ससुर पुत्रों के सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,सबसे बड़े लंड की सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

लड़की की सेक्सी बीएफ: ससुर पुत्रों के सेक्सी बीएफ, उसके होंठों को अपने होंठों में ले लिया और धीरे-धीरे अपने हाथ उसकी पीठ पर सहलाने लगा।संजय के हाथों के स्पर्श से गीत गर्म होने लगी और उसने अपने सर को संजय की गोद में रख दिया।अब गीत को कुछ भी नज़र नहीं आ रहा था.

सेक्सी पिक्चर डाल दीजिए

मैंने भी शर्म छोड़ दी और उनकी मैक्सी के अन्दर हाथ दे दिया।उन्होंने मेरा पूरा साथ दिया. मारवाडी लडकी सेक्सीमैं पूरी भीग चुकी हूँ।तो मैंने उसे कपड़े निकाल कर दे दिए और पानी साफ करने जाने लगा।उसने बोला- दरवाजा बंद करते जाना।क्योंकि कीर्ति को नाइट ड्रेस बदलना था।मैंने पूरे घर में पानी साफ किया बाद में कीर्ति के कमरे में गया और उससे बोला- चलो उठो अब खाना खा लो।कीर्ति बोली- पहले तुम ये भीगे कपड़े बदल लो.

तो मेरा जब लण्ड खड़ा हो जाता है तो लोवर में दिख जाता है।मैंने अपने लण्ड पर हाथ रख लिया और अन्दर की तरफ दबाने लगा. फुल सेक्सी पिक्चर चोदा चोदीथोड़ा कंट्रोल रखो।मैंने बिना झिझक के चाची का हाथ पकड़ कर दुबारा खड़े हुए लंड पर रखा और कहा- चाची जान KLPD मत करो।वे हँस कर बोलीं- सोच से ज्यादा जवान हो गए हो बेटा जी.

मैंने मन बना लिया कि मैं अपनी जान ज्योति को पहली बार आज यहां ही चोदूँगा.ससुर पुत्रों के सेक्सी बीएफ: मैंने सोचा अभी टाइम ज्यादा नहीं है, तो मैंने उसकी पैंटी को उतार दिया और अपनी पैंट को खोल कर नीचे कर दिया और अपने अंडरवियर को भी नीचे कर दिया.

मेरे बॉयफ्रेंड ने चोद कर खोल दी थी।वो आदमी मेरा हाथ पकड़ कर मुझे घर में ले गया और मुझे ड्रॉइंग रूम में ले जाकर बैठा दिया।मैं घबरा रही थी.मुझे उसके घर पर कोई नजर नहीं आया।मैंने पूछा- भाभी जी, घर पर कोई नहीं है क्या?उसने बताया कि उसके पति 2-3 दिन के लिए पुणे से बाहर गए हुए हैं और उसका बेटा अपने नाना के घर गया हुआ है।वो बोली- आप क्या लेंगे पीने के लिए?मैंने बोला- जो आप पीएंगी.

तमन्ना सेक्सी मूवी - ससुर पुत्रों के सेक्सी बीएफ

जिस तरह से रेगिस्तान में बरसात जमीन को ठंडा करती है, उसी तरह से मेरी चूत की गर्मी आज उस का गर्म लंड निकाल कर ठंडा कर रहा था.मैंने घंटी बजाई तो प्रीति आंटी ने दरवाजा खोला, मुझे देखकर बोली- अरे बबलू तुम.

अब मैंने अपने लंड को तेल से गीला किया और प्रिया की गांड पर तेल डाल पर उसकी पीठ को एक हाथ से सहलाने लगा था, जिसे उसको शक ना हो. ससुर पुत्रों के सेक्सी बीएफ जो कि मुझे आपने डूबने से बचाया है और उसके बाद ठण्ड से भी बचाया है।वो फिर से ‘थैंक यू’ बोली.

पानी पीकर रेवती ने मुझे धन्यवाद दिया तथा वो दुबारा मुझसे अनुरोध करने लगी.

ससुर पुत्रों के सेक्सी बीएफ?

बस तेरी मम्मी राजी हो गई हैं, सोनू जैसा प्लान हुआ था, वह सब हो जाएगा. तो मैं चाची की चूत आइसक्रीम जैसे चूसने लगा।चाची चूत चुसाई के मजे लेने लगीं और सीत्कार करने लगीं- आह्ह. उत्तेजना के वश अब अपने आप ही मेरी कमर हरकत में आ गयी‌ और नीचे से धीरे धीरे अपनी कमर को उचका उचका कर मैंने अपने लंड को प्रिया के मु्ँह में अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया.

इसी बीच मैंने मौका देखकर उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया और सलवार को नीचे कर दिया. फिर स्विमिंग पूल में डुबकी लगाकर हल्के हल्के स्ट्रोक के साथ तैरने लगा. मैं बाथरूम के पास खड़ा हो गया। वहाँ काफ़ी लोग खड़े थे और मेरे बाजू में एक लेडी खड़ी थी.

00 स्टार्ट हो जाती थीं जिसके लिए मुझे 5 बजे घर से निकलना होता था।मेरे फ्लैट में एक ही बाथरूम था। मेरा और मेरी मॉम का उठने का टाइम एक साथ था. पर एक दिन दो‍पहर को वो मेरी दुकान पर आई और कहने लगी कि मैं घर को लॉक करके मार्किट गई थी और मेरे घर की चाबी कहीं गुम हो गई है, तो प्लीज़ किसी चाबी बनाने वाले को बुलवा दो या आप खुद ले आओ. अब मैं उनसे न तो चुम्बन लेता था और न ही उनको अपने करीब आने देता था.

तब लंड आराम से अन्दर चला जाएगा।मैं चित्त लेट गया और भाभी मेरे लंड के ऊपर बैठने लगीं. पर पूरी चुदाई रात में करूँगा।पति ने मेरी बुर पर अपना सुपारा रख कर एक जोर का शॉट मारा और लण्ड पूरा चूत के अन्दर एक ही शॉट में घुसता चला गया।पति अपना पूरा लण्ड मेरी बुर में डाल करके शॉट पर शॉट देने लगाने लगे।मैं ‘आहहह आहहहह.

नतीजा यह हुआ कि अंत में मैं भी पल्लवी को चोदने का प्रयास करने में जुट गया.

कहाँ तारे कहाँ धरती…मैंने सब कुछ एक ही बार में बोल दिया।मैडम- सन्नी.

अब मैं पूरी तरह से झड़ने वाली ही थी कि मैंने कहा- रीतिका, मैं झड़ने वाली हूँ!फिर वह और तेजी से मेरी चूत में उंगली पेलने लगी और साथ में चूत को चाटने भी लगी, वो अपनी जीभ को मेरी चूत में घुसा दे रही थी जिससे और ज्यादा उत्तेजना हो रही थी और मजा आ रहा था. पर डर लग रहा था।चाची की चूचियाँ 34 इंच के नाप की होगीं।मेरी हिम्मत नहीं हुई कि मैं कुछ करूँ और मन मार कर वहीं साथ में लेट गया. जिग्नेश और दिपेन के लंड मुझसे काफ़ी छोटे थे और वो सब मेरे लंड को छूने को हमेशा तैयार रहते थे।आलोक हम तीनों से एक साल आगे था और उसने लंड को मुँह में लेने के बारे में सुना था। हालांकि हम में से कोई भी ‘गे’ गांडू नहीं था.

दीदी, बाद में कर लेंगे ना!” प्रिया ने मना करते हुए कहा भी, मगर नेहा ने जानबूझ कर उसे हाथ पकड़कर उठा लिया और उसे अपने साथ लेकर कमरे से बाहर चली गयी. क्या हुआ? कितना मजा तो आ रहा था!” मैंने हैरानी से प्रिया के चेहरे की तरफ देखते हुए उससे पूछा. तो मैंने उससे कहा- अगर कोई प्रॉब्लम ना हो तो आप यहां आराम से सो सकती हैं.

मैं बयान नहीं कर सकता कि कुदरत के बनाये इस खेल में कितना आनन्द भरा है.

भाभी रसोई में रात के खाने की तैयारी कर रही थीं और वहीं से बोले जा रही थी- अजीत आज खाना यहीं से खाकर जाना पड़ेगा, खाना तो मैंने बना भी लिया है।भाभी सब कुछ समेट कर खाना लेकर आईं. मैं उनका लण्ड चूसते हुए जेठ की बात सुन रही थी, मैं सुपारे को खींचकर चूसते हुए लण्ड मुँह से निकाल कर बोली- आप तो नाहक ही मेरी तारीफ कर रहे हैं. ’ की तेज आवाज करती हुई मेरी मुनिया मूत्र त्याग करने लगी।सूसू करने से मुझे काफी राहत मिली और फिर मैं फुव्वारा खोल कर नहाने लगी.

एक दिन भैया ने मेरी क्लास लगा ली- छुट्टियों में तुम सारा दिन घूमते रहते हो, इससे तो अच्छा है, आगे के लिये कोई तैयारी कर लिया करो या फिर कोई कोर्स ही कर लो. कुछ देर बाद मैं जाकर उसको ड्राप कर आया और वापस आकर मैंने अपनी फ्रेंड को चोदा. भाभी बाहर हैं और कुछ देर में अर्जुन भी आता ही होगा।सन्नी- अरे भाभी तो चुदवा कर मज़ा ले चुकी है.

मैं बस स्टॉप पर खड़ा था कि मेरे सामने एक कार आकर रूकी, जिसके काले शीशे चढ़े हुए थे.

तैरते समय मैं बार बार उस औरत को देख रहा था और थोड़ी देर के बाद देखा कि वो औरत भी मुझे देख रही है और हल्की हल्की मुस्कुरा रही है. फिर राज अंकल बोले- बता सोनू? बोल तू?उस समय मुझसे दो दो मर्द नंगे लिपटे हुए थे, मैं अपने होशोहवास में नहीं थी, मैं बिना सोचे समझे बोली- जैसा आपको ठीक लगे अंकल … मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं!इतना सुनते ही राज अंकल अंकित से बोले- यार तेरा घर है, तू यहीं का है, बता, यहाँ पर तो कोई रूम खाली नहीं तो अगल बगल घर कहीं कोई खाली जगह है क्या? कोई इंतजाम करा!तब अंकित बोला- बहुत रात हो गई है.

ससुर पुत्रों के सेक्सी बीएफ ये हालत आप पर क्या सितम ढहा सकते हैं और आपके लंड की क्या हालत हो सकती हैं।मुझे तो लगता है कोई भी औरत ऐसे मौके पर इस हालत में मिल जाए तो नामर्द का लंड भी तन कर उसको सलाम कर देगा और साधू भी शैतान हो जाए. मैं गॉड की कसम, मम्मी की कसम खाकर कहती हूं कि सब सच सच बताऊंगी कि मेरे साथ सब कुछ कैसे हुआ.

ससुर पुत्रों के सेक्सी बीएफ मैं सीत्कार हुए सिसक रही थी और चाचा मेरे चूत और गाण्ड वाले हिस्से को लंड से रगड़ते जा रहे थे। मैं बैचेन होकर चूतड़ पीछे करके लण्ड को अन्दर लेना चाहती थी ‘जल्दी करो ना चाचा. वैसे ही लड़कियों को जैसे ही माहवारी शुरू हो जाती है तो चूत और लंड का ज्ञान मिल जाता है। मगर जोआज के जमाने में बड़े घरों या परिवारों के बच्चे होते हैं, उन्‍हें ज़रूरत से ज़्यादा ही ज्ञान मिल जाता है।ऐसे ही एक परिवार की कहानी मैं आज बताने जा रही हूँ।यह कहानी काल्पनिक ही समझ कर पढ़ी जाए.

तो भाभी ने झट से लंड को मुँह में ले लिया और लंड को तगड़ा करने लगीं।अब मैं भाभी को कुतिया की मुद्रा में होने को कहा।भाभी तुरंत तैयार हो गईं।मैंने अपना एक हाथ से लंड पकड़ कर चूत के मुहाने पर रखा और दूसरे हाथ से भाभी की कमर पकड़ी और लंड अन्दर डालने लगा। जब दो से तीन कोशिश में भी लंड अन्दर नहीं गया.

সেক্স এইচডি ভিডিও

वो जरा कसमसाई।मैंने फिर जोर से झटका दिया और लंड उसकी चूत में आधा जाकर फंस गया और अब वो जोर से चिल्लाने लगी- उई माँ. मैंने उसकी ब्रा को थोड़ा ऊपर किया और उसके निप्पल को पकड़ कर अपने होंठों में ले लिया और किस करने लगा।इधर में उसके अधनंगे बदन से उसके निप्पल को चूस रहा था. उसने मेरी पैन्ट को खोल दिया और मेरा लण्ड बाहर निकाल लिया।‘वाह कितना बड़ा और मोटा है.

ऐसा लगा जैसे एक बिजली का झटका मेरी योनि से होता हुआ मेरे दिमाग में चला गया।फिर क्या था. नहीं तो मैं मर जाऊँगी।मैं उसकी बातें सुन ही रहा था कि उसने फिर से गिड़गिड़ाते हुए कहा- तुम्हारा क्या जाएगा. डेस्क की तलाशी लेतीं।एक दिन मैंने गुस्से से उनसे पूछ लिया- आप सिर्फ मेरी तलाशी क्यों लेती हो? क्लास में और भी तो स्टूडेंट्स हैं.

तो मुझे उनके मकान में रहते हुए एक महीना हो चुका था।उसके लड़का मेरी ही उम्र का होने के कारण मेरी उससे दोस्ती हो गई। अब मैं और वो दोनों साथ-साथ मेरी ही बाइक पर घूमते थे।एक दिन 31 दिसम्बर 2010 को मैं और मेरा दोस्त रात को ‘न्यू ईयर’ मनाने अपने बाकी दोस्तों के साथ गए। वहाँ हमने ड्रिंक की.

जब उसने हिलना शुरू किया तो मैंने भी जोर-जोर से धक्के लगाने शुरू कर दिए। वो भी उछलने लगी और ‘आह्ह. तो मैंने उससे बात शुरू कर दी।फिर 3 दिनों तक हम दोनों यहाँ-वहाँ की बातें करते रहे और एक दिन मैंने उससे पूछा- आपने खाना खाया क्या?तो वो बोली- हाँ मैंने खा लिया. फिर हम सब साथ मिलकर नहाए और खाना खाया।मैंने गीत और संजय से विदा ली और आ गया।गीत अब हमसे चुदाई करवा कर काफी खुल चुकी थी, हममें कोई भी शर्म नहीं रही थी और उसे गालियाँ देना और सुनना बहुत पसंद है, गीत को हमारी चुदाई से बहुत ज्यादा मज़ा आया, उसके बाद तो मानो वो चुदवाने के लिए तड़प उठी कि ऐसी चुदाई उसकी रोज़-रोज़ हो।एक दिन गीत का मूड बहुत सेक्सी था और उसने कॉल किया.

पर उसने मुझे वहीं से एक ‘टाटा’ किया और गेट से बाहर चली गई।वो कौन थी. जिसका गला बहुत बड़ा था और उसके आधे से ज़्यादा मम्मे तो उसमें से बाहर ही दिख रहे थे. ’ कहते हुए उन्होंने मेरे हाथ से क्रीम ले ली।‘तुम दूध पीओ।’ अपने साथ लाया हुआ दूध मुझे देते हुए वो बोलीं।‘नहीं.

जिस पर बिल्कुल बाल नहीं थे। मैं उनकी चूत में उंगली करने लगा।भाभी थोड़ा चिल्लाने लगीं- आह. पर मैं चूत की काम-ज्वाला के नशे में सब कुछ भूल चुकी थी।मेरी प्यासी चूत को लण्ड चाहिए था.

सच में मजा आ गया।उस दिन मुझे इतना अच्छा लग रहा था कि कभी भाभी से दूर न जाऊँ, उस दिन मैंने उन्हें जी भर के प्यार किया। हमारा पहला राउंड 20 मिनट तक चला. वह मेरा इशारा समझ गया।उसने मेरी चूत पर एक जोर का शॉट खींच कर लगाया। उसका लण्ड मेरी चूत को चीरता हुआ लण्ड अन्दर घुसता चला गया. सो मैंने सूखा लण्ड ही उसकी चूत में रगड़ना शुरू कर दिया।उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया.

घर आकर मैं या तो सबके साथ कुछ देर टी वी देख लेता, या फिर सो जाता था.

और बस का इंतजार कर रहा हूं, लेकिन आप यहां कैसे?मैं अपने कॉलेज से आ रही हूं. फैमिली सेक्स की इस स्टोरी में आप पढ़ रहे हैं कि कैसे बेटी ने अपनी माँ को लेस्बियन सेक्स के लिए उकसाया. मैं जानता था कि मेरा लंड छोटा है, लेकिन मुझे यह नहीं मालूम था कि मेरे अंदर लड़की वाले गुण हैं.

इस बार जल्दी ही सही, पर वो एक बार फिर से झड़ गई और बोली कि अब तुम अपना काम पूरा कर लो और अपने रस से मेरी चुत भर दो. मैं और जोश में आ गया और ज़ोर-ज़ोर से चूत चाटने लगा।मैंने अपनी उंगली चूत में डाल दी वो फिर से चिल्ला पड़ीं- आआआहह.

फिर मैंने भाभी को मेरे कपड़े निकालने के लिए कहा और उन्होंने मेरे सारे कपड़े निकाल दिए और मैं सिर्फ़ अंडरवियर में रह गया था।मैंने भाभी का शर्ट निकाल दिया. मोनू मेरी चूत की तरफ देखने लगा, मैं अपने बाल हमेशा साफ करके रखती हूँ, मोनू बोला- दीदी आपके तो एक भी बाल नहीं हैं. अब से हर संडे एक बार तुम्हारे घर पर और एक बार मेरे घर पर ऐसी पार्टी होगी.

इंडियन देसी भाभी की चुदाई

के बीच में 3 महीने पहले घटी थी।हुआ यूँ कि मेरे एक बहुत पुराने क्लाइंट जोकि मेरी कंपनी से और मेरे से कई सालों से डील कर रहे हैं.

जैसे मुझे उससे कोई लेना-देना नहीं है। क्योंकि मैं एक हरियाणा राज्य का सरकारी कर्मचारी हूँ और मेरी नौकरी भी जा सकती थी। वह भी हरियाणा की कुम्हारिन थी और सास ससुर और देवर से अलग रहती थी।लेकिन उस दिन की घटना के बाद मेरे मन में उथल-पुथल रहने लगी और मैं अपने डीवीडी प्लेयर पर पुराने दर्द भरे गाने अपनी आदत अनुसार सुनता रहता था।तभी मेरे भाग्य ने पलटा खाया और धीरे-धीरे उसके आदमी से मेरी बातचीत होने लगी. साथ ही बीच-बीच में धीरे-धीरे लण्ड चूत में अन्दर-बाहर कर रहा था।उसके मुँह से ‘उऊह. मैंने रिया को गांड मरवाने के लिए कैसे राज़ी कर लिया, ये मैं आपको अपनी अगली चुदाई की कहानी में लिखूंगा.

शायद उस लेडी के फादर थे।वो मेरे इतने करीब थी कि उसका जिस्म मुझसे चिपका हुआ था।उसके बगल वाले का बैग बार-बार गिर रहा था. सच में बोल नहीं पाती हूं, पर मेरा मन करता है कि 24 घंटे मेरी चूत में किसी न किसी मर्द का लौड़ा घुसा रहे और कोई ना कोई मर्द मेरे जिस्म को मसलता रहे. सेक्सी वीडीओ मराठीआज उसके रंग को देख कर समझ में आ रहा था कि मैडम की टांगों के बीच में खुजली मची है.

अब तक शाम हो गई थी।उन्होंने कहा- तुम आज यहीं रुक जाओ कल सुबह चले जाना।मैं तो यही चाहता था. मैंने देखा कि रवि बहुत गर्म हो चुका था और उसके चेहरे से वासना की लकीरें साफ़ दिखाई दे रही थीं.

भाभी और मैं एक-दूसरे की प्यास बुझाने में शुरू हो गए।भाभी तो बस मेरा लंड खा जाने पर उतारू थीं. अब मैंने उसको सीधा लेटाया और उस कच्ची कली को फूल बनाने के लिए अपना लण्ड उसकी चूत में सैट किया. फिर मैंने मीशू के टॉप के अन्दर हाथ डालकर उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और टॉप और ब्रा एक साथ उतार दिए.

जिस मम्मी को तू चिल्ला रही है, वो तेरी मम्मी इतनी बड़ी लालची है कि अपनी जवानी में यहीं हमारे गांव में दो सौ पांच सौ रुपए के लिए किसी से भी चुदवा चुकी है. फिर मैंने उसको सीधा करके एक उंगली उसकी चूत में डाल दी, वो एकदम से जाग गई. । सोम-मंगल को मैंने ऑफिस से छुट्टी ले ली और दो दिन घर पर आराम किया.

कुछ देर बाद ज्योति अपने शरीर को ऐंठते हुए बोली- मेरा होने वाला है राजा … आह … मैं गई …यह बोल कर वो झड़ने लगी.

इसकी वजह से मैं गाण्ड बाद में मारूँगा। अब देख इसका क्या हाल करता हूँ. मैंने जानबूझ कर चाची की टाँगों पर लैपटॉप रख दिया और वही मूवी लगा दी.

भाभी हँसने लगीं और मुझसे कहा- मेरे राज़ा आज तूने जीना सीखा दिया… अबसे मैं बस तेरी हूँ. गुलाबी होंठ … उस पर इसकी गुलाबी लिपस्टिक आँखों में काजल उसकी सुंदरता पर चार चाँद लगा रहे थे. उसकी मादक आवाजें कमरे में गूँज रही थीं। मैं और भी मदहोश होने लगा। थोड़ी देर में ‘फ़च्छ.

और इसमें दर्द हो रहा है।चाची- मुट्ठ मार कर सो जाओ।मैं- मुझे मुट्ठ मारना नहीं आता. वो काबिले तारीफ़ था।इधर सोनू की चूत में खुजली होने लगी थी, वो बार-बार अपनी चूत में उंगली डालकर हिला रही थी।जमील मियाँ की जबरदस्त चुदाई देखकर मेरा लंड नब्बे डिग्री का आकार लिए खड़ा हो गया था।अब लौड़े को या तो चूत चाहिए थी. फिर प्रिया मुझे अलग हुई और बोली- आप तो बोल रहे थे कि कुछ नहीं होगा, ये क्या हालत बना दी मेरी?मैंने कहा- सॉरी बेबी.

ससुर पुत्रों के सेक्सी बीएफ और भागती हुई मेरे पास आई और मुझे फिर से गले लगाती हुई बोली- आई लव यू सूरज. तो उठ कर साथ में शावर लिया।नहाते हुए भी लंड फिर से खड़ा हो गया और हमने एक राउंड चुदाई का और खेला।घर वालों के आने से पहले हमने सब कुछ वैसा ही कर दिया था.

छोटी भाभी की चूत

पर उसने कुछ नहीं कहा।मैंने फिर से सुपारा उसकी चूत के छेद पर रखा और इस बार थोड़ा ज़ोर से धक्का लगाया मेरे लण्ड का सुपारा अन्दर चला गया. आप जानते ही हैं कि लंड और पानी अपना रास्ता ढूँढ ही लेते हैं। कुछ हफ्तों तक पढ़ाने के बाद मेरे लंड ने भी हरकतें करना शुरू कर दिया।अब तक केवल मेरे मन में केवल निलय से अपना लंड को मज़ा दिलाने की ही विचार थे. जिसमें से उसकी गोल पहाड़ियों के बीच की घाटी हल्की-हल्की सी दिख रही थी, उसके बाल कमर तक नागिन से लहरा रहे थे। उसकी कजरारी आँखें ऐसी थीं.

कुछ देर बाद अब मैंने प्रिया को पेट के बल लेटा दिया, लेकिन अब मेरा मन बन गया था कि मुझे क्या करना है. क्या कमाल के मखमली चूतड़ हैं उनके और उस पर गाण्ड की पागल कर देनी वाली दरार. नंगी सेक्सी ब्लू फिल्म चुदाई वालीमजा आ रहा है ना दोस्तो? मुझे मेल करें![emailprotected]कहानी जारी है.

आआआह … इस्सससी ई!” गहरी और मदभरी सीत्कार न चाहते हुए भी मीता के होंठों से फूट पड़ी और उसने अपने हाथों से मेरा सर जोर से अपने चिकने पेट से कसकर चिपका लिया और इसी के साथ मेरे पूरे होंठ गहरी नाभिकूप में जा समाया और मेरी जीभ और होंठों ने नाभितल को चूसना और चाटना शुरू कर दिया.

उसकी फिगर के लिए लिखूँ तो उसकी गांड इतनी ज़बरदस्त उठी हुई थी कि जो भी उसे एक बार देखे तो बस देखता ही रह जाए. मैंने एकदम झटके से अपना लण्ड अन्दर पेल दिया। भाभी एकदम तेज आवाज में चिल्लाई- ऊहह.

तो अंजलि हाथ में अपने पापा का पजामा और टी-शर्ट लिए खड़ी थी।मैंने वो पहने और बाहर आ गया और अंजलि भी एक शॉर्ट और बिना बाँहों की टी-शर्ट पहने आ गई. मेरे इस वक्तव्य से सहमत जरूर होंगे।मैंने उसके होंठों को चूसते हुए उसकी चूत में लंड घुसाना शुरू किया। एक बार ऐसा हुआ कि मैंने जरा जोर से धक्का मारा. जिससे सुनील को बहुत मज़ा आ रहा था और वो अपने मुँह से सिसकारियाँ निकाल रहा था।तभी दीप्ती सुनील से बोली- अरे चुसवा लो.

फिर उसकी चूत के अन्दर ही झड़ गया।कुछ देर रुकने के बाद मैंने उसे पीछे घुमाया.

लड़का और लड़की के बीच में केवल लंड और चूत का रिश्ता होता है।अनु- छी:. [emailprotected]देसी कहानी का अगला भाग :ट्रेन में फंसी पंजाबन कुड़ी -2. लेकिन मेरा लंड तो अपना काम कर चुका था। अनु की गाण्ड में बोरिंग करता हुआ पूरा घुस चुका था। मैंने उसको ऊपर से इस तरह जकड़ रखा था.

सेक्सी ब्लू नंगी सेक्सीजब वो गर्म हो चुकी तो उसने मुझे खड़ा किया और खुद नीचे बैठ कर मेरा पैन्ट खोल कर मेरे लौड़े को, जो 6 इंच से कुछ ज़्यादा ही होगा, उसको निकाल लिया. गांव में उनका मन नहीं लगता था, क्योंकि उनकी पत्नी का देहांत 2 वर्ष पूर्व हो चुका था.

एक्स एक्स एक्स वीडियो हॉट हॉट

तो सुनील के लंड ने अपना रस छोड़ दिया और दीप्ति का मुँह सुनील की जवानी के रस से भर गया।इस तरह हम दोनों जबरदस्त झड़ चुके थे, हम दोनों को बहुत मज़ा आया।अब संजय तुम तैयार हो जाओ. ’करीब 8 से 10 मिनट तक पिंकी को घोड़ी बना कर चोदा और फिर मैं पिंकी को बिस्तर पर लेकर आ गया।बिस्तर पर लाकर उसे पीठ के बल लेटा दिया और 2 मिनट उसकी चूत को चाटने के बाद फिर से अपना लण्ड उसकी चूत में डाल कर फुल स्पीड में चोदना शुरू कर दिया।थोड़ी ही देर में पिंकी अकड़ उठी ‘ऊऊह्ह्ह ह्ह्ह्ह. अब तू ट्राई कर ले।तो वो बाथरूम में गई और ब्रा-पैन्टी और अपनी सलवार पजामा पहन कर आ गई और बोली- सही है.

मेरी चूत तो इतनी गर्म थी कि मैं खुद चाहती थी कि मेरी अब चुदाई हो जाए बस. भाभी के आँसू आने लगे और मैं एकदम शांत होकर उनके ऊपर लेटा रहा, उन्हें किस करता रहा. तो वो चीख पड़ी।मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रखे और उसे चोदने लगा। अब उसके मुँह से मस्त ‘उस्स.

पता नहीं उतनी देर में मेरी फ्रेंड ने मीशू को क्या कह दिया कि जब मैं बैग लेकर ऊपर गया तो मेरी तरफ़ देखकर वो दोनों मुस्कुरा रही थीं. जब मैंने कॉलेज में एड्मिशन लिया था। वैसे तो ये कॉलेज तो सिर्फ़ लड़कियों का ही था. हम चाहें तो तुम्हें पास करे या फेल।मैं थोड़ा सा डर गया।वो फिर बोली- मेरी एक बात मानोगे तो पास कर दूँगी.

मगर तभी ‘उऊऊह … ओओययय …’ जोरों से चीखते हुए प्रिया ने अपनी पूरी ताकत से मुझे धकेल‌कर अपने से दूर कर दिया. उसने कहा- तुम ये क्या कर रहे हो?मैंने कहा- क्या अब मैं अपनी बहन के साथ सो भी नहीं सकता?उसे मुझ पर दया आ गई और वो बोली- हां सो जाओ … लेकिन और कुछ मत करना … वरना पापा को बता दूँगी.

!संतोष बाथरूम से अंडरवियर में ही बाहर आ गया था, वह मुझे सामने पाकर घबराने लगा।‘संतोष मैं आई तो तुम यहाँ नहीं थे.

एक बात तो थी कि चाची के साथ होली खेलने में बड़ा मजा आया था। मैंने पहली बार किसी औरत के साथ होली खेली थी। मुझे यह तो पता नहीं कि फिगर वगैरह कैसे नापते हैं. सेक्सी वीडियो कुत्ते केसो 10 मिनट बाद मैंने ज़ोरदार चुदाई शुरू कर दी और अपना पानी उनकी चूत में निकाल दिया।दस मिनट में उनका 3 बार पानी निकल गया था।कुछ पलों बाद भाभी ने बताया- मैंने एक बार तुझे घर के सामने रोड के किनारे पेशाब करते हुए तेरा लंड देख लिया था. सपना चौधरी की सेक्सी फोटो दिखाएंमैं अपने दोनों हाथों से उसके मम्मों को दबा रहा था, वो ‘आहें’ भर रही थी ‘आआह्ह्ह. तभी अंकल ने कसकर मेरे सीने को मुट्ठी में भर लिया और जिस हाथ से मैं मुठ मार रहा था, वह अंकल के गर्म वीर्य से गीला हो गया.

तो मैंने उसे एक लम्बा किस किया और आ गया।तो दोस्तो, आपको मेरी कहानी कैसी लगी मुझे जरूर बताना.

साईड से चोदूंगा।”वह सीधे हो गयी और मैं उसके पहलू में लेट गया। फिर लार से लिंग को गीला किया और उसने हल्का सा तिरछा होते और अपना एक पैर मोड़ते हुए मेरी जांघों पर रख कर अपनी योनि मेरे लिंग की तरफ जहां तक संभव हो सका. चल बता ज्योति कहां है चारपाई?ज्योति आगे आगे चल दी, मैं उसके पीछे चल पड़ा. तो मैं अपना सर पीछे रख कर सोने लगा।लगभग 15 मिनट के बाद मुझे महसूस हुआ कि मैं अपने हाथ कहाँ रखूँ.

मुझे लगी तो नहीं थी मगर मैंने भी अपने सीधे हाथ से चेन खोली और कोशिश करने लगा. संतोषने तिच्या पुच्चीवरून हात फिरवत तिच्या पुच्चीचा गहिरा मुका घेतला. मुझसे ऐसे तगड़े झटके बर्दाश्त नहीं हुए और मैं झड़ने के करीब आ गई।मैं- आह्ह.

सेक्स वीडियो कैसेट

फिर हम दोनों एक दूसरे से बात करने लगे और बात करते करते कब शाम हो गयी, पता नहीं चला. कि भाभी पूरी की पूरी पानी से नहा चुकी थी और यह देख कर मैं हँसने लगा।सकीर्ति- हँस क्या रहे हो. मैं अपने बेडरूम में चला गया। मैंने बेडरूम में अपना कम्प्यूटर चालू किया.

मैं यह सुनकर जोश में आ गया और अपना लण्ड डालने लगा।उसकी कोमल और कुँवारी चूत में धीरे-धीरे 3 इंच डालने के बाद मैंने एक जोर का झटका लगाया और वो दर्द से तड़प उठी, उसकी चूत से खून रिसने लगा था।मुझे उससे प्यार था.

तभी अचानक डोरबेल बजी, हम दोनों तो डर के मारे काम्प गए और जल्दी से मैंने अपने कपड़े पहन लिए.

बेडरूम में चलो।फिर मैं उससे गोद में उठा कर बेडरूम में ले जा कर बिस्तर पर उसे गिरा दिया और उस पर चढ़ कर उसे किस करने लगा। किस करते-करते उसके मम्मों को दबाने लगा। मम्मों दबाने के बाद उसकी ब्रा खोल दी और उसके संतरे मुँह से चूसने लगा।फिर मैं उसे कान के पास किस करने लगा. पर समाली अंकल का लौड़ा मुँह में घुसा था, तो आवाज वहीं की वहीं अन्दर ही घुट जा रही थी. सेक्सी सुहागरात हिंदी वीडियोवो मेरे रूम पर आ जाती और हम खूब मज़े करते। कई बार वो रात को भी मेरे रूम पर रुक जाती।एक दिन उसने बताया- मैं अपन दोनों की सेक्सी बातें अपनी एक सहेली को बताती हूँ.

लेकिन पायल को कुछ नहीं होने दूँगा।रॉनी- वो मानेगा क्या? कहीं ऐसा ना हो. मेरा मन भी अपने भाई की पत्नी के साथ लेस्बीयन सेक्स करने को हो रहा था. यहां ये भी बता दूँ कि पुरुष के पहली पत्नी से 2 बच्चे हैं और इस महिला से भी 2 हैं.

अभी मैं उन्नीस साल की युवती हूं परन्तु पिछली घटनाओं को याद करती हूं तो बहुत रोमांचित हो जाती हूं. लग रहा था कि मार दूँ वहीं पर लेकिन नहीं मार सकता था।हमारी चुदाई अधूरी रह गई थी।फिर से वही चलता रहा.

पर मैं डरता था कि कहीं मेरे कुछ करने से मेरी बहन मेरी शिकायत मम्मी या पापा से ना कर दे।फिर एक दिन जब मेरी बहन शादी के बाद हमारे घर आई हुई थी.

तो बदनामी होगी और मेरा घर भी टूट सकता है।तभी मैंने पूछा- फिर तुम मेरे साथ यह सब करने को क्यों और कैसे तैयार हो गईं?उसने बताया- मेरे पति मुझसे आपके बारे में बहुत बातें करते हैं कि आप एक बहुत ही शरीफ और भरोसेमंद इंसान हैं। जब मैं आपसे पहली बार मिली थी. फिर बहुत समझाने के बाद कोमल मान गई, मैंने उसे ज़ोर से गले लगा लिया और उसके गाल को चूम लिया।इसके बाद हमारे बीच सब कुछ बदल गया था, हम आपस में बहुत खुल गए थे और कोमल की चुदास भी भड़क गई थी।हमें कुछ दिन घर वालों की वजह से फिर से चुदाई का तो मौका नहीं मिला. प्रिया की बड़ी बहन नेहा कॉलेज तो जाती थी, दोपहर तक वो भी कॉलेज से आ जाती थी.

देहाती सेक्सी वीडियो चुदाई का तब तारा ने माइक की पैंट उतार दी और माइक का लिंग हाथ में हिलाते हुए कहा- देखो. उसके होंठों का स्पर्श पाते ही ऐसा लगा जैसे मेरे होंठ से ओस की बूँदें चिपक गई हों।मैंने पहले भी दूसरी लड़कियों को किस किया था.

मेरे मम्मों को दबा रहे थे।मैं लगातार गरम हो रही थी, मैंने भी अपने दोनों हाथों से दोनों के लण्ड पकड़ लिए और मुठ्ठ मारने लगी।करीब आधा घंटा बाद उन्होंने वीडियो बंद किया और दोनों नंगे हो गए।मैं देख कर चौंक गई. एक तो वे बड़ी-बड़ी थी और ऊपर से मयूरी उछल-उछल कर उनको हिला-हिला कर विक्रम का ध्यान आकर्षित कर रही थी. मेरे राजा।फिर कुछ तेज शॉट के बाद मेरा माल उसकी चूत में ही निकल गया।झड़ने के बाद मैं कुछ देर उसके ऊपर ही लेटा रहा.

सनी लियोन हॉट मूवी

उसकी मस्त गांड देख कर आपलोगों को भी उसकी गांड में लंड पेलने का मन करने लगेगा. मैंने तौलिया लपेटा और दरवाजे के पास जा कर देखा तो मेरे पति बाहर खड़े थे. तो वो चीख पड़ी।मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रखे और उसे चोदने लगा। अब उसके मुँह से मस्त ‘उस्स.

तो मैंने भी लंड को अन्दर-बाहर करना चालू कर दिया और फिर थोड़ी ही देर में मैंने स्पीड बढ़ा दी और जोर-जोर से सोनी की चूत की चुदाई करने लगा।सोनी फुल मस्ती में थी और बोल रही थी- यश. इसके बाद मैं सीधा प्रिया के कमरे में चला गया, प्रिया कपड़े प्रेस कर रही थी.

तो मैं किरण से अपने दोस्त के कमरे पर जाने की बोल कर निकल गया। मुझे मौका मिल गया और मैंने बाहर आकर अपने कमरे का बाहर से लॉक करके चला गया।फिर मैं एक घन्टे बाद वापस आया और देखा कि मेन गेट बंद है.

इतने में बुआजी ने फिर से कहा- रोहित, बस अब और इंतज़ार नहीं होता, जल्दी से चोद दो मुझे. वो मूत रही थीं तो धार काफ़ी दूर तक जा रही थी।मेरा लण्ड खड़ा हो गया और सोचने लगा कि जा कर उनकी चूत में अपना मुँह लगा दूँ।जब वो उठीं. तो बताओ।लगभग एक हफ्ते बाद उसका ईमेल आया और उसने कहा- वो डेट के लिए तैयार है.

नेहा यह ठीक नहीं कि घर की इज्जत बाहर वाले के हवाले कर दी जाए। वह क्या सोचता होगा हम लोगों के विषय में?तभी मुझे बोलने का मौका मिल गया- सही कह रहे हैं आप. वो कमर उठा-उठा कर मेरा साथ देने लगी।करीब 15 मिनट में मैं उसकी चूत में झड़ने लगा।वो भी अब तक दो बार झड़ चुकी थी।थोड़ी देर हम नंगे ही लेटे रहे।तभी मैडम आ गई।उन्होंने गीतिका से पूछा- टेस्ट में पास हुआ या फेल?हम दोनों मैडम के सामने नंगे पड़े थे।गीतिका- फर्स्ट क्लास में पास है।मैडम- तुम टेस्ट में पास हो गए हो। तुम्हारी नौकरी पक्की. बस तुम जल्दी से लन्च करा दो और वादा करता हूँ कि रात में तुम्हारी चूत की सारी गरमी अपने लण्ड से चोदकर निकाल दूँगा।’यह कहते हुए पति मुझे अलग करके कपड़े निकाल कर फ्रेश होने बाथरूम में चले गए।मैंने रसोई में जाने के लिए जैसे ही दरवाजा खोला.

खैर दस मिनट होने के बाद भी वो बैठा रहा और अगले 10 मिनट के बाद उस का लंड आसमान को देखने लगा, जो 7 इंच लंबा और 2.

ससुर पुत्रों के सेक्सी बीएफ: और फिर आपसे अपने पहले संपूर्ण सेक्स की दास्तान शेयर करूँगा। आप अपना संदेश मुझे इस मेल आइडी पर भेज सकते हैं।[emailprotected]. इतनी तेज चिपटा लिया कि बस मजा आ गया।फिर हमने खूब चुदाई की।उसके मम्मों को जबरदस्त तरीके से चूसा और चूत के चीथड़े उड़ा दिए।कुछ ही पलों के बाद हम दोनों अपनी मंजिल पर पहुँच गए।तब से लेकर आज तक जब भी अंकिता का चुदाई का दिल करता है.

शायद मेरा और पिंकी दोनों का रस बाहर आने को बेताब हो रहा था।कुछ देर बाद मेरा लंड ने अपने रस की बारिश पिंकी की चूत में कर दी।इधर पिंकी भी शांत पड़ गई।हम दोनों ने अपने कपड़े पहने. मेरे भैया!’और उसने बड़ी ही सेक्सी सी मुस्कान दी।मैंने कहा- लेकिन तुम्हें दो-दो किताबों की क्या जरूरत है? एक रख लो और दूसरी लौटा दो. तो दो दिन के बाद आऊँगा।मैं घर से बाहर निकला और रात को मामी के घर आ गया।मामी मुझे देख कर बहुत खुश हुईं और उन्होंने मुझे गले से लगा लिया।पहले हम दोनों ने चाय पी और बातें करने लगे।मामी उस दिन बहुत सुंदर लग रही थीं, मैंने धीरे से एक हाथ मामी के मम्मों पर रख कर उनको मसलने लगा और उनको किस करने लगा।मामी भी मेरा साथ दे रही थीं।मामी ने सलवार और कमीज़ पहना हुआ था.

तो मैंने बोला- खोलता हूँ।जब दरवाजा खोलकर देखा तो सामने पूजा खड़ी थी।मैंने बोला- बोलो.

कुछ दिन ऐसे ही बात करने के बाद उसने मुझे अपने घर पर बुलाया। हम सेक्स चैट करते हुए अपनी नंगी फोटो भी एक-दूसरे को भेज चुके थे और बस चुदाई का प्लान था।मैं रात को 9 बजे उसके घर गया। दरवाज़े पर डोरबेल थी. मुझे तो लगा कोई ने मेरा लण्ड छील दिया। मैंने सोचा ही नहीं था कि पहली बार किसी 45 साल की औरत के साथ सेक्स होगा. मैंने कहा- रानी, अभी तो मैं तेरी चूत बजाऊंगा … तू कुतिया बन जा मैं पीछे से तेरी लूंगा.