बीएफ वीडियो दिखाना

छवि स्रोत,सेक्स बीएफ दिखाओ बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो डीजे बीएफ: बीएफ वीडियो दिखाना, मैंने गोविन्द से कहा- क्या बिंदु को चोरी चोरी चुपके चुपके फिल्म की तरह का मां का सुख नहीं दिलाया जा सकता है?गोविन्द ने तुरंत ही यह बात राजेश से कही.

2017 के बीएफ सेक्सी

मैंने अपने बेटे करन, यह नाम हमने पहले ही सोच लिया था, को किस किया और घर के लिए चल पड़ा. शायरी वीडियो बीएफउसको भी आज काफी दिनों बाद निखिल से चुदने का मौका मिला था तो वो भी एकदम गर्म थी.

मेरी मां रज्जी हंस दीं और अपनी दोनों टांगें डालकर मेरी गोदी में बैठ गईं. बीएफ वीडियो इमेजपिछले भागबीवी की दूसरी सहेली की कुंवारी बुरमें आपने अब तक पढ़ा था कि मैं सादिका की चुत चुदाई कर रहा था.

जीनिया ने मेरा बरमूडा नीचे खिसकाकर मेरा लण्ड अपनी मुठ्ठी में ले लिया.बीएफ वीडियो दिखाना: यह सुनकर दीदी ने कहा- रमेश अब बस करो इतनी फोटो काफी हैं … क्या तू मुझे पोर्न ऐक्ट्रेस समझ रहा है! अब बस करो … मैं कपड़े पहन रही हूं.

उस समय तो वो लोग चले गए, पर रोजाना दोनों समय आकर वो लोग चंदा देने की मांग करने लगे.उसकी आंखों में नशा देख कर मुझे यकीन हो गया कि शमा पक्के में लंड की प्यासी है.

कुत्ते के साथ सेक्स बीएफ - बीएफ वीडियो दिखाना

क्या लग रही थी वो दोस्तो … उसके 34″ के बूब्स और 38″ की गांड … मन तो कर रहा था कि अभी उसे चोद दूं।पर पहले हमने खाना खाया फिर हम दोनों उसके बैडरूम में गए.मैंने पूछा- ऐसा क्यों?वो बोला- वो तुम्हारी जांच के लिए ऐसा कह रहा था.

मेरी ईमेल आईडी है[emailprotected]सेक्स विद सिस्टर इन लॉ की कहानी जारी रहेगी. बीएफ वीडियो दिखाना कुछ ही देर बाद वो मेरे कपड़े खोलने लगी और साथ ही उसने मुझे इशारा किया कि मैं भी उसे नंगी कर दूं.

वीरू बोला- साली रंडी, यहां जंगल क्यों उगा रखा है … झांटें क्यों नहीं बनाती … तुझे मालूम है कि मुझे झांटें पसंद नहीं हैं … फ़िर भी!चाची बोलीं- साले भड़वे, चिल्लाता क्यों है … कल बना लूंगी … आज तो तू मेरी प्यास बुझा मां के लौड़े.

बीएफ वीडियो दिखाना?

मेरी जीभ को अपनी गांड के छेद पर महसूस करते ही मामी जी ने एक हल्की सी सिसकारी सी ली. अंदर आते ही फ़लक ने मुझे गुड मॉर्निंग की और हाथ मिलाने के लिए अपनी सुन्दर नाजुक उँगलियों वाली हथेली मेरी ओर कर दी. पूनम के पति, बृज को व्यापार में कुछ नुकसान हुआ था और इसीलिए पूनम बुआ थोड़ी परेशान रहने लगी थीं.

मेरे घर पर सभी लोग होली मनाने के लिए गांव चले गए थे और लॉकडाउन लगने से पहले वापस न आ सके. करीब एक मिनट तक रुक रुक कर राजेश के लंड से निकलती पिचकारियां गर्म गर्म वीर्य छोड़ रही थीं. मैं 69 की पोजीशन में आकर चित्रा की चूत चाटने लगा तो उसने मेरी चड्डी उतार दी और मेरा लण्ड पकड़कर चूसने लगी.

उन लड़कियों के साथ वाले एक लड़के ने कहा- चलो, हम सब कैंटीन में चल कर बात करते हैं. अन्वेषा- तुम काफी क्यूट और स्वीट हो!उसने अपने रसीले होंठों पर मुस्कान लिए मेरी ओर आंख मार दी. मेरे इम्तिहान आ गए और इम्तिहान के बाद मैं छुट्टियां भी अच्छे से गुज़र गईं पर उस वक्त चाची को लेकर कुछ ज़्यादा हलचल नहीं हुई.

उसने अपने दोनों कान पकड़े और सॉरी बोला और कहा- मैं दोबारा ट्राय करती हूं. उसने पूछा- हैलो कौन!मैं बोला- आप कौन बोल रही हैं और आपको यह नंबर किसने दिया!उसने कहा- मुझको ये सिम मेरी एक सहेली ने दी थी, आप कौन बोल रहे हैं?मैंने उससे कहा- मैडम, ये मेरा सिम कार्ड है … आप प्लीज़ मुझे वापस कर दो.

वो अपनी एड़ियों के बल उचकीं और खड़े होकर उन्होंने मुझे अपने होंठ सौंप दिए.

बात उन दिनों की है जब मैं एक प्राइवेट स्कूल में अध्यापन का कार्य कर रहा था.

मेरा लंड ढाई इंच मोटा होने की वजह से इसको निगलने के लिए अनुष्का शर्मा जितना बड़ा मुँह होना जरूरी है, वरना चूसने वाली के मुँह में जल्दी ही दर्द होने लगता है. वो भी अपनी गांड आगे पीछे करके मज़े से लंड लेने लगी।उसकी चूचियों को पकड़ कर मैं मसलने लगा और दोनों तरफ से बराबर झटके पे झटके लगाने लगे।अब पूरे कमरे में चुदाई की आवाज आने लगी थी।हम दोनों भूल गए कि हम क्या हैं और कहाँ है. उर्वशी ने अपने हाथ में मेरा लंड पकड़ा और धीरे धीरे नीचे होने लगी, जिससे उसकी चूत में मेरा लंड जाने लगा.

थोड़ी दूर चलने के बाद जब एक गढ्ढे में टेम्पो का पहिया पड़ा, तो मेरे दोस्त की बड़ी बहन की चुची मेरे हाथ से टकरा गई. वो भी मुझसे अच्छे से बात कर रही थी तो हम दोनों में सिम के अलावा भी बात होने लगी. देसी हॉट Xxx कहानी में पढ़ें कि मेरी शादी हुई तो मुझे मेरी सास की छोटी बहन पसंद आ गयी.

भोसड़ी के … बिल्कुल चूतिया समझा है!मैं- एक काम करो अभी तुम हमारा लंड चूसो, चुदाई हम बाद में करेंगे.

ये कह कर उसने ममता की कठोर चूची पकड़ी और जोर से मींज दी- मुझे नहीं पता था कि तुम दोनों इतनी बड़ी हो गई हो. ममता ने झपट कर अभय के हाथ से बोतल ले ली और गटगट करके पहले पानी पिया, फिर मुँह धोकर अपना हुलिया ठीक किया. मैंने भी अपने धक्कों को रफ्तार को बढ़ा दिया और 10-12 धक्कों में हम दोनों का काम हो गया.

मगर मेरी चुत की आज मस्त चुदाई हुई थी, जिससे मुझे काफी अच्छा लग रहा था. उम्मीद है कि आपका लंड खड़ा हो गया होगा और आप मुठ मारने की सोच रहे होंगे. मुझसे अपनी मॉम का ये दुःख देखा नहीं जाता था और मैं हर वक्त उदास रहने लगा था.

चित्रा तो चुदासी थी ही, मेरा लण्ड भी अभी तक हस्तमैथुन से शांत होने का आदी था इसलिये पहली बार चूत में जाने के लिए उतावला हो रहा था.

मैं जानती थी कि वो ज्यादा देर इस अवस्था में रुकेगा नहीं और कुछ ही पल के बाद वो कहने लगा- बस … बस रानी! मेरा छूट जायेगा।वो मेरे ऊपर आया और चूत में लंड डालकर झूलने लगा. इस बार मैं पिघल गया और मैंने मैसेज किया- गीत, मैं 15 मिनट में तुम्हारे घर आ रहा हूँ.

बीएफ वीडियो दिखाना कुछ देर यूं ही चोदने के बाद मैंने लंड निकाल लिया और शन्नो को लिटा कर उसके ऊपर चढ़कर चोदने लगा. दादा जी- ठीक है बेटी, वो हम बात कर लेते हैं … और सुन हमें कल सुबह ही उसके घर जाना है.

बीएफ वीडियो दिखाना उत्सव के दो दिन हो गए और मेरे सास ससुर को अपनी बेटी के यहां जाना पड़ा. अब मेरी बहूरानी के मायके में शादी थी तो उनके मामा (वधू के पापा) हमारे घर आकर भी निमंत्रण दे गए और सपरिवार आने का बारम्बार आग्रह कर गए.

अबकी बार मैंने उसके सामने लंड कर दिया तो उसने चूसने से भी मना नहीं किया.

बीपी फिल्म आपो

उसको गांव में रहना पड़ रहा है।मैं- ओह्ह नहीं। अब वो वापस कब आएगा?जवान- क्यों, क्या हुआ मैडम जी? और इतनी दूर अकेली कैसे आ गयीं?मैं- नहीं, कुछ नहीं। उसने घर में काम किया था तो उससे लगाव हो गया था।वो बोला- कारीगर से कैसा लगाव मैडम जी? आपकी बातें पहेली जैसी लग रही हैं।वो मुझे टेढ़ी नजर से देख रहा था।मैंने कहा- चलो मैं चलती हूँ. मुँह पर मैंने स्कार्फ बांध लिया था ताकि कोई पहचान न सके।गली में घुसकर मैंने एक बजुर्ग से पूछा कि यहां कश्मीर के कारीगर रहते हैं, लकड़ी का काम है।वो बोले- हाँ बेटी, वो सामने जो लाल गेट है उसी में रहते हैं।मैं- जी शुक्रिया. कंडोम लगा कर मैंने उसकी चुत में फिर से लंड पेल दिया और झटके देकर उसकी चुदाई करने लगा.

डॉक्टर ने पुरानी रिपोर्ट्स को देखा ओर नई रिपोर्ट को देख कर कहा कि यह भगवान का ही चमत्कार है, क्योंकि अंडाणु और शुक्राणु का मिलन हो ही नहीं सकता था. मैंने नीतू को बड़े प्यार से बेड पर लिटा दिया और उसके होंठ चूमने लगा. मैंने उनकी नंगी जवानी देख कर झट से अपने पूरे कपड़े उतार दिए और नंगा हो गया.

मेरा हुस्न देख उनके तंबू तन गए।लौड़ों के तंबू देख मेरी चूत भी मचलने लगी.

वो समझी कि मैं यूं ही गांड में उंगली कर रहा हूँ, तो उसने अपनी गांड का छेद ढीला छोड़ दिया. बाकी बचा सेक्स हम दोनों शादी के बाद किसी होटल में या कहीं और अच्छे से कर लेंगे. मैं गांड उठाते हुए बोली- आह राजू … सच में प्राची और आपकी बीवी इतना मस्त आनन्द अकेली ही उठा रही थीं.

अब तो शायद वो जानबूझ कर ही मेरे सामने ही अपने दूध खुला छोड़ देती थीं. मैंने कहा- देखो फ़लक, थ्योरी में तो तुम बुरी तरह से फेल हो गई हो, हाँ अगर प्रैक्टिकल में पास हो गई तो देखते हैं. सब बहुत डरे हुए थे लेकिन कृति को मेरे इरादों की भांप गई थी इसलिए वो निश्चिंत थी.

मैं गर्म होती भी क्यों नहीं … मैं भी जवान थी और मैं भी किसी मर्द के लिए प्यासी थी. उनकी जांघों पर बैठकर अपनी नाइटी उतार फेंकी और इनके लंड को मुँह में लेकर खूब चूसा.

मैंने अपने होनों हाथों की दो दो उंगलियों को काम पर लगा दिया और अपनी मम्मी के चूचुकों को उंगलियों में दबा कर मींजने लगा. मैंने देखा तो उससे चलना तो दूर, वो मुश्किल से खड़ी भी नहीं हो पा रही थी. उनकी बातों से मेरी नींद खुल गयी थी लेकिन जैसे ही मैंने बंगालन भाभी की आवाज सुनी तो मेरे लंड में सनसनी होने लगी और मैं सोने का नाटक करता हुआ यूं ही लंड खोले लेटा रह कर सोने का नाटक करता रहा.

मगर एक दिन सूर्यभान के पिता और मेरे चाचा ने चूत के चक्कर में एक दूसरे की जान ले ली और हमारे परिवारों के बीच दुश्मनी हो गई.

मिशनरी पोजीशन में लंड को रगड़ते हुए मैंने एक ज़ोरदार धक्के के साथ अपना आधा लंड उसकी चूत के अंदर डाल दिया. कभी बेडरूम में नंगी होकर लंड चुत में ले लेती थी तो कभी किचन में वो मेरी साड़ी उठा कर मुझे चोद देते थे. अब दोनों एक-दूसरे के शरीर पर हाथ फेरने लगा और किस करने लगे।थोड़ी देर बाद कामिनी मेरे लंड को ऊपर से ही सहलाने लगी और उसने मेरी कमीज़ और बनियान उतार दी.

चुदाई की आवाज कमरे में गूंज रही थी और हम दोनों भूल गए थे कि घर में साहिल भी है और रात का समय है. मैं मैं गई भैया … गई तेरी बहन …बस इतना बोल कर ममता अकड़ी और झड़ने लगी झड़ते हुए उसने अपने भाई को जोर से भींच लिया.

मेरे पति मेरे साथ नहीं रहते थे तो मेरी चुत में चींटियां सी रेंगती रहती थीं. गोविंद और तुम जिगरी दोस्त हो, हर चीज शेयर करते हो तो क्या अपनी पत्नियों को शेयर नहीं कर सकते हो. उधर मेरा काम भी बढ़ने लगा।नवम्बर का महीना आ गया था और उसमें नीता के मामा की लड़की की शादी थी.

नंगी वीडियो चुदाई

चाची- नहीं, मुझे देना … मैं धो दूँगी … आज तेरी बहन कपड़े धोने वाली है.

लंड गांड में घुसा, तो चाची कराहते हुए बोलीं- आहहह आह आह ओह … कितना मोटा लंड है मजाहह आ गया आहह ओह. फिर अंकल ने अपनी टेबल की दराज से एक कागज निकाला और उस पर कुछ लिख कर मुझे देते हुए कहा कि अपने दादा से इस पेपर पर साइन जरूर से करवा लेना. मुझे तो पता ही नहीं चला कि आप कब उस बिस्तर पर उठ कर चली गई थीं?उन्होंने मुझसे कहा- जिसको तुमने चुना था, वह एक बार मेरे साथ सेक्स करना चाहता था.

भाई बहन की सेक्सी स्टोरी का अगला भाग:छोटा भाई मेरी चुत का चोदू बना- 3. अब उर्वशी भी हंस कर बोली- अपनी उर्वशी दीदी के पास रुकोगे या उर्वशी डार्लिंग के पास!तब मैंने कहा- जिसके पास आप मुझे रोकना चाहो. बीएफ चोदने वाली ब्लू फिल्मथोड़ी देर बाद वो टॉयलेट करके आ गईं और हम दोनों उनके घर की तरफ चल पड़े.

मैंने शन्नो के बाल हाथों में पकड़े और उसे तेजी से चोदना शुरू कर दिया. हां बेटा, तू सही कह रही है; आज की रात सोने के लिए नहीं है …इन फैक्ट इट इज नेवर एनफ!” मैंने उसे पुनः अपने से लगा कर कहा.

शीना अब पूरी मस्ती से अपनी बुर चटवा रही थी और मैं भी पूरी शिदत्त से उसकी बुर के हर कोने को चाट रहा था. वो दर्द से बिलबिला उठी और उसने मुझे इतनी जोर से जकड़ा कि उसके नाखून मेरी पीठ में घुस से गए. अब मैं अपना हाथ उसकी क्रॉप टॉप के अंदर हाथ डाल कर उसकी चूची सहलाने लगा.

रास्ते में हमने डिनर पैक करवा लिया, अंधेरा हो रहा तो घर जाने की जल्दी थी. ये मेरा अपना गुस्सा दिखाने का तरीका था क्योंकि ये तो मुझे पता था कि आज चाहे जो हो जाए, पूनम बुआ मेरे लंड का पानी अपनी चुत में जरूर लेंगी. मैंने विवेक और नवीन की तरफ देखा तो उन दोनों ने होंठों पर उंगली रख कर लाइव ब्लूफिल्म देखने का इशारा कर दिया.

उसने भी बताया कि मैंने भी अपनी गर्लफ्रेंड के साथ तीन बार सेक्स किया था, लेकिन फिर हम दोनों ने और सेक्स न करने के लिए तय कर लिया था.

आज उसकी चूत को मैं इस तरह से चाट रहा था कि जैसे उसकी चूत मक्खन मलाई निकल रही हो औ मैं उसी मलाई को खा रहा हूं. क़रीब दो मिनट तक मैं उसके होंठ चूसती रही फिर बोली- ऐसे!वह बहुत उत्तेजित हो गया था.

मैंने सीधी बात करने के लिए कहा- कभी उसकी लेने का मन करता है!अफ़रोज़- आपा आप कैसी बात करती हैं!वह शर्मा गया था तो मैं बोली- इसमें शर्माने की क्या बात है. उस क्षण मुझे अदिति के साथ बिताये हुए वो लम्हें सहसा स्मरण हो आये जब मैं और अदित ऐसी ही राजधानी एक्सप्रेस के ऐ सी फर्स्ट कोच में कभी बंगलौर से निजामुद्दीन, दिल्ली तक की यात्रा की थी; उन छत्तीस घंटों में मैंने बहूरानी का नंगा जिस्म कितनी बार भोगा था अब तो याद भी नहीं!जिन पाठकों ने वो कहानीससुर और बहू की कामवासनायहां पढ़ी होगी उन्हें अवश्य याद आ रहा होगा. और उसके पीछे पीछे चलने लगा।जैसे ही मेरी नज़र उसकी गान्ड में गई मेरा गुस्सा खत्म हो गया और मेरे अंदर की वासना जागने लगी।अब मेरे दिमाग में कामिनी की चुदाई की कामना जागने लगी।थोड़ी देर बाद हम कामिनी के घर पहुंच गए.

मैंने मामी की गांड के छेद को चाटने के साथ-साथ अपनी जीभ को ऊपर से नीचे और फिर नीचे से ऊपर पूरी दरार में फेरना शुरू कर दी. जैसे ही उनके हाथ से मेरा लंड टच हुआ, मेरी पूरी बॉडी में मानो करेंट सा आ गया और लंड एकदम से कड़क हो गया. बंगालिन भाभी मेरे लंड को हसरत भरी नजरों से देखती हुई बोलीं- काश … ये मेरा देवर होता.

बीएफ वीडियो दिखाना सागर ने मेरी काली कच्छी को मेरी मोटी चिकनी जाँघों से होते हुए उतार दिया और मेरी चूत को देखते हुए बोला- भाभी, क्या चूत है आपकी. हमारे ग्रुप में कुछ सीनियर्स भी थे, जिनका फायदा हम सभी जूनियर्स को मिलता था.

भाई बहन का फुल सेक्स वीडियो

मैंने सामने से उससे पूछा- मूसलों से क्या डरना … इस बात को जरा तफसील से बताओ!वो समझ गई कि मैं क्या कहना चाह रहा हूँ. लेकिन मैं उसी तरह उसकी चूत धुनता रहा जिसका असर जल्दी ही उसके बदन पर हुआ।नीतू एक बार फिर से गर्म हुई।इस बार मैंने उसे कुतिया बनने को बोला. मैंने भी सोच रखा था कि एक न एक दिन इसे अपने लंड के नीचे लाकर नहीं रगड़ा, तो मैं भी एक बाप से पैदा नहीं.

मैंने उसे बाथरूम से बेड तक धक्के मारता हुआ ले गया और उसको बेड के किनारे से हाथ टिका कर घोड़ी बना दिया. मैंने भी अपनी चुत को अंकल के लंड पर घिस कर उन्हें अपनी सहमति जता दी थी. जंगल की बीएफ फिल्महमारे इस गांव वाले घर में, मेरे चाचा ससुर रहते हैं, जो मेरी ले चुके हैं.

मेरे लंड ने चूत में सैट होना शुरू कर दिया, दो चार झटकों के बाद उसकी चूत ने लंड को घोंटना चालू कर दिया.

हमारी ज्यादा ख़ुशी की एक वजह यह भी थी कि हमें पहली बार एसी बस में बैठना मिला था. फिर जैसे ही मेरी मॉम सोफे पर बैठने को हुईं, रोहन अंकल ने उनको अपने पास बुलाया और उन्हें खींच कर अपनी गोद में बिठा लिया.

कुछ देर बाद मेरी मम्मी का भी फ़ोन आया कि तू आज वहीं दीदी के पास रूक जाना. मैंने भाभी को चित लिटाया और उनकी दोनों टांगें फैला कर चुत की फांकों में लंड सैट कर दिया. अंधेरा होने की वजह से उन्हें लगा कि कोई देख नहीं पाएगा और वो पास में ही टॉयलेट करने बैठ गईं.

जब मैं झड़ने को आया तो मैंने पूछा- कहां निकालूं?भाभी ने कहा- मैं हवा में हूँ और साला पूछ रहा है कि कहां निकालूं … निकाल दे … तुझे जहां निकालना है.

वो बोलीं- जो भी तुझे करना है, जल्दी कर ले … कोई जाग गया तो सब खेल खराब हो जाएगा. जब मैंने उसकी गांड को चुदाई के लिए तैयार देखा, तो बॉडी टू बॉडी मालिश के बहाने उसकी पीठ पर अपने शरीर को रगड़ने लगा. पूरी उम्मीद में चूसे जा रही थी कि यह मुझे एक सम्पूर्ण औरत बना देगा.

हिंदी हीरोइन का बीएफ सेक्सीमैंने बोला- यार मैं आज तेरी चुदाई करूंगा, तो मामाजी के यहां सबको बता पता चल जाएगी. उनकी चुभन ससुर जी अपनी कमर पर महसूस कर रहे थे। उन्हें भी मज़ा आ रहा था.

एक्स एक्स एक्स हॉट फिल्म

मेरा नाम शिबू (बदला हुआ नाम) मैं जयपुर से हूँ।लगभग 6 महीने पहले मेरी फेसबुक पर एक 45 साल की महिला से दोस्ती हुई जिसका नाम नियाशा (बदला हुआ नाम)नियाशा है तो जयपुर से … पर मुम्बई में रहती है। नियाशा का फिगर 34-32-38 है और मस्त गोरी चिट्टी पटाखा माल है. वो मेरी गांड में उंगली देकर उसको गोल गोल घुमा रहा था।ये मेरे प्लान का हिस्सा नहीं था मगर मुझे मजा आ रहा था।मैंने अपनी चूत में एक बहुत तेज आवेग महसूस किया। जब मैं उठने लगी तो मेरी चूत में से एक भर-भरकर पानी का झरना बह निकला।मैं आनंद में चीख रही थी. राजेश ने गोविन्द से पूछा- गोविन्द, क्या कहते हो?वो बिंदु की तरफ देख रहा था.

थोड़ी देर बाद मैंने उन्हें घुमा कर घोड़ी बना दिया और उनकी गांड के छेद के पास अपना लंड टच कर दिया. मगर मैं पूजा की प्यासी गांड को छोड़कर राजकुमारी मीना को किस करते हुए मजा लेने लगा. अब वो भी अपने चूतड़ों को लंड की लय ताल से मिलाते हुए हिलाए जा रही थी.

वो मादक सिसकारियां लेने लगी और चिल्लाने लगी- आह और ज़ोर से चोद मेरे राजा. मैंने उसे गर्भनिरोधक गोली दे दी थी।उसके बाद वो खुशी से हमारे साथ शादी में आ गई।शादी के बाद सभी लोग अपने-अपने घर निकल लिए।उसके बाद मैं भी अपने काम में व्यस्त हो गया।मैंने जबलपुर से डेढ़ सौ किलोमीटर दूर एक ज़मीन खरीदी. जैसे ही वे दोनों मेरे रूम में दाखिल हुई, रूम फ़लक के पर्फ्यूम और हुश्न से महक उठा.

अभी तो तुझे और चोदूंगा छिनाल।वे पूरी ताकत से मेरी चूत को भोसड़ा बना रहे थे और मैं भी चुदाई का आनंद लेने लगी।उन्होंने मेरी चूत और गांड को अपने लंड से खोल कर रख दिया था।मैंने कहा- प्लीज़ जेठ जी, मेरी चूत और गांड दुखने लगी है, अब तो जाने दो ना?उन्होंने अपना लंड निकाल लिया. मैं बोला- मैंने तो पहले ही कहा था … पर अब मैं कैसे शांत होऊं!वो बोली- बाबू तुम उसकी टेंशन मत लो … मैं तुम्हारे लंड को शान्त कर देती हूँ.

मगर हम अभी करीब तक नहीं आए थे।जब वो काम करने लगता तो निक्कर सी और बनियान ही पहनता था।दो चार दिन के बाद उसने दूसरी जगह का काम भी ले लिया और मेरे पति से कहा- यहां मैं अकेला संभाल लूंगा बाकी लोगों को दूसरी साइट पर भेज देता हूं.

इस अवस्था में करीब 10 मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों साथ एक दूसरे में झड़ते हुए समा गए. सेक्सी बीएफ वीडियो सेमैंने कहा- कुछ खा ही ले मेरी जानेजाना वरना मुझे भी सिर्फ मुसम्मियां चूस कर काम चलाना पड़ेगा. बीएफ वीडियो भोजपुरी भाषाहरीश कभी सुम्मी के गालों को चूमता, कभी उसके होंठों को, तो कभी उसके गले को. इतना ज़रूर कहा कि उसकी चुदाई कर लेने के बाद ही उसका नाम सबसे पहले मुझे बताएगा.

शन्नो बोली- हां, मैं साहिल का लंड भी चूस लूंगी … मगर वो मेरे सामने लंड खोल कर आए तो.

मैं हैरान हो गया और बोला- इतनी सुंदर बीवी को कोई चोदे बिना कैसे रह सकता है!वो मंद मंद मुस्कुराने लगीं. वो भी गांड को बराबर से आगे पीछे करने लगी और हम दोनों चुदाई का पूरा मज़ा लेने लगे थे।अब मैंने उसे उठाकर बिस्तर पर झुका दिया और पीछे से गांड में पेलने लगा. उसकी गाली भरी बातों से मुझे हिम्मत आ गयी, मैंने आंसू साफ किए और बोली- चल लगा जोर … फ़ाड़ मेरी गांड … चोद डाल मुझे.

मैंने भी अब देर करना ठीक नहीं समझा, मैंने फिर से उसकी गांड के नीचे तकिया लगाया और उसकी टांगें खोल कर चौड़ी कर दी. उन लड़कियों के साथ वाले एक लड़के ने कहा- चलो, हम सब कैंटीन में चल कर बात करते हैं. जैसे ही मैंने अपना लौड़ा अन्दर डाला, दीदी दर्द से कराहने लगीं और मुझे पीछे धकेलने लगीं.

સેક્સ વીડીયો સેક્સ વીડિયો

मैं उसकी तरफ देखने लगा कि ये किस तरह से मेरी मनी प्रॉब्लम को दूर करेगी. एक दोनों ने एक दूसरे को कस कर पकड़ लिया और दोनों की सिसकारियां तेज़ हो गईं और सांसें भरने लगीं. मैंने मुख में डालकर उसका लंड चाटकर पूरा साफ किया।कुछ देर चूमते सहलाते हुए हम लेटे रहे.

ये कह कर मामी जी ने एक बार मेरे होंठों को चूमा और फिर बिस्तर से उतर कर अपनी साड़ी पहनने लगीं.

मॉम ने अपने अन्दर की ख़ुशी को दबाते हुए कहा- पर पापा में किसी और का हुक्म कैसे मानूँगी?दादा जी- देख बेटी … हमने तो हां कर दी है और पेपर पर साइन भी कर दिए हैं.

भगवान ने यही मुझे एक अच्छी आर्ट दी है कि किसी को भी मैं बहुत जल्दी इम्प्रेस कर लेता हूँ. अभय ने एक बड़े से पेड़ के पीछे गाड़ी रोक कर ममता को पकड़ लिया और उसके होंठों को चूमने लगा. बीएफ बीएफ बीएफ मूवी बीएफमैंने उसे अपनी बांहों में भर लिया और उसके सीने की धड़कनों को सुनकर सुकून लेने लगा.

उसे अब अपने पति के समय न देने की कमी से कोई गिला शिकवा नहीं रह गया था. मैंने सोचा कि गीत को शायद कोई बात कहना है और वो कई दिनों से कहना चाहती है, पर कह नहीं पा रही है. मगर उसने मुझे देख कर बड़ी बदतमीज़ी वाले अंदाज़ में किसी से कहा- ये किस चूतिया को बुला लाए … ये क्या करेगा, ये तो वही गांडू है ना, जिसको आपने दिल्ली आते ही फोन किया था … और आपने इसकी ट्रेन में मारी भी थी.

दोनों एक दूसरी से कुछ कहती, फिर एक दूसरी को चिढ़ा कर हंसने लगती।मैं नहाने के लिए बाथरूम में घुस गया. मैं समझ गया कि शायद शन्नो को चुदाई के समय मेरी याद आती होगी और वो अपने बेटे से चुदते समय उससे मेरा जिक्र करती होगी.

आज भी भारी पड़ती होगी बापू पर … और गांड तो ओहो … लगता है कुतिया ने सबसे मरवा मरवा के इतनी बड़ी कर ली.

उसने अपने मुँह को पता नहीं किस अंदाज में खोला था कि पूरा का पूरा लंड अन्दर जा घुसा. इससे वो भी समझ गयी थी कि उसकी मम्मी उसको चुदने का समय देने के लिए बाहर जा रही हैं. अपने इस काम के लिए उन्होंने एक लड़की, जिसका नाम लता था, उसको मार्केटिंग के लिए भी रख लिया.

कुत्ते के साथ बीएफ लड़की दीदी तो लंड लेते ही मानो आपे से बाहर हो गईं, वो दर्द से तड़फ उठीं और बिस्तर की चादर को जोर से पकड़ने लगीं. मैंने मां से पूछा- मां आज इतनी जल्दी आपने बिस्तर लगा दिया, आपको नींद आ रही है क्या?मां बोलीं- नहीं बेटा, वो तो आज मैंने घर का सारा काम बहुत जल्दी ही कर लिया था … तो सोचा बिस्तर भी लगा ही देती हूं.

कुछ देर बाद दीदी ने रमेश से कहा- एक बार फिर से अपने छोटू पहलवान को मेरी चुत में डालो. हम लोग नई नई जगह जाते, वहां की आंगनबाड़ी आशा की मदद से जानकारी लेते और आसपास घूम भी लेते।ऐसे काम करते करते पता नहीं चला कब एक महीना बीत गया।एक बार हम काम के लिए एक नगर गए तो वहां की आशा छुट्टी पर थी. मैंने बिंदु को छेडते हुए पूछा- कैसी रही सुहागरात?बिंदु ने शर्माते हुए मेरे गले लग कर मुझे थैंक्स कहा.

बफ सेक्सी

आपको मेरी इंडियन रंडी देसी कहानी कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल करना न भूलें. मैं सोचने लगा अगर वाकयी कुच्ची झड़ चुका है तो मतलब शब्बो की चूत अभी गर्म होगी … क्योंकि ये सब बहुत जल्दी खत्म हो गया था. वो किसी रंडी की तरह मादक आवाज़ निकालने लगीं- आह आह आह मर गयी जान … आह मम्मी मर गयी.

फिर शाम को नहा कर थोड़ी देर के लिए बाहर निकलेंगे और फिर आप जो चाहो …”ठीक है बेटा जी, एज यू विश!” मैंने कहा और मैं भी एक सोफे पर जा लेटा और ऊंघने लगा. थोड़ी देर के बाद वो उठे और मेरी गांड का छेद हाथ से खोलकर जीभ उसमें घुसा दी.

उन्होंने अपने होंठों को मेरे होंठों से हटाया और उनके मुँह से ‘अह्ह्ह …’ निकल गयी, उनके पैरों की जकड़ ढीली हो गई.

कुछ ही देर में मिहिका अपनी टांगों को हवा में उठाने लगी तो मैं समझ गया कि वो झड़ने को है. मैं भी गांड हिलाने लगी तो उसने दोनों हाथों से गांड को फैलाया और मेरी चूत कुतिया की तरह पीछे उभर आई. हम दोनों तयशुदा कार्यक्रम के अनुसार स्टेशन आ गए और ट्रेन आने पर अपनी अपनी सीट पर जाकर बैठ गए.

अभी जो पेपर पर आपसे साइन करवाए हैं ना, वो स्कूल के नहीं थे … बल्कि मेरे दोस्त के पड़ोसी रोहन अंकल ने दिए थे. अब यूं तो मेरी बहूरानी अदिति के और मेरे अन्तरंग संबंधों को लेकर मैंने पिछले तीन चार वर्षों में बहुत सी कहानियां लिखीं हैं जिन्हें आप सब का भरपूर प्यार मिला है. सच बात तो यह है दोस्तो … कि हम दोनों बारहवीं कक्षा से लेकर आज तक एक दूसरे से बेइंतेहा प्यार करते आए हैं.

कुछ देर बाद मैंने फिर से लंड चूत में घुसा दिया और चूत को चोदने लगा.

बीएफ वीडियो दिखाना: मां ने रात 10 बजे टीवी बंद की और बोलीं- बेटा, आज तो बहुत गर्मी लग रही है. और उसने चुदाई की गति बढ़ा दी।वो धीरे धीरे आधे से ज्यादा लंड निकालता और फिर झटके से पूरा अंदर तक डाल देता।उसका हर झटका मुझे ऊपर को हिला देता और मेरे मुंह से आहह … अहह … आहह … आई … आई … स्सस्सी … स्सस्सी … स्सस्सी … आहह … अजय निकलने लगी।ऐसे ही वो मुझे 4-5 मिनट तक चोदता रहा और फिर थोड़ी देर बाद रुक गया और हांफते हुए सांस भरने लगा।अब तक मेरा दर्द भी काफी कम हो गया था और हल्का हल्का मजा भी आने लगा था.

लेकिन दोस्तो, मेरी कमज़ोरी … उसकी गांड के वो दोनों खरबूजे मुझे ललचा रहे थे, मेरा लंड खड़ा था. अंकल- मैंने अपने प्यार का इजहार करके, तुम्हें अपनी वेलेंटाइन बनाकर तुम्हारे साथ यह सब किया है. उसने भी मेरे लंड पर चॉकलेट लगाकर मेरे लंड को चूसा और मेरा पानी एक बार निकाल दिया.

सच में पैंटी बहुत हल्के कपड़े की थी इसलिये पंखे की तेज हवा में उड़ते हुए कहीं गुम हो गई।मैंने नीतू को गोद में उठा लिया.

इस सेक्सी चाची चुदाई कहानी अगले भाग में आपको शबनम चाची की गांड चुदाई की मस्त सेक्स कहानी को लिखूंगा. पापा जी आप भी अपना बैग लेकर जल्दी से अन्दर आओ!” बहूरानी व्यग्र स्वर में बोली. वो बोली- मैं तो तब ही समझ गयी थी, जब तुमने उस दिन कहा था कि भाभी देख रही हैं … और तुम इनको चोदोगे.