बीएफ सेक्सी पेपर

छवि स्रोत,कैलेंडर वाली बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

बडिया सेक्सी: बीएफ सेक्सी पेपर, तो उसकी गाण्ड के दोनों उभारों के बीच में घुसी साड़ी साफ़ दिखा रही थी कि उसके चूतड़ कितने मोटे और गोल हैं।मेरा तो लण्ड पागल हो रहा था कि पकड़ कर गाण्ड में अपना मुँह लगाकर चूस डालूँ साली को.

नई बीएफ ब्लू

बाद में जब मैं 20 साल का हुआ, तब एक रात को मैंने देखा कि मेरे पापा मम्मी की गांड मार रहे थे और मम्मी ‘आह्ह … ओह … उचए … उम्मम … ओहह …’ कर रही थीं. सेक्स बीएफ फुल वीडियोप्रीति ने अपने एक हाथ से मीठानंद के कच्छे का नाड़ा खोला और पूरा नंगा कर दिया.

वो मुस्कुरा रही थी क्योंकि जितना ज्यादा मुझे उसकी चूत चोदने की पड़ी थी, उतना ही ज्यादा वो भी मुझसे चुदना चाहती थी. सेक्सी वीडियो एक्स एक्स वीडियो बीएफजिससे मनप्रीत तो बिल्कुल भी सहन नहीं कर पा रही थी और मुझसे चिपकती ही जा रही थी।अब बस हमारा वाला कोच बिल्कुल खाली सा ही हो चुका था.

उन्होंने अपने मम्मों को हाथ से ढका हुआ था।मैंने कहा- आप जल्दी नहा लो.बीएफ सेक्सी पेपर: मैं भी इसी बिल्डिंग में 8 वें फ्लोर पर रहती हूँ।मैंने जवाब में कहा- कोई बात नहीं.

तो गर्म-गर्म वीर्य से उसको बड़ा सुकून मिला।पायल की गाण्ड को भर कर ‘पक्क’ की आवाज़ के साथ लौड़ा बाहर निकाला और पुनीत बिस्तर पर लेट कर लंबी साँसें लेने लग गया।पायल की गाण्ड से वीर्य टपक कर बाहर आने लगा.पर उनका पल्लू सीने से हटा हुआ था।मैं वहीं चाची की छाती के पास बैठ गया और चाची का सीना देखने लगा। मन कर रहा था कि छू कर देखूँ.

बीएफ सेक्सी पिक्चर वीडियो चुदाई - बीएफ सेक्सी पेपर

मेरी जान निकल गई ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ जीजू का लौड़ा फंसता चला गया, पूरा लौड़ा मेरी गांड में फंस गया। उधर रवि का लौड़ा खड़ा हो गया। मेरी आँखों से आँसू बहने लगे इतना दर्द था।पर दो हब्शी दरिंदे मुझे पेल रहे थे।कुछ देर गांड में लंड चलने के बाद मुझे आराम सा मिला तो रवि जीजू से बोला- एक साथ चोदें क्या?जीजू सीधा कार्पेट पर लेट गए और मुझे अपनी तरफ पीठ करवा लंड पर बैठने को कहा.शायद मेरे लंड से अब भी नेहा की चुत के रस की महक आ रही थी, जो कि प्रिया को पसंद नहीं आई.

इसलिए हमने वक़्त की नजाकत को समझते हुए रात को मिलने का प्रोग्राम बनाया और एक और दिल की गहराइयों को महसूस करते हुए एक-दूसरे के होंठों को चूम लिया. बीएफ सेक्सी पेपर लंड पेलने के बाद मैंने उसकी गोरी-गोरी गांड पर थप्पड़ मारना शुरू किये.

पर पिछले कुछ सालों से दिल्ली के आस-पास ही मस्ती कर रहा हूँ।मैं पिछले 7 सालों से अन्तर्वासना का पाठक हूँ.

बीएफ सेक्सी पेपर?

पर फिर भी मैं साफ करने लगा।भाभी के लिए मैंने टीवी चालू कर दी।जब मैं साफ-सफाई करके आया तो भाभी ने टीवी बंद कर दी।फिर मैं बोला- अब मैं चलता हूँ. जिस पर भरोसा कर सकूँ।मैं- कोई नहीं मिली? कैसी लड़की चाहिए आपको?भाई- बोले तुम बुरा तो नहीं मानोगी।मैं बोली- बोलो भाई. मैं उसको बेड पर ले गया और पहले उसको पीठ के बल लेटा दिया और तेल लेकर उसकी पूरी बॉडी पर लगा दिया.

मैं तौलिया और पानी गर्म करके थोड़ा मालिश कर देता हूँ।वो चली गई और मैंने उसकी चूत को गर्म तौलिया पानी में भिगो कर उसकी सिकाई कर दी. फिर उसकी ब्रा को खोलने लगा। तभी मुझे एहसास हुआ कि उसके ऊपर टी-शर्ट भी पहन रखी है। फिर मैंने उसकी टी-शर्ट उतारी. तो मैंने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी और थोड़ी देर मैंने अपना पानी उसकी गाण्ड में छोड़ दिया।फिर हम ऐसे ही साथ चिपके रहे और मैं उसे किस करता रहा।इस तरह हमारी चुदाई चलती रही और मैंने उसको सुबह तक चोदा और उसका नंबर ले लिया। वापस आने के बाद मैंने उससे मिलने को कहा।मित्रो, यह थी मेरी ट्रेन में चुदाई की रस भरी घटना। आपको कैसी लगी.

लेकिन पैन्ट चुस्त होने की वजह से उनका हाथ पैन्ट में घुस नहीं पा रहा था।उन्होंने मेरी पैन्ट भी उतार दी. क्या मस्त स्तन अभी भी टाइट पिंक निप्पल के साथ उठे हुए थे।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने उनके एक निप्पल को मुँह में लेकर चूसना ऐसे शुरू किया कि आज इस अंगूर को खा ही जाऊँगा. तो मैंने कोमल से कहा- अब तुम अपने चूतड़ ऊपर करके और चूची नीचे की तरफ करके लेट जाओ.

तो उन्होंने कहा कि हम दोनों सब प्रयास कर चुके हैं, पर मुनीर को ये सब लाइव देख कर ही उत्तेजना होती है. तब तक वेटर हम लोगों के लिए ड्रिंक्स ले आया और मैंने पूजा को एक ग्लास ब्लडी मेरी पकड़ा दिया.

पर अब वो मेरे सामने ही अपने कपड़े चेंज करने लग गई थी। ऐसे ही दिन गुजरते गए और फिर कुछ दिन बाद मैंने फिर से रात में उसकी गाण्ड में अपना लण्ड जो कि छ: इंच लम्बा और ढाई इंच मोटा है.

लेकिन मैं निकालने नहीं दे रहा था, जिस कारण उसे रस पीना ही पड़ रहा था।जब मेरा लंड सख्त हो गया.

मैं उसके पास जाकर उसको टच करने की कोशिश करता, पर वो दूर कर देती, मेरी फ्रेंड ये देखकर बहुत ग़ुस्सा हो रही थी. फिर मेरे लंड पर अपनी जीभ रख दी और धीरे-धीरे चाटने लगी।दस मिनट चूसने के बाद मेरे लंड ने उसके मुँह में अपना पानी छोड़ दिया. कैसी हो?’यह कहते हुए चाचा मेरी छत पर आकर मुझसे सटकर खड़े हो कर मेरी छाती पर हाथ रखकर मेरी चूचियों को दबाने लगे।मैं गनगना उठी- आहह्ह्ह.

ये तो अच्छी बात थी कि उस वक्त हम दोनों किसी आपत्तिजनक स्थिति में नहीं थे. काफ़ी देर बाद जब वो नहीं झड़ा तो मालती खुद ही उससे बोली कि मैं तो थक गई हूँ. लंड तो ऐसा लग रहा था, जैसे निकलता ही जा रहा हो और बहुत ही लम्बा होता जा रहा हो.

मेरे मन में ये ही चल रहा था कि किस पोजीशन में इसकी गांड की चुदाई करूँ, जिससे पकड़ सही से बनी रहे.

पुनीत ने लौड़े को गाण्ड पर टिकाया और प्यार से छेद पर लौड़ा रगड़ने लगा।पुनीत- अरे जान. तो वो अपनी बुक में देखने लगी।कुछ देर बार पूजा चली गई और मैं भी लेट गया। फिर से मैं 8 बजे का वेट करने लगा और ये 2 घन्टे कट ही नहीं रहे थे।मैं उठा और मार्केट चला गया। फिर मैं अपने दोस्तों के पास चला गया और वहाँ अपने दोस्तों के साथ खाना ख़ाकर कमरे पर वापस आने को हुआ और जब मैंने मोबाइल निकाल कर टाइम देखा तो 9 बजने वाले थे. मेरा लंड फिर से खड़ा होने लगा और मैंने भाभी की गांड को हल्के से दबा दी.

उसकी फिगर के लिए लिखूँ तो उसकी गांड इतनी ज़बरदस्त उठी हुई थी कि जो भी उसे एक बार देखे तो बस देखता ही रह जाए. त्याने म्हटले कि प्रत्येकाने त्याच्या आयुष्यातला एक अनुभव असा सांगावा कि ज्यात त्याने केलेल्या संभोगाचा अलग अनुभव असावा आणि तो खरा असावा. मैं उठा और सोनी के बाल पकड़े और उसको दीवार से लगा दिया और फिर उसके प्यारे कोमल होंठों को जोर-जोर से चूसने लगा और कभी-कभी काट भी लेता।मुझे पता था कि टाइम अभी ज्यादा नहीं है.

उन्होंने नीचे गुलाबी रंग की पैन्टी पहनी हुई थी।वो मेरी छत की ओर मुँह करके मूतने के लिए बैठ गईं।मैंने जब ये देखा तो मेरा लंड तुरंत खड़ा हो गया।तभी मुझे मम्मी ने आवाज लगाई और मैंने उनको ‘अभी आया.

रात को खाना खाकर मैं एक किताब और एक नोटबुक लेकर टीचर के घर चला गया। टीचर हमारे ही गाँव में रहती थीं. जितना किसी भी ब्लू-फिल्म में भी आज तक ना दिखाया गया हो।बस मैं मन में ठान कर उनके पास पहुँच गई। पहले दिन मैंने उन्हें काफ़ी प्यार दिया और एक बहुत ही रोमांटिक सेक्स करने की कोशिश की.

बीएफ सेक्सी पेपर जब मेरा दर्द कम हुआ तो सरबजीत ने एक और धक्का मार कर पूरा लंड मेरी गांड में पेल दिया. आखिरकार 15-20 झटके मारने के बाद मैंने अपना रस उनकी गांड में भर दिया और उनके ऊपर गिर गया.

बीएफ सेक्सी पेपर और यही वजह थी कि हमने अपने सम्बन्धों में प्यार के आनन्द को चरमोत्कर्ष के उस शिखर को हमेशा प्राप्त किया था जिसकी लोग मात्र कल्पना ही कर सकते हैं लेकिन सम्बन्धों में प्यार की गहराई की कमी की और आतुरता की वजह से प्राप्त नहीं कर सकते. कोशिश ये करना कि तुम्हारे कपड़े नींद में घुटनों के ऊपर हो जाए और तुम्हें इस पोज़ में पैर को रखना है कि तुम्हारी पैन्टी तुम्हारे भाई को दिखे। तुम्हारा टॉप कुछ ऊपर को हो जाए.

मैंने चाबी के छेद से सब देख लिया था। मैं डर गई थी तो चुपचाप सो गई।सन्नी- अच्छा क्या कर रहे थे दोनों.

सेक्सी चुदाई वाली बीएफ फिल्म

”वो बोली- नहीं दीदी, मैं उनको बता कर आई हूँ कि मैं दीदी के पास जा रही हूँ।फिर हम दोनों ननद भाभी कम्बल में लेट गयी और मैं उसे किस करने लगी. चाय नाश्ता रख कर प्रिया वापस चली गयी मगर मैं प्रिया के बारे में ही सोचता रह गया. कोई बात नहीं।फिर मैंने दुबारा उसके मुँह में लण्ड डाल दिया और जोर-जोर से उसका मुँह चोदने लगा। उसका सर को पकड़ कर जो जोर-जोर से झटके मारे तो मस्ती में आ गई।करीब 5 मिनट बाद पिंकी ने मुँह से लण्ड को निकाला, बोलने लगी- चलो अब मेरी चूत भी आपका लण्ड मांग रही है.

मैं पूरे दिन की थकान के कारण गहरी नींद में जरूर था, पर मुझे ऐसा लगा कि मुझे कोई सपना आ रहा है और सपने में मेरे लंड के साथ कोई लड़की खेल रही है. ये कहानी है आपके अपने सरस और सरस के सामने वाले फ्लैट में रहने वाली तीन लड़कियों की. उन्होंने मेरा हाथ थाम लिया और यह कहते हुए वाशरूम की तरफ ले गये कि चलो आते हैं.

जब मैं इंटर में था।मेरे एक भैया हैं मैं उनके साथ काम करने लग गया।एक बार वो मुझे किसी के घर ले गए, भैया ने बताया कि वे उनके अच्छे दोस्त हैं।हम दोनों उनके घर गए.

और कुछ ही दिनों में वो मेरे से बात करने में खुल गई।मेरा मन उससे चोदने का करता था लेकिन क्या करता. राकेश और उसका भाई खाना खा रहे थे और राकेश के पिताजी जिन्हें हम काका कहते थे. बहुत ही दर्द हो रहा था। वो नरक के दो घंटे में कभी भी नहीं भूल सकती.

बस अगले भाग में मेरे साथ अन्तर्वासना से जुड़े रहिए।कहानी जारी है।[emailprotected]. उसकी चूत पर हल्के-2 बाल उग आये थे जिस कारण उसकी चूत के बाल मेरे होंठों में चुभ रहे थे लेकिन मजा भी बहुत आ रहा था. आणि लग्नानंतर या गोष्टी मी सदाशी शेयरही केल्या कारण आमच्या दोघात कुठलाही गैरसमज मला नको होता.

कोई तुम्हारी जिस्म को देख लेगा तो मेरे ना रहने पर तुम्हारा देह शोषण कर बैठेगा और फिर मेरी बदनामी होगी सो अलग. मुझे अपने साथ ले गया और बीयर पिलाने लगा। मेरी कुछ भी करने की हिम्मत ही नहीं हो रही थी.

मी कळवळले ‘आअह स्स्स्स्स्स्स्स्स’ प्रथमने माझी पुद्दी चोळायला सुरवात केली. प्रिया बोली- इतनी भी जल्दी क्या है?मैं बिना कुछ बोले ही उस पर टूट पड़ा और पीछे से दोनों हाथों से उसके चूचों को पकड़ कर दबाने लगा और उसकी गर्दन को चूमने लगा. सच में मजा आ गया।उस दिन मुझे इतना अच्छा लग रहा था कि कभी भाभी से दूर न जाऊँ, उस दिन मैंने उन्हें जी भर के प्यार किया। हमारा पहला राउंड 20 मिनट तक चला.

पर समाली अंकल का लौड़ा मुँह में घुसा था, तो आवाज वहीं की वहीं अन्दर ही घुट जा रही थी.

[emailprotected]देसी कहानी का अगला भाग :ट्रेन में फंसी पंजाबन कुड़ी -2. मैं टुकड़ों को उठाता-उठाता हाथ को उनकी फुद्दी के पास ले गया। मुझे बड़ा मजा आया. पर आपकी चुदाई में खलल डाल दिया है।तभी उस शख्स ने आवाज दी- नेहा तुम कहाँ हो.

उसने दरवाज़ा खुला छोड़ा हुआ था।मैं बाथरूम की दहलीज से अंदर झांका तो वो नंगे बदन और नंगे पाव नीचे फर्श पर केवल फ्रेंची पहन कर बैठा हुआ था। उसके सामने बेडशीट थी जिसपर वो पानी डाले जा रहा था और पानी डालते ही बेडशीट से लाल रंग का पानी बाहर निकल रहा था. उसकी आंखों से आंसू निकल आये।मैं थोड़ी देर तक उसको प्यार करता रहा जब उसका दर्द कम हुआ तो उसने अपनी गांड उठा-उठाकर मेरा लंड अपनी चुत में लेने लगी।करीब 15 मिनट की चुदाई के बाद वो एक बार फिर से झड़ गयी पर मेरे लंड ने अभी तक हार नहीं मानी थी तो मैंने उसे चोदना जारी रखा करीब 10 मिनट बाद जब मेरा होने वाला था तो मैं प्राची की चुत में ही झड़ गया और उसके ऊपर लेट गया और वो मुझे बेतहाशा चूम रही थी.

अब मैं भी धीरे अपने लंड को आगे पीछे करने लगा और उनकी गांड को चोदने लगा. उसकी चूत से पानी निकल रहा था।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !वो अब बेकाबू हो गई थी, वो बोल रही थी- जान अब कंट्रोल नहीं हो रहा. इस पर वो नाराज़ होकर बोली- अच्छा है तब तक खेती का काम बंद हो जाएगा, फिर मम्मी भी यहां ही रहेंगी.

मोतिहारी बीएफ

संतोष अपने कमरे में नहीं था, मैं बाथरूम से आती आवाज सुनकर बाथरूम की तरफ चली गई और ध्यान से आवाज सुनने की कोशिश करने लगी शायद अन्दर संतोष कुछ कर रहा था। यह देखने के लिए कि वह कर क्या रहा है.

दोस्तो, मैं अपने पड़ोस में रहने वाली चाची की चुदाई की कहानी लिख रहा हूँ।मेरा नाम रतीश है. कपड़ों में बदमाश लग रहे हो।मतलब मैं भी कपड़े उतारूं?”तो और क्या कह रही हूँ यार. एक बार दिखाओ तो सही?मैंने उसी समय दूसरे टैब पर टॉम एंड जेरी वाला कार्टून लगा कर दिखा दिया.

जो बहुत टाइट हो चुका था और 7 इंच लंबा भी हो गया था।अर्चना ने मदहोशी में अभी तक मेरा लण्ड देखा नहीं था. मैंने एक दोस्त से कुछ ‘फ्रेण्डशिप बैंड मंगाए और एक अच्छा सा लैटर लिखा कि अगर ये मेरा बैंड स्वीकार कर लेगी. सौतेली मां के साथ सेक्सी बीएफतो उसने मना कर दिया।विनय ने उसे गाली बक दी और फोन रख दिया।मेरे चेहरे पर उदासी आ गई मैंने सोचा अब तो कुछ नहीं होगा।हम लोग उसके बारे में बात करने लगे। करीब एक घंटे बाद उसका फिर फोन आया.

उसके पति से उसका तलाक़ हो चुका है और वो कई सालों से अकेली ही रहती है।उसका लड़का कभी-कभी ही घर आता था. अब वो घर जाने की बजाए मुझे हॉस्पिटल ले जाने लगी, जिसके लिए मैंने मना किया.

परीक्षाएं समाप्त होने के बाद अब मेरी छुट्टियां चल रही थीं और परीक्षा परिणाम आने में अभी समय था. अपने लंड को मैंने धीरे से उनकी चुत के छेद पर रख कर धीरे से धक्का दे मारा. तब उसने खाने की बहुत तारीफ की। वो कीर्ति की भी बहुत इज्जत करता था।एक दिन हम दोनों दोस्त कैंटीन में बैठे थे.

तो उसने सोनू को बताया कि जमील अपनी हर चुदाई की वीडियो बनाता है और फिर उसको देख-देख कर रात में सबको बजाता है।सोनू ने तस्लीमा से कहा- मुझे भी देखनी है तुम्हारे चुदाई की वो क्लिप्स. आखिर मीठानंद ने प्रीति को अपनी गोद में उठाया और उसके कमरे में ले गए. ये पल मैं हमेशा याद रखूंगी।वो ये बोल कर चली गई।आगे क्या हुआ वो सब मेरे अगले भाग में पढ़िएगा।दोस्तो, मुझे अपने मेल भेजना।[emailprotected].

मैंने किसी तरह दो दिन निकाले और शनिवार को दोपहर में ही रामेसर चाचा के लड़के के घर पहुंच गया.

तब मैंने शॉट मारना शुरू किए। वो चीखती चिल्लाती रही और मैं उसकी गाण्ड को बेरहमी से मारता रहा।अनु बोली- भैया चुदाई के वक़्त पता नहीं आपको क्या हो जाता है. अभी मैं उन्नीस साल की युवती हूं परन्तु पिछली घटनाओं को याद करती हूं तो बहुत रोमांचित हो जाती हूं.

मैं कमरे में घुसते ही अपनी मीता की गोल गहरी नाभि कूप में अपनी उंगली डाल कर चलाने लगता और दोनों मादक उभारों को हाथों से दबाकर चूसने लगता था. मेरी आँखें बंद हो गई थीं और मैं धीरे धीरे करते हुए उसके मुँह को ही चोदने लगा था. आपका नहाना हो गया क्या?तुरंत ही उनको ग़लती समझ में आई और तौलिया को कमर में लपेट लिया.

उसने होटल पहुंच कर अपना बुक किए हुए कमरे की बात की और हम दोनों एक वेटर के साथ रूम तक पहुंच गए. तभी दादी बोलीं- हां बेटा उतार दो … उस चारपाई का अब वहां कोई काम नहीं है. ’‘तो तुमने क्या जबाब दिया?’‘मैंने कहा कि उसका कोई टाइम फिक्स नहीं होता है।’इतना कहकर मैं मॉल के मेनगेट की तरफ मुड़ी।मेरे पति ने मेरे साथ चलते हुए पूछा- क्या हुआ क्यों नाराज हो?मैंने पति की तरफ थोड़ा गुस्से से देखकर कहा- तुम्हारा घोड़ा कहीं भी खड़ा हो जाता है.

बीएफ सेक्सी पेपर मैंने उसे बताया कि इतनी स्पीड और ताकत ग्राउंड में हर रोज़ की गई मेहनत से आई. राज अंकल ने मेरे कूल्हों को पकड़कर फैलाया और गांड के छेद पर अपनी जीभ डाल कर चाटने लगे.

सेक्सी बीएफ छोटी लड़कियों

मगर सन्नी जैसे चालाक आदमी से वो जीत थोड़े ही सकती थी। वो ठहरा एक नंबर का कमीना आदमी. वो इतनी जोर से चीखी थी कि मैं भी सहम‌ सा गया और उसे दोबारा पकड़ने की मेरी हिम्मत ही नहीं हुई. मैंने अपनी सीट ढूंढी, एक पे अपनी चादर बिछाई और दूसरी सीट जो सामने वाली थी, उस पे अपना सामान रखा और लेट के मोबाइल पे गाने सुनने लगा.

।’ मैं भी चरम सीमा पर था।उसने मेरी कमर पर अपनी टाँगें मोड़ लीं और मेरे होंठों को काटने लगी, अपने नाखूनों से मेरी पीठ पर खरोंचने लगी।मैं भी फुल स्पीड में तेज़-तेज़ चुदाई करने लगा।अहहसीईए. उसे देख कर ही मेरा लन्ड खड़ा हो गया।वो मुझे देख कर मुस्कुरा रही थी।मैंने उन्हें अन्दर बुलाया और सरिता को पकड़ कर किस करने लगा।सरिता ने कहा- आज तुम सिर्फ़ रीना के साथ सेक्स करोगे. साउथ हीरोइन की सेक्सी वीडियो बीएफमैंने उसे गोद में उठा कर बिस्तर पर लिटाया और उसकी नाइटी उतार कर उसके मम्मों को दबाने लगा.

जिसे देख कर मुझे बहुत गुस्सा आता था। फिर मैंने भी सोच लिया कि जब सारा मोहल्ला मेरी माल किस्म की बहन का मज़ा ले सकता है.

मोनू सिसकारियाँ लेने लगा। अचानक मैंने पूरा सुपारा मुँह में ले लिया। सुपारा मोटा होने के कारण मेरा पूरा मुँह भर गया।धीरे-धीरे मैं लंड मुँह में लेने लगी. तुम पैंट पहन लो और घर चले जाओ।’उनके कहे मुताबिक मैं पैंट पहनकर वहाँ से निकल आया।लण्ड पर स्केल की मार की पीड़ा अगले तीन-चार दिन बनी रही। उन तीन-चार दिनों में टीचर ने रोज मेरे लण्ड पर क्रीम लगाई और रोज उसे फूँककर उसकी जलन कम करने की कोशिश की।इन तीन-चार दिनों में मेरी पीड़ा कम हो गई थी.

’ की आवाज़ कर रही थीं।तभी मैंने अपना लौड़ा बाहर निकाला और मामी के हाथ में दे दिया।दोस्तों मेरा लंड 8 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है. नहीं, अपनी ऐसी किस्मत कहाँ कि रोज़ कोई बिस्तर पर अपने होंठों का ज़ाम पिलाए और पूरी रात बस सोने ना दे. ’मेरा इतना कहना सुनते ही चाचा ने मेरे कूल्हे को पकड़ कर मेरी बुर के छेद पर लण्ड लगा कर.

लेकिन मेरे लिए वो आवाज़ सुनी ना सुनी एक बराबर थी। फिर इस बार किसी ने मुझे हिलाकर जैसे नींद से जगा सा दिया.

तस्लीमा ने उससे वादा किया कि कुछ क्लिप्स वो सोनू को लाकर देगी और मजाक में कहा- क्या तुमको भी चुदना है. तो मेरी दादी ने उनसे पूछा- तू होली नहीं खेल रही क्या?तो उन्होंने जवाब दिया- हमारे घर में कोई देवर ही नहीं है. साथ ही बुआजी के मुँह में अपने लंड को डाल कर मैं उनके मुँह को जोर जोर से चोद रहा था.

ब्लूटूथ बीएफ सेक्सीसंतोष पूरी तरह नंगा था और अपने हाथ से अपने लण्ड को हिलाते हुए मेरे नाम की मुठ्ठ मारते मेरी चूत और चूचियों का नाम ले कर लण्ड सौंट रहा था। संतोष का लण्ड भी काफी फूला और मोटा लग रहा था।सुपारा तो देखने में ऐसा लग रहा था जैसे लवड़े के मुहाने पर कुछ मोटा सा टोपा रखा हो। लेकिन ज्यादा चौंकने की वजह यह थी कि एक 19 साल का लड़के का इतना फौलादी लण्ड. मयूरी- फिर ठीक है मतलब? तुम्हें क्या लगता है, ये बिना ब्रा के संभल जायेंगे?विक्रम- ये…ये कौन?मयूरी- भैया, तुम भी ना? ब्रा से कौन सम्भलता है ? तुम क्या…? ये…और उसने अपनी बड़ी-बड़ी गोल-गोल चूचियों की ओर इशारा किया.

बीएफ वीडियो दिखा दे

आपको मेरी कहानी कैसी लगी प्लीज़ मुझे मेरे मेल बताइए।[emailprotected]. फिर मुँह को और चौड़ा किया और जीभ को बाहर कर लिया, जिससे मेरे मुँह में एक बड़ा सा रास्ता तैयार हो गया. अब तो हँस दो।और मैं भी मुस्कुराते हुए पति के होंठों का किस करने लगी।पति के जाने के बाद मैं मुख्य दरवाजा बन्द करके बेडरूम में आ गई। मैंने नाईटी को निकाल कर एक दूसरा टू-पीस की नाईटी पहन ली।नाईटी के अन्दर सिर्फ ब्रा पहनी.

कि किस प्लेटफॉर्म पर मिलेगी?तो आंटी ने जबाव दिया- मैं अभी-अभी यहाँ पहुँची हूँ और तब से तो कोई अनाउंसमेंट नहीं हुई है. वापस आयी तो देखा कि विकी कपड़े पहन चुका था और मेरे पति उसको पैसे दे रहे थे. मुझे तैयार होते देख कर ही मेरे वो लवर केयर टेकर का तो लंड एकदम से खड़ा हो जाता था.

पता नहीं क्यूँ मैं चाह कर भी उस टाइप का सेक्स नहीं कर पा रही थी। एक अनजाना सा डर लग रहा था या यूँ समझ लीजिए कि मैं ब्लू-फिल्म की तरह नहीं बन पा रही थी।खैर. मेरी चूत का पानी मुझे चखा रहे हो।पुनीत- अरे दिमाग़ से नहीं दिल से कर. नीचे उसने नीले रंग की पतली सी पैंटी पहनी हुई थी, जो कि उसकी इस सफेद पारदर्शी नाइटी में साफ दिख रही थी.

इतने में राज अंकल मेरी कमर में हाथ डाला और मुझे खिसका कर थोड़ा अपनी तरफ करके सीधे मेरे होठों को चूम लिया और अंकित को बोले- तू चाहे तो अपना लन्ड डाल दे अंकित, मेरी वजह से तेरा काम अधूरा रह गया था. बहुत ही दर्द हो रहा था। वो नरक के दो घंटे में कभी भी नहीं भूल सकती.

खैर कुछ देर बार चुदाई करने के बाद उस लड़के के लंड ने अपना पानी छोड़ा.

उसके बाद सुमेर भैया ने सुलेखा भाभी से शादी कर ली, जिससे उन्हें कुशल पैदा हुआ. ओ जाने जाना बीएफतो मैं अपने हाथ से उनकी जाँघों को सहलाने लग गया।उन्होंने कहा- ये ग़लत है. देहाती भोजपुरी बीएफ सेक्सी वीडियोउसके निप्पलों को मैं अपने दांतों से दबाने लगा।उसकी सिसिकारियों की आवाज़ पूरे रूम में गूंजने लगी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैं उसे चूमते हुए उसकी पैंटी के ऊपर उसकी चूत चाटने लगा, वो मदहोश हो गई थी, मैंने उसकी पैंटी को भी निकाल दिया, वो मेरे सामने पूरी नंगी हो गई।मैंने एक उंगली उसकी चूत में डाल दी. पर तुम्हें मुझे वहाँ से पिक करना पड़ेगा।उसने ओके कह दिया।मैं दूसरे दिन ऑफिस से लगभग 12 बजे निकल गया। ऑफिस से एक बस में बैठा और सीधे दिल्ली पहुँचा। लगभग 5 घंटे में में चंडीगढ़ से दिल्ली पहुँच गया.

मेरी दोनों चूचियों को पकड़ कर पूरी ताकत से धक्का लगा दिया।चाचा का सुपाड़ा मेरी चूत के अन्दर घुस गया था।‘उह.

लेकिन मैं निकालने नहीं दे रहा था, जिस कारण उसे रस पीना ही पड़ रहा था।जब मेरा लंड सख्त हो गया. फिर भी मन नहीं भरा?वो बोले- तुम हो ही ऐसी चीज़ कि लंड खड़ा हो जाता है. यह कह कर उसने मेरे लण्ड को रगड़ दिया।अब मैंने उसे घर छोड़ा और रात 8 बजने का इंतजार करने लगा और उसकी मोटी गदराई गाण्ड और मोटी चूचियाँ मेरे दिमाग़ और लण्ड में तूफान ला रही थीं।आख़िर वक़्त आ ही गया.

लण्ड को प्यार करने लगी और तभी नीचे बैठ कर मेरा लण्ड मुँह में लेकर चूसने लगी ‘आहह. साफ़ शब्दों में कहूँ तो वे एक माल थीं और मेरे डैड को अपने बिजनेस से फुर्सत नहीं होने के कारण उनकी जवानी का रस बह रहा था।खैर. ऐसा कहते हुए मेरी गांड में राज अंकल ने अपना लंड रख दिया और फिर बहुत सारा अपना थूक निकाल कर मेरी गांड के छेद पर लगा दिया.

एक्स एक्स व्हिडिओ बीएफ सेक्सी व्हिडिओ

कहा- मुंबई आकर खुद ही उतारना और देख लेना।मैं उससे मिलने मुंबई जाने तैयार हो गया, हम दोनों ने मिलने का प्लान बनाया, हम दोनों की ऑफिस से छुट्टी संडे को थी. और अगले ही पल उसने बड़े से लंड को अपने मुँह में गपक लिया और उसको धीरे-धीरे चूसने लगी. उसे श्यामा ने ही कहा हुआ था कि सारे कपड़े उतार कर बैठे सिवा चड्डी के.

फिर आकर चुदाई चालू हुई।उनमें से सबसे सेक्सी नेहा लग रही थी।मैंने आनवी और अनु को दूसरे कमरे में बन्द कर दिया और नेहा को चोदने लगा.

अगर गुजरात का कोई भी पाठक या पाठिका मुझसे बात करना चाहे, तो मुझे मेल कर सकते हैं.

अंकित ने अपनी टी-शर्ट से ही मेरी पूरी चूत को साफ किया और मेरे जिस्म पर अपने होंठों से चुंबन लेने लगा. क्योंकि मैं समझना चाहता था कि शादी के बाद वो घटना घटित कैसे हुई थी। फिर संजय मेरा पक्का दोस्त भी था तो मैंने उससे पूरी बात जानना चाही।मैं- तू तो कीर्ति बहुत इज्जत करता था ना?संजय- मैंने जानबूझ कर नहीं किया. सेक्सी बीएफ हिंदी में चोरीअपने पार्ट्नर को कैसे अधिकाधिक सेक्स संतुष्टि दी जाए ये वो प्रश्न हैं जिसके ऊपर बहुत सी जगह पर टॉपिक स्टार्ट किए गए.

जाते टाईम उसने मुझे टूर्नामेंट के लिए बेस्ट आफ लक बोला और मेरा नंबर भी मांग लिया. आह … आह … आह … आहह आ…ह …”अंकल- क्या हुआ?मैं- उफ़्फ़ … उफ़्फ़ थोड़ा और घुसाओ न. वो कहते हैं ना …कि चूत न चोदिए नई नवेली की,करे नखरे प्रचंड,चूत चोदिये चुदी रांड की,हंस कर लेवे लंड!नीतू रानी को तो बस चुदना था, तो वो आकर मेरे गोद में बैठ गई.

उसने मेरे गाल पर एक खींच कर थप्पड़ लगाया और बोली- चल साले अब मेरे दूध चूस. तो उन्होंने हँसते हुए कहा- क्या कर रहे थे?तो मैं बोला- कुछ नहीं भाभी.

उठी हुई गाण्ड तो ऐसी थी कि देखते ही लण्ड खड़ा हो जाए। उसका रंग दूध जैसा सफेद था। उसका व्यवहार भी बहुत अच्छा था।चूंकि हम उसके पति से मिलने गए थे.

तो उससे दर्द के कारण चला भी नहीं जा रहा था। मुझे पता था कि ऐसा होगा इसलिए मैं दर्द निवारक गोली और आई पिल्स अपने साथ लाया था।मैंने उसे दवा दे दी और साथ मैं गर्भनिरोधक गोलियां भी दे दीं. वह आँखें फाड़े मेरी मुनिया को देखने लगा।‘वेतन क्या लोगे?’मेरी चूत के दीदार से संतोष का हलक सूख रहा था। वह हकलाते हुए बोला- जो. उस लड़के से बोला गया- अब तुम्हें बस इसी को देखना है, जब तक तुम्हारा टाइम नहीं खत्म होता, इसकी चूत बहुत भूखी है.

इनका चोपड़ा का सेक्सी बीएफ ’‘अरे वाह, मेरे कुत्ते के लंड में एकदम जान आ गई, देख साला कैसे इतरा रहा है भैनचोद. ।नहा कर मैंने खाना खाया और माँ को कल रात की घटना के बारे में बताया।माँ ने कहा- यह सब तो होता ही रहता है.

एक बार फिर उनकी चूत की खुश्बू ने अपना असर दिखाया और मेरा लंड फिर से टाईट हो गया। मैं उनकी चूत को याद करते हुए अपना लंड गद्दे पर रगड़ने लगा।थोड़ी देर तक ऐसे रगड़ने के बाद अब मुझे थोड़ी नींद आने लगी थी। तभी अचानक से कोई मेरे ऊपर आकर बैठ गया। मैंने देखा तो वो मेरी प्यारी भाभी थीं. अब मैं भी चाचा के सीने की गरमी पाकर चिपक गई।‘बहू तुम मेरे लण्ड को तो चूस ही सकती हो. खैर, सबको खाना खिलाने और साफ-सफाई करने के बाद शीतल नहाने के लिए बाथरूम में घुस गयी, दोनों लड़के हॉल में बैठकर टीवी देख रहे थे.

फुक्किंग वीडियो बीएफ

5 मिनट बाद जब हम दोनों के होंठ अलग हुए तो वो मुझे देख कर थोड़ा मुस्कुराईं. रवि बोला- तेरी गांड में डालूं?जीजू बोले- नहीं … इसकी गांड की सील मैं तोडूंगा।कमीनो … मारोगे क्या मुझे?”जान आज तेरी पूरी खुजली मिटा कर भेजेंगे!”उफ रवि … रगड़ो मेरी चूत को … और रगड़ो … फाड़ डालो।”जीजू ने बाल खींच लौड़ा फिर से घुस दिया मुंह में।रवि ज़ोर से … मैं झड़ने वाली हूँ … राजा ज़ोर से …”मैं झड़ने लगी. और जब भी हम दोनों को टाइम मिलता है, फ़ोन सेक्स और वीडियो कॉल करके सेक्स का मजा कर लेते हैं.

तो कोई शारीरिक दिक्कत होने पर पार्ट्नर एक-दूसरे से अपनी समस्या को लेकर कोई भी डिस्कस नहीं कर पाते हैं और दिक्कत और भी बढ़ जाती है. मैंने एक झटके में ही अपना लौड़ा उसकी चूत में पेल दिया और दनादन शॉट लगाने लगा.

मैंने अपनी फ्रेंड को सेक्स के लिए बोला, पर उसने कहा- यार, आज तुम मीशू के साथ कर लो.

वो बोली- वो बात ठीक है लेकिन मेरा नहीं मन … और मुझे पता है आप मुझे फ़ोर्स नहीं करोगे. क्योंकि मुझे अचानक अपनी किताबों की याद आई।मुझे वहाँ पर बस एक ही किताब मिली. किसी का लंड अपनी चूत में लेने से! अगर मेरे ससुराल वालों को पता चल गया तो कितनी बदनामी होगी.

इसलिए उसने अपना हाथ हटा लिया।मैंने अपने आपको कंट्रोल किया और वो मेरे सीने पर सिर रख के लेट गई क्योंकि हमें अचानक से अहसास हुआ कि अगर हम ज़्यादा बढ़े तो उसके घर वालों को पता चल सकता है।फिर मैं बाथरूम गया. एक दिन मैंने अपना फोन में हिडन कैमरा ऑन करके उसके कमरे की खूंटी में टांग कर चार्जिंग पिन को लगा दिया. पर पिछले कुछ सालों से दिल्ली के आस-पास ही मस्ती कर रहा हूँ।मैं पिछले 7 सालों से अन्तर्वासना का पाठक हूँ.

!’ उनकी उंगलियों के स्पर्श से दर्द के मारे मेरे मुँह से निकल गया।‘ओहो.

बीएफ सेक्सी पेपर: तुम मुझे यह बताओ कि तुम्हारा घर कब खाली होता है?मैंने जवाब में लिखा- सुबह नौ बजे से शाम के पाँच बजे तक. हर जगह नाखूनों के निशान और शौच करते समय बहुत दर्द हुआ और थोड़ा सा खून भी निकला.

लेकिन मैं कहां मानने वाला था मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये और उन्हें चूसने लगा और उसका आनंद लेने लगा वह भी मेरा पूरा साथ देने लगी।मैंने उसको गोदी में उठा लिया और उसको बिस्तर पर ले गया हम एक दूसरे की बांहों में पूरी तरह से खो गए और हम एक दूसरे को चूमते रहे. कुछ दूर निकले थे कि रीतिका बोली- दीदी, मुझसे तो चला नहीं जा रहा है और बहुत दर्द हो रहा है यार, क्या करूँ?मैंने कहा- अमित से कहो कि वापस चलो होटल!उसने अमित से अपनी तकलीफ बतायी तो अमित ने कहा- ठीक है, चलो हम लोग वापस चलते हैं. पर कुछ भी कहो दोस्तो, इससे ज्यादा मजा मुझे अभी तक मिल नहीं पाया। मैं फिर से ऐसे मजे की तलाश में हूँ।दोस्तो, मेरी कहानी कैसी लगी मुझे जरूर बताइएगा, मुझे ई-मेल करें.

हम दोनों में रोमांस शुरू हुआ और अब की बार उसने मुझसे लरजते स्वर में कहा- अब चोद दो मुझे.

मैंने जरा हल्के से भाभी की पेंटी की इलास्टिक को खींच कर चूत का नजारा लिया तो क्या मस्त चिकनी गुलाबी चूत दिख रही थी. मेरी और उसके निगाहों का आमना-सामना हो गया, वह मुझे देखकर उछल उठा- आअअअप यय. मैंने भी उसकी बेकरारी को देखते हुए उसका लंड पकड़ कर अपनी चुत में डाल लिया.