बीएफ सेक्सी वीडियो हिंदी इंडियन

छवि स्रोत,बीएफ सेक्सी कॉमेडी वाली

तस्वीर का शीर्षक ,

देसी सेक्सी चूत चूत: बीएफ सेक्सी वीडियो हिंदी इंडियन, अभी ये फुल जोश में है, लौड़ा घुसा देना चाहिए। बस यही सोच कर उसने उंगली बाहर निकाल ली और लंड पर अच्छे से थूक लगा कर उसको चुत के छेद पर सैट कर दिया।पूजा- आह जल्दी करो ना.

railways के बीएफ

तो बोली- निकालो मैं झड़ने वाली हूँ और मैं चाहती हूँ कि तुम मेरे रस का मजा लो, तुमने इसे भी मूवी में तो देखा ही होगा. देवर भौजाई की बीएफ हिंदी मेंउसने अपने होंठ मेरे होंठों पे रख कर उन्हें चूसना चालू कर दिया और दूसरे हाथ से मेरे बूब्स दबाने लगा.

मुझे दर्द होगा।मैंने ना सुनते हुए वहां रखा बेलन का हैंडल उनकी गांड में घुसा दिया, वो चिल्ला उठीं।मैंने ध्यान न देते हुए उनकी चुत में उंगली कर दी और उनको किस किया तो कुछ पलों में वो अपना दर्द भूलकर मदहोश हो गईं और ‘आ उवू. सेक्सी फिल्म बीएफ बढ़ियाऐसा हमने काफी देर तक किया और फिर मैं उठा और उसकी बालों से भरी चूत के अन्दर अपना लंड घुसाने लगा.

फोन की स्क्रीन पर संदीप का नंबर फ्लैश हो रहा था, मैंने फोन उठा कर पूछा-हाँ संदीप भैया, कहाँ हो आप?संदीप- मैं यहीं बस स्टैंड के एक्जिट पर बाइक लेकर खडा़ हूँ, तू बाहर निकल आ!मैंने कहा- ठीक है आता हूँ!मैं जल्दी से चलकर बस स्टैंड से बाहर जाने वाले रास्ते से मेन रोड पर आ गया और सामने पल्सर बाइक पर संदीप हेल्मेट हाथ में लिए मेरा इंतज़ार कर रहा था.बीएफ सेक्सी वीडियो हिंदी इंडियन: मैंने उसके कंधे पे हाथ रख के कहा- दरवाजा तो बंद कर दीजिए, कोई आ गया तो?जीजू ने हंस के कहा- रुक जाओ मेरी साली जी, तुम्हारी चुची देख के जाने का मन नहीं हो रहा है!मैंने गुस्से वाला चेहरा बनाने की एक्टिंग की तो फिर वो दरवाजे की ओर बढ़े और उन्होंने बाहर झाँक कर दरवाजे को बंड कर दिया.

क्या बात है तू इत्ती सी तो है और कॉलेज भी आ गई, वैसे तेरी एज क्या है?टीना- अबे चुप साले.अगर तुझे मेरी पत्नी अमिता पसंद थी, तू उसको चोदना चाहता था तो मुझे बोला होता.

बीएफ सेक्सी भाभी के बीएफ - बीएफ सेक्सी वीडियो हिंदी इंडियन

वो गे सेक्स स्टोरी मैं आपकी अगली भाग बताऊंगा।आप अपने विचार मुझे बता सकते हो।[emailprotected].अब माँ की आहें सुन कर हम दोनों को भी लगा कि अब निकलने वाला है तो दोनों ने लंड बाहर निकाल लिया और आलोक ऊपर से उतर गया, माँ को नीचे उतार कर लेटा दिया.

मैं उसके होंठ चूसने लगा और कुछ देर ऐसे ही पड़ा रहा, उसकी चूचियां भी सहलाता रहा।जब वो कुछ रिलेक्स हुई. बीएफ सेक्सी वीडियो हिंदी इंडियन लेकिन अभी वेज बर्गर पहुँचा दीजिए।फिर उसने मेरा पता नोट किया और 30 मिनट का टाइम दिया।मैंने भाई से कहा- वो 30 मिनट में आ जाएगा, तुम ले लेना.

अब तो मुझे इस खेल में मजा आने लगा, और मैं एक बार लंड को गांड में, एक बार चूत में पेलने लगा.

बीएफ सेक्सी वीडियो हिंदी इंडियन?

हम जिस सड़क पर रुके थे, वो एकदम सुनसान थी और एकदम अंधेरा था!हम बाइक से उतरे तो मेरे पति पेशाब करने लगे, मैंने भी सोचा ‘मैं भी कर लेती हूं…’ तो मैं अपनी साड़ी उठा कर मूतने लगी. आखिरकार थोड़ी देर के लिए गांड से बाहर निकले राजू के लंड के बिना मैंने अपनी धर्मपत्नी की गांड का स्वाद लिया और बाहर निकालते ही राजू गपाक से अन्दर घुस गया. आह्ह ह्हह्हह’हम तीनों बेड पर मशीन बने हुए थे, अमिता मेरे ऊपर थी, मुदस्सर ऊपर से उसकी गांड ले रहा था.

मैं बता नहीं सकता। भाभी ने भी चुत चटवाने में कोई उज्र नहीं किया। कई मिनट तक मैं भाभी की चूत चाटता रहा। उनकी चूत से इतना पानी निकला कि मेरा पूरा मुँह गीला हो गया।अब मैंने अपना लंड बाहर निकाला और भाभी की चूत में पेल दिया। मैं काफी देर तक भाभी की चूत को चोदता रहा, मैंने भी गोली खाई हुई थी. वो भी अपने पति को फुल मज़ा देगी।अपनी बहू की बात सुनकर काका मुस्कुराने लगे और मोना को अपनी बांहों में भर लिया।मोना की अन्तर्वासना अब दोबारा जाग गई थी, वो लंड को अब मुँह में लेकर चूसने लगी थी। उधर काका भी अब गर्म हो गए थे- आह. उसका लंड मेरी चुत से टकरा रहा था। मेरी चुत अब तक बहुत गीली हो चुकी थी। उसी वक्त आकाश ने नीचे मुँह करके मेरी चुत को किस किया ‘इसस्स्स्सा.

हमारी नताशा मजे के साथ कमर मटकाती हुई अपनी चुदक्कड़ गांड के छेद को स्वान के हैट जैसे टोपे पर रख कर नीचे को दबाते हुए बैठने लगी. 30 बजे उठता था। मंगलवार को शाम को मैंने उसको देखा तो वो थोड़ी नर्वस सी दिखी. हो गई फिर हमारी भी फोन सेक्स चैट शुरू… और मिलने लगे रोजाना उसी की बस में!और मैं उसको बस में ही हाथ लगा लेता था जैसे उसके मम्मों को दबा देना और सलवार के ऊपर से ही चूत को मसल देना…अब वो भी चुदने को तैयार थी और मैं भी चौदने को…तो बस ऐसे ही एक दिन मैं उसको लेकर अपने घर चला आया, घर पर तो कोई होता नहीं क्योंकि ममा पापा दोनों सरकारी जॉब करते है तो 10 से 5 कोई नहीं होता!घर लाकर मैंने उसका स्वागत किया.

रामू काका और गीता दोनों देसी दारू की बोतल लिए बैठे थे, एक तरफ मुर्गा रखा हुआ था, गीता किसी के घर से लाई थी. ’ बोल रही थी।वे दोनों अपनी चुदाई में मस्त थे, दीदी भी ये भूल गई थी कि मैं भी उस कमरे में हूँ। लगभग 20 मिनट की चुदाई के बाद सुनील का पानी दीदी की चुत में निकल गया और वो दोनों निढाल हो गए।अब तक मैं भी मुठ मार चुका था और दीदी भी झड़ चुकी थीं।इसके बाद आगे क्या-क्या हुआ.

कुछ देर थोड़ा-2, हौले-2 लंड को दुबली-पतली लड़की की गांड में अन्दर-बाहर करते रहने के बाद स्वान ने रफ़्तार पकड़ ली और तेज गति से अपने गर्दभ लंड को मेरी बेचारी बीवी की गांड में घुसाने लगा.

रयान के पेरेंट्स को अचानक एक शादी में दो दिन के लिए जाना पड़ा और उस समय क्लोजिंग का समय होने से न तो निष्ठा को छुट्टी मिली न रयान आ पाया.

पहले कहानी को आगे बढ़ने दो।गुलशन का रोज सुबह का यही काम था कि वो सुमन को देखे बिना घर से बाहर नहीं जाते थे।गुलशन- आह. अब विवेक की बारी थी चूत और चूत वाली को मदहोश करने की… उसने चूस चूस कर रूबी को इतना गर्म कर दिया कि रूबी वासना की आग में जलते हुए गिड़गिड़ाने लगी- राजा, अब अपना लंड दे दो. और जोर से चोदना।उसने कहा- आंटी, बिना कन्डोम के कैसे चोदूँ?मैंने कहा- मेरी अल्मारी में है कन्डोम.

उन्होंने टॉवेल मेरी तरफ फेंका और मुड़ कर खड़ी हो गईं। मैंने आज उनको चोदने का ही तय किया था।मैंने भी जानबूझ कर आंटी को कहा- क्या हुआ आंटी?तो वो बोलीं- तुम इतने बेशर्म हो. अपनी पढ़ाई के अंतिम साल में मैंने अपने जीवन की एक घटना अन्तर्वासना पर प्रकाशित की थी और मुझे आप लोगों के बहुत सारे मेल आये थे. हमने बिना कोई जवाब दिए खाना खाया और खटिया पर आकर सो गए।थकान के कारण विकास तो जल्द ही नींद के खर्राटे लेने लगा.

बस रात को एक बार तू उसे खुश कर देना।मोना- ये आप कैसी बात कर रहे हो.

कुछ देर ऐसे ही बात करने के बाद अचानक ही उसने प्रिया (जो हमारी मित्र है बचपन की) के बारे में भी बता दिया और वो भी हमारे सेक्स के बारे में… पर परोक्ष रूप से!इतना सुनकर तो मुझे और चिंटू दोनों को पसीना आ गया और हम दोनों एक दूसरे की तरफ देखते रहे. हम दोनों बहनें परन्तु मेरे नसीब में एक मरगिल्ला सा महा निकम्मा पति और जूसी को मिला राजे जैसा चुदाई का गोल्ड मेडलिस्ट!अवश्य ही मैंने पिछले जन्म में कोई भयंकर पाप किये होंगे जिसका परिणाम यह सारा जन्म भोगूंगी. खाना खाते वक्त मैं बोली- घर का कलर का काम चल रहा है, आप भी जा रहे हो, काम कैसे होगा?‘खाना खाने के बाद पेंटर से बात करता हूँ!’ पति ने मुझसे कहा.

बड़ा मज़ा आ रहा था। मेरा मन तो कर रहा था कि साली की गांड में लंड घुसा दूँ, मगर ये हमारे संजय साहेब जो हैं, वो प्यार से इसको नंगी करेंगे। अब ना जाने वो दिन कब आएगा?साहिल- अबे चुत के हब्शी. मगर आज तो कोई नहीं इसलिए खुल कर चुदाई हो गई। रोज थोड़े ऐसा हो सकेगा. फिर आदित्य ने मेरी ब्रा उतार दी और मेरे मम्मों को मसलने लगा… वो अपने एक हाथ से मेरे मम्मे मसल रहा था.

यह सुनते ही मेरे मुंह से निकल गया- हाँ अम्मा, जल्दी जाओ और उन्हें ले आओ.

‘आआहह आहह उउउ इइईई ममम उम्म्ह… अहह… हय… याह… मर गई किशोर अअअह हह ओओहह हहह’मैंने अपना लंड पूरा निकला और एक ही झटके में पूरा लंड अन्दर कर दिया।‘आआआहहह… बसस ससस… धधीरररे किशोर धीरे से…’थोड़ी देर वैसे हो अंजलि को और 2 मिनट तक ऐसे ही चोदता रहा. तभी हॉस्टल की वॉर्डन ने और ना जाने किसने मुझे मेरे हॉस्टल रूम में पहुंचाया.

बीएफ सेक्सी वीडियो हिंदी इंडियन मेरे मम्मे मुलायम हो गए थे, चूत मस्त पड़ी थी, तथा मुझे अपनी रूह तक आनन्द में डूबी हुई अनुभव हो रही थी. काफ़ी दिनों के बाद उनकी पूरी जानकारी लगी, उनका एक बेटा था जो मेरी ही उमर का था, मैंने उससे दोस्ती की कोशिश की और धीरे धीरे दोस्ती हो गई लेकिन मैं अभी तक आंटी तक नहीं पहुंच पाया था.

बीएफ सेक्सी वीडियो हिंदी इंडियन मगर काका के लंड का जोश तो वैसा का वैसा ही था। अब मोना को लंड की चोट बर्दाश्त नहीं हो रही थी. तभी भाभी ने मेरे लंड से अपना हाथ हटा लिया और फिर मेरे कानों पर धीमे-धीमे फूँक मारने लगीं। कभी वो ऐसा मेरे निप्पलों पर भी कर रही थीं। वो मुझे बहुत ही बुरी तरह से तड़पा रही थीं।फिर उन्होंने मेरे हाथ और पैर खोले और मुझे एक चाकू दे कर बोला।भाभी- मेरी साड़ी फाड़ो।मैं- फाड़ दूँ.

आओ आज तुम्हें इस यौवन की असली कीमत देता हूँ।राधा सच में बहुत सुन्दर थी, मोना भी उसके जिस्म को बस देखती रह गई।काका ने राधा को लेटा दिया और उसकी चुत को चाटने लगा.

हाथ में बांधने वाली घड़ी

फिर बॉस मुझसे बोले- मैडम मेरे साथ नहीं जाएँगी क्योंकि बेटी का स्कूल है तो इसलिए तू दुकान बंद करने के बाद मेरे घर पर ही रहना. ‘आआआ… ओओओ… हाँआआ… ऐसे! हाँ ऐसे मारो धक्के… और जोर से!’ मेरी पतिव्रता बीवी अपने हाथों को पीछे की ओर ले जाकर स्वान के लंड को अपनी गांड में घुसवाने में मदद करने लगी और अपनी बारीक़ आवाज में उसे और जोरों से धक्के लगाने की प्रार्थना करते हुए हम सभी को उत्तेजना के चरम पर ले गई. पर तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो और मैं तुम्हें जम कर चोदना चाहता हूँ। तुम्हारी चूत और गांड को चाट कर उसका टेस्ट लेना चाहता हूँ.

पता है जब मैं उसके साथ थी तो वो बार बार तेरी तरफ ही देख रहा था और उसका लौडा भी तुझे देख तना हुआ था. उनके मेल पढ़कर अच्छा लगा।आप सभी मेरी चुदाई की कहानी पर अपने विचार लिखते रहें, आपका चोदू सांड अमित[emailprotected]. मैं भी जोर जोर से धक्के देना लगा, अब मेरा भी छुटने को आया और मैंने उसकी चूत की अंदर ही मेरा फव्वारा छोड़ दिया.

और मुझे नींद भी आ रही है।मैं बोला- ठीक है।फिर हम दोनों एक-दूसरे की बांहों में बाँहें डाल कर सो गए।अगली सुबह वो स्कूल ड्रेस पहन कर स्कूल जाने के लिए रेडी हो गई थी। उसने मुझे 6.

‘ऊपर बैडरूम में चल!’ मुझे उठाते हुए वो बोला, मैं भी उसके पीछे चल पड़ी. जैसे इसे लड़कों को रिझाने के लिए खास ऐसा रूप दिया गया हो। संजय तो पागल हो गया. वो वैसे ही पड़ी है या किसी ने उसे टच किया है। ये भी देखना है कि क्या ब्रा और पेंटी में वीर्य जैसा कुछ लगा है कि नहीं। वीर्य का मतलब तो तुम जानती ही होगी.

मैंने जवाब भी लण्ड हिलाते हुए लिखा:प्रिय दोस्त,आपकी बीवी की बड़ी चूचियों और रसीली चिकनी चूत ने मेरे योगीराज को इतना पागल कर दिया कि दो बार मुठ मारकर शांति मिली. मैंने उसे सॉरी बोला लेकिन वो नहीं मानी… वो भाव खा रही थी इसलिए मैंने ज़्यादा मनुहार नहीं की और कहा- ठीक है, मत बात कर!फिर थोड़ी देर बाद उसका कॉल आया मेरे दोस्त के नम्बर पर… वो बोला- बात कर!मैंने मना कर दिया क्योंकि अब मेरा टाइम था भाव खाने का!फिर तीसरी कॉल आने पर मैंने उससे बात की, फिर वो मान गई, थोड़े दिन बाद फिर हम डेट पर गये. पूजा ने लंड मुँह से निकाला और मासूमियत से पूछा- मामू चुत में डालने से ज़्यादा मज़ा आता है.

फिर उसने एक ही झटके में मेरा पूरा लंड अपने मुंह के अंदर ले लिया, मैं तो जैसे जन्नत की सैर कर रहा था… मुझे बहुत मजा आ रहा था. यह पुरानी बात है 2011 की, मेरे घर से कुछ ही दूर एक परिवार रहता था यानि कि मेरी प्रेमिका का घर… उसका नाम पूजा था, उसके घर में उसके माता-पिता एक भाई और वो.

उसके मुँह से ‘स्ससीई आआह्ह ऊउह्ही स्सस्स स्सीईईईई की आवाज आ रही थी, उसका शरीर अकड़ने लगा और वो जोर की सिसकारी के साथ झड़ गई, मैंने उसका सारा पानी पी लिया. उसने साराह को बहुत परेशान किया था तो अब साराह और विवेक को एकांत जरूरी था. मगर फिर उसे लगा कि काका खुद मोना को लंड चुसवा रहा था वो क्यों डरे?राजू- मेरी बात जाने दो.

मेरे मुंह से चूत शब्द सुनकर उसके चेहरे पर एक क्षण के लिए मुस्कान खिली फिर वो सामान्य हो गई और चुप ही रही.

मैंने दो-तीन हल्के-हल्के धक्के दे दिए। अब वह प्रसन्न था और उसने अपने धक्के तेज कर दिए।वह टांगें चौड़ाए मस्त लेटा था, मैं बड़े धीरे से आधा लंड निकाल कर बार-बार डाल रहा था।तभी वो बोला- सर जल्दी कर लें. अपने दोस्त की मम्मी यानि आंटी के साथ सेक्स को हिंदी स्टोरी के रूप में पेश कर रहा हूँ, पढ़ कर मजा लीजिये. तब हमलोग एक-दूसरे से चिपक कर सोने लगे।उन दिनों मैं अपनी झांटें साफ नहीं करती थी.

तो कभी पत्नी या प्रेमिका बन कर।यह सेक्स वेबसाइट है इसीलिए मैंने अपनी सेक्स स्टोरी को उत्तेजक बना कर प्रस्तुत करने की कोशिश की है. हम दोनों ने 10 मिनट तक स्मूच किया। मैंने उसके टॉप के ऊपर से ही उसके मम्मों को पकड़ लिए लेकिन उसने मेरा हाथ हटा दिया।मैंने भी थोड़ा नाराज होने का ड्रामा किया, तो उसने मुझे पकड़ कर किस किया और मेरे हाथ पकड़ कर अपने मम्मों पे रखवा लिए और दबवाने लगी।‘आह आह उफ़.

रूसो-अमेरिकन युगल की शानदार चुदाई देखते हुए मेरा लंड टनटनाने लगा और मेरी भार्या ने उसे भी अपने उछलते हुए मुंह में शरण दे दी. उम्मीद करता हूँ कि आपको मेरी चुत चुदाई की सेक्सी कहानी पसंद आई होगी. थोड़ी देर बाद उसने लंड मुँह में लिया और चूसने लगी।पहली बार मेरा लंड कोई औरत चूस रही थी, उम्म्ह… अहह… हय… याह… मुझे भी काफ़ी मजा आ रहा था।दस मिनट तक वो मेरा लंड चूसती रही।वह खड़ी रही, वैसे ही मैंने उसका साड़ी का पल्लू हटाया और गले से लेकर बूब्स तक किस करने लगा.

साड़ी पहनकर सेक्सी

मैंने दूसरी तरफ अपना मुँह कर लिया लेकिन उसने लोअर में तानकर खड़े हुए लंड को देख लिया क्यूंकि लोअर बहुत ज्यादा उपर उठा हुआ साफ़ दिख रहा था.

अब जरा सोचो कि पूरा सागर उड़ेला जायेगा तब क्या होगा। अभी मुझमें पूरी जान बाकी थी।इस कहानी का पूरा निचोड़ आपको अगले भागों में मिलेगा, उसके बाद मैं कुछ दिनों का विराम लूंगा, इस विराम को आप इंटरवेल समझ सकते हैं। इंटरवेल के बाद कहानी एक नये नाम से आयेगी।उम्मीद है आप सबका सहयोग मिलता रहेगा। इस टीचर स्टूडेंट की चुदाई कहानी पर आप अपने विचार निम्न इमेल आईडी पर दें. जांच के बाद डॉक्टरों ने यह भी बताया की माला बिल्कुल स्वस्थ है और उसमें कोई कमी नहीं है तथा वह किसी भी स्वस्थ पुरुष से सामान्य सम्भोग करके गर्भवती हो सकती है. कुछ ही देर बाद मेरे दरवाजे पर कोई खटखटा रहा था, मैंने दरवाजा खोला तो जो मैंने देखा उसे देखता ही रह गया.

लंड एकदम से फनफना उठा, सच में बहुत मज़ा आया।अब हम दोनों दोस्त जैसे हो गए थे। मैं इधर-उधर कभी भी नीलू को टच करता, तो वो कुछ नहीं बोलती। कभी-कभी माँ नहीं होतीं. फिर हमने खाना ख़त्म किया और मैंने उनको अपनी गोद में उठाया और बेड पर फिर से उनकी चूत चाटने लगा और फिर से मैंने आंटी की चूत को चोदा और मज़ा लिया।आपको मेरी आंटी की चुदाई स्टोरी कैसी लगी प्लीज़ ईमेल करके बताइएगा।[emailprotected]. सौतेली मां का सेक्सी बीएफवो सफेद रंग की नाईटी में हूर की परी तो नहीं पर गजब तो लग ही रही थी.

इतना मोटा लंड भला ऐसे कैसे जाता…मैंने भाभी को बोला- भाभी आप कुछ मदद करो!भाभी तो एक्सपर्ट थी, वो बोली- अब रुक ही जाओ देवर जी, ज़रा तुम्हारे लंड को मैं अपने हाथो से भी मजा देती हूँ. उसने मेरे एक टट्टे को अपनी मुट्ठी में भरा और कुछ ऐसे दबाया कि मेरी जान ही निकल गई.

और अपनी चूत की चुदाई होने पर मन ही मन खुश हो रही थी।अभी तक हम एक-दूसरे के बारे में नाम के अलावा और कुछ नहीं जानते थे।मेरी चूत की चुदाई की कहानी पर आपके टपकते लंड का स्वागत है. जब मैंने रानी भाभी को बताया कि आप भोपाल मुझसे मिलने आ रहे हो तो वो खुद मुझसे मिन्नतें करने लगी, मुझे मनाने लगी कि एक बार मैं उसे भी ये ख़ुशी दे दूं. ’ तो वो डरते हुए चूसने लगी।मेरी पत्नी दोस्त मुदस्सर का बैठकर लंड चूस रही थी.

फिर चूतड़ को फैलाते हुए बोला- अशोक आ जा!मैंने अपना लंड माँ के गांड पर फिराया, फिर लंड को माँ की गांड के छेद पे लगा दिया. अजय ने साराह की एक टांग ऊपर करके अपना लंड उसकी चूत में करना चाहा पर साराह बैलेंस नहीं कर पा रही थी. दोनों सोफे पर ही चिपट गये… कब उनके कपड़े उतर गए, कब दो शरीर एक हो गए… दोनों के चेहरे एक दूसरे के थूक से चमक रहे थे… दोनों की जीभें पूरे चेहरे पर घूम रहीं थी.

आज आपके पति के साथ ड्रिंक करके मूड बनाने का मन था।दुशाली- तो क्या हुआ.

मैंने धीरे से कहा- क्या करें?वह कुछ ना बोली, मैंने फिर उसकी कमर में हाथ डाला, उसने भी मेरी कमर पर हाथ रख दिया. दोस्तो, मेरा नाम पीयूष सरोहा है दिल्ली का रहने वाला हूँ, 21 साल का हूँ, मैं एम सी ए कर रहा हूँ.

उस दिन गीता आई तो रामू काका से मिल कर मेरी तरफ देख कर बोली- ये लड़का कौन है?रामू काका ने कहा- अरे नया लड़का आया है, मेरे साथ ही काम करता है और यहीं पर ही रहता है. तभी आंटी सब्जी वाले पे गुस्सा होने लगी, वो प्याज़ के रेट बहुत ज़्यादा बोल रहा था, तभी मैंने आंटी से झूठ बोला, मैंने आंटी से कहा- अरे आंटी, आप प्याज़ क्यों खरीद रही हैं, मेरे एक अंकल हैं जो प्याज़ की खेती करते हैं, वो अक्सर हमारे घर पर प्याज़ भेजते हैं, काफ़ी तो घर पर खराब होकर जाते हैं, मैं उनमें से कुछ आपको दे दूँगा. उन्होंने आते आते अपना लोवर और टी शर्ट निकाल दी, अब वो सिर्फ एक छोटी सी अंडरवीयर में थे, मैं उसकी यह सेक्स उत्सुकता देख कर अपने आप को हंसने से नहीं रोक पाई.

मैं एकदम से घबरा गई और समझ नहीं आया कि क्या करूँ!घबराहट में मुझे कुछ नहीं सूझा और मैंने तुरंत अपने दोस्त ऋषि को फोन घुमा दिया. परीक्षित ने रानी को घोड़ी बनाया और फिर से उसकी गांड में लंड डाल उसे चोदने लगे. मैंने लंड को बुर की लकीर में रगड़ना चालू किया, बुर से निकलते रस से मेरा लंड भीग कर और अंजलि के चूसने के कारण काफी गीला हो चुका था.

बीएफ सेक्सी वीडियो हिंदी इंडियन कमला भी मुस्कुरा दी।मैंने कमला से पूछा- आपके घर में हवा भरने का पंप है?कमला बोली- हाँ है।तो मैंने कहा- आप वो मेरी बाइक के पास रख आना. !इतना कह कर मैंने उसके हाथ में अपना लंड दे दिया। मेरा लंड उसके लंड से बड़ा था.

மியா கலிபா videos

तू थोड़ा आराम कर ले उसके बाद चुदाई करूँगा और वैसे तूने मेरा लंड रस भी नहीं पिया तो मैं अबकी बार तेरे मुँह में रस डालूँगा।मोना- समझ गई काका. उस दिन उसने जींस पेंट और टी- शर्ट पहनी हुई थी। क्या मस्त लग रही थी. लेकिन किस्मत ने जब जिससे जहाँ मिलना होता है, मिला देती है और शायद किस्मत को ऋषि को मुझसे मिलना था.

आंटी थोड़ी उदास दिखी तो मैंने उनसे पूछा पर उन्होंने कुछ बताया नहीं तो मैंने ज़्यादा फोर्स नहीं किया और आंटी को कभी ऊपर मेरे घर आने का बोल कर चला गया. रूम में जाते ही मैंने उसको बेड पर लिटाकर उसकी साड़ी, ब्लाऊज और पेटीकोट निकालने शुरू कर दिए और अपने भी कपड़े निकल कर उसके पूरे बदन को चूसने लगा. बीएफ फुल फॉर्म इन हिं’ और अकड़ते हुए भाभी ने अपना पानी छोड़ दिया। उनकी चूत का पानी जाँघों से रिसता हुआ उनके घुटनों से बिस्तर पर गिर गया।मगर मैं अब भी धक्के पर धक्के मारे जा रहा था। कुछ मिनट धक्के मारने के बाद मैं भी झड़ गया। मैं बिना चूत में से लंड निकाले ही उन पर लेट गया।हम दोनों 20 मिनट तक ऐसे ही पड़े रहे। फिर हम दोनों उठे.

भाभी ने कहा- शिट!मैं उठा और भाभी के पास गया, मैंने, जो जूस नीचे गिरा था, साफ करने के लिए कपड़ा डाल दिया.

वो देखने में बड़ी सेक्सी माल लग रही थी, चुची उसकी 34 से ऊपर थी और रंग गोरा चिट्टा दूध की तरह था. जी तो करता है पूरी रात तेरी गांड को चाटता ही रहूं।इतने में राहुल बोला- हाँ पवन.

अब मैं भी‌‍ एक मर्द हूँ, मुझे भी धीरे धीरे मज़ा आने लगा और मैंने भी उन्हें चूमना शुरु कर दिया! हम दोनों बस एक दूसरे में खो से गये!इतने में दरवाजे की घंटी बजी और हम दोनों अलग हो गये. ‘तो ये भी देखा होगा कि उन लोगों ने बहुत इलाज किया होगा लेकिन मुहाँसे दूर नहीं हुए होंगे लेकिन जैसे ही उनकी शादी हुई होगी, मुहाँसे गायब हो गये होंगे और चेहरा फूल सा खिल गया होगा. झड़ते ही रानी की टाँगें ढीली पड़ गईं, तो मुझे साँस भी ठीक से आने लगी.

अब तीन लोग सामने आए और एक ने अपना लंड मेरे मुंह में डाल दिया और दो ने मेरे हाथों में पकड़ा दिया.

https://thumb-v5.xhcdn.com/a/zt2ganEYXvSPoGqThSYOVA/018/047/375/526x298.t.webm. रास्ता साफ था।भाभी मुझे अपने घर में ले जाने लगीं, मैं भी उनके पीछे चल दिया।मैं पीछे से उनको मटक कर चलते हुए उनकी थिरकती गांड देख रहा था. मुझे आशा है कि जब तक माला का पति वापिस नहीं आता और वह उसके पास जा कर नहीं रहती या फिर मेरी शादी नहीं हो जाती तब तक हम दोनों इसी तरह जीवन व्यतीत करते रहेंगे.

व्हिडिओ बीएफ सेक्सी पिक्चरतभी कुछ खारा टेस्ट वाला रस भी जोर से बाहर निकला, वो मूत रही थी और मैं पी रहा था, मेरा पूरा शरीर उसके मूत से भर गया और मैं हग रहा था और वो निढाल होकर मेरे शरीर पे आ गई. क्योंकि मुझे बिना चुदे बहुत दिन हो चुके थे।अब दीपक ने मेरी चुत में अपना लंड डाल रखा था और चंदन ने जबरदस्ती अपना लंड मेरे मुँह में ठूंस दिया। चंदन का लंड इतना बड़ा था कि मेरे गले तक जा रहा था.

सी ब्लू सेक्सी ब्लू

फुन्नी छोटे बच्चों की होती है। अब तू बड़ी हो गई है मगर किसी और के सामने नहीं बोलना, बस मेरे सामने ही. मैंने आदित्य से पूछा- क्या तुम शादीशुदा हो?आदित्य ने कहा- हाँ… मेरी शादी अभी एक साल पहले ही हुई है।टैबलेट खाने के बाद मेरा सर और भारी होने लगा… मैंने आपना गाउन उठाया और बाथरूम जाते हुए आदित्य से कहा- दो मिनट रुको… मैं अभी चेंज करके आती हूँ. मैं जब जागा तो 5 बज गए थे, निकी अभी सो ही रही थी तो मैंने उसे सीधा किया और चुत पर लंड लगा कर धक्का दिया नींद में ही… और उसकी नींद खुल गई.

मैं अपनी आँखे बंद करके उनके झटकों को अपने अंदर समाती रही और वो और भी जोर जोर से मुझे नए झटके देते रहे. ना मैंने कहा।काका- ही ही मोना रानी तभी कहूँ ये गुलाबी छेद ऐसे बंद क्यों है. आकाश मेरी चुत के रस को चाटता गया।कुछ पलों के बाद मेरी साँसें थोड़ी हल्की हुईं। अब आकाश उठा और अपना लंड मेरी चुत के पास सटा कर रुक गया।उसने मेरी आँखों में बड़े अनुराग से देखा और कहा- करूँ मेरी जान?मैंने मुस्कुरा कर ‘हाँ’ में इशारा किया। उसने लंड का मोटा भाग डाल दिया.

माँ फिर सिसियाई- गईइ इइइ रे…हम दोनों कुछ देर तक झड़ते रहे और अपना सारा माल चूत में भर दिया. उसके मम्मे ज्यादा बड़े नहीं थे यही कोई 28-30 साइज़ के रहे होंगे जो उसके बदन के हिसाब से बिल्कुल परफेक्ट थे. एक मिनट के अंदर ही विवेक और रूबी के होंठ मिले हुए थे और अजय और साराह के…साराह तो अपने हाथ से अजय का लंड अपनी चूत में करने की कोशिश भी कर रही थी.

32 लिखा था, और मकान मतलब मेरे उरोज जो मकान की तरह उठे हुए हैं उसका साईज 30 है, हमारा मकान नं. मैंने उसे अपने कमरे में बिठाया, जिसमें मैंने मनमोहक वाली परफ्यूम छिड़का हुआ था.

आज उसके बाल खुले खुले घने घनेरे कन्धों और पीठ पर बिछे पड़े थे और उसके जिस्म से एक मस्त मस्त भीनी भीनी सुगंध के झोंके रह रह के उठ रहे थे.

यह हिंदी चुत चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!जैसे ही मैंने उसकी चूत पर किस किया, उसकी सिसकी ओर तेज होने लगी, मैं उसे किस किए जा रहा था, थोड़ी देर बाद उसकी चूत बिल्कुल गीली हो गई. एक्स एक्स बीएफ जबरदस्ती वालामेरे शरीर में जैसे करंट लग रहा था, मैं तो मस्त होती जा रही थी!फिर वरुण ने अपना लंड निकाल कर मेरे हाथ मे पकड़ा दिया. कुत्ता वाली बीएफ फिल्ममैं भाभी को ऐसी अवस्था में देख कर गर्म होने लगा और अपने लंड को थोड़ा एड्जस्ट करने लगा. उसने अपने लंड की फ़ोटो भी भेजी है, देखोगी?मैंने मना कर दिया लेकिन वो ज़बरदस्ती मुझे दिखाने लगे.

पूरा माल निकल जाने के बाद निशा ने अपनी जीभ से मेरा लंड अच्छे से साफ किया और हम दोनों नहा कर बाहर आ गए.

वही देखा है मैंने आपके बारे में कई लोगों से सुना था आप गाँव की लड़कियों और औरतों के साथ गलत करते हो. फिर भी चिपके रहे।फिर उसने अपनी गांड में से मेरा लंड निकाल लिया। अब हम दोनों आमने-सामने से लिपट गए और बांहों में बांहें डाले लेटे रहे।अब सुकांत उठा. मैंने उसकी चूत पर लंड रख दिया और डालने लगा लेकिन उसका पहली बार था तो मैंने तेल की बोतल ली और पूरी चूत पे तेल डाल दिया.

30 बजे हिम्मत ने मुझे बताया कि वो ऑफिस निकल रहा है और बिमलेश अभी अकेली है और खुश भी है, तुम फोन कर लो!मैंने हिम्मत को कॉन्फ्रेंस में लिया और बिमलेश को फोन किया, घण्टी गई. अब मैं उसे चूमता हुआ नीचे की तरफ बढ़ चला उसका समतल चिकना पेट, गहरी नाभि कूप चूमने के बाद मैं उसके पैरों के पास बैठ गया और और दोनों पैर उठा कर तलवे चूमने चाटने लगा, पैरों की उंगलियाँ अपने मुंह में भर के चूसने लगा. उस समय मैं बहुत खुश था, कम से कम उनके साथ टाइम बिताने का समय तो मिलेगा.

rani की सेक्सी वीडियो

जब ऊपर मोना अकेली थी और मौका देख कर काका भी पीछे आ गया और मोना को पीछे से बांहों में जकड़ लिया।मोना- ओह. बाईस साल से राजे से चुद रही हूँ मगर अब भी उस पर मेरा कोई हक़ नहीं, जब मैं उसके घर जाती हूँ तो पहले मेरी सगी बहन जूसी की चुदाई होती है, फिर मैं जूसी के सो जाने का इंतज़ार करती हूँ. ’यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!‘मुदस्सर मेरी पत्नी को अमेरिका लेकर जा अपने साथ.

कोई दिक्कत नहीं है।फिर मैंने एक दुकान से कन्डोम लिए और शाम को मामा के घर आ गया। मुझे लगा रहा था कि अंजलि मुझसे चुदने के लिए राज़ी नहीं होगी.

थोड़ी देर बाद अजय भी मेरी चुत में ही झड़ गया!मुझे तो चुदाई में खूब मजा आया और मेरे पति को भी मेरे पति ने भी मुझे उसी सुनसान सड़क पर चोदा और फिर अजय और उसका दोस्त गाड़ी में आगे चल दिये और हम दोनों पीछे…जब दिल्ली पहुँच गये तो हम अजय से बिना मिले पीछे से ही अपने घर की तरफ चल दिये.

मुझे वो बहुत पसंद थीं। उनका फिगर 40-38-42 का था। थोड़ी मोटी ज़रूर थीं. तभी दिमाग में ख्याल आया क्यों ना इसे पटाने की कोशिश की जाये।थोड़ी देर तक यही सोचता रहा. बीएफ ब्लू फिल्मीदोनों बहुत खूबसूरत भी हैं, खूब बड़े बड़े, मर्दों को पागल कर देने वाले चूचों की मालकिन हैं, शक्ल भी काफी मिलती है, एक बड़ा फर्क है और वो है हमारी चूत से निकलने वाले रस… दोनों चूतें बेहिसाब रस निकालती हैं, परन्तु मेरा रस बहुत गाढ़ा है.

माँ ज़ोर से चीख पड़ी ‘आआईयईई… निकाल इसे… बहुत बड़ा है’‘क्यों कैसी रही, मजा आया साली रांड?’ और लंड बाहर निकाल लिया. बैडरूम में जाकर उसने अपने सारे कपड़े उतार दिए और पूरा नंगा हो गया, मुझे घोड़ी बना कर पीछे से मेरी चूत चाटने लगा. लेकिन ये सब करने के बाद स्वाति से जो दोस्ती थी, उसमें कोई फर्क नहीं पड़ा.

ये तो उसका लंड ही जैक हैमर है तो वो बेचारा क्या करे!!! कोई बात नहीं राजू. उनकी उम्र 44 साल है। मेरी मम्मी काफ़ी बड़ी चुदक्कड़ हैं, उनकी साइज़ 38-36-40 की होगी। मैं एक-दो बार उनको नहाते समय ब्रा और पैंटी में देख चुका हूँ। मेरी मम्मी एक सेक्स के मामले में सदा से ही एक भूखी महिला रही हैं। मुझे ऐसा ही लगता है क्योंकि मेरे पापा ज़्यादातर कोलकाता में अकेले ही रहते हैं.

मेरी कहानी कैसी लग रही है, प्लीज मुझे मेल करके जरूर बताएँ![emailprotected]बिना शादी के सुहागरात मनानी पड़ी-2.

सलोनी एक हाथ से अपनी चूत को सहला रही थी और दूसरे हाथ से मेरे सर को सहलाते जा रही थी और अंग्रेजी को जो बोल रही थी उसकी हिन्दी यूं थी- शाबाश, तुम बहुत ही अच्छे तरीके से अपनी जीभ चला रहे हो, मेरे निकलते हुए पूरे रस को पीओ, मेरे राजा!उसके बाद मैं खड़ा हो गया और अपनी कमर पर हाथ रखकर खड़ा हो गया, सलोनी मेरे इशारे को समझ गई, उसने तुरन्त मेरे लंड को अपने हाथ में लिया और हथेली चलाकर मेरे सुपारे से खेलने लगी. वो भी 9 बजे लुढ़क गईं। अब ये कैसे सोईं ये भी जान लो आप काका आज खुलकर मज़ा लेना चाहता था इसलिए दोनों को खाने में धतूरा के बीज खिला दिए थे। अब ये दोनों तो सुबह तक उठने से रहीं।काका जब मोना के पास गए वो नाइटी पहन रही थी, जिसे देख कर काका को हँसी आ गई।काका- हा हा हा अरे मेरी मोना रानी. [emailprotected]मेरी सेक्सी कहानी : जिस्म की वासना-2रवि स्मार्ट की सभी कहानियाँ.

अमेरिकन बीएफ मूवी उसकी उभरी चिकनी चुची और उसके चूचुकों के गोले छोटे से काले घेरे, सपाट पेट, और पतली कमर जिसको अभी तक किसी ने भी नहीं चखा था, मैं जम कर चख रहा था और बार बार मैं अंजलि को चूमने लगा. मैं अभी खाना खा कर ही आई हूँ, प्लीज़ आप कोई तकलीफ़ ना करें, ओ के!इतना कहकर टीना सीधी सामने सुमन के कमरे में चली गई जिसे देखकर सुमन खुश हो गई।सुमन- अरे टीना, आप यहाँ कैसे आना हुआ आपका?टीना- मैंने क्या समझाया था मुझे आप नहीं तुम बोलो.

पड़ोस वाला जीजा साली सेक्स के लिए बेचैन-1अगले ही दिन नीलेश जीजू का फ़ोन आया, उन्होंने मुझ से कहा- रोमा, आज मैंने ऑफिस से छुट्टी ले ली है और पायल भी हॉस्पिटल जा चुकी है, मैं घर में अकेला हूँ, आज तुम किसी तरह मेरे घर आ जाओ. मैं नीचे से अपनी जाँघों को उनकी जाँघों में रगड़ते हुए पाँव पर पाँव घिस रहा था ‘आह हाहा. ज़्यादा बारिश होने पर दादाजी बोले- साईड के पेड़ के नीचे इंतजार कर लेते हैं बारिश कम होने का!हम पेड़ के नीचे खड़े हो गए लेकिन तब तक हम पूरे तर हो चुके थे.

पिक्चर दिखाओ सेक्सी पिक्चर

मैंने उनको नमस्ते की और उन्हें प्याज़ देकर वापस जाने के लिए पूछने लगा. टी-शर्ट में से उसके बड़े-बड़े उभरे हुए चूचे, कसी हुई जींस में गांड पीछे से फूली हुई देख कर मेरा मन तो बावला हो गया।मैंने कहा- क्या बात है अंजलि. अब वो भी अपनी गांड उठा उठा के मेरा साथ दे रही थी, उसके मुँह से आआअह्ह ह्हह आआअह्ह ह्हह्ह ह्ह्ह ह्ह्ह्ह स्स्स स्स्स्स स्स्स जैसी आवाजें आ रही थी.

इन्हें खोलो ब्लाउज से बाहर निकाल लो और मेरे इन प्यासे चूचों को अच्छे से चूस कर प्यार करो।मैंने उसके ब्लाउज को खोल दिया. बताया तो था फ्रेंड की बर्थडे पार्टी है, वहीं गई थी। वहां सब फ्रेंड्स ने मस्ती की तो ये सब हो गया.

फिर मैंने उसे बाहों में उठा लिया और बेडरूम में लेजाकर बिस्तर पर लिटा दिया और उसके ऊपर मैं चढ़ गया और उसके होंठ अपने होठों की गिरफ्त में ले लिये.

एक ने इशारा किया उसका लंड चूसने के लिए… मैंने झुक कर उसका लंड अपने मुँह में ले लिया सिर्फ उसका टोपा ही मेरे मुंह में जा पा रहा था. मेरा इशारा समझ वो सुपारा मुंह में ले गई और इसे खूब गीला करके चूसने लगी जैसे पाइप से कोल्ड ड्रिंक चूसते हैं. हम सब लोग पूल में नहाने लगे, हम सब लोग साथ में ही नहा रहे थे।सब लोग पूरी तरह से गीले थे… गीली होने की वजह से मेरी नाइटी मेरे शरीर से बिल्कुल चिपक गई… मेरे साथ साथ अन्नू और स्वाति दोनों की टीशर्ट भी उनके मम्मों से चिपकी हुई थी जिसमें से हम सभी के उभार साफ नजर आ रहे थे.

कुछ ही देर में वो झड़ गई और मैंने भी उसके अंदर ही अपना माल निकाल दिया. उसके और हमारे चेहरे पर बहुत दिनों बाद सेक्स का सुकून दिख रहा था और ख़ुशी भी, क्योंकि सेक्स के लिये हमें एक नया पार्टनर भी जो मिल चुका है. कोई जल्दी तो कोई ज़्यादा टाइम लेता है।सुमन- अब समझी उस स्टोरी में भी ऐसा ही कुछ लिखा था।टीना- हाँ सही समझी.

बहुत से मेल के मैंने रिप्लाई भी किये जिनको मैं रिप्लाई नहीं कर पाया मैं उन सब से माफ़ी चाहता हूँ.

बीएफ सेक्सी वीडियो हिंदी इंडियन: इतना कह कर वो खुद मेरी चुत को मुँह में भरकर चूसने लगे। मुझे इस सब में बहुत बहुत मज़ा आया।इनके चारों दोस्तों के लंड बहुत मस्त थे एक का लंड 6 इंच का, जॉन का 9 इंच का, अजय का 8 इंच का और शाकिर का 5 इंच का था. अगले दिन फीस भरने का आख़िरी दिन था, मैंने 1 लाख 30 हज़ार फीस भर दी और बाक़ी पैसे अपने अकाउंट में डलवा दिए.

सारी बातचीत के बाद रीना ने पूछा- सैलरी कितनी होगी सर?विक्रम- आपको 8 हज़ार रुपये मासिक मिल पायेगा. काजल बोली- अब अन्दर आऊं या यहीं करोगे?मैंने चौंक कर पूछा- क्या?वो बड़े चालाकी से बोली- मेरी खातिरदारी. फिर क्या… कुछ देर बाद भाई ने मुझे जगाने की कोशिश की… पर मैं उठी ही नहीं क्योंकि जागते हुए इंसान को नींद से कोई कैसे उठाए!भाई ने सोचा कि दीदी गहरी नींद में है… फिर धीरे धीरे भाई ने अपना लंड मेरे होंठों पर रख कर मेरे मुंह में घुसाने की कोशिश की.

मैंने खुश हो कर पूछा- सच क्या ताऊ?वो बोले- बेटा, मेरा 8 साल का तजुरबा है, इस सोसाइटी का.

‘ये आपने क्या किया?’साहिल बोले- मेरे तुम्हारे प्यार के पहले रस को चख रहा हूँ, और जितना सुन्दर तुम्हारा जिस्म है उतना ही मीठा तुम्हारा रस भी है।‘फिर मुझे भी इस रस को चखा दो!’‘नहीं, तुम मेरे रस को चखना।’इतना कहने के बाद एक बार फिर वो मेरे होंठों को पीने लगे और फिर मम्मे को बारी-बारी से अपने मुंह में भर कर चूसने लगे, फिर और नीचे उतरते हुए मेरी नाभि पर अपनी जीभ का कमाल दिखाने लगे. मैं खूब सजी-धजी थी कि कोई मुझे देखेगा और मुझे चोदना चाहेगा पर जो मुझे घूर रहे थे वो मुझे पसंद नहीं आ रहे थे. पिंकी के दिल की धड़कन अब तेज हो गई थी और साँस भी तेजी से चल रही थी… डर व घबराहट के मारे पिंकी ठीक से कुछ बोल तो नहीं पा रही‌ थी, बस धीमी आवाज में कराह‌ सी रही थी‘इश्श… च.