एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ ओपन

छवि स्रोत,देसी देसी सेक्सी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

कैटरीना का बीएफ सेक्सी: एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ ओपन, जैसे-जैसे दिन बीत रहे थे अब वो मेरे साथ खुल कर बात करने में शर्म महसूस नहीं कर रही थी.

मारवाड़ी बीएफ चोदा चोदी

मेरी दीदी की सेक्स कहानी आपको कैसी लग रही है? मेरी इस सेक्स कहानी के लिए आपके मेल की प्रतीक्षा रहेगी. बीएफ सेक्सी हिंदी वीडियो सॉन्गमुझे लगा कि मैं अब झड़ने वाला हूं, तो मैंने कहा कि तुम अपनी स्पीड बढ़ा दो.

दो मिनट तक मुठ मरवाने के बाद उन्होंने मेरी पैंटी को खींच कर अलग कर दिया और फिर मेरे ऊपर टूट पड़े. सेक्स वीडियो बीएफ दिखाइएमैंने पूछा- कैसा लगा?उसने हांफते हुए कहा- बहुत अच्छा … तुम्हारे लंड ने तो आज मेरी चूत की मस्ती ही निकाल दी, बहुत तड़प रही थी.

थोड़ी देर इंतजार करने के बाद मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसे कॉल कर दिया.एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ ओपन: और हां पैंटी भी अमन से लेकर पहन ली।थोड़ी देर बाद उसने एक घर के सामने कार रोकी और किसी को कॉल किया तो थोड़ी देर बात की.

उन्होंने लंड का पूरा पानी गटक लिया और बहुत अच्छे से लंड चाट कर साफ कर दिया.मेरे हस्बैंड ने कहा- जो मेरे बॉस है ऑफिस में, जो हमारे घर पर अक्सर आते भी रहते हैं, वे अक्सर तुम्हारे बारे में पूछते रहते हैं कि भाभी कैसी हैं.

एक्स एक्स एक्स बीएफ बिहार - एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ ओपन

बाक़ी बीस प्रतिशत भी इतनी अधिक मनोरंजक होती हैं कि लंड खड़ा हो ही जाता है.मैं भी अपनी एक उंगली दीदी की चुत में डाल कर आगे पीछे कर रहा था और उन चुत का पानी, जो मेरी उंगली पर लग जाता था, वो उंगली उनके मुँह में दे कर उन्हें ही चुसा रहा था.

बस हम दोनों मूवी देखते देखते एक दूसरे को किस करने लगे और उसके बाद गर्म होने लगे. एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ ओपन मैंने अपना लंड पकड़ा और उसकी चूत के साथ सटा कर हल्का सा धकेल दिया, वो दर्द व उत्साह के मिश्रित भावों से सिहर उठी.

इतने में हनी ने मुझको गले से लगा लिया और अपने प्यार का इजहार करने लगा.

एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ ओपन?

माँ के झड़ जाने के बाद उन्होंने मुझे शान के लंड के नीचे आने के लिए कहा. प्रिन्स का नहीं हुआ था पर उसको लंड बाहर निकलना पड़ा और नीता ने अपने हाथ से मुठ मार के उसका माल निकाल दिया. मैं नहाने चला गया और नहा कर 10 मिनट बाद बाहर आया, तो दोनों खाने की टेबल पर मेरा इंतजार कर रही थीं.

मैंने घर पर मम्मी को बोल दिया कि मैं राहुल के घर पढ़ाई करने जा रही हूँ, तो रात को वहीं रुक जाउंगी. मैं उनके पैर के अंगूठे को मुँह ले कर चूसने लगा, जिससे चाची तिलमिला उठीं. दरवाजा खोलते ही वो मेरे ऊपर आकर गिरने लगे तो मैंने उनको संभाला और फिर उनको अंधर करके दरवाजा बंद कर दिया.

मेरे मुँह से बस आह अहह हहह उहह निकल रहा था।फिर अमन ने मेरी पैंटी उतार दी और अपनी जेब में रख ली. मैं सिकाई कर ही रही थी कि अचानक से मेन डोर की बेल बजी और मैं जल्दी से अपनी लोअर को ऊपर करके दरवाजा खोलने के लिए चली. मेरे बारे मैं आप सभी को फिर से बता दूं कि मैं गुजरात के अहमदाबाद का रहने वाला हूं.

कुछ दस मिनट में मेम अपनी गांड उठाते हुए चीखने लगीं और उन्होंने अपनी चूत का रस मेरे मुँह में छोड़ दिया. मैंने उत्सुकता वश जानने की कोशिश की तो जवाब में एक कातिल मुस्कान ही मिली.

”हाँ वो कहती तो जलूल हैं पल क्या यह सब संभव हो पायेगा?”गौरी तुम अगर चाहो तो यह सब हो सकता है?”तैसे?”देखो तुम्हारे यहाँ रहने से ना तो मधुर को कोई ऐतराज़ नहीं है और ना ही मुझे। तुम तो जानती हो ट्रेनिंग के बाद मेरा ट्रान्सफर दूसरी जगह होने वाला है। हम तीनो ही यहाँ से किसी दूसरी जगह चले जायेंगे वहाँ हमें ज्यादा जानने वाले लोग नहीं होंगे और फिर आराम से सारी जिन्दगी हंसते खेलते हुए बिता देंगे.

कमरे का दरवाजा तो बंद था, मगर एक खिड़की का पर्दा हल्का सा हटा हुआ था.

मैं उसका पूरा साथ देने की कोशिश कर रही थी लेकिन पता नहीं उस पर कौन सा भूत सवार था कि उसने मुझे गांड उठाने तक का मौका नहीं दिया और मेरी काली पैंटी को अपने हाथों से चीर कर उसके दो टुकड़े करते हुए अलग फेंक दिया. आज जिस औरत के बारे में बताने जा रहा हूं वो उन सब में से बिल्कुल अगल है। मैंने उससे पहले किसी लड़की या औरत में वैसी बात नहीं देखी थी। मुझे 3 महीने हो चुके थे उस जगह फिर भी केवल इक्का दुक्का लोग ही मुझे पहचानते थे। मेरा ऑफिस करीब पांच किलोमीटर की दूरी पर था और इसी वजह से मैंने एक बाइक ले ली थी. मेरी पिछली कहानीदोस्त की भाई की शादी में सुहागराततो आपने पढ़ी ही होगी.

”बहुत अजीब लग रहा है!”अच्छा नहीं लग रहा क्या?”अच्छा तो लग रहा है!”मेरी मिड्डी औरऊपर हो गई. फिर एक दिन अचानक वो दोबारा से ऑनलाइन आ गयी और फिर हम दोनों में दोबारा से बात शुरू हो गयी. फिर हम वापस गाड़ी से झील के किनारे किनारे लगभग 1 किलोमीटर दूर आ गए थे.

प्रतीक ने थोड़े गुस्से के साथ मेरे सामने देखते हुए पूछा- क्या … क्या ये सच कह रहा है?मैंने सिर्फ हां में अपना सिर हिलाया और इसी शर्म के कारण मेरी नजर नीचे झुक गई.

तुमने ही तो कहा था।भाभी- हाँ, मगर इस हालत में ये करना सही नहीं है इसलिये तो तुम्हारे लिये कच्ची कली बुलाई है। अब तुम देख लो कि इसे फूल कैसे बनाना है।मैं बनावटी गुस्से में बोला- लेकिन मुझे इस सामने वाले फूल को एक बार प्यार तो करने दो. मैंने एक और प्लान बनाया, जब चाची आने वाली थीं, तो मैंने एक सेक्स किताब टेबल पर रख दी. कोमल की वजह से हमें भी पार्टी में शामिल होने का ऑफ़र मिला और हमने झिझकते हुए हां कह दिया.

उसकी आवाज सुनकर मैं होश में आया और मैंने कहा- हां हां, मैं नहा लेता हूँ. तुम लोग कहाँ हो?पार्क में!”पार्क में? क्यों? क्या कर रहे हो?”तेरी दीदी मेरी चूत चाट रही है और तेरी मम्मी उपिन्दर का लौड़ा चूस रही है. उन्होंने उठते ही मुझे प्यार से किस किया और कहने लगीं- तुमने मुझे जो मजा दिया, वो मैं कभी भूल नहीं पाऊंगी.

वरना आज मैं आसानी से आपके लंड से अपनी गांड चुदाई का मजा ले रही होती.

मगर मैं इस हालत में नहीं थी कि मैं चुदाई करवा सकूं क्योंकि अभी तक मेरी चूत और गांड की सूजन पूरी तरह से नहीं गई थी. दोस्तो, मेरी शादी को 8 महीने हो चुके हैं लेकिन जब से भाभी ने मुझे इस घटना के बारे में बताया है तब से मेरा मन भी करने लगा है कि काश मुझे भी कोई इस तरह से प्यार करे.

एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ ओपन इस बच्चे की चाहत के चलते हम दोनों एक दूसरे से बहुत प्यार भी करने लगे थे. जब वो किचन में जाएंगी, तो मैं उनके पीछे जाकर इधर उधर की बात कर उनकी गांड पर पीछे से हल्के से हाथ फेरने की कोशिश करूंगा.

एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ ओपन वो बहुत देर तक वैसी ही रही जब तक कि उसको यह अहसास नहीं हुआ कि उसका बेटा भी वहीं है, और वो बहुत देर तक उस स्थिति में नहीं रह सकती. बस अजमेर बस स्टैंड से निकली, तो मैं अपने बैग को अपने हाथों में लेकर सोने का नाटक करने लगा.

मेरा प्रयास रहता है कि आपको मेरे लेखों के द्वारा उत्तेजना का मजा तो मिले ही साथ ही साथ आप लोगों को कुछ ज्ञान भी प्राप्त हो जाये.

सेक्सी सेक्सी दे

शुरुवात होंठ से होंठ मिले, फिर उसने मोबाइल निकालकर मेरे साथ फोटो लिए,मैंने कहा- सिद्धू, ये फोटो किस लिए?सिद्धू ने कहा- तुम जब ससुराल चली जाओगी तो ये फोटो देखकर मैं तुम्हें याद करूंगा।फिर हम एक पेड़ के पीछे गए और चुम्मा चाटी शुरू कर दी, वो मेरे होटों को चूमते हुये बुर्के के ऊपर से मेरी गांड दबाने लगा. उनका सिल्क वाला चूड़ीदार सूट का कुरता घुटनों तक किया और उनके नीचे से घुस गया. जॉली एक लम्बा, हट्टा-कट्टा, मजबूत बांहें और चौड़ी छाती वाला मर्द था.

मैं अन्तर्वासना की सेक्स स्टोरी काफी लम्बे समय से पढ़ रहा हूं लेकिन पहली बार लिखने का प्रयास भी किया है जो मेरे ही जीवन की आपबीती है. मगर उसने वापस से मेरी तरफ कार्ड करते हुए उसे मेरे हाथ में रख दिया और बोली- तुम जो भी मंगवाना चाहो 2 मंगवा लेना. फिर अगले ही कुछ पलों में उन्होंने मेरी लोअर को भी खींच कर नीचे कर दिया.

कोई दो मिनट लंड चुसाने के बाद मैंने परी मैम को खड़ा किया और उनकी एक टांग को अपने कधे पर रख कर उनको दीवार से लगा दिया.

हम दोनों को भूख भी लग रही थी और अमृता से खड़ा भी नहीं हुआ जा रहा था तो मैंने उसे बाथरूम में ले जाकर बाथ टब में लेटा दिया और गर्म पानी भर दिया. पर आज मुझे मत रोकिए … प्लीज़ आह … हाय क्या मालदार बदन है आपका … और ये मदमस्त मम्मे मेरी जाने ही लिए ले रहे हैं. सच में, इन चूतड़ों ने तो मेरा जीना ही हराम कर रखा था और तुम्हारा ये गुलाबी छेद!”यह कहते हुए उसने एक उंगली ज्योति की गांड में सरका दी.

उसने लंड को थोड़ा सहलाया, टोपे पर एक किस किया और अचनाक से लंड मुँह में लेकर चूसने लगी. उसने झड़ते हुए ज़ोर ज़ोर से जब झटके दिए, तो मैं दुबारा उसके साथ झड़ गई. अगर जानवर की तरह उस पर चढ़ाई कर दी जाये तो उसको दर्द ज्यादा झेलना पड़ता है.

” और मेरे से लिपट गयी।हाँ शैली अब न कपड़ों पे सिलवटें पड़ने का खतरा है, न लिपस्टिक बिगड़ने का!”मैंने अपनी बहन शैली का लहंगा ऊपर उठाया और उसकी पैंटी उतार दी, फिर चिकनी चूत पे एक भरपूर चुम्बन लिया।क्या दीदी बस एक चुम्मी?”मेरी बहना, नई नई दुल्हन, सुबह तेरी विदाई होगी और उसके बाद रात को तेरी सुहागरात की चुदाई होगी और अभी विदाई से पहले भी एक रस्म होगी. कभी वो काफी देर तक लंड को पूरा जड़ तक मुंह में घुसाये रखती, तो कभी सिर्फ टोपे को मुंह में लिये लिये चूसती, और कभी वो टट्टे सहला सहला के नीचे से ऊपर तक लंड चाटती.

मैंने उनके पीछे से अपने लंड को उनकी गांड के छेद पर रख दिया और उनकी गांड पर मैंने अपना थूक लगा दिया. मैंने कैमरे को उनकी चूचियों की क्लीवेज में सैट किया और दनादन कई शॉट्स ले लिए. मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपनी बांहों में खींच लिया और बोला- इतनी जल्दी क्या है कपड़े पहनने की? अभी तो पूरी रात बाकी है।वो बोली- नहीं, बस हो गया न! अब कितना करोगे?इतना कह कर वो मुझसे अलग हुई और बिस्तर के बाहर चली गई.

वो ‘आह … उह … ओह … आह …’ करके आवाज निकालती रहीं और मैं भी ‘आह … आह …’ करके उनको पेलता रहा.

कोई पन्द्रह मिनट तक एक ही अवस्था में चोदने के बाद मैं उसकी चूत में ही झड़ गया. मैंने सोचा कि उससे भी पूछ लेता हूं कि वो भी ऑफिस पर जायेगा या साइट पर जायेगा. उसके बाद मैंने अपनी साली को पैग बनाने के लिए कह दिया ताकि मैं डॉक्टर के साथ आसानी से सेक्स का मजा ले सकूं.

मैंने भाभी को दस बजे से एक बजे के बीच का टाइम दिया था मिलने के लिए. वैसे मन तो था कि प्रपोजल स्वीकार लिया जाए, पर प्रपोज करने वाले हमें पसंद नहीं आए.

मैंने दोनों को जगाया फिर हम तीनों साथ में नहाये और तैयार होकर घूमने चले गए. उसके दूध के निप्पल एकदम गुलाबी थे, लग रहा था किसी ने आज तक छुआ तक नहीं!अब बॉस से रहा नहीं जा रहा था, वो तुरंत उठे और सोनम को अपनी गोद में उठाकर अपने रूम की तरफ चल दिए!ऐसा देख उनके दोस्त बोले- क्या हुआ? कहाँ चल दिए?बॉस बोले- ये बेचारी अभी कली है, इसको आराम से रूम में फूल बनाऊंगा!ऐसा सुनकर उनके दोस्त ने भी मुझे गोद में उठा लिया और बॉस से बोले- तुम उसको कली बनाओ और मैं इसकी चूत का भोंसड़ा बनाता हूँ. आंटी- साले तुम मर्द लोग तो अपना माल हमारे मुँह में छोड़ते हो और तुम हमारा माल नहीं लोगे.

केक बनाना दिखाओ

इसलिए क्योंकि मेरी पिछली कहानीपति के दोस्त ने मातृत्व का सुख दियाको आप सबने बहुत ही प्रेम दिया.

भले ही मेरी चूत में दर्द था मगर पापा जिस तरह से मेरे बदन के साथ खेल रहे थे मुझे बहुत मजा आ रहा था. हिना- बहुत मस्त था … जीशान … अब तेरी बारी … तुझे जो करना है कर ले, अब मैं तेरी हूँ. फिर जब मूवी शुरू हुई तो उसमें एक किसिंग सीन को देख कर मेरी नजरें भी भटकने लगीं.

कुछ देर बाद उससे मुझे वेस्ट्रन कमोड पर हाथ रख कर झुकने को बोला, मैं कुतिया बन कर झुक गई. पहले मेरी बात का वो उतना जवाब नहीं देती थी, लेकिन जब से मैं उसके सामने भाभी से नॉनवेज टाइप का मजाक कर देता था, तो वो भी मुस्कुराने लगती थी. बीएफ पिक्चर हिंदी वीडियो एचडी[emailprotected]कहानी का अगला भाग:मौसी ने अपनी भानजी की चुदाई करायी-2.

दीदी उल्टी कर रही है, तो वो जल्दी से किचन गई और एक जग पानी लेकर आई. कॉलेज में वो साला मुझे बहुत लाइन मारता था, लेकिन मैं उस पर कभी ध्यान नहीं देती थी.

मेरे कपड़े गंदे हो जाते।अब मेरे पास इसके आगे कहने के लिए कुछ नहीं था. साथ ही मैं अपने मुँह को उनके मुँह से सटा कर चूमता, चूसता और रगड़ता रहूंगा. मैंने करीब 10-11 और धार मारी तब जाकर मेरे अंडे खाली हुए और मामी अब भी मेरे अंडों को सहलाना चालू रखे हुए थी.

फिर उन लोगों ने मुझे मेरी पैंटी वापस करने के बहाने मवेशियों को बांधने की जगह पर बुलाया था. सुबह एक एक करके सब लोग अकेले अकेले सुईट के लॉन में मिलेंगे … न कोई किसी से पूछेगा कि उसके साथ रात को कौन था … और न ही कोई अपने लाइफ पार्टनर से कभी पूछेगा ताकि जो पर्दा है वो बना रहे … और अगर सब कुछ अच्छा होता है तो कल रात कि प्लानिंग कल लंच में तय करेंगे. पापा ने मेरी चूचियों को पकड़ लिया और गिरते-संभलते हुए मैं उनको कमरे की तरफ लेकर जाने लगी.

बस मैं भाग कर ड्रेसिंग टेबल से तेल की बोतल उठा लाया और उनकी गांड पर अच्छे से तेल लगा कर गांड को चिकना कर दिया.

”हाँ वो कहती तो जलूल हैं पल क्या यह सब संभव हो पायेगा?”गौरी तुम अगर चाहो तो यह सब हो सकता है?”तैसे?”देखो तुम्हारे यहाँ रहने से ना तो मधुर को कोई ऐतराज़ नहीं है और ना ही मुझे। तुम तो जानती हो ट्रेनिंग के बाद मेरा ट्रान्सफर दूसरी जगह होने वाला है। हम तीनो ही यहाँ से किसी दूसरी जगह चले जायेंगे वहाँ हमें ज्यादा जानने वाले लोग नहीं होंगे और फिर आराम से सारी जिन्दगी हंसते खेलते हुए बिता देंगे. तभी से उसके मन में एक ललक थी कि एक साथ दो लंडों का मजा कैसा होता होगा.

क्योंकि भाभी जी ने अपनी एक उंगली से मुझे कुरेद कर वो इशारा दिया था, जो एक चुदासी औरत या लड़की देती है. आप लोगों को ये तो पता ही होगा कि वेटिंग टिकट होने पर क्या क्या कष्ट झेलने पड़ते हैं. चाची ने काले रंग की पैंटी पहनी हुई थी, काली पेंटी में चाची और भी लाजबाब लग रही थीं.

कुछ ही देर में हम दोनों भूखे परिंदों के तरह एक दूसरे को चूस रहे थे. गाड़ी में बैठने के बाद मुझे फिर से नींद आ गयी, इस बार भी वही हुआ लेकिन इस बार मैं उसकी गोदी में सो गया. सुहास मेरे दूध दबाने लगा और मुझे अपनी छाती पर खींच कर मेरे चूचुकों को निचोड़ने लगा.

एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ ओपन तो बॉस उठे और होम थिएटर में मस्त तेज़ संगीत लगा दिया और हम सबको डांस करने के लिए कहा. जब मैंने आँखें खोली तो देखा कि वो धीरे से दुबारा टीवी की ओर घूम रही हैं, उनका हाथ अभी तक मेरे लंड पे था। पर वो उसे पकड़ नहीं रही थी और मेरा हाथ उन्हें वहां से हटने भी नहीं दे रहा था।उन्होंने हार मान कर हाथ हटाने की कोशिश बंद कर दी।अब तक तो मेरा ‘हो’ जाना चाहिए था.

ब्लू पिक्चर फोटो

मैं समझ गयी कि हो ना हो जेठजी अभी थोड़ी देर पहले जो कुछ हुआ, उसी के बारे में सोच रहे हैं और शायद जेठजी बुरा महसूस कर रहे हैं. नायरा बेक फ्लोटिंग कर रही थी तो राजीव नीचे से उसके चूतड़ सहला रहा था. इधर मेरा दोस्त बहुत ही ज्यादा उत्तेजक हो चला था और बोला- नहीं भाभी, मुझे तो आपको आज पूरी तरह नंगी देखना ही है.

वॉयलेट- अरे वाह … तुझसे मिले 6 महीने हो गए हैं … और तुझे मैं आज खूबसूरत दिख रही हूँ. फिर पापा कहने लगे- बेटी, अगले हफ्ते में तेरा जन्मदिन है तो मुझे कुछ गिफ्ट देना चाहता हूं. बीएफ सेक्सी कुंवारीमैंने नीचे बैठ कर उसके लंड को चूसने के लिए मुंह खोला तो उसके लंड अजीब सी गंध आ रही थी.

आज संडे है और कॉलेज जाना नहीं होगा और उधर तुमसे मिलने का मौका नहीं मिलेगा.

वैसे पहले भाभी को उसके पास जाना ठीक नहीं लगा था मगर उस लड़के ने भरोसा दिलाया था कि वो कभी भी कोई ऐसा काम नहीं करेगा जिससे भाभी की बदनामी हो. मैं उषा को बांहों में उठा कर अंदर के कमरे में ले गया और पलंग पर लिटा दिया.

मैंने थोड़ी दूर जाने के बाद मेम से कहा- हम लोग पहले मूवी देखते हैं, बाद में डिनर करेंगे. इतनी चिकनी चूत देख कर मुझे लगा, जैसे चाची अपनी झांटों को आज ही साफ़ करके आई हों. उनके बारे में नहीं लिख सकती क्योंकि वो बहुत ही शॉर्ट में मजबूरी में हुआ सब, दिल से नहीं था मजबूरी में हुआ।आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी ईमेल करके बताना। शुक्रिया![emailprotected].

बॉस ने मेरे मुँह में मुँह डाल कर अपनी कमर को तेज तेज चलाना शुरू कर दिया, जिससे गांड में भी जल्दी जल्दी लंड घुसने लगा.

मुझे अंदाजा हो गया कि शायद इसी लिए इसने मुझे ऐसे वक्त पर बुलाया है जब बच्चे भी घर पर नहीं हैं. उसके बाद सुहास ने मुझे और 3 बार चोदा, पर गांड मरवाने के बाद मैंने सुहास का लंड एक बार भी अपने मुँह में नहीं लिया. मैंने सरोज भाभी के पीछे आकर उनके चूतड़ों को पकड़ा और उनकी पैंटी को साइड में करके चूत में पीछे से ही लंड पेल दिया.

एक्स एक्स बीपी बीएफवो कराह कर आगे को खिसकी, मगर बिस्तर के सिरहाने के आ जाने से वो आगे नहीं जा पाई. थोड़ी देर ऐसे ही चोदने के बाद हम तीनों अपने बेड पर आ गए और मैं नीचे लेट गया.

भाभी के चित्र

फोन पर ही बातचीत से मालूम हुआ कि हम दोनों एक ही शहर के अलग अलग कॉलेज में अपनी आगे की पढ़ाई कर रहे हैं. उसका घर हिमाचल प्रदेश के मंडी शहर में था, बहुत ही ठंडा इलाका है।मेरी बहन से मेरी बहुत जमती है. भाभी ने मुझे गले लगा लिया और कहा- ये तुझे करना ही होगा वरना मेरी इज्जत सबके सामने चली जाएगी.

जिन्होंने मेरी पहली वाली सेक्स स्टोरीमोसी की वासना जगा कर चुदाईपढ़ी होगी, उन्हें मेरे बारे में सब पता होगा. सोनिया- एक बात बोलूं जानू, मैं अपनी जिंदगी में कभी इतनी जल्दी नहीं झड़ी, तुमने मुझे बहुत ही ज़्यादा एक्साइट कर दिया था. उसने निप्पल के चारों ओर घेरा बनाकर उसने दीपा को निप्पल मसाज देनी शुरू कर दी.

जीजा ने मेरी टांगों को फैला कर मेरी पैंटी को खींचते हुए एक तरफ फेंक दिया. उसने कोमल को कुछ इशारा भी किया और कोमल ने नजरें बचाते हुए हां में अपना सर भी हिलाया. मगर मेरी बीवी का रंग एकदम गोरा था और कूल्हे भी बड़े-बड़े। वक्षों को देख कर किसी के भी मुंह में पानी आ जाये.

मैंने थोड़ा रुक कर उसके होंठों पर होंठ रख दिए और एक जोर का झटका दे दिया. ये बात तब की है जब मैं 2014 में अपना एमबीए कम्पलीट करके जॉब की ज्वाइनिंग के लिए ट्रेन से बंगलोर जा रहा था.

अपने बैग से मैंने वैसलीन निकाली और ढेर सारी क्रीम उसकी गांड और कूल्हों पर लगा दी.

मैं उसके बोबों को मसल रहा था और वो ऊपर नीचे होकर अपनी चुत से रगड़ कर मेरे लंड को सहला रही थी. ब्लू पिक्चर बीएफ सेक्सी एचडीदोस्तो, मेरी शादी को 8 महीने हो चुके हैं लेकिन जब से भाभी ने मुझे इस घटना के बारे में बताया है तब से मेरा मन भी करने लगा है कि काश मुझे भी कोई इस तरह से प्यार करे. सेक्सी शिक्षक बीएफफिर अगले ही कुछ पलों में उन्होंने मेरी लोअर को भी खींच कर नीचे कर दिया. मैंने उसकी गांड में सीधे लंड डालने की बजाय उसको दूसरे तरीके से उत्तेजित करना था.

वो राहुल और सीमान्त को समझाने लगा कि इसके साथ जबरदस्ती मत करो … जो करना है प्यार से करो.

उनके बॉस मुझे नीचे से मेरी चूचियों को पीते और मुझे चोदते और पीछे से मेरे हस्बैंड मेरी कमर पर किस करते और मुझे चोदते!मैं एक साथ बहुत नोची जा रही थी. कभी हल्के हल्के से जीभ फिरातीं और कभी कभी ज़ोर ज़ोर से लंड चूसने लगतीं. हाय पिताजी, अब तो ये चूत और पेंटी दोनों आपकी हैं, जब मन करे ले लीजिए.

मुझसे फ़ोन में यही बात कर रहे थे!”वो बोली- ओके यार … चल मजा ले ही लूंगी मैं भी! वैसे भी मुझे कब से सेक्स नहीं मिला. मेरे लंड को सहलाने के बाद वह मेरे लंड के ऊपर बैठ गई और अपनी चुत को घिसने लगी. उसके ऐसा कहते ही हम थोड़ा और डर गए, पर उन सबके होंठों पर मुस्कुराहट बिखर गई.

शादी के लिए लडकी चाहिए हिन्दू photo

सच में मेरे नए पति मयूर मेरी क्या मस्त चुदाई कर रहे थे … मेरी चूत को तो मज़ा ही आ गया था. अब हमें यह डर भी नहीं था कि आस पास के सेक्सी कपल भी हमारी नग्न मस्ती को देख रहे थे और देखते हुए मजे ले रहे थे. मैंने विक्की और कुमार से ब्रेकअप कर लिया था … तो अब मेरा कोई ब्वॉयफ्रेंड नहीं था.

पहले एक बार खेत में राउंड लगा कर आते हैं और उसके बाद दोनों साथ में ही सो जायेंगे.

हमारे यहां शादी में दुल्हन के साथ कोई एक आदमी जाता है जो कि दुल्हन को दो दिन के बाद वापस लेकर आ जाता है.

कुछ पल यूं ही पड़े रहने के बाद मैंने बाथरूम में जाकर चेहरे को साफ किया. आज उन्हें वह मिलने वाला था जिसका वह कई वर्षों से इंतजार कर रहे थे, आज मनीषा उनकी होने वाली थी. इंग्लिश सेक्सी बीएफ सेक्सीलगभग आधे घंटे के चुदाई के बाद मुझे ऐसा लगा कि जैसे मेरा होने वाला है तो मैंने उससे कहा कि मैं आने वाला हूँ.

अब वो भी मूड में आने लगी थी तो मैंने अपना पैग मुँह में लेकर उसकी गांड के छेद में लगा कर उसमें गांड को पिला दिया. अब जब भी वो मेरे करीब आता तो किसी न किसी बहाने से मुझे छूने की कोशिश करता था. मैंने भाभी की चूत पर लंड लगाया और उसकी चूत में लंड से धक्का दे लिया.

कई दिनों तक मैंने अपनी चूत और गांड की सिकाई की तब जाकर मुझे आराम मिलने लगा. उसका 34-30-36 का लाजवाब फिगर, भारी कूल्हे, भारी उरोज, गोरी मखमली त्वचा, थिरकते गुलाबी होंठ, मांसल पिंडलियां, कमर तक लटकते सुंदर संवरे लहराते से बाल, मासूम चेहरे पर चमकती पसीने की बूंदें, सामान्य सा सलवार सूट, जिसे मनु सलीके से पहनी होती थी, फिर भी ब्रा की पट्टी जो जिस्म पर धंसी हुई सी रहती थी, उसे महसूस किया जा सकता था.

पर मैं कैसे बोलूं कि बहुत अच्छा लग रहा है मुझे।पर अचानक मेरा शरीर अकड़ने लगा और उन्होंने मुँह हटा कर कस के चूत का मुँह अपने हाथ से दबाकर बन्द कर दिया और अपने होंठों से मेरे होंठ बन्द कर दिए।अपनी ही चूत की खुशबू मुझे मदहोश कर रही थी। होंठ से होंठ लगे हुए थे, हमारी सांसें लड़ रही थी।और अचानक उनका लन्ड मेरी चूत के होंठ चूमने लगा। वो मेरे होंठ छोड़ ही नहीं रहे थे.

सोफा थोड़ा साइड में था। इसीलिए महेश को वहां पर बैठने में कोई झिझक नहीं हुई. उन्होंने मेरे लंड को हिलाकर कहा- कहां खो गए?मैंने सॉरी बोला और कहा- कहीं नहीं. उसने मेरा हाथ पकड़ कर नीचे चूत पर रखवाया, तो मैंने उसकी पेंटी भी निकाल दी.

सेक्स वीडियो हॉट बीएफ अपनी प्रेमिका के मुँह से निकली हुई, रानी के मधुर मुखरस से तर की हुई खाने की कोई भी वस्तु ऐसी नशीली हो जाती जैसे उसमें अफीम मिला दी गयी हो. काफी देर तक चूमा-चाटी करने के बाद मेरा लंड तो तन कर ठोस हो चुका था.

मैंने पास रखी दारू की बोतल का मुँह दीदी के मुँह में लगा दिया और उनसे दो बड़े घूँट ले लेने के लिए कहा. मैंने मां के साथ काम में हाथ बंटाया, फिर रात का खाना खा कर किचन में बर्तन साफ भी किए और फिर मैं अपने कमरे की तरफ जाने लगी. संजू की चूत में वीर्य का गर्म गर्म धार समाने लगी, जिससे उसको असीम आनन्द आने लगा और वो भी अपने बदन को टाईट करते हुए झड़ने लगी.

सिक्स बीपी मराठी

थोड़े ही दूर में बैठा संदीप बार-बार मुझे ही ताड़ रहा था और नजरें बचा कर मैं भी उसे निहार रही थी. मैंने घर पर मम्मी को बोल दिया कि मैं राहुल के घर पढ़ाई करने जा रही हूँ, तो रात को वहीं रुक जाउंगी. मैंने ये चुदाई अपने जीजा के साथ ही करवाई थी और ये सब शादी से पहले ही हो चुकी थी.

” मैंने सिर झुकाकर कोर्निश के अन्दाज़ में सलाम बजाया तो दोनों हंस पड़ी।आप भी तैयार हो जाओ फिर सेलिब्रेट करते हैं. तभी अभय ने आगे से मेरी चूत में पूरी ताकत के साथ अपना लौड़ा जोर से घुसाना चालू कर दिया.

अब सुनील के पैर दीपा के पैरों को सहला रहे थे और सुनील बार बार अपनी चम्मच से दीपा को कुछ न कुछ खिला रहा था.

दोस्तो, आपकी कोमल मिश्रा एक बार फिर हाजिर है अपनी असल जिंदगी की एक और नई कहानी के साथ!आप लोगों को मेरी जिंदगी की कहानियाँ कैसी लग रही है, ये मुझे जरूर बतायें, मुझे मेल करें. राहुल ने भाभी के फिर से लेटा दिया और अपने दांतों से भाभी के पेटीकोट का नाडा़ खींच कर खोल दिया. मैं- अरे यार … अब तुम भी अजीब हो, तुमसे बात न करूं तो कहती हो कि बात क्यों नहीं कर रहे हो और करूं तो कहती हो कि क्यों कर रहे हो.

अगर इस कहानी में आपको मजा आया हो तो मेरा उत्साह वर्धन करें और यदि कोई गलती हुई तो मुझे और अमृता को माफ करें. मुझे भी उनकी चूत में लंड डाल कर चूचियां चूसने में बड़ा मजा आ रहा था. कई बार तो उनको दूर से ही देख कर अपने कमरे में छिप कर लंड को मसलता रहता था.

जब मुझे लगा कि अब चाची मेरा लंड लेने के लिए तैयार हैं, तब मैंने अपने लंड का सुपारा उनकी गांड पर रखा और धीरे धीरे अन्दर धकेलने लगा.

एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ ओपन: इतना करने के बाद अब दीदी भी मदहोश होने लगी और मदहोशी में उनके मुँह से आवाज आने लगी- आऊं उ उ ह … आ ह उ उ. तो फिर एक कपड़ा और उतारने में क्या ऐतराज है?लेकिन पत्नियों ने दोनों ही मर्दों में से किसी की नहीं सुनी और बोली- हम अभी तक इतना को-ऑपरेट कर रही हैं वही काफी है.

जब लौड़ा पूरी तरह से तैयार हो गया और जिस्म में गर्मी आ गई, तो मैंने कम्बल हटाकर उसको घोड़ी बनने को बोला. क्योंकि मैं उनके काम आता रहता था और उनको भी दुःख हुआ कि मैं पढ़ाई में पीछे होता जा रहा हूं. उसने संजना की उस टांग को, जो अब तक उसके कंधे पर थी, को नीचे रखा और संजना के ऊपर चढ़ कर उसे पूरा कस लिया.

मैंने इसी चाहत में मोबाइल पकड़ा और पोर्न देखने के लिए बहुत से साईट सर्च करने लगी, पर आज का लाइव टेलीकास्ट ऐसा देख लिया था कि उसके आगे सारे पोर्न फीके लग रहे थे.

ये देख कर वन्दना बोली- वाह दीदी, आपके सन्तरे तो बड़े ही गए।नीरू- बड़े नहीं होंगे तो और क्या होंगे? तेरे ये जीजू इन्हें क्या कम मसलते और चूसते हैं।मैं- नीरू, अब तुम वन्दना को बिल्कुल नंगी कर दो और खुद भी नंगी हो जाओ।नीरू ने ऐसा ही किया. कमरे में ले जाकर मयूर ने मुझे बेड पर लेटा दिया और मेरे साथ लिपट कर बैठ गया. फिर पैंट की चेन खोलकर उसने अपना लंड बाहर निकाला और मेरे हाथ में दे दिया.