बीएफ हिंदी में बढ़िया वाला

छवि स्रोत,सेक्सी गर्ल फ्रेंड

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी प्लेयर एचडी: बीएफ हिंदी में बढ़िया वाला, कहानी के पहले भागप्रिंसीपल मैडम के साथ कार सेक्स-1में आपने पढ़ा कि मैं अपने मैनेजर के कहने अपने अपनी मैडम यानि प्रिंसीपल साहिबा को उनके मायके में छोड़ने के लिए जा रहा था.

चोदा चोदी वीडियो सेक्सी बीएफ

उसका लंड जब भी मेरी बच्चेदानी को छू जाता … तो मेरी किलकारी निकल जाती थी. डॉक्टर के साथ सेक्सी बीएफकुछ देर बाद मेरे अन्दर का पुरुष जागने लगा और मैंने उसकी पीठ पर हाथ फेरना शुरू कर दिया.

मैंने फिर भी उससे कहा- क्यों … मजा नहीं आया क्या?वो बोला- पानी भर तो निकला है, ऐसा तो मैं मुठ मार कर भी निकाल लेता हूँ. हिंदी बीएफ फुल सेक्समैं अपनी पुरानी जिंदगी में खो गयी और रात भर यही सब सोच सोच कर सोई ही नहीं.

दो मिनट तक ऐसा ही करने के बाद उसने अपनी टांगें पूरी खोल दीं और मेरा लंड अब आसानी से उसकी कसी हुई चूत में अंदर बाहर होने लगा.बीएफ हिंदी में बढ़िया वाला: मैं इस सब के लिए तैयार नहीं था।शिवानी- रुको, मैं अपने पास से देती हूँ.

”हमने कुछ देर बातें कीं इधर उधर की, पूरे दिन के बारे में … दोनों की ही आंखों से नींद गायब थी … मैंने उसका हाथ पकड़ा और कहा- बहन, मुझे कुछ कहना है तुझसे!उसने हाँ में सर हिलाया तो मैंने कहा- देख जो मैं बोलने वाला हूँ वो शायद तुम्हें पसंद ना आए और अजीब लगे.मैं ये सब बात जानकर हिल सी गयी और डरने लगी कि सरस्वती को पता चल गया, तो क्या सोचेगी.

सेक्सी बीएफ हिंदी में - बीएफ हिंदी में बढ़िया वाला

फिर बोला- कब तक डाले रहोगे?मैंने कहा- जब तक तुम चालाकी करोगे! चुपचाप ढीली करके लेटो तो जल्दी निबट जाऊंगा, वरना डाले रहूंगा.मैं भी किचन में चला गया और पानी पीने के बहाने से मामी के बगल से होकर गुजरा.

वो मुझे अपने साथ अपने पति के बिस्तर पर ले गई और फिर हम तीनों का खेल शुरू हो गया. बीएफ हिंदी में बढ़िया वाला पूरी ताकत से वो मेरी गांड में लंड पेल रहा था, मुझे मजा आ रहा था, वह पूरे दम से रगड़ रहा था, मुझे मजा आ रहा था.

मटकती हुई फिर वो रसोई में चली गई और उसके लिए कुछ खाने के सामान लेकर आ गयी.

बीएफ हिंदी में बढ़िया वाला?

मैंने सोचा कि चलो मम्मी के विद्यालय चलूं, मम्मी से भी मिल लूंगा और हो सकता है कि पूजा को चोदने का मौका भी मिल जाए. फिर मैंने उसकी चूत को रेजर से साफ़ किया और अच्छी तरह से धोकर एकदम चिकनी कर दी. मैंने उसे अपनी तरफ घुमाया और आंखों में देखकर बोला- मेरी प्यारी छोटी बहन की कम से कम हम एक दूसरे को ऊपर से तो मज़े दे सकते है न.

इस बार वो बहुत चिल्लाने लगी, लेकिन मैंने थोड़ा और तेल लगाया, जिससे वो अब थोड़ा कम चिल्लाने लगी. मैंने अपने खड़े लंड को बहू की गांड से हटाया और पीछे धकेलते हुए उसको घूमने की जगह दे दी. वो एक हाथ मेरे बालों में फेरने लगी, दूसरे हाथ से मेरे पैंट का हुक खोलने लगी.

भाभी फिर से चीख पड़ीं- उम्म्ह … अहह … हय … ओह … बहनचोद … जान लेगा क्या …फिर मेरे मुँह से भी गाली निकलने लगी- साली रंडी कुतिया … आज तो तेरी इतनी चुदाई करूंगा कि फिर कभी किसी और के लंड को लेने का नाम नहीं लेगी. दोस्तो, आपने भी ऐसे वीडियो देखे होंगे जिसमे ये औरतें सेक्स गेम खेलती हैं. इस पर पूजा बोली- अमित उसके बाद की भी सुनो … उसने मुझे स्कूल में अपने दोस्तों के बीच बदनाम कर दिया कि उसने मुझे जम कर चोद दिया.

फिर इस दोस्ती ने क्या रूप लिया? पढ़ें इस मधुर काम कथा में!आज मैं आपको अपनी मधुर काम कथा में देशी महिला और काम की एक ऐसी घटना सुनाऊँगा, जो काम के प्रति आपका नजरिया बदल देगी. मैंने अपने पैंट शर्ट उतारी, अंडरवियर भी उतार दिया और उन पर चढ़ बैठा.

मैंने पैंटी को हाथ से रगड़ा और चाची की गीली चुत पर हाथ लगा कर देखा तो वो उभर कर ऊपर अलग से मेरे हाथ में महसूस हो रही थी.

अब मेरी बारी थी, मैं टेबल से उतरा और उसकी टांगों को अपनी तरफ खींचकर फैला दीं.

मैंने भी अनजान बनने का नाटक किया और पूछा- प्रमोद नहीं है?वो बोली- नहीं … वो क्लास करने गया है. चूंकि ये उसका ही शहर था और वहां सब जान पहचान वाले भी थे, इसलिए उसका डरना लाजिमी था. खाना अभी तैयार नहीं हुआ था, तो वो बाहर बैठ गया और फ़ोन पर किसी से बात करने लगा.

अब तो मैंने जांघें इतनी खोल दी थीं कि राजशेखर को मेरी योनि से अपने लिंग को घुसाने में जरा भी परेशानी नहीं हो रही थी. मुझे मज़ा आ रहा था, मैंने पैंटी के ऊपर से ही उंगली पैंटी के कपड़े सहित बुर में डाल दी, तो वो चिहुँकते हुए आगे को हो गई और उसने मेरा हाथ पकड़ लिया. मैंने वहां से एक चाय ली और चाय पीने के लिए वहीं पड़ी एक कुर्सी पर बैठ गया.

मैंने सोचा कि अगर आशिमा के घर में नहीं तो होटल में चुदाई तो हो ही सकती है.

मैंने उसकी तरफ देख कर उसे आंख मारी और कहा- एक कॉल ब्वॉय को आई लव यू बोल रही हो. उस दिन पूजा के साथ दो घंटे रेस्टोरेंट में बिताने के बाद हम एक दूसरे से भावनात्मक रूप से जुड़ चुके थे. यूँ ही चलते चलते मैडम ने पूछा- साहिल, तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?मैंने कहा- अभी कोई नहीं है.

जैसे ही गांठ खोली, मैंने देखा कि उन्होंने ब्लू कलर की ब्रा और पैंटी पहनी हुई थी. मैंने पूछा- क्यों आपके पति आपकी गांड नहीं मारते?उन्होंने कहा- मेरे पति मेरी चूत में ही सिर्फ 2 मिनट में झड़ जाते हैं … गांड लायक उनका कड़क ही हो पाता. मैं अपने हाथों को रोक नहीं पाया और भाभी के गोरे चूचों को छू कर देखने लगा.

मेरे दोस्त ने कहा- कम्प्यूटर सही करने आया है … सिर्फ कम्प्यूटर पर ध्यान दे … मेरी गर्लफ्रेंड पर मत ध्यान दे … चूतिया कहीं का …मेरे दोस्त की ये बात उसकी गर्लफ्रेंड को कुछ अच्छी नहीं लगी.

जिसका दर्शन मिहिर को उर्वशी की आंखों में देखने पर हो रहा था और उर्वशी को मिहिर की आंखों में देखने पर. मैंने ऐसे ही बात करते हुए अपने तौलिया पर हाथ मार दिया और मेरा ढीला तौलिया उतर कर नीचे गिर गया.

बीएफ हिंदी में बढ़िया वाला मैंने आज तक जितनी भी भाभियों की गांड मारी है ना … वो ज़रूर मेरी तारीफ करती हैं. मामी के लाल रंग के ब्लाउज में भरे हुए उनके मोटे और बड़े स्तन दिखने लगे.

बीएफ हिंदी में बढ़िया वाला यह सुनकर ज्योति भी कुछ उदास सी हो गयी … फिर ज्योति ने मेरा हाथ अपने हाथों में लिया और बोली कि कोई बात नहीं यार … कभी ना कभी तो कोई तेरी गर्लफ्रेंड बनेगी ही … सब्र रख. जॉयश बिंदास खिलखिला कर बोली- क्या हुआ? सबको सांप क्यों सूंघ गया? ऐसा क्या देख लिया? यारो … यही है आज का ‘नो ड्रेस कोड’ हम सब आज कपड़ों से आजाद होकर पार्टी करेंगी और सबके मन की सेक्स फेंटेसी शेयर करेंगी.

तो आंटी ने कहा- डोगी स्टाइल से करें अब?मैंने कहा- ठीक है!वो अब डोगी पोजिशन में आ गयी.

भोजपुरी बीएफ भोजपुरी बीएफ

वो सेक्स से हॉट हो कर धीरे धीरे अपनी गांड हिलाने लगी और कसके मुझसे चिपकने लगी. मैंने कहा- आह्ह … शाबाश मेरे बच्चे … ऐसी चुदाई करना कहां से सीख कर आया है तू?वो बोला- इसमें सीखने वाली कौन सी बात है मां. मैंने आगे बढ़ते हुए कहा- चलो आज एक बार फिर हम दोनों बचपन की तरह एक दूसरे को नंगा देखते हैं.

मैंने पूछा- क्या हुआ?पूर्वी बोली- मेरे बदन में हल्की सी गुदगुदी हो रही है. साथ ही साथ वह मंगल की गांड पर चांटे भी मार रही थी और उसे गालियां भी दे रही थी, बोल रही थी- बहन के लंड … मां चोद दे इन सब की! आज भुर्ता बना दे इन रंडियों की चूत का!और मंगल भी पागल कुत्ते की तरह उनकी चूत की मां चोद रहा था. मैं- सोनीपत में कहां आना है?रीता- मैं सोनीपत से हूँ उधर रहती नहीं हूँ.

वो कमर उठा-उठा कर गर्म गर्म सासें ले रही थी।अब भाभी से बरदाश्त नहीं हुआ और वो उठकर मुझे किस करने लगीं.

मैं काँप रहा था, क्योंकि इससे पहले मैंने न ही ऐसा कुछ देखा था और न ही किया था. एक दिन मैंने मेरी योजना को इस्तेमाल किया और बातों ही बातों में उनसे उनके उसी फ्रेंड के बारे में पूछ लिया. दूर से ज्यादा साफ तो नहीं दिखाई दे रहा था मगर इतना तो पता चल रहा था कि मामी का नंगा बदन कैसा है.

प्रीति ने उसकी गांड पे कस कस के चांटे लगाए, कल्पना ने तो दांत ही गड़ा दिए. एकता सबसे जवान लेकिन सबसे ज्यादा बोल्ड, कल्पना सबसे ज्यादा बेशरम और बेहया! बहरहाल जैसा चल रहा था वो आजकल नार्मल बात है, उसमें लिखने जैसा कुछ नहीं था. मेरे लंड का रस पी कर उनका चेहरा और भी ज्यादा खिल गया था या कहूँ तो और भी ज्यादा खूबसूरत हो गया था.

दीदी की सलवार अब नीचे गिरी हुई थी, वो अब भी अपनी सुसू वाली जगह को हाथ से मसल रही थी. मैं दीवार की ओट में खुद को छिपाते हुए अपनी भतीजी और उसकी सहेली के काफी करीब आ गया, जहां से मैं उनकी बात भी सुन सकता था.

मेरे अन्दर जाते ही भाभी चौंक गईं और उन्होंने मोबाइल को नीचे रख दिया. मामी ने दो मिनट के अंदर ही मेरे सारे कपड़े उतार कर मुझे पूरा नंगा कर दिया. उसकी नजर अपनी समधन यानि मुझ पर थी, इसलिए उसने निर्मला को मुझे अपने इस खेल में शामिल करने को कहा.

मैंने चाची के दूध दबाते हुए कहा कि मेरा लंड का साइज़ तो देख ही लिया है … आपकी चूत फट जाएगी … बहुत दर्द होगा देख लो.

मेरे अन्दर का जानवर जागने लगा था और मैं उसके मम्मों को जोर जोर से मसलने दबाने लगा था. आपको चुदक्कड़ सेक्सी पंजाबन भाभी की चूत चुदाई कहानी पसंद आई? तो अपने विचार इस कहानी के बारे में जरूर बतायें. आपने अब तक मेरी इस सेक्स कहानी के पिछले भागपुराने साथी के साथ सेक्स-5में पढ़ा था कि सुरेश बिस्तर में मेरा जबरदस्त साथ पाकर बहुत खुश हो गया था.

अनिल ने लंड निकाला और कहा- अब मैं जा रहा हूँ … लेकिन तेरी चूत को बाद में चोदूंगा. मेरे ज्यादा जोर देने पर वो मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी और 5 मिनट तक लंड चूसती रही.

स्स्स … उसके हाथ के इस तरह से मेरे लंड की बगल में रखे जाने से मेरे अंदर हवस जागने लगी. ज्योति मेरे इस अन्दाज से बहुत ही खुल सी गई और बोली- महेंद्र … तुम्हारा मस्ती करने का मन भी कर रहा है … और तुम डर भी रहे हो?मैंने उसकी बात समझ ली थी. मेरा लंड फिर से चूत की गहराइयों को नापने लगा और वो आनन्द के सागर में अन्छुई और अनदेखी गहराइयों को महसूस करने लगी.

भाभी की सेक्सी चुदाई बीएफ

फिर कुछ देर के बाद मामा ने मेरी मामी के गालों को किस करने कोशिश की तो मामी ने मरे मन से उनको किस करने दिया.

ये गर्मियों की छुट्टियों की बात है, जब मेरे चाचा दस दिनों के लिए जयपुर गए थे, उनके बच्चे अपनी नानी के पास गए थे. जब बुआ नहाने जाती थीं, तो मैं बाथरूम के छेद से चुपके से उन्हें नहाते हुए देखता रहता था. जब दीदी चार पांच पैग लगा लेती थीं, तब वे मुझे ही अपनी चुत का शिकार बनाने की कोशिश करने लगती थीं.

जब मेरे पिता जी उससे पूछते कि क्या हुआ?तो रजनी बात पलट देती थी कि आज ये बहुत परेशान कर रहे थे. मैंने बहुत सोचा, विचार किया और पूजा को भी समझाया कि मैं इस रिश्ते को किसी अंजाम तक नहीं पहुंचा पाऊंगा, तो हमारा यूँ घूमने जाना और पांच रात, पांच दिन साथ गुजारना गलत है. डब्ल्यू डब्ल्यू एक्स बीएफ वीडियो”नींद की वजह से मैं भूल गयी थी कि मैं उसके घर उसके बेड पर लेटी हूँ.

यह जानते ही मैं एकदम खुश हो गई और अपनी टांगों से संजय की कमर को जकड़ कर उससे मस्ती से चुदवाने लगी. उसके लिंग की मोटाई की वजह से अब भी मेरी योनि की दीवार फैल रही थी और खिंचाव महसूस हो रहा था.

कुछ दिन ऐसे ही कट गए, अब नितिन को भी प्रमोशन मिल गया और उसका वर्कलोड बढ़ गया था. मैं उसे नशीली निगाहों से घूर रहा था और मेरा मोटा लंड खड़ा हो चुका था. अगर मैं आज की समझ के हिसाब से बोलूँ, तो उसने माँ की पेंटी को अपने लंड पर रखी हुई थी.

चुदाई के अंतिम बिंदु पर आकर मिहिर ने उर्वशी की चूत में चार धक्के इतने दमदार मारे कि उर्वशी चीखते हुए अपना पानी मिहिर के लंड की तरफ फेंकने लगी. मैंने भाभी के सिर को कसके पकड़ लिया और अपना लंड तेजी से भाभी के मुँह में अन्दर बाहर करने लगा. मेरी बहन देखने में काफी खूबसूरत है और अभी अभी उसने जवानी की दहलीज पार की है.

मैंने अपना मोबाइल फोन निकाल लिया और उन दोनों की वीडियो बनानी शुरू कर दी.

मैंने जान बूझ कर उससे पूछा कि वो इतनी लेट क्यों हो गई तो दीदी ने कहा कि कॉलेज में एक प्रोजेक्ट का काम कर रही थी. मैंने पास ही पड़े अपनी बनियान से चुत को थोड़ा सा पौंछा और चुत पर जमा कर धक्का दिया.

ज्योति ने भी मुझे हाय बोला और कहा- तुम्हारे बारे में मैंने बहुत सुना है … तुम वास्तव में एक होशियार और दोस्ताना स्वभाव के आकर्षक लड़के हो. काफी देर तक वो दीदी को चूत को चाटता रहा और फिर जब दीदी से रहा न गया तो उसने प्रिंसीपल को खड़ा किया और उसके होंठों को चूसने लगी. इस माँ बेटा सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपने सौतेले बेटे की वासना भड़का कर उससे अपनी चूत चुदाई करवा ली.

इसी तरह 15-20 दिन गुजर गए और एक दिन मैं पति के साथ बाजार गयी हुई थी. मेरी काम वाली शाम को आती है इसलिए हमें उसके आने से पहले सेक्स करना था. उसको खुद के लिंग पर दर्द हुआ था, तभी उसने मेरी योनि के दर्द को समझा था.

बीएफ हिंदी में बढ़िया वाला मोनिषा आंटी की उम्र उस समय करीब 36 साल होगी और उनका फिगर 36-30-38 का था. मुझे जरूरी काम से मार्केट जाना है, जब तक मैं आ न जाऊं, तुम इसके पास ही रहना.

मां बेटे की बीएफ फिल्म

झड़ने के बाद उनके मुँह पर हल्की सी मुस्कान थी, जैसे वो बोल रही हों कि बहुत दिन बाद चुदाई करके उनको संतुष्टि मिल गयी हो. मैंने कहा- मैं गर्म तेल से इनकी मालिश कर देता हूँ, तो दर्द ठीक हो जाएगा. आज जो निशा जी दिख रहीं थीं, वो आनंद लॉस-वेगास की एक पॉर्नस्टार के साथ आया था।फिर सिलसिलेवार शरीर चूमने और लव बाइट्स का दौर चला.

वह बोला- तुम बड़ी देर लगे रहे, मुझे एकदम भड़भड़ी छूटती है, चालू हुआ तो बीच में रूक नहीं पाता।फिर हम उठे, मामा जी से कहा- आप पहले नहा लो, हम फिर नहाएंगे. फिर उसने अपनी जीभ मेरी योनि की लंबी दरार में ऊपर नीचे फिराई, तो मुझसे फ़ोन पकड़ पाना मुश्किल होने लगा. सेक्सी नंगी राजस्थानमैं बहू के पीछे ही खड़ा हुआ था लेकिन जब मेरा ध्यान भीड़ से हट कर मेरे शरीर पर गया तो मैंने पाया कि मेरा लंड बहू की गांड पर नीचे सट गया था.

अब मुझे ये पता नहीं था कि गिलास में बीयर थी, शराब थी, या कोई कोल्ड ड्रिंक थी.

फिर उसने मुझे समझाया कि तेरी सील टूट गई है … अब तू मजे लेने के लिए खुल गई है. एकता ने लिखा कि उसका मन है कि वह बारिश में खुले में निर्वस्त्र झूम झूम कर नहाए और फिर कहीं से कोई अजनबी आ जाए और उसके साथ बारिश में भीगते हुए संभोग करे.

मैंने मॉम की चुत में उंगली डाली, तो मॉम ने इस्स करते हुए अपनी टांगें चौड़ी कर दीं. और वैसे भी सुरेश कोई मेरा पति नहीं था कि मुझे ये जानकार जलन हो कि इसने मेरी सहेली के साथ संभोग किया. जॉयश ने मंगल को इशारा किया और उसने एकता की ब्रा को भी अपने कब्जे में ले लिया.

अब फिर मेरा दिमाग घूमा कि ये मुझे बस अपनी बातों में फंसाने में लगा था.

मैं कैसे भी करके उसकी बांहों से बाहर निकली और उससे थोड़ी दूर को सोने लगी. मैंने अपने दोस्त सुरेश को बता दिया था कि अगर पापा का फोन आये तो वह कह दे कि मैं उसी के पास काम से आया हुआ हूं. मुझे नहीं पता था कि शहरों की तरह गांव की औरतें भी इतनी खुले विचारों की होती हैं.

फुल एचडी हिंदी बीएफवहां पर मैं सिमरन नाम की एक मैडम से मिला, जिनकी उम्र सिर्फ़ 29 साल की थी. इधर मैं अपने नए पाठकों को बता दूँ कि हाई प्रोफाइल सर्विस के लिए हम लोग कोड का इस्तेमाल करते हैं … ताकि झूठ से बचा जा सके.

मियां खलीफा की बीएफ

बस ये बात आते ही सुरेश का जोश और बढ़ गया और वो किसी मशीन की भांति लिंग मेरी योनि में अन्दर बाहर करने लगा. उसने कहा- मैं क्यों बुरा मानूंगी … कहो न क्या कहना है?मैंने सोचा कि ये इसे पटाने का सही मौका है … वैसे भी अभी ये गर्म है. दीदी के मम्मों को मुँह से कस-कस कर दबाने से दीदी की मस्त चीखों को सब सुन रहे थे.

‘उम्म्ह … अहह … हय … ओह … आई … याह …’करते हुए वो चूचे दबवाने का मजा ले रही थी. मैंने कहा- क्यों नहीं 3 साल साथ बिताये हैं … तीन महीने में क्या चेंज हो गया होगा. घर में उनकी बहू थी जो अपनी नन्हीं सी नवजात बच्ची के साथ अपने कमरे में ही लेटी हुई थी.

मैंने उसे समझाया कि इसका मतलब है कि तेरे पीरियड का ये आखिरी दिन है. मेरा बेटा प्रकाश तैयार होकर कहीं जाने की फिराक में था तो मैंने उसे टोक दिया. मेरी नाभि में अजीब सी सनसनाहट हुई और ऐसा लगा मेरी योनि की मांसपेशियां ढीली पड़ जाएंगी.

मुझे लड़की गाली देने वाली ही पसन्द है, उससे उत्साह बढ़ता है और चुदाई अंतहीन हो जाती है।मैंने उसे बेहताशा चूसना ज़ारी रखा और बीच बीच में उसकी गांड को भी छेड़ देता तो उसकी चीखें वासना भरी हो जातीं. किसी लड़की को कैसे खुश करना, कैसे उसकी चूत की प्यास को बुझाना है; ये मुझे बड़े अच्छे से पता है.

वो तेजी से मेरे लंड को सहलाने लगी और मेरा लंड फिर से एकदम टाइट हो गया.

अफगानी पठान होने के कारण अरमान एक बहुत ही गोरा और लंबे कद वाला लड़का था. भाई बहन की रोमांटिक सेक्सी वीडियोलंड घुसते ही हॉट आंटी की चीख निकल गयी- उई माँ … धीरे डालो … दर्द हो रहा है. अरे ब्लू फिल्म ब्लू फिल्ममैंने कहा- क्यों … क्या तुम्हारे पास लाल रंग की ब्रा पैंटी नहीं है क्या?वो बोली- मेरे पास लाल रंग की ब्रा पैंटी के चार सैट हैं. आगे इस सेक्स कहानी में मैं आपको सुरेश की मस्ती और सेक्स को लेकर आगे लिखूँगी.

पर वो चुपचाप मेरी ओर बढ़ता चला आया और फिर मेरे बदन से मेरी साड़ी अलग करने में लग गया.

अगले दिन मैं मैंने वियाग्रा और सिगरेट के कुछ पैकेट देखे, जिसमें कुछ ऐसा भी था, जिससे सेक्स करने की क्षमता बढ़ जाती थी. मैंने नाश्ते के लिए उन्हें मना कर दिया तो उन्होंने कहा- डॉक्टर साहब रात को मैंने आपकी बात मानी … आप नाश्ता नहीं कर रहे हैं … ये ठीक नहीं है प्लीज़ ना न करें. मेरे अच्छे व्यवहार से उनके घर में धीरे धीरे उनके मम्मी पापा को अच्छा लगने लगा.

फिर उसने बताया कि प्यार की बात पर जब मैं राजी नहीं हुई, तो सरस्वती ने ही सुरेश से बोला कि उसे कम से कम एक बार मैं संभोग करने दूं. मैंने उसे बहुत देर तक पेला जिसके बाद अपनी लंड की पिचकारी बाहर उसके मुँह पे चला दी. मौसी बोली- ऐसे ही नहीं साइज बढ़ा … तीन चार हजार लोगों से चुदी होगी तेरी बीवी.

गाना वाली बीएफ

इस वक़्त वो बहुत सेक्सी हो गयी और मुँह से मदमस्त आवाज निकलने लगी थी. मैंने कहा- कैसे मैम?उन्होंने कहा- अपना मोबाइल लाए हो?मैंने कहा- जी मैम. फिर थोड़ी देर बाद मैंने और ज़ोर से दबाया, इतने में वो उठ गयी और कमरे से बाहर चली गयी.

मेरी पत्नी के 34 के आकार के गोरे उरोज उसकी ब्रा से बाहर आने के लिए बेताब से लग रहे थे.

इस बार हमारी चुदाई का राउंड 35 मिनट तक चला और मैंने उसकी चूत को रगड़ दिया.

वो भी अपनी चुत को मेरे मुँह पर दबाते हुए रस स्खलित करते हुए चीख रही थी. एक कामातुर नारी को यौन सुख ना देना बड़ा पाप है।हल्के धक्के के बाद रफ्तार तेज की, आनन्द के आंसू निशा जी की आँखों से बहने लगे. ब्लू पिक्चर दिखाएं सेक्सी वीडियो मेंमैंने मॉम की चूचियां छोड़ दीं और नीचे आकर लेट कर अपनी जीभ से मॉम की चूत चूसने लगा.

मैं आते जाते जब तब उनके स्तन दबा देता था और कभी कभी किस भी कर लेता था. मेरे सामने एक डबल रोटी जैसी फूली हुई चूत थी और कमाल की बात तो यह थी कि आज उस पर एक भी बाल नहीं था. सुरेश- अच्छा भूल गयी … पिछली बार कैसे माई … माई बस करो … छोड़ दो … चिल्ला चिल्ला के रो रही थी.

जब वह अपनी सेक्सी गांड हिलाते हुए चलती थी, तो उसे देख कर अच्छे अच्छों के लंड सलामी देने लगते थे. मौके की नजाकत को समझते हुए मैंने चूत की गहराइयों में लंड को उतारने का फ़ैसला कर लिया.

ऐसे खूसट किस्म के गांडुओं ने मेरी गांड कम मारी थी, मुझे उनकी गांड उनके मजे के लिए मारना पड़ी थी.

जैसे ही मैं पहुंचा, तो उसने मुझे हैलो बोला और अपनी गर्लफ्रेंड से परिचय करवाने लगा. पहले तो वो थोड़ी शर्मायी और फिर धीरे से बोली कि मैं तुम्हारे हर काम पर ध्यान दे रही थी. मैंने उसकी चुत के होंठों को उंगली से फैला दिया और कहा- मूतो मेरी रानी.

फुल एचडी में बीएफ सेक्सी इतना कह कर अनिरूद्ध ने मेरी बहन के सामने ही अपने कपड़े उतारने शुरू कर दिये. मेरे प्यारे दोस्तो, आप सभी को मेरा नमस्ते, मेरा नाम दीपू वर्मा है। मेरी उम्र 28 वर्ष है और मेरी लंबाई 5 फीट 10 इंच है.

अब मैंने उसके नम्बर को, जिससे मेरे व्हाट्सएप्प पर फाइल आई थी, उसे अपने मोबाइल में सेव कर लिया. जिस कुर्सी पर मेरा दोस्त मेरे पास बैठा हुआ था … उसके बाजार जाने के बाद ज्योति उस कुर्सी पर मेरे पास बैठ गयी. मैंने बोला- इसमें मैं आपकी क्या मदद कर सकता हूँ?तो भाभी मुस्कुराती हुई बोली- तुम अन्दर भी आओगे या सारी बातें दरवाजे पर ही करोगे.

बीएफ देहाती माल

सुबह उसकी बहन को छोड़ने गया तो पहली बार मेरे शरीर में उसके जिस्म को लेकर एक सनसनी सी हुई. दीदी ने मुझे देखा तो खीज कर बोली- क्या है?मैंने कहा- आप क्या देख रही हो, मुझे भी देखना है. विमला और मैं और सरस्वती, इंटर के बाद गांव में ही रहीं और फिर सबसे पहले उसी की शादी हो गयी.

काफी देर हो चुकी थी और सुरेश के लिंग से पतली पानी की तरह बूंदें बार बार आने लगी थीं. मम्मी ने उससे पूछा- क्या हुआ?तो पता चला कि उन्हें लेने के लिए उसका भाई आने वाला था, मगर किसी वजह से वो आ नहीं पाया.

जब मैंने ढंग से नहीं किया, तो दीदी ने मुझे हटा दिया और खुद ही करने लगी.

यह भाई बहन सेक्स स्टोरी है रसीली बहन की रसीली चूत की चुदाई की … मैं शुरू से ही अपनी बहन के जिस्म को भोगना चाहता था. पहले तो उसने कुछ ना नुकर की लेकिन मैंने जिद की तो आखिर वो लंड चूसने को मान गयी. हम भाई-बहन की चुदाई में मुझे इतना मजा आयेगा मैंने कभी नहीं सोचा था.

वक्त के साथ मैं भी समझ गया कि जितनी मेरी माँ चुदक्कड़ है, मेरी बहन की वासना भी उससे कम नहीं है. पता नहीं था कि वो मेरे बारे में क्या सोच रही होगी, बस मैं अपनी हवस को किसी तरह काबू करने की जुगत में लगा था. सोनू का भी किसी के साथ चक्कर नहीं था और मैं तो जैसे सूखा था ही अभी तक.

वो बोली- ओह्ह, तो मेरे जैसी चाहिए!मैं बोला- जी!फिर वो बोली- देखो, मैं तुम्हारी गर्लफ्रेंड तो नहीं बन सकती लेकिन फ्रेंड जरूर बन सकती हूं.

बीएफ हिंदी में बढ़िया वाला: मैं- क्यों घर पर कोई कुछ कहेगा नहीं?दस्तूर- घर पर आज कोई नहीं है … लेकिन बगल वाले लोग मुझे नशे में देख कर पता नहीं क्या कुछ सोचेंगे. लंड चुसाई से उसे मजा आने लगा और उसके मुँह से ‘आहहहा आहह उउहहा …’ की कामुक सिसकारियां निकलने लगीं.

मेरे मामू अपने काम पर गए हुए थे तो मैं उसको बैठक में ले गया।मैं अपने साथ कॉन्डोम ले कर गया था. शाम को तो माँ सूट पहनती थीं, मगर सुबह वो हमेशा नाईटी में ही होती थीं. पेपर्स की वजह से मेरी बहन की छुट्टी थी तो वह घर पे ही थी।जब देर तक मैं लंच करने नहीं गया तो वो मुझे देखने मेरे कमरे में आ गयी.

हम दोनों भाई बहन अधूरी चुदाई करने के बाद थोड़ी देर यूं ही चिपके हुए लेट कर आराम करते रहे और फिर दुबारा गर्म होने तक एक दूसरे की बांहों में आकर मूवी देखने लगे.

मुझे नहीं पता था कि शहरों की तरह गांव की औरतें भी इतनी खुले विचारों की होती हैं. वो कांपने लगी थी और चिल्ला रही थी- अंह और तेज और तेज …करीब आधे घंटे तक चोदने पर उसे चरम आनन्द मिल गया. वे एक डेढ़ घंटे पहले ही अनिल की मार चुके थे अतः थके हुए थे, जल्दी ही हांफने लगे.