चूत की चुदाई इंग्लिश बीएफ

छवि स्रोत,चिकनी चूत दिखाओ

तस्वीर का शीर्षक ,

पोर्न सेक्स वीडियो: चूत की चुदाई इंग्लिश बीएफ, मैंने झुक कर प्रिया के होंठों पर एक चुम्बन लिया, फिर धीरे से एक एक चुम्बन दोनों कपोलों पर लिया… एक ठोड़ी पर, एक गर्दन के बीच में ज़रा बायीं और दूसरा ज़रा दायीं ओर…प्रिया की गहरी साँसों में अब आनन्दमयी सीत्कारें निकलने लगी थी.

गुजराती सेक्सी वीडियो साड़ी वाली

वे मेरी पीठ पर बड़े प्यार से हाथ फेरते हुए मुझे और तेज चोदने के लिए कहे जा रही थीं. सेक्सी वीडियो ब्लू फिल्म दिखाइएअभी मैं झड़ता तो 10 मिनट लंड को तैयार होने में फिर से लगते, तो इसलिए मैंने सोचा कि अभी चूत चोदना सही रहेगा.

जैसे ही मैंने शावर चालू किया, गर्म पानी मेरे जिस्म पे गिरने लगा, जो मुझे बहुत आराम पहुंचा रहा था. राजस्थानी xxआप जानेंगे तो मदहोश होकर पागल हो जायेंगे, खुद पर कंट्रोल नहीं कर पायेंगे… और मुझे देखने के बाद तो आप रह ही नहीं पाओगे! यह दावा है मेरा!मेरी हॉट सेक्स कहानी आपको कैसी लगी? आप मुझे मेरी मेल आईडी पर मेल कर के बता सकते हैं।[emailprotected].

मैंने उसकी टी-शर्ट को उसकी निप्पल के ऊपर कर दिया और मैं उसके निप्पल के उभार को अपने फेस पर फील करने लगा.चूत की चुदाई इंग्लिश बीएफ: मैंने कहा- पागल… रोया मत कर! रोते हुए कोई अच्छा नहीं लगता!और मैं उसको समझाने लग गया.

नमस्ते दोस्तो, मैं किरण एक बार फिर से अपनी पिछली सेक्स कहानी का अगला भाग लेकर आया हूँ.एक दिन जब मैं अपने कॉलेज से लौट रहा था, अचानक मैंने दी को अपने आगे चलते हुए देखा.

सेक्सी छोडा छोड़ी - चूत की चुदाई इंग्लिश बीएफ

ये कहते हुए वो लेट गया और मुझे अपनी ओर खींचते हुए अपना लंड मेरे मुँह में दे दिया.जैसे ही वे बाहर आये, मैं उनसे लिपट गई और हौले से फुसफुसाकर उन्हें कहा- आज मुझे मना ना करें… नहीं तो मेरी जान चली जाएगी!अब तक लंड चूसने से उनका लंड भी खड़ा हो गया था, उन्हें भी चूत की जरूरत महसूस होने लगी थी.

सेजल भाभी की नाभि को चूसने के बाद मैं आगे बढ़ा और सम्भाल कर उनकी ब्रा बचाते हुए पूरी ड्रेस काट दी. चूत की चुदाई इंग्लिश बीएफ तभी पूजा का फोन आया, तो भाभी ने कहा- पूजा, संभाल अपने अमित के लंड को, साले ने बहुत परेशान कर रखा है.

लंड पूरा मुँह में रख के जुबान से लंड की जड़ तक के हिस्से को चाटने लगी थी.

चूत की चुदाई इंग्लिश बीएफ?

बहरहाल कम्लीट चेक होने के बाद जब डॉक्टर अपना नोट पैड समेटने लगा तो नीना ने बीच में टोका- सर, ब्रेस्ट चेक अप प्लीज!जवाब में डॉ भगत मुस्कुराते हुए केवल ‘ओके’ बोल सके. मेरी अंतरात्मा मुझे कचोट रही थी कि पूनम अभी भी समय है उसको बचा ले, उस बेचारी ने तुम्हारा कुछ नहीं बिगाड़ा है, वो तो तुम्हें अपनी हमदर्द और बड़ी बहन की तरह से मानती है. आंटी ने कहा- मैंने अपना रस बहुत बार पिया है, पर आज जिस तरह से तुमने पिलाया है, उससे बहुत मज़ा आया है.

मुझे बहुत मज़ा आ रहा था क्योंकि किसी ने भी आज तक ऐसे बाँध कर मेरी चुदाई नहीं की थी. अगले दिन माँ ने मुझ को बुलाया और बोली- तुम मेरे कमरे में क्यों आई थीं?मैं बनने की कोशिश करते हुए बोली- कब?माँ- कल जब मैं बाहर गई हुई थी और अगर तू आई भी थी तो मेरी चीजों से छेड़छाड़ क्यों की?जब मैंने कहा कि मैं तो आई ही नहीं. वो नीचे उतर कर मेरे लंड को पकड़ कर खींचने लगीं, फ़िर वो सोफे के नीचे घुटनों के बल बैठ के मेरा लंड चूसने लगीं.

मैंने देखा कि भाभी नजर नीचे करके मेरे लंड महाराज को फूलता हुआ देख रही थीं और मेरी नजर भाभी की चुत पर और चुचियों पर टिकी हुई थी. पर मैं इस बात से डर गया था कि जब उसका लंड बिना खड़े ही इतना मोटा और लंबा है, तो जब खड़ा होगा तो कितना मोटा और लम्बा होगा. अब तक मेरी सेक्स स्टोरी ले पिछले भाग में पढ़ा था कि मेरी सौतेली माँ बिंदु ने मेरी चुत की सील तोड़ने के लिए अपनी मेरे सौतेले भाई को कह दिया था.

मैं जब रात को रूम पर आया तो मैंने टीवी पर एक ब्लूफिल्म चला दी, जिसे देख कर मुझे चुत चोदने का मन करने लगा. अब मैं चाची की चुत की चुदाई करता हुआ उनकी चुचियों के साथ खेल रहा था.

उसने किचन में आने के बाद भी अपने कपड़े नहीं पहने थे और नंगा ही बैठ कर दारू पी रहा था.

मैं शाम को 7 बजे अपने कमरे की छत पर घूम रहा था कि मेरे मकान मलिक ने मुझे आवाज़ दी और नीचे बुलाया.

जीजा बोले- आज वन्द्या… तुम बहुत हॉट लग रही हो एक नंबर की, तुम पूरा मन बना कर आज मेरे मकान मालिक से चुदवाने आई हो! क्या मस्त सेक्सी ड्रेस पहना है, मुझे नहीं दोगी क्या?मैं कुछ नहीं बोली. उन्होंने मेरे लंड पे तोला बाँध कर मुझे बोला- अब तू ट्रेडमिल पे जा स्पीड को 20 पर सैट करके दौड़ना स्टार्ट कर. अचानक वो उठा और अपने दोनों हाथों से मेरी चूत को चौड़ा करके अपनी जीभ मेरे छेद में घुसा दी.

कमरे से निकल कर सामने चाय की दुकान पर बैठ के चाय ऑर्डर की और मोबाइल में गेम खेलने लगा. इसलिए उसके लंड को अन्दर जाने में ज़रा भी प्राब्लम नहीं हुई… बस मुझे जरा सा दर्द हुआ. भाभी इस वक्त काम की देवी लग रही थीं, उनका जिस्म किसी अनजानी खुशबू से महक रहा था.

उसकी जांच नहीं करानी है क्या?उसका जवाब था- उसमें तो बस तुम्हारा लंड ही जाता है रोज़ रोज़ और कुछ नहीं है.

मैं अपनी शादीशुदा लाइफ में बहुत खुश हूँइस साइट पर ये मेरी पहली सेक्स स्टोरी है. मैथ्स को छोड़कर बाकी सारे सब्जेक्ट्स का मैं टॉपर था और रिमझिम मेरी बेस्ट कम्पटीटर थी. हम लोगों ने विशाल शीशे की खिड़की के सामने चार कुर्सियों वाली सीट चुनी थी.

उसने भी अपनी टाँगें खोल कर मेरे लंड का स्वागत किया और मैंने अपने लंड का सुपारा उसकी चूत के मुंह पर रख दिया और झटका मारा. और सबसे बड़े छेद को निशाना बना लिया आर्थर ने, और बिना किसी दया के उसमें अपना भसंड लंड घुसा कर मेरी बेचारी पत्नी के होंठ, दांत, जीभ, हलक ठोकने लगा. उसकी एक जोरदार चीख निकली- अह… अह… आआहह… हह… मर गई…उसकी आंखों से आँसू बहने लगे, वो कहने लगी- आह… तुमने तो मार ही दिया… धीरे नहीं डाल सकते थे… अभी तक मैं ज्यादा नहीं चुदी हूँ… साले मेरी प्यारी चूत पूरी फाड़ दी तुमने…मैंने धक्का देते हुए कहा कि मुझे वाइल्ड सेक्स पसंद है… मैंने पहले ही बोला था.

मस्त भरी हुई चूत थी… मोटी मोटी जांघों के बीच दबी हुई थी, मैं बोली- लग रहा है भाई साहब चोद नहीं पाते हैं इसे!वो बोली- नहीं यार, ये तो तरसती रहती है यार लण्ड लेने को! तुम अपना प्लास्टिक वाला लण्ड ले आओ, उसे ही डाल दो आज इसमें… और मिटा दो इसकी प्यास!फिर मैं उठी और अलमारी से अपना डिल्डो यानी रबड़ का नकली लंड निकाल लाई और फिर मैंने अपनी चूत पूनम के मुँह पे रख दी और पूनम की चूत को मैं चाटने लगी.

मैंने अपने लन्ड को बहू की चूत में पड़ा रहने दिया और पूजा को किस करने लगा. मेरी भी टांगें तो थीं मगर मैं कहीं भी जा नहीं सकती थी क्योंकि नंगी रखी गई थी.

चूत की चुदाई इंग्लिश बीएफ अंकल ने फोन उठाने के बहाने मेरे लंड को स्पर्श किया और फोन में टाइम देख कर वापस रखने लगे और बोले- क्या बारिश हो रही है जो फोन टांगों के बीच में रखता है. वो तो इंतज़ार ही कर रहा था कब दरवाजा खुले और कब वो अन्दर कर मुझे चोदे.

चूत की चुदाई इंग्लिश बीएफ ” वह बोला।अच्छा!”तनिक आराम से पीजिये… पहली बार पी रही है ना… आराम से मजा लीजिये. इस तरह उन सास बहू की चुदाई चलती रही और उसके बाद मैंने और भी बहुत सारी आंटी और भाभी लोगों की चुदाई की है.

खैर रात को मैं बिंदु के पास पहुँच गई और बोली- मैं भी आज तेरे साथ ही चंदर के पास चलती हूँ, देखती हूँ कि वो तुम्हारी आज कैसे बजाता है.

హలో సెక్స్

अगर तुम्हारा भाई भी काम करना चाहिये तो मैं उसे भी यहाँ पर लगवा दूँगी. उसने मुझे इस तरह से बिठाया था कि उसका पूरा लंड मेरी चुत में घुस गया. कामिनी विवेक के लंड पर उछलते हुए बोली- नहीं आना चाहिए क्या जी?तभी उसका ध्यान मेरी तरफ गया और बोली- तुमको बहुत मजा आता है साले चुदाई देखने में… चल सर नीचे कर के मुर्गा बन जा.

मेरी देसी इंडियन सेक्स स्टोरी पर मुझे आप लोगों के प्रति उत्तर का इंतज़ार रहेगा. फिर उन्होंने मेरे लंड पर जैली मली और खुद अपनी गांड को मेरे लंड के हवाले कर दिया. दस मिनट बाद मैं उनकी गांड पर आया और चिकनी गांड पर तेल ही तेल लगा कर उनकी गांड को पूरी मस्ती से दबाने लगा.

वो अपनी कार में गाना बजा रहा था और कभी कभी वो मेरी चूची को भी दबा रहा था.

मैंने देर न करते हुए उसे सीधा लिटा कर उसकी गांड के नीचे तकिया लगा कर जो अपना लंड उसकी चूत में डाला, तो फक की आवाज़ के साथ लंड सीधे चूत की दीवार को चौड़ा करता हुआ पूरा अन्दर तक चला गया. चार कदम चल कर मैं बेड पर बैठ गई और बोली- तुमने मेरी चुत का जो पकौड़ा बना दिया है, वो इसकी राह का पूरा रोड़ा बन चुका है. अगले दिन कॉलेज में मिली तो मैंने पूछा- पट्टी करवाई?ऋतु- नहीं…मैं- क्यों?उसको घुटने के थोड़ा ऊपर चोट आई थी.

भोले राजा इतना ज़्यादे पकवान खाओगे तो बदहज़मी हो जायगी… मेरी लाडो तेरी ही तो अमानत है… कहीं भागी जा रही क्या… अब थोड़ा आराम कर महाबदमाश भोले राजा जी. एक दिन मैं सुबह सुबह उनके घर गया तो भाबी नीचे झुक कर पौंछा लगा रही थीं. कुछ वक़्त की चटाई से दोनों का पानी एक दूसरे के मुँह में ही निकल गया था.

करीब बीस दिन बाद उसने रात को मुझे फोन किया और बोली कि सर बहुत बड़ी प्राब्लम हो गई है. शुरू में मुझको थोड़ा अजीब लगता था, पर वो सिर्फ अपने में मगन रहते थे, तो मैं भी कुछ बोलता नहीं था.

एक दिन जब मैं बिल्डिंग में उससे टकराया तो उसने मुझे एक कातिल सी स्माइल दी. मैंने बगल के पड़ोसी, जो कि उसी मकान में रहता है, के यहाँ गया और उसे आवाज़ दी. एक या दो घंटे ही बीते होंगे कि ज्वाइनिंग करने के लिए उसका फ़ोन आ गया.

मुझे बड़ा अजीब लग रहा था, लेकिन मैंने पूरी हिम्मत करके उन्हें पूरी तरह से चूम कर, चाट कर और चूस कर चरम सीमा तक पहुंचा दिया.

उनमें से इतनी मादक और मस्त खुशबू आ रही थी कि मैं 5 मिनट तक तो उनको सूंघता ही रहा, फिर मैंने ब्रा को अपने लंड पर रख कर मुठ मारी. मेरी चूत और गांड को छोड़ के वो हर तरह से मेरे शरीर के जरिये अपने लंड को वो तसल्ली दे लेना चाहता था. वो मुझे मस्ती से चोदे जा रहा था और मैं सिसकारियां लेकर गांड को पीछे धकेलते हुए उससे चुदवा रही थी.

मैं जब भी बोर होती तो मेरा देवर मेरे बेडरूम में आकर मेरे साथ मजाक किया करता था. मगर एक बात सुन लो, उसे मैं अपनी मर्ज़ी से नहीं उसकी अपनी मर्ज़ी के साथ चुदवाने वाली थी.

मैं उसकी तरफ देखने लगा, तो उसकी माँ मुझसे बोली कि खिड़की वाली सीट पर अब उसका पति बैठेगा और मुझे पीछे बैठने को बोला. एक दिन जब मैं अपने कॉलेज से लौट रहा था, अचानक मैंने दी को अपने आगे चलते हुए देखा. आशीष से बिंदु माँ ने अपनी चुत खोलते हुए कहा- देख… तेरी जन्मभूमि, जिसमें से तू पैदा हुआ है.

ஆண்ட்டி ரொமான்ஸ்

मेरा लंड तो जैसे, उसके अंदर ज्वालामुखी फुट रहा हो, वो एक दम खड़ा हो गया.

मैं एकदम से बेहोश सी हो गई और दर्द के मारे चिल्लाने लगी- आहहहह बाहर निकालो. पूजा ने मेरा लन्ड मुँह में लेकर काफी गीला कर दिया और थोड़ा थूक भी लगा दिया. आज भी वो हमारी सिटी में ही रहते हैं और जब भी हम दोनों को मौका मिलता है, या विशाल भैया कहीं बाहर चले जाते हैं तो हम चुदाई का मौका नहीं छोड़ते.

मैंने ब्लू कलर की लॉन्ग स्कर्ट पहनी और ब्राउन टॉप पहना, मेरा ये वाला टॉप एकदम फिटिंग का था, इसमें मेरे मम्मे बड़े फूले हुए दिखते हैं. मेरी आवाज़ नहीं निकल पा रही थी क्योंकि बिंदु माँ ने अपने मुँह से मेरे मुँह को दबा कर रखा हुआ था. बहन की जबरदस्त चुदाईइतना कह कर मैं नीचे फर्श पर बैठ गया और रानी के सेट होने का इंतज़ार करने लगा.

मौसी की शादी को करीब आठ साल हो गए थे लेकिन उनके कोई भी बच्चा नहीं था. चूंकि हम लोगों की छत आसपास की छतों से ऊँची थी तो ये सब कोई देख भी नहीं सकता था.

मुझे जो टॉयलेट दिया गया था, वो उनके टॉयलेट से बिल्कुल सटा हुआ और ऊपर से खुला हुआ था. मैं नीचे आकर आंखें बंद करके लेटा रहा क्योंकि मुझको मालूम था कि आज संडे होने के कारण दोनों फ्री हैं और वे मस्ती से लेटे ही रहेंगे. एक दिन रात को करीब 10 बजे मैं ऑफिस से घर आने के लिए निकला तो हल्की हल्की बारिश हो रही थी, तभी देखा की बस स्टॉप पर एक लड़की बस का वेट कर रही है.

हाँ तो लड़को, अब क्या पियेंगे?” मैंने पूछा- चलिए वोदका ही कंटिन्यू रखते हैं!आर्थर और एरिक ने सहमति जताई तो मैंने तीन जाम बना दिए. मैं चुप हो गई तो उसने मुझसे पूछा कि क्या तुम ड्रिंक करती हो?मैं उससे बोली कि नहीं मैं ड्रिंक नहीं करती हूँ. मैंने मंजू की पीठ चूमते हुए कहा- जान, तुम्हें मज़ा आ रहा है ना उस आदमी का लन्ड लेने में?मंजू की गर्दन खुद व खुद जोश में हाँ का इशारा कर गयी मेरे लिए यह जीत की पहली सीढ़ी थी.

बाद में उठ कर देखा तो इस चुदाई के दौरान उसकी मुनिया लाल आंसू से भी भर भर के रोई थी.

करीब दस मिनट लंड चूसने के बाद रमन मेरे सर को पकड़ कर लंड से मेरे मुँह में जोर जोर से धक्के देने लगे, मुझे दर्द हो रहा था, पर कुछ बोल नहीं सकती थी. चुत ने चिकनाई छोड़ दी थी तो मैंने लंड आगे पीछे करते करते पूरा लंड उसकी चुत में पेल दिया.

आज चूत के दर्शन की बात छोड़ो, तीन तीन बार चूत की चुदाई भी की और वो भी उसकी रज़ामंदी से. उस समय अपने लिए लाई हुई चाय मैंने उसकी माँ को दे दी, तब शायद उसकी माँ का मेरे ऊपर कुछ भरोसा जमा और तब वो पहली बार मुस्कुराई. लंड धीरे धीरे अन्दर जाने लगा, वो सिसकारियां ले रही थी और अपने निचले होंठ को अपने दांतों से दबा रही थी.

शीनू दूसरे रूम में नोट्स लेने चली गई और मैं मुँह घुमा कर खड़ा हो गया. फिर 5 मिनट बाद व्हाट्ससैप पर उसी नम्बर एक और मैसेज आया, जिसने मुझे वीडियो भेजा था. उसने दुबली सी रोशनी दीदी को अपने मम्मों से उठा कर उसके मुँह तक खींच लिया और सारा जूस गट गट करके पीने लगी.

चूत की चुदाई इंग्लिश बीएफ फिर एरिक ने अपनी अंडरवियर पहन ली, और इस बार आर्थर ने भी, और फिर हम चारों किचन में जा जमे. कुछ देर बाद शिखा ने मेरे गाल को चूम कर मुझे उठाया- मेरे प्यारे मैगी इधर कहां सो गया? चल इतना बड़ा बेड है, उधर चल.

मोटी औरत सेक्सी पिक्चर

घार आया तो सबसे पहले दीदी के करीब जाकर पीछे से दीदी की गांड को टच कर लिया. अब तक मैंने बहुत सी लड़कियों, आटियों व भाभियों के साथ चुदाई का मजा लिया है और उन्हें खूब मजा दिया भी है. अब मंजू एकदम मेरे काबू में थी मानो उससे जो बोलो करवा लो!मैंने मंजू से कहा- जान, तुम उस आदमी से कुछ नहीं बोलोगी क्या?मंजू- फ़क मी… चोदो मुझे… आज बहुत मज़ा आ रहा है! और करो… आह हहहहह ऊऊऊईईई ईईईई!करते करते मंजू मुझे कसती चली गयी और मैंने पूरी गति से उसको चोदना चालू कर दिया.

वो शाम तो ऑफिस के बाद मुझसे बोली- सर आपसे कुछ कहना है मगर यहाँ पर नहीं… या तो आप मेरे घर पर चलिए या फिर किसी होटल में चलते हैं. मैं उसको फोन करने ही वाला था कि रीटा का खुद फोन आ गया, वो मुझसे चुदने के लिए कहने लगी. अरे सेक्सी सेक्सीइसके बाद भाभी ने हैंडबैग से छोटी तौलिया निकाली और हम दोनों ने साफ होकर अपने कपड़े पहन लिए.

क्या एजेंसी इस बात की पुष्टिकरण करती हैं कि ये बंदा किसी औरत को संतुष्ट करने में कुशल है या नहीं?नहीं, एजेंसी वाले किसी भी पुरूष को स्वीकार कर लेंगे, भले उसने अपने जीवन में महिला को छुआ तक नहीं होगा.

वह ‘आह आह…’ करते हुए बोला- आह… आह… जानू! जान ही निकाल देगा क्या?अब मैंने फटाफट उसकी ढीली पैन्ट का हुक खोल, चेन खोलकर पैन्ट नीचे सरकाते हुए फिर से उसके लंड को चड्डी के ऊपर से ही चाटना और मसलना शुरू कर दिया और झटके से उसकी चड्डी को नीचे किया जिससे उसका ताजा और कड़क लगभग 7. नीलम भाभी ने कहा- हाथ पकड़ कर क्या करने वाले हो?मैंने कहा- आपका नसीब देखने वाला हूँ.

पर मोहन मेरे पर ध्यान ही नहीं देता था, शायद वो लोक लाज के कारण डरता था. उसने जब फिर से मेरी कॉलर पकड़ कर मुझे हड़काया और पूछा- बोलता क्यों नहीं है बे. वो मस्ता के बार बार राजे राजे राजे पुकारने लगी, बोली- अब कितनी देर और इंतज़ार करवाओगे तुम? नीचे सारा जूस निकल गया… आहहह… उम्म्ह… अहह… हय… याह… राजे राजे राजे… कमीने… हाय हाय हाय… किस ज़ालिम से फंसी मैं… ओ… ओ… ओ… ओ… हो.

एक दिन मैंने उसे स्कूल में नहीं जाने दिया और अपने साथ घुमाने ले गया.

वह भी अजीब अजीब आवाजें निकालते हुए मचल रही थी- आहाह अह अह अह अह्ह्ह्ह्ह फक मी एह एह… अह अह और जोर से चोद… और जोर से कम ऑन फक मी कमीने चोद दो मुझे… आह फाड़ डालो इसे…वो अब तक तीन बार झड़ चुकी थी. नीलम जी बोलीं- मुझे मैडम नहीं भाभी कहो… मैं तुमको प्यार से मिलना चाहती हूँ… कोई मैडम बन कर नहीं!मैंने कहा- भाभी जी आपने मेरी बात का उत्तर नहीं दिया. अगले दिन से मैं रोज क्लास करके आने के बाद उन दोनों को भी पढ़ाने लगा.

मराठी बीपी सेक्सी व्हिडिओमैंने नताशा को नर्म गद्दे पर बिठा दिया और स्वयं खिड़की के सामने की सोफा चेयर पर बैठ गया, बोला- जाइए दोस्तो, हमारी रानी को खुश कीजिए!आर्थर और एरिक नताशा के नजदीक आ गए और नताशा बेड पर बैठ कर अपनी लाल कच्छी को एक साइड खिसकाती हुई उन्हें अपनी सुन्दर गुलाबी, बालरहित, क्लीन शेव्ड चूत के दर्शन कराने लगी. सुबह जब चुत पूरी फूल कर लाल ना हो जाए और मम्मों पर मेरे दांतों के निशान ना पड़ जाएं.

ऐप ऐप सेक्सी वीडियो

फिर मैंने कविता को मनाने के लिये और उसके गुस्से को शांत करने के लिये उससे कहा- मेरी कोई गर्लफ्रैंड नहीं है, मैंने तो वैसे ही बोल दिया था मज़ाक में!मैंने उसको काफी समझाया तो वो मान गयी. फिर मैंने झुक कर भाभी की चूत को सूंघा, उसमे से मिली जुली सी कामुक सी गंध आ रही थी, चूत पर बहुत छोटे छोटे बाल थे, भाभी की चूत के होंठ आपस में चिपके हुए थे लेकिन इनके बीच गीलापन साफ़ नजर आ रहा था. मैं मज़ा लेने लगी और दस मिनट बाद भाई ने सलवार को उतारने की कोशिश की.

पेट पर जीभ गीली कर मैं दाएं से बायें चाटता, एक सिरे से दूसरे सिरे तक. लेकिन उनके कुछ न कहने से और ना ही कोई रिएक्ट करने से मुझे कुछ भी सूझ नहीं रहा था कि क्या किया जाए. मैंने भाभी को ऐसे ही सांत्वना देते हुए अपने गले से लगा लिया और उनकी पीठ को सहलाते हुए कहा कि चिंता मत करो… भाभी मैं हूँ ना… आपको किसी भी चीज़ की ज़रूरत हो, मुझे याद कर लेना.

पहले मैंने सोचा कि अब मुझे निकल लेना चाहिये लेकिन फ़िर दिल ने कहा कि इतनी मुश्किल से लंड नसीब हुआ है तो ऐसे जाना ठीक नहीं…उसने अपना लंड अंदर किया और बोला- चल… अंदर चल… यहाँ कोई आ जायेगा. एक बन्दे ने मुझे एक नए प्रकार के एजेंसी घोटाले के बारे में बताया है. मैं रिक्शे से दूर थी, वो मुझे नहीं देख सका और रिक्शा लेकर आगे बढ़ गया.

तो आकर क्या करूँ?भाभी जी ने कहा- कभी बिना काम के भी आ जाया करो, आपके साथ में हमारा भी टाइम पास हो जाएगा. उसकी मजे में चीख निकल गई, जो मैंने उसके होठों पर होंठ रख कर दबा ली और जबरदस्त चुदाई शुरू कर दी.

जब उसके लंड का पानी निकलने वाला था तो फट से उसने मेरे मुँह को खोल कर उसमें अपना पूरा लंड डाल दिया और वीर्य की धारें छोड़ने लगा.

विवेक ने उसको गोल्डन ब्रा पहनाई और पेंटी को देख कर बोला कि अब ये भी पहनोगी. ब्लू फिल्म देखने वाली हिंदी मेंभाबी- आआअआह… आआअह… मर गई…मैं पीछे से भाबी के ऊपर लद गया और उनके दूधों को दबाए जा रहा था. नंगी लड़कियोंमेरे माल से उसकी पूरी चुत भर गई और मेरा वीर्य और उसका वीर्य दोनों मिलकर चूत से बाहर आ रहे थे।उस रात हमने कई बार और सेक्स किया. फिर वो बाजू हो गया और अपना अंडरवियर उतार कर उसने अपना लंड बाहर निकाला.

जब मैंने उसे नंगी किया तो एक चीज़ और मुझे बहुत अच्छी लगी कि मैंने उसे एक साल पहले चोदा था और आज भी उसे याद है कि मुझे चूत पे झांटें बहुत पसंद हैं.

फिर 69 की पोज़िशन में आकर वो मेरे लंड की मालिश करने लगीं और मैं उनकी चुत चाटते हुए उनकी गांड में अन्दर तक़ उंगली डाल के मेरे लंड के लिए जगह बनाने लगा. फिर मैंने उसी उंगली से भाभी की भगनासा को छुआ, भाभी का जिस्म एकदम से कांप उठा, भाभी के बदन में उत्तेजना की एक लहर दौड़ गई, भाभी कसमसाने लगी तो मैं उनकी चुत को चाटने लगा और एक हाथ से उनके मम्मों को भी दबा रहा था. करीब 20 मिनट तक लंड चूसने के बाद मेरे मुँह में कुछ दर्द सा होने लगा.

मुझे बाद में पता चला कि उससे दो तीन औरतों ने उससे पैसे ले कर अपनी चूत चुदवा थी और उसको अच्छी तरह से चुदाई सिखा दी. जब मैं कोल्ड ड्रिंक देने उसके घर गया तो वहाँ सहर के अलावा कोई नहीं था. मैंने उसे गाली देकर बोला- बहनचोद, अब यही काम बचा है… जब मैं छोटा और नासमझ था, तब से अपनी गांड बचाता आ रहा हूँ, आज जब समझदार हो गया तो इसे लुटा दूँ… बहन के लंड… सही नहीं बोलना है तो मत बोल.

पवन सिंह के सेक्सी गाने

कुछ ही मिनट बाद मैंने पूजा को लिटा दिया और उसकी चूत के मुँह पे लंड टिका दिया. मैंने उससे कहा- नहीं अभी मुझे इस मुसीबत से निकलने का कोई रास्ता बताओ. मैंने प्रिया की बगल में मुंह दे कर एक जोर से सांस ली; एक नशीली सी सुगंध मुझे बेसुध करने लगी; इस सुगंध में प्रिया के जिस्म की ख़ुश्बू, प्रिया के डिओ की ख़ुश्बू, काम-तरंग में डूबे नारी-शरीर में उठती वो अलग एक ख़ास मादक सी खुशबू… सब मिली-जुली थीं.

एकाध बार मुझे ऐसा लगा कि शायद चाची ने मुझे उनको इस तरह से वासना भरी निगाहों से घूरते हुए देख लिया है.

मैंने नीचे जा कर मम्मी को कपड़े दे दिए और थोड़ी देर बाद फिर ऊपर जा के देखा तो सब वैसे ही सो रहे थे। मेरा मन तो काफी कर रहा था कि जाकर चाची के बदन साथ फिर से खेलूं पर मैं डर भी रहा था कि कोई आ न जाये या कि कहीं चाची जग न जाये.

वो रात में कहीं आ नहीं सकती थी और दिन में गांव वालों का देखने का डर था. पूजा गांड उठाते हुए बोली- तूने कब देखा?सुहानी ने कहा- जब मैं बाथरूम गई थी, तब से ही देख रही हूँ. भोजपुरी ब्लू फिल्म दिखाइएमैंने उसे बेड पर चित लिटाया और उसके दोनों पैर मेरे कंधे पर रख कर उसे चोदने लगा.

जब हम दोनों ने होश संभाला तो वो ऊपर से बिल्कुल नंगी हो चुकी थीं और मेरी शर्ट खुली हुई थी और पैन्ट भी बस उतरने को थी. उसके कूल्हे मेरे नुनू महाराज से बात करने की कोशिश कर रहे थे।मेरा मन तो था कि आज सब कुछ हो जाए लेकिन मैंने थोड़ा कंट्रोल किया और इसे यादगार बनाने के लिए तैयारी के साथ करने का सोचा।मैंने सोनू से कहा- अगर मेरा कभी मन करेगा तो क्या तुम आओगी?उसने कहा- जब भी आप कहोगे, मैं आ जाऊंगी।मैंने कहा- ओके!और ज़ोर से उसके होंठों को किस करने लगा, साथ में मैंने उसके बूब्स भी ज़ोर से दबा दिए।वो सिसक कर रह गई. मैंने अपनी एक उंगली पहले भाभी की चूत की लकीर में फिराई, मेरी उंगली गीली हो गयी.

उसकी गोल गर्दन और मस्त पट देख कर वह हस्तिनी औरत लग रही थी, जो मर्द को देखते ही खा जाए और आदमी भी उसे देखते ही चोद दे. ये सब नजारा देख कर मुझे अजीब भी लग रहा था और मेरा लंड भी खड़ा हो रहा था.

अब दीदी उछल-कूद करके गांड में लंड ले रही थीं और मैं जोर-जोर से दीदी के चूचों को चूस कर लाल कर रहा था.

मैंने कहा- ठीक है… कब जाना होगा?अशोक बोला- चाहो तो कल ही चले चलो, वरना एक दो दिन बाद… जैसे तुम्हें सूट करे. उसकी नदी सी लहराती कमर, नागिन सी चाल और हिरनी सी बड़ी बड़ी आंखें देखकर बुड्ढे भी उसे बस निहारते रह जाते हैं. वो मुझसे इस कदर लिपटी थी, जैसे कोई बेल किसी पेड़ से लिपटी हो या फिर कोई बल खाती नागिन किसी चन्दन के पेड़ से लिपटी हो.

हिंदी बफ हिंदी में कुछ ही पलों में मेरा हाथ भाबी के गले से होते हुए सीधा उनके दूध के ऊपर चला गया. और अगर बाहर के लोगों को पता चल गई तो हमारी क्या हालत हो सकती है यह तुम्हें कुछ पता भी है या नहीं?अनामिका- उसकी टेंशन मत लो डार्लिंग, वह इंसान कोई और नहीं… उसे तुम भी अच्छी तरह से जानते हो, वह मेरी छोटी बहन है सोनल.

मैं तुरंत ही छत पे गया और उसे देखते ही मेरे तो होश ही उड़ गये, वो पिंक कलर के गॉउन में बहुत ही सेक्सी लग रही थी. मैंने उनको देखा तो मैं समझ गया कि दीदी को लंड लिए बिना चैन नहीं पड़ने वाला है. उसने हम्म कहा, तो मैंने भी पूछ लिया कि आप?तो उसने भी अहमदाबाद बताया.

हॉलीवुड के सेक्सी फिल्म

मैंने लंड वापस पायल भाभी की चूत में डाल दिया और पायल के बोबे चूसने लगा. वो मेरे मुँह में अपनी जीभ पूरी ही डाल देता था, मैं उसे चूसने लगता था, जैसे भूखा बच्चा अपनी माँ की छाती को चूसता है. 1-2 लोगों के बाद मेरा नंबर आ गया, मैंने अपना टिकट लिया और बाहर आ गया.

अब मैं उनके पास गया और उनके बाल पकड़ कर खींचे, जैसे ही उनका मुँह खुला मैंने उसमें बॉल को डाल दिया और पट्टी बाँध दी. लंड देख कर दीदी के मुँह से अनायास ही निकल गया- हाय राम तुम्हारा लंड तो बहुत लंबा और मोटा है, कैसे सँभालते होगे इसे?मुझे दीदी के मुँह से लंड शब्द सुनते ही मुझे उनकी जवानी चोदने लायक लगने लगी.

एरिक ने नताशा की सहायता करने के लिए स्वयं ही अपनी पैंट उतारनी शुरू कर दी, और नताशा ने बगल में खड़े आर्थर के लटकते हुए लंड को अपने बाएँ हाथ से सहलाते हुए नीचे को झुक कर अपने मुंह में भर लिया.

मैंने कहा- नहीं आज तो जब तक तुम खुद अपने मुँह से नहीं कहोगी… मुझे कुछ समझ में नहीं आने व़ाला है. दोस्तो, मैं आपकी दोस्तरानी भाभीउर्फ़ पूनम चोपड़ा आपके सामने फिर से पेश हूँ. जब उसके लंड का मसाला निकलने वाला था, तो वो तेज तेज धक्के मारता हुआ बोला- आह.

एक स्कर्ट डाली जो काफ़ी खुली हुई थी और घुटनों के काफी ऊपर तक की थी. मेरा गाउन उतार कर पूरी नंगी करके मुझसे बोला- बोलो, पहले किससे चुदना चाहोगी. भाभी कभी तो सिर्फ मेरे लंड के सुपारे को मुख में लेकर चूसती तो कभी पूरा लंड गले तक लेकर मुझे मजा देती.

मैं बार बार उसे देखता था, वो मेरे सामने ही बैठा था, 5-6 खाना छोड़ कर.

चूत की चुदाई इंग्लिश बीएफ: किसी ने सही कहा है कि चुदक्कड़ औरतों तो को जब देखो नया नया लंड ही सपनों में आता है. मुझे जो टॉयलेट दिया गया था, वो उनके टॉयलेट से बिल्कुल सटा हुआ और ऊपर से खुला हुआ था.

रोशनी अपनी पतली पतली नंगी टांगों से चलकर मेरे पास आई और बोली- अब मुझे क्या करना है?मैंने पिंकी को पलंग पे सीधा लेटा लिया और रोशनी के दबे हुए पुट्ठों को हाथ से फैला कर पिंकी के सॉफ्ट टमाटर जैसे मम्मों पे बिठा दिया. तो मैंने उसे अपनी सारी जानकारी दी और अंत में उसका नाम भी पूछ लिया तो पता चला कि उसका नाम नेहा है और वो यहाँ अपने ससुराल में रहती है. वो अपने पेट पे रम डालने लगीं, जो बह के उनकी चूत से सीधा मेरे मुँह में आ रही थी.

वो मेरे बहुत करीब होकर और झुक कर कुछ कुछ पढ़ाई के बारे में पूछती थी तो मुझे उसकी देसी जवानी की झलक मिल जाती थी.

हाँ तो लड़को, अब क्या पियेंगे?” मैंने पूछा- चलिए वोदका ही कंटिन्यू रखते हैं!आर्थर और एरिक ने सहमति जताई तो मैंने तीन जाम बना दिए. फ़िर वो पेन्टी को पकड़ के झुकते हुए नीचे तक ले गईं, उनके गोल गोल कूल्हे बिल्कुल खुल चुके और मुझे पागल बना रहे थे. मकान मालिक मेरे चूतड़ों को दबा रहे थे और मुझे किस कर रहे थे और मैं सिस्कारियां ले रही थी.