बीएफ सेक्सी वीडियो कॉल

छवि स्रोत,वीडियो सेक्सी चाइनीस

तस्वीर का शीर्षक ,

സെക്സ് വീഡിയോ എച്ച് ഡി: बीएफ सेक्सी वीडियो कॉल, उसके हाथों ने मुझे रोकने की पूरी कोशिश की पर मैं कहां रुकने वाला था.

भोजपुरी सेक्सी बफ फिल्म

उसके हाथों ने मुझे रोकने की पूरी कोशिश की पर मैं कहां रुकने वाला था. सेक्सी फोटो फुल वीडियोभैया मुझे हमेशा किस करते रहते हैं … तो मुझे कुछ नहीं पता था कि मेरे साथ आगे क्या होने वाला है.

थोड़ी देर तक मामी हिली डुली नहीं तो मेरी हिम्मत बढ़ी और मैंने धीरे धीरे मामी की टांगें फैला दीं. बॉलीवुड की सेक्सी कहानीवो नींद में ही कुनमुनाती हुई बोली- सोने दो ना!मैंने उसको सहलाते हुए चाटना शुरू कर दिया.

दोस्तो, मैं नींद से जाग गया था और एक बार फिर से अपनी मां की चुदाई करने की तैयारी करने लगा था.बीएफ सेक्सी वीडियो कॉल: हम देख नहीं पाए कि जब गांड मराई चल रही थी तो हूं … हूं की आवाज से शेखर जाग गए थे.

दोपहर को सबने एकसाथ लंच किया और थोड़ी देर के लिए सब लोग आराम करने लगेमैं अर्चना को गोद में लेकर सोफे पर आराम करने लगा और अनु दीदी सुमंत महंत दोनों भाइयों को एक कमरे में लेकर समा गईं.दूसरी तरफ रूचिका आंटी- प्रभात डार्लिंग, आज आप मेरी गांड भी मार दो प्लीज.

सेक्सी ब्लू पिक्चर साडीवाली - बीएफ सेक्सी वीडियो कॉल

अब मैं गांड में लगा था और विक्रम संजू की चूत में लंड घुसेड़े हुए था.मैंने बोला- अरे उसकी दिक्कत नहीं है यार … मेरी वाईफ तो गांव गयी है.

मैंने इस बात की जानकारी की तो पता चला कि वो अपने किसी रिश्तेदार के यहां रह कर किसी कम्पटीशन की तैयारी करने के लिए पढ़ने आयी हैं. बीएफ सेक्सी वीडियो कॉल पिछली सेक्स कहानीमैं सम्भोग के लिए सेक्सी डॉल बन गईमें मैंने आपको बताया था कि कैसे नई साल के समारोह में कविता मेरी ओर बहुत आकर्षित हो गई थी.

रूचिका आंटी रिक्वेस्ट करती हुई बोलीं- बेटा प्लीज मैं मर जाऊंगी … थोड़ा धीरे धीरे पेलो न.

बीएफ सेक्सी वीडियो कॉल?

जानू, तुम्हारे ये पंछी आज़ाद तो हो जाएंगे, लेकिन इस शिकारी के हाथ उन पंछियों को दबोच लेंगे. मैंने सुरेश का बायां हाथ अपनी बेटी की जांघों के बीच में सरकता हुआ देखा. क्योंकि उसका पति सिर्फ उसकी चूत में दो मिनट लंड पेल कर माल निकाल कर सो जाता था.

लेकिन उसके अगले दिन हमने लॉज में जाकर अपनी पांचवी सालगिरह अपने तरीके से मनाई. मैं पीहू के पीछे खड़ा होकर हुक लगाने लगा तो मेरा खड़ा लंड उसकी गांड में टच होने लगा था. इस दौरान उसके हाथ मेरे लिंग को सहलाते रहे।मैंने उसको उल्टा लिटा कर उसकी पीठ, क़मर और नितंबों की शिलाओं को सहलाते हुए होंठों से बहुत प्यार किया।वो पलट गई और अपने चूचक को मेरे मुँह में दे दिया.

मेरी गुप्त फेंटेसी के बारे में किसी को नहीं पता था कि मैं बॉन्डेज सेक्स और मर्दों पर राज करने जैसे शौक भी रखती हूं. हम दोनों के लिप किस करते हुए, वह मेरे बूब्स चूसते हुए, अपनी जीभ मेरी चूत में डालते हुए, पीछे से मेरी गांड में अपनी जीभ डालते हुए अलग-अलग स्टाइल में उसने फोटो ली।मैंने अपने मोबाइल का फ्रंट कैमरा ऑन करके उसमें वीडियो रिकॉर्डिंग चालू कर दी और कैमरा विजय को दे दिया … वह तुरंत पलंग के साइड में जाकर मोबाइल इस तरह से रख दिया कि हम दोनों की पूरी चुदाई उसमें रिकॉर्ड हो सके और तुरंत पलंग पर वापस आ गया. उसने मेरे हाथ पैर के … और चूत के बाल निकाल कर मुझे एकदम चिकना कर दिया.

मैंने उसकी चूत को और गर्माने के लिए अपने बाएं हाथ की दो उंगलियां उसमें धीरे से सरका दीं. फिर उन्होंने मुझसे किसी मार्केट का पता पूछा कि कुछ किताबें लेनी हैं, क्या इस बाजार में मिल सकती हैं?मैंने बताते हुए कहा- हां उधर आपको किताबें मिल सकती हैं.

संजू के गदराए हुए चुचे जोर जोर से हिल रहे थे और संजू मस्ती से चिल्ला रही थी- आह … ओह … ओय मम्मी धीरे से … ओह विक्रम!उन दोनों की चुदाई का हरेक शॉट इतना जबरदस्त था कि संजू की गांड और मांसल जांघें भी पूरी तरह से हिलोरे खा रही थीं.

उसी समय मैंने एक बार जोर से आहह … भरी और मेरी चूत ने फच्छ फच्छ करके झड़ना शुरू कर दिया.

मैंने ममता के होंठों‌ से चूमना शुरू किया था … मगर धीरे धीरे उनकी भरी हुई चूचियों पर से चूमते चाटते मैं अब उनकी चुत पर आ गया. जहां तक भाभी की चुदाई का सवाल है तो मैं अपनी दूर तक की रिश्तेदारी में भी भाभी को चोदने का मौका नहीं छोड़ता. शायरा अब भी वहीं खड़ी रही और चुपके चुपके मुझे देखती रही … पर मैंने उस पर ध्यान नहीं दिया और चुपचाप घर से बाहर आ गया.

मनोज से मैं तुम्हारे सामने ही बात करूंगी कि वो शादी करना चाहता है या नहीं. लेकिन धीरू अंकल ने कहा कि गांड में तो बिना कंडोम के ही करूंगा क्योंकि बिना कंडोम के साधा मजा आता है. मैं भी तुम्हें छोड़कर कहीं नहीं जाने वाला!उसने अजीत को फोन कर मटन लाने को बोल दिया.

अब मैं उसकी ख़ूबसूरती को निहारने लगा और मेरी निगाहें उसकी चौंतीस साइज के मम्मों पर टिकी हुई थीं जो ऊपर से दिख भी रहे थे.

मेरी सांसें तेज होने लगीं और मैं और तेज कदमों के साथ शैली की तरफ बढ़ने लगा. सुमंत के साथ रंजू चिपक कर बैठ गई थी और वो रंजू की नंगी चूचियों से खिलवाड़ कर रहा था. फिर मैंने उसके टॉप के ऊपर से ही उसके चुचों पर मुँह लगा दिया और हाथ से उसकी जांघों को सहलाने लगा.

सनी का लौड़ा लेकर मेरी गांड पूरी खुल चुकी थी और उसका माल अभी भी मेरी गांड में भरा हुआ था इसलिए रवि के लंड से चुदते हुए अब मेरी गांड से पच … पच की आवाज आ रही थी. काम ज्यादा होने और छुट्टी ना मिलने के कारण भैया, भाभी की डिलीवरी करवाने ना आ सके. सरदार ने एक पटियाला पैग बना कर मेरे हाथ में थमा दिया और बोला- लीजिए सर, आपके लिए स्पेशल वाला.

उसकी सीत्कार मुझमें जोश भर रही थीं और मैं पूरी तेजी से धक्के लगाने लगा.

यह मेरी गर्लफ्रेंड की पहली चुदाई की कहानी है जिसको मैंने दिल से लिखा है. दूसरी तरफ रूचिका आंटी- प्रभात डार्लिंग, आज आप मेरी गांड भी मार दो प्लीज.

बीएफ सेक्सी वीडियो कॉल उसका लंड बहुत गर्म था जो मुझे चूतड़ों पर अलग से महसूस भी हो रहा था. मुझे इस मैसेज को पढ़ कर एकदम से गुस्सा आया और दिमाग में चलने के साथ ही मैं बुदबुदाने लगा कि इस भोसड़ीवाले का अलग रंडी रोना है.

बीएफ सेक्सी वीडियो कॉल वो हंस कर बोलीं- नहाने भी नहीं दोगे क्या?मैंने कहा- साथ में नहाते हैं न. तो दोस्तो, इस बार आपको सेक्स कहानी में कैसा लगा … प्लीज़ मेल करना न भूलिएगा.

सुबह 10 बजे से मैं शाम 5 बजे तक किसी रांड की तरह तीन जवान लौंडों से अपनी गांड और बुर चुदवा कर घर आ गयी.

नया सेक्स फोटो

उस दिन एक अंकल जी तो मेरे पीछे ही पड़ गए और मुझे उन्हें बाथरूम में ले जाकर उनको अपना लंड दिखाना पड़ा तब जाकर वो समझ पाए थे कि मैं एक गांडू लौंडा हूँ. नंगी चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरी गर्लफ्रेंड की सहेली अपनी चुदाई के लिए मारी जा रही थी. वो अब लिंग को योनि में समा लेना चाहती थी।ये तैयार क्यों नहीं हो रहा है?” वो लिंग को योनि पर रगड़ती हुई कामुक आवाज में बोली।मैंने उसे मुखमैथुन करने को बोला.

खैर … शायरा तो शायद आज भी घर पर ही रहने वाली थी, मगर मैं कॉलेज आ गया. उसके बालों से हाथ घुमाकर मैंने उसके गाल पर किस किया और उसे सोने दिया. फिर मैंने भी उनके होंठ पर काट लिया जिससे उनकी भी हल्की सी चीख निकल गयी।अब उन्होंने मेरी साड़ी पीछे से उठानी शुरू कर दी और अब वो पैंटी के ऊपर से मेरी गांड सहला रहे थे.

अगर तुम्हारे अंदर भी इतना दम है तो टांग देना तुम भी उसको ऐसे ही।मैं अपनी बीवी की बात सुनकर और हैरान हुआ मगर फिर वही नजारा याद आया और मैं फिर से उन दोनों की चुदाई देखने के लिए दौड़ा।सोनी की आँखें बंद थीं.

लेकिन फिर भी प्रियंका उसकी चूत में दे दना दन बिना रुके चूत में खीरा पेलती रही. जैसे ही लंड अन्दर जा रहा था तो स्लॉप स्लॉप स्लॉप फच फच की आवाज़ आ रही थी. विपिन अपनी पूरी ताकत से मुझे चोद रहा था और ‘हम्म … हम्म … हम्म …’ करते हुए मेरे दूध मसलता हुए मुझे चोदता जा रहा था.

दिव्या ने तो जैसे मेरी मुस्कराहट को पढ़ लिया था; तुरंत मुझे चिढ़ाते हुए बोली- लगता है मौसी का मैसेज है. कुछ देर बाद चाची जी फिर से कगार पर आ गईं और उनके साथ ही मेरा लंड भी झड़ने को हो गया. वैसे तो मेरी ताई की उम्र 43 वर्ष की है लेकिन कोई भी उसे देख चोदने के बारे में ना सोचे … ऐसा हो ही नहीं सकता.

मैं- क्या तुम्हारी उम्र इतनी है कि तुम्हारी लड़की ने प्लस टू पास कर रखा है?यामिना- सर, छोटी उम्र में शादी हो गई और 9 महीने में ही बेटी हो गई. स्नेहा- मुझसे झूठ मत बोलो, ये क्या है?उसने नेहा की चूची मींजते हुए कहा.

उसने मेरी लोअर को खींच दिया और मेरे अंडरवियर का तंबू उसके सामने था. वो दोनों बाबा मुझे चूतिया समझ रहे थे और इधर मैं उन्हें अपनी चूत गांड का आसामी समझ रही थी. उस रात मैं बस यही सोच-सोच कर परेशान हो गया था कि मैं संभोग के लिए कितना नीचे गिर गया था.

और कसम से मुझे नहीं मालूम कि कैसे बस यूं हो गया था कि जिधर चाहता, मुझे चूत मिल भी जाया करती थी.

भाई ने अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और मां ने अपनी चूत को मेरे मुँह पर रख कर रगड़ना शुरू कर दिया. मेरे काले नाग को उसने मुंह में भर लिया और उसको ऐसे प्यार करने लगी कि जैसे ये उसका मनपसंद लॉलीपोप हो. अब दूसरी बार नहीं!ज़ारा- अच्छा ये बात है? तो जाओ नहा लो!मैं- हां!ज़ारा- और सुनो रगड़-रगड़ के अच्छे से नहाना अकेले!ये सुनकर में हंसने लगा और बाथरूम में घुस गया.

गे स्टूडेंट वर्जिन गांड स्टोरी में पढ़ें कि कैसे एक दूकान वाले अंकल ने मेरे चिकने गोरे जिस्म से उत्तेजित होकर मुझे नंगा करके मेरी कुंवारी गांड मार ली. फिर उन्होंने गर्दन पर किस करना शुरू कर दिया जिससे मुझे कंट्रोल करना बहुत मुश्किल हो गया था.

मुझे पता था कि मेरी बुआ का लड़का कुछ दिनों के लिए किसी मीटिंग में यहां आ रहा है. करीब 4 बजे नींद में किसी औरत की कराहने और रोने जैसी आवाज मेरे कानों में पड़ी. उसने अपनी आंखें खोलीं और बोली- बहुत दिनों बाद मैं ऐसे किसी के सामने बिना कपड़ों के लेटी हूँ और तुम्हारे हाथों का जादू बहुत ही उत्तेजित करने वाला था.

चाइनीस पोर्न

चाय पीने के बाद बसन्त जी कहने लगे- राज! फ़िलहाल तो कोई जुगाड़ बन नहीं रहा है.

इस बार वो मेरी स्कूटी पर मुझसे बिल्कुल सट कर बैठी थी और अपनी चूचियां मेरी पीठ से बार बार रगड़ रही थी. अब मैं भी उसके लण्ड को खोजने लग गई और नेकर के ऊपर से उसके तने हुए लण्ड को पकड़ना चाह रही थी. अब मुझे मजा आने लगा क्योंकि अब मैं उसके हालात का सही तरीके से फायदा उठा सकती थी.

मैंने कहा- अब तक आपने जो भी किया, उसका मुझे कुछ भी लेना देना नहीं है, मगर आजके बाद आप पूरी तरह से मेरे प्रति सिन्सियर रहेंगे और वैसे ही मैं भी आपके साथ करूंगी. वो समझ गया और झट से कपड़े खोल कर सिर्फ चड्डी में बाथरूम में घुस गया. राजस्थानी सेक्सी वीडियो चुदाई वीडियोउसने हंस कर कहा- तो पंडित जी, अब इसका कोई उपाय तो बताओ!मैंने भी हंसते हुए कहा- उपाय तो है … लेकिन आप बुरा मान जाएंगी.

संजीव ही नहीं बल्कि दूसरे सारे लड़के और लड़कियां भी मेरी ओर ऐसे देख रहे थे जैसे कि मैं स्वर्ग से आई हुई कोई अप्सरा हूं. मेरी समझ में नहीं आ रहा था कि ये औरतें मर्द से मजा लेते समय उनका सर दाबते हुए न करने की क्यों कहती हैं.

फिर वो मेरे हाथ से मग लेकर मेरे लंड और जांघों पर गर्म पानी छोड़ने लगी. भाभी की दर्द भरी आवाज़ निकली- आअहहा अहहा मर गई … बहुत बड़ा है तुम्हारा. अब आगे की लंड चूसना की कहानी:पजामा उतारते ही उनका लंड सिर्फ लंड नहीं था, एक मूसल लंड था, वो बाहर आ गया.

धीरे धीरे मैंने उसकी क्लीवेज को चूमना शुरू किया और चूमते हुए मैं उसकी नाभि की तरफ बढ़ने लगा. मैं लोवर उतार कर बोला- ठीक है चाची, अब आप कहती हैं, तो क्रीम लगा ही दो. मेरे दोस्त ने मेरी बीवी को अपनी ओर खींचा और अपने बगल में नंगी ही सुला लिया.

मैंने कई बार अपनी मॉम को नंगी नहाते हुए देखा है और मैं रोज उनके नाम की मुठ मारता हूँ.

भाभी की चूत में मेरा पूरा लंड अंदर बाहर हो रहा था और पेट तक जाकर टकरा रहा था. ” ये कहते हुए वो किचन में चली गयी और दो प्लेटों में हम दोनों के लिए नाश्ता ले आई.

हम दोनों तरावट में डूब गए और दोनों के रसों का मिश्रण चूत में इकट्ठा हो गया. मैं- अब क्या बताऊं भाभी … किया तो सब कुछ था और हम अलग भी उसी ‘सब कुछ. मैंने थोड़ा सा आँटी के घुटनों को मोड़ा तो चूत का बीच का हिस्सा दिखाई देने लगा.

अब मैंने अपने धक्के तेज कर दिए थे और अगले पांच मिनट तक मैं उसकी बुर में घमासान मचाता रहा. एक बार फिर से सोनी ‘आह्ह … अंकल … आह्ह अंकल …’ करती हुी चिल्लाने लगी और उसके लंड को अपनी कोमल, छोटी सी चुदी हुई चूत में बर्दाश्त करने लगी. मैंने पूछा- क्या हुआ?यार मुँह में थोड़ा अजीब सा लग रहा है, नहीं ले पाऊंगी शायद अभी, अवि तुम्हें कोई दिक्कत तो नहीं है?”मैंने उसे बीच में टोका- पागल हो क्या यार … तुम्हारा ही है, जो मर्जी करो, जब मर्जी करो.

बीएफ सेक्सी वीडियो कॉल मैंने संचालन का काम दूसरे व्यक्ति को सौंपा और उसके पास आकर बैठ गया. उसकी आंखों से पानी निकल गया और उसने इतनी ज़ोर से हेलीमा की चूत काट ली कि उसकी भी बड़े ज़ोर से चीख निकल गई.

ब्लू फिल्म मद्रासी

सुरेश के कसे हुए लम्बे लम्बे आंड और काला तना हुआ लौड़ा देख कर मेरे बदन में भी झुरझुरी उठ गयी. सुरेश ने मेरी बेटी की कच्छी खींचकर निकाल दी थी और वो अब किसी भी वक्त मेरी बेटी की चूत में लंड डालने ही वाला था. फिर हमने बाथरूम में जाकर सफाई की और रागिनी ने भाभी को उनकी इच्छा के विरुद्ध उनके कमरे में भेज दिया.

अब ज्यादा देरी न करते हुए मैंने उसे बेड पर लेटाया और उसकी गांड के नीचे दो तकिये लगा दिए. उसने अपनी आंखें खोलकर एक बार तो मेरी तरफ देखा, फिर अगले ही पल अचानक उसने दोनों हाथों से धकेल कर मुझे अपने से अलग कर दिया. सेक्सी पिक्चर मूवी पिक्चरमेरा मुँह पूरी तरह से चूत के ऊपर था, जिसे मैं अब हिला भी नहीं पा रहा था.

पहली बार मेरी गांड के छेद में ऐसा कुछ गया तो मुझे हल्का सा दर्द हुआ और मेरे मुँह से आह निकल गई.

मैंने उससे कई बार बोला था, पर उसे लौड़ा मुँह में लेना अच्छा नहीं लगता था और गांड में लेने में उससे डर लगता था. उसके बारे में कभी बहुत अच्छे से आप सबको बताऊंगा, अभी बस इतना समझ लीजिए कि वो एक माल लौंडिया थी.

लेकिन उसने मेरी बात को नजरअंदाज कर दिया और मेरा लोअर खींच दिया, जिससे मेरे खड़े लंड को मानो आज़ादी सी मिल गयी और वो हवा में हिचकोले लेने लगा. मुझे तो उस से ही दर्द होता है, तुम्हारा लंड मैं कैसे लूंगी?मैंने कहा- भाभी आप टेंशन ना लो, मैं आपको दर्द भी नहीं होने दूँगा और मजे भी दूँगा।उन्होंने कहा- इसीलिए तो तुम्हारी पास आयी हूँ. चुत का वो नमकीन स्वाद और मादक गंध मुझे और भी ज्यादा जोश पर जोश दिए जा रही थी.

जब पहली बार मैंने उसको अपनी बिल्डिंग की छत पर देखा था, तो वो कपड़े धो रही थी.

और ऐसा कह कर मैंने उसके लौड़े को दोबारा से अपने मुंह में भर लिया और जोर-जोर से चूसने लग गई।उसका लौड़ा पूरा फूल चुका था. मैंने कहा- मैं ऐसी हरकत करके तुम्हारे मन में अपने लिए गलत भाव नहीं बनाना चाहता. अब मेरे देखने लायक कुछ भी नहीं बचा था मगर फिर भी मैं सुरेश का मुर्झाया हुआ लंड देखना चाहता था।कुछ देर बाद सुरेश का लंड जब मेरी बेटी की चूत से बाहर निकला तो ऐसे लग रहा था जैसे किसी कोबरा सांप की खाल छील दी गयी हो.

सेक्सी सेक्स इंडियनतुम भी चलो ना मेरे साथ हर्षद … तुम्हें भी मूतना है ना?”मैंने कहा- हां अदिति, मुझे भी मूतना है … लेकिन पहले तुम जाकर आओ. वे बहुत जोर जोर से मेरी गांड का छेद चाट रहे थे और अपने एक हाथ से मेरी चूत में उंगलियां डाल रहे थे.

वायरल एमएमएस

मैंने और विक्रम ने आश्चर्य से एक दूसरे को देखा और पूछा- लेकिन इसका क्या करोगी?पर संजू ने इसका कोई जवाब नहीं दिया. तो वो रुके और मुझे बोले- सॉरी बेटा, बहुत दिनों बाद किसी को अपना लंड चुसवा रहा हूँ तो रुका नहीं गया. अच्छा सुनो मैं आज शाम को 6 बजे घर आ जाऊंगा … तुम तैयार रहना मेरी जान … आज बहुत मज़े करेंगे.

मुझे ये बात मुंबई शहर पहुंच कर पता चली कि मुंबई को माया नगरी क्यों कहा जाता है. चूंकि हमारा कोई भाई नहीं था इसलिए मैं ही अपने परिवार की जिम्मेदारी का बोझ उठाना चाहती थी. मैंने ताई जी की दोनों टांगों को फैलाया और अपने सात इंच के लौड़े के सुपारे को उनकी चूत पर धीरे धीरे रगड़ने लगा.

मैं चुदाई का इतना शौकीन रहा हूं कि कभी कभी तो लगता है कि मैं प्लेबॉय बन जाऊं. मैंने जैसे ही चाची की गांड पर लंड का दबाव बढ़ाया, चाची जी मुस्कुरा कर रेडी हो गईं. मैंने कहा- तो फिर ये पर्दा किसलिये?मेरे टोकने पर उसने अपनी मैक्सी उतार दी.

परन्तु उनके चूचे इतने बड़े थे कि ब्रा पूरा टाईट हो रही थी।मैं अपना हाथ ब्रा के नीचे से उसमें डालने लगा।मेरा हाथ उनके ब्रा में चला तो गया परन्तु इतना टाईट हो गया कि मेरे हाथ में उनकी चूची पूरी दबी हुई थी।शायद इस दबाव की वजह से चाची ने आंखें खोल दी और मेरा हाथ पकड़ लिया. उसकी चूचियां, जो 40 साइज की ही थी इस कसी हुई टी-शर्ट में एकदम तनी हुई लग रही थीं.

डाक बंगला गांव से बाहर बना हुआ था जिसके आसपास के इलाके में काफी सुनसान सा पड़ा हुआ था.

इसके बाद वो भी जल्द ही झड़ गए और मेरी बगल में लेट गए।इस कहानी की ऑडियो रिकॉर्डिंग:https://www. हनीमून वीडियो सेक्सीनमस्कार प्रिय पाठकगण, मैं भगवान दास उर्फ़ भोगु, अपने कॉलेज प्रथम वर्ष के दौरान की एक और ब्रो सिस सेक्स कहानी को लेकर हाजिर हूँ. सेक्सी कार्टून जानवर वालीकुछ तो महसूस भी होना चाहिए।फिर मैंने धीरे धीरे झटके लगाने शुरू कर दिए और पूछा- अब कैसा लग रहा है भाभी?उन्होंने कहा- अब पहले से कुछ ठीक लग रहा है।फिर धीरे धीरे मैंने अपनी स्पीड तेज कर दी और उनके होंठों को चूसने लगा. मैंने अब आराम से खड़े होकर उसकी कमर पकड़ ली और अपना लंड के झटके पर झटके मारते हुए उसकी चुत को मजे से चोदने लगा.

वह सारा दूध तुम्हें सारा पी जाना है, जिससे तुम्हें अच्छी नींद आ जाएगी ओके.

मैं उन्हें कमरे में ले गया और उनको खड़ा करके उनकी पैंटी उतार कर पूरी नंगी कर दिया. बीच बीच में वो चिल्लाती … मगर अब उसकी मीठी सिसकारियां निकलने लगीं- आआ आह उन्ह आह आआह … ऊऊईई ऊफ़्फ़ मम्मीई ईईई!अब मैं जान गया कि इसे भी मजा आना शुरू हो गया है. भाभी मुझे सॉरी बोलने लगीं- आज प्लान किया था … लेकिन कुछ नहीं हो पाएगा.

लगभग दस मिनट चोदने के बाद विक्रम उसी अवस्था में संजू को गोद में लेकर खड़ा हो गया और संजू को बेतहाशा चोदने लगा. फिर घर में सारे दिन दोनों भाई आते जाते बार बार अनु दीदी को सहलाने और स्पर्श करने की कोशिश कर रहे थे. इससे पहले मैं आगे बढूं, एक बार मैं उन सभी का धन्यवाद करूंगा जिन्होंने मेरी पिछली सेक्स कहानीचाची को करवाई लंड की सवारीको बहुत पसंद किया और कमेंट्स के जरिए भारी प्यार दिया.

hello वीडियो डाउनलोड

मैंने दोनों कपड़े उतार दिए और मैं बनियान अंडरवियर में आ गया।आंटी मेरे तने हुए लौड़े को देख रही थी. उसकी आवाजें इस बात का प्रमाण थीं कि वह अब खुश है और उसे मजा आ रहा है. आंटी ने कहा- अब सब कैसे होगा, मेरी तो कुछ समझ में ही नहीं आ रहा है.

आगे यामिना बोली- साहब, मेरा सपना है कि मेरी बेटी भी अपनी कंपनी की सफेद शर्ट और लाल स्कर्ट पहने.

हल्के गीले बाल, आंखों में काजल, प्यारे गुलाबी होंठ, उसमें से आती बहुत ही मनमोहक खुशबू और कंधों पर वही नई ब्रा की स्ट्रैप.

उसने फिर झट से मेरे लंड को बाहर निकाल लिया और उसको जोर जोर से हिलाने लगी. उसके गोल मटोल गदराए हुए मम्मे उसके ब्लाउज से थोड़े बाहर निकले हुए थे. रणवीर सेक्सीतभी उसकी चूत ने अपना फव्वारा छोड़ दिया और मेरे लन्ड को पूरा भिगाते हुए अंदर चूत में और चिकनाई बना दी, जिससे मेरा लौड़ा और तेजी से अंदर बाहर होने लगा।अब मेरा भी माल निकलने वाला था.

धीरे धीरे मेरे हाथ आँटी के सुडौल चिकने पटों (जांघ) पर पहुँच गए और पटों से होते हुए मैं उनके चूतड़ों को सहलाने लगा. फिर चाची जी की गांड पर थपकी मारकर मैंने उन्हें लंड पर बैठने का इशारा किया. मैंने अब आराम से खड़े होकर उसकी कमर पकड़ ली और अपना लंड के झटके पर झटके मारते हुए उसकी चुत को मजे से चोदने लगा.

वो सीट पर आगे हो कर बैठी थी और मैं नीचे उसके पैरों के बीच में बैठा था. पांच मिनट के बाद हम लोग उठकर बाथरूम में आ गए और बढ़िया शॉवर लेने लगे.

आप सब विश्वास नहीं करोगे, वो वाईन एक लीटर वाली थी और उसकी कीमत एक लाख दस हजार रूपए थी.

फिर देखिए किस्मत का खेल, जिस दिन रोहन को वापस जाना था, उसी दिन अशोक को वापिस आना था. तेरा पति घर पर नहीं है … इसकी वजह से मैंने तेरे ऊपर जबरदस्ती की, तो ये मेरी दोस्ती तौहीन होगी. दिल्ली शिफ्ट होने का उसका कारण यह था कि उसके भाई की दो 2 बेटियां थीं। हम उम्र ही थी.

सेक्सी व्हिडिओ फाईल मुझे पता था कि तुम नहीं जाने वाली … और मैं तुम्हें थोड़ी ही जाने देता. पर इतना पक्का था कि हम दोनों में से किसी ने कभी इसका इस्तेमाल नहीं किया था.

मैं तेजी से सिसकारने लगा और वो भी जोर जोर से आह्ह … आह्ह … साब जी … आपका लौड़ा … आह्ह … ओह्ह … क्या मजा दे रहा है … आह्ह … हाय. चुदाई के बाद मैंने उनको अपने हाथ से उनके कपड़े पहनाए, जिससे भाभी बड़ी ख़ुश हुईं. तभी नीता ने मेरे लंड अपने हाथ से दबाकर कहा- अब चलो जल्दी से नहाकर आओ, मैं तब तक चाय बनाती हूँ.

সেক্স অ্যাডাল্ট ভিডিও

मैं देखता रह गया, क्या दिख रही थी, शरीर का गोरा गोरा रंग, पैर तो पूरे खुले थे … एकदम आइटम दिख रही थी. होंठ रखते ही उसके मुँह से आह सी सी आह करके सिसकारियां निकलने लगीं और उसने मेरे सिर को अपनी जांघों के बीच में दबा लिया. कॉलर आईडी पर मैंने चेक किया तो पाया कि वह नम्बर किसी शगुफ्ता का था.

अब आगे वर्जिन पुसी Xxx कहानी:शैली को जैसे ही अहसास हुआ, वह जल्दी अपने कपड़े उठा कर बाथरूम की तरफ भागी और उसने अन्दर घुस कर दरवाजा बंद कर लिया. वो अपनी दीदू की ब्रा का हुक लगाते हुए बोली- लाओ मैं बंद करती हूं, अब बाबूलाल को जीजू इतना प्यार करेंगे, तो साईज दिन ब दिन तो बढ़ेगा ही.

30 बजे उसका फोन आया और उसने पूछा- कहां हो तुम?मैंने उससे बोला कि अभी ऑफिस में ही हूँ बस दस मिनट में निकलने वाला हूँ.

पता नहीं तू मेरा काम करेगी भी या नहीं!रूबी- अब बता तो सही!मैं- पहले तू मेरी कसम खा कि तू किसी को बताएगी नहीं. विक्रम पीठ के बल नीचे लेट गया, तो मेरे इशारे पर संजू विक्रम के लंड पर बैठ गई और अपनी चूत में लंड लेकर अपनी गांड को आगे पीछे करने लगी. उन्होंने मुझसे कहा- बड़ा अच्छा लग रहा है … तू थोड़ा और ऊपर तक मालिश कर.

दिखा दी ना अपनी औकात … आज साबित कर ही दिया कि सब मर्द एक जैसे होते हैं. उस दिन एक अंकल जी तो मेरे पीछे ही पड़ गए और मुझे उन्हें बाथरूम में ले जाकर उनको अपना लंड दिखाना पड़ा तब जाकर वो समझ पाए थे कि मैं एक गांडू लौंडा हूँ. मैं उसके बदन से लिपट गया और अपना लंड उसकी चूत पर लगाकर उसकी गर्दन और आस पास के एरिया में चूमने लगा.

लेखक की पिछली कहानी:जवान लड़की के दौरे का इलाजयह अन्तर्वासना मामी सेक्स स्टोरी तब की है जब इण्टरमीडिएट के इम्तिहान देकर दो महीने की छुट्टियां मनाने के लिए मैं अपनी ननिहाल गया.

बीएफ सेक्सी वीडियो कॉल: शामली मुझसे एकदम चिपक कर बैठी थी और पैंट के ऊपर से मेरे लंड से खेल रही थी. मैं भाभी से बोला- भाभी अब मेरे इस कुंवारे लंड का भोग लगाओ, अपने मुँह से इसे चूस लो.

डॉक्टर ने उन्हें मेरे बारे में बताया है और वो सब भी मेरा मजा लेना चाहते हैं. मैंने तभी सुरेश को फ़ोन पर बता दिया कि हम राजी हैं और वो हमें पचास हजार दे दे. शायरा को देखकर मैंने जानबूझकर एक दो बार सीढ़ियों से ऊपर नीचे आना जाना शुरू किया ताकि मुझे देखकर वो बोल ही ले.

ऊपर से पकड़ने में क्या हो रहा है तुझे?फिर मैंने उसके हाथ में लंड पकड़ा दिया और उसने अबकी बार हाथ नहीं हटाया.

पिछले काफी समय से पाठकों को कुछ नया देने का प्रयास कर रहा था किंतु निजी व्यस्तता के कारण कुछ भी लिखना संभव नहीं हो पा रहा था।मेरी पिछली कहानी थी:वो तोहफा प्यारा साअब कोरोना और लॉकडाउन ने इतना समय दे दिया कि मैं अपने पाठकों के लिए कुछ नया और रोमांचक प्रस्तुत कर सकूं. सटा सट सटा सट लंड फच्च फच्च फच्च करके लंड चुत में अन्दर बाहर हो रहा था. मैं शायरा के साथ इतने दिनों से रह रहा था और पता नहीं उसके साथ कैसे कैसे हंसी मजाक भी कर लेता था.