सनी लियोन का बीएफ वीडियो दिखाएं

छवि स्रोत,बीएफ सेक्सी 100 साल

तस्वीर का शीर्षक ,

मजेदार बीएफ सेक्सी: सनी लियोन का बीएफ वीडियो दिखाएं, इसलिए चाचा ट्रेनिंग खत्म होने तक घर वापस नहीं आ सकते थे।घर पर सिर्फ मैं और चाची थे। हम दिन भर खेत में काम करते रहे, रात में खा-पीकर बिस्तर पर लेटे-लेटे इधर-उधर की बातें करने लगे।मैं ऊपर चारपाई पर सोया था.

बीपी बीएफ सेक्सी चुदाई

लगता है आज यह मेरी मचलती चूत की प्यास बुझा ही देगा।’और यह कहते हुए उसने मेरा लण्ड चूसना चालू कर दिया। वो बहुत अनुभवी औरत थी. बंगाली सेक्सी बीएफ देहातीक्या बात है?मैं बोली- मेरे सर में दर्द है।यह बहाना करके मैं कमरे में आराम करने के लिए जाने को बोली।पति ने खाना पूछा.

मैंने भी उसके साथ वही किया।कुछ देर में हम दोनों भी झड़ गए।अगली बार सास-बहू की लेस्बियन कहानी ज़रूर पढ़िएगा।[emailprotected]. बीएफ सेक्सी खुलम खुलातो इस बार उसके विरोध का इन्तजार किए बिना ही उसके स्तनों को सहलाने लगा।जब मुझे लगा कि ये अब मजे लूट रही है.

वरना आपका सेक्स पार्टनर आपसे नफरत करने लगेगा। फारिग होने के बाद उसके स्तनों पर सर रख के उसके अंगों को धीरे-धीरे सहलाएं.सनी लियोन का बीएफ वीडियो दिखाएं: लेकिन शायद मैं उसे नजर नहीं आ रहा था। इसलिए वो थोड़ा बाहर आई और गैलरी के दोनों ओर देखा और अन्दर आकर बड़बड़ाने लगी- रात में भी परेशान करते हैं।अब मुझे विश्वास हो गया था कि वो मुझे नहीं देख पा रही है.

कि वीनस मचल गई और अपने मम्मों को दबाने लगी।मैंने उसके मम्मों को दबाया और फिर मम्मों को चूसने लगा, उसका तन-बदन बिन पानी की मछली सा मचल उठा था।अभी तो असली चीज़ बाकी थी।अब मैंने अपना कच्छा उतार दिया और उसकी प्यारी सी पैन्टी को भी उतार दिया। असली चूत को जिंदगी को मैंने पहली बार देखा.मैं कहीं भागी थोड़े जा रही हूँ।फिर मैं कुछ देर उनकी चूत में अपना लंड डाले हुए शांति से रुका रहा।कुछ देर बाद जब चाची ने भी लंड अपनी चूत में एडजस्ट कर लिया और दर्द कम हो गया तो बोलीं- अब चुदाई शुरू करो।मैंने धीरे-धीरे अपने लंड को उनकी चूत में आगे-पीछे करना शुरू कर दिया और फिर धीरे-धीरे अपने धक्कों की रफ़्तार और ताक़त बढ़ाने लगा।अब चाची को पूरा मज़ा आने लगा था.

बीएफ सेक्सी फोल्डर - सनी लियोन का बीएफ वीडियो दिखाएं

अंकल से लिपट कर किस किए जा रही थी। मैं अंकल की मजबूत बाँहों में घिरी हुई थी। अंकल भी मुझे किस कर रहे थे।फिर अंकल ने मेरी योनि में से उंगली निकाली और थोड़ा हट कर अपनी अंडरवियर को उतार दिया। बहुत कम रोशनी में मैंने अंकल का लिंग देखा वो बहुत बड़ा हो चुका था.’ वो जोर से चीखी और अपने हाथों से मुझे पीछे को धकेलने लगी।मैंने एक हाथ से उसकी कमर पकड़ कर दूसरे हाथ से उसका मुँह बंद कर दिया, उसकी आँखों से पानी निकल आया था।मैंने एक तगड़ा झटका मार दिया.

लेकिन उनका फिगर कमाल का था। उनके मम्मों का नाप 36 इंच का था। उनकी कमर 30 इंच की थी और उनकी गाण्ड का साइज़ 34 इंच का था।मैंने उन्हें चुप कराने की कोशिश की. सनी लियोन का बीएफ वीडियो दिखाएं आधा से ज़्यादा लंड मेरी चूत में धंस गया।मेरे मुँह में स्वीटी की चूत होने की वजह से मेरी चीख दब कर रह गई।मैंने भी अपनी चूत ऊपर की और रणजीत का पूरा लंड चूत में ले लिया.

पहले अपने कपड़े उतारे और उसकी टी-शर्ट और अफगानी उतार दी और ब्रा खोल दी।ब्रा खुलते ही वीनस शर्माने लगी और मैंने उसे लिटा दिया और उसके मोटे-मोटे मम्मों को चूसने लगा और दबाने लगा।मेरी वीनू अब सिसकारियाँ भरने लगी, उसकी ‘आअहा हह्हम्ह्ह आहाहहह.

सनी लियोन का बीएफ वीडियो दिखाएं?

लेकिन तू कल बहुत हॉट दिख रही थी।तो वो शरमा के चली गई।उस दिन से उसे चोदने की इच्छा और तीव्र हो गई।सैटरडे को मैंने मोना से पूछा- तुम्हारा कल का क्या प्लान है?तो उसने बताया कि कल वो घर पर अकेली है इसीलिए वो घर पर ही रहेगी।मैं उदास हो गया… तो वो पूछने लगी- लकी, तू क्यों उदास हो गया?तो मैंने बताया- मोना मैं कल तेरे साथ मूवीज देखने थिएटर जाना चाहता था. उसकी वासना बढ़ने लगी थी। कपड़े तो जैसे उसको ऐसे लग रहे थे जैसे फुल गर्मी में किसी ने उसको स्वेटर पहना दिया हो।दोस्तो, आप बस जल्दी से मुझे अपनी प्यारी-प्यारी ईमेल लिखो और मुझे बताओ कि आपको मेरी कहानी कैसी लग रही है।कहानी जारी है।[emailprotected]. उसका नाम दिव्या है, उसकी उम्र 24 साल, उसके मम्मे बहुत ही बड़े-बड़े हैं और उसकी गाण्ड भी बहुत बड़ी है। उसका फिगर 36-34-38 का होगा.

पर साला महमूद भी पक्का खिलाड़ी था। उसने तुरन्त अपना एक हाथ मेरी चूत के करीब ले जाकर मेरी जांघ के पास कस कर चिकोटी काट ली।‘आईईईउई. तो वो मना करने लगी। तब मैंने उसको गिलास लेकर आने के लिए कहा और वह दो गिलास और साथ में नमकीन भी लेकर आ गई।उसको अपनी गोद में बैठा कर पैग पीने के साथ मैं उसकी चूत में भी फिंगरिंग कर रहा था और वह मेरे लंड को हाथों से सहला रही थी।कुछ देर में मैंने उसको लंड चूसने के लिए कहा. पायल सब सैट को आराम से हाथ में लेकर देखने लगी और चोर नज़र से पुनीत की और भी देखती रही।पायल- सब बहुत अच्छे हैं मगर कलर कौन सा लूँ.

इसलिए वो अक्सर काम की वजह से बाहर जाता रहता था।एक दिन मैं बाल्कनी में खड़ा होकर अपना मोबाइल चला रहा था. वो ये सब देख रही थी, उसने मुझसे पूछा- दीदी क्या कर रही थीं और दीदी के हाथ में क्या था, मुझे भी देखना है।मैं- बाद में बताऊँगा… लेकिन एक शर्त है कि तुम किसी से कहोगी नहीं?रोमा- नहीं बताऊँगी. फिर मामा ने मुझसे कहा- तुम बहुत डरपोक हो।तो मैंने कहा- मैं डरपोक नहीं हूँ।मामा ने कहा- अगर डरपोक नहीं हो.

तो आप तो बस जल्दी से मुझे अपनी प्यारी-प्यारी ईमेल लिखो और मुझे बताओ कि आपको मेरी कहानी कैसी लग रही है।कहानी जारी है।[emailprotected]. लेकिन सेक्स वाली फिल्में बहुत देखी थीं। मैं हमेशा अन्तर्वासना पर मादक कहानियाँ पढ़ता रहता हूँ।आज से 2 महीने पहले की बात है.

कम्मो ने दोनों के हाथ उनकी चूतों से अलग किये और उनको जस्सी की घोड़ी बनी चुदाई को देखने के लिए प्रेरित किया।जस्सी की घुड़चुदाई मेरे लिए बहुत ही आनन्ददायक होती है यह मुझको मालूम था तो मैं मस्ती से और पूरे प्यार से जस्सी की मोटी गांड पर हाथों से थपकी मारते हुए उसको चोदने लगा्।जस्सी और जेनी की चूत, जैसे कि बाकी की कुंवारी लड़कियों की होती है, बेहद ही टाइट थी और चूत की पकड़ लंड पर काफ़ी मज़बूत थी.

तो मैंने उसकी दोनों टाँगों को फैलाया और लण्ड को उसकी चूत में सैट करते हुए एक झटके से अन्दर डाल दिया।‘उई मांआआआ.

हमको यहाँ कितने दिन रहना होगा?डॉक्टर- अभी कुछ कहा नहीं जा सकता, हालत बहुत खराब है। आप कमरा किराए पर ले लो. जो इस समय एक छोटी सी प्लेट जिसके बीचों-बीच ऐसा लग रहा था कि अंगूर का दाना रखा हो और मुझे आमंत्रित कर रहा था कि मैं उसे चूस डालूँ।मुझसे रहा न गया. तब तक आप भी रेडी हो जाओ।पायल वहाँ से वापस अपने कमरे में चली गई और बड़बड़ाने लगी।पायल- उहह कितना अच्छा ड्रेस था.

मेरा लण्ड कड़ा हो गया था। वैसे ही मैं तौलिया लपेट कर जानबूझ कर आंटी के सामने से कमरे में आ गया।आंटी मेरे पीछे-पीछे आ गईं. माँ-बेटी की चुदाई की कहानी बहुत ही रसीली है इसका अंत तक मजा लीजियेगा मेरे साथ अन्तर्वासना से जुड़े रहिएगा।कहानी जारी है।अपने ईमेल मुझे जरूर लिखियेगा।[emailprotected]. वो मेरे गले पर किस करने लगे। एक हाथ उनका मेरे सिर के नीचे और एक हाथ से मेरे शरीर पर घूमने लगा। मुझे कुछ अज़ीब सा होने लगा.

तो एक स्लीपर का टिकट बुक करा लिया। बस रात को चलती थी और दूसरे दिन रायपुर पहुँचाती थी। एक स्लीपर इतना चौड़ा होता है.

उसका चूत का फाल हो गया था और हाँ वो कोई नंगी नहीं थी, उसने अपने कपड़े पहने हुए थे।चूत के रस से उसकी पैन्टी के साथ उसका बरमूडा भी गीला हो गया था। अगर चादर हटा दो तो देखने वाला फ़ौरन समझ जाए कि उसका अभी-अभी रिसाव हुआ है।दोस्तो, उम्मीद है कि आपको कहानी पसंद आ रही होगी. कल तुम डिल्डो से खेल रही थीं। आज मैं तुम्हे तुम्हारी चूत को असली वाला लण्ड दूँगा।’ मैंने आरती का गाल चूमते हुए कहा।‘धत्त. दोस्तो, मेरा नाम अजय, मैं पूरी मौज मस्ती में रहता हूँ… किशोर आयु से ही चुदाई का मज़ा ले रहा हूँ, अब तक मैं 50 से ज़्यादा लड़कियों को चोद चुका हूँ।आज आपको मैं अपनी गर्लफ्रेंड की चुदाई की कहानी बताने जा रहा हूँ.

ये भी देखना होगा। वैसे पूजा ने कहा था कि दुनिया का कोई भी लड़का पहले लड़का है बाद में किसी का बेटा या भाई. जो इस समय एक छोटी सी प्लेट जिसके बीचों-बीच ऐसा लग रहा था कि अंगूर का दाना रखा हो और मुझे आमंत्रित कर रहा था कि मैं उसे चूस डालूँ।मुझसे रहा न गया. इसलिए वो मुझसे सेक्स करना चाहती थी।जो मुझे सेक्स करने के समय पता चला तब वो शादी-शुदा औरतों के जैसे खुली हुई थी। उसके बहुत सारे ब्वॉयफ़्रेन्ड थे और वो सभी के साथ चुदाई कर चुकी थी।चलिए मुख्य बात पर आते हैं।जब उसने मुझे पकड़ लिया और चोदने की जिद करने लगी। तो उसके बाद उसके साथ सेक्स करने के लिए मैंने ‘हाँ’ कह दी.

केवल दारू और चखना ही काफी रहेगा। मेरे लिए व्हिस्की और अपने लिए वोडका लाकर रखी थी। पनीर का अच्छा सा चखना बनाया था। बस हम सब बैठ कर पीने लगे।दो पैग पीने के बाद भावना मेरी गोद में आकर बैठ गई.

उस समय उसकी आँखें भी बड़ी मदहोश जैसी लग रही थीं।उसने मेरे हाथों को पकड़ा और अपनी बुर पर लगा दिया। उसकी बुर पनिया चुकी थी। मैं उठा और घुटने के बल बैठ कर उसके कपड़े के ही ऊपर से बुर को चूमने लगा।हाय. लेकिन चिल्ला ना पाई क्योंकि अंकल ने अपने होंठों से मेरी बोलती बंद कर रखी थी।फिर अंकल पूरा लंड मेरी योनि में घुसा कर रुक गए और कहा- श्रुति, अपनी टांगों को जितना हो सके फैला दो।मेरा दर्द अब कम हुआ.

सनी लियोन का बीएफ वीडियो दिखाएं वहाँ वही आदमी उसे चोद ही चुका था और उसके ऊपर चढ़ा हुआ था।वो बिल्कुल नशे में धुत पड़ी थी।हम सबने उसके जिस्म को साफ़ किया. अगर उसने कहा है तो भेज दो।अर्चना- लेकिन आर्डर देते समय उन्होंने अपनी ब्रा का सही साइज नहीं बताया है, क्या आप हमारी मदद कर सकते हैं?रवि- ब्रा के साइज का मुझे पता नहीं है.

सनी लियोन का बीएफ वीडियो दिखाएं क्योंकि राजस्थान में गर्मी के दिनों में दोपहर में बाहर घूमने की सोच भी नहीं सकते।मैं लगभग 4:30 बजे उठा। उस समय भी बुआ मेरी बहन से बात ही कर रही थी। मैं जब बाथरूम में होकर आया. अपने कुछ दोस्तों के साथ-साथ मैं भी गर्मियों की छुट्टियों में नया नया जिम जाने लगा था और कुछ दिनों की मेहनत का असर अब मेरे सीने और गर्दन पर पड़ने लगा था यानि मेरी बॉडी कुछ अलग दिखने लगी थी। इसका नतीजा यह हुआ कि जो भी मुझे कुछ दिनों के बाद मिलता.

!मैंने कहा- बस आज तुम मेरे लण्ड को अपनी चूत में लेकर शांत कर दो।वो बोली- कन्डोम तो है ना तुम्हारे पास?मैंने कहा- यार… वो तो मैं भूल गया.

मेवात की हिंदी बीएफ

तो वो बोला- अभी नहीं बनी है।ज़्यादा बातें नहीं होती। मुझे वो अच्छा लग रहा था। मैंने उसके गालों पर हाथ लगाया. जल्दी से देखो ना।तब मैं अपना मुँह बिल्लो की बुर के पास ले गया और जीभ से उसकी बुर को चाटने लगा। बिल्लो ने मेरा सिर पकड़ लिया और बाल पकड़ कर दबाने लगी।मैंने भी अपनी जीभ को बिल्लो की कोरी बुर के छेद में घुसा दिया. तो भारी बदन की होने के कारण यूँ समझो कि पूरी सीट उसकी हो जाती। इसी वजह से वो मेरे से चिपकी हुई रहती थीं। जब कहीं गड्डा आता.

थोड़ी दूरी पर हम दोनों ने अपने कपड़े सही कर लिए और सामान्य हो कर बैठ गए।यह थी मेरी सच्ची और यादगार चुदाई की कहानी. संदीप उसके ऊपर से हट गया और खुशी बिना कुछ बोले टॉयलेट में चली गई और वहाँ से लौटकर अपने कपड़े पहनने लगी।संदीप ने खुशी को कोहनी से पकड़ा और अपनी तरफ घुमाते हुए पूछा- क्यों. मगर उसने नहीं सुनी और सीधा लंड को चूत में घोड़ी बनाकर घुसा दिया। मेरे को कुछ अजीब सा लगा क्योंकि लंड अब भी बहुत सख़्त था और अचानक गीलापन लगा.

तो मैं और मेरा दोस्त मोहन आपस में ही गाण्ड मारकर मजा ले लेते हैं। हम दोनों में से जब भी कोई लड़की या लड़का पटा कर लाता.

जो मानव मात्र के लिए सम्भोग की चरम सीमा तक पहुँचने की सदा से ही लालसा रही है।मुझे आशा है कि आपको ये कहानी पसंद आएगी। आपके ईमेल की प्रतीक्षा में!कहानी जारी है।[emailprotected]. तो मैंने बेख़ौफ़ अपने एक हाथ को उसकी पजामी के अन्दर डाल दिया और पैन्टी को महसूस करने लगा।पैन्टी के नीचे नंगी जाँघों पर हाथों से स्पर्श किया. सुरभि- क्यों नहीं बताएगा।सोनाली- क्योंकि सुशान्त उसकी दोनों बहनों को चोद चुका है।सुरभि- क्या सच में?सोनाली- उसी से पूछ लो.

मेरा बदन का साइज़ 38-28-34 है।अपनी कहानी मैं पहली बार आप सब के समक्ष भेज रही हूँ, यह एक सच्ची घटना है।मेरा एक ब्वॉय फ्रेण्ड है. लेकिन चिल्लाना मत।और यह कहकर वे मेरी चूत पर अपना लंड रगड़ने लगे और अपने एक हाथ से मेरा सिर पकड़ कर होंठ चूसने लगे।दूसरे हाथ से मामा ने मेरी चूत पर अपना लंड सैट किया और एक शॉट मार दिया।मेरी तो जान ही निकल गई. तो वो सन्नी के साथ चला गया और पुनीत अकेला आगे बढ़ गया।पायल ने नाश्ता ख़त्म किया और अपने बिस्तर पर टेक लगा कर बैठ गई। वो कुछ सोच रही थी कि तभी पुनीत वहाँ आ गया।पुनीत- अरे क्या बात है मेरी बहना.

तो पापा अब मम्मी की टांगों की तरफ आ गए और मम्मी की टांगों और जाँघों को मसाज करने लगे। जिससे मम्मी की चूत अच्छी तरह गरम हो जाए और पानी छोड़ दे।फिर चुदाई भी अच्छी तरह हो सके। अब पापा मम्मी की तरफ बढ़े और मम्मी की चूत को फिर चूमने चाटने लगे।मम्मी पापा का पूरा साथ दे रही थीं और उनके मुँह से आवाजें आने लगी थीं- आअह्हह. मैंने भी हाथ बढ़ाया और उनके लण्ड को पैन्ट के ऊपर से सहलाते हुए, ज़ोर से दबा दिया। अरुण जी का लण्ड मेरे पति की ही तरह पूरा 7 इन्च लम्बा और 3 इन्च मोटा था।अरूण ने मस्ती में बोला- जान रूको.

उसने पूरा लंड बाहर निकाला और बहुत तेजी से पूरा कूदते हुए मेरी चूत में लौड़ा घुसेड़ दिया। ऐसे-ऐसे उसने कई बार किया. अब मैं भी तैयार थी ऐसे किसी तीन से चुदने के लिए। क्या मजा आता होगा जब औरत तीन छेदों में एक साथ चुदती होगी?मैंने शर्माजी से कहा- यार, मैं भी इस तरह से चुदना चाहती हूँ. क्योंकि मैं अक्सर फिंगरिंग कर लेती थी।इस तरह अंकल मेरी योनि मे फिंगर डाल कर अन्दर-बाहर करने लगे।अब मुझे बहुत मज़ा आ रहा था, वो मेरी योनि की पंखुड़ियों को उंगली से फैला कर दाने को छेड़ने लगे, उनका सर मेरी दोनों जाँघों के बीच में था।मैंने कस कर उनके सर को पकड़ लिया और अपनी योनि को उनके सर के पास हिलाने लगी।मैं मज़े में चूर थी.

और सीधा लवर प्वाइन्ट पर पहुँचा।कुछ देर के बाद वो अपऩी स्कूटी पर काले रंग का जीन्स पैन्ट और सफेद रंग का टॉप पहने हुई क़यामत ढहाते हुए आई।सच में क्या फाडू माल लग रही थी वो.

बस अब तो बुर और लौड़े की चुसाई का दौर चलने लगा था।मस्त चुसाई के चलते वो दो बार झड़ चुकी थी और अब मैं भी झड़ने वाला था. अब हम लोग सोफे से उतर कर नीचे कालीन पर आ गए, दोनों ने मुझे लेटा दिया, भावना ने मेरे मूसल जैसे लण्ड को अपने रसीले होंठों में ले लिया, उसकी गाण्ड मेरे हाथों की पहुँच में थी।इधर कंचन मेरे गले के अगल-बगल पैर करके अपनी चूत को मेरे मुँह पर रख दिया, वो मेरे सर के बालों को सहलाने लगी, मैं अपनी जीभ उसकी मस्त चूत पर फेरने लगा. तो भाभी ने मचल कर मेरा सिर अपनी जाँघों में चूत के ऊपर दबा लिया।अब मैं बुर को पूरे मुँह में ले कर चूस रहा था।भाभी की बुर बहुत पानी छोड़ रही थी। मैं हाथ ऊपर करके चूचियों को भी मसल रहा था.

लेकिन मैं अपना लण्ड वापस खींच लेता। थोड़ा तड़पा कर आख़िर में मैंने अपना लण्ड उसकी बुर में एक झटके से पेल दिया।उसके मुँह से चीख निकल गई. हम दोनों एकदम से बेड पर गिर पड़े।तभी मैंने मौका देख कर अपना सिर जोर से उनकी जाँघों में घुसा दिया। बेड पर आंटी मेरे नीचे थीं। मेरा लंड उनके पैरों के बीच दबकर मजे ले रहा था और मेरा मुँह उनकी चूत पर था।मुझे महसूस हो रहा था कि आंटी गरम थीं क्योंकि उनकी साँसें तेज थीं। तभी मेरे मन में आया कि यही सही मौका है इसकी खूबसूरत जवानी का पूरा मजा लूटने का।मैंने अपना एक हाथ उनके मम्मों पर रख दिया.

तो आप तो बस जल्दी से मुझे अपनी प्यारी ईमेल लिख कर मुझे बताओ कि आपको मेरी कहानी कैसी लग रही है।कहानी जारी है।[emailprotected]. आपका ये कैसा लपलपा रहा है और चमक रहा है।’मैं- क्या तुम फिर से चुदने के लिए तैयार हो ना?बिल्लो ने शर्मा कर सर झुका लिया। फिर मैंने उसे उकड़ू बना कर बैठा दिया और लंड को उसकी गाण्ड पर रख कर एक धक्का लगाया की ‘पूच्च. मैं भी कहाँ मानने वाला था, मैंने फुल स्पीड में 15 से 20 धक्के मारे होंगे और पिंकी और मैं दोनों साथ में ही झड़ गए।सारा माल मैंने पिंकी की चूत में डाल दिया और मैं पिंकी के ऊपर ही लेटा रहा।हम दोनों इतना थक गए थे कि उठ भी नहीं पा रहे थे, ऐसे ही हम दोनों लेटे रहे।करीब 30 मिनट बाद हम उठे, मैंने घड़ी में देखा तो 5 बज रहे थे।फिर पिंकी उठी.

देसी बिहारी बीएफ सेक्सी

मैं भी उसे चोदने की सोचता था और उसकी याद में मुठ भी मारता था। मैं सोचता था कि काश कोई मौका मिल जाए।इस तरह हमारी मुहब्बत की चर्चा क्लास में भी होने लगी.

जो कोई इसको छू कर मज़ा ले लेता। इसके साथ इसके दोनों भाई जो मौजूद थे। हाँ ये अलग बात है कि पुनीत खुद मस्ती मजाक में उसको छू कर मज़ा ले रहा था।अब यहा इनको मज़ा करने दो। यहाँ कुछ खास है भी नहीं. जब पायल कमरे से बाहर आई तो पुनीत बस उसको देखता ही रह गया, वो किसी अप्सरा से कम नहीं लग रही थी।पायल ने सफ़ेद और लाल रंग का सलवार सूट पहना हुआ था. वो लौड़े को सहला रही थी।मैंने भाभी के कान में कहा- भाभी अन्दर चल कर बाकी कहानी बिस्तर पर बताता हूँ।अब आगे.

मेरा लण्ड भावना की गाण्ड के बीच फंसा हुआ था। अब मेरा मन भावना की मस्त बड़ी गाण्ड मारने का हुआ। भावना की गाण्ड को फैलाकर मैं लण्ड रगड़ने लगा।मैंने उससे पूछ लिया- गाण्ड मरवाने में कोई दिक्कत तो नहीं?तो बोली- अरे पूछ क्यों रहे हो. लौड़ा इतना अधिक कड़क हो चुका था कि फटने को हो रहा था। मैंने अपना लंड वैसे ही कपड़ों के ऊपर से ही उसकी गाण्ड की दरार में लगा दिया।उसने भी गाण्ड पीछे की ओर कर दी। अब मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था। फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाल कर उसके हाथ में रख दिया. बीएफ फुल एचडी मूवी सेक्सीयह उस दिन पहली बार अनुभव हो रहा था।मैंने आरती को कस कर अपनी बाहों में समेट लिया और आँखें मूँद कर उन पलों का आनन्द लेने लगा।उसके फूल से कोमल स्तन मेरे सीने से दबे हुए थे और मैं धीरे-धीरे उसकी गर्दन को चूम-चाट रहा था। उसके दिल की धक.

तो आपको सेक्स का भरपूर मज़ा मिलेगा और आपको काम-क्रीड़ा में सन्तुष्टि जरूर मिलेगी।आशा है ये पोस्ट आपको जरूर पसंद आई होगी।आपकी सेक्स समस्याएँ. पर मेरे लौड़े को तो शांत करो।वो मेरी मुठ मारने लगी, उसकी चूत में से खून निकल आया था। उसके मुठियाने से मैं 15 मिनट में झड़ गया और मेरा सारा माल उसके हाथ में लग गया.

मैं झड़ने लगी और मुझे झड़ता हुआ पाकर पति मेरी बुर पर ताबड़तोड़ धक्कों की बौछार करते हुए चोदते जा रहे थे। मेरी चूत से ‘फच. क्योंकि उसकी बुर से पानी निकल रहा था।थोड़ी देर ऐसे चोदने के बाद मैंने कंचन को घोड़ी बना दिया। इससे उसकी गाण्ड ऊपर की ओर हो गई। अब मैंने पीछे से आकर उसकी बुर में अपना लण्ड एक बार में ही पेल दिया, फिर मैं उसकी कमर पकड़ कर ‘घपा. अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार!मेरा नाम सचिन है, मेरी लम्बाई 6 फिट है और मेरा जिस्म भी अच्छा ख़ासा है.

चम्पा और खुशी को हाल में बिस्तर लगवा देने के लिए कह रही थी कि अचानक उसने दरवाजे पर संदीप को खड़ा हुआ देखा।कावेरी- अरे. उसके बाद चाय, साथ में बिस्कुट आदि भी ले आई।मैं मना करने लगा कि मुझे बहुत काम हैं आप कार्ड ले लीजिए मैं बाद में कभी आऊँगा पर उसकी जिद के आगे मुझे बैठना पड़ा।मैं अपने हाथ से बिस्कुट उठाने ही वाला था कि भाभी ने बिस्कुट को मेरे मुँह में लगा दिया।मुझे कुछ अजीब सा लगा. पर कहने में डर लगता था कि कहीं तुम नाराज़ हो गई तो मैं तुम्हारी दोस्ती भी खो दूँगा।अब मछली खुद जाल में फंस चुकी थी। मैं उसे चोदने की सैटिंग करने लगा। अब हमारे बीच में सेक्स चैट भी होने लगी थी। मैंने कई बार उसे मिलने के लिए भी बुलाया.

ताकि वो जाग ना जाए, उसके बगल में सोने के बाद मैंने उसके जिस्म के ऊपर हल्के से अपना हाथ फिराया, फिर उसके गालों को चूमने लगा।क्या मुलायम होंठ थे उसके.

फ्री में रहने का नाम सुनकर भाभी खुश हो गई मगर अर्जुन तो पक्का खिलाड़ी था, वो समझ गया कि बिहारी के इरादे कुछ नेक नहीं हैं।अर्जुन- ठीक है बिहारी जी आप हमें कमरा दिखा दो. वो भी निढाल हो गई थीं।उसके बाद मैंने 2 घंटों में उन्हें 3 बार और चोदा और मैंने उनसे अपना लण्ड भी काफी चुसवाया था।सच बता रहा हूँ.

उस समय उसकी आँखें भी बड़ी मदहोश जैसी लग रही थीं।उसने मेरे हाथों को पकड़ा और अपनी बुर पर लगा दिया। उसकी बुर पनिया चुकी थी। मैं उठा और घुटने के बल बैठ कर उसके कपड़े के ही ऊपर से बुर को चूमने लगा।हाय. जो हमने उधार लिए थे। लेकिन हमारे पास पैसे नहीं थे। कई बार फूफा जी पैसों के लिए दबाव डालते थे कि मेरे पैसे लौटा दो… लेकिन हम दे नहीं पाते थे।एक बार छुट्टी में मैं बुआ जी के घर रहने गई। जब मैं उनके घर पर कम कर रही होती. बेचारी रात से परेशान है। तब तक मैं मुँह-हाथ धो लेती हूँ।अर्जुन वापस गया और निधि को ले आया।अब यहाँ क्या होना था.

इसलिए कुछ नहीं कर पा रही थी।रणजीत ने अपना हाथ मेरे चूचों पर रख दिया और ज़ोर-ज़ोर से दबाने लगा। मुझे अच्छा भी लग रहा था और गुस्सा भी आ रहा था।वो नींद में बड़बड़ा रहा था- ओह्ह. ? मेरे लंड की यह सब इतनी प्यासी क्यों हैं?तभी मेरे लंड से वीर्य निकल गया और उन सबने उसको चाट लिया। रेखा के मुँह में सबसे ज़्यादा वीर्य की बूंदे गिरी थीं और वो बहुत खुश भी थी। लेकिन अब तक उसको अपनी चूत चटवाने का सुख नहीं मिल पाया था. तो आंटी की मचलती गाण्ड और मटकते मम्मों को ही घूरता रहता था। आंटी ने भी मुझे कई बार देखते हुए देखा भी था लेकिन कभी कुछ कहा नहीं।जब भी कभी मैं उनके नाम की मुठ्ठ मारने का मन होता था। तो वहाँ घर के पीछे एक ही बाथरूम था.

सनी लियोन का बीएफ वीडियो दिखाएं मैंने कहा- ठीक है।फिर मैंने पिंकी की चूत में लंड डाल दिया 20 से 30 धक्के मारे ही होंगे कि मैंने पिंकी की गाण्ड पर थूक लगा कर अपना लंड एकदम झटके से पिंकी की गाण्ड में डाल दिया।पिंकी भी एकदम से चौंक गई, अभी बस सुपारा ही अन्दर गया होगा और जोर से चीखी ‘ऊऊऊऊ. मैं भी लगातार गाण्ड मारे जा रहा था, अब ऐसा लग रहा था कि मेरा वीर्य निकलने वाला है तो मैंने स्पीड बढ़ा दी और कुछ ही धक्कों में भावना की गाण्ड में ही अपना पानी छोड़ दिया।‘आआआह्ह ह्हह्हह्ह.

बीएफ एचडी बीएफ पिक्चर

तो माँ कसम जान निकल जाती थी। मैं प्रिया को बहुत ही प्यार से पढ़ाता था और उसे अपने साथ बिठाता था, पढ़ाते-पढ़ाते प्रिया और मैं एक-दूसरे के साथ बार-बार लगते थे।प्रिया की तरफ मेरी रूचि को प्रिया समझ गई थी और प्रिया भी अब रोज आ कर मेरे साथ बैठती थी और हम चिपके रहते थे। इसी के साथ कभी-कभी डांट लगाने के बहाने मैं उसे प्यार से उसके गाल दबा देता था और कभी-कभी मैं जब खड़ा होता था. मैं कॉल करके बताऊँगा कहाँ आना है।मेरा नम्बर लेकर पूछने लगा- मजा आया?मैं बोली- बहुत… लेकिन मैं प्यासी हूँ, पूरा चोद जाओ ना!पर वो अनसुना करके चला गया. वो गलत है लेकिन अगले ही पल मेरी इस सोच पर वासना फिर से हावी हो गई।मैंने सोचना बन्द कर दिया और उसकी पैन्टी भी उतार दी। मैंने अपना लण्ड निकाला और उसके हाथ में दे दिया.

जिस दिन मेरे पापा-मम्मी को जाना था मैं सुबह स्कूल चली गई। उनकी ट्रेन सुबह 10 बजे की थी।फिर मैं जब स्कूल से आई तो घर में मामा थे और मामा ने मेरे आते ही म्यूज़िक लगा दिया और मेरे साथ डांस करने लगे। उनका मुझे छूना बहुत अच्छा लग रहा था।उन्होंने मुझे चुम्बन किए. तो पंकज ने मुझे आवाज दी।पंकज मेरे स्कूल का दोस्त था। उसने मुझे बुलाया तो मैं उसके पास गया और हम एक-दूसरे से स्कूल की बातें करने लगे।तब पूजा हमारे पास ही खड़ी थी. बीएफ सेक्सी पिक्चर सनी लियोन कीवो जल्द से जल्द चूत को ढीला करना चाहता था ताकि होश में आने के बाद निधि को ज़्यादा दर्द ना हो और वो आराम से चुदवाए।मुनिया- हे राम.

पर तुमको मेरा लौड़ा तो चूसना पड़ेगा।अब उसने जबरदस्ती मेरे मुँह में अपना लंड डाल दिया और मुझे उसका लंड चूसना पड़ा।फिर उसने मेरे मुँह से अपना लंड निकाल का कहा- अपने दोनों हाथों से अपने मम्मों दोनों तरफ से दबा लो.

सो आज उसका मन पूरा कर देती हूँ।मैं- हाँ कर दो।सुरभि- क्या करने वाले हो तुम दोनों?सोनाली और मैं- कुछ नहीं. लेकिन उन्होंने मुझे गाली देना शुरू कर दी और ज़ोर-ज़ोर से मुझे भंभोड़ते हुए अपनी उंगली को मेरी चूत में डाल दी। मैं दर्द से तड़फ रही थी।‘आआ.

तो वो हँसने लगा।मुझे इस बात पर गुस्सा आया और मैंने उसे पकड़ कर बाथरूम में खींच लिया और उसको लेटने के लिए बोली, वो लेट गया, मैंने अपनी चूत उसके मुँह पर रखी और मूतने लगी। पूरा मूतने के बाद मैं खड़ी हुई और मैंने अपना बदला वापस ले लिया और खुश होकर पूछने लगी- कैसा लगा?तो इस बात पर दीपक हंसने लगा और बोला- मस्त लगा. जिसे मैंने चाट के साफ़ कर दिया।अब हम तीनों लोग एक-एक बार झड़ चुके थे और 8 बजे शुरू हुआ चुदाई का कार्यक्रम. यही दुनिया थी।मैं आसमान में कहीं उड़ रही थी और पता नहीं कब मेरे हाथ चाचा के सर को पकड़ कर चूत पर दबा रहे थे।अब मैं वो दर्द लेने के लिए तैयार थी.

फिर उसकी ब्रा को साइड में करके मैं उसके मम्मों को चूसने लगा और दूसरे हाथ से उसकी ब्रा को ऊपर करके उसका चूचुकों को दबाने लगा.

आठ घंटे की ही तो बात है… कर लेंगे, लेकिन चुदाई से इंकार मत करना।सपना ने जवाब दिया- ठीक है, पूरी कसर निकाल लेना।शाम को सपना ने बताया कि निखिल चूचियाँ पीने का मास्टर है. इसी बात पर आपने कहा था कि अच्छा दिमाग़ लगाया और तभी रॉनी भाई आ गए तो शायद आप भूल गए।रॉनी के अचानक हमले से पुनीत घबरा गया. मैंने भी अब अपनी जीभ से उनकी चूत को ऊपर से नीचे तक चाटना शुरू कर दिया और फिर अचानक अपनी जीभ मैंने उनकी चूत में अन्दर घुसेड़ दी।ऐसा करते ही मारे उत्तेजना के चाची उछल पड़ीं। चाची की चूत से अब नमकीन पानी निकल रहा था।हाय.

शिल्पा शेट्टी की बीएफ वीडियोऐसा करके मैं उनको चाचा-चाची बोलता था।दोनों ही अपने खेतों में बडी मेहनत करते थे। सुबह चार-पांच बजे उठना. मैं राकेश पाटिल आपकी सेवा में फिर से हाजिर हूँ।मेरी पिछली कहानी में जयश्री की 19 साल की चूत की चुदाई की थी और खूब चूस-चूस कर उस कली के मदमाते रस का स्वाद लिया था।अब आगे क्या हुआ.

पिक्चर के बीएफ

पुनीत को रॉनी की बात समझ आ गई उसने मुनिया को बिस्तर पर लिटा दिया और उसके निप्पल चूसने लगा।इधर रॉनी ने उसकी चूत को अपना निशाना बनाया और चाटने लगा. खींच कर एक तरफ फेंक दी।मैं जानवरों की तरह उनके मम्मों को चूसने लगा और नोंचने लगा।अब उनसे भी रहा नहीं गया और वो कहने लगी- अबे स्नेहा के दलाल. तो मैंने उसकी दोनों टाँगों को फैलाया और लण्ड को उसकी चूत में सैट करते हुए एक झटके से अन्दर डाल दिया।‘उई मांआआआ.

पर वो ज्यादा किसी को भाव नहीं देती। मैं कामयाब रहा अपनी बहन को गांड मारने में तैयार करने में।एक दिन की बात है. तीन बुर को संभाल लेगा?’यह बोल कर भाभी रसोई में गईं और दो गिलास दूध बना लाईं। एक गिलास मुझे देते हुए बोलीं- लो शरद. जब तक उन्होंने अपना लौड़ा पूरा अन्दर नहीं कर दिया। फिर हर एक शॉट्स में मुझे साफ-साफ एहसास हो रहा था कि वो मेरी टाँगों के बीच में कोई चीज़ फाड़ रहे हैं।ऐसे ही उन्होंने मुझे 20 मिनट तक चोदा और फिर पूरा पानी मेरे अन्दर छोड़कर सो गए।फिर जब सुबह हुई तो मैं चल भी नहीं पा रही थी.

साथ ही मेरे मोटे-मोटे गोले भी उछल रहे थे।उसने मेरा लण्ड हाथ में लिया और उसकी चमड़ी ऊपर करने लगी। मेरा पूरा सुपारा बाहर निकल आया, मेरा सुपारा बिल्कुल गुलाबी है. पर हम रज़ाई में अन्दर थे और मैंने कमरे की कुण्डी भी लगा रखी थी।किरण की चूत का गीलापन मेरी जांघों पर महसूस हो रहा था। करीब आधा घंटे तक रोमांस करने के बाद मैं किरण की चूत को चाटने लगा।वाह. मैं आप लोगों से चुदने को बेकरार हूँ।इतना कहकर मधु जल्दी से कमरे में चली गई और हम दोनों उसके माता-पिता से इजाजत लेकर जैसे ही चलने लगे.

तब मैं दोनों को खूब चोदता हूँ।मेरी सच्ची कहानी आपको कहानी पसंद आई या नहीं, मुझे ईमेल जरूर कीजिएगा।[emailprotected]. ’ कहा।एक दिन उसने टीना से बात की पर उसने मना कर दिया और ऐसे ही दिन निकलने लगे।एक दिन जब मैं स्टाफ रूम में अकेले में निशा को किस कर रहा था.

जो हर झटके के साथ कम हो रहा था और आनन्द बढ़ता जा रहा था।चाचा के झटके तेज़ होते जा रहे थे और मैं हवा में उड़ने लगी। लगभग 5 मिनट के बाद मेरा शरीर अकड़ने लगा और चाचा के एक जोरदार झटके के साथ चूत ने पानी छोड़ दिया।अब ‘थाप.

तुम ने गाण्ड की प्यास तो बुझा दी पर मेरी चूत प्यासी है।अनूप बोला- जान, लण्ड तुम्हारी चूत की प्यास बुझाए बिना कहाँ भागा जा रहा है।अनूप एक हाथ से चूत. देहाती कुंवारी लड़की का बीएफबल्कि मेरी पत्नी थी, मुझ पर जोर-जोर से हँस रही थी।मुझे उस पर बहुत गुस्सा आया। मैंने उसको पकड़ कर अपनी ओर खींचा और पकड़ कर अपने नीचे दबा लिया।मैंने कहा- यह कौन सा तरीका है उठाने का?उसने शरारती लहजे में कहा- जनाब तो नींद में सपने देख कर इसे मसल रहे थे।यह कहते हुए उसने मेरा लण्ड पकड़ कर जोर से खींच दिया।मैं फिर जोर से चिल्लाया. नया बीएफ सेक्सी वीडियोउन्हें बस इतना पता है कि सर जी जब से मम्मी के हाथ का खाना खा रहे हैं तब से मम्मी खुश हैं।अब मैं सर जी के साथ पूरा आनन्द लेने लगी हूँ। मेरे दिन सुनहरे और रातें मस्त हो गई हैं। सब ठीक चलने लगा. हमने टीटी को टिकट दिखाया और केबिन लॉक कर लिया। टीटी ने ध्यान ही नहीं दिया कि टिकट किस के नाम कू है और कौन बैठा है, ना ही उसने आइडी मांगा। मैंने सोच लिया था कि अगर टीटी ने कुछ बोला तो पैसे देकर उसका मुँह बन्द कर दूंगा।दोस्तों अन्तर्वासना पर मैंने ट्रेन की बहुत कहानियाँ पढ़ी होंगीं.

जिस वजह से सब कुछ खुलेआम दिखता था।रोज़ यह देख कर मैं मुठ्ठ मार कर संतोष कर लेता था।गाँव में अक्सर लाइट नहीं आती थी.

मगर जब लंड घुसा तो मेरी हल्की सी साँस भी अटकी।उसके लंड की लंबाई मोटाई ज़्यादा लग रही थी। मैंने पीछे मुड़ कर देखा. पर लण्ड ज्यादा मोटा होने के कारण अन्दर जा ही नहीं रहा था।तो बिल्लो बोल पड़ी- चाचा आप ही ज़ोर से धक्का लगा कर इसे मेरी बुर में घुसा दो. मुझे बिलकुल भी पसंद नहीं आई। मुझे तो केवल क्लीन चूत ही पसंद थी।मैंने भाभी को बोला- चलो भाभी, आज आपके बाल साफ़ करते हैं.

’ वो अधीर स्वर में बोली।फिर मैंने उसके मम्मे कसके दबोच लिए और लण्ड को उसकी चूत में गोल-गोल मथानी की तरह घुमाने लगा. मैं शादी के कार्ड लेकर भाई के दोस्त के घर गया था। उसके घर पर पहुँचा तो घर पर भाई के दोस्त यानि राजेश की बीवी घर पर थी।मुझे देख कर वो मुस्कुराने लगी. ’ लण्ड मेरी चूत में पेलते जा रहे थे, मेरी चूत से ‘फच-फच’ की आवाजें आती रहीं।मेरी चूत लण्ड खाती जा रही थी।‘ऊऊहह.

सेक्सी मराठी पिक्चर बीएफ

पायल- नहीं मॉम सुबह जल्दी उठ कर पूजा करेगी और मुझे इतनी जल्दी नहीं उठना है।पुनीत- अरे तो मॉम पूजा करेगी तुम्हें क्या. पर मैं उसे चोदता रहा।दस मिनट बाद हम झड़ गए और हम वहीं लेट गए।थोड़ी देर बाद निशा आई और मेरा लण्ड चूसने लगी. तो तन की आग और भड़क उठी। मेरे पति मेरी ठीक से चुदाई भी न कर सके। उनका लण्ड खड़ा भी नहीं हो रहा था। मैंने मुँह में लिया तो एक मिनट में सारा रस मुँह में आ गया। कोई स्वाद नहीं था.

तो एक-दूसरे से हाथ मिलाया और बातें करने लगे।रेखा एक बहुत ही सुंदर लड़की है और उसकी उम्र 20 साल की है, उसका बदन 36-24-34 का है और कॉलेज में हर कोई उसका दीवाना है।उसके बाद रात में प्रोग्राम शुरू हो गया। मैंने खाना खाया और रेखा के पास पहुँच गया और हम दोनों बातें करने लगे। फिर रात में जगह कम होने की वजह से हम दोनों को एक ही बिस्तर पर सोना था। य बात जान कर मैं काफी खुश था.

मैं अपने कपड़े खोल कर तैयार हो गया और उनकी पीठ पर चढ़ गया। उनकी पीठ में तेल लगाने लगा। मेरा लण्ड खड़ा था.

जो इतना बड़ा था कि मेरी नज़र वहाँ से हट ही नहीं रही थी।मैंने पहली बार मेरे मामा को नंगा देखा था। मामा मेरे पूरे बदन पर साबुन लगा कर मसल रहे थे और बोल रहे थे- मैं तुम्हें आज चोदूँगा।फिर वो मुझे गोद में उठा कर अपनी साबुन वाली उंगली से फिंगरिंग करने लगे और मैं पागलों की तरह. जीभ से उसके दाने को सहलाने लगा।मुझे उसकी क्लीन शेव चूत में से आती खुश्बू मदहोश किए जा रही थी, उसके मुँह से ‘आहें’ निकल रही थीं।अब वो लगभग चिल्लाने ही लगी थी- बस. सेक्सी बीएफ बड़ी चूची वालीमैंने रीता की चूत पर ही अपना सारा माल छोड़ दिया और उसके ऊपर लेट गया।हमने रात में 3 बार सेक्स किया।फिर सुबह अंकल-आंटी आ गए और अगले दिन मेरे घर वाले भी आ गए।रीता 1 महीना रुकी जब भी हमें मौका मिला.

घर में मैं और मेरी भाभी के अलावा कोई नहीं था, मैं वैसे ही पड़ा हुआ एक किताब पढ़ रहा था।तभी मेरी भाभी मूतने के लिए टॉयलेट में गई और उसी वक्त मुझे भी प्यास लगी तो मैं पानी पीने के लिए खड़ा हुआ।मेरा फोन टॉयलेट के आगे ही गिर गया।जैसे ही मैं फ़ोन उठाने के लिए नीचे झुका. कुछ पसन्द आया तुम्हें?पायल- भाई वो ड्रेस कैसा रहेगा?पायल ने एक छोटे से टॉप और स्कर्ट की तरफ इशारा किया।पुनीत- अरे वो तो बहुत अच्छा है. मगर जल्दी आ जाना मैं अकेले बोर हो जाऊँगी।दोनों के जाने के बाद काका ने पूछा- बिटिया तुम्हारा नाश्ता और जूस यहीं ले आऊँ.

सो उनका घर भी उसी हिसाब से विशाल और सुंदर बना हुआ था। दीपक ने अपने घर का एक हिस्सा एक कंपनी को उसके कर्मचारियों के रहने के लिए किराये पर दे रखा था। इससे उसे हर महीने भारी आमदनी भी हो जाती थी. जिसमें मैं कुछ देर पहले अपनी चूत और गाण्ड फड़वा रही थी। फिर रसोई में जाकर कुछ खाने के लिए बनाने लगे। मैं उठी और रसोई की तरफ गई और बोली- लाओ आप लोगों के लिए कुछ खाने का मैं बना देती हूँ.

क्योंकि आंटी के एक ही बिस्तर था। उनका बिस्तर भी डबलबेड था इसलिए आराम से सो जाते थे। आंटी और मेरे बीच में आंटी तकिया लगा देती थीं.

इसलिए ज़्यादा समय खराब ना करते हुए मैं अपने खड़े लण्ड को सीधा उसकी चूत में डालने लगा…अब चोदने का आईडिया तो था नहीं तो मेरा लौड़ा बार-बार फिसल जाता था।फिर उसने लण्ड को चूत पर सैट किया और धक्का मारने को बोली।दोस्तो, मैं था सेक्स में अनाड़ी. बल्कि मेरी पत्नी थी, मुझ पर जोर-जोर से हँस रही थी।मुझे उस पर बहुत गुस्सा आया। मैंने उसको पकड़ कर अपनी ओर खींचा और पकड़ कर अपने नीचे दबा लिया।मैंने कहा- यह कौन सा तरीका है उठाने का?उसने शरारती लहजे में कहा- जनाब तो नींद में सपने देख कर इसे मसल रहे थे।यह कहते हुए उसने मेरा लण्ड पकड़ कर जोर से खींच दिया।मैं फिर जोर से चिल्लाया. 30 इंच की बलखाती कमर और बड़े और उठे हुए 40 साइज़ के चूतड़ थे। उसका एकदम दूध सा गोरा रंग था वो एक मस्त पंजाब की रहने वाली पठानी महिला थी.

हिंदी सेक्स चुदाई वीडियो बीएफ वो तो कोई मुर्दा भी देख लेता तो वो भी जिंदा हो कर चोदने की तैयारी में लग जाता।मैं भी एकदम से उसके मम्मों पर झपट पड़ा और ज़ोर-ज़ोर से दबाने लगा। उसे मजा आने लगा साथ ही उसे मीठा-मीठा दर्द भी हो रहा था।वो कहने लगी- आह्ह. इसलिए वह हमेशा साफ-सुथरी रहेती थी और वैक्सिंग के कारण उसके हाथ-पैर बहुत कोमल रहा करते थे।हम दोनों टीवी देखने लगे।हम जहाँ बैठे थे.

मेरी चूत भी यही कह रही है। काफी दिनों बाद इस साली की इच्छा पूरी हो रही है। आज इसे इतना चोदो कि कुछ महीने इसको लण्ड की याद न आए। लाओ. क्यूँ कि कमरे की लाइट भी जल रही थी।पापा जब मम्मी के चूचों को दबा रहे थे तो उन्हें देख कर मेरे शरीर में भी कुछ-कुछ होने लगा। पापा अब एक हाथ से मम्मी के चूचों को दबा रहे थे और दूसरे हाथ को मम्मी की पीठ और कंधे पर फेर रहे थे।कुछ देर बाद पापा बिस्तर से उठे और अपनी बनियान और अंडरवियर उतार दी। अब उनका लण्ड जो कि बिलकुल तन कर खड़ा था. मैं हँस पड़ा।फिर धीरे-धीरे उसने लण्ड के टोपे को मुँह में ले ही लिया और लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी।फिर हम 69 के पोज में आ गए और मैं उसकी चूत चाटने लगा.

हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ फुल एचडी

इसलिए मैंने करवट बदली, अपनी एक टांग सूजी के ऊपर रखी और उसके निप्पल को मुँह में लेकर चूसने लगा और दूसरी चूची को हल्के से सहलाने लगा। थोड़ी ही देर में इस हरकत का असर सूजी पर भी हुआ, उसका हाथ मेरे लण्ड को टटोलने लगा और लण्ड को पकड़ के सहलाने लगा और अंगूठे से मुहाने को जोर-जोर से सहला रही थी।इसका नतीजा यह हुआ कि हल्का सा पानी उसके अंगूठे में लग गया. जिनकी कल्पना संदीप करता था तो मानो एकदम मुलायम गद्देदार और एकदम कोरे लगते थे।जहाँ तक संदीप की बात थी. कभी-कभी तो लगता है कि वो इन्हें खा ही जाएंगे।मैंने कहा- ये चीज ही ऐसी है।वो मुस्कुरा दीं।मैंने कहा- सच बताऊँ तो आपकी खुश्बू कमाल की है।वो बोलीं- कहाँ की खुश्बू.

उनके पूरे शरीर की मसाज की और अन्त में बुर को भी पूरे तेल से नहला कर मालिश करने का अपना ही मजा था।इसी के साथ भाभी की वो सेक्सी आवाज सुनने का अपना ही आनन्द था। उनका वो अपने दाँतों से अपने होंठों को काटना और अपने बदन को अकड़ाना. तो वो कुछ पढ़ रही थी और अपने जिस्म को सहला रही थी। मैं सब कुछ तो ठीक से नहीं देख पा रहा था, लेकिन इतना तो तय था कि वो अपने कटि प्रदेश को रगड़ रही थी।अब मैं एक रिस्क के साथ उस दवा को अपने ऊपर आजमाने के लिए तैयार था। मैंने एक बूँद दवा ली.

जो कि मेरे कहानी पढ़ने के कारण मेरा लण्ड खड़ा हुआ था। मुझे हल्की-हल्की शर्म आने लगी।मैं थोड़ी हिम्मत करके उसके पास गया और उससे पूछा- अज़ी टाइम क्या हो रहा है?तो वो तपाक से बोल पड़ी- जी, हाथ में मोबाइल लिए हो.

मैं उससे पटाने की सोचने लगा कि कैसे उसे अपने नीचे लिटाया जाए।इसके लिए मैं उससे ज़्यादा से ज़्यादा बात करने लगा, उसे कुछ ना कुछ देने लगा. ये कहते हुए उसने ढेर सारा वीर्य मेरे मुँह में डाल कर हाँफते हुए अलग हो गया।जब महमूद वीर्य छोड़ रहा था. पूरे शरीर को ही चाट लिया है, अब तो कुछ बचा ही नहीं।मैंने हैरानी से रवि की तरफ देखते हुए पूछा- तुम तो कह रहे थे कि चूमा चाटी करोगे? अब भाभी क्या कह रहीं हैं?रवि कहने लगा- कर तो चूमा चाटी ही रहा था.

ये एहसास बहुत अच्छा था।उसके चूचे मेरी पीठ पर दबे हुए थे।हम दोनों चुप हो गए और मूड अब दोनों का बहुत रोमाँटिक हो चला था।मैंने स्पीड को धीरे-धीरे 50 पर कर दिया और हम में अभी शर्म थी. जो जोरदार चुदक्कड़ थीं। उसमें से एक थी कमली और दूसरी थी गुलाबो। दोनों देवरानी जेठानियाँ जैसे मेरे लण्ड की दीवानी हो गई थीं।तो दोस्तो, अब तक आपने पढ़ा. मैं आँख बंद कर के चुपचाप लेटी हुई थी।आज मुझे नींद कहाँ आने वाली थी, मुझे तो चुदाई का सीधा नजारा देखना था।तब मम्मी ने वापस मेरे कमरे का दरवाजा बंद किया और चली गईं।मैं उठ कर जल्दी से दरवाजे के पास गई और वहीं खड़ी हो गई।मम्मी ने पापा को आवाज दी- आ जाओ.

मैंने उसको कमर से पकड़ कर अपनी तरफ कर लिया। अब मेरी बहन के मम्मे मुझसे स्पर्श हो रहे थे। मेरा लंड बहन की चूत से 2 इंच की दूरी पर था। मैंने कुछ पलों के बाद यह दूरी भी खत्म कर दी और उसको अपने और करीब कर लिया।मेरा लंड पहली बार अपनी बहन की चूत के ऊपर था।अब आगे.

सनी लियोन का बीएफ वीडियो दिखाएं: लेकिन दीदी को पता नहीं चला… वो तो मेरा लंड चूसने में मस्त थी।तभी सोनाली आगे आ गई और दीदी की नज़र उस पर पड़ी तो उसे झटका लगा और वो लंड छोड़ कर सीधे एक चादर से अपने आपको ढकने की कोशिश करने लगी, उसके चेहरे पर शर्मिन्दगी साफ़ झलक रही थी।मैं उसी तरह नंगा ही खड़ा हो गया. ’‘आईग, अहो मी झडतेय आता’‘मग झड ना, पुन्हा तुला तयार करीन मी’आआआआआईग, गेली मी आता, गेली मी, किती खपाखप टाकताय आतमध्ये’‘आतातर रंगात आलोय झवाडे.

जैसे-जैसे सबका प्ले होता जाता तो वे सब अपनी दूसरी ड्रेस में बाहर चले जाते और कार्यक्रम के मजे लेते।मुझ बेचारी को अब भी दो रोल के लिए इंतज़ार करना पड़ रहा था।खैर. चड्डी हाथ में लेकर यही अहसास करने लगा कि कुछ मिनट पहले यही चड्डी भतीजी की चूत पर चिपकी हुई थी।मैंने अपनी निक्कर निकाल ली. मैंने उसे कमर से पकड़ कर ऊपर उठाया और गोद में उठा लिया। उसने अपनी टाँगें मेरी कमर के निचले हिस्से से लपेट लीं, अपनी दोनों टांगों से उसने मेरी कमर को ग्रिप में जकड़ लिया, एक हाथ से उसने बगल की अलमारी का हैंडिल पकड़ा और दूसरा हाथ दीवार से टिका दिया। मैंने एक हाथ उसकी कमर से लपेट दिया और एक हाथ से लण्ड सैट करने लगा।वाऊ.

उसका लंड अब भी खड़ा था। मैं भी नशे में उसके लंड को हिला रही थी और वो भी मुझे स्वीटी समझ कर मेरे चूचों को दबा रहा था और ना जाने क्या-क्या बड़बड़ा रहा था.

पर मैं उसे चोदता रहा।दस मिनट बाद हम झड़ गए और हम वहीं लेट गए।थोड़ी देर बाद निशा आई और मेरा लण्ड चूसने लगी. तू नहा ले।और मैं नहाने चली गई और मेरे नहाते समय मामा ने बाथरूम का दरवाजा बन्द कर दिया और मैंने जैसे ही कुण्डी खोली तो वो झट से दरवाजे को धक्का देकर अन्दर आ गए और मेरे भीगे बदन को सिर्फ़ पैन्टी में देखने लगे। फिर मैंने जब मामा को देखा तो वो पूरे नंगे थे और मेरी नज़र सीधे उनके लंड पर गई. तो वो भी मेरे लंड को ज़ोर-ज़ोर से दबाने लगी। सो मैं भी चूतड़ों को छोड़ कर अपना एक हाथ उसकी चूत के पास ले आया और ऊपर से सहलाने लगा।कपड़ों के ऊपर से ही लेकिन कपड़ों के ऊपर में चूत को सहलाने का क्या मजा.