गांव की औरतों की बीएफ पिक्चर

छवि स्रोत,मुसलमानी नंगी सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी बीपीएल: गांव की औरतों की बीएफ पिक्चर, हम दोनों की नज़र बार-बार इक-दूजे की ओर उठती, नज़र से नज़र मिलती, दोनों के होंठों पर एक मुस्कान आ कर लुप्त हो जाती और बस …एक अज़ब सी बेखुदी की कैफ़ियत तारी थी दोनों पर.

सरदारों की बीएफ

थोड़ी देर खेलने के बाद मैंने अपनी जीन्स की चैन खोली और उसे मेरा लंड पकड़ा दिया और कान में धीरे से बोला चूसने के लिए … लेकिन उसने मना कर दिया चूसने के लिए!फिर मैंने भी ज़िद नहीं की और वो मेरे लंड से खेलने लगी. पूरी नंगी ब्लू फिल्मचाची के नहाकर आने के बाद, मैं बाथरूम में जाकर उनकी ब्रा और पैंटी सूंघता था.

मैंने कहा- लेकिन मैं देखूंगा कैसे?तब मैडम ने अपने ब्लाउज के नीचे के दो हुक खोल दिये और ब्रा ऊपर कर ली और दोनों चुचे बाहर निकाल दिए. खेत में का बीएफअगले दिन सुबह मैं ब्रश करते करते बाहर गया … तो उन दोनों में से एक लड़की दिखी … पर मैं उससे कुछ नहीं बोला.

अब काम कम हो रहा था और एक दूसरे की अंगुलियों और हाथों से छूने का काम ज्यादा हो रहा था.गांव की औरतों की बीएफ पिक्चर: सुबह जब हम उठे तो देखा कि मौसी और मौसाजी दोनों तनाव में थे और फोन पर बातें कर रहे थे.

मुझे उसकी आदतों के बारे में पता लगने लगा था और वह मेरे बारे में जानने लगी थी.फिर मैं जल्दी मिलने का वादा करके वहाँ से निकल गया।वो मुझे गेट तक छोड़ने आई।तो दोस्तो, कैसी लगी कहानी?अपनी मेल और फेसबुक आईडी यहाँ दे रहा हूं सुझाव जरूर दें! आपके कीमती सुझाव से ही कहानी में और सुधार हो पाता है.

चाइना सेक्सी बीएफ - गांव की औरतों की बीएफ पिक्चर

आप जानती भी हैं कि मुझे रात में ड्रिंक करने की आदत है इसलिए यहाँ पर तो वह सब हो नहीं पाएगा.सोनम ने हंस कर कहा- बेशक!हमारी बात को बीच में ही काटते हुए सोना बोली- सीधी सीधे मुद्दे की बात करो ना यार अंशु.

इस थका देने वाली चुदाई के बाद नींद आ गई थी और पता नहीं कितनी देर हम वहाँ नंगे ही पड़े रहे। जब हम उठे तब लगभग रात के 9 बज चुके थे। उठने के बाद पेट में बहुत ही ज्यादा भूख महसूस हो रही थी. गांव की औरतों की बीएफ पिक्चर उसकी चूत एकदम सनी हुई थी लेकिन उसने चूत को क्लीन शेव किया हुआ था। उसकी चूत को देख कर लग रहा था कि वो भी पूरी तैयारी में आयी हो। मैंने एक उंगली उसकी चूत में डाली और वो छटपटाने लगी लेकिन मैं नहीं रुका। मैं उंगली को और अंदर डालता रहा। उसे दर्द हो रहा था। मैं बीच-बीच में उसकी योनि पर हाथ फेर कर फिर से उंगली डाल देता था.

मैंने उससे कहा- कब तक पैसेन्जर ट्रेन चलाओगी, राजधानी एक्सप्रेस चलाओ.

गांव की औरतों की बीएफ पिक्चर?

इससे पहले कि वह कुछ बोलती, मैं बोला- चलो यहां से, किसी सही जगह चलते हैं … वरना खड़े खड़े लोग शक करेंगे. अब तुझे जो करना है सो खुद कर, मैंने तुझे सही रास्ता दिखा दिया है बस!” डॉली ने बात ख़त्म की. मैंने उनकी मंशा समझ ली- अगर मैं आपको छोटा दिख रहा हूं तो एक बार आज़मा लीजिये न.

रीना ने मेरी आँखों में वासना का अनुभव किया फिर इतराते हुए बोली- उन्होंने मेरी कुर्ती उतार दी, मैं गुलाबी ब्रा में थी। वो पागलों जैसे मेरे बूब्स दबाने लगे, फिर मेरी ब्रा खोल दी और मेरे बूब्स चूसने लगे, मेरे निप्पलों को हल्के हल्के चाटने लगे और बीच-बीच में काटने भी लगे. तो भाभी ने बोला- हां यार मुझे भी नींद नहीं आ रही है, चलो मैं भी तुम्हारे साथ मूवी देख लेती हूँ. अब मुझसे रहा नहीं गया और मैंने पूरा का पूरा लंड सुमन की बुर में डाल दिया तो वो जोर से चीखी उम्म्ह… अहह… हय… याह… तो मैंने उसके होठों पर होठ रख दिया और लिपलॉक कर दियासुमन की आँखों से आंसू बह रहे थे और वो मुझसे छुड़ाने की भरपूर कोशिश कर रही थी.

वो मेरे लंड को पकड़ कर अपने मुँह में लेने लगी- मैं बिना लंड लिये पहली बार इतना झड़ी. लेकिन मेरा लंड सिर्फ 6″ का है और मेरे अब्बू का, मैंने देखा तो 7″ से भी थोड़ा ज्यादा ही था. मैंने बगल के टेबल पे रखी नारियल के तेल की शीशी उठाई और उसको उसकी गांड पे धार लगा कर तेल डाल दिया.

अब मेरे अंदर कुछ हिम्मत सी आ गई और मैं सोचने लगा कि बस अब चाची को अपनी बातों में फंसाना है किसी तरह भी. मैं हिंदी जगत की सबसे लोकप्रिय सेक्स स्टोरी साईट अन्तर्वासना पर पहले भी आ चुका हूँ.

एक गिलास ही क्यों लाये हो? तुम क्या चाहते हो कि मैं ना पीयूं?”मेरे ये कहते ही वो बोला- अरे नहीं नहीं मेडम, ये आपके लिए ही है, आप लीजिए, मैं अभी ड्यूटी पर हूँ न … तो मैं नहीं पी सकता।मैंने उसके हाथ से गिलास ली और उसमें एक पेग बनाया और पानी डालकर घूंट लेने लगी लगी, वह भी वापस बाहर कार के बोनट पर जाकर कार सही करने लगा.

शाम के लगभग 6:00 बजने वाले थे और बादलों और बरसात की वजह से अंधेरा होने लग गया था मेरा दिल बैठने लग गया.

कुछ भी गलत महसूस नहीं हुआ, बल्कि ऐसा करके मुझे उसे खुश करने का दिल किया. ये एक इंग्लिश मूवी थी लेकिन दोस्तों मुझे इंग्लिश मूवी का बिल्कुल भी शौक नहीं है, इसलिए मैंने सोचा कि यार मैं तो बोर हो जाऊंगा. वो मेरी बात समझ गई और बोली- कहो तो मैं तुमको भी खुश कर सकती हूं, पर प्लीज़ ये फोटो तुम किसी और को मत देना … नहीं तो मेरे घर वालों की बहुत बेइज्जती होगी.

प्लान के मुताबिक मानसी ने एक नंगी तस्वीरों वाली किताब पहले से ही अपने बिस्तर पर तकिये के नीचे रख ली थी. अब मैं वो टीचर के बारे में बता दूँ … उनकी उम्र 40 साल के आस पास होगी और उनके बूब्स का साइज 34 या 35 के आसपास होगा और गांड भी 40 की होगी मतलब कुल मिलाकर चोदने लायक थी. याल्लाह … इसे देखकर तो लोगों के लंड खड़े हो जाते होंगे?और फिर वो सभी वहीं मुट्ठ मारने लग जाते होंगे?ये तो सरासर गलत बात है जी … बेहूदगी है ये तो … इससे तो हर जगह गंदगी फ़ैल जाएगी.

बारह बजते ही मैं अपने कमरे से बाहर निकल कर पीछे की दीवार से कूद कर ऋतु के घर के पीछे जाने लगा, तो उसी समय अनुषी ने भी मुझे देख लिया.

जैसे ही उसका कुछ दर्द कम हुआ, मैंने लंड हल्का हल्का अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया. जब बीयर का हमारा पहला ग्लास खत्म हो गया तो मैं दूसरा बनाने के लिए उठा तो उसने कहा- एक ही बनाना, अब दोनों एक में ही पियेंगे. इसलिए जब उसका मैसेज आया, तो मैं उठकर उसकी छत से होते हुए उसके घर में अन्दर चला गया.

पुष्पिका की चूत चोदने की प्लानिंग दिमाग में चल रही थी मगर समझ नहीं आ रहा था कि यह सब होगा कैसे? यही सोचते-सोचते मैं कब सो गया, पता ही नहीं चला।सुबह मेरी बहन पुष्पिका की आवाज से ही मेरी आँखें खुलीं. जब लंड से पूरा माल निकल गया, तो मैं निढाल होकर रेखा के ही ऊपर गिर पड़ा. राहुल के लिए यह पहला अनुभव था जब किसी ने उसका लंड खाली किया हो और वो ही उसको पी गयी हो.

उस दिन से उसके बाद वह जब-जब नहाता, मैं रोज उसे खिड़की से झांक कर देखता.

उसने मुझे इतना टाइटली हग किया था कि उसके बड़े बड़े चूचे मेरे सीने पर दब रहे थे. मैं अर्पित इंदौर का रहने वाला उच्च शिक्षित युवा हूँ और एक सम्पन्न परिवार से सम्बन्ध रखता हूँ.

गांव की औरतों की बीएफ पिक्चर कामवर्धक दवा ने अपना पूरा असर किया था मौसी की चुदास पर इसलिए मौसी बस मेरे लंड से चुद कर शांत होना चाह रही थी. मगर फिर मैंने सोनू की जीन्स की चेन खोल दी और उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहला दिया.

गांव की औरतों की बीएफ पिक्चर आज बड़ा प्यार उमड़ रहा है मेरे ऊपर?उसने एक हल्का सा मुक्का मेरे सीने पर ठोकते हुए कहा- आप बड़े वो हैं?फिर वो शिथिल हो गयी, उसके शिथिल होने से मैं उसकी पीठ सहलाते हुए बोला- अरे नराज हो गयी क्या?रेखा- अरे नहीं ऐसी कोई बात नहीं है. मैं उसके करीब गया और उसको हैलो बोला तो वो भी मुझे देख के मुस्करायी और हैलो बोली.

आप अगर दिल्ली के आसपास रहते हैं, तो आपको पता ही होगा कि वहां पे सिर्फ जोड़े ही मिलते हैं.

सेक्सी ब्लू फिल्म दिखाइए इंग्लिश में

वो दिन मेरे खुशी का पहला दिन था … क्योंकि उन्होंने भी मुझे इशारा किया. अब शुभम जी ने अपनी स्पीड बढ़ा दी, जिससे मैं समझ गयी कि अब इनका भी होने वाला है. हम दोनों इतनी जोर से एक दूसरे को जकड़े हुए थे कि हमारे बीच हवा भी नहीं निकल सकती थी.

पर मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी कि भाभी को पकड़ के उसके चुचे को कस कर दबा दूँ और भाभी की चूत में अपना पूरा लंड घुसा दूँ. कई फिल्मों में तो एक लड़की को दूसरी की पोट्टी खाते हुए भी देखा था लेकिन इस तरह से अपनी आंखों के सामने मैंने चूत से निकलने वाला पीरियड का ब्लड नहीं देखा था. मुझे मज़ा आ रहा था, मैं चुपचाप खड़ी हुई मज़े ले रही थी।मुझे उसने अपनी तरफ घुमाया ओर मुझे दीवार से लगा दिया और मेरे लबों चूमने लगा.

साली छिनाल, आज मैं तेरी चूत को चोद-चोद कर कुएं जितनी गहरी कर दूंगा.

वह मुझे जैसे रंडी समझ कर मेरे मुंह में धक्के लगा रहा था और मेरा दम घुटने लगा था. जब भी मौका मिलता है दोनों ही पास के किसी शहर में कार या टैक्सी से निकल जाते हैं और एक-दूसरे की प्यास बुझाते रहते हैं. वो भी समझ गयी थी कि मैं ज्यादा चिपक रहा हूँ, पर मुझे कुछ नहीं कह पाई.

अंकल के हाथ अम्मी के मम्मों पर थे और वो उन्हें बेदर्दी से मसल रहे थे. मैंने बगल के टेबल पे रखी नारियल के तेल की शीशी उठाई और उसको उसकी गांड पे धार लगा कर तेल डाल दिया. खाने के बाद मैं फिर से उसको चोदना चाहता था, पर वो बोली- अभी नहीं, पहले मुझे थोड़ी देर आराम करने दो.

क्या मस्त मजा था, क्या आनन्द था, जो बस महसूस किया जा सकता था … बताया नहीं जा सकता था. ऊपर बढ़ते हुए मैंने उसकी चूत पर देखा, तो उसकी बिना चुदी चूत हल्की झीनी सी कैप्री में फूली हुई नजर आ रही थी.

सोनम रानी, फिर तो एक ही तरीका है कि तू किसी से जी भर के चार छः बार चुदवा ले. मैं झटपट उठा, मार्केट गया, कल के लिए सब्जी वगैरह खरीद कर, होटल से सभी के लिए खाना ले आया. मेरी नंगी छाती पर उसके नंगे चूचे अब टच हुए तो सेक्स की आग और भड़क गई.

मैंने देखा कि कई बूढ़े आदमी भी सामने से आते हुए उसकी चूत की लाइन को ताड़ रहे थे.

उसने अपना 8 इंच का लंड मेरी चुत पर सैट किया और धीरे से धक्का दे दिया. अगर आप लोगों का अच्छा रेस्पोन्स आया तो मैं अपनी अगली चुदाई की कहानी भी जल्दी ही लेकर आऊंगी. विक्रम को मन ही मन गुस्सा आ रहा था पर साथ में उत्तेजना भी होने लगी थी- फिर आगे क्या हुआ, बताओ मुझे पूरा एक-एक शब्द नहीं तो मुझसे बुरा कोई नहीं!रीना डरते हुए- फिर वे मेरी गर्दन पर चुम्बन करने लगे, पता नहीं मैंने विरोध क्यों नहीं किया, उल्टा साथ देने लगी, मुझे उनका स्पर्श अच्छा लगने लगा। वो अपने हाथों से मेरे बूब्स ऊपर से दबाने लगे और फिर अंदर मेरी कुर्ती में हाथ डाल कर पूरा जिस्म सहलाने लगे.

उसके दोस्त ने मेरा हाथ पकड़ कर बिठा दिया और कहा- संभल के … पहले कभी ट्रक में बैठे नहीं क्या?मैंने कहा- आपने झटका ही इतनी जोर से दिया कि मैं डर गया. वो ‘आह हम्मम्मय सीसीईई हम्ममम हम्म…’ की आवाजें निकलते हुए जर्क लेते हुए झड़ रही थी … इस वक्त वो कांपते हुए झड़ रही थी.

दो सुलग़ते हुऐ जवां ज़िस्म, ये नज़दीकियां और सबसे क़ातिल तो यह तन्हाई … आसार अच्छे नहीं थे. लेकिन थोड़ी से बाद अति उत्तेजनावश वो पागलों की तरह मेरी चूत को चोद रहा था. मेरी रीजनिंग और मैथ्स बहुत अच्छा था, तो धीरे धीरे मैंने क्लास टीचर का और सभी लोगों का दिल जीत लिया.

सेक्सी चुदाई लड़का

सभी को मैं दिल से धन्यवाद करती हूं, बस इसी तरह आपका स्नेह और प्यार मिलता रहे.

मैंने तुरंत उनके पास जाकर वापिस घुटनों के बल बैठकर उनकी साड़ी ऊपर कर दी और उनकी चुत में उंगली डालकर अंदर बाहर करने लगा. साहिल उठ कर दरवाजा खोलने के लिए गया तो दरवाजे पर समीरा बानू खड़ी थी. तुम लड़कों का सही है, कुछ भी पहन लिया, हम औरतों और लड़कियों की फिटिंग का हमेशा प्रॉब्लम होता है, ब्लाउज का एक इंच भी कम ज्यादा हो गया तो दिक्कत हो जाती है।”चलो टीशर्ट ही सही है, यह भी काफी लंबा है.

(आपका कितना बड़ा है जी!)तो मैंने हंसते हुए लंड हिलाया और कहा- हां जी … हुन मजे भी चक्को जी … (अब मजे भी लो!)भाभी ने आंख मार दी. मगर दो तीन धक्के उसकी चूत में लगाने के बाद मैंने उसकी गांड पर लंड को सेट कर दिया. ऑंटी के साथ सेक्स व्हिडिओमैंने बिना देरी किए उसके होंठों को अपने होंठों में दबा लिया और उसे चूसने लगा.

पर डॉली से मेरी दोस्ती चलती रही और मैं जब भी उसके घर जाती, हम दोनों उसके कमरे में बंद हो जाते और पूरे नंगे होकर एक दूसरे में अंगों से खेलते, चूत से चूत घिसते रगड़ते मुट्ठी में भर भर के भींचते. बस एक बार धक्का लगना क्या शुरू हुआ कि फट-फट, फक-फक की आवाज सुनाई पड़ने लगी.

इतनी कम उम्र में इतनी फैल गई है तेरी चूत … मगर मेरी रांड तू ये नहीं जानती कि मेरा लौड़ा इन उंगलियों से दस गुना ज्यादा बड़ा है. … बहुत दर्द कर रहा है … इतना मोटा लंड मेरे पति का भी नहीं है, जल्दी हट. वापिसी में लिफ्ट में रजनी ने राहुल को होंठों पर किस किया और बोली- फ्रेंड्स … इतना तो चलेगा न! बस इससे ज्यादा कुछ नहीं.

उसने गाउन के नीचे कुछ भी नहीं पहना था, बस एक पैंटी थी नाम मात्र की!मैं तो उसकी खूबसूरती देख कर बस देखता ही रह गया … कितना गोरा शरीर था उसका और एकदम गोरी और संतरे के आकार की उसकी चूचियाँ! मन तो कर रहा था कि बस नोच खाऊँ उन्हें। पर वो भी कुछ कम नहीं थी, उसने भी एक एक कर के मेरे सारे कपड़े उतार दिये. भाभी के पास बैठने की जगह कम थी, तो उसने सपोर्ट के लिए मेरी जांघ पर अपना हाथ रख दिया. इस कहानी में आगे बढ़ने से पहले मैं आपको भी कुछ अपने बारे में बता देती हूँ.

कभी मैं धक्के बंद करके सिर्फ उसको किस करता, कभी उसके चुचे को ब्लाउज के ऊपर से ही दबाता था.

ज्योति बोली- मगर अब तुम्हें ये सब करने की जरूरत नहीं।जब मैं उसकी बात समझ नहीं पाया तो वह कहने लगी- तुमने दिन में जो सुना था वह सब सच है. सीमा- ये क्यो जानू … क्या जान लेने का इरादा है?मैं- ऐसा ही समझो मेरी जान.

चाची के मुँह से एक तेज ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… आऊऊऊ … मर गई …’ की आवाज निकली. धीरे-धीरे करके मैंने अपनी पूरी जीभ चुत के अन्दर डाल दी और चूत को पूरी शिद्दत से चाटने लगा. वह मेरे सामने नीले कलर की चड्डी में खड़ा था और मुझे पागलों की तरह किस कर रहा था.

अपने पड़ोसी से चुदने के बाद मुझे अब और ज्यादा सेक्स की आग लग गई थी उसका लंड रोज मेरी चुत के दरबार में हाजिर होने लगा. कमरे का माहौल इतना गर्म हो चुका था कि कम्बल कहीं और पड़ा था और हम दोनों एक दूसरे से चिपके हुए थे. न जाने कितने अधिकारियों से मैंने अपनी चूत मरवाई है … आह आह आह!वंश भी नीचे से धक्का लगाने लगा.

गांव की औरतों की बीएफ पिक्चर एक दिन हमारे सामने वाले घर में एक खुराना फैमिली रहने आयी, अंकल लगभग चालीस साल के थे. मैंने उससे कहा कि मैं उसको पसंद करता हूँ और उससे रिक्वेस्ट की कि मैं उससे दोस्ती करना चाहता हूं.

सेक्सी व्हिडीओ सोळा वर्ष

मैंने शर्ट को निकाल दिया था, अब वो ब्रा और पैंटी में हुस्न की मल्लिका लग रही थी. मामी बोली- जी आप कौन?मैं फोन के रिसीवर पर हाथ रख कर धीरे से उनके कान में बोला- रेशमा डार्लिंग आप बिंदास बात करो, मुझे भी सुनना है कि कौन है?तब मामी बोलीं- हैलो आप कौन?उधर से कोई बोला- मैं मोहित हूँ जी … आपकी सहेली का पति. मेरी जिंदगी का पहला चुम्बन, जिसे मैंने सिर्फ किताबों में देखा या पढ़ा था और एक बार अंकल को ही आंटी को करते हुए देखा था.

उसके बाद मेरी आँख खुली, तो परवीन के बदन की गर्मी से मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया था. सुबह किसी को ढूंढ कर निकलने का जरिया खोज लूंगा।लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था।मेरे दिमाग में आया कि चलो रात यहाँ बिताने से अच्छा है कुछ दूर तक चला जाये. कुत्ते और लड़की की बीएफमैं- प्यार और सेक्स के बीच कोई रिश्ते नहीं होते हैं चाची … आई लव यू.

मैं चीखूँ, चिल्लाऊं, रोऊँ गाऊं कुछ भी करूं आप मुझपे रहम मत करना बस!” मैंने कह दिया.

दोस्तो, मुझे आपके कॉमेंट का इंतज़ार रहेगा, मेरी कहानी आपको कैसी लगी, मुझे ईमेल से अपने विचार ज़रूर भेजिएगा. उसने ऐसा ही किया, फिर क्या था, उसके सिर को पकड़कर चुदाई शुरू की, तो नम्रता ने भी मेरी जांघ को पकड़कर अपना बैलेंस बना लिया ताकि मैं अच्छे से उसके मुँह को चोद सकूं.

आप जो बोलोगे मैं वो करूंगी।तब रमेश अंकल हंसने लगे और बोले- ये हुई ना बात. रश्मि- उसने दिखाया है और जो रिपोर्ट्स आयी है, उसमें उसका पति बाप नहीं बन सकता है. तो कहने लगे- अकेली नहाओगी क्या? हम भी तो है यहाँ पर!और मेरे पास आकर मुझे फिर से नंगी कर दिया और खुद भी नंगे होकर मुझे गोद में उठा के बाथरूम में ले गए.

फिर भी मैं कोशिश करूंगा कि मेरी कहानी में आपको कोई गलती न मिले और आप मेरी कहानी को पूरी तरह से इंजॉय करें.

जिस सोसाइटी में मेरा फ्लैट था, वो सोसाइटी अदिति की सोसाइटी से कुछ ही दूरी पे थी, पर उससे अभी तक मुलाकात नहीं हुई थी. अब भोला मेरे पीछे की तरफ मेरी कमर को मोड़ कर पीछे से लंड मेरी चूत में घुसाने लगा. मैं जो करने जा रहा हूं वह बहुत ही उत्तेजित, उत्साहित करने वाला और रोमांच से भरपूर है। अतः अपने कपड़े उतार कर पूर्ण रूप से नंगी हो जाओ।इस पर रीना ने मुझे कहा- प्लीज यार राज, पूर्ण रूप से नंगी नहीं। ब्रा और पेंटी में ठीक रहेगा.

सेक्सी मूवी देवर भाभी कीअक्षिता भी जोर जोर से कह रही थी- जोर से चूसो … आह्ह …मैंने चूस-चूस कर उसके दोनों उरोजों को लाल कर दिया था. उसने मेरी तरफ नशीली आंखों से देखा, मुस्कुराई और फिर अपने होंठ को मेरे होंठों से चिपका दिए.

नोएडा की सेक्सी फिल्म

यहां मेरे लिए रखा ही क्या है?” वसुन्धरा के मन में अपने पिता के लिए बहुत कड़वाहट थी. ये एक इंग्लिश मूवी थी लेकिन दोस्तों मुझे इंग्लिश मूवी का बिल्कुल भी शौक नहीं है, इसलिए मैंने सोचा कि यार मैं तो बोर हो जाऊंगा. उसने उस किताब का कोना हल्का सा बाहर छोड़ दिया था ताकि जब मौसी उस बिस्तर पर सोने के लिए जाये तो मौसी की नजर उस पर पड़ जाये.

सुमिना बोली- कैसे जायेगी?काजल ने कहा- ऑटो से … और कैसे जाती हूँ मैं?सुमिना बोली- तो फिर तू सुधीर के साथ ही निकल जा. मैंने भाभी का हाथ पकड़ा और कमर से पकड़ के उन्हें स्मूच मारी और छोड़ दिया. वो अकेली थी, तो उसकी मम्मी ने घर में मेरी मम्मी कॉल करके कहा- आदी को भेज दो, आज वो जानू अकेली.

पहले मैंने थोड़ा आराम से सहलाया फिर उसकी चुचियों के बीच की घाटी में उंगली डाल दी. मैंने भी सोचा कि पति के कारण में अपने भाई की शादी का प्रोग्राम क्यों कैंसिल करूं. हालांकि मुझे भी लग रहा था कि मेरे सुपारा भी मानो किसी आरी पर चल रहा हो.

वो मेरे लंड को लॉलीपॉप की तरह चूस रही थी, जबकि मैं उसकी चूत को कप वाली आइसक्रीम समझकर चाट रहा था. दीदी ने मुझसे खाना खाते हुए कहा कि तेरे जैसा लंड मैंने आज तक नहीं लिया.

मैंने कहा- हाँ भाभी, मॉम थेपले बना कर गई थी, तो चाय मैंने बना कर चाय और थेपले खा लिए.

कुछ देर के बाद जब उनका लंड कोमल की चूत में कुछ अन्दर चला गया, तो ताऊ जी ने बोला कि अब मैं तुम्हें अपनी सच्ची औरत बनाने जा रहा हूं. বফঁ সানি লিওনअब मैं उसके भीगे बदन से खेल रहा था, कभी उसके बूब्स दबाता कभी उन्हें काट देता और वो खड़े खड़े अपनी गर्दन को पीठ की तरफ झुका कर सिसकारी लेती ‘सीईई ईए ईईई ईईईई आहह!फिर मैंने अपना हाथ उसकी पैंटी में डाल दिया जिससेमेरी उंगली गीली हो गयी और मैं उसकी चुत में उंगली करने लगा. अंग्रेजी हिंदी बीएफअब मैंने भाभी को बता दिया कि मेरा लंड अब उनको चोदने की सोचते ही खड़ा हो जाता है और मुझे हस्तमैथुन करना पड़ता है, जो ज़्यादा मुझे पसंद नहीं. मैंने उसे बोला- अदिति मेरी जिन्दगी की कुछ सच्चाई है, जिसे मैंने तुम्हें अभी तक बताया नहीं है.

4 बज चुके थे, मैंने नेहा को बताया- तुम्हारी बड़ी बहन खिड़की से हमारी चुदाई देख रही है, उधर मत देखना, नहीं तो वो समझ जायेगी.

अतः मैं अपने प्लान का शुभारंभ करते हुए रीना को हमारे शयनकक्ष में लेकर गया। रीना ने बहुत उत्तेजित करने वाली नाइटी पहन रखी थी जिसे कि मैंने उतरवा दिया और कहा- मेरे पास इससे भी ज्यादा कुछ नया है।रीना को पता नहीं था कि मैं क्या करने वाला हूं।मैंने उससे उसकी नाइटी खोलने की गुजारिश की. मैं वहां से भाग गया क्योंकि शायद भाभी को शक हो गया था कि मेरे अलावा ये काम कोई नहीं कर सकता है. लेकिन मेरे बातचीत करने का … और रहने का ढंग ही कुछ ऐसा है कि जो मेरे साथ एकाध घंटा भी बिता ले, तो मुझे जीवन भर शायद ही भूल पाए.

शावर लेने के बाद मैंने अलमारी से एक गुलाबी रंग की ब्रा और पैंटी निकाली. वो मेरे चूतड़ों को मसाज़ देने लगा!अब मुझे बहुत मजा आ रहा था और मेरी बॉडी भी गर्म हो रही थी. उसको तो यह भी पता था कि मैं मानसी की चूत और गांड चोदने की फिराक में रहता हूं.

धातु सेक्सी वीडियो

उसने मुझे हिम्मत बंधाई और फिर जो लंड चूत पर रख कर पेला, वो सटाक से चूत अन्दर घुसता चला गया. मेरी आप सभी से एक प्रार्थना है कि मुझसे किसी लड़की या औरत का पता या फोन नम्बर पूछने का कष्ट ना करें. चुत की खुजली शांत बैठने नहीं दे रही थी और स्त्री शर्म पहल करने नहीं दे रही थी.

वह बहुत खुश हुआ और अगले दिन पापा के जाते ही मैंने सौरव को फोन कर दिया.

मैं एक हाथ से उसकी चुची दबा रहा था, दूसरे हाथ से उसकी जांघ को सहला रहा था.

अब मैंने उसकी दोनों टांगें उठाकर अपने कंधों पर रखी और अपना खड़ा 6 इंच का लंड परवीन की सील पैक चूत पर रगड़ने लगा. वह औरत मेरी तरफ देखकर बोलती है- हाय … कैसी गंदी बातें बोलते हो तुम?मैं बोला- अच्छा जब चूत में लंड डालते हैं, तो उसको चोदना ही तो बोलते हैं. एक्स एक्स एक्स वीडियो दाखवाकुछ भी गलत महसूस नहीं हुआ, बल्कि ऐसा करके मुझे उसे खुश करने का दिल किया.

फिर मैंने उससे पड़ोसी के बारे में पूछा- वह कहां है?तो उसने कहा- वह अभी नहा रहा है. उन्होंने मुझे एक हाथ से जकड़ लिया और दूसरा हाथ स्कर्ट के अन्दर डाल कर मेरी चुत को पैंटी के अन्दर से सहलाने लगे. अंकल के हाथ अम्मी के मम्मों पर थे और वो उन्हें बेदर्दी से मसल रहे थे.

तू तो जानती ही है कि शादी से पहले घर का सारा काम मैं ही करती थी इसलिए मैं घर के हर एक कोने से वाकिफ थी. हम तीनों साथ में बैठ कर बातें करने लगे और साथ ही पीने का मजा भी लेने लगे.

नम्रता ने मेरे सीने पर अपना सर रख दिया और अपनी टांगों की कैंची बनाकर एक टांग मेरे पैर के नीचे और दूसरा मेरे कमर पर चढ़ा दी.

मैं अपना शरीर धीरे-धीरे पौंछ रही थी ताकि वह मेरे शरीर के दर्शन ठीक से कर सके. ”हाँ बोलो?”आज राजेश मिला था, ये तो तुझे पता ही है कि अब वो मेरे से बहुत खुल गया है. यह बच्चा मामा का ही था, लेकिन ऐसा मैनेज किया गया कि किस अंजान लड़के की जिम्मेदारी आ जाए.

सेक्सी मराठी बीपी वीडियो हमारे भारत में एक बात है लड़के कहते हैं कि लड़की धोखा दे गई … और लड़की कहती है लड़का धोखा दे गया. पूरा लण्ड उसकी चूत में जा चुका था। मैं उसकी गांड पर हाथ रखके लगातार उसको चोद रहा था।वो चिल्ला रही थी- आह … आआ … उम्म … हह!अब की बार वो पूरी रंडी लग रही थी, वो गालियां निकल रही थी- मादरचोद मेरा पति … ऐसे क्यों नहीं चोदता है?मैं भी फुल स्पीड से उसकी गांड पर मारते हुए उसे चोद रहा था.

उसके मोतियों जैसे सफेद दांतों के ऊपर उसके होंठों पर खिली हंसी देख कर दिल को बड़ा सुकून मिल रहा था. फिर करन ने कहा- अगर कल तुम ये पहन के आओगी तो मुझे बहुत अच्छा लगेगा, मैं कल तुम्हें अपनी बीवी के रूप में देखना चाहता हूँ।मैंने कहा- अरे, मैं ऐसे कैसे पहन के आ जाऊँगी, अभी तो ब्लाउज़ की फिटिंग भी नहीं हुई होगी. जबकि भाभी को पता भी नहीं था कि मैंने चुपके से भाभी की सेक्सी चुदाई की बातें सुन ली हैं.

सेक्सी चाहिए जानवर

सुमन भाभी की प्लानिंग जो भी रही हो, फिलहाल मैं फिर से अकेला हो गया हूँ. जब तुम वापस जा रहे थे, तब मैं आ रही थी, तभी भाभी ने मुझे भी देख लिया था. उसने अपने दोनों हाथ उठा कर अपने दोनों उरोज़ थामे मेरे हाथों को ऊपर से जकड़ लिया.

तभी देहाती सी दिखने वाली संगीता भाभी (जी हां उनका नाम संगीता था जिसका ऊपर मैं जिक्र करना भूल गया था) आई और उनके साथ ही बात करने के लिए बैठ गई. उसने मुझे हिम्मत बंधाई और फिर जो लंड चूत पर रख कर पेला, वो सटाक से चूत अन्दर घुसता चला गया.

फिर उसकी टांगों को अपनी गर्दन पर रखकर ढेर सारा थूक अपनी हथेली में लेकर उसकी चूत के मुहाने को अच्छे से गीला किया और लंड से थोड़ी देर तक उसकी चूत को सहलाता भी रहा.

मेरा यह पहला चुम्बन था और वो भी सौरव जैसे हैंडसम लड़के के होंठों द्वारा. मैंने घण्टा भरा संचालक की सहायता की और वहाँ से निकल कर उसको बोल दिया कि मेरा भोजन होटल में ही भिजवा दे. मेरा भी चुदाई का सपना पूरा हुआ और किसी लड़की की चूत चोदने के लिए पैसे भी नहीं खर्चने पड़े.

मगर मेरी इस कोशिश को शायद आंटी ने भी देख लिया था।हमने चाय पी और हम बैठकर इधर-उधर की बातें करने लगे. बीवी- आप बहुत गन्दे हो गए हो, स्कूल नहीं जाना है क्या? जाईये तैयार हो जाईये. उसके दोस्त ने मेरा हाथ पकड़ कर बिठा दिया और कहा- संभल के … पहले कभी ट्रक में बैठे नहीं क्या?मैंने कहा- आपने झटका ही इतनी जोर से दिया कि मैं डर गया.

अगले ही पल भाभी ने मेरी लोअर को खींच दिया और मेरी जांघों को नंगी करते हुए मेरे लंड को अंडरवियर में तना हुआ छोड़ दिया.

गांव की औरतों की बीएफ पिक्चर: तत्काल ही वसुन्धरा के शरीर में थरथराहट होने लगी और उसके जिस्म की हरारत बढ़ने लगी और वसुन्धरा के दोनों हाथ मेरे सर पर आ जमे. तभी मुझे याद आया कि मेरी पायल तो उसके शॉर्ट के पॉकेट में ही रह गयी.

जीतू ने मेरी बात सुनते ही मेरी शर्ट और मेरी ब्रा निकाल दिया और वो अब आराम से मेरी चूची को चूसने लगा और मैं सिसकारियाँ लेने लगी. मैं उसके होंठों तो चूमने लगा और उसके होंठों को थोड़ा सा काट भी लिया फिर मैंने सुमन का टॉप उतरा और उसके बूब्स को ब्रा से भी आजाद कर दिया और मुँह में लेकर चूसने लगा वो मदहोश होये जा रही थी थोड़ी देर बाद मैंने उसके जीन्स भी उतार दी और उसने भी मेरे कपड़े उतार दिए. अब मैं उसको अपने बिस्तर में खुद से चिपका कर लेट गया और उसके बदन पर हाथ फिराने लगा.

श्वेता मैडम के जकड़ने से मेरा टॉवेल छूट कर अलग हो गया था और मेरी यह हालत देख कर श्वेता मैडम की हंसी निकल गई.

मैं सिर्फ अंडरवियर में रह गया और मैंने अपना 6 इंच का खड़ा हुआ लंड परवीन के हाथ में दे दिया. उसका लंड ऋतु की गांड में हरकत करने लगा और उसके छेद के अंदर-बाहर होते हुए उसकी गांड के छेद पर घर्षण करने लगा. फिर 6 बजने आए थे, मैं उसके बेड से बाहर निकली और उस पैसेंजर को फिर से जगा कर उठाया.