हिंदी पिक्चर चाहिए बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ सेक्सी भाभी के बीएफ सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ दुकान: हिंदी पिक्चर चाहिए बीएफ, आज इसे एक मोटा लण्ड मिल गया तो इसकी माँ चुदने लगी बहनचोद। हाय दईया, मुझे बड़ा मज़ा दे रहा है तेरा लण्ड! मरद हो तो तेरे जैसा और लण्ड हो तो तेरे लण्ड जैसा बाबू जी!उसकी प्यारी प्यारी गालियां मेरा जोश बढ़ा रहीं थीं।मुझे बहुत अच्छा लग रहा था।मैं और धकाधक चोदने लगा वह भी अपनी गांड़ उठा उठा के धक्के का जबाब धक्के से देने लगी।वह बोली- हाय मेरे राजा.

सनी लियोन बीएफ 2021

कुछ देर बाद चाची कामुक आवाज़ करने लगीं- आह … उइ मां आह और करो … मस्ती से करो आज तो पूरी रात चोदना … आह मजा आ गया. बीएफ वीडियो हैवह दो बच्चों की मां थी पर दिखने में लगती थी कि अभी अभी जवान हुई है.

इतना कहकर मैंने उनकी जांघ पर हाथ रखते हुए कहा- उससे भी ज्यादा सुंदर तो आप हैं. बुर की चुदाई बीएफ फिल्महमारी लगभग रोज ही बात होने लगी, थोड़ी देर के लिए ही सही पर रोज बात होती थी.

लंड नीचे से अपना काम कर रहा था और मैं अपने दोनों हाथों से उसके दूध दबा रहा था.हिंदी पिक्चर चाहिए बीएफ: फिर चाची ने खड़े होकर अपने कपड़े पहन लिए और मुझे भी कपड़े पहनने को कहने लगीं.

वह भी मजे के साथ बुर चटवा रही थी- आह उह ओह जोर से चाट ना … चाट चाट कर लाल कर दो जानू!‘तेरी बुर तो पहले से ही इतनी लाल है … और कितनी लाल करूं?’‘ये मजाक का टाइम नहीं है भाई … जोर जोर से चाटो.मुझे थोड़ी थकावट महसूस हो रही थी तो मैंने चाची को दूसरी पोजिशन समझाई और मैं बेड पर सीधा लेट गया.

सेक्सी वीडियो गांव की बीएफ - हिंदी पिक्चर चाहिए बीएफ

मेरी मीना भी बहुत ही प्यार से इस रस में डूबी हुई बस आआह्ह ओह कर रही थी.उसकी चूत लगातार बह रही थी और लंड के अन्दर बाहर होने से फच फच की आवाज आने लगी थी.

दोनों एक-दूसरे को चूमने लगे और थोड़ी देर में मैं कपड़े पहनकर उनके साथ नीचे आ गया. हिंदी पिक्चर चाहिए बीएफ पोर्न भाभी फक करने का मौक़ा मुझे मिला जब मैं एक घर में पेस्ट कण्ट्रोल करने गया.

मैं चूचियों की गोलाई के सहारे बर्फ के टुकड़े को घुमाते हुए काफी देर बाद कोमल के निप्पल के ऐरोला के पास आया.

हिंदी पिक्चर चाहिए बीएफ?

दोस्तो, मैं अपने खुद के तजुर्बे से बोलता हूँ कि जब भी रात को आप मुठ मारकर या चुदाई करके सोते हो, तो बड़ी चैन की गहरी नींद आती है. उनका हल्का सा पेट भी था, जो उनकी ख़ूबसूरती को कम करने की जगह बढ़ा देता था. मैंने पूरी मस्ती से उसकी दूध घाटी का दीदार किया और उधर वो शायद इस बात को देख रही थी कि मैंने उसके मम्मों को देखा.

पैंटी का सामने का हिस्सा इतना छोटा सा था कि मेरी चूत पूरी तरह से ढक भी नहीं पा रही थी और बगल से चूत का हिस्सा बाहर दिख रहा था. मैं उससे बातें कर रही हूं, अगर आपको कुछ चाहिए हो, तो मुझे कॉल कर देना. बुआ व्हिस्की की कड़वाहट को खत्म करने के लिए मुँह से मुँह लगाकर चूसने लगीं.

उन्होंने लपक कर मेरे लंड को मुँह में ले लिया और चूसना चालू कर दिया. अब जहां कोमल ने पायल बांधी हुई थी, वहां उसे किस करता हुआ लगातार ऊपर को आता गया. यह सामान्य बात थी अक़्सर ही मैं इस तरह मित्र के घर चला जाता था तथा यदि मित्र घर पर न भी हो तो कोई भी मिल जाए, उससे बतियाता रहता था.

इस तरह से हम दोनों फिर से गर्मा गए और इस बार वो मेरे लौड़े की सवारी करने लगी. अपने हाथ मेरी पीठ पर ले जाकर शेखर ने मेरी ब्रा का हुक खोल दिया और मेरे स्तनों को कैद से आजाद कर दिया.

मैंने अपना हाथ उसके मम्मों पर रखा और एक चूची को दबाते हुए मजा लेने लगा.

इसलिए बीवियों को दूसरों के घर पर जाकर खाना बनाने का काम करना पड़ता था.

तुम मुझसे चुदवाने के लिए ही पैदा हुई हो और तुमने मुझे इसीलिए पैदा किया था कि मैं तुम्हारी चूत की आग बुझा सकूं. बाकी दिनों में तो मुझे वीडियो कॉल पर चूत में उंगली डालकर चूत की प्यास बुझानी पड़ती है. मुझको शुरुआती दर्द के बाद अभी मजा आना शुरू ही हुआ था कि सोनी झड़ गया.

रगड़ते रगड़ते उसने एक धक्का मेरी चूत की ओर दे दिया और मेरी चूत में दर्द होने लगा था।मुझे चुदे हुए 1 महीना हो गया था और निखिल का लण्ड भी कुछ ज्यादा मोटा था।उसके लंड का सुपारा मेरी चूत में जा फंसा और मैं दर्द में बिलबिला उठी. मैं- नीना शाम को फार्म के काम के बाद मिलते है, मैं तुम्हें तैयार करूँगा. कुछ पल बाद मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया और मेरा शरीर एक बार फिर से शिथिल हो गया।निखिल अभी भी पूरे जोर शोर से मेरी चूत चुदाई कर रहा था.

मेरे बाद मेरी बहन ने खुद को साफ़ किया और हम दोनों नंगे चिपक कर सो गए.

चूत को चाटने और उंगली से घायल करने के बाद मैं उसके निप्पल्स को चूसने लगा और चूचियों को दांत से धीरे धीरे काटने लगा. उस वक्त साक्षी की आंखें बंद थीं और वो थोड़ी डरी सी लग रही थी क्योंकि मेरा लंड छह इंच लम्बा और तीन इंच मोटा था और साक्षी की गांड अभी तक कुंवारी थी. पढ़ाई के दौरान हम दोनों कॉलेज की लौंडियों को अपने कमरे पर लाकर चुदाई का मजा लेते रहते थे.

कमरे का पर्दा डालकर मैंने बीवी की चुदाई की और वो मेरे लंड से तृप्त होकर सो गई. लेकिन अब मेरे मुंह पर खून लग चुका था और अब मैं रम्भा को बिना चोदे नहीं छोड़ सकता था।मैं यह सोचने लगा कि अगला मौका कब मिलेगा. देसी औरत की चुदाई कहानी में पढ़ें कि मैंने अपने बापू को पड़ोस की एक सेक्सी विधवा औरत की चूत चुदाई करते देखा अपने ही घर में आधी रात को!दोस्तो, मेरा नाम आरुष है ओर में खरगोन जिले के बड़गांव में रहता हूं.

उधर नेहा को मोहित चोद रहा था … और आयेशा और रिया दोनों अबला का तबला अमित बजा रहा था.

उसने मेरे धक्कों का जवाब देने के लिए अपनी गांड ऊपर उठानी शुरू कर दी. मैंने मम्मी को पलटाकर घोड़ी बना दिया और उनके पीछे आकर चूत का मुँह फैला कर अपने लंड का सुपारा रख दिया.

हिंदी पिक्चर चाहिए बीएफ चूमने के साथ ही भाभी ने वो गोली मेरे मुँह में डाल दी और मैंने खा ली. मैं सोच रही थी कि अब मैं हारून के सामने कैसे बताऊं कि मैं तुम्हें मन ही मन अपना पति मान चुकी हूं.

हिंदी पिक्चर चाहिए बीएफ भाभी ने मेरी पैंट कसके पकड़ी और साथ में मेरी अंडरवियर भी पकड़ ली और एक झटके में नीचे खींच दी. मेरी जीभ यकायक ही उसके मुँह में चली गई और वो आइसक्रीम की तरह उसे चूसने लगी.

पर अब मुझे उसकी गांड दिखाई दे रही थी तो मैंने लंड वहीं टिका दिया और कहा कि जानेमन या तो तुम खुद ही मेरा लंड अपनी चूत में डाल लो या अब मैं तुम्हारी गांड मारने वाला हूँ.

सेक्सी 2022 का वीडियो

उसने तुरंत 69 में आकर मेरा लंड पकड़ लिया और लंड देखते ही उसकी आंखों में चमक आ गयी. अच्छा ये बताओ हमारी बड़ी वाली साली साहिबा कहां हैं?उसने थोड़ा गुस्से में कहा- दीदी बाहर वाले कमरे में सो रही हैं. सुबह जब मेरी आंख खुली तो शुभी बिल्कुल नंगी होकर मेरे बगल में बैठी थी.

उसने ज्यादा नखरे नहीं दिखाए और सीधा मेरा लौड़ा अपने मुख में भर लिया।‘अहह उफ्फ!’मैं बोलने लगा- उफ्फ अर्चना … और जोर से चूसो! उफ्फ … बहुत मस्त चूसती हो तुम!वो भी गुप्प गुप्प करके लौड़ा मुख में लेकर चूसने लगी. सिस्टर बॉयफ्रेंड सेक्स कहानी में पढ़ें कि घर पर मैं और मेरी बहन ही अकेले थे. अब मैंने माधुरी के चूचियों पर अपना सारा काम निकाला क्योंकि इतनी देर की चुसाई और चूमाचाटी में हम दोनों की सांसें फूल गयी थीं … दोनों के सीने जोर जोर से ऊपर नीचे हो रहे थे.

अबकी बार चिकना होने के कारण लंड थोड़ा सा मेरे अंदर घुस गया और मुझे ऐसा लगा मानो मेरी चूत को किसी ने फाड़ कर रख दिया है.

दोस्तो, मैं प्रियंका परिहार आप सभी का फ्री सेक्स स्टोरी डॉट कॉम में स्वागत करती हूँ. वाह क्या मजा था, चाची के गुलाबी होंठों की छुअन से मेरे अन्दर करंट दौड़ने लगा था. मैं भी मुस्कुरा कर पास में लगी एक गोल टेबल के बाजू में रखी कुर्सी पर बैठ गया.

[emailprotected]हॉट मॉम डैड सेक्स कहानी का अगला भाग:लॉकडाउन के बाद सौतेली मॉम की जमकर चुदाई- 2. उन्होंने अपनी सलवार से ही मेरा हाथ साफ किया पर थोड़ा सा चूत का पानी हाथ पर रह गया था. तो भाभी ने बोला कि अभी तो 8:30 ही बज रहे हैं, अभी से कमरे में जाकर क्या करोगे?मैंने भी सोचा कि हां बात तो सही है.

मैंने अपना लंबा और मोटा लंड निकाल कर हिलाया और उसकी चूत की फांकों में रगड़ने लगा. ऐसे ही बार बार गड्डों की वजह से मेरे और उस लड़की के बीच में ज्यादा फासला नहीं बचा था.

तब अर्चना ने मुझे बताया- ये मेरी किराएदार है, इसका पति विदेश में नौकरी करता है. उसके हर दबाव के साथ मेरे बदन पर जैसे हजारों चीटियां रेंग जाती थीं।जल्दी ही मेरे बदन की गर्मी बढ़ने लगी और मैं गर्म होने लगी. थक जाने पर कोमल की टागें हवा में उठ गईं और वो लंड से अपनी चटनी बनवाने का सुख लेने लगी.

बाद में जब वो रिलेक्स हो गया तो उसने बेड पर एक मुलायम प्लास्टिक की चादर बिछाई और मुझे मसाज देनी शुरू कर दी.

पहले तो उसने कहा- कहां चलना है?लेकिन मैंने कुछ नहीं बताया और चुपचाप उसे वहां से ले गया. वो ठंड का मौसम था और उस ठंड में मुझे गर्मी एक रसमलाई जैसी आंटी ने दी. मैं उसकी लार को अपने मुँह में लेकर किसी अमृत की तरह चूसे जा रहा था.

उसने चुदास में कहा- मां की चूत कंडोम की, तुम बिना कंडोम के ही चोदो … जल्दी से मेरी बुर में लंड डाल दो. उन्होंने अपना लंड मेरी चूत के मुंह पर रख कर एक धक्का मारा तो लंड फिसल गया.

फिर उसने मेरे सपाट पेट पर हाथ फिराया और उसका हाथ मेरी पैन्ट पर पहुंच गया. हमने जैसे ही आगे से शॉल डाली, मेरा हाथ जल्दबाज़ी में आंटी के मम्मों पर टच हो गया, जिसे मैंने जल्दी से हटा लिया. वो बोली- मेरा गिफ्ट?मैंने उसे फिर एक मस्त पार्टी दी और उसने थोड़ी सी ड्रिंक की.

एचडी में सेक्सी ब्लू पिक्चर

मैंने उससे पूछा- आग लगी है न!वो मेरी बांह में मुक्का मारती हुई बोली- हां बहुत.

क्यूंकि मैंने दोनों हाथ से मोहित की गांड को पकड़कर फैला रखा था इसलिए मैंने रिया को इशारा किया और अपने पास बुलाया. और इस तरह से रवि ने दीदी की चुदाई करीब आधे घंटे तक बहुत मज़े लेकर बहुत अच्छे तरीके से की. मैंने उसकी चूत में पहले एक उंगली डाली और बहुत देर ऐसे ही अंदर बाहर करने लगा.

कहानी के पहले भागमॉम की चूत की प्यास पापा से नहीं बुझीमें अब तक आपने पढ़ा था कि मैं मम्मी से टीवी का रिमोट छीनने के चलते उनके साथ मस्ती करने लगा था और उनकी चूचियों को मसलने लगा था. दूसरे हिजड़े ने मेरी जांघों पर तेल डाला और मेरी जाँघों को मसलने लगा. सेक्सी बीएफ भोसड़ीकुछ ही धक्कों में ही मैं ज़ोरदार तरीक़े से चाची के मुँह में ही झड़ गया.

दोस्तो, कभी अनुभव करना कि जिस वक्त लंड चूत में हो, उसी वक्त जीभ आपस में एक दूसरे से लड़ रही हों, तो कितना ज्यादा जोश बढ़ता है. मैंने कहा- ये क्या कर रहे थे आप?वो साफ़ शब्दों में बोला कि मैंने देखा है कि तू अपनी चूत में उंगली से पानी निकालती है, तो मेरे साथ सेक्स करने में क्या बुराई है.

आगे का धमाका देखने की उत्सुकता से मैं अपनी बीवी के पीछे पीछे हो लिया. मैंने कहा- कैसी हरकत?भैया हंस कर बोले- जैसी गाली दी, साला वैसी ही हरकत कर रहा था. उधर से साक्षी भी अपनी साड़ी उतार चुकी थी और अपने पेटीकोट का नाड़ा खोल रही थी.

फिर लिपलॉक किया और लंड चूत पर सैट करके उसके दोनों हाथों को जोर से पकड़ लिया. फिर अचानक से जीजू ने एक झटके में पूरा लंड साली के मुँह में गले तक पेल दिया. मैं उस सैट को अपने साथ ले जाना चाहता था मगर फिर न जाने क्या सोच कर मैंने उसे उधर ही वापस रख दिया.

उसके बदन में जोर जोर के झटके लगने लगे और उसके लंड का पानी मेरी चूत में छूट गया.

मैं हर हफ्ते के अंत में अपनी नानी के घर जाता हूँ जो कि मेरे घर के पास में ही है. मुझे पापा मम्मी के उठने का डर भी लगा हुआ था तो मैंने चुदाई तेज़ की और जल्दी ही उसकी चूत में वीर्य झाड़ दिया.

आज तक हम दोनों साथ में सोते थे, मेरे मन में कभी बहन के बारे में गलत ख्याल नहीं आया था. ऐसे ही साक्षी की चूत में मैंने अपनी उंगली फिर से घुसा दी तो साक्षी के मुँह से मादक आह निकल गई. अब आंटी झट से आगे को हो गईं और गुस्से में बोलीं- ये क्या कर रहे हो … मैं जब से देख कर कुछ बोल नहीं रही हूँ तो तो इसका मतलब तुम गलत फायदा उठाओ?मैं नीचे सर करके खड़ा हो गया और सिर्फ़ आंटी की बातें सुन रहा था.

अब प्रिंस ने उसकी कुर्ती को उसके गले तक उठा दिया और उसकी चूचियों से खेलने लगा. चैनल बदलने के बाद उसने बस अपना दाहिना हाथ मेरी गोद में छोड़ दिया और कुछ देर वहीं रखा. अगर मैं उसका नाम बता दूंगी, तो तुम लोगों की दोस्ती की माँ चुद जाएगी.

हिंदी पिक्चर चाहिए बीएफ उसके बाद मैंने अपना एक हाथ उनके बूब्स पर रखा तो मैंने महसूस किया कि मम्मी ने ब्रा भी नहीं पहनी है. उस समय मुझसे रहा नहीं जा रहा था क्योंकि चाची की जवानी भी लंड की भूखी मचल रही थी.

डॉक्टर वाली सेक्सी चुदाई

मेरा लंड तो पहले ही फड़फड़ा रहा था; ऊपर से उसके हाथ मेरे लंड के काफी पास आ चुके थे. साक्षी अपने मुँह से ‘स्स्स आह …’ करने लगी और वो भी नीचे गांड उठा कर मेरे लंड को अपनी गांड में लेने लगी. सामने वाली सीट पर उसका वीर्य उछल कर फ़ैल गया और शेखर भी ठंडा पड़ गया.

हम दोनों चौंक गए कि इस टाइम कौन आ गया।मैंने आवाज़ लगाकर के पूछा- कौन है?तो आवाज़ आई- मैं हूँ राजवीर, दरवाजा खोल यार!मैंने अंजलि को बोला- तुम बाथरूम में चली जाओ, मैं इसको देखता हूँ।अंजलि ने अपने कपड़े लिए और बाथरूम में चली गई. अचानक ही उसका पानी छूट गया और उसने अपने गरमागरम वीर्य की ना जाने कितनी पिचकारियां मेरे गले के अंदर उतार दीं. बीएफ सेक्सी पिक्चर हिंदी आवाज मेंएक हिजड़ा हँसते हुए बोला- मजा आया नगमा बीबी?मैंने कहा- हाँ, बहुत अच्छा लग रहा है, मानो जन्नत मिल गई है.

पहले ही झटके में दो इंच लंड अन्दर चला गया और मीना की आंखों से टप टप आंसू लुढ़कने लगे.

उसने अपना दाहिना पैर ऊपर उठा लिया और अत्यधिक कामवासना से उसे अपने बाएं पैर पर रगड़ने लगी. सलवार सूट पहनकर और पूरा मेकअप करके जब मैं तैयार हो चुकी थी और मीठे मीठे सपनों में खोई थी कि तभी दरवाजे की घंटी बज उठी.

दो मिनट में ही मेरे लंड ने पानी निकाल दिया और आंटी ने लंड को चूस चूस कर साफ़ कर दिया. तो उसने मना कर दिया, बोली- ये नहीं हो पायेगा।‘कोई नहीं!’ बोल के मैंने अंजलि के दोनों हाथों को पकड़ के उठाया और बोला- चलो अब बेड पर चलते हैं।और अंजलि को बेड पर जाने का इशारा किया. उसका ये प्यार देख कर मैं भी भावुक हो गई और उसके सीने पर सर रख रोने लगी.

अब तो मैं इतना बेशर्म हो गया था कि मैं अपनी मॉम की गीली कच्छियां भी सूंघने लगा था.

उसकी छटपटाहट ज्यादा थी तो मैं कुछ पल के लिए रुक गया मगर उसकी चूत में लंड का दबाव बनाए रहा. मेरी कहानी पढ़ने के बाद उनको भी लगा कि उनको भी कुछ नया करना है।और वो मुझ से मिलने के लिए बोलने लगी. मैंने उस समय जब आंटी के बड़े-बड़े चूचों और उनकी गोल मटोल हिलती हुई गांड को देखा, तभी से मैंने ठान लिया था कि कैसे भी करके इस आंटी को पटाकर चोदना है।कुछ दिनों के बाद उन आंटी और मेरी मम्मी की दोस्ती हो गई थी अच्छे से! वे मिलनसार हैं और आंटी का आना जाना लगा रहता था और हमारा आना जाना भी वहां लगा रहा.

गानों में बीएफमैंने उसको नीचे जमीन पर लिटा दिया और उसकी कुर्ती ऊपर करके उसके बूब्स पीने लगा. फिर एक ही झटके में पूरा का पूरा लंड प्रिंस ने अपनी साली की चूत में पेल दिया.

general सेक्सी पिक्चर

एक एक करके आंटी ने मेरे सारे कपड़े उतार दिए और मैंने भी किस करते करते आंटी के सब कपड़े उतार दिए. उससे पहले कि मैं वहीं खुले में उसको पकड़ लेता, मैं अपने कमरे में चला गया और उसके बड़े बड़े मोटे चूचों को याद करके अपना लंड हिला कर शांत हो गया।मेरा पूरा दिन रम्भा के साथ आंख में चोली में ही निकल गया. फिर आलिम साहब ने चाटना शुरू किया और मेरे पेट से मुझे चाटते चाटते मेरी गुच्छी तक आ गए.

इसी बीच उसने अपनी चूत से पानी छोड़ दिया जिससे वो थोड़ी शांत हो गई और चुपचाप लेट गयी. उसके बाद शर्त के हिसाब से 5 दिन बाद बुआ ने मुझे घर बुलाया और बुआ की सहेली को बुआ के घर में उसके सामने चोदा, उसकी गांड की सील भी तोड़ी. फिर उसने अपने आपको मेरे ऊपर झुकाया और कुछ तेजी से आगे पीछे होने लगी.

धीरे धीरे मेरे ऊपर भी नशा छाने लगा और उनके लगातार चूमने सहलाने से उत्तेजित भी होने लगी थी. मॉम की चूत अभी भी बहुत टाइट थी और मेरा लंड काफी बड़ा और मोटा था तो मुझे अपना लंड मॉम की चूत में डालने में थोड़ी दिक्कत हो रही थी. मैंने उससे कहा- एक बात कहूँ, बुरा तो नहीं मानोगी?उसने कहा- एक क्या दो बात कहो और बिंदास कहो.

उस समय मेरे घर वाले शादी में कुछ 14-15 दिनों के लिए गांव जाने वाले थे. मेरी बीवी ने कहा- कविता तुम्हारे घुटनों पर मालिश कर देगी, तुम्हें आराम मिलेगा.

फिर मैं उसके मुंह के पास आगया और फिर उसने मेरा पैंट उतार दी।मेरा लौड़ा अब उसके मुंह के सामने फनफना कर बाहर निकल आया.

फिर उसने मेरी गांड में ढेर सारा थूका और अपनी दो उँगलियाँ अंदर घुसा दीं. साड़ी सेक्सी बीएफमेरा दिमाग खराब हो गया तो आप लोगों को इसी जंगल में छोड़ कर चला जाऊंगा. बीएफ ने चोदाडिंपी- अरे तुम तो अलग ही दुनिया में रहते हो और तुम्हारी तो पहले ही गर्लफ्रेंड है, फिर क्या फायदा?मैं- फायदा देना मेरा काम है, आप तो बस फायदा लो. थोड़ा सा तेल मैंने अपने लंड पर लगाया और लंड गांड के छेद पर सैट कर दिया.

नाश्ते के दौरान ही भाभी ने कहा- आज तक मैंने ऐसा सेक्स कभी नहीं किया था.

बापू- अच्छा मैं तुझे इतना अच्छा लगता हूँ?काकी- हां लल्लू, गांव की न जाने कितनी औरतों के लिए तू रामबाण औषधि है. लंड को वापस खड़ा करने के लिए मैं लंड को सहलाने लगी और वापस मुँह में लेकर चूसने लगी. आप सभी ने मेरी पिछली कहानीमेरी बीवी की खुल्लम खुल्ला चुदाईको पढ़ा और सभी ने कहानी को पसंद किया.

मैंने महसूस किया कि मोहित मुझे बहुत देर से चोद रहा था और ये अभी तक झड़ा भी नहीं था और थका भी नहीं था. हमारे बीच बातें साफ़ होने लगी थीं और जवानी की तपिश हम दोनों को ही जलाने लगी थी. फिर भैया रुक गया और अपनी टीशर्ट उतार कर मुझे मेरे कंधों से पकड़ कर लिटाने लगा.

सेक्सी व्हिडिओ फिल्म व्हिडिओ

आंटी ने पूछा- और बेटा निखिल काम काज तेरा कैसा चल रहा है?‘अच्छा है आंटी, धीरे धीरे चीजें बढ़ रही हैं. उसकी कमर को पेड़ से सटाकर मैंने अपने होंठों को उसकी गर्दन पर लगा दिया और गर्दन के साथ साथ कान के नीचे चूमना शुरू कर दिया. मैंने अपनी स्पीड और चाची ने अपनी बढ़ा दी और थप थप थप की आवाज़ तेज हो गई.

कुछ पांच मिनट में ही हम लोग थक गए थे क्योंकि हलासन में पीठ पर पूरा खिंचाव होता है और पेट पूरा दबा हुआ होता है.

तूने उसे मेरी गांड मारने का बताया था क्या?”हां मैंने बीवी को बताया था कि हम लोग हॉस्टल में रवि की गांड मारते थे, रवि को और हमें बहुत मजा आता था.

मेरी उंगली के चूत के अन्दर चलने से कोमल सिहरने लगी और उसकी गांड उठने बैठने लगी. शुरुआत कुछ ऐसी हुई कि मैं उस समय अपनी जवान चाची को छेड़ने की कोशिश करता था. ब्लूटूथ सेक्सी बीएफबाथरूम में उसकी नंगी चुचियां और चूत में उंगली करने का सीन बार बार मुझे गर्म कर रहा था.

उसने कहा- तुम भी तो मुझे ऐसी नजर से देखते हो?मैंने कहा- नहीं, वो तो मैं बता रहा था कि तुम कैसी लगती हो. अब उन दोनों ने मुझे कमरे में ले जाकर बेड के किनारे से कुतिया बनने का कहा. जब तक तुम्हारे जिस्म को लगातार बारबार रगड़ रगड़ कर चोदा नहीं जाएगा तब तक तुम्हारा चुदास का जीन तुमको जकड़े रहेगा.

मैंने अपने होंठों को कस कर बंद किया और ‘उमम्म आह …’ करके उससे कुछ कहने लगा. तो मैं समझ गया कि वे फुल ठुकाई करने के लिए रेडी है, मेरा इंतजार कर रही है.

एक उंगली में तेल लगाकर मैंने नीना की गांड में डाली, नीना की गांड कसी हुई थी.

अपनी अगली कहानी में मैं आपको बताऊंगी कि मेरे आम तरबूज में कैसे बदल गए और मैंने अपनी चुदास की बीमारी का इलाज किन किन तरीकों से जारी रखा. आंटी हाउसवाइफ थी।अंकल बाहर जॉब करते थे इसलिए 2 महीने में कभी-कभी आते रहते थे. साली उससे भी तेज थी, वो बोली- दोअर्थी बात मत करो जीजा, मैं सब समझती हूँ.

सी बीएफ पिक्चर दिखाइए वो धक्के मारता तो मैं भी अपनी गांड आगे पीछे करके जंगल सेक्स के मजे ले रही थी. मैं कोमल के साथ शादी के पंडाल में इतरा कर ऐसे चलने लगा, जैसे वो मेरी सैटिंग हो.

मेरे मुँह से ये बात सुनकर माधुरी भड़क गई और मेरी उसे चोद पाने की उम्मीद टूट गई. थोड़ी देर चिपके रहने के बाद प्रिंस ने अपनी पैंट पहनी और बाहर आकर नल से पानी निकाल अपने हाथ मुँह धोए और बाहर ही पड़ी कुर्सी पे बैठ गया. अब जैसे जैसे चाची लंड को चूस रही थीं, लंड बिल्कुल टाइट होता जा रहा था.

देहाती सेक्सी जानवर

करीब बीस मिनट तक बहन की चूत चोदने के बाद मेरा पानी निकलने वाला हो गया था. मैंने चाची को उसकी मालकिन डॉक्टर के घर पर काम करते हुए भी कई बार खूब पेला. मैं समझ गया कि माधुरी की चूत गधे के लंड से चुदना चाहती थी और उसे झान्टू किस्म का लंड मिल गया है.

पहले मैंने उन दोनों को मजा दिया, फिर उन्होंने मिल कर मेरे साथ फोरप्ले करके मुझे आनन्द से भर दिया. मेरे मम्मों पर हाथ फेरते हुए उनको दबाया और फिर नीचे ले जाकर मेरी चूत के बालों में अपने हाथ फिराने लगे.

थोड़ी देर बाद उसका पानी निकल गया तो मैंने अपना मुंह उसकी चूत में लगाया और अपनी जीभ से उसकी चूत की गहराई को टटोलने लगा.

मैंने आंटी से कहा- पूनम कुतिया बनोगी?‘हां … कुतिया, घोड़ी जो कहो, वो बनेगी तेरी पूनम. हालांकि एक बात मुझे समझ आ गई थी कि उसके मन में भी कुछ न कुछ चल रहा था. फिर जलालुद्दीन ने मुझे मुंह बंद करने को कहा और अपना लण्ड मेरे मुंह में अंदर बाहर करने लगे.

उसने मेरी टांगें हवा में उठा दीं और मेरी गांड के छेद पर अपना लंड टिका दिया. कुछ देर मेरे मम्मों को मसलने के बाद जीजू किसी कुत्ते की तरह मेरा बदन चाटने लगे. दर्द हो रहा था मगर मज़ा भी खूब आ रहा था।उसने बारी बारी मेरे आंड को मुंह में भर कर लंड हिलाया।थोड़ी देर बाद मैंने उसे बिस्तर पर लेटने के लिए कहा और तकिया उसकी गांड के नीचे लगा दिया.

मैं हंस पड़ी- बहुत चालाक निकले आप तो!फिर मैंने पूछा- क्या सच में मुझे आपका बच्चा भी पैदा करना होगा या चुदाई के समय आप बस यूँ ही कह रहे थे.

हिंदी पिक्चर चाहिए बीएफ: इतना सुनते ही उसने कहा- नहीं बिल्कुल नहीं, मैं नहीं खेलती, ऐसे सिंपल खेलना है तो खेल … नहीं तो रहने दे. चूंकि अब पहले कपड़े उतारने की बारी उसकी थी तो मैंने कोई भाव न दिखाते हुए कहा- भगाने की क्या जरूरत थी, अच्छी चली तो थी तू, लेकिन क्या हो सकता था.

मुझे अपने करीब खड़ा देख कर कुमकुम बोली- अरे भईया, आप अभी तक सोए नहीं?मैंने कहा- हां बस अब सो रहा हूँ. मेरी इस हरकत से माधुरी ने कुलबुलाते हुए कहा- तुम तो बड़े ही अनुभवी लगते हो, तुम्हारी बीवी बहुत भाग्यशाली होगी क्योंकि चुदाई की कला में तुम तो बहुत ज्यादा एक्सपर्ट हो. हमारी लगभग रोज ही बात होने लगी, थोड़ी देर के लिए ही सही पर रोज बात होती थी.

इससे मेरे बदन में करंट सा दौड़ रहा था और मेरी चूत बस पानी छोड़ती जा रही थी.

अबकी बार चिकना होने के कारण लंड थोड़ा सा मेरे अंदर घुस गया और मुझे ऐसा लगा मानो मेरी चूत को किसी ने फाड़ कर रख दिया है. मुझे लग रहा था कि पता नहीं वो मेरे बारे में क्या सोचेगी लेकिन मुझे ऐसा लगा कि उसे भी मेरे लंड का अहसास अच्छा लग रहा था. उसमें अन्दर से उसकी जवानी फूट फूट कर दिख रही थी, चूचियों के निप्पल एकदम कड़क दिख रहे थे और वो मेरी तरफ देख कर मुस्कुरा भी रही थी.