इंग्लिश फिल्म बीपी बीएफ

छवि स्रोत,डिस्कवरी कार

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी दिखाओ बढ़िया: इंग्लिश फिल्म बीपी बीएफ, फिर उन्होंने बुआ को उनके ऊपर आने को कहा तो बुआ मेरे ताऊ जी के खड़े लंड को हाथ में लेकर उनके लंड पर बैठते हुए लंड को चूत के मुंह पर सेट करने लगी.

हीरोइन की सेक्सी फिल्म वीडियो

मैं अब ये समझ चुका था कि भाभी पूरी तरह गरमा गयी है और अपनी गर्म चुत में मेरा लंड डलवाने को मचल रही है. रक्षाबंधन का टाइमऔर फिर मैंने उसकी मुलायम झांटों पर अपना लंड टिकाया और फनफनाते हुए लंड से उसकी चूत रगड़ने लगा.

कुछ देर बाद अपना लंड चुसवाने के बाद उसने अपना लंड फिर से मेरी चूत में पेल दिया और मेरी चूत को चोदने लगा. डीपी फॉर गर्ल्सवो एकदम से उठे और मेरे जांघों के बीच में बैठ कर मेरी चड्डी निकाल दी.

मुझे चूसने के बारे में नहीं पता और मेरा मन भी नहीं कर रहा था उनके लिंग को अपने मुंह में लेने का मगर वो चाहते थे कि मैं उनके लिंग को मुंह में ले कर चूस लूँ.इंग्लिश फिल्म बीपी बीएफ: इसीलिए मैं अपने काम में लगा हुआ था। उसके चूतड़ों को पकड़ कर अपना पूरा मुँह उसकी चूत में घुसा रहा था। मैं जीभ को अंदर तक घुसा कर उसकी चूत की दीवारों को चाट रहा था।वो जोर-जोर से सिसकारियां ले रही थी- विशाल मेरी जान … तू मेरा भाई नहीं, मेरी जान है। मैं तेरी रखैल हूँ.

लेकिन मेरी मौसी कहने पर मुझे और मौसी थोड़ी आगे जाने दिया क्योंकि ट्रेन चल दी थी.[emailprotected]आप मुझे मेरी फेसबुक पर भी सर्च करके मुझसे जुड़ सकते हैं और चैट कर सकते हैं.

jio की कहानी - इंग्लिश फिल्म बीपी बीएफ

इसी तरह तीन चार बार ऐसा हुआ कि मैंने डॉली को उसके स्कूल ड्राप किया.मेरे सब दोस्त गांजा पीते थे और वो मुझसे कहने लगे कि ले आज तू भी पी ले.

दोपहर का खाना खाने के बाद ताऊ जी घर की छत पर बने ऊपर वाले कमरे में आराम कर रहे थे. इंग्लिश फिल्म बीपी बीएफ मैं- दिशा चल उठ, बाथरूम जाना है … तुम मेरे साथ नहाना पंसद करोगी?दिशा- हां जीजू, चलिए.

तभी साले अंकल ने मेरे बूब को काटा, मैं चिल्ला दी- उई अंकल आहह … ये क्या कर रहे हो … छोड़ो मुझे.

इंग्लिश फिल्म बीपी बीएफ?

दो बच्चों की माँ होने के बाद भी आंटी देखने में बड़ी ही कामुक लगती थीं. हम लोग पहले साथ में काम कर चुके थे, लेकिन मैं बाद में वहां से काम छोड़कर चला गया था. मैंने उसे सब जगह चूमा और चाटा परन्तु उसकी चूत और चूचुक तो छुए भी नहीं.

उसकी चूत पर नीचे के बाल कुछ ज्यादा बड़े थे जबकि मैंने अपनी चूत के बाल बिल्कुल साफ किये हुए थे. रबड़ी में खूब किशमिश, बादाम, पिस्ते, अखरोट, काजू और छुआरे पड़े हुए थे. उसने मुझे बेड पर फेंक दिया और खुद मेरे ऊपर चढ़ गया और फिर से अपना लोड़ा मेरे मुंह में घुसेड़ दिया, कुछ धक्के मारने के बाद उसका छूट गया और पूरा मैंने रस पी लिया.

चूत पर जीभ ने कमाल दिखाना शुरू किया, तो अनुषी हल्की सिसकारी लेने लगी. वे अपनी आँखें बंद करके चुदाई की मस्ती में डूबी थी और मैं मन ही मन ये सोच रहा था कि आज रजिया फँस गयी है. मैंने पूछा- कितनी चूतें चोद चुके हो जीजा?वो बोले- कोई गिनती नहीं है.

मैं जब लंड चूसने लगी तो वो भी उत्तेजित होकर कामुक सिसकारियाँ लेने लगा. फिर मैं उठा और उनकी सलवार को नीचे खींचकर उतार दिया और साथ में उनकी पेंटी को भी! मैंने देखा कि उनकी चूत गीली थी.

उसने अपनी एक टांग को मेरे दोनों टांगों के बीच फंसा कर दूसरी टांग को मेरी कमर पर चढ़ा दी.

अपनी चूत चुसाई के मस्त आनन्द से भाबी के मुँह से मादक सिसकारियां निकलने लगी थीं.

नम्रता भी धक्के लगाते हुए काफी थक चुकी थी, पर लंड पर विजय पाने के बाद वो मेरे ऊपर लेट गयी. जब मेरा धक्का लगता तो वह रुक जाती और जब मैं रुक जाता तो वह धक्का लगा देती. आपने मेरी पिछली कहानियों को पसंद किया और मुझे आप लोगों के करीब 500 मेल प्राप्त हुए.

उसके निप्पल हिमालय की चोटी के जैसे नुकीले थे जिनको महेश ने अपने मुंह में भर लिया था. पैरों का यह शवाब तो या लगता था कि किसी कुशल मूर्तिकार ने बड़े प्यार से गढ़ा हो. उसने मेरी टांगों को उठाया और अपने लंड को अपने हाथ में लेकर मेरी गांड के छेद पर सेट किया और अंदर धकेलने लगा.

फिर हम दोनों ने जल्दी से अपने कपड़े वापस पहन लिए और मैं भाभी को बाइक पर लेकर निकल गया.

कामिनी को यकीन दिलाने के लिए मैं अपनी इस क्लाइंट से उसको दी गई लास्ट सर्विस की बातें याद दिलाने लगा, जिससे वो मेरी तारीफ करने लगी. पहले तो मैं चौंक गया, फिर खुद को संभालते हुए बोला- एक समय के बाद कोई चीज उसकी कमी पूरी नहीं कर सकती, फिर तो वो ही मिले तो चैन मिलता है. मेरा ऐसा करना मौसी को पसंद नहीं आया और मौसी गुस्से से गर्म होने लगीं.

जैसे-जैसे दोनों का माल बाहर आ रहा था, दोनों की ही एक-दूसरे पर पकड़ ढीली पड़ती जा रही थी और जैसे ही नम्रता की बांहों का बन्धन खुला, मैं लुढ़कते हुए उसके बगल में लेट गया. मैंने थोड़ी सी कोल़्ड ड्रिंक अपनी पैंट पर गिरा ली और गिलास को नीचे टेबल पर रख कर पैंट को अपने हाथ से साफ करने लगा. मेरे हर धक्के से वो हिल रही थी, तो साथ ही उसकी पाजेब और चूड़ियों की छमछम छमछम की आवाज़ गूंज रही थी.

बीच में नम्रता को बीयर पीने में तकलीफ हुई, लेकिन उसने बिना कोई नखरा किए बीयर को पूरा पी लिया.

फिर मैं ऐसे ही ज़ोरदार धक्के लगाता रहा और फिर 15 मिनट तक ऐसे ही चोदता रहा. काजल से बर्दाश्त नहीं हो रहा था, पर फिर भी वो अपने दोनों होंठ भींच कर अपने आपको कण्ट्रोल कर रही थी.

इंग्लिश फिल्म बीपी बीएफ चूंकि मुझे उसके लंड का स्वाद मजेदार लगा था इसलिए मैं अपने मुँह में बचे वीर्य का स्वाद लेने लगी. उसने मुझे अपने से लिपटा लिया और मुझे बांहों में लेकर मेरी गर्दन पर किस करने लगी.

इंग्लिश फिल्म बीपी बीएफ भोला ने कहा कि मैं तु्म्हारे लिये कुछ खाने का इंतजाम करवा देता हूं. भाबी की चुत एकदम क्लीन थी … और उसमें कोई मस्त सुगंध लगाईं हुई थी, जिस वजह से मैं भाबी की चुत को अच्छी तरह चाटने लगा.

उसके पास से जाने का मन तो मेरा था नहीं, पर क्या करते, जाना तो था ही.

छठी भाषा में बीएफ

रीना से काबू न हो पाया उसने आजू-बाजू देखा कि अँधेरा है और कोई देख नहीं रहा. उसके चेहरे से लगता था कि वो कुछ कहना चाहती है, लेकिन वो कुछ नहीं कह पाती थी. मैं सुमिना से भी इस बारे में बात नहीं करना चाहता था क्योंकि वो मेरी बड़ी बहन थी; इसी कश्मकश में फंसा था कि अब आगे क्या किया जाये.

उसकी माँ ने पैर खोले हुए थे जिसके कारण मुझे उसकी माँ की चूत दिख गई. मैं उनको बाथरूम में ही किस किए जा रहा था और उनकी चूत को सहलाए जा रहा था. अब बाकी का आधा काम प्रिया को करना था जिसके लिये वो पूरी तरह से तैयार थी क्योंकि मैं उसको शुरू से ही नोटिस करता आ रहा था कि यह लड़की बहुत तेज है.

पतली कमर एकदम कातिल, 28 के साइज की, चूतड़ उभरे हुए 36 के साइज के हैं। रंग गोरा, एकदम हीरोइन लगाती है किसी पोर्न फ़िल्म की। मेरी दीदी मेरे से दो साल बड़ी है.

सौरव मेरी चुचियों को चूसता हुआ नीचे आने लगा मेरी नाभि से खेलने लगा. मुझे उस टाइम किस करना नहीं आता था तो वे मेरे होंठों के पास अपने होंठ लाए और एक जोरदार चुम्मा जड़ दिया. जिसने पहनी है, मैं तो उसी से ही पूछूंगा ना!इतना बोलकर मैं उसकी दोनों चूचियों के बीच की जगह पर चूमने लगा.

आज मैंने सोच लिया था कि कल सभी चले ही जाएंगे … तो क्यों ना आज मजा ले ही लिया जाए. ऐसा कहते हुए मेरी चूत से एक फव्वारा सा फूट पड़ा और गर्म-गर्म रस बहने लगा. जाने को तो वो दोनों पापा के साथ भी जा सकती थीं लेकिन पापा के साथ उनके न जाने का कारण यह था कि सुमिना और काजल दोनों जवान लड़कियां थीं इसलिए अपने से बड़ी उम्र के व्यक्ति के साथ वो न तो खुल कर बातें कर पातीं और न ही मटरगश्ती ही हो सकती थी.

अम्मी बोलीं- क्यों … पहले तो तूने कभी नहीं बुलाया उनको?मैंने कहा- अम्मी वो स्टडी में मेरी बहुत हेल्प करते हैं … और भी काम में हमेशा मेरी मदद करते रहते हैं. जब मैंने उसे छोड़ा, तब उसने आखिरी घूँट गटक कर चिहुँक के ऐसे सांस ली, जैसे उसकी जान में जान आयी हो.

किंतु आपसे या किसी अनजाने व्यक्ति से मिलने के ख्याल से मुझे भय भी लग रहा है और यदि मैं ऐसा करती हूं तो रोग-ग्रस्त होने की आशंका भी रहती है। क्या मेरा ऐसा सोचना सही है या मेरे मन की यह धारणाएं गलत हैं? कृपया उत्तर दें. तू मुझे बिना कपड़ों के देखना चाहता है न?उसने मेरे गर्दन में अपने बांहें पिरोते हुए मुझे अपनी बांहों में कसा. मैं हौले हौले से उसकी चुत पर हाथ घुमाने लगा और धीरे धीरे करके मैंने अपने पूरे लंड को उसकी चुत में घुसेड़ दिया.

मैंने उसको अपनी तरफ घुमाया और उसके चूचों को देखते ही मैं उन पर टूट पड़ा.

महेश ने मुझसे क़हा कि उसकी फैमिली मुझको थैंक्स कहना चाहती है, इसके लिए मैं अपनी बीवी को लेकर आज रात उसके घर डिनर पर आऊं. उसके बाद मैंने उनके चूचों को छेड़ते हुए कहा- अगर इन दूधों पर भैया ध्यान नहीं दे रहे तो क्या हुआ, मैं उनका ही भाई तो हूं. इसी बीच नताशा भाबी मेरे लंड को मुँह से निकाल अपने नर्म हाथों से लंड को दबाने लगीं.

उसका नाम डिंपल जयश्री है उसे उसके उपनाम डीजे कह कर बुलाना अच्छा लगता है. मम्मी कहती ही रह गयी कि बेटा अभी अभी स्कूल से थका मांदा लौटा है, कुछ खा पी तो ले फिर जाना पढ़ने.

अपनी उंगलियों पर ढेर सी क्रीम लेकर अपने लण्ड पर और डॉली की चूत पर मल दी. माहौल कुछ हल्का हुआ तो मैंने बताया- मैं तुम्हें स्कूल के समय से ही पसंद करता हूँ. भाबी- नहीं देव … उधर नहीं … उधर बहुत दर्द होगा … और तुम्हारा इस मूसल लंड से तो मेरे छोटे से छेद की माँ चुद जाएगी.

सेक्सी बीएफ हिंदी लड़की की

उसको जब राहत सी मिली, तो मैंने फिर तेल डाल कर लंड और अन्दर पेल दिया.

मैंने उसके ऐसा बोलते ही उसके होंठों में अपने होंठों को रख दिया और चूसने लगी. मैंने कहा- फिटनेस सेंटर नहीं जाना क्या?उन्होंने बताया कि मैं अपनी सास को पास में ही रिलेटिव के यहां कार से छोड़ कर आई हूँ, सो थोड़ा लेट हो गयी हूँ. मैंने उसे अपने ऊपर से हटाने की बहुत कोशिश की, पर उसने बिल्कुल एक रांड की तरह मुझे दबोच रखा था.

उससे बात करने पर पता चला कि वह आगरा में ही रहती है और अभी तक उसकी शादी नहीं हुई है. निहारिका ने कपड़े बदल लिए, अब मैंने अपने कपड़े बदलने थे तो विक्की छत पर जाने लगा, तो मैंने कहा- कल तो मेरे दबा रहे थे, आज इतनी शर्म क्यों महसूस कर रहे हो?इस पर वो थोड़ा मुस्कुरा दिया. इंडियन सेक्सी पंजाबीमैं स्टिक को उसके मुंह के पास ले गया जिसको वो झट से चाट गयी। वो थोड़ी सी शांत हुई.

घर आकर जब मैंने इस पूरे घटना क्रम के बारे में सोचा, तो पाया कि कामिनी के साथ हुई चुदाई बहुत ही लाजवाब थी. चुत के दाने को जीभ से सहलाता, होटों से दबता और मुँह में भर कर जोर से चूसता.

चूचियां छाती से रगड़ रही थीं और ट्रेन चल पड़ी थी, थोड़ी देर में ही ट्रेन ने रफ्तार पकड़ ली. मैंने भाभी को सोफ़े पे लिटा दिया और उनका ट्रेक सूट उतार कर अलग कर दिया. और इतना तो पता ही है मुझे!मौसी- अच्छा ठीक है, तू अपना ये प्रवचन बाद में मुझे सुनाना, अभी मैं जा रही हूं.

पहले हॉल में, फिर सड़क पर, फिर यहां अपनी ही बिल्डिंग में मुझे नंगी घुमा रहा था. बारह बजे तक पढ़ने के बाद कुलजीत ने लाइट बंद कर दी और हम लोग लेट गये. इसके लिए आप अपने मत और सुझाव मुझे मेल के जरिये जरूर भेजिए, जिससे मैं अपनी कहानी को और रोमांटिक तरीके से आपके सामने पेश कर सकूं.

उन्होंने धीरे से आवाज निकाली और बोली- क्यों जी, आज नहीं चोदोगे क्या?मेरी तो फटी पड़ी थी, पर मैं कुछ नहीं बोला.

उसने मेरी पजामी का नाड़ा खोल दिया और दूसरे ने मेरे सूट को ऊपर उठाते हुए मेरे कंधों से निकालते हुए मेरे बदन से अलग कर दिया. आह … उसका गोरा जिस्म … कड़क उठे हुए चुचे, उन पे गुलाबी निपल्स, सपाट पेट, नंगी पीठ, गोरी बांहें, सुराही दार गर्दन, पतली कमर, उठे हुए चूतड़ और कसी हुई गांड.

वो चीखना चाहती थी लेकिन उसने आवाज को अंदर ही दबा लिया क्योंकि अगर रितेश और मानसी को आवाज सुनाई दे जाती तो सारा खेल बिगड़ सकता था. मुझे ऐसा लग रहा था कि शायद ये अपनी जिन्दगी में शायद दस बीस बार की चुदी हुई चूत ही थी. उसके यौवन की कली पर अपने प्यार की पहली किरण मैं ही छोड़ना चाहता था.

रफ्तार बढ़ी, आनन्द बढ़ा, लण्ड फूलकर और मोटा होने लगा, धकाधक दौड़ते दौड़ते मंजिल आ गई और लण्ड ने पानी छोड़ दिया. कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि पहली रात को मैंने वासना से वशीभूत होकर मोनी की चूत तक पहुंचने का रास्ता बना लिया. उसके होंठों की छुअन से मेरे लंड में फिर से तनाव आने लगा लेकिन उसको चोदने की अब हिम्मत नहीं हो रही थी क्योंकि मुझे भूख लग गयी.

इंग्लिश फिल्म बीपी बीएफ उधर वो दोनों लेकलान और मारव पूरे दम से मुझे दोनों छेदों से चोद रहे थे. स्कूल से मेरे घर तक के रास्ते में कई स्पीड ब्रेकर्स थे जिनके पास आवारा लौंडे खड़े रहते थे.

कैटरीना कैफ के सेक्सी बीएफ

बीच में मैंने एक बार उसकी टांगों को हवा में उठाकर चोदा और मजा आया तो आपस में सटाकर उसको चोदने लगा. वे बोली- कोई और होटल में चलते हैं अगर ऐसा लगता है तो?फिर मैंने उन्हें कहा- नहीं आज इतना काफ़ी है, फिर कभी करेंगे. आंटी बोलीं- तुम्हारा लंड वाकयी बहुत बड़ा है यार … कंडोम भी पूरा नहीं आता है.

फिर उसने मुझे लिटाया और मेरे ऊपर चढ़ गया और थोड़े से धक्कों में वो झड़ गया। मैं पूरे मज़े में थी. चूँकि मैं अकेली ही जाने वाली थी … तो शाम की बस से मैं जैसलमेर के लिए निकल गयी. राजस्थान का सेक्सी व्हिडिओएक औरत ने मौसी का हाथ मेरे लंड पे रखा और मेरे हाथ मौसी के चुचे पर रखवा दिए.

वो परिवार बहुत ही मिलनसार था, तो थोड़े ही दिन में मेरी मम्मी से उन आंटी की दोस्ती हो गई और हमारा एक दूसरे के घर आना जाना चालू हो गया.

अभी तक इस कहानी के पहले भागमोटे लंड की प्यासी चूत और मेरा चोदू बॉस-1में आपने पढ़ा कि ससुराल जाने के बाद मुझे गांडू पति मिल गया जो 3-4 मिनट से ज्यादा मेरी चुदासी चूत के सामने टिक ही नहीं पाता था. मैंने हाथ उसकी पीठ पर रख कर दूसरी तरफ घुमाया और फोर्थ फ्लोर की तरफ चल दिया। वो वैसे ही नंगी हाथ पीछे किये हुए मेरे साथ चलने लगी.

उसके बाद ताऊ जी ने दोबारा से तेल की शीशी से थोड़ा तेल निकाला और अपने लंड पर मल लिया. मैंने कहा- क्या हुआ तेरी बोलती क्यों बंद हो गई?फिर मैंने मानसी के गाल पर किस किया और उसके माथे पर हाथ फिराने लगा. उस बंदे ने मेरी चूत के पूरे पानी को चाट लिया, तो मुझे लगा कि बस अब खेल खत्म हो गया.

अपनी अपनी जीभ निकाल के एक दूसरे की जीभ चूमते रहो और चुदाई का मज़ा लेते हुए अपने पार्टनर के चेहरे पर आते हुए मधुर आनंद के भाव देखते देखते प्यार की बातें फुसफुसाते रहो.

हम दोनों लोग एक दूसरे के बारे में बहुत कुछ जान गए और पसंद-नापसंद के बारे में भी जान गए कि हम दोनों लोगों को क्या पसंद है और क्या नहीं. मैंने उसकी चूत पर एक पप्पी दी और फिर उसको दीवार से सटा कर उसकी टांग को उठाते हुए उसकी चूत पर लंड को लगा दिया. मैंने कहा- विक्की तुम निहारिका के साथ सेक्स क्यों नहीं करते?तो विक्की ने बताया- मैं तो करना चाहता हूँ, लेकिन वो खुद मना करती है … जबकि अपने बॉयफ्रेंड से खूब मजे से सेक्स करती है.

गुजराती पिक्चर सेक्सीउसकी पेंटी के साथ-साथ मेरी हथेली भी भीगती चली गयी।अब मैं ठहरा चूत चाटने का रसिया। मोनी की चूत से बहते इस गर्म गर्म कामरस को महसूस करके मुझसेरहा नहीं जा रहा था इसलिये मोनी को छोड़कर मैं अब उससे थोड़ा अलग हो गया। मोनी पहले ही नीचे से दूसरी तरफ मुड़ी हुई थी जो कि मेरे छोड़ते ही अब करवट बदलकर दूसरी तरफ हो गयी। मगर मोनी ने करवट बदलकर बस अब अपने मुँह को ही दूसरी तरफ किया. रात को जब वो गहरी नींद में सो रही थी मैंने पिछली रात की तरह ही उसको नंगी करना शुरू कर दिया.

बीएफ फिल्म सेक्सी नई

क्यूंकि आज बुधवार था और दोपहर का शो था तो सिनेमा हॉल लगभग पूरा खाली ही था आगे की सीटों पर कुछ ही लोग बैठे थे. लेकिन जब से जीएफ हाथ लगी है, तब से इसी की चूत को भाभी की चूत समझ कर चुदाई के सपने पूरे कर लेता हूँ. उन्हें देखकर मैं अपनी अम्मी और अंकल को इमेजिन करने लगा कि कैसे अंकल अम्मी की चुदाई करेंगे … कैसे मेरी अम्मी अंकल का लंड अपनी चुत में लेंगी.

थोड़ी देर बाद मैंने सुना अर्पित के रूम से टीवी से अजीब सी आवाजें आ रही थीं- आहह अहह … उम्म्ह… अहह… हय… याह… यासस … याअसस्स. मैं उनसे पूरी तरह खुल चुका था। मैं कुछ डबल मीनिंग बाद भी करने लगता था। मैंने उनको सामने से नहीं देखा था लेकिन कॉलिंग में और वीडियो कॉल में हमारी बातें होती थी।एक दिन उन्होंने मुझसे पूछा- तुम्हारी कोई गर्लफ़्रेंड नहीं है?मैंने उनको बताया- गर्लफ़्रेंड भी है और बहुत सारी फ्रेंडज़ भी तुम्हारी तरह जिनसे मैं बात करता हूँ इसी तरह।शायद उन्हें मेरी बात का बुरा लगा और तीन चार दिन बात नहीं हुईं. ये पहली बार था, जब मैं किसी लड़की को बिना टॉप और ब्रा के देख रहा था.

तब उसने धीरे से अपनी उंगली मेरी चूत में से बाहर निकाली और वो अपनी उंगली चाटने लगा. मैं समझ गया कि मनीषा की चूत प्यासी है और इसको तगड़ी चुदाई की जरूरत है. जैसे ही मैंने काजल की घुंडी को मसला, तो उसके मुँह से एक मादक सिसकारी निकल गई- अह्ह्ह … शी … अह्ह्ह …अब मैंने देर न करते हुए उसकी एक चूची ब्रा में से बाहर निकाल ली.

इस पर भाभी ने हल्की सी स्माइल दे दी और मुझे नॉटी नज़रों से देखने लगी. उसके बाद बुआ ने मेरे से पूछा- तेरी कोई गर्लफ्रेंड है या नहीं?पहले तो मैं डर गया कि ये क्या पूछ रही हैं.

वो मेरे गर्म मुंह को अपनी गर्म हो चुकी चूत पर बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी.

यह सोच कर ही मन रोमांचित हो रहा था। मैं लेटे-लेटे सोचने लगा कि अब कल क्या होगा? अब तो ये खेल शुरू हो गया है. बाबा सेक्स व्हिडीओइनका कद 5 फुट 3 इंच है, उम्र 23 रंग गेहुआ, दुबला पतला कामुक शरीर जो हमेशा काम क्रिया के लिए तैयार ही बैठा रहता है. हिंदी सेक्स व्हिडिओमैनेजर ने मुझसे मेरा मोबाइल नम्बर लिया और कहा- अगर कोई रास्ता निकला, तो तुम्हें कॉल कर देंगे. एक दिन भाभी के पति जैसे ही ऑफिस गए, मेरा दोस्त नेहा को मूवी दिखाने ले गया.

इस हवाई सफर के दौरान हम दोनों एक दूसरे के हाथ को हाथों में लिए बस कसमसाते रहे और अपनी भावनाओं को आंखों से ही व्यक्त करते रहे.

मैंने पूछा- तुम तो सिर्फ कॉफ़ी लायी हो?यह कहानी अभी अगले भाग में जारी रहेगी। आशा करता हूँ कि कहानी अंतर्वासना के प्यारे पाठकों को पसंद आयी होगी. मैं आज से तुम्हारी बीवी हूँ … आह इस चुत को फाड़ दो … मुझे ये बहुत तंग करती है … मैं तुम्हारी दासी हूँ. वह बोली- तो मैं क्या करूं?मैंने कहा- जिस तरह से मैंने तुम्हारे साथ किया है तुम भी वैसे ही करो.

मेरा बदन थोड़ा सा भरा हुआ मांसल हो गया है अब; पहले मैं छरहरी हुआ करती थी. मैं थोड़ी मस्ती के मूड में आ गई और सोचा कि क्यों ना इसको और परेशान करूँ. उस पर लाल रंग की चादर बिछी थी और पूरे रूम में एक मादक गंध फैल रही थी जिससे माहौल पूरा सेक्सी हो रहा था.

बीएफ चुदाई सुहागरात की

मैं वाशरूम में जाके हल्का होके बाहर निकला तो देखा कि आंटी ने नाइटी पहनी हुई थी. जीभ का चूत पर अहसास होने के साथ ही उसने अपनी मुंडी घुमायी और बोली- अच्छे-अच्छे की औकात चूत के आगे फेल हो जाती है. मैंने उसके बदन का स्पर्श पाने के लिए नींद में होने का नाटक किया और अपना लंड उसके नितम्बों की दरार में घुसा कर रगड़ने लगा.

यह जानकर‌ जिससे मुझे अब कुछ राहत मिल गयी।पेशाब करने के बाद मोनी ने वापस बिस्तर के पास आकर अब एक बार तो मेरी तरफ देखा फिर चुपचाप वो बिस्तर के दूसरी तरफ सो गयी। पहले मोनी अन्दर दीवार की तरफ सो रही थी और मैं बाहर किनारे की तरफ.

मैं अब कुछ देर तो ऐसे ही पड़ा रहा मगर जब मेरी हिम्मत जवाब दे गयी तो मैंने भी अब फिर से करवट बदलकर अपना मुँह मोनी की तरफ कर लिया‌। करवट बदलते हुए मैं अब थोड़ा ज्यादा ही खिसक कर मोनी के पास हो गया जिससे कि मेरा पूरा शरीर मोनी के बदन से चिपक गया और मेरा उत्तेजित लंड तो सीधा ही मोनी‌ की‌ एक जाँघ को छू गया।मोनी के बदन‌ से चिपक कर मैं कुछ देर तो अब बिना‌ कोई हरकत किये ऐसे ही पड़ा रहा.

वो थोड़ी सी डरी हुई थी क्योंकि ये कोई होटल नहीं, उसका खुद का घर था। यहाँ सब उसे जानते थे।हालाँकि इस फ्लोर पर कोई रहता नहीं था. मैं बाथरूम में पहुंचकर देखना चाहा कि कहीं वो पानी का लोटा लाकर मेरे ऊपर डालने वाली तो नहीं है. चाचा भतीजी सेक्स वीडियोमेरा जोश हर पल उबलता हुआ मेरे लंड के धक्कों को उसकी चूत फाड़ने के लिए उकसा रहा था.

हम दोनों में धीरे-धीरे दोस्ती हो गई लेकिन कुछ दिन के बाद उसने वह जॉब छोड़ दी और वह दूसरे शहर में चली गयी. लेकिन लंड में वासना का जोश भर हुआ था जो हर पल मुझे और आगे बढ़ने के लिए उकसा रहा था. क्योंकि मैंने निक से शादी कर ली थी और उसे निभाने का वचन भी बहुत बार दे चुकी थी.

तभी अंकल ने एक तेज धक्का मार दिया और अपना पूरा लंड मेरी चुत में पेल दिया. मैं बेकरार हो रहा था लेकिन आंटी की बेकरारी का इन्तजार कर रहा था जो जल्दी ही खत्म हो गया.

असली काम तो अभी बाकी है।वो मुस्कुरायी और बोली- हाँ मेरे घोड़े …मेरे होंठों को चूम कर प्रीति मुझसे अलग हुई और घोड़ी बन गयी। मैंने उसकी गर्दन पकड़ कर एक ही झटके में अंदर लौड़ा डाल दिया.

मैं अपनी कहानी शुरू से कहूं तो मेरा जन्म एक साधारण निम्न मध्यम परिवार में हुआ, पिता जी एक सरकारी दफ्तर में चपरासी थे, मेरी माँ, एक बड़ी बहिन, दो बड़े भाई; बस यही मेरा परिवार था. मैंने कोल्ड ड्रिंक का गिलास अदिति की तरफ बढ़ाया तो उसने शर्माते हुए गिलास पकड़ लिया. मैं वहाँ से निकला, अच्छे से होटल में एक कमरा बुक किया, अपना बैग रखकर थोड़ी देर आराम किया और डॉली को लेने के लिए उसके सेन्टर पहुंच गया.

साउथ इंडियन सेक्सी एक अजब सी सनसनाहट मेरे पांवों से होते हुए ऊपर मेरी जाँघों तक चढ़ने लगी. जो कहानी मैं आपको बताने जा रहा हूं यह बात तब की है जब मैं अपने गांव में गया था.

इतनी जल्दी दिल्ली में फ्लैट का इंतजाम नहीं हो सकता था, इसलिए मैंने अपने रुतबे का इस्तेमाल करते हुए दिल्ली से थोड़ा बाहर एक रूम के फ्लैट का इन्तजाम करवा दिया और उसको भरोसा दिया कि बहुत जल्दी ही मैं अच्छा सा फ्लैट दिल्ली में दिलवा दूंगा. एक अजब सी सनसनाहट मेरे पांवों से होते हुए ऊपर मेरी जाँघों तक चढ़ने लगी. मेरी भी नहीं?”मेरी इस बात पर वो हंस पड़ी और उसने मेरे सीने में मुक्का दे मारा.

बीएफ इंडियन सेक्स व्हिडिओ

उसने देखा कि दिशा की चूत से खून निकल रहा था- दिशा तुम्हारी सील टूट चुकी है, अब तुम एक औरत बन चुकी हो. दिन के समय दोपहर में मेरी बहन नहाने के बाद मेरा हाफ पैन्ट पहने हुई थी. लेकिन मेरी चूत आज काफी टाइट थी क्योंकि मैं बहुत दिन से चुदी नहीं थी.

ताऊजी ने पास ही रखी हुई तेल की शीशी उठाई और अपनी हथेली पर थोड़ा सा तेल लगा कर बुआ की चूत पर मलने लगे. उसने मुझसे कहा- ठीक है पंकज जी, आप मेरे साथ मेरे कमरे में चलिए, वहीं पर आप मेरी मसाज कर सकते हैं.

इधर मेरी जीभ भी उसकी चूत को चाटते-चाटते कब उसकी गांड तक पहुंच गई, पता ही नहीं चला.

दोनों ने मेरी चूत के साथ साथ मेरी गांड भी चोद चोद कर खुली कर दी थी. सारा को चोदने के बाद कैसे मैंने अपनी दूसरी बीबी ज़रीना को चोदा,वलीमे की रात मैंने दोनों की गांड मारी और सुबह डॉक्टर को दिखाना पड़ा और डॉक्टर ने तीन दिन चुदाई बंद का हुकुम सुना दिया. थोड़ी देर के बाद मैं सामान्य हुआ, तो उसने लंड बाहर निकाला और सीधा लेट गया.

मेरी 38 इंच की चूचियां हाहाकारी हो गई हैं, चिकनी कमर 30 की हो गई है और 42 इंच की गांड हो चुकी है. वो जब टिकेट बना रहा था, तब मेरी खुशी का ठिकाना नहीं था क्योंकि सब प्लान के हिसाब से हो रहा था. फिर अंकल जी नीचे कालीन पर बैठ गए और मेरे दोनों पांव उठा कर अपने सीने से लगा उन्हें चूमने लगे.

मैं और मेरे पापा हमेशा एक ही टाइप का पजामा पहनते थे तो माँ को वैसे भी समझ नहीं आने वाला था कि वहां पे मैं सोया हूं, पापा नहीं.

इंग्लिश फिल्म बीपी बीएफ: सुडौल और विकसित होता जिस्म जब वह आइने में देखती होगी तो उसका मन सेक्स की तरफ भी जरूर जाता होगा. चूंकि प्रिया मैथ्स में बहुत कमजोर थी इसलिए उसको लालच आ गया और वो पूछ बैठी- मुझे क्या करना होगा सर?मैंने कहा- अगर तुम मनमीता से मेरी बात करवा दो तो मैं तुम्हें मैथ्स में आसानी से पास करवा सकता हूँ.

मैंने जैसे ही लंड मौसी की गांड पे लगाया, मौसी बोलीं- नहीं बेटा … मेरी आज तक किसी ने गांड नहीं मारी … ऐसा मत कर. मैंने देखा कि रानी के चूचुक पर मेरे हाथों के लाल लाल निशान पड़ गए थे. जैसा कि मैंने पहले बोला मेरा नाम प्रिन्स है और मैं इंदौर एमपी से हूँ.

चूंकि उसका मुंह मैंने उसी की पैंटी को मुंह में ठूंस कर बंद किया हुआ था तो वो बोल नहीं पा रही थी। यह कल के सेक्स वाली पैंटी थी.

इसलिये मैं अब उससे दूर ही रहने लगा।दो-चार दिन तो मोनी भी मुझसे अलग-अलग सी रही मगर फिर धीरे-धीरे उसने भी मुझसे‌ थोड़ा बहुत बात करना शुरु कर दिया। वैसे भी वहाँ घर में हम दोनों ही थे और लगभग दिन-रात एक साथ ही रहते थे।आप भी इस बात का अंदाजा लगा सकते हैं कि एक ही घर में दिन‌ रात एक साथ रहेंगे तो एक-दूसरे से बात किये बिना‌ कब तक‌ रह सकते थे. उसने कहा- आशना आगे की ओर घूम जाओ … पर अपनी आंखें बंद रखना … ठीक है!वो मेरे ऊपर से हट गया. सीकर में मेरे पास वाली सीट खाली हो गई तो मैंने उसको बैठने के लिए कह दिया.