एचडी वीडियो बीएफ बीएफ

छवि स्रोत,देहात की चुदाई वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

रंडी बीएफ फिल्म: एचडी वीडियो बीएफ बीएफ, इसलिए आबिदा सुबह के 8 बजे से रात के 8 बजे तक घर में अकेली ही होती थी.

हिंदी ब्लू सेक्सी हिंदी में

जो मुझे आज रिलेक्स फील हुआ और मैं बिना किसी के जगाए जल्दी भी उठ गया?टीना- अरे कुछ नहीं किया. सेक्सी वीडियो गाना भोजपुरी मेंथोड़ी देर बाद मामी झड़ गई, मैंने झटकों की रफ़्तार तेज़ कर दी और 10-15 झटकों के साथ मैंने उनकी चूत में अपना माल छोड़ दिया.

मरियम के मुंह से ‘आह…’ निकला, मुझे ऐसा लगा कि मेरा लंड किसी बहुत ही गर्म जगह पर जाकर फंस गया है, मेरे हाथ-पाँव काम्प रहे थे, मुझे लगा कि कोई चीज मेरे अन्दर से बाहर आना चाहती है।उसके मुंह से बस वो हल्की सी आह निकली, मरियम ने मेरी तरफ देखा और फिर वो सुधा के मम्मों को पीने लगी. सेक्सी ब्लू वीडियो भेजिएजिसमें घुसकर तूफ़ान मचा दे।आखिरकार जब कोई नहीं मिला और सब जगह से निराश हो गया तो एक ही उम्मीद थी और वो नामी जगह नेहरू पार्क थी।मैं रात को 9:00 बजे वहाँ पहुँचा और पार्किंग के वहां एक मंदिर के उधर थोड़ा अँधेरे में मेरी सिल्वर बाइक खड़ी करके मैं उस पर बैठ कर चैट करते हुए इन्तजार करने लगा कि कोई मस्त माल आ जाए तो लंड को शान्ति मिले।करीब आधा घंटा हो गया.

और सुकांत उन्नीस-बीस का होगा।दूसरे दिन मैं क्लास अटेन्ड करने के बाद क्लीनिक को तैयार हो रहा था.एचडी वीडियो बीएफ बीएफ: ऋतु बोली- या फिर मुझे लगता है कि हमें दोनों काम करने चाहियें… हमें तो पैसों से मतलब है फिर जहाँ से मर्जी आयें… है न?मैंने सोचते हुए कहा- ह्म्म्म… हाँ!मैंने ऋतु से पूछा- पर क्या पूजा इन सबके लिए राजी होगी?ऋतु ने हंसते हुए कहा- अगर तुम उसकी चूत फ्री में चाट कर झाड़ दो तो जरूर राजी हो जाएगी.

चूत के भूखे… बहन के लौड़े… माँ के लौड़े…आप खुद सुन कर मजा लें!अन्तर्वासना ऑडियो सेक्स स्टोरीज सुनने के लिए सबसे अच्छाब्राउज़र क्रोम Chrome है.माला के उरोज पर हाथ रखते ही मैं दंग रह गया क्योंकि वह बहुत हो ठोस एवम् सख्त था लेकिन उनकी त्वचा बहुत ही मुलायम थी.

ಬಿಎಪಿ ಸೆಕ್ಸ್ ವಿಡಿಯೋ - एचडी वीडियो बीएफ बीएफ

उनके होंठों को देखा तो लगा कि जैसे उसने पूरी रात सिर्फ मेरी बहन के होंठों को ही चूसा है.चूंकि मामा खड़े खड़े चुदाई कर रहे थे इसलिए मामा अपने दोनों हाथ से मेरी कमर लॉक करके ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगे.

3 इंच का गोरा लंड निकाला जो कि बुरी तरह फनफना रहा था। मैंने उसको पीठ के बल लिटाया और दोनों जाँघों को कंधों पर उठा कर लंड को उसकी चुत में घुसाने लगा। उसकी चुत पहले से पूरा चिकनाहट से भरी थी, मेरा लंड सटाक से चुत की जड़ तक घुसता ही चला गया।वो फिर से आंख मूंद कर मजा लेने लगी। मैंने उसकी चुत में अपने लंड को अन्दर-बाहर करने लगा। उसकी चुत से पानी निकलने लगा और वह ‘हाँ. एचडी वीडियो बीएफ बीएफ अब तो साली चुदेगी ही चुदेगी।फिर 15 मिनट तक सब नॉर्मल बातें करते रहे.

तभी उसे याद आया कि आज इसकी सील टूटेगी तो खून भी आएगा, तो वो बिना कुछ कहे उठ गया और पूजा के बैग से उसकी पुरानी टी-शर्ट निकालने लगा.

एचडी वीडियो बीएफ बीएफ?

मैंने उसकी हिम्मत बढाई और बाहों को थोड़ा ऊपर उठा कर उसके हाथ को बूब तक पहुंचने दिया. वो ठीक है मगर जल्दी उसको कुछ होने वाला है इसी लिए मैं आपके पास आई हूँ. आप तो मेरे घर का सभी काम अच्छे से जानती हो और उसे बहुत निपुणता से संभाल भी रखा है.

सुमन आ रही है वो सुन लेगी।अनीता- हाँ मेरी बातें तो आपको बकवास ही लगेंगी ना, अच्छा मैं चलती हूँ, मुझे तो नई ब्रा लेनी है, आप जाओ अपनी प्यारी बेटी के साथ।गुलशन- रूको तुम सही कह रही हो, सुमन को भी नई ब्रा-पेंटी ले लेनी चाहिए। मैं पानी लेकर वहाँ खड़ा हो जाऊंगा, तुम उसको साथ ले जाना और जो चाहिए उसको दिला देना।अनीता- ये हुई ना बात. उसने हवस भरी आवाज़ में पूछा- क्या हुआ… डर गया क्या देखकर?मैंने कहा- इसे देखकर तो कोई भी डर जाएगा. वह महिला जिसे सभी अम्मा कहते थी सुबह छह बजे ही आ जाती और मुझे चाय दे कर चौका बर्तन करती तथा मेरे लिए नाश्ता बनाती.

सूरज डूबने के बाद धीरे-धीरे अंधेरा अपने पैर पसार रहा था और रात की आहट आना शुरु हो ही गई थी. मैंने फूफा जी को कस के अपनी बाहों में ले रखा था और फूफा जी ने मुझे… हम दोनों एक दूसरे को तेज़ी से चोद रहे थे. ऐसे में उसने मुझे एकदम कस के पकड़ा और बोला- निकी, आई एम कमिंग!और मुझे एकदम कस के पकड़ के उसका पानी छोड़ दिया.

मुझे लगा भी था कि कोई मुझे देख रहा है। काका आप तो बड़े चुदक्कड़ हो?काका- अरे रानी मेरी चुदाई तूने अभी देखी कहाँ है, इस गाँव की ना जाने कितनी कुँवारी सील मैंने ही तोड़ी हैं और कई शादीशुदा लड़कियों को चोद कर उनको मज़ा भी दिया है।मोना- काका आप इतने बड़े चोदू हो फिर भी आपके कोई औलाद नहीं. उनके तने हुए मम्मों का साइज़ 34 इंच का था और उठी हुई और गांड का नाप 42 इंच का होगा.

हम जैसे ही उठे तो देखा हमारे पास सुलेखा और मनोज भी हमें और अरमान को झड़ते हुए देखकर बर्दाश्त नहीं कर पाए, शायद सुलेखा ने भी मनोज का लंड अपने होंठों में लेकर झड़वा दिया था.

भाभी ने मेरा हाथ पकड़ लिया और मुझे गाल पर किस करके चली गईं।मैंने पूरे दिन रात होने का वेट करता रहा। फिर काफी देर बाद उनकी कॉल आई। उन्होंने मुझे छत से नीचे अपने कमरे में आने को कहा।मैं काफ़ी हिम्मत के बाद नीचे पहुँचा। मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था। भाभी भी बस यह कहे जा रही थीं कि जो करना है.

गांव की सीमा में प्रवेश करने के बाद मैंने सोचा कि मैं यहाँ तक पहुंच तो गया लेकिन रवि को ढूंढूंगा कैसे… मैं तो उसके नाम के सिवा कुछ भी नहीं जानता. मैं उसकी इस बात पर हंस दी और उसे प्यार से एक थप्पड़ मारकर सोने चली गई. मेरी हवस मेरे काबू से बाहर हो गई थी… मैं भी चाह रहा था कि कोई लंड मेरे मुंह में भी चला जाए और मैं उसको ऐसे ही प्यार से चूसूं…कुछ देर बाद लड़के ने उसके सिर से पकड़ ढीली कर दी… मैं समझ गया कि उसका वीर्य निकल चुका है जिसे उस लड़की ने पी लिया.

ऐसे मैंने चड्डी इसलिए निकाली कि तेरे मज़ा रस से ये खराब ना हो।पूजा- वो तो ठीक है मामू मगर आपकी फुन्नी आर्यन से कितनी बड़ी और मोटी है!संजय- तूने कब देखी आर्यन की फुन्नी?पूजा- मॉम उसको नहलाती हैं. उसमें एक नंगा लड़का नंगी लड़की के बूब्स चूस रहा था और ज़ोर ज़ोर से दबा भी रहा था, फिर वो नंगा लड़का उसनंगी लड़की की चूतमें अपना लंड डालकर ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा. गोपाल- आह… नीतू बहुत अच्छे… आह… ऐसे ही कर… तू बहुत अच्छी है, हाथ को जोर-जोर से ऊपर-नीचे कर.

मैंने अपना लंड पेट पर लिटा लिया और इसे पकड़े रहा ताकि उछल कर खड़ा न हो जाए.

उनकी ब्रांच के एक क्लाइंट ने रयान को एक कॉलोनी में एक कोठी बताई, जिसमें तीन बेड रूम थे. लेकिन मैंने किसी की परवाह नहीं की और भैया के साथ एंजाय करती रही।तभी उन्होंने मेरा गाउन ऊपर किया और मेरी पेंटी निकाल दी और पेंटी को अपने दोस्तों के पास फेंक दी।अब वो मुझे छत पर लिटाकर मेरी चुत को रगड़ रहे थे। मैं पूरी गरम हो चुकी थी। फिर वो मेरी चुत में उंगली करने लगे और अपना लंड मेरी चुत में डालने लगे। कुछ ही देर में उनका लंड मेरी चुत में घुस गया था. अरे टीना बिगड़ी हुई है, मगर इतनी भी सेक्स की भूखी नहीं, जो भाई के साथ भी चुदाई करे। ये उसको बस खुजली से बचाने के लिए उसने तेल लगाया था। आप भी क्या-क्या सोच लेते हो.

रात को मैं अपने बिस्तर पर लेटा ही था, अब तो नींद भी आँखों में आती नहीं थी और बस इस इंतज़ार में रहता था किचूत का दरिया हमें भी अब तो नसीब हो,बहुत दिन हुए सूखे रेगिस्तान को,किश्ती बना कर लंड कीहमें भी आता है तैराना बखूबी. फिर रोहन ने आयेशा की गांड से लंड निकाल कर मेरी चूत में डाल दिया और मेरी चुदाई शुरू कर दी. जो उसने नहीं कराया था।मैंने कहा- मैं एक अच्छे डॉक्टर को जानता हूँ, तुम जीजाजी से बात कर लो तो तुम दोनों चेकअप फ्री में हो जाएगा।फिर मैं अपने घर वापस आ गया।दो दिन बाद मुझे जीजाजी का फोन आया और मुझसे डॉक्टर के बारे में पूछने लगे। मैंने उन्हें डॉक्टर अग्रवाल के बारे में बताया, जो कि शहर के बड़े डॉक्टरों में से थे। उनके यहाँ 2 दिन तक अपायंटमेंट नहीं मिलता था। जीजाजी के घर वाले बड़े कंजूस किस्म के हैं.

इसके बाद मैंने मुरुगन के साथ शराब पी और टीवी पर चल रही ब्लू-फिल्म भी देखी, इस सबसे मेरा सेक्स करने का मूड बन गया.

लड़की हल्का सा जागी और ‘ऊं… हटो’ बोली मगर उसने अपनी आँखें नहीं खोली. ऋतु अपने एक हाथ से पूजा की चूत का दाना मसल रही थी और मैं पूजा की रसीली चूत को साफ़ करने में लग गया.

एचडी वीडियो बीएफ बीएफ अब वो मुझसे पूछने लगी- क्या तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड है?मैंने वो बात सुन कर हसं कर भाभी को मना कर दिया और फिर भाभी मुझसे बोली- तुम कैंची से बाल मत काटा करो वरना वो कड़क हो जाएंगे. उसने कहा- नहीं, ऐसी बात नहीं है, जो इसको प्यार करता है ये भी उसको खुश कर देता है, अगर यकीन न हो तो इसको टच करके देख ले.

एचडी वीडियो बीएफ बीएफ तो यह कहानी शुरू होती है मेरी स्कूल लाइफ से… कहानी मेरी और मेरे दोस्त की फ्रेंड की है. इसके बाद मैं दो उंगली कोमल की चूत में और अंगूठा कोमल की गान्ड के छेद में घुसा के तेल मालिश करने लगा और एक हाथ से उसकी जांघों और पिडली की भी मालिश करने लगा.

खैर 10-12 दिन ऐसे ही बीत गए और एक दिन भगवान ने मेरी सुन ली, हमारे रिलेशन में एक शादी पड़ी जिसमें मम्मी को जाना था, चूंकि जिस लड़की की शादी थी वो मेरी बहन की सहेली भीथी तो वो भी जा रही थी.

अल्लो मटका

तो मैंने बताया- रीना रानी मेरी जान, सुलेखा हरामज़ादी ने अपने हाथ और पैरों पर ज़रा भी ध्यान नहीं दिया. मैंने उसे चाटकर साफ कर दिया।फिर मैं उसके पैरों के बीच में बैठ गया और अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा। उसने मेरे लंड को पकड़ा और मुझे कुछ देर रोक दिया। मैंने कुछ देर के बाद लंड को चूत के मुँह पर सैट किया और एक झटका मारा लेकिन लंड ऊपर की तरफ़ फिसल गया. बस ऐसे ही वो चरम पर पहुँच गया और जब उसका वीर्य निकलने लगा तो उसने लंड को बाहर निकाला और जोर-जोर से हिलाया तो सारा वीर्य फ्लॉरा के पेट पर गिर गया.

मेरी सांसें रुक रही थीं। उसका लम्बा मोटा सख्त लंड मेरी गांड में घुसा हुआ था। मेरी गांड कुलबुलाने लगी. मैं अब दिन-रात आंटी ही चोदने के सपने देखता कि किसी तरह अगर मुझे मिल जाये तो मसल के रख दूँ. मैं भी अब अपना हाथ जो‌ ‌उसके नन्हे उरोजों को मसक‌ रहा था, उसे पिंकी के मखमली पेट पर से सहलाते हुए उसकी जाँघों के जोड़ पर पहुंचा दिया, लेकि‍न मेरा हाथ उसकी योनि को छुये उससे पहले ही पिंकी ने जाँघों को भींच कर अपनी योनि को छुपा लिया।उसने दोनों जाँघों को अंग्रेजी के अक्षर ‘X’ की तरह जोरो से जांघें भींच लिया था जिनको आसानी से खोलना मुश्किल था इसलिये मैं उसकी जाँघों के ऊपर ही धीरे धीरे सहलाने लगा.

और दरवाजा बंद करके उसे गोद में उठा कर बिस्तर तक ले गया। जहाँ उसके नरम गुलाबी होंठों की पंखुड़ियों को बारी-बारी से चूसना चूमना चालू किया, उसने भी मेरा पूरा साथ दिया। मैं उसकी चूचियों को कभी दबाता कभी सहलाता.

बस कुछ वक्त और सब्र कर लो, वो वक्त भी आने वाला है।कहानी जारी रहेगी…आप अपनी राय मुझे भेजें![emailprotected][emailprotected]. ह्ह्हह…’ की आवाज करने लगी।पूरा कमरा पिंकी की सिसकारियों व कराहों से गूंज रहा था।पिंकी अब मेरा पूरा साथ दे रही थी, मेरे साथ साथ उसकी कमर भी अब तेजी से चलने लगी थी। पिंकी ने अब खुद ही ऊपर हो कर मेरे होंठों को अपने मुँह में ले लिया था और उन्हें जोर से चूसने चाटने लगी, कुछ देर तक ऐसे ही हमारी धक्कमपेल चलती रही जिससे हम दोनों की ही साँसें फूल गई और बदन पसीने से भीगने लगे. फिर पापा ने मुझे और शालू को बहुत डांट लगाई और मुझे चंडीगढ़ स्टडी करने भेज दिया.

गुलशन- अरे कुछ नहीं होगा भला चोदने से कोई मरता है क्या? मैंने कहा ना… बस आज सहन कर ले, फिर मज़ा ही मज़ा है… तू बोलेगी तब आगे चोदूंगा ठीक है. फ्रंट के रूम में रिसेप्शनिस्ट, बीच के कमरे में डॉक्टर तथा डॉक्टर के पीछे वाले पोर्शन में एक आराम करने के लिए दीवान, दो चेयर तथा फ्रिज आदि रखे थे. अब तो बता दे तेरा ये सुमन के साथ क्या करने का इरादा है?संजय- यार मैंने आज तक इतनी सीधी-साधी लड़की नहीं देखी वो भी यहाँ मुंबई में, इसकी सादगी और हुस्न की मिलावट को मैंने गौर से देखा है, मेरा तो इसको बस देखते रहने का मन किया।विक्की- क्या बात है प्यार-व्यार हो गया क्या तुझे हाँ.

टीना- अच्छा इसका मतलब आज तो तूने बड़े मज़े लिए!मॉंटी- दीदी एक बात बताओ. वो इस तरह उठा कि पूजा को तंबू ना दिखे, वो करवट लेकर अलग हो गया।पूजा- मामू आप कितने अच्छे हो।ये कहकर पूजा ने संजय के गाल पर एक किस कर दी। अब ये तो आग में घी डालने वाली बात थी। बेचारा संजय सोच में पड़ गया कि क्या करे.

इस बार मुरुगन ने मुझे कमोड के सहारे घोड़ी बना दिया और पीछे से मेरी चुत में अपना लंड पेल दिया. मेरा दूध पी जाओ। लेकिन आप जानते हैं कि प्रताप ने अपने अहसानों की आड़ में मानो मुझे खरीद लिया है। वह मुझे अपनी मिलकियत का सामान समझता है। मुझे सदैव धमकाता रहता है। जिसकी वजह से मुझे न चाहते हुए भी उसकी सभी बातें माननी पड़ रही हैं। अगर मैं ऐसा नहीं करूंगी तो वो मुझे 24 घंटे में पैसे लौटाने की चेतावनी देता रहता है. कुछ दिन पहले की बात है, हमारे घर मेरे पति के फूफा जी आए हुए थे, जो करीब 50 साल के होंगे मगर पूरी तरह से तन्दरुस्त और फिट हैं.

मगर सुमन ने तो ठान लिया था कि जब-जब उसको मौका मिलेगा, वो अपने पापा को सिड्यूस करती रहेगी.

डॉक्टर ने मुझसे कहा- इतने दिन क्यों नहीं आये जबकि मैंने अगले दिन ही बुलाया था. ऋषिका ने उसे प्यार से हाथ मिला कर थैंक्स कहा और काफी पिला कर ही भेजा. मुझसे रहा नहीं गया और मैं उसको मुंह में लेकर चूसने के लिए नीचे बैठ गया और बैठते ही उसके खडे़ लंड को मुंह में भर लिया जिससे उसकी भी आह निकल गई.

मैंने अपनी पति से कहा- ज्योति को बोलती हूँ राजे से बात करवाये!सुमित उछल पड़ा और बोला- यह बिल्कुल सही है. ऐसा कुछ नहीं होगा ओके अब चलो।ये तो गए, उधर संजय और पूजा को भी रेस्ट मिल गया था तो आओ वहाँ देख लो अब वो क्या करता है।पूजा- मामू ये चुदाई तो बहुत अच्छा खेल है.

सुबह मामा ऑफिस चले गए और मैं रोज़ की तरह बाथरूम में जा कर मामी की पेंटी से खेलने लगा. तुझे किसने कहा तू नौकर है? अरे तू तो बस मेरी मदद करने आई है और मुझे मेम साब नहीं, दीदी बोल. थोड़ी देर चुत चूसने के बाद संजय ने अपना लंड उसकी चुत में पेल दिया और ज़बरदस्त चुदाई करने लगा.

सिक्स डेज़

एक बार तो मेरी जान हलक में आ गई कि आज मर ही जाऊंगी, इस साले बुड्ढे का बड़ा लंड तो मेरी चुत का भुरता बना देगा.

गुलशन जी ऊपर से नीचे अनिता को निहार रहे थे, वो किसी अप्सरा से कम नहीं लग रही थी. फिर मैं उनके कपड़े उतारने लगा तो मामी ने कहा- तुम्हारे कमरे में चलते हैं. बहन की शादी के लिए जो भी आगे करना है इस बारे में उनसे कुछ विचार विमर्श करना है.

और फिर जब अपने पर नियंत्रण नहीं रख सका तब अपने एक हाथ से उस उरोजों को तथा दूसरे हाथ से योनि को सहलाने लगा. सच में मेरी चुत का सबने भुर्ता बना दिया। हाँ अगर तुम भी साथ होतीं तो इन पांडवों को हम संभाल लेते. सेक्सी दिखा दो सेक्सी सेक्सीसहलाने लगा। फिर हाथ ने मेरा हाथ पकड़ा और अपने लंड के ऊपर अंडरवियर के ऊपर रख दिया। मैं हाथ चुपचाप रखे रहा.

रुचिका की ऐसी चुदाई से मेरे टट्टे अब जवाब दे रहे थे, मैंने देखा कि रुचिका की चूत की धार बह रही है, उसने मेरे ट्टटों से लेकर नीचे तक सब कुछ भिगो दिया था. उन्होंने पहले उसके साथ बदसलूकी की, फिर दूसरे दिन एकदम से उन्होंने अपना रवैया बदल दिया.

मामी ‘आ हह हां आह आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… अहह हह हा’ की आवाज़ कर रही थी. अंकित के घर में उसके दो भाई हैं, जो स्कूल में पढ़ते हैं, उसके पापा डॉक्टर हैं और उसकी मम्मी अनु हाउसवाईफ है. धीरे-धीरे दीदी को भी चुत चुदाई में मजा आने लगा और वो फुल मस्ती में अपनी चुत में मेरा मोटा लंड में ठुकवाने लगीं.

उसके बाद कभी मुझे दोबारा ऐसा मौका तो नहीं मिला, मगर मैंने अक्सर कीकू की चड्डी पर मुट्ठ मारी है. उसकी बुर चूमने से वो पागल सी हो उठी थी और बार बार वो अपनी बुर चुदाई के अन्दाज में उछाल रही थी, दीदी भी अपनी पिछाड़ी को मटकाते हुए सिसकारियाँ ले रही थी- ओह भाई, तुम बहुत सता रहे हो डार्लिंग ह्हाई आऐईईइ ब्रदर! इसी प्रकार से अपनी बहन की गरमाई हुई बुर को चाटते रहो चूसो. हम 69 अवस्था में आ गए, चाची लंड चूसने में उस्ताद थीं, वो लंड ऐसे चूस रही थीं जैसे लंड को पी रही हों और इधर मैं भी जहाँ तक मुझे पता था वो ही कर रहा था.

तभी नीचे लेटे हुए रुस्लान ने अपना भारी-भरकम लंड आराम फरमा चुकी गांड में घुसेड़ दिया और ऊपर से चंगेज़ ने इस बार अपने द्वारा चुसी हुई चूत को निशाना बना लिया.

’मैंने उससे बड़ी डीटेल में बात की, अब बात जब पेग के साथ हो, तो आदमी बहुत खुल कर सामने आता है, और जब उसने मुझे अपनी कहानी सुनानी शुरू की, तो मैं तो हैरान पर हैरान होता गया. मैं- मैडम, आपके पति के पास ऐसा नहीं है क्या?मैडम- मेरे पति का लंड है तो तुमसे से बड़ा पर जितना बड़ा है कड़ा नहीं… हमेशा एक ही साइज का रहता है.

सफेद रोशनी में उसका गोरा बदन चमक उठा, वो आकर मेरे बेड पर अपनी टाँगें फैला कर लेट गई. वही मॉंटी को भी हो रही थी। वो जोर-जोर से वहां खुजा रहा था।टीना- अरे रुक पागल. इधर रुस्लान ने अपने मोटे लंड को चूत से बाहर निकाल लिया, तो चंगेज़ ने भी अपने लंड को आराम देने की खातिर गांड से बाहर कर, दुबारा अन्दर पेल दिया.

जब मैंने चूत पे हाथ डाला तो सारा रस सुख गया था और मेरी चूत में चिपचिपाहट सी लग रही थी. उसकी लंबाई और मोटाई का आपको क्या बताऊं… वो एक 10″ लंबा और अनिता की कलाई जितना मोटा था. इसी के साथ एंड्रयू ने अपना लंड स्वान द्वारा खाली की गई गांड में घुसेड़ दिया.

एचडी वीडियो बीएफ बीएफ उसके बाद कोमल खड़ी हुई और बोली- दोनों हाथ ऊपर करो!और मेरी कांख के बाल भी साफ़ कर दिए। उसके बाद उसने शेविंग किट साइड में रख दिया और मोहन ने शावर ऑन कर दिया।मैं कोमल को बाँहों में भरकर किस करने लगा और उसकी चुचियों को दबाने लगा, ऊपर से ठंडा पानी हमारे शरीर की गर्मी बढ़ा रहा था। धीरे धीरे कोमल मेरी गर्दन, सीने पर किस करते हुए पेट से धीरे धीरे योगिराज की तरफ बढ़ने लगी और फिर बैठ के चूसने लगी. बातों बातों में हम दोनों एक दूसरे के बारे में बहुत कुछ जान गए थे और इतने अच्छे दोस्त हो गए थे कि हम तकरीबन रोज़ बातें किया करते.

सेक्सी हिंदी वीडियो फुल एचडी में

फिर मुझसे बोला- चल बे आ जा, टिका के चूत मारना साली की!उसने कार से बाहर निकल कर अपने कपड़े पहने और आगे ड्राइविंग सीट पर आ कर बैठ गया. मैं भी अपने रूम में बैठा उत्तेजित होता जा रहा था यह सोच कर कि पूजा और ऋतु मुझे दूसरे रूम से देख रही हैं. यही बोली थी कि आपकी सेक्स के विषय में कोई ज़रूरत है जो मैं पूरी कर सकता हूँ.

’ करके मादक सिस्करियाँ भरने लगतीं, जिससे मेरा जोश और बढ़ता जा रहा था. वो एक पंजाबी लड़की है… थोड़ी सांवली जैसे पुराने जमाने की एक्ट्रेस रेखा हुआ करती थी. बीएफ सेक्सी भाभी की चुदाईमैंने शालू को जगा कर कहा- मैं ड्यूटी पर जा रहा हूँ, तुम ध्यान से रहना.

मैंने जब देखा तो उसका लंड जो कि 8″ का लम्बा था, पूरा का पूरा मेरी बहन की चुत के अन्दर जा चुका था.

पर मैं तो जैसे अपनी ही दुनिया में था मुझे सिर्फ़ अपने मोटे लंड पे एक टाइट बुर का अहसास हो रहा था. मैंने भी वाश बेसन में अपने लंड को धोया और रश्मि ने अपनी चूत साफ़ की.

और मामाजी उन दोनों आमों को निचोड़-निचोड़ कर रस पी रहे थे।मॉम के मुँह से निकलती कामुक सिसकारियां मुझे सुनाई दे रही थीं। मॉम को भी बड़ा मज़ा आ रहा था, मॉम अपना हाथ मामाजी के चड्डी में डाले हुए थीं। कुछ देर बाद शायद मॉम से रहा नहीं गया तो मॉम ने खुद मामाजी जी की चड्डी निकाल दी और मामाजी का लंड को हिलाकर मुँह में घुसेड़ लिया।अब मेरी मॉम मामा जी का लंड जोर-जोर से चूसने लगीं. दीदी अपने आपको छुड़ाने के लिए मुझे धक्का देने लगीं, पर मैंने उन्हें कसके पकड़ा हुआ था. वो मासूम अबोध किशोरी सी मुझसे चिपक गई और अपनी अंगुली से मेरी छाती पर जैसे कुछ लिखती रही.

मैंने देखा कि शालू और मेरा भाई विक्की दोनों नंगे थे और विक्की का लंड शालू की चुत में घुसा हुआ था.

’ वो मेरे ऊपर लेट गई और मुझे अपने पैरों और हाथों से जकड़ लिया और धीमे से मेरे कान में फुसफुसा कर बोली- अंकल जी, मेरी चूत चाटो न फिर से!‘देखो स्नेहा. थोड़ी देर वो सोचता रहा कि कैसे वो इस कली को निचोड़ कर इसका रस निकाले. ‘सविता किसी सुनसान और लम्बे रास्ते से ले कर चलो ताकि रास्ते में थोड़ा मजा कर सकें.

बीएफ चोदी चोदावह शाम को मेरे आने से पहले ही धुले हुए सूखे कपड़ों को प्रेस करने के लिए धोबी को दे आती थी और मेरे घर आते ही मुझे चाय बना कर देती तथा रात के लिए मेरा खाना बना कर अपने घर चली जाती. बचा मैं तो एक बार टीना को चोद लूँगा, दूसरी बार फ्लॉरा को चोद दूँगा, हो गया ना!’टीना- साले तू दो बार मज़ा लेगा ज़्यादा होशियार बनता है.

सेक्सी फिल्म कार्टून वाली

मैं अहमदाबाद, गुजरात से हूँ, मेरा नाम अजय है और मैं एक मेडिकल कंपनी में काम करता हूँ. अब कैसे नहीं जाएगा कोशिश कर, बैठ जा आराम से।पूजा ने बहुत धीरे-धीरे बैठना शुरू किया। उसको दर्द हुआ मगर वो सहन कर गई और पूरा लौड़ा चुत में घुस गया।पूजा- आह आह. हल्के-हल्के धक्के लगाता हुआ चंगेज़ अपने सख्त लंड को मेरी धर्मपत्नि की गांड में अन्दर-बाहर करने लगा.

मेरी चुत पहले ही पानी पानी हो रही थी जिससे मेरी पैंटी पूरी गीली थी. सोचा जो पट जाए उससे मजा ले लूँगा।इसके लिए मैंने उन्हें किसी काम के बहाने से बात करना शुरू कर दिया। प्रीति बड़ी थी और सीमा छोटी थी लेकिन वो ही खूबसूरत थी। शुरुआत तो मैंने प्रीति से किया लेकिन पटी मुझसे पहले सीमा।शुरू में हम तीनों अपना काम ख़त्म करके साथ में ही कहीं न कहीं घूमते थे. तो मैंने कहा- तुम्हें अकेले मिलना है तो मिल लूंगी पर ये पैसे तुम रख लो!वो बोला- नहीं, अब ये तुम्हारे हैं.

काफी देर तक झटके मारने के बाद पूजा का शरीर अकड़ने लगा और वो झड़ गई और बेड पर औंधे मुंह गिर पड़ी, पर मेरा अभी बाकी था तो मैं उसके ऊपर ही लेट गया. देखा कल तुमसे कैसे पागलों की तरह चुदवा रही थी, मैं वैसे खासकर तुमको सबीना की चुदाई के लिए ही जमीला से बात करके बुलाया है. क्लिटोरिस जिसे हिंदी में भगनासा कहते हैं एक लड़की की सबसे अधिक सेंसिटिव जगह होती है.

दोस्तो, मैं आपका राहुल गांडू!बात उस समय की है जब मेरी बारहवीं की परीक्षाएं चल रही थी, मेरे पास पढ़ाई के अलावा किसी भी काम के लिए समय नहीं था। घर में मैं और मेरी मॉम रहती थी. पूजा- तुझ में इतनी हिम्मत ही नहीं है कि अपने सगे भाई से इस तरह की बात पूछ सके और अगर पूछती भी है तो वो तैयार नहीं होगा.

मैंने भी इस पर विचार करके हाँ कह दी और जाने की तारीख भी तय कर ली, नई दिल्ली-भोपाल शताब्दी से अपना आरक्षण भी करवा लिया.

उसने बैठे-बैठे ही मेरी गर्दन दबोचे हुए मेरा मुंह अपने लंड पर ऊपर नीचे धकेलना शुरू कर दिया. एक्स एक्स बीएफ वीडियो दिखाएंयह सुनकर मेरे मन में आई पतझड़ में जैसे उमंग के गुलाब खिल गए, मुझे ना तो मौसी की बातों पर यकीन हो रहा था और ना ही अपने कानों पर… मैं आंखें फाड़कर उनकी तरफ ऐसे देख रहा था जैसे कोई बरसों का प्यासा चिलचिलाती धूप में रेगिस्तान में भटक रहा हो और अचानक उसको दूर कहीं पानी का समुद्र दिखाई दे जाए… मेरी सांसें वहीं अटक गई. मूवी एक्स एक्स एक्स मूवीवैसे उसके घर वालों से मेरी अच्छी बात हुआ करती थी और उसके पति से भी अच्छी बनती थी. मैं- भाभी चुत चिपचिपी है।भाभी बोलीं- तो कपड़े से साफ़ कर ले ना।मैंने पास में पड़े रूमाल से भाभी की चुत साफ़ की और दुबारा उनकी चुत में घुस गया।भाभी की चुत की अजीब सी महक ने मुझे मदहोश कर दिया और मैं जीभ से भाभी की चुत चाटने लगा। पहले तो मुझे गंदा सा लगा, पर थोड़ी देर में ब्लूफिल्म स्टाइल में मैं चुत को भरपूर चाटने लगा।निशा भाभी पूरी अकड़ गईं.

मैंने उसको ब्रा पेंटी और नाइटी पहना कर बेड पर बैठा दिया और चुनरी से उसका मुँह ढक दिया.

गाड़ी को पार्किंग में लगा कर हम दोनों रेस्तरां के बाहर ही एक एक कोक की बोतल लेकर बैठ गए और बातें करने लगे. जब हम उठे तो मेरा लंड उसके मोटे मोटे बूब्स देखकर फिर से तन गया और आबिदा का भी मन फिर से चुदने का हो रहा था तो हमने फिर एक बार और चुदाई की और आबिदा मेरी चुदाई से बहुत खुश हुई. मेरा लंड खुशी से फूल गया था क्योंकि उसे आज एक मस्त बुर जो मिलने वाली थी.

मैं समझ गया कि भाभी ने ब्रा नहीं पहनी है। उन्होंने अपने निप्पलों पर मेरी नज़र ताड़ ली और मेरे हाथ में बुक देख के मुस्कुरा कर बोलीं- अरे तूने फिर ये किताब ले ली?मैंने सकपका कर किताब टेबल पर रख दी और रेडियो देखने लगा।भाभी- चाय ले ले।मैं- मैं ठंडी करके पीता हूँ।भाभी- मज़ा तो गर्म-गर्म में आता है।मैंने चाय ले ली. अनु आंटी- अरे कभी आंटी से भी मिलने आया करो! रुक जा, तेरे लिये जूस लाती हूँ. यह तो मैं सभी कहानियों में बता ही चुकी हूँ कि राजे कैसा चैंपियन चोदू है.

महिला के स्तन

उसकी गांड और चुत को पूरी रात ठोका क्योंकि सुबह वो चली जाने वाली थी. मैं नाश्ता के बाद जाने के लिए बैग उठा कर बाहर निकला तो मुझे याद आया कि चाची के घर भी जाना है… फिर मैं बैग घर में रख कर पहले चाची के घर चला गया. सक हार्डमैंने अपनी जीभ उसकी चुत पर धीरे-धीरे अन्दर-बाहर करने लगा। साथ ही मैंने अपनी 2 उंगलियों को भी उसकी चुत में घुसेड़ दिया था.

मैंने पीटर की तरफ देखा तो वो इस कदर हमें देख रहा था जैसे कोई जलजला देख रहा हो.

अब उनका लंड चुत में बराबर अड्जस्ट हो गया था और अनिता को भी होश आने लगा था.

फिर मैं पानी गर्म किया और गुनगुने पानी से अपनी चूत अच्छे से धोई और सेंकी, पांव भी धोये. दस मिनट बात मेरा पानी गिर गया और वो मुझे किस करने लगी।फिर वो किचन में गई और एक खीरा ले आई. बीएफ बिहारी बीएफ वीडियोजल्दी कर ना!मैंने फिर भी उनकी चूत को चाट-चाट कर गीली कर दी, फिर उनकी चूत में ज़ुबान डाल कर चाटने लगा.

वो मेरे करीब आई और मेरे सीने पर उंगली घुमाते हुए बोली- मेरा नाम है सबीना, मैं रफीक कीछोटी बहनहूँ. वो बोलीं- मैंने कब मना किया? तुम बिल्कुल फ्री हो, जो चाहो करो!फिर हम दोनों 69 की पोजीशन में होकर एक-दूसरे का आइटम चूस रहे थे. पहले तो उसे गुस्सा किया- इतनी रात को आया और ऊपर से पीकर आया है। तेरे पापा को पता लग गया तो पता है ना क्या होगा।संजय ने अपनी मॉम को मीठी-मीठी बातों से फुसला लिया, झूठ कह दिया कि दोस्त की बर्थडे पार्टी थी.

वो आगे बोली- लेकिन वो भी पहली बार सिर्फ तुम्हारे लिए… तब तुम अपने दोस्तों को नहीं बुलाओगे… फिर बाद में हम तय करेंगे कि आगे क्या करना है. और फिर वो एक झटके के साथ झड़ने लगी और उसकी बुर में से एक लावा सा बहकर बाहर आने लगा.

उफ उम्म्ह… अहह… हय… याह… आअहह…आहहा अहह… लंड अंदर जाते ही मेरे मुँह से सिसकारियाँ निकल पड़ी थी.

नेक्स्ट टाइम करेंगे।तो वो बोलने लगे- फिर इस खड़े लंड को नेक्स्ट टाइम तक कैसे रोकेंगे?तो मैंने कहा- तुमको और मज़ा चाहिए?उन्होंने कहा- हाँ।तो मैंने कहा- जैसा मैं बोलती हूँ वैसा करना, कुछ एक्सट्रा करने की ज़रूरत नहीं है।उन्होंने कहा- ओके बेबी. मेरी सांसें रुक रही थीं। उसका लम्बा मोटा सख्त लंड मेरी गांड में घुसा हुआ था। मेरी गांड कुलबुलाने लगी. उसको अच्छा लग रहा है ये देखते हुए मैंने उसके मम्मों पर हाथ रख के सहला दिया.

हिंदी सेक्स देवर भाभी मम्मी नहीं हैं।उनका ये जवाब सुन कर मैं चौंक गया और अपने कमरे से बाहर आकर भाबी से पूछा- क्या मतलब भाबी. चाहे सुस्सू हो, चाहे मुंह की लार या माहवारी में चूत से निकलने वाला लहू… संभवतः यही वजह है कि इतनी बड़ी संख्या में रानियाँ उसकी दीवानी रहती हैं.

फिर मैं बाहर गया, तार पर उनके कपड़े सूख रहे थे, ब्लाउज के नीचे उनकी ब्रा लटकी थी, मैंने ब्रा उतारी और बाथरूम से उनकी पेंटी ले आया फिर उनको पहन कर मुठ मारी और मज़े किये. जब हम उठे तो मेरा लंड उसके मोटे मोटे बूब्स देखकर फिर से तन गया और आबिदा का भी मन फिर से चुदने का हो रहा था तो हमने फिर एक बार और चुदाई की और आबिदा मेरी चुदाई से बहुत खुश हुई. तुम रुको यहीं…और मैं कमरे में जाकर किताब लाकर उसे दिखाते हुए बोला- यह क्या है दीदी? गन्दी और नंगी तस्वीर?सीमा डर गई और घबराने लगी थी, वह डरते हुए बोली- सुन छोटू, तू भी जवान है तो समझता है शरीर की जरूरतों को! अब मैं जवान हो गई हूँ और तूने तो कर भी लिया होगा पर मैं तो कुंवारी हूँ.

सेक्सी हिंदी में एचडी

मगर ये निकालते टाइम गुलशन ने एक बार भी मम्मों और चुत की तरफ़ नहीं देखा, वो बस अनिता की आँखों को देख रहे थे. उसने अपना लंड बाहर निकाल लिया और मेरे अंडरवियर के ऊपर से ही रगड़ने लगा. मैंने उसके होठों पर अपने होंठ रख दिए और दूसरा झटका देकर लंड को और अंदर धक्का दिया.

गुलशन- हा हा हा ऐसा कुछ नहीं होगा… तू कोशिश तो कर… फिर मज़ा आएगा तुझे. उसने बताया- पता नहीं मुझे क्या हो गया है, मेरी येचुदाई की प्यास बुझती ही नहींहै.

क्या जो घर का काम आप करती हो वह सब तुम्हारी मंझली बहू कर लेगी?मेरी बात सुन कर अम्मा बोली- आप चिंता नहीं करें, तुम्हें कोई कष्ट नहीं होगा.

जब 2 मिनट बाद सब निकालने ही हैं, तो बदलने से क्या हो जाएगा हा हा हा हा. ये तुम्हारे मुँह में जाने के लिए तड़प रहा है।मैंने कहा- भैया आपका लंड तो बहुत बड़ा है. फिर मैं उसकी चूचियों के दाने को चूसने लगा, एक तरफ उसकी चूत में उंगली कर रहा था और दूसरी तरफ उसके दूध को चूस रहा था.

नहाते हुए मैंने सुमित का लंड होली की मस्ती में उसको बहुत मज़ा देते हुए चूसा. पहले नहीं लगी क्या?मॉंटी- अरे नहीं दीदी, आप तो सुन्दर ही हो, बस कपड़े निकलने के बाद आपका पूरा बदन लाइट की तरह चमक रहा है. बाहर मेरा दोस्त आया था जिसे मेरी मुंबई की प्रोजेक्ट रिपोर्ट की एक प्रतिलिपि चाहिए थी जिसके अनुसार वह भी अपने प्रोजेक्ट रिपोर्ट लिख सके.

तभी बॉस ने मेरे कान में कहा- तू चिंता न कर, संजय खुद ही तुझे चुदवाने लाया है.

एचडी वीडियो बीएफ बीएफ: दोनों बारी-बारी से मेरे पप्पू को अपने मुंह में लेकर लॉलीपॉप की तरह चूस रही थी. क्या हुआ है?मोना ने सुबह की सारी घटना काका को बताई। एक बार तो उनको ये सब अटपटा लगा.

क्योंकि यह हमारी पहली बार था और मैं दिशा को नाराज नहीं करना चाहता था. मैंने कोमल के पेट पर तेल डाला और उसके मुँह की तरफ खड़ा होकर कोमल की चुचियों पर तेल मालिश करने लगा तो फिर योगिराज कोमल के मुँह में घुस गया और कोमल मेरी मालिश से जब आगे पीछे होता तो उसका फायदा लंड चूसने में लेती. मैं- ऐसा क्या कर दिया मैंने जो तू शाम से जल रही है? जरा मुझे भी तो पता चले?मानसी- तूने जब से मेरे होठों को चूसा है, मैं तब से जल रही हूँ.

पर मामा जी मानने वाले कहाँ थे, मामा जी बोले- आज मैं अपनी भानजी की चूत की चुदाई किचन में ही करूँगा.

मेरा रोम रोम खिल गया, मज़ा आ गया।भाभी के मम्मों की गर्मी से मेरा लंड फिर से तनने लगा।मैं- एक बात बताओ जान. किधर लोगी?उसने कहा- अन्दर ही छोड़ दो।तो मैंने उसकी चूत में ही लंड का पानी छोड़ दिया।उस रात हम दोनों ने 3 बार सेक्स किया, दोस्तो ये मेरी रियल सेक्स स्टोरी है. तो हम सारे भाई-बहन नीचे बिस्तर डालकर सोने लगे। भैया सबसे बड़े थे और उस वक्त चूंकि ठंड का टाइम था तो उन्होंने मुझे अपने पास सुला लिया।मैं सोते वक़्त सलवार कुर्ती.