अंग्रेजी लड़कियों की बीएफ

छवि स्रोत,हिंदी सेक्सी देहाती गांव की

तस्वीर का शीर्षक ,

मिठाई बनाना बताएं: अंग्रेजी लड़कियों की बीएफ, वहां बाथटब में गुनगुना पानी भर कर उसमें सोप का ढेर सारा झाग भर दिया.

राजस्थान की एक्स एक्स एक्स

उस मोमबत्ती को मामी ने अपने हाथ से धीरे धीरे अन्दर डाला और कुछ ही पलों में मामी ने धीरे धीरे वो पूरी मोमबत्ती अपनी गांड मैं ले ली. இந்தியா ஆன்ட்டி செக்ஸ்मेरी एक फैंटेसी थी कि मैं अपने जीवन में एक साथ कभी ग्रुप सेक्स करूं तो खुले आसमान के नीचे करूं.

वैसे वो मुझसे बहुत बात करती थीं लेकिन कभी भी ऐसी वैसी कोई बात नहीं की थी. ब्लू पिक्चर चुदाईनेहा ने जब मुझसे पूछा कि ऊपर सोने नहीं जाना है तो सरोज ने वही बात कह कर नेहा को जगाने से मना कर दिया.

जब मेरे लंड का सुपारा उसकी गांड में घुसा तो …अब आगे की लड़की की सेक्सी घांड की कहानी:बस रानी जी … हो गया न.अंग्रेजी लड़कियों की बीएफ: वैसे भी तौलिया कुछ और पौंछने के काम आएगा।वो फिर से शर्मा गयी।मैंने उसका कमर पकड़ा और अपनी ओर खींच लिया और किस करना शुरू कर दिया.

सरोज भाभी ने पहली रात मेरा सोने का प्रबंध ड्राइंग रूम में जानबूझकर किया था.अब वो पूरी तरह से चुदने के लिए तैयार थी और मैं भी इससे ज्यादा वेट नहीं कर सकता था.

एक्स एक्स एक्स सेक्स एचडी - अंग्रेजी लड़कियों की बीएफ

रमेश- तो तू नहीं मानेगा?रवि- सवाल ही पैदा नहीं होता।रमेश हार कर बोला- ठीक है, तो फिर मैं ही जा रहा हूं.शांति की कहानी सुनकर मैं यह तय नहीं कर पाया कि उस दिन बदनसीब कौन था, शांति या रामू चाचा?अपने चूतड़ उचकाते हुए शांति ने लण्ड का मजा लेते हुए कहा- चुदाई में इतना मजा आता है, मैंने आज महसूस किया है.

मैंने सीधे ही दरवाजा खोल दिया, तो सामने अंकल की बेटी अपने कपड़े बदल रही थी. अंग्रेजी लड़कियों की बीएफ वो चुप था, कुछ नहीं बोल रहा था लेकिन मेरी हरकतें उसे सिसकारने पर मजबूर कर रही थीं.

इस पर गुड्डी रानी ने झल्ला कर कहा- हरामज़ादे क्या मुझे उछाल के टॉस करेगा या बेबी को?मैं हँसते हुए बोला- रानी तुम दोनों को तो मैं लौड़े पर उछालूंगा जान … सुन … मैं तुम दोनों की तरफ पीठ करके खड़ा हो जाता हूँ.

अंग्रेजी लड़कियों की बीएफ?

अपनी गोल गोल चूचियों को उसने अपने दोनों हाथों में भर लिया और उनको एक दूसरे पर रगड़ने लगी. मेरे मुँह से आई … आई … आई … भाभी जी क्या कर रही हो? यहां तो बहुत मजा आया. मैं अपनी जीभ को उसकी चूत में उतार कर उसकी चूत को जीभ से कुरेदने लगा.

भाभी मेरे लोअर में हाथ मारने लगी और लंड पकड़ कर बोली- ये आज क्यों सुस्त है?मैंने कहा- कल की तैयारी में है. जावेद मेरी ओर देखने लगा- उठो भाई … ज्यादा चिनमिना रही है क्या? लगता है भाई ने कसके रगड़ दी है. जब ब्लाउज का हुक्क लग गया तो भाभी हँसते हुए मजाक में बोली- जिसने हुक लगाया है, वही खोलेगा भी!तो मैं भी हँस दिया।फिर मैं और भाभी नीचे आ गये.

मुकेश अक्सर अपनी वाइफ निशा के साथ छिंदवाड़ा टूर पर आता और मेरे पास छोड़ कर मेरी बाइक से वर्किग पर निकल जाता. हैलो दोस्तो, मैं राकेश एक बार फिर से आप सबका स्वागत करता हूं बाप और बेटी की इस राचक कहानी में। इस कहानी के पिछले भाग में मैंने बताया था कि रमेश अपने ऑफिस की सेक्रेटरी को होटल में ले गया और वहां पर उसने अपनी सेक्सी सेक्रेटरी की चूत जमकर चोदी. पहली बार उसकी चूत मिली थी इसलिए मैं ज्यादा देर नहीं टिक पाया और उसकी चूत में झड़ गया.

और मैं जानती हूँ कि हम जिस सोसायटी में रहते हैं वो भी ज्यादा मुश्किल नहीं है। पर मैंने वैभव को कहा कि मेरी सहेली संदीप की बहुत बड़ी फैन है, वो हमारी शादी में शामिल रहेगी उसे हमारी शादी का उपहार समझकर संदीप का लिंग दे देते हैं. सुमन का शरीर भारी था और हाइट में कम होने की वजह से वो बहुत मोटी लग रही थी.

मैंने उसी दिन शाम को बाजार जाकर बिल्कुल फिटिंग की दोनों चीजें खरीद लीं.

पर जवाब के बदले कुछ देर बाद उसका कॉल आ गया, मैंने उसका नम्बर सेव कर रखा था.

उसका दुपट्टा बार बार व्यवधान उत्पन्न कर रहा था जिसे उसने निकाल कर मेरे सिर के पास रख दिया था. तो उसने तुरंत हाँ कह दी और कहा कि जब शीला का पति यहाँ से जाएगा तो वो शीला को राजेश बाबू की कोठी से ले लेगा. मैं भी ज़ोर ज़ोर से चिल्लाने लगी- आह चोदो मुझे … आह सर फ़क मी फास्ट प्लीज …कुछ देर की चुदाई के बाद उन्होंने मेरे गांड के छेद को खूब अच्छे से चाटा और मेरी दोनों टांगों को अपने कंधे पर रख कर लंड मेरी गांड में घुसाने लगे.

मैंने कहा- भाभी, मेरा लंड चूस दो न एक बार?वो तैयार हो गयी और उसने उठ कर मेरे लंड को मुंह में ले लिया और चूसने लगी. मैंने धीरे से उसके गालों को चूमते हुए उसके स्तनों को धीरे से एक साथ में जैसे ही मसला वैसे ही उसने अपने होंठों को खोल दिया. फिर मैं उसके ऊपर आ गया और उसका निचला होंठ अपने होंठों में दबा कर अच्छी तरह से चूसने लगा.

शीला ने उसे फटाफट चाय दी और फिर बोली- आप कपड़े दे दो तो मैं धो देती हूँ.

मैं- आंटी … क्या मैं आपकी ड्रेस को उठाकर आपकी गांड में लंड लगा लूं? चमड़ी से चमड़ी मिलेगी तो गर्मी अपने आप आ जायेगी. ग्रुप सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे हम भाई बहन और एक पड़ोसन भाभी ने रातभर सेक्स पार्टी की. अगले दिन मैं स्कूल गयी और मुझे स्कूल के एक अलग कमरे में ले जाकर फिर से टीचर ने चोदा.

माथे तक घूंघट डाल रखा था … आंखों में गहरा काजल, होंठों पर हल्की सी लाली और मधुर मुस्कान और लाज से झुकीं नज़रें; ये सब देख कर मैंने बरबस ही उसे अपने सीने से लगा लिया और उसे चूमने किस करने लगा. दोनों ने कुछ ही पल में मेरी लेखनी की जम कर तारीफ़ करते हुए कहा- आप लेखन में तो माहिर हैं ही, आदमी भी बहुत अच्छे हैं. इस तरह हमने कुछ देर तक उन दोनों की चूतें चूसीं और फिर उनको एक लाइन में लिटा दिया.

गीत ने मेरे लौड़े को अपने हाथ में पकड़ा और अपनी जीभ को मेरे लंड की नोक पर टच कर दिया जिससे मैं सिहर उठा.

ऐसा पहली बार था जब किसी ने मुझे इस क्रिया में हाँफने पर मजबूर कर दिया था. मैंने कहा- क्या पिताजी बाहर नहीं गए? उन्हें दो दिन किसी काम की वजह से बाहर जाना पड़ रहा था?मां- नहीं वो तो घर से जा चुके हैं.

अंग्रेजी लड़कियों की बीएफ फिर मैं उसके ऊपर आ गया और उसका निचला होंठ अपने होंठों में दबा कर अच्छी तरह से चूसने लगा. मेरा लंड तो पैंट के अन्दर बहुत टाइट हो गया था और इस बात को प्रीति ने भी नोटिस कर लिया था.

अंग्रेजी लड़कियों की बीएफ मेघा भी मेरे लंड से निकलता माल देख कर हैरान हो गयी और फिर वो खिसखिसाती हंसी के साथ कहने लगी- कहीं तुमने अपनी वीर्य की पिचकारी से स्क्रीन में दरार तो नहीं डाल दी!शांत होने के बाद मैंने उसको थैंक्स कहा और उससे कहा कि अब वो नहाने के लिए जा सकती है. बातें करते करते मैंने उससे पूछा कि आपकी अब तक शादी क्यों नहीं हुई है?मेरी इस बात पर वो थोड़ा उदास हो गई और कहने लगी कि बहुत लंबी कहानी है, कभी समय आने पर बताऊंगी.

मामी बोलीं- अतुल थोड़ा धीरे-धीरे डालियो … अचानक से मत घुसा दियो … नहीं तो मैं मर ही जाऊँगी.

स्वच्छता सेक्सी

जीजा साली का प्यार कहानी आपको अच्छी लग रही है ना?[emailprotected]जीजा साली का प्यार कहानी जारी रहेगी. इसीलिए मैं कोशिश करता हूँ कि अपने से बड़ी उम्र की औरतों के साथ चुदाई की मस्ती करूं. जब मुझसे भी रहा ना गया और मैंने उस बांहों में भर लिया, तब उसके कपड़ों से पता लगा कि वो भावना थी, जो काम-पिपासा के चलते कॉलेज लाइफ में ही धंधे पर आ गई थी.

[emailprotected]मैरिड लेडी कामवासना कहानी का अगला भाग:पड़ोसन भाभी का प्यार या वासना- 2. इस मस्ती में ही मेरा दूसरा हाथ बाजूवाली औरत की चुत के पास हिल रहा था. और रवीना ऐसा कुछ नहीं करती थी उनके साथ … बस हंसी ठिठोली की आदत थी उसकी.

मेरी सास ने भी मुझसे कहा- आपकी तबियत ठीक नहीं लगती, आप निष्ठा को लेकर घर चले जाओ.

दरवाजा खोलकर दोनों ने ही पहले मुझे बैठने को कहा- मतलब मैं चाहे जिधर से भी बैठूं, बैठना तो मुझे बीच में ही था. मेरा लंड काफी देर से खड़ा था सो पेट के निचले हिस्से में दर्द तो हो ही रहा था सो मैंने धीमे धीमे कराहना शुरू कर दिया और थोड़ी तेज आवाज में कराहने लगा. पिंकी ने एक फूल पत्तियों का प्रिंटेड स्कर्ट नुमा पजामा जो उसके टखनों और घुटनों के बीच तक लहराता हुआ आता था और एक काला स्लीवलेस टॉप पहन हुआ था.

मेरे कानों से लेकर गांड के छेद तक और मेरी चूत से लेकर मेरे पंजों तक मेरे शरीर का कोई अंग उन्होंने चाटे बिना नहीं छोड़ा. हुआ भी यही, भले प्रिंसीपल बात कर रहे थे … लेकिन उन्होंने मेरी नंगी गांड को देख लिया. उसका जब भी दिल करता, वो मुझे छेड़ देता और मैं भी उसका साथ बराबर दे रही थी.

आलू के परांठे और टमाटर की चटनी तो मेरे मोस्ट फेवरेट हैं, बट रहने दे निष्ठा, अभी नहीं. उधर रवि ने भी अपना लंड रिया की गांड पर लगा कर प्रेशर बनाया और रिया की गांड में लंड को घुसा दिया.

मतलब इसके आगे भी कुछ होता है ये तो मुझे तुम्हारे साथ ही करने के बाद पता चला. अस्मि- तो क्या आप मुझे चोदना चाहोगे डैडी? यदि नहीं तो फिर आपके लंड को मेरी चूत देख कर इस तरह खड़ा नहीं होना चाहिए था. विक्की अचानक हुई इस बेइज्जती से थोड़ा हिचका लेकिन फिर भी वो मेरे कहते ही अपने घुटनों पर आ गया.

तभी रवि बोला- क्या रंडी थी यार, उसके बारे में सोच कर मेरा लंड अभी भी खड़ा है!रमेश- हाँ यार, कुछ बात तो है इसमें!रवि- मेरा तो जी नहीं भरा.

नमस्कार दोस्तो … मेरी इस लम्बी सेक्सीकहानी के पिछले भाग में आपने जाना था कि रात को प्रतिभा दास की चुत और गांड चुदाई के बाद मैं सुबह जब उठा तो मेरी पुरानी केयर टेकर होटल की स्टाफ नेहा मेरे सामने थी. तीन दिनों तक ऐसा ही चलता रहा और प्रिंसीपल सर मुझे पढ़ने के बहाने हमेशा मेरे बदन को घूरते और हमेशा मुझे छूते रहते. फिर वहां पर कैसे मैंने आंटी को चूत में गाजर लेते हुए देखकर मुठ मारने का आनंद लिया.

मनजीत अब पूरी तरह से समर्पित है, मेरे लिए अच्छा अच्छा खाना बनाती है और खुलकर चुदवाती है. मैं कुछ देर बाद झड़ने को आ गया, तो मामी बोलीं- अतुल मेरी गांड में ही अपना पानी निकाल दे.

उस किताब पर एक नंगी लड़की की फोटो छपी थी और अंदर भी काफी सारी फोटो थी. अरे अभी इतनी जल्दी कहां से ठीक होगा, जब तक इसका पानी नहीं निकलेगा तब तक मेरा पेट दर्द होता ही रहेगा. इस गाली पर वो मेरे सीने पर जोर से नोंचते हुए बोली- बहुत गंदे हो तुम … हम दोनों बहनों को चोद कर मन नहीं भरा जो मेरी माँ भी चोदोगे?इस पर हम दोनों जोर से हँसे.

ब्लू 2009 फिल्म की रिंगटोन डाउनलोड करें

रोमांच और कामुकता के शिखर तक पहुंचाने का वादा है मेरा।अब कहानी बड़े रोमांचक दौर में पहुंच रही है.

आप जानो आपका काम जाने, अब जो करना हो आप खुद ही कर लो, थक गयी मैं तो बुरी तरह!” वो थोड़ा झुंझला कर बोली. कभी मेरा भाई मेरे होंठों को चूसता, मेरे गालों को काटता, तो कभी राजीव मेरी चूचियों को काटता, तो कभी गर्दन पर दांत चुभो देता. मैंने कहा- रानी पूरा सीन तो देखना संभव नहीं है … हाँ लंड घुसता हुआ देख पाएगी … खून अगर ज़्यादा निकला तो बहता हुआ भी देखने को मिल जायगा … अब मालूम नहीं कि तेरी सील कितनी तगड़ी है … ये तो जब तोड़ी जायगी तभी पता चलेगा … अगर पर्दा मोटा हुआ तो खून खूब निकलेगा वर्ना थोड़ा सा निकला तो ज़रूरी नहीं कि चूत से बाहर बहे भी … देखते हैं.

तभी नैना बोली- खाना मैंने बनाना है … मैं रमित से खुद ही अपनी मेहनत वसूल लूंगी. चूंकि बेबी रानी का चूचा मैंने पकड़ा था इसलिए उसकी बारी बाद में चुदने वाली थी. जोरदार चुदाई वीडियोपहले तो उसने ना में गर्दन हिलायी लेकिन मैंने उसके होंठों पर प्यार से किस करके कहा- प्लीज जान … एक बार कर दे ना!दोस्तो, हसीनाओं को छेड़ने के नियम में मैंने ये पढ़ा था कि लड़कियों को कैसे अपनी बात के लिए मनाया जाता है.

भाभी- वैसे संजय, तुम्हारी गर्ल फ्रेंड तो खुश रहती होगी, कितने समझदार हो तुम, कितना ध्यान रखते हो. मैं- मुझे अपनी गांड के छेद का स्वाद लेने दो डिअर। मेरे लंड को भी अपनी गांड में लेकर ऐसे ही ऊपर नीचे करो।मेरे कहने पर उसने डिल्डो को चूत से निकाल लिया और अपनी उंगली का सहारा लेते हुए उसे अपनी गांड में लेने लगी.

ये आवाज मेरे लंड को उसकी चुत की गहराई में उतरने के लिए जोश भर रही थी. मैंने उसको और उसने मुझको अपनी बांहों की गिरफ्त में इस कदर ले लिया लिया था कि हमारे बीच से हवा भी नहीं निकल पा रही थी. मैंने पम्मी के कंधे पकड़ कर उसे इस बात का इशारा दिया कि मैं अब आने वाला हूँ, मगर पम्मी ने हाथ के इशारे से मुँह में ही झड़ जाने के लिए कह दिया.

फिर मैंने रानी की भगनासा को रगड़ा तो रानी ने सी सी सी करके छटपटाना शुरू कर दिया. उसने मैक्सी उतार कर एक शॉर्ट नाइट ड्रेस पहन ली थी जो फ्रॉक जैसी थी और उसकी जांघों तक ही आ रही थी. ऐसे नहीं करते हैं देवर जी।और भाभी ने मुझे डाँटा और फिर प्यार से समझाया भी.

उस दिन मैं और आंचल दीदी भी उसी कमरे में थी, आंचल दीदी बाथरूम में नहा रही थीं और मैं बिस्तर पर लेटी हुई थी.

इसी बीच कम्पनी ने मुझे 6 महीने और रुकने का आग्रह किया, जिसे मुझे मानना ही पड़ा क्योंकि कंपनी ने मुझे बोला था कि मैं रिजाइन ना करूं. मैं अपनी आपबीती सौतेली मम्मी की चुदाई की कहानी का अगला भाग आपके लिए लेकर हाजिर हूँ.

और बहुत प्रयत्न के बाद जब मिली तो उसकी कीमत उसके वजन के कारण बहुत ज्यादा थी. मैंने पूछा- इतनी जल्दी खलास हो गई?नेहा- एक तो मज़ा बहुत आया, दूसरे कुछ मन में यह भी था कि कहीं मम्मी न आ जाये?वो उठी और बाथरूम चली गई. पर मुकेश की मां ने मुझे बाबा का आशीर्वाद दिलवाने और तीन दिन घर में रुककर सेवा करने के बदले अच्छी सी बहू मिले, ऐसा आशीर्वाद दिया.

मैंने पूछा- भाभी, कई दिनों से भैया घर पर नहीं आ रहे हैं, रात में आपको अकेले इस तरह से डर नहीं लगता है?वो बोली- नहीं, उनका होना न होना अब बराबर सा ही लगता है. देखो, तुम्हें मेरी चूत सूजी हुई तो नहीं लग रही है?कहते हुए रुचि भाभी ने अपनी चूत को दिखा दिया और उसकी चूत की सांवली होंठनुमा फांकों को फैला दिया. प्लीज़ संजय, प्रॉमिस करो कि तुम हमेशा मुझे और मेरी फैमिली को सेफ रखोगे.

अंग्रेजी लड़कियों की बीएफ तो मैंने जाते हुए उसका हाथ पकड़ लिया और उसे अपने ऊपर गिराते हुए बोली- मैंने आज तक तुम जैसा शरीफ लड़का नहीं देखा. थोड़ी देर में भाभी की सिसकारियां और आवाजें बेतहाशा बढ़ गई- आई … आई … आ … आ … ईई … ओ … ईई.

लड़की लड़की की सुहागरात

मैंने खुश होकर उसकी चूत चूम ली तो निष्ठा ने भी अपने घुटने मोड़ कर ऊपर कर लिए और अपनी चूत को अपने हाथों से खोल दिया. दोस्तो, ये उस अनजान कॉल से लौंडिया को चोदने की सेक्स कहानी थी … अब अगर आप सभी का प्यार मिला, तो अपने दूसरे अनुभव को भी शेयर करूंगा. मैं- लगता है तुमने शायद कुछ देर पहले ही एक वीडियो सेक्स चैट सेशन खत्म किया है.

मैं- तो क्या हुआ, क्या शादीशुदा गर्लफ्रेंड नहीं हो सकती!भाभी- किसी बिना शादीशुदा को पटाओ … हा हा हा हा … वैसे भी रजत को पता चलेगा तो जान ले लेंगे … हा हा हा हा. जिगोलो बनने से पहले न मेरे पास पैसा था और न सेक्स ही करने के लिए मिलता था. सेक्सी ब्लू पिक्चर वीडियो ओपनमैंने उनसे पूछना चाहा तो उन्होंने मुझे चुप करा दिया और बोलीं- तुमको जो काम आता है, तुम उस पर दिमाग लगाओ.

उसने अपने हाथ ऊपर उठाकर आकाश के घुंघराले बालों को पीछे से पकड़ कर उसको अपनी ओर झुका लिया.

लड़के वालों को भी इंदौर बुलाया जा रहा है।खुशी ने आगे लिखा- मैं तुम्हारी टिकट बुक करा के तुम्हारे पास भेज दूंगी. उसने लंड अपनी चुत के छेद पर सैट किया और धीरे से लंड को अपनी चुत में उतारने लगी.

कोमल- वैसे तो तुम दोनों अब एक दूसरे को जान गए हो … लेकिन फिर भी मैं तुम दोनों का परिचय करवा देती हूँ. अब तक मुझे भी उन दोनों ने पूरा नंगा कर लिया था और बेड पर लिटा लिया था. मुझसे भी रहा नहीं गया, तो मैंने उन्हें अपनी बांहों में कसकर पकड़ा और उनके गाल, होंठ और गर्दन पर चूमने लगा.

कॉलेज के फाइनल ईयर में मैं अपने कॉलेज की उत्सव कमिटी की हेड हुआ करती थी.

अब रुक जा तुझे तो क्या साली, मैं तेरा पूरा खानदान चोद दूंगा … बहुत तड़पा हूँ. फिर पैंटी वाले हिस्से को छोड़ कर उसकी नाभि से लेकर चूचों तक भर दिया. विक्की ने मेरे मुंह में जीभ डालकर मेरी लार को खींचना शुरू कर दिया और मैं भी उसके प्रीकम वाली लार को अपने मुंह में खींचने लगी.

आसाराम बापू की कहानीरीता उसके केबिन में गयी तो उसके घुसते ही रमेश बोला- पता है आज कौन आने वाला है?रीता- कौन?रमेश- गेस्स करो।रीता- जरूर रवि सर आ रहे होंगे।रमेश- अरे यार, तुम्हें कैसे पता चल जाता है!रीता- आज आपकी एक्साईटमेंट देख कर पता चल रहा है।रमेश- आज तैयार रहना, दो-दो लंड एक साथ लेने के लिये।रीता- आप फिक्र क्यों करते हैं सर, भगवान ने यह दो छेद दिए किसलिए हैं? आज आप दोनों के पसीने छुड़ा दूंगी. फिर तुम्हें वहां भी तो जाना है, जहां तुम्हें मेरी प्रतिभा की प्रतिभा को जांचने का अवसर मिलेगा.

बीपी बीपी शॉट

मैं तेजी से चूत के दाने को चाटने लगा। मैं जानता था कि किसी भी पल मुझे अब वो मीठा अमृत मिलने वाला है जिसके लिए मैं इतना तरस गया था. उन दिनों लाइट बहुत कम ही जाती थी तो घर में इन्वर्टर नहीं लगवाया था और रोशनी का कोई दूसरा साधन भी घर में नहीं था. इसके बाद मैंने एक रिक्शा लिया और एक थ्री-स्टार होटल में पहुंच कर उसी रिक्शे से स्टाफ को वापिस भेज दिया.

मैंने एक गहरी सांस ली और रानी की कमर नीचे को धकेलते हुए से तेज़ी से लंड को गुड्डी रानी की कुंवारी बुर में सूत दिया. उसने वापस से पूछा- तुम ये क्या कर रहे थे … बताओ नहीं, तो मैं यहां पर सब को बता दूंगी. मुझे भी मज़ा आ रहा था, मैं भी मस्ती में आआह्ह्ह ह्ह्ह्ह जानू ज़ोर से चोद मुझे आआह्ह्ह ह्ह्ह्ह करने लगी.

कुछ ही देर में उससे बर्दाश्त नहीं हुआ तो नैना उछलते हुए गालियां देने लगी- मादरचोद आह … साले लंड क्यों पलता … भैन के लौड़े … आह और जोर से … आह आह … चोद न भोसड़ी के … आह मैं आज से तेरी रंडी, रखैल … सब कुछ हूं. अब उसको अच्छा लगने लगा और वो अपनी गांड उछाल-उछाल कर लंड को चूत में अपने अन्दर लेने लगी और जोर जोर से सिसकारने लगी- आह्हह … अजय … क्या लंड है तुम्हारा! आह्ह … तुम तो सच में कमाल हो … अच्छी मेहमाननवाजी है … आह्ह चोदो … यार … और जोर से चोदो … आईई … आह्ह और तेज।मैंने धीरे धीरे अपनी स्पीड बढ़ाते हुए अब जोर-जोर से उसकी चूत में लंड अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया. रेशमा- और?मैं- और दूसरे नम्बर पर रूपा आई थी, क्योंकि रूपा की हाइट अच्छी थी, उसने कान में चूड़ी के आकार की बाली पहन रखी थीं, जो किस करते वक्त मेरे गालों से टकरा रही थीं और मसाज वालों का स्टाइल भी डीसेंट होता है.

वे समझ गयीं कि चुदाई की आवाजें देवर जी ने सुन ली हैं।दोस्तो, आप लोगों को मैं अपनी भाभी जी के बारे में बताना ही भूल गया. मैंने उसके आँसू पोंछते हुए उससे कारण पूछा तो वो बोली- मुझे बहुत डर लगता है कि कहीं तुम मुझे छोड़ न दो.

उन्होंने मेरी परेशानी देखते हुए मुझे कुछ पैसा दिया खाने को और मुझे बोली- मेरी पहचान का एक घर है.

पर इस डर से कि कहीं छेद बढ़ न जाए और शादी के बाद दिक्कत न हो, उसने ये रिस्क फिर कभी नहीं लिया. हिंदी में पोर्नकोई बीस मिनट की मस्त चुत चुदाई के बाद मैंने अपने लंड का पानी पम्मी की फुद्दी में ही छोड़ दिया और हम दोनों चिपक कर अपनी साँसों को नियंत्रित करने लगे. बिहारी भाभी की सेक्सी वीडियो[emailprotected]जिजा साली चुदाई कहानी का अगला भाग:चालू अमीर लेडी की वासना पूरी की. साँड अपने अगले पांव से भैंस को अपनी तरफ खींच खींच कर उसकी चूत में झटके मार रहा था और भैंस आंगन में चुपचाप खड़ी चुद रही थी.

मेरे पैरों के पास बैठते ही उसने मेरा लौड़ा अपने कोमल होंठों में ले लिया।काजल रुको … बस एक मिनट … आह्ह!” मेरे मुंह से इतना ही निकला था कि मेरा माल उसके होंठों पर छूट गया.

इस बार रेशमा बोल पड़ी- तुम तो बड़े खिलाड़ी निकले … जरा बाकियों के बारे में भी तो बताओ. दरवाजे को धीमे से खोलना चाहा तो वो भीतर से बंद मिला तो मैं वापिस लौट आया क्योंकि इतनी रात में नॉक करके निष्ठा को जगाना मुझे उचित नहीं लगा. चूचियों के पास तो कई बहुत बड़े लाल लाल निशान थे, जो सूख कर भूरे रंग के हो गए थे.

मैंने अपनी जीभ को उसकी चुत के चारों तरफ फेरा, तो मुझे एक मस्त चॉकलेटी स्वाद आया. मैंने नेहा के दोनों पैरों को थोड़ा फैलाया, नेहा ने शरमा कर अपनी हथेलियों से चेहरा ढक लिया. अब हम दोनों ऊपर जाने लगे तो उसने पूछा- तुम अकेली रहती हो?तो मैंने उसको बोला- हाँ, अकेली रहती हूँ।अरे दोस्तो, मैं आपको उसका नाम बताना तो भूल ही गयी.

सेक्सी फोटो नंगा फोटो

अच्छा मुझे एक बात सच सच बताओ?वो बोली- हां पूछो, आज मैं तुम्हें सब कुछ बता दूंगी. अगर मैं जबरदस्ती करूं तो ये थोड़ा ना नुकुर करेगी, नखरे दिखायेगी, हाय तौबा मचायेगी. साथ ही उसकी चूत को जीभ से रगड़ने लगा और दूसरे हाथ से उसके मस्त बोबे मसलने लगा.

तभी तो ये तुझे अपनी गदराई जवानी के जलवे दिखा रही है … अपने बूब्स और क्लीवेज तुझे दिखा रही है, बार बार तेरी ओर मुस्कुरा कर अपनेपन से देख देख कर अपने बालों की लटों को संवार रही है.

वर्ना मेरी बीवी तो मिशनरी आसन के अलावा और कुछ करने ही नहीं देती है.

फिर मैं उसके पंजों की ओर मुंह करके उसके मुंह पर चूत रख कर बैठ गयी और अपनी चूत को चटवाने लगी. तो क्या तुम एक बार फिर से ऐसा ही गर्म सेक्स चैट सेशन करने के लिए तैयार हो?वानी- आप उसकी फिक्र न करें डार्लिंग. హిందీ బిఎఫ్ సెక్స్ వీడియోస్स्पंज की तरह गर्म चूचियों की निप्पल इस समय तनी तनी थी और मुझे उन्हें अपनी उँगलियों से दबाने में मजा आ रहा था।मैं तब आराम से दीदी की दोनों चूचियों को अपने हाथों से दबाने लगा और कभी कभी निप्पल खींचने लगा। धीरे धीरे चूमते हुए मैंने रीना के नाभि के नीचे कटि प्रदेश पर आक्रमण कर दिया।अब रीना के मुँह से रह रह कर मादक सीत्कारें फूटने लगीं.

कल तो वैसे भी संडे है इसलिए कोई जल्दी नहीं है, देर से उठेंगे, मैं भी आराम से ही उठूंगी. कभी मेरा भाई मेरे होंठों को चूसता, मेरे गालों को काटता, तो कभी राजीव मेरी चूचियों को काटता, तो कभी गर्दन पर दांत चुभो देता. आह उसके बड़े-बड़े गोरे चूतड़ों के बीच उसकी हल्की ब्राउन कलर की गांड मुझे लुभाने लगी थी.

मेरा ट्रिप बस एक दिन का था, तो मैं वापस दिल्ली आ गया और उस दौरान मुझे भाभी को चोदने का मौका न मिल सका. अपने चूड़ी वाले हाथ उनके चूतड़ों तक ले जाकर उनकी कमर पर फिर आ रही थी। इस बीच में मुझे इतना मजा आ गया कि मैंने अपने होंठ उसके मुंह में दे दिए और उनसे तेज तेज धक्के मारने के लिए कहने लगी.

मैं पूरी ताकत से उसकी चूत में धक्के मारते मारते उसकी चूत के अन्दर ही झड़ गया.

मुझे ऐसा करते देख संजय ने नेहा की चूची चूसते हुए गीत की पैंटी में अपना एक हाथ डाल दिया जिससे गीत थोड़ा मचलने लगी. उसकी गोलाकार घंटी के आकार की चूचियां उसके टॉप के अंदर कसी हुई थी और उसकी क्लीवेज लाइन को दर्शा रही थी. हम सभी हॉट होने लगे थे और मैंने गीत के मम्मों को छोड़ा और संजय से मम्में चुसवा रही नेहा को पकड़ लिया.

एक्स एक्स पंजाबी मेरे अंकल एक मूर्तिकार थे और अपनी एक दुकान चलाते थे जिससे उनका गुजारा होता था. मेरा लंड उनके चूतड़ों की दरार पर लगा हुआ था, जिसे भाभी अच्छे से फील कर पा रही थीं.

आज चांद भी प्रीति के हुस्न को देख कर जल रहा था।चाँदी जैसी चूत है उसकी, उस पर सोने जैसे बाल,एक प्रीति ही धनवान है यारो, बाकी सब कंगाल,जिस रस्ते से वो गुजरे, सबके लण्ड खड़े हो जाएँ,उसकी चूत की कोमल आहट, सोते लण्ड उठाये. उसमें लवी खुल कर अपने से चुदाई की बातें कर रही थी।मैं तो पढ़ कर हैरान रह गया के जिसे हम सभी बच्ची समझ रहे थे, वो तो कब की जवान हो चुकी है। कितनी तड़प थी उसको अपने पति से मिलने की!और उस से भी ज़्यादा, उसके साथ सेक्स करने की।लेकिन इस बार कुछ और भी नया दिखा. अब भला कौन तैयार होगा?पर जिसने भी उसकी शर्त मान ली, उसकी ड्रेस का डिज़ाइन इंस्टिट्यूट में सबको पसंद आता.

वेश्याओं का धंधा

भाभी जोर जोर से आवाज करने लगीं- आहहह जान … कितना मस्त चूसते हो … आह और जोर से चूसो मेरी जान … उम्मम और जोर से. इन सब से निपट कर साली जी ने शर्मिष्ठा के कपड़े और गहने यथा स्थान रख दिए और सादा सा सलवार कुर्ता पहिन लिया. अपने शरीर को उसके शरीर से रगड़ते हुए एक एक करके उसके स्तनों को चूसने लगा.

रवि एक छोटी बोतल व्हिस्की की लाया था तो थोड़ी थोड़ी सभी के गिलास में लुढका दी. फिर वो झुक कर मेरे निप्पल चूसने लगी … साथ ही साथ अपनी गांड उछालने लगी.

हॉट गर्ल सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मैं अपने ऑफिस की शादीशुदा लड़की को होटल में चोद रहा था.

मगर अपने पति के द्वारा खुश न होने और अपने जिस्म की आग को शांत न कर पाने के कारण उसने कुछ बाहरी लोगों से रिश्ता बना लिया।तो आगे की कहानी आप रंजीता की जुबान से पढ़िये।दोस्तो, मेरा नाम रंजीता है और मेरी उम्र 25 साल है। मेरा फिगर 36-30-36 का है। रंग गोरा और कद 5 फिट 5 इंच।मैं अपने कॉलेज के समय से ही सेक्स करने लगी थी. आप अपनी प्रेम, सेक्स से सम्बंधित समस्याओं के समाधान के लिए भी मेल से संपर्क कर सकते हैं. लंड चुत का मिलन इतनी तेजी से हो रहा था कि ठप ठप की आवाज़ आने लगी थी.

नेहा बोली- थोड़ा सब्र करो, मौका आने दो, मैं कहीं भागी जा रही हूँ क्या?वो बाहर निकल गई. ऐसे भी किसी खूबसूरत बगीचे में किसी एक फूल की प्रशंसा अच्छी बात नहीं, सारे फूलों की महक एक साथ मिलकर ही वादियों मदहोश कर रही है. उस मकान में मेरे मकान मालिक और उनकी पत्नी और दो बेटियां भी थीं, जिनमें से एक की शादी हो गयी थी और वो चंडीगढ़ में जॉब करती थी.

उन्होंने उठकर दरवाजे की कुंडी लगाई, बेड के ऊपर अपनी टांगें चौड़ी की और मेरी पीठ अपनी छाती की तरफ करके मुझे बांहों में लेकर बैठ गई और मेरी दोनों चुचियों को पकड़ लिया.

अंग्रेजी लड़कियों की बीएफ: मैंने उसकी गोटियों पर तमाच मारा और उसको चिल्लाने के लिए विवश कर दिया. तो जब चुदाई के लिए चूत न मिली तो मैंने घर में पानी वाली एक बोतल उठा ली।आपके घर में भी होगी, प्लास्टिक की बोतल, चौड़े मुंह वाली, जिसमे पानी भरके फ्रिज में रखते हैं।मैंने तो थूक लगा कर उसमें ही अपना लंड घुसेड़ दिया। उस दिन पहली बार चुदाई का मज़ा आया.

पहले भी जब पिताजी काम से बाहर रहते हैं, तो मैं मां के साथ ही सोता था. फिर रमेश मेरे मुंह में झड़ गया और कमल ने एक बार फिर मेरी गांड में लंड पेल दिया. मैंने पीछे हाथ ले जाकर भाभी की चूत में उंगली से कुरेदना शुरू कर दिया.

उनकी बातों से लग रहा था कि उनके पति-पत्नी के रिश्ते में जरूर कुछ ठीक नहीं चल रहा.

हाय फ्रेंड्स … मैं एक बार फिर से आपको उस रॉंग नम्बर वाली लौंडिया की चुदाई की कहानी आगे सुनाने आ गया हूँ. मैंने भाभी को कमर से पकड़कर अपना कड़क तना हुआ लौड़ा चूत पर रखा और अंदर डालने लगा. मैंने उसकी गर्दन को चूसते हुए बाइट के निशान दे दिए और लगातार पूरी गर्दन पर दांतों के निशान बना कर लाल कर दी.