सेक्स बीएफ एचडी हिंदी

छवि स्रोत,www.com देसी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

ఆంటీలు సెక్స్: सेक्स बीएफ एचडी हिंदी, जब भी कोई फ्लैट को खाली करता था तो मैं दोबारा उस पर टू-लेट (किराये के लिए खाली) लिख कर लगा देता था.

हीरोइन की चोदने वाली बीएफ

जब जीजू ने देखा तो मेरी ब्रा की दोनो पट्टियों को पीछे से पकड़ कर बोले- साली साहिबा, ये घोड़ी की लगाम तो ठीक कर लो।वो दीदी के सामने भी मजाक कर लेते हैं, कहते हैं कि साली आधी घर वाली होती है. हिंदी सेक्सी अंग्रेजी बीएफजाने से पहले एक बार फिर से मौका लगाकर आँटी मेरा लौड़ा अपनी चूत में ले गई.

भाभी ने अपनी आंखें बंद की हुई थीं और मुझसे मज़बूती से चिपकी हुई थीं. बड़े लंड वाली बीएफ वीडियोये दोनों एक दूसरे को बहुत प्यार करते थे, शायद इसी लिए अभी तक दोनों ने सेक्स नहीं किया था.

फिर जब भाभी ने सामान लेकर वापस किचन की तरफ चलना शुरू किया, तो मैं उनके पीछे पीछे किचन में चला गया … और खुद से नलके से पानी निकालने लगा.सेक्स बीएफ एचडी हिंदी: मैं सोच रही थी कि सच में इतनी अच्छी तरह तो किस सूरज भी नहीं करता था.

वो मेरे होंठों को अपने होंठों से चूसने का प्रयास करने लगी और मैं पूरी ताकत से अपने दोनों होंठों को चिपकाए हुए उससे संघर्ष करने लगी.उनकी शादी के बाद मैं भी उनके घर गया, उस वक्त तक पर मेरे मन में जिया को लेकर कोई बुरा ख्याल नहीं आता था.

सेक्सी फिल्म देखने वाली बीएफ - सेक्स बीएफ एचडी हिंदी

इससे मेरी शॉर्ट नाइटी और ऊपर की ओर हो गयी … जिससे मेरी गांड पर थॉमस के हाथ जम गए.जब तुम्हारी ये बड़ी बड़ी चूचियां किसी मर्द की छाती के नीचे रगड़ा खाएंगीं तब देखना कितना मजा आएगा!हाय भाभी पता नहीं मुझे कब लंड नसीब होगा? लेकिन अभी मुझे तो इस खीरे में भी बहुत मजा आया है.

प्रिया भाभी का फोन आया- बस कुछ ही मिनट पहले तुम्हारे भैया घर से निकले हैं. सेक्स बीएफ एचडी हिंदी यदि आप लोगों को मेरी पूरी दास्तान जाननी है, तो आप लोगों मेरी पिछली सेक्स कहानीबिजनेस बचाने के लिए अफ्रीकन लंड से चुद गयीको जरूर पढ़ें.

पहले भाभी ने दारू पार्टी के लिए पकौड़े तले, फिर बाद में खाना बना कर तैयार कर दिया.

सेक्स बीएफ एचडी हिंदी?

मेरी दोनों जांघों को पकड़ कर मुझे तेज़ी से चोदते हुए बूढ़े ने कहा- तुम्हारे अंदर ही झाड़ जाऊँ या बाहर निकाल लूं?तो मैंने कहा- मेरे फुद्दी के अंदर ही झड़ जाओ. मैंने सोच लिया कि बेटा अभी काम तो कुछ है नहीं … आज तो इसके साथ दोस्ती करनी ही है, चाहे कितना टाइम लगे. दोस्तो, मैं आपको इधर एक बात बता दूँ कि भैया की शादी को काफी समय हो गया था.

लेकिन ये भी सच है कि मैं तुम्हारी मर्ज़ी के खिलाफ कुछ भी नहीं करूंगा. दोपहर में जब लंच टाइम होने वाला था तो कस्टमर उस वक्त काफी कम हो गये थे. और फिर नीचे बैठकर अपने दोनों हाथों से मेरी गांड को फैलाया और अपनी जीभ को मेरे गांड के छेद पर लगा दिया.

मुझे झड़ते हुए देख बूढ़े ने मुझे बैंच पर लिटाया और मेरी दोनों टाँगों के बीच आकर मुझे ज़ोर ज़ोर और तेज़ी से पेलने लगा. मैं चाचा जी नाम सुनकर एकदम से सकपका गयी और हकला कर बोलने लगी- नमस्ते चाचा जी. जैसे ही मैंने उसकी प्रोफाइल पर नीचे स्क्रॉल किया तो उस देसी इंडियन गर्ल की सेक्सी न्यूड फोटो देखकर मैं सन्न सा रह गया.

नीचे से गुड्डी ने टांगें खोल दीं और एक हाथ से लंड को पकड़कर चूत पर रख दिया. मैं- आपको आज कैसा लगा?सलोनी- मुझे बहुत अच्छा लगा, पर तुमने अरुण के सामने मेरे रूम में आकर मुझको बहुत गर्म कर दिया था.

फिर मैंने बड़ी छोटी को बड़ी चाची के बाजू में सोफे के ऊपर खड़ा कर दिया और उनके सर को बड़ी चाची की मुँह के पास करते हुए झुका दिया.

मेरी भी हालत शायरा के जैसी ही थी … इसलिए मैं भी अब खुद को नॉर्मल करने लगा.

कविता- ले छिनाल, साली रंडी कहीं की, मर्दों का गर्म लंड से मजा लेती है, आज तुझे पता चलेगा कि औरत के जिस्म की गर्मी क्या होती है. फिर उसने जरा विस्तार में बताया, तब मैंने उसे पहचान लिया और इस तरह से हमारी बातें शुरू हो गईं. फिर मैंने उसकी मोटी सास के बारे में भी बताया कि कैसे उसने बात आगे नहीं बढ़ने दी.

रिया- क्या से ठ… बहुत ही टेस्टी है तेरा वीर्य।रवि- तुझे पसंद आया?रिया- अरे ऐसा माल किसे पसंद नहीं आएगा? क्या तेरी बीवी को पसंद नहीं है?रवि- अरे उसे तो बहुत पसंद है, साली बार-बार माँगती है।रिया- सेठ तो बोल, तेरी बेटी जैसी इस रिया को चोद कर कैसा लगा?रवि- अरे यह भी कोई पूछने वाली बात है?रिया- तो सेठ जब भी यहाँ आना तो मुझे जरूर याद करना।रवि- तुझे भूल पाउँगा तब ना … तुझे तो मैं हमेशा ही याद रखूंगा. उसने भी मुझे बांहों में भर लिया और जोर-जोर से मेरे होंठों को काटने लगा. देर तक की चुदाई के बाद पसीने से तर-बतर और बेहाल सुमन ने हाथ जोड़कर चुदाई रोकने को कहा, तो मुझे चुदाई रोकनी पड़ी.

मेरे गांड का छेद ही जैसे धीरू अंकल के लंड को न्योता दे रहा था कि मेरी आ लंड और मेरी गांड फाड़ दे.

मेरे लंड से इतना पानी रिस रहा था कि उसने दीदी की चूत को भी चिकनी कर दिया था. कुछ मिनट तक वो अपनी चूत को चोदती रही और सिसकारते हुए उस डिल्डो को लेती रही. उसने गूगल सर्च इंजन पर कुछ टाइप किया और कुछ फोटो निकल कर सामने आये.

भाभी- तुमने सही किया संजय … जिस दिन तुमने मुझे गर्लफ्रेंड बनने के लिए ऑफर किया था, तो मैं डर गयी थी. इस पर वो मादक आवाज में बोलीं- साले, मुझे आंटी मत बोल … मुझे अपनी सविता रखैल बोल … क्योंकि मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा है तेरे लंड से चुदने में … आह मैं अब हमेशा ही तुम्ह़ारे लंड से चुदना चाहती हूँ. मैंने आँटी की चूचियों को अपने मुँह में लिया और उन्हें चूसने, काटने लगा साथ ही उनके चूत के क्लीटोरियस पर ऊँगली अंगूठा चलाने लगा.

पैसेंजर ट्रेन की रफ्तार से चल रही चुदाई धीरे धीरे स्पीड बढ़ाते हुए राजधानी एक्सप्रेस की रफ्तार पर पहुंची तो मेरा लण्ड फूलकर और टाइट हो गया.

मैं अपनी जीभ से कभी चूत के दाने को चाटता, कभी कभी होंठों में लेकर चूस लेता. मैंने अल्मारी खोली और उसमें से एक ब्लैक कलर की ब्रा पैंटी का सैट निकाला और ब्रा पहनने लगी.

सेक्स बीएफ एचडी हिंदी मैंने उनके नाम पूछे तो लड़के ने अपना नाम रोहन तथा लड़की का बिन्नी बताया. मैंने उसे कंडोम दिया और लंड में दाने वाला कंडोम उसने अपने हाथ से पहनाया।फिर मैंने लंड को चूत में सेट करके जोर का धक्का लगाया.

सेक्स बीएफ एचडी हिंदी ”यार … देखो सारी रात तुम्हारा इंतज़ार किया और अब तुम और इंतज़ार करने का बोल रही हो … प्लीज!” मैंने उसकी मिन्नतें करने सफल अभिनय किया।ओह … आप भी पूरे जिद्दी हो. वो भी बिन बताए, कभी बता कर आते … तो हम भी बताते कि मेहमाननवाजी क्या होती है.

उस दिन भी भाभी हमेशा की तरह शाम को छत पर आयी थी और उनका बच्चा खेल रहा था.

लोकल सेक्स वीडियो एचडी

तभी सरोज मेरे कमरे में आई और मुझसे कहने लगी- सुनाओ राज! रात कैसी रही, मेरी बहन कैसी लगी?मैं बोला- भाभी एकदम हॉट, लेकिन आपसे कम. मैंने भी थोड़ा झुकते हुए अपनी एक टाँग को उठाया और बूढ़े का लंड अपनी फुद्दी में ले लिया. बाकी सब लोगों की तरह ही वो रोमांस अब मेरी भी शादी में खत्म हो चुका है.

उसके मुंह से चूत जैसा शब्द सुनकर मेरे चेहरे पर अलग ही रोमांच आ गया. मैं अपने दांतों को भींचे हुए लंड अन्दर लेते हुए खुद को दिलासा दे रही थी. मैं अपने घुटनों पर होकर अपना अंडरवियर उतारने लगा, तो उसने झट से नीचे कर दिया और मेरा लंड हाथों में पकड़ कर मसलने लगी और चूमने लगी.

फिर अचानक से ही अनामिका अकड़ने लगी और उसने प्रियंका का सर पकड़ कर अपनी चूत में धंसा लिया.

इसलिए मैंने खाने की चीजों को जानने या उस विषय पर सोचने में समय नहीं गँवाया, बस स्टाल में खड़ी लड़की से पूछा- सादा खाना भी है या नहीं?तो उसने एक ओर इशारा किया. मैं कभी गीत के एक मम्मे को चाटता और फिर कभी दूसरे को चाटता और साथ में उसके मम्मों को चूस भी रहा था. मन में तो मेरे भी, बहुत बार आया कि कोशिश करूं, लेकिन कपिल से पक्की दोस्ती होने के कारण मैंने कभी ऐसा नहीं कर पाया.

कुछ देर तक भाभी की चूचियों को चूस कर मजा लेने के बाद मैंने उनकी चूचियों पर बहुत सारा शहद डाल दिया. मैंने भी निशी की बात को ध्यान से सुना और सिक्के के दूसरे पहलू को देखना शुरू किया. हमें देख कर नीचे से संजय ने गीत की चूत में अपने लंड का एक जोर का झटका लगया और बोला- ले चुद साली, निकाल अपना रस मेरे लौड़े पर… ले… उफफ्फ…।मैंने अंदाजा लगया कि संजय ज्यादा उतेजित हो गया है तो मैंने थोड़ा रोकने के लिए संजय को कहा- अब मैं साली को नीचे से चोदता हूँ.

जब कोरोना के कारण लॉकडाउन हुआ था तो मैं अपने घर से बहुत दूर एक शहर में काम कर रहा था. फिर मैंने उससे कहा कि मैं थोड़ा बिजी हूँ … आपसे बाद में बात करूं!वो बोली- हां हां प्लीज़.

रमेश रिया से बोला- देख ले, अब से तू सिर्फ एक रंडी है और तेरा काम मेरी सेवा करना है. हालांकि एक हफ्ते तक मेरी सूरज से कोई बात नहीं हुई, क्योंकि मैं सोच रही थी कि वो माफी मांगेगा. वो एक बार मेरे लंड को देख रही थी और दूसरी बार मेरे मुंह को देख रही थी.

मैं- अच्छा, मैं चलता हूँ, मुझे होटल से खाना भी खाना है … नहीं तो होटल बन्द हो‌ जाएगा.

‘आहह आह ओह … चोदो मुझे और चोदो … आह आहह!’उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया. रिया- आह डैड … तुम्हारा लंड कितना मस्त है! बहुत मजा आता है मुझे इसे चूसने में … आह्ह … उम्म … मच … मच … अम्म … आह्ह।रमेश रिया के पास गया और उसके बालों को आगे से खींच कर उसके होंठों पर अपने होंठ लगा दिये और उनको किस करने लगा. फिर भी अनजान सा बनकर मैंने बोला- भाभी मैं समझा नहीं कि हफ्ते में एक बार ही ध्यान रखता है … इसका क्या मतलब हुआ?भाभी बोलीं- इतने अनजान मत बनो कि समझे नहीं … तुम सब समझते हो.

प्रमिला ने चलती गाड़ी में लंड के ऊपर बैठने के लिए खुद को पॉटी करने की स्टाइल में सेट किया और पीछे से एकता मेरे लंड को पकड़ कर प्रमिला की हेल्प करने लगी. दोस्तो, मैं आपको बताना भूल गया था कि भाभी के एक लड़का भी है, जो अभी अपने नाना के घर गया हुआ था.

बिल्कुल निश्चिन्त होने के बाद एक बार मैंने नर्स रूम में जाकर देखा तो पाया कि वो सब अपने रूम को अन्दर से लॉक करके सोई पड़ी थीं. वो इतनी चुदासी हो गयी कि उसने रमेश को नीचे पटक लिया और खुद ही उसके लंड के ऊपर बैठ कर उसके लंड पर कूद कूद कर चुदने लगी- आह्ह … ओह्ह यस बेबी … आह्ह फक मी … आह्ह उम्म … आह्ह … मर जाऊंगी मैं … हह याल्ला।उसका ऐसा रूप देख कर रमेश भी अपने वीर्य वेग को नहीं रोक सका और उसने पांच मिनट में ही अपना सारा वीर्य रेहाना की गांड में खाली कर दिया. नंगी आंटी की गोरी, केले के तने जैसी टांगें, मोटी गुदाज़ जांघें और उनके बीच में बहुत ही सुंदर चूत मुझे दिखाई दी.

रोमांटिक वाला सेक्स वीडियो

सौरभ- तुम नाराज नहीं हो?मैं- यदि तुम मेरा साथ दोगे तो मैं नाराज नहीं हूँगी.

सनी बोला- मासी, आप कॉल पर ही रहना और सुनना दीदी क्या क्या करती हैं. हम दोनों सोफे पर बैठे प्लान कर रहे थे कि पब में कैसे कैसे चुदना है. लेकिन मैं विजय की बांहों से निकलकर बाथरूम में गई और बैठकर पेशाब करने लगी, पेशाब की धार की आवाज बता रही थी कि चूत पूरी खुल चुकी है.

कुछ देर यूं ही देखने के बाद मुझसे रहा नहीं गया और मैंने हिम्मत करके उसके पेट को छू लिया. मैंने कहा- बहुत दिनों से मेरे अन्दर ही इच्छा थी कि आपके साथ मुझे थ्री-सम करना है. एक्स एक्स एक्स मेवाती बीएफगीतिका उठकर बेड पर बैठ गई और अपनी टांगें चौड़ी करके चूत की तरफ देखने लगी.

वह मेरा हाल-चाल पूछने लगी तो उसको अपने स्तन के आपरेशन वाली बात बताने लगी. मैंने उनसे रुकने का पूछा … तो उन्होंने कहा कि आप मेरे घर में ही रुक जाना, आपको कोई दिक्कत नहीं होगी.

उसकी गोरी कमर पर वो लाल पैंटी देखकर मेरी नजर तो वहीं पर उलझ कर रह गयी. मैं मन्त्र मुग्ध सा होकर बिना कुछ किए बस शायरा के बदन को ही देख रहा था, मगर मुझे अब कुछ ना करते देख शायरा ने एक बार अपनी आंखें खोल कर देखा और जब मुझे अपने बदन ऐसे घूरते पाया, तो उसने फिर से अपनी आंखें बंद कर लीं. मेरे इतना सुनते ही गीत बोली- आराम करने के लिए तो हमारे घर भी हैं रूम.

मैंने भाभी को बांहों में लेकर लन्ड अंदर किये किये साइड में ले लिया और चादर ऊपर ले ली. [emailprotected]भाभी की बुर की कहानी का अगला भाग:लॉकडाउन में मस्त पड़ोसन की चुदाई- 3. मैंने पूछा- मेरे पास!उन्होंने मुस्कुरा कर कहा- पहले तुम पियो तो सही.

अन्जना- ओहो … रिलेक्स डियर! मैं भी तुम्हारा लंड देखना चाहती हूं मगर पहले हम एक दूसरे को जान तो लें! ऐसा क्या देख लिया तुमने जो तुम्हारा ये लंड ऐसे परेशान कर रहा है तुम्हें?मैं- यार … बहुत दिन हो गये हैं … तुम्हारे जैसी हॉट सेक्सी गर्ल बहुत दिनों के बाद देख रहा हूं.

दीपिका ने अचानक से अपने एक पांव को दूसरे पर रखा और अपनी जांघों को भींच लिया. तुम दोनों आपस में मिले और एक दूसरे को प्यार करते हो इससे मैं भी बहुत खुश हूं!अब मैं बच्चों के साथ विजय की कार में सवार हो गई और निकल पड़ी जयपुर के लिए!काफी देर चलने पर विजय ने कार एक ढाबे पर रोकी और दोनों बच्चों को पैसे देकर पानी की बोतल और कुछ चिप्स वगेरह और उनके लिए जो भी उन्हें पसंद हो लाने भेज दिया.

उसकी चूत की फांकें आपस में सटी हुई थीं, पर पैर फैलाने की वजह से थोड़ी जगह बन गई थी. संजय ने गीत को अपनी बांहों में लपेटा हुआ था और मैंने नेहा को अपने आगोश में लिया हुआ था. इसके आगे उसके साथ प्रेम और सेक्स कहानी में क्या हुआ, ये अगले भाग में लिखूंगा.

दोस्तो, मैं रवि अपनी कनाडा से आई देसी दोस्त की चूत चुदाई की कहानी का अगला भाग आपके सामने लाया हूं. आंखें पानी से भर गयीं लेकिन उनके चेहरे पर एक संतुष्टि सी आ गयी थी लंड को चूत में लेकर. सनी ने फोन स्पीकर ऑन करके मुझे फोन दिया और मुझे पीछे से जाकर अपनी बांहों में दबोच लिया.

सेक्स बीएफ एचडी हिंदी अब तो मुझे बहुत मजा आने लगा और मैं आह्ह … आह्ह … की आवाजें करते हुए भाईजान के लंड से चुदने लगी. कभी वो मेरी जीभ अपने मुँह में लेकर चूसतीं और कभी अपनी जीभ को मेरे मुँह घुसा देतीं.

सेक्सी ओपन ओपन

परंतु भैंसा ने कोई दया नहीं दिखाई और अपने चूतड़ों को जल्दी जल्दी आगे पीछे करके चोदने लगा. मैंने थॉमस को एक स्माइल दी और उसे हग करते हुए बोला- आखिरकार हमारा प्लान सफल हुआ … अब तुम मुझे रोहन के सामने चोद सकते हो. मैंने उसको सौ रुपए देकर कहा- कुछ चाय और बिस्कुट ले आओ … रात वाले गार्ड का नाम लेकर उसे बताया.

वो बिना कुछ सोचे मेरी बांहों में आ गईं और अगले ही पल मुझसे दूर होकर अपने शयन-कक्ष (बेडरूम) में ऊपर चली गईं. मैंने अपना व्हाट्सएप नंबर उसे दे दिया और गुड नाईट बोल कर आगे बढ़ गया. बीएफ इंग्लिश चित्रपटतो उन्होंने भी मुझे बोल दिया था कि आप उन सब बातों के लिए निश्चिंत रहिए.

तू इसके ऊपर चढ़ कर इसे एक बार मस्त भर कर दे, बाकी मैं तो तेरे साथ हूँ ही … साली की चुत में लंड पेल कर इसे भी मजा दे दूंगा.

बिना चूत चोदे मुझे रात में नींद कहां आती।पिछले रात मैंने अपनी बुआ के बेटे दीपक के साथ बुआ की बेटी रीना की जबरदस्त चुदाई की थी. यह कहकर उसने मेरे दोनों कपड़े अपने हाथों से निकाल कर मुझे नंगा कर लिया और अपना प्लाजो उतारने लगी.

घोष बाबू मना करने लगे तो दीपिका ने उन्हें इशारे से चुप करवा दिया और कहने लगी- जी सर, हम चाय पीकर ही जाएंगे. अभिषेक दिखने में तो बहुत स्मार्ट था ही … साथ ही उसकी बॉडी भी बहुत मस्त थी. भाभी- हां यार, उसमें ताक़त तो है पर कभी मेरी मुनिया को चूसता ही नहीं है, बस सीधा पेल कर सेक्स करने लगता है.

बस अंदर जाने की देर है, तुमको खुद मजा आएगा।”ऐसा बोलते हुए उन्होंने मेरे पैरों को अपने हाथों में फंसाया.

फिर पैंटी के ऊपर से ही उसकी चुत को छूने की कोशिश की तो उसने भी उत्तेजना में अपनी टांगें थोड़ी सी खोल दीं. मैंने दूसरी ब्राण्ड पसन्द की और गार्ड को बोला कि आप भी पीने वालों में से हैं. इतना कह कर वो मेरे खड़े लंड के ऊपर आकर बैठ गई और फिर से मर्दों की तरह मेरी चुदाई करने लगी.

देहाती चुदाई सेक्सी वीडियो बीएफपहले तो वो मेरे हाथ को हटाती रही लेकिन फिर उसने विरोध करना बंद कर दिया. एक बार की बात है, मुझे एक फोन आया कि उनको एक कार और ड्राईवर की आवश्यकता है.

वीडियो में सेक्सी फिल्म दिखाइए

मैं भी कुछ सोच कर चुप हो गया और थोड़ी देर बाद मैंने भी अपनी बांहें नैना की पीठ के इर्द-गिर्द डाल दीं. उसको ढांढस बंधाते हुए मैंने चुप कराया और दो चार औपचारिक बातें की कि सब कुछ ठीक हो जाएगा. मैं इतनी जोर से उनके मम्मों को दबा रहा था कि उन्हें दर्द होने लगा था.

चूंकि लैपटॉप गारंटी पीरियड में था तो मैंने उससे एक कागज पर साइन करवाए और मैं वहां से अपने ऑफिस चल दिया. अब गीत की चूत और गांड दोनों में हमारे लंड घुसे हुए थे और गीत हम दोनों के बीच सैंडविच बनी हुई अपनी जवानी के मज़े ले रही थी. मेरी पिछली कहानी थीबेटे से चुदवा कर अपना यार बना लियाआज मैं आपको मेरे ही पहचान की एक जवान लड़की की कहानी बताऊंगी.

उससे छूटने के बाद मैंने उसे प्यार से देखा, तो वो भी मुझे नजर भर कर देखने लगा. उनकी बात सुनकर मैं जोरों के धक्के मारता हुआ उनकी चूत में ही झड़ गया. इतने में वो मुझसे दूर होकर बोलीं- ये तुम क्या कर रहे थे?मैंने बोला- आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो.

शाम के 6 बजे हमारे घर की बेल बजी और रोहन और मैं ऊपर से नीचे लिविंग एरिया में आ गए. यह कहानी मेरी असल जिन्दगी में हुई घटना पर ही आधारित है जो किसी सपने की तरह एकदम से खत्म भी हो गयी.

एक बार जब मैं उस दोस्त के घर गया तो …हाय फ्रेंड्स, अन्तर्वासना पर मैंने बहुत सी कहानियां पढ़ी हैं.

मगर मैं सासू माँ को छोड़ कर बाहर रात नहीं बिता सकती थी इसलिए मैंने उसे बाहर जाने के लिए मना कर दिया और फिर किसी दिन मिलने को कहा. मराठी देसी सेक्सी बीएफमैंने गीतिका से पूछा- तुम्हारे हसबैंड का लण्ड कितना बड़ा है? और तुम्हारी सेक्स लाइफ कैसी है?गीतिका कहने लगी- यदि मेरे हसबैंड का लण्ड किसी काम का होता या मेरी सेक्स लाइफ रंगीन होती, तो क्या तुम्हें मेरी चूत इतनी साफ और चमकीली मिलती? मेरे हसबैंड का लण्ड नहीं है, उसकी तो लुल्ली है और वह भी मौके पर काम नहीं आती. बीएफ सेक्सी जानवर वालेमेरा लंड उसकी चूत को चीरता हुआ अन्दर घुस गया।वो ‘अआह हाय … ऊई ईल्ल्ला ल्ल्ला अम्मी … मर गई’ चिल्लाने लगी और पैर पटकने लगी. मैं ऊपर आया और रिसेप्सन पर मैंने पूछा तो मुझे बताया गया कि वो अभी क्लास में हैं.

भाभी भैया को नशे में टल्ली देख कर मेरे पास आईं और बड़बड़ाने लगीं- बस इनको तो दारू के नशे में मजा आता है.

तभी धीरू अंकल झड़ने वाले थे तो उन्होंने अपने लंड को मेरे मुंह में जोर से दबा दिया और फिर धीरे-धीरे धक्के देकर वे उन्होंने अपना सारा पानी मेरे मुंह में निकाल दिया. लिंग की मोटाई से मेरी कराहें कम ही नहीं हो रही थीं क्योंकि कविता निरन्तर दबाव डाल रही थी और उसकी कमर में बंधा नकली लिंग हल्के-हल्के से मेरी योनि को चीरता हुआ भीतर प्रवेश कर रहा था. वह रह रह कर मेरे सिर को पकड़ती और मेरे मुंह को चूत के ऊपर दबा रही थी.

मैं भी फुल स्पीड से चोदने लगा।उसने मुझे बताया कि वो इससे पहले कंपाउंडर औरडॉक्टर का लंडले चुकी है और उसका पति भी उसे खूब चोदता है।लेकिन 1 महीने से आज उसे लंड मिला है वो बहुत खुश थी।अब मैं बिस्तर पर लेट गया और लन्ड पर उसको बैठने को कहा. डिल्डो और लंड में फर्क होता है लेने में।तब तक गीत ने नेहा के दोनों कन्धों को पकड़ कर नेहा की चूत में डिल्डो डाल दिया था और गीत अब अपना डिल्डो नेहा की चूत के अंदर ही अंदर करती जा रही थी. मैंने पूछा- और दूसरा?निशी बोली- और दूसरा ये होता कि मैं उसके साथ खुशी खुशी सेक्स कर लेती.

फुल सेक्सी फिल्म वीडियो

मैंने लाइट ऑन कर दी तो दादी शर्मा गईं और चादर ओढ़ कर बोलीं- लाइट ऑफ कर दो. बूढ़े की हाइट मुझसे कम थी और उसका चेहरा मेरे मम्मों तक ही पहुँच रहा था. लंड चुत में फंसा कर भाभी बिल्कुल धीरे धीरे आगे पीछे गांड रगड़ते हुए चुदने लगीं.

आखिर मम्मी मेरी भलाई के लिए ही कह रही थी।तभी डाक्टर साहब उठे और दूसरे कमरे के अंदर चलने को कहा.

वो दोनों एकता और प्रमिला के पास आ गयीं और दो दिन तक मैंने सबको साथ में चोदा.

इतने में वो अपनी छत के सामने उठी दीवार से लगकर सामने किसी से बातें करने लगी. कुछ मस्त चूत वाली पाठिकाओं ने भी मुझे जो प्यार दिया, उसके लिए मेरे सात इंच लंबे और 2 इंच मोटे लंड का उनकी मचलती चूतों को रगड़ भरा प्यार. गोदान की बीएफअगर आप ऐसा करने में कामयाब हुए, तो आपकी ज़िंदगी और रिश्ते में बहुत सुधार होंगे.

इस कहानी की नायिका है मेरे चाचा के शहर की एक बहू जिन्हें मैं भाभी कह कर संबोधित करता हूं।उनका नाम दिव्या है और फिगर साईज 34-28-36 है जो अच्छे अच्छे चोदू लंडों का पानी 2 मिनट में निकाल दे. उनकी आंखों पर, होंठों पर, लंबी सी गर्दन पर, फिर उनकी रसभरी चुचियों पर मेरे होंठ कलाबाजी दिखाने लगे. क्योंकि मैं मेरे चाहने वालों को और प्रशंसकों को अच्छी तरह जानती हूं कि उनको विस्तार से बताना पड़ेगा.

[emailprotected]हिंदी चुदाई कहानेया का अगला भाग:तन्हा चूत की प्यास लंड से बुझी- 2. ”यार … देखो सारी रात तुम्हारा इंतज़ार किया और अब तुम और इंतज़ार करने का बोल रही हो … प्लीज!” मैंने उसकी मिन्नतें करने सफल अभिनय किया।ओह … आप भी पूरे जिद्दी हो.

जब मेरी आँख खुली तो मैं बेड पर अकेला नंगा पड़ा था और मेरे ऊपर एक चादर ढकी थी.

रोहिणी और निशि के ग्रुप के बाकी लोग भी दो-दो के ग्रुप में अलग अलग कमरों में रुके हुए थे. आप बताओ कि मुझसे कहां मिल सकती हो?मैंने कहा- ठीक है, आप दिल्ली आ जाओ. तभी मेरे सामने खड़े एक लड़के ने मुझे देखा और उसने मुझे आगे आ जाने के लिए कहा.

साल की लड़की के साथ बीएफ बाभी Xxx हिंदी कहानी का अगला भाग:बंगालन भाभी को फ्लैट दिला कर चोदा- 3. मैं समझ चुका था कि बाथरूम में ज्यादा देर रहने का मतलब है … रंगे हाथ पकड़ा जाना.

दीपिका की हालत देख संजना बोली- अरे राज जी, कुछ लो न, आप तो कुछ खा ही नहीं रहे हो?फिर वो दीपिका की ओर देखकर बोली- दीपिका, सर्व करो न!दीपिका उठी और टेबल के ऊपर से मेरी ओर झुककर मुझे खाने को देने लगी तो ऐसा लगा जैसे उसके मम्मे मेरे ऊपर ही गिर जाएंगे. जब चुदाई पूरी हो गई तो भाभी ने अपनी टांगें नीचे उतार ली और एक लंबी आह भर कर बोली- ओह माई गॉड, तुम तो असली चोदू हो. अब मुझे भी उसका इंटेरेस्ट बनाए रखना था, पर इसके लिए मुझे आराम से काम लेना होगा और धीरे धीरे स्टेप बाइ स्टेप आगे बढ़ना होगा.

गन्दी शायरी हिंदी में लिखा हुआ

दोपहर में जब लंच टाइम होने वाला था तो कस्टमर उस वक्त काफी कम हो गये थे. फिर उन्होंने अपने लंड को चूत में से बाहर निकाला और मेरे मुंह में दे दिया. कोई 5 मिनट उनके बदन को निहारने मात्र से ही मेरा लंड तम्बू बन चुका था.

मेरी फुद्दी तो पहले से खुली पड़ी थी, बूढ़े का लंड एक ही झटके में मेरी फुद्दी में समा गया. पर जब मैंने उन्हें चुप कराने की कोशिश की तो वो खड़ी होकर खुद ही मेरे सीने से लग कर रोने लगीं.

तो मनीषा भाभी बोलीं- मुझे सोनिया ने (मेरी बीवी का बदला हुआ नाम) सब कुछ बता रखा है कि तुम हफ्ते में पांच दिन उसको नहीं छोड़ते हो.

मैंने देखा कि मेरी चूत फट गयी थी और चुदाई वाली जगह पर कुछ खून टपक गया था. मुझसे गलती हो गयी।रमेश- ग़लती हो गयी! क्या तुम्हारे बाप रहमान को यह पता है?रेहाना- नहीं अंकल. दोस्तो, मेरा नाम रूपा है और मैं बस्ती जिले (उत्तर प्रदेश) की रहने वाली हूँ.

उन्हीं में से एक लाइट ब्राउन सूट पहनते हुए मैंने नेहा का दिया कार्ड उठाया और कॉल किया- लंच की व्यवस्था क्या है?इस पर नेहा ने कहा- सर, मैं आपके रूम के पास ही हूँ. और हम लोग दीपक के आने का इंतजार कर रहे थे।दीपक के आते ही रंजु खाना खिलाने की तैयारी में जुट गई. मैंने भाभी से पूछा- कहां निकालूं?भाभी ने कहा- मेरी जान इस गांड का उद्घाटन आपने ही किया है … तो अपने माल से मेरी गांड को भी निहाल कर दो.

हर किसी की जिन्दगी में अपने अपनी परेशानियां होती हैं … और हर एक मनुष्य उस परेशानी मैं अपनी खुशी ढूंढना चाहता है.

सेक्स बीएफ एचडी हिंदी: जिन पाठकों ने मेरी उस सेक्स कहानी को नहीं पढ़ा है मैं उन्हें अपने परिचय दे देता हूँ. मैंने उनसे कहा- मैंने आपको पहले ही बोला था कि आपको किसी बात की कमी नहीं रहने दूंगा.

कुछ आधा मिनट के बाद मैंने कहा- और कितनी देर लगेगी?तभी मेरे होंठों पर किसी के होंठ टच हुए. बहुत ज्यादा देर नहीं हुआ था कि रश्मि ने अपनी कमर को हल्का सा ऊपर उठाया और रिलेक्श पोजिशन पर निढाल होकर मेरे लंड को चूसने लगी. मैं- हाईय शशि … तुम्हारा बदन भी तो मस्त है जानेमन … कितनी गोरी हो तुम, मस्त चुचे है तुम्हारे और चूतड़ों की तो पूछो ही मत … तुम्हारी चूत में लंड जा रहा है, ऐसा तो लग रहा है, जैसे बस यही जिंदगी है.

बल्कि मैं तो चाहती थी कि वो मुझसे अच्छी तरह से टच हो जाए क्योंकि वो दिखने में काफ़ी हेंड्सॅम और जवान था.

आंटी कहने लगी- राज, तुम चलो ऊपर, गीतिका थोड़ी देर में तुम्हारा दूध लेकर आ जाएगी. मैंने भाभी की नाइटी को ऊपर उठाया और भाभी के मम्मों को बुरी तरह से मसलने लगा. मैं- कोरियर शायद आपके पति ने भेजा है ना? लगता है सर बहुत प्यार करते हैं आपसे?वो- हां.