जानवर सेक्स बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी बीएफ दे वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

xxx वीडियो besi: जानवर सेक्स बीएफ, यह मेरी पहली कहानी है, यह इंडियन सेक्स स्टोरी आपको पसंद आयी या नहीं, मुझे अपनी राय जरूर भेजें!मेरी ईमल आई डी है-[emailprotected].

भोजपुरी व्हिडिओ सेक्सी बीएफ

उसके बाद मैं उसके लंड पर थूक लगाती और फिर चूसती, पूरा गले तक ले लेती. चूत में लंड वीडियो बीएफमैं उसकी उभरी हुई गांड को दबाने लगा, मुझे ऐसा लग रहा था, शायद उसने पेंटी नहीं पहनी या फिर मधुर मिलन में कोई अड़चन ना आए तो उसने पहले ही उतार दी हो.

उन्होंने बोला- रूको… नहीं तो कपड़े खराब हो जाएंगे… अभी नीचे भी जाना है. बीएफ छोटे वालेमेरी माँ ने मुझसे कई बार पूछा भी कि आजकल तू इतना चुप चुप सा क्यों रहता है? किसी से झगड़ा हुआ है क्या? या फिर किसी ने तुझे कुछ कहा?मैंने माँ से कहा- नहीं माँ ऐसी कोई बात नहीं है, तुम परेशान मत हो, मैं बिल्कुल ठीक हूँ.

अब मुझे शर्म आ रही थी क्योंकि वो मुझे घूर रहा था।फिर उसने मेरी पेट की मसाज की.जानवर सेक्स बीएफ: मैं- क्यों? सब कुछ तो तुमने उतार दिया है?संजय- हां, पर मैं तुम्हें ऐसे देखना चाहता हूँ.

हम दोनों फिर से बेड पर आ गए और अगले दो घंटे तक धकापेल चुदाई करते रहे.[emailprotected]कहानी का अगला भाग :पड़ोसन का चोदन देख कामुकता जागी-2.

बीएफ सेक्सी साड़ी वाली वीडियो में - जानवर सेक्स बीएफ

इस तरह सेचाची के संग चुदाई की शुरूआत हुई, इसके बाद तो चाची की मालिश और चुदाई का काम रोज का हो गया था.इधर अपनी बहू मयूरी को देख देख कर वो अक्सर उसके नाम का मुठ मारा करता था.

फिर मैंने अपना थूक अपनी गांड के छेद पर लगाया, तो कमल ने फिर से ट्राइ किया. जानवर सेक्स बीएफ मैंने धीरे धीरे से धक्का मार कर पूरा लंड अन्दर कर दिया और चुपचाप कल्याणी के ऊपर लद गया.

मैं समझ गया कि जरूर कोई बात है इसलिए मैं उसके अंदर की बात जानने के लिए उसे जोर देते हुए बोला- लेकिन, लेकिन क्या? देख, तू मुझसे कुछ भी मत छुपाना, जो कुछ भी है मुझे साफ साफ बता देना, शायद मैं तेरी कोई मदद कर सकूँ।नहीं, ऐसी कोई भी बात नहीं है।” विशाल बात को घुमाते हुए बोला.

जानवर सेक्स बीएफ?

मैं बाथरूम से आकर अपना ड्रेस पहन रहा था, तभी भाबी ने आकर मेरे कमरे के दरवाजे को बाहर से धक्का लगाकर खोल दिया. ललिता पागल हो गईं और मेरा सिर पकड़ कर बोलीं- जान मेरी जान ले लोगे क्या?मैंने एक स्माइल दी और बोला- क्यूँ जब मेरी दोनों गोलियां खींच रही थीं, तो बड़ा मज़ा आ रहा था. मैंने कल्याणी के दोनों पैरों के नीचे से हाथ डाल कर उसी कमर को उठाया और खुद खटिया पर बैठ गया.

अब मुझे वर्षा से कोई खुन्नस नहीं थी,मैंने अपनी सगी छोटी बहन को बेरहमी से चुदवाया और अपनी इस घिनौनी आदत से मुझे बहुत आत्म ग्लानि होती थी. वहां कुछ देर इंतजार के बाद उसके पापा आ गए, उसके पापा ने उसे गले लगाया और पूछा कि वो बदमाश कहां है?सैम ने मेरी तरफ इशारा किया तो मैं जाकर उनके पैर छुए उन्होंने कहा- सदा खुश रहो. शाम को वापिसी में और घर आ कर भी मैं कुछ अजीब सा खालीपन महसूस कर रहा था.

फिर कुछ देर बाद वो दोनों ज्वार में से बाहर आये, तब तक मैं समोसे और जलेबी ला चुका था, हमने मिल कर समोसे और जलेबी खाई. मैंने किसी तरह जल्दी से पीछे के हिस्से में गोदाम के एक छोटे से दरवाजे में लगी एक छोटी सी खिड़की को खोल कर अन्दर का माहौल जानने की कोशिश की. उस दिन के बाद दोपहर को जब भाभी सोतीं, तब मैं उनकी गांड को देखने की कोशिश करता और कभी कभी उनकी गांड की वीडियो भी निकाल लेता था.

”वो उठ कर रूम को लॉक करके आई और अपनी जीन्स और पेंटी खोल कर खड़ी हो गई. ”साली, तेरी बेटी तो बहुत सेक्सी है, इसे तो दो दो लंडों से चोदना चाहिये.

बताइये बाबूजी, आप पहले मेरी चूचियों का मजा लेना चाहते हैं कि मैं आपके इस खड़े लंड को चूस चूस कर इसको सम्मान दूँ?मोहन लाल- पहले मैं तुम्हारे इन रसीले होंठों का रस पियूँगा बहू.

उसने मेरा सिर ज़ोर से दबा दिया और मुझसे कहने लगी- ले चाट ले मेरी चुत.

दीदी को भी ये पता लगा तो दीदी ने मुँह को और ज़्यादा खोलने की कोशिश की; लेकिन मेरा लंड था ही इतना मोटा कि दीदी का पूरा मुँह खुल गया था फिर भी लंड दाँतों से टकरा रहा था. लेकिन उनकी सास बोलीं- क्या कर रही है तू? रवि अभी अभी तो आया है और तू सामान लेकर जा रही है. मैंने उसके चीखने की चिंता नहीं की, गाड़ी सुनसान जगह पर थी, सो मैंने बेपरवाह होकर लंड घुसा दिया.

मैंने उसे बियर साइड में रखने को कहा और उसका लंड पकड़ कर अपने मुँह में डाला।एक साथ तीन लंडों से चुदते हुए मैं कुछ अलग सी फीलिंग पा रही थी. चचा माँ माल मेरी चूची और पेट पर गिरा जिसे चाचा ने मेरी ही पेंटी से पौंछ दिया. करीब 10-15 धक्कों के बाद मैं भी चीखता हुआ भाभी की चुत में ही झड़ गया.

पुलकित ने यह बात साफ तौर पर मंजरी से कही थी- जिस दिन मौका मिला चोद दूँगा तुझे!मंजरी भी कहती- यार… मैं तो खुद उस दिन का इंतज़ार कर रही हूँ.

बहू भी मुझसे पूर्ण रूपेण स्वछंद उन्मुक्त मित्रवत व्यवहार कर रही थी. किशोर उसके चूतड़ चाटने लगा और जीभ उसके छोटी सी गांड की रिंग में ऐसे फेर कर जीभ दबाता कि वर्षा उसके मुँह को आह्ह्ह. उनकी साड़ी नाभि के नीचे बँधी थी और ऑफ वाइट कलर की हाइ हील्स बेल्ली पहनी हुई थीं.

मैंने अपना सारा पानी दीदी की चूत में ही छोड़ दिया और ऐसे ही दीदी के ऊपर लेटा रहा. वो एग्जाम का आखिरी दिन था, मैं और दिव्या कॉलेज से एग्जाम दे कर वापस आ रहे थे. [emailprotected]कहानी का तीसरा भाग :सेक्स कहानी प्यार में दगाबाजी की-3.

अब रहा तो मुझसे भी नहीं जा रहा था लेकिन क्या करूँ, मुझको तो आदत है तड़पा तड़पा कर चूत चोदने की.

मैं उसके ही बारे में सोच रही थी कि सच कोई इतना भी अच्छा इंसान हो सकता है. करीब पौने घंटे तक उनको पीटने के बाद दीदी ने उन्हें खोल दिया और अपने बूट से तीनों को लंड पर लातें मारने लगीं.

जानवर सेक्स बीएफ ड्रिंक की वजह से अब हिम्मत भी थी और मैं समझ गया था कि मीना जी ने ब्रा निकाल कर हरा सिग्नल दे दिया है. चोद लेना।”क्या चोदने दोगी?”जो तुम अब चोद रहे हो।”क्या चोद रहा हूँ?”मधु मेरी कमर पर चपत लगाते हुए ऊउऊ.

जानवर सेक्स बीएफ ऊपर से ब्रायन का काला नीग्रो लंड इतना मोटा और बड़ा था कि चूत की खाज पूरी तरह मिटना तय था. मैंने सुरेश अंकल को अपनी बाहों में जोर से कस लिया और उनके होठों को चूमने चाटने लगी और काटने भी लगी। तभी मेरी चूत एकदम मस्त बहने लगी.

ऐसा केवल लड़कियों के लिए ही नहीं है, लड़कों को भी गांड मारने का शौक होता है, इसलिए कभी भी देखना इस बिरादरी की औरतों की बूढ़े होने तक गांड जरूर बाहर निकल आती है.

घोड्यांचा सेक्सी

एक दोपहर को हम और दीदी पास पास सो रहे थे, अचानक दीदी ज़ोर ज़ोर से ‘म्म्म्मो. वो थोड़ी मोटी लग रही थी क्योंकि उसके बूब्स तो अच्छे थे, लेकिन बूब्स से नीचे सब बराबर लग रहा था. नमस्कार दोस्तो, मैं बैड मैन फिर से एक बार हाजिर हूँ आप लोगो के सामने, मेरी पिछली देसी हिंदी सेक्स कहानीगर्लफ्रेंड की कुंवारी सहेली की हॉट चुत की चुदाईमें आप लोगों ने पढ़ा कि कैसे मैंने और जूही ने योजना बना कर नाज़ की चुदाई की.

कुछ देर अपने अपने लंड चुसवाने के बाद उन्होंने मुझे खड़ा किया एक लड़के ने झुक कर मुझे हवा में उठा लिया। मैंने भी उसकी कमर पे अपनी टाँगें लपेट ली और अपने ही हाथ से उसका लंड अपनी चुत में घुसा लिया।उसने मुझे उछाल उछाल कर चोदना शुरू किया. इसके पहले चोदी तो बहुत सी लड़कियां थीं लेकिन पहली बार पड़ोसन को चोदने जा रहा था. मैंने चाची को अपनी बांहों में भरते हुए पूछा कि क्या हुआ?तो मुझसे चिपकते हुए बोलीं- छिपकली है.

लेकिन दोस्तो, इस सिलसिले में आई एक मेल बहुत दिलचस्प और ज़िक्र के काबिल है.

वो समझ गई कि मैं उसकी गाण्ड मारने वाला हूँ।बोली- राज आज पीछे नहीं डालना प्लीज. अब मुझे ना जाने क्या जोश आया, मैं उसके बूब्स को खाने लगा, उसके बूब्स बहुत टाइट थे, मैं उनको जोर जोर से काटने लगा तो उसे दर्द सा हो रहा था, वो मेरे मुँह को ऊपर लेकर मेरे होंठों पर चूमने लगी और अब मैं उसकी पेंटी के अंदर हाथ डाल कर चूत के पास लेकर गया, उसकी चूत पर बहुत बाल थे, पता नहीं पिछली बार कब काटे होंगे।धीरे धीरे उसकी चूत के ऊपर मेरा हाथ चलता रहा और मैं उसके होंठों को चूमता रहा. मुझे लड़कों में बहुत पहले से ही इंटरेस्ट है लेकिन इस घटना से पहले मैंने किसी से भी गांड नहीं मराई थी.

मैंने बिन रुके एक और झटका दिया तो मेरा लौड़ा पूरा का पूरा उसकी बुर के अंदर जा चुका था. भैन के लंड चूत की माँ चोद दी… आह… अपने मोटे लंड से चोद डाल मुझे… माअर ले मेरी गांड… आह चोद ले मेरी चूत… बना ले मुझे अपनी कुतिया… अया आआह… उऊउहह… सस्स्स… भैन के लंड और डाल अन्दर…”फिर मैं और जोर से चुदाई करने लगा. मेरे इस तरह लंड डालने से वह इतनी तेज चीख पड़ी कि जोया को उसका मुँह बन्द करना पड़ा.

इतनी चुदाई के बाद भी मेरे लंड का कड़कपन कम नहीं हुआ तो वो फिर से चुत में डाल कर दनादन चुत चोदने लगा. माया की सुडौल जाँघें अब सुमित को दिखने लगी थीं कि तभी माया ने उसका हाथ पकड़ लिया.

कुछ ही देर में सीमा की अनचुदी बुर ने पानी छोड़ दिया। उसने उंगली चोदन का पूरा मजा लिया था. ”अगले दिन सुबह पहले रोशनी रूम में अपनी चमेली सी महक लेकर आई, फिर पिंकी की गुलाब की खुशबू के साथ, पूजा की चन्दन की महक रूम में छा गई. वह बोली- क्या देख रहे हो?मेरे मुंह से निकल पड़ा- एकदम पटाखा माल देख रहा हूँ!वह बोली- अच्छा!मैं- हां जी, क्या माल लग रही हो! क्या किया इतने दिन में!वह- कुछ खास नहीं!फिर मैंने उसे डांटना शुरू कर दिया- कितने टाइम से रुक कर इन्तजार कर रहा हूँ.

पर दोस्तो, गलती उसकी ज्यादा नहीं थी, मैं ही उसकी बातों में आ गया था.

कुछ ही पलों बाद भाभी की चूत ने रस छोड़ दिया था जिस वजह से रूम में ‘फ़च्छ फ़च्छ. बहरहाल वो 15 मिनट ऐसे लग रहे थे जैसे 15 घंटे हों, साला टाइम ही नहीं कट रहा था. मैंने अपनी पसंद का वो टॉप लेकर चल दी, तो अवी ने अपनी पसंद की ड्रेस भी दे दी और कहा- चलो देखो पहन कर देखो, सही होती है या नहीं.

फिर अंधेरे में कपड़ों की सरसराहट से मुझे कुछ यूं लगा कि वो साया स्त्री या पुरुष जो भी रहा हो, वो अपने कपड़े उतार रहा है. दीदी की चूत ने मेरा वीर्य सोख लिया था, पर वह इतना ज्यादा था कि चूत से बह कर बेड पे गिर रहा था.

कि आज तो मेरी प्यास शान्त हो ही जाएगी।”फिर?”फिर यश ने मुझे अलग किया और अपनी पैन्ट उतारने लगे। मैंने पैन्ट के साथ ही उनका अण्डरवियर भी उतार दिया। लेकिन उनका लण्ड अब भी लटका हुआ था। यह देखकर मैं फिर दुखी हो गई। पर आज मैं चुदना चाहती थी. मेरी मम्मी ज्यादा पढ़ी लिखी नहीं हैं तो साधारण तरीके से ही बोलती हैं. मैंने अपने हाथ उसके वक्ष पर रख दिए और सीमा के छोटे छोटे उभारों को सहलाने लगा, हम दोनों की वासना उफान लेने लगी तो फिर प्यार में डूब कर हम दोनों ने अपने अपने कपड़े उतार दिए।मैंने सीमा को मेरा लंड चूसने को कहा तो उसने कहा कि वो चूस लेगी लेकिन सेक्स नहीं करेगी.

बंगाली नया सेक्सी वीडियो

उसी के साथ एक तेज गंध मेरे नाक में घुसी, जिसने मेरी कामोत्तेजना को और बढ़ा दिया.

मैं डर रहा था कहीं करण की माँ या फिर करण घर पर ना आ जाए क्योंकि करण कॉलेज कुछ देर पहले ही निकला था. मैं वैसे लेट गई तो उसने दूसरी क्रीम निकाली और मेरी जाँघों से लेकर दोनों चूतड़ों में लगा दी और चूतड़ों को दबा दबा कर मालिश करने लगा. मैंने उससे कहा- इसे पकड़ो!तो उसने सर हिलाते हुए मना किया, मैंने कहा- करो तो एक बार… अगर अच्छा न लगे तो मत करना!वो मान गयी और मेरे लंड को सहलाने लगी.

हम थोड़ा आगे गए ही थे कि रुबीना ने मेरे गालों पर एक पप्पी की और बोली- अरविंद, आप हमें बहुत पसंद आए. मैं करण पाटिल, आज अपनी जिंदगी की पहली चुदाई की सेक्सी कहानी बताने जा रहा हूँ, जो कि पूरी तरह सच है, इसको लिखते समय कुछ गलती दिखे तो माफ करना. वीआईपी सेक्स बीएफमैंने अपना पानी खत्म करके कहा- अगर इतना ही सर में दर्द हो रहा है तो आप दवाई क्यों नहीं ले लेतीं?वो बोलीं- दवा से मुझे एलर्जी हो जाती है और दवा घर में है भी नहीं.

और मयूरी ने मोहन लाल के स्थिति का लगभग बिल्कुल सही अंदाजा लगाया था. ”साले रोकने की बात क्या कहता है, सीधे बोल ना कि उसको चोदने से मत रोकना.

मैंने जैसे अपना चेहरा स्टेरिंग की तरफ किया तो देखा कि भाभी के पापा गाड़ी में आगे वाली सीट पर बैठे एक हाथ से अपना लंड रगड़ रहे थे और एक हाथ में मोबाइल से मेरा वीडियो बना रहे थे. लेकिन उसके बाद वो दोनों बच्चे की देखभाल में लग गई और कभी कभी ही मुझ से चुदती. टाइट भी हो गए थे। मेरी गोरी टांगों पर छोटे-छोटे बाल आने शुरू ही हुए थे.

अकीरा अपनी गांड मटका मटका के झटके मार रही थी और शालिनी अपनी कमर उचका उचका के जवाब दे रही थी, दोनों को असीम काम सुख की अनुभूति हो रही थी, दोनों एक साथ चरम सुख की और बढ़ रही थी, दोनों सब कुछ भूल कर अब कामसुख का मज़ा उठा रही थी. मैं बोली- क्या?वर्षा बोली- तुम कैसे अपनी गांड मरवा रही थीं, आराम से सोते हुए. थोड़ी देर बाद कमल मुझसे दूर हट गया, पर मेरा मन तो आज कुछ और करने को था.

मैं खुद गांव का देसी छोकरा हूँ, मेरी उम्र 20 साल है, कद लंबा है, गोरा रंग है, हष्ट-पुष्ट गठीला शरीर, मोटा और सुडौल आथ इंच का लम्बा लंड.

मैं खड़ा हुआ और अपने चारों तरफ देखा, कोई नहीं था, पशु-पक्षी यहां तक कि हवा भी नहीं चल रही थी सिवाय घड़ी की टिक टिक के कोई आवाज नहीं आ रही थी. वो बाथरूम में अन्दर नहाने चली गई औऱ आधे घंटे बाद पूरी तैयार होकर आई.

उसने भी देर ना करते हुए मेरे लंड का टोपा खोला और उसे अपने मुँह में ले लिया. वो अपने लंड को पूरे जोश से मेरी चुत में अंदर बाहर कर रहे थे, मैं भी वासना से घिर कर बोल रही थी- आआआहह… उमआआआ… हां हां हां… हा चोदो मेरे राजा मेरी चूत को! हाय रे मर गयी।‌वो बोले- आआह… कितनी गर्म चूत है तेरी!फच्च फच्च!हा हाँ… आह… गयी मैं!” आआह कर के मैंने अपना रस छोड़ दिया लेकिन समधी जी अभी भी मुझे चोदने में लगे थे. मैंने दीदी के एक निप्पल को किस किया तो उन्होंने मेरा सिर पकड़ कर कसके अपने निप्पलों पर दबा लिया.

इसलिए इनमें से किसी से मेरी बात नहीं हुई थी। मैंने सोचा क्यों ना मैं खुद जाकर अपना परिचय इन लोगों से कर लूँ।वैसे मैं अंतर्मुखी स्वभाव का लड़का हूँ. मगर मैंने उन्हें ऐसे‌ ही दबाये रखा… मैंने हल्के से बस एक बार ममता जी के कम्पकपाते होंठों को चूमा‌ और फिर सीधा उनके चिकने बदन को ऊपर से चूमते हुए धीरे धीरे नीचे की तरफ खिसकने लगा. जब उनकी कामवासना चरम पर थी तो वो पूरे जोश से मेरा लंड चूसने लगी थी लेकिन एक बार झड़ने के बाद उन्होंने मेरा लंड अपने मुख से निकाल दिया.

जानवर सेक्स बीएफ कुछ देर बाद मैंने उसे घोड़ी बनाया और सीधा उसकी चूत में आराम आराम से डालने लगा. डॉक्टर ने कुछ टेस्ट करवाए थे और रिपोर्ट देखने के बाद बताया है कि वाइरल फीवर है.

हिंदी सेक्सी वीडियो काजल की

पहले तो मैं मन ही मन मैं हंसने लगी कि इतने छोटे छोटे कपड़े मैं पहनती हूँ कि अंजू देख ले, तो कहीं मर ही ना जाए और यहाँ सब अनुमान सही ही लगाते हैं. ”कल क्यों नहीं किया फिर?”मुझे क्या पता था कि तुम्हारी ऐसी हालत हो जाएगी. मैं उन्हें सोफा पर से उठा कर बेडरूम में ले गया और बेड पर लिटा दिया.

फिर मैंने एक हाथ उसकी पेंटी में डाल दिया और वो भी मेरे लंड को अपने हाथ से दबाने लगी. मैंने देखा कि ये क्या हुआ? मैंने उसका मुँह खोल दिया उसका मुँह फटा पड़ा था मैंने उसकी सांसें चैक की, धीमी चल रही थीं. चुदाई वाली इंग्लिश बीएफमैं- आंटी तुम दोनों की चुदाई के बारे में सोच सोच कर गर्म हो रही होंगी, इसलिए उनका मुँह भी गर्म हो गया.

अब भी उनकी और मेरी ईमेल पे या फ़ोन पर बात होती रहती है, हम काफी अच्छे दोस्त हैं.

मेरी गरीब पत्नी अब चारों तरफ की पिटाई से दर्द सहते हुए चिल्लाने लगी थी लेकिन दोनों आतंकियों से दूर भी हटना नहीं चाह रही थी!कुछ देर बाद जमैका उठ गया पर ओमार ने मेरी रूसी पत्नी की मीठी गांड को चोदना जारी रखा. तभी प्रिया ने अपनी बायीं टांग को मोड़ा और एकदम से अपने बाएं पैर से अपनी पैंटी छिटक दी और इधर मैंने प्रिया की दायीं टांग को पैंटी की पकड़ से मुक्त कर दिया.

चाची हमेशा मुझे फोन करती और कुछ न कुछ काम बोल देती जिससे कि मुझे उनके घर जाना पड़े और मैं जब भी उनके घर जाता तो वो मेरा बहुत अच्छे से स्वागत करती थी. उनकी वो पावरोटी सी फूली गुलाबी चुत थी, उसे देखकर मेरे मुँह में पानी आ गया. हाय राम, जानू, आपने तो मेरे आने के पहले ही अपना हथियार तैयार कर के रखा है.

ओके बेटा जी… चल डॉगी बन जा जल्दी से!” मैं बोला और उसके ऊपर से हट गया.

इस भाई बहन की चुदाई की सेक्स स्टोरी पर आपके कमेंट्स का इन्तजार रहेगा. मोना- रवि, अभी मेरी लेग की कसरत बाकी है, वो तो मुझे खत्म करनी ही है. मैं भी देख लूंगा, आपको ये लौंडा मैंने दिलाया है, जिसकी गांड का आपने मजा लिया.

हिंदी में बीएफ सुहागरात वालामैंने पूछा कि चूत में मूली क्यों नहीं की?तो बोलीं- मैं चूत की सील लंड से ही खुलवाना चाहती थी. उसको लेकर मैं चाह कर भी कुछ नहीं कर सकता था क्योंकि मैंने जैसा पहले ही आपको बताया कि मेरी मम्मी बहुत सख्त थीं और मम्मी और भाई हमेशा हम दोनों के आजू बाजू होते थे.

रवीना टंडन की चुदाई सेक्सी

वो तो मोना को किस करे जा रहा था और मोना के जिस्म को सहला भी रहा था. ”दीदी ने अपनी शर्ट और स्लिप को उतार दिया और मुझे अपने ऊपर खींचने लगीं. फिर कामिनी ने विवेक को लिटा कर उसके गले पर डीप किस करना शुरू कर दिया.

मैंने दीदी से कहा- मेरा निक्कर खराब हो गया है, मैं चेंज करके आता हूँ. भाभी की बिना पेंटी की चूत बिल्कुल लाल हो रही थी, जले हुए अंगारे की तरह दिख रही थी. वो मेरे कमरे में आई और चुपचाप चादर तकिया रजाई ले गई; टीवी वाले कमरे में सो गई.

माया ने बधाई लेने के लिए सुमित की तरफ हाथ बढ़ाया ही था कि सुमित बोला- माया डार्लिंग, मुझे तेरी पेंटी चाहिए. मैंने उनको जल्दी से लिया और छुप कर बाहर आ गया और दीदी को जगा कर अपने कमरे में जाकर सोने को कहा. अन्दर आते ही उसने रूम का दरवाजा बंद कर लिया और उसने मुझे बैठने के लिए कहा.

पूरी होने पर वह उसी से शादी करेगा तो वही तुझे अपने पापा से मिलवाएगा बस. मेरा दोस्त एक घंटे में आने वाला था तो मैंने ज्यादा देर न करना उचित समझा और उसके होंठ चूसते हुए उसे बेड पर लिटा दिया और खुद उसके ऊपर चढ़ कर उसके होंठों को चूसता रहा.

मैं समझ गया था कि वे जॉब के बहाने खुद को सेटिस्फाइड करवाना चाहती हैं.

उसने बोला- तू मेरा थूक पी जाएगा?मैंने उसके सामने अपना मुँह खोल दिया. भोजपुरी में बीएफ वीडियो चाहिएमैं राहुल अपनी कामवासना से भरी कहानी आपके लिए पेश कर रहा हूँ, पढ़ कर मजा लें!मैं 19 साल का हूँ. सेक्सी बीएफ वीडियो एचडी चुदाईकुछ पल बाद मैं खड़ा हो गया और उसकी चूचियों के निप्पल को काटने लगा तथा चूसने लगा. मैंने अपने रिश्तेदारों से कह दिया है कि स्वाति की अभी ट्रेन में बुकिंग करवाई है, वो थोड़ी देर मैं मुम्बई से निकल कर 4 घंटे में यहां पहुँचेगी.

करीब दस मिनट बाद वो मेरे मुँह में झड़ गईं ‘आह… अइय… आह… आह…’मैंने भाभी की चूत का सारा पानी पी लिया और पूरी चॉकलेट और पानी अपनी जीभ से चटकार साफ कर दिया.

ज्यादातर पानी मैंने पी लिया, अजीब सा स्वाद था, पर उत्तेजना में मुझे इसका स्वाद पसंद आ गया. मुझे यकीन ही नहीं हो रहा था कि जिस चाची को मैं इतना सीधी सादी समझता था, वो इतनी चुदक्कड़ हैं. पर मुझे तो तेरे साथ सोना है ना… प्लीज… ना मत कर…” मैं आगे हुआ और उसके हाथ को चूमा और कहा- एक चान्स दे दो प्लीज… तुम्हें नाराज नहीं करूँगा.

एक कसा सा हग और छोटी पप्पी मीना जी को देकर लहराता हुआ घर की ओर चल दिया. तुम बहुत अच्छी हो बस एक कमी है, जो दूर हो जाए तो तुम बहुत अच्छी लगने लगोगी. मैं वहीं बैठ कर भाभी को कुरेदने लगी, मैं उनसे अनजान बन पूछने लगी कि क्या भाभी कोई बाहर से कुंडी लगा कर चला गया और आपको पता भी नहीं चला, किस काम में इतनी व्यस्त थीं.

अंकुर सेक्सी वीडियो

वो मेरे गोरे बदन पर टूट सा पड़ा। मुझे पता था कि इस उम्र के लौंडे के अन्दर एकदम ताजगी भरा जोश होता है और इस उम्र में उनकी उत्तेजना बहुत अधिक होती है।फिर उसने मुझे सलवार उतारने को कहा। मैं पहले तो ना करती रही. दोस्तों मैं पिछले 4-5 सालों से अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम की कहानियों को नियमित पढ़ता आ रहा हूँ. भाभी आगे बता रही थीं:उन दोनों को देख मेरे दिल की धड़कन बढ़ रही थी, तथा दिख जाने के डर से मैं उन दोनों को कामलीला के मध्य में छोड़ कर बाहर आ गई और बाहर से दरवाजे पर कुंडी लगा कर ऊपर चली गई.

वो मेरे कमरे में आई और चुपचाप चादर तकिया रजाई ले गई; टीवी वाले कमरे में सो गई.

मैंने प्यार से प्रिया को निहारा… कोई इतना खूबसूरत कैसे हो सकता है? प्रिया का रति-मंदिर अभी भी छोटा सा ही था बल्कि प्रिया का शरीर थोड़ा भर जाने की वज़ह से पहले से भी छोटा लग रहा था.

तभी उसने मेरी गांड के होल पर थूका और अपनी उंगली डाल के मेरी गांड को चिपचिपा कर दिया. इसने बाद बॉस ने मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए और मुझे फ्रेंच किस करने लगे. इंडियन बीएफ ब्लू पिक्चर वीडियोभीड़ ज़्यादा होने की वजह से हम चिपक चिपक कर खड़े थे, मुझे तो सोनी के जिस्म की गर्मी मदहोश कर रही थी.

आंटी भी इस मौके को छोड़ती नहीं थीं, वो लड़कियों से रिक्वेस्ट करके मुझसे और कुणाल से अपनी चूत की अन्तर्वासना को बुझवा लेती थीं. इसे आप यहाँ से download करें!भारतीय लड़कियों से हिंदी अंग्रेजी और स्थानीय भाषाओं में सेक्स चैट, वीडियो सेक्स चैटिंग करने के लियेसेक्स चैट, विडियो चैटपर आयें और सेक्स की मजेदार बातें करके, नंगी जवान कामुक लड़कियों को देख कर मजा लें!. नीचे उसका लंड मेरी गांड की दरार में घुसता हुआ महसूस हुआ, जो बड़ा हो रहा था.

लंड चूत की कसी हुई दीवारों पर रगड़ खाकर और भी मस्ती में झूम उठा।प्रेरणा छोटी के पीछे सट गई और उसकी पीठ पर अपने स्तन घिसते हुए अपने हाथ सामने लाकर छोटी के मदसमस्त करते उरोजों को दबाने लगी। छोटी को मस्ती चढने लगी और उसकी गति बढ़ने लगी. फिर 10 मिनट के बाद मैंने उसे अपने नीचे लिटाया और उसके कान में कहा- अब हम दोनों एक होने वाले हैं, थोड़ा सा दर्द होगा, बर्दाश्त कर लेना.

मैं- कौन सी बात दीदी?मेनका- है एक बात… जो मैं तुझे बहुत समय से बताना चाहती हूँ लेकिन बता नहीं पाई.

फिर उसकी बाईं चूची की घुंडी को अपने मुँह में लेकर उसकी लाल लाल मख़मली चूची का दूध पीने लगा और अपनी उंगलियों से उसके होंठों को सहलाने लगा. वो कभी ‘आई लव यू जानू…’ तो कभी मादक सिसकारियां ले रही थी, तो कभी किस कर देती थी. सैम- ठीक है, तुम्हें अब यही उतने दिन रहना है जितने दिन पापा यहाँ रुकेंगे बस.

फुल एचडी सेक्सी बीएफ इंग्लिश हां बेटा जी, जो काम लंड नहीं कर सकता वो काम उंगली या अंगूठा करता है. मैंने कामवाली ममता भाभी की दोनों चूचियों को पकड़ा और उसकी मस्त चूचियों के बीच में अपना लंड घुसा कर आगे पीछे करने लगा.

चाचा ने दुबारा अपना लंड मेरी चूत पर सेट किया और एक जोर का धक्का मारा तो उनका आधा लंड मेरी चूत में चला गया और मैं चिल्लाने लगी क्योंकि उनका लंड बहुत मोटा था और मुझे बहुत दर्द हो रहा था. पिंकी अपनी स्कर्ट आधी खोल के झुक गई और बोली- उसके आने से पहले एक बार मुझे जल्दी से चोद दो. ” डायरेक्टर के इशारा करते हुए कहने पर, फिर ब्रायन ने राधिका को रोका और मम्मी को बेड पर गिराकर उनकी साड़ी खोलने लगा.

फुल सेक्सी इंग्लिश पिक्चर वीडियो

संजय- कहिये ना भाभीजी आपको कैसी लगी?मैंने शर्माते हुए कहा- बहुत अच्छी. फिर मम्मों के ऊपर ही मेरे हाथ को दबाकर बोलीं- बंटी राजा, बहुत देर कर दी. मैंने मेरे लंड को बहन की चुत से फिर से बाहर निकाला और बहन के मुँह पर लगा दिया.

हुआ यूं था की मेरे बेटे और बहू ने भी चुदाई का प्रोग्राम बनाया था और छत पर इसी कमरे में मिलने का बनाया था. मैंने अपने लंड को अन्दर बाहर करना शुरू किया, बड़ा आसानी से मेरा लंड उसकी चूत में रगड़ रहा था.

’ करने लगी और बोल रही थी- चोद डालो मुझे समीर आई लव यू…मैंने भी उसको ‘आई लव यू टू.

अब ब्रायन ने मम्मी को बेड से नीचे उतारा और एक सोफे के सहारे खड़ा करके एक टांग उठा कर चोदने लगा. उसके पेट से होते हुए मैं जैसे ही उसके मम्मों पर पहुंचा, वो एकदम से काँप उठी, जैसे उसे कोई झटका लगा हो. पर मैं ये नहीं समझ पा रहा था कि दीदी कैसे उन सभी पर जुल्म करती हैं, जिसे वो सहते हैं.

कुछ देर तक भाभी ने मेरा साथ दिया और फिर मुझे अलग करके बोलने लगीं- यह क्या कर रहे हो. भाबी ने हंस कर कहा- अच्छा यही बात थी या कुछ और बात थी?मैंने कहा- ये भी बात थी और उसने मुझे साइज़ के बारे में पूछा, अब मुझे कैसे पता होगा कि तुम्हारी साइज़ क्या है?यह सुन कर रजनी हंस पड़ी और बोली- अरे मैंने तो तुम्हें अपना कुछ कभी दिखाया ही नहीं तो तुमको कैसे पता होगा?अब मुझे लगने लगा कि रजनी की इरादा कुछ और है. मेरी वासना से भरपूर पिछली चोदन कहानीकिस्मत खुली चुत फटीआपने पढ़ी, आप सबके मेल मिले.

थोड़ी देर ऐसा करने से वो वापिस गरम हो गई और बोली- अब मैं तुम्हें अपने हाथ की कला दिखाती हूँ.

जानवर सेक्स बीएफ: पर रोज कॉलेज के बाद उनके यहां चाभी लेने जाना पड़ता था सो बोलचा ल शुरू हो गई थी. क्या मस्त सीन था, ऐसा आज तक मैंने सिर्फ कंडोम के एड में ही लड़की को लंड के लिए इस तरह तड़पते हुए देखा था.

इसमें मेरा फिगर साफ साफ नजर आ रहा था तो लगभग सभी लोग मुझे देखने आ गए थे. अब उन लोगों का कम्प्यूटर से खुद का नाता तो ईंट और कुत्ते वाला ही था तो वो लोग मेरी शरण में आये थे. तो दीदी ने मुझे सोफे पर बिठा कर मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगीं.

अब चाची की चूत में रस बहने लगा था जो किसी रसीले आमरस की तरह मेरे हाथ को महसूस हो रहा था.

अब तक बहुत देर हो चुकी थी, सो मैंने उसको कपड़े पहन कर तैयार होने को कहा. महेश ने मुझसे कहा कि बर्थ डे उसके साथ मनाऊं और किसी तरह उसके साथ रुक जाऊं, वो उस दिन कुछ खास करना चाहता था. मुझे बस मधु की चिकनी और गोरी गाण्ड ही दिख रही थी।मैंने सोचा शायद मधु फिर से वापस आएगी पर अगले ही पल मैंने कुछ सोचा और अपने कमरे का दरवाजा बंद करके मैं बाथरूम में चला गया और मधु की नंगी जवानी को याद करके अपने लौड़े को हिलाने लगा।मुझे पता ही न चला कि कितने समय तक मैं मधु की नंगी जवानी में खोया हुआ अपना लवड़ा हिलाता रहा।तभी बाहर से मधु की आवाज आई.