हिंदी की बीएफ बीएफ

छवि स्रोत,पायलट की सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

బిపి సెక్స్: हिंदी की बीएफ बीएफ, इस बार जब उन्होंने अपनी जीभ मेरे मुँह में डाली, तो मैंने उनकी जीभ अपने होंठों के बीच में दबा ली.

सहेली सेक्सी वीडियो

यह एक ऐसी हस्बैंड फ्रेंड सेक्स कहानी है, जिसे पढ़ कर लौंडे बिना मुठ मारे … और लौंडियां अपनी चूत में उंगली किए बिना नहीं रह पाएंगी. थोड़ी सेक्सी वीडियोलेकिन इस जन्नत के सामने वह दर्द बहुत कम था।मुझे इतना मजा आने लगा कि मैं कहानी के जरिए बता नहीं सकता।पिंकू भी मदमस्त होकर मेरे लोड़े से चुद रही थी।लगभग 5 मिनट की धकापेल चुदाई के बाद पिंकू उठी और मेरा लंड चूसने लगी।अच्छे से लंड चूसवाने के बाद मैंने उससे घोड़ी बनने के लिए कहा.

वो एक भरे पूरे बदन की, गोरे और सांवले रंग के बीच के रंग की तीखे नैन नक्श वाली लड़की थी. जबरदस्त सेक्सी डाउनलोडफिर पापा ने कपड़े पहने और कुछ देर बाद मम्मी और मेरा भाई भी रूम में आ गए.

मेरे पूछने पर भी उसने मुझे कुछ नहीं बताया लेकिन जब मैं ऑफिस के लिए निकलने लगा तो लच्छो ने मुझे एक कागज दिया और कहा कि इसमें जो लिखा है, आते समय आप ले आइएगा.हिंदी की बीएफ बीएफ: दोनों ने लगभग एक साथ कहा- अरे बाप रे … इतना बड़ा लौड़ा … हमने आज तक नहीं देखा.

मामी गहरे गले की मैक्सी पहनती थीं, जब वो झुकतीं, तो उनके मम्मे दिखाई दे जाते थे.पांच मिनट बाद मैंने बिना पूछे सुहानी की चूत में अपना माल निकाल दिया और उसके बूब्स चूसने लगा.

रेखा सेक्सी शॉट - हिंदी की बीएफ बीएफ

थोड़ी ही देर में नीता अपना काम निपटा कर बाहर आ गयी और बोली- अरे तुम यहां बैठे हो हर्षद, मैं तो समझी थी कि सो गए होगे.हाय क्या नजारा था … पिंकू की मखमली चूद पर एक भी बाल नहीं था।पिंकू के गोल बड़े बड़े बूब्स, कटीली पतली कमर, मस्त चिकनी चूद और मटकती हुई गांड देख कर मेरा 9 इंच का लन्ड खड़ा हो गया।मेरा मन कर रहा था कि पिंकू को पटक कर यहीं चोद दूं लेकिन मैं ऐसा नहीं कर सकता था।मैंने देखा कि पिंकू अपनी उंगली छोटी सी गुलाबी चूत पर डालने लगी.

उसके लंड के बारे में सोच कर मैं अपनी चूत में उंगली डालने लगी और बिल्कुल खो ही गयी थी. हिंदी की बीएफ बीएफ इस घटना के बाद किस्मत हम दोनों को अलग अलग मौकों पर अकेले मिलने का मौका देने लगी.

साड़ी में से झांकता उसका सपाट पेट और नाभि से नीचे बंधी साड़ी में मोहिनी आज सच में काम देवी लग रही थी.

हिंदी की बीएफ बीएफ?

फिर मैंने एक बात नोटिस की कि भाभी मेरी हर बात को कुछ ज्यादा ही ध्यान से सुनती हैं. शालिनी का दर्द हम दोनों ही नहीं देख रहे थे, मैं बस उसकी चूत में झटके लगाए जा रहा था. नीता एक हाथ से मेरी अंडगोटियां सहला रही थी और दूसरे हाथ से लंड आगे पीछे करने लगी थी.

अब मैं अपने बॉयफ्रेंड से भी बात नहीं करती, बस अपना सारा टाइम अपने बड़े भाई के बारे में सोचती रहती और उसके साथ सेक्स करने के सपने देखती रहती. अब तो मुझे दीदी को बताने के लिए एक और मजबूत प्वाइंट मिल गया था कि ये लड़का मेरे साथ स्कूल में पढ़ता है. मैंने सोचा कि वो सो गई होगी, तो मैं उठा और चुपचाप गेट खोल कर छत पर चला गया.

मैं जैसे ही उसकी खिड़की में से अन्दर की तरफ झांका, तो अन्दर का सीन देखकर स्तब्ध रह गया था. आने वाले कल को लेकर आपा बहुत घबराई हुई थीं कि सच जानने के बाद बच्चे कैसा रिएक्ट करेंगे. इतने में मेरे ध्यान में कुछ आया, तो मैं अपने रूम में गया और क्रीम लेकर आ गया.

हॉट लेडी फ्री सेक्स कहानी में एक विधवा जो सेक्स के लिए तरस रही थी, उसने पड़ोस के जवान मर्द से दोस्ती करके सम्बन्ध बढ़ाये और एक दिन उसे अपने बिस्तर पर ले आई. मैंने कहा- ठीक है, जल्दी से एक बार पेल लो और आगे पीछे करके निकाल लेना, ताकि मेरी चूत की आग जलती रहे.

अगले दो दिन हमारे बीच में क्या हुआ, कैसे हम चारों ने मिलकर कामवासना एक अलग अध्याय लिखा, इसके बारे में जानने के लिए मेरी अगली सेक्स कहानी का इन्तजार कीजिये.

कुछ 20 किलोमीटर ड्राइविंग के बाद मैंने उसको ड्राइविंग के लिए बोला क्योंकि अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था, उसको बांहों में भरने की तड़प बढ़ती जा रही थी.

अपनी एक टांग हवा में उठाती हुई रीना अपना पूरा भोसड़ा अपने गांड मरवाने वाले पति के मुँह में ख़ाली करने लगी. वैसे भी मैं तो कमर से नीचे पूरा भीग गया हूँ, तो मुझे और ज्यादा भीगने से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है. यहां पर गणेशोत्सव बहुत बढ़िया तरीके से बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है, यह तो सब आप जानते ही होंगे.

मैंने अपने हाथ से उसकी सलवार का नाड़ा खींचा और सलवार को ढीला कर दिया. चाची ने इठला कर कहा- हां, पर पहले आज तुम जी भरके अपनी चाची को चोद लो. कुछ देर के बाद मैंने एक तेज धक्का मारा, जिससे मेरा लंड उसकी चूत में घुसता चला गया.

आपने मेरी और फरियाल वाली कहानीपिया गए परदेस … लंड की याद सताती हैपढ़ी.

मुझे मेरे पुराने ग्राहक से एक बड़ी डील को तय करने के लिए मुंबई आने का न्यौता मिला. मैंने एक हाथ किरण के पेट से नीचे ले जाते हुए अपनी चार उंगलियां किरण के फटे हुए भोसड़े में एक साथ घुसा दीं. मैंने पूछा- किसके साथ चुदी थी?वो बोली- वो पड़ोस की भाभी का ही एक ठोकू था.

शायद रेनू का दिमाग अभी भी ऊहापोह में हो रखा था कि मुझसे चुदे या न चुदे, शायद इसी लिए वो ज्यादा ड्रिंक कर रही थी. मुझे उसका साथ मिलने से हिम्मत बढ़ गयी और मैं किस करते हुए उसके चुचे सहलाने लगा. लड़के की गांड की कहानी में पढ़ें कि मेरा चेहरा लड़कियों के जैसा मासूम है.

जबकि मुझे ये बात उस टाइम तक पता नहीं थी कि लंड कैसे चूसा जाता है पर फिर भी उस वक्त बुर की चुल्ल मेरी बुद्धि पर हावी हो गई थी.

क्या मैं आपकी कोई मदद कर सकता हूँ?ये सुनने के बाद मैं पक्का हो गयी कि ये भी मुझे चोदना चाहता है. अब मैं उसी बारे में सोचने लगी कि क्या ऐसा होता है, क्या एक भाई अपनी ही सग़ी बहन के साथ सेक्स कर सकता है, क्या ये सही है.

हिंदी की बीएफ बीएफ अली हंसने लगा- हां, ये तो तुम सही कह रहे हो कि वो तेरी इस बॉडी पर खुद ही मरने को मचलती होंगी. शब्बो हल्की सी सांवली पर बेहद दिलकश कटाव वाले भरे हुए बदन वाली औरत थी.

हिंदी की बीएफ बीएफ फिज़िकल बॉडी लव स्टोरी में पढ़ें कि तन के सुख की खोज में एक युवा लड़की ने कई दोस्त बनाये, उनके साथ सेक्स किया. जल्द ही चाची की चूत में मेरा लंड घुस गया और ताबड़तोड़ चुदाई शुरू ही गई.

लड़का देखने के बाद एक बार वापिस यहां आकर कपड़े बदल कर घुमाने लेकर जाओगे न!मैंने ओके बोलते हुए कहा- तुम जल्दी तैयार हो.

भोजपुरी में ब्लू

उसने कहा- आपने जवाब नहीं दिया सर?तो मैंने हड़बड़ाकर कहा- हां हां क्यों नहीं मैडम, मुझे क्या दिक्कत होगी. अब नीता की गोरी, मुलायम गांड और उसके बीच छुपा हुआ भूरे रंग का छेद मेरे सामने था. मुझे ऐसा लग रहा था जैसे किसी ने मुझे नींबू की तरह निचोड़ दिया हो, शरीर में जैसे जान ही न हो!कुछ देर ऐसे ही पड़े रहने बाद मैंने भी उठकर अपने कपड़े पहने और ऑन्टी अपने घर चली गयी।प्रिय पाठको, आपको इस हॉट MILF आंटी सेक्स कहानी को पढ़ कर कितना आनन्द मिला? मुझे कमेंट्स में बताएं.

मैं हमेशा सोचा करता था कि अगर ये मुझसे पट गई तो घर पर ही चुदाई का अच्छा जुगाड़ हो जाएगा. वो मुझे बांहों में लेकर बोली- आज की तारीख में मेरी दो बार और चुदाई कर देना, फिर तुम्हारा इनाम पक्का. मैं कुछ कर भी नहीं सकती थी और ना ही मुझे कुछ और सूझ रहा था कि क्या करूं, जो इस परेशानी का हल निकाल लूं.

वो दर्द सहन नहीं कर पा रही थी, पर उसे भी तो चुदना था तो उसने मुझे रोका नहीं.

तब मैंने उसकी गांड को सहलाना और दबाना शुरू कर दिया और उसके छेद में धीरे से एक उंगली डाल दी. अगर आप लोग चाहेंगे, तो मैं आगे भी उन दोनों के साथ हुई चुदाई की कहानी आगे भी लिखता रहूँगा. कुछ देर बाद जब दोनों की सांसें नियंत्रित हुईं, तब मैंने सोनी की किस किया और उससे पूछा.

फिर अर्णव ने हाथ आगे बढ़ा कर मोहिनी के झूलते मम्मों को पकड़ लिया और चोदने लगा. न्यू भाभी की चूत की कहानी में पढ़ें कि मेरे बगल वाले घर में एक नई भाभी आयी ब्याह के! वो मुझे छत पर कसरत करते देखती थी. पता नहीं इस बार देसी चूत का पानी कितना निकला और मैं इतनी जोर से चिल्लाई कि शायद बिल्डिंग के बाहर तक भी आवाज चली गई हो.

बाद में उसे बिस्तर पर बैठाकर मैंने दर्द की दवा दी, उसे पुचकारते हुए सुला दिया और मैं भी सो गया. अब वह भी काफी ओपन होने लगी और बातों ही बातों में कहने लगी- लगता है आपकी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है.

मैंने रसिका भाभी की नाजुक टांगें अपने कंधों पर चढ़ा लीं और फुल मस्ती में उसकी बुर पेलने लगा. [emailprotected]हॉट गर्ल फक़ मी कहानी का अगला भाग:चढ़ती जवानी में सेक्स की चाह- 3. अब मैंने अपने दोनों हाथों से उसकी सलवार को पैंटी सहित उसके जांघों तक नीचे खींच दिया.

फिर समीर भैया ने मुझे सीधी लिटा दिया और खुद मेरी चूचियों पर लंड लगा कर चढ़ गए.

दोस्तो, मैं आपको अपनी मित्र अंकिता के साथ बिताए अन्तरंग पलों को बड़ी बेबाकी और विस्तार से लिखना चाहता हूँ. फिर जैसे ही मैंने शॉवर चालू किया, अंकित ने गेट पर हाथ मारा और मुझे आवाज़ दी- अनुष्का, जरा गेट खोलो. मेरा पढ़ाने का काम अच्छा चलने लगा पर अब मेरा और सोनी का मिलना जुलना बहुत कम हो गया था क्योंकि सुबह उसका कॉलेज होता, दोपहर को और रात को 8 के बाद उसके पापा घर पर ही होते तो उसका निकलना मुश्किल होता.

नाम बनता है रिस्क सेचूतिये बनते हैं इश्क़ सेइन्हीं कुछ पक्तियों के साथ आपसे विदा लेना चाहूंगा. अगले दिन हिम्मत करके मैंने उस वक्त मामी को पीछे से पकड़ लिया जब वे किचन में खाना बना रही थीं.

हम दोनों ने पूरे दिन बात की, घूमे और बाजार से चाट पकौड़ी खाकर घर आ गए. भाभी के ब्लाउज में गिनती के 4 बटन थे, जिन्हें मैं जल्दी जल्दी से खोलने लगा. और मैंने उसे भरोसा दिलाया- तुम चिंता न करो, मैं ध्यान रखूँगा और अगर तुम चाहो तो मैं आंखें बंद कर लेता हूँ.

மராட்டி செக்ஸ் வீடியோ

पिछले 4 सालों में और भी सुंदर हो गई थी वो!उसका बदन भी और भर गया था.

वो मदमस्त और पागल होती जा रही थी, खुद अपने हाथ से अपने दूध को पकड़ कर मेरे मुँह में दे रही थी. इन तीनों का तो बस एक ही मकसद था कि यह मेरे सारे छेदों में अपने माल को भर दें और मुझे वैसे ही नंगी छोड़कर चले जाएं. ये कह कर मैं चली आई और उसको वो बिखरी हुई दरियां फिर से समेटनी पड़ीं.

उन्हें भी इस बात का कोई ऐतराज भी नहीं था, वे लोग भी झट से इस बात के लिए मान गए थे. फिर हम दोनों घर की ओर निकल गये।जब तक हम मामा के घर रुके तब तक यह मॉम अंकल सेक्स का सिलसिला चलता रहा।नानाजी और नट्टू अंकल शाम को खेत में बने कमरे को साथ में दारु पीते थे। मैं भी कभी कभी उनके साथ बैठक में होता था।एक बार दोनों नशे में टुन्न थे. झाड़ू पोछा वाली सेक्सी वीडियोइस पर हॉट MILF आंटी बुरी तरह तमतमा उठी और मुझे जोर का थप्पड़ जड़ते हुए बोली- ज्यादा उबाल आ गया क्या? तू मेरी नहीं ले रहा, बल्कि मैं तेरी ले रही हूँ.

मेरा ऐसा करने पर उसने मेरा लंड छोड़ कर मेरे हाथ को पकड़ लिया और मना करने लगी. मुझे हल्का सा दर्द हुआ लेकिन उनके इस तरीके से दर्द बहुत ज़्यादा मालूम नहीं चला.

मैं भी घर पर बोर हो रही थी तो मैंने कहा- मैं भी चली जाऊं क्या, यहां थोड़ा अजीब सा लग रहा है. मैं भी जोश में आकर अपनी कमर ऊपर उठाते हुए नीचे से रेशमा की चूत चोदने लगा. यह मेरे लिए पहली बार हुआ था और मैं इतना ज्यादा मजा ले रही थी कि मैंने स्कुर्ट ही कर दिया.

चाची को बच्चे होने के बाद वो सिर्फ मुझे अपना दूध पिलाती हैं, चुदाई नहीं करने देतीं. अली बोला- लंड चूस कर पानी निकल गया तो फिर कैसे गांड मारेगा?मैं- अबे लंड को कमजोर समझ रहा है क्या? साले तेरी गांड भी फाड़ दूंगा. अली बोला- लंड चूस कर पानी निकल गया तो फिर कैसे गांड मारेगा?मैं- अबे लंड को कमजोर समझ रहा है क्या? साले तेरी गांड भी फाड़ दूंगा.

नीता हंस कर बोली- रात भर चोद कर दिल नहीं भरा क्या हर्षद?मैंने उसकी कमर को कसके पकड़ा और उसे चूम लिया.

एक हाथ से मेरा लौड़ा पकड़ते हुए रीना बोली- पूरा निगल जा इसे भोसड़ी के, ऐसे मर्दों के लंड के माल पीने के लिए ही तू पैदा हुआ है रंडी की औलाद. वो बोली- अरे हम दोनों दोस्त हैं और एडल्ट भी हैं, तो ये बातें कर सकते हैं… और फिर मुझे तुम पर विश्वास है.

कल शाम को साहिल और मैंने बहुत दारू पी ली थी, तो तुमसे बात नहीं कर पाया. मैंने रीमा को अपनी तरफ थोड़ा खींच लिया, जिससे मेरा लंड रीमा के चूतड़ों की दरार में घुस गया. मैंने घड़ी में समय देखकर नीता से कहा- अभी साढ़े सात बजे हैं, कितनी देर का रास्ता और समझें.

जब तुमको बेंगलोर फ्लाइट का टिकट भेजा, उसी समय मन में पक्का सोच रखा था कि तुम कैसे भी होओगे, तब भी मैं तुमसे चुद लूंगी. वो इठला कर बोली- फिर क्या किया था?मैंने कहा- तुम खुद ही सोच सकती हो कि मैंने क्या किया होगा?वो आंख नचाती हुई बोली- मैं कैसे कुछ सोच सकती हूँ?मैंने कहा- अच्छा चल मैं प्रेक्टिकल करके दिखा सकता हूँ. मैं कभी उसकी नाभि को चूमता, तो कभी उसके गले पर चुटकियां काट रहा था.

हिंदी की बीएफ बीएफ अब मैं लंड सटासट सटासट अंदर बाहर करने लगा।हम दोनों एक-दूसरे के होंठों को चूसने लगे और मैं झटके पे झटके मारने लगा।वो भी अपनी कमर उठा-उठा कर मेरा लंड ले रही थी और मैं जोश में आकर जोर जोर से झटके मारने लगा।अब वो आह हहह ओहह उह करके बोलने लगी- और तेज झटका मारो यार!मैंने उसे अपना नाम राज बताया उसने अपना नाम नाजिया बताया।वो बोलने लगी- राज तू मुझे तेज तेज झटके मार के चोद यार!मैंने उससे घोड़ी बनने को कहा. रूचिका आंटी- पर आज तो पूरा मौका मिला है … आज तो मुझे चोद डालो प्लीज़.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी मूवी दिखाएं

मैंने जोर जोर से उसकी चूचियां मसलीं और साथ में लंड उसकी गांड की दरार में रगड़ता रहा. विपिन तो सातवें आसमान पर उड़ने लगा था, उसकी आंखें बंद हो गई थीं और उसके मुँह से बस ‘आहह … स्स … आहह … दीदी … आहह … बहुत मजा आ रहा है … आहह … दीदी …’ की आवाजें निकल रही थीं. मैं कातिलाना स्माईल देते हुए बोली- दोस्त नहीं, वो जीजू थे तेरे!सनी हंसते हुए बोला- ना जाने कितने जीजू हैं मेरे!मैं बोली- तेरे लिए एक गिफ्ट है.

अभी वो दोनों मेरी सेवा कर ही रहे थे कि तभी रीना ने मुझे रोकते हुए मेरा लौड़ा अपने मुँह से बाहर निकाला. अब रसिका भाभी मुझसे तो ठीक से बात करने लगी थी, पर आकाश से उसकी जरा भी नहीं बनती थी. सेक्सी videvoलॉकडाउन की वजह से मैं अपने दोस्त विलास के बेटे के नामकरण विधि पर भी नहीं जा सका था.

वो आगे कहने लगी- मुझे तुमसे इतनी मस्ती मिलेगी, इसकी एक परसेंट उम्मीद नहीं थी.

बम्लेश्वरी माताजी के दर्शन कर हमने दुर्ग में भोजन किया और रात में वापस आ गए. रास्ते में मैं उनके बदन से एकदम चिपक कर बैठी थी, जिसका मज़ा उन्होंने रास्ते भर लिया.

गांड चटवाने में कितना मजा आता है, ये तो वही जानता है, जिसने किसी से गांड चटवाई हो. धीरे धीरे मेरा हाथ उसके टांगों के बीच जाने लगा तो उसने रोक दिया और बोली- यार, आज चुदाई का दिन नहीं है, थोड़ा कंट्रोल करो और मुझे भी कंट्रोल में रहने दो. मैं उसकी चूत चाटने लगा, वो मेरेलंड को लॉलीपॉप की तरह चूसे जा रही थी.

वो पराये मर्दों से चुदने का सोच भी नहीं सकती थीं, भले ही जब वो कहें, तब पापा उनको ना भी चोदें.

फिर उन्होंने मुझसे मुस्कुराकर कहा- क्या बात है, आजकल तुमको इन चीजों को देखने में कुछ ज्यादा ही मजा आ रहा है!मैंने हल्के से शर्मा कर कहा- अरे नहीं अंकल, वह तो बस यूं ही!और मैं हल्के से मुस्कुरा कर चुप हो गया. आज वो एकदम जंगलियों की तरह मेरी चूचियों को दबा दबा कर चूसने में लगे थे. इससे मैं हैरान था कि 22 साल के लड़के का लंड इतना लंबा और मोटा कैसे हो सकता है.

सेक्सी वीडियो सेक्सी वीडियो रिकॉर्डिंगराजीव ने हाथ बढ़ाकर सनी से हैंडशेक किया और बोला- थैंक्यू साले साहब … अपनी बहन को चोदने देने के लिए. मेरा जॉब गोवा सिटी से 4 घंटे की दूरी पर था तो मैं उसी दिन शाम को ऑफिस से 4 दिनों छुट्टी लेकर गोवा पहुंच गया.

सेक्स चुदाई चुदाई

हर बात पर रेशमा को टोक देना, किसी के भी सामने उसकी बेइज्जती कर देना उसके लिए मामूली बात थी. मैंने उससे बहुत मिन्नतें की, तब जाकर उसने अपना लौड़ा मेरी गांड से बाहर निकाला. इतना करने के बाद भी जब मेरी मां की सेहत पर कोई फर्क नहीं पड़ा तो मैंने मां की नाइटी उतार दी.

वो उठ कर बैठ गई और मुझसे पूछने लगी- क्या हुआ, आपने चुदाई बंद क्यों कर दी?मैंने कहा- यह चीज दो लोगों की सहमति और सहयोग से होती है. मैं थोड़ी गुस्से में बोली- यार, ये तुमने क्या किया?राजीव बोला- चलो हो गया जान … अब सनी के साथ मस्ती करते हैं. रेशमा भी मुझे जगह देते हुए आगे की तरफ हो गयी और किरण के बाल खींचते हुए उसने उसके मुँह पर थूक दिया.

मैंने अपनी छाती के, आगे लंड के और गांड के छेद को बाल रहित करके चमका दिया था. हल्का संगीत, शराब का नशा और मोहिनी की खूबसूरती ने इस शाम को और रंगीन बना दिया था. वैसे मेरा आज का प्लान ये था कि आज अंकित को ऊपर से ही गर्म करूंगी और कल इसके साथ मजे करूंगी.

मैंने करिश्मा से पूछा- कभी तुम्हें फिजिकल रिलेशन की जरूरत फील नहीं होती?इस पर करिश्मा ने जवाब दिया- कभी कभी लगता है, लेकिन सोसाइटी का भय … और ऊपर से तलाकशुदा होने का धब्बा होने से हर कोई ये सोचता कि बस ये औरत तो खिलौना है, इससे खेल लो. अब आगे हॉट देसी न्यूड गर्ल सेक्स कहानी:जैसे तैसे वह दिन गुज़र गया और अब अगला दिन हो चुका था.

मैंने की-होल में से कितनी बार देखने की कोशिश की है, पर एक दो बार ही मुझे कुछ साफ साफ दिखा है.

चूत अब पूरी तरह से मेरे लौड़े पर दबने के कारण मेरा लौड़ा झट से रेशमा के बच्चेदानी को चीरता हुआ अन्दर घुस गया और रेशमा की एक जोरदार चीख ने कमरे को भर दिया. यशोदा सेक्सी वीडियोआपने सारे मजे ले लिए हैं, तो क्या मुझे मौका नहीं दोगे?मैं- हां जान क्यों नहीं दूँगा. सेक्सी वीडियो लड़का कामेरी चूत में आग लग चुकी थी और किसी न किसी तरह से रोहण के लंड को अपनी चूत में लेने का मेरा मन बन चुका था. मैंने कहा- क्यों तेरा मर्द कुछ नहीं करता है?वो बोली- करता होता तो गैरमर्द को देखती भी न!मैंने कहा- अब मर्द को खा ले.

हॉट लेडी फ्री सेक्स कहानी में एक विधवा जो सेक्स के लिए तरस रही थी, उसने पड़ोस के जवान मर्द से दोस्ती करके सम्बन्ध बढ़ाये और एक दिन उसे अपने बिस्तर पर ले आई.

मैं ज़ोर-ज़ोर से आवाज़ कर रही थी और साथ में मुझे चुदते हुए मज़ा भी आ रहा था. पर मैंने खुद पर कंट्रोल किया और उसकी प्यासी चूत को अपने मुँह में लेकर पूरा चूसने लगा. मुझे हल्का सा दर्द हुआ लेकिन उनके इस तरीके से दर्द बहुत ज़्यादा मालूम नहीं चला.

उसकी घबराहट को दूर करने के लिए मैंने उसकी गांड को फैलाकर उसे रिलैक्स होने को कहा. शुरू में वो हर दो महीने मुझे चोदने आया करते थे पर मेरी प्यास दो महीने में एक बार से कहां बुझने वाली थी. मैं तो उसके इस रुख से एक बार को तो डर ही गई कि उसने ऐसा क्यों किया.

ब्लू पिक्चर वीडियो में दिखाओ

फिर वापस कमरे में आकर मैंने नंदा से कहा कि अब कम से कम पांच बजे से पहले मुझे उठाना मत. उसके बाद राकेश अपने रूम पर वापस चला गया और मैं जल्दी से दरवाजा बंद करके अन्दर आ गई. एक दो माह में लड़कियों को वापिस बुलाया और उन्हें ऑफ़ लाइन पढ़ाई करवाई.

पापा बोले- लेकिन तू तो मेरी बेटी है, तुझे कैसे चोद सकता हूँ?मैं बोली- रिश्ता आपका और मेरा है पापा.

वो मुझे अंटशंट बकने लगी- अरे मर माई रे … साले मादरचोद ऐसे कोई लंड डालता है … आंह निकाल मादरचोद.

मैंने ऑटो वाले से कहा कि कोई अच्छी सी जगह ले चलो, खाना खाने जाना है. ”तभी उसने एक किस की होंठों पर और बोली- चलो पहले कुछ खाते हैं, बाद में कुछ करेंगे. हिंदी में सेक्सी सीन दिखाओउसने पूछा- क्या हुआ दीदी?मैंने एक पल को बहुत ही गंभीर भाव से उसे देखा, फिर अगले ही पल मैं भी मुस्कुरा दी और घुटनों के बल बैठ गयी.

मैंने भी धीरे से थोड़ा-थोड़ा करके अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया और सरक-सरककर 69 की पोजीशन ले ली. तभी अचानक से भाभी ने मेरी ओर मुड़ कर देखा और मुझे एक जोरदार तमाचा लगा दिया. दिन तो ऑफिस में निकल जाता, पर शाम को घर आने पर घर उसे काटने को लगता.

नशे में मस्ती चढ़ रही थी तो डांस करते करते हम दोनों एकदम करीब आ गए और चिपक कर डांस करने लगे. फिर रूचिका आंटी किसी सड़क छाप रंडी की तरह पापा के बड़े लंड को मुँह लेकर चूसने लगीं.

मेरी सेक्स कहानीपब में दो मर्दों से चुदीको इतना ज्यादा सराहने के लिए आप सभी पतियों का, ये आपकी पत्नी बिल्कुल नंगी होकर धन्यवाद करती है.

उसने मुझे पानी दिया और फिर खाने का पूछने लगी कि क्या खाओगे?मैंने कहा कि मैं यहां तुम्हें खाने आया हूँ. कभी हम लड़कियों को कुछ काम होता था तो हम उन तीनों में से किसी एक को भी बता दिया करती थी … या फिर उनको हमारी से कुछ हेल्प चाहिए होती थी, तब वे भी हम लोगों को यह चीज बता दिया करते थे. वो कड़क स्वर में बोलीं- कब से देख रहे हो ये सब?मैं बड़े धीमे स्वर में बोला- बस ऑन्टी आज पहली बार था.

भोंगळी सेक्सी उसकी चूत से खून निकल रहा था और फ़ज़लू शीरीं के ऊपर चढ़कर जबरदस्त लंड आगे पीछे कर रहा था. मेरे पैर रखने से उनकी तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई, तब मैंने अपना एक हाथ सीधा उनके चूचों पर रख दिया.

नेहा मादक सिसकियां लेने लगी ‘उम्म … उम्म … उम्म …’वो अपने होंठों को काट रही थी. फिर उसने जल्दी से ऊपर छत पर जाकर मेन कनेक्शन को पक्का बंद कर दिया था, जिससे पूरा पानी बंद हो जाए. होटल रजिस्टर में करिश्मा ने नाम लिखते हुए मुझे और अपने आपको पति और पत्नी लिखा था.

एक्स एक्स एक्स बिहारी वीडियो

वो भी अपने हाथों से मेरी पीठ को पकड़ कर अपनी तरफ खींच रही थीं और ‘आह … उफ्फ्फ … हाय … उम्म …’ जैसी आवाज निकालती हुई मुझे अपनी तरफ समेट रही थीं. रिक्की के बचपन में ही उसके पिता की मौत हो गयी थी तो मोहिनी ने ही उसे पाल-पोस कर बड़ा किया. मुझे सेक्स के वक्त पोजीशन बदल बदल कर सेक्स करना अच्छा लगता हैमैंने भाभी से कहा- भाभी, अब आप मेरे लंड के ऊपर चढ़ जाओ.

परिचय के पश्चात मैं कहानी के उन दिनों में आता हूँ, जब मैंने इन दोनों को स्वर्ग के सुख का आनन्द दिया और खुद भी इन दोनों के साथ जिंदगी का परम आनन्द प्राप्त किया. यार मैं क्या करूं, उसके पास कोई छोटा पैक था ही नहीं और न ही उसके पास खुले पीस थे.

फिर मैंने भाभी को बेड पर लिटा दिया और आकाश को देखा तो वह अपना लंड बाहर निकाल कर मसल रहा था.

कुछ देर बाद मैंने उनकी बगलों की मादक खुशबू ली, तो मेरे लंड में तनाव और बढ़ गया. उस समय तक मुझे अंदाज भी नहीं था मैं जीवन के प्रथम संभोग के लिए आगे बढ़ रहा हूं. मोहिनी ने उससे कहा कि आप शाम को फ्री होकर मुझे फोन कर लें, तो साथ में ही घर चलेंगे.

उस बारिश में हम लोग लगभग आधे गीले हो गए थे पर कोई रुकने की जगह ही नहीं मिल रही थी. इस बार मैं अपने घुटनों के बल बैठ गया और उनकी टांगों के बीच में लपलप करती हुई उनकी चूत को चाटने लगा. मैंने अपने शरीर को पूरी तरह से राकेश की बांहों में छोड़ दिया था, उसने जैसे तैसे करके मुझे संभाला.

वो बोला- थैंक्यू बेबी … इतना ज्यादा मजा देने के लिए!मैं बोली- इट्स ओके यार … हम लोग दोस्त हैं.

हिंदी की बीएफ बीएफ: मैं उनकी गोद से उठी, तो सर ने अपना मुँह बढ़ा कर मेरी एक चूची को अपने मुँह में भर लिया. मेरी गांड पर, चूत पर, पेट पर, दोनों जांघों पर वीर्य के निशान थे, जिसे सनी बड़े प्यार से देख रहा था.

दिन भर कंपनियों का चक्कर लगाता और रात को इंटरनेट के सहारे नई नई कंपनियों की वेबसाइट पर अपना बॉयोडाटा भेजता. मगर मैं उससे ज़्यादा नहीं बोलती थी और ना ही हम दोनों ने कभी सेक्स किया था. अब वो सिर्फ उसी ब्रा और पैंटी में थीं जिसमें मैंने उन्हें थोड़ी देर पहले देखा था.

शालिनी को तो स्नेहा ने थप्पड़ भी मार दिया और मेरे ऊपर भी बहुत चिल्लाई.

तभी उसके हाथों ने मेरे सिर को पकड़ कर उसके निप्पल का रास्ता दिखा दिया. मैं चाहती भी थी कि जैसे मेरी गांड की खुजली मिट गई, वैसे ही मेरी चूत की खुजली भी उसके पानी से मिट जाए. चाची ने मुझसे पूछा- क्या हुआ तुम ऐसे अचानक से ऐसे बाहर क्यों चले आए! क्या तुमने कभी किसी लड़की को ऐसे नहीं देखा था?मैंने कहा- नहीं चाची, आपके जितनी खूबसूरत लड़की को मैंने कभी ऐसे नहीं देखा.