हाथी की बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ सेक्सी वीडियो गाने वाली

तस्वीर का शीर्षक ,

बालवीर सेक्सी पिक्चर: हाथी की बीएफ, सुमेर भैया से तो मैं इतना नहीं मिल पाता था मगर उनकी पत्नी सुलेखा भाभी, उनके बच्चे नेहा, प्रिया व कुशल बहुत मिलनसार थे.

डॉक्टर वाला सेक्सी वीडियो बीएफ

रवि कुत्ते की तरह मेरी चूत की चुदाई करने लगा और जीजा मुँह चोद रहा था. बफेलो बीएफमैं अपनी दो उंगलियां उनकी चुत के अन्दर पेल दीं और अन्दर बाहर करने लगा.

मुझे इतना गुस्सा नहीं होना चाहिए था।’ उनको अपनी गलती का अहसास हो गया था।‘मुझे मेरी गलती की सजा मिल गई।’ कहते हुए मैं फिर से पैंट पहनने की कोशिश करने लगा।‘रुको. बीएफ जोर जबरदस्तीमगर भैया ने उल्टा मुझे ही डांट दिया और कहा कि यहां रहेगा तो कुछ पढ़ाई तो कर लेगा, अगर घर पर रहा तो सारा दिन अपने आवारा दोस्तो के साथ ही घूमता रहेगा.

तो कहाँ सर्दी का पता चलता है।उसकी साँसें धौंकनी की तरह चल रही थी और मेरा भी हाल कुछ ऐसा ही था.हाथी की बीएफ: हम दोनों उसके शहर में रेंट पर लिए रूम पर मिलते जिसमें वो अपनी सहेली के साथ शेयरिंग पर रहती थी.

पर अभी भी पिंकी की गाण्ड कसी हुई थी।मैंने लण्ड डाला तो आधे से कम ही गया था।पिंकी- ऊऊऊऊह्ह्ह्ह.मैंने उसी टाइम टैब बदल दिया और सामने ट्रिपल एक्स वीडियो प्ले हो गया.

घोड़ा वाला बीएफ चाहिए - हाथी की बीएफ

मैं तो बस पूछ रही थी कि ये तुम्हें कैसी लगी?विक्रम संभलते हुए- ऐसी कोई बात नहीं है माँ… ये अच्छी हैं… बहुत सेक्सी!शीतल- अच्छा? चलो साबुन लगाओ.त्याने म्हटले कि प्रत्येकाने त्याच्या आयुष्यातला एक अनुभव असा सांगावा कि ज्यात त्याने केलेल्या संभोगाचा अलग अनुभव असावा आणि तो खरा असावा.

पर मैं कनखियों से देखता रहा।भाभी ने अपनी सलवार का नाड़ा खोला और नीचे की. हाथी की बीएफ वो तुम्हें दो घंटे तक चोद कर मस्त कर देगा। अगर तुमने एक बार विशु का लंड अपनी चूत या गाण्ड में ले लिया.

तो उसने बिहारी से कहा- आपके दोस्त को गए बहुत देर हो गई है।बिहारी- आप काहे चिंता करती हैं हमार दोस्त अच्छे से सब सामान देख रहा होगा.

हाथी की बीएफ?

उसे बहुत मज़ा आया।फ़िर कुछ दिन बाद मैंने हॉस्टल छोड़ कर बाहर एक रूम ले लिया. वो चल भी नहीं पा रही थी। मैंने उसे उठा कर बेड पर लेटाया और मैं पानी साफ करने जा रहा था. लेकिन फिर उसने स्माइल किया।मैं समझ गया कि अब मज़ा आएगा। मैंने थोड़ा लंड मसलने के बाद उसके पैन्ट की ज़िप खोल दी और उसका तना हुआ मस्त लंड बाहर निकाला।वो थोड़ा शरमाया.

और वो भी अपनी चूत का रस छोड़ बैठी।हम दोनों एक-दूसरे का रस पी गए।भाभी सिसियाते हुए बोली- अब और ऐसे मत तड़पाओ न. अगर अभी इसे पता चला कि मैं इसकी गांड मारना चाहता हूँ तो शायद ये चुदे भी न … इसलिए मैंने उसकी चूत मारना ही ठीक समझा. फिर मैं जाने लगा तो मुझे फिर गले लगी और बोली- आज सही मायने में मैं एक शादीशुदा हो पाई हूँ.

मैं कुछ देर आराम करने के बाद कमरे से निकली और नायर के करीब जाकर देखा. मुझे शॉर्ट ड्रेस पहनाई गई।दोस्तो इस बार मुझे ‘कोई’ कैप्सूल दिया गया और मेरी चूत पर उसी आयिल की मालिश भी की गई ताकि मैं एक बार में कई लौड़ों को झेल सकूँ।अब मैं अब रेडी हो गई. अब मैं बदहवास की सी हालत में चल रही थी। नीलेश सीधा लेट गया और मुझे अपने ऊपर बिठा लिया और लौड़ा मेरी चूत में घुसेड़ कर बोला- ले साली धक्के मेरे.

शुरू से ही मैं थोड़ा शर्मीला था तो लड़कियों से ज्यादा बात नहीं करता था। मेरे लिंग का आकार 6 इंच है जो किसी भी लड़की को संतुष्ट कर सकता है. यह सब सुनकर मुझे भी और जोश आने लगा। हम लोग अब बहुत धीरे-धीरे बात कर रहे थे। मैंने अपनी स्पीड और बढ़ा दी और वो भी अपनी गाण्ड उचका कर मेरा साथ देने लगी।वो मादक आवाजें भी निकालती रही- प्प्प्उच.

कुछ ही देर में खाना खाने के बाद अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था, तो मैंने फिर से इशारे में पूछा कि घर कब चल रही हो? तो प्रिया ने भी इशारे में ही कहा- बस 10 से 20 मिनट में.

तो मैं अपने हाथ से उनकी जाँघों को सहलाने लग गया।उन्होंने कहा- ये ग़लत है.

अभी तो सुपारा ही अन्दर गया होगा, लेकिन वो दर्द से से रोने लगी- ऊऊह … ये क्या कर रहे हो प्लीज बाहर निकालो … ओह्ह … मुझे बहुत दर्द हो रहा है!मैंने लंड को निकाला नहीं … कुछ देर उसको प्यार करने लगा. पर कुछ भी कहो दोस्तो, इससे ज्यादा मजा मुझे अभी तक मिल नहीं पाया। मैं फिर से ऐसे मजे की तलाश में हूँ।दोस्तो, मेरी कहानी कैसी लगी मुझे जरूर बताइएगा, मुझे ई-मेल करें. यह सब करते करते समय कब बीत गया, पता ही नहीं चला और 4:00 बजने वाले थे.

हमार दोस्त का दिल तोहार ननदिया पर आ गया है। अब ऊ उसको चुदाई का खेल सिखाएगा।भाभी- ये क्या बोल रहे हो आप. मैंने तुरंत उनकी चूत में अपना मूसल पेल दिया। पहली बार में तो मेरा लण्ड आधा ही अन्दर गया. हम कोई मना थोड़े कर रहे हैं। अरे भई, सब एक ही परिवार के तो हैं।मैंने कहा- ठीक है, अगर एक परिवार के हैं तो आप और रवि एक दूसरे का लंड पीजिये और मैं और लीना एक दूसरे की चूत पीते हैं। मेरी बात सुनकर राज ने कहा- ठीक है।लेकिन लीना ने कहा-.

ऐसा नहीं था कि मुझे इस बात से कोई फर्क पड़ता है कि किसी ने मुझे नंगा देख लिया! मैं बहुत बार जंगलों में, समुद्र किनारे पूरा नंगा होकर घूमा हूँ, वो भी दिन दहाड़े! कई बार लोगों ने मुझे नंगा घूमते देखा भी है! मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि कोई मुझे नंगा देख ले तो क्या होगा.

सिम्मी एक हाथ से अपनी फुद्दी को कस के दबाने लगी और दूसरे से मेरे लंड को अपनी फुद्दी में डालने की नाकाम कोशिश करने लगी. ’ मैंने दुष्यंत को फोन करके शाम को छह बजे घर पर बुलाया।दुष्यंत मेरा दोस्त था, कई बार मुझे चोद चुका था, उसका हथियार जैसे किसी गधे के हथियार से कम नहीं था, उसके लंड की मार जब मैंने पहली बार झेली थी. हम दोनों एक दूसरे से लिपट कर बेड पर करवटें बदलते हुए एक दूसरे के ऊपर नीचे होने लगे.

उसने मुझसे मूवी छोड़ कर कहीं बाहर किसी होटल में जाने के लिए बात की, पर मैंने उसे मना कर दिया. न जाने कहाँ चला गया था।मैंने एक-दो बार अनजाने में उसके पैरों पर हाथ से सहलाया भी. ’फिर मैंने आहिस्ते-आहिस्ते अपनी जीभ भी चूत के अन्दर डाल कर हिलाने लगा और एक हाथ से चूत के ऊपर वाले दाने को सहला रहा था।भाभी के मुँह से बस यही निकल रहा था- आअहह… ऑह उम्म्म्म.

हम दोनों में मुहब्बत हो गई थी मैं उसे कभी कभी चूम लेता था और वो भी मुझे किस कर लेती थी.

उसके सामने थी। वो बस बैठाहाशा उसको चाटने लगा।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !निधि- आह्ह. ये किसी अनाड़ी के बस की बात नहीं है। सभी चूतों के चाहने वाले अनुभवी.

हाथी की बीएफ मादरचोद, साली, रांड, छीनाल, चोदीचे तुझ्या गांडीत पहिले मी लंड घालणार आहे, नंतर मी तुझी पुच्ची झवीन. गांव में उनका मन नहीं लगता था, क्योंकि उनकी पत्नी का देहांत 2 वर्ष पूर्व हो चुका था.

हाथी की बीएफ मेरे देवर ने मेरी चूत को बहुत देर तक चाटा जिससे मेरे अन्दर की सेक्स की आग बाहर निकल गयी और मुझे अपने देवर से चुदवाने का मन करने लगा. इस बार मैंने सीधा ही तिलक वाली उस रात का जिक्र करते हुए कहा- पता नहीं उस रात मेरी रजाई में कौन घुस गया था, उसने सारी रात मुझे सोने ही नहीं दिया.

कुछ देर बाद ज्योति अपने शरीर को ऐंठते हुए बोली- मेरा होने वाला है राजा … आह … मैं गई …यह बोल कर वो झड़ने लगी.

हिंदी मे सेक्सी एचडी

आज उससे काफी देर बात चली, मैं फ़ोन कट करने ही वाला था तभी ज्योति बोली- रवि एक बात बताओगे?मैंने कहा- हां पूछो. पर मेरा विरोध नहीं कर रही थीं।मैंने अपने एक हाथ को उनके मम्मों पर रख दिया और उनके मस्त मम्मों को सहलाने लगा।क्या मम्मे थे. और मुझे महसूस हुआ कि मेरी बुर पर अब कोई हरकत नहीं हो रही है। मैं कल्पना में जिस सर को पकड़ कर बुर पर दाब कर चटा रही थी.

मैंने अपना मोबाइल निकाला और उसको रात को रिकॉर्डिंग की गई वीडियो दिखा दी और बोला- अब मैं ये वीडियो भी उसके घर वालों को दिखाऊँगा और तेरे लड़के को भी बता दूँगा।वो डर गई और बोली- प्लीज़ ऐसा मत करना. आपने अपने इतने सुंदर बदन को कैसे संभाला है।वो हँसते हुए बोली- आप भी बड़ी झूठी तारीफ करते हो. साक्षी को देखकर उसने ‘हाँ’ कर दी और पूरी रात का वो आदमी 3000 रूपए देने तो तैयार हो गया।यह सुन कर साक्षी ने मना कर दिया वो औरत समझाने लग गई कि इतने भी बहुत है.

मैंने पीछे से लंड एक ही झटके से चूत में डाल दिया। कोमल की दर्द के मारे चीख निकल गई और वो ‘आआह्ह.

मैं इन चक्करों में नहीं पड़ती।भाई- इसमें क्या चक्कर?मैं- आपको तो पता है. जिनके साथ हर उम्र के लोग शारीरिक सम्बन्ध बना कर अपनी सेक्स की जरूरत को पूरा करते थे।साथियो. क्या सॉफ्ट माल सी थी। उसकी चूची को छू कर ऐसा लगा था कि जैसे उसकी चूची को किसी ने कायदे से मसला ही न हो।ममता- राजी नहीं.

अब वो घर जाने की बजाए मुझे हॉस्पिटल ले जाने लगी, जिसके लिए मैंने मना किया. मेरे फ्रेंड दिनेश ने अपने क़जन को साथ लिया और दोनों को पिक कर लिया. और वो कुछ देर में अपना हाथ धीरे से थोड़ा सा नीचे ले गया और शीतल की गांड को भी थोड़ा-थोड़ा मसल दिया.

तभी अंकल बोले- चलो मुँह फिर चौड़ा करो … घबराओ मत, इस बार केवल आधा ही लंड मुँह में पेलूँगा … अब दर्द नहीं होगा … मुँह में लंड को ले लो और होठों से दबा कर रखो. हम दोनों जीजा साली खूब मजा लेकर चुदाई कर रहे थे और जीजू अपना पूरा लंड एक झटके में ही अन्दर डाल रहे थे.

जिसको मेरे इस हाथ ने छुआ है।’ यह कहते हुए उन्होंने मेरे लण्ड पर स्केल जोर से मार दी।‘उतारो जल्दी. फिर मैंने उसकी लैगिंग्स उतार दी और पैटी के ऊपर से ही उसकी चुत चाटने लगा. हमने कपड़े पहने, उसके खून को मैंने अपनी बनियान से साफ किया और उसे ही अपनी चूत में लगा कर वो घर चली गयी.

तभी राज अंकल बोले- वन्द्या, है तो तू मेरी बेटी जैसी … पर कोई औरत तेरे बराबर सेक्सी नहीं और सुंदर तो तुझसे ज्यादा कोई हो ही नहीं सकती.

मैंने उससे कहा- यार, तुम समझने की कोशिश करो न!रवि- क्या कोशिश करूँ?मैं- यही कि मैं ये सब नहीं करना चाहती हूँ. कितना मजा आ रहा है। मैं सोच भी नहीं सकती थी कि यहाँ से भी इतना मजा मिल सकता है।”इससे ज्यादा मिलेगा. तो वो हाँ शिफ्ट हो गए और भाभी यहाँ अकेली रह गईं।उनके साथ में उनकी बूढ़ी सास रहती हैं।एक दिन हुआ यूँ कि मैं हमेशा की तरह भाभी के घर में बैठ कर टी वी देख रहा था। ठंड होने के कारण सब दरवाजे और खिड़कियाँ बंद थीं.

कुछ देर यूं ही उसके मम्मे दबाने के बाद मैंने अपनी जीभ उसके निप्पल पर रख दी. मादरचोद, साली, रांड, छीनाल, चोदीचे तुझ्या गांडीत पहिले मी लंड घालणार आहे, नंतर मी तुझी पुच्ची झवीन.

उसने मुझे मुठ्ठ मारते हुए देख लिया।मैं बहुत डर गया और जल्दी से बाथरूम में भाग गया। भाभी ज़ोर से हँसने लगी और कहने लगी- मैं तो तुझे ये पूछने आई थी कि मैंने चाय बनाई है अगर तुमको पीनी है. ’‘याद है उस दिन मेरी सहेली सौम्या को देखकर तुम कैसे चुलबुला रहे थे. हमारी बात चल ही रही थी कि उसकी मम्मी ने आवाज लगा दी और वो ‘बाद में आऊंगी…’ कह कर चली गयी.

सेक्सी वीडियो में जबरदस्ती

मेरी मम्मी ने हम दोनों को बात करते देख लिया, लेकिन उन्होंने कुछ बोला नहीं, शायद उनको शक हो गया होगा.

धीरे-धीरे मैंने उसके कपड़े निकाल दिए और अपने भी।अब वो मेरे सामने पैन्टी और ब्रा में थी गजब की खूबसूरत लग रही थी।मैं उसके गोरे बदन को देखता ही रह गया।फिर उसने मुझे अपनी बाँहों में भर लिया और मुझे पागलों की तरह चूमने लगी।मैंने उसकी ब्रा खोल दी. लंड चाटने की वजह से मेरा लंड फिर से तन गया और अब मुझे मज़ा आने लगा. वहाँ कितने लोगों के साथ एक ही दिन में मेरी बुर चुद जाती थी और अब तो केवल आप ही चोद रहे हो शायद एक से अधिक मर्द से चुदने कि आदत पड़ गई है.

चाची मेरा सिर पकड़ के चुत के अन्दर खींच रही थीं और मेरे सिर में हाथ फेर रही थीं. मैंने प्रिया की ब्रा को नीचे किया और उसके एक चुचे को चूसना शुरू कर दिया. हिंदी में चाहिए बीएफ वीडियोउसने दरवाज़ा खुला छोड़ा हुआ था।मैं बाथरूम की दहलीज से अंदर झांका तो वो नंगे बदन और नंगे पाव नीचे फर्श पर केवल फ्रेंची पहन कर बैठा हुआ था। उसके सामने बेडशीट थी जिसपर वो पानी डाले जा रहा था और पानी डालते ही बेडशीट से लाल रंग का पानी बाहर निकल रहा था.

वो खेलते खेलते मेरे पास आई और मेरे फ़ोन में देखने की कोशिश करने लगी. लेकिन मॉम ने ज़रूर अपने कमरे का दरवाज़ा खोला और पूछने लगीं- क्या हुआ.

उसकी चूत में उंगली डाली वो नीचे से पूरी तरह गीली हो चुकी थी। उसने भी मेरा मोटा लण्ड अपने कोमल हाथों में ले लिया और उससे खेलने लगी।मैंने कहा- अपने मुँह में ले लो।उसने मना कर दिया।अब मैंने उसको कपड़े उतारने के लिए कहा. प्रिया का इस तरह का ये बेसब्री वाला प्यार देखकर मुझे उस पर इतना प्यार उमड़ आया कि सच बता रहा हूँ उस समय मेरी आंखों में हल्की नमी सी आ गयी. अन्तर्वासना के सभी पाठक तीसरे तरह जैसे हैं, जिन्हें पढ़ के मन में उत्पन्न होने वाली हर क्रिया को प्रकाशित करके कल्पना के सागर में गोते लगाने में मजा आता है.

अन्तर्वासना की कहानी की जगाई हुई ठरक को, बदन में लगी हुई आग को, अपने फ़ालतू के शक की वजह से ठंडा नहीं करना चाहता था! तो मेरे ठरकी दिमाग ने किसी के कूदने के शक को दरकिनार कर दिया औरभतीज-बहू के साथ सुहागरातकहानी में चाचा ने अपने इकलौते भतीजे की नयी नवेली बीवी की बुर का भरता कैसे बनाया” वाले भाग पर कंसन्ट्रेट करते हुए गांड उचका उचका कर अपने मुलायम बिस्तर को ही हल्के हल्के चोदने लगा. तो मैं क्यों नहीं ऐसा कर सकती हूँ। मैंने भी तय कर लिया कि मैं ये सब करूँगी।दो दिन बाद मैंने हिम्मत जुटा कर बॉस से पूछा- मुझे करना क्या होगा?तो बॉस ने कहा- जवान लड़की को कुछ नहीं करना होता. उसका नाम सिमरन था।गीत ने हमें बताया कि सिमरन और वो दोनों बहुत पुरानी पक्की सहेलियाँ हैं और दोनों की बहुत दोस्ती है।फिर सिमरन ने हमें देख कर थोड़ी स्माइल दी और हमें बैठने को कहा।गीत ने कहा- आप सभी बातें करो.

इसलिए उसने पूछा- क्या देख रहे हो भैया?मैं हड़बड़ा कर बोला- कुछ नहीं … बस ऐसे ही ये ये … कुछ नहीं!बस ये बोल कर मैं वहां से चला गया.

मुझे चाटते हुए वो मेरे लंड पर पहुँच गईं और ऊपर से उसे पकड़ कर बोलीं- कितना मोटा है रे. जैसे कि तुम्हारी है। मुझे लगता है कि 8-10 बार गाण्ड मार लेने के बाद तुम्हारी गाण्ड बर्दाश्त करने लग जाएगी। फिर तुम्हें दर्द नहीं.

मैंने भी देर न करते हुए हल्का सा पीछे हुए और एक जोरदार धक्का लगा दिया. मैं उसके होठों पर ही अपने मोटे लंबे तन्नाए हुए लंड को रगड़ने लगा, उसके दोनों मम्मों के बीच अपना लंड फँसाकर चोदने लगा।उसने पूरा शरीर मेरे हवाले कर दिया था।मैं उसके होठों को गालों को. पता नहीं ये क्या करने वाला है।मैंने अपने टाँगें फैला दीं।उसने बोला- आज तुझे मैं जन्नत की सैर करवाता हूँ।यह बोल कर उसने अपना लंड मेरी चूत में पेल दिया।जैसे ही उसने लंड डाला.

मेरे मुंह से सिसकारियाँ निकल रही थी ‘आह आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह उम्म्ह…’ और जीजू मेरी चूत को चोद रहे थे. तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड तो होगी ही।मैंने कहा- हाँ भाभी मेरी गर्लफ्रेंड है. तभी राज अंकल आए और मुझे अपनी गोदी में उठा कर बोले- वन्द्या, तू तो बहुत हल्की है.

हाथी की बीएफ फिर एक दिन उन्होंने मुझे कहा कि कल होली है और इस बार उन्हें होली अकेली मनानी पड़ेगी … इसलिए वह उदास हैं. पीछे की बाकी है।कोमल- सर आज तक मैंने पीछे से नहीं मरवाई है।मैं- आज मारूँगा.

सेक्सी वीडियो मर्डर

उसका यह मैसेज देख कर मैं खुश हो गया।मैंने तुरंत उसे मैसेज किया- तुम भी आओ ना जान. जहाँ ज़्यादा घर नहीं थे और बहुत सुनसान सी कालोनी थी। उसने एक घर के सामने गाड़ी रोकी और कहा- यह मेरे दोस्त के मकान है. जिस वजह से उसने चाची का सहारा लिया।तो मैंने चाची से पूछा- आपको कैसे पता चला?तो चाची बिना कुछ बोले मेरा लंड लोवर में से बाहर निकालने लगीं।मैं उन्हें रोकने लगा तो चाची ने चपत लगाते हुए कहा- उसको तो जबरदस्ती करने को बोलते थे।मैं चुप हो गया.

अब मैं भी उनसे चिपके-चिपके अपने बदन पर पानी डाल कर नहाने लगा।मेरी मॉम अब मेरे बदन पर साबुन लागते हुए मेरे सीने को मसल रही थीं. आख़िरकार दादा जी का पूरा माल मेरी चूत में निकल गया और दादा जी ने मुझ पर से भी अपनी पकड़ ढीली कर दी. बीएफ बीएफ वीडियो वीडियो वीडियोफिर धीरे धीरे उसने अपनी‌ कमर को आगे पीछे हिलाना शुरू कर दिया, जिससे मेरा लंड अब प्रिया की चुत की संकरी दीवारों पर घिसने लगा.

और शायद किस्मत को भी यही मंजूर था।तकरीबन 6-7 दिन के बाद मेरे पास उसका फोन आया और उसने बिजनेस को ले कर काफ़ी लंबी बातें कीं.

मगर सन्नी जैसे चालाक आदमी से वो जीत थोड़े ही सकती थी। वो ठहरा एक नंबर का कमीना आदमी. पूरा डाल दो।मैंने चूसना छोड़ दिया और अपना खड़ा लण्ड चूत के मुँह पर लगा दिया। एक ज़ोरदार धक्का मारा.

वो बड़े गौर से मयूरी की चूत का निरीक्षण करती है और अपना हाथ उस पर बड़े प्यार से फेरते हुए बोली- मयूरी…मयूरी- ह. हम लोग कैसे लग रहे हैं?शीशे में मुझे नंगा और उसमें मेरा खड़ा हुआ लंड और अपने आप को पूरे कपड़े पहना देखकर पूजा पहले बहुत शरमाई, फिर हंसकर वो मुझे कसकर अपने बांहों में भींच कर मुझे चूमने लगी. वो कोर्स दूसरे शहर में था, इसलिये मैंने अब बहाना बनाया कि इतनी दूर आना जाना कैसे होगा?एक बार तो भैया ने भी मेरी बात पर सहमति जताई, मगर तभी मेरे पापा कहने लगे कि रोजाना आने जाने की क्या जरूरत है, उस शहर में सुमेर यानि गांव वाले रामेसर चाचा का बड़ा लड़का रहता है, तुम उसके घर पर रहकर भी तो पढ़ाई कर सकते हो.

फिर चाची मेरे सर पर हाथ फेरते हुए बोलीं- मज़ा आया मेरे राजा? मैं तो तीन बार झड़ गई.

थोड़ा सहन करो।अनु दर्द से कराह रही थी और मैं धक्के पर धक्का दिए जा रहा था।अनु की यह पहली चुदाई थी. पता नहीं उतनी देर में मेरी फ्रेंड ने मीशू को क्या कह दिया कि जब मैं बैग लेकर ऊपर गया तो मेरी तरफ़ देखकर वो दोनों मुस्कुरा रही थीं. ऐसा लग रहा था कि हाथ लगते खून निकल जाएगा।ऐसी चूत देख कर मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और पूजा के जाँघों पर ठोकर मारने लगा।मैंने उसकी चूत पर अपने होंठों को लगा दिए.

डिलीवरी वाली बीएफहम दोनों चुदाई कर रहे थे और हम दोनों के पसीने से बिस्तर भी भीग गया था. तो देखा चाची नहाने की तैयारी कर रही थीं। वो बाथरूम में खड़ी थीं और उन्होंने अपनी साड़ी उतार रखी थी.

कृष्ण भगवान की सेक्सी

मैं अपना हाथ नीचे ले गया और धीरे धीरे मैंने उसकी पैंटी को अलग कर दिया और उस पर अपनी उंगली फेरने लगा. चादर लाल हो चुकी थी। फिर मैं अनु को धकापेल चोदता रहा, उसकी चूचियों को मसलता रहा, वो तड़फती रही।कुछ ही पलों में मुझे लगा कि अनु 2 बार झड़ चुकी है और मैं झड़ने के करीब था. मैं जबलपुर का रहने वाला हूँ। मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ और अन्तर्वासना की कहानियों से प्रेरित होकर अपने जीवन की एक सत्य घटना आप लोगों को बताना चाहता हूँ।बात तब की है.

जो अभी भी अपने पति के देहांत के बाद मुझे बाजार में दिखाई देती है। उस दिन के बाद तीन महीने लगातार. उससे पहले वो खड़ी हुई और हाथ में वो पानी की गिलास लिए हुए मेरे पास आ गई, वो धीरे से नीचे बैठी और कहा- मैं तुम्हें बहुत पसंद करती हूँ और तुम्हारी हर ज़रूरत को पूरा करूँगी।इतना कहते ही उसने वो पानी का गिलास अपने चूचों पर गिरा दिया।मेरी नज़रें उसके उभरे हुए चूचों पर गईं तो मैं दंग रह गया. उसने मेरे लोवर के नीचे के हिस्से से लंड को बाहर निकाला और फिर उस से खेलने लगी.

तब उसने मुझे एक तौलिया दिया और बाथरूम की ओर इशारा किया। मैंने उसकी तरफ ध्यान से देखा तो उसकी टी-शर्ट उसके बदन से चिपक गई थी और उसके मम्मे मानो टी-शर्ट फाड़ने के लिए तैयार हो चुके थे।मैं उसे देखे जा रहा था कि तभी उसकी नौकरानी आई और मैं बाथरूम में चला गया। तभी बाहर किसी ने ‘ठक-ठक’ किया. साया भरभरा कर नीचे की ओर फिसल पड़ा और अब मेरे होंठ चिकने चूतड़ों पर थे और हाथ पतली कमर को सहलाते हुए नाभिकूप को उंगलियों की सहायता से चोद रहे थे. यहां ये भी बता दूँ कि पुरुष के पहली पत्नी से 2 बच्चे हैं और इस महिला से भी 2 हैं.

थोड़ी देर तक चुप रहने के बाद पूजा फिर बोली- मुझे आज बहुत शरारत करनी है. मगर जब मैं सबके सामने उससे बात करता था, तो मेरी बातों का वो हंस हंस कर ही जवाब देती थी.

तो वो टाँगें पसार कर मुस्कुरा रही थीं।अब मैं एक हाथ से उनकी चूत में और कभी उनकी गाण्ड में उंगली कर रहा था और दूसरे हाथ से उनकी चूचियाँ मसल रहा था और वो मेरे लंड को सहला रही थी।फिर मैंने उनकी पैन्टी उतार दी और अपना अंडरवियर भी निकल कर फेंक दिया।अब हम दोनों बिल्कुल नंगे थे।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मेरा लंड बहुत बुरी तरह से सख्त हो गया था.

’चाचा का हाथ मेरे खुले जोबन को धीरे-धीरे सहला रहा था और होंठ मेरी बुर को चाट रहे थे।‘आहह्ह्ह. चुदाई की फिल्म बीएफतो एकदम से लंड अन्दर घुसता चला गया।फिर से लौड़ा घुसने के बाद मैं अपने आप ऊपर-नीचे होने लगी। करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद उसने मुझसे कहा- रानी मेरा निकलने वाला है. भोजपुरी में बीएफ मूवीथोड़ा दर्द सहन कर ले फिर मजा ही मजा है।मैंने एक जोरदार झटका मारा और अपनी बहन को कुंवारी दुल्हन बना दिया।अब उसकी चूत से खून निकल रहा था मैं रुक गया और उसके बत्तीस साइज के मम्मों का रस पीने लग गया।थोड़ी देर बाद वो शान्त हुई और बोली- भाई आपने मेरी फाड़ दी।मैंने कहा- क्या?शर्मा कर उसने अपनी चूत की तरफ उंगली की. तो पिंकी ने मुझसे कहा- मुझे तुमसे कोई बुक लेनी है।मैंने कहा- दोपहर को आकर ले लेना।दोपहर को पिंकी बुक लेने आई, घर पर मैं और मम्मी ही थे, मम्मी अन्दर वाले कमरे में सो रही थीं।मैंने पिंकी के अन्दर आते ही उसे पहले बुक दी.

जो वन बीएचके का फ्लैट है।फ्लैट पर पहुँचते ही मैंने उसे फ्रेश होने के लिए कहा और मैं उसके ब्रेकफास्ट के इंतज़ाम में जुट गया।कुछ देर बाद जब वो बाथरूम से निकली तो उसने टी-शर्ट और लोवर पहन रखा था.

नहीं कल से यहाँ रहने नहीं दूँगा।निधि घबरा गई कि इसको जरूर पता लग गया है. मैंने उससे कहा कि मेरी बात सुनो, प्लीज चिल्लाना मत … पहले मेरी पूरी बात सुन लो. मेरी हया और हालत इस बात की चीख-चीख कर गवाही दे रही थी कि मैं चुदने आई हूँ।तभी उसने मुझसे कहा- तुम इस हाल में उस कमरे में क्या करने जा रही थीं?मैं हकलाते हुए बोली- कुछ नहीं.

मैंने कहा- रानी, अभी तो मैं तेरी चूत बजाऊंगा … तू कुतिया बन जा मैं पीछे से तेरी लूंगा. काफी देर प्रयास करने के बाद जब मुझे सफलता नहीं मिली तो मैंने उसकी चूत को दोबारा से चाटना शुरू किया कि वह गर्म हो जाए तो शायद उछल कूद बंद कर दे. तो देखा कि दोनों पूरी तरह से नंगी होकर एक-दूसरे की चूत को चाट रही हैं। मैंने अपना मोबाइल निकाला और दोनों की रिकॉर्डिंग करने लगा। जब दोनों का पानी निकल गया.

बहन भाई की सेक्सी नंगी

उसने वो खा ली और मेरे पास आकर आँख मारते हुए कहने लगा- अब मुझे ये मेडीसिन लेना पड़ती है. चूत के दोनों होंठ खोल कर मैंने पूरी चूत ऊपर से नीचे तक चाटता ही रहा और दाने को अपनी जीभ से हिलाने लगा।अब मैंने चूत के छेद में अपनी पूरी जीभ डाल कर अन्दर-बाहर करने लगा।सुनयना- अहह. उसकी चुदाई की कहानी बहुत जल्द आपको बताएँगे।दोस्तों आपको मेरी ये कहानी कैसी लगी.

मगर मेरी जवानी को पाने के लिए बहुत सारे लड़के मुझे पटाने को लगे रहते और मैं भी पति की बिना कितनी देर रह सकती थी.

ये लण्ड के लगातार घर्षण के कारण हुए थे।वो ठीक से चल भी नहीं पा रही थी.

क्योंकि मैं यहां पर अकेली रहती हूँ और किसी की कोई रोक टोक भी नहीं होगी. उसने लो कट वाला टॉप पहना था। उसमें से उसके मम्मे बड़े ही साफ दिख रहे थे।मेरा यहाँ बहुत बुरा हाल ही रहा था और हम बातें करने लगे।मैं- हायरायलेनी- हैलो. बीएफ चुदाई विदेशीआपने तो जैसे इसमें नई जान ही डाल दी है।मैंने भी थोड़ा मजाक करते हुए कहा- किसमें?तो भाभी ने एक और धक्का मेरे लंड पर लगाया और बोलीं- इसमें.

मैं टाँगें चौड़ी किए ऐसे ही पड़ी थी।फिर हम दोनों ने करीब एक घन्टे तक रेस्ट किया. तब तक आप मेरे लंड का ख्याल रखिए।यह कहकर मौसी के विरोध करने के बाद भी मैं नीचे बैठ गया और मौसी की नाईटी में घुस गया और अन्दर उनकी नंगी चूत को चाटने लगा।करीब दस मिनट के बाद मौसी ने धीरे से पैर फैला दिए. दूसरी बार दूध पीकर चुदाई की।तीसरी बार में मैंने उसकी गाण्ड के भी दीदार करके उसकी गाण्ड भी मारी।रात में करीब तीन बजे ध्यान आया कि ‘न्यू इयर ईव’ थी। हम दोनों रात को 3 बजे एक-दूसरे को ‘न्यू इयर’ विश करके नंगे ही सो गए। सुबह मेरी छ: बजे आँख खुली.

वो आराम आराम से मेरे लंड पर उछल रही थीं और मैं उनकी चिकनी कमीज और सलवार पर हाथ फेर रहा था. मैं तो कभी सपने में भी नहीं सोच सकता था कि ऐसा कभी होगा।फिर हम दोनों फ्रेश होकर एक-दूसरे से लिपट कर सो गए।[emailprotected].

उसने कैमरे की ओर देख कर मुझे हैलो कहा क्योंकि वो जानती थी कि मैं ही देख रही हूँ और वो मेरी प्रोफाइल पहचानती है.

तो मैंने लोवर ऊपर किया और चाची अपने बाल बाँधकर मुँह धोने लगीं और मेरा लगा हुआ माल साफ़ करने लगीं।तभी मेरा मन मचला और मैंने पीछे से जाकर जफ्फी डाली और बड़ी-बड़ी चूचियाँ दबाने लगा।तभी चाची ने कहा- नवाब साहब. उसका नाम स्वाति था, वह बहुत सुन्दर थी, उसकी फिगर कयामत थी, उसका रंग दूध की तरह सफेद था, उसकी आँखों में एक अलग सी चमक थी।मैं तो उसका दीवाना सा हो गया था, वो एकदम हूर की परी लग रही थी।मैंने दोनों को ‘हैलो’ बोला और अपने कमरे में सामान लगाने लगा। मैं सुबह लगभग 7 बजे उनके घर पहुँचा था। मेरा साला ऑफिस के लिए निकलने वाला था. उन्हें देखते ही मेरा लंड खड़ा होने लगा और मुझसे रुका नहीं गया, मैंने जाते ही उन्हें गले से लगा लिया।इससे पहले मैंने कभी ऐसा नहीं किया था.

देवर भाभी के देहाती बीएफ क्या खूबसूरत उसका बदन था … सब कुछ बहुत अच्छा था … उसके बदन का साइज 34 30 34 था, मुझे इस साइज की औरतें बहुत पसंद आती हैं इसलिए मैं उसे गौर से निहार रहा था. वो वैसे ही रुक गया और बड़े प्यार से मुझे सहलाने लगा, मेरी चूचियों को दबाने लगा, थोड़ी देर बाद जब मैं उसके किस में पूरा सहयोग देने लगी.

क्योंकि उनकी तबीयत थोड़ी खराब थी और वो अकेली थीं।रात में मैं सोने चला गया।दोस्तो, मैं जाहनवी के रूम में ही सोता था. तुम्हें मैं लंड दिलवा भी दूंगी और तुम्हारी ही चूत के बलबूते पर तुम्हारी प्रमोशन भी करवा दूंगी. फिर आराम से मारते रहना।पुनीत ने ज़्यादा ज़िद नहीं की और मान गया। उसके बाद दोनों चूमा-चाटी में लग गए। दोनों 69 के पोज़ में आ गए और एक-दूसरे के चूत और लण्ड को चूसकर मज़ा लेने लगे।कुछ देर बाद पायल ने कहा- अब बस बर्दाश्त नहीं होता.

महाराष्ट्र पोलीस सेक्सी व्हिडीओ

मयूरी- आह… माँ… तो आपको रोका किसने है… चूम लो… चाट लो… जो करना है वो करो… मुझे बहुत अच्छा लग रहा है. लेकिन ये महाशय अपना सारा माल तुम्हारे अन्दर डाल कर जरा लुल्ल से हो गए हैं. मैंने उसकी चूत को थोड़ा सहलाया तो उसने मेरे हाथ को पकड़ लिया और उसने मुझसे धीरे से कान में कहा- जीजू, मैं फिर किसी दिन आऊंगी.

पर तुम्हें मुझे वहाँ से पिक करना पड़ेगा।उसने ओके कह दिया।मैं दूसरे दिन ऑफिस से लगभग 12 बजे निकल गया। ऑफिस से एक बस में बैठा और सीधे दिल्ली पहुँचा। लगभग 5 घंटे में में चंडीगढ़ से दिल्ली पहुँच गया. फिर मैंने मीशू के टॉप के अन्दर हाथ डालकर उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और टॉप और ब्रा एक साथ उतार दिए.

रंग दूध सा सफ़ेद, मॉडल जैसा चेहरा, आँखों का रंग थोड़ा हरा कच्ची मेहंदी से मिलता जुलता.

हम दोनों चुदाई करते करते एक दूसरे के होंठों को भी कभी कभी चूस रहे थे. हमें क्या पता वो हर दिन अपनी गाड़ी में ऑयल डाल रही है।सब हँसने लगे।तब सलोनी ने पूछा- अब बताओ तुम लोगों ने मेरा वीडियो क्यों बनाया?तब संतोष बोला- ताकि तुम कभी भी हमसे चुदने को मना ना कर सको।सलोनी ने कहा- मतलब?‘जिस दिन तुम हमें चोदने नहीं दोगी. औऱ मैं फिर उसे हॉस्टल छोड़कर घर आ गया।उसके दो महीने बाद उसकी शादी हो गई.

मैं पूरी तरह से मदहोश हुई दादा जी का लंड झटकों के साथ अपनी चूत के अन्दर बाहर करने लगी. मैंने अन्तर्वासना पर बहुत सी कहानियाँ पढ़ीं, तो मन किया कि आज अपनी ज़िन्दगी के कुछ हसीन पल आप सब पाठकों के साथ साझा करूँ. थोड़ी देर तक चुदाई के बाद डैड ने जल्दी जल्दी चोदना शुरू किया और लगा जैसे कि उन्हें कंपकंपी सी आ गई हो.

अपने पति का मैं हमेशा पूरा लंड मुँह में लेती हूँ।उसके लौड़े की गर्माहट से अब मैं फिर से गर्म होने लगी, मैंने अपनी टाँगें मोनू के मुँह के अगल-बगल कर दीं और बोली- तू मेरी चूत चाट।मोनू तुरंत अपनी जीभ से चाटने लगा और पूरी जीभ चूत में डाल कर अन्दर-बाहर करने लगा और एक उंगली से मेरे क्लिट को सहलाने लगा।मैंने मोनू का लंड हाथ में कस कर पकड़ा हुआ था।मैं बोली- तू तो एक्सपर्ट है!वो बोला- दीदी.

हाथी की बीएफ: फिर वो मुझे एक पार्किंग में ले गया और उधर से अपनी बाइक उठा कर मुझे जालंधर के ही एक मुहल्ले में ले गया. वह कभी सलवार कुर्ता और कभी साड़ी पहनती थी, शायद कभी-कभी पैन्ट टाइप का पहनावा भी पहनती थी।उसका पति ज्यादा तन्दरूस्त नहीं था। उसका आदमी ठेकेदारी के तहत पानी वाले जहाजों की वैल्डिंग का काम साल में दो-तीन महीने करता था। बाकी समय में दोनों पति-पत्नी टेलर से सूट-सलवार सिलने के लिए लाते और सिलाई करके दे आते थे, इसी तरह वे दोनों अपना जीवन यापन करते थे।कुछ दिनों तक मैं ऐसे रहा.

फिर थोड़ी देर बाद मेरा रस निकलने वाला था, तो मैंने बिना उससे पूछे उसकी ही चुत में माल झाड़ दिया. निधि मज़े से लौड़े को चूसे जा रही थी और सन्नी उसके मुँह में झटके दे रहा था।कुछ देर बाद सन्नी ने लौड़ा उसके मुँह से निकाल लिया और उसको नीचे लेटा कर उसके पैर मोड़ दिए।सन्नी- वाहह. जब बुआ ने मुझसे सेक्स क्लिप्स के बाद भी कुछ नहीं कहा तो मेरा मन बुआ जी के उभरे हुए मम्मों को दबाने का करने लगा था.

मेरी जीभ का टच पाते ही वो एकदम से सिहर उठी और मेरा सिर अपनी चुत में दबाने लगी.

जहाज भी समय पर आ चुका था। सभी सवारियाँ बारी-बारी से अपनी अपनी सीटों के क्रमानुसार अपनी-अपनी जगह पर बैठ रहे थे. डेस्क की तलाशी लेतीं।एक दिन मैंने गुस्से से उनसे पूछ लिया- आप सिर्फ मेरी तलाशी क्यों लेती हो? क्लास में और भी तो स्टूडेंट्स हैं. क्योंकि अब कोई और आने वाला नहीं था। मैं अन्दर गया और किरण से पूछा- अब पूजा तो नहीं आएगी न?वो बोली- नहीं अब नहीं आएगी।तो मैंने बोला- ठीक है.