एक्स एक्स बीएफ गुजराती

छवि स्रोत,बीपी वीडियो एक्स एक्स एक्स

तस्वीर का शीर्षक ,

एक्स एक्स मिया खलीफा: एक्स एक्स बीएफ गुजराती, तभी अनन्या की मदभरी आवाजें आने लगीं और मैं फिर से कामवाली बाई से लेस्बियन को लेकर सवाल करने लगा.

मोटी आंटी की सेक्सी

वो सब औरतें ठीक मेरे पास ही खड़ी थीं क्यूंकि बस में काफी भीड़ भी थी और कोई सीट खाली नहीं थी. मराठी नंगी चुदाईदीदी भी मस्ती से मम्मे दबवा रही थीं, वो बोलीं- हां, तेरे जीजा जी के हाथों का कमाल है.

मैं मन ही मन कामदेवता से प्रार्थना करे जा रहा था कि आगे भी मुझे ऐसी ही मस्त महक वाली रसीली चूत चूसने को मिलती रहें. सेक्सी बफ देसीमेरा लंड तो खुशी से फूलकर अपनी औकात में आ गया और उसकी चूत की गर्मी को महसूस करने लगा था.

सुमोना अब धीरे धीरे गर्म होने लगी थी तो मैंने अपने लंड को और अन्दर तक घुसाया और मेरा लंड सुमोना की चूत में आधा घुस चुका था.एक्स एक्स बीएफ गुजराती: रानी ने बोला कि अब एक बार लौड़ा चुत में घुसा दो ताकि चूत को भी आराम मिल जाए.

अब आगे सीलपैक गर्ल की चुदाई कहानी:इसके बाद हम दोनों एक बार फिर नहा कर वापस नंगे ही बाहर आ गए.योनि से बह रहा लसलसा रस उसकी उंगली पर मेरे पेटीकोट और साड़ी से छनकर पहुंच चुका था.

हिन्दी में चुदाई - एक्स एक्स बीएफ गुजराती

राजीव को पता चला कि मैं माँ नहीं बन सकती हूँ … तब राजीव और ज्यादा खुश हुआ.कभी मैं उसके मुलायम गुलाब जैसे होंठों को चूमता, तो कभी गर्दन पर किस करता, तो कभी उसके कान की लौ काट लेता.

सभी लड़कों का जब भी मन करता था, मेरी चूचियां दबा देते थे, जिसका नतीजा ये हुआ कि एक साल में ही मेरी चूचियां काफ़ी बड़ी हो गईं. एक्स एक्स बीएफ गुजराती भाभी ने घुटनों के बल बैठ कर मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगीं.

कुछ शॉट के बाद उसका दर्द कम हुआ तो वो गांड हिलाते हुए बोली- आह राज चोदो … और तेज़ तेज़ चोद … आहह घुसा दे पूरा लौड़ा … फ़ाड़ दे मेरी बुर … आहह हहह ऊईई ईईईई.

एक्स एक्स बीएफ गुजराती?

जब मैंने उनको देखा, तो पूछा- अंकल क्या चाहिए?वो बोले- कुछ नहीं बस तुम्हें देखा तो आ गया. मेरा उससे कोई खास परिचय नहीं था क्योंकि वो बहुत दूर की रिश्तेदार थी. लेकिन आज जब मैंने उसे नंगी किया तो मैंने उसके फिगर का साइज देखा था.

तभी एक दिन अपने घर के आँगन में पैर फिसलने से मुमताज गिरकर बेहोश हो गई. कुछ ही दिनों मैं अच्छे से गाड़ी चलाने लगी थी और अक्सर कभी मन किया तो अकेले ही लंबी ड्राइव पर अकेली ही निकल जाया करती. तभी अंकल ने मम्मी को प्यार से समझाया और कहा- सुशीला, तुम्हें मालूम है कि मैं तुमसे प्यार करता हूं.

जैसे ही मैंने चुत चाटनी चालू की, वैसे ही बुआ ने मेरा सर थाम लिया और उसको अपनी चुत पर दबाने लगीं. सेक्सी औरत चुदाई कहानी के पहले भागजुम्मन की बीवी की चूत नहीं मिली तो …में आपने पढ़ा कि मैं जुम्मन की खूबसूरत बीवी कि चूत मारना चाहता था पर वो ना मिली. नाज के हाथ में व्हिस्की की बॉटल देते हुए मैंने कहा- शबाना की चूचियों पर एक एक बूँद टपकाती जाओ, मैं पीता रहूँगा.

मेरी पिछली कहानी थी:देसी लड़की मामा के बेटे से चुदीआज मैं अपनी एक सच्ची पोर्न फॅमिली कहानी लेकर आई हूँ. बीस मिनट की ताबड़तोड़ चुदाई के बाद मैंने लंड का सारा माल चुत में ही निकाल दिया.

मित्रो, भाभी की सेक्स चुदाई आपको कैसी लगी? आपको यह कार सेक्स कहानी पढ़कर मजा आया होगा, ऐसी मेरी आशा है.

10 मिनट बाद मॉम झड़ गई और मैं चूत से निकला सारा रस गटक गया, मैंने एक भी बूंद बर्बाद नहीं होने दी.

मैं फिर भी उसे इतना प्यार करता था कि मैंने रिश्ता तोड़ना ठीक नहीं समझा और ऐसे ही चलता रहा. जाने से एक दिन पहले मैंने शरद के लिए एक सरप्राइज पार्टी का इंतजाम किया और उसके आफिस के सारे दोस्तों को घर पर खाने पर आमंत्रित किया. निशा ने अपनी ही चूत के पानी को मेरे मुँह से चाट चाट कर साफ किया और अब उसने अपने थूक से वापस मेरे मुँह को गीला करना शुरू कर दिया.

मूड बन जाता तो कभी मैं असीम से कुछ बियर भी लाने कह देती, कभी अपना मन बहलाने के लिए ऑफिस के दोस्तों के साथ कोई फ़िल्म देखने चली जाती, या घर पर ही कोई अच्छी सी क़िताब पढ़ लेती. वो उचक पड़ी … मगर मैं उसकी गांड को एक हाथ पकड़ कर अपनी उंगली को उसकी चुत में अन्दर बाहर करता रहा. ये सुनकर मैंने अपने लोअर को भी घुटनों तक नीचे किया और लंड को बाहर निकाला.

वो अपनी टांगें सामने टेबल पर पसारती हुई बोलीं- अंश एक सिगरेट सुलगाओ.

उन्होंने भी अपनी गांड से पैंटी नीचे सरकाई और मेरा सर पकड़ कर अपनी चूत पर दबा दिया और अपनी चूत को मेरे होंठों पर रगड़ने लगीं. मैंने किसी तरह से खिड़की में से झांक कर देखा कि मेरी बीवी दरवाज़े के बग़ल में झुककर अपने घुटनों के बल बैठी थी और दूल्हा बना मेरा दोस्त फर्श पर लेट कर उसके मुँह में लंड दिए चुसवा रहा था. मैंने देखा कि अंकल सिर्फ लुंगी पहने हुए थे और उनके सीने पर कुछ भी कपड़ा नहीं था.

बात उस समय की है, जब मेरी पहली वाली गर्लफ्रेंड की मां गीता के साथ चुदाई का आलम मस्ती से चल रहा था. दो दिन में ही हम दोनों के बीच सेक्स को खुली खुली बात करना शुरू हो गया. मैं ऊपर रूम में जाकर कंडोम लेकर आया और लंड पर कंडोम चढ़ा कर उसको वहीं चोदने लगा.

मैंने नोटिस किया कि अब निशा का हाथ हल्के से गर्म हो रहा था और उस कमरे में मुझे अब निशा की चलती सांसों का अहसास हो रहा था.

अगले दिन जब मैं फिर से उस दुकान पर गया, तो मैंने उनको फिर वहीं देखा. मैंने भी उठ कर कपड़े पहने और उसको बोला- तू बाथरूम में चली जा, मैं देखता हूं.

एक्स एक्स बीएफ गुजराती तेरा क्या भरोसा पहले तू मुझसे फंस जाए और फिर किसी दिन तेरी इच्छा भर जाए … तो किसी और को फंसा ले. इसी प्रकार हम दोनों ने इस नई परिस्थितियों को स्वीकार किया और अपने आने वाले कल के बारे में सोचने लगे.

एक्स एक्स बीएफ गुजराती जब दर्द कम हुआ तो वो बोली- राज, तुम मस्त चोदते हो … और तेज़ करो।मैं जोश में आ गया और उसको घोड़ी बनाया और पीछे से ताबड़तोड़ चुदाई करने लगा।अब समारा की आवाज पूरे कमरे में गूंजने लगी थी और मैं तेज़ तेज़ चोदने लगा. कार्तिकेय मेरी चुत खोदता हुआ बोला- साली मेरी कुतिया … अभी तो ये शुरुआत है … देखती जा मेरी छिनाल रंडी … कितना रगड़ूँगा तुझे मैं!मैं- आह रगड़ दो मेरी जान … मैं तुम्हारी ही कुतिया हूँ … अपनी जया कुतिया की चुत रगड़ रगड़ कर लाल कर दो … उफ्फ्फ अह्ह्ह ह्म्म उम्म आईए आह.

ये बात आज से 4 साल पहले उस समय की है, जब मैं MBA करने के बाद इकोनॉमिक्स से MA करने का सोच रहा था.

अरे यार बीएफ

अपना पूरा जोर लगा कर मैंने उसको बांहों में भर लिया और वह भी मेरी पीठ को खूब सहला रही थी. ’बाहर से अनन्या की कोई आवाज नहीं आयी मगर मैं बस उसे छेद को फाड़ देना चाहता था. मैं सपनों में खोई हुई थी और अब्बू का लण्ड अपने जिस्म में समाने के लिए तैयार थी.

उस समय मैं अपने जीजू के घर गई थी क्योंकि उनके घर पर उस टाइम कोई नहीं रहने वाला था. मैं अपनी इस उम्र में कुछ समझ नहीं पाता था कि ये सब क्या है क्योंकि मैं तब गांडू लड़का नहीं था. रण्डी माँ ने कहा- कहीं मैं प्रेग्नेंट हुई तो?अंकल ने कहा- क्या तुम नहीं चाहती हो सुशीला कि अपना एक बच्चा हो!मां ने हां में सिर हिला दिया और अंकल ने मां को प्यार से माथे पर चूम लिया.

वो भी गर्म हो गया था, उसने मेरे एक दूध पर अपने होंठ लगा दिए और मैंने उसको अपने दूध चुसाने लगी.

अन्दर आकर मैंने कुंडी लगा ली और सीधे ही रानी के बेडरूम में पहुंच गया. लंड ने तेजी से चुत फाड़ना शुरू किया तो अंजुमन और ज़ोर से सिसकारियां लेने लगी थी- आह ऊह हाय्य … मजा आ रहा है और चोदो और चोदो!ये कहती हुई वो अपने गोल गोल चूतड़ बड़ी तेजी से उछाल रही थी. नतीजा यह हुआ कि थोड़ी देर बाद मुमताज हाँफने लगी और उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया.

मेरी कुछ समझ में नहीं आ रहा है, आप करना क्या चाहते हो?जुनैद भाई ने मुझसे कहा- तू बोलता था ना कि मैं तेरे मुँह का पानी पीता हूं … तो मैंने एक हफ्ते तक अन्दर जमा कर रखा था, आज वो पानी तेरे मुँह में वापस डाल दूंगा. दो मिनट के किस के बाद मैंने उन्हें अपने से दूर किया और समझाया कि कोई आ जाएगा. मैंने देखा कि मॉम एक खीरे पर कॉन्डम चढ़ाकर अपनी चूत पर अंदर बाहर कर रही थी.

भाभी औंधी हो गई थीं, तो मैंने उनके कूल्हों को हल्के हल्के से दांतों से काटना शुरू कर दिया. सोने से पहले हमारे बीच तय हुआ कि मैं मैम को सुबह कॉलेज लेकर जाऊंगा.

मैं विराट आपको आज अपनी मां निशा की एक डॉक्टर से चुदाई की कहानी सुनाने जा रहा हूँ. दोस्तो, आपको मेरी जूनियर गर्ल सेक्स कहानी अच्छी लगी या नहीं? मुझे कमेंट्स में बताएं. अब ये बात साफ़ हो चुकी थी कि वो मेरे साथ लंड चुत गांड चुदाई का खेल खेलने को राजी थी.

इन दो ही दिनों में धीरे धीरे हम दोनों एक-दूसरे से काफी घुल मिल गए थे.

उनके लंड के झांट के बाल और सीने के बालों की चुभन मेरे नाजुक से शरीर में सुई की तरह चुभ रही थी. अब आगे पड़ोसन Xxx कहानी:सरिता भाभी की जिन्दगी में रोमी, सोनू और दूध वाले की तरह एक एक करके कई मर्द आते रहे और सरिता भाभी की चुत लंड लेती रही. फोन अपनी कमीज़ की जेब में रख कर मेरे कान में धीरे से फुसफुसाया- मेरा स्टॉपेज 5-7 मिनट में आने वाला है.

मुझे समझने में थोड़ा सा भी वक्त नहीं लगा और बिना रुके मैं उनसे सटने की कोशिश करने लगा. मैं अपने लंड और इस मौसम की मार को कोस रहा था कि कहीं ये कुछ ज़्यादा तो नहीं हो गया.

आपको मेरी यह होटल हॉट सेक्स स्टोरी कैसी लगी, कृपया करके मुझे ईमेल पर बताएं. मैंने उसी समय बाथरूम में जाकर उस ब्रा-पैंटी को पहना, तो मेरे चूचे और चुत साफ़ दिख रहे थे. सभी लड़कों का जब भी मन करता था, मेरी चूचियां दबा देते थे, जिसका नतीजा ये हुआ कि एक साल में ही मेरी चूचियां काफ़ी बड़ी हो गईं.

बीएफ बीएफ सुहागरात वाली

सुहागरात की देहाती चुदाई कहानी में पढ़ें कि एक लड़के ने अपनी विधवा माँ को चाचा से चुदाई करवाते देखा.

फिर मैंने अपनी बहन को बिस्तर में लेटा दिया और उसकी गांड के नीचे तकिया रख दिया ताकि उसे अच्छे से चोदते बने. अब्बू के लण्ड का सुपारा मेरी बुर के लबों में फँसा हुआ था, तभी अब्बू के लण्ड से गरम गरम रस निकला. इनका लंड दुबारा से खड़ा भी हो पाएगा?ये कहकर अंजू मेरे लंड को अपने हाथ में लेकर देखने लगी.

मैंने ज़ीनिया को पटा कर तो चोद लिया था लेकिन उसकी मम्मी सविता सिंह ने मेरे लम्बे लंड को देख लिया था. बुआ मुझे देखती हुई बोलीं- कितना बड़ा हो गया है तू … मैं तो तुझे पहचान ही नहीं पाई. ভারতীয় ব্লু ফিল্মकुछ सोच कर मैंने सोने के बहाने से फिर से अपना सर उसके हाथ पर रख दिया.

थोड़ी देर बाद जेठ जी को सोता छोड़ मैंने अपने कपड़े पहन लिए और रसोई में काम करने चली गयी. मैंने उसके साथ बातचीत जारी करते हुए उसकी चाहत के बारे में पूछा- आप मेरे साथ क्या क्या करना चाहती हैं!वो बोली- बस आप यूं समझिए कि उस लड़की की जगह मैं अपने आपको देखना चाहती हूँ.

पहले ही धक्के में मेरा लंड आधा उसकी चूत को चीरता हुआ अन्दर घुस गया. थोड़ी देर बाद जब वो अपनी गांड उठा उठाकर मेरे धक्कों का जवाब देने लगी तो मैंने कॉलेज गर्ल की चुदाई की स्पीड को बढ़ा दिया. और आंटी की लचकती कमर और भरी हुई थिरकती गांड को देख कर किसी का भी लंड खड़ा हो सकता था.

वहीं हम दोनों साथ में नहाए और बाथरूम में ही मैंने साली साहिबा की चूत पर अपनी पेशाब की धार मार दी. ऑफिस जाने से पहले श्रेया ने हम दोनों को किस किया और हम ऑफिस के लिए निकल गए. मैं थोड़ी देर तक उनके बूब्स को ही देखता रहा तो उन्होंने कहा- जल्दी कर ले … कोई आ जाएगा.

हम लोग घर से बाहर तो जा नहीं सकते थे तो हमारे गांव के ही हॉस्पिटल जाना पड़ा था.

वहीं हम दोनों साथ में नहाए और बाथरूम में ही मैंने साली साहिबा की चूत पर अपनी पेशाब की धार मार दी. मैं शहर में रहती हूँ इसलिए मैं बहुत बार अपने पड़ोस की औरतों के साथ बाजार करने और ब्यूटीपार्लर जाती रहती हूँ.

हमारी सांसें गर्म हो चुकी थीं और हमारी नजरें एक दूसरे को ही ताक रही थीं. तू भी एकदम नॉटी थई गयो छे सोढ़ी! बेटे के सामने ही मां को चोद दिया?” इतना बोलते ही रोशन ने अपने होंठ सोढ़ी के होंठ पर टिका दिए और रोशन को एक बड़ा सा किस कर दिया. मैंने उसने पूछा- आप कहीं जा रही हो क्या?उन्होंने मुझसे पूछा- पहले तुम बताओ कि क्या हुआ?मैंने उनको बताया- कुछ खास नहीं सब नार्मल है.

बहुत दिन हो गए थे, तो मैंने सोचा कि एक सेक्स स्टोरी लिख कर आप लोगों से जुड़ा रहूँ. मैंने उन चाची को बहुत बार चोदा और उनके अंदर ही अपना माल गिराया क्योंकि चाची मेरा बच्चा अपने पेट में चाहती थी. बुआ से मेरी नजर मिली तो उन्होंने नजरें नीचे कर ली और अन्दर चली गईं.

एक्स एक्स बीएफ गुजराती मैंने ध्यान दिया तो देखा कि नीचे उसने लाल रंग की पैंटी पहनी हुई थी. मेरे कसे हुए मम्मे, जो मेरी ब्रा में कहने को कसे थे, लेकिन वो बाहर आने को बेताब दिख रहे थे.

बीएफ सेक्सी भाभी के

अब मैं रुकने वाला नहीं था क्योंकि बड़ी मशक्कत के बाद ऐसा आनन्द आ रहा था. मैं पिछले 3 महीनों से किसी ऐसे लड़के की तलाश में पार्क जा रही थी, लेकिन कोई नहीं मिला. तो भाभी ने अपने हैट से लंड पकड़ के चूत के मुंह पर लगाया और मुझे डालने को कहा.

मैंने अब उसके दोनों पैरों को उसी से सिर के बगल में रख कर हाथों से दबा लिया. मैं अपने लंड और इस मौसम की मार को कोस रहा था कि कहीं ये कुछ ज़्यादा तो नहीं हो गया. बीपी सेक्सी चाहिएजब मेरी बारी आई, तो मैंने मैम को उसी लड़के की तरफ इशारा करते हुए बोल दिया कि मैं इसी के साथ चार्ट बना लूंगी.

नीचे मैंने एक बहुत टाइट जींस पहनी, जिसमें पीछे से मेरी गांड एकदम गुब्बारा लग रही थी.

फिर एक दिन उसका मैसेज आया कि कल मेरे पति चार दिन के लिए बैंगलोर जा रहे हैं, इन्हें कुछ अर्जेंट काम है. ये सुनकर उसने मेरी तरफ मुस्कान भरी नजरों से देखा, मैंने भी मुस्कुरा कर उसके लिंग पर जोरदार जकड़न देकर उसे जाने की इजाजत दे दी.

ये देख कर मैंने झट से उसके होंठों को अपने होंठों से चिपका लिया और चूमने लगा. मैं भी दीदी की गांड के स्वाद को चखते हुए अपने होंठों पर जीभ फिराई और बेडरूम में जाने लगा. उसने कैसे मेरे उसी दोस्त से अपनी चुदाई करवायी?दोस्तो, मैं समीर एक बार फिर से आपके सामने अपनी चुदक्कड़ बीवी की सेक्स कहानी, जिसमें मैंने खुद अपनी बीवी की चुदाई देखी, लेकर हाजिर हूँ.

हम दोनों इस समय एक दूसरे की मिशनरी पोजीशन मैं धुँआधार चुदाई का लुत्फ़ उठा रहे थे; एक दूसरे को स्मूच करते चुदाई कर रहे थे.

मैंने उसे बाथरूम की दीवार से सटा कर बिठाया और फिर से उसके मुँह को चोदने लगा. मैं कपड़े धो रही थी और पीछे से जेठ जी मुझे देख रहे थे; ये बात मुझे पता नहीं थी. किचन टॉप पर रखे घी के डिब्बे में से घी निकालकर मैंने अपने लण्ड पर मला और घोड़ी की चूत में पेल दिया.

সেক্সের বই দাওमुझे यूं रोती देख, वो मुझे शांत करने लगी और मेरे रोने की वजह मुझसे पूछने लगी. भाई ने अलग-अलग सेक्स साईट से गांड मारने की पोजीशन देख देख कर मुझे चोदा था.

खूबसूरत बीएफ सेक्सी

जैसे ही मैं गिरने को हुई, तो आशीष ने मुझे पकड़ लिया और उसका हाथ मेरे चूतड़ों पर आ पड़ा. और जब राजू की आहें बढ़ गईं तो उसने उसे छोड़ दिया वरना राजू तो उसके मुंह में ही खाली हो जाता।अब गौरी ने राजू का सिर नीचे सरका दिया. मैंने मालती से कहा- मालती, मैं राज शर्मा हूं और बिल्डिंग का किराया मैं ही आंटी को पहुंचाता हूं.

उन्होंने कहा- मैं बता देती, तो तुम रुक जाते … और रुक रुक करते तो और ज्यादा दर्द होता. मेरी मां वैसे तो एक सामान्य घरेलू औरत हैं पर वो शरीर से इतनी ज्यादा मस्त दिखती हैं कि उन्हें देख कर कोई भी पागल हो जाए और उसका मेरी मां को उसी समय चोदने को मन करने लगे. जब वो मेरे हाथ से बाल्टी जबरदस्ती ले रहे थे तो हम दोनों लोग का हाथ एक दूसरे से मिल रहे थे.

मैंने पूछा- तुम्हारा पति इतना बड़ा आदमी है … तो कोई नौकर क्यों नहीं?उसने बोला- तुम आने वाले थे इसलिए मैंने उन सबको छुट्टी दे दी है. ये सेक्स कहानी जिसमें मैंने सेक्सी साली को चोदा, मेरी दूर की साली साहिबा और मेरे बीच हुए उस मिलन की है, जिससे मुझे एक नया एक्सपीरियेन्स मिला था. मैं सातवें आसमान में थी- और जोर से चोदो … फाड़ दो मेरी बुर … अहजज उफ्फ्फ!पूरी रात में उसने मेरी 4 बार चुत चोदी … और हर बार अपने पानी से मेरी चुत को भर दिया.

उनकी नाइटी में मुझे उनका जिस्म बड़ा ही कामुक दिखता था, तो अब मैं उनके हिलते हुए मम्मों को देखने लगा था. धक्कों से चूत का पानी रिसना शुरू हो गया और चुदाई में चिकनाई का मजा मिलने लगा.

रंगोली तड़प उठी उसके मुँह से कामुक आवाज़ निकल पड़ी- आआह …फिर मैंने दीवार पर टंगे मोरपंख के बंच से एक ले लिया और उससे रंगोली के बदन को छुआता चला गया.

मैं नई दिल्ली स्टेशन चला गया और वहां से मैंने इंदौर के लिए ट्रेन में अपना रिजर्वेशन कराया और शाम को उधर से ट्रेन पकड़ कर निकल गया. गर्ल चुदाईमैं फिर से बोला- तू खोल न … कौन सा आज तुझे पहली बार नंगा देख रहा हूँ. x एक्स वीडियोमुझे उम्मीद है कि आपका मनोरंजन होगा और मेरी सेक्स कहानी को पढ़ कर आपके जिस्म में हलचल होगी. वहां पर भी हमने एक बार चुदाई की और तैयार होकर कपड़े पहन कर हम लोग रेस्टोरेंट में खाना खाने के लिए गए.

आपको इस सेक्स कहानी में क्या अच्छा लगा, जरूर बताइए, मैं सभी के मेल पढ़ती हूँ.

जैसे ही आंटी का मेरे घर में आना जाना चालू हुआ तो मेरे लंड ने सपने देखने शुरू कर दिए थे. प्रिय पाठको, आपको मेरी पोर्न फॅमिली हिंदी कहानी कैसी लगी मुझे जरूर बतायें. एक दिन मैंने रात में संजना का मोबाइल चैक किया, तो उसमें इन दोनों की बहुत गर्म बात हो चुकी थी.

उसने मुझे बताया तो मैंने उससे जल्दी से ब्लूफिल्म शुरू करने के लिए कही. मैंने पहली बार किसी लड़की को टू पीस में देखा था और उसके साथ नहाने को बेचैन हो रहा था. उन्होंने हमें लिटा दिया और हमारे शरारे का नाड़ा खोलकर उतार दिया, फिर हमारी पैन्टी उतार दी.

कार्टून वाला बीएफ पिक्चर

उस समय मेरे मन में ऐसा कोई विचार नहीं था कि मुझे रितिका को चोदना है. ओमी अंकल ने तो एक बार मेरी गांड पर भी हाथ फेर कर मुझे शाबाशी दी थी. मैंने उन्हें अपने जिस्म की झलक दिखाते हुए एकदम शॉर्ट वाली फ्रॉक जैसी बेबी डॉल वाली नाइटी निकाली और शीशे के सामने जाकर उसको पहना.

उसमें से एक कंडोम खोल कर वो मेरे लण्ड पर चढ़ाने लगी और दोनों हाथों की मदद से चढ़ा भी दिया.

मैं इतने साल से मैं अशफाक़ के घर आ रहा था लेकिन आज पहली बार सेक्सी आंटी की चुदाई को लेकर मेरे ख्यालात गंदे हो रहे थे, वो बाथरूम में नंगी होंगी यह सोचकर ही मैं उत्तेजित होने लगा.

फिर मैं अगले दिन से अपने काम में व्यस्त हो गया पर रश्मि अचानक से मोबाइल में बिज़ी रहने लगी. फिर दीदी मादक स्वर में बोलीं- अब मेरी प्यासी चुत की मालिश भी कर दो. एक्स एक्स एक्स हिंदी सेक्समैं यही सोचता रहता था कि मेरी चीटिंग गर्लफ्रेंड ने हमबिस्तर होकर क्या क्या किया होगा … उन दोनों के बीच चुदाई कैसे हुई होगी.

हम दोनों चुदाई में इतने बेखबर हो गए थे कि ये ध्यान ही दिया कि हम दरवाजा बंद करना भूल गए थे और हमें पता नहीं चला कि कब सुमन की बड़ी बहन रूम में आ गई. मैं आज आपको अपनी कजिन सिस्टर Xxx कहानी में अपनी बहन को कैसे चोदा, वो बता रहा हूँ. मैंने ज़ीनिया को मोबाइल में उन तीनों लड़कियों के बारे में बताया तो वो मन ही मन पश्चाताप करने लगी.

मैं तो तुझे पहले दिन से ही चोदना चाहता था लेकिन सक्सेना की वजह से नहीं कर सकता था. उसके चेहरे को सहलाते सहलाते मैंने उसका बुर्का उसके चेहरे से अलग कर दिया.

एक सीट मुझे मिली थी और एक सीट एक महिला की थी जो दिल्ली से इंदौर जा रही थीं.

दोस्तो, इस सेक्स कहानी के अगले भाग में मैं आपको बताऊंगा कि कैसे मैंने अपनी ही सगी छोटी बहन स्वाति को चोदा … और चोदा ही नहीं, मैंने उसकीसीलपैक चूत फाड़ दी. बॉय बॉय सेक्स कहानी के पहले भागचिकना लड़का लौंडा बनना चाहता थामें मैंने अब तक आपको बताया था कि नील नाम का नमकीन लौंडा मेरे लिए दारू की बोतल लाया था. मैंने पूछा- क्या हुआ?तो वो बोला- यार मेकअप वाला नहीं आ पाया, उसका एक्सीडेंट हो गया है.

मोर सेक्स मैं चूत की महक को धीरे धीरे सूंघते हुए झुक गया और चूत में नाक को पूरी तरह सटा दिया. फिर आधा घंटे बाद उसने पीछे से मेरे लंड पर हाथ रखा और फिर से मेरे लोवर में हाथ डाल कर लंड बाहर निकाल कर सहलाने लगी.

मैंने पूरी रात चाचा के घर में रह कर मौज मस्ती की, फिर मैं अपने घर चला गया. लॉकडाउन में मैं अपनी सेक्सी हॉट वाइफ की खूब चुदाई करता था। एक दिन मेरे दोस्त ने हमें सेक्स करते नंगे देख लिया। मैंने अपनी बीवी से पूछा कि वो मेरे दोस्त से चुदेगी?नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम अनिल है। मैं चंडीगढ़ का रहने वाला हूँ।मैं आज अपनी सेक्सी हॉट वाइफ की चुदाई की कहानी लिख रहा हूँ. इतने बड़े घर में रात को अकेली सोती थी, तो उस बात से मुझे थोड़ा डर सा भी लगा रहता था.

नाइजीरियन बीएफ

प्रिय पाठको, आपको मेरी पोर्न फॅमिली हिंदी कहानी कैसी लगी मुझे जरूर बतायें. मैंने उनको उठाकर अपने बेड पर लिटाया और उनके शरीर के हर एक अंग को किस करना शुरू कर दिया. अब मेरे हाथ में पीछे से ही उसके स्तनों पर जम गए थे, जिन्हें मैं दबाए जा रहा था.

उसने मेरे लंड पर और अपनी गांड पर तेल लगाया और मेरी गोदी में बैठ गई. मैंने बेडरूम का एसी ऑन किया और बेड पर लेटकर सलमा के बारे में सोचने लगा.

रंगोली ने अपने पैर साहिल के कंधे में रख दिए और सिहरने लगी- साहिल भैया धीरे … अअअअ!पर साहिल नहीं रुका.

मम्मी के जाते ही मैंने अपनी ब्रा और पैंटी उतार दी और सिर्फ स्कर्ट और टी-शर्ट पहने रही. इस बीच सक्सेना की मृत्यु हो गयी है, मैं अब राजीव से और नवीन से सेक्स करती हूँ. फिर सीधा शीना की दोनों चूचियों को बारी बारी से मुँह में भरकर उसके गुलाबी निप्पल चूसने लगा.

साहिल ने अपने कपड़े उतारे और नंगे होकर रंगोली को अपनी बांहों में ले लिया और उसकी ब्रा की स्ट्रिप खोल दी; फिर उसके होंठों को स्मूच किया. कुछ ही देर में मैंने उसका ब्लाउज उतार फेंका और उसकी ब्रा में कैद बड़े बड़े स्तन एकदम से फट पड़ने को मानो तैयार थे. मैंने देर न करते हुए उसकी कुर्ती को ऊपर किया और उसकी गर्दन से निकालते हुए अलग को फेंक दिया.

जब किसी ने मेरे घर की कॉलबेल बजाई, तब मैं बाथरूम में थी और अपनी चुत में उंगली कर रही थी.

एक्स एक्स बीएफ गुजराती: चूतड़ के नीचे तकिया रखा हो और मजबूत लण्ड ठोकर मारे तो औरत की आँखों से आँसू आना लाजमी है. खुले बालों में आज वह थोड़ी और खूबसूरत लग रही थी, अपनी उम्र से ज्यादा.

पांच फीट छह इंच कद, गोरा रंग, भरा बदन, बिल्ली जैसी भूरी आँखें, बड़े बड़े कबूतर और जेबा आंटी की टक्कर के ठुमकते चूतड़. वो मुझसे बोले- मेरी जान तू मुझसे डर क्यों रहा है … अगर तूने मेरे आदेश का पालन नहीं किया तो ये तेरे लिए अच्छा नहीं रहेगा. ये सब देख मैं भी चुपके से बाहर निकाल गया और कुछ देर बाद घर पर आया तो मैंने मां को आवाज दी- मुझे भूख लगी है … मेरे लिए मैगी बना दो.

मैं बोली- जान … आज की मेरी मुँह दिखाई कहां है?इस पर वो बोले- कुछ देर में वो भी तुम्हें दे दूंगा, जो कि तुम्हें जीवन भर याद रहेगा.

आज मैं आप लोगों अपनी जिन्दगी के वो हसीन पल बताने जा रहा हूँ, जो मैंने कभी सोचा भी नहीं था. अब्बू ने अपना कुर्ता निकाल दिया और पूरी तरह से नंगे होकर मुझसे लिपट गये. उस वक़्त मेरे मन में बस एक ही ख्याल था कि मुझे शरद को पूरी तरह से खुश करना है.