कच्ची कली सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,बालवीर और अनन्या की सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

चूत चुदाई बीएफ चूत: कच्ची कली सेक्सी बीएफ, मैं बहुत असमंजस की स्थिति में था और चुपचाप बैठ के मन ही मन बस भाभी को गाली दे रहा था और सोच रहा था कितना अच्छा मौका था और ये अपनी सहेली को लेकर आ गयी।खैर रश्मि से मेरा परिचय कराते हुए भाभी ने कहा- रश्मि तुमसे मिलने के लिए आई है.

सेक्सी वीडियो नेपाल का सेक्सी वीडियो

पिंकी के मुँह से इस बात को सुनकर अमर बहुत खुश हो गया और उसने जल्दी ही पिंकी के ब्लाउज और ब्रा को भी खोल कर उसके शरीर से निकाल कर दूर फैंक दिया. सेक्सी पिक्चर वीडियो पूरीमेरी यह कोशिश रंग लाई और अंकल जी ने ठिठक कर मुझे देखा, उनकी चाल धीमी हुई और वे चले गए.

आंटी मेरी मम्मी को समझाकर मेरे पास बाहर आ गईं और बोलीं- तुम्हारी मम्मी एकदम घबराई हुई है, वो कांप भी रही है. बूढ़े की सेक्सीफ्रेंडस मेरी एक फंतासी थी कि अगर मुझे कहीं से एक ऐसी टाइम मशीन मिल जाए और मुझे उस मशीन के जरिये अपने भूतकाल में जाने का मौका मिल जाए तो मैं क्या क्या करूंगा.

जवानी के साथ ही मेरे अंदर सेक्स करने की इच्छा भी तेजी से बढ़ रही थी.कच्ची कली सेक्सी बीएफ: अ… अ…अ की लंबी सीत्कार के साथ झड़ गई और पेट के बल ही बेड पर पस्त हो गई।मैं बोला- मेरा अब तक नहीं हुआ है.

लेकिन उसने जानबूझ कर दर्द में होने का नाटक किया क्योंकि वो ये मौका खोना नहीं चाहती थी.मैंने लंड निकाल लिया तो प्रिया उठी और अपनी एक टांग उठा कर नलके के ऊपर रख कर उसने पोजीशन ले ली.

सेक्सी ट्रेन - कच्ची कली सेक्सी बीएफ

इससे भाभी तड़प उठी और कहने लगी- आपका लंड बहुत मोटा है … यह मेरे अन्दर नहीं जा सकता.अब जागृति मेम से रहा नहीं गया तो उन्होंने मेरा हाथ पैंटी के अन्दर डाल दिया.

जब मुझसे कंट्रोल नहीं हुआ तो मैंने किचन में जाकर पीछे से भाभी को पकड़ लिया. कच्ची कली सेक्सी बीएफ उसने मेरे दोनों हाथ ऊपर किये और ब्रा भी निकाल दी मेरे दोनों बड़े बड़े दूध आजाद हो गए.

फिर उन्होंने मुझसे मेरी पिक मांगी और मेरी नंगी गांड देखने की इच्छा जाहिर की.

कच्ची कली सेक्सी बीएफ?

पाण्डे जी बोले- ठीक है, मैं उसको किसी बहाने बुला लेता हूँ अकेले में. मैं- रोज बस इतने टाइम के लिए ही आओगी क्या?वो बोली- वो तो तुम्हारे ऊपर है कि मुझको यहां कितना टाइम रोक सकते हो. मैंने उसकी चूत पर लंड रखा और एक जोर के धक्के में आधे से ज्यादा लंड उसकी चूत में पेल दिया था.

अंकल के मुँह से गांड मरवाने की बात सुनते ही मैंने अंकल को एक जोरदार किस किया और अंकल की बांहों में समा गया. दोस्तो, मैं अन्तर्वासना साईट पर हिंदी सेक्स कहानियां पिछले 2010 से पढ़ रहा हूं. मैंने धीरे धीरे उनकी चूत को गर्म पानी से साफ किया और सिकाई की … जब भी मेरी उंगली उनकी चूत के फांकों में पड़ती, वो सिहर उठतीं.

मैं अपनी बातें आगे बढ़ाते हुए बोला- अच्छा एक बात बताइये, यदि कभी गलती से मुझे आपका साथ मिल जाए तो क्या करेगी आप?नम्रता- अपनी अधूरी इच्छा पूरी करूँगी. पता नहीं क्यों पर मुझे उस डॉक्टर का ये व्यवहार जरा भी पसंद नहीं आया. अब तुम बड़ी हो गयी हो!मैंने कहा- अंकल विदेश जाकर तो आप बहुत स्मार्ट और हैंडसम हो गए हो.

मैंने उनसे पूछा कि क्यों झड़ गईं … औरत तो इतनी जल्दी नहीं झड़ती है?उन्होंने कहा- अगर तेरे जैसा कोई चूत चाटने वाला मिले तो मैं क्या कर सकती हूँ. मेरा लंड खड़ा ही तन्ना रहा था, यही सोच सोच कर कि आज इतनी खूबसूरत उस औरत को चोदूंगा, जो रिश्ते में मेरी मम्मी है.

मैंने बाथरूम में रखी तेल की शीशी से भाभी की गांड में तेल भर दिया और उंगली की, तो भाभी को मजा आने लगा.

वो भी मेरा हल्के काले रंग और 8″ और 3″ मोटा लंड देख कर घबरा गई और अपनी नजरें झुका लीं.

दो मिनट में ही मेरा लंड फिर से अकड़ गया और मैंने टाइम ना गंवाते हुए उसे नीचे लेटाया और उसे टांगें खोलने को कहा. उस दिन हमने करीब 10 मिनट तक होंठों से होंठों को मिलाया और किस करते रहे. प्रिया सच में गजब की रांड लग रही थी खुले बाल, एकदम वाइट बॉडी और उसके दूध शानदार तरीके से उछल रहे थे.

साली के छोटे मम्मों पर उसके निप्पल पूरे कड़क हो गए थे और चुत एकदम गीली थी. आःह आआह ह्हह …हम दोनों भाई बहन पूरे जोश में लगभग 20 मिनट तक चोदने में लगे रहे और हम दोनों एक साथ ही झड़ गए. जीजू- घर पर कोई नहीं है, सिर्फ हम दोनों हैं तो कौन देखेगा, इस मौके का फायदा उठाओ शिवांगी और प्यार करो। मैं तो कब से अपनी प्यारी साली को चोदने के चक्कर में था.

मैंने प्रिया की साड़ी उठाई और उसकी पैंटी नीचे खिसका कर उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया.

मुझे थोड़ा अजीब लगता था, लेकिन उसके परिवार में सब लोग खुले विचार के थे. ” ये कहकर उन्होंने फिर से अपनी जीभ मेरी नाभि में घुसाई और अपना दायां हाथ मेरी त्रिकोणीय घाटी पर रख दिया. रास्ते में बाइक लेकर घर जाते हुए सोचने लगा कि क्या यही प्यार होता है?बस मैं सोचता ही रहा और सोचते-सोचते मेरा घर आ गया.

वो मेरी बात सुनकर हँसने लगी और बोली- तो फिर आज तुम मेरे साथ रियल में सेक्स कर सकते हो और मैं तुम्हें सिखाऊंगी कि सेक्स कैसे किया जाता है. फिर मैंने 2 झटके और मारे और मेरा पूरा लंड उसकी फ़ुद्दी में समा चुका था, उसकी आँखों से पानी बह रहा था. हम पलंग पर लेट गए और गांव की पुरानी बातें करते रहे, दोस्तों को याद करते रहे.

तभी वो अंकल मेरे करीब आ गए और मुझे नंगे बदन उठाकर बिस्तर पर लिटा दिया.

मैं तुम्हें कुछ गोलियां देता हूँ, वो उसे हर रात दूध में डालकर आठ दिन खिलाती रहना. जब से मैंने उसको देखा था तभी से मैं उसको चोदने के सपने देखने लगा था.

कच्ची कली सेक्सी बीएफ जब मैंने उसकी गांड को देखा तो मेरा मन कर रहा था कि आज इसकी गांड में भी लंड को डाल दूँ. उसका मुँह मेरी क्रीम से भर गया था, उसने सारा अन्दर कर लिया और मैं लेट गया.

कच्ची कली सेक्सी बीएफ उसने मेरे गाल पर हाथ फेरते हुए कहा- सॉरी हनी, मैंने तुम पर हाथ उठा दिया. हर राखी और भाईदूज पर मैं धीरज को राखी बाँधती और तिलक करती थी जिससे सब हमें सगे भाई बहन समझा करते थे.

मैंने रोहित को कुछ नहीं कहा और न ही उसे यह पता लगने दिया कि मैं जाग रही हूँ.

बीएफ सेक्सी हिंदी फिल्म देहाती

अब उसने मेरे एक पैर को उठा के अपनी कमर में टिका लिया और अपने हाथ से मेरी जांघों को सहलाते हुए मेरी गांड तक ले गया और थोड़ा गांड सहला कर उस पर एक तमाचा लगा दिया. कुछ ही पलों में उसकी वासना भरी चूत अपना गर्म चूतरस मेरे लंड पर छोड़ने लगी थी. फिर क्या था कुछ ही पलों में मेरा लंड सात इंच का कड़क सरिया बन गया था.

मैं तो हैरान और परेशान!बहाना तो पूजा दीदी ने अच्छा बनाया था मगर मैं भी कोई कच्चा खिलाड़ी नहीं था. उसने भी मौके का फायदा उठा कर मेरे लंड को पकड़ कर गाल पर किस कर लिया और कहने लगी- इस लंड का ही तो कमाल है. बारह-चौदह बार मेरे लिंग वसुन्धरा की योनि के अंदर योनि के हाईमन को बस छू कर वापिस लौट आया.

मीरा ने अपनी गांड फैला ली थी और रितेश के हाथ की गर्माहट का मजा लेने लगी थी.

दर्द से मेरी तो जान ही निकली जा रही थी और मैं जीजू को धक्का देने की कोशिश कर रही थी लेकिन जीजू चोदने में पूरी तरह से उस्ताद थे, जीजू ने मेरी कमर अपने दोनों हाथों से कस के जकड़ रखी थी, वे मुझे बिल्कुल भी हिलने नहीं दे रहे थे और जीजू के लंड को मेरी चूत ने पूरी तरह से अपने अंदर जकड़ रखा था. मेरी दिनचर्या ये थी कि मैं सुबह अपने कॉलेज जाता और दोपहर से शाम तक घर में रहता या फिर दोस्तों के साथ बाहर चला जाता. सच बताऊं दोस्तो, इस हालत में अगर कोई भी हवस या फिर और नजरों से देखेगा, तो मैं उसको जानवर ही मानूँगा.

अंजलि ने मुझसे कहा- अब क्यों देर कर रहे हो … जल्दी से मेरे अन्दर डाल दो प्लीज़. मैं बहुत बिगड़ चुकी हूँ दोस्तो … दारू सिगरेट सब कुछ पीने लगी हूँ मैं! मेरे बहुत सारे बॉयफ्रेंड भी हैं कॉलेज में. तब उसने कहा- सारिका जी क्या आप ऊपर आकर धक्के मारोगी? मैं अब थकने लगा हूँ प्लीज.

मैं ताई के घर पर ही टेलीविजन देखता था और देर रात ताई दूध लेकर जाया करती थीं. जब चंडीगढ़ में मैंने उसकी फुद्दी का स्वाद चखा तो बहुत दिल कर रहा था कि एक बार फिर उसकी फुद्दी में अपना लन डालूँ.

उसकी ब्रा जैसे ही मैंने उतारी, मैं उसकी नीबू जैसी चुचियों को देख कर पागल हो गया था. अब वह जो मेरे गांव वाला पटेल था, वो धीरे-धीरे आवाज में बोला- साली तेरे पीछे मैं दो तीन महीने से पड़ा हूं, तू और तेरी सहेली नीलू तुम दोनों उस नीच जात से फंसी हो. यदि कोई 45 प्लस अंकल मेरे मोटे और लम्बे लंड से चुदवाते हैं, तो मुझे जन्नत का सुख मिलता है.

अचानक ही मेरा लिंग-मुण्ड वसुन्धरा की योनि के मध्य से ज़रा सा नीचे, किसी गुदगुदे से गड्ढे में अटक गया.

कुछ दिनों बाद ‘ए आई ट्रिपल ई …’ के फार्म के लिए सुमन ने मुझसे कहा- अगर कोई आपका जानकार हो, तो मेरे लिए भी एक फार्म मंगवा देना. जल्दी ही हमारे कपड़े अलग होते चले गए और हम दोनों अपने अंदरूनी कपड़ों में रह गए थे. वो भी चिल्ला चिल्ला के मुझे गाली देते हुए कहने लगी- तो बना ने मेरे चुत का भोसड़ा … मादरचोद बना अपनी कुतिया … बना अपनी रखैल … चोद दे मुझ जन्मों की प्यासी कुतिया रण्डी को।फिर से मैंने उसको एक ही बार में लन्ड डाल के चोदना शुरू कर दिया.

मैं भी थक गया था, पूजा की हालत तो बहुत ही खराब हो गई थी, अब मैं गांड की चुदाई खत्म करना चाहता था. उसी समय मेरे दिमाग में एक आईडिया आया कि क्यों ना रूपा को नहाती हुई देखा जाए.

हालांकि मुझे आज मिनी को चोदने का मौका मिल गया था, तो मैंने प्राची के बारे में सोचना छोड़ दिया. उस दिन उसके पापा दिन में सो गए और मैं उसको अपने साथ मेरे ऑफिस में ले गया. आपने ऐसा क्या देखा जो किसी और लड़के ने नहीं देखा?मैं- नहीं, आप बुरा मान जायेंगी और गुस्सा भी होंगी या फिर मेरी पिटाई या शिकायत भी कर देंगी.

सुहागरात की चुदाई का बीएफ

जैसा कि मैंने अपनी पहली सेक्स कहानी में भी बताया था कि मैं एक स्पा केन्द्र में काम करता हूँ.

वह बोली- क्या शर्त है?मैंने कहा- जब भी मैं चाहूँगा, तुमको मेरे पास चुदवाने के लिए आना पड़ेगा और जब मेरी श्वेता तुम्हारे बॉयफ्रेंड से चुदवाएगी तो तुम्हें उसका वीडियो बनाना पड़ेगा. मैंने उनसे जरा चिढ़ कर पूछा कि तो किसको बना लूं!मेम ने मजाक में ही खुद को मेरी गर्लफ्रेंड बनाने की बात मुझसे बोल दी. उसके बाद मैंने अपनी बीवियों और सालियों को गुलाबो के साथ अपनी पहली चुदाई की कहानी सुनाई और रात को दिलिया के साथ सुहागरात मनाई.

उसके धक्कों के आगे मैं भी पूरी तरह झड़ कर शांत होने के लिए उसे कस कर पकड़ चिपकी रही. जब मैं रुक गया तो वह बोली- तुम्हारा निकल गया क्या?मैंने कहा- हाँ, मेरा हो गया. गाने के साथ सेक्सी मूवीअब मैं अपना पूरा लंड उसकी चूत से बाहर निकाल लेता, फिर झटके से एक ही बार में पूरा घुसा देता.

चूचों की मिंजाई से दिशा मोन करने लगी और उसने अपनी आंखें बंद कर लीं. मुझे अपने आप पर बहुत गुस्सा आया कि मैंने उसके साथ की हुई दोस्ती को भी खत्म कर दिया.

फिर 5 मिनट बाद मैंने भी उसकी चूत के अन्दर ही मेरा सारा माल भर दिया और मैं उसके ऊपर लेट गया. पिंकी कामुकता की अतिरेकता में अपनी आंखें बंद किए हुए अपनी गर्दन को अपनी सांसों के साथ ऊपर नीचे करने लगी. वेलम्मा नीचे अपने घुटनों पर बैठ गई और मेरे लौड़े को अपने मुँह में ले लिया.

शाम तो धीरज घर आया और मैंने अपने रूम का दरवाजा उसके लंड का स्वागत करने के लिए खोल रखा था. आह … क्या माल है तू भी लौंडिया! चूतड़ तो देखो! कितने मस्त और टाइट हैं. दो तीन बार कहने के बाद भी एक दिन उन्होंने मुझे झिड़क दिया और बोले कि यह तुम्हारे ऊपर शोभा नहीं देता.

सामूहिकर याराना तो रीना की बात मानने के बाद नहीं संभव हो पा रहा है मगर अलग-अलग तो चुदाई का मजा बदली हुई बीवियों और बदले हुए पतियों द्वारा लिया ही जा सकता था.

मुझे अपने बॉक्सर के साथ कुछ करता देख कर आंटी ने कहा- गौरव क्या हुआ, कोई दिक्कत है क्या?मेरी ज़ोर की फटी, पर आंटी थोड़ी तिरछी नजर से मेरे लंड की ओर देखती हुई मुस्कुराने लगीं. मैं- पर एक बात का ध्यान रखना, ये बात किसी को भी पता नहीं लगनी चाहिए और न तुझे मेरे कमरे में आते किसी को दिखना चाहिए.

”बोल दो … वो तो पहले ही तीन पैग मार कर आउट हो गया है … अगर होश में होता, तो भी कुछ नहीं बोलता … वो खुद ही तो तुम्हें मेरे लिए लेकर आया है. मैंने उनकी बात काटते हुए कहा- कौन सी जगह? कुछ नाम है या …अपनी बात को मैंने अधूरा छोड़ दिया. एक बूंद भी नीचे नहीं गिरने दी।भावना ने मेरे लंड को चूस कर साफ कर दिया.

मैंने उसके सिर को दबाये रखा और तब ढीला नहीं किया जब तक कि मेरा पूरा वीर्य उसके मुंह में झड़ नहीं गया. उसकी आवाज तेज होने की स्थिति में आ सकती थी इसलिए मैंने पहले ही निशा का मुँह अपने एक हाथ से दबा दिया कि आवाज न निकले. साथ में मेरी बहन के मुंह से निकलने वाली कामुक सिसकारियाँ और मीठे दर्द भरी आवाज जैसे आग में घी का काम करने लगीं.

कच्ची कली सेक्सी बीएफ जीजा- साली जी, तुम्हारी चूत में तो जन्नत का मज़ा है, चाटने दो ना! और तुम भी जवानी का मजा लो. उसका गर्म रस मेरे लंड पर पड़ा तो कुछ धक्के मारने के बाद मुझे भी लगा कि मेरा होने वाला है.

बीएफ भेजिए देखने वाला

बस फिर क्या था … आते ही मेरी चूत पर भूखे कुत्ते की तरह टूट पड़ा और चुदाई शुरू कर दी. हम दोनों लोग ब्वॉयफ्रेंड और गर्लफ्रेंड भी बन गए थे, इसलिए मैं भी उसका साथ देती थी. मैंने एक बार फिर ऑफर दिया, तो थोड़ा झुँझलाकर बोली- अरे मुझे पीरिएड्स हो रहे हैं, तो उसमें आप क्या करेंगे?मैंने सॉरी बोला और किनारे बैठ गया.

इससे पहले उनकी ट्रेनिंग होती रहती थी, जिसके लिए उन्हें आस पास में ही जाना होता था. रस से लबालब भरी हुई बुर में लंड फिसलता हुआ पूरा घुस गया, केवल अंडे बाहर रह गए. जबरदस्ती वाली सेक्सी दिखाओवह लगातार मेरे लंड को चूसती ही जा रही थी, शायद उसका मूड भी दोबारा बन गया था.

डर की सारी सीमाएं तोड़ते हुए उसने झट से मेरे होठों को अपने होठों में ले लिया और जमकर चूसने लगा.

मेरी कमसिन जवानी की कहानी में अभी तक आपने पढ़ा कि मेरे अंग्रेजी वाले टयूटर अंकल ने मुझे अपने जाल में फंसा लिया था और मुझे भी उनके इस जाल में फंसने में मजा आ रहा था. अमर को चुत चोदते हुए दस मिनट हो गए थे, उसने पिंकी को सीधा होने के लिए कहा.

फिर राधिका ने कहा- तुमको मम्मे दबाने की इतनी जल्दी है, तो तुम अब अपनी बहन को अपनी जांघ पर बैठाकर उसके मम्मे को दबाओ न. साली हवशी रांड कमर उछाल उछाल के चुदाई करवाने लगी, मेरी पीठ पे उसने अपने नाखूनों को गड़ाना शुरू कर दिया. हां स्कूल में जब कभी मौका मिलता था, तो मैं उसके मम्मे दबा देता था और वो मेरे लंड को दबा देती.

आप खुद सोचो, जब उसकी बहन अपने ब्वॉयफ्रेंड से बात करने में लगी हो और मैं उसके साथ न होकर उसके भाई के साथ बातचीत कर रही होऊं, तो चर्चा में सेक्स का मसाला कब तक नहीं आएगा.

चूंकि रूपा अब खुलने लगी थी, तो मैंने भी पूछ लिया कि क्या तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड है?मेरी बहन बोली- नहीं, कॉलेज में कई लड़के मुझे लाईक करते हैं, पर मैं किसी को भी लाईक नहीं करती. एकदम से हुए दर्द से पूजा चीखी और बोली- आह … मर गई … थोड़ा धीरे धीरे चोदो ना यार …. मैं हवस के सुरूर में भरा हुआ सा उसकी चूचियों को सहलाने लगा और अगले ही पल उसके कमीज को उठाकर उसके निप्पल्स पर अपने होंठ रख दिए.

हिंदी फिल्म हिंदी सेक्सी वीडियोइस वक्त वो दूसरे हाथ से पूरे अंडकोष को ऊपर से नीचे तक मलहम लगाकर सहलाने सी लगी थी. फ़िर जब चूत ढीली हो गई, वो भी अब बहुत गर्म हो गई थी और बार-बार बोल रही थी- अब डाल दो.

भाभी जी का सेक्सी बीएफ

शायद उसकी चूत ने पानी निकालना शुरू कर दिया था मेरे लंड की रगड़ से गर्म होकर. अभी लंड ने बुर में एंट्री ली ही थी कि रूपा चीखने लगी- उई दैया रे मर गई … आंह भैया … इसे बाहर निकालो … आंह बहुत दर्द हो रहा है. मैंने हाथ बाहर निकाला तो उन्होंने मेरी एक उंगली को मेरे मुँह में डलवा दिया.

मुझसे उनका टॉर्चर सहन नहीं हो रहा था, मैं उनसे कसमसाते हुए बोली- बस अंकल, रुको अब. उनके बड़े बड़े छत्तीस इंच के मम्मे देख कर मेरा दिमाग खराब हो गया … लंड एकदम टाइट होकर अकड़ गया. फिर उन्होंने मुझे पलट कर घोड़ी बना दिया और डौगी स्टाइल में करके मेरी चूत में लण्ड पेल दिया और मेरे चूतड़ों पर चपत मार मार के मुझे चोदने लगे.

दूध जैसी गोरी-चिट्टी, लाल-गुलाबी होंठ वाली वो अप्सरा शरमाते हुए और भी हसीन लग रही थी!मैंने उसके कान में कहा- तुम तो बेहद हसीं हो हो मेरी जान …धीरे से मैंने उसके चेहरे को ऊपर किया. लेकिन इस बार इतनी दूर मुंबई जाना था तो मम्मा ने मुझसे बोला कि उनको अकेले जाने में डर लग रहा है. दोस्तों आपने मेरी पिछली कहानीट्रेन में मिले एक गाण्डू अंकलतो पढ़ी ही होगी, यदि नहीं पढ़ी है, तो जरूर पढ़ें.

फिर उसे ज्यादा तड़पाने का निर्णय नहीं लेते हुए मैं अपने लौड़े को उसकी चूत के ऊपर सहलाने लगा. उसने एकदम से मेरा लंड बाहर निकाला तो दो-तीन पिचकारी उसके होंठों और उसके चूचों पर भी जा लगी.

मायरा ने अपनी मम्मी से कहा- मम्मी भैया किधर सोएंगे?उन्होंने कहा- तुम्हें अपने कमरे में ही भैया के साथ सोना पड़ेगा.

मेरी दीदी बस मानो अपने आप को उसे सौंप चुकी थी लेकिन अपनी रूचि नहीं दिखा रही थी. देसी हीरोइन की सेक्सी वीडियोमैंने कहा- कोई बात नहीं, मैं तुमसे पैसे नहीं मांग रहा हूं, जब आपके पास होंगे तब दे देना या मत देना, हम दोनों को भुवनेश्वर पहुँचना है, इस समय इसके अलावा और कोई रास्ता नहीं है. हॉट वीडियो सेक्सी फोटो”नहीं नहीं! मेरे तो हाथों में मेहँदी लगी हुई है, मैं कैंची कैसे हैंडल करुँगी, नाड़े की नॉट कैसे बांधूगी?” वसुंधरा ने सवाल दागे. उसका कहना है कि सुबह मेरा लंड बहुत ही ज्यादा कड़क होता है, जो उसकी चुत में अन्दर तक जाकर बच्चेदानी को रगड़ता है.

निशा की मादक आवाजें मेरे सुरूर को बढ़ा रही थीं- ऊओह ह्ह ऊओ ह्हह आअह्ह आःह्ह्ह आःह आआहह!फिर निशा बोली- यश डाल दो ना!मैं दुबारा से उसकी टांगों के बीच आ गया और उसके चूत के दाने को चाटने लगा.

चाभी लेकर आने के बाद हम दोनों सीढ़ियां उतर रहे थे क्योंकि फ्लैट की लिफ्ट खराब थी. मैंने उनको सीधा लेटने को कहा, तो उसने झट से अपनी दोनों टांगें पूरी तरह से फैला दीं. ’‘एक मिनट अंकल, मम्मी आपको देने ही आयी हैं, बस ज़रा आपके बर्थडे का केक खा लें.

फिर एक दिन रात को उसका फोन आया और वह बोली- आज आपके लिए कुछ खास तोहफा है. कुछ धक्के मारने के बाद निशा ने अपना मुँह दबा लिया और वो हिलती हुई शांत हो गई. धीरे-धीरे उसे मजा आने लगा और वह अपनी गांड उठा कर मुझे इशारा करने लगी.

बीएफ सेक्सी बीएफ हिंदी सेक्सी बीएफ

अब मैंने अपना लंड धीरे से मायरा की चुत पर टिकाया और एक झटके में पेल दिया. ये मेरी जिंदगी में मेरी बाली उमर का पहला लड़का था, जिसने आज पहली बार मेरी चुत को अपने हाथों से छुआ और फिर चाटा भी. ऊपरी कपड़े उतरने के बाद वो सिर्फ काले कलर की ब्रा पैंटी में रह गई थी.

मजा आ गया मेरी जान … उम्म्हाह … तुमने तो बिना चोदे ही मजा दे दिया यार.

अब मेरे खुराफाती दिमाग की करामात की बारी थी जिसके अंतर्गत मैंने रीना को नंगी करके बेड से उसके हाथों और पैरों को फैला कर बांध दिया था.

उसी समय मेरे दिमाग में एक आईडिया आया कि क्यों ना रूपा को नहाती हुई देखा जाए. कुछ दिन बाद बहन के एग्जाम भी पूरे हो चुके थे, तो मम्मी ने कहा- जाओ, अपनी दीदी को घर ले आओ. सेक्सी पंजाबी चूतमुझे ऐसा लग रहा था कि किसी भट्टी में लंड पेला हो!अगला झटका मारते ही मेरा लंड चूत की गहराई में जैसे किसी दीवार से टकराया। श्रद्धा अभी कसमसा रही थी। मैं उसकी चूत में अपना लंड अंदर बाहर कर धीरे धीरे चोद रहा था।जब वो दोबारा गर्म हुई तो कमर चूतड़ हिला-हिला कर मेरा साथ देने लगी। मैं पूरा दम लगाकर उसे चोदने लगा.

ये तुम बार बार क्यों बॉस की बीवी पर इम्प्रेशन की बात कर रहे हो?” मैं आईने में खुद को देखकर बोली. इतना बोलते ही करण ने पैंटी मेरी तरफ बिस्तर पर फेंक दी।मैंने उठकर पैंटी उठाई और कारण के पास जाकर अपनी सोती हुई मम्मी को देखा। मम्मी बिल्कुल नंगी बिस्तर पर सो रही थी और खिड़की से आ रही धूप की रोशनी में वे काफी सुंदर लग रही थी। हम दोनों के लण्ड मम्मी की ऐसी हालत देखकर ओर उनकी पैंटी सूंघकर फिर खड़े होने लगे थे। हम दोनों एक दूसरे को ही देख रहे थे. अंकल जी मेरे भीतर ही झड़ गए थे मुझे कुछ होगा तो नहीं ना?” मैंने चिंतित स्वर में पूछा.

शायद उसकी छोटी और कड़क चूत चाटने कर मुझको मजा आ रहा था, तभी मैं बारी बारी से उसकी दोनों संतरे जैसी गुलाबी फांकों को अपने होंठों में लेकर चूसने लगा. जब मम्मा की बारी आयी, तो मैंने मम्मा को जबरदस्ती जींस टॉप, सेक्सी लिंगरी और सेमी ट्रांसपेरेंट इनर वियर दिलाए.

उसने मुझसे कहा- यार प्रवीण, मुझे तुम्हारा इन्तजार करते करते तीन साल हो गए.

हम दोनों ने एक ही कप में चाय पी और उसके बाद मेरा लंड काबू से बाहर हो गया. लंड का कुछ माल जागृति मेम के हाथ पर लग गया था जिसे उन्होंने चाट लिया. पर डर भी बहुत लग रहा है, कुछ हो गया तो?मैं- अरे कुछ नहीं होगा, तुम आंख बंद करो और अपनी चूत रगड़ाई का मजा लो.

हिंदी सेक्सी नई मूवी अब जैसा ऊषा ने मुझे बताया वो भी सुनो:मैंने (ऊषा) इतनी ही देर में पूरे कपड़े उतार दिये थे. उसकी नशीली आँखों में झाँक कर मैंने पूछा- क्या बात है, बड़ी बेचैन हो? तुम्हारे चूचे इतने उफान पर कम ही होते हैं.

सच बताऊं दोस्तो, इस हालत में अगर कोई भी हवस या फिर और नजरों से देखेगा, तो मैं उसको जानवर ही मानूँगा. शारदा चाची- और जोर से कपिल, और जोर से … शादी में बहुत थक गयी हूं, तू पूरी थकान उतार दे मेरी आज. भाभी ने मुझे बिठा कर पूछा- क्या हुआ था?मैंने बोला- कुछ नहीं, वो बहुत दिनों से वर्काउट नहीं हुआ है, तो नस पर नस चढ़ गयी थी.

भोजपुरी गाना बीएफ सेक्सी वीडियो

खाली दिमाग शैतान का घर! इस वक्त मेरा शैतान लंड फिर से मुझे मुट्ठ मारने के लिए उकसाने लगा. मैंने कहा- अब भी शौक रखते हैं?वे बोले- अब मिलते नहीं, दोस्त बाहर चले गए, कभी कभी कोई मिल जाता है. हां शुरू में बस थोड़ा सा दर्द हुआ मगर वो दर्द उनके प्यार के आगे कुछ भी नहीं था.

मुझे भी किचन के काम से आज रात के लिए मुक्ति मिलने वाली थी तो मैंने खुश होकर कहा- ओके, मैं तैयार हूँ … ऊई माँ. इतना सुनते ही उसने मुझे पकड़ कर अपने बेड पर बिठा लिया और मेरे होंठों पर होंठ रख कर किस करने लगी.

मैंने धीरे से बहन के पास लेटकर उसके पेट पर हाथ रख दिया और धीरे से टॉप को ऊपर करते हुए उसके चूचों पर जाकर रुक गया।फिर धीरे-धीरे उसके चूचों को दबाने लगा, फिर मैंने उसकी टॉप को थोड़ा ऊपर कर दिया और हाथ को उसकी ब्रा के ऊपर रखकर दबाने लगा.

उसके स्थान पर एक भारतीय मर्द होता तो शायद वो इतना खुला नहीं कह पाता. हम एक दूसरे को पसंद तो करते ही हैं, भले ज्यादा टाइम के लिए नहीं, लेकिन कुछ समय के लिए तो एक दूसरे को ब्वॉयफ्रेंड गर्लफ्रेंड समझ ही सकते हैं. जैसे ही वह बेड से उठी, वीर्य उसकी चूत से निकल कर उसके दोनों पटों पर बहने लगा.

मैंने कुछ ही पल के बाद उसके मुंह में वीर्य की पिचकारी मारनी शुरू कर दी. मैं- रूपा यह ग़लत है, मम्मी पापा को पता चलेगा तो क्या होगा?रूपा बोली- मगर भैया, ये बात तो सिर्फ हम दोनों के बीच में रहेगी. मैंने अपने पैरों को कैंची की तरह बनाकर उसके कमर से लिपटा दिया और आशीष से लिपट गई.

उसके निप्पल ऐसे तने थे जैसे उन दोनों कटोरियों के ऊपर दो किशमिश रखी हों.

कच्ची कली सेक्सी बीएफ: तब वो बोला- खैर तुम्हारी मर्ज़ी! मगर मैं तो अपना लंड नई लड़की को दिखला सकता हूँ ना?मैंने कोई जवाब नहीं दिया तब वो बोला- तुम्हारी चुप्पी ही मेरे लिए हां है. थोड़ी देर बाद उन्होंने मुझे आवाज़ दी, तो मैंने हड़ाबड़ाने का ड्रामा करते हुए जल्दी से बाथरूम का गेट बंद कर दिया.

भाभी मुझसे दूर जाने की कोशिश कर रही थीं, हाथ पैर मार रही थीं पर वो चिल्ला नहीं रही थीं. इस बार मैंने एक बार नज़रें उठा कर उन्हें देखा और फिर तुरंत अपनी आँख झुका ली. जब अंकल ने मेरे शरीर पर हाथ फेरा, तो मैंने इस बात का थोड़ा विरोध किया.

मामी की सीत्कार बढ़ने लगी तो मैंने मामी को बोल दिया- मामी अब तो उठ जाओ, मेरी चुदासी मामी.

ये पोज बहुत ही आसान है, इस चुदाई के पोज में दोनों काफी रिलॅक्स में रहते हैं. मम्मी ने पूछा- ये तो महंगी लग रही है, कितने की है?मैंने झूठ बोल दिया कि यह तो ढाई सौ रूपए की मात्र है. उनके इस व्यवहार से मुझे बड़ी राहत सी मिली और मेरे मन से एक अपराध बोध उतर गया.