बीएफ ब्लैक

छवि स्रोत,తెలంగాణ సెక్స్ వీడియో తెలుగు

तस्वीर का शीर्षक ,

चोदाई के फोटो: बीएफ ब्लैक, मैंने बड़ी उत्सुकता से पूछा- फिर क्या हुआ दीदी?दीदी बोली- हम्म … अपने पति का के कारनामे बड़े मजे लेकर सुन रही है.

ஆண்ட்டி செக்ஸ்ய்

जिसे देख कर रश्मि के मन में एक ही बात आई- अद्भुत!रश्मि- अंकल पहले क्या करूं?उसने अपने होंठ लंड के सुपारे पर टिकाते हुए पूछा।रमेश- पहली बात तो ये कि तू मुझे अंकल बोलना छोड़ दे. सेक्सी भाभी की स्टोरीसोनू यह जानकर खुश हो गई और बोली अब तो बात बन जाएगी, तुम मम्मी को पटा लो.

उसने अपना अमृत बहा दिया था … चूत से अब फच फच खच खच खच की आवाज आने लगी थी. ಡಬ್ಲ್ಯೂ ಸೆಕ್ಸ್ ವಿಡಿಯೋजब भैया ऐसा करते हैं तो लिंग का सुपारा मुँह के अन्दर सीधा तालू से टकराता है.

इससे पहले कि मैं कुछ और समझ पाती मेरी गांड पर लंड का सुपारा सेट हो चुका था.बीएफ ब्लैक: वो कई बार जोक मारते मारते कुछ भी बिना शर्म किए बोल जाता था और मैं भी कोई हिचकिचाहट नहीं कर रही थी.

उदय सर- तुम हारमोनियम बजा लेती हो ना!मैं- जी सर … थोड़ा बहुत जानती हूँ.बेड पर बैठते हुए बॉटल से न्यू पैग बना कर उसने सोडा मिलाया और 2 सिप मार कर लड़की को इशारे से अपने पास बुलाया।इधर आओ.

चूत की चुदाई सेक्सी वीडियो हिंदी - बीएफ ब्लैक

ज़रा मुस्करा दो।वो मुंह बना कर बोली- तुम भी न, हमेशा अपनी बात मनवा ही लेते हो। ठीक है जाओ, और हाँ रात में ही आने की कोशिश करना।रमेश- बॉय!रति- बॉय! जल्दी आने की कोशिश करना।अब रमेश भी घर से निकल गया.” सुहाना फिर से रोने लगी।सुहाना मैं बस एक बार उसमें डालकर बाहर निकाल लूंगा.

मैंने बोला कि क्या हुआ … कुछ पता चला?उसने बताया कि आंटी उसका एक्सीडेंट हो गया है और वो डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में हैं. बीएफ ब्लैक खुशी ने उसे चट से मारा और कहा- संदीप दोनों तुम्हारे लिए ही हैं एक तुम्हारी पसंद का और एक मेरी पसंद का है.

उन्होंने मुझसे कहा कि यहां पर इस खेत में 4 महिला पुलिस वाली और कुछ पुरुष पुलिस वाले हैं, जो आपस में चुदाई कर रहे हैं.

बीएफ ब्लैक?

रमेश मुस्कराते हुए बोला- ठीक है, अब चल … मेरा लंड चूस।रीता झट से अपने हाथ को रमेश की पैंट पर ले गयी और उसे खोलते हुए उसने रमेश के लंड को बाहर निकाल लिया. ”कैसा करेक्शन?”वो जो तुमने अलग-अलग कंज्यूमर प्रोडक्ट्स के डाटा दिए हैं अगर उनको ग्राफ की शेप में दिखाया जाए तो बहुत अच्छा रहेगा. ये देखकर मेरे लंड से भी वीर्य का बड़ी मात्रा में फव्वारा छूट पड़ामैं- आह्ह … मेरा हो गया आरूषि! तुम्हारी सिसकारियों को सुनकर मैं अपने वेग को रोक नहीं पाया.

मैंने उससे कहा- इसे खा लेना … नहीं तो नौ महीने बाद मेरे बेटे की मम्मी बन जाओगी. अगली बार अपनी चुत में जेठ जी का साढ़े सात इंच का लंड कैसे लिया और मेरी चुदाई के बाद मेरी क्या हालत हुई. वो- अच्छा तुम दो दिन बाद आ सकते हो?मैं- नहीं यार दो दिन मैं फिर से आऊंगा तो लोग शक करेंगे.

तभी ममा ने मेरी एक टांग को साइड में रखे एक स्टूल पर रखवा दी और पैंटी को चूत के ऊपर से हटा कर बोलीं- ये उन पार्टीज में ऐसे यूज़ हो जाती है. भैया को भाभी के साथ बाथरूम में नंगे होकर शावॅर में नहाना बहुत पसंद है. और फिर उसने अपने दोनों हाथ अपनी चूत पर रखे और उंगलियों से चूत की फांकें पूरी तरह से खोल दीं.

फिर कुछ देर के इलाज के बाद डॉक्टर ने बोला कि इसको अभी एड्मिट करना पड़ेगा. मैंने उसके एक निप्पल को जोर से पकड़ कर ऊपर की ओर खींचा, जिससे उसने दर्द भरी ‘आआह.

जैसे ही मैंने ये जानने की कोशिश किया कि मेरे पीछे कौन है, तभी मैं जिसका लंड चूस रही थी, उसने मेरे बालों को पकड़ कर मेरा मुँह पूरा अपने मुँह में ठूंस दिया.

देखा कि सुलेमान मेरी चूची चूस रहा है। और देखा तो मम्मी उल्टी लेटी हुई है, अरबाज़ उसके चूतड़ मसल रहा है.

माँ की चुत तेरी … सनम बहनचोद!सनम भी बोल रही थी- मेरी जान … मेरे राजू … मुझे चोद. मैं अब झांटें कम ही साफ करती थी … क्योंकि अभिषेक मुझमें रूचि ही नहीं लेते थे. रिसोर्ट के एक हिस्से में राजस्थानी फोक डांस हो रहा था और वहीं से थोड़ी दूर पर ओपन बार भी बना हुआ था.

फिर उसने माहौल हल्का करने के लिए कहा- सर, सफाई वाले ने बताया कि शायद आपकी तबियत ठीक नहीं है, इसलिए मैं आपका हालचाल जानने चली आई. फिर पूछा- सर किस तरह का एन्जॉय करा रहे हैं आप?बॉस मुस्कुराते हुए उसको देखने लगा और बोला- सेक्स का एन्जॉय. मामी बोलीं- हाथ चला लेते हो मतलब क्या करते हो, मैं समझी नहीं साफ़ साफ़ बताओ न.

नमस्कार दोस्तो, मैं एक बार फिर से अपनी सखी मन्नत मेहरा की ऑफिस सेक्स स्टोरीज लेकर हाज़िर हूँ.

आपको यह भाभी की चुदाई कहानी कैसी लग रही है, आप अपनी बात और सुझाव निम्न पते पर दे सकते हैं. मेरी पिछली कहानीट्रेन में मिली गर्लफ्रेंडआपने पढ़ी जिसे आप लोगों ने काफी प्यार दिया था. उसका लंड मेरी लोअर में छुपी चूत पे रगड़ कर रहा था और उसमें गीलापन आता चला गया।अब मैंने भी देर ना करते हुए अपनी लोअर पैंटी सहित उतार दी और उसके सामने नंगी हो गयी बिल्कुल। मेरी चिकनी नंगी चूत नुमाया हो गयी.

मेरे मुंह से चुदास भरी गालियां निकल रही थीं- फाड़ दे मेरी चूत को, इसका भोसड़ा बना दे … आह्ह … चोद दे मुझे जोर से … और फाड़ … आह्ह … हां … चोद … और चोद।रॉकी भी शायद झड़ने के करीब आ गया था. भाभी जी का नाम पल्लवी था और वो एकदम सिंपल सी लड़की लगती थीं, उनकी फिगर भी कोई ज्यादा भरी हुई नहीं थी. मैंने अपने मसाज ब्वॉय को फ़ोन किया और मसाज करवाने के लिए उसे घर बुलाया.

वो बोले- अब चोद दे बेटा, मेरी गांड में डाल दे अपने लंड को। मेरी गांड को पेल पेलकर चोद।फिर वो उठे और दूसरे कमरे से एक क्रीम लेकर आये.

मेरे पति के न रहते हुए ससुर बहू सेक्स ने ही मेरी चूत की प्यास को शांत किया. मेरी सेक्स करने की इतनी अधिक चाहत को सबसे बड़ा सदमा जब लगा था, जब मेरी शादी के चार साल बाद ही मेरे पति का देहांत हो गया था.

बीएफ ब्लैक रमेश ने उसे पकड़ कर ऊपर उठाया और उसके बालों से पकड़ कर उसे खींचता हुआ सोफे पर ले गया. मैंने मामा से बात की, तो वो बोले कि हां फैक्ट्री मालिक का काम सही नहीं चल रहा है, तो उसने एक महीना का वेतन एड्वान्स देकर बोला है कि आप लोग कहीं और जगह जॉब ढूंढ लो.

बीएफ ब्लैक मां के लंबे और काले बाल कमर के नीचे तक उनके मादक चूतड़ों तक लहरा रहे थे. अब आगे की सेक्स फॉर कैश हिंदी स्टोरी:रिया सोचने लगी कि डैड का काम जल्दी जल्दी खत्म करना होगा नहीं तो ये पता नहीं मेरे साथ और कितनी गंदी हरकतें करेंगे.

वो खाना खा रहा था और मैं आगे का प्लान बना रही थी कि कैसे इसके लन्ड को मुँह में लेकर चूस सकूँ।मैंने बात आगे बढ़ाने के लिए उससे कहा- आज कुछ ज्यादा ही गर्मी है.

ससुर बहू की सेक्सी वीडियो

बैठते हुए रश्मि ने रमेश के लंड को अपनी चूत में उतार लिया और उसके लंड पर कूदने लगी. मां के ऐसा कहते ही उनकी चुत रस छोड़ने लगी और मैं भी जोर-जोर से धक्के मारने लगा. वो हर तरह की बात करती थी लेकिन कभी भी अपनी ओर से सेक्स की बात नहीं करती थी.

पूजा कामुक भरे स्वर में बोली- जल्दी करो … पर मुझे ज्यादा दर्द नहीं होना चाहिए, नहीं तो मैं नहीं कर पाऊंगी. रीता- मैं जरा फ्रेश हो कर आती हूँ।वो बाथरूम में गयी और जब बाहर निकली तो रमेश के चेहरे पर शैतानी मुस्कान फैल गयी. थॉमस ने अपने मोटे लंड से लगातार 30-35 मिनट मेरी चुत की जमकर चुदाई की.

थॉमस मेरी गांड मारने के साथ दोनों चूतड़ों पर थप्पड़ भी मार रहा था, जिससे मुझे और मजा आ रहा था.

मैंने लंड ज़रा भी हिलाया तक नहीं, ऐसे ही अन्दर रहने दिया और चूची को चूसने लगा. मुँह में भर भर के चूची चूसने लगा और धीरे धीरे लंड को अन्दर बाहर भी करने लगा. उसका लंड मेरी लोअर में छुपी चूत पे रगड़ कर रहा था और उसमें गीलापन आता चला गया।अब मैंने भी देर ना करते हुए अपनी लोअर पैंटी सहित उतार दी और उसके सामने नंगी हो गयी बिल्कुल। मेरी चिकनी नंगी चूत नुमाया हो गयी.

अन्दर जाने पर सर ने मुझे बैठने को बोला और उस लड़की को पांच मिनट और पढ़ाया. अपनी सहेलियों से जानकारी लगी, तो मैं ब्लू फिल्म भी देखने लगी और अन्तर्वासना की सेक्स कहानी भी पढ़ने लगी. मामी इठलाते हुए अपने बालों को झाड़ने लगी और मुझसे बात करते हुए पूछने लगीं- और बताओ अतुल … मम्मी पापा कैसे हैं … और घर में सब कैसा चल रहा है?मैंने हल्के से मुस्कुराते हुए बोला- सब ठीक ही चल रहा है मामी.

हसबैंड वाइफ सेक्स स्टोरी में प्शें कि जब मेरी बीवी को बच्चा होने वाला था तो डॉक्टर ने सेक्स के लिए मना कर दिया. फिर बहुत धीमे स्वर में मिठास भर कर अनुरोध भरे स्वरों में बोला- भैया.

चूंकि अब हम लोग जमीन पर खड़े थे और मीता मेरे कंधों तक ही आ रही थी … जिससे उसकी चूचियां मेरे सीने पर दब रही थीं और लंड चूत पर दस्तक दे रहा था. रश्मि की नंगी चूची देख कर जैसे उसको कोई पुराना गड़ा हुआ खजाना मिल गया हो, कुछ ऐसी चमक आ गयी थी उसकी आंखों में।धीरज खोकर उसने रश्मि की चूचियों को अपने हाथों में भर लिया और उनको आराम आराम से भींचना शुरू कर दिया. फिर उसने अपने हाथ से मेरे गाल दबा कर मुँह खोल कर अपना लंड मेरे मुँह में घुसाने लगा.

देर हो रही है।रमेश- पहले तुम अपनी ब्रा तो मुझे दे दो ताकि मैं इसे रख दूं।रीता ने मुस्कराते हुए अपना ब्लाउज खोला और अपनी ब्रा को निकाल कर रमेश के हाथों में थमा दिया.

कभी जीभ से जीभ लड़ाते, कभी होंट चूसते तो कभी अपनी जीभ भाभी के मुँह में डाल देते. देसी भाभी की चूत स्टोरी में पढ़ें कि मेरे पति अब मुझे नहीं चोदते थे. लेकिन अपनी सुहागरात पर … क्योंकि उस दिन के लिए भी हमारे लिए कुछ नया होना चाहिए।अभी तक हम सब पोजीशन में सेक्स कर चुके हैं। उसे बैड के कॉरनर में लेटाकर टाँगों को अपने कन्धे पर रख कर और मैं खड़े होकर उसे जकड़ कर चूत मारना ये हम दोनों की फेवरेट पोजीशन है.

जिस तरह से फूल की खुशबू भंवरे को अपनी ओर खींच लेती है उसी तरह मैं भी नीचे से बिना पैंटी पहने छत पर जाकर अपनी चूत की खुशबू फैलाती थी और पड़ोसी मर्दों को अपनी ओर खींचने की कोशिश किया करती थी. यदि ये सुविधा होती तो अब तक मैं दिल्ली में ही मामी की फोटो मंगा सकता था.

बिन्दू से मैंने पूछा- तुम चुदना चाहती हो या नहीं?बिन्दू- हाँ, चाहती हूँ, करो. ना ही मामी मुझसे ज़्यादा कुछ बोल रही थीं … और ना ही मेरी हिम्मत हो रही थी कि उनसे खुल कर बात कर सकूं. मैंने भी अपने धक्के तेज कर दिए और उसी वक्त मेरे लण्ड ने बिन्दू की चूत में अपने वीर्य की पिचकारियां मारनी शुरू कर दी.

भाभी की सेक्सी वीडियो एचडी

इमो की वीडियो से और चैट से पता चलता है इसीलिए इसने दोनों नए लोग पटाये हैं.

मैंने बिन्दू की टांगों को थोड़ा अलग किया और बुर के छेद में अपनी एक उंगली डाली, उंगली आराम से चली गई क्योंकि बिन्दू को खीरा लेने की आदत पड़ी हुई थी, इसलिए उसने उंगली आराम से ले ली. देखना एक दिन यह अपने बिजनेस में हमारा नाम जरूर रोशन करेगी।रिया- थैंक यू डैड। बाय, अब मैं चलती हूँ. ” मैंने अपना गला खंखारते हुए कहा।ऐसे थोड़े ही होता है?”क्या मतलब?”अच्छा चलो मैं एक गिफ्ट मांगती हूँ पर पहले तुम प्रोमिज (वादा) करो मना नहीं करोगे?”अब मैं सोच रहा था पता नहीं नताशा क्या चाहती है? कहीं यह मुझसे शादी के लिए तो दबाव नहीं बनाना चाहती?क्या सोचने लगे?”ओह … हाँ … ना कुछ नहीं … तुम बोलो मैं उसे जरूर पूरा करने की कोशिश करूंगा.

मैंने भाभी से पूछा- अब भैया के साथ आप सेक्स नहीं करती क्या?भाभी उदास हो कर बोली- डॉक्टरों ने आपके सामने ही तो मना किया था, वैसे भी हार्ट अटैक की दवाइयों से आदमी का सेक्स खत्म हो जाता है. फिर एक दिन दोपहर को खुशी का मैसेज आया- हेलो अभी कहाँ हो? फ्री हो क्या? विडियो कॉल पर बात कर सकोगे?मैसेज मैंने पांच मिनट देर से देखा. नई दुल्हन की सेक्सी वीडियो सुहागरातमैंने ऐजेंट से कहा कि एक यंग सा बंदा चाहिए और उसको 30 हजार का रेट बताना.

जीजा साली सेक्सी कहानी में पढ़ें कि लड़की जब पहली बार चुद जाती है तो उसकी चाल हमेशा के लिए बदल जाती है. तुमसे पहले मेरी ही जान निकल जाए।रमेश ने रति को अपने सीने से लगा लिया और बोला- अब मैं चलता हूँ.

प्यासी थी जवानी पूजा की …जिस्म जल रहा था हमारा भी …बस खेल था इन दोनों के मिलन का,जो देख रहा था खड़ा लंड … और भीगी चुत तुम्हारी भी. मेरी आंखें हमेशा लड़कियों की फिगर को देखने लगती हैं और उन लड़कियों की फिगर का अंदाजा लगाकर मेरा लंड यह बताने लगा है कि इसके साथ बेड में कितना मजा आएगा. गुड़िया भी पूछ बैठी कि तुम्हारे पास कोई है क्या?मैं- हां मेरे कुछ दोस्त हैं, जो थोड़ी दूर पर बैठे आपस में बात कर रहे हैं.

मैं उसकी चूत में उंगली करने लगी और फिर वो खुद ही अपनी चूचियों मसलने लगी. फिर मैंने उनकी दोनों पिंडलियों पर बारी-बारी से लंड को चलाया, कोमल गुदगुदी वाली जगहों पर उनका और भी बुरा हाल हो जा रहा था. मैं पैंतीस साल का शादीशुदा इंसान हूँ, और पता नहीं तुम कितनी उम्र की हो.

मैंने उसके एक निप्पल को जोर से पकड़ कर ऊपर की ओर खींचा, जिससे उसने दर्द भरी ‘आआह.

पता नहीं मेरे इस प्रेम को दुनिया किस नजर से देखेगी, पर कुछ ही समय में खुशी मेरी जिंदगी का अहम हिस्सा बन चुकी है. इतने में बस आयी, लेकिन उसमें बहुत भीड़ थी … तो हमने वो बस छोड़ दी … और दूसरी बस का इन्तजार करने लगे.

कुछ देर के बाद मैं उनके ऊपर से उठकर उनके बगल में ही बिस्तर पर लेट गया. बिन्दू को मैंने बांहों में भर कर किस किया और उसे उसके कमरे तक छोड़ कर नीचे की सीढ़ियों के दरवाजा खोल दिया. वो- चुप रहो … तुमने तो आज …मैं- क्या क्या … आज क्या?वो- कुछ नहीं … और बताओ?मैं- तुम बताओ?वो- तुम्हें पता है … तुम्हारे जाने के बाद जब मैं घर में जा रही थी, तो मेरे हाथ पैर कांप रहे थे.

दोस्तो, आपको मेरी यह X स्टोरी इन हिंदी कैसी लगी मुझे मेरी ईमेल आईडी पर मेल करके जरूर बताएं. और मुस्कुराने लगी।सुनील ने पूछा- तुमने पहले सेक्स तो किया हुआ ही है, इतनी खिल रही हो, इतनी खूबसूरत हो, बिना सेक्स के तो नहीं हो सकता. ओह फ़क अर्जुन आःह्ह … अभी तो तुम शांत दिख रहे थे!”उसने मुझे वहीं मैट पे पटक दिया- हम्म … मैं शांत नहीं था.

बीएफ ब्लैक मैं क्लास में अकेली ही स्टूडेंट थी, तो वो मेरे बगल में ही बैठ कर मुझे पढ़ाने लगे. फिर धीरे-धीरे मैं अपनी जीभ से उनके होंठों पर लगे हुए लिक्विड चॉकलेट को चूस कर साफ करने लगा.

क्सक्सक्स भाबी

इसे भी पहले वाली सेक्स स्टोरीकालेज की जूनियर लड़की की चुदाईजैसा ही प्यार मिलेगा. … करती हुई झड़ने लगी और जैसे ही वो वॉशरूम की तरफ भागी तो मैं भी बाहर आ गयी. रॉन के साथ अब उसके कुछ दोस्त भी आने की बात कर रहे थे जो रॉन ने हमें फोन पर बताया था.

मैंने भी सोचा कि अगर मैं जाता हूँ और उसको पता भी नहीं चलेगा तो भी कह देगी कि मेरे पति को पता चल गया है, मुझसे झगड़ रहा था. वहां पर देखा, एक लड़का सरोज की बड़ी लड़की नेहा से झगड़ा कर रहा था और उसका बच्चा छीनने की कोशिश कर रहा था. ब्लू सेक्सी ब्लू सेक्सी सेक्समुझे याद नहीं कि किस तरह उसने मेरी चूत को पकड़ा था और कुछ हिस्सों पर ऐसे दबाया कि मेरी चूत में पानी का प्रेशर बन गया.

मैं तिरछी नजरों से रोहन की तरफ देखा तो उसका लंड भी फूलना शुरू हो गया था और वो अपनी बीवी को अपने सामने ही एक गैर मर्द का लंड चूसते हुए देख रहा था.

फिर अंधेरे में हम दोनों ने अपने अपने गीले कपड़े उतार दिए और एक दूसरे की तरफ पीठ करके बैठ गए. उसे किस करते करते मैंने उसकी ब्रा में हाथ डाल कर उसके चूचों को दबाना शुरू कर दिया.

एकदम क्लीन शेव गोरी पाव रोटी सी फूली हुई चूत ऐसी लग रही थी जैसे कभी चुदी ही न हो. उन्होंने तुरंत मुझे एक चाभी दी और बोले- यहां बगल में मेरा एक फ्लैट है … तुम वहां रह लो … क्योंकि तुम दूर से आती हो … और तुम जैसी खूबसूरत महिला एक छोटी सी खोली में रहे, ये मुझे अच्छा नहीं लगेगा. उसकी चूत का छेद इतना तंग था कि कोई नहीं कह सकता कि वह एक बच्चे की माँ है.

वो जानता था कि रश्मि रवि की बेटी है और यही उसका मकसद था कि वो रवि की बेटी को रंडी बना कर उसके बाप के सामने ही पेले.

आगे क्या हुआ, ये मैं अपनी टीचर स्टूडेंट सेक्स स्टोरी के अगले भाग में लिखूंगी. अब रवि ने अपनी बेटी की चूत में थूक दिया और अपने लंड को उसकी चूत के छेद पर सेट कर दिया. मैं- तुम्हें अच्छा लगा?वो- चुप रहो … कितना मोटा है मेरे मुँह में तो आ ही नहीं रहा था … पूरा मुँह खोलने पर भी नहीं आया … इतना तो पानी पूरी खाने के लिए भी मुँह नहीं खोलना पड़ता.

सेक्सी कहानी भाई बहन की चुदाईउसके छेद पर लगा कर हटा लेता और लंड को उसकी चुत के दाने पर रगड़ देता. निष्ठा रानी, इस ड्रेस में तो तुम बहुत बहुत ब्यूटीफुल और हॉट लग रही हो रियली!” मैंने तारीफ़ भरे स्वर में कहा.

सुहागरात मनाते

ये कहते हुए उन्होंने मेरे लंड के सुपारे पर अपनी जीभ गोल गोल घुमा दी. बिन्दू को कुछ अच्छा लगने लगा था, उसने नीचे लण्ड पर हाथ लगा कर देखा और बोली- यह तो काफी बचा हुआ है?मैंने कहा- बिन्दू, एक आम लण्ड को तो बुर में इतनी ही जगह चाहिए, लेकिन मेरा लण्ड काफी बड़ा है, जब दुबारा करेंगे तब चला जायेगा, अभी तो तुम इसी से मजा लो. फिर मैंने सनम को आवाज़ लगाई तो वो भी उठ गयी और हमें ऐसे देखकर कूदकर राजू के पास आयी और उसे थप्पड़ मार दिया जिससे मैं चौंक गयी.

मोर्निंग वाक से लौटते समय मैंने ताज़ी ब्रेड और मक्खन ले लिया और घर को लौट पड़ा. तभी मैंने उसको पकड़ा और बोला- राजू भोसड़ी के … अंदर डाल!राजू ने धीरे से अपना लंड मेरी चूत में डाला. मैंने कुछ देर बाद नोटिस किया कि अब वो मुझे समझाने के बाद मेरे कंधे पर हाथ रख कर पूछने लगते थे ‘समझ गई ना?’मैं भी हां में सर हिला देती.

सही कहा ना मैंने?फिर रमेश ने उसका हाथ पकड़ कर उसे अपने पास खींचा और अगले ही पल किसी फूल की तरह अपनी गोद में उठा लिया। उमर ज़्यादा होने पर भी रमेश की मर्दाना ताकत से इंप्रेस होकर रश्मि ने अपना झूठ स्वीकार करने का फ़ैसला कर लिया।वो बोली- जी अंकल, आपने सही पहचाना है, मैं वर्जिन नहीं हूं. कुच्ची- हां हां … वही क्या हुआ मिला उससे?मैं- हां उसी से मिलकर तो आ रहा हूँ. सुबह आठ बजे उठकर हम दोनों तैयार हुए और उनकी कार से ही अपनी यात्रा पर निकल गए.

फिर मैंने उसके नीचे उसकी गोलियों पर किस की और उनको मुँह में भर लिया. मैं उन दोस्तों का तो बहुत शुक्रगुजार हूं, जिन्होंने कई बार लौंडिया चोदने का मौका होने पर भी गांड से मुँह नहीं फेरा.

फिर मैंने अपने काम रस से सने जिस्म को साफ़ किया और एग्जाम के लिए तैयार हो गयी।तब तक अर्जुन भी तैयार होकर आ चुका था.

तभी नीचे वाली भाभी ने कहा- कल रात को क्या चल रहा था … हां, क्या कर रहे थे … ऊपर वाली और तुम?मुझे एकदम से याद आया कि उसे चोदते समय मुझे लगा था कि कोई दरवाजे पर आया था, लेकिन मैंने ध्यान नहीं दिया. சீனா செக்ஸ்मैंने उससे कहा- कोई बात नहीं, तुम मेरे बेटे के कमरे वाले बाथरूम में बाथरूम में चले जाओ. सेक्सी व्हिडिओ मराठी पाठवाभाभी ने अपनी नाजुक उंगलियों से मेरे अंडरवियर को जैसे ही नीचे किया, मेरा 8इंची लम्बा मोटा लौड़ा झटके से बाहर निकल कर मेरे पेट पर लगा. फिर भैया तो हनीमून मनाने ही आये थे और उस बाथटब का प्रयोग नहीं करते … ऐसा कैसे हो सकता था।भैया ने पूरा बाथटब गर्म पानी से भर दिया और उसमें लेट गये.

आंटी ने मुझे धीरे से कहा- राज, तुम ठीक तरह से कंफर्टेबल होकर बैठो, ऐसे एक कोने में क्यों बैठे हो?मैंने कहा- आंटी बस वैसे ही बैठा हूँ.

मैं विन्नी की बातों से प्रभावित हो गया और मैंने भी उसकी मित्रता को स्वीकार कर उसके द्वारा की जा रही गरीब बच्चों की मदद के लिए उसकी सरहना की. किस कॉलेज मे पढ़ती हो?रमेश उसके माथे से उंगली फिराता हुया उसके बूब्स तक पहुंच गया था।रश्मि- जी वो मत पूछिये. मैंने अब विनीता की कमर को कस लिया और विनीता ने भी मुझे अपने सीने से जकड़ लिया.

”कहाँ डाल दूँ?”मेरी चूत में!”फिर?”अबे बहनचोद … चोद दे मुझे!” उसने गुस्से में कहा।रुक रंडी … मैं तेरी गर्मी झाड़ता हूँ।”मैं उठा, अपनी जीन्स और अंडरवीयर उतार कर उसकी दोनों टांगों को कंधे पर रख कर अपने लण्ड को उसके चूत की छेद में फंसा दिया. मुझे अंत में मौसी के कहे कुछ शब्द याद रहे, जो मैंने बेहोश होने से पहले सुने थे. रमेश कॉन्डम का पैकेट उठाया और गुस्से में बोला- तुम्हें पता नहीं है कि जब मैं मैडम के साथ आता हूं तो मुझे कॉन्डम की जरूरत नहीं होती है?रीता ने अपनी छिनाल हंसी के साथ कहा- जाने दीजिये ना … इस बेचारे को क्या पता कि मेरी चूत में ऐसा क्या है जो आपको कॉन्डम की जरूरत ही नहीं पड़ती.

बीपी सेक्सी पिक्चर पंजाबी

शाम 6 बजे के करीब नेहा की मम्मी सरोज मेरे पास आई और मुझे जगा कर बोली- राज, तुमने तो कमाल कर दिया, लड़की तो आज ही तुम्हारी भाषा बोलने लगी. [emailprotected]इंडिया सेक्स गर्ल चुदाई स्टोरी का अगला भाग:जैसेलमेर की सेक्स सफारी- 2. पापा ने थोड़ा उखड़ कर कहा- वो तुमको चोदने के चक्कर में है, बड़ा रसिया टाइप का आदमी है, मैं जानता हूँ, बहुत बड़ा चोदू है.

तभी मैंने उसको पकड़ा और बोला- राजू भोसड़ी के … अंदर डाल!राजू ने धीरे से अपना लंड मेरी चूत में डाला.

थोड़ी ही देर के बाद प्रिंसीपल सर ने अपना पानी निकाल दिया जो मेरी चूचियों और मेरे मुंह पर आकर लगा.

बिन्दू के गदराए शरीर को मैंने खड़े होकर एक बार फिर बांहों में भर लिया. इसके बाद हम एक जनरल स्टोर पर रुके और मैंने निष्ठा की चूत क्लीन शेव करने के लिए हेयर रेमूविंग क्रीम खरीद ली और हम आठ बजे के करीब घर लौट आये. सेक्सी फिल्म बढ़िया वाली हिंदी मेंभैया खुद भी बिल्कुल नंगे हो गये और ऊपर से कम्बल डाल लिया।ये तो मार्च का महीना था, शिमला में तो मई जून के महीने में भी कम्बल ओढ़े जाते हैं क्योंकि शिमला है ही इतना ठंडा।भैया लगातार किस कर रहे थे और भाभी भी पूरा साथ दे रही थी.

मैंने बिन्दू की कमर और चूतड़ों पर हाथ फिराना शुरू किया तो बिन्दू ने अपनी चूत को मेरे लंड पर दबा दिया. मेरा पूरा लंड बड़ी तेजी से मीता की अधखुली चूत को चीरता हुआ अंत तक समा गया. वैसे भी कोई दूध पीता बच्चा थोड़े ही है तुम्हारा?रीता- अच्छा तो फिर मेरा दूध पीता कौन है?रमेश ने आगे बढ़ते हुए रीता को अपनी बांहों में लेटा लिया और बोला- अब मुझे ज्यादा गर्म मत करो वरना यहीं पकड़ कर चोद दूंगा।रीता- ठीक है.

मैं उसके सिर के दोनों ओर से टांगों को लपेट लिया और उसका सिर पूरा अपनी जांघों में दबा लिया. शाम 6 बजे के करीब नेहा की मम्मी सरोज मेरे पास आई और मुझे जगा कर बोली- राज, तुमने तो कमाल कर दिया, लड़की तो आज ही तुम्हारी भाषा बोलने लगी.

अगले दिन से मुझे स्विमिंग के लिए जाना था, पर वहां लड़के तो होने नहीं वाले थे, फिर भी मैं एक्साईटिड थी.

साढ़े नौ के करीब निष्ठा ने खाना के लिए पूछा तो मैंने कहा- यहीं बेडरूम में ले आओ. आहह्ह और चुद … लंडखोर रंडी … आह्ह ले चुद … और चुद।रश्मि- आईई … अहाह … आहह … फक मी … और तेज डैडी. कितने ही दिन से मैं अपनी बीवी की लाइव चुदाई दूसरे मर्द से देखना चाह रहा था और आज आखिरकार वो दिन आ गया था.

बढ़िया सेक्सी फिल्म बढ़िया मुझे उठा देख कर इसहाक भी उठ बैठा और वो उसे डांटने लगा- क्यों बे, लौंडे के साथ ये क्या कर दिया?फिर इसहाक से उसके गले से तौलिया लेकर मेरी गांड पौंछने लगा. वो कभी अपने लंड से चूत के दाने को रगड़ता, तो कभी लंड का टोपा चूत के छेद से टच करवाता.

दो दिन शादी से पहले और तीन दिन शादी के बाद।शादी की पहली रात को मैं काफी उत्साहित थी. मैं मस्ती से आवाज कर रही थी- आहह उहह धीरेन्द्र मज़ा आ रहा है … हां अन्दर बाहर करते रहो. धीरे धीरे मैं उसके लंड पर बैठने लगी और कुछ ही पल में थॉमस का पूरा लंड मेरी चुत की पंखुड़ियों को खोलता हुआ अन्दर तक आ गया था.

क्षक्षक्ष हेडी

खड़े होने पर उसके लन्ड का साइज 9 इंच था। उसका लन्ड किसी गुस्साए नाग की तरह फुफकार मार रहा था।उसका लन्ड देखकर ही मेरे होश उड़ गये थे. फिर दस मिनट बाद वो उठे और बोले- कभी गांड में लंड लिया है?मैं बोली- नहीं … गांड में भी कोई लंड लेता है क्या?मैंने झूठ बोल दिया था. फिर मैंने झटके से लंड आंटी की चुत से निकाला और आंटी के मुँह में लगा दिया.

मैंने कहा- नहीं, मैं गांड नहीं मरवाता हूँ।वो बोले- तो मेरा अपने हाथ से ही हिलाकर निकाल दो. पैंटी की डोरी मेरी गांड की दरार में चली गयी थी … जिससे मेरे चूतड़ दिखने लगे थे.

मेरी देसी साली की चुदाई कहानी में कामुकता है या नहीं?[emailprotected]देसी साली की चुदाई कहानी जारी रहेगी.

आप लोगों को मेरे नादान पति के सामने ब्वॉयफ्रेंड से चुदाई के मजे की कहानी कैसी लगी … प्लीज मुझे हैंगआउट्स पर मैसेज करके जरूर बताएं या आप मुझे ईमेल भी कर सकते हैं. मैंने विन्नी को हेंगआउट्स में आने को कहा क्योंकि वहां बिना नम्बर दिए आसानी से बात हो जाती है. वहीं उसकी गुलाब की पंखुड़ियों से लब पर उंगलियों की हरकत स्वतः हो जाती थी.

मेरे सीने की खाल को बालों के साथ मौसी ने अपनी मुट्ठी में भींच रखा था. नेहा ने मेरी गर्दन में अपनी बांहें डाल ली और मेरे लण्ड पर लटकी रही. उसने अपने दोनों हाथों से मेरे दोनों मम्मों को पकड़ लिया और उन्हें दबाने लगा.

कमरों के बाहर एल शेप में बरामदे के ऊपर टीन की चादरें थीं, जिस पर बारिश की बूंदें गिर रही थीं और टीन के बजने की आवाजें आ रही थी.

बीएफ ब्लैक: मैं वहाँ पहली बार गई थी।मौसी के यहाँ बस 2 ही लोग थे मौसी और मौसा। घर में 4 कमरे थे। मुझे सामने वाला कमरा सोने के लिए मिला. मेरी जान, तुम्हारी बिना झांटों वाली चिकनी चूत देख कर खुश हो रहा हूं, तुमने तो कहा था कि वो क्रीम तुमने कमोड में बहा दी?” मैंने उसका बायां निप्पल दबा कर कहा.

पर थोड़ी सी मायूसी भी हुई कि अब निष्ठा के साथ सेक्स करने को नहीं मिलेगा. नेहा की चूत की दोनों ऊपर की पुटियां एकदम सुंदर, उभरी हुई, कसी हुई और तरोताजा लग रही थी. मैंने भी उसके अनावृत स्तन अपनी दोनों मुट्ठियों में भर लिए और उनसे खेलते हुए उसके गालों लो चूमने लगा; फिर मैं उसके पेट को चूमते हुए उसकी पैंटी में उंगली फंसा कर नीचे सरकाने लगा तो साली जी ने अपनी गांड तुरंत ऊपर उठा दी जैसे उसे खुद जल्दी थी इस बात की.

मेरी कुंवारी साली निष्ठा उन दिनों अपने ग्रेजुएशन के सेकंड इयर में थी.

मैंने उससे नंगी पिक्स भेजने को कहा तो उसने अपनी चूचियों की फोटो ही भेजी. मगर तभी उसने अपना मुँह मेरी चूत से हटा लिया और मेरे बूब्स चूसने लगा. तब अम्मी उस पर चिल्ला कर बोलीं- तुम दोनों सगे भाई बहन हो, तुम्हें शर्म ही आती है या नहीं!मेरी बहन बोली- तो आप कौन सी दूध की धुली हैं.