हिंदी बीएफ बुर चोदते हुए

छवि स्रोत,एकदम सेक्सी नंगी

तस्वीर का शीर्षक ,

जुदाई की फिल्म सेक्सी: हिंदी बीएफ बुर चोदते हुए, वो अब मुझसे कई तरह की बात करने लगी थी और अपनी और उस लड़के की मुलाकात के बारे में और उस लड़के के बारे में भी बताने लगी थी.

कुत्ता वाली फिल्म सेक्सी

सरिता- नहीं नहीं अंकल मैं नहीं चिल्लाऊंगी, पर जरा आराम से अन्दर डालना. स्टंट सेक्सी वीडियोदेस बदलेंगे … काल बदलेंगे, जिस्म बदलेंगे … नाम बदलेंगे लेकिन आदम और हव्वा की एक-दूसरे के लिए प्यास का ये खेल यूं ही अनवरत चलता रहेगा … शायद सृष्टि के अंत तक.

रितेश भी उसके होंठों को चूसने लगा और अपने हाथों से मीरा की 36 इंच की चुचियों को मसलने लगा. देवी की सेक्सी वीडियो हिंदीउस पर अंकल की दी हुई गोलियां काम करती हैं, पता चलने पर मैं फिर से बिंदास हो कर अंकल के नजदीक जाने लगी.

हमने टीवी देखते हुए खाना खाया। फिर वो मेरी गोद में आकर बैठ गयी। मुझे किस किया और मेरे सीने में अपना सिर छुपाने लगी। मुझे ऐसे ही गले लगाये हुए वो टीवी देख रही थी।कुछ देर बाद मैंने उससे कहा- चलो कहीं बाहर घूमने चलते हैं।उसने सिर मेरे सीने में छुपाये वैसे ही पूछा- कहाँ?मैंने कहा- वो बाद में डिसाइड करेंगे.हिंदी बीएफ बुर चोदते हुए: मैं तो ये सोच-सोच कर हैरान हो रहा था कि मेरे पिताजी क्या कर रहे हैं.

इससे पहले कि मैं कुछ ज़्यादा सोच विचार करता, रानी ने मेरा मुंह चूत पर सेट कर दिया और सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र की आवाज़ करते हुए अमृत की धारा मेरे मुंह में मारी.उसे मेरे मुँह से एडल्ट जोक्स सुनकर बड़ा अच्छा लगता था और वो मुझे धौल जमाते हुए मजा करती रहती थी.

सेक्सी बिहारी के - हिंदी बीएफ बुर चोदते हुए

माणिक कभी कभी मुझे घूरता भी है क्योंकि मैं हूँ ही इतनी सेक्सी कि मुझे कोई भी घूर घूर कर देखने को मजबूर हो जाता है.अब मुझे पूरा यकीन हो गया था कि इसके साथ कुछ भी करने से इस पर कोई नहीं प्रभाव नहीं पड़ेगा.

इस कहानी के पहले भागपड़ोसी को पटा कर चुत चुदवा ली-1में मीरा और रितेश की चुदाई की घटना पढ़ी. हिंदी बीएफ बुर चोदते हुए तभी उसने मुझे जोर से एक बार फिर पकड़ लिया और शायद वह बिना लंड घुसवाए ही पहली बार झड़ गई.

मेरा भी निकलने वाला था, नीचे से झटके मारते हुए मैं उसकी चूत में ही झड़ गया.

हिंदी बीएफ बुर चोदते हुए?

मेरी हालत ख़राब हो रही थी और दर्द ऐसा कि कोई यमदूत लेने ही आ गया हो. मैं दोबारा दो तीन मिनट में दीदी की चुत के अंदर झड़ गया पर फिर भी उन्होंने कुछ नहीं कहा. शुरुआत में तो उसे कुछ दर्द हुआ लेकिन अब वो मस्ती में अपनी गांड उठा कर मेरे लंड से चुदाई का मजा ले रही थी.

जब तुम्हारा लंड मेरी चुदाई करता है, तो मेरे जिस्म का पुर्जा-पुर्जा ढीला पड़ जाता है. थॉमस ने अपनी जीभ मेरी चुत पर रखी और चाटने लगा मेरी तो जान ही निकले जा रही थी और मुझे थॉमस से चुत चटवाने में बहुत मजा भी आ रहा था थॉमस अपनी जीभ से मेरी चुत की पंखुड़ियों को खोल कर अन्दर तक चाट रहा था. उसके बाद जब मुझे आभास हो गया कि अनिता पूरी तरह से गर्म हो चुकी है तो मैंने फिर से उसकी चूत चाटी और अपने लन्ड को उसकी चूत पर रगड़ने लगा.

घर पहुंचकर मम्मी ने दो कप चाय बनाई और मुझे अपने कमरे में बुलाया और बैठा कर बोली- देखो बेटी, आज मैं जो बता रही हूं ध्यान से सुनना. जैसे ही मैंने अपनी किस पूरी की, संजना फिर से मेरा पूरा लंड अपने गले तक ले जाकर उसकी चुसाई करने लगी. आखिर चूत चटाई भी तो करनी थी ना!हम वहां से निकल पड़े।पहले मैंने उसे कहा कि पूछ लो तुम्हारा भाई कहां है.

मैंने फिर पूछा- बोलती क्यों नहीं? ये सब तुमने कहाँ से सीखा है?बिन्दू बोली- मेरी एक सहेली ने ये सब बताया था, वह अपने बॉयफ्रेंड के साथ करती है. तुषार बोला- क्यों फट गई क्या … बस अभी से डरने लगीं … अरे मेरी जान कुछ नहीं होगा.

मैंने कहा- किस समय फ्री रहते हो?उसने कहा- कल ऑफ है, लेकिन आपके लिए दुकान खोलूंगा.

मैंने धीरे धीरे करके अपने सभी कपड़े निकाल दिए और उसके सामने पूरी नंगी हो गयी.

गुड कुत्ते … तुझे शरीर सुरा का स्वाद चखाऊँगी राजे … धीरे धीरे देखता जा तू. मैंने उसकी बात को अनसुना करते हुए फिर से एक चपत लगा दी, जिससे वो छटपटाते हुए मुझे छूटने में लगी थी, लेकिन मैंने उसे मजबूती से पकड़ रखा था. ऐसा करते करते चूत में लंड कब पूरा चला गया, न पिंकी को पता चला न नितिन को महसूस हुआ.

जब मैं थक गया, तो मैंने मानसी को बोला- बेबी, तुम हॉर्स राइडिंग करने आ जाओ. मैंने भाभी की चूत पर अपना मुँह लगाया और बहुत जोर से चूस दिया, तो भाभी की वासना से भरी हुई सिसकारी निकल पड़ी. मैंने तुरन्त उसको अपनी गोद में उठाया और पलंग पर पटक दिया और उसके बगल में लेट कर उसके मम्में दबाने लगा.

उनके ऐसा करते ही मैं चौंक कर बोली कि अरे क्या कर रहे हो … छोड़ो मधु आ जाएगी.

मैंने प्रतिभा से तुरंत पूछा- क्या खुशी भी इस बात को जान गई?प्रतिभा ने मुँह मटका के कहा- वाह जी वाह … मैं जान गई और तुमसे कह भी दिया, तो कोई फर्क नहीं पड़ा और खुशी जान गई होगी, ये सोचकर ही तुम्हारे चेहरे का रंग बदल गया. अपनी साली दिशा का इतना हॉट फिगर देखकर एक बात तो पक्की थी कि आज मैं दिशा को पूरी रात चोदने वाला था. उसने रिया की चूत पर लौड़ा टिका दिया और हल्का सा अन्दर पेल दिया।रिया सिसकारते हुए बोली- आह्ह … डैड क्या कर रहे हो … पहले सूसू तो करने दो … आप बाद में आराम से चोद लेना।रमेश- मेरी जान … मैं चोद नहीं रहा हूँ.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:पड़ोसन लड़की के चूतड़ों का दीवाना-2. जब आगे के हिस्से को उसने अच्छी तरह चाट लिया, तो मेरी टांगों के बीच से होते हुए पीछे आ गयी. मलाई जैसे लेस की एक बड़ी बूंद टोपे के छेद से निकली जिसे उसने जीभ से उठाया और पी लिया.

मनीषा बेडरूम में छिपी हुई थी, जागृति दरवाजे के पीछे और मैं बाथरूम में छिपा हुआ था.

इधर शुभ्रा भी अपनी कमर को उचका कर लंड को चूत में मजे से अन्दर ले रही थी।कुछ समय बाद ही धक्कों की गति में तेजी आ गयी। बीच-बीच में रुक-रुक कर फिर से चुदाई शुरू हो जाती थी और फिर अन्त में जो होना था वो होने लगा. मैंने चैक करने का पक्का इरादा कर लिया और रात को सबको खाना खिला कर मैं और मेरी ननद सुमीना टीवी देखने लगी.

हिंदी बीएफ बुर चोदते हुए ठीक है हाथ निकालता हूँ … पर चिल्लाना नहीं … किसी ने सुन लिया, तो आफत आ जाएगी. राधिका- मैं रूल बता देती हूँ, देखते हैं कि आज राज पहले किसको चोदेगा.

हिंदी बीएफ बुर चोदते हुए वो रोने लगी- अंकल मैं क्या करूँ मुझे बहुत दर्द हो रहा है … ऐसा लग रहा है आपका लंड नहीं, चाकू अन्दर गया है. मैंने वहीं बैठी एक महिला के पास जाकर कार्ड दिखाया तो उसने मुझे 1 नंबर रूम में जाने को कहा.

उसने मेरा मोबाईल मुझे दिया अपने ब्लाउज में से मोबाईल निकाल कर मेरा नम्बर देखा मोबाईल को वापिस ब्लाउज में डाल कर मुस्कराई.

हिंदी सेक्सी राजस्थान

मैंने लण्ड को चूत पर दबाना शुरू किया और सुपाड़ा चूत की दीवारों को फैलाता हुआ अंदर घुसने लगा. मुझे पता था कि अब वो मेरी गांड को चाटने वाले हैं … क्योंकि मूवी में मैंने देखा था. थोड़ी देर बाद मैं वंश का लंड सहलाने लगी और मुँह में ले कर गीला किया.

हमने टीवी देखते हुए खाना खाया। फिर वो मेरी गोद में आकर बैठ गयी। मुझे किस किया और मेरे सीने में अपना सिर छुपाने लगी। मुझे ऐसे ही गले लगाये हुए वो टीवी देख रही थी।कुछ देर बाद मैंने उससे कहा- चलो कहीं बाहर घूमने चलते हैं।उसने सिर मेरे सीने में छुपाये वैसे ही पूछा- कहाँ?मैंने कहा- वो बाद में डिसाइड करेंगे. ऐसा तो होना ही था, पर न तो अनिल भैया को इस बारे में कुछ पता था … न ही मुझे. लड़कियों के लिए खड़े होकर सुस्सू करना कितना दिक्कत वाला होता है यह हम सभी जानते हैं.

मैंने कहा- तो फिर इधर आइये!और सोफे पर बैठने का इशारा किया, वो बैठ गई तो मैं भी उसके बगल में बैठ गया और बोला- आपने कह तो कह तो दिया कि बेझिझक कह दूं लेकिन मैं कह नहीं पाऊँगा, बाकी आप खुद समझदार हैं.

मैंने एक बार हथेली से उसकी गीली चूत सहलाई और फिर अपने हाथ पर थूक लगा लिया. बताओ मैं क्या करूं? इसीलिए मैं इस दुविधा में हूं और तुम्हारी मदद चाहता हूं. मेरे उंगली चलाने से शलाका सिसयाने लगी और अपना हाथ मेरी पैंट की जिप के पास लाकर जिप को खोलने लगी.

नम्रता- अच्छा, अब मैं भी तुम्हारे लंड को सूंघकर देखती हूं कि मुझे मदहोश कर पाता है कि नहीं. एक-दो बार मैंने अपने आपको पीछे भी किया लेकिन अंदर का सीन देखने का जुनून सवार जो सवार हुआ था उसने मुझे बाकी सभी ख्यालात से बाहर कर दिया. जिस पड़ोसी की मैं बात कर रहा हूँ वह रिश्ते में उस लड़की के मामा लगते थे.

अब वो चुदने के लिए तड़पने लगीं, पर नितिन ने उनको और तड़पाया, किस करना छोड़ कर सीधे अपना मुँह सीमा की सुर्ख गुलाबी और चिकनी चूत पर ले गया. लेकिन एक बदलाव ये है कि लंड चुत में नहीं, आपकी गांड में जायेगा क्योंकि लौकी आपकी चुत में है.

दोपहर के बाद जब मैं स्कूल से घर वापस आया तो वह मेरे घर पर बैठी हुई थी. मैंने फिर कहा- रश्मि बोलो न … क्या मैं तुम्हारी चूत में अपना लंड डाल दूँ?वह थोड़ा खीजती हुई बोली- जो भी करना है … जल्दी करो. मुझे आने जाने में काफी थकान हो जाती थी और रोज इतनी दूर के सफर में तकलीफ भी काफी होती थी.

मैंने पूछा कि सब कहां गए, तो उसने कहा कि सब लोग मार्केट गए हुए हैं.

मेरी ब्रो सिस सेक्स स्टोरी में अब तक आपने पढ़ा कि मैं अपनी बहन के चुदाई करके उसे अपने सीने से लिपटाए हुए सो गया था. सास-ससुर अपने पैतृक घर में रहते हैं और मेरे पति शहर से बाहर गये हुए हैं. आशीष बोला- वाह बंध्या, तुम तो ऐसे कर रही हो जैसे रियल में ही लंड चूस रही हो.

तभी वो मेरे सीने पर आकर लन्ड को स्तनों के बीच से होते हुए मेरे गले तक लाने लगा. आज उन दोनों के पास पूरी रात थी, तो वो भी बहुत आराम से चुदाई का मजा लेने को तैयार थे.

अन्दर जाकर मैंने मानसी को अपनी बांहों में भरा और हम दोनों एक दूसरे के ऊपर ऐसे टूट पड़े, जैसे जन्मों के प्यासे हों. उसे अच्छा लगने लगा। उसके बाल पकड़ कर मैंने उसे दीवार से चिपका रखा था।हाई हील्स की वजह से उसकी गांड उभर कर सामने आ गयी थी। मैंने इस पोज़ में उसके चूतड़ों पर चार पांच चपत लगाये। वो काम वासना से सिहर उठी। उसके चूतड़ लाल हो चुके थे। मैंने उसके चूतड़ों पर चुम्बन किया. मैं भी थोड़ा इठलाते हुए बोला- जान तुमने अपनी चूत को झांटों के बीच छुपाकर रखा है, कहां से देखूँ?नम्रता- ओह सॉरी यार, मैं तो भूल गयी थी, मैंने जिस दिन से मेरे तुम्हारे आज के दिन के मिलन के बारे में सुना, उस दिन से मैं अपनी झांटें बढ़ाने लगी, जिससे मेरी जान मेरी झांट की शेव करके मेरी चूत को चिकनी कर दे और फिर उस चूत को प्यार करे.

सेक्सी फुल मूवी हद

बिन्दू बोली-प्लीज मैं रिक्वेस्ट करती हूँ ऐसा मत करना वर्ना मेरी मम्मी मेरी जान निकाल देगी.

मेरा लंड झड़ के मुरझा चुका था और रानी की लार व मेरे लेस की बूँदों से लिबड़ा एक तरफ को पड़ा हुआ था. सीमा प्रियंका और सतीश के पास और मैं मुस्कान और मोनू के पास पहुँच गया. मैं उसका हाथ पकड़ कर लंड को उसके हाथ में पकड़ाते हुए बोला- थोड़ी देर और रुक जाओ.

मैं समझ गया कि ये बुर का पानी नहीं बल्कि उसकी झिल्ली फटने के कारण निकलने वाला रक्त गिर रहा है. पापा ने मुझे पार्सल, जो वाचमैन ने दिया था, को लेकर एयरपोर्ट आने को कहा. हॉट सेक्सी शॉर्ट फिल्महाइवे पकड़ते ही तुषार ने भार्गव से कहा- अरे यार सीट को सीधा कर दे, तो सीट बड़ी हो जाएगी.

वंश कार चला रहा था, मैं उसके साइड में बैठी, उसकी जांघों में हाथ फेर रही थी. फिर मैंने धीरे से अपना बरमूडा खोलकर अपनी जांघों तक कर दिया और अपने खड़े हुए लंड को बाहर ले आया.

रमेश के लंड से वीर्य की 5-6 पिचकारियां निकलीं और बहुत सारा वीर्य उसने अपनी बेटी की गांड में भर दिया. वो मुझे कहने लगी- पापा, आप यह क्या कर रहे हैं?मैंने कहा- वही जो एक मर्द और औरत आपस में करते हैं. मेरे दिमाग में बस एक ही बात आई कि खुशी को भी तो ये बात पता नहीं चल गई.

इस तरह की बातें करते हुए पता नहीं कब हल्की रोशनी के साथ पौ फटने लगी, ध्यान ही नहीं रहा. इस उम्र में कुछ लड़कियां बहक जाती हैं तो कुछ अपना टाइम ठीक ठाक निकाल लेती हैं. फिर सबसे पहले उसने लंड के सुपारे को अपनी जीभ से जी भरके चाटा और लंड को मुँह में भर कर बहुत मस्त तरीके से चूसा.

मैंने कुछ धक्के मारे तो हम दोनों उम्म्ह… अहह… हय… याह… चिल्लाने लगे.

इसी आनंद का लुत्फ उठाते हुए मैं उसकी योनि में ही झड़ने लगा और सारा वीर्य उसकी योनि में छोड़ने के बाद उसके ऊपर लेट गया।दो मिनट तक लेटे रहने के बाद हम दोनों उठे और एक-दूसरे को किस किया। काफी देर हो गई थी और खेत में किसी के आने का भी डर था. मैं समझ गया कि वो इसको न करने के लिये मुझे पहले से ही चेतावनी देना चाहती है, पर मेरे दिमाग भी यह बात नहीं आयी.

रानी ने सुपारी की खाल पूरी पीछे कर के सुपारी नंगी कर दी और झुक के सुपारी की कई चुम्मियाँ ले डालीं. अब मैंने अपना छह इंच बड़ा लंड दीपाली की चुत के मुँह पर रखा और अन्दर डालने की कोशिश की, पर सिर्फ मेरे लंड का सुपारा ही उसकी चुत में घुस पाया. जैसे ही बिन्दू ने मुझे अपनी बालकॉनी में कैमरा लिए हुए देखा तो उसने तुरंत अपने पर्दे लगा दिए और लाइट बन्द करके नीचे आ गई.

मैंने उसकी साड़ी कमर तक उठा दी और उसकी मखमली गोरी टांगें मेरी आंखों के सामने आ गईं. मेरी पत्नी इस तरह की चुदाई से मजा लेकर बोली- इसलिये मैं तुम्हारे साथ आना चाहती थी. उसने लंड बाहर निकाल लिया, तो पिंकी ने उसके लंड को चूसना शुरू कर दिया.

हिंदी बीएफ बुर चोदते हुए थोड़ी देर बाद जब होश आया, तो अंकल नैपकिन गर्म पानी में गर्म कर कर के मेरी चुत की सिकाई कर रहे थे. मैंने पूछा- वर्जिन हो क्या?वो बोली- इस ज़माने में वर्जिन कौन रहता है?ये बोल कर वो हंसने लगी.

सेक्सी पिक्चर हिंदी चलने वाली

और उसके बाद मेरी नज़र मेरी बेटी की कोमल चूत पड़ी जिस पर एक भी बाल नहीं था. काफी देर से मैं धक्के पे धक्के मारता जा रहा था, जिसकी वजह से कमर में दर्द होने लगा. वो तो बस अपने मजे में मस्त थे।ससुर जी ने सुमीना यानि अपनी बेटी की चूत में अपनी पूरी जीभ घुसा रखी थी और बड़े ही मजे उसे खा जाने वाले तरीके चाट रहे थे.

मैं पोर्न मूवीस देख देख कर ठाक चुकी थी, मुझे असल में एक लंड की जरूरत थी जो आपने पूरी कर दी. मीता- थैंक्स … आप किसी को बोलोगे तो नहीं ना!मैं- नहीं … इस उम्र में ऐसा होता है. मां बेटे की सेक्सी नंगी पिक्चरजब मुझे लगा कि इसका दर्द दूर हो गया है, तो मैंने मुँह हटा लिया और अब तेज तेज से धक्के देना चालू कर दिया.

उसने जाते हुए मुझे अलग बुलाया और मुझसे कहा- मेरे बेडरूम में मैंने सारा सामान रखा है, जिसकी तुम्हें जरूरत पड़ सकती है.

अमित ने खड़े हुए ही मेरे सलवार का नाड़ा खोल दिया, जिससे सलवार नीचे गिर गयी. भाभी ने अन्दर ले जाकर मुझे पूरा नंगा कर दिया और शावर चला कर हम दोनों नहाने लगे.

स्वतः ही मेरा मुंह खुल गया और रानी ने अपने मुंह में ली हुई वाइन मेरे मुंह में छोड़ दी. मैं खुशी खुशी पलंग पर पहुँच गया और भाभी अपनी चारपाई पर उठ कर बैठ गईं. मैंने अपने सारे कपड़े पहन लिए और उस कामवाली को भी उसके सब कपड़े ठीक करते हुए पहना दिए.

नम्रता मेरे बालों को सहलाते हुए हम्म-हम्म करते हुए मेरे जोश को बढ़ा रही थी.

उस घर में सरोज की 22 साल की बड़ी बेटी नेहा अपने 10 महीने के बेटे के साथ रहती थी. उनके मोटे लंड से मैंने अपनी गांड कैसे मरवाई, वो अगले भाग पूरे विस्तार से बताऊंगी. पहली बार लंड मुह में लेने से उसे अजीब फील हुआ और उसने अपने पापा का लंड बाहर निकाल दिया.

सेक्सी वीडियो मराठी एक्स एक्सकुछ देर तक ऐसे ही मेरे लंड से सारा वीर्य चूसने के बाद मोनी की कराहें अब हल्की होती चली गयीं और उसका बदन ढीला पड़ गया। तब तक मैंने भी अपना सारा ज्वार उस कॉन्डोम में उगल दिया था इसलिये एक दो धक्के लगाकर अब मैं भी शाँत हो गया और धीरे से अपने लंड को मोनी की चूत से बाहर निकाल लिया।मेरी खामोशी भरी सेक्सी कहानी अगले भाग में जारी रहेगी. अपनी उंगली को मैंने उसकी पैन्टी में फंसाया और झटके में उसके दोनों कपड़ों को नीचे कर दिया और हल्के से उस प्रारम्भिक जगह को चूमा जहां से शुभ्रा की चूत शुरू होती थी.

सेक्सी फिल्म भेजो सेक्सी फिल्म सेक्सी

ऊपर जाते ही मैंने देखा कि रूम के बाहर भैया खाट बिछाके लेटे हुए हैं. अगली सुबह रोज की तरह रितेश छत पर योगा करने पहुंचा, तो उसने देखा कि मीरा वहां पहले से ही आई हुई है. मैं अपने आपको बहुत अच्छे से बन संवार कर रखती हूँ और फैशन में रहती हूँ.

”कहने को तो मैं आप को ‘तू’ कह कर भी बुला सकता हूँ वसुन्धरा जी! लेकिन अभी आपने मुझे ऐसा अधिकार दिया नहीं है. उसके ज़ोर ज़ोर से धक्का देने से मेरी चूत में दर्द के साथ साथ मज़ा भी आ रहा था … और मेरी ‘आआहह …’ निकलना बंद ही नहीं हो रही थी. मैं बोली- मेरी कसम मत खा … चल बता मुझे कहां ले कर चलेगा?वो बोला- मम्मी आप तो ऐसे बोल रही हो, जैसे आप मेरी गर्लफ्रेंड हो.

दीपाली मुझसे दया की भीख मांगने लगी- नहीं समीर प्लीज ऐसा मत करो, छोड़ दो मुझे … नहीं तो मैं चिल्लाऊँगी … देख लेना. अबकी बार के तेज प्रहार में मैंने एक बार में ही पूरा मूसल उसकी चूत में ठांस दिया. उसमें एक लड़की का नाम लिखा था अनिता राय और उसके नीचे उसका मोबाइल नंबर भी दिया था.

ओह शिट! जल्दबाजी में मैंने बाथरूम का दरवाजा बन्द नहीं किया था और पता नहीं शुभ्रा कब से वहां खड़ी होकर मुझे मूतता हुआ देख रही थी। उसके चेहरे पर गुस्सा साफ दिखाई पड़ रहा था. मैंने फिर टोका- यार ये गलत बात है, तुम मेरी तारीफ करना बंद करो और जो कहने वाली थीं, वो कहो.

उनके चेहरे पर लंड लेने के लिए हाव भाव अलग से ही आनंद के रूप में दिखाई दे रहे थे.

रहने दो … निकाल लो अपना!मगर हम दोनों ही अपने धुन में लगे रहे।कुछ देर बाद हरकेश ने अपना लंड बाहर किया और सुमन को खींचकर बिस्तर के पास खड़ा कर दिया और सामने से उसकी एक टांग उठा ली और सामने से अपना लंड उसकी चूत में घुसा दियाउसकी टांगें उठी हुई देखकर मैंने भी पीछे से अपना लंड उसकी गांड में लगा दिया और उसके दोनों दूधों को जोर से मसलते हुए उसे चोदने लगा. सेक्सी चुदाई कार्टून वीडियोमैंने उन्हें एक पैग बना कर पिलाया और उन्हें अपनी बांहों में खींचने लगा. नया सेक्सी सॉन्ग”मत जाओ … कहने को तो दो … महज़ दो लफ्ज़ ही थे लेकिन इन के मायने बहुत वसीह थे. उसकी बुर से कामरस की लार काफी ज्यादा बहने लगी थी जिसके कारण मेरा हाथ और शलाका की पैंटी दोनों ही पूरे के पूरे भीग गये थे.

तभी रिया ने टोका- क्या हुआ डैड? क्यों निकाल लिया लण्ड बाहर?रमेश ने उसकी ओर मुस्कुरा कर देखा और बोला- इधर आ साली कुतिया और चूस इस लण्ड पर लगे अपनी गांड के रस को.

नम्रता- चलो, कल देखती हूं तुम अपनी बीवी के लिए कैसे-कैसे कपड़े खरीदते हो. मैं- उससे मिलने का मन तो करता होगा ना?दीपाली- हां, वो तो बहुत करता है. रमेश- हां, क्यों नहीं जान … तुम्हारी गांड और खीर की मिठास ने मिल कर सब कुछ मीठा कर दिया है.

मैं सरक कर बेबी रानी की तरफ हो गया और फिर उसके चूतामृत का लुत्फ़ उठाया. थॉमस मुझे कभी गर्दन के पीछे, कभी होंठों पर, कभी बालों में, कभी पेट पर चूम रहा था. सुबह जब माँ मुझे जगाने आईं, तो माँ मुझ पर चिल्लाने लगीं क्योंकि मैंने बिस्तर में ही पेशाब कर दी थी.

chudai की कहानियां

वो बोली- नहीं यार, कभी न कभी तो ये दर्द सहना ही है … तो आज क्यों नहीं … और फिर मैं तुमसे ही ये दर्द लेना चाहती हूँ. मैंने उसे फिर लिटा दिया औऱ लंड को धीरे धीरे उसकी बुर के अन्दर अन्दर बाहर करने लगा. तब मुझे कहीं थोड़ी थकान महसूस हुई तो मैंने थोड़ा विश्राम लेने की और अनिता को थोड़ा और गर्म करने की सोची.

डॉली के जाने के बाद मुझे लगा कि गुप्ताइन को सेट करना पड़ेगा लेकिन कैसे? यही उधेड़बुन थी.

बस बिज़ली की चमक ही अन्दर आ रही थी, जिससे कभी कभी थोड़ी रोशनी हो जाती थी.

एक सुनसान गली में हम दोनों मिले तो क्या हुआ?हैलो फ्रेंड्स, मैं आपको एक रॉंग नम्बर वाली लौंडिया की चुदाई की कहानी में बता रहा था कि उसने मुझे अंधेरा होने पर अपने घर की गली में बुलाया. अब इस बार मुझे तीनों के मम्मे दबाकर पहचानना था, जो पहले से थोड़ा मुश्किल था. इंडियन स्कूल की सेक्सी वीडियोमैंने भाभी को पलंग पर लिटाया और इस बार बिना उनके बिना कहे उनको ऊपर से चूमना शुरू किया.

अबकी बार मेरी चूत को और भी ज्यादा मजा आ रहा था भैया के लंड से चुदने में. उस वक्त सुमन किसी रंडी की तरह चुदवा रही थी।इस बार ना तो मेरा … और ना ही हरकेश का निकल रहा था क्योंकि हम दोनों पहले ही एक बार झड़ चुके थे. अचानक मीना के बदन में कंपन होने लगा और वो ज़ोर से मेरे लंड को पकड़ कर निढाल हो गयी.

एक सिप वाइन से तो खैर नशा क्या होता मगर रानी के मुखरस जो वाइन में मिल गया था उसने ज़रूर मुझे सरूर चढ़ा दिया. फिर मैं धीरे धीरे अपनी उंगलियों को मुँह से निकाल के उसकी चुचियों को सहलाने लगा.

लेकिन मैं अभी यह नहीं समझ पा रहा था कि मानसी की जगह हेतल कैसे आ गई.

सब कुछ सैट कर के हम एक दिन छोड़ कर मिलने के लिये अपने घरों से सुबह निकले. ”अरे क्यों?”शूगर के कारण डॉक्टर्स ने मना कर रखा है।” कहकर उसने मेरी ओर देखा।ओह … आई एम सॉरी!”प्रिय पाठको और पाठिकाओ! आप तो बहुत गुणी और अनुभवी हैं। आप तो जानते ही हैं शूगर के कारण ज्यादातर पुरुष अपनी पौरुष क्षमता खो देते हैं।और पता है सुहाना भी मीठा बहुत कम खाती है. कान किसी भी स्त्री के बहुत ही ज्यादा संवेदनशील अंग होते हैं और ये एक बहुत ही आदिम नुस्खा है किसी भी लड़की को काम-विह्ल करने का.

सेक्सी फिल्म वीडियो में वीडियो में बहुत लेट कर दिया विपुल?”हां, हम एक मूवी टाईटेनिक देख रहे थे … तो उसमें वो सेक्स वाला सीन आ गया. उसकी सैंडिल मुड़ गई और उसके चूचे मेरे सामने नंगे हो गए जिसके बाद मैंने डॉक्टर जूली को सारा के बेडरूम में ले जाकर चोद दिया.

वो दोनों काफी दिनों बाद मिली थीं, तो उस रात को दोनों ननद-भाभी रूम में बैठ कर बात कर रही थीं और जोर से हंस रही थीं. पर अंकल जी, आप तो ऑफिस जाओगे न?”नहीं, मैंने एक सप्ताह की छुट्टी ले ली है. मुझसे भी रुक पाना बर्दाश्त नहीं हो रहा था, लेकिन हीना की पकड़ में मुझे छटपटाने का ज्यादा अवसर नहीं मिल रहा था.

पिकप फोटो

इसी बीच रितेश टेबल के नीचे से अपने पैर बढ़ाकर कर मीरा की चुत को सहलाने लगा. वो थोड़ा अकबका गई लेकिन उसी तरह रूकी रही और आखिरी बूंद तक मेरा लन्ड से निकलते हुए कामरस को अपने गले के अन्दर उतारती रही।उसके बाद मैं उठ गया और अपने कपड़े ठीक कर के टायलेट गया. मैं मंजू को बोला- मंजू, क्यों ना एक एक पेग हो जाये?वो बोली- हां, मुझे भी इस समय सख्त जरूरत है.

उसके जाने के बाद मैंने पक्का मन बना लिया था और सोच लिया था कि मैं अपने बेटे के साथ ही मजे करूंगी. अब मैं भी जोश में आ गया था, तो मैंने भी उनके बाल पकड़ कर जोर जोर से लंड को भाभी के मुँह में अन्दर बाहर करना चालू कर दिया.

इसलिए अब मैं भी जल्दी करने में मूड में आ गया और तुरंत अपना पैंट और चड्डी नीचे करके लंड बाहर निकाल लिया.

इस बार मैंने उसकी बुर में अपने लंड को बड़ी हिम्मत करके घुसाया और उसे चोदने लगा. वो कुछ बोल नहीं पा रही थी क्योंकि मुंह में तो मैंने ब्रा को ठूंस रखा था। बस हर एक चपत के साथ वो उम्म्म … हूम्म्म्म…. वो प्यार भरे अंदाज से मेरी चूची को अपने बड़े-बड़े हाथों से सहलाने लगा.

मैंने अपनी कहानी के पिछले भागों में बताया कि कैसे मैंने अपने बेटे को पटाया और उसके साथ अय्याशी की. सभी को नमस्ते![emailprotected]अन्तर्वासना साईट का आइकॉन मोबाइल होम स्क्रीन पर डालें. मैंने भाभी की चूत को देखा, वाह क्या गोरी चूत थी, एकदम मस्त पकौड़ा सी फूली हुई गोरी बुर मेरे सामने खुली पड़ी थी.

मेरा लंड पहली बार किसी औरत के मुंह में गया था इसलिए मैं जल्दी ही अपना संयम खो बैठा और मैंने भाभी के मुंह में वीर्य निकाल दिया.

हिंदी बीएफ बुर चोदते हुए: उसने अपनी कमर को ऊपर उठाकर मेरे लंड को चूत पर एडजस्ट करते हुए लंड को चूत में जाने का रास्ता दे दिया. वो बोले- तू चिंता न कर, आज मैं तेरा यार आशीष हूं और तेरी जम कर चुदाई करूंगा.

दोनों रानियों के लिए खीरा टमाटर मशरूम सैंडविच, फ़्रेश लाइम सोडा नमक वाला और मैंने मेरे लिए चिकन सैंडविच और बियर का रूम सर्विस में फोन करके आर्डर दे दिया. मैंने उन्हें एक पैग बना कर पिलाया और उन्हें अपनी बांहों में खींचने लगा. उधर राधिका और दिशा दोनों एक-दूसरे से अलग हो गईं और मैं भी अपना लंड हाथ लेकर खड़ा हो गया.

पैंटी के उतरने के बाद मैं अपने पैर का अंगूठा चाची की बुर में देकर सहलाने लगा.

संजना भी बोल रही थी कि तुम्हारे रूम में बहुत प्यारी मर्दों वाली गंध आ रही है. कॉलेज गर्ल सेक्सी कहानी में पढ़ें कि मेरी पड़ोसन की जवान बेटी मेरे पास प्रोजेक्ट के लिए आयी. इसके बाद उसने लंड चूत के मुँह पर सटाया और हल्के से अपना लंड मेरी चुत पर रगड़ने लगा.