बीएफ 2017 की

छवि स्रोत,बिहार की चुदाई सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी पडा: बीएफ 2017 की, फिर मैंने उससे पूछा- दूध पीयोगी?पहले वह ना बोली, फिर अपने आप बोल दी- थोड़ा सा ले लूंगीवो किचन में जाने लगी तो मैंने कहा- आप रुको, मैं ला देता हूँ.

సెక్స్ తెలుగు లో దెన్గులాట

मैं सरक कर बेबी रानी की तरफ हो गया और फिर उसके चूतामृत का लुत्फ़ उठाया. भाग्यशालीसाथ ही उसके बूब्स भी दबाने लग गया। उस के बूब्स बहुत बड़े और काफी नर्म भी थे और मुझे बहुत मजा आ रहा था.

कुछ देर बाद वह बोल पड़ी- क्या हुआ? अब कुछ नहीं करना है क्या? वहां पर इतने सारे लोगों थे तो मुझे नंगी कर देना चाहते थे. सेक्सी नेपाली सेक्सी नेपालीमैंने भाभी को पलंग पर लिटाया और इस बार बिना उनके बिना कहे उनको ऊपर से चूमना शुरू किया.

मेरे घर पर मेरी माँ और एक छोटी बहन है। पिता जी कुछ साल पहले गुजर गए तो घर की जिम्मेदारी माँ और मुझ पर आ गई.बीएफ 2017 की: मैं अपनी चुत में संतोष जी का 8 इंच का मोटा लंड लेने की कल्पना करने लगी.

उसने मेरी दोनों टांगों को अपने कंधों पर रखा और मेरी गांड के नीचे एक तकिया लगा दिया.इसी बीच अनिता एक और बार झड़ गई और कहने लगी- अब मुझसे नहीं हो पायेगा!और शांत बैठ गई मेरे लंड पर!फिर मैंने हिम्मत जुटाई और उसे नीचे लेटा कर उसके ऊपर चढ़ गया और धीरे धीरे उसकी चूत चोदने लगा.

नाइट ड्रेस फॉर गर्ल्स - बीएफ 2017 की

मैं बोला- नाटक मत करो यार, कल रात को तो तुमने मेरा लंड आगे आकर चूसा था.उन दोनों एक दूसरे को देखा और करीब आ गए और फिर से एक दूसरे में सामने आकर एक दूसरे को चूमने लगे.

वो बोल पड़ी- भईया, प्लीज अपनी बहन की चूत में डालो और प्लीज आज जल्दी मत झड़ना. बीएफ 2017 की मैं- ठीक है भाई हंस ले … जिस दिन उसके साथ सेक्स करूँगा, तब मैं हसूंगा.

मेरे ढूँढने पर मुझे उसमें काजल की आज पहनी हुई पीले रंग की नेटवाली ब्रा और पैन्टी दोनों मिल गए.

बीएफ 2017 की?

अंकल मुस्कुराते हुए फिर से मुझे पूछने लगे- बताओ ना नीतू … बाल है क्या तुम्हारे नीचे?अंकल … कुछ भी … मुझे नहीं मालूम. भैया मार्किट के लिए निकल गए, तो मैं जल्दी से भाभी के रूम में आ गया, जहां भाभी उल्टी लेटी हुई थीं और मस्त लग रही थीं. मैंने कहा- ठीक है।अगले दिन मैं ब्लैक पैंट और नेवी ब्लू कलर की शर्ट पहन कर गया.

वो अपनी सीत्कारों को काबू करने की भरपूर कोशिश करते हुए बोलने का प्रयास कर रही थी. मुझको ऐसे ही नंगी पड़ी छोड़ कर उसके सोने के बाद मैं खुद उंगली या कैंडल अपनी चूत में डाल कर अपने आपको शांत करती हूं. क्योंकि मुझे नौकरानी से डर लग रहा था कि वो दिन में ही आ गयी, तो सब जान लेगी.

पहले पहले मैंने अपनी बेटी को एकदम स्लो स्लो चोदा क्योंकि उसकी पहली बार चुदाई हो रही थी. घोष के साथ तो मेरी जिन्दगी बर्बाद ही हो जाती।कुछ देर बाद मैंने उसे फिर से अपने ऊपर आने को कहा. फिर वे मुझसे बोले- नम्रता एक बात बताओ, जैसे मैं तुम्हारी गांड और चूत चाटकर तुम्हें मजा दे रहा हूं, क्या तुम वैसे ही मेरे लंड को चूसते हुए मेरी गांड भी चाटोगी.

मैंने भी मौके का फायदा उठाया और बायीं कोहनी मंजू के बूब्स पर टिका दी. लेकिन मैंने उसे मना कर दिया और उसको अपने बदन से चिपका कर सो गया।मैं 12 बजे उठा तो वो कमरे में नहीं थी। मैं हॉल में आया। किचन में देखा तो वो खाना बना रही थी। मैं हॉल बैठ कर टीवी देखने लगा।कुछ देर में वो खाना लेकर आयी। उसने ऊपर सिर्फ पीली कलर की ब्रा पहन रखी थी.

मैं सुहानी चौधरी … मेरी इस कहानी के पिछले भागमेरी सहेली की चुदाई की तलब-1में आपने पढ़ा कि मेरी सहेली अपनी कामवासना यानि चुदास से बेचैन थी, वो एक लड़के से अपनी चूत चुदवाने जाने वाली थी तो मुझे भी अपने साथ ले गयी.

अंकल जी ने मुझे देखा और अपने होंठों से मुझे चूमने का इशारा कियामैंने भी वैसे ही अपने होंठों से हवा को चूमा और सिर झुका लिया.

वो बोली- अर्पित मुझे बारिश देखना बहुत अच्छा लगता है, देखो आज बादल भी धरती पे ऐसे बरस रहा है, जैसे ये दोनों एक दूसरे से मिलने के लिए जन्मों के प्यासे हों, जैसे हम तुम. जरा सोचो … नितिन का परचेज़ मैनेजर बनने का ये एक मौका है … वो नहीं बनेगा, तो उसका कोई कलीग मैनेजर बन जायेगा … बाद मैं ऐसा मौका कब मिलेगा पता नहीं. कुछ देर बाद बाद जब दर्द कम हुआ तो अनिल भैया ने मुझे घूमने को कहा … ताकि वे देख सकें कि हुआ क्या था.

तब उन्होंने मुझे एक धक्का दिया और साइड करके बोला- अभी नहीं … रात में. मैं मन ही मन सोचती किस गांडू से शादी हो गयी मेरी?”इस तरह एक साल गुजर गया. बाप-बेटी की वासना से सराबोर इस सेक्स कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा था कि कैसे रमेश ने रिया की गांड को चोदने में कोई कसर नहीं छोड़ी.

जब कुछ देर भैया को मेरे ऊपर लेट कर चुदाई करते हुए हो गई तो उसके बाद उन्होंने मुझे उठने के लिए कहा.

अब आगे:जब हम बाथरूम में चुम्मा चाटी कर रहे थे, अचानक से आवाज़ सुन के हम लोग वापस अपनी खाट पे आके सो गए. भावावेश में मैंने वसुन्धरा के हाथों से अपना हाथ छुड़ा कर उसको अपने आलिंगन में ले लिया और वसुन्धरा भी बेल की तरह मुझमें सिमट गयी. वो नशा ही इतना मज़ेदार था कि उस वक्त प्राण भी निकल जाए तो मरने का अफसोस न हो.

अंकल जी वहीं पेड़ की ओट में खड़े मेरा इंतज़ार करते मिले; मैं उनके पास जाकर सिर झुका कर खड़ी हो गयी. उसने मेरे बाल पकड़े और खींच कर मेरा मुंह चूत से लगा दिया- ले भोसड़ी के … ज़ोर से अमृत छोड़ना है … पी कुत्ते पी …तुरंत ही धक्कों में ब्रेक लग गया. अब मैं भी देखने लगा था क्योंकि मैं पहली बार इतनी नजदीक से और इतने मस्त बूब्स देख रहा था.

मेरे रहने से तुम दोनों पर कोई शक भी नहीं करेगा और तुम सेफ भी रहोगी.

फिर उसने मेरे बाल पकड़ कर मुझे उठाया और मेरे चेहरे को चाटने लगा और किस करने लगा. मुझमें ज्यादा हिम्मत तो नहीं थी कि मैं बेझिझक होकर मोनी के बदन के साथ अपनी हसरतें पूरी कर सकूं मगर मेरी वासना मुझे बार-बार मुझे उसके बदन को छूने के लिए उकसा रही थी.

बीएफ 2017 की नम्रता- वो तो जब कहोगे, मैं तुम्हें गर्म कर दूंगी, लेकिन मुझे भूख भी लग रही है और आज के दिन के लिये मैंने तुम्हारे लिये स्पेशल चीज भी बनाई है. वो बहुत जोर जोर से मेरे चुचे दबा रहा था मुझे दर्द भी हो रहा था और मजा भी आ रहा था.

बीएफ 2017 की मैंने हैल्लो किया तो वो बोला- कहां चली गई थी तुम?बहाना बनाते हुए मैंने कहा- बाथरूम में चली गई थी. इतना क्यों इतराती है बहनचोद?तभी मैंने देखा कि सतीश ने अपना लौड़ा मुस्कान की चूत से निकाल दिया था और उसकी जगह मोनू ने अपना लंड मुस्कान की गीली चूत में डाल दिया और वो मुस्कान को चोदने लगा.

थोड़ी देर बाद मेरा दर्द मजे में बदल गया और मैं खुल कर ‘उँह आआह आआह आ आआह.

बिहारी लड़की की ब्लू फिल्म

नम्रता बोली- जान मैं इस सुख को पाने के लिये पूरी जिंदगी तुम्हारे साथ नंगी जंगल में भी रह सकती हूं. बातों बातों में मैंने भाभी को बोला- भाभी बड़ा मन हो रहा है … क्या चाय मिल सकती है?वो बड़ी कामुक नज़रों से मुझे देख कर बोलीं कि सिर्फ चाय का मन है या कुछ और भी चाहिए. मेरे एक रिश्तेदार के घर एक हफ्ते के बाद शादी पड़ी थी, जिसका कार्ड कल घर में आया था और उनकी तरफ से पूरी फैमिली को उसमें शामिल होने के लिये खास तौर पर मुझे फोन किया था.

चाची गर्मागर्म सिसकारियां भरने लगीं ‘उहह आहह इसस्स्सस्स …’पूरा कमरा उनकी मादक आवाजों से भर गया था. काजल का हाथ पैन्ट पर महसूस होते ही मेरा लंड ताव में आ गया और विकराल रूप में आने लगा. तुम फ्रेश होकर चुत को अन्दर से ठीक से साफ़ करना … बाकी बाद में मैं तेरी झांट के सब बाल निकाल दूंगा.

मैंने उसकी तरफ प्रश्नवाचक दृष्टि से देखा तो उसने मेरे गाल को पकड़ा और अपने मुंह की तरफ लाकर बोली- गोलू (मेरा घर का नाम) … मेरी चूत से कुछ निकल रहा है, वहां पर अपनी जीभ मत चला.

उसी वजह से दीपाली तड़प उठी और उसकी चीख निकल गई- आआह … अम्म्म्म्माआआ … मर ग्ग्गईइ रेए. अब इस बार बिल्कुल भी दर्द नहीं होगा, जो है वो भी जाता रहेगा और आज इतना मजा आएगा पूछ मत. अपने कमेंट्स में अपनी राय छोड़ें और इसके साथ ही आप मुझे मेरी ईमेल पर भी मैसेज कर सकते हैं.

तीन चार मिनट चलने के बाद हम लोग घने पेड़ों और झाड़ियों के बीच जा पहुंचे. उसके मम्मों की मालिश करने के दौरान ही मेरे अन्दर काफी सेक्स करने की उत्तेजना बढ़ने लगी थी. साली!! तेरी चूचियां तो केवल जोर से मरोड़ने के लिए बनी हैं!” रवि बॉस बोला और अगले 7-8 मिनट उसने बड़ी बेदर्दी से मेरे दूध की निप्पल्स को मरोड़-मरोड़ के भर्ता बना दिया.

मैंने धीरे-धीरे करके दोनों उंगली पूरी की पूरी उसकी बुर में घुसा दीं और फिर दोनों उंगलियों को चौड़ी कर लिया और उसकी बुर में चलाने लगा. उसने एक बार कहा भी- वाह … मेरी दुल्हन ने आज तो बड़ी ही स्वादिस्ट चूत परोसी है.

वो रोने लगी- अंकल मैं क्या करूँ मुझे बहुत दर्द हो रहा है … ऐसा लग रहा है आपका लंड नहीं, चाकू अन्दर गया है. उन्हीं दिनों गाँव में एक शादी थी, तो दादा दादी को 10-12 दिनों के लिए गाँव जाना था. उसके सोने के बाद मेरा मन था तुमको बुलाने का, पर डर था वो जग जाता, तो जो आज मजा मिला, वो भी नहीं मिलता.

बाकी दिनों में तो जब मैं घर में जब थकी हुई आती थी तो पति ठुकाई कर देते थे और मेरी सारी थकान उतर जाती थी.

वो इतने मदमस्त तरीके से मेरी गांड को चाट रहा था, जैसे कोई कुत्ता चाट रहा हो … उफफ्फ. ”अंकल अपनी पहली चढ़ाई कर चुके थे, उन्होंने मेरी कमर को पकड़ के मुझे बेड के किनारे के एकदम करीब खींचा और मेरी चुत में किस की बारिश शुरू कर दी. मतलब बन्दी मेरे बारे में सब जानती है!दोस्तो, जब कभी भी चिकन या मटन बनता था तो मैं मामा की बोतल से एक पैग निकाल लेता था और सबकी नज़र बचाकर जल्दी से खाना खाने से पहले पी लेता था।मैं शुभ्रा की तरफ देखता ही रहा.

पापा ने मम्मी के ब्लाउज को निकाल दिया और उनके पेटीकोट को ऊपर कर दिया. मैंने दीपिका से पूछा- तुम संजना को लेकर मेरे बेडरूम में बैठी थी?दीपिका- राज, दरअसल, आप और आपके रूम में से मुझे एक मर्दानेपन की खुशबू आती है, बहुत ही सेक्सी गंध है, आपकी बॉडी स्मेल बहुत ही सेक्सी है, इसलिये जब आप टूर पर गए थे तो मैंने आपकी अलमारी खोली थी.

ऐसा करने पर मुझे भी यह खेल खेलने में मजा आएगा और रकुल भी शायद इस नई सरप्राइज़ को खुल कर जी पाये और शायद गर्व करे कि वो इतनी खूबसूरत है कि कोई उस पर इस तरह से लट्टू हो गया है. उसने भी अपनी चूत को मेरे लंड के साथ कदम से से कदम मिलाकर उठाना गिराना शुरू कर दिया. तभी शुभ्रा धीरे से बोली- भोसड़ी के! जो कहा था वो किया कि नहीं?मैंने हाथ से इशारा करके बताया इंतजाम हो गया है और शीशी भी दिखा दी।शीशी देखकर शुभ्रा बोली- मैं मम्मी के सामने कैसे लूंगी?मैंने प्लान बताते हुए उसे स्टील का गिलास लाने को बोला.

साउथ बीएफ साउथ

भाभी ने मेरी तरफ वासना भरी निगाहों से देखा और मेरी तरफ अपने रसीले होंठ बढ़ा दिए.

उधर मैं उसके आने की सोच में डूबी थी और इधर अभी हम दोनों चुदाई में मस्त थे और अभी तक हम दोनों का पानी सिर्फ दो बार ही निकला था. कभी मेरी चूत को होंठों से चूमने लगे और कभी जीभ अंदर देकर उसको चूसने चाटने लगते. अब मैं सुहागरात के दिन हुई अपनी बातें बता रही हूँ जो मेरे पति के साथ हुईं.

जब वो तौलिया ले के पास आया, तो मैंने देखा कि उसका लंड पूरा टाइट हो चुका था. बस हुबहू वैसा ही गोरा, मोटा, लम्बा और मजबूत लंड अपने सामने देख कर सबसे पहले तो मुँह में लेकर लॉलीपॉप की तरह थोड़ा सा चूसा. सेक्सी मूवी हँडशर्मा सर ने बड़े आराम से मेरा नग्न शरीर को बेड पर लिटाया और तेजी से मेरी जांघों के बीच बैठ गए.

वो मेरे मुंह पर बैठ गई, मैं चाची की चूत चाट रहा था और कंचन मेरा लंड।फिर मैंने वीडियो में देखी हुई वाटरफॉल पोजीशन ट्राय की जिसमें मेरे पैर बेड पर और सर जमीन पर … मेरे लंड पर कंचन बैठ गई और चाची ने मुंह से अपनी चुत चटाई। इस पोजीशन में हम करीब 15 मिनट तक थे। फिर हमने नई पोज़ बनाई जिसमें कंचन की चूत में लंड डाल कर वो मेरी गोद में बैठ गई। और चाची ने उसकी चुत चटाई की. तू भी तब तक तैयार हो जा।बस इतना सुनना था कि शुभ्रा झट से उठी और उसने मेरे होंठों से होंठ चिपका लिये और मेरे होंठों को कस-कस कर चूसने लगी और साथ ही मेरे लंड को अपनी हथेली के बीच फंसाकर भींचने लगी.

तो वो बोला- काफी टाइम से कुछ हलचल हुई नहीं है इसीलिए ये मुरझा गया है … पर तुम सहलाओ और चूसो तो ये अभी खड़ा हो जाएगा. बस अब यही पल था कि मैंने शुभ्रा की पुतिया पर अपनी जीभ फिराना शुरू कर दिया था। हम्म! जैसे ही जीभ उसकी पुतिया में टच हुई कि एक कसैला सा स्वाद मेरी जीभ को लगा. मगर ऐसा करने से रकुल के लिए उत्तेजना और सरप्राइज़ का मजा खत्म हो जायेगा.

चाची ने हंसते हुए कहा- तूने सच में आज तक किसी को नहीं चोदा है?मैंने कहा- आज लंड की ओपनिंग सेरेमनी है संगीता रानी. मैं और माणिक, हम दोनों जब भी घर में अकेले रहते थे तो हम एक दूसरे से खूब बातें करते थे. मैं- किससे … दोस्त से या सेक्स से या मुझसे!मीता- दोस्त से … मुझे उस पर विश्वास नहीं हो रहा है.

मुझे तो बहुत मजा आ रहा था और उन्हें भी आनन्द आ रहा था ऐसा मुझे लगा.

मेरा रंग एकदम से गोरा है और मेरे गोरे बदन को देख कर हर कोई मेरा दीवाना सा हो जाता है. फिर मैंने उसकी कमर के नीचे एक तकिया रखा, जिससे उसकी बुर जरा ऊपर को उठ गई.

आप लोगों के मेरी चाची के मेरी ये मदहोश कर देने वाली चुदाई की कहानी पढ़कर कैसा लगा मुझे इसके बारे में अपने विचार जरूर बतायें. दस मिनट की चुदाई के बाद भाभी मेरे ऊपर आ गई, चूत में लंड खुरस कर बोलीं- देख साले … कैसे चुदाई करते हैं … चूत कैसे चोदते हैं, तू देख भोसड़ी के. लेकिन अब मैं केवल राज से प्यार करती हूं और मेरे मन में तुम्हारे प्रति कोई गलत विचार नहीं है।इस पर मैंने भाभी को बोला कि आप जैसी ईमानदार लड़की को भाभी के रूप में पाकर मुझे खुशी हुई। जितना हमारे बीच होटल के कमरे में हुआ था कोई उसके बाद भी संभल जाए ये बड़ी बात है।आज के बाद हम भाभी-देवर की तरह ही रहेंगे और बाकी हमारे बीच पुराना जो भी था उसे भूल जाएंगे.

तुमको कभी भी किसी भी बात का डर नहीं रहेगा … और मैं तुमको कभी नुकसान भी नहीं पहुंचाऊंगा. मेरी सहेली ने बताया कि उसका पति सुबह 8-8:30 के बीच निकल जाएगा और शाम को देर से ही वापस आएगा. मेरे तीनों छेद उन दोनों ने कैसे ठोक कर मुझे मजा दिया?हैलो फ्रेंड्स! आप लोगों ने मेरी पिछली कार सेक्स पोर्न स्टोरी के दो भागसहेली के ब्वॉयफ्रेंड से चलती कार में चुदाईको इतना प्यार दिया इसके लिए धन्यवाद.

बीएफ 2017 की अब वो मेरे लंड को पकड़ नहीं रही थी और मैं बार बार उसके हाथ में लंड को पकड़ा रहा था. मेरे सर को पकड़ा और अपने संतरे जैसी चूची पर ले जाकर टिका दिया। चिरौंजी जैसे निप्पल के दाने पर मैं अपनी जीभ चलाने लगा और अपने होंठों के बीच फंसाकर उसको पीने लगा.

सेक्सी ब्लू टू हिंदी

इससे पहले के भागछोटी बहन ने मस्तराम कहानी पढ़ते पकड़ लिया-1में आपने पढ़ा कि मामा के घर ममेरी छोटी बहन शुभ्रा के साथ मेरा रोज झगड़ा होता था. लेकिन …मैं- लेकिन-वेकिन कुछ नहीं! अगर खेलना है तो पूरा खेलो, नहीं तो रहने दो. मैं गांड उठाते हुए बोली- हाँ मेरे राजा तेरे लंड के बाद अब मुझे और कोई लंड भाएगा भी नहीं.

व्हाट दा फ़क … मेरा मन कह रहा था कि भाभी पूरी की पूरी नंगी खड़ी है मेरे सामने. मौका पाते ही वो लंड को छोड़ कर खड़ी हुई और मेरे होंठों को ज़ोर से चूमकर बोली- प्लीज़ अब जाने दो. नींद में सेक्सी फिल्मउसके बाद मैंने साना को नीचे लेटा दिया और उसकी चूत पर लंड को रख कर रगड़ने लगा.

काली ब्रा के ऊपर से मैं उसके दोनों मम्मों को ज़ोर ज़ोर से मसलने लगा.

नितिन ने नखरे दिखाते हुए कहा कि यदि आपकी मम्मी को पता चलेगा, तो मेरी तो शामत आ जाएगी. मैंने उनका गाउन उतार दिया और भाभी मेरे सामने ब्रा और पैंटी में आ गई थीं.

आज मुझे उसका मूड कुछ अलग सा लगा क्योंकि आज उसने ही एडल्ट जोक सुनाने की शुरुआत की थी, जोकि पहली बार हुआ था. रात को करीब 11 बजे रितेश रीमा के कमरे में आ गया, उसने उसे काफ़ी आवाज़ दीं, पर वो नहीं उठी, तो रितेश समझ गया कि अब मीरा के पास जाने का समय हो गया है. जो कल तक किसी से नहीं मिली थी आज दो-दो लोगों से लंड खा रही थी।कुछ देर में ही सुमन तीसरी बार झड़ गई और उसके तुरंत बाद हरकेश भी उसकी गांड में ही झड़ गया.

कि यदि मैंने अपने पति को ऐसा बोला तो वो ना जाने मेरे बारे में क्या सोचेंगे.

उसकी गोरी नंगी जांघें देख कर मेरा मन फिर से उसकी चूत चोदने का करने लगा और मैंने जाकर उसके चूचों को दबोच लिया. मैं उनके मुड़े हुए घुटनों पर टंगा हुआ था और पंजों पर सर को एक तरफ करके लेट गया था. काजल की फिगर में उसके 34डी के तने हुए चूचे, बलखाती 32 की कमर और थिरकती हुई 34 साइज़ की गांड.

सेक्सी नंगी सीन चुदाईगली का मोड़ मुड़ते ही वह मेरे पास आई और साथ चलते हुए बोली- मुझे आपसे बात करनी है. एक तो रिया की गांड में नैचुरल मक्खन जैसा टेक्सचर था और अब खीर उसमें क़यामत ढहा रही थी।वो बोला- पता है तुम्हारी गांड लाखों में एक है.

ब्लू फिल्म हिंदी में एचडी वीडियो

उसने जाते हुए मुझे अलग बुलाया और मुझसे कहा- मेरे बेडरूम में मैंने सारा सामान रखा है, जिसकी तुम्हें जरूरत पड़ सकती है. भाभी ने मेरी लोअर के ऊपर से मेरे लंड को किस करते हुए मेरी ग्रे रंग की लोअर को पूरी गीली कर दिया. चूंकि मानसी मुझे एडल्ट चैट साइट पर मिली थी, तो हमारी ओपन सेक्स पर ही बात हुई और हम दोनों ने अपनी पहली ही सेक्स चैट में अपने आपको ठंडा कर लिया.

रिया- तुम्हारे थूक और मुठ ने भी डैडी।रिया चाट चाट कर पूरा लंड साफ कर गयी. मैं लज्जा से अपनी चूची और चूत को छुपा रही थी, लेकिन मेरी चूचियां बहुत बड़ी हैं, इसलिए वो मेरे लाख कोशिशों के बावजूद भी छुप नहीं पा रही थीं. मैंने भाभी को अपनी तरफ खींचा और उनके बोबे दबाते हुए उनको किस करने लगा.

थोड़ी देर बाद रेखा मेरे ऊपर से उतर गयी और फिर दोनों लोग हाफ करवट लेकर एक दूसरे से चिपककर सो गए. फिर मैंने उसकी चूत अच्छे से पानी से साफ की और वहीं पर अंगुली करने लगा. मैं- तो हम कल से एक ही ट्रेन पकड़ कर एक साथ आएंगे तो कैसा रहेगा?दीपाली- हां आईडिया अच्छा है.

मैंने नम्रता की जांघ पर हाथ फेरते हुए कहा, तो बदले में उसने मेरे लंड को अपनी मुट्ठी में कैद कर लिया. भाभी ने एक्टिंग शुरू कर दी- देवर जी, आज इन्होंने ज्यादा पी ली है क्या? चलो, इन्हें अन्दर रूम तक ले जाने में जरा मेरी मदद करो.

थोड़ी देर बाद उसने मेरे दोनों हाथ पकड़ लिए और मेरे शरीर के ऊपर आकर मुझे ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा.

मैं ये महसूस करते हुए और जोर से चीखने लगी कि रोहन को महसूस हो जाए कि उसकी माल चुद रही है. सेक्सी इमेजिंगयह कहते हुए उसने मेरा लौड़ा फिर से अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी. தமிழ் xxxxxबस उसका इतना कहना ही था कि मैंने आव देखा न ताव लंड को गांड में एक ही झटके में पेबस्त कर दिया. मैंने बोला- पिताजी आप क्यों रो रहे हैं?पिताजी बोले- नहीं हर्षद, ये ख़ुशी के आंसू हैं.

शर्मा सर ने बड़े आराम से मेरा नग्न शरीर को बेड पर लिटाया और तेजी से मेरी जांघों के बीच बैठ गए.

कुछ ही देर में उसका लंड मेरी चुत में था और वो ढंग से मेरी चुदाई करने लगा. ’ये कहते हुए उसने अपने हाथ से मेरे हाथ को पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया. नम्रता- हां मेरे राजा, मेरी गांड चूत सब तुम्हारी ही तो है, जो सूंघना चाहो सूंघ लो.

मेरी आंख खुली तो मैंने देखा कि साना मेरे लंड पर अपना हाथ फिरा रही थी. तुम जल्दी से अपने लंड को मेरी चुत में गाड़ दो और मेरी आग को बुझा दो. मैं भी हंसते हुए बोली- अच्छा … तो दीदी क्या मेरे पति के पास चली जाती.

बीएफ चला कर दिखाओ

उसने मेरा लंड चूत में डालने से पहले पूछा- सर कंडोम लगाना है क्या?मैंने उसकी नशीली आंखों में देखकर कहा- मुझे तो बिना किसी रूकावट के तुम्हें पाना है, तुम अगर मुझे बुरका (कंडोम) पहनाना चाहो, तो मेरे बैग में रखा है. फिर भाभी को सीढ़ी के किनारे में खड़ा करके भाभी की चुद में अपना लंड सैट किया और एक ही झटके में पूरा का पूरा लंड चूत में उतार दिया. ”अब चल भाई शाम के 6 बज गए, घर जाता हूँ, रात में मिलते हैं … ठीक 8 बजे ग्राउंड में बेडमिंटन खेलेंगे.

मैंने ये भी कहा कि मैं तो एक पल के लिए आपकी बात मान भी जाऊं लेकिन मेरी बीवी इस तरह से तैयार नहीं हो सकती है.

अचानक चाची ज़ोर से मेरे लंड को दबाती हुई बोलीं- राहुल और तेज़ कर …मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी.

मैं इस आवाज को सुनकर पहले तो डर गया और मैंने उसके शरीर से उतर कर अपने शरीर पर चादर को ओढ़ लिया. फिर मीरा ने रितेश से कहा कि जब से तुमने मुझे अपनी गोद में उठाया था, तब से ही मैंने ठान लिया था कि मैं तुमसे चुद कर ही रहूँगी. राजस्थान सेक्सी सेक्सी सेक्सीमैंने नम्रता को एक बार फिर पलंग पर बैठाया और उसके चूत के साथ खेलने लगा.

कहकर वो मुझे घूरते हुए रसोई में चली गयी, इधर मामी बड़बड़ाते हुए बोली- ये लड़की नहीं सुधरेगी।शुभ्रा गिलास लिये हुए वापिस आकर खाना खाने लगी और हल्के से अपना हाथ उसने मेरी जांघ पर फेर दिया. से बहुत मिन्नतें करने के बाद वह कुछ रूपये में एक बर्थ देने के लिए तैयार हुआ. धीरे-धीरे मैंने लंड को आगे पीछे करना शुरू किया और इस तरह मैंने पूरा लंड उसकी गांड में उतार दिया.

नम्रता आगे बोली- मुझे लगा कि एक बार अपनी मर्यादा तोड़कर अपने जिस्म की खुशी के लिये तुम्हारी बांहों में समा जाऊं और अपने जिस्म के एक-एक अंग का मजा लूँ. तब मुझे पीछे से फुसफुसाहट से मालूम चल जाता था कि लड़कियों के दिल में मेरे लिए क्या चल रहा है.

”और वहाँ यार का लौड़ा फ़नफना रहा था। गहराई में घुसने को तैयार- चल मालिनी, अब मैं तुझे पेलूँगा, आ जा मेरे लंड के नीचे.

मैंने इधर उधर देखा, तो मैं ये क्या देखती हूं कि संतोष जी छत के ऊपर वाले कमरे के बगल में मेरी पैंटी सूंघते हुए मुठ मार रहे थे. ये सब इतना अधिक कामुक था कि मैं लिखना भी चाहूँ, तो बयान नहीं कर सकती. फिर अचानक से उसने अपने दोनों पैर कुतिया की कमर पर लगा कर उसकी बुर को चोदना शुरू कर दिया.

राजस्थानी देसी भाभी का सेक्सी वीडियो थोड़ी देर मौसी का पेट सहलाने के बाद मैंने अपना हाथ नीचे की तरफ सरकाया, मौसी ने भी अपनी सांसें खींच कर पेट दबा लिया, जिससे मेरा हाथ आसानी से मौसी की चूत पर पहुंच गया. मुझे उनको तड़पाने में बहुत मजा आता था इसलिए मैं जान-बूझ कर इस तरह से अपने आप तैयार करती थी कि सबकी नजर मुझ पर जाये बिना रह ही न पाये.

मैंने पीछे मुड़ने की कोशिश की, लेकिन तेरे पति ने मुझे अपनी बांहों में जोर से जकड़ा हुआ था. जब भी किसी अधिकारी से उनको काम निकलवाना होता था, तो वे मुझे उसके सामने मुझे परोस देते थे. पर मैंने भाभी को थोड़ी दूर जाकर ही पकड़ लिया और भैया को वहीं पड़े दीवान पर लिटा दिया.

ब्लू चालू

संदीप खुशी ने इतनी बड़ी बात तुम्हारे लिए स्वीकार ली, तुमसे केवल औपचारिक मुलाकात के लिए स्वीकार ली. शुरुआत में तो उसे कुछ दर्द हुआ लेकिन अब वो मस्ती में अपनी गांड उठा कर मेरे लंड से चुदाई का मजा ले रही थी. अगले तीन चार साल पार्किंग की लाइट रिपेयर ही नहीं हुई … और वो रूम खाली ही पड़ा रहा.

पर मुझे कभी ऐसा लगा नहीं कि उसमें भी जवानी भर गई है … उसको भी लंड की जरूरत है. तब मुझे याद आया कि कल रात पिताजी ने माँ की चुत से इसी पसीने को चाटा था.

मैंने दीपिका से पूछा- तुम संजना को लेकर मेरे बेडरूम में बैठी थी?दीपिका- राज, दरअसल, आप और आपके रूम में से मुझे एक मर्दानेपन की खुशबू आती है, बहुत ही सेक्सी गंध है, आपकी बॉडी स्मेल बहुत ही सेक्सी है, इसलिये जब आप टूर पर गए थे तो मैंने आपकी अलमारी खोली थी.

फिर चाची को हमारे बारे में पता चला और किसी तरह चाची को मना कर उनकी भी चूत की प्यास बुझाई।अब आगे पढ़ें:शाम को चुदाई के बाद कंचन अपने घर पर चली गयी। फिर मुझे याद आया कि चाची से पैसे लेकर नेट का रिचार्ज कराना है ताकि मैं चाची और कंचन को दूसरे सैक्स वीडियो दिखा सकूँ. मेरा नम्बर कहां लगेगा?भाभी बोलीं- रात को तुम उन्हें ज्यादा दारू पिला देना और मैं तुम्हें नींद की गोली दूंगी, तो वो तुम उनकी दारू में मिला कर उन्हें पिला देना. अंकल मेरे पैरों के करीब बैठ गए और मेरी स्कर्ट ऊपर उठाने लगे और उसे एक जगह मेरी पेट पर इकठ्ठा किया.

इसी लिए दीपाली की चुत पर मुँह रख के बहुत जोर से चूसा और ढेर सारा थूक उसकी चुत पर मल दिया. दस मिनट तक चाची की चूत को चोदने के बाद मेरा लंड जब वीर्य उगलने के करीब पहुंचा तो मैंने लंड को बाहर निकालने का विचार किया. मैं धक्के ना मारते हुए नम्रता के ऊपर आ गया और उसके होंठों को चूसने लगा.

पीछे से उसके चूतड़ फैले हुए थे जिसके कारण उसका काला सा छेद बिल्कुल साफ दिखाई दे रहा था.

बीएफ 2017 की: मैंने अपने बैग के अन्दर छुपा रखा टैबलेट का पत्ता निकाला और उसमें से एक गोली निकाल कर खाकर सो गया. देर हो जाने हाइवे से दो तीन किलोमीटर दूर घर सुनसान रास्ता होने के कारण बहू ने मंजू को हमारे साथ ही चलने को बोला.

जब बाल कैंची से कटना बंद हो गए, तब मैंने उसकी चूत को रूई से पैक किया और रिमूवर को अच्छे तरह से लगाकर कुर्सी को एक किनारे हटा कर नम्रता को घुमा कर उसके कूल्हे को चितोरने लगा. आप लोगों के मेरी चाची के मेरी ये मदहोश कर देने वाली चुदाई की कहानी पढ़कर कैसा लगा मुझे इसके बारे में अपने विचार जरूर बतायें. मैंने दीपिका से पूछा- तुम संजना को लेकर मेरे बेडरूम में बैठी थी?दीपिका- राज, दरअसल, आप और आपके रूम में से मुझे एक मर्दानेपन की खुशबू आती है, बहुत ही सेक्सी गंध है, आपकी बॉडी स्मेल बहुत ही सेक्सी है, इसलिये जब आप टूर पर गए थे तो मैंने आपकी अलमारी खोली थी.

मैं- जब उसने पहली बार तुम्हारी चूची छुई थी, तो तुमको कैसा लगा था?मीता- बहुत अजीब सा लगा था … पर अच्छा भी लगा था.

बहुत ही मुलायम चूचियां थीं उसकी, मुझसे रहा ना गया, मैंने जोर से उसका एक दूध दबा दिया. लेकिन मैं सेक्स के लिए अपनी बेस्टफ्रेंड को चोट नहीं पहुंचाना चाहती थी. अंकल ने अपने हाथों से मेरा मुँह ढक लिया- श … नीतू … सारे मोहल्ले को पता चल जाएगा … थोड़ी देर सहन करो, फिर देखो कैसा मजा आता है.