सुहागरात बीएफ सेक्स वीडियो

छवि स्रोत,मुझे सेक्सी लड़कियों के नंबर चाहिए

तस्वीर का शीर्षक ,

मुट्ठी कैसे मारते हैं: सुहागरात बीएफ सेक्स वीडियो, पहली बार मेरे लंड को कोई लड़की चूस रही थी… मैं तो किसी ओर ही दुनिया में पहुँच गया था.

हिंदी वीडियो सेक्सी वीडियो सेक्स

फिर तो मुझे और मजा आने लगा, चाची ‘आआ ऊऊ आआआ चोद चोद और चोद…’ बोल बोल कर चुदवा रही थी. सेक्सी एक्स एक्स एक्स वीडियो पिक्चरनहीं तो प्रिया आ जाएगी।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!यह बात मैं भी समझ रहा था कि वह मार्केट गई थी.

मै पानी पीने सीढ़ियों से उतर रही थी, तभी मुझे किसी के कराहने की आवाज आई।अब्बू का कमरा सीढ़ियों के पास है और उसकी खिड़की सीढ़ियों से लगी है, खिड़की पूरी तरह से बंद नहीं होती थी इसलिए अंदर क्या हो रहा है हम सीढ़ियों पर खड़े रहकर खिड़की की दरार से देख सकते थे।मैंने खिड़की की दरार से अंदर देखा तो मैं अंदर का नजारा देखकर दंग रह गई. दूध निकलने वाला सेक्सी वीडियोतो वैभव ने उसे पलंग पर पटक दिया और अपने दोनों हाथों से भूमिका के पैरों को उठा कर उसकी चड्डी को उतार दिया।उफ़.

दोस्तो,मैंने आपको कुछ दिन पहले एक हिंदी सेक्स स्टोरी भेजी थीमस्त फ़ीगर वाली पड़ोसन भाभी की मस्त चुत चुदाईआप सभी को मेरी कहानी बहुत पसंद आई क्योंकि मेरे पास आपको बहुत मेल भी आये मैं उसके लिए आप सभी का दिल से धन्यवाद करता हूँ.सुहागरात बीएफ सेक्स वीडियो: दोस्तो, आज मैं आपको अपने एक दोस्त की बीवी के बारे में बताने जा रहा हूँ, जिसे मुझे चोदना पड़ा.

टीचर का नाम नहीं बताऊंगा लेकिन क्या माल थी 5’5″ गोरा रंग… हंसमुख हल्के रंग की साड़ी गहरे रंग की ब्रा… बस इतना काफी था लंड खड़ा करने के लिए…लेकिन क्या करता… डरता था… बस रात को उनका फिगर होता और मेरा लंड अपने हाथ में!टेस्ट खत्म होने के बाद सायं को वहीं मयंक के घर गया देखा तो मयंक के पापा उसे डांट रहे हैं.एक दो दिन अमन आकर उसको रगड़ देता था और एक दो दिन तो वो और संगीता डिलडो से मौज ले ही लेती थीं।बस अब तो मोनिका को यह तय करना होता था कि आज चूत में कौन जायेगा।तो बताइए कैसी लगी सेक्सी कहानी… अगर आपको भी कहीं कोई फकिंग चूतिया या मोनिका जैसे किरदार मिलें तो मुझे भी मिलवाइएगा।[emailprotected]सनी वर्मा की सभी कहानियाँ.

सेक्सी गरम वीडियो - सुहागरात बीएफ सेक्स वीडियो

भूमि के दोनों छेदों में लंड घुसे था, तीनों सैंडविच लग रहे थे, मैं लगे हाथ वीडियो भी बनाने लगा। भूमि के मुख से आवाजें निकलने लगी- फक मी.अब आते हैं मेरी सेक्स स्टोरी पर!हुआ यों कि मैंने MBBS के लिए नए कॉलेज में एडमिशन लिया.

चुदाई की कहानी के इस संसार में मेरा आप सभी को नमस्कार। मेरा नाम आकी बूब्स लवर है. सुहागरात बीएफ सेक्स वीडियो वो मचल रही थी ‘उम्म्म्म आह्ह ओह्ह्ह आह्ह्ह हईईए…’ आवाजें उसके मुख से निकल रही थी.

अचानक उसने म्यूजिक चेंज करके सॉफ्ट सा सांग लगा दिया… पहली बार मुझे लगा ‘यार कहीं कुछ गड़बड़ न हो जाय…’अंजलि मेरे पास आकर मेरे हाथों को लेकर बॉल डांस करने लगी… मैं भरसक कोशिश कर रहा था कि उसकी बॉडी से दूर रहूँ पर दोनों के बीच का फासला कम होता जा रहा था.

सुहागरात बीएफ सेक्स वीडियो?

‘मजा आ गया मुदस्सर तुझसे गांड मरवा कर!’‘तेरे पति का दोस्त हूँ… किस्मत है मेरी कि पति पत्नी दोनों की गांड मारी मैंने!’वे एक दूसरे से चिपके रहे. रूबी करीब 21 साल की तो होगी ही?’अमिता ने मुदस्सर को चूमते हुए कहा- रूबी मेरी ननद… वह तो अभी सिर्फ 21 साल की है।‘हमने अपना प्यार और चुदाई का सफर जब शुरू किया था. फिर मैंने उसके पैर फैलाये और उसके चूत के दर्शन मुझे हुए!उसकी चूत पूरी क्लीन शेव थी… मैं उसके चूत को चाटने लगा तो उसने मना कर दिया, वो कह रही थी किसी ने आज तक उसकी चूत चाटी नहीं है.

मुझे लगा कि मैंने कोई गर्म लोहे का रॉड पकड़ा है… उसका लिंग इतना कड़क था और बहुत मोटा था, मेरे हाथ में नहीं बैठ रहा था, लंबे लंड पर मेरा एक हाथ काम पड़ने लगा, तो मैंने दूसरे हाथ की मदद ली, बायें हाथ से लिंग के जड़ को पकड़ा और दायें हाथ से आगे की ओर पकड़ कर मैं दोनों हाथ से उसका लिंग हिलाने लगी. बापू ने मेरे दोनों मम्मों को ज़ोर से पकड़ लिया और लंड आगे पीछे करना शुरु किया, मुझे तो लग रहा था कि मेरी चूत भी जैसे आगे पीछे हो रही हो… बापू के धक्कों की रफ़्तार बढ़ती जा रही थी. मेरा तो मानो बुरा हाल हो गया। मैंने आज तक कभी किसी लड़की की नंगी चुची असल में देखी ही नहीं था, बस ब्लू-फिल्मों में सन्नी लियोनी की चुची को देख कर ही मुठ मार किया करता था।मैंने कुछ देर तक भाभी की चुची को खूब मसला.

क्योंकि दीदी की बड़ी और गोल-गोल चुची मेरे सामने बिल्कुल नंगी थी।पता नहीं क्यों उस दिन दीदी ने ब्रा क्यों नहीं पहनी थी।खैर. मैं दिल्ली में रहता हूँ। मैं एक जवान और सुंदर लड़का हूँ। मेरी उम्र 26 साल है. वो मुझे वहां खड़ा करके अपनी गाड़ी ले आई और मैं उसके साथ गाड़ी में बैठ गया। गाड़ी में बैठते ही मैंने उससे होंठ छू जाने की बात को लेकर सॉरी बोला।वो बोली- कोई बात नहीं.

मेरा नाम वैभव है, मेरा एक रोहित नाम का दोस्त है, उसकी उम्र 22 साल की होगी। दो महीने पहले ही उसकी शादी हुई है। वो 18 साल की उम्र से ही रंडी बाज़ार में चुदाई के लिए जाता था। उसको दीपा नाम की एक रंडी बहुत पसंद आ गई थी और उसी के साथ शादी करने का फैसला किया।उस रंडी को भी रोहित बहुत पसंद आ गया था, दोनों की शादी हो गई।दीपा तो रंडी ही थी. उसके बाद मैंने उसकी रूममेट की चूत अपनी तरफ की और उसकी चूत चाटने लगा.

जो पहले केवल एक क्वार्टर था।धीरे-धीरे समय बीतता गया और मुझे यहां रहते हुए 7 महीने बीत गए।इतने समय में, मैंने खुद को काफी बदल लिया था और यहां के रहन-सहन के अनुसार भी ढल चुकी थी। मुझे में यहां आकर कुछ निखार भी आ चुका था। उसी दौरान मैंने नोटिस किया कि अब्बू मुझसे बातें भी अधिक करने लगे थे और वह कोशिश करने लगे थे कि मेरे साथ खाना खाएं, जबकि पहले वह हमेशा कहते थे कि तुम खाना खा लेना.

शीतल मेरे ओंठ अपने मुंह में लेकर चूसने लगी, मैं भी उनका साथ देने लगा.

लेकिन दोस्तो, आज उसने मुझे अपने नंबर से फोन किया, पहले तो इधर उधर की बातें करने लगी लेकिन थोड़ी ही देर में उसने मुझे बोल दिया- मुझे तुमसे चुदना है. जीभ बाहर निकालो!नताशा ने अपने मुंह को पूरा फाड़ दिया, और अपनी जीभ भी बाहर निकाल दी. दोस्तो, मैं इस आंटी सेक्स स्टोरी में आपको मालिश से चुदाई तक की सेक्सी स्टोरी सुना रहा हूँ।बात एक महीने पहले की है, जब मैंने डोर टू डोर मसाज का नया काम शुरू किया था। मैं हाइ प्रोफाइल आंटीज या भाभियों की बॉडी मसाज करता हूँ और उनको पूरा संतुष्ट करता हूँ। मेरे इस काम से बहुत सारी आंटी संतुष्ट हैं। आप यह तो समझते ही होंगे कि मसाज बॉय को आंटी सेक्स के लिए ही बुलाती हैं.

वो अपने सुपारे को भींच कर तेज धार के साथ भाभी के मुंह-जीभ पर वीर्य उगलने लगा. वो बोली- अब करो ना!लेकिन मैंने फिर उसे पहले उंगली से चोदा और उसे हद से ज्यादा गर्म किया, वो मेरे लंड को लेकर मसलने लगी, बोली- मिंटू, बस अब जल्दी डालो… सहन नहीं हो रहा!मैंने कहा- ओके रीना जी, लो!फिर मैंने उसे बेड के किनारे पर किया और उसकी टांगों को कंधे पर रख कर लंड चूत पर घिसने लगा. पूरा डालो।मैंने भी चाची की टांगें उठा लीं और अपना लंड पूरा घुसेड़ दिया। चाची की कराह निकल गई लेकिन कुछ ही समय में चूत ने साथ देना शुरू कर दिया, चाची बोलीं- अह.

मैं हरियाणा से हूँ और अभी अपनी सरकारी नौकरी के लिए प्रयासरत भी हूँ.

और मैं भी उसके मुँह में ही झड़ गया।वो भी बड़े मजे से मेरा लंडरस पी गई। सच में यार. 5 इंच का है और काफी मोटा है।यह तो हुआ मेरा परिचय, अब मैं आपको अपना रियल एक्सपीरियेन्स बताने जा रहा हूँ।वैसे तो मेरी 2 गर्लफ्रेंड रह चुकी हैं. गांड के थोड़ा ऊपर धीरे-धीरे मसला तो भाभी को मजा आने लगा।अब मैंने जानबूझ कर थोड़ा तेल भाभी की गांड के छेद में डाल दिया तो भाभी एकदम से चिहुंक गई.

मेरी उम्र 21 साल है मेरी हाइट 5’11” है और लड़कियां कहती हैं कि मैं हैंडसम भी बहुत हूँ. फिर हमने चाय पी, थोड़ी देर बाद खाना खाया और फिर हम बैडरूम मैं एक साथ बैठकर मूवी देखने लगे. नहीं तो प्रिया आ जाएगी।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!यह बात मैं भी समझ रहा था कि वह मार्केट गई थी.

मैंने कई बार उसे प्यार से समझाने की कोशिश, कई बार हमारा झगड़ा भी हुआ पर वो नहीं मानती, ज़्यादा कलह करने पर साफ कह देती है कि ज़्यादा चुदास है तो बाहर किसी के साथ सो जाया करो, पर मुझे परेशान मत करो.

मैं अपना लंड हिलाने लगा और उधर स्वाति मुस्कुरा कर अपनी चूचियों से खेलने लगी, बोली- तुम अपना लंड मेरी चूचियों के बीच में रख कर इन्हें चोदो ना…मैंने कहा- काश कि मैं ऐसा कर सकता!अब बारी थी स्वाति की चूत देखने की… मैंने उसे पेंटी उतारने को कहा तो वह खड़ी हुई और कैम के आगे पेंटी में छिपी अपनी चूत का उभार दिखा कर मुझे ललचाने लगी. फिर भी मैंने उसे कुछ नहीं बताया, बल्कि कहा- यार तेरा काम तो हो गया… मेरा रहा गया, अब मैं क्या करूँ?उसने कहा- कल हम कुछ करेंगे!और इतना कहा कर दूसरे कमरे में चली गई.

सुहागरात बीएफ सेक्स वीडियो मैं अब भी मुस्कुरा रहा था और वंदु के चेहरे की तरफ़ एकटक देखे जा रहा था. भाभी के हाथ मेरी पीठ को अपने नाखूनों से गड़ाते हुए मेरा जोश बढ़ा रही थीं।‘देवर जी जरा इन दूध के कलशों को भी अपने शैतानी दाँतों से मजा दो ना.

सुहागरात बीएफ सेक्स वीडियो ‘गुरु जी, जिस चीज़ का मैंने अभी चुम्बन लिया है, वो सांप नहीं है न?’‘ह्म्म्म आखिर तुम जान ही गई तो तुम ही बताओ ये क्या है?’‘गुरूजी, ये आपका लिंग है. फिर वो रोने लगी, बोली- मुझसे कुछ ग़लती हुई तो माफ़ कर दो!उसने अपने टीशर्ट निकाल दी और कहा- प्लीज मुझे मत छोड़ना!मैंने उसकी नंगी चूची देकही और एक को मुँह में लिया, उसको चूसा फिर उसके होंठ चूसे और कहा- नहीं यार, तू मेरी रानी है!फिर उसने मेरे ऊपर लेट कर पूरे कपड़े निकाल के मेरे लंड के ऊपर चढ़ कर कूदने लगी.

क्योंकि मैं जानता था कि रूबी अब बड़ी हो रही थी मुदस्सर नहीं, तो कोई अनजान लड़का उसका बॉयफ्रेंड बनकर उसको चोदेगा ही.

सेक्सी चुदाई दिखाइए वीडियो में

’ निकल रहा था।मैंने मौसी का नाड़ा तोड़ कर सलवार उतार दी। अन्दर उन्होंने ब्लैक पेंटी पहनी हुई थी, उनकी टांगें बहुत ही गोरी थीं।उन्होंने मेरा लोवर निकाल दिया और मेरी फ्रेंची दूर फेंक दी। अब मैं बिल्कुल नंगा था. उसके बाद मैंने इतनी जोर से चुदाई की कि दस मिनट में ही मैंने अपना माल उसकी गांड में डाल दिया। उसका लंड भी मस्त हो गया था. लड़का फिर चिल्लाया।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!तब रोमेश ने उसकी गांड से अपना लंड निकाल लिया.

‘ओ गॉड…’ सुबह सेक्स में इस्तमाल किया हुआ कंडोम मेरे पति ने टेबल लैंप के बाजु में ही रखा था. वो भी पूरे मजे लेने लगी, मैंने उसका हाथ पकड़ा और अपने लंड पर रख दिया. तो कल्पना ने भी आहह उहहह की आवाजें निकालनी शुरु कर दी… अब कल्पना ने आभा के कंधों को सहलाया, चूमा और हल्के से अपना दांत भी गड़ाए…आभा चिंहुक उठी.

छुट्टियों में हम सब दोस्तों ने बहुत मजा किया, घूमने गए, कई फिल्में देखी और भी बहुत कुछ!अब हमारी छुट्टियाँ खत्म होने वाली थी!तभी मेरे एक फ्रेंड ने हमें कहा- कल रात को मैं तुम सबको एक अलग जगह पे लेकर जाऊँगा!अगली रात हम सब तैयार होकर मिले! तभी वो दोस्त आया और बोला- आज हम सब लोग रंडी की चूत की चुदाई करने रंडी बाज़ार जाने वाले हैं.

तब तक अंधेरा भी होने लगा था या बोलें लगभग अंधेरा हो चुका था।वो अपने कपड़े ऊपर करने लगी तो मैं बोला- अब तो अंधेरा हो ही गया है. इसी बीच मूवी खत्म हो गई, हम बाहर आ गये, उसने पूछा- कैसी थी मूवी?मैंने बोला- ठीक थी!तो वो मुस्कुराने लगी, बोली- मूवी में ध्यान भी था या बस ऐसे ही बोल रहे हो?मैं समझ गया कि उसका इशारा किस तरफ है. अमूमन इस वक़्त किसी के होने का कोई अंदेशा तो नहीं था…फिर ये कौन हो सकता है?कई सवाल एक साथ मन में कौंध गए !!दोस्तो, अभी इस कहानी का एक आख़िरी पड़ाव बाक़ी है.

वो बोली- अब करो ना!लेकिन मैंने फिर उसे पहले उंगली से चोदा और उसे हद से ज्यादा गर्म किया, वो मेरे लंड को लेकर मसलने लगी, बोली- मिंटू, बस अब जल्दी डालो… सहन नहीं हो रहा!मैंने कहा- ओके रीना जी, लो!फिर मैंने उसे बेड के किनारे पर किया और उसकी टांगों को कंधे पर रख कर लंड चूत पर घिसने लगा. मैंने उसको कहा- मुँह में ले!उसने पहले मुँह बनाया, फिर मैंने उसके मुँह में दिया और वहाँ झाड़ातो कहती- उफ अजीब था!मैंने उसको चूमा तो कहती- यार क्या करता है?मैंने कहा- और गंदे काम होंगे अब!फिर वो मुझसे पूरी नंगी लिपट के मेरे रूम पे सो गई, और पूरी रात बातें की और उसने मुझसे से एक बार और चुदाई करवाई. तो मैं बड़ा खुश हो जाता था। कुछ देर बाद मैं भी जान-बूझकर कभी-कभार ब्रेक मार देता तो भाभी मुझसे चिपक जातीं।जब मैं ये बार-बार करने लगा तो भाभी ने कहा- क्या बात है देवर जी.

थोड़ी देर के बाद वो मेरे बेड रूम की तरफ़ देख रहा था, तो मैंने पूछा- क्या हुआ?वो बोला- आपके पति नहीं आये हैं आफिस से?मैं उसका मतलब समझती हुई बोली- नहीं, वो लेट आएंगे।वो खुश होकर बोला- फिर तो आज बायोलॉजी की पढ़ाई होगी।इतना बोलते ही उसने मुझे अपनी तरफ खींचा।मैं उसे रोकने का सोच रही थी कि उसने चूमना शुरू कर दिया, उसके हाथों में मेरी चुची थी. मैं वहाँ पर पहले भी रह चुका था इसलिए मुझे वहाँ रहने में ज्यादा दिक्कत नहीं हुई, मैं आराम से रह रहा था.

मैं आपको अपनी पत्नी के बारे में बता दूं… उसका नाम आरती है, वो एक सामान्य कद काठी की लड़की थी पर एक अच्छे गदराए हुए शरीर की मालकिन भी…जब मैंने पहली बार उसको देखा था तो मुझे लगा था कि ऊपर वाले ने मुझे सब कुछ भरपूर दिया है… उसके स्तन और कमर अच्छे भरे हुए थे. पर न जाने क्यों डर भी लग रहा था कि कहीं भाभी घर में सभी को ये बातें बता न दें।खैर. उसके गोरे-गोरे बड़े-बड़े दूध उसमें समां नहीं रहे थे।वैभव ने उसकी ब्रा को भी खोल दिया और उसके भरे हुए दूध एक झटके में उछल कर बाहर आ गए।उफ़.

शायद माँ की चुदाई ऐसे सैंडविच बन कर कभी नहीं हुई थी। वह रोए जा रही थीं… चिल्ला रही थीं और कह रही थीं- अबे हरामियों एक-एक करके चोदो.

लेकिन स्लोली और स्मूद्ली चूसना।मैंने उसकी चुची मुँह में भर ली और चूसने लगा. आई लव यू जान… इन शब्दों के साथ घमासान चुदाई चलती रही और अंत में भाई ने मेरे अंदर ही लावा छोड़ दिया!मैं भी इस बीच झड़ चुकी थी।चरम पर पहुंच कर हम आँखें बंद करके निढाल पड़े रहे। मुझे लगा कि हमारा ये खेल लगभग दो-तीन घंटे चला होगा पर घड़ी पर नजर गई तो आधा घंटा ही हुआ था।वास्तविकता तो यह है कि इस आधे घण्टे में हमने अपनी पूरी जिंदगी जी ली थी।सच में प्रथम सहवास कोई कभी नहीं भूल सकता।कहानी जारी रहेगी. भाभी ने एक कातिल मुस्कान देकर कहा- हाँ, दे दीजिए मुझे एक प्यारा सा बच्चा.

तो मैं टॉप ले कर भागने लगा। वो मेरे पीछे नंगी ही दौड़ी।जब वो मेरे पीछे दौड़ रही थी तो उसकी चुची ऊपर-नीचे होते हुए बड़ा सेक्सी सीन बना रही थीं. मजे से चाची को चोदता रहा और वापस ग्वालियर आ गया।आज भी मैं ग्वालियर में रहता हूँ और किसी भी छुट्टी पर गाँव जरूर जाता हूँ। अभी भी मुझे सबके द्वारा वही प्यार दिया जाता है.

मैंने उसी वक़्त उसे अपनी बांहों में लिया और उसकी जुल्फों को थोड़े प्यार से उसके चेहरे से पीछे करते हुए उसके लबों पर अपने लब रख दिए. मैंने जबरदस्ती उसके मुँह में अपना लंड घुसा दिया और वो थोड़ी नानुकुर के बाद लंड चूसने लगी।थोड़ी देर लंड चूसने के बाद मेरा तो पानी निकलने को होने लगा. 5 इंच का लंड देख कर चौंक गई और बोली- इतना बड़ा लंड मेरी छोटी सी चूत में कैसे जाएगा?और वो उसे अपने हाथ में लेकर सहलाने लगी.

इंडियन हॉट भाभी सेक्सी वीडियो

जब जाने का वक़्त आया तो हम दोनों ही बेचैन हो गए…कोमल ने अपने पापा को बताया कि देर होने के कारण बस छूट गई है तो आशीष सर अपनी कार से छोड़ने आ रहे है… और फिर रात के अँधेरे में हम दोनों ने कार में भी दो बार सेक्स किया.

थोड़ा चाट वगैरह भी खा ली और थोड़ा मस्ती करते-करते घर पर आ गए।आंटी ने कहा- थोड़ा वेट करो. तब मैंने उसे कहा कि अब अपनी चूत में कोई चीज डालो!उसने पूछा- क्या डालूँ? तुम अपना लंड डाल दो ना!मैंने कहा- काश कि ऐसा हो पाता!मैं इधर उत्तेजना से अपनी मुठ मारे जा रहा था. विकास ने कहा- भाई, क्या चिकनी गदराई गांड है तेरी बहन की! मजा आ गया.

पल भर का भी समय गँवाए वंदु उठ कर खड़ी हो गई और मुझे लगभग धक्का देते हुए बिस्तर पे पूरी तरह से गिरा दिया. गोरा शरीर, सुंदर चूचियाँ देख कर मैं अपने लंड को और तेज़ी से हिलाने लगा. हिंदी देसी सेक्सी विवो तो पागल होने लगी, अब मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने उसकी पेंटी के अंदर हाथ डाल दिया.

गांड के थोड़ा ऊपर धीरे-धीरे मसला तो भाभी को मजा आने लगा।अब मैंने जानबूझ कर थोड़ा तेल भाभी की गांड के छेद में डाल दिया तो भाभी एकदम से चिहुंक गई. तोली ने मुस्कुराकर थैंक्यू कहा, और दुबारा मेरी बीवी की चूत मारनी शुरू कर दी.

दीदी ने ही जीजा साली की चुदाई करवा दी-1अब तक आपने जीजा जी के संग मेरी चुदाई की कहानी में पढ़ा था कि जीजा जी मेरे ऊपर चढ़ गए थे।अब आगे. कुछ देर बाद भाभी बोली- रुक…!मुझे लगा कि फिर से सज़ा मिलेगी लेकिन भाभी मेरे पास आई और मेरे लंड पर अपना थूक थूका और बोली- ले, इसे अपने पूरे लंड पर मल और फिर हिला!मैंने वैसा ही किया और मुझे और आनन्द मिला. तो मैंने एक थप्पड़ उनकी गांड में दे मारा और लंड चुत में घुसेड़ दिया।‘हइईईई मर गइईईई उफफ्फ़ आआहह.

साफ़ बोलूँ तो वो एकदम जबरदस्त माल थी। वो 12वीं क्लास में पढ़ती थी, अभी जवानी की दहलीज़ पर ही कदम रख रही थी।शीला के सेक्सी फिगर के बारे में हमारे आस-पड़ोस के लोंडे भी काफ़ी अश्लील बातें करते थे।वाकयी में वो थी ही इतनी सेक्सी कि उसे देखते ही किसी का मन उसे चोदने का करने लगे।मेरा तो काफ़ी मन करता था कि उसको अभी ही पटक कर चोद दूँ. राहुल ने कच्छा पहन लिया पर उसका लिंग था ही इतना बड़ा और ऊपर से तना हुआ झट से कच्छे के छेद (जो पेशाब करने के लिये बना होता है) से बाहर आ गया. मैंने फिर शॉट पे शॉट कभी अंदर कभी बाहर ‘ओह्ह कोमल आह्ह आह उफ्फ्फ्फ़ उफ्फ्फ ये ये हुम्म हुम्म्म्म…’कोमल भी मस्त हो कर चुदवा रही थीमैं कभी उसकी चूची चूसता तो कभी चूत पर हाथ ले जाकर चूत का किनारा रगड़ता ओर इसका नतीजा यह हुआ कि अब कोमल फिर से झड़ने को तैयार थी.

यह बुर की चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!अब मेरा लंड दोबारा खड़ा होने लगा था, मैंने उसे ऊपर उठा कर बिस्तर पर लेटाया और उसकी बुर के छेद पर लगाया और एक जोर का धक्का मारा और मेरा लंड आधे से ज्यादा अन्दर चला गया वो रोने लगी और चिल्लाने लगी.

हम दोनों के मुँह से सी…सी… उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह… की आवाजें निकल रही थी. यह देखकर मुझे अलग सा ऩशा छा गया, मुझे लगा कि मुझे बुखार आ गया हो! मेरा लंड खड़ा होकर फड़फड़ाने लगा.

5 इंच का है और काफी मोटा है।यह तो हुआ मेरा परिचय, अब मैं आपको अपना रियल एक्सपीरियेन्स बताने जा रहा हूँ।वैसे तो मेरी 2 गर्लफ्रेंड रह चुकी हैं. 5 वर्ष पहले फरवरी के महीने में दार्जीलिंग की वादियों में जाने का निश्चय किया. तुम भी अपने ब्वॉयफ्रेंड को कुछ मत बताना।फिर काफ़ी आना-कानी करने के बाद उसने खुद ही कहा- ठीक है हम सेक्स करेंगे लेकिन ज़्यादा नहीं थोड़ा सा करेंगे।मैं आपको सब बताऊँगा कि वो कैसे मानी सेक्स के लिए थोड़ा आगे ओके।मैंने उससे पूछा- थोड़ा सा कैसे.

थोड़ी देर बाद मैं बोला- चाची, कुछ हो रहा है!तो वो बोली- तू लंड मत निकालना, अंदर ही होने दे जो हो रहा है…थोड़ी देर बाद मैं झड़ गया और चाची के ऊपर गिर गया. दो ही पल में वो एकदम से अकड़ते हुए झड़ गई। मैंने उसका पूरा रस पी लिया।फिर कुछ मिनट रुकने के बाद वो बोली- जानू कुछ करो. अब वो मेरे पास चिपक कर बैठी थी और शर्ट के ऊपर के बटन खुले थे, मेरा लंड खड़ा था और मैडम ने धीरे से अपना हाथ मेरे लंड पर रख कर पूछा- यह खड़ा क्यूँ है?मैं बोला- जब आप अपने बच्चे को दूध पिला रही थी, तबसे ये खड़ा हो गया…वो बोली- अच्छा.

सुहागरात बीएफ सेक्स वीडियो ’ कहा और हाथ मिलाया।हम लोग एक टेंपो ट्रेवलर में एक साथ पहाड़ी रास्ते पर चल दिए, जहाँ हमारा कैम्प लगना था। इस ग्रुप से अब मेरी अच्छी बात हो रही थी। उस लड़की का नाम सोनम था और वो डीयू की बी. बोली- आज कॉलेज मत जाओ!मुझे दाल में कुछ काला लगा, मैंने ‘ओके’ कहा और कॉलेज नहीं गया.

পাছা চুদা

कमरे में आया भूचाल एकदम से शांत हो गया और उस ख़ामोशी में बस हम दोनों की तेज़-तेज़ चल रही साँसों का शोर गूँजने लगा. हमने बात शुरू करी तो पता चला वो हौज खास में रहती है, उसकी उम्र 37 साल है और उसके पति जयपुर में जॉब करते हैं, वो भी किसी प्राइवेट कम्पनी में जॉब करती थी, पति दूर था तो चूत में ठरक होना लाजमी था. जब आँख खुली तो कोमल नंगी मेरे से चिपट कर लेटी थी और उसकी जाँघें मेरे पैरों के ऊपर थी और उसकी जांघ के नीचे मेरा लंड दबा था.

बापू यही सुनना चाहते थे, उन्होंने नाटक और तेज़ कर दिया- सही कहती है बेटी, गलती तो मेरी है, मैं अपना गला काट के इस पाप से मुक्ति पा लूँगा, तू मुझे माफ़ कर दे!बापू ने चाकू अपने गले पर रखते हुए कहा।इस बात को सुन कर तो मेरे हाथ पांव फूल गए, कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करूँ… दिमाग में बस एक ही बात आई कि सारा दोष मुझे अपने ऊपर लेना होगा. चाची ने बाथरूम से मुझे आवाज़ लगाई कि उनके कपड़े बेड पर ही रह गए हैं, जो मैं उन्हें पकड़ा दूँ!मैं वो कपड़े चाची को पकड़ा दिए. सेक्सी वीडियो ट्रक वालामैंने कहा- किधर निकालूँ?तो उसने कहा- गांड में ही डाल दो।मैंने अपना सारा माल उसकी गांड में डाल दिया। अब जाकर मुझे थोड़ा आराम मिला और मैं वहाँ से अपने रूम में आ गया।आपको मेरी गांड चुदाई की गे सेक्स स्टोरीज कैसी लगी.

मैंने आज तक तेरे अंकल से भी पीछे से नहीं डलवाया और फिर तेरा तो घोड़े जैसा है.

बस में और सवारियां चढ़ गईं और बस खचाखच भर गई। उस भीड़ में एक लड़की मेरे पास आकर खड़ी हो गई। मैंने दिमाग चलाया, मेरे बाजू में दो लड़के बैठे थे। मैंने उनको थोड़ा सरकने को कहा और उसको मेरे पास बैठने को कहा।वो मेरे पास बैठ गई।थोड़ी देर बाद उसने अपना फोन निकाला और कहीं मिलाया। शायद उसका फोन नहीं लगा. मैंने 15 मिनट तक उसके दुग्ध कलशों और उसके होंठों को गर्दन को पेट को चूमा और चूसा.

मैंने देखा कि वह गर्म हो गई है तो मैंने मौका देख कर अपने दोनों हाथ उसके बूब्स पर रख दिए. मैं नहा-धो के नीचे नाश्ते के लिए आया, वहाँ भैया और चाची नाश्ता कर रहे थे. हम दोनों एक दूसरे को जोर से जकड़े हुए थे… उसकी चूत मेरे लंड को जकड़ रही थी छोड़ रही थी… मेरा लंड रह रह कर फूलता ओर अमृत को छोड़ता!कुछ पलों तक यह सिलसिला चलता रहा.

’ मेरी पत्नी मुदस्सर का टोपा अन्दर जाते ही बुरी तरह से दर्द से बिलबिला उठी और अपनी गांड वापस खींचने लगी लेकिन मुदस्सर ने उसकी पतली कमर कसकर पकड़ी हुई थी.

उसने मेरे मन के विचारों को शायद भाम्प लिया था इसलिए वो मेरे एकदम नजदीक खिसक कर पीछे से लिपट गई और मुझसे बोली- क्यों ब्रेक लगा रहे हो? मैं ऐसे ही तुम से लिपट जाऊँगी. उसी समय उसने भी मुझे कस कर दबोच लिया, वह भी झड़ गई थी।फिर हम कुछ देर तक यूँ ही एक-दूसरे से लिपट कर लेटे रहे। और अंजलि तो मेरे ऊपर ही सो गई. मुझे पता चल गया था कि वो भायकला उतरने वाली है। क्योंकि थोड़ी देर पहले उन्होंने किसी से पूछा था कि भायकला कब आएगा।मैंने उनसे झूठ बोला कि मैं दादर में रहता हूँ।वो बोलीं- तुझे देखा जैसा लग रहा है.

बॉयज एंड गर्ल्स सेक्सीजैसा नाम वैसा हुस्न। जूही पास के एक स्कूल में टीचर है। वो सुबह 8 बजे स्कूल जाती है और 1:00 बजे घर आ जाती है। फिर दिन भर घर में अकेली रहती थी।एक दिन मेरा छुट्टी वाला दिन था, तो मैं आराम से सो रहा था। मॉम ने मुझे जगाया और बोला- डोर लॉक कर लो, मैं ऑफिस जा रही हूँ।मैंने उठ कर डोर लॉक किया और फिर सो गया।करीब 30 मिनट बाद डोरबेल बजी. तुम मुझसे प्यार करती हो, मैं भी!वो इठला कर बोली- मिस्टर मैं अभी भी शादीशुदा हूँ.

नाइट की सेक्सी

आगे क्या होने वाला है, राहुल जानता था। वो एक कोने में बैठ गया और आगे की क्रिया के होने का इंतज़ार करने लगा।यह काल्पनिक कहानी जारी रहेगी. मेरा भी अब सात इंची का मस्त लम्बा मोटा लंड है जिसे देख कर मेरे कॅालेज के दोस्त ईर्ष्या करते हैं. सजी हुई चूत को देखकर ही मजा आ गया। फिर मैंने उसकी चूत चाटना शुरू कर दिया।बहुत मजा आ रहा था.

उसकी जीभ ने मेरे मुख में दस्तक दी, मैंने स्वागत किया और उसकी जीभ को होंठों में दबा कर चूसने लगा… अपनी जीभ उसके मुँह में अपनी जीभ डाल दी और कोमल उसको दबा दबा के चूसने लगी. तभी मेरी नजर बेड के करीब के टेबल लैंप पे गई और मुझे शॉक ही लगा, आज सुबह सुबह लगभग एक घंटे पहले ही मैंने और मेरे पति ने सेक्स किया था, सेक्स के दौरान प्रोटेक्शन के लिए कंडोम्स हम दो साल से इस्तमाल कर रहे हैं. उस दिन मैं उसके घर पर ही रहा और पूरी रात तरह तरह से चुदाई की… वो भी पोर्न देख देख कर नई नई पोजीशन बता रही थी.

जिससे वो फिर से गर्म होने लगी और फिर से मेरा साथ देने लगी।लेकिन अब मुझे उसकी गांड मारनी थी. उसे देखते ही वो मुस्कुरा दी और बोली- काफी बड़ा है, इसे अब तक कैद क्यों कर रखा था?फिर उसने मुझे लंड को हिलाने को कहा. उधर मोनिका ने संगीता को कह दिया कि आज वो अनिल के साथ जालंधर जा रही है इसलिए आज नहीं मिलेगी और प्लीज आज उसे वो फोन भी न करे!अमन के घर पहुंचते ही मोनिका ने उसे अंदर किया और एक बार बाहर घूम आई सिर्फ यह देखने के लिए की किसी ने देखा तो नहीं है अमन को अंदर आते हुए.

किस करते रहे।मैंने कहा- ओहो फन…!दिव्या बोली- वो ऊपर से दबाती रही और मुझसे तेरे लिए बोली कि तू मेरा कितना ख्याल रखता है. ’ करने लगी, वो बहुत खुश थी, उसे मजा आ रहा था… तो मैं और ज़ोर से चाटने लगा और फिर थोड़ी थोड़ी उंगली भी की। मुझे मज़ा आ रहा था। फिर मैंने उसे किस किया और उसके होंठों को खूब चूसा.

अभी तो लंड को फिर खड़ा करो।तो आंटी ने जानू सुना तो मुस्कुरा कर मेरे लंड को मुँह में भर लिया और चूसने लगीं। इससे मेरा लंड फिर से कड़ा हो गया।अब उनसे रहा नहीं जा रहा था, उन्होंने मुझसे बोला- अब नहीं रुका जा रहा है.

जीभ बाहर निकालो!नताशा ने अपने मुंह को पूरा फाड़ दिया, और अपनी जीभ भी बाहर निकाल दी. घोड़ा और कुत्ता की सेक्सी पिक्चरतो मैं सोने की कोशिश करने लगा, पर नींद ही नहीं आ रही थी। फिर मैं अपने बिस्तर से उठकर जूनियर हॉस्टल की तरफ जाने लगा. सेक्सी लोड करने वाला ऐप्स’ की आवाज आने लगी।थोड़ी देर में हम पिकनिक स्पॉट पर पहुँच चुके थे। आज कुछ अलग ही अनुभव हो रहा था. मेरा नामर्द पति 3 साल में मेरे सील भी नहीं तोड़ पाया।उसने पीछे हाथ करके मेरे दूध दबाए और कहा- अब तुम कभी प्यासी नहीं रहोगी।वो मुझे घर छोड़ कर चला गया।हम दोनों अभी भी सेक्स करते हैं, उसने मुझे कभी चुदाई के लिए नहीं तरसाया, जब भी मैंने चुदाई की चाह की, उसने मेरी चूत की चुदाई की.

मेरी बॉडी कसरती है क्योंकि मैं बॉडी बिल्डिंग करता हूँ। मैं एक गाँव में तहसील में हूँ। मेरा लंड 6.

उनकी बीवी 5 साल पहले गुजर गई हैं। वे गाँव में रहकर खेती संभालते हैं। मेरे सास-ससुर मेरे देवर के साथ दुबई में रहते हैं. लंड चूत की गहराइयों में घुस गया। उधर उसकी चीख मेरे मुँह में ही दब कर रह गई। वो दर्द से बिलख कर रोने लगी। मैंने बड़े प्यार से बोला- जानू पहली बार तो दर्द होता ही है. 11:30 पे चाची खाना लेकर आ गई, हम दोनों कमरे में बैठ गए, मैं खाना खाने लगा, चाची मेरी तरफ देख के बोली- तेरी किस्से नाल सेटिंग ए? मतलब तेरी किसी के साथ सेटिंग है क्यामैंने कहा- नहीं चाची, मेरी इतनी किस्मत कहाँ!मैं भी पूरा निडर हो गया, बोला- चाची आप ही बताओ क्या करूँ?कुछ सोच के चाची बोली- मैं क्या बताऊँ?.

थोड़ा स्टार्टर वगैरह खाया फिर खाना मंगवा लिया। खाने के बाद आते टाइम आईसक्रीम और मिल्कशेक पिया।भाभी बहुत खुश हो गईं और उन्होंने कहा- तुम्हारी गर्लफ्रेंड तो तुम से बहुत ही इम्प्रेस होती होगी?मैंने कहा- मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है. मैंने आशीष की मन पसंद पेंटी पहनी। आशीष को मेरा ब्रा पहनना पसंद नहीं, तो ब्रा नहीं पहनी और ऊपर से शॉर्ट स्कर्ट और टॉप पहना जिसमें मेरे चूचे और गांड बहुत मस्त दिखते हैं, ये टॉप भी थोड़ा चुस्त फिटिंग का है, जिसमें मेरी नाभि ओपन रहती है।अब मैं आशीष का वेट करने लगी।करीब 40 मिनट बाद बेल बजी। मैंने सोचा कि ये जरूर आशीष होगा। मैंने उठ कर डोर ओपन किया तो मैं शॉक हो गई।ये क्या… ये तो विक्की था. इस थका देने वाली चुदाई का असर यह हुआ कि हम दोनों एक दूसरे को अपनी बाहों में समेटे हुए नींद की आग़ोश में खो गए.

हिंदी सेक्सी फिल्म चुदाई वीडियो

मैंने अभी इतना ही कहा था कि वो मुझे जोर-जोर से मारने लगा और कहा- नाम मत ले उस रंडी का!तो मैंने कहा- भाई धीरे. मेरा लंड फनफना उठा, मुझसे रहा नहीं गया, मैंने अपने पायज़ामे में से अपना लंड निकाला और और धीरे-धीरे उसे हिलाने लगा. चुद रही सुनीता ने बताया कि कुछ देर अपने बॉय फ्रेंड से लगातार चुदती रहने के बाद वो एक ही लंड से बोर होने लगी थी और एक नया लंड तलाशने लगी, उसकी तलाश तब पूरी हुई जब एक दिन वो अपनी छत पे गई तो छत से नीचे देखा कि उसके पड़ोस में रहता लड़का सुनील नीचे अपने मोबाईल में सेक्सी वीडियो देखता हुआ अपने लंड को हाथ से पकड़ कर मुठ मार रहा था, उसने देखा कि सुनील का लंड भी काफी बड़ा था.

बड़ा ही नर्म बिस्तर था।थोड़ी देर में नेहा गिलास लेकर आ गई और मुझे देकर बोली- लो पी लो!मैंने कहा- मुझे ये दूध नहीं.

’‘आऽऽह आऽऽह आऽऽह’ उसके हर धक्के के साथ मैं सिसकारियाँ लेने लगी, मैं भी उसके रंग मैं रंगने लगी थी.

शीतल मेरे ओंठ अपने मुंह में लेकर चूसने लगी, मैं भी उनका साथ देने लगा. फिर उन्होंने कहा- चल अब शुरू कर असली खेल!मैंने भी देर न करते हुए अपने लंड पे थोड़ा थूक लगाया और उसकी चूत में पेल दिया. सेक्सी कैसे खेलते हैंइत्ता मजा तो तेरे चाचा के साथ भी कभी नहीं आया।उस रात हम दोनों बिना कपड़ों के ही सो गए और सुबह उठ कर दोनों एक साथ नहाए।नहाते समय भी मैंने चाची को फिर से चोदा और पूरे 5 दिन में हम दोनों ने 12-13 बार चुदाई की।अब जब भी चाचा काम से बाहर जाते हैं तो चाची मुझे बुला लेती हैं। मेरी ये हिंदी चुदाई स्टोरी आपको कैसी लगी.

तो वो कमर को इधर-उधर करने लगी। मैं समझ गया कि अब वो पूरी तरह चुदने के लिए तैयार है। मैंने उसका हाथ अपने लंड पर रख दिया. ’‘तू चूसती भी तो मज़े से है, चल अब देर मत कर, लेट जा और टांगें खोल दे!’भाभी ने वैसा ही किया. मैं तो इतना डर गई कि बाहर निकली ही नहीं!उस रात मैं सो नहीं पाई, बस दीपक का किस मुझे बार बार याद आ रहा था कि सालों बाद किसी ने इतनी जोर से किस किया!अब हमारी फोन पे सेक्स चैट होने लगी मगर कभी हिम्मत नहीं हुई कि जब मेरे पति घर पर न हों तो उसे घर बुला लूँ!एक संडे दीपक और मरे पति दिन भर साथ में ही थे हमारे घर पर थे.

’ निकल गई।मैंने उसे डांटा और कहा- ये क्या कर रहे हो?तो सुदीप ने कहा- भाभी, अब मैं अपने आप पर कण्ट्रोल नहीं कर सकता।यह कहते हुए उसने मेरी नाभि पर जोर से किस कर दिया, मैं एकदम से सिहर उठी।तभी उसने मुझे अपनी गोद में उठाया और मेरे बेडरूम में ले गया।मैंने सरगोशी से कहा- ये क्या कर रहे हो?उसने कहा- कुछ नहीं भाभी, अपनी भूख शांत कर रहा हूँ।मैंने कहा- ये गलत है।उसने कहा- कुछ भी गलत नहीं है. जिससे मैंने घबरा कर बाइक के डिस्क ब्रेक दबा दिए। इससे दिव्या एकदम से मेरे से बिल्कुल सट गई और उसकी चुची मेरी पीठ से चिपक कर दब गई.

क्योंकि मुझे अंजलि के साथ बाहर जाना है।तो आंटी ने कहा- अरे तो इतना खाना मैं अकेली थोड़े ही खा सकती हूँ।मैंने उन्हें कहा- मैंने उसे बर्थडे को गिफ्ट नहीं दिया तो कम से कम उसके साथ बाहर तो चला जाता हूँ.

पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…मेरी शादी की शॉपिंग में मदद के लिए मैं अपनी होने वाली ससुराल गया. मैंने उसकी शर्ट के अंदर हाथ डाला तो उसने हाथ हटाया और मुझे धक्का दिया,फिर कहती- तू यह ग़लत कर रहा था, मैं तुझे सिर्फ़ दोस्त मानती हूँ, यह ग़लत है. आंटी का सेक्सी बदन देख कर मेरी हालत खराब हो गई, मेरा लंड पूरा हार्ड हो गया.

सेक्सी इंग्लिश टीचर मेरे भी सुपारे में जलन हो रही थी तो भी मैं प्रिया को ढांढस बंधाते हुए थोड़ा बर्दाश्त करने की सलाह दे रहा था। मैं सुपारे को बाहर नहीं निकालना चाह रहा था तो थोड़ा और जोर लगाते मेरा लंड करीब एक सेंटीमीटर और अन्दर गया. दो दिन बाद मेरे फ़ेसबुक पर संदेश आया- हेलो, ये फ़ोटो आपने मेरे घर के पास ली है?तो मैंने कहा- आप फलाने जगह रहती हो क्या?तो उधर से जवाब आया- हाँ!तो मैंने उनका नाम पूछा क्योंकि इंस्टाग्राम पे लोग अजीब नाम रखते हैं.

जिसमें हम जो चाहें वो हाइड कर सकते हैं।वो एप कैसे खोलते हैं वो मुझे पता था. लाइन के कारण में उसके साथ चिपक कर खड़ा था परन्तु मैं ग़लत नहीं सोच रहा था। पर मैं भी इंसान ही हूँ और मेरा लंड उसकी गांड से बार-बार टच होने से खड़ा हो गया था। मैंने जैसे-तैसे करके बहुत कंट्रोल किया और माता रानी से माफी माँगी। फिर हम दोनों ने दर्शन किए और कुछ कोल्ड ड्रिंक पी, बर्गर आदि खाया और वहां से वापिस चल पड़े।वापिसी में हम दोनों बस में ही आ गए और मनीमाजरा उतर गए। बस में बहुत भीड़ थी. मुझे भी हँसी आ गई।आप लोग सोच रहे होंगे कि ये क्या…तो बता दूँ कि मैंने ऊपर भी लिखा है कि मैं अपनी जवानी का पूरा मजा ले रही हूँ।कॉलेज में मस्ती करने लगी थी, कॉलेज में मैंने 3 यारों के साथ अपनी जवानी रंगीन की थीं, एक तो कॉलेज का प्रोफेसर था.

जानवरों की बीपी

मैंने अभी इतना ही कहा था कि वो मुझे जोर-जोर से मारने लगा और कहा- नाम मत ले उस रंडी का!तो मैंने कहा- भाई धीरे. मैंने उसके चेहरे को ऊपर उठाया और उसके माथे पर चूम लिया, तब उसने कहा- लाइट बंद कर दो. तो हम दोनों के बीच कुछ परिचय आदि न था। सोनू भाभी जान खूबसूरत थीं और शायद उन्होंने अपनी इसी खूबसूरती के चलते मुझे कभी लाइन नहीं दी.

मुझे बहुत दिनों बाद लंड का मजा मिला… एक मस्त लंड!मैं गांड ढीली किए लेटा रहा।दोस्तो जब तक मैं एक माशूक लौंडा था, तब तक लौंडेबाज जिन्हें माशूक लौंडों की गांड मारने का शौक था, मेरे ऊपर मरते थे, मुझे पटाते थे, कई बार तो एक दिन में दो दो बार गांड मराना पड़ती थी, मोटे मोटे लंड झेलना पड़ते थे. इससे तो बिल्कुल भी नहीं।तो मैं बोला- आंटी मैं आराम से करूँगा प्लीज़.

मैं देहली में जॉब करता हूँ और यहाँ पर एक किराये के मकान में रहता हूँ.

अब थोड़ी देर बाद चाची को भी मजा आने लगा था और वो नीचे अपनी गांड हिला कर मेरा साथ दे रही थी और चीख भी रही थी- येस्स स्स स्स्स स्श्श्श श्ह्ह्हह्ह और जोर से और जोर चोदो. धीरे धीरे हमारे होठों का मिलन होने लगा और काफी देर तक एक दूसरे चूसते रहे होंठ… जैसे हम दोनों के होंठ एक दूसरे को देख कर पागल हो गए हों. क्या मस्त लग रही थीं आंटी।अब मैंने आंटी के ब्लाउज की डोरियाँ खोल दीं और ब्लाउज उतार कर एक तरफ रखा, फिर पेटीकोट भी निकाल दिया।आंटी पिंक रंग की पैंटी और ब्रा में खड़ी थीं.

’ बोला।हम लोग ऐसे ही बात करते-करते सेक्स की बातें करने लगे।फिर एक दिन ऐसा आया कि उसने मुझे अपने घर बुलाया क्योंकि उसका पति अक्सर बाहर ही रहता था। उस दिन जब मैं उसके घर गया तो वो एक सोफे पर बड़ी मादक अंदाज में बैठी थी। इस तरह बैठे हुए वो एकदम स्वर्ग की अप्सरा सी लग रही थी। क्या मस्त ड्रेस पहन रखी थी उसने. फिर मैंने अजय की गांड मारी और अपना वीर्य भी पिलाया।हमारी चुदाई खत्म होने के बाद अजय ने बताया कि उसे गांड मरवाने और लोड़ा चूसने का बहुत मन करता है, यह उसका पहली बार था।फिर अजय ने कहा- आगे भी वह मुझसे मरवाना चाहता है. बहुत बार दीपा ने मेरी गांड मारी और मैंने रोहित की चूत मारी।आपको मेरी ये काल्पनिक चुदाई की कहानी कैसी लगी.

मैं उसकी दोनों चुची को पकड़ अपनी ओर खींचते हुए मसलने लगा, माही के मुँह से हल्की सी सिसकारी फूटने लगी, उसकी चूत उत्तेजना में गीली हो चुकी थी.

सुहागरात बीएफ सेक्स वीडियो: कहने लगीं कि मैंने उनकी प्यास बुझा दी और ये कहते हुए वो मुझसे लिपट कर सो गईं।अब जब भी मौसी यहाँ आतीं या मैं वहाँ जाता. एक बार की बात है मैं 12वीं के पेपर देकर घर पर आराम कर रहा था, मेरे डैड हमेशा की तरह कहीं बाहर थे बिज़नेस के सिलसिले में… घर में मैं और मेरी सेक्सी रंडी मॉम थे.

मैंने उसकी गांड दबाई और कहा- साली मजा आया?कहती- बहुत!मैंने कहा- कमीनी औरत!कहती- चोदू सांड!फिर हम रोज़ ऑफिस में लड़कियाँ और लौंडे देख कर मज़ाक करते… वो मेरे लिए लड़कियाँ देख कर अश्लील बातें करती और मैं उसके लिए लौंडे देख कर सेक्सी बातें करता. उसके पति के बाहर जाते ही प्रतिभा ने मुझे हग कर लिया और हम एक दूसरे में खो गए. मेरी उससे दोस्ती हो गई थी, मैं बाइक आराम से चला रहा था और बार बार ब्रेक लगा कर उसे अपने टच कर रहा था.

वो मेरी चुत को अपनी उंगली से चुदाई करके शांत कर देते। मैं कभी-कभी उनके लंड को मुँह में ले लेती ओैर इस तरह दोनों अपनी कामवासना की तुष्टि करने लगे।एक दिन जब उनके घर के सब लोग एक सप्ताह के लिए बाहर जा रहे थे। मुझसे दादा जी का ख्याल रख लेने का कहा गया और वो सब उन्हें छोड़ कर चले गए।उसी दिन मैंने अपनी मम्मी से कहा- मम्मी आज मैं स्कूल नहीं जा रही हूँ।मम्मी ने कहा- तो ठीक है.

मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ, इसमें प्रकाशित सभी किस्म की चुदाई की कहानी पढ़ना मुझे बेहद पसंद है। मैं यहाँ अपना नाम नहीं बताना चाहता. कोल्डड्रिंक पीते रहे।अभी पार्टी चल ही रही थी कि हम दोनों उसकी मम्मी के बेडरूम में आ गए. इस बुर को भोसड़ा बना दो।’वो पूरा लंड ले रही थी और मुझे ललकार रही थी- अह.