इंग्लिश फिल्म बीएफ में

छवि स्रोत,20 साल की लड़की

तस्वीर का शीर्षक ,

कोलकाता सोनागाछी बीएफ: इंग्लिश फिल्म बीएफ में, नेहा को छोड़ने का मेरा दिल तो नहीं कर रहा था मगर मुझे अब प्रिया को भी तो मनाना था.

मैं शराबी नहीं मुझको बताना दो

उधर चाची आँखें बंद करके हल्के स्वर में मादक सिसकारियां सी ले रही थीं. टीचर की सेक्सीफ़िर वही हुआ, चुचियों को पकड़ते ही वो गरमा गई और बोली- जल्दी जल्दी चोदो … मेरा भी हो गया … बस बाहर मत निकालना … मुझे अन्दर ही महसूस करना है.

मैंने तौलिया लपेट तो लिया लेकिन शर्म के कारण में बाहर नहीं आ रहा था. बीडब्ल्यूमैं अपने ब्वॉयफ्रेंड से भी चुदवाती हूँ लेकिन मेरी इस सहेली के भाई का चोदने का अंदाज कुछ दूसरा था.

क्योंकि मुझे अकेले ड्रिंक करने की आदत नहीं है।मैंने उसे ‘हाँ’ कर दी।वो दो ड्रिंक ले के आई.इंग्लिश फिल्म बीएफ में: तभी मैंने अपने मन का सवाल पूछा- तुमने कभी पीछे (गांड में) लन्ड डलवाया है?मनीषा- नहीं … आज तक सिर्फ आगे ही डलवाया है.

सरोज चाची का चेहरा मेकअप के बाद इतना क्यूट लग रहा था कि मुझे लगा कि अभी सरोज चाची को पकड़ लूँ और अपना खड़ा लंड निकाल कर उनके मुँह में घुसा दूँ.उसकी चूचियों के निप्पल गुलाबी थे … मगर जिस निप्पल को मैंने अभी तक चूसा था, वो एकदम लाल और तन कर कठोर हो गया था.

दूध की चाय कैसे बनाते हैं - इंग्लिश फिल्म बीएफ में

मैं अपनी पत्नी और नीरू की चूत में पीछे से लंड डालकर बारी बारी दोनों की चुदाई करता रहा.मैंने उसे साथ बेड पे लिटा लिया और फिर से उसे चूमने लगा, उसके पेट पे चूमा, फिर उसकी नाभि में जीभ डाल के घुमाने लगा.

उसने कहा- ठीक है, मैं मम्मी को बोलूंगी कि आप मुझे पढ़ाने के लिए तैयार हैं. इंग्लिश फिल्म बीएफ में जब से तू सामने आई, तब से बस तुझे छूने को, तुझे पकड़ने को, तुझे किस करने को और फिर तुझे चोदने के लिए मेरा लंड तरस रहा है.

इसी दौरान मैं एक बार झड़ भी चुकी थी, पर मुझे पूरी संतुष्टि नहीं मिली थी.

इंग्लिश फिल्म बीएफ में?

मैं उत्तरायण स्नान के एक दिन पहले दोस्त के घर गया, तो उसने मुझे सबसे मिलाया. मैं उत्तरायण स्नान के एक दिन पहले दोस्त के घर गया, तो उसने मुझे सबसे मिलाया. जबकि मेरी सहेली के भी कई बॉयफ्रेंड्स हैं और वो अब भी अपने बॉयफ्रेंड्स से चुदवाती है.

मैंने उससे पूछा- बेटा तुम्हारा नाम क्या है … और करते क्या हो? घर में और कौन कौन है?वो- सर मेरा नाम मदन है, मैं इंजीनियरिंग कर रहा हूँ, मेरा घर बस आपके स्टाफ कॉलोनी से कुछ दूरी पर है. अपनी उंगलियों से नेहा की मुनिया को मसलते हुए मैंने फिर से उसकी चूची को मुँह में भर लिया. मैं उसकी बड़ी-बड़ी और गोल-गोल गांड को जब सहलाने लगा तब मुझे अहसास हुआ कि ये तो मखमली गांड वाली माल है.

भाभी ने लगभग 10 मिनट तक मेरे लंड को मुंह में लेकर जबरदस्त तरीके से चूसा और मैंने अपना माल भाभी के मुंह में छोड़ दिया. वो बूढ़ा मुझसे रिक्वेस्ट करते हुए बोला कि उनकी ऊपर की सीट है, तो आप प्लीज़ ऊपर शिफ्ट हो जाइए. कुछ देर इस पोजीशन में चोदने के बाद मैंने भाभी को अपने ऊपर ले लिया और उनको उत्तेजित करते हुए गाली देकर बोला कि आपकी मोटी गांड आज बजा कर रख दूंगा कुतिया छिनाल.

उसकी स्लिम, चिकनी और एकदम फेयर बॉडी देख कर बुड्डों का भी लंड खड़ा हो जाए. तब मैंने उसका पैर और ज्यादा उठाया, लेकिन तब भी नहीं जा रहा था, तो मैंने पूजा के दूसरे पैर को भी उठा कर अपने लंड पर टांग लिया.

खैर मैंने अपना खाना बनाया खाया अगले दिन संडे था, खाना खा के सो गया.

सबीना आंटी के चुचे 38 इंच के थे, जो मैंने बाद में उन्हीं से पूछा था.

अब उससे भी कंट्रोल नहीं हो रहा था, वह भी पूरी तरीके से गर्म हो गई और धीरे-धीरे उसका साथ देने लगी. उसके बाद मैंने सोचा कि क्यों न नई-नई चूतों को चोदने का मजा लिया जाए. शादी में व्यस्त होने के कारण मेरी वंदना से बात नहीं हुई, लेकिन दीदी को विदा करने के बाद हम सबने खूब एन्जॉय किया.

अचानक वो मेरे पास आई और मुझसे बोली कि आशु क्या तुम मेरी स्टडी में मेरी मदद कर सकते हो?मैं मन ही मन खुश हुआ, जिसे मैं हर रात अपने सपनों में चोदता था, आज वो ही मेरे पास आई है. उसने मुझे अपने साथ नहीं बल्कि किसी भी अन्य पुरुष, जो मुझे पसंद हो, उसके साथ सम्बन्ध बनाने का सुझाव देने लगा. मैंने भाभी को समझाया कि इसको पढ़ाई में हेल्प की जरूरत है इसलिए आप इसकी मम्मी से भी बात कर लेना.

मैं आशा करता हूँ आप लोगों को मेरी जिंदगी के बारे में जान कर मज़ा आया होगा.

कुछ देर लंड को हिलाने के बाद मैंने चाची की मांग में अपना वीर्य छोड़ दिया और उसकी मांग को अपने वीर्य से भर दिया. थोड़ी पीने के बाद…‘अब मैं नए कपड़े पहन के तैयार हो जाऊं?’उसने मुझे बांहों में भरा एक चुम्मी ली मेरे होठों पर और बोला- आज से पहले किसी का लौड़ा चूसा था?‘नहीं. लेकिन तभी मुझे नानाजी के जाग जाने का ध्यान आया और हम लोगों ने कल की तरह गलती न करने की नसीहत लेते हुए रवि मामा के फार्म हाउस जाने का फैसला लिया क्योंकि आज हम लोग किसी भी तरह का रिस्क नहीं लेना चाहते थे.

मैंने उन दोनों को बताया कि मैं मॉम को रंडी बनाने के बाद चोदना चाहता हूँ. लण्ड मेरा बहुत बेचैन हो गया था, मैंने शर्ट को उतार फेंका और उसका कुर्ता भी उतार दिया. नेहा की चुत का एक बार मैं रसपान कर चुका था और रस्खलन के बाद मेरा पप्पू भी अब मूर्छित अवस्था में था.

उसके बाद मैंने सोचा कि क्यों न नई-नई चूतों को चोदने का मजा लिया जाए.

वो बाथरूम में गयी और चेहरा साफ करके वापस आई और मुझे फिर से किस करने लगी. मेरी चूत को मेरी सहेली का पति चाट रहा था और मैं उसके मुँह में झड़ गई.

इंग्लिश फिल्म बीएफ में मैं जानता हूँ आप भी मुझमें रूचि दिखाती हैं, मेरे साथ घूमना फिरना बातें करना, मेरी तरफ इतना झुकाव है तो फिर ये हया की दीवार क्यों, आपकी आंखों में मेरे प्रति वासना की चाह साफ छलकती है. पियू को आने के लिए टाइम लगा तो मैंने पूछ लिया- क्या कर रही थी इतना देर तक? कहीं पति जाग तो नहीं गया था?तो वो बोली- वो एक बार पीकर लुढ़क गये तो अब सवेरे ही उठेंगे.

इंग्लिश फिल्म बीएफ में प्रशांत ने जड़ तक लंड डालकर मेरी चुदक्कड़ बीवी की चूत में गचागच कई धक्के मार डाले. जेठ जी उन्हें बारी बारी चूस कर अपनी कमर से एक लय में धक्के दे रहे थे.

फिर धीरे धीरे मेरा हाथ उनके मम्मों पर चला गया और ब्लाउज के ऊपर से ही मैं मैम के मम्मे मसलने लगा.

रक्षाबंधन में

सरोज चाची का चेहरा मेकअप के बाद इतना क्यूट लग रहा था कि मुझे लगा कि अभी सरोज चाची को पकड़ लूँ और अपना खड़ा लंड निकाल कर उनके मुँह में घुसा दूँ. मैं भी कम नहीं थी, मैंने भी उनको गालियां देना शुरू कर दीं- चोद भैन के लंड साले हरामी मार ले मेरी…तभी मेरी बहन टॉयलेट के बाहर आ गयी और उसने दरवाजे में धक्का दिया, तो भूल से गेट खुला रह जाने दरवाजा खुल गया. उसके बाद उसने अपना हाथ नीचे ले जाते हुए अपने अंडरवियर को निकाल दिया और फिर उसने मेरा एक हाथ अपने लंड पर रखवा लिया और मैं भी उसका लंड आगे-पीछे करने लगी और वो मेरी चूत में उंगली करने लगा.

मेरे चूमने से पहले तो नेहा कसमसाई मगर फिर गुस्से में वो मेरे होंठों को जोरों से चूसने और काटने लगी. फिर मैंने कुछ देर सोचने के बाद उसे वापस बुलाया और कहा कि बैठ मेरे पास. अब मैं अपना कंट्रोल खोती जा रही थी।धीरे-धीरे उनका दोस्त हाथ फिराते फिराते मेरी चूत तक आ गया.

करीब 5 साल बाद पायल की शादी हो गई उसके बाद पायल को चोदने का मौका नहीं मिला.

मेरा 7 इंच का लौड़ा उसे देखते ही खड़ा हो गया और मैं फटाक से उसके बाजू में जाकर लेट गया. मैंने हर बार तुम्हारे लंड को देखा है, जब भी तुम यहां आते हो, पर तुम मुझ पर ध्यान ही नहीं देते हो. मैंने सब उत्तर देने के बाद फ़ोन रखने की बात कही, पर उसने और बातें बनानी शुरू कर दीं.

उसकी हरकतों से मुझे सब पता लग रहा था कि अब असल में भी चुदवाना चाहती है. सन्नी मेरे सामने गांड खोले खड़ा था और मैं उसके सामने से पीछे हाथ करके उसकी गांड में उंगली कर रहा था. चाची ने उस समय सलवार सूट पहना हुआ था और उस पर उस समय उनकी चुन्नी भी नहीं थी जिसकी वजह से उसके दोनों बूब्स इतने बड़े गोरे नजर आ रहे थे कि वो मुझे साफ साफ बाहर निकले हुए दिख रहे थे इसलिए कुछ देर तो मैं उसको अपनी चकित नजर से देखता रहा!मैंने उनसे दही माँगा तब चाची ने मुझे बैठने के लिए कहा और वो दोबारा पौंछा लगाने लगी.

मैं अपनी गर्म चूत में कभी खीरा तो कभी मोमबत्ती डाल कर उसकी प्यास बुझाती थी. मुझे ये देखकर हैरानी हो रही थी कि मेरी सती सावित्री बीवी रंडी की तरह चुदने के लिए तड़प रही थी.

उधर मेरी बहन 12वीं पास करके कॉलेज में आई, लेकिन फेल होने के बाद उसने पढ़ाई छोड़ दी. तो वो बोली कि जब मैं खुद तुम पे फिदा हो गयी तो और बेचारियों की तो क्या हालत कर रखी होगी. रोड के दोनों ओर बने घरों की लाइटें बन्द हो चुकी थीं और सब लोग सो चुके थे.

वो बोली- बहुत गन्दे आदमी हो … पता नहीं मेमसाब ने क्या देखा और घर ले आयीं.

करीब 5 मिनट और धक्के मारने के बाद उसकी टांगें कन्धे पर रखे रखे, मैं उसके ऊपर झुक गया और उसके होंठों को मुँह में लेकर चूसने लगा. प्रिया काफी समझदार निकली, वो मेरे होंठों को छोड़कर मुझसे थोड़ा अलग हो गयी और उसने खुद ही अपनी टी-शर्ट को पूरा बाहर निकाल दिया. अब मेरी चीख भी नहीं निकल रही थी, क्योंकि मेरे मुँह में महेश अपना लंड डालकर उसे अन्दर बाहर करने में लग गया था.

मेरा नाम समर है और अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली और सच्ची चुदाई कहानी है. उसने भी इस बात को माना कि उनके पति से कहीं ज्यादा अच्छे से मैंने उसको चोदा.

इसलिए एक दूसरे की बांहों में चिपक कर लेट गए और थोड़ी देर तक आराम किया. उसने मेरी गांड में क्रीम लगा कर मालिश की, फिर अपनी एक फिंगर अन्दर डाल दी. ये कहानी एक पराई औरत से सालों बाद वासना की तृप्ति होने के ऊपर लिखी गई है.

ब्यूटी प्लस कैमरा डाउनलोड कैसे करें

ममता भाभी इतनी गर्म हो चुकी थी कि उसकी चूत से निकलने वाला पानी मेरे मुंह को भिगाने लगा था.

दूसरा मैंने उसे ये भी साफ कर दिया कि सम्बन्ध सिर्फ शारीरिक हों, न कि भावनात्मक तथा हम सम्बन्ध बना भी लेते हैं, तो वो पहली और अंतिम बार होगा. मैं भी जानबूझ कर आगे का ब्रेक लगा देता, जिसे वो मेरे और करीब आ जाती. उसने मुझे अपनी एक ढीली सी जीन्स लाकर पहनने को दी, क्योंकि मेरी जीन्स चाय गिरने से गंदी हो गई थी … जो उसके बाथरूम में गीली पड़ी थी.

पाहे धक्के में मैंने अपने लंड का टोपा फंसा दिया, जिस कारण वंदना की बहुत जोरदार चीख निकल गई. प्रमिला ने बड़ी हैरानी से मेरी तरफ देखा और बोली- अच्छा … मैं नहीं मानती?एकता ने कहा- अच्छा … तो आज रात आजमा कर देख लो. इंग्लिश का उच्चारणफिर बिना जल्दबाजी किये पहले एक बार चुम्बन दिया और अपने होंठ को हटा लिया.

अचानक ही चाची ने मुझे बिना बताए ही अपनी चूत का पानी छोड़ दिया या फिर यूं कहें कि चाची के वश में ही नहीं रह गया था कि वह अपनी चूत के पानी को रोक कर रख सके. अब मैं झड़ने वाला था- मजा आ रहा है!मानसी- बहुत …मैं- अब हाथ हटाओ मेरे लंड से … नहीं तो मैं झड़ जाऊँगा.

मैंने पूछा- क्या कुछ परेशानी है या बेबी तबीयत खराब तो नहीं है?उसने कहा- कोई परेशानी नहीं है. फिर मैंने उसके लोवर के अन्दर हाथ डाल कर उसकी गांड को दबाना चालू कर दिया, क्या मस्त मखमली गांड थी. ऐसा उन्होंने चुदाई को आसान बनाने के लिए किया था क्योंकि अब उनके कूल्हे और लंड वाला भाग ज़मीन से टिका हुआ नहीं था, जिसे हवा में लटकते हुए आगे पीछे करते हुए मस्त चुदाई का मज़ा चौगुना किया जा सकता था.

मैंने ख़ुशी ख़ुशी उसे नंबर दे दिया और उसका मोबाइल नंबर भी ले लिया।छुट्टी के दूसरे दिन उसका फोन आया- क्या हो रहा है सुन्दर साहब?मैंने कहा- कुछ नहीं … बस तुम्हारे बारे में ही सोच रहा था। लगता है गेम बढ़िया तरीके से सीख गयी हो?हाँ … जब आप सिखाओगे तो बढ़िया ही सीखूंगी. वो मेरी आज्ञा का पालन तुरंत करने लगा और थोड़ी देर चाटने के बाद मुझे लगने लगा कि अब मैं खुद को रोक नहीं सकती. रूपा की चूत उसके कामरस से एकदम भीगी हुई थी … इसलिए जैसे ही मैंने हल्का सा झटका दिया … मेरे लंड का सुपाड़ा सरकता हुआ, उसकी चूत के छेद में समा गया.

नेहा के निप्पल को चूसते हुए मेरा हाथ अब भी उसकी बन्द जांघों पर व उसकी मुनिया के उभार पर ही रेंग रहा था.

ज्योति को भी इस काम में काफी महारथ हासिल थी। वो मुझे किस कर रही थी।मैंने जल्दी से उसके बूब्स को दबाना शुरू कर दिया। उसके टी-शर्ट को ऊपर किया और उसके बड़े-बड़े मम्मे भी साथ ही चूसने लगा। वो भी मुझे पागलों की तरह किस करने में लगी हुई थी।मैंने और ज़ोर से उसके बूब्स को काटा तो उसके बूब्स लाल हो गए। वो एकदम चिल्ली पड़ी. रात को खाना खाकर मैं अपनी सेक्सी चाची के घर पर सोने के लिए चला गया.

और हुआ भी कुछ ऐसा ही … मेरे मित्र ने मुझसे पूछा- क्या बात है मास्टर जी … आपकी तो निकल पड़ी है, आपकी पड़ोसन तो कितनी जबरदस्त है, एकदम खरा सोना … आपने कुछ चान्स मारा कि नहीं, बाइक में तो खूब घुमाते हो, कभी बिस्तर में मजे लिए?मैंने भी थोड़ी सहजता से जबाब दिया- नहीं यार, वो एक पतिव्रता महिला है, मुझे नहीं लगता कि वो कभी किसी गैर मर्द के साथ हमबिस्तर होना चाहेगी. उस समय मम्मी को कुछ आइडिया तो था नहीं कि इधर जगत अंकल क्या खिचड़ी पका रहे हैं. अमित- अह्ह … नेहा, बहुत टाइट माल हो तुम मज़ा आ गया … उम्म …उसने मुझे चूमा और हल्के से मेरी चूची को मसल दिया.

मालती बहुत हैरान हो गई और बोली- मेरे पास कहां से आया तुम्हारा पति?तब मैंने कहा- मेरी चूत से किसने खून निकाल कर मुझे लड़की से औरत बनाया था?मालती ने कहा- मेरे डिल्डो ने?मैंने कहा- तब मेरा पति हुआ ना वो?मालती हंस पड़ी और बोली- क्या बात है डार्लिंग. तभी सुनील ने अब एक झटके में अपना पूरा लंड मेरी चूत में घुसेड़ दिया. मैं उठ कर घुटनों के बल उसके मुँह के पास बैठ गया और लंड को उसके होंठों पे रख दिया.

इंग्लिश फिल्म बीएफ में कहानी का पहला भाग:मेरी सहेली मेरे ग्रैंडफादर से चुद गयी-1ओह नो … इट्स हॉरिबल. उधर पीछे नजर घुमाई तो जगत अंकल तो पूरा पेंट उतारे हुए हाथ से लंड रगड़े जा रहे थे.

दया का नंबर चाहिए

इतनी देर में नुपूर दो बार पानी छोड़ चुकी थी, लेकिन मेरा पानी निकलने का नाम नहीं ले रहा था. यह घटना कुछ इस प्रकार हुई थी कि मैं उस समय अपनी बीए की पढ़ाई कर रहा था. उसने फिर सवाल किया- देखनी है?मैंने हां में सिर हिलाया तो उसने अपनी साड़ी ऊपर की, पैंटी हटाई और मुझे अपनी चूत दिखा दी.

वो बोलीं- ओह्ह विक्रम … मेरा तन बदन जल रहा है, आग लग चुकी है मेरे ज़िस्म में … जल्दी से बुझा दो इसे. यूं तो कभी सोचा न था कि सबकी गर्म गर्म कहानी पढ़ते पढ़ते एक दिन अपनी खुद की कहानी लिखूंगा. भोजपुरी गाना होलीमेरे पति ने अपना लंड सुपारे तक बाहर निकाला और फिर गांड में घुसाने लगे.

मेरे हाथ अपने पैरों के नीचे दबा लिए और अपनी चुचियों को मेरे लंड पर रगड़ने लगी.

”अरे मेरी रसगुल्ला … आज का प्रोग्राम अभी लम्बा चलेगा मेरी जान … इतने साल बाद कोई सील पैक माल मिली है … तुझे तो सारी रात चोदूँगा आज. वंदना उठकर काम करने के लिए जा रही थी, तब मैंने देखा कि वंदना की कुछ चाल बदल गई थी.

अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली कहानी है और मैं अन्तर्वासना का बहुत पुराना पाठक हूँ. नमस्कार दोस्तो, मैं नरसिंह प्रधान फिर एक बार अपनी मजेदार अनुभव को लेकर प्रस्तुत हूँ. इतना बड़ा है तुम्हारा?”वो लंड सहलाने लगी, तो मैंने उसकी इच्छा को समझ लिया और उसको वही नीचे बिठा कर लंड उसके मुँह में भर दिया और वो भी मजे से लंड चूसने लगी.

मैं चुपचाप उसके फ्लैट पे पहुंच गया, तो सुरभि भी कॉलेज जाने के लिए तैयार थी.

जबकि दो साल से चुदाई न होने पर मैंने तो यही सोच लिया था कि अब मेरी चुदाई कभी नहीं होगी, पर इतने अच्छे लौड़े से चुद कर तो मुझे मानो जन्नत मिल गई थी. चाची की बात सुनकर मुझे अजीब सा लगा कि रात को ये मुझसे चुदने के मूड में थीं और अब पता नहीं ये ऐसा क्यों कह रही हैं. उसका ध्यान भी शायद चाय पर कम और मेरी जांघों के मध्य में हो रहे लंड के उभार पर ज़्यादा था, जिसकी वजह से उसने मुझे चाय देते वक्त मेरे ऊपर चाय गिरा दी.

fast पोजीशन किसे कहते हैंमुझे गुस्सा आ गया, मैंने कहा- ठीक है … तो तुम्हारी जगह मैं भी आज किसी रंडी को लाकर चोदूँगा. रूपा ने एकदम मस्ती से भरी आवाज़ में कहा- ओह्ह्ह मालिक मेरी चूत आहह ओह्ह्ह … पानी छोड़ने वाली है, तेज़ी सेईईई मालिक … जोर से जोर से चोदिए ना … उईईई …रूपा की बातें सुनकर मैं और जोश में आ गया … और अपनी कमर को पूरी तेज़ी से हिलाते हुए अपने लंड को रूपा की चूत के अन्दर बाहर करते हुए चोदने लगा.

लड़की और डॉगी की सेक्सी

चूंकि इस मंच पर ये मेरी पहली कहानी है, तो यदि किसी भी प्रकार की कोई त्रुटि हो जाए, तो आप सभी मुझे माफ़ कर दीजियेगा. उसने देखा कि गाड़ी में हमारे अलावा कोई नहीं है तो उसने मुझे एक ज़ोर का हग किया और बोली- तुम्हें सबकी कितनी फिकर है. पियू से मेरी बात फोन पर होती रहती है, पर अब कब मिलना होगा किसको पता.

थोड़ी देर चिपके रहने के बाद रमीज का लौड़ा सिकुड़ कर छोटा हो गया और वह उठ कर मुझे छोड़ के कपड़े पहनने लगा. मैंने तुरंत जगत अंकल को कान में बोली- जगत छोड़ जल्दी से … बगल वाले अंकल ने सब देख लिया है. उसकी बात से मैं डर गया, लेकिन मुझे अपने लंड पर पूरा यकीन था, तो मैं बहुत देर तक उसके बदन को चूमता रहा और सहलाता रहा.

मामी की चूत में लंड डाल दिया और मामी ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाने लगीमामी के मुंह से कामुक सिसकारियाँ निकल रही थीं. अपनी चूत से नेहा ने मेरा हाथ खींच कर मेरी उंगली अपने मुँह में लेकर चूसने लगी थी- वाह राजू. आंटी के जाने के बाद मालिनी गुस्से में मेरे पास आई और बोली कि ये बहुत दखल दे रही है, ऐसे तो मुझे सच में तुम्हारी पत्नी बनकर रहना होगा.

उस रात जब मैं उनके बाथरूम गया, तो वहां उनकी ब्रा पेंटी को देख के मुठ मारी और सोने चला गया. मेरे शैतानी दिमाग ने काम किया और मैंने अपनी जेब से चॉकलेट निकालकर अपने लंड पर मल दी.

वो पूरा लौड़ा मुँह में गले तक लेती और धक्के मारती हुई अन्दर तक लंड ले लेती.

अब वंदना बहुत गर्म हो गई थी और वो मेरे सिर को पकड़ कर अपनी चुत में दबाने लगी. भाई बहन की छुड़ाईवो छटपटाने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’कुछ 3-4 मिनट बाद उसकी चूत ने हल्का सा पानी छोड़ा. ट्रिपल एक्स व्हिडीओ लाईव्हमेरे कुछ भी समझ में नहीं आ रहा था तो मैंने मामा जी पूछा इसके बारे में तो उन्होंने बताया कि शादी का बाकी प्रोग्राम भवन में है इसलिए सभी को भवन जाना है. मैंने पूछा- चाची ये किसलिए?तो वो बोलीं- इस से सेफ्टी रहती है, ताकि हम दोनों में से किसी को कोई बीमारी, इन्फेक्शन आदि ना हो और वैसे भी मैं तुझे बहुत प्यार करती हूँ और लाइफटाइम करती रहूंगी.

फिर उसने मेरे होंठों पर किस करते हुए एक ज़ोरदार धक्का लगाया जिससे उसका आधा लंड मेरी चूत में समा गया जिसके कारण मुझे बहुत दर्द हुआ और उम्म्ह… अहह… हय… याह… मैं दर्द के मारे छटपटाने लगी.

हमारी कुछ सीट्स साथ में थी तो कुछेक साथ वाली बोगी में! रात भर का सफ़र था तो खाने का समान लेकर निकले थे. बिल्कुल वैसा ही काला लंड जैसे किसी ने ब्लेक एशियन कलर लेकर ब्रश से उसके लंड को पेंट कर दिया हो. मैं उसकी गांड के छेद को सहलाने लगा और धीरे धीरे उसकी चुत पर भी उंगली फिराने लगा.

तभी मेरी नजर उसकी पैंटी पर चली गयी, जो कि चुत के पास से पूरी भीगी हुई थी. जब आखिर में मेरा देवर मेरी चूत को अपने लंड से चोद रहा था, तो मैं उसको जकड़े हुए थी क्योंकि वो बार बार लंड बाहर निकाल कर चूत चूसने लगता था. मैं अपने दोस्त के कमरे में सोया था और हिना भाभी का कमरा बगल में ही था.

राधे पिक्चर सलमान खान की

मैंने भी अपने पूरे कपड़े उतार दिये और उसे बांहों में भर कर चूमने लगा. छत्तू ने मेरी कमर पकड़ कर अपने लंड को मेरी चूत के छेद में सैट कर दिया और फिर बोला कि ले फंस गया … अब बैठ जा. जब दस-बीस हजार रूपये इकट्ठे हो जाते हैं तो वह अपने देश जाता है और पैसे भी दे आता है तथा अपनी बीवी से भी मिल आता है.

हमने फटाफट खाना खाया, बल्कि भाभी ने पहला कौर मेरे मुंह में अपने हाथ से दिया और मैंने भी वैसे ही किया.

वो मुझसे पूछने लगा- कभी दूसरे धर्म वाले का लंड लिया है?मैं बोली- नहीं आज तक नहीं लिया.

इतने में अनवर अपना लंड पूरा खींच लिया और जोर से पकड़ कर मेरी जांघों को फैलाकर अपने लंड का सुपाड़ा मेरी चूत में जैसे ही फंसाया, मैं कस के लिपट गई. कई बार उनके बिना धुले उतारे हुए गीले अंडरवियर को उल्टा करके अंडरवियर के लंड वाले हिस्से में उनके वीर्य और मूत्र की बूंदों को ढूंढने की कोशिश की और उसकी मदहोश महक से अपना होशोहवास खोया था. फिल्म साजन का घरदूसरे दिन सुबह हमारी बहन मेरे पास आई और बोली- भाई बाजार से मेरा सामान ला दे.

इतना कहकर पुनीत मेरे होंठों पर अपने होंठ रख कर मेरे होंठों को चूमने लगा और मेरे नाक को चूसने लगा. मुझमें अब और सब्र नहीं बचा था इसलिये मैंने अपना मुँह उसकी नंगी चूची के निप्पल पे रख दिया और किशमिश के दाने जैसे उसके छोटे से गुलाबी निप्पल को मुँह में भर लिया जिससे प्रिया नेइइईईई … श्श्शशश … अअआह … आह्ह्हहह …” की एक जोर की सिसकारी भरी. सच में मेरे देवर ने आज मेरी चूत को चोद कर मेरी प्यास को शांत कर दिया था.

मैंने फोन उठाकर हैल्लो किया तो दूसरी तरफ से प्यारी सी आवाज़ में हैल्लो की आवाज़़ आई. मैं- मैं अकेला क्या करूँगा, करने को तो बहुत तरीके हैं, लेकिन अकेला कुछ नहीं कर पाउँगा.

खाला की गोल गोल चूचियों से भरी, उनकी छाती और भरे भरे गालों के साथ उनकी नशीली आंखें, मुझे नशे में कर रही थीं.

दोस्तो, किसी शादीशुदा औरत को देखकर मुठ मारने में भी बहुत आनन्द आता है. ठंड शुरू होने के पहले की बात है, मेरे दोस्त के परिवार ने बाहर घूमने का प्लान बनाया जिसमें जीजा जी, अंकल, दोस्त के साले और पियू का परिवार सब मिलाकर 25 लोग शामिल थे. तभी मैंने जंगल की तरफ ध्यान से देखा कि वहां कुछ दूरी पर कोई आग जल रही थी.

पत्नी का दूध फिर मैं धीरे-धीरे भाभी के बच्चों को चॉकलेट देने लगा और इस बहाने भाभी के करीब जाने के बहाने ढूँढने लगा. सुलेखा भाभी को देखकर ऐसा नहीं लग रहा था कि मैं उन्हें चोद रहा हूँ बल्कि ऐसा लग रहा था जैसे कि भाभी मुझे चोद रही हों.

दोस्तो, मैं आपको बतला दूं कि पायल की चूत पर तो बाल आने शुरू हो गए थे लेकिन नीरू की चूत पर आज तक भी कोई बाल नहीं है. बीस मिनट की धुआंधार चुदाई के बाद हम दोनों बेड पर ढेर हो गए और एक दूसरे से चिपक कर सो गए. मैं मन में सोचने लगा कि यार अनिल की क्या किस्मत चमकी है … क्या मस्त दूध जैसा गोरा माल चुदाई के लिए मिल गया.

हॉस्टल का सेक्स वीडियो

मैं उनके पढ़ाई के दिनों की बातें पूछ रहा था … और भी उनके साथ बहुत सी बातें हुईं. राहुल के पिताजी किसी सरकारी दफ्तर में बड़े अधिकारी हैं। मैं तभी से राहुल के सपने देखने लगी थी. मैंने धीरे से सोनू के टॉप में हाथ डालकर उसके पेट को सहलाया, बहुत ही चिकना और मुलायम पेट था.

मालती बोली- डरती क्यों हो मीता … चुदाई तो होनी ही है … आज नहीं तो कल … फिर चूत को इस मज़े से क्यों वंचित करती हो. जैसे जैसे मैं चूमता जा रहा था वैसे वैसे उसके जिस्म की थरथराहट बढ़ती जा रही थी.

इस वक्त नेहा ने एक हाथ से मेरे लंड को पकड़ लिया था और उसे ऊपर से नीचे तक सहलाते हुए वो जोरों से चूस व चाट रही थी.

साथ ही महेश मेरे मुँह में गले गले तक अपने लंड को अन्दर बाहर कर रहा था. फिर एक दिन प्रेगनेंट होने की वजह से खुश्बू को काम करने में तकलीफ़ होने से मैं उसको उसके मायके में छोड़ आया. मैं बैठे नहीं रह पा रही थी कि तभी जगत अंकल ने अचानक अपनी एक उंगली मेरी चूत में घुसा दी.

ऐसे में प्रशांत ने बाइक को आगे गेट पर ही छोड़ दी और अपने फ्लैट में आने के बाद वाशरूम की राह पकड़ी. अब वो अपनी चुत मेरे मुँह पर ऐसे मारने लगी, जैसे वो मेरे मुँह को चोद रही हो. वंदना के जाने की सोच से मैं बहुत नर्वस हो गया था कि कल मेरी हुई और आज ये जा रही है.

खैर मैंने अब जल्दी से खुद को सम्भाला और उसे सारी कहानी बताई, तब जाकर उसका गुस्सा कुछ शांत हुआ.

इंग्लिश फिल्म बीएफ में: फिर मैं डर के कारण जल्दी से उठ कर अपने बेड पर आकर रज़ाई में घुस गया. फिर वो बोली- बहुत समय हो गया है, तुमको अब भूख लग रही होगी, चलो अपना गिलास खाली करते हैं और खाना खा लेते हैं.

अब तू ये क्या कर रहा है? नेहा दीदी तो ठीक हैं … मगर मम्मी? मम्मी को भी नहीं छोड़ा तुमने?” प्रिया ने गुस्से से तमतमाते हुए कहा. उसके बाद प्यार से तुम्हारे होठों पर किस करता, तुम्हें कस-कर अपनी बाहों में पकड़ लेता और फिर एक और मस्त किस करता। फिर तुम्हारे कान पर किस और बाइट करता और उसके बाद तुम्हारी गर्दन पर और फिर एक हाथ से तुम्हारे!नेहा- बस. सोनल को भी वह बात खटकी और उसी ने बातें करना शुरू किया- क्यों नीतू, आज इतनी शांत क्यों हो?अरे कुछ भी तो नहीं है.

और हम मजा ले रहे थे … मैं अब उसकी मस्त चूचियों को उसके काँधे के ऊपर से हाथ डाल कर कसके मसल रहा था और वो मेरे लंड को … और फिर सबके सामने खुली भीड़ में ऐसे आनन्द लेने में बड़ा मजा भी आ रहा था.

उसने कैंटीन की ओर एक नजर डाल कर देखा और मुझे अनदेखा करके आगे चली गयी. अब मैं और देर नहीं करना चाहता था, मेरा लंड बहुत सख्त हो गया था, इसलिए मैं देर न कऱते हुए गुड़िया की पैंटी निकालने लगा. मगर वह चुपचाप खड़ी रही।ऐसी सहेलियाँ बनाती ही क्यूँ है जो तेरे सामने खड़ी होकर भी तेरी सील टूटते देखती रहें? ये किसी काम की नहीं है.