इंग्लिश बीएफ एक्स एक्स एक्स वीडियो

छवि स्रोत,पंजाबी xxx video

तस्वीर का शीर्षक ,

हिन्दी सेक्सी फिल्म: इंग्लिश बीएफ एक्स एक्स एक्स वीडियो, उसका एक हाथ मेरे सर पर था, वो मुझे ऐसे दबा रही थी कि मानो कह रही हो- मेरी चूत में घुस जाओ!इतनी कामुक लड़की मैंने अपनी जिंदगी में नहीं देखी!मैं कोमल के ऊपर आ गया.

ब्लू फिल्म वीडियो ब्लू फिल्म वीडियो

मैं समझ गई थी कि वो क्या कहना चाहता है।उसने अपना हाथ बढ़ाया और मेरे हाथ पर रख दिया और बोला- भाभी अब काफी सर्दी लग रही है, अब क्या करूँ?उसका हाथ पड़ते ही मैं शरमा गई और बोली- क क. एक्स भोजपुरीपूरे लंड को उसने चाटा, फ़िर से मखन लगाया।मैंने उसे खड़ा किया और बेड पकड़ कर झुकाया।इस तरह खड़े होने से उसके चौड़े और उभरे हुए चूतड़ बहुत ही सेक्सी दिख रहे थे। गांड का छेद और चूत दोनों उभर आए थे। मैंने पहले उसके चूत और गांड दोनों पर लंड को बहुत अच्छे से रगड़ा और पहले मैंने उसकी चूत के ऊपर मेरा लंड टिकाया और उसकी पतली कमर को जोर से पकड़ कर दबाया.

वैसे तो यह आम सी बात है और बहुतों की जिंदगी आपसी समझ की कमी से कुछ इसी तरह की हो जाती है और अलगाव बढ़ जाता है. www com एक्स एक्स एक्समुझे देखो ना, कितनी बढ़िया चोदा है दोनों ने!’मैं उठ कर बैठ गई, गोमती मुझे लेकर बाथरूम में आ गई.

मगर मैं सुन कहाँ रहा था…! पेड़ू का उभार, खुरदरे बालों की शुरुआत, पैंटी की इलास्टिक, पतले कपड़े के नीचे शिकार खोजते-से नथुने। मैं मानने वाला नहीं। होंठों पर झीने कपड़े के नीचे बालों की रेशमी सरसराहट महसूस होती है….इंग्लिश बीएफ एक्स एक्स एक्स वीडियो: अब मामी पेट के बल हो जाओ, मैं आपके पीछे के छेद को छेड़ता हूँ!”नयन, संभल के! मैंने कभी पीछे लिया नहीं है!”अरे मामी जी! तुमने कभी आगे भी नहीं लिया था! लेकिन अब लेती हो ना!”मैंने अपनी पकड़ बना ली और उनकी गांड पर लंड का दबाव बनाने लगा.

मुझे चुदाई में बहुत मज़ा आ रहा था इसलिए मैंने उनकी बातों पर दयाँ नहीं दिया और ट्रेन के हिलने की गति के साथ ही हिल हिल कर लंड लेने लगी.जैसे ही मैं झड़ने वाला था मैंने अपना लंड निकाल और पूरा पानी उसके मुँह में डाल दिया.

ત્રીપલ એક્સ સેક્સી - इंग्लिश बीएफ एक्स एक्स एक्स वीडियो

सुबह जब मैंने शालू को बताया कि मैंने तेरी पेंटी पर हाथ फिराया था तो उसे विश्वास ही नहीं हुआ कि मैंने ऐसा किया होगा.ऽऽऽचलो शुरू हो जाओऽऽतुम तो मेरी क्लास टीचर की तरह मुझे हुक्म दे रही हो ?क्या मतलब ?वो भी ऐसे ही डांटती थी।ओ.

मैंने धीरे धीरे लण्ड मसल पर पिचकारियों का दौर समाप्त किया और अन्तिम बून्द तक लण्ड से निचोड़ डाली. इंग्लिश बीएफ एक्स एक्स एक्स वीडियो अब चार हो गए हैं… अब जी भर कर चुदाई कर सकते हैं ना… ”कामिनी ने राहुल को प्यार किया… और रीता ने साहिल को चूम लिया.

रीटा ने सोचा काश बहादुर की लेडी सायकल होती और वह शान से बहादुर के लण्ड पर बैठ कर स्कूल जाती.

इंग्लिश बीएफ एक्स एक्स एक्स वीडियो?

तब मम्मी जोर फुसकारी मार कर बोली- मेरी जान मुझे इस तरह मत जला! मुझे चोद दे!उसके बाद अंकल ने मम्मी की साड़ी पूरी तरह से उतार दी. मैंने उससे पूछा- मुझे घर फोन क्यों मिलाया था?तो वो बोला- हमें घर वापिस आने में 3-4 दिन लग जायेंगे तो मम्मी पापा चाहते है कि तब तक तुम हमारे घर और मेरी बहनों का ख्याल रखो. अबकी बार पूरा लंड अन्दर सील तोड़ता हुआ अन्दर घुस गया था … इस बार रीना … ऊऊऊ … ऊईई फट गई मेरी चूत! कह कर चिल्ला उठी!उसकी चूत से खून निकल रहा था मगर मैंने परवाह नहीं की और लगातार ठोकता रहा अपना मूसल उसकी चूत में!थोड़ी देर में उसे मजा आने लगा और वो भी चूत उठा उठा कर चुदवाने लगी.

आंटी के जबरदस्ती करने पर मैं मान गया और उनकी चूत चाटने लगा, नमकीन सा कसैला सा स्वाद था. वो थोड़ा सा चिल्लाई, मगर फिर अपने आपको सँभालते हुए उनके हाथों ने मेरे चूतडों को दबाना शुरू किया!उनकी इस हरक़त से मुझे काफी जोश मिला और मैंने झटके लगाने और तेज़ कर दिए. मैंने उसके होंठो को चूसते हुए उसके पूरे चेहरे को चाट-चाट कर गीला कर दिया और दोस्तो, आप तो जानते ही हैं कि कड़कियों के गले पत चूमने और चाटने में उनको कितनी उत्तेजना होती है.

पर रीटा ने जल्दी ही होश सम्हाल लिया और मस्ती में आकर अपनी गोरी गोरी चिकनी टांगों को हवा में ऊपर उठा दिया तो बहादुर का लौड़ा चूत की कुंवारी गहराइयों में विचरण करने लगा. ऽऽऽ करके रह गई पर अगले धक्के में लण्ड ने चूत की जड़ को छू लिया।मौसी की दबी सी चीख निकल गई- अ आ आ…वो धनुष बन गई। दोनों टांगें मेरे सीने के पीछे से ले जाकर वो मुझे लपेटे थी, उनकी आँखें वासना के ज्वर से बंद हो गईं थी, उनकी नाजुक कमर मेरी मजबूत बाजुओं में जकड़ी हुई थी। वो अपनी गाण्ड उठा-उठा कर लण्ड अन्दर लेने की कोशिश कर रही थी।पूरा लण्ड बाहर तक खींच कर मैंने एक जोर का धक्का मारा और मौसी आआ. मैंने उसे मस्ती दिलाई।अब देर मत करो… प्लीज़ जल्दी डाल दो… चाट चाट कर गांड में खुजली कर दी है तुमने … प्लीज़ डालो ना.

भाई! यह मत पूछना कि आगे क्या हुआ? वैसे समझ लो कि जो हर चुदाई में होता है, वही नीना की चुदाई में भी हुआ- चूमा चाटी, कपड़े उतारना फिर चूची चूसना, चूत चाट कर मस्त कर देना और फिर लंड-चूत का खेल. मैंने कहा- यह काम मैंने पैसों के लिए नहीं किया है, मुझको तो सेक्स करने की बहुत इच्छा होती है!तो वो बोली- अगर मैं ये पैसे तुमको नहीं देती तो कोई और लेता.

तो मैं उसके साथ बैठ गई।वैसे भी लड़का इतना सेक्सी था कि उसको मना करना मुश्किल था। रास्ते में उसने अपना नाम अनिल बताया। मैंने भी अपने बारे में बताया। थोड़ी आगे जाकर उसने कहा- भाभी अगर आप गुस्सा ना करो तो यही पास में से मैंने अपने दोस्त से कुछ किताबें लेनी थी.

हमने भले ही सब कुछ प्रेम में किया हो… और भले ही यह सब हमारे निस्वार्थ प्रेम में गलत ना हो.

फिर मैं अपने कमरे से एक पतला वाला बैंगन उठा लाई और बाहर जहाँ मेरी पड़ोसियों की बाइक खड़ी थी, वहाँ चली गई. सोमा ने भी अपनी चूत मेरे मुँह की तरफ कर दी और बोली- चाट इसको रंडी…मैं तो मस्ती में आ गई थी…. उसने फिर से 3-4 चांटे मेरे गाल पर मारे और जल्दी से मेरे दोनों बोबों को अपने मुँह में ले लिया और उन्हें तेजी से चूसने लगा.

रीटा ने सोचा काश बहादुर की लेडी सायकल होती और वह शान से बहादुर के लण्ड पर बैठ कर स्कूल जाती. शायद मेरी योनि में कुलबुलाहट सी हो रही थी इसलिये!वो अपने हल्के हाथों से मेरे चूचक को मलने लगी, मेरे शरीर में तरंगें उठने लगी थी. उसके मुँह से हल्की-हल्की आह आह निकाल रही थी।झांटें बनाने के बाद चूत एकदम से चमक गई तो मुझसे रहा नहीं गया और मैंने अपना मुँह उसकी चूत पर रख दिया और उसकी चूत का चूमने और चूसने लगा।उसको मज़ा आने लगा और वो आहें भरने लगी तो उसकी आहें सुनकर मेरा जोश बढ़ने लगा तो मैं उसे और जोर जोर से उसकी चूत को चूसने लगा और मैंने अपनी जीभ उसकी चूत मैं डाल दी तो उसकी हालत ख़राब होने लगी.

अन्तिम समय में बहादुर ने सांस रोक कर गाड़ी फुल स्पीड पर छोड़ दी- छकाछक! छकाछक! फिर चरम सीमा पर पहुँच कर बहादुर का लण्ड और भी फूल गया और भचाक भचाक से गर्म पानी के रेले छोड़ने लगा.

और जैसे ही उसने मेरे लंड को पकड़ा मैंने उसके बाल पकड़ लिये। और पकड़े-पकड़े ही ऊपर आ गया और जैसे ही वह चेहरा ऊपर आया, मेरी आँखे फटी की फटी रह गईं और मुँह खुला का खुला…. चल जल्दी से बता!”तुम पहले वादा करो कि तुम किसी को भी नहीं बताओगी!”अरे बाबा, मुझ पर भरोसा रखो, मैं किसी को भी नहीं बताऊँगी. मैं इसी उधेड़बुन में थी कि तभी वो आगे बढ़ा, उसने मुझे बिस्तर पर धकेल दिया और मेरे ऊपर चढ़कर.

तुम हंस रहो हो ?तुम्हारे तो मज़े ही मज़े हैं !अच्छा तुम्हारी मलाई निकालने में कितनी देर लगती है ?चूत में या मुट्ठ मारने में ?चलो दोनों में ही बता दो !चूत में १५ मिनट और मुट्ठ मारने में १० मिनट !कभी चूत चूसी है ?हाँ एक दो बार !चूत में आइस क्यूब डाल कर चूसी है कभी ?नहीं …. फिर एक दिन श्यामलाल का फोन आया और वो गुस्से में बोला- तान्या तेरे बच्चे की माँ बनने वाली है. दीदी अपने चूचों पर पानी डाल-डाल कर साफ कर रही थी जिसे देख कर मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.

उस वक़्त अगर अपार्टमेन्ट से कोई आ जाए तो पता नहीं क्या होगा, यह सोच कर मुझे डर लग रहा था पर मजा भी आ रहा था.

मैंने कहा- जान, सुना है कि बहुत दर्द होता है पहली बार में……तो वो बोली- इस दर्द से अच्छा है कि मैं वो दर्द बर्दाश्त करूँ …… प्लीज़ जानू ! डालो ना ! वरना मैं पागल हो जाउंगी…मैंने कहा- ठीक है, तैयार हो जाओ. थोड़ी देर मैं उसकी चूत इसी पोजिशन में मारता रहा फिर मैंने उसको पेट के बल लिटाया और उसके घुटने मोड़ के उसको घोड़ी बनाया.

इंग्लिश बीएफ एक्स एक्स एक्स वीडियो चाची की बेटी भी स्कूल में थी!ऐसे में मैं घर पर अकेला था, न जाने क्यूँ मेरा दिल हुआ कि आज बारिश में नहाया जाए!मैं नहाने के छत पर पहुंचा तो देखा चाची भी बारिश के मज़े ले रही थी. ”इस प्रकार हम दोनों ने छक कर यौन-सुख का लाभ उठाया। उस रात तो झंडे ने मेरी जम कर चुदाई कर डाली और मैं उसका मोटा लंड पाकर निहाल हो गई।उस समय तो झंडे ने मुझसे कुछ भी नहीं कहा। पर बाद में उसने कहा,”चाची तुम्हें याद है कि मैं और ठन्डे हर चीज को मिल-बाँट कर ही खाते हैं।”हाँ, जानती हूँ। तो क्या वह भी मेरी चूत का मज़ा लेगा.

इंग्लिश बीएफ एक्स एक्स एक्स वीडियो क्योंकि मैं जल्दबाजी में गाउन के ऊपर वाला नेट का पीस तो ले आई थी लेकिन अन्दर पहनने वाला हिस्सा घर पर ही रह गया था. बंद कमरा और मेरे ऊपर पसीने से लथपथ दो हब्शी चढ़े हुए थे।मुझे मज़ा भी आ रहा था अब। मैं एक रंडी की तरह दो मर्दों से चुदने का मज़ा ले रही थी- चोदो और चोदो मुझे.

मैंने योजना बनाई, मैं स्कूल के बाहर दुकान पर गया और दूकान वाले को बोला- राजू, तेरे और सुनीता के खेल के बारे में प्रिंसिपल को पता चल गया है, तेरे खिलाफ पुलिस में शिकायत जाएगी.

नंगी सेक्सी खचाखच

थोडी देर तक इस पोसिशन में चोदने के बाद उसने कहा – अब तुम नीचे आओ… मैं बेड पे लेट गई. मेरे अंदर की छिपी राण्ड अब बाहर आकर अंगड़ाइयाँ लेने लगी थी… मेरी आहें दरबार में गूँज रही थी. यहाँ तो दो दो है… पर दो क्यूँ…? राजेश अंकल आ गये थे, उनका मोटा सा लटका हुआ लण्ड देख कर तो मैं भी हैरत में पड़ गया.

जब उसने अपना लण्ड बाहर खींचा तो चूत से पर र र र र्र र्र र्र की आवाज के साथ साथ ढेर सारा वीर्य निकल कर फ़र्श पर गिर गया. फिर ?दूसरे हाथ की अंगुली पर तेल या क्रीम लगा कर एक अंगुली अपनी गांड में भी तो घुसा मेरी तरह ?उस से क्या होगा ?चुतिया है तू एक नंबर का ?कैसे ?अबे मुट्ठ मारना ही नहीं आता तुम्हें ?अच्छा तुम समझा दो ना ?देखो मुट्ठ मरते समय एक अंगुली अगर गांड में डाल ली जाए तो मज़ा दुगना हो जाता है !ठीक है ऐसा ही करता हूँ !आआ…. ? पास आकर देख … तेरे को भी प्रैक्टिकल चाहिए?निशा : नहीं सर, पहले मेरा चांस है…पीयू : अभी मेरा मन नहीं भरा … और घस्से मारो ना !तीनों का पोल खोलने के लिए मैं तुरंत बगल वाले कमरे में चल रही केमिस्ट्री क्लास में चली गई… और हल्ला कर दिया- सर और स्टुडेंट सेक्स कर रहे हैं।बहुत सारे लड़के और टीचर घुस गए कमरे में।सर चोद रहे थे पीयू को… शायद चरमोत्कर्ष पर थे.

वो कई बार झड़ चुकी थी, मैं अपने पूरे जोश से उसे चोद रहा था।मुझे तो लग रहा था कि मैं जन्नत का सफ़र कर रहा हूँ ……… कुछ देर मे वो मेरी कुतिया बन चुकी थी…… अब पूरे कमरे में पट पट स ऽऽ सी ई की आवाज़ें आने लगी! मुझे उससे भी बहुत मदद मिल रही थी….

अंकल ने मम्मी को अपनी बाहों में जकड़ कर कहा- रानी, आज तुम्हारे बदन का वो हाल करूँगा कि जीवन भर कभी इस चुदाई को भुला नहीं पाओगी!यह कह कर अंकल ने मम्मी को लिटा दिया और उनके ऊपर चढ़ कर चूचियों को जोर जोर से मसलने लगे. हम दोनों एक-दूसरे को चूमने लगे और चुम्बन प्रगाढ़ होता चला गया। वो मेरी गोद में ही बैठी रही और हम दोनों एक-दूसरे को करीब दस मिनट तक लगातार चूमते-चाटते रहे. क्योंकि आप सभी लोग इतने समझदार तो है कि क्या क्या मैंने उसको समझाया होगा…जब उससे नहीं रहा गया तो मेरा लंड पकड़ कर खुद ही चूत में अपने अन्दर डालने की कोशिश करने लगी और मै उसको होंठों को चूमते हुए उसकी चूचियों को दबा रहा था। यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉंम पर पढ़ रहे हैं।वो बोली- जान, अन्दर करो ना … मेरे नीचे आग से लग रही है….

जितनी ज़ल्दी मुझे थी उतनी ही उसे भी थी इसीलिए वो भी पाँच-सात मिनट में ही वापस आ गया. जूली- आज कस्टमर के दोनों हाथों में और मुँह में लड्डू है ! एक मौसी और एक सीमा ! साला हमारे हाथ नहीं आता !मौसी- चलो अपने अपने धंधे पर ! अभी वो आ जाएगा !इतने में एक छरहरे बदन वाला आदमी आता है, उसकी बाहें तनी हुई और छाती विशाल थी।उसके आते ही मौसी- आओ राजा बाबू ! आज आपके लिए एक से भले दो रण्डियाँ तैयार हैं. उसने मुझे सीधा किया और अपने दोनों होठ मेरे होंठों पर रख दिए और उन्हें बेदर्दी से चूसने लगा.

मुझे नहीं मालूम था कि लण्ड का रोग लग जाने के बाद मेरी चूत चुदाने के लिये इतनी मचलेगी. बिल्कुल नहीं… अंकल मम्मी की फ़ुद्दी में लण्ड घुसा दो ना!” गौरी बेशर्म हो कर मम्मी की चुदाई देखना चाहती थी.

लण्ड राजा अपने ट्टटों की सेना समेत, रीटा रानी की चूत की सील को तोड़ता और धज्जियाँ उड़ाता हुआ, चूत की मुलायम दीवारों को बेरहमी से रगड़ता हुआ अंदर और अंदर और अंदर घुसता चला गया. फिर उसने कहा- जांघों के बीच में खुजली सी हो रही है॥मैंने कहा- रुको, खुजली के लिए लकड़ी आ रही है. ’ की आवाज निकलने लगी, पर मैं पूरी तरह से उनकी भरी भरी चूचियों को दबाता रहा उनके चुचूकों को ऊँगलियों के बीच लेकर मसलने लगा।मैडम अब सिसकारियाँ भरने लगी- नहीं.

मेरी जुबान ने जैसे ही उसकी भगनासा को छुआ, वो पागल हो गई और अपने दोनों हाथों से अपनी चूचियों को दबाने लगी.

लड़कों की मेरे स्तनों पर पड़ती तिरछी निगाहें अब मैं भांपना सीख गई थी… छेड़-छाड़ भी आम सी बात हो गई थी. इसी तरह हम करीब दस मिनट रहे, फ़िरउन्होंने मुझे धकेला और मेरी तरफ देखा- कर दिया ना भाभी को खराब. इतने में ही एक ज़ोरदार पिचकारी के साथ बहुत सारा वीर्य झटके से अनु के मुँह पर गिरा। आज तक मेरा कभी इतना वीर्य नहीं आया होगा जितना उस दिन आया.

मोना आंटी की उम्र तब 43 की थी और उनकी चूचियाँ तो कमाल की थी, 40 इन्च की चूचियाँ और गाण्ड भी 40 की ही होगी. मैंने धीरे से ज्योति के कमरे का दरवाजा खोल दिया, अंदर का नजारा देख कर मेरे अन्तर्वासना जागृत हो गई क्योंकि ज्योति अपने बिस्तर पर सिर्फ ब्रा-पेंटी में सो रही थी जिसे देख कर मेरा लण्ड खड़ा हो गया मगर मैंने अपने ऊपर काबू करते हुए वहाँ से चल दिया और योगी के कमरे में आकर सो गया.

नीना जब बाहर के कमरे में आने में देर लगाने लगी तो मैंने झांक देखा तो वह खुद को शीशे में निहार रही थी. ‘हाय मनु जी… स्स्स्स… हाय अब करो न… प्लीज़… हाय मनु… अब आ जाओ न ऊपर…!! हाय लंड दे दो… मनु… मैं तो मर गई!!’मैं भी अब गरमा चुका था… मैंने अपना लंड उसको दिया उसने अधखुली आँखों से मेरे लंड को निहारा और शर्म-हया भूलकर उसके मुहँ से अपना मुँह मिला दिया, उसके होंठ मेरे लंड के छेद को रगड़ रहे थे. कोई पूछेगा लंच करने को तो कह दूगी आज कल वज़न ठीक रखने के लिए मैं दोपहर में खाना नहीं खाती…वेदांत : जब तुम्हें खाना खाना नहीं है तो क्यों ले के आओगी…मैं क्या अकेले हाल में जा के खाऊंगा…!!मैं: उफ्फ्फ ये लड़का… बस तू मुझसे कोई सवाल मत कर.

सेक्सी ब्लू हिंदी भोजपुरी

यह कह कर उसने मेरा सर पकड़ा और अपने स्तनों को लगा दिया। फिर क्या मैंने उसे चोदना चालू किया।अब हर शनिवार, रविवार या फिर माँ घर पर नहीं होती तब मैं उसे चोदता हूँ। अब तक लगभग 200 कंडोम, 50 गर्भ निरोधक गोलियाँ सेक्स के लिए ख़त्म कर दी। मेरे सारे पैसे कंडोम खरीदने में जाने लगे हैं। हा हा हा हा.

मैंने कहा- हाथ तो अंदर डाल ले!उसने मना कर दिया, मुझे बहुत गुस्सा आया पर मैं शांत रहा और अपना अपना लण्ड पजामे से बाहर निकल कर उसके हाथ में दे दिया. पर रात को वो मेरी चूत से ले कर गाण्ड तक चोद देते हैं, मुझे भी बहुत आनन्द आता है उनकी इस प्यार भरी चुदाई से. एक दिन जब मैं उसके कमरे की सफाई कर रही थी तो पलंग के नीचे मुझे उसके सफ़ेद रंग का जांघिया दिखा.

ओ।।। माई।। । डार्लिंग”।कोई आधे घंटे बाद मिक्की नाश्ता लेकर आई। उसकी नज़रें अभी भी झुकी हुई थी। ऊपर से वो सामान्य बनने की कोशिश कर रही थी।मैंने उसे पूछा,”क्या बात है ?”तो वो बोली कुछ नहीं आआन्न…. अब मैं और जोश के साथ गांड में घुसाने लगा।आखिरकार मैं उसकी गांड में अपना लंड घुसाने में कामयाब रहा।फिर मैंने धीरे धीरे स्पीड बढ़ा दी. ट्रिपल एक्स सेक्सी व्हिडीओ हिंदी मे‘हाय भैया… होता तो मुझे भी है…!’मैं धीरे से सरक कर उसके पीछे आ गया और अपनी कमर उसके चूतड़ों से सटा दी.

जैसे ही उसने अपना गाउन उतारा, मेरी तो हालत ही खराब हो गई क्योंकि मैं पहली बार किसी औरत को एकदम नंगा देख रहा था. फिर मैं कमरे से बाहर गया और अपने दोनों हाथों में कुछ लेकर वापस आ गया और फिर मैंने अपने दोनों हाथ नीचे से उसकी बनियान में डाल दिए और जो मेरे हाथों में था वो मैंने उसकी दोनों चूचियों के ऊपर रख कर उनको पकड़ लिया ताकि वो उस चीज को गिरा ना दे.

पर रात भर मैं अपनी बहन की चुदाई के बारे में ही सोचता रहा कि वो कौन खुशनसीब होगा जिसे मेरी बहन की चूत को फाड़ने का मौका मिलेगा. पिछले तीन सालों से मुझे लड़कों का चस्का लगा है, घर में माहौल ही ऐसा था कि कदम खुद ब खुद बहकने लगे थे. तो यह बात है… रश्मि। यही तो मैं सोच रहा था कि तुम्हारे जैसी बला की खूबसूरत लड़की इतनी आसानी से कैसे तैयार हो गई।खैर मैंने रश्मि से कहा- चलो, आज मैं तुम्हारी अतृप्त वासना की इच्छा पूरी करता हूँ।अगली कड़ी में समाप्य !.

मेरी आँखें तब भी बंद ही थी… हल्की हल्की चलती ठंडी हवाओं से मेरे खुले बाल मेरे गालों को छू कर होंठो से लिपटते जा रहे थे. फिर वो दोनों जाकर नहाये और फिर हम तीनों ने अपने कपड़े पहने और मैं और चित्रा वापिस घर आने लगे. उसने मेरे शरीर को नोचना और दबाना चालू कर दिया और और अपने होंठों को मेरे चेहरे पर बुरी तरह रगड़ने लगी.

जैसे ही हम दोनों घर आये तो भाभी ने कहा कि वो सोनम से मिलना चाहती है इसलिए मैं भाभी को अपनी कार में बिठा कर सोनम के घर ले गया.

”मैंने आंखें बंद कर ली और कह डाला,”आई लव यू !”और उसने बहुत ही सहजता से जवाब दिया,”मैं भी !”और इस बार मैंने पहला कदम उठाया. सो मुझे ये पता चल गया था कि अब वो उत्तेजित हो जाती है और शायद गीलापन उसकी चुदने की चाहत की निशानी थी।यही सोच मेरे मस्तिष्क में थी। मेरी एक बार कोशिश करने की इच्छा प्रबल हो उठी। मैंने सर्वांग आसन के दौरान उसकी चूत जो गीली थी, उसे सहला दिया….

अब सिसकारियाँ मेरी निकल रही थी, मैंने उसका सिर पकड़ रखा था, 5 मिनट चूसने के बाद मुझे लगा कि मेरा छुटने वाला है, मेरी पकड़ उसके सिर पर मजबूत हो गई. करीब १० मिनट के बाद वो बोली कि जल्दी जल्दी करो, मुझे कुछ हो रहा है, शायद मैं झड़ने वाली हूँ, जल्दी से चोद दो ना मुझे. मुझसे कशिश ने एक दो बार मिलने की कोशिश की, पर मैं हर बार बहाना बना कर टालता गया…कुछ दिन बाद उसके पति की एक सड़क हादसे में जान चली गयी…कशिश अब अपने मायके में रहने लगी.

इसी में दोनों की भलाई है!’ कहते हुए मैंने उसे पकड़ा और उसके पेटीकोट का नाडा खींच दिया. इसी में दोनों की भलाई है!’ कहते हुए मैंने उसे पकड़ा और उसके पेटीकोट का नाडा खींच दिया. मैं तान्या के बारे में ज्यादा नहीं जानता था मगर उसकी हरकतों को देखकर लग रहा था कि उसे पहले भी यह सब करने का अनुभव था.

इंग्लिश बीएफ एक्स एक्स एक्स वीडियो दोस्तो, अपनी एक और चुदाई के बारे में जल्दी बताऊँगी।आपकी प्यारी सेक्सी कोमल भाभी[emailprotected]2231. हंसते हुये अपनी कामयाबी पर गर्व करते हुये उसने मेरी चूत पर लण्ड रख कर जैसे ही धक्का मारा मैंने जोर लगा कर चूत को भींच लिया.

मियां खलीफा की सेक्सी बीपी वीडियो

उसने मुझे अपने लंड पर बैठने को कहा तो मैंने हाथ नीचे ले जाकर ठिकाने पर सेट किया और उसको अपने अन्दर ले लिया. ” दुल्हन किसी बेशर्म वेश्या की तरह गन्दी-गन्दी बातें बके जा रही थी।झंडे ने और भी जोरदार धक्के मारने शुरू कर दिए, बोला,”ले धक्के गिन मेरी जान, पूरे-पूरे सौ धक्के मारूंगा। …. मुकेश का लौड़ा चूसते चूसते मेरा हलक सूखने लगा था लेकिन मेरी चूत तरबतर हो गई थी और शरीर में एक अजीब सी उत्तेजना भर गई थी, मैंने मुकेश से कहा- मेरा हलक सूख रहा है!मुकेश ने कुछ सोचा और फिर मेरे मुँह को कसकर पकड़ लिया और उसमे पेशाब की धार छोड़ दी.

क्योंकि सोनम की चूत कुँवारी थी इसलिए मैंने सोनम के बैग में से वैसलीन निकाली और उसकी चूत पर लगा दी. चला दी। मैंने कुछ देर और ध्यान लगाये रखा तो मैंने देखा वो अश्लील वीडियो थी! मैं भी आँख लगाकर उन्हें देखने लगा। तभी मैंने देखा कि चारों मैडमों ने अपनी अपनी कमीज़ तथा ब्रा उतार दी तथा वे एक दूसरे के बोबों को दबाने लगी, मुँह में लेकर चूसने लगी।इससे मेरा लिंग भी काफी कड़क हो गया लेकिन मैं यह सब नहीं चाहता था, इसलिए मैंने घंटी बजा दी। मेरा घंटी बजाना ही था कि सबने हड़बड़ाकर अपने-अपने कपड़े पहन लिए तथा टी. राजस्थानी x वीडियोलेकिन रागिनी के खड़े स्तनाग्र मानो मेरा सीना भेद कर छेद कर देंगे। ऐसा महसूस हो रहा था कि दो गरम नरम कबूतर मेरे और उसके सीने के बीच में दबे हुए है.

मोना आंटी ने कहा- बहन जी, अगर हैरी को मेरे घर सोने के लिए कुछ दिनों के लिए भेज देती तो बहुत मेहरबानी होती.

जैसे ही मैंने उसके नंगी टांगों को चाटना शुरू किया तो वो ऐसे तड़पने लगी जैसे बिना पानी के मछली !फिर उसकी पैंटी को उतार कर उसको नंगा कर दिया और उसको देखने लगा- क्या लग रही थी- बिल्कुल मक्खन जैसा बदन ! जिसके नाम की ना जाने कितने सालों से मुट्ठ मार रहा था आज वो हुस्न की मल्लिका मेरे सामने नंगी लेटी थी।उसने पूछा- ऐसे क्या देख रहे हो. ये भी आ गये- क्या चल रहा है?मनोज बोला- भाभी का ख्याल रख रहा था भैया!अच्छा ठीक है! अब तो बस करो! मैं आ गया हूँ, मैं रख लूंगा ख्याल!मनोज को ऐसे ही चिड़ाने के लिए ये बोले.

मैं तड़प उठी…मैंने अपने हाथ से एक लण्ड छोड़ राजा के हाथ पर हाथ रख दिया और जोर-जोर से भींचने लगी. ?”तो तू कोई उपहार नहीं ला सकता था?”क्या इससे बेहतर कोई और उपहार हो सकता था तेरे लिए. वो चौंकी और झटके से खुद को पीछे करते हुए बोली- यह क्या कर रहे हो तुम? पागल तो नहीं हो गये सुनील … तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई मुझको छूने की?जवाब में सुनील बोला- सोनिया तुम्हारी चिंता क्या है … यह जो भी मैं कर रहा हूँ उसको जिस्म की ज़रूरत बोला जाता है … पता नहीं तुम इन सबसे इतना ज्यादा क्यों घबराती हो.

दोस्तो, मैं उस दिन की हर घटना को सपना समझ रहा था। लेकिन दो दिन बाद ही रागिनी का फ़ोन आया कि आज बच्चे आज अपने मामा के घर गए है और पति भी टूर पर हैं तीन दिन के लिए, इसलिए ऑफिस से सीधे मेरे घर आ जाओ.

‘शरमाओ मत… मुझसे कहो दीदी… तुम्हारा भैया है ना… एकदम कुंवारा…!’मैंने सोनू का हाथ धीरे से पकड़ लिया. हल्का सा शावर लेने के बाद मैंने उसे बाहर भेज दिया। वो मुझे साथ ही ले जाना चाहता था पर मैंने कहा- तुम चल कर दूध पीओ मैं आती हूँ।मिट्ठू जब बाथरूम से बाहर चला गया तो मैंने दरवाजे की चिटकनी लगा ली। आप सोच रही होंगी अब भला दरवाजा बंद करने की क्या जरुरत रह गई है अब तो मिट्ठू को कहना चाहिए था कि वो गोद में उठा कर बेडरूम में ले जाए। ओह …. ‘नहीं जवान लड़की की गाण्ड ऐसे नहीं फ़टती है, बस दर्द ही होता है… अब इसे भी तो अपने लायक बनानी है ना… देख इसे भी चोद चोद कर मस्त कर दूंगा!’ जीजू हाँफ़ने लगे थे.

सेक्सी वीडियो ब्लू पंजाबीवही ढूंढ रहा हूँ!तो माँ ने पूछा- कौन सी सीडी? किस फिल्म की थी?मैंने कहा- पता नहीं पर किसी नई फिल्म की थी. ??”वेदांत : कभी पूछते हैं… बात आगे कहाँ तक बढ़ी… अरे… तू किसी और लड़की से बात मत करना वरना वो जल-भुन जाएगी.

गूगल आप कितनी सेक्सी हो

मेरे बचपन का दोस्त अमित मन ही मन खूब खुश हो रहा था कि उसे पड़ोस की भाभी की मस्त चूत चोदने को मिलेगी. मैंने उससे पूछा- कैसा लगा?वो कहने लगी- तुम बहुत गंदे हो! मैंने मना किया फिर भी पीछे डाल दिया. मैंने जब पहली बार दीदी को देखा था तब से ही यह इच्छा मेरे मन में थी, पर वो उम्र में बड़ी थी और गुस्से वाली भी थी.

‘बाबूजी … बहुत दुःख रहा हैं … थोड़ा धीरे दबाओ ना!’ रीना ने कहा।मैंने अपना एक हाथ उसकी कमीज के अन्दर डाल दिया और उसके चुचूक का दाना पकड़ कर मसल दिया. झड़ने ही वाला था… तभी चौकीदार ने सर के चूतड़ों पर ज़बरदस्त डंडे बरसाए… सर का लण्ड बाहर निकल गया. पर मैं उस आदमी के नीचे काम नहीं करना चाहता था जिसने मेरी बहन को अपने दूसरे नौकर के साथ मिलकर चोदा था, मगर मेरे पास कोई और विकल्प नहीं था क्योंकि एक लेक्चरार की सेलरी पर काम करना मुश्किल था इसलिए अगले ही दिन मैंने कॉलेज से छुट्टी ली और श्यामलाल के ऑफिस चल पड़ा.

कहते हुए मैं उसकी बांहों को अपनी ऊँगली से हल्के हल्के नीचे से ऊपर और ऊपर से नीचे सहलाने लगा। उसके कंधे पर दबाव बढ़ाते हुए फ़िर से उसके गालों पर कान के ठीक पास में चूमा और जीभ से उसके कान को सहलाया. कितनी बार चुदवा चुकी हो इसे ? उसने मेरी फ़ुद्दी में उंगली डालते हुए पूछा।ओह, कभी नहीं ! मेरी फुद्दी कुँवारी है. पाँच मिनट में जब मैंने क्रीम उतने हिस्से में से हटाई तो मेरी टाँगें एकदम लड़कियों जैसी चमक रही थी पर उतनी क्रीम से मैं सिर्फ अपनी एक टांग का कुछ हिस्सा ही पूरा कर पाया था.

धीरे-धीरे मैं मनीषा के वक्ष की तरफ बढ़ने लगा और उसका एक चूचा अपने हाथ और दूसरा अपने मुँह में ले लिया. बाजी ने लौड़े की चमड़ी को हटाया तो उनका सुपारा देख कर बाजी अपनी ज़बान से चाटने लगी.

” की आवाजों के साथ उसने मुझे कस लिया और अपने कूल्हे उठा-उठा कर लण्ड गटकने लगी।धक्कों की रफ़्तार अपने चरम पर पहुँच गई.

फाड़ डालो मेरी चूत को ! बहुत मज़ा आ रहा है ! आज जी भर के चोदो मुझे, सारी रात चोदो. हिंदी वाली चुदाई” और उसके साथ ही वो एक बार फिर झड़ गई। मैं तो जैसे स्वर्ग में था। मैंने लगातार ८-१० धक्के और लगा दिए। अब तो उसकी चूत से फच्च-फच्च का मधुर संगीत बजने लगा था।ये सिलसिला कोई २० मिनट तो ज़रूर चला होगा। मेरा पप्पू बेचारा कब तक लड़ता। आख़िर उसको भी शहीद होना ही था। मैंने दनादन ५-७ धक्के और लगा दिए। निशा भी फिर से झड़ने के कगार पर ही तो थी। और फिर… एक. ब्लू फिल्म क्सक्सक्सएक बार तो मुझे लगा कि ऐसे ही खड़ी रहती हूँ, जो भी आएगा उसका लण्ड अपने मुँह में ले लूंगी पर मुझे लगा शायद गार्ड भी हो सकता है तो मैं तुरंत बाथरूम में वापस घुस गई. बस इसी तरह साल से भी ज्यादा गुज़र गया हम आठवीं में पहुँच गए…एक बार अचानक खाते-खाते उसने मुझसे पूछा- यह ब्रा क्या होती है…???आसपास की सभी लड़कियाँ मेरी तरफ देखने लगी…और मुझे भी समझ नहीं आ रहा था कि क्या जवाब दूँ.

अंकल ने मम्मी को अपनी बाहों में जकड़ कर कहा- रानी, आज तुम्हारे बदन का वो हाल करूँगा कि जीवन भर कभी इस चुदाई को भुला नहीं पाओगी!यह कह कर अंकल ने मम्मी को लिटा दिया और उनके ऊपर चढ़ कर चूचियों को जोर जोर से मसलने लगे.

मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि मैं ऐसा कभी करुँगी… मैं सच कह रही हूँ।’‘लेकिन अच्छा लगा ना?’‘हाँ, बहुत अच्छा. जैसे ही उसने अपना गाउन उतारा, मेरी तो हालत ही खराब हो गई क्योंकि मैं पहली बार किसी औरत को एकदम नंगा देख रहा था. मेरी मार अब…तभी दीदी ने मुझसे वादा लिया- वादा कर कि मेरी शादी के बाद भी मुझे चोदा करेगा !मैंने मान लिया ! तब से तीन साल तक मैं दीदी को चोदता रहा, दीदी गोलियाँ खाने लगी थी।एक दिन घर में कोई नहीं था तो हम दोनों साथ नहाये। तभी दीदी ने कहा- मेरी गांड पर साबुन लगा दे….

लेखिका : कमला भट्टीदीपावली के लिए घर जाने के लिए जीजाजी और मैंने साथ ही बस लेने का सोचा और हम दोनों बस स्टैण्ड पर आ गए पर जीजाजी तो कुछ और ही योजना बना कर आए थे। वे मुझे वहाँ से होटल ले गए।जीजाजी ने कमरे का दरवाज़ा खोला और हम कमरे में पहुँच गए।कमरा ऐ. कुछ देर तो हम दोनों आराम से लेटे रहे, फिर वो बोली- मजा आया?मैंने कहा- बहुत मजा आया!तो वो बोली- कभी किसी को चोदा है?मैंने कहा- नहीं!तो वो बोली- कभी मेरे घर आना, तो बहुत मजे दूँगी और तुम्हें चोदना भी सिखा दूँगी. पूछने पर पता चला कि मनीषा और बुआ आज हमारे घर आ रहे थे क्योंकि मनीषा को लड़के वाले देखने आने वाले थे इसलिए भाभी ने छुट्टी ले ली थी.

कुत्ता कुत्ते की सेक्सी दिखाओ

सुनील से मिलने जुहू बीच पर गई हुई थी … आज उसने अपना दिन सुनील के साथ बिताना ठीक समझा … सुनील जो पेशे से एक डॉक्टर है और सोनिया को बहुत पसंद भी करता है. अब आंटी के मुंह से अजीब अजीब आवाजें आने लगी थी- आह … आह … मेरे राजा बेटा … और जोर से चूसो … पी लो! मेरे बोबे मसल दो … तोड़ … दो आज!मैंने आंटी के ऊपर वाले होंठ को अपने मुंह में लिया और चूसने लगा. मुझे लगा कि मामी अब बाहर निकलेगी तो मैंने मामी को पेट के नीचे हाथ डाल कर पकड़ लिया और ऊपर से ऐसा जोर लगाया कि लंड अन्दर धंसने लगा.

वो बहुत गर्म हो गई और मुझे लिटा कर मुझे नंगा करके मेरा लण्ड अपने मुँह में लिया और चूसने लगी.

तुम तो लड़कियों की तरह शर्मा रहे हो ?” वो खिलखिला कर हंस पड़ी।अब तक गोली ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया था। अब मुझे भी जोश आ गया मैंने कहा, हाँ की है 3-4 को चोद चुका हूँ ?”जीयो मेरे राजा … फिर तो मज़ा इच आ जाएगा आज ?”क्या मतलब ?” मैंने हैरानी से उसकी और देखा तो बोली अच्छा बताओ तुम्हें किस आसन में सबसे ज्यादा मज़ा आता है ?”वो.

!!सिपाही के जाते ही मैं भी रानी के वेश में कमरे से बाहर निकली, ताज्जुब की बात तो यह थी कि कहीं पर भी कच्छी और ब्रा नाम की चीज़ नहीं थी, मैं महारानी के वस्त्रों में तो थी पर अन्दर से एकदम नंगी ! मेरे चूचे चलते-भागते हिल रहे थे, कि तभी मैं एक जगह जाकर छुपी…. ‘तो छबीली… अब चार पांच दिन आराम करो… दोनों के दरवाजे तो खुल गये है, फिर जोरदार चुदाई करेंगे. देहाती औरत कीगोमती ने बड़े प्यार से दोनों फ़ड़फ़ड़ाते कबूतरों को सहलाया और अपनी हथेलियों में ले लिया.

दोपहर को चार बजे नींद खुली तो मैं दैनिक क्रिया से निपट कर नहा धोकर बैठक में आ गया. फिर शालू ने कहा- मेरी चूत क्या तेरा बाप मारेगा?फिर एक बार शालू की चूत मार कर हम तीनों नंगे ही सो गए. भोसड़ी के अबे … दर्द हो रहा है इसे निकालो मेरी गांड फट जायेगी बहुत दर्द हो रहा है….

वो चौंकी और झटके से खुद को पीछे करते हुए बोली- यह क्या कर रहे हो तुम? पागल तो नहीं हो गये सुनील … तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई मुझको छूने की?जवाब में सुनील बोला- सोनिया तुम्हारी चिंता क्या है … यह जो भी मैं कर रहा हूँ उसको जिस्म की ज़रूरत बोला जाता है … पता नहीं तुम इन सबसे इतना ज्यादा क्यों घबराती हो. प्रेषक : राहुल शर्माहाय दोस्तो,मेरा नाम राहुल और मैं एक कॉल-बॉय हूँ बरेली से !आपके लिए एक शानदार सच्ची कहानी लेकर आया हूँ। तो मैं अब आपको अपना नया अनुभव सुनाता हूँ।यह बात पिछले हफ्ते की है जब मैं अपनी मेल चेक कर रहा था, तो एक मेल मुझे एक महिला का मिला, जिसमें उन्होंने बताया कि उनके पति एक एन.

राधा के पति की मृत्यु हुए करीब एक साल हो चुका था, उनका छोटा सा परिवार था, उनके कोई बच्चा नहीं हुआ तो उन्होंने एक 10 वर्ष की एक लड़की गोद ले ली थी, उसका नाम गौरी था.

एक दूसरे को साफ करते वक़्त मैंने उसे कई बार चूमा भी जिससे मेरा लंड फिर खड़ा हो गया, मैंने अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया और वो उसे दस मिनट तक चूसती रही. एक लड़का जो थोड़ा शर्मीला था उसका चरित्र अपनी फ़ुफ़ेरी बहन और सगी बहन के साथ सेक्स करने के बाद बदल चुका था क्योंकि जिस बहन की वो इज्जत करता था वो बहन अब उसकी तथाकथित बन चुकी थी. इसी बीच मैं अपने मम्मे कभी उसकी बाजू पर लगाती और कभी उसकी पीठ पर… और कभी उसके सर से लगाती…जब वो नहीं माना तो मैंने उसे बिस्तर पर गिरा दिया और…बाकी की कहानी अगले भाग में !आपकी भाभी कोमल प्रीत[emailprotected].

সানি দেয়ালের এক্স এক্স ভিডিও मेरी तो यही कामना है कि ऊपरवाला सब की प्यास ऐसे ही बुझाये।आप अपनी राय इस कहानी के बारे में जरुर लिखे ताकि मैं आगे भी आपको मस्त कहानियाँ भेजता रहूँ ……. उसकी आँखें बयां कर रही थी कि वो बहुत तृप्त हो गई है।मैंने उसकी प्यार से चुम्मी ली और फिर हम दोनों अपने कपड़े खोजने लगे.

कोई शैतानी ताकत मेरे अन्दर काम करने लगी थी, किसी ने जैसे अंधेरे रास्तों की तरफ मेरी राहनुमाई कर दी थी और मैं उस राहनुमा का हाथ थामे अंघेरी गलियों में दाखिल हो गई, यह भी ना देखा कि भला अंधेरे रास्तों की तरफ ले जाने वाला मेरा हमदर्द भी हो सकता है. मैंने उससे कहा- बेटे जल्दी कर… बेटे के साथ वैसे नहीं चिल्ला सकते और मैंने जान बूझ कर अपनी चूत को भींच लिया जिस वजह से उसके लण्ड पर दबाव पड़ा और तीन चार धक्कों में ही हा आआ आआआआ करते हुये वो मेरे से चिपक गया. तो अनिल ने कहा- भाभी जी, दो मिनट बैठते हैं, सुनील घर में अकेला ही है।यह सुनकर तो मैं बहुत खुश हो गई कि यहाँ पर तो बड़े आराम से चुदाई करवाई जा सकती है.

भाभी का बीपी सेक्सी

बाद में मोना ने पूछा- क्या हुआ था?तो मैंने उसको चूम कर कहा- तुम चिंता मत करो! अब हमको कोई चिंता नहीं!और मोना को बिस्तर पर पटक कर उस पर चढ़ गया. मुझे मौका मिला कि मैं सोनू को बहका कर उसे थोड़ा और खोलूँ ताकि हमारे सम्बन्धों में और मधुरता आ जाये. ऐसे ही करते रहो ! मुझे चुदाई से ज्यादा मज़ा आ रहा है। पर यह आपकी अंगुली या मेरे पति की अंगुली से ही आता है। मेरी खुद की अंगुली अच्छी नहीं लगती।फिर वे दो अंगुलियाँ डाल कर मेरी चूत में चलाने लगे, मेरे मुँह से सी….

मैंने अपना मुँह उनकी गुलाबी चूत पर रख दिया और कभी उसको चाटता तो कभी अपनी जीभ उनकी चूत में डाल देता. कर रही थी, वो पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी।मैंने उसको पूरी नंगी कर दिया वो बहुत ही सुन्दर दिख रही थी।मैंने उसके चूचों को चूसना चालू किया तो उसे और भी मजा आने लगा था। थोड़ी देर बाद वो बोली- मुझे तुम्हारा लंड चूसना है।मैंने तुरंत ही उसे 69 की अवस्था में आने को कहा वो तुरंत ही आ गई, वो मेरा लंड और मैं उसकी चूत चाटने लगा।उसके मुँह से फिर से सिसकारियाँ निकलने लगी- आ…ऊ….

’ कहते हुए उसने मेरी गांड में अपना 18 साल का जवान लंड चीरता हुआ अन्दर तक घुसा दिया। मैं चीख उठी। उसने फिर गांड फाड़ देने वाला धक्का लगाया। मैं फिर चीख उठी। उसके धक्के बढ़ते गए। मैं चीखती रह गई.

उस दिन जीजू घर आए और हमें बोले- चलो आज घूम कर आते हैं, वहीं से खाना पैक करवा लेंगे!दीदी बोली- नहीं अखिलेश! मैं रिस्क नहीं लेना चाहती! बहुत नाजुक समय है. क्योंकि मैं जल्दबाजी में गाउन के ऊपर वाला नेट का पीस तो ले आई थी लेकिन अन्दर पहनने वाला हिस्सा घर पर ही रह गया था. चुदवाने के ख्याल से दिल बल्लियों उछल रहा था, मन में हल्का सा डर भी था लेकिन डर पर चाहत भारी थी.

और जोर से … आआअह्ह्ह्ह …मैंने अपने नाख़ून सोफे में घुसा दिए थे … मेरी चूत में पानी भर गया था और छप-छप की आवाज़ आ रही थी। मकान-मालिक ने एक ज़ोरदार धक्का मारा और मेरी चूत को अपने वीर्य से भर दिया। मैं भी कराह उठी …. दीपू मेरे होठों को चूसते हुए मेरी छातियों से खेलने लगा और उधर राजू ने मेरी पेंटी निकाल कर चूत का रास्ता ढूँढ लिया. उसने शरमाते हुए सर झुकाया और अपनी चूत को हाथों से ढक लिया। उसकी गुलाबी चूत मुझ से कुछ इंच दूर थी, मैंने धीरे से उसके हाथ हटाये और चूत पर मेरे होंठ रख दिए.

थोड़ी देर में उसने मेरा पैर पकड़ कर अपने पास खींच लिया और अपने सीने पर दबा दबा कर रगड़ने लगी.

इंग्लिश बीएफ एक्स एक्स एक्स वीडियो: जीजू जब भी ससुराल आते तो उनकी जीजी के साथ अलग कमरे में सोने की हसरत पूरी की जाती लेकिन इस बार जब वो आये तो वो हौले से मेरे से बोले- आज रात को कमरे में आ जाना, बात करेंगे. दस पन्द्रह मिनट में बाद फ़िर से मेरी कामवासना जागी तो देवर ने लण्ड मेरी चूत में घुसेड़ कर मेरी चूचियाँ चूसते हुये अन्दर घुसे लण्ड पर झटके मारने लगा.

हमारे स्कूल में तीन मुख्य हाल हैं… एक है प्रार्थना हाल, दूसरा साक्षात्कार हाल और तीसरा क्रियाकलाप हाल. सवेरे सात बजे जब नीना की नींद खुली तो उसका बदन में मस्ती समाई हुई थी और मेरे करीब आकर जोरदार चुम्मी लेते हुये मुझे ‘थैंकयू’ बोला. आरती को होश आता है और वो मोना को बुलाने को कहती है।मोना कमरे में आती है।आरती- भाभी, देखो मेरे साथ क्या हो गया !!मोना आरती के आंसू पौंछते हुए कहती है- तू रो मत आरती.

वी पर स्टार माक्स पर एक इंग्लिश मूवी आ रही थी उसमें हीरो हिरोइन को चूम रहा था। तभी भाभी आ गई, उनको देख कर मैंने एकदम टी.

तभी मेरी नज़र उसकी छोटी स्कर्ट के अंदर उसकी दोनों टांगों के बीच में उसकी काले रंग की पेंटी पर पड़ी जो उसकी दोनों टांगो के बीच से दिख रही थी पर शायद उसको पता नहीं था. आह !इस बार लंड का सुपारा थोडा अन्दर गया तो उसके मुह से एक आःह्ह्ह निकली……फिर थोड़ा जोर लगाया तो दो इंच लंड घुस गया लेकिन उसको दर्द होने लगा…जैसे ही थोड़ा और धक्का लगाया तो वो पैर पटकने लगी, उसकी आँखों से आँसू बहने लगे और कहने लगी- प्लीज़ बाहर निकालो ! मैं मर जाउंगी…. ” की आवाजों के साथ उसने मुझे कस लिया और अपने कूल्हे उठा-उठा कर लण्ड गटकने लगी।धक्कों की रफ़्तार अपने चरम पर पहुँच गई.