बीएफ एक्स एक्स एक्स ब्लू पिक्चर

छवि स्रोत,सेक्सी एचडी फिल्म बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

इंडियन बीएफ सेक्सी मूवी: बीएफ एक्स एक्स एक्स ब्लू पिक्चर, ऐसे ही करती जा…बापू ने पद्मिनी के हाथों को अपने लंड पर फेरते हुए उससे यह सब कहा.

सनी लियोन की बीएफ चलने वाली

उसने मुझसे माफी माँगी क्योंकि स्कूल के अन्दर मेरी चुदाई करने की वजह से ही उन बच्चों ने हमें देखा था और मैं फिर चुद गयी थी. बीएफ सेक्सी वीडियो एक्सहमने ऐसा तय किया है कि सारी कहानियां हम दोनों मिलकर लिखेंगे, ताकि पढ़ने वालों का मजा दुगना हो जाए और दोनों को अपनी बात रखने का मौका मिले.

मैं बोली- बस इन दोनों के कपड़े उतार कर नंगी लिटा देना है, फिर दुल्हा-दुल्हन एक साथ सोएंगे और दोनों एक दूसरे को मिलकर चोदेंगे. बीएफ एचडी बीएफ हिंदी में बीएफहालांकि वो मेरे कहने पर मान गई कि थोड़ा दर्द होगा क्योंकि मुझे पता था कि वो अभी तक चुदी नहीं है.

कुछ देर तक ऐसा होने के बाद एक बार फिर से अब मेरी बारी थी और मैं अपनी नंगी मामी के बदन के ऊपर था.बीएफ एक्स एक्स एक्स ब्लू पिक्चर: धीरे धीरे उन्होंने अपनी उछलने की स्पीड बढ़ा दी और कुछ ही देर में अकड़ने लगीं.

पद्मिनी की कमर के नीचे वाला हिस्सा तो उभरा हुआ था, वहां से लेकर जांघों तक तो एकदम एक अर्धवृत लग रही थी.क़रीब 20 मिनट में मेरा 2 बार पानी निकल चुका था लेकिन उसका पानी निकलने का नाम ही नहीं ले रहा था.

हिंदी बीएफ सेक्सी वीडियो चुदाई - बीएफ एक्स एक्स एक्स ब्लू पिक्चर

इधर मल्होत्रा अंकल मेरी गांड पर थप्पड़ मारने लगे थे, वे मुझसे बदला ले रहे थे कि मैंने उनको शुरू में इंकार किया था इसीलिए वे पूरे गुस्से से मेरी गांड मार रहे थे, मुझे बहुत तेज दर्द हो रहा था लेकिन मैं अपने पापा के लिए सब कुछ बर्दाश्त कर रही थी.फिर उसने अपने दोनों भाइयों को अपने पास बुलाकर बातचीत शुरू की- एक बात पूछूं?विक्रम और रजत एक साथ- हाँ पूछ…मयूरी- आज माँ कुछ ज्यादा हॉट नहीं लग रही है?विक्रम- हाँ यार… और मुझे तो कुछ अलग ही लग रही थी.

मैंने ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने शुरू किया, उसकी सूखी चूत में मेरा लंड भी घिस रहा था, मुझे जलन हो रही थी. बीएफ एक्स एक्स एक्स ब्लू पिक्चर मेरी पिछली कहानी थीबीवी की चूत चुदाई उसके भाई सेआज मैं आप को अपना एक और किस्सा सुनाने जा रहा हूँ.

दोनों को दर्द तो हो रहा था मगर हम दोनों सिर्फ़ मज़े को महसूस करना चाह रहे थे.

बीएफ एक्स एक्स एक्स ब्लू पिक्चर?

मैं भी किसी न किसी बहाने उन्हें इधर उधर छू लेता था और वो भी बिना बुरा माने मुझे नॅाटी स्माइल दे देती थीं. फिर मैंने धीरे से उसकी सलवार उतार दी और उसकी पेंटी पर किस करने लगा. दोस्तो, मेरी पिछली कहानीमालिक की बेटी की कामवासनामें आपने पढ़ा कि बुआ जी ने मुझे और अनु दीदी को सेक्स करते हुए देख लिया था.

फिर उस लेडी ने पूछा कि कैसे हो, कहां हो?मैंने उसकी इन बातों का रिपलाई दिया औऱ पूछा- आप कौन हो मैडम? शायद गलती से आपने गलत नम्बर डायल कर लिया है. अब उन्होंने ड्रावर अपना कार्ड निकाला और उसके पीछे अपना पर्सनल नम्बर लिख कर मुझे दे दिया. चूंकि मैंने अपनी सीट ऑन लाइन बुक कर दी थी इसलिए मैं बस में अपनी रिजर्व सीट देखने लगा.

यह कह कर वे एकदम से मेरी ओर घूरने लगे और मेरे सर पर हाथ रखकर बोले- रो और डर मत, मैं तुझे बचा लूंगा पर तुझे भी मेरा साथ देना होगा वन्द्या. कामुकता से भरपूर जवान लड़की की सेक्स स्टोरी आपको कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल करें. कोमल ने अपने एक हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया और दूसरा हाथ उसका मेरी कमर पर था.

तब बापू ने अपना हाथ स्कर्ट के नीचे डाला और अपने हाथों से उसकी पेंटी को आहिस्ते आहिस्ते खींचने लगा. एक दिन वो मेरे क्वॉर्टर में आ गई थी और कपड़े उतार के मेरा लंड ले के मेरे नीचे लेटी थी और बुआ जी ने देख लिया.

जैसे ही मैं पहुँचा तो तुरंत मुस्कान का फ़ोन आया, वो बोली- घर वाले शादी में चले गए, कहाँ हो तुम? अब मेरे घर आओ!मैं बोला- दरवाज़ा तो खोलो, तुम्हारे घर के सामने खड़ा हूँ.

अपने आप मेरे हाथ दिनेश के बालों में चले गए और उधर मेरे पीछे रोहण चाचा अपना लौड़ा मेरे गांड में घुसाने की कोशिश कर रहे थे, पर घुस नहीं रहा था.

मैंने उसको बेड पर लिटाया और उसकी टांगें चौड़ी करके उसकी चूत को चूसना शुरू किया, जैसे ही मैंने उसकी चूत के दाने को जीभ से छुआ, वह एकदम सिहर गई. मुठ मारने की आदत तो मुझे बचपन में ही लग गयी थी, यहाँ तक कि मैंने अपने कई दोस्तों को मुठ मारना सिखाया था, यहाँ तक कि मेरे दोस्त मुझे बाबा(गुरु) बुलाते थे क्योंकि मैं उन सभी में इस काम पे सबसे ज्यादा एक्सपर्ट था।मेरी मामी की हरकतें भी ऐसी थी कि क्या बताऊँ!एक दिन तो उन्होंने मेरे बगल बैठ कर मुझसे बाते करते हुए मेरी जांघों पट अपना हाथ रख दिया और अपना हाथ फिराने लगी. तभी मैंने एकदम से उसकी चुत में लंड पेल दिया और वो बहुत तेज चिल्लाते हुए बोली कि आह माँ मर गई.

थोडी देर बैठने के बाद धीरे धीरे हम दोनों की नजरें मिलने लगीं और वो काफी खुल कर मुझे लाईन मारने लगी. सुजाता ने पहले कभी गांड नहीं मरवायी थी तो उसे काफी दर्द हुआ और वो बिदकने लगी. अब तक व्हिस्की भी खत्म हो चुकी थी क्योंकि टाइम भी बहुत हो चुका था, सो शॉप भी बन्द हो चुकी थी.

वो बोली कि मेरी शादी में इसी तरह का लंहगा बनवाया है, इसलिए मैंने इसे दीदी से यहां मंगवा लिया.

अब आगे…अगले ही पल मैंने अपने बॉस से फोन करके किसी कम्पनी में उसकी नौकरी लगवाने की बात पक्की करवा दी थी. सोनम अपने घर के अन्दर गई और अपना मोबाइल निकाल कर लाई और दूर से मुझे मेरी और मेरी गर्लफ्रेंड की फोटो दिखाई, जो रात में मैंने सेंड की थी. रोने की एक्टिंग कुछ ज्यादा ही करती हैं, डेथ पर रोते हैं तो कुछ लिमिट होती है, ये तो कुछ ज्यादा ही ओवर एक्टिंग कर रही थीं.

माँ के बारे में बताती हूँ आपको … मेरी माँ काफी स्मार्ट और खूबसूरत है, उनका फिगर 36-32-37 है, क्योंकि मैं और मेरी माँ ब्रा और पेंटी एक साथ में खरीदते हैं तो कन्फर्म साइज़ पता है. तभी डोर बेल बजी, मैंने दरवाजा खोला तो राजू की बहन अनीता दीदी बाहर खड़ी थीं. मैंने भी हरीश की मम्मी से बातें करना शुरू कर दिया और उन्हें जन्मदिन की बधाइयां दीं.

उसका रिप्लाई बहुत शॉकिंग था, वो बोली ‘ठीक है, आपकी लाइफ है जैसे मर्ज़ी एन्जॉय करो… लेकिन मुझे अपने बॉयफ्रेंड के साथ मस्ती करनी होगी तो मैं घर पर लेकर आऊँगी.

अब मैं अनु से बात नहीं करता और ना ही करूँगा, आप मुझ पे यकीन कर सकती हैं. फिर करीब आठ दस मिनट तक अपना लंड अपनी प्यारी-सी सेक्सी-सी अधनंगी बहिन के मुँह में चुसाने के बाद विक्रम मयूरी के मुँह में ही झड़ गया.

बीएफ एक्स एक्स एक्स ब्लू पिक्चर आपको मेरी इन्सेस्ट सेक्स स्टोरी कैसी लग रही है? मुझे मेल करके बतायें।मेरा मेल आई डी है[emailprotected]. उनका चेहरा तो बहुत ही क्यूट और भोला था, पर जैसे ही मेरी नज़र उनके शरीर पर पड़ी, मेरे अन्दर चिंगारियां फूट पड़ीं.

बीएफ एक्स एक्स एक्स ब्लू पिक्चर जिस दिन हमने वाघा बॉर्डर पर जाना था, उस दिन मेरी छोटी बहन अमनदीप कौर को बुखार आ गया और उसने अमृतसर जाने से मना कर दिया. वो अपनी गर्लफ्रेंड के बारे में बताने लगा कि आज उसको अपनी गर्लफ्रेंड की याद आ रही है.

लंड भाभी के मुंह में जाते ही मेरे मुँह से मादक सिसकारियां निकलने लगी थीं.

सारा अली खान की सेक्सी वीडियो

इसीलिए उनके कमरे में जो कुछ भी चलता था, मैं बड़ी आसानी से समझ जाता था. चूंकि उसको चुदास चढ़ चुकी थी और आने वाले पल का जरा भी अहसास नहीं था. आंटी के मम्मे थोड़े लटके हुए थे, लेकिन इस उम्र के लिहाज से काफी ठीक थे.

दीदी के मुँह से ‘आह आह सीईईई सीई आओओओ इस्स हम्म चोओओओद चोद दो मुझे. जैसे ही ऑफिस के बाकी लोग काम खत्म करके निकलते, ललिता मैडम सीधा बॉस के कमरे में घुस जाती थीं. मेरे लंड का सुपारा किसी कुत्ते की जीभ जैसी पानी की बूँदें छोड़ रहा था.

मैंने ध्यान से देखा तो वो तो शायद मेरी बहन निशा की चुदाई जैसा कुछ कर रहा था.

फिर धीरे धीरे उसकी चुत में आहिस्ता आहिस्ता लंड को डालने लगा, जिससे उसको मालूम नहीं चला क्योंकि उसकी बुर पानी बहुत छोड़ रही थी. भाभी की मस्ती बढ़ गई और उन्होंने अपनी टांगें खोल कर अपनी चूत चटाई का सुख लेना आरम्भ कर दिया. उस दिन के बाद हर रोज़ उसकी नज़र सिर्फ मुझ पर और मेरे स्कर्ट पर रहती थी… और जब भी मैं फ्री होती तो वह मुझसे बातें करने लगता.

खैर हम लोग अपने से मतलब रखते, बाहरी किसी से भी नहीं बोलते।फिर ठंडी का मौसम आया तो अब कॉलेज में बहुत कम स्टूडेंट आते थे. उधर से एक लड़की की आवाज़ आई- हाय! आई एम रूबी, कौन बोल रहे हो?कीकु काँपते बोला- कीकु हियर!!रूबी- मैं आपकी ही काल की प्रतीक्षा कर रही थी, रूम नम्बर 305 में आ जाओ!जोश में आकर हम पहुँच तो गये, लेकिन हमारे पसीने छुट रहे थे. इसके बाद मैंने उठा कर पैग बनाए और कोमल से बोला कि लो तुम अपना गिलास उठाओ.

मुझे पूरी रात नंगी रहने की वजह से और मेरी टांगों के बीच मुँह मारता रहता था, जिससे मैं पूरी गर्म हो जाती थी. तब मैंने उससे बोला कि अब नहीं करते हैं, जब इतना दर्द हो रहा है तो रहने दो.

इतने में एक गड्ढे में से ऑटो निकली और उसका रेशम सा नाज़ुक बदन मुझसे टकरा गया. और आप ने मेरी पिछली कहानीभाभी की चूत की चुदाई करके स्वर्ग का मजा लियापढ़ी ही होगी? नहीं पढ़ी तो जरूर पढ़ें. उसके बाद हमने फोन नंबर्स एक्सचेंज कर लिए और व्हाट्सएप्प पर बातें करने लगे.

दोस्तो, तो आप ईमेल और कॉमेंट करके जरूर बताना कि आपको मेरी ज़िंदगी की यह सच्चाई कैसी लगी, जिसे मैंने वासना से भारी सेक्स कहानी के रूप में आपके साथ साझा किया.

अब मैंने लंड को फिर से चुत पर सैट किया, रचना ने भी हाथ से लंड को थाम रखा था. मेरे लिए भी रुकना मुश्किल हो रहा था, फिर मैंने कस कर जोर लगाया और लंड दो इंच अंदर चला गया. फिर मैं धीरे धीरे उसकी पीठ पर हाथ ले जा के सहलाने लगा जिससे वो गर्म हो गयी उसकी सांसें तेज़ होने लगी.

हमारे होंठ आपस में भिड़ गए, मेरे निचले होंठ को विकी चूस रहा था, परमानंद अवस्था में मेरी आंखें पूरी तरह से बंद थीं, मैंने मेरी जुबान उसके मुँह में घुसा दी. तब मैंने अपनी मकान मालिक से बात की और उन्हें बात बताई कि वो अकेली हॉस्टल में रह गई है, जिस वजह से वो डर रही है और बुरा फील कर रही है.

तो उसका पूरा जिस्म काँप उठा और पद्मिनी ने खुद अपने बदन को बापू के जिस्म से चिपका लिया. तुम्हें सब पता है और मुझसे पूछे बिना तुम अपने दोस्त से मेरी चुत दिलवाने और मेरे साथ सोने का वादा कर आए. इसके बाद अगले ही मैंने भी ऊपर से झटका दे मारा तो मेरा लंड उसकी चूत में चला गया.

कुर्ला बाजार

मेरे मुंह से खुद ब खुद इस गीत की कुछ पंक्तियाँ गुनगुनाते हुए निकल गयीं.

दोस्तो, यह मेरे पहले सेक्स की मेरी पहली सेक्स कहानी है, जरूर बताएं कि कैसी लगी. दोस्तो, मैं आपका अपना दोस्त और अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज का पुराना लेखक अरुण… आपने मेरी पिछली कहानीमेरी प्यारी मैडम संग चुदाई की मस्तीजो पांच भागों में प्रकाशित हुई थी, तो जरूर पढ़ी होगी. फिर मैंने अपने दोनों हाथ उनके पीछे लेजा कर उनके ब्लाउज को उतार दिया.

एक दिन मैं बैठा हुआ था मन नहीं लग रहा था तो मैंने उसको कॉल किया पर पर उधर से किसी ने कॉल अटेंड नहीं किया फिर मैंने 1-2 बार और कोशिश की पर किसी ने फ़ोन नहीं उठाया फिर मैंने नहीं किया।फिर शाम को उस नंबर से कॉल आया… पर यह वो लड़की नहीं थी कोई और लड़की थी. मेरी गांड का छेद तो पहेले से ही गीला था, तो धीरे धीरे लंड अन्दर जाने लगा. सनी लियोन के बीएफ इंग्लिश मेंअन्दर अलग अलग काउन्टर थे, पहले मैं लायेंज़री काउन्टर पर गयी, मैंने काफी सारी ब्रा और पैंटी निकलवा कर देखी, पर कुछ जमा नहीं.

मनोरमा ने देखा कि वो काफ़ी सुंदर था और पता नहीं उसने किस लिए अपनी बीवी के साथ यह सब किया जब कि बीवी भी बहुत खूबसूरत थी. वो तो बस उसकी …मीता- आप सही कहा रही हो भाभी …आयुषी- जिस दिन औरत को मर्द के बराबर हक़ भी मिलने लगेगा तो यह सफ़ेद चादर का सिलसिला भी बंद हो जाएगा.

फिर मैं गाड़ी स्लो चलाने लगा और थोड़ा थोड़ा ब्रेक लगाकर उसके मम्मों की छुअन महसूस करता जाता. अब पद्मिनी बेहाल हो रही थी, वो कभी सर उठाकर बापू को देखती, तो कभी सर बिस्तर पर पटकती. रेखा ने हँसते हुए कहा- मैंने भी इनसे यही कहा कि मेरी स्कूल में साथ पढ़ी एक सहेली है जो मेरठ में रहती है… उसको मिलना चाहती हूँ.

मैंने कहा- आज तक तुमसे मैंने कुछ नहीं छुपाया और तुमको अपनी छोटी बहन मान कर ही सब कुछ बात की है. और उसी क्रम में अपने शरीर के उन अंगों से स्पर्श कराओ, जिस क्रम में उस फूल से कराती थीं. अब यह मेरा रियल लाइफ सेक्स एक्स्पेरियंस है जो आप के साथ शेयर कर रहा हूं, प्लीज आप फिर बता जरूर देना कि कैसा लगा.

उसने बड़े प्यार से उसको देखा फिर अपने दोनों हाथों से उसको छू कर एहसास करने लगी.

मेरे लंड का सुपारा किसी कुत्ते की जीभ जैसी पानी की बूँदें छोड़ रहा था. फिर मैं उठ कर गेट बंद करके आया और फिर हम दोनों मेरे रूम में आ गएकमरे में आते ही मैंने उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया और उसने मेरा लोअर उतार दिया.

तू भोली बन रही है, मुझसे शरमाने के बजाए, मेरी प्यारी बिटिया तुमको मुझसे खुल कर सारी बातें बता देनी चाहिए. गांड पर लंड का गर्म गर्म स्पर्श होते ही उनके बदन में एक सिहरन सी दौड़ गई. मम्मी ने मुझसे कहा- तुम लेटो जाकर, मैं आती हूँ।मैंने कहा- मैं सोफे पे सो जाऊँगी.

मेरी हवस की कहानी के पहले भाग में आपने पढ़ा कि मैं मौसी के घर रह रही थी और मेरी चुदाई नहीं हो रही थी. नमस्कार दोस्तो, मैं लव आपका दोस्त आज अन्तर्वासना पर फिर से एक न्यू सेक्स स्टोरी के साथ हाजिर हुआ हूं. भैया को आने दो, तुम्हें जेल में ना करवाया तो कहना, तुम्हें ज़रा भी शर्म नहीं आई, अपनी छोटी बहन से गंदा काम करते हुए?मैं बहुत डर गया था कि आज तो सब खत्म हो गया है, बस किसी तरह से जान बच जाए और मैं यहाँ से भागूं.

बीएफ एक्स एक्स एक्स ब्लू पिक्चर यकीन मानिये मेरे लिए सब कुछ पहली बार ही था, जैसे ही मेरे मुँह में लिक्विड महसूस हुआ, मेरी गांड ही फट गयी थी. सच बताऊं दोस्तो तो मेरे जैसे नसीब वालों को ही मधु जैसी प्यार करने वाली मिलती है.

एक्टरनी सेक्सी

उन्होंने अन्दर सफ़ेद रंग की ब्रा बहनी थी, जिसके बीच में एक फूल बना था. अंत में यही कहना चाहूंगा कि अब वापसी तभी होगी जब कुछ नया घटित होगा. मंजू सिसकारियाँ लेने लगी- ओहह…अब मैंने मंजू को बिस्तर में पेट के बल लेटा दिया और मंजू अब मुझे अपने ऊपर खींचने लगी, जाहिर था कि गैर मर्द से चुदाई की बात सुन कर वो भी ललचाई हुई थी.

हा हा हा…मेरी हँसी की आवाज सुन राज जाग गया और बोला- भाई, योजना आपकी नहीं, भाभी जी की सफल हुई!मैं- कैसे?राज- कल जब आप बाहर गए थे तो हम दोनों ने एक तेजी वाला राउंड सेक्स किया उसके बाद जब भाभी जी ने मुझे कहा कि ‘संजू मुझे किसी और मर्द से चुदवाना चाहते हैं, मैंने तुमसे सेक्स किया और तुम पर मैं विश्वास करती हूं लिहाजा आज मैं आपने पति को खुश करने के लिए तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहती हूं. स्मिता- सही में तेरी माँ चुदक्कड़ लगती है, ये बता कि अगर तेरी माँ सच में मिल जाये तो उसको चोदेगा? फट तो नहीं जायेगी तेरी?वरुण- अगर मौका मिला तो ऐसी चूत चुदाई करुगा माँ फैन हो जायेगी मेरी, खुश कर दूँगा उसको!स्मिता- अगर एक लाइन अपनी माँ के लिए बोलगे तो क्या बोलोगे?वरुण- शी इस अ हॉट फकिंग बिच! ( वो एक गर्म चोदने लायक कुतिया है. बीएफ दिखाओ बीएफ बीएफ दिखाओफिर मैंने देर न करते हुए उसकी एक चूची को मुँह में ले लिया और दूसरी को हाथ से दबा रहा था.

मैं- जब तुम्हें इतना पता है और 2 दिन का टाइम, सिर्फ़ एक कपड़ा उतारोगी या नहीं.

जूतियों की गिरफ्त से आज़ाद होते ही उसके खूबसूरत पैरों ने मेरा मन मोह लिया. शनिवार आ ही गया। खाने के बाद की आइसक्रीम में हमने दवा दोनों को खिला दी। एक घंटे तक वे दोनों नॉर्मल रही और घर के बाकी काम निबटाकर बेड रूम पर पहुंच गई हम अभी अपने अपने कमरे में ही अपनी बीवियों के साथ सोए।5 से 10 मिनट के बाद ही दवाई असर करना शुरू कर दिया और रीना और सीमा को गहरी नींद आ गई.

फिर मैंने सोचा कि कहीं ये फिर से गुस्सा ना हो जाए, तो मैंने उससे कहा कि यार मुझे तुम्हारी रात में बहुत याद आती है. उन्होंने मुझे देखा, मैंने उनको धीरे से पूछा कि वो ग्रिल को लॉक कर दिया?उन्होंने बोला- हां कर दिया. हम दोनों ने एक-दूसरे को बांहों में भरकर देर तक चूमाचाटी की, माहौल गरमाने लगा.

मैं अपने घर का काम भी करती हूँ और कभी कभी जॉब भी करती हूँ, जो कि मैं ऐसे ही टाइम पास के लिए करती हूँ ताकि मेरा दिन घर से बाहर निकल जाए.

मुझे उसका स्पर्श बड़ा ही सुखद लग रहा था, साथ ही मेरे मन में उसके बुखार की चिंता भी थी. मुझे देख कर उसने एक हल्की-सी स्माइल देकर हैलो कहा और अपनी सीट पर अपनी बेटी को चढ़ा कर खुद भी चढ़ गई. फिर वो डॉक्टर मनोरमा से बोला- आप इनको एक सप्ताह बाद फिर से लाइएगा मैं दुबारा चैकअप करूँगा.

एक्स एक्स बीएफ गुजरातीचूंकि हम दोनों के पास कोई गाड़ी नहीं थी, तो कहीं लम्बा जाने की जगह आस पास नदी किनारे रोज़ घूम लिया करते थे. मैं उनकी चूत को लगातार चाटता ही रहा जिससे एक बार फिर से भाभी गरमा गईं.

मोटा लैंड

मुझे पता था कि हम दोनों का पहली बार है तो इसलिए मैं उसके मुंह को अपने मुंह में लेकर चूमने लगा और अचानक ऐसे ही उसे चूमते हुए एक जोर का धक्का लगाया, मेरा लन्ड उसकी चूत को चीरता हुआ अंदर चला गया. वो अपनी गर्लफ्रेंड के बारे में बताने लगा कि आज उसको अपनी गर्लफ्रेंड की याद आ रही है. ससुर जी ने कहा- कहाँ डालूं?मम्मी- मेरी बच्चेदानी में डाल दो!ससुर जी ने अपना माल मम्मी की चूत में डाल दिया।दोनों एक दूसरे को किस करने लगे.

वहां पर भीड़ भी बहुत थी और जो लड़कियों की लाइन थी, वो हमारे उल्टे हाथ की तरफ थी. कोमल ने अपनी चूत का दबाव मेरे मुँह पर बढ़ा दिया, मैंने अपनी जीभ कोमल की चूत में डाल दी. मैंने उनसे पूछा- आंटी क्या हरीश घर पर है?उन्होंने कहा- हरीश तो अपने मामा जी के यहां गया हुआ है, दो दिन बाद ही लौटेगा.

मैंने कहा- उसको चाट लो, बहुत अच्छा लगेगा!वो बोली- दीदी, मैंने कभी चाटा नहीं है, क्या आप चाटती हो?मैंने कहा- हाँ, बहुत अच्छा लगता है।फिर मैं उठी और अनुप्रिया की चूत को खूब चाटने लगी. मैंने उसके कन्धों पर हाथ रख कर उसको बिस्तर पर बिठा दिया और नीचे बैठ कर उसकी जयपुरी जूतियां उतार दीं. हमारी फ्रेंडशिप को एक साल होने आया था और फिर से वैलेंटाइन डे आने वाला था.

जैसे मैंने दोनों हाठों सर उसके बूब्स दबाये तो क्या बताऊँ दोस्तो … इतने मुलायम उसके बूब्स थे कि क्या कहना!और वो तुरंत आहें भरने लगी, उम्म उम्म की आवाज़ करने लगी. ’ की आवाज़ें निकालनी शुरू की, तो और ज़ोर से धक्के लगाने शुरू कर दिए.

मैंने बीवी को बिस्तर पर ऐसे लिटा दिया कि उसकी गांड बिस्तर के किनारे रहे.

कीकु- क्या भाई, कैसे? अच्छा मज़ाक करते हो?भैया- तू किसी तरह हॉस्टल से निकल, रूम और लड़की का इन्तजाम मैं कर दूँगा. सेक्स सेक्स बीएफ पिक्चरमैंने फिर भाभी को रिक्वेस्ट एक्सेप्ट करने के लिया थैंक्स का मैसेज लिखा. भोजपुरी में बीएफ बीएफफिर मैं आंटी को टच करने और चोदने के बहाने के बारे में सोचने लगा था. उसके बाद मैंने फिर से उसका जवाब माँगा तो उसने मुस्कुरा कर ‘आई लव यू टू.

कुछ ही देर में चूत की गर्मी और अधिक भड़क उठी और उसकी बुर ने बहुत ज्यादा प्रीकम छोड़ कर चूत को चिकना और लिसलिसा कर दिया था.

एक पल के लिए जरा सा ठिठक कर चाची ने अपनी गांड को उठाकर धक्के लगाते हुए मेरे लंड से मुकाबला करना चालू कर दिया. उसकी सहेली काजल का कल एग्जाम है, तो वो अपनी नींद पूरी करना चाहती है. आंटी कमाल की खूबसूरत थीं, दो बच्चों की माँ होने के बाद भी उनकी जवानी मानो किसी नवयुवती तक को मात करती थी.

मैंने थोड़ा और जोर लगाया और लंड घुसते ही उसकी चूत से खून निकलने लगा. उधर मेरे चाचा शाज़िया को नोच रहे थे, कभी चूची पर काट लेते कभी निप्पल मसलने लगते।शाज़िया बोली- चाचा, प्लीज़ काटो मत! निशान पड़ जाएंगे चूचियों पर … आराम से कर लो आप … मैं मना तो नहीं कर रही।चाचा- क्या करूँ मेरी जान, तू तो मेरी भतीजी शालू से भी हॉट है। वैसे भी आज पहली बार तुम्हारे धर्म की लड़की को चोदूँगा।चाचा, चुदाई की बात नहीं हुई थी. एक तो शराब का नशा और ऊपर से आंटी की मदमस्त जवानी का सुरूर सामने मुझे गर्म कर रहा था.

अन्तर्वासना हिंदी

हम दोनों ने एक-दूसरे को हाय हैलो किया और फिर वो अपना सामान अपनी सीट पर रख कर मेरी सीट पर ही नीचे बैठ गई और बोली- आपका नाम क्या है डीयर?मैं निशा और आपका नाम?”मैं अनुप्रिया!”और फिर हम दोनों काफी देर बातें करती रही. प्रीति ने मुझसे कहा- प्लीज लाइट बंद कर दो और लाल वाली लाइट जला दो! क्या पता कि इस कमरे में सीसीटीवी कैमरा हो?तो मैंने लाइट बंद कर दी और लाल वाली हल्की सी लाइट जला दी. मैंने उससे बात शुरू की, तो वो मेरी फ़ोटो मांगने लगा लेकिन मैंने नहीं दी.

दोस्तो, मेरा नाम निशा है। आप लोगों ने मेरी कहानियों को काफी पढ़ा, सराहा और काफी कमेन्ट भी दिये, इसलिये एक और सच्ची कहानी लेकर आई हूँ आपके मनोरंजन के लिये!अब मैं कहानी पर आती हूँ.

मैं बेक़ाबू हो चुकी थी, मैंने उसके लंड को पकड़ के अपनी चूत पर सैट किया और जैसे ही सुपारा अन्दर घुसा, उम्म्ह… अहह… हय… याह… मेरी आँखें दर्द के मारे फैल गईं.

मगर चाचा लगे रहे, शायद उनका समय भी आ गया झड़ने का … अचानक चाचा ने शाज़िया की चूत से लण्ड निकाल कर उसके मुंह में दे दिया और धक्के मारने लगे. और आप ने मेरी पिछली कहानीभाभी की चूत की चुदाई करके स्वर्ग का मजा लियापढ़ी ही होगी? नहीं पढ़ी तो जरूर पढ़ें. सेक्सी बीएफ हप्सी वाली”मैंने कहा- अब कभी भरेगा भी नहीं क्योंकि बहुत मुश्किलों से यह चुत तुम्हारे हाथ आई है ना.

उसकी बातों से मैं भी अपनी चूत को सहलाते हुए पूछने लगी- फिर?सुनीता- फिर उन्होंने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और मेरी दोनों टांगों को फैला कर अपनी जीभ मेरी चूत में रगड़ते हुए चाटने लगे, तो मैं चुदास से तड़फ उठी मेरे मुँह से भी ‘आहाआ ऊउन्न्ह ऊम्म्ह. मजाक मजाक में मैं कभी उसके शरीर पर हाथ रख देता तो कभी वो मेरे शरीर पर हाथ रख देती थी. फिर मैंने अपनी चुदास को शांत करने के लिए उससे मेरी मुठ मारने को कहा.

मैं बिस्तर से उठ कर भागी, पर उनके हाथ में मेरी साड़ी का पल्लू आ गया, उन्होंने साड़ी का पल्लू खींचा और मैं भागी तो मेरी साड़ी उतर गई. मेरी नंगी पीठ पर चुभते उसके नाखून, अब ये बता रहे थे कि वो भी अब पिघलने लगी है.

कुछ देर बाद मेरा छूटने वाला था, मैंने लंड बाहर निकाल कर उसके पेट और चूत के ऊपर गिरा दिया.

वो हमेशा बोलती थी कि दो रात जब वो अपने मौसी के बेटे यानि भाई के साथ होटल में रुकी थी तब दोनों के बीच कुछ नहीं हुआ. उन्होंने मुझे देखा, मैंने उनको धीरे से पूछा कि वो ग्रिल को लॉक कर दिया?उन्होंने बोला- हां कर दिया. भाभी बड़ी वाली चुसक्कड़ थीं, वे मेरे लंड के पूरे पानी को अपने मुँह में भरकर गटक गईं.

डर्टी बीएफ सीमा एक गरीब घर की मेरे ही मोहल्ले में रहने वाली लड़की थी। वो दिखने में सांवली थी लेकिन दिखने में फिर भी बहुत सुंदर थी। सीमा अक्सर अपनी भैंस के लिए घास लेने के लिए मेरे खेत में आती रहती थी।एक दिन छुट्टी के दिन में अपने खेतों में था और पापा शहर गए थे. जब उसकी पेंटी उतारी, तो कमसिन सी गुलाबी जन्नत के दर्शन हुए, एकदम साफ़ और सुंदर चूत थी.

अब मैं और वो साथ में बैठ कर बात करने लगे और उसका बच्चा टीवी पे गेम खेलने लगा. मैं भी जल्दी जल्दी बाथरूम में गया और फ्रेश होकर झांटें वगैरह साफ़ करके जल्दी से निकला. अब सुरेश जी ने एक जोर का धक्का मारा तो उनका लंड मेरी गांड को फाड़ता हुआ सीधा अन्दर चला गया.

सोनाक्षी की नंगी तस्वीर

फिर हमेशा की तरह आंटी आगे आई और मैं एकदम पीछे से चिपक कर बैठा उनकी गांड से… और वो तो हमेशा की भान्ति टाइट वाली लेगी पहनी थी. वो बहुत ही उत्तेजित हो गई थीं, इसलिए ज्यादा समय तक सह नहीं सकीं और उनकी चूत ने पानी छोड़ दिया. मैं जानू जानू कह रहा था और वो बार बार कह रही थीं- बेटा क्या हुआ, अरे बेटा, मैं हूँ.

एक चाची लंड को दूसरी चाची मेरे अंडकोष को मुँह में ले कर चचोर रही थीं. लेकिन एक दिन भांडा फूट ही गया और आगे क्या हुआ, उसके लिए अगली कहानी का इंतजार कीजिएगा.

मैं अब उनकी चिकनी मस्त जाँघों को सहलाते हुए चाटने लगा, किस करने लगा.

तभी मैंने अपना पैर कार्पेट पर फंसा कर गिरने का नाटक किया और मैं जा कर अंकित के ऊपर गिरी. मैंने उससे कहा- ठीक है, तुम इसको अपने हाथ में पकड़ लो और इससे मजा लो. कब नींद लग गई, हम दोनों को पता नहीं चला और हम दोनों लोग नंगे ही एक दूसरे की बांहों में सो गए.

दोस्तो, मेरी पिछली कहानियों को आपने इतना प्यार दिया, उसके लिए आप सभी का शुक्रिया!मेरी इस कहानी के पिछले भागमेरी मम्मी रंडी निकली-4में अपने देखा कि कैसे मैंने मेरी बहन शीतल और मेरी बाकी दो बहन जो दूसरे बाप से पैदा हुई अंजलि और शिवानी, हम सबने खूब चोदम-चुदाई की!अब आपको आगे की कहानी बताता हूँ. मैं थोड़ा सा उसकी तरफ को घूम गया और अपना दाहिना हाथ कोमल की जैकेट में डाल दिया. हमारी शादी के तीन चार महीने बाद इन दोनों की चचेरी बहन की शादी भी थी मेरठ में.

सुबह सुबह वो लड़का उसको चोद चाद कर चला गया और तब तबस्सुम मेरे पास आ कर अपने बॉस के लिए बोली- वो तुम्हारी पूरी मदद करेगा, जिनसे तुमको बदला लेना है.

बीएफ एक्स एक्स एक्स ब्लू पिक्चर: अब मैंने दोनों हाथों से कमर को पकड़ लिया और निशा को जोर से लंड पे खींचा तो चिकनाई की वजह से पूरा लंड चुत में उतर गया. और जो नहीं समझा है उन्हें मैं बता दूँ कि जवान लौंडों की सौ में नब्बे टाइम दारू की पार्टी ही होती है.

अगर मुझ पर भरोसा करती हैं तो एक बार आजमा कर देख लीजिये।”मैं सोचूंगी।” इस बार उसने सकारात्मक सन्देश दिया।जी बिल्कुल… कल सुबह बता दीजियेगा. जिसे सोनू समझ गया और मेरी यह हालत देख कर जोश में सोनू का भी गिर गया. दूसरे दिन उसने अपने मोबाइल पर फेसबुक से उसका नाम लिखकर सर्च करने लगा.

धीरे से मैंने उसकी गोरी पेशानी चूम ली और धीरे से उनकी चुनरी हटाने लगा.

अब हम ऐसे छोटे से मैदान में आ गए थे, जो चारों ओर से घास और घने पेड़ से घिरा था. करीब 12 बजे बुआ जी का फोन आया, उन्होंने गुस्से में कहा- गाड़ी निकालो, मुझे कुछ मार्केट में काम है. आज भी मैं उसे मिस करता हूँदोस्तो, मेरी ये ट्रेन सेक्स की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं.