झारखंड का बीएफ झारखंड का बीएफ

छवि स्रोत,देसी कुत्ते की उम्र कितनी होती है

तस्वीर का शीर्षक ,

मोम सेक्स वीडियो: झारखंड का बीएफ झारखंड का बीएफ, थोड़ी देर के बाद नफीसा ने मुझसे कहा- प्लीज़ जुल्फी, पहले दरवाजा बंद कर दो.

पिताजी की सेक्सी वीडियो

अगली सुबह आने से पहले हम साथ नहाये और उसको नहाते हुए मैंने रगड़ कर चोदा. सेक्सी फुल एचडी राजस्थानीमेरी इस हरकत से वो अपना कंट्रोल खो बैठीं और जोर जोर से अपनी कमर ऊपर नीचे करने लगीं.

2-3 धक्के के बाद मेरा पूरा लन अंदर चला गया क्योंकि मैंने सरनी की फुद्दी पर बहुत सारा थूक लगा दिया था. नाईट ड्रेस फॉर हनीमून इमेजेजपर अब इन सब का क्या फ़ायदा था! अब तो जो होना था वो हो चुका था और हम दोनों भी यही तो चाहते थे.

लेकिन मैं रुका नहीं और उसकी आँखों से आंसू निकलने लगे और मैं कुछ देर की चुदाई के बाद उसकी चूत में ही झड़ गया और सुषी के नंगे बदन पर लेट गया.झारखंड का बीएफ झारखंड का बीएफ: हां स्कूल में जब कभी मौका मिलता था, तो मैं उसके मम्मे दबा देता था और वो मेरे लंड को दबा देती.

’‘मैं हाथ उनकी पीठ से नीचे सरका के उनके चूतड़ों पे ले के गयी और फिर एक उंगली से उनकी गांड को छुआ- मैं यहाँ प्यार करना चाहती हूँ.मैं कंपनी सेक्रेट्री कोर्स कर रही हूं।इस साइट पर यह मेरी पहली कहानी है.

आंटी सेक्स मूवी - झारखंड का बीएफ झारखंड का बीएफ

वो अब बहुत तेज सिसकारियाँ ले रही थी- मेरी जान तुम मुझे पागल बना रहे हो … उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओह मेरे चोदू भाई! हाँ ऐसे ही, ऐसे ही … ओह्ह, ओह्ह, चूसो मेरी बुर को … ईई … इह्ह … मेरी बुर की धज्जियाँ उड़ा दो.पहले तो पति ने अपना आधा लंड धीरे-धीरे मेरे चुत में डाल दिया, फिर थोड़ा-सा रूक कर एक जोरदार झटका मारकर अपना पूरा लंड मेरी नाजुक कोमल गुलाबी चुत में जड़ तक घुसा दिया.

आय हाय मेरी बन्नो, लगता है तुझे लण्ड की लत लग गयी है एक बार में ही. झारखंड का बीएफ झारखंड का बीएफ मैं उनके रसीले होंठों को आम की तरह चूस रहा था और भाभी मेरी जीभ चूस कर मज़े ले रही थीं.

घर दिल्ली के सबसे बड़े और मशहूर हॉस्पिटल के पास ही है इसलिए आसानी रहेगी.

झारखंड का बीएफ झारखंड का बीएफ?

नीचे उतार कर उसकी गर्दन पर किस करने लगा, होंठों पर चूमा, गाल पर चुम्मा चाटी करने लगा. इसलिये अधिकतर समय स्टॉफ रूम खाली ही रहता था और मेरी किस्मत शायद थोड़ी अच्छी थी कि जब मेरा खाली पीरियड होता, तो उसी समय उसकी भी कोई क्लास नहीं होती थी. उनकी आवाज में दर्द था, रूखापन था, परन्तु दिखने में उम्र जैसा कुछ नहीं था.

अंकल ने अपने दोनों हाथ मेरे पीठ के पीछे ले गए और चतुराई से मेरी ब्रा का हुक को खोल दिया. चाची वो तेल मेरे लंड पर लगाने वाली थीं, जिससे मैं बहुत देर तक नहीं झड़ने वाला था. वैसे ही उसके मुँह से तेज तेज आह … निकलता हुआ मुझे बहुत अच्छा लग रहा था.

सुबह 7:00 बजे नींद टूटी तो मेरी महबूबा के आने की खुशी में मैं अलग ही तरह से झूम रहा था. भैया ने सारा वीर्य भाभी की चूत में छोड़ दिया और दो मिनट के बाद दोनों ही शांत होकर उठ खड़े हुए. अब मैंने दोनों हाथों से सरिता की कमर पकड़ कर जोर का धक्का दिया और पूरा लंड उसकी चूत की गहराई तक डाल दिया.

क्या पता कितनों से चुद कर आई हो। मैंने उसके बालों को पकड़ कर अपना लंड उसके मुंह में ठूंस दिया और उसके मुंह को जोर जोर से चोदने लगा. भाभी बोलीं- आज मेरे ऊपर बड़ी दया दिखा रहे हो देवर जी … क्या बात है कुछ चाहिए है क्या?मैं- ऐसा कुछ नहीं भाभी, बस मैंने सोचा कि आपकी मदद कर दूँ.

मम्मी ने पूछा- ये तो महंगी लग रही है, कितने की है?मैंने झूठ बोल दिया कि यह तो ढाई सौ रूपए की मात्र है.

मैं- ह्म्म्म …मैं- कॉटन का कपड़ा है यहां?कल्पना ने मुझे एक रूमाल दे दिया.

मैंने घड़ी की तरफ देखा, क्लास में जाने के लिये अभी भी 20-25 मिनट बाकी थे. मैंने सोचा क्यों न कोशिश की जाए, मिल गयी तो ठीक, वरना अपना हाथ जगन्नाथ. हमारी एक और चुदाई हुई जिसमें मैंने उसकी अलग अलग पोजीशनों में चुदाई की.

हो सकता है कि तुम्हारा ध्यान भी न गया हो उस तरफ, या तुम खुद अपने रंग के दर्द के कारण अपने आस-पास ऐसा संसार बना लिया हो कि और किसी को उसमें तुमने आने की इ्ज़ाज़त ना दी हो?” मैंने गहराई से कहा।सलोनी- बात तो आप सही कह रहे हो. मैं भी एक हाथ से उनके चुचे दबा रहा था और दूसरे हाथ से उनकी पेंटी में हाथ डाल कर भाभी की चूत को मसल रहा था. मैं चड्डी में खड़ा था मेरे सिक्स पैक और खड़ा लंड देखकर वो देखती ही रह गयी.

साथ ही साथ चूत चुदवाने के उतावलेपन में वह काम भी फटाफट निपटा रही थी.

मैंने भाभी का हाथ पकड़ते हुए कहा- भाभी, पहले हमसे तो रंग लगवा लो, फिर नहा लेना. मैं भी शर्म छोड़कर उसी की तरह बोलना चाह रही थी तो मैंने भी बोल दिया- मैं भी बहुत भूखी हूं, तुम्हारे लण्ड को खाना चाहती हूं. मेरे गांव के बाजू वाले शहर में एक पति पत्नी दोनों ही स्किन स्पेशलिस्ट डाक्टर हैं.

मेहँदी-रचे दोनों हाथों से दोनों साइडों पर अंगूठे और तर्जनी की चुटकियों में से लहँगा रह-रह कर छूट-छूट सा जा रहा था और उसके पूरे जिस्म में बार-बार एक झुरझुरी सी उठ रही थी. प्रिया बेड पर बैठ गई और मैं प्रिया के मुँह में लंड अन्दर बाहर करने लगा. थोड़ी देर के बाद मैंने मिनी को अपने कंधे पर सर रखने को बोला, वो तुरंत मेरे कंधे पर सर रख कर लेट गई.

थोड़ा सा चिपचिपा रस मेरी चूत से निकल कर उनके मुंह में समा गया तो कुछ रस चारों तरफ फैल गया.

तो कभी अपने बालों को खींचती, मानो उसके बर्दाश्त के बाहर हो रहा था!वो ना चाहते हुए भी सब कुछ चाह रही थी कि उसकी चूत में जल रही वासना की भट्टी में मैं अपने लंड को डाल कर वीर्य की बौछार से उसकी जलती हुई भट्टी को शांत कर दूं. मैं अपने शौहर के साथ सही से बात नहीं करती क्योंकि उसने मुझे कभी ऐसा एहसास ही नहीं दिया.

झारखंड का बीएफ झारखंड का बीएफ कल्पना की बुर का ऊपरी हिस्सा, जहां दोनों फांकें मिली होती हैं, वहीं पर एक छोटा सा दाना था और उसके ठीक एक इंच ऊपर एक काला तिल था. कॉलेज में कोई बॉयफ्रेंड नहीं था, क्योंकि उसका रंग देख कर कोई पास नहीं आता था.

झारखंड का बीएफ झारखंड का बीएफ इस पोजीशन में बैठे-बैठे मैंने सोनू को उठाया और खड़ा होकर अपने लंड पर टांग लिया. चार साल पहले मैं जब राजकोट में रहता था, मेरे पड़ोस में एक फैमिली थी, जिसमें अंकल आंटी, उनका बेटा और उनकी बहू नफीसा थे.

रात को मुझे वही सब याद आ रहा था, किस तरह अंकल ने मेरे बदन को सहलाया था, छेड़ा था.

सेक्सी बीएफ बिहारी चुदाई

वो बोला- मैं तुम्हारे बिना नहीं जी पाऊंगा और मैं तुम्हीं से शादी करूंगा. लंड है कि आफत, लम्बा मोटा लोहे सा सख्त और क्या चुदाई, कैसे भूल सकता हूं. मेरी इस हरकत से वो अपना कंट्रोल खो बैठीं और जोर जोर से अपनी कमर ऊपर नीचे करने लगीं.

आंखें बंद करते ही वही सब आंखों के सामने किसी फिल्म की तरह दिखने लगा था. मैंने उसके गोलों को महसूस किया तो मेरे बाबूलाल अपनी औकात दिखाने लगे. मां बोलीं- आप मुझे पहचानने के बाद मुझे रुसवा तो नहीं करोगे न?मैं बोला- क्या आप मेरी चुदाई से संतुष्टि नहीं मिल रही है?मां बोलीं- बहुत मजा आ रहा है.

अब मैं उसको किस करने लगा और उसके बूब्स चूसने लगा, जिससे उसका दर्द कुछ कम हुआ.

दस मिनट बाद मैंने उसे वहीं नीचे फर्श पर घोड़ी बना दिया और पीछे से उसकी गांड देखी, जो बड़ी मस्त लग रही थी. मैं ऐसे ही एक हाथ से पीठ और दूसरे हाथ से उसकी गांड सहलाता रहा और उसे शांत होने दिया. मगर मैं कभी उसके ऊपर के होंठ को चूम रहा था तो कभी नीचे वाले होंठ को.

फिर भाभी ने बाकी सबके सामने ही मेरी चड्डी में हाथ डाल कर मेरे लंड को भी रंग दिया. उसके बाद मैं उसके पास चला गया। मैं उसको गौर से देखने लग गया।फिर मैंने अपना एक हाथ उसके पेट पर धीरे से रख दिया. अब उसने धीरे धीरे नीचे झुक कर साड़ी को कमर तक ऊंची करके अपनी चूत की दर्शन करवाए.

कभी कभी तो आते ही नहीं थे, वहीं अपने दोस्तों के कमरे पर ही सो जाते थे. उसने अपनी एक उंगली मेरी चुत के छेद में डाली तो मैं एकदम से उछल गई और चिल्लाई- उईईई ईईई!उसने मुझे हिलने नहीं दिया और एक पूरी उंगली चुत में डाल दी.

बल्कि भाभी को इतना मजा आ रहा था कि वह बड़े भैया के चूतड़ों को पकड़ कर अपनी गांड की तरफ धकेल रही थी. अबकी बार मैं अपनी गांड को ऊपर उठाकर उसका पूरा लण्ड अंदर लेने के लिए तैयार बैठी थी. मैं इस उम्र में ये कपड़े पहनती फिरूंगी क्या?मैंने मम्मा को बोला- मम्मा, बाहर ना सही, आप इन्हें मेरे सामने ही घर पर पहन लेना.

देखते ही देखते मेरा लंड बॉक्सर में ही खड़ा हो गया और साफ साफ दिखने लगा.

उसकी बातों से मैं रोमांचित हो उठा था, मन में मीना को भोगने की इच्छा और तेज हो उठी थी!मैं मीना को जबरदस्ती जाकर भी चोद देता तो भी अजय मना नहीं करता. मिनी दिन भर घर में उदास रहती थी, उसका पति मिनी पर बहुत शक भी करता था. आज भी वो दोनों एक साथ होने या मौका मिलने पर खुल कर चुदाई या कई बार तो साड़ी ऊपर उठा कर फटाफट वाली चुदाई कर लेते हैं.

अब इंसान की सारी कोशिशें तो कामयाब नहीं होती न … तो वसुन्धरा की यह कोशिश भी कामयाब नहीं हुई. जय लंड देव … जय जय जय लंड देव जी … आप महान हैं … मगर पहले राजे तुझे स्वर्ण अमृत पिला दूँ फिर इस मुसण्ड को इनाम दूंगी.

भैया ने पूरी स्पीड के साथ भाभी की चूत की खुदाई चालू रखी और अचानक से उन्होंने भाभी के चूचों को अपने हाथों में भर लिया और उनकी कमर पर लेटते चले गए. पापा ने दो-चार धक्कों के बाद मेरे चूचों को अपने हाथों में थाम लिया और उनकी गति धीमी पड़ती चली गई. वो मेरी गांड मारते हुए बोला- बहुत मस्त आइटम है तू … तेरे से बड़ी माल मैं सोच भी नहीं सकता कि कोई होगी.

इंग्लिश बीएफ दिखाइए वीडियो

विशाल भैया के आने के बाद अब हमें ज्यादा मौका तो नहीं मिल पाता मगर जब भी विशाल भैया कहीं बाहर जाते हैं शगुन भाभी मुझे चुदाई के लिए बुला लेती है.

कसी हुई ब्रा से चाची के 36 साइज़ के गोल बोबे बाहर आने को बेताब लग रहे थे. वे कहने लगे- चलो घर पर चलकर मस्ती करते हैं, मैं यहीं पास में ही अकेला रहता हूँ. उनका नाम मैं नहीं बता सकता हूँ … आप चाहें तो भाभी को रूबी कह सकते हैं.

मैंने आवाज बदल कर मम्मी से पूछा- क्या मैं आपको अच्छे से चोद रहा हूँ?मां बोलीं- यस मेरे राजा. अमीषी भी पूरी मस्ती में अपने पैर मेरी कमर पर लेकर ‘अअअह अअअह अअअओह … आप पहले क्यों नहीं मिले … इतना मजा मुझको पहली बार मिला … अअअअअ ईईई ओईई … डालते रहो डालते रहो … फ़क मी फ़क मी. png image रक्षाबंधन text pngमैं फिर भी अनजान बनते हुए कहने लगा- अच्छा, मेरा काम तो हो गया, अगर आप बोलें तो मैं निकलूँ?कल्पना ने कुछ देर तक सोचते हुए मुझे देखा और कहा- एक बार और आओ ना …मैं- आपको दर्द कर रहा है ना, अगर फिर से करेंगे तो और दर्द बढ़ जाएगा.

फिर जब उनसे ना रहा गया तो उन्होंने मुझे गोद में उठाया और अपने रूम में ले गए. जब भाभी चलती हैं, तो उनके कूल्हे कुछ इस तरह से ऊपर नीचे चढ़ते हैं कि किसी का भी लौड़ा खड़ा हो सकता है.

मैं प्रिया की जांघों के पास बैठ गया और कस कसके प्रिया की चूत का रस पीने लगा. रात ग्यारह बजे के बाद मुझे अक्सर अपनी मम्मीं की आहें कराहें सुनाई देनें लगतीं और मैं समझ जाती कि मम्मी की चुदाई हो रही है. इसी वजह से हम दोनों को एकांत नहीं मिल रहा था और मेरी सौतेली मम्मी और मेरे बीच सेक्स नहीं हो पा रहा था.

एक दिन मैं स्कूल जाने के लिए निकला और बस स्टॉप पर अपने कंप्यूटर की टीचर से बात कर रहा था. मैं धीरे धीरे चलाते हुए जैसे तैसे अपने ऑफिस पहुंचा, तो मुझे देर हो गई थी. दुनिया की नजर में तो मैं सीधा-सादा लड़का हूँ मगर चूतों का दीवाना हूँ.

मेरे ब्लाउज को प्रेस करके बाजू में रखकर अब मेरे पति ने मेरी साड़ी को प्रेस करने के लिए ले लिया.

मगर बहुत कोशिश करने के बाद भी दस मिनट में लगने लगा कि अब ज्यादा देर टिक नहीँ पाऊंगा. उसको देख कर ऐसा लग रहा था कि आसमान से कोई परी ज़मीन पर आकर उतरी हो.

कुछ ही मिनट में मैं भी गर्म हो चुकी थी और उनकी पेन्ट और चड्डी को हटा कर उनके खड़े औजार को मैंने आजाद कर दिया. मैंने उसका सर पकड़ लिया और उसके मुँह के अन्दर जोर जोर से घस्से लगाने लगा. मैंने उससे कहा- इस बार रस कहाँ निकालूँ?उसने कहा- मेरे मुँह में निकालो, मैं तुम्हारा पानी चखना चाहती हूँ.

सोनू नीचे जमीन पर बैठ गई और अपने दोनों हाथों को उसने मेरे पटों पर रखा और मेरे लंड को चूसने लगी. मैंने उस आदमी को तो उठा दिया लेकिन उस लेडी को खिड़की वाली सीट दे दी. मैंने देखा कि जो जीभ मेरी चूत में घुसी हुई थी वह मेरे भाई रोहित की नहीं बल्कि मेरे पापा की थी.

झारखंड का बीएफ झारखंड का बीएफ अपना अपना रोल नंबर बता दो जल्दी … तुम्हें नहीं पता मैं कितना बड़ा रिस्क लेकर तुम्हारे लिए ये सब कर रहा हूँ. मैं और विलियम बहुत ज्यादा डर गए कि अचानक बस क्यों रुक गई और लाइट ऑन क्यों हुई.

बीएफ दे वीडियो सेक्सी

मैंने रोहित को कुछ नहीं कहा और न ही उसे यह पता लगने दिया कि मैं जाग रही हूँ. नहीं तो ऐसी सिचुएशन में हमारी इन्द्रियां हमें गहरी नींद में भी जगा देती हैं. अब आगे:कुछ देर बाद मैं उस पर से हटा, गुलाबो की चुची फूल गई थी और उसके नर्म मुलायम बूब्स टाइट हो गए थे.

मैं अन्दर ही अन्दर बहुत खुश था कि आज मेरे सपनों की रानी मेरे साथ सोएगी. मैंने मेरे पति का लंड अपने मुँह में भर लिया और अपना मुँह आगे पीछे करके उनका लंड चूसने लगी. सात छोडूंगा ना तेरे पीछे आऊंगाअब उसने मलहम लगाना बंद कर दिया और लंड को हाथ में पकड़कर बोली- हर्षद तुम्हारा ये कितना बड़ा है.

मैं अंकल की कहानी बहुत चाव से सुन रहा था और अब मेरा लंड पूरी तरह सख्त हो चुका था.

फिर डॉक्टर ने स्टेथोस्कोप से उसको चैक किया और कहा कि मैं तुम्हें एक दवाई लगा देता हूं. वह बोली- साहिल, क्या आप मेरी एक मदद कर सकते हैं?मैंने कहा- हां, क्यों नहीं, मैं तो आपकी हर तरह से मदद करने के लिए तैयार हूँ.

मैं ज्यादा खुलकर बात नहीं करना चाहता था लेकिन फिर भी सोचा कि जब अब बात चल ही गई है तो क्यों न पूरी बात का ही पता लगा लिया जाए. मुझे तो तुमने पूरा नहला दिया साहिल! मुझे तो तुमसे प्यार ही हो गया है मेरे जानू!मैं उसको देखा और स्माइल करने लगा. मैं गाड़ी पार्क करके रिया के पास आ गया और उसकी कमर में हाथ डाल कर चलने लगा.

इसका लाभ यह हुआ कि वो फिर से दोनों टांगें सीधी करके लेट गयी और मेरा साथ देने लगी!मैंने उसको पलट दिया अब उसकी पीठ मेरी तरफ थी.

हो सकता है सोनिया को बुरा लग जाए और उसको मेर लंड से चुदने में मजा न आए. मैं हंसने लगा और मैंने सोनू से कहा- अब देखना, एक दो महीने बाद तुम्हारे ऊपर पूरा निखार आएगा और तुम्हारा शरीर और सुंदर होगा. अपना अपना रोल नंबर बता दो जल्दी … तुम्हें नहीं पता मैं कितना बड़ा रिस्क लेकर तुम्हारे लिए ये सब कर रहा हूँ.

పాపులర్ సెక్స్ వీడియోస్मेरा घर तीसरी मंजिल पर था, तो वो मुझे सहारा देकर मेरे रूम तक ले आए. कुछ ही पलों की मालिश के बाद रितेश ने मीरा की पैन्टी खींच कर निकाल दी और अपने दोनों हाथों से मीरा के चूतड़ फैला दिए.

पिक्चर नंगी बीएफ

कुछ ही दिनों में मुझे उसके साथ इस तरह से चूमाचाटी करने में मजा आने लगा था. साथ ही साथ मामी का अंगूठा मेरी गांड में तेजी से अंदर-बाहर हो रहा था. हालांकि मैं भी सेक्स का मजा लेना चाहती थी लेकिन पहली बार के होने वाले दर्द से डरती थी.

तुम मेरे मम्मी पापा तो मनाओ तो फिर तुम आरती की मम्मी से मिलकर कुछ ऐसा करो कि वो बिना झिझक के मान जायें. दस मिनट तक चुत चूसने के बाद मैंने उसे अपने लंड को मुँह में लेने को कहा पर उसने मना कर दिया. अंदर जाकर वो पूछने लगी कि क्या इंपोर्टेंट बात है?मैंने हिम्मत जुटा कर सीधे ही उससे पूछ लिया कि तुम अपने बाथरूम में रात को क्या करती हो लाइट जला कर?यह बात सुन कर वो एकदम से शॉक हो गई.

मैं आशीष से बोली- आशीष और डालो और करो और जोर-जोर से चोदो … बहुत मजा आ रहा है, तू बहुत मस्त चोदता है आशीष … और चोद आशीष, मैं तेरी चुदासी होने वाली बीवी हूं … और जोर से घुसा …पर थोड़े ही पल में उसका लौड़ा एक मिनट भी नहीं लगा और सिकुड़ कर छोटा हो गया. वो ज़ोर ज़ोर से सिसकारियां ले रही थी ‘इसस्स … उम्म्ह… अहह… हय… याह… स्स्स्शहह … आआहह …’मेरी ममेरी बहन चुदाई में मेरा भरपूर साथ भी दे रही थी. आपने ऐसा क्या देखा जो किसी और लड़के ने नहीं देखा?मैं- नहीं, आप बुरा मान जायेंगी और गुस्सा भी होंगी या फिर मेरी पिटाई या शिकायत भी कर देंगी.

दिल्ली से भुवनेश्वर करीब 30 घंटे की यात्रा थी और ट्रेन भी करीब 10 घंटे लेट थी. मैं ऐसे एक्ट कर रहा था जैसे मैं सोया हूं, मैंने कुछ इस तरह का नाटक किया.

हम दोनों मस्ती में पूरी तरह खो चुके थे और हम दोनों को बहुत मजा आ रहा था.

वसुन्धरा ने तत्काल अपना बायां हाथ मेरे हाथ पर से हटाया और अपने दोनों हाथों से मेरे सर को जकड़ा और मेरे सर को अपने स्तन की ओर दबाने लगी. एचडी सेक्सी वीडियो क्लिपसाथ ही मैं रोज रात में रूपा के बूब्स को टच करता, उसकी गांड में उंगली डाल देता, कभी लंड को गांड में टच कर देता. हिंदी पिक्चर सेक्सी वालीमेरे तनकर खड़े लंड पर धीरे धीरे दिलिया अपनी चूत दबाकर लंड को अंदर घुसा रही थी। और मैं आपको बता नहीं सकता कि मुझे उस समय कितना मज़ा आ रहा था। वो मेरे लंड पर धीरे से उठती और फिर नीचे बैठ जाती जिसकी वजह से लंड अंदर बाहर हो रहा था और मेरी नयी ब्याहता बहुत मज़े कर रही थी।सच कहूँ तो मेरी दिलिया बहुत मादक लग रही थी, उनके रेशमी सुनहरी बाल चारों तरफ फ़ैल गए थे. वह भी अपनी गांड को उठाकर मेरा भरपूर साथ देती हुई चुदाई का मजा ले रही थी.

थोड़ी देर तक ऐसे ही लेटा रहा, वो बिल्कुल सीधे सो रही थी।कहानी अगले भाग में जारी रहेगी.

मैंने आशीष को बोला- हरामी यह करने के लिए मुझे यहां बुलाया है? मैं तुझे नहीं छोडूंगी … तू मुझे छोड़ दे, मुझे जाने दे … मुझे कुछ नहीं करवाना. उसके बाद जब मैंने उसकी हालत पर ध्यान दिया तो मैं रुका, उसके पास गया। उसकी आँखों में आंसू थे, वो रो रही थी।मैं उसकी गांड में लण्ड डाले वैसे ही उससे सट कर उसके ऊपर लेटा रहा. लंड का पानी झड़ जाने के बाद मुझे राहत मिली और मैं वापस अपने बेड पर आ गया.

जब तक मैं उनके मायके के घर पर रहा, मैंने उनको बहुत बार चोदा और उनको अपनी चुदाई से संतुष्ट किया और उसके बाद मैंने उनको कई बार अपने घर पर भी चोदा और बहुत मज़े किए. देखते ही देखते मेरे हाथ उसके स्तनों पर चले गये और उनका मर्दन करने लगे. अब आगे Xxx स्वैपिंग सेक्स कहानी:फिर थोड़ी देर बाद दीदी ने कहा- अंशित मुझे नींद आ रही है.

मसूरी बीएफ

उसके मुंह से कसमसाहट भरी कामुक सिसकारियाँ हल्की-हल्की बाहर आने लगीं. मेरी दीदी बस मानो अपने आप को उसे सौंप चुकी थी लेकिन अपनी रूचि नहीं दिखा रही थी. इसी के साथ मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और जोर जोर से चूसने लगा.

मैं गाड़ी पार्क करके रिया के पास आ गया और उसकी कमर में हाथ डाल कर चलने लगा.

उसकी यह लंड चुसाई देखकर मैं ज्यादा देर टिक नहीं पाया और अगले ही मिनट उसके मुँह में ही झड़ गया.

भाभी बोलीं- आज मेरे ऊपर बड़ी दया दिखा रहे हो देवर जी … क्या बात है कुछ चाहिए है क्या?मैं- ऐसा कुछ नहीं भाभी, बस मैंने सोचा कि आपकी मदद कर दूँ. उसने अपने हाथ से लंड को चूत पर सैट किया और मुझे आंखों से इशारा किया. ओपन सेक्सी मूवी ओपन सेक्सी मूवीटीवी में एक लड़का लड़की के ऊपर चढ़ा हुआ था और वो दोनों सेक्स कर रहे थे.

मैंने मम्मी से बोला- आपके बेटे का लंड क्या मेरे लंड से भी बड़ा है?मम्मी बोलीं- मेरी आंखों पर पट्टी बंधी है, मैंने आपका लंड तो नहीं देखा लेकिन अनुमान से बता सकती हूं कि मेरे बेटे का लंड कुछ ज्यादा ही बड़ा है. उसकी चिकनी टांगें मुझे साफ दिखाई दे रही थी। उसको देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया। मुझे डर लग रहा था कि कहीं बहन जाग न जाये और मैं अपनी जगह पर आकर सो गया. मुझे ये भी लगता था कि 29-30 साल की उम्र में मौसी का तलाक हो गया था और तब से लेकर अभी तक मौसी अकेली रही हैं, तो फिर मौसी अपने शरीर की ज़रूरतों को कैसे पूरी कर रही होंगी.

इधर काम-संवेदनाएँ फिर सिर उठाने लगी थी और मेरे लिंग में फिर से तनाव आना शुरू हो गया था. तभी मेरी बहन भी आ गई और उसकी नजर मेरी गीली चड्डी में तने लंड पर पड़ गई.

मैं फ्रिज से दो बियर कैन निकाल लाया और हम दोनों बियर पीते हुए बात करने लगे.

सरिता बोली- हर्षद, तुमने अब तक मुझे बहुत सारा सुख दिया है, जो मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था. मैंने फिर पूछा- अमीषी व्हाट हैपेंड?उसने मेरे पास आकर लंड को अपने हाथ में लिया और बोलने लगी- बाबू, ये अन्दर कैसे जाएगा?मैंने उसे दीवार से उल्टा लगा कर उसकी गांड की दरार में अपना लंड रखा और कहा कि डार्लिंग वो तुम मुझ पर छोड़ दो. जागृति मेम ने कमरे में आते ही दरवाज़ा बंद कर दिया और अपना पजामा खोल दिया.

वर्ल्ड मोस्ट ब्यूटीफुल गर्ल देवराज इन्द्र के दरबार की इक प्यासी अप्सरा, किसी अंजाम की परवाह किये बिना, वर्जित फल चखने को कमर कसे बैठी थी लेकिन मेरे खुद के कुछ जुदा मुद्दे थे. आशा है कि आपको मेरी सेक्स कहानी अच्छी लग रही होगी, मुझे आपके मेल का इन्तजार रहेगा.

मगर आपको भी मेरे साथ होना होगा और मैं केवल एक बार ही करूँगी!रोहन ने कहा- थैंक्स अंजलि. ”अंकल जी ने मेरी बात अनसुनी करके अपना मुंह मेरी खुली चूत में घुसा दिया और मेरे दोनों बूब्स कसकर पकड़ लिए और चूत की गहराई में चाटने लगे. साला चाची के खानदान की क्या लड़कियां, क्या औरतें … सब एक से बढ़कर एक!मुझे लगा कि चाची ने हमें देख लिया था.

एनिमल एक्स एक्स एक्स बीएफ

इस बारे में कई बार मैंने उससे कहा, पहले तो वो यह कह कर टाल रहा था कि घर में यह सब अच्छा नहीं लगता, तो मैं बोली कि दो-तीन दिन के लिये कहीं बाहर चलते है, जहां सिर्फ मैं और वो हों. [emailprotected]NRI भाभी X हिंदी स्टोरी का अगला भाग:मेरी सेक्स कहानी से मिली मुझे एक मस्त आइटम- 2. जबसे मैंने उसकी गांड का उद्घाटन किया है, तब से तो उसे अपनी गांड मेरे लंड से चुदवाना भी बहुत पसंद हो गया है.

बार-बार मेरी लोअर में उछल-उछल कर कह रहा था कि मुझे भावना की चूत में जाना है. वो हंसी और अपने सीधे हाथ से मेरा लंड पकड़ कर वो आगे और मैं पीछे जाने लगे.

पर दिल को सुनने के लिए उनका आपके पास आना जरूरी है, आपकी सीरत को जानना जरूरी है, अब देखिये न आप के साथ बात करके ही पता चला न कि आप कितनी स्वाबलंबी हैं.

वे दोनों गर्म हो गए और एक दूसरे को लिप किश करते हुए चुदाई में लग गए. मुझे इस वक्त शीतल भाभी एक पोर्न एक्ट्रेस सी लग रही थीं, जो अनायास ही मेरे लंड के नसीब में आ गई थीं. मैंने जॉन को देखा तो उसने अपने पूरे कपड़े उतार दिये थे और वो नंगा होकर अपने लंड को हाथ में लेकर हिलाने लगा था.

नहीं तो आपको लगेगा कि ऊषा की चूत की आग की आंच अभी भी आपके मन में उठ रहे वासना के समंदर को भाप बनाकर उड़ा रही है. प्रिया- भैया अब और इंतज़ार नहीं होता … अब डाल कर चोदो न!मैंने अपना लंड निकाला और प्रिया को दिखाया. मैंने आंटी से पूछा- मेरी मम्मी कल घर जाने को क्यों बोल रही थीं?आंटी ने जो बताया, वो सुन कर मैं भौचक्का रह गया कि मम्मी का दिमाग कितना चलने लगा.

विशाल भाई से बात करने के बाद उन्होंने बताया कि उनकी कंपनी में एक कंप्यूटर इंजीनियर की जगह खाली है.

झारखंड का बीएफ झारखंड का बीएफ: वो जोर जोर से सिसकारियां भर रही थी और आंखें बंद किए हुए बोल रही थी- आह … यश आराम से. मैं भी बहुत जोश में आकर जोरदार धक्के दे देकर उनकी चूत की चुदाई किए जा रहा था.

वह मेरे लौड़े के टोपे को अपने होंठों के अन्दर भरकर ऐसे चूसने लगी जैसे वह कोई लॉलीपॉप चूस रही हो. जल्दी ही हमारे कपड़े अलग होते चले गए और हम दोनों अपने अंदरूनी कपड़ों में रह गए थे. आप सबको तो मालूम ही है कि शादी में कैसा माहौल होता है, हर कोई अपने में ही बिजी होता है, किसी के पास किसी के लिए टाइम नहीं होता.

मेरा मन बहुत कर रहा था कि इसको चोद दूँ, पर डर लग रहा था कि कहीं ये बुरा न मान जाए.

पूजा के मुँह से हल्की मदमस्त सी चीख निकली और वो मोबाइल छोड़ कर बेड पर गिर गई. सुबह से लोग मुझे विश किए जा रहे थे, पर नम्रता का कहीं अता पता ही नहीं था. मैं कपड़े प्रेस नहीं करती हूँ, क्योंकि मेरे हाथ से एक बार मेरी साड़ी जल गई थी.