2021 का बीएफ सेक्स

छवि स्रोत,हिंदी सेक्सी चोदने वाली सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

डॉग सेक्सी वीडियो फिल्म: 2021 का बीएफ सेक्स, मैंने एक पल उन मम्मों की खूबसूरती को निहारा और झट से एक दूध को मुँह में रख कर जोर जोर से चूसने लगा.

एक्स एक्स एक्स दिल्ली सेक्सी

फिर उसने धमाधम धमाधम गांड उछाल उछाल के जो धक्के लगाये हैं तो यारों क्या कहना !!!तभी एक ज़ोर की सीत्कार भरते हुए गुड्डी बेबी रानी के मुंह पर चढ़ बैठी- बहनचोद जीभ से चोद मेरी चूत … चूस चूस के जान निचोड़ दे मेरी. नंगी सेक्सी गेमदीदी पहले से ही चरम सुख के करीब थीं … और मनु की ताबड़तोड़ चुदाई साथ में मेरे सहयोग ने दीदी को जल्द ही मंजिल पर पहुंचा दिया.

मैं तेजी से संजू को चोदने लगा और फिर संजू का शरीर अकड़ा और वो जोर से झड़ने को अकड़ी और झड़ गई. बिहार पटना का सेक्सी वीडियोथोड़ी देर में मेरे लन्ड ने एक पिचकारी उसके मुंह में छोड़ दिया जिसे नीलू ने चाटकर साफ कर दिया.

ओ … उह!और उन्होंने अपनी चूत का पूरा पानी मेरे मुंह में ही छोड़ दिया और मैंने भी पूरा पी लिया.2021 का बीएफ सेक्स: आप लोग तो जानते ही होंगे कि उन दिनों में नैनीताल में कितनी ठंड होती है.

संजू मुस्कुरा दी और बोली- मैं क्या कम हूँ … और ऐसा पति तो किस्मत वालों को मिलता है.उस दिन वो मुझे देख कर आंख मारते हुए बोलीं- आज मुझे तुम्हारा ही इन्तजार था, मैं अभी अपने लिए चाय बनाई थी, मगर तुम चाय पियो, मैं अभी आती हूँ.

सेक्सी पिक्चर चलने वाली फोटो - 2021 का बीएफ सेक्स

इसके अलावा और भी बहुत सारी जगह हैं लेकिन टॉयलेट तो शत प्रतिशत प्रमाणित जगह है.मैंने तब उससे बोला- क्यों न हम एक दूसरे के फ्रेंड बन जायें?इस पर पहले तो वो शर्मा गयी लेकिन बाद में मान गयी.

मैं समझी कि मेरे पति आ गए क्योंकि वो हमेशा 3 बार ही घंटी बजाया करते हैं. 2021 का बीएफ सेक्स जब भी मैं बाहर जाती हूं, तो लोगों की नज़र मेरे दूध और गोरी कमर पर ही टिकी रहती है.

मैं लेटा तो वो मेरे ऊपर आ गई और अपनी पीठ मेरे मुँह की तरफ करके मेरे लंड पर अपनी गांड को सैट करते हुए धीरे धीरे बैठ गई.

2021 का बीएफ सेक्स?

मैं- यह भाई-बहन की स्वैपिंग का आईडिया किसका था?दीदी- वो एक्चुली मेरा आईडिया था, मैंने सोचा, थोड़ा प्यार अपने भाई को भी दे दूं. शाम को होटल वापस आते हुए हमने दारू (रम) की बोतल साथ ले ली क्योंकि ठंड बहुत थी तो रात को उसकी जरूरत पड़नी ही थी. मैं भी कल रात की भूखी थी, तो मैं उसकी शर्ट के बटन खोलने लगी और उसकी शर्ट उतार दी.

मैंने झुक कर बहुत नरमी से वसुंधरा के तने हुए बायें निप्पल को अपनी जीभ से छुआ. सच बताऊं … उस दिन के बाद से ही मेरे अन्दर कुछ अज़ीब सा फील हो रहा था. आप मेरे साथ थ्रीसम करो।मैंने उससे पूछा- यह कैसे संभव है?उसने मुझसे कहा- मैं अपने एक दोस्त को बुला लूंगा।मैंने उससे कहा- नहीं बाबा, मुझे यह सब नहीं करना।लेकिन मुझे क्या पता था कि मैं अगले दो-तीन दिन यह सब करने वाली हूं और बहुत चुदने वाली हूँ।रात के करीब 1:30 बजे मेरे हस्बैंड का फोन आया.

उसके कोई ऐतराज न करने पर मैंने अब उसकी बांहों पर तेल डाला और हाथों की मसाज करने लगा. मैं सारे दिन जॉब पर गया और बस आंटी की चुदाई के बारे में ही सोचता रहा कि इस बार आंटी को नहीं छोडूंगा. आंटी की चूत जितनी गीली हो रही थी मुझे चूसने में उतना ही मज़ा आ रहा था।अब मेरा लिंग अपनी परम उत्तेजना पर आ चुका था.

पर रवीना एक्साइटिड थी, बोली- मेरी चिंता मत कीजिये, मैं पंद्रह मिनट में आपके होटल पहुँच रही हूँ. इधर मैंने धीरे-धीरे निप्पल को चुमलाना शुरू किया उधर वसुंधरा के मुंह से आहों-कराहों का बाजार गर्म होने लगा.

मुझे तो यकीन ही नहीं हो रहा था कि मेरे स्कूल का लड़का मेरे बारे में अपने दोस्त से ऐसे बातें कर रहा था.

कमरे का दरवाजा खुला रहने के वजह से तथा मेरी बाईक बाहर नहीं देखकर सीधे मेरे कमरे में घुस गया था.

मैं बस उनकी चुत तक पहुंचने ही वाला था कि तभी अचानक स्वीटी आंटी उठीं और बोलीं- मुझे एक जरूरी कॉल करना है, मैं अभी आती हूं. मैंने राज को कहा- तुम छुपे हुए रूस्तम हो! मौसम भी बढ़िया है, उसे बुला लो घर पर और मना लो फिर से सुहागरात! डर किस बात का!राज बोला- कोशिश करता हूँ कि मान जाए. इतना मोटा और लम्बा लंड तो मैंने पोर्न सेक्स मूवी में भी नहीं देखा था.

अब मैं संजू को सैंडविच चुदाई के लिए किसी नीग्रो के साथ चुदवाने की सोच रहा हूँ. फिर सिल्क ने उठ कर लण्ड को पकड़ा और मेरे जिस्म के दोनों तरफ टांग करके अपनी चूत को मेरे लण्ड पे सेट किया और धीरे धीरे उसके ऊपर बैठने लगी. भाभी बोलीं- जाकर मिलो कि वो अपने घर पर क्यों बुला रही है?मैं बोला- ठीक है.

रेड लिंगरी स्टाइल ब्रा पेंटी में परमीत को देखकर सभी के लंड में भयानक तनाव आ गया.

ज्यादा दबाव नहीं दिया क्योंकि मैं ऐसे बिहेव कर रहा था जैसे कि हाथ अन्जाने में लग रहा है. मुझे अपनी तरफ घुमाते हुए बालों को, चेहरे को, कंधे को, मेरे उरोजों को सहलाते रहे. शादी में जब हम लोग डांस कर रहे थे, तब मेरी बहन शबनम, मुझसे बहुत ही चिपक रही थी.

और डॉक्टर कह रही थीं कि अपने पति से यह दवा लगवा लेना, अन्दर तक लगानी है. उसकी चूत में अन्दर बाहर होता विशालकाय डिल्डो सचमुच लाजवाब नजर आ रहा था. हाँ, अब तो मैं तुझे गुड्डी रानी कह सकता हूँ … आजा मेरी जान तेरी सील तोड़ ही दूँ.

बेंच पर उसकी दोनों टांगों के बीच में उठे उसके शार्ट्स के बीच में ताड़ने लगा मैं.

डिब्बे को मैंने एक तरफ रखा और आंटी के हाथ को अपने लंड पर रखवा लिया. ”इस पर मेरी मम्मी मुस्कुराई- दामाद जी, मेरे साथ क्यों करना चाहते हो? मेरी बेटी शैली तो तुम्हें तीनों मज़े देती ही होगी?तीनों मज़े … मतलब?”दामाद जी, ये भी मुझसे सुन ना चाहते हो! मतलब मेरी सेक्सी बेटी अपने मुंह में, चूत में और गांड में लेती है न तुम्हारा?”नहीं मम्मी जी, शैली तो बस चूत चुदवा लेती है, और कुछ नहीं करती और ना ही करने देती.

2021 का बीएफ सेक्स मन तो नहीं था पर फ्रेश होकर आया तो देखा कि सिल्क ने होटल का ही बाथरोब पहन लिया था और चाय बना के मेरे इंतज़ार कर रही थी. यह देख कर मैं एकदम से नीचे बैठ गयी और उन दोनों का लंड हाथ में ले लिया.

2021 का बीएफ सेक्स मैं कुछ समझती कि ये मैंने क्या किया … या खुद को संभालती, उससे पहले ही 2-3 बार और आवाज के साथ बिजली कड़की. मैं एक छोटी सी सरकारी नौकरी में भोपाल शहर में कार्यरत हूँ, इसलिए अपना वास्तविक नाम यहां नहीं बता सकता.

उसके बाद प्रीति उठी, मुझे किस किया और कहा- संजय, तुमने मुझे एक लड़की से औरत बना दिया.

लड़की दिखाइए

वो लड़की के पास गया और उसकी कमर के ऊपर से टांग ले जाकर लड़की को अपनी टांगों के बीच में ले लिया. ये सुन कर मैं खड़े खड़े उसके मोम्मे चूसने लगा और सच में मुझे सुबह से ज्यादा मजा अब आ रहा था. तो मैं खुश हो गया और उसकी चूत चोदनी शुरू कर दी।थोड़ी देर की चुदाई के बाद हम सब झड़ गए और नहा धोकर बाहर आ गए.

उसने झुककर ममता के मम्मे चूसे और चूत में गाड़ी चलाते समय ही उंगली करी. मैंने लंड की तरफ उसे इशारा किया, तो जैसे वो मेरे इशारे का ही इन्तजार कर रही थी. मैंने अपनी एक सीनियर से पूछ लिया- ये दोनों तरफ करते हैं क्या?उन्होंने बताया- हां पीछे भी एन्जॉय करने के लिए करते हैं, इससे बच्चे होने का डर भी नहीं रहता और मजा भी बहुत आता है.

अगर पड़ोसी से चुदाई करवाती या किसी अन्य गैर मर्द से चुदाई करवाती तो बात फैल जाती इसलिए बस चूत का हस्तमैथुन करके काम चला रही हूं.

अब मीना जैसी जवां, सेक्सी और सलीकेदार लड़की अगर किसी से छाती भिड़ा दे तो लल्लू का भी खड़ा हो जाएगा … यहाँ तो रवि था जिसके लंड को एक महीने से दाना पानी नहीं मिला था. सिल्क अपनी चूत मेरे मुँह में रख कर झुक गई और मेरे लण्ड को चूसने लगी. जब मुझे लगा कि मामी गहरी नींद में सो रही है तो फिर से मैं अपने पैरों से उनके बूब्स को स्पर्श करने लगा.

अपने दहकते होंठ कविता के होठों पर रखे तो वो चूसने लगी, मैं समझ गया, ये पहले से ही गर्म है. कोई 20 मिनट तक चुत चुसवाने के बाद मैंने सुहास को बेड पर लेटा दिया और मैं उसकी जांघों के पास आ गयी. वसुंधरा ने अपने पांवों की कैंची सी बना कर जुड़ी हुईं अपनी दोनों एड़ियां मेरे नितम्बों पर टिका दी.

मैं आपका दोस्त अनिकेत आपके लिये पड़ोसन चाची की चुदाई कहानी का दूसरा भाग मतलब दूसरे दिन रात की चुदाई कहानी लेकर आया हूं।आपनेपहले वाले भाग मेंतो पढ़ा ही है कि मैंने किस तरह रात में उन्हीं के घर उन्हीं के बेड पर चाची की चुदाई का आनंद लिया था. मेरे सामने दीदी की मोटी जांघें बड़ी मादक दिख रही थीं … ऊपर से दीदी हद से ज्यादा गोरी भी थी … बाप रे बाप मैंने पहले ऐसा नहीं देखा था.

उसकी भीगी हुई नंगी चूचियों को देख कर मेरे लौड़े में फिर से तनाव आना शुरू हो गया. मैं उनकी चूत में पूरे लंड को जड़ तक पेलते हुए जोर जोर से अन्दर बाहर कर रहा था. चित्रा- हां डैड वो दोनों शादी करना चाहते हैं और शायद हमें उन दोनों की शादी करवा देनी चाहिए.

मैंने अपनी हथेली की पोजीशन घुमाई और अपनी उंगलियां नीचे की ओर रखते हुए कप सा बना कर हौले से, वसुंधरा की पैंटी बिल्कुल मध्य में टिका दी.

वासना में गाली देते हुए सुरभि बोली- पहली बार इतना मोटा और लंबा लंड मिला है. मैंने उससे पूछा- क्या तुम लंड की साइज़ से वाकिफ हो जो मेरे लंड साइज़ से डर गई हो?वो हंसने लगी और बोली- अच्छा बच्चू मेरा तीर मुझ पर ही चला दिया. आज की इस रात को इतना खूबसूरत बना दो कि हम पूरी जिंदगी इसकी यादों में गुजार दें.

उसे तो मैं पहले से ही बहुत पसंद करता था और आखिर क्यों ना करूं … अगर आप भी उसे एक बार देख लेंगे, तो बिना लंड हिलाए आपका पानी निकल सकता था. अब मेरी आंखें खुद ही मुंद गई थीं और मैंने अपना कामरस पेंटी में ही बहा दिया.

और उन्होंने बुझे हुए मन से मुझे उनके साथ आने के लिए बोला जो इस बात का इशारा कर रहे थे कि उन्हें भरोसा नहीं है कि मैं उन्हें खुश कर पाऊंगा।खैर मैं सुमन के पीछे गया और हम रूम में गये जहाँ बाकी की दोनों महिलायें पहले से मेरा इंतज़ार कर रही थी. चूंकि मैं बचपन से ही बहुत ज्यादा खूबसूरत रही हूँ, कुछ लोग मेरी सुंदरता देखकर मुझे परी कहकर पुकारते थे. इसी बीच उसने मेरे तलाक की भी बात करी और मेरे तलाक का अफसोस भी ज़ाहिर किया.

बुड्ढे का सेक्स

ये बोल कर वो मेरे लंड को शावर जैल से धोने लगी और फिर उसने हैंड टॉवल से उसे ठीक तरह से साफ कर दिया.

मैंने उसे और कुरेदा, तो उसने बड़ी मायूसी से बताया कि उसकी सास उसको बहुत तंग करती है. उसके लंड की रगड़ से मेरा भी दर्द कम हो गया था और मैं भी उसका साथ दे कर मजे लेने लगी थी. सिल्क के मुँह से जोर जोर से ईइ इशशश्श शश … अआआह्ह … ईइशश्श शश … अआआहह … की आवाजें निकलने लगी.

उसके बाद हम बहुत थक गए थे, तो हम दोनों ने वॉशरूम में जा कर एक दूसरे को अच्छे से साफ किया. मुझे एक शहर के सबसे बड़े और नामी गर्ल्स स्कूल में भर्ती कराया गया था. सेक्सी ओपन वीडियो बीपीमैं सुहास के लंड को मुँह में लेकर उसके साथ खेलने लगी, वो भी मेरे बालों को पकड़ कर अपने लंड से मेरे मुँह में धक्के मारने लगा.

जिस मोहल्ले में मैंने किराये का मकान लिया था, वो करीब 20-25 मकानों का मुहल्ला था. मैंने इधर अब अपने लंड को अपनी सलहज की चूत में सैट किया और घुसाने लगा.

बस अभी हम दोनों ही बच्चा नहीं चाहते थे क्योंकि अभी हम लोग किराये के मकान में रहते हैं और जब हमारा खुद का घर होगा, तब हम बच्चे के बारे में सोचेंगे. जब भी वो मेरे सामने होती थी मैं उसकी वक्षरेखा में झांकने की कोशिश किया करता था. अब मुझसे भी नहीं रुका जा रहा था तो मैंने उसे अपना लंड चूसने के लिए कहा.

कहानी पर कमेंट करके भी बतायें कि आपको कहानी में मजा आ रहा है या नहीं. कोई दस धक्के मारने के बाद अब मैंने उसे बिना लंड निकाले अपनी गोद में उठा लिया और खड़ा होकर उसकी चूत को चोदने लगा. फिर दोनों साथ ही जायेंगे।आखिरी नाईट ड्यूटी की रात बहुत लम्बी लग रही थी.

सुहास ने मेरे मम्मों पर ब्रा रखी और पीछे से हुक लॉक करने की कोशिश की, पर वो बहुत टाइट ब्रा थी … इसलिए उससे हो ही नहीं रहा था.

पता नहीं वो क्यों चिल्लाने लगी- आआह … लग रही है … जल्दी बाहर निकालो. आलिया- और जोर से चोद राज, कल रात से भाभी तुम्हारा लंड लेने के लिए तरस रही हैं.

आज भी मैं अन्तर्वासना की कहानियों का आनंद लेता रहता हूं और कई बार लंड भी हिला लेता हूं. ”इससे पहले कितने लण्ड देखे हैं?” इतना पूछते पूछते मैंने कविता को लिटाकर अपना लण्ड फिर से उसकी चूत में पेल दिया. उसका सुपारा ही इतना मोटा और बड़ा दिख रहा था कि मैंने मन में सोचा … बाप रे ये क्या है … कोई लंड इतना बड़ा भी होता है.

उसकी आंखों में देखते हुए मैंने भी अपने कपड़े उतार दिए और पूरा नंगा हो गया. विशाल ने दबाव बनाया और उसका लंड मेरी चूत की दीवारों को चीरते हुए अंदर तक चला गया. सुबह उठ कर हाथ मुँह धोकर जब नीचे हॉल में आया, तो मैंने देखा कि सभी नीचे कबसे मेरा इंतजार कर रहे थे.

2021 का बीएफ सेक्स कहानी का मजा लीजिये!हाय दोस्तो! मेरे प्यार लंड धारियो, मैं अपनी कहानी को लेकर गारंटी के साथ कह सकती हूं कि आपको ये कहानी पढ़कर इतना मजा आयेगा कि सब मर्दों का लंड अकड़ जायेगा और आप मुठ मारने लगेंगे. वो खुलकर बोली- जाओ चूतिया किसे बना रहे हो … इधर बात करने आए हो या अन्दर बाहर करने आए हो … जाओ तुम दोनों जी भर के चुदाई कर लो.

अच्छी वाली मेहंदी

मैं बोली- हां मम्मी ठीक है … सोने दो बस अब मेरे रूम में डबलबेड लगवा दो. मेरी पिछली कहानीभाई बहन ने जन्मदिन का तोहफा दियाको बहुत सारे लोगों ने पसंद किया था उसके लिए सभी का खुले दिल और फ़टी चुत से धन्यवाद।हीही हीही हीहीलेकिन मैं अपने काम में इतना व्यस्त हो गयी थी कि मुझे नई कहानी लिखने का वक़्त ही नहीं मिला। बहुत लोगों ने मुझे नई कहानी लिखने को कहा था।वक़्त ही नहीं मिलता था मेरी पिछली कहानी लगभग एक साल पहले आयी थी. उसने फिर से पैरों को सिकोड़ने की कोशिश की, तो मैंने उसके पैरों के बीच आकर खुद को फंसा दिया और उसकी चूत पर अपनी जीभ रख दी.

कुछ देर के बाद उन दोनों ने दिव्या की चूत और गांड में अपने लंड की स्पीड बढ़ा दी और उन दोनों ने ही अपना वीर्य उसके अंदर छोड़ दिया. हम चारों टीवी देखते हुए शराब का आनन्द ले रहे थे, क्योंकि हम चारों को पता था कि आगे क्या होने वाला है. सेक्सी वीडियो हिंदी में नाममैंने उनकी चुत के पानी से नम सी हो चुकी चड्डी भी खींच कर नीचे कर दी.

मैंने उसका टॉप ऊपर किया और उसकी खूबसूरत चूचियों के निप्पल को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा.

गांड चुदाई का नाम सुनते ही वो गुस्सा हो गई और बोली- अपनी हद में रहो. मेरी इस हॉट सेक्सी स्टोरी के पहले भागदोस्त की बीवी ने बहाने से चूत चुदाई-1में आपने पढ़ा कि मैं अपने दोस्त के घर उसकी बीवी के साथ अकेला था, उसकी मदद कर रहा था.

अब मुझे मज़ा नहीं आ रहा था, नीचे लेट के उसका मुँह चोदने में दिक्कत हो रही थी बहुत।मैंने उसको बोला- एक काम करो … तुम बेड पे उल्टी मुँह करके लेट जाओ।वो लेट गयी।उसके बाद में नीचे आया और अपना लौड़ा उसके मुँह में डाल के जोर जोर से धक्के धक्के मारने लगा. अब बताइए कि क्या काम है आपको?तो उसने कहा- यार, मेरे लिए एक कविता लिख दो ना!ये संदेश लिखने के साथ ही उसने मुझे कविता के लिए पूरी थीम भी भेज दी. संजू उठ कर बैठ गई और उसने एक जोरदार अंगड़ाई ली, जिससे उसकी गदराई चुचियों का पूरा उभार सामने आ गया.

मैंने गुलाबी रंग का गोल लांग गाऊन फ्राक पहन लिया, गुलाबी की लिपस्टिक लगा ली और सामान्य सी ही तैयार हो गई.

मैं जानती थी कि मुझे भी घर से परमीशन नहीं मिलेगी, पर परमीत ने हां कहने के लिए इशारा किया, तो मुझे हां कहना पड़ा. उन्होंने कहा- तुम्हारा फ़ोन क्यों बंद है?अरे हां … वो मेरे फोन की बैटरी निल हो गयी थी. अगर आप सेक्स को अबनॉर्मल समझते हैं, तो ये बड़ी बात नहीं है, ये तो कॉमन बात है.

सेक्सी चुदाई की सेक्सी पिक्चरफिर मैंने उनके ब्लाउज को खोल दिया और जब मैंने उनके बड़े और चिकने मम्मों को एक जालीदार ब्रा में फंसा हुआ देखा, तो मुझे बहुत गुस्सा आया. धीरे धीरे लंड पर तेल डालते हुए मैं उसकी गांड में लंड को हिलाने लगा.

वीडियो सेक्सी गाना वीडियो सेक्सी

आपकी कांखों से आती मादक खुशबू मुझे पागल बनाती थी। आप के बदन की खुशबू लेने के लिए मैं आपके पीछे बैठता था।छीईई …”इसमें छी क्या दीदी, आपकी गर्म जवानी थी ही ऐसी!”और क्या क्या किया है तूने मेरे पीठ पीछे?”आपके चूचे आपकी उम्र की लड़कियों से काफी बड़े थे। स्कूली ड्रेस में आपके तने हुए चूचों को देख कर मेरा लन्ड खड़ा हो जाता था।”अच्छा जी!” मैंने कहा. इसलिए सुपारा खोल कर चूस।इतना सुनते ही प्रतीक्षा ने एक आज्ञाकारी बच्चे की तरह मेरे लंड का सुपारा खोला और फिर से चूसने लगी और करीब उसने मेरा लंड 5 मिनट तक चूसा।इधर मैं संजना को किस करते हुए उसके बूब्स चूसने लगा. थोड़ी देर बाद उसने मेरी पैंटी भी उतार दी और मेरे जिस्म से खेलने लगा.

मैंने उसे मिशनरी पोज में लिटा दिया और अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया. तो मित्रो, आप सब को मेरी यह आपबीती, गाँव की छोरी की कुंवारी चूत की चुदाई की कहानी पसंद आयी या नहीं? तो मुझे मेल करें. धीरे धीरे मेरी हिम्मत बनी तो मैंने उसे फेसबुक पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज दी.

मेरे ऐसा करने से आशा भी गर्म हो गयी और अपने एक पांव से दूसरे पांव को रगड़ने लगी. मैं उसे लगातार चोदे जा रहा था- ले साली कुतिया … उई आह ले मादरचोद … अभी फट रही है तेरी गांड. उम्मीद है मेरी सेक्स कहानी पढ़ कर आपने अपने लंड और औरतों ने अपनी चूत का पानी भी जम के निकाला होगा.

नीतू बोली- अब जल्दी से दोनों कपड़े पहनो … और सर आप बाहर ड्राइंग रूम जाओ. 15 मिनट के बाद मैं उसकी गांड में ही झड़ गया और फिर साइड में लेट गया.

वसुंधरा ने फ़ौरन अपने दोनों हाथों से अपने उरोज ढक कर अपनी छाती पर अपने दोनों बाजुओं का क्रॉस सा बना लिया.

मैंने फ्रिज से बर्फ निकाली और उसके उसके छोटे छोटे टुकड़ों को सुरभि के बदन पर रगड़ने लगा. सेक्स सेक्सी व्हिडिओ सेक्स सेक्समैं उसके रोकने लगी, पर वो नहीं रुका … वो ताबड़तोड़ लंड पेले जा रहा था. अच्छी वाली सेक्सी ब्लूपहले मैं सोचता था कि इस साईट की सारी कहानियाँ काल्पनिक हैं किंतु जब मेरे साथ भी ऐसी घटना हुई तब मुझे यकीन हुआ कि यह सब सच्ची कहानियाँ हैं. ऐसे तो मैंने बहुत से लड़कियों के साथ मजा लिया है, किसी को चोदा है तो किसके साथ सिर्फ ऊपर ऊपर से हाथ सेंके हैं.

मैंने भी कहा- तो सुन मेरी जान, अब की बार लंड तेरी गांड में ही जाएगा … नहीं तो तुझे लंड नहीं मिलेगा.

अविनाश- आज रात को दोनों पूरी तरह से तैयार रहना, क्योंकि रात को दंगल होने वाला है. यदि किसी दोस्त के घर में शादी होती थी तो मैं मन लगा कर काम करता था. पूरा लंड गांड में घुसेड़ने के बाद वो रुक गया और मेरे ऊपर झुक कर पीछे से मेरे दूध दबाने लगा.

मुझे दया आ गयी, मैंने उन्हें अपनी सीट दे दी। मैं खड़ी होकर सफर करने लगी।उस धक्का मुक्की और झटकों की वजह से मैं कई बार अपने बगल की सीट पर बैठे आदमी से भिड़ जाती. आंटी ने भी टाँगें थोड़ी चौड़ी कर दी जो मुझे चूत का रस पीने का आमंत्रित कर रही थी।फिर मैं भी पूरी जुबान चूत में डाल कर ज़ोर ज़ोर से चाट रहा था. परमीत मुझे चाटते हुए जब चूत तक पहुंची, तो उसने चूत में पूरा मुँह लगा दिया.

ನೀಲಿ ಚಿತ್ರ

एक मिनट बाद आशा दो गिलास पानी लायी, तो नीतू आशा से मजाक करते हुए कहा- आशा, आज तो तू बड़ी खिली खिली लग रही है. मैंने उसका टॉप ऊपर करना शुरू किया, तो उसने अपने हाथ ऊपर करके मुझे पूरा सहयोग किया और वो खुद भी मेरी सैंडो बनियान को उतारने लगी. मैं बोला- अरे तू पागल है क्या … मैं अपने सामने तुझे और किसी के नीचे नहीं देख सकता हूँ … और अगर तुझे यकीन नहीं है … तो रहने दे.

चित्रा- आलिया, आज रात के लिए तैयार हो न?आलिया- अब तो आदत पड़ गई है, उन दोनों जीजा-साले ने मेरी चुत और गांड को पूरी तरह से खोल दिया है.

अपनी चुत की गीली फांकों पर मोटे लंड के सुपारे का स्पर्श पाते ही मेरे मुँह से सिस्कारियां निकलने लगीं- आंहाह … बहुत गर्म है.

बुक शेल्फ में भी रवि को दो-तीन ऐसी किताबें दिखीं जो कम से कम ड्राइंगरूम में तो नहीं होनी चाहिए थीं. कुछ देर बाद अंशी का दर्द कम हो गया और मैं भी उसकी चुत के दाने को मसलता हुआ उसकी गांड में लगा रहा. पूजा कुमारी सेक्सी वीडियोकुछ ख़ास नहीं … कोई बीस-पच्चीस मिनट!”ओह … !” वसुंधरा ने अपने दोनों हाथ बढ़ा कर मेरा हाथ अपने हाथों में थाम लिया और अपने गुलनारी होंठों से मेरे हाथ की पुश्त चूम ली.

उनका फिगर ही इतना मादक है कि कोई भी एक बार देखे, तो मुठ मारने पर मजबूर हो जाए. उसकी गांड के छेद पर लंड को लगा कर मैंने जैसे ही धकेला तो लंड का सुपाड़ा उसकी गांड में चला गया. कुछ देर बाद मैंने उनको बर्थ पर ही घोड़ी बनाया और पीछे से लंड पेल दिया.

मैं भी उसके बालों को पकड़ कर ज़ोर ज़ोर से उसके सर को लंड पर दबाने लगा. जिसके बारे में उसने बाद में बताया था कि उसने अपने भाई से अपनी सील किस तरह तुड़वा ली थी.

फिर भी मैंने दरवाजा अन्दर से बंद किया और एक नाईट बल्ब चालू कर दिया.

उस समय अनिषा बोली- भाभी क्या बात है … आपके चेहरे पर बहुत निखार आ गया है, लगता भाई कुछ ज़्यादा ही रात को खुश कर रहे हैं?मैंने कहा- नहीं यार … आज कल आपके भैया के बिजनेस पर ज़्यादा ख्याल दे रहे हैं … और तू बता … तेरा कैसा चल रहा है. वो बोली- हां मेरे राजा, चोद दे … मिटा दे इसकी खुजली अपने मोटे लंड से. उसने रवीना के कुंवारेपन की तो मां चोद दी थी पर उसे गर्भवती बनाने का रिस्क वो नहीं लेना चाहता था.

सेक्सी वीडियो 10 जनवरी फिर दोनों उरोजों की सीमारेखा को शिद्दत से चूमा और चुम्बन लेते-लेते धीरे-धीरे दूसरे स्तन का रुख किया. मैंने अपने लंड को उसकी चूत में लगे लगे ही उसे उठाया और पीठ के बल लिटा लिया।रोजी ने अपनी दोनों टांगों को मेरी कमर पर लगाकर उठा दिया था.

मैं प्यार से वसुंधरा के कपोलों से अपने होंठों द्वारा वसुंधरा के आंसू बीनने लगा. मैं किस करते करते आंटी के पेट से होता हुआ उनकी चूत पर आकर चूत चाटने लगा. मैंने अन्दर जाकर देखा, वो केवल ब्लाउज़ पहने बैठी थीं और नीचे से नंगी थीं.

ब्लू नंगा पिक्चर

रास्ते में राहुल बोला- आप क्या लेने के लिए जा रही थीं?मैं- अरे मैं अभी हॉस्टल से आई हूं, तो मैं ज्यादा कपड़े नहीं लाई थी, इसलिए थोड़े कपड़े लेने थे. ‘उईईईईई आह अमित …’मैंने दोनों हाथों से उसकी टांगें चौड़ी की और चुत को अपने होंठों में भर भर के चूसने लगा. इधर प्रीति के पेपर भी कुछ दिनों में ही चालू होने वाले थे तो प्रीति की मम्मी पापा ने तय किया कि 10 दिनों की बात है, हम जल्दी से वापस आ जाएंगे.

अनिषा बोली- मैं आजकल सहेली के ससुर जी … औरदूध वाले से सेक्स के मजेकर रही हूँ. मेरी पिछली कहानी पढ़ कर जस्सी ने मुझे अपनी कहानी के बारे में बताया और उनकी कहानी सुनकर मुझे ऐसा लगा कि ये कहानी आप लोगों तक भी पहुँचनी चाहिए, इसलिए मैं जस्सी से इजाज़त लेकर उनकी इस सेक्स कहानी को अपने तरीके से आप तक पहुंचाने की कोशिश कर रहा हूं …शायद कुछ लोगों को ये कहानी काल्पनिक लगे, पर ये कहानी एक सच्ची कहानी है.

तो चलते है कहानी की तरफ।मैं जोया (नाम बदला हुआ) बिहार के एक छोटे से गांव से हूं।मेरे निकाह को लगभग 6 साल बीत गए पर अभी तक मुझे कोई बच्चा नहीं हुआ। शायद इसकी भी जिम्मेदार मैं खुद हूँ क्योंकि बचपन से ही मेरे घर में मुझ पर बहुत बंदिशें थी.

कुछ देर में वो अलग हुआ। उसने मेरी चूचियों से मेरे हाथ हटा लिये। मैं अब निर्विरोध उसे अपने जिस्म से खेलने दे रही थी। मेरे नंगे चूचे उसके सामने थे। उसने मेरे दायें चूचे को मुंह में भर लिया।जब उसने मेरे चूचे पर मुंह रखा तो मैं एक उन्माद से भर गयी. एकाएक रोहित रोने लगा और संजू के सामने बोलने लगा- भाभी, आपका ये रूप देखकर अगर मैंने सेक्स नहीं किया, तो मैं जिन्दा नहीं रह पाऊंगा. वो बोले भी जा रही थी भर्राई हुई आवाज़ में- राजा … माँ के यार … और ज़ोर से निचोड़ मेरे मम्मे … चटनी बना दे कमीने … हाँ हाँ हाँ हाँ हाँ … आअह आअह आअह … हाय मैं क्या करूँ … बता न बहन चोद … साले माँ चोद दे आज अपनी नई नई रानी की … आआह आआह … हाय मज़े दे दे कर मार ही डालेगा क्या कुत्ते … हाय मैं फिर से झड़ी … ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ … हाय मैं मर जाऊं … तेरी माँ की चूत कुत्ते.

जतिन सर दिखने में थोड़े काले थे, पर अच्छी मस्कुलर बॉडी के कारण मेरी निगाहें अक्सर उन पर टिक कर रह जाती थीं. … ये तो मुझे नहीं पता था, पर उसके बाद जेठजी खुद ही शर्म महसूस करने लगते और मुझसे नजरें चुराने लगते, जिससे मुझे लगता कि शायद गलती से हो गया होगा. वो पीछे की तरफ था तो उसे दरवाजे के बाहर नहीं दिख रहा था पर मैं मेज पर झुकी थी तो मुझे वो दिख गयी थी.

थोड़ी देर ऐसे ही करने के बाद मैं भाभी के सारे कपड़े एक एक करके उतारने लगा.

2021 का बीएफ सेक्स: दीदी बोली- अमन मेरे भाई … मेरे पति … मेरे देवता … जल्दी से कुछ करो यार … मुझे रहा नहीं जाता है. नतीज़तन मेरा लिंग वसुंधरा की योनि से एक-आधा इंच और ज़्यादा बाहर आ जाता और जैसे ही मैं अपने लिंग को वापिस योनि में आगे डालता, वसुंधरा अपने नितम्बों को ज़ोर से आगे की ओर धकेलती, इस से वसुंधरा की योनि में धंसता हुआ मेरा लिंग, हर नए धक्के में वसुंधरा की योनि में एक-आध सेंटीमीटर और ज्यादा गहरा धँसने लगा.

मैं उसका लंड पकड़ कर बोली- ये खड़ा होता है या नहीं?तब आदी ने कहा- नहीं. जिससे मेरा लंड उसकी गांड से छूने लगा और थोड़ी ही देर में रगड़ खाने से मेरा लंड खड़ा हो गया. मैं वैसे ही नग्न बिस्तर पे आंख बंद करके लेटा था, लण्ड मेरा सर उठे खड़ा था.

कुछ ही पल के बाद हम दोनों ही एक दूसरे को पागलों की तरह चूम रहे थे और किस कर रहे थे.

तो मैंने सतीश को इशारा किया और सतीश अपना लौड़ा सीमा को चुसवाने की तैयारी कर रहा था. वसुंधरा के मुंह से चीखों … सही सुना आप ने पाठकगण! सिसकियों का नहीं चीखों का बाज़ार गर्म होने लगा. वो जोर से चिल्लाने लगी और रोने लगी- बस करो … मुझे दर्द हो रहा है … उम्म्ह… अहह… हय… याह… आई माँ मर गई … आह बहुत दर्द हो रहा है निकालो अपना लंड.