हिंदी बीएफ मूवी ओपन

छवि स्रोत,सेक्स बीएफ ओपन वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

बाबा साहेब फोटो hd: हिंदी बीएफ मूवी ओपन, तभी बहू जैसे ही उसका लंड चूसने के लिए झुकी, उसकी नाईटी ऊपर खींच गयी और बहू की गोरी गांड पर काली पेंटी देखकर मेरा लंड फटने को होने लगा.

बीएफ वीडियो हिंदी में आवाज

पहले मैं बॉलीवुड हीरोइन की नंगी फोटो देखता था, फिर मैंने सेक्स कहानी पढ़नी शुरू की. बीएफ हिंदी में बातचीतमैंने उसको शांत किया और आराम से पूछा- श्वेता, बस मुझे इतना बता दो कि ये सब कब से शुरू हुआ है और कैसे शुरू हुआ?दोस्तो, मेरी बहन का साइज बहुत ही मस्त है.

मैं जब भी मामा के घर जाता हूँ, तो बस यही सब याद करके मामी को चोदने के बारे में सोचता रहता हूं. कुत्ता और लेडीस का बीएफ सेक्सीमैं मजाक में पूछा- वो क्या?शिल्पा- मजाक नहीं अब जल्दी से डाल दो … बहुत मज़ा आ रहा है.

आंटी ने कहा- अब अपना लंड तो दिखा कितना बड़ा है?मैंने अपना लंड दिखाया, तो वो लंड देखकर घबरा गई.हिंदी बीएफ मूवी ओपन: जैसे ही उसने हां कहा तो मैंने उसकी चूत में जीभ से चाटना शुरू कर दिया.

इसी बीच मैंने उससे बातों ही बातों में पूछ भी लिया कि वो तुम्हें खुश भी नहीं कर पाता होगा?उसने बोला- अब क्या बताऊं आपको … आप तो सब जानते ही हैं.उसके बाद सब लोग बैठकर बातचीत करने लगे और मैं स्नेहा को चोदने के बारे में सोचने लगा कि इसे कैसे चोदा जाये.

ट्रिपल एक्स व्हिडीओ एचडी बीएफ - हिंदी बीएफ मूवी ओपन

दीदी मुझ पर बहुत गुस्सा हुईं और मैं बेड पर बैठे हुए अपना सिर शर्म से नीचे झुकाए रहा.आखिर में तो उसने यहां तक कह दिया कि अगर मैं और वो भाई बहन नहीं होते तो वो भी मुझे कभी ना नहीं करती.

रानी भाभी ने भी मुझको उनके स्तनों को घूरते हुए देखा, तो मुझे टोका नहीं बल्कि मुस्कुरा कर पूछा- मोहित कैसे हो?मैं घबराते हुए बोला- ठीक हूँ भाभी. हिंदी बीएफ मूवी ओपन मैं अक्सर अपनी ससुराल जाता और जब मौका मिलता नीलम को चोदकर अपने लण्ड का ताव उतार लेता.

उधर पहुंच कर मैंने सीमा को फोन किया- स्वीट हार्ट कहां हो?उसने कहा- मैं घर पर हूँ.

हिंदी बीएफ मूवी ओपन?

मानवी ने लंड शब्द सुना, तो मेरी छाती पर मुक्का मार कर कहने लगी- इतनी क्या हवस है … तुमने कभी सेक्स नहीं किया क्या?मैंने कहा- किया होता, तो बात ही अलग होती. मेरे हाथ की एक उंगली उसकी चुत में घुस कर उसकी चुत का जायजा ले रही थी. उसकी नाइट ड्रेस में उसकी उभरी हुई चूचियां देख कर मेरा मन बहकने लगा.

मैंने देखा कि वो मेरे इस प्रेमरस की भूखी हैं तो क्यों न इनको इनका सुख दे दिया जाए, तो मैं और ऊपर को गया और उनके रसीले होंठों को अपने दोनों दांतों के बीच में ज़ोर से दबा लिया. कुछ देर बाद उसने अपना लंड बाहर निकाला और पानी मेरे मम्मों पर छोड़ दिया. फिर मैंने अपने हाथ से अपनी जवान बहन की चूचियों को सहलाना शुरु कर दिया.

फिर मैं बेड से उठा और ड्रेसिंग टेबल पर रखे नारियल तेल को अपने लंड पर लगाता हुआ वापस बेड पर आ गया और और नसरीन की चुत पर तेल लगा कर मैंने दोबारा मोर्चा संभाल लिया. न जाने इतना जोश कहाँ से पैदा हो गया था कि मैं फिर से चोदने के लिए तैयार हो गया. लंड को तेल में सराबोर करके मैंने उसकी चूत पर लंड के सुपारे को रख दिया.

वो पहले तो मना करने लगी क्योंकि घर पर चाचा की देखभाल के लिए कोई भी नहीं था. परन्तु चिन्ना ने फिर चाल खेली, वह चूत पर लण्ड के सुपारे के चार-पांच घस्से मार कर उसे पीछे हटा लेता था.

पहले तो उसने मुझे मना किया लेकिन बाद में उसने मेरा लवड़ा बड़ी अच्छी तरीके से चूसना चालू किया।मैं पूरे जोश में आ चुका था। मैंने अब उसको वहीं पे जमीन पे लिटा दिया और उसकी कमर को पकड़ के उसके दोनों पैरों की चौड़ा किया.

और इस बार भगवान की या फौजी साहब की कृपा से तकरीबन 9 महीने बाद सेजल को एक लड़का हुआ जिसका नाम उन्होंने कपिल रख दिया.

पर मुझे इस चीज़ की बहुत अच्छे से समझ है क्योंकि स्कूल टाइम से ही मैं क्लास का टोपर रहा हूँ तो लड़कियाँ मेरे से बातें करती रहती थी … और आज भी मेरी स्कूल की लड़कियाँ मेरे संपर्क में हैं।ऐसी ही कॉलेज की एक दोस्त थी मेरी शिल्पा. मेरे लौड़े से दो मिनट तक लावा निकलता रहा थोड़ा थोड़ा करके और रचना शांत पड़ी रही. निशा- इतना कोई लेट करता है क्या? कितनी बार मैंने तुम से बातों बातों में कहा भी कि मैं तुम्हें पसन्द करती हूँ लेकिन तुम डंबो समझे ही नहीं.

वो गुस्से से मुझे ऐसे देखने लगी जैसे मैंने उससे उसका खिलौना छीन लिया हो. मैंने उसकी बात से राजी होकर बाथरूम में जाकर लंड चूत को साफ़ किया और वापस आकर 69 की तैयारी करने लगे. दीदी मुझे बार-बार धीमे चुदाई करने को कह रही थीं क्योंकि उनको असहनीय दर्द हो रहा था.

फिर मैं दीदी का लैपटॉप लेकर अपने कमरे में आ गया और पेनड्राइव लैपटॉप में लगा कर फिल्म देखने की तैयारी करने लगा.

सभी लड़के अपने लंड को पकड़ लें और लड़कियां अपनी चूत में उंगली अन्दर कर लें क्योंकि यह कहानी इतनी मजेदार है कि आपके छेद से पानी निकल जाएगा. उसने कहा- तुम काउंटर पर जाओ और एक रूम बुक कर लो, मैं यहीं रूकती हूँ. धीरे-धीरे विशु ने अपनी स्पीड बढ़ाई और मां की सिसकारियां भी बढ़ती गई।विशु अपनी कमर को अब थोड़ी तेज रफ्तार में चलाने लगा.

अब मैं चाची की मदद करने के लिए चला जाया करता था क्योंकि चाचा को बेड से उठाने और बिठाने में मदद चाहिए होती थी. बीच बीच में हम कभी कभी अपने उसी दोस्त के कमरे पर जाकर भी सेक्स करते थे. अपनी मौसेरी बहन की चूचियों और उसकी चूत के बारे में सोच कर अलग ही रोमांच पैदा हो गया था मेरे मन के अंदर।अगले दिन मैं उसके घर जाने के लिए तैयार था.

अबकी बार उन्होंने मुझे दीवार के सहारे खड़ा कर लिया और पीछे से अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और मेरी कमर को पकड़ कर आगे पीछे हिलाने लगे.

उसका रंग एकदम दूध सा गोरा था, छोटी छोटी आंखें, आंखों में काजल, माथे पर छोटी सी बिंदी, होंठों पर लाल लिपस्टिक. उसके इस तिहरे वार से से हैरान करोना ने अपनी दोनों टाँगें जोर से भींच ली.

हिंदी बीएफ मूवी ओपन मैंने उसके हाथों पर चॉकलेट को लगाया और मसाज करने के बाद उसको चाट चाट कर साफ कर दिया. यहां पर मैंने गोपनीयता के कारण कहानी के पात्रों के नाम बदल दिये हैं.

हिंदी बीएफ मूवी ओपन इसी बीच उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया जो मुझे अपने लंड पर गर्म गर्म मजा दे रहा था. जैसा कि मैंने पहले लिखा कि मैं कॉलेज के टाइम से अंतर्वासना पढ़ रही हूं तो आप समझ ही गए होंगे कि मुझ में कितनी तीव्र यौन इच्छा और काम वासना भरी पड़ी है.

सेक्स में बढ़ती रुचि और जागरूकता आजकल युवाओं को नये प्रयोग करने के लिए प्रेरित करती है.

देहाती मोटी सेक्सी वीडियो

एक पुरूष थैरेपिस्ट को इस बात के बारे में भलीभांति ज्ञान होता है कि किसी महिला के शरीर के किस अंग को कितने दबाव की आवश्यकता है और किस अंग पर किस तरह की लय काम करती है. हमने बालकनी की सीट ली जिससे हमें आस पास के लोगों से ज्यादा परेशानी न हो।गर्लफ्रैंड के साथ फ़िल्म देखने कौन जाता है … मस्ती करने जाते हैं सब।फ़िल्म शुरू हो गयी थी. मैं बहुत शर्मनाक स्थिति में हो गई थी मेरे कूल्हे ऊपर उठे हुए थे और मेरी कूल्हे की लकीर इस अवस्था में खुल गई थी मेरा मल द्वार और योनि भी खुल गई थी.

मैं मामी से बोला- अरे … ये आप क्या कर रही हो मामी?तो मामी ने बोला- क्या हुआ बेटा … तुम्हें अच्छा नहीं लगा क्या?मैं बोला- आप ये क्या बोल रही हो मामी?मामी ने बोला- अब ज्यादा नाटक ना कर बेटा … मुझे सब पता है, तू मुझे छुप छुप कर देखता है. ये मेरी बहन की चुत चुदाई की सच्ची कहानी है, जो मैंने आपके सामने बिना किसी लाग-लपेट के पेश की. मामी मेरे लंड को देखकर अपने होंठों पर ऐसे जुबान फेर रही थीं जैसे वो मेरे लंड को चूसना चाहती हों.

चार बार लंड अन्दर बाहर करने के बाद मैंने धक्के लगाने शुरू किए और उसने साथ देना.

तुम मुझसे शादी करके खुश तो हो ना?नसरीन ने नज़रें झुकाए हुए अपने सर को हां में हिला दिया. कुछ पल बाद जब मेरा दर्द जरा कम हुआ, तो उसने मुझे छोड़ा और मेरे एक दूध को मसलने लगा. किसी लड़की का आपकी बांहों में समा जाना एक बहुत ही सुखद अहसास होता है.

बेड पर लिटा कर मैं उसके होंठों को चूसने लगा और उसके दूधों को दबाने लगा. 2 सेकंड मैं रुका ताकि अगर उसकी तरफ से कोई दिक्कत होती तो बोल देती क्योंकि मैं नहीं चाहता था कि दोस्ती में कोई प्रॉब्लम आये। मैं फिर हाथ नीचे ले कर गया और उसकी गांड के ऊपर से घुमाते हुए अपने लंड के टोपे वाली जगह पर ले गया।वो भाग भट्टी कि तरह जल रहा था।मैं- तुम्हें कहीं बुखार तो नहीं है … ये तो बहुत तेज़ गर्म हो रहा है. वो हाथ को पहले तो हटाने लगी लेकिन फिर बाद में उसने मेरे लंड को पकड़ लिया.

उसने मेरे एक दूध को मुँह में पकड़ कर बच्चे की तरह चूसना शुरू किया और दूसरे को मसलना जारी रखा. करीब दस मिनट तक भाभी की चूत चूसने के बाद वो एकदम से अकड़ते हुए झड़ गईं और उनकी चूत से एक पानी की धार मेरे मुँह में ही निकल गई.

एक बार मेरे एक दोस्त पंकज ने ऐसे ही मुझसे कहा- आर्यन टू सिर्फ ब्लू फिल्म्स देखता है, तुझे कभी किसी को चोदने का मन नहीं करता क्या? तेरे पास हमेशा ही इतनी सारी ब्लू फिल्म्स होती हैं और तू मुठ भी मारता है, तो एक बार असली चुदाई की जन्नत का मजा भी तो ले ले यार. दूसरे दिन भी मैं सारा दिन मायूस बना रहा और दीदी से ठीक से बात भी नहीं कर रहा था. आपने मेरी इस टीचर सेक्स कहानी के पिछले भागटीचर संग प्यार के रंग-3को इतना प्यार दिया उसके लिए आप लोगों को बहुत बहुत धन्यवाद.

मुझे तो जैसे जन्नत का मजा मिल गया लेकिन दर्द के मारे तनु की हालत खराब हो गयी.

मैं बता दूं कि मैं दिखने में थोड़ा ज्यादा अच्छा हूँ, मगर अपनी तारीफ खुद करना कुछ ग़लत लगता है. थोड़ी देर बाद सैम ने मुझे ऊपर ले लिया और हम एक दूसरे को जोरों से मजे देने लगे. उसके ऐसा करने से मेरा लंड पूरा तन गया और मैंने उसे उठा कर बेड पर पटक दिया.

एक दो दिन तो कुछ नहीं हुआ, तीसरे दिन मैंने देखा कि नल बंद था और वो भी चुदाई की आवाजें सुनकर अपनी चुत में उंगली करके मुठ मार रही थीं. उसे भी मेरे लंड के खड़े होने का आभास हुआ तो उसने अपना हाथ नीचे करके मेरा लंड पकड़ लिया और उसे अपनी चूत की दरार में रगड़ने लगी.

मैंने अपनी बिल्डिंग में रहने वाली दो बहनों में से छोटी वाली कुंवारी लड़की की चुदाई कर दी थी। उसकी बड़ी दीदी की चूत की प्यास भड़की हुई थी. मैंने उठ कर किचन से जाकर घी लिया और वापस आकर उंगली से उसकी गांड और अपने लंड को चिकना कर दिया. फिर मैंने उसे पकड़ा और दीवार से उसको सटा कर उसके होंठों को चूसने लगा.

सेक्सी वीडियो और लड़की

धीरे धीरे मैंने उसकी टी-शर्ट को भी ऊपर कर दिया, जिससे अब मेरा हाथ उसके चूचों पर लगने लगा था.

मैंने जोर से उनको मसला, तो कल्पना के मुँह से फिर से आह … की आवाज निकल गई. रात के समय जीजाजी के ना होने से नन्दिनी दीदी को अकेले सोने में डर लग रहा था. कई बार मैंने कोशिश की कि पापा और मां की पूरी चुदाई देखने का मौका मिल जाये लेकिन ऐसा अभी नहीं हो रहा था.

उसकी चूत बार बार ऊपर की ओर आकर मेरे लंड को जैसे खुद ही अपने अंदर समा लेना चाह रही थी. तभी उसने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और मैंने लंड से अपनी चुदाई स्पीड और तेज कर दी. ब्लू सेक्सी बीएफ भोजपुरीपहले तो उसने शर्म के मारे मेरा लंड नहीं पकड़ा लेकिन फिर पकड़ लिया और उसे दबाने लगी.

एक दिन मौका मिला और मैंने रचना को यह बात बोल दी- भैया के शरीर को मैंने देखा चड्डी में … वे छत पर टहल रहे थे. फिर भी मैं कल्पना की चूत में लगातार अपना लंड आगे पीछे कर रहा था और उसके चूचे दबा रहा था.

हालांकि क्लास में उससे भी खूबसूरत कई और लड़कियां थी। पर मेरी निधि के चेहरे में एक अजब सी कशिश थी, मैं अंदर ही अंदर उसे पसंद करता था. मेरे हाथ दीपिका की जांघ पर उसकी चूत के करीब छूकर आ रहे थे जिससे मेरा लंड एकदम से टन्न हो गया था. उसको मजा आने लगा और वो बस आंख बंद करके अपने मम्मों की चुसाई और रगड़ाई का मजा लेने लगी.

अबकी बार उन्होंने मुझे दीवार के सहारे खड़ा कर लिया और पीछे से अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और मेरी कमर को पकड़ कर आगे पीछे हिलाने लगे. थोड़ी देर में उठ के अपना लंड रानी की चूत से निकाला और कंडोम उतार के रानी को दे दिया. थोड़ी देर बाद मैंने अपना हाथ उसकी सलवार के अंदर डालना शुरू कर दिया.

आपको तो पता ही है कि एक बार भांग के नशे में लंड खड़ा हो जाये तो फिर बैठने का नाम नहीं लेता है.

तो हम दोनों भी तैयार हो गये और नीरज नाम का वो लड़का भी तैयार हो गया. मामी इस हमले से एकदम जोर से चिल्ला दीं- हाय आह हहह … फाड़ डाली साले … मेरी चूत में धीरे से डाल कमीने … मादरचोद फ्री की चुत समझ कर मत चोद.

तभी अचानक से मेरे लंड का बांध छूट गया और मेरे लंड से सारा वीर्य उसके हाथ में लग गया. तो मैंने भी उसे कस के पकड़ लिया और 10 धक्के जोर जोर से उसकी चूत पर मारे. और मेरी रंडी माँ अन्ह्ह उफ्फ अन्नह विशु और चोदो मुझे! की आवाज में निकालकर सुखद अनुभूति की प्राप्ति कर रही थी.

मैं सोच रहा था कि दीदी भी मेरे लंड को पकड़ लेगी लेकिन उसने ऐसा कुछ नहीं किया. मैं उनके नंगे बदन को चूमते हुए उनकी चुत पर पहुंच गया और जोर जोर से चुत चाटने लगा. फिर खुद घोड़ी बन गयी और डॉगी स्टाइल में वो लकड़ी का लंड अपनी चूत में झुकते हुए लेने लगी.

हिंदी बीएफ मूवी ओपन उनके कहने पर मैंने ज़ोर से झटके लगाकर उनकी गांड में ही रस निकाल दिया और उनके ऊपर ही ढेर हो गया. अभी उसका पीरियड स्टार्ट तो नहीं हुआ था … लेकिन चुत में उभार आ चुका था.

मराठी सेक्सी पिक्चर ओपन मराठी

आंटी जोर जोर से सिसकारने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… और तेज … आह्ह मजा आ रहा है… तुम तो बहुत जल्दी सीख रहे हो औरत को खुश करना. उसको लिटा कर मैंने बहन की चूत पर अपनी जुबान का जादू चलाना शुरू कर दिया. मेरे मुख में मेरे वीर्य के अंश आ रहे थे और रीना भी अपनी चूत के रस को मेरे होंठों पर से चूस रही थी.

चाची बोली- अपनी इस भैंस के दूध को दुहना चाहते हो क्या?मैंने कहा- आज मेरा मन मेरी भैंस के ही दूध से बनी हुई चाय पीने के लिए कर रहा है. मैंने कहा- क्या हुआ, दर्द हो रहा है क्या?वो बोली- हां, बहुत दिनों के बाद चूत में लंड जा रहा है इसलिए दर्द तो होगा ही लेकिन तू रुक मत. बीएफ वीडियो देसी सेक्सी वीडियोमैंने बोला- मामी आपको पसंद है?मामी ने लंड सहलाते हुए कहा- हां बहुत प्यारा लंड है तुम्हारा.

उसके बाद सुमित ने अपने दोस्तों को बाइक से गरियाते हुए कहा- उतरो बेहनचोदो!और उसके दोस्त बेचारे उतर गए और कहने लगे- अच्छा बच्चू … लड़की मिली तो दोस्तों को भूल गए.

उसने एक ही झटके में अपना सात इंच का लंड मेरी गांड के अन्दर पेल दिया और मुझे चोदने लगा. रूम में जाने के बाद मैं पूरा नंगा हो के अपने खडे लंड को हिलाने लगा और बहू को मन में चोदने लगा.

मेरे मॉम डैड मेरे भाई से मिलने औरंगाबाद गए थे, तो निशा को प्रपोज करने का आज अच्छा मौका था. मेरे हर के धक्के से कल्पना के मुँह से ‘आह … आह … उह … हम्म … और तेज और जोर से आह … आह … और अन्दर … चोदो … मुझे और चोदो … हां ऐसे ही हम्म आह…’ की मादक आवाजें निकल रही थीं. मैं- मैं कुछ समझा नहीं भाभीजी!भाभी- इतने नादान लगते तो नहीं हो … कुणाल तुम समझ तो गए ही होगे.

अब मैं, मेरी सासू माँ और मेरा 23 साल का बेटा विशाल हम तीनों ही घर पर रहते हैं.

वैसे तो मुझे कोई इस तरह देखे तो अच्छा नहीं लगता मगर मैं भी उसकी जानदार बॉडी को देख रही थी. मैंने उनका गला पकड़ा … और थोड़ी हल्की सी पकड़ बनाकर उन्हें चोदने लगा और चोदे जा रहा था. सुबह उठ कर जब मैंने मां की गांड के छेद को देखा तो मुझे यकीन हो गया कि उसने किसी जानवर जैसे लंड से अपनी गांड चुदवाई है.

लड़की और जानवर का बीएफ वीडियोफिर उसके दोनों चूचे जोर से दबाओ, बूब्स को किस करो, निप्पलों को हल्के से खींचते हुए काटो. कुछ देर बाद उसकी अनचुदी कुंवारी नाजुक सी चूत उसके बमपिलाट लण्ड के नीचे दम तोड़ देगी।इधर चिन्ना को भी करोना बेटी कपड़ों में कतयी अच्छी नहीं लग रही थी.

सेक्सी पिक्चर वीडियो गूगल

जैसे ही मैंने लंड को बाहर निकाला तो दीदी चुदने के लिए और ज्यादा मचलने लगी. ऐसा कम से कम दो महीने तक चलता रहा।एक दिन अचानक उनकी रिलेशान में किसी की डेथ हो गई तो उसके मम्मी पापा को अचानक से दिल्ली जाना पड़ा. उनका नाम निशा था और वो लखनऊ में अकेली ही रहती थीं क्योंकि उनके पति यानि कि मेरे भैया के ससुर का देहान्त हो चुका था और उनका बेटा यानि कि भैया का साला बंगलौर में पढ़ रहा था.

शादी की सालगिरह पर नीरस दाम्पत्य जीवन में नई ऊर्जा पैदा करने के लिए-अक्सर देखने में आता है कि शादी के कुछ वक्त बाद, मसलन दो-तीन साल बाद स्त्री और पुरूष के शारीरिक संबंधों में मिठास कम हो जाती है. बहू की गोरी चिकनी गांड देखकर पहली बार मेरा मन उसकी चाटने के लिए हो रहा था. जैसे कि आप जानते है कि कैसे मैंने अपनी क्लासमेट आकांक्षा को अपने एक फ्रेंड के कमरे पर ले जाकर चोदा था.

एक दो बार तो मैंने केवल अपने तौलिया बाँध कर उसे अपने फनफनाते लंड के उभार को भी दिखाया. उसके बाद उन्होंने मुझे हटाया और मेरे लंड को अपने मुँह से चूसना चालू कर दिया. वो भी बराबर मेरा साथ दे रही थी!फिर उसने मुझे थोड़ा रिलैक्स होने को कहा.

क्या मम्मे थे यानि उसके बूब्स बड़े बड़े ब्रा के अन्दर पैक … और टी-शर्ट को फाड़ने को तैयार बिल्कुल तने हुए. साथ ही मेरी गांड कम चुदी होने की वजह से काफी टाइट थी, जिस वजह से मुझे काफी दर्द हो रहा था.

मैंने अपनी बगल की और अपनी योनि पर भी वैक्सिंग से हेयर रिमूव करवाई थी.

पर चूंकि अभी मेरा काम नहीं हुआ था, तो मैंने उसको सीधा किया और उसके ऊपर आकर उसको किस करने लगा. बीएफ तुझेरचना भाभी की लंबाई 5 फीट 11 इंच है और उसके शरीर की बनावट 40 की छाती 32 की कमर और उसकी गांड 38 की है. बीएफ वाली बीएफ सेक्सीमैंने उसके सीने पर हाथ मारा तो देखा कि उसकी चूचियां विकसित तो हो गयी थी पर शायद उन पर मर्दाना हाथ नहीं लगे थे तो चूचियां एकदम ताजा थीं. आंटी ने अपनी टांगें फैला लीं और मुझसे कहा- अब मेरी गर्म भट्टी में अपना लंड डालो.

मुझे इसमें कुछ अजीब नहीं लगा क्योंकि मैं काफी समय से ड्रिंक करती आ रही हूं.

वहीं दूसरी ओर पुरूष कलाकार के समकक्ष आप तभी सहज हो सकती हैं जब आप मानसिक रूप से पहले से ही तैयार हों. मैंने खेत में मामी की चूत चुदाई कैसे की?रिश्तों में चुदाई की इस देसी कहानी के पहले भागमामीजी को खेत में चोदा-1में आपने पढ़ा कि कैसे मैंने अपनी मामी को नंगी देखा तो मेरा मन उनकी चुदाई के लिए बेचैन होने लगा था. अब मैं कविता को धीरे धीरे भूल ही गया था क्योंकि वो अपने ससुराल में थी और कभी दिखाई ही नहीं देती थी गांव में भी.

निशा- अरे वाह मैडम … ऐसी क्या खास बात है … जो इतनी बेसब्री से इंतजार कर रहे थे?मैं उसे पट्टी देते हुए बोला- इसे आंखों पर बांध लो, सरप्राइज़ है. फिर उन्होंने दोबारा से लंड को चूत पर रखा और एक झटके से लंड को अंदर घुसा दिया. मुझे ऐसा लग रहा था आज का दिन पता नहीं कितना बड़ा हो गया है।6:00 बजे मैं कंपनी से निकला और रूम पर आया.

रेखा की सेक्सी वीडियो दिखाइए

रात को खाना खाने के बाद हम बेडरूम में आ गये, लेटते ही मैंने अपना हाथ मम्मी की चूचियों पर फेरना शुरू किया तो मम्मी ने मेरा हाथ पकड़कर चूचियों से हटा दिया और अपने पेट पर रखते हुए बोलीं- सोनू, तुम्हारा छोटा सोनू मेरे पेट में पल रहा है. टूर का पांचवां दिन था, पैर में हल्की सी मोच के कारण नीलम हम लोगों के साथ घूमने के लिए तैयार नहीं हुई तो मैं, सुधा व कमल घूमने निकल पड़े. मेरे मुँह को चोदते चोदते नवीन सर ने मेरे मुँह में ही अपना लंड खाली कर दिया.

टी टी ने बीच में पड़ कर कहा- एक का चूस कर निकाल ले, बाकी दोनों का मुठ मार दे, मतलब हाथ से सहला कर निकाल दे.

अब तो मम्मी बेहद कामुक हो गई थीं और लंड के मजे लेते हुए बीच बीच में बोल रही थीं.

फिर मैंने उसके दोनों चूचे छोड़ कर उसकी कमर को पकड़ कर अपने लंड को नीचे से ऊपर उसकी चूत में धक्का लगाना शुरू कर दिया. मेरी सेक्स कहानी को लेकर आपके मन में क्या विचार हैं, प्लीज मेल करके जरूर बताएं. छोटी लड़की का बीएफ पिक्चरवे थोड़ा मेरी तरफ झुक कर बैठी हुई थी तो मुझे उनके बूब्स दिख रहे थे.

मेरा लंड अब बहुत दर्द कर रहा था क्योंकि वो बहुत देर से खड़ा था … पत्थर बन गया था. फिर पता नहीं मामी के मन में क्या आया कि वो पूछ बैठी- तुमने अभी तक कोई गर्लफ्रेंड बनाई है या नहीं?मैंने कहा- नहीं मामी, मेरी तो कोई गर्लफ्रेंड नहीं है. वो जैसे ही चाय देने के लिए झुकी, तो मेरी नज़र उनके ब्लाउज के अन्दर उनकी चूचियों पर चली गयी, लेकिन मैंने जल्दी से वहां से अपनी नज़रें हटा लीं.

ऐसा करने से वो और ज्यादा जोश में ऊपर नीचे होने लगी और मेरे लंड को और तेजी से आपने चूत में लेने लगी. उसने मुझे इस तरह उठाया था जिससे उसका लन्ड मेरी गान्ड को टच कर रहा था.

उनको इस हालत में देख कर मुझसे कंट्रोल करना मुश्किल हो रहा था और आज कुछ कर गुजरने की ठान कर मैंने अपने सारे कपड़े उतारे और बॉक्सर पहनकर आंटी के साथ ही बेड पर चढ़ गया.

कुछ देर बाद विशु खुद बेड पर लेट गया और मां उसकी ओर पीठ करके उसके लंड पर ऊपर नीचे हो रही थी. जब तक वो बियर लायी, तब तक मैं जल्दी से ब्रा पैंटी और हाई हील्स और साथ में स्टॉकिंग ले आया, जो आते समय मैंने उसे बिना बताए कार में और फिर अन्दर रख लिए थे. मैंने उससे कहा- तो दीदी, ओह्ह लवली डार्लिंग कैसा लगा? आज मुझसे चुद कर मजा आया या नहीं? या बॉयफ्रेंड की याद आ गई?अरे बहुत मजा आया! तुमने मेरे बॉयफ्रेंड को चुदाई के मामले बहुत पीछे छोड़ दिया। मेरी चूत तो अभी भी हल्का हल्का दर्द कर रही है।”तो डार्लिंग एक राउंड और हो जाये फिर तो?” मैंने उसकी चूची को सहलाते हुए कहा।अब नहीं.

सनी देवल की बीएफ मैंने जीभ से उसकी चूत की शेप पर जोर से फिराना शुरू कर दिया तो उसकी सांसें तेजी के साथ चलने लगीं और वो मेरे बालों को खींचने लगी. मैंने टी टी से गुजारिश भरे अंदाज से कहा- साहब, जो रिकार्डींग करी है, मुझे भी दे दीजिए.

मैं अपने सास-ससुर से अलग दिल्ली में अपने पति के साथ एक बड़े से फ्लैट में रहती हू. सिम्मी ने कहा- आपको रोका किसने है? सिर्फ याद रहे कि मैं आपके साथ वो नहीं कर सकती. मां ने जैसे ही उसका लंड अपने मुंह के पास पाया तो झट से उसने मेरे दोस्त का लंड अपने मुंह में डाल लिया.

मजेदार सेक्सी वीडियो में

मैंने उंगली निकाली और लंड को एक झटके में पूरा चूत में उतार दिया और अपनी एक उंगली जो उसके चूत रस से गीली की थी, उसकी गांड में डाल दी. मां लेट गई और विशु उसके पास गया और सारा माल उनके बूब्स पर झाड़ दिया. उत्सुकता से उसने पूछा- अच्छा, मुझे भी तो बताओ कौन है वो लकी गर्ल?मैंने कहा- नहीं, ऐसे नहीं बता सकता मैं उसके बारे में.

मैंने कहा- अब बता क्या जानती है तू?रानी ने मुझे अपने पास खींच लिया और किस करते हुए मेरा लंड पजामा के ऊपर से ही सहलाने लगी और बोली:बताती हूँ बाबूजी. मैंने एक बार फिर से श्वेता की बुर व गांड का मुआयना किया और थोड़ा सहला भी दिया.

लेकिन आज तो ये इतनी जल्दी खड़ा भी हुआ और जोर जोर से ऊपर नीचे ऊपर नीचे कूदने लगा.

मेरी नजर उसी पर रहती थी लेकिन मैं बाकी लोगों को मैं पता नहीं चलने देता था कि मैं उसको ताड़ रहा हूं. वो मेरे साथ बिल्कुल चिपक गई और मेरे होंठों को अपने होंठों का रस पिलाने लगी. फिर धीरे-धीरे उसका भाई मेरे रूम में आने जाने लगा और हमारी थोड़ी बहुत बातचीत शुरू हो गई.

मेरी उम्र 23 साल है।यह कहानी मेरी मॉम और उनकी सहेली की है कि कैसे मॉम और उनकी सहेली अपने हुस्न और जवानी का मजा लूटती हैं. उनके हाथ में लकड़ी से बना हुआ लंड के जैसे आकार लिये हुए कुछ चीज़ थी. मैंने फिर लंड हाथ से उसकी गांड के गुलाबी छेद पर लगाया और झटका दिया.

साथ ही मैंने ये भी बोल दिया कि अभी जब तक नींद नहीं आती तो एक ही बिस्तर पर लेट लेते हैं उसके बाद मैं अपने बिस्तर पर जाकर सो जाऊंगा.

हिंदी बीएफ मूवी ओपन: छत पर एक कमरा अलग बना हुआ था जिसमें दो बहनें किराये पर रहती थी। उनमें से मैंने छोटी बहन को कैसे चोदा?दोस्तो नमस्कार. यह बोलते ही मैंने उसे गले से लगाया और उसके होंठों पर अपने होंठ टिका दिए.

मैंने निशा को इशारा किया और निशा ने मेरा लंड मुँह में लेकर गीला कर दिया. इसका मतलब चिन्ना ने अपनी तरफ की कुण्डी नहीं लगाई।वह बिना कोई शोर किए दरवाजे के पास चली गई और कुछ साहस जुटा कर चिन्ना के कमरे में झाँका तो उसके बदन को जोरदार झटका लगा. मेरी चचेरी बहन ने मेरे अंदर हवस जगाई और फिर …दोस्तो, आप सबको मेरा नमस्कार, मेरा नाम राज है.

फिर मैंने आकांक्षा को बेड पर लेटाया और आकांक्षा के पैर उठा कर अपने कंधे पर रख लिए.

मुझे नहीं पता था कि ऐसा क्यों हुआ?तो उसके बाद मुझे अपनी बुआ की बेटी की चुदाई करने का मौक़ा नहीं मिला. अब मैं कभी पीछे से अपना लंड कभी उसकी चुत में डालता, तो कभी उसकी गांड में डालता. भाभी बोली- मुझे ऐसे ही लड़के पसंद हैं जो मेरे पूरे बदन को चाट कर रख दें.