से चुदवाती रही है?कविता मेरे सामने जैसे शायद गांड मरवाना नहीं चाहती थी, परन्तु उसे नहीं मालूम था कि हमारी प्लानिंग कुछ और है।कविता बोली- अरे नहीं. तो मैंने सोचा कि सेक्स की पहल कैसे की जाए। फिर मेरे दिमाग में एक आईडिया आया।मैंने उससे कहा- चलो पहले हम दोनों नहा लेते हैं।उसने ‘हाँ’ कर दिया तो मैं उसे लेकर बाथरूम में आ गया।मैंने उससे बोला- मेरे कपड़े उतारो।उसने मेरे सारे कपड़े उतार दिए, मैंने भी उसके कपड़े उतारे।उसने पंजाबी सूट पहना हुआ था. पर मैंने सर झटक दिया।मैं अब उनके मम्मों को ऊपर-ऊपर से ही मसलने लगा।मैंने उनकी नाइटी को उतार कर फेंक दिया, अब वो सिर्फ ब्रा पेंटी में थीं.

और जोर का धक्का मारा तो मेरा आधा लंड उसकी उसकी चूत में घुस गया था। उसकी सील टूट चुकी थी.

मुझे मार ले।मैं आपको बता दूँ कि इन आंटी जी के पति यानि अंकल की मृत्यु हो गई है इसलिए वे अभी अपने लड़के के साथ में रहती हैं. जिससे तनु पागल हो गई थी। वो बस मुझे अपने तरफ खींच रही थी। मैंने उसका टॉप निकाल दिया।हुक खुला होने के कारण ब्रा भी निकल पड़ी थी। अब उस अप्सरा के स्तन मेरे सामने थे. तो मैंने फिर से एक जोरदार झटका मारा और मेरा लंड उसकी सील को तोड़ते हुए अन्दर घुसता चला गया। वो दर्द के मारे लगभग बेहोश सी हो गई। उसकी चूत से खून निकलने लगा।उसने मरी सी आवाज में कहा- ओह्ह.

बस उसने मुझे मेरी गर्दन में चूमना शुरू कर दिया।मैं बोलती रही- आकाश मत करो. तो उसने रिप्लाई भी किया। फिर हम दोनों मैं रोज चैट होने लगी। कभी-कभी मैं उसे छत पर आने को भी कहता.

तो शबनम चिल्ला उठी और कहने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… बाहर निकालिए नहीं तो मैं मर जाऊँगी।मैं कुछ देर रुक गया और उसको चूमने लगा। फिर मैं उसके होंठों को. जैसे वे कोई रास्ता ढूँढ रही हों।उसके मन में उत्तेजना बढ़ती जा रही थी और उसकी उंगलियां उस कामुक एहसास को बढ़ा रही थीं।उसका दिमाग उसे हाथ को रोकने के लिए कह रहा था. और नहा भी लो, अच्छा रहेगा।उसने माया को आंख मारी।फिर सरोज मेरी तरफ देख कर बोली- क्यों ठीक होगा न जानू?हम सभी सहमत हुए और वो दौड़ती हुई गई और माया ने फिर से दरवाजा बन्द कर दिया।माया चैन की साँस लेते हुए- साली बहुत ही बड़ी चुदक्कड़ है विकी.

सेक्सी पिक्चर फिल्म ब्लू

वो इस बार झटके मारते रहे, मुझे भी कुछ देर के दर्द के बाद मज़ा आने लगा.

जिसको मैंने थोड़ी देर पहले देखा था।अब मैं भी उसे मिलने को उत्सुक था, तो मैं अपने भाई के साथ चला गया।मेरे भाई ने मुझे अपनी गर्लफ्रेंड से मिलाया, मैंने उससे ‘हैलो. वरना यह सारे महामादरचोद दोस्त हमारी गांड मार देंगे।’मैं अँधेरे में खड़ा उन दोनों की मेघा के साथ हो रही बातें सुन रहा था, दोनों उसके हाथों को पकड़े रिक्वेस्ट कर रहे थे।‘ठीक है. मगर इससे तो मेरी आग बढ़ती जा रही थी। एक बार फिर मैंने भाभी पर लेटने की कोशिश की.

यह तो कटरीना और आलिया भट्ट को भी पीछे कर देगी। ऐसी छोटी सी गोरी चूत अचानक मिल जाएगी. क्योंकि मुझे पता था अभी भावना आने वाली है।काव्या ने कहा- ये सब मुझे अच्छा नहीं लग रहा है।मैंने उसे हक से कहा- क्रीम कहाँ है? वो बताओ, बाकी बातें मत सोचो।उसने क्रीम उठा कर दी, मैंने जैसे ही उसकी टी-शर्ट को उठाने के लिए छुआ. देसी सेक्सी साड़ी मेंया डॉक्टर सचिन को नेहा को चोदने में रूचि हो जाए।मैंने नेहा से पूछा- डॉक्टर सचिन तुमको चोदने में इंटरेस्टेड लगते हैं?वो बोली- नहीं है।मैंने कहा- वो चोदने में इंटरेस्टेड है कि नहीं.

उनकी भी सिसकारी छूट गई। मेरा लंड उनकी गांड की फांकों में चुभने लगा और वे भी अपनी गांड से मेरे खड़े लंड को दबाने लगीं।मैंने उनको पलट दिया और होंठों पर बहुत बुरी तरह से किस करने लगा। मेरी उंगलियाँ उनके पेट और नाभि के गड्डे में घूम रही थीं. एक हफ्ते पहले मैं ट्रेन से दिल्ली से मुंबई की यात्रा कर रहा था। मेरा टिकट कन्फर्म नहीं था.

काश हम ग्रुप में और ज्यादा लोगों के साथ चुदाई करते।भावना ने कहा- साले एक चूत तो पहले बजा लो. ’मैं गया तो देखा सेल्समेन नेहा को सूट दिखा रहा था और डॉक्टर सचिन से बोल रहा था- सर आप बताओ. ’मैं उसके फ्लैट में गया।आज फिर निशा ने वही साड़ी पहनी थी और पता नहीं आज कुछ ज्यादा खूबसूरत लग रही थी। उसने इशारे से मुझे अन्दर आने के लिए कहा।मैंने अन्दर आते ही कहा- मैं उस दिन के लिए बहुत शर्मिंदा हूँ.

तो कभी-कभी वो पूरी जीभ निकाल कर मेरे लिंग को चाटने लगतीं।भाभी मेरे लिंग के साथ ऐसा खेल, खेल रही थीं. कितनी प्यासी थीं वो।भाभी अपने होंठों पर लगा हुआ माल चाटते हुए बोलीं- आज कितने दिन बाद अच्छे से मेरी चूत की चुदाई हुई है. कहीं तेरी चाय ‘ठंडी’ न हो जाए।तरुण ने अन्दर आते ही सविता भाभी को अपनी बांहों में समेट लिया।तरुण ने सविता भाभी को चूमते हुए कहा- वाह्ह.

अपने लंड को निकाल लो।मैंने सोचा एक बार निकाल लिया तो भाभी मेरा लंड अपनी चूत में नहीं लेंगी। मैंने बोला- रुको भाभी.

ऐसा लग रहा था कि अभी उसकी पैंटी फाड़ दो और उसको जोर-जोर से बिना तेल लगाए चोद दूँ।फिर मैंने खुद पर काबू करते हुए उसके 4-5 फोटो निकाले।‘संदीप तुम्हारे लिए एक सरप्राइज है. मेरी बीवी नेहा ने डॉक्टर कबीर से जिस्मानी ताल्लुकात बना लिए थे और मैंने उसको चुदते हुए छिप कर देख भी लिया भी था।अब आगे.

’ की आवाज निकलते हुए मुझसे लिपटती जा रही थी। कुछ देर बाद उसकी बुर से चिपचिपा तरल पदार्थ निकल रहा था।वह बोली- मैं झड़ गई हूँ।मैंने उससे कहा- मैं कल कन्डोम लेकर आऊँगा और तुम इसी समय यहाँ पर आ जाना।अगले रात मैं क्या देखता हूँ कि वह अपने साथ किसी और को भी लाई है. एकदम गीला कर डाला!सरला भाभी अपनी कुर्सी पर बैठ गईं और प्यारी चंचल नयना को अपनी गोदी में बैठा कर चूमने लगीं। साथ ही वे उसकी जाँघों पर सलवार के ऊपर से हाथ से सहलाने लगीं- अब मुझे समझ में आया कि यह कमल राजा. तब उन्होंने बताया- आपका नंबर शालू को मैंने ही दिया था।मैं थोड़ा विचलित हो गई।उन्होंने कहा- अगर आपकी राजी हों.

फिर तुम्हारी चुदाई की थकान उतारने के लिए अपने फुसफुस से एक घंटे मालिश करवानी पड़ेगी।डॉक्टर साहब बोले- यार मुझको अच्छा नहीं लगता कि वो फुसफुस तुम्हारी मालिश करे। तुम एक काम करो मालिश करने वाली लगवा ही लो।नेहा बोली- समझ गई जानेमन. मानव सोए या न सोए उसे कोई फर्क नहीं पड़ता है।‘क्यों?’वो बोली- यार वो दारू पी कर भी आधा बेहोश ही रहता है।डॉक्टर साहब बोले- लव यू जानेमन।नेहा बोली- लव यू टू. तब तक वे मेरे लंड को बड़े प्यार से चाटती रहीं।कुछ देर इसी तरह 69 में लेटे रहने के बाद वो मेरे ऊपर से उतर कर मेरे पास मेरे कंधों पर सर रख कर लेट गईं।यह हिंदी सेक्स कहानी पढ़ते रहिए और अपने सुझाव और कमेंट दीजिए।[emailprotected].

हिंदी बीएफ वीडियो चोदने वाली तो मैं उसका चेकअप करने लग गई। जांच करने के लिए मैंने उसकी पैंटी तक खुलवा दी और फिर मैंने देखा कि उसका हल्का भूरे रंग का गांड का छेद जैसे मुझे चिढ़ा रहा था. जो घुटनों के ऊपर था।मुझे उसके गोरे-गोरे घुटने दिख रहे थे।सोनी- अन्दर आओ ना।मैं- हां.

www.xxx.com हिंदी

और नयना भी नहीं है। अब मेरा क्या होगा।’मैं भाभी के चूतड़ों को मसल रहा था और मेरा दूसरा हाथ उनकी कमर. जो मैं अपने सीने पर महसूस कर पा रहा था।फिर मैंने अपने होंठों को उसके काँपते हुए होंठों पर रख दिए और हम दोनों एक-दूसरे की बाँहों में और होंठों में खो गए।धीरे धीरे अचानक से ही उसके हाथ मेरी गांड पर रेंग रहे थे और मैंने भी पाया कि मेरे हाथ उसकी पीठ, कमर, और उसकी गांड को सहला रहे हैं और वो नीचे से अपनी चूत वाले भाग को ज़ोर लगा कर मेरे लंड पर दबा रही थी।तभी हम दोनों एक झटके से बिस्तर पर गिर पड़े. उसका नाम प्रीति था, किसी बीमा कंपनी में काम करती थी।देखने में वो बहुत सुंदर थी और बातचीत में काफी सुशील थी, उसके रूप पर कोई भी पागल हो सकता था।उसका सुगठित जिस्म बहुत आकर्षक था, चूचियों का साइज़ 32 था.

मैं यह सब नहीं करवा सकती।जीजू बोले- इसमें गलत क्या है? यार साली तो वैसे भी आधी घरवाली होती है।मैं बोली- हाँ पर आधी होती है. कोचिंग के बाद पार्क में मिलने का प्लान हुआ। जैसे ही मेरी नजर उसके दोस्त पर पड़ी. बॉलीवुड सेक्सी गर्ल’ की आवाजें पूरे कमरे में गूँज रही थीं।मुझे सोनिया की गोरी-गोरी चूचियों को उछलते हुए सिवाए और कुछ नहीं दिख रहा था। सोनिया की दोनों टांगें हवा में थीं। उसका एक हाथ मेरी कमर पर और दूसरा मेरी छाती पर था। मैं उसको हचक कर चोदने में मगन था।उसी वक़्त वो नीचे से कमर उठा-उठा कर ‘फक.

तो मैंने भी उसका नाम लिया।फिर हम एक-दूसरे को पहचान गए।मैं उनकी कार के पास गई तो अन्दर से एक और औरत जो बिल्कुल मेरी ही उम्र की थी.

मैं बनाती हूँ।’उसने कहा और चाय बनाने लगी।चूंकि उसका भी रूम किराए का था इसलिए एक ही रूम और अटैच लेटबाथ वाला ही था। रूम के एक किनारे बिस्तर और एक किनारे गैस आदि सामान रखा हुआ था। जिधर काव्या चाय बना रही थी।काव्या ने लोवर और टॉप पहन रखा था. पर मैं उसे पी गया।अब मैंने अपना अंडरवियर उतारा और मेरा लंड जो लम्बा और मोटा है, मैं अपना लंड उसके मुँह के पास ले गया, वो भी रंडियों की तरह मेरा लंड चूसने लगी।हइईईईई.

तो मैं धीरे से ऊपर गया और बेडरूम में एक से झाँका। वो दोनों एक-दूसरे से चिपके हुए एकदम नंगे लेटे हुए आराम कर रहे थे। शायद आज चुदाई में दोनों मस्त हो गए थे।आज का चुदाई का सीन कैसा लगा मुझे जरूर लिखिएगा।[emailprotected]कहानी जारी है।. तो मुझे बहुत मजा आया।धीरे धीरे मैंने अपनी जुबान से उसे चाटना शुरू कर दिया और शुभम के मुँह से आवाज आने लगी ‘हाँ ऐसे ही और चूसो. पर उनका कोई रिप्लाई नहीं आया। मेरे काफी मैसेज करने के बाद उसका एक मैसेज आया कि मैं आपसे बात नहीं कर सकती.

उनके नाभि में अपनी जीभ डाल दी।यह बहुत ही मस्त अहसास था।इतनी गोरी, गोल नाभि मैंने पहली बार देखी थी। मैंने अपना लंड उनकी नाभि में लगा दिया.

अपने लंड पर हाथ रख कर सो गया। आपको मेरी हिंदी कहानी कैसी लगी अपने विचार मुझ तक जरूर भेजिएगा।[emailprotected]. जिससे उसके डोले ऊपर-नीचे होते और मैं उनको अपने होंठों में भरने लगा।अब मैंने उसके शर्ट का एक बटन खोला और उसकी छाती के उभार के बीच में चूम लिया। मैंने भी अपनी आँखें बन्द कर लीं, मुझे मानो जन्नत का एहसास हो रहा था।मैंने उसकी शर्ट का दूसरा और तीसरा बटन भी खोल दिया। अब उसकी मस्त मर्दाना फूली हुई छाती मेरे सामने थी. उसने झट से मुझे गले लगा लिया और जहाँ-तहाँ किस करने लगी। मुझे भी मजा आ रहा था.

फुल सेक्सी वीडियो नेपालीतो मैंने उसको अपनी बाँहों में भर लिया।मैं उसे ऊपर से नीचे तक किस करने लगा, वो भी मेरा साथ देने लगी, वो बोली- मेरी जान, मैं आपकी हूँ. ’ करते हुए भाभी की बुर को चाट और चूस रहा था।उनकी बुर से पानी तो जैसे नदी की तरह बह रहा था। करीब 15 मिनट चाटने के बाद उन्होंने मेरा सर कसके पकड़ लिया और अपने चूतड़ ऊपर करते हुए अपनी बुर मेरे मुँह में भर दी और गाढ़ा सा कुछ छोड़ दिया।अब चूँकि उनकी पूरी बुर मेरे मुँह पर लगी थी.

क्सक्सक्स २०२०

तो वो चिंहुक के ऊपर को उठ जातीं और मेरे लंड को हल्का सा काट भी लेती थीं।उधर वो भी कभी मेरे सुपारे की नोक को चूमती-चाटतीं तो कभी मेरे लंड के आस-पास अपनी जीभ घुमा देतीं. फिर वो वहीं प्लेटफार्म पर बैठ गई।मुझे अब निकलना था, मेरे फ्रेण्ड भी आ गए थे, मैंने कलम निकाली और एक कागज़ पर अपना नम्बर लिखकर उसके पास जाकर गिरा दिया और चला गया।उसने गिरते हुए कागज को देख लिया था।घर आकर मैं उसके बारे में ही सोचता रहा और इस तरह 3 दिन बीत गए। अब तो उम्मीद भी खत्म हो चुकी थी कि उससे कभी मिल पाऊँगा।अगले दिन शाम का समय था, मैं टहल रहा था कि मेरा मोबाइल बज़ा. जब सच में मेरी नीयत खराब हुई थी।उनके थिरकते गुंदाज मांसल चूतड़ मानो मुझे बुलावा दे रहे थे। वो नीला गाउन चिपक कर सुहाना मैम के चूतड़ों की दरार में हल्का सा फंस गया था।उस पर सुहाना मैम की चाल में जो मस्ती थी.

मौसी की चुदाई की यह कहानी मेरे एक दोस्त की है, उसी के शब्दों में पढ़ कर मजा लीजिए. सच में उसने अपना रूम काफी अच्छा सजा रखा था।मैंने कहा- आज तुम बहुत ही सुदंर लग रही हो।सुमन बोली- थैंक्स. नीचे वाले हॉल में जाकर खाना निकालो। अब चुदाई का दूसरा राउंड खाना खाने के बाद करेंगे।तब तक मैं काली चरण और निशा भी एक बार अपना पानी निकाल कर आते हैं।वे लोग अपना कपड़े उठाने लगे.

कल चोद लेना।वह नहीं माना और बोला- यार गांड ही तो मारनी है। यहीं झुको. अक्सर हम इस बात करते हुए हँसी-मज़ाक करते थे।इस तरह मेरी शुरू से ही फैन्टेसी बन गई थी कि मैं अपनी बीवी या बेटी को दूसरे मर्द से चुदवाऊँ।शादी के पहले कॉलेज के दिनों में नाज़िया नाम की लड़की मेरी गर्लफ्रेंड थी। उसका साइज़ 30-24-32 का था. मेरी उम्र 22 साल की है और मैं पिछले 3 साल से सरकारी नौकरी कर रहा हूँ। बहुत ही सेक्सी लड़का हूँ और हमेशा किसी आंटी को चोदने के चक्कर मैं रहता हूँ।मेरी एक खाला (मौसी) हैं.

मैंने राजेश की चौड़ी पीठ को जकड़ लिया था और अब उसने अपने हाथ मेरी पैन्ट में डाल दिए थे और वह मेरी गांड को मसल रहा था. ’ करता जा रहा था।अब कबीर सीधे पीठ के बल लेट गया और उसने नेहा को अपने ऊपर खींच कर लिटा लिया।इस स्थिति में दोनों एक-दूसरे के होंठ चूस रहे थे। मैं तो दो बार झड़ चुका था। वो बहुत देर स्मूच करते रहे और फिर कबीर ने नेहा की टाँगें फैला दीं।नेहा की चूत उसके लण्ड पर रगड़ रही थी, कबीर ने अपना लंड पकड़ कर नेहा की चूत में घुसेड़ दिया।अब नेहा कबीर के लण्ड के ऊपर थी। कबीर ने नेहा को धीरे-धीरे उछलना शुरू किया.

सिर्फ़ उड़का कर रखा था।इसी के साथ ही उसने आगे बढ़ते हुए मेरे नंगे सेक्सी शरीर को अपनी बांहों में जकड़ लिया और मेरे मुँह.

मैं कुछ करती हूँ।तीन या चार दिन बाद उसने बताया कि शनिवार को कॉलेज बंद है और अगले दिन रविवार की छुट्टी है ही. सेक्सी वीडियो चीन की सेक्सीतो मैंने सोचा अब मैं भी अपनी कहानी लिख दूँ। यदि मेरे इस पहले प्रयास में कुछ गलती हो जाए. सेक्सी औरत कैसी होती हैवैसे ही पूजा मेरे पीछे आकर बैठ गई।मुझे तो सच में यकीन ही नहीं हो रहा था कि मेरे साथ बाइक पर पूजा बैठी है।पूजा की भाभी ने मुझसे बोला- आराम से जाना।तो मैंने कहा- ओके।फिर मैं और पूजा वहाँ से बाइक पर बैठ कर चल पड़े। वो पहले तो मुझसे थोड़ा दूर बैठी थी। फिर मैंने जैसे ही ब्रेक लगाए वैसे ही उसने अपने हाथ मुझ पर रख दिए।सच बताऊँ. मेरे पापा कभी भी आ सकते हैं।’मेघा ख़ुद अपना लहंगा ऊपर करके दीवार के सहारे झुक गई थी। मैं सीढ़ियों की आड़ में खड़ा होकर उन तीनों को देख रहा था। नीचे मंडप में फेरे शुरू होने वाले थे। प्रशांत ने मेघा के मम्मों को दबाते हुए कहा।‘पूछो मत यार.

जिसमें नीचे वाला होंठ थोड़ा बड़ा था, जो मानो किस करने के लिए ही बना हो।उनके बाल मध्यम लंबाई के थे.

ये तो बताओ?उस पर वो औरत बोली- आपके पास मोबाइल है?तो मैंने कहा- हाँ क्यों?वो बोली- मुझे सिर्फ़ दो मिनट के लिए दे दो।मैं कुछ नहीं बोला. मैं सोच कर बताती हूँ।मेरे मन में तो लड्डू फूटने लगे कि अब इसकी चूत जल्द ही मिल जाएगी।मुझे लगा कि उसे वक़्त लग जाएगा. मुझे लगा जैसे अब मेरा लिंग फट जाएगा। फिर उसने धीरे से मेरे लिंग को अपने मुँह में डाला और चूसने लगी।मैं पहली बार किसी के साथ सेक्स कर रहा था.

तुम्हें कोई दिक्कत तो नहीं होगी अगर मैं इधर बैठी रहूँ?मैंने कहा- नो आंटी मुझे कोई दिक्कत नहीं है. सच्ची में मेरी चूत सूज जाएगी।कबीर को कोई फर्क नहीं पड़ रहा था, वो पूरी रफ़्तार से झटके दे रहा था। मुझे लग रहा था कि जैसे नेहा झड़ चुकी थी. उसकी क्या मस्त छोटी सी चूत थी।अब मैं उसकी चूत चाटने लगा। अपनी पूरी जुबान उसकी बिना झांटों वाली चूत में डाल कर रस चाटने लगा। कुछ देर चूत चाटने के बाद मैंने मेरा लंड उसके मुँह में दे दिया। आह्ह.

ভাই বোনের চোদাচুদি ভিডিও

हाइट 5 फीट 9 इंच है। मैं देखने में काफ़ी खूबसूरत और स्मार्ट हूँ, ऐसा सभी कहते हैं। मेरे लंड का साइज़ भी लम्बा और मोटा है। यह कहानी मेरी प्यारी बेटी मेघा की और मेरी है. मुझे तुम्हारे जैसा मर्द चाहिए।मैं बहुत खुश हुआ मैंने उस से शादी कर ली। मैं मीरा और उसके लड़के को लेकर बहुत दूर चले गए। मीरा को अभी एक और लड़का हुआ है. आप बहुत सुन्दर और सेक्सी लग रही हो।निकोल- थैंक यू।मैं- सामने एक लड़की देख रही हो?निकोल- हाँ हाँ।मैं- उसने मुझसे शर्त लगाई थी कि मुझे आप से एक घंटे बात करनी होगी तो वो मुझे 5000 देगी और मैं शर्त जीत जाऊँगा। तो क्यों ना हम दोनों बातें करें। मैं आपको शर्त के पैसे में से आधा पैसा दूँगा।निकोल ने हँसते हुए कहा- श्योर.

गुलाबी पेंटी के अन्दर गीली हो चली चूत उसकी चुदास को बयान कर रही थी।ओह माय गॉड.

एकदम गुलाबी बहुत ही सेक्सी होंठ थे।मैंने उसके होंठों पर होंठ रखकर चूसना शुरू किया.

वो मुझको ठीक से पिलाना चाहता था। दूसरा गिलास गटकने के बाद मुझको अच्छा खासा सुरूर हो गया।मैंने कहा- सर एक और प्रॉब्लम है. मैं तुम्हें कोई जानवर लग रही हूँ क्या?मैंने कहा- ऐसी बात नहीं है लेकिन मुझे लड़कियों से डर लगता है।तो वो हँसने लगी और उसने कहा- अब तो मैं तुम्हें और ज्यादा डराऊँगी. देहाती सेक्सी वीडियो लड़की केमैंने हाथ डाल कर देखा तो उसके नीचे एक नोट बुक रखी थी।मैं उसे पलटने लगा.

सुबह जाता और इंटरव्यू देकर आ जाता था और दिन भर बोर होता था।इस वक्त मुझे भाभी जी की बहुत याद आती थी।मैंने एक दिन उनको फोन लगाया और मौका देख कर डरते-डरते उनसे अपने मन की बात कह डाली। पहले तो सुनकर वो एकदम चुप हो गईं।मुझे लगा कि गई भैंस पानी में. ’मैंने भी ज्यादा वक्त ना लेते हुए लंड को उनकी गोरी चूत के दरवाजे पर लगा दिया। चूत का दरवाजा पूरी तरह खुला था और चूत लंड के स्वागत के लिए पानी छोड़ रही थी।मैंने मेम की चूत में जैसे ही लंड डाला तो उनकी जोर से चीख निकल गई. बोली- मुझे ये सब पसंद नहीं है।मैंने उससे ‘सॉरी’ बोला और अपने फ्लैट में आ गया, उसके बाद मैंने उससे बात करना बंद कर दिया।उसने भी दो दिन तक बात नहीं की। उसके बाद वो एक दिन मेरे फ्लैट में आई और बोली- आप मुझसे गुस्सा हो क्या?मैं कुछ नहीं बोला.

कि हम लोगों के रूम तक आ रही थी।भैया भाभी को जानवरों की तरह चोद रहे थे, भाभी अपने मम्मों को अपने हाथ से दबाते हुए एक बार और झड़ गईं।अब भाभी बोलने लगीं- आह्ह. क्योंकि उसमें कोई परेशानी नहीं हो रही थी।करीब पांच मिनट बाद वह झड़ गई। फिर मैंने अपना लंड उसकी बुर में से निकाल कर दूसरी वाली की चूत में डाल दिया।मैं भी अब झड़ने वाला था। मैंने अपनी रफ्तार बढ़ा दी। कुछ समय बाद मैं कन्डोम में ही उसके बुर में ही झड़ गया और उसी पर लेट गया।इस प्रकार मैंने एक लंड से ही दो लड़कियों की बुर की सील तोड़ीयह मेरी पहली चुदाई थी।आप सभी के मेल के इन्तजार में हूँ।[emailprotected].

मुझसे रहा नहीं गया, मैंने उसकी बुर को चूसना शुरू कर दिया।जैसे ही मैंने अपना मुँह उसकी बुर पर रखा.

मैंने उसे पीछे से पकड़ लिया और गर्दन पर किस करने लगा। उसके गालों पे अपने गाल सहलाने लगा। उसके बालों से खेलने लगा, उसके मम्मों को दबाने लगा।उसने कहा- लगता है तुमने इसी लिए चाय नहीं पी थी ताकि मैं आऊँ और तुम मेरे साथ ऐसी हरकत करो।मैंने भी कहा- क्या फर्क पड़ता है. इसलिए घर आ गई।वो मेरी बात मान गई। मैं उसे गली के पास छोड़ कर अपने दोस्त के घर चला गया। इसके बाद भी हमने कई बार सेक्स किया।फिर मुझे घर की परेशानी के कारण जॉब करनी पड़ी. कर सकते हो। मैं उसे पास ही एक अधबने मकान में ले गया जो सुनसान था, वहाँ रसोई की स्लैब बनी हुई थी, उसे मैंने स्लैब पर लिटा दिया और उसे नंगी करके उसकी गीली चूत को चाट कर साफ़ कर दिया।मैंने ज्यादा देर न करते हुए अपनी पैंट खोली और उसकी सुन्दर सी बिना बाल की चूत पर लंड के सुपारे को लगाया और पेला तो मेरा लंड फिसल गया। मैं समझ गया ये सील पैक चूत है।फिर मैंने लंड पर थूक लगाया और जोर से धक्का मारा तो वो ‘आह.

सेक्सी वीडियो मराठी में दिखाइए ’कोई चीज चूसने की आवाज तेजी से आने लगी। कामुक आवाजें भी आ रही थीं। ‘उउहह. तो वो लोग सही जवाब दे सकें।उन्होंने दो दिन के बाद मुझे सन्देश भेजा कि वो लोग हजारीबाग में हैं और अगले दिन मेरे घर मुझे लेने वो दो औरतें आएँगी।मेरा दिल जोर-जोर से धड़कने लगा कि भगवान जाने क्या होगा।मैंने वासना की आग में भूल कर ये क्या कर दिया। कहीं किसी को शक हुआ तो क्या होगा।कहीं मेरी चोरी पकड़ी तो नहीं जाएगी.

और करते टाइम मेरे लंड की हालत ख़राब कर दी थी।मैंने सुमित को आँख मारी।सुमित बोला- तुझे भी चाहिए तो बता?मैंने कहा- नेकी और पूछ-पूछ?बोला- ठीक है, कुछ काम करता हूँ।मैंने पूछा- कौन-कौन है इसके घर में?तो सुमित बोला- ये है. सलाद काटा और रूम में आ गया।अभी हम लोगों ने एक-एक पैग दारू ली ही होगी कि डॉक्टर साहब बोले- अरे नेहा जी की बीयर भी उनके गिलास में डाल कर दे दीजिए।नेहा बोली- नहीं यार।डॉक्टर साहब बोले- क्यों नहीं यार. मैं उससे तुरंत बात करती हूँ।पर मैंने उसे रोका और कहा- थोड़ा सुन तो लो.

लंड वाला सेक्सी

मेरी चूत में से खून की धार बाहर निकली और उसमें राहुल का लंड एक पिस्टन की तरह फिट हो चुका था, मुझसे दर्द बर्दाश्त नहीं हो रहा था, मेरी सीत्कार अब चीखों में बदलने लगी थी।राहुल ने मेरे मुँह पर हाथ रखकर मेरी चीख दबा दी, फिर भी मैं घुटी हुई आवाज में चिल्लाने की कोशिश कर रही थी- आआअहह. पर पहले मुझे आपको देखना है।उसने कहा- जो हुकुम मेरे आका।यह कह कर उसने लाइट जला दी. पर फ़िर भी मैं चुपचाप रहा और उनके चेहरे को देखता रहा।‘देखो मुझे गलत मत समझना.

’ कर रही थी। फिर कबीर ने अपना लंड निकाल कर नेहा की गांड पर बहुत ही जोर से पिचकारी छोड़ दी।नेहा और वो बुरी तरह से झड़ चुके थे. पर मुझे बहुत डर लगता है कि अगर घर में किसी को पता चला तो बहुत मार पड़ेगी।मैंने कहा- हम किसी को नहीं बताएँगे और ऐसा कोई काम नहीं करेंगे.

अचानक वो मेरे पीछे आया और उसने मुझे पीछे से अपनी बाँहों में भर लिया।मैंने कहा- क्या हुआ आकाश… मुझे छोड़ो.

अब देख!यह कहकर अमन बहुत तेज-तेज उसकी गांड में झटके लगाने लगा और मैं भी बोला- साली ये ले. एक बार लेकर मन नहीं भरता।डॉक्टर साहब बोले- जान जितनी बार लेता हूँ तुम्हारी चूत का उतनी बार नया नशा छाने लगता है।नेहा बोली- नाश्ता कर लो. जो आज तक कभी भी जिन्दगी में नहीं हुआ।मैं सिर पटकने लगी। सारी उत्तेजना जाने कहाँ हवा हो गई थी। मैं उससे लंड निकालने की रो-रोकर विनती करने लगी। लेकिन उसे तरस न आया, वो तो उल्टा मेरी चूचियों को चूसने और काटने लगा। उसने लंड निकाल तो नहीं.

’इस तरह उसे चोदते-चोदते मेरा पानी उसकी चूत में ही निकल गया।कुछ देर बाद हम दोनों चुदाई से फ्री हो गए और वो किचन में कुछ खाने का बनाने लगी. तो फिर मुझसे क्यों?दीदी- लड़कियों को तुझ जैसे शर्मीले लड़के बहुत पसंद होते हैं। वैसे भी मैंने कभी नहीं सोचा था कि तेरे साथ ऐसा करूँगी। पर जैसा-जैसा मन करता गया. रामावतार जी ने दोनों हाथों से बबिता की जांघों को पकड़ा और उसकी योनि को चाटने लगे।इधर जब मैंने नजर घुमाई तो देखा कि शालू विनोद के लिंग के ऊपर उछल रही थी और विनोद उसके स्तनों को दबाते हुए खुद भी अपनी कमर उठा कर शालू के धक्कों का जवाब दे रहा था।विनोद और शालू को देख कर मेरा तो अब ध्यान बंट सा गया था। मेरा शरीर एक तरफ तो पूरी तरह कामोत्तेजित था.

इसलिए आज मैं आपका वीर्य अपने मुँह में लेना चाहती हूँ।यह सुनकर मुझे अपने बॉस से जलन भी होने लगी.

हिंदी बीएफ वीडियो चोदने वाली: ’फिर भाभी मेरी तरफ घूम गई और मेरे गले लग गई। अब मैं भाभी के होंठ चूमने लगा, भाभी साथ देने लगी।थोड़ी देर बाद भाभी बोली- मेरी सास दुकान पर बेसन लेने गई है. तो मैंने उससे पूछा- अगर मैं नहीं चलता तो किसके साथ जातीं।वो बोली- तुम मना ही नहीं करते।मैंने पूछा- क्यों.

’ जैसे लफ्ज़ निकलने लगे।मैंने भी धीरे-धीरे उन्हें किस करते-करते अपने हाथ आगे की ओर बढ़ाए और उनकी जीन्स का बटन खोल दिया। सिर्फ़ उनकी जीन्स को उनके शरीर से अलग करने लगा।ऐसा करते हुए मैं उन्हें चूम भी रहा था और कभी-कभी लव बाइट्स भी ले रहा था। मैंने उनके नितंबों पर बहुत सारे लव बाइट्स लिए. छोडूंगा नहीं।मैंने कान पकड़ कर कहा- चाचा, ये ग़लती अब कभी नहीं करूँगी. मगर हम दोनों कभी एक-दूसरे से कुछ कह नहीं पाए।फिर एक दिन पलक की शादी हो गई और वो अपने ससुराल चली गई। अब तो वो एक बच्चे की माँ भी है। मगर अभी भी उसका जब फोन आता है.

तो उसने मुझे रोक दिया।मैंने फिर से उसके मम्मों को मसलना शुरू कर दिया। थोड़े टाइम बाद उसने अपने हाथ से मेरा हाथ अपने मम्मे के ऊपर ज़ोर से दबाना शुरू कर दिया.

देसी भाभी की रात भर चूत चुदाईऔरभाभी की कुँवारी पड़ोसन पट कर चुद गईऔर जान लें कि उनकी चुदाई कैसे हुई थी।भाभी के घर पानी का नल नहीं लगा था. अब मुझे बहुत मज़ा लेना है।पीछे से गांड चोद रहा अमन बोला- ओह तो ये बात है साली कुतिया. तो मेरा भी मन फिसल रहा था।मैंने बहुत इत्मीनान से उसे अपने चूचों के पूरे दर्शन कराए और सीधी हो गई, अब उसके पैंट में भी उभार बन गया था।हाय राम.