मुस्लिम के बीएफ

छवि स्रोत,हिंदी सेक्सी मारवाड़ी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

तमिल सेक्सी गर्ल्स: मुस्लिम के बीएफ, वो बोला- तुम यहीं रुको, मैं पार्किंग से गाड़ी लेकर सीधा गेट पर लगा दूंगा.

गूगल तुम्हारी मम्मी का नाम क्या है

मैंने हंसते हुए कहा- इतनी खूबसूरत वकील के लिए तो मैं जज तक से पंगा ले लूँ, ये तो बहुत छोटी सी प्रॉब्लम थी. पेनडर्म प्लस क्रीमजिस दिन मम्मी का चुदने का मन होता था, उस दिन सुबह उठते ही वो पेटीकोट ब्लाउज में सारा काम करती थीं और शाम 8 बजे से फिर से साड़ी उतार कर सिर्फ पेटीकोट ब्लाउज में ही खाना बनाती थीं.

वो एकदम से चौंक गया और बोला- क्या! ऐसा कैसे हो सकता है, मैंने तो उन पिक्स पर सेक्यूरिटी लगाई हुई है. हिंदी सेक्स फिल्म एचडी मेंमुझे कुछ भी याद नहीं रहा कि मैं कैसे सोई थी क्योंकि बहुत दिनों बाद फ्री होकर झड़ी हुई थी और पूरा मजा ले ले कर उंगली की थी.

अब मुझे कहां पता था भाभी? आप लेने से पहले कह देतीं … तो मैं सम्भल कर करता.मुस्लिम के बीएफ: एक दिन मैं उसके घर गया था तो वो अपनी मां से अपनी ब्रा पैंटी के बारे में पूछ रही थी.

कुल मिलाकर कोई हीरोइन तो नहीं, पर किसी भी मिडिल क्लास लड़के को मिल सकने वाली अप्सरा सी थी.कुछ देर बाद वो बोली- सॉरी मैंने उसे दिन तुम्हें काफी बुरा भला कह दिया था.

ईडियनसेकसी - मुस्लिम के बीएफ

वो मुझे देखने लगा और बोला- तुम तो बहुत ही बड़ी रंडी लगती हो, कितने लंड डलवा चुकी हो इस चूत में?मैं बोली- पता नहीं भाई कितने लोगों से चुदवा चुकी हूँ.उसने अपने हाथों से मुझे अलग करने का प्रयत्न किया लेकिन मैं डटा रहा.

उसने सोचा कि क्यों न आज की शाम को एक यादगार शाम में तब्दील कर दिया जाए. मुस्लिम के बीएफ फिर उसने नीचे गोलियों पर जब अपने होंठ और जीभ फिराई तो अर्णव की तो फ्री सेक्स के आनन्द में किलकारी ही निकल गयी.

वो आगे बोली- अब अगर ये बात मैं अपने पति को बोलती हूँ कि उनमें कोई कमी है, तो आपको भी पता है कि क्या होगा.

मुस्लिम के बीएफ?

मेरी दीदी जिज्ञासा इन्द्रेश अंकल के घर ना रुक कर अपने एनजीओ के काम से चली गयी. कुछ देर बाद जब वो मुझसे पूरी तरह खुल गया तो मैंने उससे रसिका भाभी के बारे में पूछा कि रसिका भाभी तो खूब मजे से चुदाती होगी?आकाश ने अब मुझे पूरी बात बताई. जब वो कुछ बोलने वाला था तो फाटक से उठ कर मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उसके लंड पर अपनी बुर रगड़ने लगी.

मेरे मामा जी फौज में हैं तो उन्हें कम ही छुट्टियां मिलती हैं; जब भी मिलती हैं, तो वो हमारे घर जरूर आते हैं. ‘ऊऊईई अम्माआआ … साहब जी आराम सेईईई …’ऐसे ही मैं कई बार लंड आधा बाहर करते हुए अन्दर तक पेलता रहा, जिससे उसकी कसी हुई चूत में मेरा लंड आराम से अन्दर बाहर होने लगा. उसने कहा- अरे हां वो हैंडल लगवाना था, कोई बात नहीं, आप कुंडी खोल दो.

मैं उनके एक पूरे मम्मे को मुँह में लेकर चूसने लगा और बोला- भाभी अभी तो और मज़ा आना बाकी है. थोड़ी देर में हम दोनों ही झड़ गए, रागिनी निढाल होकर मेरे ऊपर गिर पड़ी और मैंने कसकर उसे अपनी बांहों में जकड़ लिया. अदिति जोर जोर से सीत्कारने लगी- ओह हर्षद हम स् स् स्ह स्ह ऊं उफ्फ कितने दिनों बाद मेरी चूत को तुम्हारी जीभ का स्पर्श हुआ है हर्षद.

अब मैं अक्सर उसके घर जाने लगा कि फिर से रेखा के वैसे ही दर्शन देखने को मिल जाएं, लेकिन नहीं मिले. मैं- आ जा रेशमा रंडी की अम्मी जान, अब तेरी इस पाकीज़ा गांड की बारी मेरे लौड़े की सेवा करने की है.

चूत को तसल्ली ही नहीं थी कि किसी के आने का इन्तजार किया जाए, उसे तो लंड से मतलब था.

अब जब भी मम्मी और मेरा छोटा भाई उज्ज्वल बाजार जाते और अंकित घर पर होता तो मैं उसके पास जाकर लेट जाती.

इस पर वो मुस्कुरा कर बोलीं- अच्छा तो ये आराम हो रहा था, अकेले अकेले मूवी देखी जा रही थी!उनके ये बोलते ही मेरे होश उड़ गए, मेरा माथा पसीने से लथपथ था और धड़कन बहुत तेज़ हो गयी थी. वो खिलखिला कर हंस पड़ी और बोली- तो मत पियो … किसने कहा है कि पियो?मैंने कहा- हां अब कुछ और ही पीने का मन है. निकिता भाभी पहले फरीदाबाद ही रहती थीं और हमारे घर के सामने वाले घर में ही किराए पर रहती थीं.

Xxx गर्ल ओरल सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपने बड़े भाई को अपने साथ सेक्स करने के लिए गर्म किया और मैंने उसका लंड चूसा. अब नीता की गोरी, मुलायम गांड और उसके बीच छुपा हुआ भूरे रंग का छेद मेरे सामने था. उसने मुझे नहाते हुए देखा, तो वो मेरे गठीले बदन को देखकर अपने होंठों पर जीभ फेरने लगी.

सोनी आगे सरकने की कोशिश करने लगी पर मेरी मजबूत पकड़ की वजह से वो आगे नहीं जा पायी.

फिर वो धीरे से करवट बदलने लगी और मेरे दिल की धड़कन फार्मूला कार की तरह तेज़ी से धड़कने लगी थी. मैंने उसके बालों को सहलाना शुरू कर दिया और उसके होंठों, गालों को कोमलता से चूमने लगा. मैंने थोड़ा खुश हुआ लेकिन परेशान भी … क्योंकि साढ़े चार घंटे मुझे ड्राइव करना था और तब तक रात हो जानी थी.

मुझसे ज्यादा देर रुका नहीं गया और मेरे होंठों ने सहसा उन्हें चूम लिया. उसकी और मेरी दोनों की आंखें बंद होने लगीं और उसके बाद क्या हुआ, मुझे कुछ याद नहीं. उधर मेरे ऊपर काम का लोड भी बढ़ रहा था, तो मैं भी इस विषय में ज्यादा नहीं सोच पा रहा था.

एक दिन रात को सब सोने की तैयारी कर रहे थे पर मुझे नींद नहीं आ रही थी.

अब मैं अपने आप से कंट्रोल खोने लगा।मुझे लग रहा था कि अभी जाकर मैं अपनी पिंकू की चूत फाड़ चुदाई कर दूं और उसके मखमली दूधों को चूस चूस कर और भी बड़े कर दूं. जब रात को हम जाने लगे तो उसने मेरे चेहरे को अपने दोनों हाथों से पकड़ा और मेरे होंठों पर अपने होंठ रख कर उन्हें चूम लिया.

मुस्लिम के बीएफ फिर उन्होंने मुझे अपनी कुर्सी पर बिठा दिया और मेरी साड़ी नीचे से उठा कर मेरी चूत चाटने लगे. मैंने अन्दर जाते हुए देखा तो उनके फ्लैट की हालत बहुत ही ज्यादा खराब थी.

मुस्लिम के बीएफ उसके तने हुए बूब्स देखते ही में पागल हो गया और उन्हें पागलों की चूमने लगा. डर के कारण मैंने रिएक्ट भी किया तो पाया कि ज्योति मेरे लौड़े से खेल रही थी.

पॉल के चूतड़ फ़ैलाते हुए मैंने उसकी गांड पर थूका और एक ही झटके में मेरा पूरा सात इंच का लौड़ा उसकी खुली हुई गांड में पेल दिया.

चुदाई बीडीओ

चाची बोलीं- क्या करना है?मैंने कहा- मैं नीचे बैठता हूँ, आप मेरे ऊपर पेशाब करो. एक साथ दो दो लौड़े देखकर मेरी चूत गांड कुलबुलाने लगी और मैं मुस्कुरा उठी. जिससे उसने मेरी बहुत सी मदद की और इन तीनों जानवरों के चंगुल से मुझे छुटकारा दिला दिया.

सुदिति पहले 5 मिनट के लिए छत पर जाती थी लेकिन अब वह जॉन से बात करते करते आधा घंटे रुक वहां रुकने लगी थी. खैर … मैं संगीत के लिए बहुत ज्यादा गम्भीर हूँ, इसलिए संगीत के समय कुछ और नहीं सोचता. आज भी जब भी मौका मिलता है, हम दोनों देसी इंडियनगर्ल सेक्सका मजा लेते हैं.

मेरी आग बहुत ज्यादा बढ़ रही थी और मैं अपने हाथों से अपनी इस आग को ठंडी नहीं करना चाहती थी.

वो चाहता है कि तुम्हें महसूस कराया जाए की पीटर से शादी के बाद तुम्हारी क्या हालत होने वाली है, क्या तुम इसे झेलने को तैयार हो?हम पीटर की बात कर ही रहे थे कि पीटर का कॉल आ गया और सलीम ने फोन स्पीकर पर किया. अब मैं अपने आप से कंट्रोल खोने लगा।मुझे लग रहा था कि अभी जाकर मैं अपनी पिंकू की चूत फाड़ चुदाई कर दूं और उसके मखमली दूधों को चूस चूस कर और भी बड़े कर दूं. कुछ मिनट बाद चाची चिल्लाती हुई बोलीं- जोर से चाट साले … आहफिर अगले ही पल चाची अपनी चूत मेरे मुँह पर दबाती हुई बोलीं- आंह … मैं झड़ रही हूँ.

पर मैं एक सही मौके की तलाश में था, जहां मैं इस जवान औरत का रस बड़े आराम से चूस चूस कर पी सकूं और इसकी चुदास अपने हलब्बी लौड़े से पीट पीट कर निकाल सकूं. वो सलीम नहीं जानवर था, भगवान किसी को ऐसा BDSM लॉन्ग सेक्स का आदमखोर न बनाए!आप भी ये सब पढ़ कर सोच रहे होंगे कि अब शायद हमारी चिट्ठी से हमारी किस्मत खुल जाए, शायद हमें भी इस काम की देवी के दर्शन हों और चोदने का मौका मिले!कुछ कह नहीं सकते … आज भी मुझे कभी कभी बद से बदतर चुदने के खयाल आते हैं. शुरूआत रागिनी ने ही की और मुझे चूमना शुरू कर दिया; वो इतने दिनों की प्यास को जल्द से जल्द मिटा देना चाहती थी.

कोरोना के चलते एक लम्बे समय के बाद मेरा भारत आना तय हुआ और इसी दौरान मुझे इंटरनेट की एक वेबसाइट पर एक लड़के से सम्पर्क हुआ. आपने मेरी और फरियाल वाली कहानीपिया गए परदेस … लंड की याद सताती हैपढ़ी.

रूचिका आंटी- प्रभात, कॉलेज के टाइम मैं आपको मुझे चोदने का काफ़ी मौका मिला, फिर भी आपने उसका फायदा नहीं उठाया. मेरा पूरा रस निचोड़ने के बाद रीना ने मेरा लौड़ा मुँह से बाहर निकाला और मेरे टट्टे चूसने वाले अपने पति को इशारा करते हुए मुँह खोलने को कह दिया. मेरा लंड मेरे काबू में नहीं था वो तो बुआ की चूत में अन्दर तक जाने लगा था.

वो लंड को चाटती हुई मुस्कुरा कर बोली- मजा आया?मैंने उसके मुँह को चूम कर कहा- बहुत मजा आया.

मैं इससे एकदम से चीखने को हो रही थी पर क्योंकि सुरेश का लौड़ा मेरे गले के अन्दर तक घुसा हुआ था इसलिए मेरी चीख वहीं पर दब गई थी. अब रागिनी ने मुझे नीचे लिटा दिया और मेरे ऊपर चढ़कर मेरे लंड को अपनी चूत में डालने लगी. इसके बाद समीर भैया मेरे दर्द को कम करने के लिए मेरे होंठों को और चूचियों को चूसते और दबाते रहे.

पता नहीं क्या कर रहे हैं?मैं बोली- नहीं मम्मी, पापा नहाने के लिए अभी गए हैं. मैंने उसकी चिकनी, गुलाबी चूत को हल्के से अपने दांतों से काटकर चूम लिया और उठकर अदिति की दोनों जांघों के बीच अपने घुटनों के बल बैठ गया.

नया लॉज था और नया कमरा भी तो एक बार चैक करना भी जरूरी था इसलिए मैंने फिर से पहली बार वाला ही तरीका अपनाया, कमरे की सारी लाइट्स ऑफ करके अपने मोबाइल के कैमरे से कमरे का हर एक कोना चैक किया. मसाज क्लब में मैं मैनेजर हूँ और उन औरतों और लड़कियों की बॉडी मसाज करता हूँ, जो सेक्स के चरम सुख से बहुत दूर हैं. अब मैंने उसके लंड पर अपना मुँह रखा और उसे बिल्कुल पॉर्न वीडियो की तरह चूसने लगी.

सेक्सी पिक्चर चला दो

कैसी लगी दोस्तो मेरी पहली प्रोस्टीटयूट सेक्स कहानी?मुझे मेल से बताएं.

तब तक अमित बहुत ही ज्यादा सिसकारियों की तरह आह आह कहते हुए अपने पूरे लावा को मेरी गांड के छेद के अन्दर छोड़ने लगा. काफी देर खड़े रहकर इसी तरह की चूमा चाटी करके हम दोनों फिर से बिस्तर पर बैठ गए. रश्मि के बारे में मैंने जो कुछ जाना था और जो मेरे दोस्तों ने कहा था, वो सब मैंने सोनी को बता दिया.

उसने बताया कि वो गोवा के कॉलेज में सेकंड इयर की स्टूडेंट है और उधर रूम लेकर रहती है. उस समय 3 बज रहे थे, तो मैंने रीमा से कहा- यार चलो मूवी देखने चलते हैं. सेक्सी मूवी पिक्चरमैं लंड चूसने लगी और जल्दी ही करीब करीब उनका पूरा लौड़ा अपने मुँह में लेने लगी.

गर्मी का समय था तो मैं सुबह जल्दी नहाकर आराम से कूलर की हवा में लेटा फ़ोन पर गेम्स खेल रहा था. रूचिका- प्रभात आप मेरे मम्मों को दबाओ न प्लीज़ … कब से मेरे मम्मों को आपके हाथों का इन्तजार था.

मैंने उसे उठाया और हाथ में लिया तो उस पर चिपचिपा पानी सा लगा हुआ था. हफ्ज़ा बोली- हायल्ला … तुम दोनों ये क्या कर रहे हो?मैं और रेखा चुप थे. मैं किस करते हुए होश खोने लगा था कि तभी मेरे हाथ उसकी पीठ पर चलने लगे.

आपको मेरी देसी लड़की X कहानी कैसी लग रही है, प्लीज़ मुझे मेल करें और कमेंट्स करें. अब आगे :मैं सनी से थोड़े गुस्से में बोली- क्या कर रहा है … किसी के सामने भी तू अपनी आदत से बाज नहीं आता है. मैंने अंकित का व्हाट्सएप चैक किया, तो उसमें वंदना के बहुत सारे मैसेज थे.

अब इतना सब आपके आस पास हो रहा हो तो किसी का भी मन आउट ऑफ कंट्रोल हो जाएगा.

आज मैं उसको गले लगा कर मिली और थोड़ी देर उससे बात करने के बाद मैंने उसको अपनी कल वाली फोटोज मुझे भेजने को कहा. मैं कुर्सी से उतर कर नीचे जमीन पर बैठ गया और उसकी चूत की फांकों को सहलाते हुए फिर से उंगली को अन्दर डाल दिया.

कुछ ही पल बाद सर मेरे सामने पूरे नंगे खड़े थे और मैं घुटने पर बैठ कर सर का लंड चूसने लगी. ये देख कर मैं कुछ देर ऐसे ही रुका रहा और उसको किस करता रहा, उसके मम्मों को सहलाता रहा. अब वे उसके चूतड़ों पर चांटे मारने लगे- मादरचोद … ढीली कर भोसड़ी के … फिर मत कहियो कि फट गई.

अदिति जोर जोर से चिल्लाने लगी और रोने लगी- ऊंई मां मर गइ रे हर्षद … आह ऊंई हम स् स् … फिर से फाड़ दी तुमने मेरी चूत को … अंह!उसका ये हाल देखकर मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए और हाथ से उसके आंसू पौंछकर कहा- क्या करूं अदिति? रुक जाऊं … या बाहर निकाल लूं! सालों बाद तुम्हारी ये चिकनी और गुलाबी चूत का स्पर्श मेरे लंड को मिला तो ये बहुत फड़फड़ाने लगा. इसके साथ ही उसने मेरी चूचियों को हल्के हल्के मसलना भी शुरू कर दिया. मुझे भी इस तरह खुले में रंडियों की तरह चुदाई करवाने में बहुत मजा आ रहा था.

मुस्लिम के बीएफ यह एक ऐसी हस्बैंड फ्रेंड सेक्स कहानी है, जिसे पढ़ कर लौंडे बिना मुठ मारे … और लौंडियां अपनी चूत में उंगली किए बिना नहीं रह पाएंगी. रात में कमरे में आने के बाद उत्सुकता के कारण मैंने रागिनी से पूछा- वसुंधरा भाभी मेरी तरफ बार-बार देखकर मुस्कुरा क्यों रही थीं.

सेक्स वीडियो सेक्सी सेक्स वीडियो

मैंने दो चार बार जिनसे अटा सटा किया है, वे मराते समय गांड खोल कर चुपचाप लेटे रहते हैं. उसको सोते देख मेरे लंड और गांड दोनों में आग लगी हुई थी कि साला ये क्या हो रहा है. सिप लेने के बाद उन्होंने गिलास को तिपाई पर रखा और मेरे हाथ से सिगरेट ले ली.

अब आगे हॉट विडो हिंदी ब्लू स्टोरी:फिर अर्णव ने दो कॉफ़ी का आर्डर दे दिया और मोहिनी से बातें करने लगा. न्यूड गर्ल रोड सेक्स स्टोरी में आगे बढ़ने से पहले मैं आपको बता दूं कि मैं बहुत चुदक्कड़ महिला हूं; मुझे सेक्स करना बहुत पसंद है और मैं सेक्स का कोई भी मौका नहीं छोड़ती हूं. महाराष्ट्र सेक्सी वीडियो हिंदीवो सब कैसे हुआ, मैं पोर्न चूत की चुदाई कहानी के अगले भाग में लिखूंगी.

घर आकर टॉयलेट में उसके लौड़े के माल को बाहर निकाला और नहाकर एक गहरी नींद में सो गया.

मैंने उसमें उत्साह भरा- आंह फाड़ दे … पेल दे पूरा … जोर लगा … पूरा डाल दे. मेरी पिछली कहानीपड़ोसन भाभी का प्यार या वासनाअपने पढ़ी होगी और मजा लिया होगा.

मैंने कहा कि मां वो अभी काफी छोटी है, मैं उसे यहां कैसे रख सकता हूँ. आज से पहले मेरी चूत ने इतना पानी कभी नहीं छोड़ा था, मैं बस सब कुछ भूल कर उसी पल में रहना चाहती थी. अपनी बीवी के इशारे पर अपने ही वीर्य को पॉल किसी कुत्ते की तरह चाट रहा था.

मैंने उसे समझाया कि आज भले चुदाई नहीं हो, पर बाहर से तो चूत का मज़ा लेने दो.

मैंने कहा- वो तो ठीक है मेरी कामुक कुतिया … मगर तू चूत का भोसड़ा बना देने वाली बात पर क्यों हंसी थी?चित्रा बोली- हां वो इसलिए हंसी थी कि जब तू मेरी चूत का भोसड़ा बना देगा तो तुझे मेरी चूत चोदने में मजा आना बंद हो जाएगा. मगर लौड़े की जरूरत तो पड़ती ही है न! इसको भी शारीरिक सुख की जरूरत है. अब वे उसके चूतड़ों पर चांटे मारने लगे- मादरचोद … ढीली कर भोसड़ी के … फिर मत कहियो कि फट गई.

12 साल की लड़की का सेक्सी वीडियोमैं आश्चर्य से देखता रह गया कि अचानक रीना कमरे से बाहर क्यों चली गयी. फिर मैंने जो देखा, देखते ही मेरे होश उड़ गए, दिल पर बिजली गिरने लगी, बादल गरजने लगे.

लड़कियों की एक्स एक्स एक्स

उन्होंने मुझे कुछ गालियां भी दीं, पर अब मैं वहां तीन लोगों के सामने पूरी नंगी खड़ी थी. मैंने ये भी नोटिस किया कि सुदिति अब मुझे हाथ भी लगाने नहीं देती थी. देर से नींद खुलने की वजह से वो लेट हो गया और जल्दी से कपड़े पहन कर अपने घर चला गया.

अब मम्मी अगर वीक में चार बार चोदने का कहतीं, तो पापा एक बार ही चोदते थे. मैं फिर भी गिड़गिड़ाते हुए बोला- प्लीज ऑन्टी, मम्मी को कुछ मत बताना!यह कहते हुए मैं बाथरूम में गया और मुँह धोकर आया और उनके सामने सहम कर बैठ गया. उन्होंने मेरे निप्पलों को भी खूब रगड़ा, जिसके कारण मेरी दोनों चूचियां एकदम लाल पड़ गईं.

तो पॉल ने अपनी बीवी का दर्द कम करने के लिए उसकी चूत का दाना अपने मुँह में ले लिया. बहन लेट गई और मैं अपना लंड वंदना के मुँह में डालकर अन्दर बाहर करने लगा. मेरे नजदीक आते हुए पहले पॉल ने और फिर रीना ने हाथ मिलाए, पर मैंने ही नजदीकता बढ़ाने के हेतु दोनों को आलिंगन दिया.

एक बार मैं दिन मैं उनके घर पर गया, तो पता चला उनकी बेटी दो दिन के लिए अपने मामा के घर गई थी और चाचा ऑफिस गए थे. आपा- उम्म अबे साले कुत्ते धीरे चोद मादरचोद … कल के बदले आज ही बच्चों को सारे राज बताएगा क्या!मैं- अब पता चल ही जाने दो कि उनके मामू ने ही अपने बहन के पेट में अपना बीज़ डाला था.

मैं चिल्ला दी- आह मादरचोदो … अब क्या ऐसे ही नौचते रहोगे, दम नहीं है क्या भोसड़ी के … तुम्हारे लौड़े मर गए हैं क्या … साले चूसते ही रहोगे अब चुदाई भी कर लो.

मैं ऐसे ही गांड में लंड पेलूँगा साली रंडी की औलाद … कुतिया भैन की लौड़ी मेरी रखैल. मर्द फिल्म अमिताभ बच्चन कीइस दौरान हमारे रिश्ते की एनीवर्सरी, सोनी का बर्थडे और फिर से मेरा बर्थडे भी आया. लड़की और डॉग सेक्समोहिनी को ये सब पसंद आया और उसके मुँह से बरबस ही निकल गया- बड़ी ही बढ़िया जगह है, आपकी पसंद मुझे भी पसंद आई. उसको सोते देख मेरे लंड और गांड दोनों में आग लगी हुई थी कि साला ये क्या हो रहा है.

वो मेरे होंठों को चूसते हुए मेरे बूब्स को मसलते रहे और काफी देर तक अपने होंठों से मेरे निप्पलों और मम्मों को चाटते रहे.

जिनको क्लास के एक बच्चे को अपनी बारी के अनुसार छुट्टी के बाद समेटकर एक जगह रखना होता था. वो मेरे नानाजी के बिजनेस पार्टनर थे, उनका नाम नट्टू पटेल था।वे हमें देख के मुस्कुराये और बोले- हरी, तुम तो बड़े हो गये।उन्होंने मुझे उठा कर बहुत चूमा और बोले- मेरे बच्चे, मैं तुम्हारे लिए खिलौने और चोकलेट्स लाया हूं. अभी भी मेरी बुर में हल्का हल्का दर्द था, पर मुझे उससे ज़्यादा ख़ुशी थी.

शैली ईशा के साथ पीजी में रुक जाएगी क्योंकि उसका हॉस्टल खुला नहीं था … वो अभी 3 दिन बाद खुलना था. मैंने अंकित से पूछा- यार एक बात करने का मन है … तुम्हारी बहन आजकल कहां रहती है?उसने मेरी तरफ गुस्से से देखा और बोला- क्यों?मैंने कहा- अगर तू मेरी अपनी बहन से सैटिंग करा देता तो मज़ा आ जाता. यह सुनकर वह थोड़ा अवाक हुआ और बोला- तुम हो ही इतनी हॉट कि कोई बर्दाश्त नहीं कर सकता है.

டீன் ஏஜ் செஸ் தமிழ்

उसको पता था कि उसकी बीवी अभी मेरे ही कमरे में है, पर उसके चेहरे की ख़ुशी से मैं समझ गया कि अब ये दोनों ही चुदवाने की मस्ती में हैं. मैं कातिलाना स्माईल देते हुए बोली- दोस्त नहीं, वो जीजू थे तेरे!सनी हंसते हुए बोला- ना जाने कितने जीजू हैं मेरे!मैं बोली- तेरे लिए एक गिफ्ट है. जब वो दोनों मुझे देख रहे थे, तब मुझे अहसास हुआ कि मैंने ये क्या कर दिया.

मैं अपने मुँह से कुछ और थूक लंड पर छोड़ कर तेज गति से लंड नीता की गांड में डालने लगा था.

जब आप ऑफिस में रहते हो तब दिन में कुणाल आता और शालिनी को जम कर पेल कर जाता है.

बीच में मैं, रागिनी और रजनी थे तथा पीछे सासुजी एवं वसुंधरा भाभी थीं. सोचते सोचते उसका लंड खड़ा हो गया और उसने फिर से वही सब किया और लंड झाड़ कर थक कर सो गया. पंजाबी सेक्सी वीडियो लाइवमेरी दीदी जिज्ञासा इन्द्रेश अंकल के घर ना रुक कर अपने एनजीओ के काम से चली गयी.

मैं नीचे सरकते हुए उसके बूब्स को चूसने लगा, दूसरे हाथ से मैंने उसके निप्पलों को दबाना और मसलना भी शुरू कर दिया. मैंने झट से कहा- अरे आप रहने दीजिए, मैं खुद जाकर उनको बुला ले आता हूँ. उस दिन तो इतना ज्यादा कुछ नहीं हुआ, पर उसके बाद लड़कों की बदतमीजियां बढ़ती ही गईं.

अब वो बहुत ही ज्यादा उत्तेजित हो गई थीं और बार-बार अपने हाथ का दबाव मेरे लंड पर बढ़ा रही थीं. उसी समय मेरे मन में एक आईडिया आया कि क्यों ना रेखा को घर के काम में लगा लिया जाए.

हमारे रिश्ते को करीब डेढ़ साल होने वाला था, पिछले साल मेरे बर्थडे से लॉज या होटल में जाने का सिलसिला अभी भी जारी था.

यह इरोटिक लव स्टोरी एक ऐसी लड़की के साथ सेक्स की है जिसे मैं 20 साल पहले मिला था. फिर उन्होंने मेरी चड्डी पूरी तरह से निकाल कर फेंक दी और मैं पूरा नंगा उनके सामने पड़ा हुआ था. मैंने देखा कि वो एक कार में बैठी थी और अपनी मां के अन्दर से आने इन्तजार कर रही थी.

सेक्स व्हिडिओ प्लीज पर मैं कर भी क्या सकती थी … मेरी शर्म और हया का जो पर्दा था, वह मुझे रंडी बनने से रोक रहा था. मेरे 2-3 दोस्तों ने बताया कि उन्हें लगता है कि रश्मि मुझे पसंद करती है.

पहले मैंने उसे छोड़ा, फिर जैसे ही वो जाने लगी तो उसने कहा- अवी, यार वापसी जाना हो, तो छुट्टी खत्म होने से कुछ दिन पहले चलना … हम दोनों और मेरी सहेली ईशा चंडीगढ़ घूमेंगे. जब मेरी वाइफ सो जाया करती थी, तब मैं धीरे से उठ कर अपने रूम को लॉक करके उसके रूम में आ जाता. दिन तो ऑफिस में निकल जाता, पर शाम को घर आने पर घर उसे काटने को लगता.

देसी लड़की को

मैं ब्रा और पैंटी नहीं पहनती और घर पर मैं ज्यादातर स्कर्ट ही पहनती हूँ. इसी दौरान कभी हैंडल सही करने और कभी हॉर्न और इंडिकेटर बताने के लिए मैं अपने हाथ उसकी साइड से आगे ले जाता और उसकी चूचियों से मेरा हाथ टकरा जाता. मेरे लंड को अच्छे से अपनी जीभ से साफ़ करते हुए रीना ने बचा खुचा वीर्य खुद खा लिया और झट से पॉल को चूमने लगी.

मैंने इस सिचुएशन का फायदा उठाते हुए अपने लंड को उसके मुँह के पास ले आया लेकिन उसने लंड चूसने से मना कर दिया. उधर से रोहित भी मुझे यही कह कह कर उकसा रहा था कि साली तू मेरी रंडी है … मैं तुझे रंडी की तरह चोदूंगा … मैं तुझे क्या ….

मेरे हिलते हुए टट्टे पाटिल जी के टट्टों पर लग रहे थे और रेशमा की चूत बेहिसाब पानी बहा रही थी.

[emailprotected]लेखक की पिछली कहानी:भैया और पापा ने मुझे चोदकर प्रेग्नेंट किया. मैं जोर जोर से चूसने लगा और एक हाथ उसकी पैंटी में डालकर उसकी चूत सहलाने लगा।अब मैं नीचे की ओर बढ़ने लगा और एक ही झटके में उसकी पैंटी उतार दी, पिंकू मेरे सामने बिल्कुल नंगी थी।पिंकू उछलकर मेरे ऊपर आ गई और एक-एक करके मेरे सारे कपड़े उतार दिए जिससे कि मेरा लंबा और मोटा लंड आजाद हो गया।मेरा लंड देखकर पिंकू शर्मा गई और बोली- भैया, आपने तो अंदर खजाना छुपा के रखा है. मैं गर्म था इसलिए जोर-जोर से मुठ मारने लगा और कुछ देर बाद झड़ गया।पहले मेरे मन में पिंकू के लिए गंदे विचार नहीं थे लेकिन मैंने जब से पिंकू को बिना कपड़ों में देखा तभी से वह मेरे दिमाग में घूमने लगी.

मैं, अपनी व जिसके बारे में कहानी लिखी जा रही है, उसकी निजता भंग न हो, इसलिए ज्यादा कुछ उजागर नहीं करूंगा. उसके बाद आज तक मैंने इतनी सारी रातें कैसी गुजारी हैं, तुम्हें कैसे बताऊं?मैंने कहा- देखो अदिति, लॉकडाउन की वजह मैं और पिताजी छह महीने घर से ही काम कर रहे थे. फिर उसने मेरी जींस भी निकाल दी, जिससे मैं उसके सामने अंडरवियर में आ गया था.

कम से कम चालीस इंच की गांड थी साली की … और इसीलिए बुरका पहनती थी कि कहीं सड़क चलते आदमियों के लौड़े खड़े ना हो जाएं.

मुस्लिम के बीएफ: रेखा के साथ अपनी कहानी आपको सुनाने जा रहा हूं।मेरी मुलाकात सेक्सी डॉक्टर रेखा से तब हुई थी जब मैं अपने बेटे के इलाज के लिए उनके पास गया था।उनके पति भी एक डॉक्टर हैं और पुणे के एक बड़े हॉस्पिटल के डीन हैं।उनके पति हॉस्पिटल में ही रहते थे। रेखा के पास वो हफ्ते में एक दिन आते थे और वापस चले जाते थे।डॉ. वो मेरे सामने खड़ा था और मैं अपनी आंखें बंद करके चूत में उंगली करने में मस्त थी.

फिर मैंने उससे पूछा- ये बताओ तुम इतनी हसीन हो खूबसूरत हो, तुम्हारा कोई लड़का दोस्त बना कि नहीं?उसने मुझे बताया कि गांव में मेरी दोस्ती एक लड़के से थी और उसके बारे में मेरी मां को पता चल गया था, जिसके कारण ही उन्होंने मुझे यहां काम करने के लिए भेज दिया. वो मेरे ऊपर ही लेट गईं और हांफती हुई बोलीं- आंह जान, मेरा काम हो गया. मैं नीचे सरकते हुए उसके बूब्स को चूसने लगा, दूसरे हाथ से मैंने उसके निप्पलों को दबाना और मसलना भी शुरू कर दिया.

कहानी के पिछले भागदबी हुई वासना सुलग उठीमें अब तक आपने पढ़ लिया था कि मोहिनी अपने मम्मों का मजा अर्णव को दे रही थी और उसके सर को अपने मम्मों पर दबा रही थी.

मेरा साथ देती हुई रीना भी बोली- हां हूँ मैं रंडी, कुत्ते अब चोद मुझे इस मादरचोद गांडू के सामने … देख ले रंडी के बच्चे, कैसे तेरा बाप मेरी चूत फाड़ रहा है … तेरी मां की चूत गांडू साले. मैंने थोड़ा खुश हुआ लेकिन परेशान भी … क्योंकि साढ़े चार घंटे मुझे ड्राइव करना था और तब तक रात हो जानी थी. तभी अचानक से सब सामान्य हुआ तो देखा कि हम दोनों एक दूसरे से लिपटे हुए हैं.