बीएफ इंडिया में

छवि स्रोत,नई ब्लू फिल्म दिखाएं

तस्वीर का शीर्षक ,

साउथ अफ्रीकन सेक्सी: बीएफ इंडिया में, कुछ ही देर में मेरे हाथ अपने आप ही उसकी चूत को ढूंढते हुए नीचे चले गए.

इंडियन sex

फिर उसने एक हाथ से लंड का चिकना टोपा चुत की फांकों पे फंसा दिया और एक जोर का धक्का लगा दिया. सेक्सी वीडियो सेक्स वीडियो सेक्स वीडियोमौका मिलते ही चुसवाता भी बहुत था जिसके कारण मेरे बूब्स का आकार नॉर्मल से थोड़ा बड़ा हो गया था.

मैंने सोचा कि यही वक्त है मौके पर चौका मारने का।मैं बोला- सबसे पहली बात तो मैं यहां पर बिल्कुल नया हूं और दूसरा मुझे अभी तक तुम्हारे जैसी कोई हॉट लड़की यहां अमेरिका में मिली नहीं है. स्कूल गर्ल एक्स एक्स वीडियोउसने अपनी पकोड़ा सी चूत को मेरे पैंट में तने लंड के ऊपर रख दिया और रगड़ने लगी.

लेकिन जितने विश्वास के साथ मैं आगे कदम बढ़ा रहा था मोनी मेरे उस भरोसे को पीछे धकेल देती थी और वह शायद नहीं चाहती थी कि मैं उसकी चूत को भी हाथ लगाऊं.बीएफ इंडिया में: ”तभी मेरी मम्मी ने आवाज़ लगाई- विपुल, तेरा फोन बज रहा है … देख कौन से दोस्त ने फ़ोन किया है.

मेरे साथ लिपटी वसुन्धरा ज़ार-ज़ार रोये जा रही थी और मैं कर्तव्यविमूढ़ सा उसके सर और पीठ को सहलाये जा रहा था.मैंने चारों ओर की छतों पर नजर दौड़ाई, पर आस-पास की छत पर कोई नजर नहीं आया.

बीपी फिल्म दिखाएं - बीएफ इंडिया में

ड्स … सब कुछ टाइम से है ना?”उनका चेहरा देखकर मुझे हंसी कंट्रोल नहीं हो रही थी.अंकल जी ने तो चुदाई का इंतजाम कर दिया था बस अब मुझे हिम्मत करके उनसे चुदने जाना था.

मैंने देखा तो हेतल मेरे लंड के नीचे पड़ी हुई पूरी तरह चुदासी होकर मेरा लंड अपनी चूत में ले रही थी. बीएफ इंडिया में पहली बार की चुदाई के समय तो कुछ समझ में भी नहीं आया था।मैंने उसकी चूत की फांकों को फैलाया.

उसने एक हाथ से मेरे लंड को सहलाना और दबाना जारी रखा जिससे मेरा लौड़ा पूरा तन गया और मेरे अंदर की हवस का शैतान जाग गया.

बीएफ इंडिया में?

तभी संजना मेरी चटाई से अपने चरम पर पहुंच चुकी थी … पर मैं अभी भी झड़ा नहीं था. मैंने भी थोड़ा खुल कर कहा- तुमको देखकर तो नहीं लगता कि तुम मुझे ज्यादा देर तक व्यस्त रख पाओगी. वो बोले- हां बिल्कुल … कल ही!दोस्तो, आगे क्या हुआ मेरी जवानी के साथ … वो मैं अपनी कहानी के अगले भाग में बताऊँगी.

मैं यूनिवर्सिटी से दो पीरियड छोड़कर 10:30 बजे निकल लिया और ठीक 11:00 बजे घर पर पहुंच गया. कहानी के पिछले भाग में आपने जाना कि कैसे रमेश ने अपनी बेटी को अपनी मन-मर्जी के मुताबिक चोदा. फिर मैंने सीट के नीचे से अपना पर्स निकाला और लेकर कार की सीट पर बैठ गयी.

उसके बाद अमीषी एक हफ्ते तक मुझसे नहीं मिली क्योंकि उसकी चूत जख्मी हो गई थी और सूज गई थी, जो उसने पिक क्लिक करके मुझको दिखाई थी. मैं घूंट लेने के लिए आगे बढ़ी तो उसने गिलास को मेरे होंठों से लगा दिया और मुझे शराब पिलाने लगा. वो फिर से गर्म हो गयी और लण्ड को जोर जोर से हिलाते हुए बोली- मनमीत, जल्दी से डाल दो … अब इंतजार नहीं होता!फिर उसको सीधा लिटा कर जैसे ही उसकी चूत पर लण्ड लगाया, वो फिर से सिसकारने लगी.

जब हम लोग चाची को देखने गए थे, तभी मुझे चाची में एक हसीन माल दिखा था, लेकिन मैं इतनी जल्दी उनके बारे में कुछ ग़लत नहीं सोचना चाहता था. फिर खाना खाते वक्त दिखने वाले सेक्सी मम्मों को देख कर मैं गर्म हुए जा रहा था.

मैं उनको चूम ही रहा था कि वो थोड़ा पीछे हटीं और बोलीं- ये क्या कर रहे हो?मैं कुछ नहीं बोल पाया और थोड़ा पीछे हुआ.

उसकी तेज सिसकी निकल पड़ी- आआआ ईइइइ उइइ आह हहह उम्म्ह! मेरे जाबो गो मां!और उसे यह कहते हुए छोड़ दिया कि अब हिसाब बराबर।उसकी चूत गर्म रोटी की तरह फूल कर सूज गई थी और उससे हिला भी नहीं जा रहा था.

अगले दिन जब उन्होंने मेरे साथ छुपा-छिपी खेलने के लिए कहा तो मैंने ये कहकर मना कर दिया कि मेरे पैर में दर्द हो रहा है. तो कमेंट्स जरूर कीजिये और बताइए कि मुझे यह कहानी लिखनी चाहिए या नहीं?. बोले- आह्ह … तेरे ये रसीले होंठ और तेरी ये नशीली आंखें तो बहुत कातिल हैं.

मैं भी उनके सिर के बालों में और उनके कूल्हों पर हाथ फिराकर उनको प्रोत्साहित कर रही थी. ऐसे ही एक दिन की बात है जब मैं नहा रहा था। मेरी आदत है खुले में नहाने की। नहाते समय मेरी चाची आकर मुझे छेड़ने लगी। वो मेरी चड्डी खींचने लगी. पति- सॉरी यार, पास पड़ी चीज पर मेरी नजर ही नहीं गयी, पर अब मेरी नजर ही नहीं हटेगी.

फिर उसने मेरी तरफ गर्दन घुमाई और फिर एकदम जोर से ठहाका मारकर हंस पड़ी.

उनके चेहरे पर लंड लेने के लिए हाव भाव अलग से ही आनंद के रूप में दिखाई दे रहे थे. मैं हमेशा चुदने के लिए तैयार रहती थी और मेरे से ज्यादा अमित मुझे हमेशा चोदने के लिए तैयार रहता था. नम्रता सिसकते हुए बोली- मैं यही प्यार तो अपने पति से चाहती थी, लेकिन वो भड़वा, बस बिस्तर पर आता था, मेरे कपड़े उतारता था, चूची को मुँह में भर कर पीता और थोड़ी देर मेरी चूत पर हाथ फेरता उसके बाद चुदाई करता और फिर अपना माल अन्दर छोड़कर जाकर किनारे सो जाता.

दिशा चहकती हुई मेरे पास आकर घुटने के बल बैठ गई और अपने हाथ में लंड लेकर चूसने लगी. मैंने उठकर कॉफ़ी का मग पकड़ा, अब के वसुन्धरा मेज़ के परली तरफ़ बैठने की जग़ह मेरे बाएं हाथ लंबरूप रखी कुर्सी पर बैठ गयी. सच में दोस्तो … जो मजा चूत चटाई में है वो किसी और चीज में नहीं।बीच-बीच में मैं उसकी चूत चटाई को छोड़ कर उसके चूत के दानों को हाथ से सहला रहा था और कभी कभी तो अपनी अंगुलियों को अन्दर बाहर कर रहा था.

इस सेक्स कहानी का मजा लें और मेरी चूत के नाम से एक बार लंड जरूर हिलाएं.

मेरी चूत को चोदते हुए भैया के मुंह से आह्ह् … ओह्ह जैसी आवाजें निकल रही थीं. अनिता की चूत एक बार झड़ चुकी थी तो मुझे उसे फिर से चुदाई के लिए तैयार भी करना था.

बीएफ इंडिया में इसी उत्तेजना का परिणाम था कि वो जल्दी ही खल्लास हो गई और उसका पानी मेरे मुंह में गिरने लगा। वो शायद संकोचवश मेरे मुंह को अपनी चूत से अलग करना चाह रही थी लेकिन वो असफल रही. वो उठी और दिशा बदलकर 69 की पोजीशन में आ गई और मेरा लोअर नीचे खिसका दिया और लण्ड को चूमने लगी.

बीएफ इंडिया में उधर नीचे की तरफ मैं अब भी धीरे-धीरे धक्के लगाकर अपने लंड को मोनी की चूत में अन्दर बाहर कर रहा था जो कि अब और भी आसानी से चूत मे अन्दर बाहर होने लगा था। शायद मोनी भी अब चरम के करीब ही थी. मैंने भांग को दूध में मिलाकर उसे कामवाली नौकरानी को पिला दिया और उसके साथ रात भर सेक्स किया.

इसलिए अब मैं भी जल्दी करने में मूड में आ गया और तुरंत अपना पैंट और चड्डी नीचे करके लंड बाहर निकाल लिया.

बीएफ पिक्चर अंग्रेजी में

वहाँ मैंने उसकी चूत देखी तो वो वो लाल होकर पूरी तरह से सूज गई थी। मैंने उसकी फूली चूत पर एक किस किया तो वो शरमा कर रूम में भाग आयी।थोड़ी देर आराम करने के बाद मैंने और उसने एक और राउंड चालू किया. पहले तो मैंने ज्यादा ध्यान नहीं दिया पर रात में सोते वक्त उस आदमी की याद आई, मैंने तुरंत उठकर अपने पर्स से कार्ड निकाला, देखा तो किसी सॉफ्टवेयर कंपनी का लग रहा था. वो बार बार अपने मुंह को आगे पीछे करके मेरा लंड चूस रही थी पर मैं 3-4 मिनट में झड़ गया उनके मुंह में बिना उन्हें बताए.

जैसे ही मैं बाथरूम में पानी लेकर गया तो मैंने देखा कि चाची पूरी की पूरी नंगी खड़ी हैं। यह देख कर मेरा लंड चड्डी फ़ाड़ कर बाहर आने को हो गया। चाची की नजर मेरे तने हुए लौड़े पर पड़ गई. मैं बीच-बीच में उसकी गदराई हुई मांसल जांघों पर थप्पड़ मारता जा रहा था. दीपाली मुझसे दया की भीख मांगने लगी- नहीं समीर प्लीज ऐसा मत करो, छोड़ दो मुझे … नहीं तो मैं चिल्लाऊँगी … देख लेना.

धीरे-धीरे उसकी तरफ मेरा आकर्षण बढ़ने लगा और मैं उसको पसंद करने लगा.

कुछ देर के बाद जब मैं थक गया तो मैंने उसको पकड़ कर स्लैब पर बिठा दिया. सास-ससुर अपने पैतृक घर में रहते हैं और मेरे पति शहर से बाहर गये हुए हैं. पहले नेहा मेरे ऊपर आधी लेटी हुई थी, थोड़ी देर में वह उत्तेजित हो गई और मेरे ऊपर पूरी तरह से चढ़ गई.

मैंने उसकी साड़ी कमर तक उठा दी और उसकी मखमली गोरी टांगें मेरी आंखों के सामने आ गईं. तुषार बोला- क्यों फट गई क्या … बस अभी से डरने लगीं … अरे मेरी जान कुछ नहीं होगा. यूं मैंने ऐसे दर्शाया कि मुझे कुछ हुआ नहीं लेकिन अब के इस काम-केलि की डोर मुझे अपने हाथ ही में रखनी ही होगी नहीं तो आज की रात तो वसुन्धरा ने मुझे यक़ीनन उधेड़ कर रख देना था.

ऐसे ही कुछ दिन बीतने के बाद उसका कॉल आया कि आज मेरे घर पर सभी लोग शादी में गए हैं, दो दिन बाद लौटेंगे. उसने मेरे अंडरवियर को नीचे किया और खुद ही मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी.

मैंने भी थोड़ा खुल कर कहा- तुमको देखकर तो नहीं लगता कि तुम मुझे ज्यादा देर तक व्यस्त रख पाओगी. उसने मुझसे मजाक करते हुए कहा- हां हां … मुझे पता है क्या बात करोगे?मैंने रात में अमित से सब बात की. मुझे उम्मीद थी कि मेरा पति बहुत ही स्मार्ट होगा और मोटे लंड से चोद-चोद कर मुझे जवानी का मजा देगा.

मैं बोला- तो तुम हमें चुदाई करते देखती हो, तो तुम्ह़ारा मन नहीं होता?इस पर वो शर्मा गई.

वहां आवश्यक फोर्मलिटीस के बाद मैंने ज्वाइन कर लिया और मेरी नौकरी शुरू हो गयी. उन्होंने अपना ब्लाउज मेरे सामने ही खोल दिया। मैं उनके बूब्स देख कर दंग रह गया। वो इतने बड़े थे कि ब्रा से भी बाहर झांक रहे थे। उन्होंने मुझे बाथरूम में पानी लाने को कहा और खुद बाथरूम में चली गयी। उनकी भीगी ब्रा को देख कर मेरा लंड पहले ही मेरे अंडरवियर में तन चुका था. उसकी चुचियाँ इतनी बड़ी थी कि उसकी दोनों लड़कियों की बड़ी चुचियाँ भी उसी की देन थी.

वो अब थोड़ा कम ऊपर नीचे हो रही थी क्योंकि वो झड़ गयी थीं … लेकिन मैं चालू था. उसको देख कर मन करता था कि दिल की बात कह दूं लेकिन समझ नहीं आ रहा था कि शुरूआत कैसे और कहाँ से करूं.

भाभी लंड मसलते हुए बोलीं- तुम्हारा लंड तो बहुत मस्त है, बस इसे थोड़ी सी ट्रेनिंग की जरूरत है. मैं अभी सम्भल पाती कि उस हब्शी न्जे लंड के चुत में धक्के लगाने शुरू कर दिए. सुमन एक हाथ से मेरा और एक हाथ से हरकेश का लंड पकड़े हुए थी मैंने अपना मुंह आगे करते हुए सुमन के होठों को काटना शुरू कर दिया।हरकेश उसके दूध को बेइंतहा चूस रहा था.

जंगल में बीएफ सेक्स

मैंने पूछा- वर्जिन हो क्या?वो बोली- इस ज़माने में वर्जिन कौन रहता है?ये बोल कर वो हंसने लगी.

उसने मुझे रुकने को कहा और मुझे अपना कार्ड दिया, बोला- अगर काम की जरूरत हो तो मेरे ऑफिस में कुछ जगह खाली हैं, अगर चाहो तो एक बार आकर देख लेना. लेकिन तभी राधिका ने जोर एक चपत मार दी, जिससे मेरे मुँह से भी गहरी आह की आवाज निकल गई. प्रतिभा ने कहा- अच्छा तो ये बताओ … दोपहर को बैचलर पार्टी के लिए बुलाई गई रंडियों के साथ ऐश करते समय जनाब को हमारी याद नहीं आई.

तब उसने कहा- नहीं … जब वो बिना पिये आता है, तब पूरा अन्दर पेल चोद लेता है, पर उसका लंड तुम्हारी तरह नहीं है तुमने सच कहा है कि उसकी लुल्ली है. लेकिन फिर मैंने देखा भाभी उठी ही नहीं, यूं ही चूत पसारे लेटी ही रहीं. सेक्स वीडियो मूवी सॉन्गजब मैंने उसकी चूत से लंड को बाहर निकाला तो उसकी चूत से खून और वीर्य दोनों साथ में बाहर आ रहे थे.

इसलिए जब भी मौका मिल रहा था मैं शिखा के मुंह में अपना लंड डाल देता था. यह रस भरी चुदाई स्टोरी जब अपने चरम पर पहुंचेगी, तब आपको खुद ब खुद अपने आइटम पर हाथ ले जाना ही पड़ेगा.

और वह भी मेरे साथ हर उस सुख को बराबर भोगे जो मैं भोगना चाहता हूँ या भोग रहा हूँ। मेरी बहुत बड़ी इच्छा थी कि मैं …”कहते हुए मैंने अपनी बात बीच में ही छोड़ दी। मुझे लगता है नताशा नामक विस्फोटक पदार्थ अब इतनी कमअक्ल तो नहीं होगी कि उसे मेरी इस इच्छा का आभास नहीं हुआ होगा।प्रेम … मैं तुम्हारे लिए सब कुछ करने के लिए तैयार हूँ. चाची खिसयाते हुए कहने लगी- ये क्या किया हरामी? अब मुझे भी नहाना पड़ेगा. जब हमारा ये होलिडे खत्म हो जायेगा।मेरा मतलब मम्मी-पापा के वापस आने से था।इस पर वो बोली- इसकी कोई जरूरत नहीं … मैं इससे काम चला लूँगी.

इससे हुआ ये कि मैं और माणिक दिन पर दिन जिस्मानी तौर पर एक दूसरे से करीब आते गए. फिर वो मुँह धोकर आयी और थोड़ा बनावटी गुस्सा दिखाते हुए बोली- पूरे मुँह में छिड़काव करने की क्या जरूरत थी. तभी मैंने उनकी कमर को अपने हाथों से पकड़ा और उनको अपनी ओर खींच लिया.

उसने पूछा- मम्मी आपका कोई आने वाला था, वो नहीं आया क्या?सीमा ने नितिन को आवाज लगाई, तो वो नीचे आ गया.

कुछ ही देर में भाभी अपनी चूत को सहलाने लगी और बोली- बस मनीष, अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है. मैंने मेरी वाइफ को आईडिया दिया कि एक काम करो, तुम ये सैट अपनी भाभी को दे दो, शायद इसकी फिटिंग तुम्हारी भाभी की साइज की हो.

उसके लंड टोपा मेरी गांड के अभी अन्दर गया ही था कि मैं आगे को हो गयी. जब थोड़ा सा अंधेरा हो गया तो हम लोग पार्क में एक तरफ पेड़ों के पीछे चले गये. दोस्तो, मैंने सारा को सीधा लिटाया और थोड़ी सी रूई सारा के दायें चूतड़ के नीचे, एक छोटा सा कपड़ा उसकी गांड के नीचे और एक फूल उसके बाएं चूतड़ के नीचे रख दिया.

उस समय मुझमें नई नई जवानी भर रही थी और मेरी कामुकता अपने चरम सीमा पर थी. उफ्फ्फ 8 इंच का लंबा काला लंड देख कर मेरी आंखें तो फटी की फटी रह गईं. चूत पर चुम्मा लेते ही भाभी मचल उठीं और बोलीं- तुझे चूत चाटनी आती है?मैं बोला- ब्लू फिल्म में देखा है.

बीएफ इंडिया में चार-पांच मिनट के असहनीय दर्द के बाद धीरे-धीरे मेरा दर्द कम होना शुरू हो गया. नील- ओके थैंक्स जान। लेकिन हां, अब मैं तुम्हारे कमरे में नहीं आऊंगा.

एक्स एक्स सेक्स सेक्स सेक्स सेक्स

रिया- हा हा हा … कुछ भी बोलते हो डैड। सूसू साथ में करने में क्या मज़ा?रमेश- तू देख तो सही रंडी कि मैं क्या करता हूँ? मज़ा ना आए तो कहना!रिया- जो करना है जल्दी करो डैड. अब आगे:राधिका ने अपना गिलास खाली करते हुए कहा- सोनल, अब तुम अपने भाई का लंड चूसो. मैं रिसीव करने नहीं गया … तो काफी डांट पड़ेगी … और अगर वे घर पहुंच गए … तो मैं क्या करूंगा.

मैंने जब पूछा- तुम्हारे हस्बैंड के आने का कोई चांस तो नहीं?तो उसने कहा- आप उसकी चिंता छोड़ दो, वो अपनी सीट नहीं छोड़ सकता. मैंने उसकी पैंटी को खींचकर नीचे करते हुए साइड में किया और अपना लंड उसकी बुर में लगाकर धक्का देने लगा. एक्स एक्स सेक्सी मूवी वीडियोमैं रोने के अलावा और कर भी क्या सकती थी तो मैंने रो रो कर बुरा हाल कर लिया.

फिर मैंने एक हाथ से उसके चूतड़ पर हाथ फेरकर एक चपत लगाई और उसे हट जाने का इशारा किया.

मैंने भी उसको ज्यादा जोर जबरदस्ती नहीं की … और उसको डॉगी स्टाइल में आने के लिए बोला. थोड़ी देर मौसी का पेट सहलाने के बाद मैंने अपना हाथ नीचे की तरफ सरकाया, मौसी ने भी अपनी सांसें खींच कर पेट दबा लिया, जिससे मेरा हाथ आसानी से मौसी की चूत पर पहुंच गया.

उसने मेरे गले को पकड़ा और करीब किया और मेरे डार्क पिंक लिपस्टिक वाले होंठों को पास किया और अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिये. कुछ देर में वो फिर से मेरे ऊपर चढ़ गया और मुझे उल्टा करके मेरी गांड मारने लगा. उसकी बुर ने फिर हल्का सा पानी छोड़ा जिसके कारण मेरा लंड गीला हो गया.

मैं बसंती के नजदीक पहुंच कर उसके चूतड़ों को दबाते हुए बोला- बन गया खाना भाभी जी? मुझे बहुत जोरों की भूख लगी हुई है.

तभी नम्रता की ट्रेन एनाउंस हुई और कोई पांच मिनट बाद ही हमारी ट्रेन का भी एनाउंसमेंट हो गया. अमन- क्या भाई विपुल … बड़ा खुश दिख रहा है … क्या भाभी से मिल कर आया?मैं- हां यार … क्या बोलूँ, जब भी भाभी को देखता हूँ … तो दिल खुश हो जाता है … क्या मस्त लगती हैं. तब तक मैं थोड़ा सहज हो गया, जूली डॉक्टर को समस्या बताई तो डॉक्टर ने पैंट उतारने को कहा.

चूत की चुदाई पिक्चरउन्होंने जो नाईटी पहनी हुई थी, उससे पूरा सिनेमा साफ साफ नजर आ रहा था. अचानक उन्होंने उंगली चुत से बाहर निकाली, तो मैं व्याकुल हो गयी और नाराजगी से उनकी ओर देखा.

एक्स एक्स ऑल वीडियो

अगले दिन सुबह जब मैं स्कूल जा रहा था तो वह लड़की मुझे फिर से दिखाई पड़ गई. वह अन्तर्वासना के पूरे आगोश में खो गई थी। मैं इसी तरह उसे धक्के लगाये जा रहा था और मैंने उसके बदन को कस कर पकड़ रखा था. यहां कोई पगडण्डी भी नहीं थी, सिर्फ झाड़ियाँ और ऊबड़ खाबड़ पेड़ों की बहुतायत थी.

भैया मुझसे पूछने लगे- चुदवाने में मजा आ रहा है?मैं पीछे पलट कर उनको देख कर स्माइल कर रही थी और वो अपना लंड मेरी चूत में डाल कर मेरी चूत को चोद रहे थे. लेकिन जैसे ही मैंने प्रतिभा की नाईटी खोलनी चाही, उसने मेरा हाथ पकड़ कर रोक दिया. फिर सारा बोली- आमिर, अब दिलिया की बारी!तो दिलिया लेट गयी और मैंने उसके लिप्स को किस करते हुए एक झटके में पूरा लंड अंदर उतार दिया.

संकोचवश मैंने कहा- जी ठीक है, आप जैसा कहेंगे मैं वैसा करने के लिए तैयार हूं. इस सेक्स कहानी का मजा लें और मेरी चूत के नाम से एक बार लंड जरूर हिलाएं. अब आगे:अंकल आज भी कल की तरह रिवीजन करेंगे या सीधे आगे के चैप्टर पर जाएंगे?” यह कहते हुए आज के खेल की शुरूआत मैंने खुद ही की.

अब वो हफ्ते में 2 बार आने लगा, कभी कभी वो रात में भी भाभी के पास ही रुकने लगा था. तब तक चाची की देह और भी ज्यादा निखर चुकी थी और मुझ में काफी बदलाव आ गया था.

उनकी रसीली चूची इतनी मस्त थी कि उनके बारे में सोचकर ही मेरे मुंह में पानी आ जाता है.

उस समय शाम के साढ़े सात ही बजे थे और मैंने जल्दबाजी में ये सब कर दिया था. डॉक्टर की सेक्सइस पर उस दुकानदार ने पूछा- क्या हुआ मैडम … आप पूरी बात तो बताएं?मैंने उसे अपनी बात बताई. वीडियो एक्स एक्स वीडियोफिर चाची ने मेरे लोअर के ऊपर से ही लंड की नोक वाली जगह के पास के गीलेपन को अपने हाथों से छूकर देखा. नीचे स्कर्ट जैसी कोई मॉडर्न ड्रेस थी। मैं सिर्फ शॉर्ट्स में था। उसने खाना लगाया.

मैंने चूत के मुंह पर दो-तीन बार लंड को रगड़ा और फिर लंड उसकी चूत में डाल दिया।वो भी पूरी खिलाड़ी थी.

अब रानी ने दोनों हाथों से लंड को जड़ से पकड़ लिया और लंड के नीचे की तरफ वाली मोटी नस को उंगली से ऐसे टंकारने लगी जैसे सितार बजाने वाले सितार के तारों को टंकारते हैं. मैंने अब लंड पर उछलना चालू किया … भैया मेरी गांड को पकड़ कर ऊपर नीचे करने में लग गए. सरिता- क्या कहा अंकल … 100 रुपये?मैं- हां पूरे 100 रुपये, पर इस बार शर्त भी बहुत कठिन होगी.

ऐसा कहकर मैंने भाभी को 2-3 सीढ़ी ऊपर को धकेला, तो भाभी सीढ़ी से फिसल कर गिरने को हुईं, पर मैंने उन्हें संभाल लिया. उनके जाने के बाद हम तीनों ने मिलकर ढेर सारी बातें की … और पता ही नहीं चला कि कब लंच का टाइम हो गया. बार बार रानी ने जो जो किया या कहा था वो सब एक फिल्म की तरह मेरे मन में चल रहा था.

हिंदी पिक्चर बीएफ बीएफ बीएफ

अमन- नहीं यार विपुल, आज कॉलेज में वैसे भी बहुत लेट हो गया, मैं घर जा रहा हूँ. इस धक्के के कारण मेरा लंड एक चौथाई से भी ज्यादा अंदर तक उसकी चूत में चला गया था. वह हर धक्के के साथ हां … हांह्ह … हांआ … और जोर से … और जोर से … हां तेजी से करो मेरे अंशु! … बोल रही थी। उसके इस तरह के संबोधन से मेरे अंदर का आनंद और जोश दोनों ही चरम पर पहुंचने लगे.

फिर सारा बोली- आमिर, अब दिलिया की बारी!तो दिलिया लेट गयी और मैंने उसके लिप्स को किस करते हुए एक झटके में पूरा लंड अंदर उतार दिया.

मैंने पीछे मुड़ने की कोशिश की, लेकिन तेरे पति ने मुझे अपनी बांहों में जोर से जकड़ा हुआ था.

अनिल की शादी के बाद मालूम पड़ा कि मंजू सगाई से पहले घर से दस दिन लापता रही थी. वो तो बस अपने मजे में मस्त थे।ससुर जी ने सुमीना यानि अपनी बेटी की चूत में अपनी पूरी जीभ घुसा रखी थी और बड़े ही मजे उसे खा जाने वाले तरीके चाट रहे थे. புதிய செக்ஸ்படம்थोड़ी देर तक मेरे ऊपर पड़े रहे, फिर मुझसे अलग हुए मेरे माथे को चूमते हुए बोले- नम्रता, आज मुझे बहुत मजा आया.

वो इतनी जोर से मेरे लंड को चूस रही थी कि जैसे मेरे लंड को खा ही जायेगी. मैं कविता दुबे … मुझे आप सभी के बहुत सारे संदेश आये, धन्यवाद सभी पाठकों को. हालांकि नम्रता की चूत भी लसलसी हो चुकी थी, फिर भी माल अभी बाहर नहीं निकला था.

उसने मुझसे मजाक करते हुए कहा- हां हां … मुझे पता है क्या बात करोगे?मैंने रात में अमित से सब बात की. मेरा लंड झड़ के मुरझा चुका था और रानी की लार व मेरे लेस की बूँदों से लिबड़ा एक तरफ को पड़ा हुआ था.

थोड़ी देर बाद नम्रता अपने कपड़े सही करते हुए बोली- अपने घर बुला लिया है, दिखाओगे नहीं अपनी बीवी के लिए हुए सेक्सी कपड़े?मैं- ओह हां यार, तुम्हारा कामक्रीड़ा से युक्त मादक जिस्म मेरे सामने जब से आया है, मैं सब कुछ भूल जाता हूं.

तो दोस्तो, इस तरह से नील ने अपने कमरे या यूं कहें कि अपनी बीवी रकुल की चूत की चाबी मुझे दे दी. मेरे मुख से हल्की मदभरी सिसिकारियां निकल रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह…उसने मेरी नाभि पे तेल गिराया … तो मेरे बदन में झुरझुरी पैदा हो गयी. मेरा नाम जिग्नेश है और में गुजरात के एक शहर में अपने पापा के साथ रहता हूं.

सुनेला वाढदिवसाच्या शुभेच्छा मैं एक पल के लिए असमंजस में थी कि अब थॉमस का लंड मुँह में लूं या ना लूं … क्योंकि अगर रोहन ये देखते, तो उन्हें यह लगता कि मैं यह सब अपनी ख़ुशी से कर रही हूँ. ये कामशक्ति वर्धक गोली थी, जिसे सिर्फ 50 एमजी खाकर मैं दिन-रात चुदाई कर सकता हूँ.

मैं उन लोगों की चुदाई की बातें सुनती हूँ, तो मुझे भी अपने बॉयफ्रेंड से चुदवाने का मन करने लगता है. रिया की गांड में एक मस्त मीठा मसाला तैयार हो रहा था। रमेश ने उसकी पैंटी निकालकर अपने गले में डाल ली. एक तो चाची की जवानी मस्त और ऊपर से वे बड़े ही चुस्त कपड़े पहन कर अपने जिस्म की नुमाइश कुछ इस तरह से करती थीं कि उनको देखने वाला आदमी अपने लंड को हिलाए बिना रह ही नहीं पाता था.

मराठी लड़की चुदाई

वो बोली- भोसड़ी के! सारी रात बुर ही चाटेगा कि लंड भी चूत में डालेगा?मैं- जानेमन बस तेरी चूत को तैयार कर रहा हूं. मैंने पास पड़ी हुई कुर्सी पर बैठते हुए कैंची को उठा लिया और उसकी झांटों के जंगल को कुतरने लगा. मेरे एक रिश्तेदार के घर एक हफ्ते के बाद शादी पड़ी थी, जिसका कार्ड कल घर में आया था और उनकी तरफ से पूरी फैमिली को उसमें शामिल होने के लिये खास तौर पर मुझे फोन किया था.

उसकी बुर ने फिर हल्का सा पानी छोड़ा जिसके कारण मेरा लंड गीला हो गया. मेरा लण्ड जैसे ही पिचकारी छोड़ता दीपिका वैसे वैसे मुझे अपनी छाती से जकड़ लेती थी.

उन्होंने मुझे सीधा लिटा दिया और मेरे लंड पर अपने कोमल हाथों से तेल मल दिया.

”मैंने अपना खाली कॉफ़ी का मग मेज़ पर रखा, अपना सूटकेस अपने हाथ में थामा और सोफे से उठ कर खड़ा हो गया. एक सैट ब्लू कलर का था, साटिन की ब्रा और पैंटी और दूसरा रेड कलर का सैट नेट वाला था, जिसमें ब्रा के बीच में डायमंड का पेंडेंट लगा हुआ था और साथ में बिकनी पैंटी थी. अचानक अंकल जी ने मुझे घास पर लिटा दिया और मेरे ऊपर आ गये और मेरी आँखों में झाँका तो मैंने आँखें झुका दीं.

फिर मैंने शीतल भाभी से कहा- मेरा दोष इसलिए कम है क्योंकि आप बहुत हॉट हो. तब मुझे मेरे दोस्त ने अपने मोबाइल में एक वीडियो दिखाया और उसने बताया कि औरतों की टांगों के बीच में चुत होती है. बदले में मैंने भी सबकी नजरों से बचते हुए अपने लंड पर हाथ फेरकर और होंठ को गोल करके नम्रता को जवाब दिया.

नम्रता- हां मेरे राजा, बस ऐसे ही मेरी गांड चुदाई चालू रखो, बहुत मजा आ रहा है.

बीएफ इंडिया में: अभी तक आपने पढ़ा कि लखनऊ के होटल के कमरे में पहली बार चुदने वाली डॉली उसके बाद मेरे घर पर और फिर अपने घर पर चुदाई का आनन्द ले चुकी थी. उसके बाद मम्मी ने भी टेंशन रखनी बंद कर दी क्योंकि मेरी कोई शिकायत ही नहीं आई.

वो मेरे बालों में उंगली डाले सर को पकड़ कर मूझे जैसे अपनी चूची पिलाने लगी. उसके बाद मेरी जानू की आवाज आई- रुको भाभी, आपके मोबाइल से फोटो लेती हूँ. वसुन्धरा के शरीर में रह रह कर सिहरन की लहरें उठ रही थी और उसने अपना निचला होंठ अपने दांतों में कस कर भींच रखा था.

हम दोनों ने घर का एक भी कोना ऐसा नहीं छोड़ा था, जहां पर हमने चुदाई न की हो.

वो बोली- अंकल जल्दी कुछ करो न … मेरे नीचे कुछ हो रहा है या तो उसे रगड़ो या मेरी उसको चाटो. लण्ड से थूक चूने लगा तो रिया ने कटोरी लण्ड के नीचे लगा दी और अपने मुंह से चूते हुई लार को हाथों में इकट्ठा कर उस कटोरी में डाल दिया।रमेश ने उसी वक़्त रिया से कहा- अरे बड़े घर की छिनाल लड़की, इतने से काम नहीं चलेगा। तुमको टाइम बढ़ाना होगा।रिया ने हाँ में सर हिलाया। फिर दोबारा से रमेश के लण्ड को मुंह मे घुसा लिया उसने।सिसकारते हुए रमेश बोला- हाँ. मैंने लाईट बन्द करके अपनी मैक्सी ऊपर कर ली और अपनी चूत में उंगली करने लगी और मजा लेकर पानी निकाल कर सो गयी.