बीएफ विदेशी एचडी

छवि स्रोत,बुद्ध की बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

जंगल में मंगल सेक्स बीएफ: बीएफ विदेशी एचडी, उसने भी मेरा भरपूर साथ दिया और ऐसे इजहार किया जैसे वो अपने कपड़ों से मुक्ति पाना चाहती हो.

ब्लू वाली बीएफ

उसकी बातें सुन कर मैं रोने लगी और रो रो कर सब कुछ बता दिया कि मेरे साथ क्या क्या हुआ. सेक्सी ब्लू पिक्चर बीएफ देहातीमैंने उसके मम्मों को उसके साड़ी से और उसके ऊपर के ब्लाउज से अलग कर दिया और फिर मैंने देखा.

मैंने हाथ से उनकी मैक्सी ऊपर कर दी थी और एक हाथ से उनकी चुत भी सहला रहा था. हैंड बीएफफिर मैंने अन्दर जाके टकीला की दो 50 एम एल वाले कांच के छोटे वाले गिलास निकाले और विक्की, गोलू को दिए.

वहां दीदी अपनी ही मस्ती में फोन डिसकनेक्ट होने से बेखबर अपनी चुत में उंगली अन्दर बाहर करके चोदे जा रही थीं.बीएफ विदेशी एचडी: हमारे यहाँ बेटियों की शादी जल्दी ही कर दी जाती है तो हम अपनी बेटी के लिए रिश्ते की तलाश में थे। कुछ लोगों से बात बनी नहीं, कुछ की दहेज़ की मांग बहुत थी।मेरे पति किसान हैं, वो खेती करते हैं.

मैंने निकालने की कोशिश की तो दीदी के मुँह से दर्द भरी सिसकारी निकलने लगी.जब वो मेरे खजाने को देख रहा था उसी वक्त मैं उसके लंड की तरफ भी तिरछी नज़र लगाए रही.

भोजपुरी में चुदाई वाली बीएफ - बीएफ विदेशी एचडी

मेरी एक बहन स्वाति की चुदाई की कहानीअपनी चालू बहन को चोदाआप पहले ही पढ़ चुके हैं.तो विवेक बोला- अब तो तुम ही हो मेरी जान!और उसने कामिनी को पलटा कर उसकी ब्रा के हुक खोल दिए, कामिनी के गोरे गोरे 36डी के मम्में आजाद होकर इधर उधर झूलने लगे.

आज मैंने मन बना लिया था कि चाहे निशा गुस्सा ही क्यों न हो लेकिन मैं उसकी ख़ुशी को लौटा कर ही रहूँगा. बीएफ विदेशी एचडी हमारी चुदाई की ‘आआहहाअ आआहह उऊहह ऊओह…’ की कामुक आवाजें पूरे कमरे में गूँज रही थीं और ठप ठप को आवाजों से चुदाई का और भी मजा आ रहा था.

दीदी ने पैंटी का आगे का हिस्सा पकड़ कर साइड में सरका दिया… जिससे दीदी कीचुत बिल्कुल नंगीहो गई… और अब चुत साफ साफ दिखाई देने लगी.

बीएफ विदेशी एचडी?

वो पट्टी गाँव में रहता है जो कि मेरे शहर से करीब 38 किलोमीटर दूर है। उसके माँ-बाप ने उसे आगे पढ़ने के लिए मेरे पास आज ही भेजा हुआ था।जब मेरा भतीजा कहीं गया हुआ था तो तब वो आदमी हमारे घर आ गया. तभी रमेश अंकल के उन दोस्त का पानी निकल गया, जो अपना लंड मां की चूत में पेला हुआ था. उसके नाख़ून मेरी बाँहों में घुसे जा रहे थे- राजे ले जा मुझे आसमान की सैर पर… कस कस के ठोक… मर्दन कर दे मेरे बदन का.

मयूर ने बिना ज्यादा जांच किए ही सब कागज पर साइन कर दिए, फिर कानूनगो साहब से भी साइन करवा लिया. मेरी माँ ओर मेरी बहनें मेरे मामा जी के यहाँ गई थीं और मेरे पिता जी ज्यादातर काम के सिलसिले में घर से बाहर ही रहते थे. अगले दिन क्लास में जब मैडम आई तो एकदम वाइट झीना सा सूट, जिसमें से उसकी कंप्लीट ब्रा दिख रही थी.

मैंने उसे ऐसे करने के लिए छोड़ दिया और कुछ देर बाद मैंने जाना कि कोई हल्की सी गर्म चीज मेरे लंड पर घूम रही है. मैं राजवीर सिंह अपनी पहली इंडियन सेक्स स्टोरी लेकर आप सबके सामने आया हूँ. मैंने कहा- ठीक है, रात को जब तुम्हारी बहन सो जाए, तो तुम अन्दर वाले कमरे में आ जाना.

मैं पिंकी को बाथरूम में लेके गया, उसका चेहरा और उसकी टी-शर्ट के ऊपर की सु सु को पानी से साफ़ किया. मुझे चाची की लंड चुसाई में बहुत मजा आ रहा था क्योंकि मेरा बरसों का सपना आज पूरा हो रहा था.

शाम तो सात बजे मैंने उसको फोन किया- बताएं सर आप कहाँ पर मिलेंगे?उसने एक होटल का नाम लेकर जवाब दिया- आप होटल में आ जाओ.

इसलिए वो वाचमैन कभी कभी फ्रिज का ठंडा पानी लेने के लिए मेरे घर आ जाता था और मुझे पानी लेने तक मुझे वासना भरी निगाहों से घूरता रहता था.

फिर कुछ समय बाद मेरी शादी हो गई क्योंकि हम ज्यादा अमीर नहीं थे तो दहेज़ न दे पाने के कारण मेरी शादी एक ठीक ठाक से दिखने वाले लड़के से करवा दी गई. आपको मेरी फर्स्ट टाइम सेक्स कहानी कैसी लगी, आप अपने सुझाव मुझे इस ईमेल आईडी पर भेज सकते हैं. उसके छोटे से मुँह में मेरा लंड नहीं समा रहा था, फिर भी वो बढ़े चाव से मेरे लंड को चूसे जा रही थी.

मैंने महसूस किया कि चूमने में भी दीदी मेरा साथ दे रही थीं और देखते ही देखते हम एक दूसरे में डूब गए. आज ही मुझे मालूम हुआ था कि मीशा की चूचियां एकदम तोतापरी आम के जैसी हैं. लेकिन मैंने उसकी एक ना सुनी और जल्दी से एक शॉट मार कर पूरा लंड अन्दर कर दिया.

मेरे चाचा बहुत शराब पीते हैं, उस कारण से उनकी और चाची की ज्यादा नहीं बनती है.

मैंने देखा कि पायल एक दूसरी मूवी को जैसे ही ओपन करती है तो ब्लूफिल्म खुल जाती है. इसी तरह उसे किस करते हुए मैंने उसको बेड पे लिटा दिया और उसके मम्मों को बारी बारी से ब्रा के ऊपर से ही चूसने लगा. मैं मॉम के पास लेटा हुआ था और मॉम के सोने का इन्तजार कर रहा था ताकि वो सो जाएं तभी मैं कुछ करूँ.

जैसे ही ब्रा खुली उसके मदमस्त दोनों कबूतरों को उछलते थिरकते देख कर मैं पागल ही हो गया और उन पर टूट पड़ा. वैसे भी आंटी दूध सी गोरी थीं लेकिन मेकअप की वजह से तो पूरी ऐश्वर्या लग रही थीं. मुझे भी मजा आने लगा, मैंने दूसरा धक्का लगाया तो लन्ड पूरा अंदर तक चला गया, पारुल को थोड़ा दर्द हुआ, बोलने लगी- अंदर बच्चेदानी पर जा कर लगा!खैर अब मैं जोर जोर से धक्के मारने लगा.

फिर मैं उसकी जालीदार पेंटी को भी धीरे धीरे उतारने लगा तो वो इसमें भी मान गई और उतार दी.

मैंने उसकी तरफ देखा और कहा- अब क्या ऐसे ही पेल दूँ?उसने कहा- कंडोम नहीं पहनोगे?मैंने कहा- नहीं चाहिए… मुझे ऐसे ही करने दो न. मेरे दिमाग में काम करना बंद कर दिया, मेरी बीवी गैर मर्द की बांहों में थी.

बीएफ विदेशी एचडी अगली सेक्स स्टोरी बहुत ही जल्द बताऊंगी क्योंकि वो नए वाचमैन को मेरे बारे में बता गया था. पूरे रूम में मिरर ऐसे लगे हुए थे कि अपनी झलक एक के बाद एक नजर आ रही थी.

बीएफ विदेशी एचडी मैंने लंड घुसेड़ा तो भाभी एकदम से चिहुंक उठीं लेकिन उनकी चुत मेरे लंड की सहेली थी तो अपने यार को उनकी चुत ने जज्ब कर लिया और भाभी मेरा साथ देने लगीं. मैं दिन में भईया और रात को सैयां बनकर रहूँगा। इसके अलावा कोई रास्ता नहीं दिख रहा। आगे तुम्हारी मर्जी।किसी को पता चल गया तो?”किसी को पता नहीं चलेगा.

मेरी मॉम का कद 5 फुट दो इंच है, लेकिन वो काफ़ी भरे हुए शरीर की हैं.

सेक्सी बीएफ छोटे बच्चों वाली

अब वो मुझे पेट में किस करने लगा, धीरे धीरे ऊपर बढ़ने लगा और पूरी बॉडी में चुम्मी करने लगा. मैं उसको सॉरी बोल कर वहां से निकल गया, लेकिन तभी वो फिर मुझे मेट्रो में मिल गई. वो दो उंगलियों से मेरे कूल्हों को हटाकर अपनी तीसरी उंगली उसमें डालने की कोशिश करने लगा, पर मेरी गांड तो एकदम टाइट थी तो उंगली घुस ही नहीं रही थी तो उसने हाथ वापस निकाल लिया, मुझे लगा कि इससे आगे अब कुछ हो नहीं सकता.

मैंने अपना एक हाथ उसकी टी-शर्ट के अन्दर डाला और उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके मम्मों को दबाने लगा. अब सोने का टाइम हुआ तो हम सभी मतलब चाची उनका बेटा और उनका लम्बे लंड वाला आशिक़. दूर क्यों खड़ी हो?उसने जबरदस्ती मुझे एक गिलास दे दिया और मुँह में लगा कर पिला दिया.

भाभी ने उनकी बहुत सेवा की लेकिन उनको जरा भी आराम नहीं हुआ और इस वजह से वो बहुत दुखी रहने लगी.

ये सोचते सोचते ही पता ही नहीं चला कि मेरे हाथों ने उनके मम्मों को कब धीरे धीरे दबाना शुरू कर दिया. फिर मैंने उसे ज़ोर से चोदता हुआ उसके ऊपर लेटकर उसकी चुचियों में टपकते हुए दूध को पीने लगा. पहले तो मैंने टी वी पर कोई हिन्दी या अंग्रेजी सेक्सी फिल्म सर्च करने की कोशिश की लेकिन उस समय पर कोई भी ऎसी सेक्सी फिल्म नहीं आ रही थी, दिन के समय एडल्ट मूवीज आती भी नहीं! उनके केबल टी वी पर फैशन टीवी भी नहीं लगता था.

भाभी को पहली बार इस कंडीशन में देख कर मेरा लंड एकदम से तन गया, मैंने सीधा बाथरूम में जाकरमुठ्ठी मार कर अपने लंड को तस्सली कराई।उस दिन के बाद भाभी जब भी मुझे देखती तो वो हल्का सा मुस्करा देती और चली जाती। यह देख कर मेरे मन को हौंसला मिलता रहता था।एक दिन भाभी मेरे घर पर आयी और मेरी मम्मी से कुछ बात करने लगी. और फिर जब भाभी थोड़ी शांत हुई तो मैंने और एक ज़ोरदार शॉट मारा और पूरा लंड भाभी चूत में घुसेड़ दिया और फिर भाभी के मुख से चीख निकल गयी- उईईई ईईई मां री ईईईईई मर गयी रे मैं… निकाल ले देवा इसे… मेरे से इतना बड़ा लंड सहन नहीं हो रहा है. ये आपके पैरों से होते हुए इधर ऊपर इधर तक…”उसने मेरी चूत के पास टच कर दिया.

सेजल भाभी एक हाथ से नीचे से मेरे लंड की गोटियों को सहला कर जोश में उम्म्ह… अहह… हय… याह…” कह देतीं, तो मैं अपनी स्पीड बढ़ा देता. तब मैंने कुछ शरारत करने का सोच कर उससे कहा- यार अंजलि, चल कुछ खेल खेलते हैं!तो वह हंसने लगी, बोली- क्या खेल खेलते हैं? अब हम बच्चे थोड़े ना रह गये है जो खेल खेलेंगे?मैंने कहा- यार हम जब छोटे थे तो कैसे कैसे खेल खेलते थे एक साथ, तुम्हें याद नहीं है क्या? जब मैं यहां आता था या तू हमारे घर आया करती थी, तब हम खूब खेला करते थे.

इस तरह की बातों के बीच उस दिन हम लोगों ने खूब मस्ती की, खूब बातें की. मैं बीच बीच में चोर नजर से उसकी ओर देख रहा था और मेरी निगाहें उसकी गोरी टांगों और जांघों पर थी, उसकी स्कर्ट ज़रा सी ऊपर को सरक गई थी बिस्तर पर बैठने से तो उसकी थोड़ी थोड़ी जांघें दिख रही थी!अब मैं उसकी बुर की कल्पना करने लगा कि उसकी बुर पर अब तो झांटें आ गई होंगी. अब हम कभी कभी फ़ोन सेक्स भी करने लगे थे और वो मुझे अपने बूब्स की पिक्स भी भेजने लगी थी.

मैंने उसके एक चुचे को मुँह में ले लिया और दूसरे को हाथ से दबाने लगा.

इधर मैंने रेहाना को बोल दिया कि वो मिंकी के दूध दबाये।रेहाना द्वारा मिंकी के दूध दबाने से मिंकी चूत का दर्द मजे में बदलने लगा तो मिंकी अपनी कमर उचकाने लगी. मगर मैं उसके लिए कुछ ना कुछ जरूर करूँगा क्योंकि उसकी आप जैसी खूबसूरत बहन, जो मेरे पास चल कर आई है. अब मेरी वाइफ मस्त आवाज में बोल रही थी- आआआअ उम्म्ह… अहह… हय… याह… मज़ाआ.

विक्की ने स्केल से नाप कर देखा तो वो 9 इंच से भी थोड़ा लंबा निकल गया. छोटी भाभी के जाते ही पूजा मुझे गेस्टरूम में घसीट ले गई और जाते ही उसने मुझसे पूछा- क्या चोद दिया भाभी को?मैं बोला- हाँ तुमने ही तो कहा था… और अब मैं तुम्हारे हवाले हूँ.

एक बार पूरा लंड अन्दर घुस जाने के बाद मैंने माँ को रगड़ना चालू कर दिया. थोड़ी देर टीवी देखते देखते उनका हाथ मेरी जाँघों पर आ गया और आंटी बोलीं- विकी, मैंने तो तुम्हें मज़ाक में डांट दिया था, तुम तो ऐसे ही नाराज़ हो गए. तभी उसने खुद ही मुझसे नंबर माँगा और बोला कि मुझे कुछ काम होगा तो कॉल करूँगी.

कुंवारी लड़कियों के बीएफ वीडियो

ये सब सुन कर मैं और जोश में आ गया और फिर उसके 10 मिनट बाद मेरा भी पानी निकल गया.

अब हम कभी कभी फ़ोन सेक्स भी करने लगे थे और वो मुझे अपने बूब्स की पिक्स भी भेजने लगी थी. ये असली चुदाई का मेरा पहला मौका था तो मैं देखना चाहता था कि एक पूरी तरह से तैयार लड़की या औरत की चूत कैसी लगती है. अब चिंटू सीधा लेट गया और मैं उसके ऊपर ऐसे बैठ गया कि मेरी गांड उसके लंड पर आ गई थी.

कुछ ही देर में हम दोनों एकदम नंगे होकर बिस्तर से नीचे आ गए और एक दूसरे को चूमते हुए डांस करने लगे. मैंने उन्हें चूमा तो उन्होंने बैठ कर मेरे लंड को ब्लोजॉब देना चालू कर दिया. बीएफ सेक्स बीएफ सेक्सी हिंदी मेंउहहह…’उसके बाद उसने मेरी दोनों टांगें ऊपर की और जोर जोर से धक्का लगाने लगा.

वैसे रोशनी मुझे भैया ही कहती थी, पर अचानक सर बोलने का मतलब ये है कि वह मुझसे शरीर के अंग इंग्लिश में सीखना चाहती है. मैं उनकी टाँगों के बीच में आ गया और चाची की चुत सूंघने लगा फिर चाटने लगा.

स्वाति- ठीक है, मैं समझ सकती हूँ।मैं- तो अभी कोई गुस्सा नहीं है ना?स्वाति- नहीं प्रिय… माफ़ कीजिये मेरी स्वामी!ऐसे बोल कर स्वाति हंसने लगी. मुझे उसने बहुत बार चोदा, मुझे भी चुदाई में बहुत मजा आने लगा और थोड़े समय बाद उस लड़के के परिवार का दूसरी जगह ट्रान्सफर हो गया, तो वो चला गया. अंजलि ने पीछे मुड़ कर देखा तो वो बोली- क्या हुआ भाई साब, रसोई में क्यों आ गए, यहाँ बहुत गर्मी है.

मैं आया तो कामिनी बोली- आज बड़ी देर हो गई?मैं कुछ नहीं बोला, सीधे बैडरूम में चला गया. अब मैंने देखा कि इस साली ने तो पैंटी भी नहीं पहनी हुई थी, उसकी चूत एकदम नंगी मेरे सामने आ गई. मैंने भाभी के होंठों के एकदम करीब आते हुए सरगोशी से कहा- भाभी जी, अब अपनी वो दिखाओ न.

कुसुम मुझे छोड़ कर उसके साथ कोई 3-4 मिनट दूसरे कमरे में जाकर वापिस आ गई.

उस लड़के ने ब्रा को ऊपर कर दी और बारी बारी से दोनों को चुचों को चूसने लगा. मैंने उनको पीछे से पकड़ लिया और उनको उठाने लगा, पीछे से मेरा लंड टाइट हो गया था, पैन्ट से बाहर निकलने को कर रहा था और बुआ को गांड में रगड़ रहा था.

मैंने सोच लिया था कि मां की चूत की चुदाई का किसी न किसी तरह इंतजाम करना ही होगा. वो पागलों की तरह मेरे बालों को पकड़ कर खींचने लगी और बोलने लगी- साले लंड डाल दे अन्दर. मेट्रो की भीड़ के कारण मेरा हाथ उसके शरीर पर कहीं न कहीं छू रहा था और कभी मैं खुद भी टच कर लेता था.

फिर 5-10 मिनट बाद जब हम भाई बहन होश में आए तो टाइम देखा सुबह के 4:15 हो रहे थे. अचानक मेरे कानों में प्रिया की आवाज़ सुनाई दी…मैंने आप से एक बात करनी है. तो अब उससे भी नहीं रहा जा रहा था, उसने मुझे ऊपर की तरह खींच लिया था और मैंने अपना खड़ा हुआ लंड उसकी चूत के ऊपर 5-10 मिनट तक रगड़ा.

बीएफ विदेशी एचडी उसके पहाड़ जैसे स्तन जैसे मुझे चुनौती देने वाले अंदाज में मेरे सामने तन के खड़े हो गये. पता नहीं आज मेरा क्यों नहीं निकल रहा था… शायद ड्रिंक की वजह से जल्दी नहीं निकल रहा था.

जानवर वाला बीएफ जानवर

उनकी गोरी गोरी बड़ी गांड, उस पर क़यामत ये कि दीदी पेंटी नहीं पहनती थीं. अब मैंने उन्हें लिप किस करना शुरू किया, यहां एक हाथ से उनके मम्मों को जोर जोर से दबा रहा था, दूसरे हाथ से उनकी गांड जोर जोर दबा रहा था. तो दोस्तो, बताइये कि आपको मेरी जवानी की जरूरत की सच्ची सेक्सी कहानी कैसी लगी? आप अपने विचार अपने कमेंट्स के रूप में मेरी मेल आईडी पर दें ताकि मैं अपनी आगे वाली कहानी में सुधार कर सकूँ।मेरी मेल[emailprotected]मेरी फेसबुक[emailprotected]और मेरी हैंगआउट्स:[emailprotected].

हैलो फ्रेंड्स, मैं जेसिका क्लार्क एक बार फिर से उपस्थित हूँ अपनी नई सेक्स कहानी के साथ. स्मिता अब जोर जोर से रो रही थी और बोल रही थी- मुझमें ऐसी क्या कमी है राहुल कि पंकज मेरे साथ ऐसा कर रहा है?मैंने मन में सोचा कि राहुल बेटा मौका अच्छा है. जानवर के बीएफ सेक्सीमेरा दिमाग एकदम सुन्न था, मुझे कुछ पता नहीं था कि मैं क्या करूँ?अचानक उसने मुझसे कहा- आई हैव नेवर सीन सच अ सेक्सी अंड ब्यूटीफुल क्रॉस ड्रेसर इन माय लाइफ.

यह बोलते हुए उसने मेरे लंड को दबा दिया और नीचे बैठ कर मुँह में लेकर चूसने लगी.

ये सब मुझे वैसे तो बहुत बुरा लग रहा था, लेकिन अन्दर से मजा भी आ रहा था. क्यूंकि हम उस रेस्टोरेंट में वापस जा नहीं सकते थे क्यूंकि जिस मैनेजर को वो जानता था, उसकी शिफ्ट आठ बजे तक ही थी.

फिर दूसरी तरफ से पता नहीं क्या हुआ… दीदी दोबारा बोलीं- हाँ बोल… यहीं हूँ सुन रही हूँ… आ गई न लाइन पे… चल अब बता ये अचानक प्रमोशन कैसे…थोड़ी देर दूसरी तरफ से सुनने के बाद दीदी अचानक चौंक उठीं- क्या बात कर रही है… ओ माय गॉड… सच में? आई कांट बिलीव दिस यार… तूने उस बुढ्ढे से चुदवा लिया?यह कह कर दीदी का मुँह खुला का खुला ही रह गया. उसने मेरे दूध मुँह में ले लिए और उंगलियों से चूत और चूतड़ सहलाने लगा. मैंने उसे बेड पर लिटाया और उसकी चिकनी चूत को हाथों से सहलाने लगा, वो बहुत ही गर्म हो गयी थी और उसके मुँह से सिर्फ़ सिसकारियाँ निकल रहीं थी ‘उउउ आआ आआअईईई ईईई…’ करके वो मेरे जोश को और बढ़ा रही थी.

अब उसका मुझे देखने का नजरिया बदल गया था, खैर जैसे तैसे हम अन्दर गए.

मैंने विनय के बालों में उंगलियां डाल कर उसका सर कसके पकड़ लिया और अपनी चूत पर दबा दिया, जिससे उसका मुँह मेरी चूत में लग गया. उसके बॉयफ्रेंड ने मुझे भी फोन पर बहुत गालियां दीं क्योंकि वो लड़का शायद सच में रुचिका से सच्चा प्यार करता था. विनय- नेहा, मेरे लंड को देखोगी, जो पूरी रात तुम्हारी याद में रोता रहा है?मैं उठ कर बैठ गई और विनय की चड्डी के ऊपर से ही उसके लंड को सहलाने लगी.

बीएफ ब्लू शॉटहमारे प्यासे होंठ मिले जीभ से जीभ मिली इधर मेरे लंड ने अंगड़ाई ली और उधर शायद उसकी चूत भी नम हुई क्योंकि वो अपना एक हाथनीचे ले गयी और उसने नाइटी को अपनी जांघों के बीच समेट कर दबा ली. सोनी ने कहा- नवीन इधर मम्मी और भाई दोनों हैं, हम आज सब कुछ नहीं कर सकते.

शिल्पा शेट्टी वीडियो बीएफ

मैंने शोर्ट(निक्कर) और टीशर्ट पहनी हुयी थी और मेरी कजन अंजलि ने घुटनों तक की स्कर्ट पहनी हुई थी. मामी जी भी मेरा साथ देने लग गई थीं। धीरे धीरे मेरा हाथ मामी जी के स्तनों पर जा पहुंचा, मैं ब्लाहुज के उपर से ही स्तनों को सहलाने लगा. अभी मेरे लंड का सुपारा ही अन्दर जा पाया था कि वो दर्द से चिल्लाते हुए आगे को हो गई और मना करने लगी.

फ़िर मैंने एक बार और मुठ मारी और बहुत मुश्किल से खुद को शान्त कर पाया. अर्जुन कुछ देर अपने खड़े लंड को सहलाता रहा और फिर जब उससे सहा नहीं गया तो वो बोला मेरा नाम लेकर- चूसेगा मेरा लंड?मैं बहुत ही खुश था कि वो खुद से बोल रहा है लेकिन उस समय मेरा डर मुझ पर हावी हो गया और अर्जुन मेरे जवाब का इंतज़ार करते करते थक गया! कुछ देर बाद वो उठा और बाथरूम में जाकर मुठ मारकर वापिस आया और मेरे साथ ही पहले की तरह सो गया. पर कुछ डाक्यूमेंट्स की प्रॉब्लम हो गई थी, इसलिए वापस आने में समय लग गया.

वो पूरी तरह से पागल हो रही थी और चिल्ला रही थी- जोर से चोद मेरे राजा. आख़िर मुझसे ना रहा गया तो मैंने बिंदु से कहा कि मेरी चुत के लिए भी कुछ सोचो ना. उनके गहरे गले वाले ब्लाउज से दूधिया घाटी देख कर मेरे हाल बुरा हो रहा था.

मैं एक हाथ से उसकी चुत में फिंगरिंग कर रहा था, वो मेरा लंड सहला रही थी. शायद उनका इस तरह से पहली बार था पर साला मेरे मुँह से भी आवाज़ निकल गई, दर्द मुझे भी हुआ.

मैंने उन्हें एकटक देखा ओर अपना मुँह मैंने ब्रा के ऊपर रख दिया जिससे उनकी सिसकारी निकल गई ‘ईश्श्शशहह.

तो मैं ही बात करने के लिए उसके पास गया- कैसा रहा इंटरव्यू?वो बोली- ठीक था, ‘फोन करेंगे’ बोला है. लड़की और कुत्ते का सेक्सी बीएफकुछ ही देर में मुझे मजा आने लगा और मैंने भी पूरी तन्मयता से उसका लंड मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया. साड़ी वाली औरत का सेक्सी बीएफअब वो सिर्फ़ पेंटी में रह गई थी, उस 34 इंच के टाइट चूचे क़यामत लग रहे थे. मैं कुछ समझ नहीं पा रहा था कि क्या हो गया था लड़की को?सिप-सिप कर के मैंने अपनी कॉफ़ी ख़त्म की और वाशरूम में जा कर पहले ‘अपना हाथ, जगन्नाथ’ किया, फिर ब्रश किया.

मां अब गरम हो गई थीं और उनके मुँह से मादक सीत्कारें निकलने लगी थीं.

मैं दरवाजे से बाहर आया और नाज़ के बगल में बैठ कर चाय पीने लगा और जान बूझ कर अपने ऊपर चाय गिरा ली. और जब वन्द्या तेरा लौड़ा मुंह में लेकर चूसने लगी, चाटने लगी और तू आशीष इसकी चूत चाटने लगा, और फिर इसके बूब्स दबाकर चूसना शुरू किया… ये सब देखकर मैं पागल हो गया था और बहुत एक्साइटेड हुआ, वन्द्या को करने से ज्यादा देखने में मजा आया. मैंने दीदी का एक मम्मा मुँह में डाला और दूसरे को दूसरे हाथ से दबाने लगा.

मेरी साली पीछे घूम गई और प्लेटफार्म पर हाथ रख के गांड पीछे के तरफ से उभार दी. वो उनको पापा जी कहती थी, अब मुझे नहीं पता कि वे उनके पापा थे या ससुर…भाभी के पति सेना में थे और उनकी ड्यूटी किसी ऐसी जगह पर लगी हुई थी कि जल्दी से छुट्टी भी नहीं मिलती थी. विवेक ने बोला- तुम्हारा पतिदेव सो गया?वो बोली- अरे सो गया होगा, तुम क्यों परेशां होते हो!वो बोला- अरे मैडम, हम क्यों परेशां होंगे!और उसने कामिनी को अपने बदन से चिपका कर स्मूच करना चालू कर दिया और कामिनी भी उसका साथ दे रही थी, दोनों एक दूसरे में घुसे जा रहे थे, उसने कामिनी के मम्में ऊपर से मसलना चालू कर दिए कामिनी भी उसकी बाहों में मदहोश हो रही थी.

बीएफ सेक्सी फुल एचडी वीडियो बीएफ सेक्सी

मेरे मुंह से अपने आप लगातार सिसकारियां निकलने लगी, जीजा ने अब अपनी एक उंगली भी मेरी चूत में घुसा दी और उसे अंदर बाहर करने लगे. मैंने उनको पीछे से पकड़ लिया और उनको उठाने लगा, पीछे से मेरा लंड टाइट हो गया था, पैन्ट से बाहर निकलने को कर रहा था और बुआ को गांड में रगड़ रहा था. दीदी अपनी दो उंगलियां वी शेप बना कर अपनी चुत के दोनों फांकों पर रख दीं और उंगलियों को फैला कर चूत को पूरा खोल दिया.

वो स्टोर रूम में आईं और जैसे ही उन्होंने अन्दर की लाइट ऑन की, सामने देखा वो दीवार के सहारे झुका हुआ है और मैं पीछे से उसकी गांड में लंड घुसाए हुए हूँ.

अगर मेरी इस स्टोरी को अच्छा रिस्पॉन्स मिलेगा तो मैं इस स्टोरी का सेकेंड पार्ट भी पोस्ट करूँगी कि जब एक बार चुत चुद जाती है तो क्या होता है.

अभी तीन चार बार ही अपने लिंग को प्रिया की योनि के निकाला डाला था कि अचानक प्रिया ने अपनी दोनों टांगें सीधी कर ली; तत्काल मुझे अपने लिंग पर प्रिया की योनि का एक ज़बरदस्त खिंचाव महसूस हुआ. वो बोले- देखना साली, तू आज खुद बोलेगी कि मेरी चूत में लंड डाल दो अपना!तो मैं बोली- यह नहीं होगा… चाहे मेरी जान निकल जाए! बस मैंने सोच लिया कि चाहे सबसे चुदाई करवाती रहूं नहीं रहा जायेगा तो… पर तुझसे सुहागरात के दिन ही चुदवाऊँगी. बीएफ वीडियो बनानावो बोले साड़ी ही पहननी थी तो इंडिया में ही किसी तीर्थ स्थल पर चल लेते.

एक दिन उसने चैट के दौरान बोल ही दिया कि मैं काफी दिन से तुम्हारा बिहेवियर देख रही हूँ, तुम बहुत बदले बदले रहने लगे हो. फिर मैंने धीरे धीरे उसके गले पर किस करना शुरू किया और उसके मम्मों तक आ गया. एक दिन मैं उनके घर गया तो देखा वो रो रही थी तो मैंने पूछा- भाभी, क्या हुआ? रो क्यों रही हो?तो उन्होंने कहा- यार अमन, अब मुझसे पापा की हालत देखी नहीं जा रही है और मैं उनकी सेवा कर कर के थक गयी हूँ, और अब नहीं कर सकती, मैं चाहती हूँ कि पापा को अब मौत आ जाए और सबको उनके दुख से निजात मिल जाए।मैंने कहा- भाभी जी, आप चिंता मत करिए, सब ठीक हो जाएगा!और कुछ दिन बाद सच में उनके पापा की मौत हो गयी.

बस अब मौके का इंतज़ार था कि कब मौका मिले और कब मैं उससे कुछ बात करूँ. उनका सहयोग से भरा हुआ जबाव पाकर मैंने उनको अपनी बांहों में भर लिया और उनकी उठी गांड को अपने हाथों से मसलने लगा.

फिर मैंने भाभी से थोड़ी थोड़ी बात शुरू की लेकिन उस समय भी मेरे मन में उनके प्रति ऐसी कोई इच्छा नहीं थी।फिर एक दिन हुआ यह कि मेरे घर पर कोई नहीं था और मेरी मम्मी ने उसी भाभी को मेरे लिए खाना बनाने का बोल दिया और चली गयी।मम्मी पापा तो चले गये, मैं भी भाभी का इंतजार कर रहा था और थोड़ी देर में भाभी आ गयी।भाभी आकर मुझसे बात करने लगी.

करीब दस मिनट दीदी की चुदाई में दीदी फिर से झड़ गईं और उनकी चुत में जलन होने लगी, उन्होंने मेरे लंड से खुद की चुत को अलग कर लिया. वो बोली- नहीं मुझे तुझसे जरूरी बात करनी है, अभी चल मेरे साथ चाय का तो बहाना है. नमस्कार दोस्तो, कुछ यादें हमेशा के लिए एक याद बनकर रह जाती हैं, कभी कभी दुःख या खुशी के कुछ पल याद बनकर आपके दिल के किसी कोने में हमेशा के लिए बस जाते हैं आखिर बसें क्यूँ ना; आखिर आपने उन्हें जिया और जीकर देखा जो है ऐसा कि एक सुनहरा पल या याद का एक पहलू मैं आपके सामने पेश कर रहा हूँ.

बीएफ सेक्सी फिल्म फ्री वाली नशे में होने के बावजूद भी उसे बहुत मजा आ रहा था लेकिन उसे यह नहीं मालूम था कि बुर चाटने वाला उसका पति नहीं बल्कि उसके पति का दोस्त है।मुझे बहुत ही मजा आ रहा था, मैंने अगले ही पल उसकी जांघों के बीच अपने लिए जगह बना कर अपने लंड को उसकी बुर के मुहाने पर रख दिया और धीरे धीरे उसे अंदर डालने लगा. इसको पहनने पर मेरी चूची के आगे के निप्पल ही थोड़े से बंद हो रहे थे बस बाकी निप्पल से ऊपर की पूरी चूचियां पूरी खुली थीं.

”पूजा हँसते हुए बोली- मेरी जान की कल सुहागरात है तो…!!सुहानी ने तुरंत पूजा का मुँह बंद कर दिया. मैं टोकता तो वो बोलती- तुम क्यों जलते हो? अगर मुझको देख कर ये बेचारे खुश हो जाते हैं. फिर मैंने सोचा केवल दबा ही तो रहा था, वैसे भी दीदी को कुछ पता नहीं चला.

रांची बीएफ वीडियो

एमडी बोले- अच्छा मैं तुम्हारी सेलरी 50000 करता हूँ मगर अब तुम जो काम ऑफिस के बाहर करती हो, वो नहीं करोगी. अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार और सभी चुदी/अनचुदी पाठिकाओं की चुत को मेरा और मेरे लंड का ढेर सारा प्यार. मैं तुम्हें यहाँ रखना नहीं चाहता और वैसे भी असली मुजरिम तो ऊपर से किसी के दबाव के चलते निकल गया है क्योंकि वो जा चुका है तो मैं आपको किस कसूर में यहाँ रख सकता हूँ.

”ठीक है भैया मैं कल से टी-शर्ट और जीन्स ही पहना करूंगी, वैसे भी मेरी मम्मी को कोई ऐतराज नहीं है. आगे की कहानी में मैं बताऊंगा, कैसे मैंने अर्पिता की चूत चोदी, वो भी बहुत तड़पा तड़पा कर!जब तक लड़की खुद न कहे कि अब बस चोद दो, फ़क मी, फ़क मी हार्डर!” तब तक मजा नहीं आता।मित्रो, आपको मेरी सेक्स कहानी का यह पहला भाग कैसा लगा, जरूर बताना!मेरी मेल आईडी है:[emailprotected].

आज सुहागसेज पर उसने मेरा साथ देने का मन तो बना लिया था लेकिन वो मेरे लंड के बड़े साइज के कारण थोड़ी डरी हुई थी.

मैंने पूछा- क्या हुआ, मूड खराब है?वो बोली- नहीं, ऐसी कोई बात नहीं है. थप्प-थप्प… थप्प-थप्प… थप्प-थप्प…!! नीचे कबीरदास की चक्की पूरे यौवन पर चल रही थी. करीब 34 साइज़ के और उसकी तोप की तरह उठी हुई गांड का तो मैं शुरू से ही दीवाना था और उसका शरीर भी हल्का सा गदराया हुआ था.

उनको देख कर मेरा जवान दिल मचल उठा और उनको निहारने के चक्कर में मैं डेली सुबह शाम गार्डन में घूमने जाने लगा. रमेश अंकल और उनके दोस्त भी मां के पास बैठ गए और फिर रमेश अंकल मां को चुंबन करने लगे. मैंने समय बर्बाद न करते हुए अपनी बहन का टॉप उतार दिया और ब्रा के ऊपर से ही उसके मम्मों को चूसने लगा.

उस गिलास में शायद उसने वियाग्रा या उसी तरह की कुछ दवा को मिला दिया गया था, जिससे धीरे धीरे मेरी उसे चोदने की इच्छा बढ़ने लगी और मैं न चाहते हुए भी उसको चोदने का ख्याल अपने दिमाग में लाने लगा.

बीएफ विदेशी एचडी: मुझे बहुत ज्यादा दर्द गांड में होने लगा, लंड घुस नहीं रहा था तो उन्होंने बहुत सारा थूक लगाया और अंदर डाल दिया. कुसुम झुक कर अपने मम्मों की छटा बिखरते हुए बोली- जो हुक्म मेरे आका.

उस रात में वो 9 बजे आया, तब मैं हल्के नशे की मस्ती में टीवी देख रही थी. मैं भी उसके पास वाली कुर्सी पर जाकर बैठ गया और उसकी तरफ़ देखते हुए उसके जवाब का इंतज़ार करने लगा. मैंने कहा- चाची एक बात कहूँ, बुरा मत मानना प्लीज!तो वो बोलीं- बताओ क्या बात है?मैंने कहा- क्या मैं आपको भी एक बार नंगी देख सकता हूँ… क्योंकि आपने मुझको नंगा देखा है तो मेरा भी हक़ बनता है ना!तो वो बोलीं- नहीं, ये नहीं हो सकता.

मैं लौड़ा चूत से बाहर निकलता और फिर अपनी कमर को पूरी तरह फ्री छोड़ कर लंड पर वजन डाल कर उसकी चूत में लौड़ा डाल देता, जिससे लौड़ा पूरा अन्दर तक जा रहा था.

वो मुस्कुरा दी और बोली कि मैं पहले भी बता चुकी हूँ कि प्यार व्यार कुछ नहीं होता. मैं वीडियो देखकर सन्न रह गया।मैंने वीडियो को फॉरवर्ड करके देखा तो आगे टिंकू प्रियांशु पर चढ़ा हुआ था; उसने प्रियांशु की टांगें अपने हाथों में पकड़ रखी थीं और उसकी गांड में लंड को पेल रहा था।मैंने मन ही मन कहा ‘साला मेरे भाई पर भी हाथ साफ कर गया।’बड़ा ही पहुंचा हुआ गांडू निकला ये तो।लेकिन इसने ये किया कब. मैं अभी भी धक्के मारता जा रहा था, जब मैं भी अपनी चरम सीमा के पास आने लगा तो मैंने उसको पूछा- मेरा आने वाला है, कहाँ निकालूं?अंदर ही छोड़ दे… पूरी तरह से चुदना चाहती हूँ मैं!”मैंने मेरी स्पीड और बढ़ाई, 15-20 ज़ोर के धक्के लगाने के बाद मैंने मेरा सुपर शॉट लगाया और उसकी आँखों में फिर से आँसू आ गये.