सेक्सी बीएफ बुर चोदने वाली

छवि स्रोत,ओपन जेंडर

तस्वीर का शीर्षक ,

जाट बॉय स्टेटस: सेक्सी बीएफ बुर चोदने वाली, ”बाहर आकर मेघा ने कहा- अब कहां चलें, घर या फिर सविता ने जैसे कहा वैसे ही करें.

मोटरसाइकिल कैसे बनाते हैं

सन्नी- अच्छा भाई, अब आप भी बताओ ना आपके वाली शरीफ आइटम कौन है… जो आपको तंग कर रही है?अमित- किसी को बताएगा तो नहीं तू?सन्नी- सर मुझे आपकी हेल्प चाहिए तो भला मैं आपकी बात किसी को कैसे बता सकता हूँ?अमित- तो ठीक है… वो तेरे उसी हरामी दोस्त करण की बहन है शिखा… जो अपने कॉलेज की कुछ बेहतरीन लड़कियों में गिनी जाती थी. रानी रंगीली के सॉन्गउसने मेरे खड़े लंड पर चुम्मी की, फिर लंड का सुपारे को चूमा और लंड के छेद में जीभ घुसा दी.

शनिवार को जाऊँगी मतलब 4 दिन बाद सन्डे को बुला लो और दुबारा माफ़ी मांगने के लिए 2 दिन बाद मंगलवार को बुला लो लेकिन बुलाना दुबारा तो ऐसे. सेक्सी वीडियो नए गानेलगभग 11:30 बजे उसका मेरे पास कॉल आया, वह बोली- मैं घर से निकल रही हूं और होटल के नीचे आकर तुम्हें कॉल करती हूँ.

30 बजे कॉल किया तो बोली- ऑफिस में डायरेक्टर ने कुछ काम दिए हैं, निपटा कर आती हूँ.सेक्सी बीएफ बुर चोदने वाली: कुछ ही मिनट के बाद भाभी बोलीं- अब मुझसे और नहीं रहा जा रहा, इसे चूत में डालो.

फिर कुछ देर बात करने के बाद मैंने उससे उसका वाट्सअप नंबर मांगा उसने बिना किसी झिझक के अपना नंबर मुझे दे दिया फिर हम दोनों वाट्सअप पर बात करने लगे.सन्नी- अच्छा भाई, अब आप भी बताओ ना आपके वाली शरीफ आइटम कौन है… जो आपको तंग कर रही है?अमित- किसी को बताएगा तो नहीं तू?सन्नी- सर मुझे आपकी हेल्प चाहिए तो भला मैं आपकी बात किसी को कैसे बता सकता हूँ?अमित- तो ठीक है… वो तेरे उसी हरामी दोस्त करण की बहन है शिखा… जो अपने कॉलेज की कुछ बेहतरीन लड़कियों में गिनी जाती थी.

पेंट कलर चार्ट - सेक्सी बीएफ बुर चोदने वाली

पैसों की मुझे जरूरत थी ही, तो मैंने ले लिए और रूचि मुझे घर छोड़ने के लिए आने लगी तो मैंने कहा- आप आराम कीजिए, मैं ऑटो लेकर चला जाऊँगा.मैं तुम्हारे पापा की उम्र का हूँ?”बेबी दिखती हूँ लेकिन मैं तो बेब हूँ… मस्त बेब… अंकल, आपसे पहले ले चुकी हूँ कई दोस्तों का.

तो आंटी ज़्यादा ना बोलती हुईं उठकर चली गईं।करीब 5 मिनट बाद हिम्मत करके मैं भी ये सोच कर ऊपर गया कि जाकर आंटी को पकड़ लेता हूँ. सेक्सी बीएफ बुर चोदने वाली आप मेरी मम्मी को कैसे जानते हो? और मुझे मम्मी के संग क्यों बुलाया?” मैं गले लगे हुए फुसफुसाई.

मंजरी को भी पता था कि वो उसका रिश्ते में भाई लगता है तो दोनों की शादी होना मुश्किल है.

सेक्सी बीएफ बुर चोदने वाली?

अंकित जानता था कि माया किसी भी पल झड़ सकती है और अंकित भी झड़ने ही वाला था. यह नशीला और कामुक शो बस दो मिनट ही चला, तभी अचानक मॉम की मुझ पर नाराज़ पड़ी और उन्होंने झट से दरवाज़ा बंद करते हुए अन्दर से ही मुझे बोला- अरे तू कब आया. मैं इस कदर बहशी होकर चुसाई कर रहा था, मानो आज उसको मम्मों का पूरा रस ही निकाल लूँगा.

मैंने कहा- मैं अब और नहीं रुक सकता मामी… रात बड़ी मुश्किल से निकली है. [emailprotected]कहानी का अगला भाग :मेरी रशियन बीवी दो लंडों से खेली-2. लेकिन मुझे राजधानी पकड़नी थी तो मैं इस बस को छोड़ने की हालत में नहीं था.

वो पट्टियां जहां से चूचे थे, वहां एक में मिल कर थोड़े से मम्मों को छुपा लेती थीं. वो मचल रही थी, सिसकार रही थी ‘आह सी सी आह…’ और अपने एक हाथ से मेरा सर अपनी बुर पे दबा रही थी. मैं ताश के पत्ते लेकर आई और मीना से बोली- मैं सबको एक एक कार्ड दूँगी.

बॉबी भाई मुझसे करीब 3 साल बड़े थे, इसलिए मैं उन्हें भैया कह कर पुकारता था. यही वो पल था जब मैं सोच रही थी कि बिना कुछ गंवाए, केवल गले लग कर, बातें करके बहुत कुछ पाया जा सकता है.

अपनी जीभ को नोक सी बना कर अन्दर घुसाने लगा, पर वो थोड़ा सा भी अन्दर नहीं गई.

मैं थोड़ा साइड में हट गया तो मामी बोलीं- क्या हुआ? साइड में क्यों हट गए… मैं तो तेरे को बहुत सेक्सी लगती हूं ना… तो फिर क्यों दूर हट रहा है?मैं मामी से बोला- मामी मैं आपसे बहुत प्यार करता हूं, मुझे आपकी रोज याद आती है.

उस दिन उसके घर पर हम दोनों के अलावा कोई नहीं था क्योंकि उसके घरवाले कहीं पार्टी में गए थे. जब मैंने टांगें चौड़ी कर लीं तो उन्होंने मेरी कई सारी फोटो निकाल लीं. शुरू में तो सब फ्रेंड ही थे मगर धीरे धीरे उन में से एक महेश मुझे अच्छा लगने लगा.

आंटी ने बेटियों की तरफ़ इशारा करके कहा- अच्छा ये मेरे लिए और उनके लिए नहीं?कुणाल- क्यों नहीं आप चाहें तो उनके लिए भी है. ननदोई जी तेजी से मुझे चोदने लगे, वो भी मुझसे बोले- आह रंजना तुम्हारी चूत बहुत मस्त है. चौदह तारीख को मैंने मेरे वापस घर जाने का एक फर्स्ट क्लास एसी का टिकट ले लिया और फिर मुझे 19 को अपनी पत्नी और बच्चों को लेकर शादी में शरीक होना था.

मैंने हंसते हुए जवाब दिया- हा हा हा… अच्छा इतना प्यार तो कभी मुझे नहीं किया है और उसके लिए इतना बेचैन हो.

मैंने उसकी तरफ ध्यान से देखने लगा, वो परेशान थी, शायद फोन का लॉक चूल गई थी. उसको सुरेश का लंड अपनी चूत में लेने में थोड़ा सा दर्द हुआ, पर सुरेश का मोटा लंड एक ही बार में फिसलते हुए पूरा अन्दर चला गया. उसके बाद जब मैंने भाभी को चोदने की बात की तो भाभी ने मेरी शिकायत करने की धमकी दी.

मैंने देखा कि अभी तो केवल ग्यारह ही बजे हैं, फिर मैंने उसकी चूत की सफाई की तो खून की वजह से उसकी चुन्नी खराब हो गई थी. वो घूमी तो उसकी लचकती कमर एकदम नागिन जैसी और गांड सहारा रेगिस्तान के छोटे छोटे रेत के ढेर जैसे एकदम गोल गोल. रूचि जी एक तीस बत्तीस साल की आकर्षक महिला थीं, उन्होंने सफ़ेद रंग की गोल गले की टीशर्ट पहनी थी और नीचे ब्लू कलर की जीन्स, जो उन्हें और आकर्षक बना रही थी.

वो मेरे थोड़े और करीब आए और बड़ी कामुकता से अपनी उंगलियों से मेरे गाल और गले पे बनी आंसू की धारा को साफ करने लगे, जिससे मेरे बदन में अजीब सी कम्पन हो रही थी.

और दूसरी कहानी में कैसे मेरे अपने अब्बू ने मुझे पूरी रात अपने बिस्तर में मेरी चुदाई करी।अब चलते है आगे की कहानी पर:2 दिन बाद अम्मी घर में नहीं थी, उस दिन कोई कारीगर भी काम पर नहीं आये थे, मैं नहा कर निकली तो मैंने बिना ब्रा पैंटी के बिना ऐसे ही गाउन अपने पूरे नंगे जिस्म पर डाल लिया था. मैंने कहा- ये लो तुम्हारा दोस्त भी आ गया, एक बार और फाड़ डालो ताकि ये मेरी राजकुमारी को दर्द न दे.

सेक्सी बीएफ बुर चोदने वाली कुछ देर बाद भाभी झड़ गईं तो मैंने भाभी को बेड के किनारे खड़ा करके कुतिया बना कर पीछे से लंड पेला और उनकी हचक कर चुदाई की. तभी उसका बच्चा रोने लगा, उसने ब्लाउज के तीनों बटन खोल दिए और एक चुची से अपने बच्चे को दूध पिलाने लगी.

सेक्सी बीएफ बुर चोदने वाली तभी आंटी का लड़का कुछ दूसरे लड़कों के साथ बस से उतर गया और नीचे और लड़ाई के मज़े लेने लगा. मैंने धीरे से अपने होंठों को उनके होंठों पर रख दिए और उनके हाथों को अपने हाथों से दबा लिया.

उसके बाद उसने मेरे सारे कपड़े उतार दिए और मेरे लंड को अपने हाथ में ले लिया.

जीबी व्हाट्सएप खोलो

मैं उनकी जांघ को सहलाने लगा, तभी उन्होंने रज़ाई के अन्दर ही मेरा हाथ पकड़ लिया, किसी को बोला कुछ नहीं, बस हाथ पकड़े रहीं. [emailprotected]कहानी का अगला भाग :दुबई में बेटे के साथ मनाया हनीमून-2. एक बार जब दीदी की गांड का छेद ज़रा सा खुला, मैंने जल्दी से एक उंगली गांड के अंदर घुसा दी जिस वजह से दीदी हल्का सा उछल गई लेकिन फिर से मेरे लंड को जल्दी ही चूसने लगी.

फिर आप मेरे सामने ही अपनी बेटी की चुदाई कर रहे हैं तो आप बेटीचोद तो हुए ही. वो फिर से चीखी, मैंने कोई ध्यान नहीं दिया और उसकी कमर पकड़ के धक्के लगाने लगा. फिर थोड़े टाइम के बाद मेरा पानी निकलने वाला था, तो मैंने कहा- सुमन, मेरा वीर्य आने वाला है.

कुणाल ने भी अपने लंड को आंटी की चुत पे रख कर एक झटका मारा तो लंड पूरा अन्दर चला गया.

यह सिर्फ़ मॉम की चुदाई की कहानी नहीं है बल्कि मेरी रियल लाइफ की स्टोरी है. मैंने पूनम से कहा- आपका आज नाइट का क्या प्रोग्राम है?तो पूनम ने थोड़ा घबराते हुए जवाब दिया- जी कुछ नहीं, मुझे एग्जाम की तैयारी करनी है बस. राहुल, हमें काफी देर हो गयी है, हमें चलना चाहिए अब!” अंजना ने राहुल से कहा।राहुल ने कोई उत्तर न दे अंजना को एक बार फिर अपनी बाहों में थाम लिया और अपने गर्म होंठ अंजना के होंठों पे रख दिए। अंजना समझ गयी कि राहुल को इस चुदाई में बहुत बहुत मजा आया है और वो उसी आन्नद से अनुभूत होकर बार बार अपनी भाभी को पकड़ रहा है.

और फिर रिया ने मेरी सास को पकड़ कर उन्हें बेड पर गिरा लिया और उनके होंठों को चूमने लगी, मेरी सास भी उस को चूमने लगी. लगभग एक घंटे के बाद मैं दस बजे के करीब मेरे मामा के घर पहुंचा और घर की बेल बजाई. मम्मी खेत में चली गयी, हमें पता था कि मम्मी शाम को देर से आएगी, फिर मैं मोबाइल पर कुछ करने लग गया और मीतू पढ़ने लग गयी.

मेरी जवानी की चुदाई की इस हिंदी पोर्न स्टोरी के लिए आपके मस्त कमेंट्स का मुझे इन्तजार रहेगा. अब सुनील अपनी उंगली को मेरी चिपकी जांघों पर लाकर मेरी चुत सहलाने लगा था.

मेरे हाथ एक एक नीचे सरक गये और मैं अपनी चुत को सहलाने लगी जो गीली और चिपचिपी हो चली थी. इस तरह की हिंदी सेक्स कहानी पढ़ कर मेरा भी मन मचलता है कि मैं भी ऐसा करूँ. फिर एक दिन मेरे क्लास का सबसे अमीर और दिखने में भी अच्छे लड़के ने मुझसे दोस्ती करने को कहा.

पहले उन दोनों में हाय हेल्लो हुई और उसके बाद उन दोनों की बात शुरू हुई और करीब उन दोनों की करीब 20 मिनट तक बात हुई जिस दौरान सिमरन ने करीब 10 बार मेरे लंड की तरफ गौर से देखा.

मैं भी अब इतनी मदहोश हो चुकी थी कि पूरा जोर लगा कर उनको अपने अन्दर खींच रही थी. एक दो बार आगे पीछे करने के बाद वो तो मस्ती में आ गई और अपनी गांड उठा उठा कर साथ देने लगी. इससे उसकी उंगलियों में लगा वीर्य मेरे मुँह में चला गया, नमकीन सा था और अमित ये सब करके बहुत तेजी के साथ दरवाजा खोल के चला गया.

कभी मैं ज्यादा दुखी होती तो उनके कंधे पे सर रख कर रो लेती और वो मुझे प्यार से समझा कर चुप करा देते. मेरा लंड उसकी गांड में फँस गया और वो मेरी तरफ देख देख कर रोने लगीं कि मैं कब उन्हें छोड़ूँगा.

सागर- दीदी बुरा ना मानो तो एक बात कहूँ तुमको?मीना- बोलिए नासागर- तुम बाहर कोई ब्वॉयफ्रेंड क्यों नहीं रखती हो. फिर मैं अपना हाथभाभी की पैंटीके अन्दर डाल कर अपनी उंगलियां उनकी चूत के अन्दर डाल कर उसे सहलाने लगा. यह वही अंकल थे जिन्होंने मेरी कई बार ली थी और आज रात के लिए बार बार कॉल कर रहे थे.

न्यूड मॉडल

भाभी और मम्मी नीचे सोती थीं क्योंकि भैया रात में 11-12 बजे तक आते थे क्योंकि आजकल उनके ऑफिस में ज़्यादा काम चल रहा था.

उस लड़के ने मार्किट में कहीं मिलने के लिए कहा तो कॉलेज से आते टाइम ये मिली भी. फिर वो चुप होकर बेड पर पैर खोल कर लेट गई, उन्हें शायद दर्द हो रहा था क्योंकि मेरा लंड बड़ा है. वहां पर मैंने उसे लिटा कर किस करना चालू कर दिया, वो मेरा पूरा साथ दे रही थी.

मेरे जीवन का सबसे हसीन लम्हा वही था और क्या सच में उसने अभी कुछ नहीं किया होगा?मैं- अच्छा. इतनी देर से मैं खुद को शिकारी समझ रहा था, अब मुझे लगा कि शिकार तो मैं हूँ. दिवाली गानाअमित- क्या कुछ ज़्यादा ही शरीफ लड़की है वो?सन्नी- जी अमित भाई… तभी तो डर लगता है… अगर चालू होती तो कब से सेट कर लेता उसको।अमित- साला यही पंगा होता है शरीफ लड़कियों का… पहले बात करने से डरती है और फिर खाने पीने में भी बहुत टाइम लग जाता है.

दीदी ने हाथ पैर मारने शुरू कर दिए और हिलने डुलने लगी, मुझे अब थोड़ा थोड़ा गुस्सा आ रहा था क्योंकि एक तो मैं छूटने के करीब ही था और ऊपर से दीदी बार बार हिलडुल रही थी जिससे स्पीड तेज करने में मुश्किल हो रही थी. तीस पेंतीस तक की गांड मराने वालों की गांड मारने को भी तैयार रहते थे.

मैं अपनी ज़िप खोलकर अपना लंड को सहला रहा था, जो एकदम टाइट हो गया था और अनुष्का की चूत में जाने को बेताब था. लाइट का स्विच पास में ही था, मैंने बहूरानी को लिपटाए हुए ही बत्ती बंद कर दी और अंधेरे कूपे में फिर से उसके होंठ चूसने लगा; रास्ते में कोई छोटा स्टेशन आता तो वहां की रोशनी एकाध मिनट के लिए भीतर आती और फिर घुप्प अँधेरा हो जाता. मैं एकदम से उछल पड़ी और चचा जान के बालों में हाथ डाल के उनके होंठों को जोर से काटने लगी.

तभी तपाक से गीतांजलि बोली- सिर्फ आज चाहे मैं कितनी भी बार चुदूँ सब फ्री है न?मैंने कहा- हाँ केवल आज ही… आज चाहे जितनी बार भी चुद ले!गीतांजलि मेरी बात को सुनकर एकदम से खुश हो गई और उसने सिमरन की चड्डी एक झटके में उतार दी। चड्डी के उतरते ही सिमरन की अनछुई चूत भी नंगी हो गई और उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था, शायद उसने आज ही साफ किये होंगे. पर तुम्हें चोदेंगे।इस तरह से वो अपने रूम में अपना ड्रिंक करने लगे, मैं थोड़ा खाना खाकर अपने कमरे में जो ऊपर उनके कमरे से बीच का छोड़ कर तीसरा था, जाकर लेट गई।वह मेरा ही रूम था. कुछ अच्छे लोग भी होते हैं। और बुरे लोगों को उनके किये की सजा भी मिल ही जाती है।छोटी अचानक हंसने लगी- सजा.

एक दिन जब मैं अपने दोस्त के ऑफिस की बिल्डिंग में घुसा तो वो बाहर जाती हुई नज़र आई, उसकी आँखें भरी हुई थीं और वो लगातार आँसू पोंछती हुई जा रही थी.

इसी कारण से सेक्स को अनैतिक और धर्मविरुद्ध कृत्य माना जाने लगा है।धर्म, राज्य और समाज ने स्त्री पुरुष के मध्य संबंधों, सम्पर्क को नियंत्रित और सीमित करने की कोशिश की।इस नियन्त्रण के कारण लोग सेक्स पर बात करने और किसी भी प्रकार की यौन सामग्री पढ़ने, देखने से कतराते हैं. उसके मुँह से ये सुन कर मेरी हिम्मत बढ़ गई और मैं बोला कि मुझे पता है और मैंने चुदाई के काफी सेक्स वीडियो भी देखे हैं.

शुरू में तो सब फ्रेंड ही थे मगर धीरे धीरे उन में से एक महेश मुझे अच्छा लगने लगा. तभी दीदी का फोन बज उठा, दीदी ने फोन उत्जा कर देखा और उनकी त्यौरियाँ चढ़ा गई, वो फोन लेकर अंदर चली गई, अब किसी से फ़ोन पर गुस्से में बात कर रही थी, चिल्ला कर बोल रही थी, बिलकुल बिगड़ैल जंगली घोड़ी लग रही थी. तो बॉबी भैया मुझे खुद आगरा वाले मकान पर निमंत्रण देने के लिए आये थे.

इस तरह से मैंने उनके दिल के दर्द को थोड़ा कम किया और भाभी जी को चुप कराया. चौथे दिन मैंने अपना सामान पैक करना शुरू कर दिया तो भैया ने मुझसे पूछा- वीशु तू अभी ये क्या कर रहा है?मैंने भाभी के सामने ही भैया से कहा- भैया मैं नहीं चाहता कि आप और भाभी में मेरी वजह से लड़ाई या झगड़ा हो इसलिए मैं अपने घर जाना चाहता हूँ. अब मैंने वीडियो के अनुसार मीतू को उठा कर अपनी गोद में बिठा लिया और बूब्स को चूसने लग गया.

सेक्सी बीएफ बुर चोदने वाली मैं हमेशा लेडीज की तलाश में ही रहता हूँ कि एक अच्छी सी आइटम फंस जाए और लाइफ टाइम मेरे लंड के नीचे बनी रहे. थोड़ी देर में लंड में से एक पिचकारी सी निकली जो मेरे पूरे मुँह पर गिरी.

शिल्पा एक्स वीडियो

असल में मैंने कमीज़ ऐसी पहनी हुई थी, जिसमें से मेरी गहरी क्लीवेज नज़र आ रही थी. मैंने फिर से उस की चूत तो चाटना शुरू कर दिया, पर अब मैं ध्यान रख रहा था कि उस का डिसचार्ज ना हो पाए. मैं अपने मुँह से उसके मुँह में कौऱ डालता, कभी वो मेरी मुँह में डालती.

आखिस अंजना ने अब अपने देवर को कहा- यार राहुल, इतने भी उतावले मत हो… अभी बहुत मौके मिलेंगे हमें ये सब करने के… और तुम्हारी सेक्स लाइफ तो अभी शुरू ही हुई है. पर अखबारों में घटनाएं पढ़ कर तथा कुछ और जानकारी होने पर मुझे भी यकीन हो गया कि वाकयी ये सब सच है. पुणे कंपनी जॉबउसके कूल्हे बिल्कुल नरम और सख्त से थे जो धक्के लगने के कारण लाल से हो गए थे.

मुझसे रहा नहीं जा रहा था, मेरे पूरे जिस्म में वासना की चींटियाँ रेंगने लगी थीं, मेरी साँसें तेज हो गई थीं.

मैं मन में सोचने लगी कि अमित ने कितना करने का कहा था और कितना किया है. उसने कहा- अगर तुझे भाभी को चोदना है तो अन्तर्वासना पर सेक्स कहानी पढ़, वहां पर ऐसी बहुत सी चुदाई की कहानी हैं और तुझे आईडिया भी मिल जाएगा.

मुझसे कहा कि कार में पीछे की सीट पर नीचे दुबक कर बैठो, मैं अभी आता हूँ. उसके 34 साइज़ के दूध देख कर मेरा तो लंड खड़ा हो जाता और फिर घर आ कर मैं उसके नाम की मुट्ठी मारता!ऐसा बहुत दिन तक चलता रहा, अब मैं और बर्दाश्त नहीं कर पा रहा था. मैं- ये बात तुम मुझसे भी या किसी से भी नहीं बताओगे, जब तक मैं नहीं कहूँगी.

मैंने देखा कि मम्मी ने अपनी साड़ी घुटनों तक ऊपर कर रखी थी और अब उस नीग्रो के होंठ चूस रही थीं और ब्रायन एक हाथ से मम्मी की मोटी मोटी जांघें सहला रहा था.

वो झट से चित लेट गई, मैं उसकी चुत चाटने लगा और वो मेरा लंड चुसकने लगी. अमित ने आज पहली बार मेरे मोबाइल पर गुड मॉर्निंग का बहुत ही रोमांटिक एसएमएस किया था, जिसे मैंने पढ़ा तो अच्छा लगा. मैं चौंक गया कि आज तक तो उन्होंने मुझे कभी बुलाया नहीं, फिर आज कैसे बुला लिया?मैं उनके पास गया, उन्होंने मुझे आपने पास बिठाया और कहा- कल तुमने कुछ देखा?मैंने ना में गर्दन हिला दी.

बुर चोदो कहानीमैं दूसरे दिन सुबह करीब दस बजे उठा और मामी को मैंने पत्नी जी कहकर उठाया. दिमाग में बस दो तीन प्रश्न घूम रहे थे जैसे- आखिर मुझमें ऐसा क्या है? और मैं इतनी अच्छी क्या सच में हूँ कि लड़कों की नींद गायब कर सकती हूँ? अगर इतनी अच्छी हूँ तो मैं क्या करूँ और अमित क्यों चाहता है मुझे गले से लगना? उसे आखिर मुझसे केवल गले लग कर क्या मिल जाएगा?ये सब सोचते सोचते मैं कब सो गई, पता नहीं चला और जब मेरी आँख खुली तो सुबह के 9 बज रहे थे.

जापानी लड़की को

मेरी इच्छा है कि मेरी भाभी बाथरूम में शावर के नीचे मेरा लंड चूस रही हों, उनके सर पर शावर का पानी गिर रहा हो और वो मेरा लंड चूस रही हों… यह नज़ारा मैं अच्छे से देखना चाहता हूँ. उनका पहनावा भी मॉडर्न रहा है, वो कभी कभी जीन्स भी पहन लेती हैं और घर में अक्सर लैगिंग्स और टीशर्ट पहन कर रहती हैं. जैसे ही मैं उसके ऊपर बैठी, मेरे बेटे का लन्ड मेरी गांड की दरार में जाने लगा पर रोहण ने कुछ नहीं और मैंने भी कुछ नहीं किया.

वो बेहद खूबसूरत हैं, उनको देख कर लगता है कि कोई स्वर्ग की अप्सरा आ गयी हो. मैं मूर्ख उनके मम्मों में ही डूबा रहा जबकि जन्नत मेरा इंतजार कर रही थी. मुझे मेरी भाभी के मुख में लंड देकर उनका मुख चोदन ऐसे करना है कि जैसे मैं उनकी भरी हुई चूत चोद रहा हूँ.

एक दिन मैं सुरेश भैया के घर गया, तो देखा कि घर का दरवाजा हल्का सा टिकाया हुआ था, तो मैं सीधा अन्दर चला गया और स्नेहा भाभी को आवाज देने लगा. अब भाभी को सीधा खड़ा करके मैं उनके पीछे चला गया और गर्दन को चूमते हुए उनकी चुत को पेटीकोट के ऊपर से ही सहलाने लगा. फिर मैंने एक तौलिया लाकर पूरा साफ किया और धो कर दूसरी पैंटी और लोअर पहन लिया.

अब आंटी ड्राइवर वाली दिशा में मुँह करके खड़ी हो गईं और कंडक्टर वाली दिशा में गांड कर ली. मेरी मामी मेरी गली में ही रहती हैं, वो मेरी माँ के एक धर्म के भाई की बीवी हैं.

मेरे दिमाग में एक प्लान आया और मैंने सोचा कि क्यों न इस छुट्टी का फायदा उठाया जाए।अब मैंने ठान लिया था कि मैं अपने बेटे को फंसा कर रहूंगी और अपने बेटे से अपनी चुदाई की प्यास बुझा कर रहूंगी।मैंने अपने बेटे से कहा- रोहण, हम कल शॉपिंग करने चलेंगे।रोहण ने कहा- ठीक है माँ!हम सो गए.

उसके बाद रवि वहां से उठकर दूसरे रूम में चला गया और विवेक ने उठ कर दरवाजा बंद कर दिया. महालक्ष्मी फोटोरमेश ने तो ये कामुक शरीर बहुत बार देखा हुआ था, पर काजल और सुरेश के लिए एकदम नया था. बीपी फुल पिक्चरयहाँ तक कि अमित ने भी उसे आजतक इतना गिफ्ट नहीं दिया होगा, जितना मुझे दे दिया था. मैंने भी उसे पूरा नंगा कर दिया और एक शाल के अंदर दोनों अपने जिस्म को गर्म करने लगे.

आप अपना मोबाइल नंबर बता दीजिये, मैं देख कर कॉल कर दूंगीअमित- ठीक है लिख लीजिये.

प्रिय मित्रो, कहानी आगे बढ़ाने से पहले कुछ बातें मेरी पिछली कहानीबहूरानी की चूत की प्यासकी. मैंने कहा- शादी के बाद बच्चा कहां से दोगी?तो उसने कहा- वो सब बाद में देखेंगे. अन्दर मैंने अपना स्कर्ट सम्हालते हुए चड्डी पैरों पर खींची और ज़ोर से छुल्ला दिया.

वो मुझे थोड़ा उठाये था और मेरे नंगे या खुले कंधों पर अपने होंठों को रखे था. तुम यही कुछ और ले लो और यहाँ भी यही पहना करो, गाँव वाले घर में मत पहनना बस. दीदी ने मुझे नहीं रोका तो फ़िर मैं दीदी की चुची को दबाने लगा। दीदी दिखावे के लिए मेरे हाथ हटाने लगी लेकिन मैंने दीदी को पकड़ा और उसके स्तनों को दबाने लगा।वो मदहोश होने लगी। मैं दीदी के नंगे पेट पर भी हाथ फिराने लगा।दीदी की कामुकता जागृत होने लगी.

मथुरा की चुदाई

गांव में इतने दिनों बीच में मैंने कई बार फोन पर किशोर से बात की थी. आखिर काफी इंतजार के बाद दिव्या सो गई तो मुझे मौका मिला कि मैं अमित से बात कर सकूँ और इसी चाहत में मैंने खुद अमित को दिव्या के मोबाइल से एसएमएस भेजा. पहले तो उसने एक दम से मना कर दिया लेकिन मैं उसे मनाता ही रहा तो काफ़ी ‘ना ना’ करने के बाद वो चलने को तैयार हो गई.

मैंने अपनी उंगलियो का कमाल दिखाना चालू किया और उसका जी-स्पॉट ढूँढ कर मालिश करने लगा.

देवर भाभी की हिंदी एडल्ट स्टोरी पर अपने इमेल मुझे भेजते रहे ताकि मुझे पता चलता रहे कि आप सब पाठकों को मेरी कहानी अच्छी भी लग रही है या नहीं!धन्यवाद.

सागर को एक मिस्ड कॉल दिया ताकि सागर मीना को बेडरूम से निकलने ना दे. धीरे धीरे डालो भैया, उफ्फ्फ… क्या नजारा था यारा, क्या मस्त लग रही थी वो सेक्स करते हुए. नई सेक्स ब्लू पिक्चरशायद रात भर जगे होने की वजह से मेरे पैर थक रहे थे और उसकी टाइट गांड की वजह से मेरा लंड भी अपना रस छोड़ने को तैयार था.

फिर मैंने दोनों को अपने आगे बैठा दिया और अपना लंड पिंकी के मुँह में घुसा कर अपना बीज गिराने लगा. मुझे देखते ही दीदी चिल्लाई- ये क्या बदतमीज़ी है? नॉक करना नहीं आता तुम्हें?अपनी पैंटी ऊपर करते हुए बोली अंजलि दीदी. अब मैं क्या भैया को बताऊँ कि बिना मेकअप के मैं नहीं निकलती थी, आज निकल रही हूँ.

योगिता कई बार झड़ चुकी थी, उसके चेहरे पर संतुष्टि के भाव साफ दिख रहे थे, मैंने रफ़्तार बढ़ाई और उसकी चूत को जूनून से चोदने लगा. मेरा लंड उसकी गांड में फँस गया और वो मेरी तरफ देख देख कर रोने लगीं कि मैं कब उन्हें छोड़ूँगा.

और अभी तो भाभी का नौवाँ महीना बाकी था साथ ही अभी बच्चा भी होना था इसलिये हम किसी रिश्तेदार को बुलाने के लिये सोचने लगे.

तुझे भी लंड चाहिए, तू नहीं लेगी तो इस तरह बिन पानी की मछली की तरह तड़पेगी. मैंने भी उन्हें लंबा किस करने के बाद छोड़ दिया और उनके गालों को सहलाते हुए बोला- अब पानी तो पी लो… अभी तो तुम्हें और मेहनत करनी है. मैंने अपने फ्रेंड से पूछा- यार, ये लड़की कौन है भैया के कमरे में?मेरे फ्रेंड राकेश ने बताया कि ये भैया की गर्लफ्रेंड है.

सविता आंटी इसलिए मैं जब भी चाचा के घर जाता तो चाची मेरे साथ ही वक़्त बितातीं, मेरे साथ ही खेलती रहती थीं. ”उनके जाने के थोड़ी देर बाद मैंने मेघा को कॉल कर दिया कि वो संजय को बाय बोल कर आ जाए तो मेघा आ गई.

मेरा लंड उनकी गांड के छेद में उनकी साड़ी के ऊपर से लगा हुआ था और जैसे ही उन्होंने पीछे देखा, मुझे देख कर गुस्सा करने लगीं, मगर बोल भी क्या सकती थीं. इस बार तो मैंने अपने हाथ की उंगली भी उसकी योनि में डाल दी।तनु का शरीर दूसरे राऊंड के लिए जल्द ही तैयार हो गया और उसने मेरे लिंग को भी दूसरे राउंड के लिए तैयार कर लिया था।अब मैं तनु के दोनों पैरों के बीच बैठ गया, उसके पैरों को अपने कंधे पर रख लिया, इसके पहले ही मैंने तनु को एक बार चुम्बन करके आई लव यू जान कहा. वो मुझे बांहों में भरकर रोने लगी और कहने लगी- दीदी अब ये लंड में कहां से लाऊं?मैं उसकी तरफ देखने लगी.

गर्भवती महिला सेक्स

काफी देर तक हम वहीं किस करते रहे और फिर मैं उसे बांहों में उठा कर उसके बेडरूम में ले आया और उसको बेड पर लिटाकर उसके ऊपर चढ़ कर उसके होंठों को चूमने लगा. उनकी चूत रह रह के मेरे लंड को निचोड़ रही थी और फिर वो सिकुड़ गयी और मेरे लंड को बाहर धकेल दिया. तो मैंने अपनी मम्मी और पापा से अनुमति माँगी, उन्होंने भी मुझे झट से हाँ कह दी.

अगर तुझे टाईम है तो प्लीज़ मुझे सात बजे रेलवे स्टेशन छोड़ने आएगा क्या?मैंने उसको ‘हां’ बोल दिया और वहां से घर के लिए निकलने वाला ही था कि रश्मि बोली- ललित को पैसे के बारे में मत बताना प्लीज़!मैंने ‘हां’ बोला और मैं अपने फ्लैट में फ्रेश होने आ गया. मैंने अपने हाथ को उनके मम्मों पे रखा और जब वे इस पर भी कुछ नहीं बोलीं, तो मैंने उनके मम्मों को धीरे धीरे दबाना शुरू कर दिया.

तभी मेरी सास बोली- मेरी निशा रानी, बहुत मजा आया, इतना मजा तो तेरे ससुर ने भी मुझे कभी नहीं दिया.

मयूरी ने ब्रा नहीं पहनी थी, पर एक ब्लैक कलर की पैंटी पहनी हुई थी, जो जालीदार सी बड़ी ही सेक्सी लग रही थी. अरे उससे किसी मॉल में जाकर मिलो, जैसे मैं अमित से पहली बार पीवीआर में मिली थी. फिर कुछ देर बात करने के बाद ननद मेरी सास के साथ एक पड़ोसी के यहाँ चली गई.

भाभी तो बस चीखे जा रही थीं मैंने फिर से उन्हें टेबल पर लेटाया और उनके मम्मों को पकड़ कर लगभग नोंच डाला और धक्के मारने लगा. चूत पर हाथ महसूस करते ही रेणुका भाभी को ना जाने क्या हुआ कि वो मुझसे तेज़ी से चिपक गईं. वो शायद साँस नहीं ले पा रही थी, जिस कारण उसके आँसू निकल रहे थे उसके.

मुझे दीदी ने बताया था कि तुम सेक्स के टाईम कभी कभी गांड भी मारते हो.

सेक्सी बीएफ बुर चोदने वाली: लेकिन शायद मोनिका के घर वालों को उस पर शक था, तो उन्होंने स्कूल में बोल रखा था कि मोनिका को किसी के साथ ना भेजें. फिर मैंने भाभी को खड़ा करके धीरे धीरे उनके कपड़े निकालने शुरू कर दिए.

अब ट्रेन स्टेशन पर रुक गयी, वहाँ काफ़ी अंधेरा था हमारे कोच में!आरजू ने विनीत से बोला- बाहर देखो, कोई है क्या?विनीत ने अच्छी तरह देखा और बोला- कोई नहीं है!तब आरजू मुझसे बोली- गेट तक ऐसे ही चलो!वो एकदम कुतिया बन गयी, मेरा लंड उसकी चूत में था और वो बाहर गेट तक ऐसे ही आई, मुझे शर्म लग रही थी पर अच्छा भी लग रहा था कि एक पति के सामने उसकी पत्नी दूसरे कालंड ले रही थी. कुछ ही देर में शायद वो छूटने वाली थी, इसलिए उसका शरीर एकदम अकड़ गया. मैं अपने पैग लगा लेता हूँ और अगर बुरा ना मानो तो अगर तुम भी 1-2 पैग व्हिस्की या वोडका के ले सकती हो, इधर कोई टोकने वाला नहीं है.

यह सुनते ही उन्होंने मुझे पकड़ा और किस करने लगे और मेरे गुलाबी होंठों को चूसने लगे, मेरी चुचियों को तेजी से दबाने लगे.

मैं अभी लंड चूस ही रही थी कि उसने पिचकारी छोड़ दी, जो पूरी कि पूरी मेरे मुँह में भर गई. वो गुस्से में लाल होकर बोली- तुम मेरा मुँह ना खुलवाओ तो ही अच्छा रहेगा. मेरी भाभी दिखने में बहुत सेक्सी हैं, मुझे उन के होंठ चूचे और चूतड़ बहुत सेक्सी लगते हैं.